Share
 
Comments

कनाडा के लोकप्रिय एवं सफल प्रधानमंत्री,मेरे परम मित्र श्री स्टीफन हार्पर जी ,श्रीमती लौरें हार्पर जी और विशाल संख्या में आये हुए मेरे प्यारे भाइयों और बहनों

PM Modi - Indian Diaspora Event, at Ricoh Coliseum, Toronto Canada (13)

 कनाडा की जनता उनका हृदय से धन्‍यवाद करता हूं... जिस प्रकार से कनाडा ने मेरा स्‍वागत किया है सम्‍मान किया है,जिस उमंग और उत्‍साह के साथ उन्‍होंने अपने प्‍यार को प्रकट किया है मैं इसके लिए प्रधानमंत्री जी का और कनाडा का हृदय से बहुत-बहुत धन्‍यवाद व्‍यक्‍त करता हूं,लेकिन यह सम्‍मान किसी व्‍यक्ति का नहीं है,यह सम्‍मान नरेंद्र मोदी का नहीं है,यह सम्‍मान सवा सौ करोड़ हिंदुस्‍तानियों का है और कनाडा में भारत की पहचान नरेंद्र मोदी ने नहीं बनाई है,कनाडा में भारत की पहचान आप सब मेरे देशवासियों ने बनाई है। आपकी बदौलत,आपका पुरूषार्थ,आपका जीवन,मिलजुलकर के सबको साथ लेकर के चलने की हमारी परंपरा,उसको आपने भलीभांति यहां पर जीकर के दिखाया है। कनाडा का हर नागरिक आपके प्रति गौरव अनुभव करता है। आदर-सत्‍कार के साथ आपका नाम लेता है और जब दुनिया के किसी भी देश में किसी भारतीय की पराक्रम की गाथा सुनते हैं तो सीना चौड़ा हो जाता है और कनाडा में बसने वाले हमारे भारतीयों ने अपने सफल कारोबार के माध्‍यम से,अपने सफल जीवन के माध्‍यम से भारत की आन,बान,शान को बढ़ाने में बहुत बड़ी भूमिका अदा की है। इस शहर के साथ तो मेरा नाता पुराना रहा है। पहले भी आना हुआ है और तब मैं कुछ नहीं था। कोई जानता भी नहीं था। तब भी इस शहर ने मुझे जो प्‍यार दिया था,इतने ढेर सारे कार्यक्रम मेरे हुए थे। इतने लोगों से मेरा मिलना हुआ था और इसलिए आज मैं उस धरती पर फिर से एक बार आकर ,नई जिम्‍मेदारी के साथ आया हूं,तब मैं यहां रहने वाले मेरे सभी भारतीय भाईयों और बहनों का हृदय से अभिनंदन करता हूं।

मेरा कनाडा के कारोबार से बड़ा अच्‍छा संबंध रहा,मेरा बहुत अच्‍छा अनुभव रहा। मैं गुजरात में मुख्‍यमंत्री रहा कई वर्षों तक और मुख्‍यमंत्री के कालखंड में मैं एक Vibrant Gujrat InvestorSummitकरता था। 2003 में पहली बार किया। पूरी कल्‍पना नई थी और मैं आज गर्व से कहता हूं कि कनाडा वो देश है जो 2003 से गुजरात का partner countryबना। एक developed countryके लिए किसी देश के छोटे से राज्‍य के साथ partner countryबनना यह निर्णय छोटा नहीं होता है,लेकिन कनाडा ने वो निर्णय किया और अब तक निभाया है। मैं इसके लिए कनाडा का बहुत-बहुत आभारी हूं। मैं कल रात यहां पहुंचा,कल रात चला जाऊंगा लेकिन कनाडा के प्‍यार को मैं कभी भुला नहीं पाऊंगा। आज कल तो विमानों की सेवा इतनी अच्‍छी हो गई है कि 15-17-20..... घंटे में आप भारत से कनाडा पहुंच सकते हो। लेकिन भारत के प्रधानमंत्री को आने में 42 साल लग गए। ये भी बड़ी विचित्रता देखिए कि भारत और कनाडा मिलकर स्पेस में तो प्रगति कर रहे हैं, लेकिन धरती पर कतराते रहते थे। जिस बात को 42 साल बीत गए, उसको मैंने दस महीने के भीतर-भीतर कर दिया।

PM Modi - Indian Diaspora Event, at Ricoh Coliseum, Toronto Canada (8)

मैं जानता हूं कि भारत की शक्ति और भारत की आवश्‍यकता ....कनाडा की संपत्ति और कनाडा का सामर्थ्‍य : इंडिया प्‍लस कनाडा; आप कल्‍पना कर सकते हो। हम दुनिया में कितनी बड़ी ताकत के रूप में उभर सकते हैं| भारत को जिन-जिन प्राकृतिक संपदाओं की जरूरत है उन सारी प्राकृति संपदाओं की पूर्ति कनाडा से हो सकती है। मेरे हिंदुस्‍तान में किसान खेत में मजदूरी करता है, मेहनत करता है, पसीना बहाता है और जब उसको फर्टीलाइजर की जरूरत होती है तो पोटाश कनाडा से आता है। यहां पर इतनी प्राकृतिक संपदा है.. एक बार यहां के एक राज्‍य के प्रीमियर गुजरात आये थे। मैंने उनसे कहा कि मेरा राज्‍य ऐसा है.. तब मैं गुजरात का मुख्‍यमंत्री था। मैंने कहा कि मेरे यहां हीरे की खदानें नहीं हैं, लेकिन मेरे लोगों का कौशल ऐसा है, Entrepreneurshipमें इतना दम है कि दुनिया में दस में से नौ हीरे ऐसे हैं जिस पर किसी न किसी भारतीय का हाथ लगा हुआ होता है। उनको मैंने कहा कि आपके पास हीरे की खदानें हैं, कच्‍चा हीरा मुझे दे दीजिए। मैं आपको मूल्‍य वृद्धि करके वापस लौटा दूंगा और आपके कच्‍चे हीरे पर हिंदुस्‍तान के पसीने की महक दुनिया में आपकी ताकत को चार गुना बढ़ा देगी। यह सामर्थ्‍य है दोनों देशों में। इस सामर्थ्‍य को जोड़ने का एक नया युग आज प्रारंभ हुआ है। आज जो हमने निर्णय किए हैं, मिल बैठ करके, खुलकर के बातें हुईं हैं और एक मित्रतापूर्ण माहौल में हुई हैं। एक दूसरे को समझने में अब हमें कोई तकलीफ नहीं है और इसलिए मैं आपको विश्‍वास दिलाता हूं कि इंडिया और कनाडा का यह संसार बहुत लंबा चलने वाला है। इसके लिए मैं प्रधानमंत्री और मेरे मित्र श्रीमान हार्पर का हृदय से बहुत-बहुत धन्‍यवाद करता हूं, उनका अभिनंदन करता हूं|

 भाईयों और बहनों पिछले वर्ष जब भारत में चुनाव का मौसम था, चुनाव तो वहां चल रहे थे लेकिन नारे यहां से सुनाई देते थे। नतीजे तो वहां आये थे। लेकिन मिठाई यहां बांटी जा रही थी। वहां पर लोग दिन में खुशी मना रहे थे, आप आधी रात में मना रहे थे। मेरे भाईयों  और बहनों, दस महीने पहले सिर्फ सरकार बदली थी। लेकिन आज मैं दस महीनों के बाद कह सकता हूं कि जन-जन का मन भी बदला है। सरकार बदली है, उससे क्‍या होगा?ये तो समय कहेगा, लेकिन मन के बदलने से क्‍या कुछ हो सकता है इसको मैं भली-भांति समझ सकता हूं।

PM Modi - Indian Diaspora Event, at Ricoh Coliseum, Toronto Canada (9)

