Entire world is now discussing global warming and ways to mitigate it: PM Modi
Two landmark initiatives emerged in #COP21. India & France played key roles in those: PM
International Solar Alliance will impact generations in a big way: PM Modi
US, India, France took initiative of innovation; let is innovate and protect our environment: PM
India expressed keenness on solar alliance. France was very helpful, did everything possible to bring all nations together: PM
Solar alliance to ensure that the world gets more energy: PM Modi

मंच पर वि‍राजमान फ्रांस के राष्‍ट्रपति‍ श्रीमान ओलांद फ्रांस से आए हुए Senior Ministers हरि‍याणा के Governor श्री, मुख्‍यमंत्री श्री, श्रीमान पीयुष गोयल जी फ्रांस का Delegation और वि‍शाल संख्‍या में आए हुए प्‍यारे भाइयों और बहनों!

पि‍छले एक वर्ष से सारी दुनि‍याँ में इस बात की चर्चा थी कि‍ Global Warming के सामने दुनि‍याँ कौन से कदम उठाए कि‍न बातों का संकल्‍प करे? और उसकी पूर्ति‍ के लिए कौन से रास्‍ते अपनाएं? पेरि‍स में होने वाली COP 21 के संबंध में पूरी दुनि‍याँ में एक उत्‍सुकता थी, संबधि‍त सारे लोग अपने-अपने तरीके से उस पर प्रभाव पैदा करने का प्रयास कर रहे थे, और करीब-करीब दो सप्‍ताह तक दुनि‍याँ के सभी देशों ने मि‍ल करके, इन वि‍षयों के जो जानकार लोग हैं वो वि‍श्‍व के सारे वहॉं इकट्ठे आए चर्चाएं की और इस बड़े संकट के सामने मानव जाति‍ की रक्षा कैसे करें, उसके लि‍ए संकल्‍पबद्ध हो करके आगे बढ़े।

COP 21 के नि‍र्णयों के संबंध में तो वि‍श्‍व में भली- भॉंति‍ बातें पहुँची हैं लेकि‍न पेरि‍स की धरती पर एक तरफ जब COP 21 की चर्चाएं चल रहीं थीं तब दो महत्‍त्‍वपूर्ण initiatives लि‍ए गए। इन दोनों महत्‍त्‍वपूर्ण initiatives में भारत और फ्रांस ने बहुत ही महत्‍त्‍वपूर्ण भमि‍का नि‍भाई है एक initiative एक तरफ तो Global Warming की चिन्‍ता है, मानवजाति‍ को पर्यावरण के संकटों से रक्षित करना है और दूसरी तरफ मानवजाति‍ के आवश्‍यकताओं की पूर्ति‍ भी करनी है। जो Developing Countries हैं उन्‍हें अभी वि‍कास की नई ऊँचाइयों को पार करना बाकी है और ऊर्जा के बि‍ना वि‍कास संभव नहीं होता है। एक प्रकार से ऊर्जा वि‍कास यात्रा का अहमपूर्ण अंग बन गयी है। लेकि‍न अगर fossil fuel से ऊर्जा पैदा करते हैं तो Global Warming की चिन्‍ता सताती है और अगर ऊर्जा पैदा नहीं करते हैं तो, न सि‍र्फ अंधेरा छा जाता है जि‍न्‍दगी अंधेरे में डूब जाती है। और ऐसी दुवि‍धा में से दुनियाँ को बचाने का क्‍या रास्‍ता हो सकता है? और तब जा करके अमेरि‍का, फ्रांस भारत तीनों ने मि‍लकरके एक initiative लि‍या है और वो initiative है innovation का। नई खोज हो, नए संसाधन नि‍र्माण हों, हमारे वैज्ञानि‍क, हमारे Technicians हमारे Engineers वो नई चीजें ले करके आएं जोकि‍ पर्यावरण पर प्रभाव पैदा न करती हों। Global Warming से दुनि‍याँ को बचाने का रास्‍ता दि‍खती हों और ऐसे साधनों को वि‍कसि‍त करें जो affordable हो sustainable हो और गरीब से गरीब व्‍यक्‍ति‍ की पहुँच में हो। तो innovation के लि‍ए एक बहुत बड़ा अभि‍यान चलाने की दि‍शा में अमेरि‍का, फ्रांस और भारत दुनि‍याँ के ऐसी सभी व्‍यवस्‍थाओं को साथ ले करके आगे बढ़ने का बड़ा महत्‍तवपूर्ण निर्णय कि‍या उसको launch कि‍या गया। President Obama, President Hollande और मैं और UN General Secretary और Mr. Bill Gates , हम लोग उस समारोह में मौजूद थे और एक नया initiative प्रारंभ कि‍या। दूसरा एक महत्‍त्‍वपर्ण निर्णय हुआ है जि‍सका आने वाले दसकों तक मानव जीवन पर बड़ा ही प्रभाव रहने वाला है।