हम लोग जब छोटे थे, तो सिनेमा का एक गीत सुना करते थे – “देख तेरे संसार की हालत क्‍या हो गई भगवान, कितना बदल गया इंसान।“  उस समय एक पीड़ा थी, व्‍यथा की बात थी, उस गीत में। मैं आज उस गीत को नए रूप में देख रहा हूं कि इंसान बदला है। उस समय पीड़ा थी कि कितना बदल गया इंसान और मैं आज गर्व से कहता हूं कि कितना अच्‍छा बन गया इंसान। बदला है, बदला है। कोई कल्‍पना कर सकता है? मैंने देश के गरीब भाईयों और बहनों को कहा कि आप बैंक में खाता खोलिए। हमारे यहां मेरे जन्‍म से पहले ही बैंक तो चल रही थी, देश आजाद होने के बाद भी बैंक चल रही थी, कांग्रेस सरकार ने श्रीमति इंदिरा गांधी की सरकार थी तब बैंकों का राष्‍ट्रीयकरण कर दिया था, ताकि बैंक गरीबों के काम आये। लेकिन इसके बावजूद भी दस करोड़ से अधिक परिवार ऐसे थे यानी करीब-करीब 40 प्रतिशत से अधिक जनता ऐसी थी, जिनके नसीब में बैंक का खाता खोलना नहीं था। मैंने 15 अगस्‍त को घोषणा की थी कि मुझे बैंक में खाते खुलवाने हैं और.. एक जमाना था.. आप भी हिन्‍दुस्‍तान में रहे हैं, बैंक में जाते थे तो बैंक का अफसर नीचे से ऊपर देखता भी नहीं था और अगर आप उसका ध्‍यान आकर्षित करने की कोशिश करें, तो काटने के लिए आता था – देखते नहीं हो मैं काम कर रहा हूं!  इंसान बदल गया, बैंक वाले भी बदल गये, यही बैंक के कर्मचारी.. आज मैं उन पर गर्व करता हूं,  उनका अभिनंदन करता हूं कि वो गांव-गांव गये, गरीब के घर गये और 14 करोड़ बैंक खाते खोले| 14 करोड़ ! मतलब कि करीब करीब तीन कनाडा और यह काम सौ दिन में पूरा किया उन्होंने ..सौ दिन में | इंसान बदला है !! भारत का जन मन जो बदला है यह उसका उदाहरण है सरकार सिर्फ नहीं बदली है..जन मन बदला है | जब बैंक खाते खोलने की बारी आई तो.. गरीब के पास पैसे नहीं, बैंक खाता क्‍या खोलेगा और इसलिए हमने कहा था कि जीरो बैलेंस से एकाउंट खोलेंगे। जीरो बैलेंस| बैंक वालों को शुरू में तो थोड़ा ये था कि भई ये क्‍या कर रहे हो आप? हमने कहा कि भई क्‍या जाता, है दो कागज पर उनका नाम लिखना है, बैंक एकाउंट खोलना है, जाता क्‍या है तुम्‍हारा। वो बोलें कि कुछ तो देना चाहिए उन्‍हें। हमने कहा क्‍या देना है, उसने पसीना बहाया है, क्या लेना है , दे दो बैंक का खाता दे दो। मैंने गरीबों को कहा था कि आपको पैसे बैंक में रखने की जरूरत नहीं है, खाता खोल दीजिए, फिर आगे देखेंगे। लेकिन मेरे नौजवान साथियों, दोस्‍तों। जन-मन बदला है, तो कैसे बदला है.. मैंने गरीब को कहा था कि तुम्‍हें बैंक में पैसे डालने की जरूरत नहीं है, मुफ्त में खाता खोल देंगे। लेकिन गरीब की अमीरी भी तो कुछ चीज होती है। गरीब की अमीरी की भी अपनी एक ताकत होती है और मैं आज गर्व से कहता हूं, उन गरीबों के सामने सर को झुकाकर उनका अभिनंदन करता हूं, उन्‍होंने 14 हजार करोड़ रूपया बैंक में जमा करवाया। ये गरीबों की अमीरी, ये बदले हुए जन-मन की निशानी है। देश में एक नया विश्‍वास पैदा हुआ है। सरकार बदली है, इसलिए सब बदलेगा ऐसा नहीं है। बदलने का मेरा विश्‍वास इसलिए है कि जन-मन बदला है । “जन मन गण अधिनायक” जो  कहते हैं न, वो जन-मन बदला है। हमारे देश में आप जब विदेश से आते थे, एयरपोर्ट पर उतरने ही आपकी शिकायत क्‍या रहती थी? कि गंदगी बहुत है, सफाई नहीं है, ऐसा ही लगता था न? हमने तय किया कि काम कठिन है, लेकिन करना चाहिए और हम नहीं करेंगे तो कौन करेगा? जिनको गंदगी करनी थी वे गंदगी करके चले गए लेकिन हम सफाई करके जाएंगे। आज जन-मन ऐसा बदला है कि हर दिन एकाध खबर तो कहीं-कहीं से आती है कि फलाने बैंक के सारे Employee Saturday-Sundayको सफाई करने निकले हैं, फलाने कॉलेज के Studentsसफाई करने के लिए निकले हैं, फलाने मंदिर के सारे संत सफाई करने के लिए निकले हैं, फलाना एम. एल. ए. सफाई कर रहा है, एम पी सफाई कर रहा है, चारों तरफ कहीं न कहीं से खबर आ रही है। मैंने देखा.. आप कभी सचिन तेंदुलकर की वेबसाइट पर जाओगे तो उन्‍होंने अपना एक वीडियो रखा है। उन्‍होंने मुंबई में एक फुटपाथ तय की, रोज सुबह चार बजे जाते थे अपने दोस्‍तों को ले करके। महीने भर गए और पूरी उसकी सफाई करके उसको बढि़या से पार्क में Convert कर दिया। लोग आकर बैठते हैं। सरकार ने नहीं किया, नागरिक कर रहे हैं। दो बेटियां.. एक नगालैंड से और एक बनारस से, दो बेटियां बनारस में एकठ्ठी हुईं और उनका मन कर गया कि काशी की घाटों की सफाई करें और आज मैं हैरान हूं कि उन दो बेटियों ने काम शुरू किया, धीरे-धीरे नौजवान जुड़ते गए और उन्‍होंने पूरे प्रभु घाट को साफ कर दिया। आज लोग जा करके, विदेश के लोग वहां जा करके घंटों तक गंगा के सामने बैठते हैं। देश विशाल है, गंदगी बहुत है, पुरानी है, वक्‍त लगेगा लेकिन जन-मन बदला है, उसका ये उदाहरण है। हमने कहा कि स्‍कूल में टॉयलेट बनाना है, उसमें भी Girl Childके लिए टॉयलट बनाना है। लोगों को लगता है कि प्रधानमंत्री का काम होता है ये क्‍या ? लेकिन ये थोड़ा अलग सा प्रधानमंत्री है, औरों को जो बनाना है बना दें, मुझे तो ऐसे ही छोटे-छोटे काम करने हैं। लोगों को लगता है कि यह प्रधानमंत्री का काम होता है क्‍या,लेकिन यह थोड़ा अलग सा प्रधानमंत्री है। औरों को जो बनाना है बना दे,मुझे तो ऐसे ही छोटे-छोटे काम करने है। और बूंद-बूंद से जैसे समुद्र भर जाता है, छोटे-छोटे कामों से हिंदुस्‍तान की शक्‍ल सूरत बदल जाएगी यह मेरा विश्‍वास है| दोस्‍तों और मेरा विश्‍वास है सवा सौ करोड़ देशवासी एक कदम भी चलें तो देश सवा सौ करोड़ कदम आगे बढ़ जाता है। एक दिन मेरे मन में विचार आया कि जिसके पास पैसे हैं सप्‍ताह में दो दिन तो Dinner किसी बढि़या से होटल में करता होगा। 15-20 हजार को बिल देकर के वापस आता है। क्‍या ऐसे लोगों ने भी गैस सिलेंडर की सब्सिडी लेनी चाहिए क्‍या?उनको शोभा देता है क्‍या?एम.पी है,एम.एल.ए हैं,मंत्री हैं 400 रुपये की सब्सिडी । मैंने ऐसे ही बातों बातों में कह दिया कि भई यह अच्‍छा नहीं लगता,हमारे जेब में दम है तो हमने क्‍यों लेनी चाहिए,गरीब लें,गरीब को मिलनी भी चाहिए। लेकिन जिसके पास संभावना है वो क्‍यों ले?और सब्सिडी से पका हुआ खाना शोभा देता है क्‍या?मैंने सार्वजनिक रूप से नहीं कहा था दोस्‍तों। ऐसे ही बातों बातों में अपने साथियों से बीच बात कर रहा था तो बात फैलनी लगी और बात फैलने लगी आज भी मेरे साथियों का जन मन बदला है। बदला हुआ जन मन ने क्‍या किया?करीब चार लाख लोगों ने अपनी गैस सब्सिडी छोड़ दी। यानी करीब-करीब देश की तिजोरी में 200 करोड़ रुपये बच गया। Two hundred crore rupees. कोई हुकुम नहीं,कानून नहीं,कुछ नहीं,हर व्‍यक्ति को लगने लगा है कि अब देश इंतजार नहीं करेगा। देश को आगे बढ़ना है और हम बढ़ाएंगे यह जन-मन का विश्‍वास बढ़ा है और मैं यह जितनी बातें बता रहा हूं वो मोदी ने नहीं की है। देश के सामान्‍य नागरिक ने की है। सामान्‍य नागरिक के मन में एक नया मिजाज पैदा हुआ है। एक आनंददायक घटना मैं देख रहा हूं और मैंने फिर Publicly एक बार Announce किया। Publicly ऐसा कहा मैंने लोगों से सार्वजनिक रूप से अभी 5-6 दिन पहले ही कहा है। मैंने कहा कि मेरा सबसे आग्रह है कि जिसके जेब में दम है,वो गैस की सब्सिडी लेना छोड़ दे। मुझे विश्‍वास है कि लोग छोड़ देंगे। लेकिन मैंने उनसे एक बात और कही। मैंने कहा कि जो लोग गैस की सब्सिडी छोड़ेंगे,वो पैसा मैं सरकार की तिजोरी में नहीं डालूंगा,इसका मतलब यह नहीं कि मेरी जेब में डालूंगा। मैंने कहा कि जो गरीब परिवार है, जिनके घर में लकड़ी से जलने वाला चूल्‍हा है, जहां गरीब माँ लकड़ी से चूल्‍हा जलाती है। पूरे घर में धुंआ होता है, छोटे बच्‍चे दिन-रात रोते रहते हैं, धुएं में बैठ नहीं पाते, बीमार हो जाते हैं। मैं यह गैस सिलेंडर उन गरीब परिवारों को दूंगा और उससे उस परिवार के स्‍वास्‍थ्‍य को लाभ होगा। लकड़ी जलना बंद होगा तो जंगल बचेंगे, धुंआ नहीं होगा तो पर्यावरण बचेगा।जंगल बचेगा तो पर्यावरण में वृद्धि होगी, एक इंसान सब्सिडी छोड़ता है, कितने फायदे हो सकते हैं, जिसका आप अनुमान लगा सकते हैं और जन-मन बदला है, उसके कारण यह परिणाम आ रहा है। आपको हैरानी होगी, सबसे बड़ी सरप्राइज घटना बता दूं, मेरे लिए भी सरप्राइज है। लेकिन वो सुखद.. आश्‍चर्य है मेरे लिए। एक अखबार के मालिक ने मुझे चिट्ठी लिखी है। बताईये सुखद आश्‍चर्य है या नहीं है। अखबार के मालिक ने चिट्ठी लिखी है और उसमें मुझे लिखा है कि मोदी जी, जो देश मूड है उससे लगता है.. और हमने हमारे अखबार की एक नीति बनाई है और वो नीति ये है कि सप्‍ताह में एक दिन हमारा अखबार सिर्फ और सिर्फ पॉजिटिव न्‍यूज ही छापेगा। ये छोटी घटना नहीं है मित्रों ! भले आज एक अखबार ने काम शुरू किया है लेकिन खुद हो करके, सामने हो करके कहना और ये विचार मैंने नहीं दिया है। अब्‍दुल कलाम हमारे पूर्व राष्‍ट्रपति जी वो बार-बार कहते थे कि पॉजिटिव का कॉलम बनाईए, मैंने कभी कहने की हिम्‍मत नहीं की थी। लेकिन मुझे खुशी हुई कि बदले हुए जन-मन.. कहां-कहां उसका फैलाव हो रहा है, कैसे बात पहुंच रही है, उससे लगता है कि देश.. आप जिन सपनों को लेकर जीते हैं, आप ही आंखों के सामने वो सपने साकार होते हुए आप देखेंगे ये मैं आपको विश्‍वास दिलाता हूं।

PM Modi - Indian Diaspora Event, at Ricoh Coliseum, Toronto Canada (6)

हमारे देश में कई समस्‍याएं हैं लेकिन उन समस्‍याओं का समाधान एक ही जड़ी-बूटी में है। सब दु:खों की दवाई एक ही जड़ी-बूटी है। वो जड़ी-बूटी मोदी नहीं है, उस जड़ी बूटी का नाम है- विकास। हमारी सभी समस्‍याओं का समाधान है कि हम देश में विकास के एजेंडा पर आगे बढ़ें। हम विकास करें और मैं बताता हूं भाईयों और बहनों कि भारत के अंदर ताकत है, सिर्फ अवसर चाहिए। पिछले दस साल में हमारे देश में प्रति दिन जो रोड का Construction होता था वो 2 किलोमीटर होता था Per Dayऔर पिछले दस महीने से  Per Day 11 किलोमीटर होता है यानी आप देख सकते हैं कि विकास.. 11 किलोमीटर है ...यानी बहुत बड़ी बात नहीं बता रहा लेकिन तुलनात्‍मक रूप से पता चलेगा कि हम कैसे आगे बढ़ रहे हैं। भाईयों और बहनों, विकास का रास्‍ता ही देश को आगे ले जाएगा।

आप कल्‍पना कीजिए कि भारत के पास आज कौन सी बड़ी संपत्ति है? मेरे नौजवान साथियों: भारत के पास वो संपत्ति है, जो दुनिया में किसी के पास नहीं है और वो है –भारत की 65 प्रतिशत जनसंख्‍या 35 से कम उम्र की है। हिंदुस्तान नौजवान है| 80 करोड़ नौजवान जिस देश के पास हों.. 160 करोड़ मजबूत भुजाएं हों, 80 करोड़ सपने हों, वो देश क्‍या नहीं कर सकता?यह एक बहुत बड़ी संपत्ति है हमारी और इसलिए विकास के केंद्र में, मेरे दिमाग में ये 80 करोड़ नौजवान हैं, जिनके हाथ में हुनर हो, जिनको रोजगार के अवसर हों, वे मिट्ठी में से सोना बनाने की ताकत रखते हैं और देश सोने की चिडि़या फिर एक बार बन सकता है दोस्‍तों। ये आत्‍मविश्‍वास उन सवा सौ करोड़ देशवासियों के आर्शीवाद से पनपा है। ये आत्‍मविश्‍वास उन 80 करोड़, 35 साल से कम उम्र के नौजवानों की आंखों में से पैदा हुआ है और मैं दुनिया को कहता हूं कि दुनिया कल्‍पना करे , प्रगतिशील देश कल्‍पना करें, समृद्ध देश कल्‍पना करें, 2030 : 2030 के बाद उनके पास कितने ही कारखाने होंगे, कितने ही काम होंगे, उनके पास Work Force होगा क्‍या ? दुनिया के सभी समृद्ध देशों में उम्र बहुत तेजी से बढ़ रही है। जवानी मुरझा रही है और तब अगर जवानी मुरझा गई तो उस देश को चलाने की ताकत बाहर से लानी पड़ेगी। पूरे विश्‍व को 2030 के बाद जो Work Force की जरूरत होने वाली है वो एक ही जगह से मिलने वाला है, उस जगह का नाम है – हिन्‍दुस्‍तान | इसलिए हम अभी से इस बात पर ध्‍यान केंद्रित कर रहे हैं और उसमें हमारी प्राथमिकता है Skill Development... हमारा मिशन है Skill India| पहले भारत की पहचान थी- Scam India। हम बनाना चाहते हैं Skill Indiaऔर इसलिए Skill Development  को प्राथमिकता देना चाहते हैं और Skill Development में भी मेरे मन में अलग-अलग कल्‍पनाएं हैं। एक तो हम अभी से दुनिया का Mapping करना चाहते हैं कि किस देश को किस प्रकार के मानव बल की आवश्‍यकता होगी। दुनिया के कई देश हैं, जिनको Maths और Science के Teachers की जरूरत होगी। दुनिया के कई देश हैं, जिनको Nurses चाहिएं। दुनिया के कई देश हैं जहां हाथ से काम करने वाले कारीगर चाहिए। अलग-अलग प्रकार की आवश्‍यकताएं हैं। दुनिया की Mapping करके, जिसको जिस प्रकार के Work Force की जरूरत पड़ेगी उसका अनुमान लगाया जा सकता है, उस प्रकार का Work Force अभी से तैयार करने के लिए Skill Development मिशन.. और Skill Development में दुनिया में आज जिसके पास बढि़या से बढि़या Skill Development की व्‍यवस्‍थाएं, योजनाएं हैं सबको मैं भारत में लाना चाहता हूं, दूसरा Skill Development वो हो जिसमें Enterpreneur तैयार हो। नए स्टार्ट अप, नई पीढ़ी, नए-नए व्‍यवसाय में खुद जुटें, स्‍वरोजगार में आगे आए किसी से नौकरी पाने के लिए इंतजार न करे, वो Job Seeker न बने, वो Job Creater बने। भले दो को नौकरी दें, पांच को दें लेकिन वो Job Creater बने। उनके लिए जो Skill Development होनी चाहिए, उस पर बल देना चाहिए, तीसरा जो खुद रोजी-रोटी कमाने के लिए कुछ करना चाहते हैं। उनके लिए उस प्रकार का Skill Development| इस तरह Skill Development पर बल दे करके, Value Addition करके.. और हमारे देश में दुर्भाग्‍य से कोई कितना भी बदमाश व्‍यक्ति क्‍यों न हो? लेकिन अगर खादी का बढि़या कुर्ता पहन करके, लंबा कुर्ता पहन करके आ जाए या कोट पैंट और टाई पहन करके आ जाए और अपने घर की घंटी बजाए, तो हम कहेंगे कि आइये-आइये बैठिए, क्‍या काम है? लेकिन कोई बेचारा गरीब मजदूर, ऑटो रिक्‍शा वाला, कपड़े गंदे हों और वो आ करके घंटी बजाए और पूछे कि फलाने भाई कहां गये तो हम कहते हैं कि अरे चलो चलो ! ये कोई टाईम है क्‍या? भागो शाम को आना!क्‍यों? हमारे मन में Labour के प्रति जो Dignity चाहिए, उसका अभाव भर गया है। जब तक एक सामान्‍य व्‍यक्ति की Dignity.. ये हमारा स्‍वभाव नहीं होगा, Dignity of Labour, ये हमारी प्रकृति नहीं होगी, तो शायद दुनिया जो हमसे मांग रही है उसको हम गौरव से नहीं कर पाएंगे। मैं आज गर्व से कहता हूं कि दुनिया में जिस प्रकार से युवा पीढ़ी को हम देख रहे हैं, भारत की युवा पीढ़ी भी जो भी काम मिले, बिना शर्म के, बिना संकोच के, वह करने को तैयार है। कोई संकोच नहीं, कोई शर्म नहीं, वो मेहनत करने को तैयार है। ये जन-मन बदला है, उसी का परिणाम है। नौजवान का मिजाज बदला है,वो मेहनत करने को तैयार है, काम करने को तैयार है, हम उसे अवसर देना चाहते हैं, Human Resources Development, इस पर हम ध्‍यान केंद्रित करना चाहते हैं, उसके साथ-साथ हम थोड़ा ऊपर के लेयर का भी सोच सकते हैं। भारत के पास Talent है।Talent में कोई कमी नहीं है।हमारे टैलेंट का सबसे बड़ा सबूत है- भारत ने अभी मंगलयान भेजा है। Mars पर हम गये और छोटी-छोटी जगहों पर वे Mars पर जाने वाले सारे पुर्जे तैयार हुए। हिंदुस्‍तान के पांच छह राज्‍यों में छोटे-छोटे Small Scale Industry वालों के यहां एक-एक पुर्जा बना। हमारे Scientist जो हैं, नौजवान हैं, उनका Talent देखिए। उन्होंने  पहुंचा दिया मंगलयान।दुनिया में हम पहला देश हैं जो पहले ही Trial में सफल हो गये और मंगलयान में हमारे Talent का कमाल देखिए। हॉलीवुड की फिल्‍म पर जितना खर्चा होता है न, उससे कम खर्चे में मंगलयान पहुंच गया। आप अगर दिल्‍ली में, लखनऊ में, कानपुर में, हैदराबाद में, बंगलोर में ऑटो रिक्‍शा में अगर जाते हैं तो एक किलोमीटर का करीब दस रूपया खर्चा आता है। मंगलयान पर हमारा खर्चा सिर्फ सात रूपया किलोमीटर आया है। मैं कहना यह चाहता हूं कि देश के पास Talent है। क्‍या कारण है कि आईटी की दुनिया में हिन्‍दुस्‍तान के नौजवानों ने नाम रोशन किया। कनाडा में भी हिंदुस्‍तान के आईटी के नौजवान अपना करतब  दिखा रहे हैं। अमेरिका में भी हिंदुस्‍तान के नौजवान आईटी में अपना करतब दिखा रहे हैं। उंगलियां तो उनकी हैं, लेकिन मेरे नौजवान दोस्‍तों जवाब हमें खोजना पड़ेगा कि बुद्धि वहां से है, उंगलियां उसकी चल रही हैं, लेकिन Googleभारत की गोद से पैदा क्‍यों नहीं होता? Microsoftभारत की गोद से पैदा क्‍यों नहीं होता?

PM Modi - Indian Diaspora Event, at Ricoh Coliseum, Toronto Canada (11)

Talentवो ही है काम वही कर रहे हैं, मुझे वो माहौल बदलना है, ये हमारे TalentedYouthको अवसर देना है, ताकि वो Innovationकरें। आने वाले दिनों में दुनिया को क्‍या चाहिए? अपने Innovationसे वो दें। इसलिए छोटे-छोटे से काम के लिए एक मजदूर को जिस प्रकार का Skill Development चाहिए वो हमारे Talented Youthके लिए, Innovation के लिए अवसर चाहिए। उस दिशा में हम काम कर रहे हैं। हमने इस बार हमारे बजट में कार्यक्रम रखा है –AIM –Atal Innovation Mission. हम नौजवानों को अवसर देना चाहते हैं। कहने का तात्‍पर्य यह है कि देश को आगे ले जाने के लिए हमारी युवा शक्ति का जो सामर्थ्‍य है, जो हमारी सबसे बड़ी संपदा है और यह संपदा केवल भारत के अपने लिए नहीं, पूरे विश्‍व के अंदर काम आने वाली संपदा हमारे पास है। भले हमारे पास हीरे की खदानें नहीं होगी, भले हमारे पास गैस के भंडार नहीं होंगे, भले हमारे पास पेट्रोलियम के भंडार नहीं होंगे, हमें यू‍रेनियम बाहर से लाना पड़ता होगा, लेकिन हमारे पास जो ताकत है उस ताकत के भरोसे हम दुनिया में देश की ताकत बढ़ाना चाहते हैं। ये विश्‍वास ले करके हम आगे बढ़ रहे हैं।

आज हमने कनाडा में एक बहुत महत्‍वपूर्ण निर्णय लिया। मेरी इस यात्रा में एक महत्‍वपूर्ण निर्णय हमने फ्रांस में किया, दूसरा महत्‍वपूर्ण निर्णय आज हमने कनाडा में किया, बाकी तो बहुत महत्‍वपूर्ण हुआ है, लेकिन दो चीज ऐसी हैं, जिनकी तरफ लोगों का ध्‍यान नहीं गया है। पता नहीं जब मैं वापस पहुंचूंगा तो तब जाएगा कि नहीं जाएगा या तो कहीं और ध्‍यान होगा अभी लोगों का लेकिन हो सकता है कि चार छह महीने के बाद ध्‍यान दें। फ्रांस में एक महत्‍वपूर्ण निर्णय हुआ, वो यह हुआ कि हम लोग Nuclear Energyके लिए दुनिया भर से रियेक्‍टर मांगते थे। हर कोई देश हाथ ऊपर कर देता था, बात चलती थी, दो चार साल बात चलती थी, फिर बात ऊपर हो जाती थी। बहुत लंबे अरसे से विषय Pendingथा, कोई देने को तैयार नहीं था क्‍योंकि सबको लगता है कि कहीं बम न बना दें और जो बनाते हैं उनको कोई रोकता नहीं है, रोक पाते भी नहीं। जो गांधी का देश है, जिसने कभी दुनिया में किसी पर आक्रमण नहीं किया, जिसने शांति के शहादत मोल ली है। ऐसे हम लोग हैं| उनको कई वर्षों के लिए भटकना पड़ता है। इस बार हमने फ्रांस के अंदर एक कंपनी के साथ भारत की एक कंपनी का MOUहुआ है। मेरे लिए खुशी की बात है कि सबसे बड़ा काम होने वाला है कि अब वो रियेक्‍टर भारत में बनेगा। अब रियेक्‍टर तो बनेगा लेकिन NuclearEnergyके लिए यूरेनियम चाहिए। यूरेनियम आपका कनाडा मुझे देगा। पूरी दुनिया GlobalWarmingके कारण परेशान है,Climate Changeकी चर्चा है, Air Conditionedकमरों में सर्वाधिक एनर्जी का उपयोग करके Climateकी चर्चा की Meetingहुआ करती है। भारत अगर Environment Protectionमें सफल होता है तो दुनिया का 1/6 जिम्मा हम अकेले उठा सकते हैं। उसमें सबसे बड़ा काम है Clean Energyऔर उस Clean Energyमें Nuclear Energyकी ताकत बहुत है। इसलिए हम रियेक्‍टर बनाएंगे, हम कनाडा से यूरेनियम लेंगे, हम Nuclear Energyबनाएंगे और दुनिया को जिस चीज की चिंता है- Climate Changeकी उसमें मददगार होने का काम हिंदुस्‍तान बीड़ा उठाएगा।

भारत के राष्‍ट्र ध्‍वज में चार रंग हैं। हम बोलते हैं तिरंगा, रंग चार हैं, लेकिन वो हमारी विशेषता है। मैं एक चतुर्रंगी क्रांति का सपना ले करके चल रहा हूं, चतुर्रंगी क्रांति का। भारत का तिरंगा झंडा, जिसको देखते हम जिसमें कि चार रंग हैं –Saffron है, Whiteहै, Green है और बीच में Blueहै। अशोक चक्र है Blue Colourका। मैं चतुर्रंगी क्रांति का सपना देख करके चल रहा हूं। चतुर्रंगी क्रांति का सपना देख रहा हूं.. केसरिया रंग.. अब कुछ लोगों को तो केसरिया रंग का अर्थ भी ढंग से मालूम नहीं है। वो अपनी मन-मर्जी का अर्थ करते रहते हैं, वो उनका काम है करते रहें। Saffron Colour,ये ऊर्जा का रंग है, Energy का रंग है। सूर्य का सात घोड़ों का रथ देखते हैं तो Saffron Colourका दिखाई देता है। ये ऊर्जा क्रांति करनी है हिंदुस्‍तान में। इसलिए Nuclear Energy, Solar Energy,Wind Energy, Biomassसे बनने वाली Energy, Energy Saving,इन सारे विषयों को एक साथ चलाया है।

PM Modi - Indian Diaspora Event, at Ricoh Coliseum, Toronto Canada (5)

हमारे देश में कुछ तो Terminologyएक दम से बदल रही है। भारत कभी भी.. ज्‍यादा से ज्‍यादा चर्चा मेगावाट की करता था, कि भई इतने मेगावाट, इतने मेगावाट। पहली बार देश में गीगावाट की चर्चा होनी शुरू हुई है। वरना हमारा.. क्रिकेट में भी Lastके जो बॉलर वगैरह खेलने जाते हैं, सेंचुरी की कहां चर्चा करते हैं?.. तो मेगावाट के आस-पास खेलते थे, पहली बार सरकार गीगावॉट की परिभाषा ले करके चल रही है और 175 गीगावाट Renewable Energyकी तरफ हम जा रहे हैं, 100 गीगावाट Solar Energy, 75 गीगावाट Wind Energy| यह सपना देखा है। Energysaving.. LED Bulbका एक पूरा मूवमेंट खड़ा किया है। स्‍कूलों में बच्‍चों को बताते है, बिजली बचाने के लिए अपने घर में माहौल बनाओ। LED Bulbऔर Transparency.. आपको जानकर हैरानी होगी कि एक साल पहले जो सरकार थी, उस समय 2012-13 के कार्यक्रम में LEDका Bulbसरकार 350 रूपये में लेती थी। कितना? ये सरकार 85 रूपये में लेती है। ये Transparencyहै कि नहीं है, है कि नहीं है, भ्रष्‍टाचार गया कि नहीं गया, ईमानदारी आई कि नहीं आई, ईमानदारी से काम हो सकता है कि नहीं हो सकता। हर छोटी चीज में यदि ध्‍यान बारीकी से रखा जाए,तो बदलाव लाया जा सकता है। जन-मन बदला है दोस्‍तों इसलिए परिस्थितियां पलट रही हैं। दूसरा Revolutionहै –White Revolution.हमारे देश में, दुनिया में दूध देने वाले पशुओं की तुलना में हमारे यहां Productivityबहुत ज्‍यादा नहीं है। जो काम दो दूध देने वाले पशुओं से होना चाहिए,उतना काम करने के लिए हमको 20 पशु पालने पड़ते हैं, क्योंकि उसका लालन-पालन करने के लिए जिन चीजों को वैज्ञानिक तरीके से बढ़ाना चाहिए, हम नहीं बढ़ा पाते। गांव के गरीब के पास यदि एक पशु हो,तो उसको जिंदगी में कभी देखना न पड़े, उसकी Productivityकैसे बढ़े, वैज्ञानिक तौर-तरीके कैसे आएं और हिंदुस्‍तान में सेकेंड White Revolutionकैसे हो,उस पर हम बल दे रहे हैं। तीसरा, Green Revolution .. Green Revolutionमें वही बात, अब जमीन पहले पांच एकड़ थी, दो भाई थे, अब पांच एकड़ में दस भाई हो गए, दो भाई के बच्‍चे हो गए, उनके बेटे हो गए, अब इतना बड़ा परिवार दस बीघा जमीन में कैसे चलेगा? वो परिवार तब चलेगा कि हम सीमित जमीन में भी Productivityकैसे बढ़ाएं। इसके लिए एक काम हमने उठाया है –Soil Health Card.इंसान की Healthके लिए जैसे HealthCardहोता है,  वैसे धरती माता की तबीयत के लिए Health Cardहो । कहीं हमारी पृथ्‍वी मां बीमार तो नहीं है?  हमारी पृथ्‍वी मां को जो खाना चाहिए, वो नहीं खिलाते,कुछ और खिला दिया, ऐसा तो नहीं है? माँ को कैसे बचाएं, इसलिए हमने अभियान उठाया है धरती मां की रक्षा करने का। Soil Health Cardका मिशन चलाया है। पानी बचाना, ये दुनिया पर बहुत बड़ा जिम्‍मा आ पड़ा है। Per Drop More Cropएक-एक बूंद से फसल कैसे ज्‍यादा पैदा हो?उस पर हम बल देना चाहते हैं, जो पैदा हो उसका Value Additionकैसे हो, मूल्‍य वृद्धि कैसे हो?किसान का माल .. Forward Linkageकैसे उसको मिले, Green Revolution.. हिंदुस्‍तान में सेकेंड Green Revolutionके लिए, भारत का जो पूर्वी हिंदुस्‍तान है, जिसकी जब चर्चा होती है, तो गरीबी के नाम पर होती है, वो सबसे समृ‍द्ध बन सकता है। बिहार हो, ओडि़शा हो, पूर्वी उत्‍तर प्रदेश हो, पश्चिम बंगाल हो, असम हो, जहां विपुल मात्रा में पानी है। इसलिए हमारा फोकस है सेकेंड Green Revolutionऔर स्‍पेशल फोकस है हिंदुस्‍तान के पूर्वी इलाके में, वहां के किसान और गांव की जिंदगी को बदलना है। चौथा है, Blue Revolution, Blueक्रांति करनी है। BlueRevolutionजब मैं कहता हूं तब, एक नीला आसमान। पर्यावरण के संकटों से मुक्‍त नीला आसमान। Environment Protectionकी चिंता करते हुए नीला आसमान। मैं Manufacturing में कहता हूं – Zero Defect,  Zero Effectजो पैदा करें,उसमें कोई Defect न हो और ऐसे पैदा करे कि Environmentपर Effectन हो। Zero Defect,  Zero Effect,नीला आसमान। और दूसरा नीला समुंदर के पानी का रंग। नीला आसमान भी चाहिए, वो भी Revolutionकरना है और सामुद्रिक शक्ति का भी Revolutionहोना चाहिए। मेरे मछुआरे, उनकी आर्थिक स्थिति सुधरनी चाहिए। समंदर के अंदर प्राकृतिक संपदा पड़ी है। गैस और पेट्रोलियम के भंडार पड़े हैं। इन प्राकृतिक संपदाओं का सर्वाधिक उपयोग मानव जाति के लिए कैसे हो, Blue Revolutionकरना है, Saffron  Revolution, WhiteRevolution, Blue Revolution,Green Revolution, Blue Revolution| जल-थल नभ सबकुछ.. और इसलिए भाईयों और बहनों विकास की उन नई-नई ऊचाईयों को पार कर रहे हैं। आप कनाडा के भाईयों और बहनों कुछ बातें हैं जो मैं आपको जानकारी देना चाहता हूं। ओसीआई और पीआईओ.. मैंने जब Madison Squareपर बोल रहा था,तो मैंने वादा किया था। इन दोनों को Mergeकर देंगे, वो काम पूरा कर दिया है। हर किसी को पीआईओ कार्ड हो, वो ओसीआई की तरह ही, उसको सारी सुविधाएं दी जाएंगी। दूसरी बात है, ओसीआई पूरे जीवन के लिए मिलेगा। पहले वो सिर्फ 15 साल के लिए था। आपको पता होगा, आप में से जो बड़ी आयु के लोग वहां आ करके रहते होंगे, छुट्टियों में, तो हमारे यहां यह नियम था, उसको हर 15 दिन में एक बार पुलिस थाने ले जा करके बताना पड़ता था कि मैं वही हूं और कुछ गलत नहीं कर रहा हूं। मुझे बताइये कि आप पर मुझे भरोसा करना चाहिए कि नहीं करना चाहिए?  करना चाहिए कि नहीं चाहिए? जन-मन बदला है दोस्‍तों! इसलिए हमने तय किया है कि ओसीआई कार्ड वालों को पुलिस थाने में हाजिरी लगाने की जरूरत नहीं है। ओसीआई को चार पीढ़ी तक विदेश गए लोग.. अब उनको इसमें समाहित कर दिया गया है। चार पीढ़ी तक को स्‍वीकार कर लिया गया है। कुछ जगह पर अभी कुछ चीजें Processमें हैं। अगले पांच छह महीनों में सारी प्रक्रियाएं पूरी हो जाएंगी।