दुनि‍याँ में कई प्रकार के संगठन चल रहे हैं। OPEC countries का संगठन है G-20 है G-4 है, SAARC है, European Union है, ASEAN Countries हैं, कई प्रकार के संगठन दुनि‍याँ में बने हुए हैं। भारत ने एक वि‍चार रखा वि‍श्‍व के सामने कि‍ अगर Petroleum पैदावार करने वाले देश इकट्ठे हो सकते हैं, African countries एक हो सकते हैं, European Countries एक हो सकते हैं, क्‍यों न दुनि‍याँ में ऐसे देशों का संगठन खड़ा कि‍या जाए जि‍न देशों ने 300 दि‍वस से ज्‍यादा वर्ष में सूर्य का प्रकाश प्राप्‍त होता है।

ये सूर्य, ये बहुत बड़ी शक्‍ति‍ का स्रोत है सारे जीवन को चलाने में, सृष्‍टि‍ को चलाने में सूर्य की अहम् भूमि‍का है। क्‍यों न हम उसको एक ताकत के रूप में स्‍वीकार करके वि‍श्‍व कल्‍याण का रास्‍ता खोजें। 300 से अधि‍क दि‍वस, सूर्य का लाभ मि‍लता है ऐसे दुनि‍या में करीब-करीब 122 देश हैं। और इसलि‍ए वि‍चार आया क्‍यों न हम 122 देशों का जो कि‍ सूर्य शक्‍ति‍ से प्रभावि‍त हैं उनका एक संगठन गढ़ें। भारत ने इच्‍छा प्रकट की फ्रांस के राष्‍ट्रपति‍ जी ने मेरी पूरी मदद की, हम कंधे से कंधा मि‍लाकरके चले, दुनि‍याँ के देशों का संपर्क कि‍या और नवंबर महीने में पेरि‍स में जब conference चल रही थी, 30 नवंबर को दुनि‍याँ के सभी राष्‍ट्रों के मुखि‍या उस समारोह में मौजूद थे और एक International Solar Alliance इस नाम की संस्‍था का जन्‍म हुआ।

उसमें इस बात का भी निर्णय हुआ कि‍ इसका Global Secretariat ‍हि‍न्‍दुस्‍तान में रहेगा। ये International Solar Alliance इसका Headquarter गुड़गॉंव में बन रहा है। ये हरि‍याणा ‘कुरूक्षेत्र’ की धरती है, गीता का संदेश जहॉं से दि‍या, उस धरती से वि‍श्‍व कल्‍याण का एक नया संदेश इस Solar Alliance के रूप में हम पहुँचा रहे हैं।

बहुत कम लोगों को अंदाज होगा कि‍ आज ये जो घटना घट रही है उसका मानवजाति‍ पर कि‍तना बड़ा प्रभाव पैदा होने वाला है, इस बात को वही लोग समझ सकते हैं जो छोटे-छोटे Island पर बसते हैं, छोटे-छोटे Island Countries हैं और जि‍नके ऊपर ये भय सता रहा है कि‍ समुंदर के अगर पानी की ऊँचाई बढ़ती है तो पता नहीं कब उनका देश डूब जाएगा, पता नहीं वो इस सृष्‍टि‍ से समाप्‍त हो जाएंगे, दि‍न रात इन छोटे-छोटे देशों को चि‍न्‍ता हो रही है। जो देश समुद्र के कि‍नारे पर बसे हैं, उन देशों को चि‍न्‍ता हो रही है कि‍ अगर Global Warming के कारण समुद्र की सतह बढ़ रही है तो पता नहीं हमारे मुम्‍बई का क्‍या होगा, चेन्‍नई का क्‍या होगा? और दुनि‍याँ के ऐसे कई देश होंगे जि‍नके ऐसे बड़े-बड़े स्‍थान जो समु्द्र के कि‍नारे पर हैं उनके भाग्‍य का क्‍या होगा? सारा वि‍श्‍व चि‍न्‍ति‍त है। और मैं पि‍छले एक साल में, ये Island Countries हैं जो छोटे-छोटे उनके बहुत से नेताओं से मि‍ला हूँ, उनकी पीड़ा को मैंने भली-भॉंति‍ समझा है। क्‍या भारत इस कर्तव्‍य को नहीं नि‍भा सकता?