 एक ई-पोर्टल हमने शुरू किया है, जिसका आप फायदा ले सकते हैं। ट्रैकिंग, मॉनिटरिंग, फीडबैक ये सारी चीजें ई-पोर्टल के अंदर हैं। ई-पोर्टल का नाम है, मदद। एक ई-माइग्रेट पोर्टल शुरू किया है, जिसके द्वारा भी आपको कोई शिकायत हो, कोई कठिनाई हो तो इमीग्रेशन ऑफिस जाना नहीं पड़ेगा। आप उसी के द्वारा अपना काम कर सकते हैं, आपका समय बच सकता है। जो भारत के बाहर रहने वाले लोग हैं, जिनको ऑनलाइन अप्‍लीकेशन करने हैं,वे ई-माइग्रेशन इस व्‍यवस्‍था के तहत कर सकते हैं। आपने देखा है कि दुनिया में कुछ न कुछ देशों में संकट चलते रह‍ते हैं और हमारे भारतीय भाई-बहन बड़े उदार रहते हैं, उनको हम समझाते हैं कि भई निकलो, मुसीबत आ रही है। उनको लगता है नहीं-नहीं ये तो अच्‍छे लोग हैं, हमें कुछ नहीं होगा। वो निकलते नहीं हैं। हम यमन में जनवरी महीने से कह रहे थे कि निकलो!निकलो! कहते थे नहीं। आखिरकार,हमें अभी निकालना पड़ा चार हजार लोगों को, मुश्किल से ले करके आये हैं। पिछले दस महीने में West Asia में जो मुसीबतें आईं हैं, करीब 17 हजार भारतीयों को सुरक्षित बचा करके वापस लाने का काम किया है। देशवासियों मैं आपको एक बात बताना चाहता हूं, संकट की घड़ी में हम पासपोर्ट के रंग नहीं देखते हैं। अपनों के लिए जो भी करना पड़ता है, पूरी शक्ति लगा करके करते हैं। लेकिन विश्‍व में रहने वाले भारतीयों से भी हमारा आग्रह रहेगा कि हम संकटों में फंसे नहीं, समय रहते हम जागरूकता पूर्वक अपने विषयों को आगे बढ़ाये तो अच्‍छा होगा।

PM Modi - Indian Diaspora Event, at Ricoh Coliseum, Toronto Canada (7)

पहली बार हमने प्‍लानिंग कमीशन की जगह पर नीति आयोग बनाया है और नीति आयोग में एक पैराग्राफ.. प्रवासी भारतीयों को भी एक शक्ति के रूप में माना गया है। वो भी एक बहुत बड़ी भारत की विकास की ताकत है और उसके लिए भी भारत को सोचते रहना चाहिए। ये पहली बार एक Specific काम उनके लिए तय किया है। उसके चार्टर में इसको लिखा गया है। कनाडा के मित्रों के लिए एक खुश खबरी है। इलैक्‍ट्रोनिक टूरिस्‍ट वीजा, इसकी व्‍यवस्‍था हमने कर दी है, बहुत ही जल्‍द इसका लाभ आपको मिलेगा। दूसरी बात, मुझे मालूम है कि आप बोलेंगे नहीं,लेकिन कभी-कभी आपको भी वीजा लेने में तकलीफ पड़ती है, पड़ती है न? अब हमने तय किया है कि दस साल के लिए देंगे। अगर जन-मन बदला है,तो भरोसा भी बढ़ना चाहिए और भरोसे से दुनिया चलती है मेरे दोस्तों ! इसको ले करके हम चलने वाले हैं और चल रहे हैं। भाईयों और बहनों,काफी लंबी बातें कर ली आपसे, मुझे आनंद आया, आपने स्‍वागत किया, सम्‍मान किया। मैं आप सबसे आग्रह करूंगा कि हमारा देश, हम जो भी पढ़े हैं, जो भी अनुभव पाया है, दुनिया में कहीं से भी जो Disciplineसीखें हैं, जो भी अच्‍छा है हमारे पास, कहीं से भी मिला हो, वो हमारे देश के लिए भी काम आना चाहिए, हमारे देश के उन गरीबों के लिए भी काम आना चाहिए। जो हमारे लोग यहां आये हैं, हम ये न भूलें कि आज जो हम पहुंचें हैं जहां पर उसके मूल में किसी न किसी गरीब ने हमारे लिए कुछ न कुछ तो छोड़ा होगा। किसी न किसी ने कष्‍ट झेला होगा,तब हमारी जिंदगी बनी है। मानवता का तो यही तकाजा है कि जिन्‍होंने हमें दिया है हमें उनको भी तो कुछ लौटाना है। इस बात को ले करके आप चलें। भारत के प्रति हमारी भक्ति अपरमपार बनी रहे। मैं फिर एक बार, कनाडा ने मेरा जो स्‍वागत किया, सम्‍मान किया, प्रधानमंत्री जी ने इतना समय दिया, उनके मंत्रि-परिषद के इतने वरिष्‍ठ लोग आ करके बैठे, यहां के सभी सांसद आ करके बैठे, मैं उनका सबका हृदय से बहुत-बहुत धन्‍यवाद करता हूं। कनाडा और भारत की दोस्‍ती एक ऐसी युक्ति है, जो शक्तियों का संवर्धन करती है और ये ऐसी शक्ति है.. मान लीजिये हम Mathematic में a2 + b2करें तो Result क्‍या आता है? लेकिन मान लीजिए (a+b)2 तो Resultआता है a2 +2ab+b2 ... Extra 2ab मिलता है कि नहीं मिलता है? ये Extra 2ab कहां से आया? तो भारत और कनाडा जब मिलता है तो Extra 2ab निकलता है। यह हमारी ताकत है। उस ताकत को लेकर आगे बढ़ें। इसी एक अपेक्षा के साथ मैं फिर एक बार आप सबका धन्‍यवाद करता हूं। मेरी तरफ से आपको बहुत शुभकामनाएं देता हूं और समाज के सब लोगों ने मेरा इतना सम्‍मान किया, आशीर्वाद दिए, मैं सदा सर्वदा आपके इस प्रेम को याद रखूंगा। आपके आशीर्वाद की ताकत को याद रखूंगा। मैं आपको सबको वंदन करते हुए मेरी बात को विराम करता हूं। दोनों मुट्ठी बंद करके मेरे साथ पूरी ताकत से बोलिए –भारत माता की जय। ऐसे नहीं, आवाज हिंदुस्‍तान तक जानी चाहिए।

भारत माता की जय।

Pariksha Pe Charcha with PM Modi
Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
9,200 oxygen concentrators, 5,243 O2 cylinders, 3.44L Remdesivir vials delivered to states: Govt

Media Coverage

9,200 oxygen concentrators, 5,243 O2 cylinders, 3.44L Remdesivir vials delivered to states: Govt
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Share
 
Comments
At this moment, we have to give utmost importance to what doctors, experts and scientists are advising: PM
Do not believe in rumours relating to vaccine, urges PM Modi
Vaccine allowed for those over 18 years from May 1: PM Modi
Doctors, nursing staff, lab technicians, ambulance drivers are like Gods: PM Modi
Several youth have come forward in the cities and reaching out those in need: PM
Everyone has to take the vaccine and always keep in mind - 'Dawai Bhi, Kadai Bhi': PM Modi

ঐহাক্কী নুংশিজরবা ইরৈবাকচাশিং, খুরুমজরি। ঙসিদি পুক্নিংগী ৱারোল (মন কী বাত) অসি কোরোনানা মরম ওইদুনা ঐখোয় পুম্নমক্কী খাং কনবগী পাঙ্গল অদু চাংয়েং তৌবা মতম ওইরিবা; মসিনা ঐখোয়না অৱাবা খাংলিঙৈ মনুং অসিদা ঐখোয় পুম্নমক্কী খাংবা ঙমবগী পনখৈশিং চাংয়েং তৌরি। ঐখোয়গা নক্নবা অমসুং নুংশিজবা কয়া অমনা মনুং মতম চাদনা ঐখোয়বু থাদোক্তুনা চৎখ্রে। কোরোনাগী অহানবা ৱেভ মাই পাক্না লাকশিনখ্রবা মতুংদা ঐখোয়গী লৈবাক্কী পাঙ্গল, থৌনা অসি কনখৎলুরবনি, ইশানা ইশাবু মপুং ফানা থাজরুরবনি অদুবু লাক্লিবা নোংলৈ নুমিৎ অসিনা লৈবাক অসিদা অৱাবা পীরি।

মরুপশিং হৌখিবা নুমিৎশিংদা খুদোংথিবা অসি ঙাকথোক্নবগীদমক ঐহাক্না তোঙান তোঙানবা সেক্তরদগী এক্সপর্তশিংগা লোইননা কুপ্না খন্নখি। ঐখোয়গী ফার্মা ইন্দস্ত্রীগী মীওইশিং, বেক্সিন মেন্যুফেকচর্রশিং, ওক্সিজেন প্রদক্সনগা মরী লৈনবা মীওইশিং, মেদিকেল ফিল্দদগী এক্সপর্তশিংনা সরকারদা মখোয়গী মমল য়াম্লবা পাউতাক কয়া পীরক্লে। মতম অসিদা লান অসিবু মাই পাকহন্নবগীদমক এক্সপর্তশিং অমসুং বিজ্ঞানিকশিংগী পাউতাকপু হেন্না লুম্না লৌগদবনি। রাজ্য সরকারশিংনা হোৎনরিবশিং অদু হেন্না মপুং ফাহন্নবা ভারত সরকারনা অঙম্বা থাক্তা হোৎনরি। রাজ্য সরকারশিংনসু মখোয়গী মথৌদাংশিং মপুং ফানা পাঙথোক্নবা হোৎনরি।