हमारे देश में जीवनदान एक बहुत बड़ा पुण्‍य माना जाता है। आज मैं कह सकता हूँ कि‍ International Solar Alliance उस जीवनदान का पुण्‍य काम करने वाला है, जो आने वाले दशकों के बाद दुनि‍याँ पर उसका प्रभाव पैदा करने वाला है। सारा वि‍श्‍व कहता है कि‍ Temperature कम होना चाहि‍ए, लेकि‍न Temperature कम करने का रास्‍ता भी सूर्य का Temperature ही है। एक ऊर्जा से दूसरी ऊर्जा का संकट मि‍टाया जा सकता है। और इसलि‍ए वि‍श्‍व को ऊर्जा के आवश्‍यकता की पूर्ति‍ भी हो, innovation का काम भी हो और सोलर को ले करके जीवन के क्षेत्र कैसे प्रभावि‍त हों उस दि‍शा में काम करने के लि‍ए बना है।

ये बात सही है कि‍ International Solar Alliance इसका Headquarters हि‍न्‍दुस्‍तान में हो रहा है, गुडगॉंव में हो रहा है, लेकि‍न ये Institution हि‍न्‍दुस्‍तान की Institution नहीं है ये Global Institution है, ये Independent Institution है। जैसे अमेरि‍का में United Nations है, लेकि‍न वो पूरा वि‍श्‍व का है। जैसे WHO है, पूरे वि‍श्‍व का है। वैसे ही ये International Solar Alliance का Headquarter ये पूरे वि‍श्‍व की धरोहर है और ये Independent चलेगा। अलग-अलग देश के लोग इसका नेतृत्‍व करेंगे, अलग-अलग देश के लोग इसकी जि‍म्‍मेदारी संभालेंगे, उसकी एक पद्धति‍ वि‍कसि‍त होगी लेकि‍न आज उसका Secretariat बन रहा है, उस Secretariat के माध्‍यम से इस बात को हम आगे बढ़ना चाहते हैं।

भारत ने ऊर्जा के क्षेत्र में परंपरागत प्राकृति‍क संसाधनों उपयोग करने का बीड़ा उठाया है। भारत ने जब ये कहा कि‍ हम 175Giga Watt, Renewable Energy की तरफ जाना चाहते हैं, तब दुनि‍याँ के लि‍ए बड़ा अचरज था। भारत में Giga Watt शब्‍द भी नया है, जब हम Mega Watt से आगे सोच भी नहीं पाते थे। हम आज Giga Watt पर सोच रहे हैं और 175 Giga Watt Solar Energy, Wind Energy, Nuclear Energy, Biomass से होने वाली Energy इन सारे स्रोतों को Hydro Energy ये हम उपलब्‍ध कराना चाहते हैं और मुझे खुशी है कि‍ आज भारत 5000 MW से ज्‍यादा solar energy उसने install कर दी। ये इतने कम समय में जो काम हुआ है वो उस commitment का परिणाम है कि क्या भारत मानव जाति के कल्याण के लिए मानव जाति की रक्षा के लिए, प्रकृति की रक्षा के लिए, ये पूरी जो सृष्टि है उस पूरी सृष्टि की रक्षा के लिए, भारत कोई अपना योगदान दे सकता है क्या? उस योगदान को देने के लिए ये बीड़ा उठाया है।

मैं फ्रांस के राष्ट्रपति का हृदय से आभारी हूँ कि इस चिंता के समय में global warming पर्यावरण के मुद्दे इसके समाधान के जो रास्ते है उनकी सोच भारत की सोच से बहुत मिलती जुलती है क्यों कि फ्रांस की values और भारत के values काफी समान है और इसलिए पिछले वर्ष April के महीने में हम दोनों मिले थे तो हमने तय किया था कि हम COP 21 के समय एक किताब निकालेंगे और विश्व के अंदर परंपरागत रूप से इन issues को कैसे देखा गया इस पर research करेंगे। और हम दोनों ने मिल कर के उस किताब की प्रस्तावना लिखी है और विश्व के सामने उन्ही के मूलभूत चिंतन क्या थे ये प्रस्तुत किया।

ये चीजें इसलिए हम कर रहे हैं कि मानव जाति को इस संकट से बचने के जो रस्ते खोजे जा रहे हैं, वो एक सामूहिक रूप से प्रयत्न हो, innovative रूप से प्रयत्न हो और परिणाम वो निकले जो मानव जाति की आवश्यकता है उसकी पूर्ति भी करे लेकिन प्रकृति को कोई नुकसान न हो। हम वो लोग हैं जिनके पूर्वजो ने, इस धरती से हमें प्यार करना सिखाया है। हमें कभी भी प्रकृति का शोषण करने के लिए नहीं सिखाया गया, हमें पौधे में भी परमात्मा होता है यह बचपन से सिखया गया। ये हमारी परंपरा है। अगर ये परंपरा है तो हमें विश्व को उसका लाभ पहुंचे उस दिशा में हमें कुछ कर दिखाना चाहिए और उसी के तहत आज international solar alliance का हम लोगों ने एक Secretariat का आरम्भ कर रहे हैं। और भविष्य में भव्य भवन के रूप में उसका निर्माण हो, एक स्वंत्रत इमारत तैयार हो, उसके लिए शिलन्यास भी कर रहे है और इस काम के लिए आप पधारे इसका मैं बहुत बहुत आभारी हूँ।