মরুপশিং ঙসিমক লৈবাক অসিগী দোক্তরশিং অমসুং হেল্থ ৱর্করশিংনা কোরোনাগী মায়োক্তা অকনবা লান শোক্নরি। হৌখিবা চহি অমরোম অসিদগী মখোয়না লাইনা অসিগী মরমদা মুন্না খঙলক্লি। হৌজিক ইখোয়গী লাক্তা য়াওগদৌরিবা অসি মুম্বাইগী মমিং লৈরবা দোক্তর শাশঙ্ক জোশিজীনি।

দা, শাশঙ্ক কোরোনা লায়েং অমসুং মসিগা মরী লৈনবা রিসর্চকী লমদা গ্রাসরুৎ কী থাক্তগী য়াম্না মমুৎ তানা খঙবা মীওই অমনি। মহাক্না ইন্দিয়ন কোলেজ ওফ ফিজিসিয়ন্সকী দীনসু ওইরম্মি। ঐখোয় দা. শাশঙ্ককা ৱারী শারবসি।

পি.এম. – খুরুমজরি দা. শাশঙ্ক জী

দা. শাশঙ্ক – খুরুমজরি সর।

পি.এম. –নুমিৎ খরনিগী মমাংদা অদোমগা ৱারী শাবগী খুদোংচাবা অমা ফংজখি। অদোমগী ময়েক শেংলবা ৱাখল্লোনশিং অদু তাজবদা ঐহাক নুংঙাইবা পোকই। নহাক্কী ৱাখল্লোন অসি লৈবাক অসিগী প্রজা পুম্নমক্না খঙবা মথৌ তাই হায়না ঐহাক্না থাজৈ। ঐহাক্না হেক-হেক তাজবা ৱাফম অসিদগী ঐহাক্না ৱাহং অমা ওইনা অদোমদা হংজগে। দা. শাশঙ্ক হোজিক্কী মতম অসিদা নখোয়না অহিং-নুংথিল খাইদনা মীয়ামগী পুন্সি কন্নবা হোৎনখি... অহানবদা সেকেন্দ ৱেভকী মতমদা খরা হায়বীয়ু; অনা-লায়েংগী মরমদা খরি খেৎনবা লৈবগে, করি-করি চেকশিন-থৌরাং মথৌ তাই হায়বদু হায়বীয়ু।

দা. শাশঙ্ক – থাগৎচরি সর। হন্দক লাক্লিবা অনিশুবা ৱেভ অসি হান্নদগী হেন্না য়াংনা লাক্লি। ভাইরস অসি অহানবা ৱেভতগী হেন্না খোঙজেল য়াংনা শন্দোক্লি। অদুবু অফবা ৱাফম অমনা রিকভরী রেৎনা হেন্না ৱাংঙি অমসুং মোর্তেলিতী রেৎ য়াম্না নেম্মি। মসিদা খেৎনবা ২- ৩ লৈ। অহানবদা – মসি নহাশিং অমসুং অঙাংশিংদা নাবসু থেংনৈ। মদুগী লাইওদি অহানবদা শ্বর হোনবা ৱাবা, লোক কংখু খুবা, লাইহৌ হৌবা মসিগা লোইননা মনম ফাওদবা অমসুং মহাও খঙদবা অসিসুনি। অমসুং মসি মীয়াম্না অকীপা পোক্নৈ, মসিদা অকীবা পোকপগী মথৌ তাদে, মীওই চাদা ৮০ দগী ৯০ ফাওবদদি মসি লাইওংশিং অমত্তা উৎথোক্তে। ম্যুতেসন হায়না খঙনরিবা অসিদা অকীপা পোকপীগনু। ম্যুতেসনশিং অদুমক থোক্কনি...ঐখোয়না ফীজোল হোংবগুম্না ভাইরসসু মহক হোংবা নাই...মরম অসিনা অকীপা পোকপীগনু অমসুং হন্দক্কী ৱেভ অসিসু ঐখোয়না ঙমগনি। ৱেভশিং লাক্কনি অমসুং চৎখিগনি, ভাইরসসু লাক্কনি অমসুং চৎখিগনি...হায়রিবশিং অসি তোঙান তোঙানবা লাইওংশিংনি অমসুং ঐখোয়না নাদনবা চেকশিনবা তাই। কোবিদকী তাইমতেবলগী মতুং ইন্না নুমিৎ ১৪দগী ২১ ফাওবগী মনুংসিদি দোক্তরদগী পাউতাক লৌবীবা তাই।

পি.এম. – দা. শাশঙ্ক অদোমনা শন্দোক্না তাকপীবা অসি য়াম্না নুংঙাইজৈ। লায়েংগী মতাংদা চম্মনবা কয়া লৈবগী মতাংদা ঐঙোন্দা চীথি কয়া লাকখি....হীদাক কয়াগী মতাংদসু য়াম্না হঙনরক্লি...মরম অসিনা কোবিদ লায়েংগী মতাংদসু মীয়ামদা খরা তাকপীয়ু।

দা. শাশঙ্ক – অচুম্বনি সর মীয়াম্না ক্লিনিকেল ত্রীৎমেন্ত লৌবা য়াম্না থেংনা হৌই...অনাবা অসি মশা মথন্তা ফজখিনি হায়না থাজৈ...মখোয়না মোবাইলদা লাকপা পাউশিং য়েংদুনা মদুবু থাজৈ। সরকারনা পীরিবা পাউতাক অসি মতম চানা পাঙথোক্লবদি মখোয়না খুদোংথিবশিং মায়োক্নরোই। কোবিদতা ক্লিনিকেল ত্রীৎমেন্ত প্রোতোকলগী মেগনিচ্যুদ মখল অহুম লৈ – লাইৎ নত্ত্রগা মাইল্দ কোবিদ, মীদিয়ম নত্ত্রগা মোদরেৎ কোবিদ অমসুং ইনতেন্স, সিবিয়র কোবিদ হায়না খঙনবা অসিনি। মাইল্দ কোবিদকী ওইনদি ঐখোয়না ওক্সিজেন মোনিতর তৌই, পল্স মোনিতর তৌই অমসুং লাইহৌ মোনিতর তৌই। করিগুম্বা লাইহৌ হেনগৎলকপা মতমদি ঐখোয়না পেরাসিতামোলগুম্বা হীদাকশিং শিজিন্নৈ...অমসুং দোক্তরগা তান্নবা তাই। মোদরেৎ নত্ত্রগা সিবিয়র কোবিদ কী ওইনদি দোক্তরগা পাও ফাওনবা য়াম্না মরু ওই। চুন্নবা অমসুং অহোংবা হীদাকশিং ফংলি। মসিদা স্তেরোইদ য়াওরি মসিনা থৱায় কনবা ঙমগনি...ইনহেলরশিং অমসুং তেব্লেৎশিং পীবা য়াই। লোইননা শ্বর হোনবা নুংঙাইনবা ওক্সিজেন পীবা য়াই...য়াম্না চম্বা লায়েং কয়া লৈ। অদুবু হোজিক তোইনা থোক্লিবা অসি – অনৌবা এক্সপেরিমেন্তেল হীদাক অমা ওইনা পুথোরক্লিবা অসি রেমদেসিভির কৌই। অদুবু ৱাফম অমনা মসিগী হীদাক অসিনা হোস্পিতালদা লৈবগী নুমিৎ অসি ২-৩ হন্থহল্লি অমসুং ক্লিনিকেল রিকভরীদা মতেং পাংঙি। অমসুং হীদাক অসি হান্নদি নুমিৎ ৯-১০নি থারবা মতুংদা মথৌ তৌরম্মি....অমসুং নুমিৎ মঙানি খক্তা থারে। মীয়ামনা রেমদেসিভিরদা তান্নরিবা অসি তোকপীয়ু। হীদাক্কী মতেংদি খরতনি...হোস্পিতালদা এদমিৎ তৌরবা মতুংদা ওক্সিজেন পীরবা মতুংদা দোক্তরগী পাউতাক মতুং ইন্না পীগদবনি। ৱাফম অসি ময়াম্না খঙজিনবা মরু ওই। করিগুম্বা ঐখোয়না প্রনায়ম তৌরবদি মসিনা ঐখোয়গী থবোম্বী খরা খজিক চাউথোকহল্লি। ঐখোয়গী ঈবু মহি লাংথোকহন্নবা হেপারিন কৌবা ইঞ্জেক্সন অমসু লৈ। করিগুম্বা অসিগুম্বা অচম্বা হীদাকশিং অসি থারবসি মীওই চাদা ৯৮তি ফগৎলকপা ঙম্মি। অদুনা পোজিতিব ওইবা ৱাখল খনবা য়াম্না মরু ওই। দোক্তরগী পাউতাক্কী মতুং ইন্না ত্রীৎমেন্ত প্রোতোকোল ঙাকনা চৎপা মরু ওই। অতাংবা হীদাক-লাংথকশিং তান্নরুবগী করিসু মথৌ তাদে। সর ঐখোয়গী অশুক ফবা লায়েংশিং লৈরিসিদি, ঐখোয়গী ওক্সিজেন লৈ, ঐখোয়গী ভেন্তিলেতর ফেসিলিতীশিং লৈ...ঐখোয়দা পুম্নমক ফংলি। হীদাক অসি ফংলকপা মতমদা ফংফম থোকপা মীওইশিংদা পীবিবা য়াই। হীরম অসিদা লান্না থাজনবী কয়া অমা লৈ। সর, ঐহাক্না শেংদোকচনিংবদি ঐখোয়দা মালেমগী খ্বাইদগী ফবা লায়েং ফংলি...ময়ামনসু খঙবিরি মদুদি ভারতকী রিকভরী রেৎনা খ্বাইদগী ৱাংঙি। করিগুম্বা অদোমনা য়ুরোপ অমদি অমেরিকাগা চাংদম্নরবদি, ঐখোয়গী ত্রীৎমেন্ত প্রোতোকোলশিং অসিগী খুত্থাংদা ঐখোয়গী অনাবশিং ফগৎলক্লি।

পি.এম. – Dr Shashank, many thanks to you. দা. শাশঙ্ক অদোমবু হন্না হন্না থাগৎচরি। দা. শাশঙ্কনা পীরিবা ই-পাউশিং অসি য়াম্না মরু ওই অমসুং ঐখোয় পুম্নমক্তা কান্নবা পীরি।

মরুপশিং, ঐহাক্না ময়ামদা হায়জরি...কারিগুম্বা অদোমনা খঙনিবা লৈরবদি, করিগুম্বা অদোমনা চীংনবা লৈরবা, পাউ অদু অচুম্বা মফমদগী খক্তা লৌবীয়ু। অদোমনা অদোমগী ইমুংগী দোক্তর নত্ত্রগা লৈকাইগী দোক্তরদা ফোন্দা তান্নবীয়ু। ঐখোয়গী দোক্তরশিংনা মখোয়গী থৌদাংশিং মশানা পাঙথোকচবা উবা ফংলি। দোক্তর কয়ানা সোসিএল মীদিয়াগী খুত্থাংদা মীয়ামদা ই-পাউ কয়া পীরি। মখোয়না ফোন্দা অমসুং ৱাতসএপতা কাউন্সেলিং তৌরি। হোস্পিতাল কয়াগী ৱেবসাইৎশিংদসু ই-পাউ অসি য়াওরি...মসিদা অদোমনা দোক্তরশিংদগী পাউতাক লৌবসু য়াই। মসি য়াম্না থাগৎনিংঙাই ওইবা খোঙথাংনি।

শ্রীনাগরদগী দা. নভীদ নজিরনা ঐহাক্কা কন্নেক্ত তৌরি। দা. নভীদ শ্রীনাগরদা লৈবা গভর্নমেন্ত মেদিকেল কোলেজকী প্রোফেসর অমনি। মহাক্কী লায়েং মখাদা কোরোনা নারাবা মীওই কয়া ফগৎখ্রে। রামজানগী শেংলবা থা অসিদা দা. নভীদনা মহাক্কী মথৌ পাঙথোক্লি অমসুং মহাক্না ঐহাক্কা ৱারী শান্নবা মতমসু কাইথোকপীরি। মহাক্কা ৱারী শারসি।

পি.এম –নভীদজী খুরুমজরি।

দা. নভীদ – খুরুমজরি সর।

পি.এম – দা. নভীদ মসিগী অৱাবা মতম অসিগী মনুংদা ঐখোয়গী মন কী বাত তাবীরিবশিংদা মতৌ করম্না পেনিক মেনেজমেন্ত তৌগদগে হায়বগী মতাংদা ৱাহং অসি হঙবীরক্লি। অদোমনা থেংনরকপশিং অদুগী মতুং ইন্না মখোয়দা করি পাউখুম পীবিগনি?

দা. নভীদ – য়েংঙু, কোরোনা হৌরকপা মতমদা কাশ্মিরদা খ্বাইদগী ইহানহান্না দেসিগনেৎ তৌবা হোস্পিতাল হায়বদি কোবিদ হোস্পিতাল অসি ঐখোয়গী সিতী হোস্পিতাল অসিনি, মরমদি মসি মেদিকেল কোলেজকী মনুং চল্লি। মতম অদুদা ওইখিবা ফীভম অসি অকীবগী মশক্নি। মতম অদুদা মীশিংনা খন্নরম্বা অসি , করিগুম্বা মীওই অমনা কোবিদ নারবদি মদু শীবগী দন্দি পীবগা পাংখক ওইখি। চৈরক অদুদা ঐখোয়গী হোস্পিতালদা মথৌ তৌরিবা দোক্তরশিং অমসুং পেরামেদিকেল স্তাফতসু অনাবশিং অসি কমদৌনা মায়োক্নগদগে...ঐখোয়দা লাইনা অসি নারকপগী খুদোংথিবা লৈতবা হায়বা অকীবা অসি পোকখি! অদুবু মতমনা অসুম-অসুম হৌখিবগা লোইননা, করিগুম্বা ঐখোয়না প্রোতেক্তিব গীয়র মপুং ফানা শেৎলবা, চেকশিল থৌরাংশিং ঙাক্না চৎপা তারবদি ঐখোয়সু, ঐখোয়গী স্তাফশিং য়াওনা শাফনা লৈবা য়াগনি হায়বা উবা ফংখি। মতমগা ইরোইননা ঐখোয়না অনাবা খরদি লাইওং উৎথোক্তে হায়বা উবা ফংখি। অনাবা মীওই চাউরাক্না চাদা ৯০-৯৫ ফাওবদি হীদাক থাদনা অদুমক ফখি.. অসুম্না মতমনা হৌখিবগা মীয়ামগী ৱাখলদগী কোরোনাগী অকীবা অসি চাউনা হন্থরকখি। ঙসি ঐখোয়না সেকেন্দ ৱেভ হাবনা খঙনরিবা অসিদসু অকীবা পখৎপা তৌবীগনু। চৈরক অসিদসু করিগুম্বা ঐখোয়না চেকশিল থৌরাংশিং, এস.ও.পি.শিং হায়বদি মাস্কশিং উপ্পা, হেন্দ সেনিতাইজরশিং শিজিন্নবা... মসিগী মথক্তা করিগুম্বা ঐখোয়না ফিজিকেল দিস্তেন্স থম্লবা অমসুং মীয়াম পুনবা চংদ্রবদি ঐখোয়গী নুংতিগী থবক মখা চত্থবা য়াগনি অমসুং ইশাবু মসিগী লাইনা অসিদগী ঙাকথোকপা ঙমগনি।

মোদীজী- দা. নভীদ মীয়াম্না বেক্সিনশিং অসিনা ঐখোয়বু কয়াম য়াম্না ঙাকথোক্কনি, বেক্সিন অসি কাপ্লবা মতুংদা নাররোই হায়বগী থাজবা লৈব্রা অসিগুম্বা কয়াগী মতাংদসু ৱাহং কয়া অমা হংনরক্লি। মসিগী মতাংদা খরা হায়বীয়ু; তাবীরিবশিংনা মসিদগী চাউনা কান্নবা ফংগনি।

দা. নভীদ - ঐখোয়গী মাংদা কোরোনা লাইনা অসি থোরকপা মতম অদুদগী ঙসি ফাওবদা ইফেক্তিব ওইবা লায়েং ফংবা ঙমদ্রি..ঐখোয়না লায়না অসি পাম্বৈ অনিগা লান্থেংনবা ঙম্মি – অহানবদা চেকশিল থোরাংশিং...অমসুং হান্নসু হায়খ্রে অনিশুবা অসিদি করিগুম্বা ঐখোয়না ইফেক্তিব ওইবা বেক্সিন খরা কাপথোকপা তারবদি লাইনা অসি ঙাকথোকপা ঙমগনি। ঐখোয়গী লৈবাক অসিদা হৌজিক বেক্সিন অনি লৈরে, কোভাক্সিন অমসুং কোভিশিল্দ, মসি লৈবাক অসিদা শাজবনি। অতোপ্পা কম্পনীশিংনা মখোয়গী ত্রাইএলশিং তৌবা মতমদা মসিগী ইফিকেসী অসি চাদা ৬০ হেল্লি। অমসুং জম্মু কাশ্মিরগী মতাংদা ওইরবসু হৌজিক ফাওবদা মীওই লাখ ১৫দগী ১৬ ফাওবা বেক্সিন কাপখ্রে। হোয়, সোসিএল মীদিয়াদা মসিগী সাইদ ইফেক্তশিংগী মতাংদা লান্না থাজবশিং অমসুং অরানবশিং খরা থোরক্লি..ঙসি ফাওবদা ঐখোয়গী অসিদা বেক্সিন কাপখিবশিংদা সাইদ ইফেক্তশিং অমত্তা থেংনদে। শুম্নতগী অতোপ্পা হীদাক কাপ্পা মতমদা থোকপা – লাইহৌ খা হৌবা, হকচাং থিন্দোকপা, হীদাক কাপ্পা মফমদা খরা নাবা ফাওবা – মসি নত্তবা অতোপ্পা এদভর্স ইফেক্ত অমত্তা থেংনদে। হোয় অদুগা অতোপ্পা ৱাফম অমনি, তীকা কাপ্লবা মতুংদা পোজিতিব ওইরকপসু য়াওই হায়বা অসি কম্পনীশিংগী গাইদলাইনশিংদসু য়াওরি, মদুদি বেক্সিন কাপ্লবসু লাইনা অসি নারকপা য়াওই। অদুবু লাইনা অসিনা শোকহনবগী চাং হায়বদি অসিগুম্বা মীওইশিংদা লাইনা অসিগী কনবগী চাং অসি য়াম্না নেম্মি, মখোয় পোজিতিব ওইরকপা য়াই অদুবু লাইনা অসিনা মরম ওইরগা মখোয়দা অশী-অনা থোকহল্লোই। মরম অসিনা বেক্সিনগী মরমদা লান্না খন্নরিবা ৱাখল অসি থদোকসি। মাগী মাগী মতম লাক্তুনা মে ১দগী লৈবাক অসিদা লৈরিবা চহি ১৮গী মথক্কী মীওই পুম্নমক্কী বেক্সিন কাপ্নবগী প্রোগ্রাম হৌরগনি মরম অসিনা মীয়ামদা হায়জনিংবদি তীকা থাদোকসি অমসুং মসিনা ইশাবু ঙাকথোকপদা নত্তনা ঐখোয়গী সমাজ অমদি কম্ম্যুনিতী কোবিদ-১৯দগী মপুং ফানা ঙাকথোকপা ঙমগনি।

মোদীজী- দা. নভীদ অদোমবু হন্না-হন্না থাগৎচরি অমসুং রামজানগী শেংলবা থানুং অসিদা অদোমদা য়াইফ ফাওজেল পীজরি।

দা. নভীদ – হন্না-হন্না থাগৎচরি।

মোদীজী: মরুপশিং, কোরোনাগী অৱাবা মতম অসিদা তীকা থাবগী তঙাই ফদবা অদু ময়াম্না খঙবীরে... মরম অসিনা ঐহাক্না হায়জনীংবদি বেক্সিনগী মতাংদা তোকঙা শন্দোকপীগনু। ভারত সরকারনা রাজ্য সরকারশিংদা তীকাশিং লেম্না পীরি, মসিনা চহি ৪৫ অমদি মথক্কী মীওইশিং তীকা থারি। হৌজিক্তি মে ১ দগী চহি ১৮গী মথক্কী মীওই খুদিংমক্না তীকা থাবগী খুদোংচাবা ফংলগনি। হৌজিক কোর্পোরেৎ সেক্তর, কম্পনীশিংনসু মখোয়গী কর্মচারীশিং তীকা থনবগী থৌরম অসিদা শরুক য়াবা ফংলগনি। ঐহাক্না হায়জনীংবদি ভারত সরকারন লেম্না তীকা থাবগী থৌরম অসি মখা তানা চত্থখিগনি। ঐহাক্না রাজ্যশিংদসু হায়জরি ভারত সরকারগী তীকা থাবগী থৌরম অসিদা অদোম অদোমগী রাজ্যশিংগী মী মশিং য়াম্না শরুক য়াহনবীয়ু।

মরুপশিং লাইনা অসিনা নারবা মতমদা ঐখোয়গী ইমুং-মনুংগী মীওইশিংবু য়েংশিনবা, শেবা তৌবা মতমদা ৱাখল য়াম্না নুংঙাইদে। অদুবু ঐখোয়গী হোস্পিতালশিংদা থবক তৌরিবা নর্সিং স্তাফশিংনা লেপ্পা লৈতনা অনাবা মীওইশিংগী শেবা তৌরি, অমুক্তদা অনাবা কয়ানা অমুক্তা খন্দুনা লৈয়ু। শেবগী ৱাখল্লোন অসিনা সমাজতা অচৌবা পাঙ্গল হাপ্লি। নর্সিং স্তাফশিংনা তৌরিবা শেবা , হোৎনবা অসিগী মতাংদা নর্সতনা খ্বাইদগী নীংথিনা তাকপা ঙমগনি। মরম অসিনা মন কী বাত অসিদা রাইপুরগী বি আর অম্বেদকর মেদিকেল কোলেজতা থবক তৌরিবী সিস্তর ভাবনা ধ্রুবজী শরুক য়ান্নবা কৌজরি। মহাক হৌজিক কোরোনানা নারবা মীওই কয়াবু শেবা তৌরিবীনি। মহাক্কা ৱারী শান্নসি।

মোদীজী – খুরুমজরি ভাবনাজী!

ভাবনা - ইকাই খুম্নরবা প্রধান মন্ত্রীজী, খুরুমজরি!

মোদীজী - ভাবনাজী…

Bhavan- হোয় সর

মোদীজী - অদোমনা য়াম্লবা ইমুংগী থৌগাইসু পুরি অমসুং কোরোনানা নারবশিংসু শেবা তৌবীরি মসিগী মতাংদা মন কী বাত তাবীরিবশিংদা অমুক্তা হায়বীয়ু। কোরোনানা নারবশিংগী থেংনবগী ৱারীশিং অদু লীবিয়ু মরমদি সিস্তর নর্সনা অনাবাগা খ্বাইদগী অনকপা মরী লৈনৈ, মখোয়গী মরমদা কুপ্না খংঙি....

Bhavana- হোয় সর… কোবিদতা ঐহাক্কী এক্সপরিয়েন্স পুরা থা ২নি। ঐখোয়বু নুমিৎ ১৪নি দ্যুতী তৌহল্লি অদুগা নুমিৎ ১৪নি অমনা পোত্থহল্লি। অদুদগী থা ২গী মতুংদা দ্যুতী অসি রিপীৎ তৌহল্লি। ঐনা ইহানহান্না কোবিদ দ্যুতী তৌবা মতমদুদি ঐগী ইমুংগী মীওইশিংদা কোবিদ দ্যুতীগী ৱাফম অসি সিয়র তৌখি। মতমদু মে থানি, ঐগী ৱাফম অদু তাবদা পুম্নমক কীনরে, পাখৎনরে.... হায়রকই ইবেম্মা চেকশিন্না তৌকো... য়াম্না পুক্নিং নুংশিবা মতাং অমা ওইখি সর। ইচানুপীনা ঐঙোন্দা “মামা নঙ কোবিদ দ্যুতী চৎকদোইরা?” হায়না হঙলকপা মতম অদু ঐগী খ্বাইদগী পুক্নিং নুংশিবা মীকুপ অমা ওইখি। অদুনু ঐহাক্না কোবিদ নাবা মীওইগী মনাক্তা চংবা মতমদা ঐহাক্না য়ুমদা অচৌবা থৌদাং অমা থনম্লগা থোরক্লবনি। অদুবু কোবিদনা নাবা অনাবা অদু থেংনরুবদদি, মহাক্না হেন্না পাখৎলম্মি। কোবিদ হায়বা মমিং অসিদা অনাবা পুম্নমক কীনখি, মখোয় কৈদৌগদগে, করি থোক্লগা হায়বা অসিনি মখোয়না খল্লিবা। ঐখোয়না মখোয়গী অকীবা অদু কোকহন্নবা য়াম্না নুংঙাইবা এনভাইরনমেন্ত অমা শাগৎলি। কোবিদ দ্যুতী তৌ হায়রবনিনা ঐখোয়দা অহানবদা পি.পি.ই. কিৎ শেৎনবা খঙহল্লি, সর পি.পি.ই. কিৎ শেৎলগা দ্যুতী তৌবা হায়বা অসি য়াম্না অৱাবা অমা ওইখি। সর মসি ঐখোয়দা য়াম্না অৱাবা ওইখি...থা ২গী দ্যুতীদা ঐহাক্না মফম খুদিংদা থবক তৌখি... নুমিৎ ১৪-১৪নি ৱার্দশিংদা, আই.সি.য়ু.শিংদা, আইসোলেসনদা দ্যুতী তৌখি।

মোদীজী - মদুনা হায়বদি লোইনা পাশিল্লগা নখোয়না য়াম্না কন্না থবক তৌরি অসি চহি অমা ফারক্লে।