मेरे लिए ख़ुशी की बात है कि solar alliance का निर्माण हो रहा हो आज हमें Delhi से यहाँ आना था हम by road भी आ सकते थे, helicopter से भी आ सकते थे, लकिन हम दोनों ने मिलकर तय किया कि अच्छा होगा की हम Metro से चले जाएँ और आज आप के बीच हमें Metro से आने का अवसर मिला।

मैं राष्ट्रपति जी का आभारी हूँ कि उन्होंने आज Metro में आने के लिए सहमति जताई और हम Metro का सफ़र करते करते आपके बीच पहुंचे क्योंकि वो भी एक सन्देश है क्योंकि global warming के सामने लड़ाई लड़ने के जो तरीके हैं उसमें ये भी एक तरीका है। मैं विश्वास करता हूँ कि ये प्रयास बहुत ही सुखद रहेगा। कल भारत प्रजासत्ता पर्व मनाने जा रहा है, इस प्रजसत्ता पर्व की पूर्व संध्या पर मैं देशवासियों को बहुत बहुत शुभकामनाएं देता हूँ और अधिकार और कर्तव्य इन दोनों को संतुलित करते हुए हम देश को आगे बढ़ाएंगे यही मेरी शुभकामना है।

बहुत बहुत धन्यवाद्।

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
India to complete largest defence export deal; BrahMos missiles set to reach Philippines

Media Coverage

India to complete largest defence export deal; BrahMos missiles set to reach Philippines
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
INDI Alliance called people hypocrites, who worshipped Shri Ram’s Surya Tilak: PM in Damoh
April 19, 2024
Our government ensured well-being of all & worked with Spirit of ‘Nation First’ during COVID pandemic: PM Modi
India is on the path of significant progress amid global uncertainty: PM Modi
Congress was against the Atmanirbharta of Bharat in the Defence sector: PM Modi
Rani Damyanti is a brave symbol of Damoh’s Nari Shakti: PM Modi
INDI Alliance called people hypocrites, who worshiped Shri Ram’s Surya Tilak: PM

भारत माता की… भारत माता की… भारत माता की…
सबई जनों खों हमाई तरफ से राम-राम पोंचे!

साथियों,
इस समय मध्य प्रदेश सहित देशभर की अनेक सीटों पर पहले चरण की वोटिंग जारी है। सबसे पहले तो मैं यही आग्रह करूंगा कि जिन साथियों ने अब तक वोट नहीं डाला है, वो जरूर अपने कर्तव्य पालन करें। साथियों, मैं यहां बांदकपुर के जागेश्वर महादेव और कुंडलपुर तीर्थ को श्रद्धापूर्वक प्रणाम करता हूं। मैं स्वतंत्रता सेनानी राजा किशोर सिंह जी और वीर योद्धाओं आल्हा-ऊदल को भी नमन करता हूं। यहां जैन मुनि पूज्य विद्यासागर जी महाराज के चरण पड़े थे। मैं उन्हें श्रद्धापूर्वक स्मरण करता हूं।

भाइयों और बहनों,
2024 का ये चुनाव सिर्फ एक सांसद चुनने का चुनाव नहीं है, ये चुनाव देश का है। देश के भविष्य को सुनिश्चित करने का चुनाव है। आपकी आने वाली पीढ़ी के भाग्य को सुनिश्चित करने वाला ये चुनाव है। ये चुनाव आने वाले 5 साल में भारत को दुनिया की बड़ी शक्ति बनाने का चुनाव है। आप देख रहे हैं कि दुनिया में कैसे युद्ध के बादल छाए हैं। जब दुनिया में युद्ध का माहौल हो, घटनाएं घट रही हो तो भारत में युद्धस्तर पर काम करने वाली सरकार बहुत जरूरी है। आप मेरी बात से सहमत हैं। आप मेरी बात से सहमत हैं। ऐसे समय मजबूत सरकार होनी चाहिए कि नहीं होनी चाहिए? किसी भी परिस्थिति में भारत की रक्षा करें, ऐसी सरकार होनी चाहिए कि नहीं होनी चाहिए? और ये काम पूर्ण बहुमत वाली मजबूत भाजपा सरकार ही कर सकती है। (जरा एसपीजी वो बच्चा फोटो लेकर आया है, और लंबे समय से हिला रहा है, उसको कलेक्ट...उसके पीछे पता लिख देना बेटा, मेरी चिट्ठी आएगी तुझे। तुम अपना नाम पता लिख देना। उस पर नाम पता लिख देना और कैमरामैन को दे दो। दे दो उनको...हां। और फिर आराम बैठो। कब से हाथ ऊपर करके...थक जाओगे।) बोलिए...भारत माता की, भारत माता की।

साथियों
स्थिर सरकार कैसे देश और देशवासियों के हित में काम करती है, ये हमने बीते वर्षों में देखा है। कोरोना का इतना बड़ा संकट आया...पूरी दुनिया में हाहाकार मचा...मजबूत भाजपा सरकार पूरी दुनिया से हर भारतीय को सुरक्षित भारत वापस ले आई। भाजपा ने करोड़ों परिवारों को मुफ्त राशन की सुविधा दी। भाजपा सरकार ने करोड़ों भारतीयों को मुफ्त वैक्सीन लगाई। आज देश में वो भाजपा सरकार है, जो ना किसी से दबती है और ना ही किसी के सामने झुकती है। हमारा सिद्धांत है- राष्ट्र प्रथम। भारत को सस्ता तेल मिले, इसलिए हमें देशहित में फैसला लिया। भारत के किसानों को पर्याप्त खाद मिले, इसके लिए हमने देशहित में फैसला लिया। (भाई एक और सज्जन भी बेचारे मेहनत कर रहे हैं, जरा उनकी तरफ भी देखिए। ये आपलोगों का प्यार ऐसा है कि मैं आपको मना नहीं कर सकता हूं। वो तो मेरी माता जी की फोटो बनाकर ले आए हैं। बहुत सुंदर बनाया है भई। बहुत सुंदर बनाया आपने। अपना नाम पता लिखकर दे देना मुझे।) आज दुनिया के कितने ही देशों की स्थिति बहुत खराब है, कई देश दीवालिया हो रहे हैं...हमारा एक पड़ोसी जो आतंक का सप्लायर था, वो अब आटे की सप्लाई के लिए तरस रहा है..।(यहां के मतदाता बड़े समझदार हैं, मैंने किसी का नाम नहीं लिया लेकिन आप तक बात पहुंच गई।) ऐसे हालातों में हमारा भारत, दुनिया में सबसे तेजी से विकसित हो रहा है। मुझे बताइए आज जो भारत आगे बढ़ रहा है इससे आपको गर्व होता है या नहीं? हाथ ऊपर करके सब के सब बताएं, आपको गर्व होता है या नहीं? आज दुनिया में हिंदुस्तान का डंका बज रहा है, आपको गर्व हो रहा है। आज अमेरिका में भी भारत की वाहवाही हो रही है, आपको गर्व हो रहा है। आज विश्व के हर देश में भारत का जय-जयकार हो रहा है। आपको गर्व हो रहा है। ये किसने किया? अरे आपका जवाब गलत है। ये मोदी ने नहीं किया, ये जो हुआ है न आपके एक वोट की ताकत के कारण हुआ है। ये आपने किया है। आपके एक वोट ने करके दिखाया है। आपका ये उत्साह साफ-साफ कह रहा रहा है- फिर एक बार... मोदी सरकार ! आवाज जोर से आनी चाहिए... फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

साथियों,
ये धरती शूरवीरों की धरती है, योद्धाओं की धरती है। मैं इस धरती के लोगों को इंडी गठबंधन की सच्चाई बताना चाहता हूं। दशकों तक, कांग्रेस ने भारत के डिफेंस सेक्टर को कमजोर बनाए रखा। ये लोग सेनाओं के लिए हथियार खरीदने में भी अपना स्वार्थ देखते थे। पूरे देश ने देखा है कि कैसे इन लोगों ने पूरी ताकत लगा दी कि हमारी वायुसेना सशक्त न हो, देश में रफायल लड़ाकू विमान ना आए और देश की वायुसेना मुसीबतों को झेलती रहे। कांग्रेस की सरकार रही होती तो भारत में बना तेजस फाइटर प्लेन भी आसमान की बुलंदियां नहीं देख पाता। ये भाजपा सरकार है जो हमारी सेनाओं को आत्मनिर्भर बना रही है। भारत की पहचान अब दूसरे देशों को हथियार निर्यात करने वाले देश की बन रही है। इस साल ही भारत ने 21 हजार करोड़ रुपए के हथियार दूसरे देशों को बेचे हैं। अब हम ब्रह्मोस मिसाइल को भी एक्सपोर्ट कर रहे हैं। और आज जब मैं भाषण कर रहा हूं, इसी समय हमारा ब्रह्मोस मिसाइल विदेश जाने के लिए सप्लाई के लिए डिलीवरी के लिए थोड़ी देर में चल पड़ेगा। इस मिसाइल का पहला बैच आज फिलिपींस जा रहा है। मैं सभी देशवासियों को इसकी बहुत-बहुत बधाई देता हूं।