ভাবনা – হোয় সর; মফম অদুদা চৎত্রিঙৈ মমাংদদি ঐনা থবক তৌমিন্নগদৌরিবা অসি কনা-কনানো খঙদে। ঐখোয়না তীম অমগুম্না থবক তৌমিন্নৈ। ইশা-ইশানা লৈনবা প্রোব্লেমশিং অদু সিয়র তৌনৈ। ঐখোয়না অনাবগী মরমদসু খঙদোক্লগা মখোয়গী স্তিগমা কোকহন্নবা হোৎনখি, অয়াম্বনা কোবিদ হায়বা মমিং অসিদা অয়াম্বনা কীনৈ। ঐখোয়না মখোয়গী হীস্তরী লৌবা মতমদা লাইওং পুম্নমক উৎখি.... অদুবু মখোয়না কীবদগী তেস্ত তৌদবা ওইরম্মি। অদুগা সর য়াম্না সিবিয়র ওইরক্লবা মতমদদি মখোয়গী থবোম্বীদু শোকচিল্লমলে। মতম অদুদদি আই.সি.য়ু,দা থম্বা মথৌ তাখি অমসুং মতম অদুদদি ইমুং পুম্বা হোস্পিতালাইজ তৌবা মথৌ তাখি। অসিগুম্বা কেস অসি ১-২ থেংনখি, ঐহাক্না চহি কাংলুপকী মীওই পুম্নমক থেংনখি। মসিদা অপীকপা অঙাংশিং, নু্পীশিং, নুপাশিং, সিনিয়র সিতিজেনশিং, মখল খুদিংমক্কী অনাবশিং থেংনখি সর। মখোয়গা ৱারী শাবা মতমদা মখোয়না কীদুনা লাক্তবনি হায়বা চপ মান্নবা পাউখুম ফংখি। মতম অদুদা ঐখোয়না মখোয়দা কীদনবা, ঐখোয়না হায়বা লৌনবা হায়জখি, লোইননা মখোয়না সরকারনা পীবা প্রোতোকোলশিং ঙাক্না চৎনবা হায়জখি। ঐখোয়না তৌবা ঙম্বা অসি মসি মঙাই।

মোদীজী - ভাবনাজী অদোমগা ৱারী শান্নবা অসি য়াম্না নুংঙাই, অদোমগী মফমদগী খঙলমদবা কয়া অমসু খঙবা ঙম্লে। অদোমনা ইশানা হকথেংননা থেংনবশিং অদু হায়বীরকপনিনা মসিনা ইরৈবাকচাশিংদা মসিনা শোইদনা পোজিতিব ওইবা পাউজেল অমা য়ৌহনবা ঙম্লগনি। ভাবনাজী অদোমবু হন্না-হন্না থাগৎচরি।

ভাবনা - অদোমবু হন্না-হন্না থাগৎচরি সর...জয় হিন্দ সর!

মোদীজী - জয় হিন্দ!

ভাবনাজীগুম্বা ইচিল-ইনাও লিশিং কয়া অমসুং মশিং থিঙমদ্রবা নর্সিং স্তাফশিংনা ইশাগী ইথৌ নীংথিজনা পাঙথোক্লি। মসিনা ঐখোয় খুদংদা থৌনা পীরি। অদোমনা ইশাগী হকচাং ফনা থম্নবা অখন্নবা চেকশিল থৌরাং লৌবীয়ু। অদুগা ইমুং-মনুংশিংবু ফজনা য়েংশিনবীয়ু।

মরুপশিং ঐখোয়গী ইরক্তা বেঙ্গলুরুদগী সিস্তর সুরিখাসু য়াওরি। সুরেখাজী কে.সি. জেনরেল হোস্পিতালদা সিনিয়র নর্সিং ওফিসর ওইরি। ঐখোয় মহাক্না থেংনরকপশিং অদু অমুক্তা খঙমিন্নসি -

মোদীজী : খুরুমজরি সুরেখাজী!

সুরেখা: - ঐহাক্না ঐখোয়গী লৈবাক্কী প্রধান মন্ত্রীগা ৱারী শাবা ফংজবদা য়াম্না চাউথোকপা অমসুং নুংঙাইবা পোকই।

মোদীজী:- সুরেখা জী....অদোমনা নর্স অমসুং হোসইতাল স্তাফ পুম্নমক্কা লোইননা অফবা থবক তৌরি। ভারতনা নখোয় পুম্নমকপু থাগৎচরি। কোবিদ-১৯গী লান্থেং অসিদা অদোমনা প্রজাশিংদা অদোমগী করি পাউজেল পীনিংবগে।

 

সুরেখা:- হোয় সর...থৌদাং লৈবা প্রজা অমা ওইনা ঐহাক্না করিগুম্বা খরা হায়বা পাম্মি, অদোমগী য়ুমলোন্নরিবশিং ফজনা লৌনাবীয়ু অমসুং ঙন্না তেস্ত তৌবা অমসুং নীংথিজনা ত্রেক তৌবনা ঐখোয়না মোর্তেলিতী রেৎ হন্থহনবদা মতেং পাংলি অমসুং মসিগী মথক্তা করিগুম্বা অদোমদা লাইওং অমা হেক্ত থেংনবা থোক্লবদি নশানা আইসোলেৎ তৌজৌ অমসুং অনকপদা লৈবা দোক্তরশিংগা তান্নৌ অমসুং য়ারিবা মখৈ ঙন্না লায়েংহৌ. মরম অসিনা কম্ম্যুনিতীনা লাইনা অসিগী মতাংদা এৱের্নেস খঙবা মথৌ তাই অমসুং পোজিতিব ওইনা লৈগদবনি, পাখৎপা তৌবীগনু অমসুং ৱাখল ৱাগনু। মসিনা অনাবা মীওইগী ফীভম শোকহল্লি। ঐখোয়না বেক্সিন অমা ফংবা অসিদা চাউথোকপা পোকই অমসুং সরকার অসিবু থাগৎলি অমসুং ঐহাক তীকা থাদোকচরে অমদি ঐহাক্না থেংনরকপা অসিগী মতুং ইন্না ভারতকী প্রজাশিংদা ঐহাক্না হায়জনীংবদি বেক্সিন অমতনা খুদক্তা চাদা ১০০ ঙাকথোকপা ঙমদে। ইম্ম্যুনিতী শেমগৎপদা মতম চংঙি। তীকা থাদোকপদা অকীবা পোকপীগনু। নশাবু তীকা থাদোকসি; মসিগী সাইদ এফেক্ত অসি য়াম্না লৈরে অমসুং ঐহাক্না য়ুমদা লৈবা, হকচাং ফনা থম্বা, অনাবা মীওইগা শোক্না শম্নগনু অমসুং নাতোন, মিৎ অমসুং চিন মরম লৈতনা শোক্কনু হায়বা পাউজেলশিং অসি পীজনিংঙি। ফিজিকেল দিস্তেন্সিং থম্বীয়ু, মাস্ক নিয়ম চুম্না উপ্পীয়ু, খুৎশা চাং নাইনা হাম্বীয়ু অমসুং য়ুমদা তৌজবা য়াবা হোম রেমেদীশিং লৌখৎপীয়ু। অয়ুর্বেদিক কারা থকপীয়ু, স্তীম ইনহেলেসন তৌবীয়ু, নুংতিগী খানাও তেংবীয়ু অমসুং শ্বর হোনবগী শাজেল তৌজবা য়াই। অমসুং অরোইবা ওইনা ৱাফ, অমত্তা হায়জগে মদুদি ফ্রন্তলাইন ৱর্করশিং অমসুং প্রেফেস্নেলশিংদা মীনুংশি উৎপীয়ু। ঐখোয়না নখোয়গী তেংবাং মথৌ তাই। ঐখোয় পুন্না লান্থেংমিন্নগনি। লাইচৎ অসি ঐখোয়না লাকশিনগনি। মসিনা মীয়ামদা ঐহাক্না পীনিংবা পাউজেল অসি সর।

মোদীজী- থাগৎচরি সুরেখা জী।

সুরেখা:- থাগৎচরি সর।

সুরেখাজী অদোম্না তশেংনমক লুরবা তাঙ্কক অসিদা ইহৌ অসিবু শেন্নবীরি। অদোম য়াম্না চেকশিনবীয়ু! ইমুংগী মীওইশিংদসু হন্না হন্না য়াইফ-পাওজেল পীজরী। ঐহাক্না ইরৈপাকচাশিংদা হায়জনিংবদি ভাবনাজী, সুরেখাজীনা হায়বগুম্না কোরোনাগা লান্থেংননবগীদমক পোজিতিব স্পিরিত য়াম্না মরুওই অদুগা মসি ইরৈপাকচাশিংদা লেংদনা লৈগদবনি।

ঐগী নুংশিজরবা মরুপশিং দোক্তর অমসুং নর্সশিং স্তাফশিংগা লোইননা হৌজিক লেব তেক্নিসিয়ন অমসুং এম্বুলেন্স দ্রাইবরশিংনা চিংবা ফ্রন্তলাইন ৱার্করশিং অসি লাইগা চপ মান্ননা মথৌ তৌরি! খুদম ওইনা এম্বুলেন্স অমা অনাবা অমগী ময়ুমদা য়ৌরকপা মতমদা এম্বুলেন্স দ্রাইবর ইশ্বরনা থারকপা ধুত অমা ওইনা লৌগনি। মখোয় খুদিংমক্কী থৌদাং অমসুং মখোয়না থেংনরকপশিং অদু লৈবাক অসিনা শুকশোই শোইদনা খংগদবনি। ঐগী ইনাক্তা হৌজিক অদুগুম্বা মীওই অমা লৈরে - শ্রীমান প্রেম ভর্মাজী মহাক এম্বুলেন্স দ্রাইভর অমনি। মহাক্কী মিং অসিনা তাক্লি, প্রেম ভর্মাজীনা মশাগী মথৌবু য়াম্না নুংশিনা অমসুং পুক্নিং চংনা পাংথোকই। হৌজিক মহাক্কা ৱারী শাসি -

মোদীজী- নমস্তে প্রেমজী |

প্রেমজী – নমস্তে সরজী |

মোদীজী – ভাই! প্রেম |

প্রেমজী – হাইবিয়ু সর।

মোদীজী– অদোম্না অদোমগী থবক্কী মতাংদা

প্রেমজী - হায়বিয়ু

মোদীজী– খরা শন্দোক্না অমুক্তা হায়বিয়ু। অদুগা থেংনরকপশিংসু হায়বিয়ু।

প্রেমজী - ঐহাক CATS এম্বুলেন্সকী দ্রাইবরনি কন্ত্রোলনা ঐখোয়দা তেব অমদা কোল তৌরকপগা ১০২দগী লাকপা কোল অদু ঐখোয়না পাওখুম পীরগা অনাবগী মনাক্তা চৎলি। ঐহাক মসিগী থবক অসি তৌরকপা চহি অনি শুরে। ইশা পু্ম্বা কিত শেৎচিল্লগা, গ্লব অমসুং মাস্ক উপশিল্লগা অনাবা অদু থিনবীয়ু হায়না হোস্পিতাল অদুদা য়াম্না থূনা থিল্লি।

মোদীজী- অদোমদী ভেক্সিনগী দোজ অনিমক কাপলম্লগনি?

প্রেমজী – হোয় কাপচরে সর।

মোদীজী- অদু ওইরবদি অতোপ্পশিংদা ভেক্সিন কাপগী মতাংদা করি পাওজেল পীনিংই?

প্রেমজী – দোজ অসি মীপুম খুদিংমক্না শুংশোই শোইদনা কাপথোকউ হায়জনিং সর াদুগা মসিনা ইমুং মনুংগীসু অফবা ওইগনি। হৌজিক ঐগী ইমানা ঐগী থবক অসি তোক্লো হায়না হায়রি। ঐহাক্না খুমখি ইমা ঐনা থবক অসি তোক্লবদি অনাবা ময়াম অসি কনানা থিনবীগনি কোরোনাগী মতম অসিদা ময়াম লোইনা চেন্নখ্রে ময়াম পুম্নমক থবক তোক্লগা চৎখ্রে। অদুননি ইমানা ঐবুসু তোক্লো হায়রিবসে। অদুবু ঐদি তোকখিরোই হায়না ইমাদা হায়রি!

মোদীজী– প্রেমজী ইমাদু নুংঙাইতবদি তৌহনগনু। ভাব তানবা ফজনা তাকপীয়ু।

 

প্রেমজী – হোয় সর।

 

মোদীজী- অদোম্না ইমাগী মতাংদা হায়বীরিবদো?

 

প্রেমজী – হোয় সর।

 

মোদীজী- মদু য়াম্না পুক্নিং নুংশিবা ৱাফমনি।

 

প্রেমজী – হোয় সর।

 

মোদীজী- অদোমগী ইমাদসু।

 

প্রেমজী – হোয় সর।

 

মোদীজী- ঐহাক্না খুরুমজরকই হায়বিয়ু।

প্রেমজী – শোইদনা হায়জগে।

Mr. Modi – হোয়।

 

প্রেমজী – হোয় সর।

 

মোদীজী- অদুগা প্রেমজী অদোমগী খুত্থাংদা

 

প্রেমজী – হোয় সর।

 

মোদীজী– এম্বুলেন্স থৌরিবা দ্রাইবরশিং অসিসু

 

প্রেমজী – হায়বিয়ু।

 

মোদীজী- কয়াদা খুদোংথিবা মায়োক্নরগা থবক তৌরিবনো!