भाइयों और बहनों,
आप जरा याद कीजिए, 2014 से पहले देश में चारों तरफ निराशा का माहौल था। 2014 में मोदी आपके बीच एक उम्मीद लेकर आया था और आपने आशीर्वाद दिया। 2019 में मैं दोबारा आपके पाया तो एक विश्वास लेकर आया था। और आज 2024 में मोदी आपके पास गारंटी लेकर आया है। मोदी की गारंटी यानी, गारंटी पूरा होने की गारंटी! मोदी की गारंटी है कि गरीब, किसान, नौजवान और माताएं-बहनें, हर लाभार्थी को शत-प्रतिशत सुविधाएं मिलेंगी। पिछले 10 वर्षों में MP के 40 लाख से ज्यादा परिवारों को पक्का घर मिला है। लेकिन जिनको अब भी पीएम आवास योजना के घर नहीं मिले है, उनका भी बीजेपी ने ख्याल रखा है। हमने संकल्प लिया है कि देश में 3 करोड़ नए आवाल हम बनाएंगे और उसमें से जिनको घर नहीं मिला है, उनका घर पक्का हो जाएगा। अच्छा मेरा एक काम करोगे आपलोग। ऐसे नहीं, हाथ ऊपर करके बताइए, करोगे। गर्मी बहुत है, मैं जानता हूं, करोगे। पक्का करोगे। आप जब अभी चुनाव अभियान के लिए जाएंगे तो बहुत लोगों से मिलना होगा। गांव-गांव जाएंगे, इलाके अलग-अलग जाएंगे। अगर वहां कोई आपको ऐसा कोई परिवार दिखाई दे, जिसको अभी पक्का घर नहीं मिला है। जिसको शायद अभी नल से जल नहीं पहुंचा है। उसको शायद गैस का कनेक्शन नहीं पहुंचा है। तो मेरी तरफ से उनको एक गारंटी दे देना। उनको कह देना, बहुत लोगों का काम हो चुका, अगर आपका बाकी है, तो आने वाले पांच साल जब मोदी जी फिर से आएंगे न, वो काम भी पूरा हो जाएगा। कह देंगे, कह देंगे? आप जब कहेंगे न, तब लोग ये नहीं कहेंगे कौन कह रहा, वो ये मानेंगे कि जो सामने खड़ा है न वो मोदी खड़ा है। मेरे लिए तो आप ही मोदी हैं। और मुझे पूरा विश्वास है कि घर दिलवाने के काम में हमारे यहां के मुख्यमंत्री श्रीमान मोहन यादव जी भी कोई कोर कसर नहीं छोड़ेंगे।

साथियों,
हर परिवार के लिए राशन और इलाज का खर्च मायने रखता है। इसी को ध्यान में रखते हुए, मोदी ने आने वाले 5 वर्ष तक मुफ्त राशन की सुविधा बढ़ा दी है। इन परिवारों को मुफ्त राशन इसलिए ताकि गरीब के घर का चूल्हा जलता रहे। ये मुफ्त राशन इसलिए कि गरीब का बच्चा भूखे पेट सोने के लिए मजबूर न हो जाए। आयुष्मान योजना ने भी गरीबों के लाखों रुपए खर्च होने से बचाए हैं। अब मोदी ने गारंटी दी है कि गरीबों के साथ-साथ हमारे देश के कोई भी व्यक्ति जो 70 साल से ऊपर का है, मध्यम वर्ग का हो, उच्च मध्यम वर्ग का हो, घर में गाड़ी हो, कुछ भी हो, ऐसे 70 साल से ऊपर के बुजुर्गों को भी ये मोदी की तरफ से मुफ्त इलाज की योजना का लाभ मिलेगा।

साथियों,
हर घर जल और हर खेत में पानी, ये भी भाजपा का संकल्प है। बुंदेलखंड में पानी की समस्याओं का समाधान करने के लिए मोदी पूरी ईमानदारी से जुटा है। और इस काम में हमारे मुख्यमंत्री मोहन यादव जी और उनकी पूरी टीम प्रतिबद्धता से जुटे हुए हैं। पंचम नगर परियोजना से सिंचाई की ज़रूरतें पूरी हो रही हैं। हम 45 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च करके केन-बेतवा लिंक नहर को तेज़ी से पूरा कर रहे हैं। हर घर जल अभियान के तहत, मध्य प्रदेश में करीब 70 लाख घरों तक पाइप से पानी पहुंचाया जा चुका है।

साथियों,
मोदी की गारंटी, मुफ्त बिजली और बिजली से कमाई की भी है। पीएम सूर्यघर – मुफ्त बिजली योजना से जो इस योजना का लाभ लेगा उसका बिजली का बिल ज़ीरो हो जाएगा जीरो। और इसके लिए भाजपा सरकार बहुत मदद दे रही है। भाइयों और बहनों, जिनके पास गारंटी देने के लिए कुछ नहीं है, उनकी गारंटी मोदी ने ली है। गरीब, दलित, पिछड़े, आदिवासी परिवार के युवा पहले कोई बिजनेस कर ही नहीं पाते थे। क्योंकि उनके पास बैंक को देने के लिए गारंटी नहीं होती थी। ब्याज से पैसे लाएं तो बाल ही न बचे ये हाल हो जाती थी। मोदी ने मुद्रा योजना के तहत ऐसे युवाओं को लाखों करोड़ रुपए का ऋण उपलब्ध कराया है। अब भाजपा ने अपने मेनिफेस्टो में घोषणा की है कि मुद्रा योजना के तहत मदद को बढ़ाकर अब 20 लाख कर दिया जाएगा। पहले रेहड़ी-ठेले-फुटपाथ पर काम करने वालों को भी कोई नहीं पूछता था। स्वनिधि योजना से ऐसे लाखों साथियों को पहली बार बैंक से मदद मिली है। अब गांव और कस्बों में फेरीवाले साथियों को भी स्वनिधि के दायरे में लाया जाएगा।

साथियों,
दमोह के तो नाम में ही रानी दमयंती जी की प्रेरणा है। ये धरती रानी दुर्गावती और रानी अवंती बाई की कर्मस्थली रही है। वीरांगनाओं की अपनी इसी विरासत को आगे बढ़ाते हुए, हम विकसित भारत के निर्माण के लिए नारीशक्ति को सशक्त कर रहे हैं। उज्जवला योजना की गैस हो...घर घर बने शौचालय हों...घर-घर पहुंची बिजली हो...जनधन योजना के बैंक खाते हों...इन सबका सबसे ज्यादा लाभ हमारी माताओं-बहनों-बेटियों को ही हुआ है। पहले हमारे देश में महिलाओं के नाम एक भी संपत्ति नहीं होती थी। दुकान खरीदी तो पुरुष के नाम...जमीन खरीदी तो पुरुष के नाम...गाड़ी खरीदी तो पुरुष के नाम...महिलाओं के नाम कोई संपत्ति नहीं होती थी। पहले पति के नाम होती थी और बाद में बेटे के नाम होती थी। महिला के नाम कुछ नहीं होता था मोदी ने तय किया कि पीएम आवास योजना की वजह से अब करोड़ों बहनों के नाम पहली बार कोई प्रॉपर्टी दर्ज हुई है। माताओं -बहनों के नाम संपत्ति आई है। पिछले 10 साल में 10 करोड़ बहनें सहायता समूहों से, वनधन केंद्रों से जुड़ी हैं। अभी तक 1 करोड़ बहनें ऐसी हैं जिनकी वार्षिक आय 1 लाख से अधिक हो चुकी है। अब मोदी ने 3 करोड़ बहनों को लखपति दीदी बनाने की गारंटी दी है।

भाइयों और बहनों,
मोदी ये सबकुछ आपके लिए कर रहा है, आप ही मेरे परिवारजन हैं। मेरा भारत, मेरा परिवार है। इसलिए जो कुछ भी कर रहा हूं, आपके लिए कर रहा हूं। लेकिन परिवारवादी और भ्रष्टाचारी नेताओं को मोदी की गारंटी बेचैन कर रही है। वो कहते हैं कि तीसरी बार भाजपा सरकार बनी तो देश में आग लग जाएगी। इंडी-गठबंधन के लोग मोदी को आए दिन धमकियां दे रहे हैं। लेकिन मोदी इन धमकियों से ना पहले डरा है और ना कभी डर सकता है।