 

প্রেমজী – অহোয়।

 

মোদীজী- অদুগা মখোয় খুদিংমক্কী মমাশিংনা খল্লি?

 

প্রেমজী – মান্নি সর।

 

মোদীজী- মসিগী ৱাফম অসি ঐখোয়গী মীয়াম্না তাবা মতমদা

 

প্রেমজী – অহোয়।

 

মোদীজী- শোয়দনা পুক্নিং নুংশিরমগনি!

 

প্রেমজী – হোয় সর।

 

মোদীজী- প্রেমজী হন্না হন্না থাগৎচরি। অদোম্না মখল অমগী নুংশিবগী গঙ্গা অমা চেন্থবীরে!

প্রেমজী – থাগৎচরি সর।

 

মরুপশিং, প্রেম ভর্মাজী অমসুং মখোয়গুম্বা মীওই লিশিং কয়া অমা মশাগী পুন্সিনা পোন্থা ওইরগা মীয়ামগী সেবা তৌরি। কোরোনাগী মায়োক্তা থেংনরিবা লান অসিদা হিংহৌরিবা থৱাইশিং অসি কনবদা এম্বুলেন্স দ্রাইবরশিংগী অচৌবা থৌদাং য়াওরি। প্রেমজী অদোম অমসুং লৈবাক অসিদা লৈরিবা অদোমগী মরুপ খুদিংমকপু খুরুমজরি! অদোম মতম চানা য়ৌবীদুনা মীয়ামগী পুন্সি কনবিখো!

নুংশিরবা ইরৈপাকচাশিং কোরোনানা মী য়াম্না নারে হয়বসি অচুম্বা ৱাফমনি। অদুম ওইনমক কোরো নারম্বদগী ফগৎলকপা মীশিংসু য়াম্না য়াম্মে। গুরুগ্রামদগী প্রীতী চতুর্বেদীজী হন্দক্তা কোরোনাবু মাইথীবা পীরম্লবীনি। প্রীতীজী মন কী বাত্তা ঐখোয়গী ইরক্তা য়াওরি। মহাক্না থেংনরকপশিং অদু ঐখোয়দা হায়বীরক্লবদি য়াম্না কান্নগনি।

মোদীজী: প্রীতীজী, নমস্তে

প্রীতীজী : নমস্তে সর। অদোম কমদৌবীরিবগে?

মোদীজী: ঐহাক নুংঙাইজরী। অহানবমক্তদা অদোম্না কোবিদ-১৯দগী মাইপাক্না লান্থেংনবগীদমক থাগৎচরি।


প্রীতীজী : সরবুসু হন্না হন্না থাগৎচরি।

মোদীজী: অদোমগী হকচাং য়াম্না থুনা হেন্না হেন্না ফগৎপা ওইরসু হায়না ইশ্বরদা থৌনিজরি।

প্রীতীজী : থাগৎচরি সর।

মোদীজী: প্রীতীজী

প্রীতীজী : হায়বীয়ু সর।

মোদীজী: হৌজিক্কী ৱেব অসিদা অদোমখক্তা শোকখিবরা নত্রগা অদোমগী ইমুং মনুংগী অতোপ্পা মীওইশিং শোকখিবা য়াওখিবরা?

প্রীতীজী : শোকখিদে সর ঐ ইথন্তনি।

মোদীজী: হোয় পুম্নমক অসি ইশ্বরগী থৌজালনি।

প্রীতীজী : হোয় সর।

মোদীজী: ঐহাক্না অমুক হায়জনিংবদি নারিঙৈ মতমদা অদোম্না মায়োক্নখিবা থেংনখিবা অদু হায়বিরগদি তাবীরিবশিংনা অসিগুম্বা মতাং লাকপদা মতৌ করম্না লান্থেংনগদগে হায়বদু খংজগনি।

প্রীতীজী : শোইদনা হয়জগে সর। ঐহাক অহানবদা ইশাসি য়াম্না হৈনিংদবা ইতন তনবা ফাওখি অদুগী মতংউদা খৌনাওদা নাবা ফাওরকখি। অদিগী মতুংদা ঐহাক্না মসি লাইওং ওইরম্বা য়াই খল্লকপদগী ঐহাক্না তেস্ত তৌথোকখি। নিনিশুবা নুমিৎতা পোজিতিব ওইরে হায়না রিপোর্ত লাকখি মদুদগী ইশা ইথন্তা ক্বারিন্তিন তৌরে। কা অমদা আইসোলেত তৌরগা দোক্তরশিংগা তানরে। মখোয়না হায়বা হীদাক চাবা হৌরে।


মোদীজী: অদোমগী অথুবা এক্সন্না অদোমগী ইমুংবু কলহৌরে।


প্রীতীজী : হোয় সর। মখোয় লোইনা তেস্ত তৌরে মখোয়দদি লোইনা নেগেতিব ওইরে। পোজিতিব ওইবদি ঐহাক ইথন্তা ওইরে। মসিগী মাংওইননা ঐহাক কা অমদা আইসোলেৎ তৌরগা লৈরে। ঐহাক্কী মথৌ তাবা পোৎলম খুদিংমক থম্লগা ঐহাক কা অমদা লৈরে। মসিগা লোয়ননা দোক্তরনা পীবা হীদক লাংথক অমুক চাবা হৌরে। হীদাক লাংথক্কা লোইননা জোগা অমসুং অয়ুর্ভেদিক শিজিন্নবা হৌরে। মসিগা লোইননা মনা মশিং ফুৎলগা শেম্বা কারাসু থকপা হৌরে। ইম্ম্যুনিতী হেনগৎহন্নবা চাক চাবা মতমদা মচি ওইবা চীঞ্জাক হয়বদি প্রোতিন ৱাংনা য়াওবা চিঞ্জাকশিং চারে। মহী য়াম্না থকই অদুগী মথক্তা স্তীম গর্গল তৌরে অদুগা ঈশিং অশাবসু থকই। হায়রিবশিং অসি ঐহাক্না নুমিৎ খুদিংগী পাংথোক্লে। অদুগা সর ঐহাক্না হায়জনিংবদি অসিগুম্বা তঙ্কক অসিদা কিবা ৱাখল শোত্থবা য়াদে মেন্তেল্লী য়াম্না কনবা ওইগদবনি। মসিগীদমক ঐহাক য়োগদা নিংশা শ্বর হোনবগী শাজেল তৌরে। মসি তৌবদা ঐহাক য়াম্না নুংঙাই।

মোদীজী: হোয় প্রীতীজী, হৌজিক্তি প্রোসেস লোইরবা নত্ত্রা? অদোম খুদোংথিনিংঙাই ওইদ্রবা নত্ত্রা?

প্রীতীজী : হোয় সর।

মোদীজী: হৌজিক্তি নেগেতিব ওইরবা নৎত্রা?

প্রীতীজী : হোয় সর।

মোদীজী: হৌজিক অদোম ইশাগী হকশেলগীদমক করি তৌবীরিবগে?

প্রীতীজী : সর, ঐহাক হৌজিক য়োগ লেপচদ্রি।

মোদীজী: য়াম্না ফৈ।

প্রীতীজী : অদুগা অমুক মনা মশিং ফুৎলগা শেম্বা হীদক কারা অদুসু থকপা লেপত্রি। অদুগা ইম্ম্যুনিতী হেনগৎনবা চীঞ্জাক চাবা লেপত্রি।

মোদীজী: য়াম্না ফৈ।

প্রীতীজী : হান্নদি ঐহাক ইশাগীদমক য়াম্না খল্লমদে, অদুবু হৌজিক্তি য়াম্না চেকশিল্লে।


মোদীজী: প্রীতীজী থাগৎচরি।

প্রীতীজী : হন্না হন্না থাগৎচরি সর।

মোদীজী: অদোম্না ঙসি হায়বিরিবা অসিনা মীওই কয়া অমদা কান্নবা কয়ামরুম পীরগনি হায়না ঐহাক্না থাজৈ। অদোম হকচাং নাদ-য়েক্তনা লৈবীয়ু, ইমুংগী মীওইশিংসু নাদ-য়েক্তনা লৈনবা ইশ্বরগী মফমদা থৌনিজরি।

ঐগী নুংশিরবা ইরৈবাকচাশিং, ঙসি মেদিকেল ফিল্দদগী ঐখোয়গী পর্সনেল, ফ্রন্তলাইন ৱর্করশিংনা মখোয়গী মথৌদা ২৪x৭ হোৎনরি। মসিগা চপ মান্ননা খুন্নাই অসিগী অতোপ্পা মীওইশিংনা তানফম অসিদা শরক য়াবা লেপত্রি। লৈবাক অসি অমুক হন্না পুনশিনদুনা কোরোনাগী মায়োক্তা লান্থেংনরি। হৌজিক মতম অসিদা ক্বারেন্তোন তৌদুনা লৈরিবা ইমুংশিংদা কনাগুম্বনা হীদাকশিং দেলিভর তৌরি, মনা-মশিং, শঙ্গোম, উহৈশিং অসিনচিংবা কনাগুম্বনা থারি। কনাগুম্বনা অনাবশিংদা লেম্না এম্ব্যুলেন্স সর্ভিসশিং পীরি। অসিগুম্বা অৱাবা তানফম অসিদা লৈবাক অসিগী তোঙান তোঙানবা কাচিন কোয়াশিংদা ওর্গনাইজেসনশিং থোরক্লি অমসুং মখোয়না অতোপ্পশিংদা মতেং পীনবা হোৎনরি। হন্দক্তো খুঙ্গংশিংদা অনৌবা এৱের্নেস পীবা উরি। কোবিদকী কাংলোনশিং চেকশিন্না ঙাক্না চৎলবদি মীয়াম্না মখোয়গী খুঙ্গং অসি কোরোনাদগী ঙাকথোক্কনি, মপানদগী লাকপা মীওইশিংগীদমক নীংথিজনা শেম-শারি। সহরশিংদা নহা ওইবা মীওই কয়া থোরক্লি, মখোয়গী লৈকাইদা কোরোনা কেসশিং ৱাংখৎলক্লিবা অসি ঙাকথোকপা ঙম্নবা লৈকাইগী মীয়ামশিংগা পুন্না থবক তৌমিন্নরি। হায়বদি অমরোমদা লৈবাক অসিনা হোস্পিতালশিং, ভেন্তিলেতরশিং অমসুং হীদাকশিংগীদমক অয়ুক-নুংথিল নুমিদাং হোৎনরি অমসুং নাকল অমরোমদা ইরৈবাকচাশিংনা থৌনা ফনা কোরোরনাগী শীংনবশিং লান্থেংনরি। ফীরেপশিং অসিনা ঐখোয়াদা পাঙ্গল অমসুং থৌনা হাপ্পী। মখোয়না হোৎনরিবশিং অসিনা খুন্নাইদা চাউনা কান্নবা পীরি। মখোয়না খুন্নাইগী শক্তি হাপ্পী।

ঐগী নুংশিজরবা ইরৈবাকচাশিং, ঙসি ঐখোয়না ‘মন কী বাত’কী ৱারী শাবা অসি কোরোনা লাইচৎতা মীৎয়েং থমখি মরমদি ঙসি ঐখোয়গী মরু ওইবা থৌদাং অসি লাইনা অসি মাইথিবা পীবনি। ঙসি অসি ভগৱান মহাভির জয়েন্তিসু তাই। নুমিৎ অসিদা ইরৈবাকচা পুম্নমক্তা ঐহাক্না য়াইফ-পাউজেল পীজরি। ভগৱান মহাভিরগী পাউজেলশিং অসিনা ঐখোয়দা কত্থোকপা অমসুং পুক্নিংবু খুদুম চনবা ঙম্নবা থৌনা পীরি। হোজিক রামজানগী শেংলবা থাসু চত্থরি। বুদ্ধা পুর্নিমাসু লাক্লগনি। মসি গুরু তেঘ বাহাদুরজীগী ৪০০শুবা প্রকাশ প্রবসু ওইরি। য়াম্না মরু ওইবা নুমিৎ পোচিশে বোইশক –তেগোর জয়েন্তি লাক্কদৌরে। পুম্নমক অসিনা ঐখোয়না থৌদাং মপুং ফানা পাঙথোক্নবা থৌনা পীরি। প্রজা অমা ওইনা ঐখোয়না ঐখোয়গী পুন্সিদা নীংথিজনা থৌদাংশিং অসি হেন্না পাঙথোক্লবদি ঐখোয়না হেন্না খোঙজেল য়াংনা খুদোংথিবা য়াওদনা মাংদা চংশিনবা ঙমগনি। য়াইফ পাউজেল অসিগা লোইননা ঐহাক্না নখোয় পুম্নমকপু তীকা থাদোক্নবা অমসুং মপুং ফানা চেকশিল থৌরাং লৌনবা অমুক হন্না হায়জরি। ‘হীদাকসু, চেকশিনবসু” – তীকা থাদোকপীয়ু অমসুং চেকশিল থৌরাং পুম্নমক লৌখৎপীয়ু। মন্ত্র অসি কাওবীগনু। ঐখোয় য়াম্না থুনা ঐখোয় ময়াম পুল্লগা খুদোংথিবা অসিদগী থোরক্লগনি। থাজবা অসিগা লোইননা ঐহাক্না পুম্নমকপু থাগৎচরি। খুরুমজরি!