साथियों,
बुंदेलखंड की ये भूमि राष्ट्रभक्ति और रामराज्य से प्रेरणा से भरी हुई है। ओरछा में हमारे प्रभु राम राजा के रूप में विराजमान हैं। यही बुंदेलखंड की धरती देख रही है कि कैसे कांग्रेस और इंडी-गठबंधन वाले हमारी आस्था का अपमान करने में जुटे हैं। ये लोग कहते हैं कि हमारा सनातन डेंगू है, मलेरिया है। आपके आशीर्वाद से अयोध्या में जो राममंदिर बना है, उसके भी ये घोर विरोधी हैं। ये लोग भगवान श्रीराम की पूजा को पाखंड बताते हैं। और ये बयान तब दिया जाता है, जब अयोध्या में रामनवमी पर रामलला का सूर्यतिलक हो रहा था। यही लोग हैं, जो बुलाने के बाद भी अयोध्या में प्रभु राम के मंदिर में प्राण-प्रतिष्ठा के कार्यक्रम में नहीं गए, इतना ही नहीं उन्होंने निमंत्रण को ठुकरा दिया। और ये सारा वोट बैंक पालिटिक्स के लिए करते हैं। अब आप सोचिए, आपने नाम सुना होगा अयोध्या में। एक अंसारी परिवार है, दो-दो पीढ़ी से ये अंसारी परिवार हिंदुओं के खिलाफ अदालत में जंग लड़ रहे थे। बाबरी मस्जिद के पक्ष में जंग लड़ रहे थे। ये इकबाल अंसारी और उनके पिता जी पूरे परिवार कितने ही दशकों से लड़ाई लड़ रहा था लेकिन जब सुप्रीम कोर्ट ने निर्णय किया ये हिंदुओं के पक्ष में जाएगा। तो इतने साल लड़ाई लड़ने के बावजूद भी उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय का स्वागत किया। जीवनभर लड़ाई लड़े थे। इतना ही नहीं जिस समय राम मंदिर के शिलान्यास का कर्यक्रम था। तो ये जो राम मंदिर के ट्रस्टी हैं। उन्होंने हरेक का गुनाह गलतियां माफ करके सबको प्यार से निमंत्रण दिया। और आपको जानकर खुशी होगी ये अंसारी स्वयं शिलान्यास के कार्यक्रम में मौजूद रहे। जीवन भर लड़ाई लड़े थे, मौजूद रहे। इतना ही नहीं अभी जब प्राण-प्रतिष्ठा का कार्यक्रम था तो ट्रस्टियों ने उन्हें भी निमंत्रण दिया जैसे कांग्रेस के नेताओं को दिया था, सपा के नेताओं को दिया था, इंडी गठबंधन वाले सभी नेताओं को दिया था, अंसारी को भी दिया। जीवनभर हिंदुओं के खिलाफ कोर्ट में लड़ते रहे, बाबरी मस्जिद के लिए लड़ते रहे, राम मंदिर के विरुद्ध लड़ते रहे, लेकिन जब प्राण-प्रतिष्ठा का निमंत्रण मिला तो वो हंसी खुशी के साथ आकर के सुप्रीम कोर्ट का सम्मान करते हुए इसके हिस्सेदार बने। एक तरफ एक छोटा सा व्यक्ति भाई अंसारी, सामान्य परिवार का है उसका व्यवहार देखिए और दूसरी तरफ ये कांग्रेस के नेताओं का व्यवहार देखिए, उन्होंने प्राण-प्रतिष्ठा के कार्यक्रम को ठुकरा दिया। वोट बैंक के खातिर ये क्या करते हैं।

साथियों,
बीजेपी-एनडीए को दिया आपका वोट केंद्र में सरकार तो बनाएगा ही। BJP-NDA को दिया आपका वोट विकसित भारत बनाएगा। हमें दमोह से राहुल लोधी जी को...और खजुराहो से विष्णु दत्त शर्मा जी दिखते पतले-दुबले हैं, लेकिन उनके नेतृत्व में भाजपा ने इस बार नया इतिहास रच दिया है। साथियों, ये चुनाव जीतना है लेकिन मुझे तो पोलिंग बूथ जीतना है। बताइए आप मेरी मदद करेंगे। घर-घर जाएंगे, पहले से ज्यादा मतदान कराएंगे। पोलिंग बूथ जीतेंगे। अपनी पूरी ताकत पोलिंग बूथ पर लगाएंगे। पोलिंग बूथ में सबसे ज्यादा वोट लाने का काम करेंगे। अच्छा मेरा एक दूसरा काम करेंगे। करेंगे। सबलोग बताएं तो मैं बताऊं। अच्छा आप इस चुनाव अभियान के दौरान जब घर-घर जाएंगे, हर घर जाना और कहना कि अपने मोदी भाई आए थे। और मोदी भाई ने हम सबको राम-राम भेजा है। मेरा राम-राम पहुंचा दोगे। पक्का पहुंचा दोगे।
मेरे साथ बोलिए... भारत माता की… भारत माता की… भारत माता की….
बहुत-बहुत धन्यवाद।