“ଭାରତୀୟ ଇତିହାସରେ ମିରଟ କେବଳ ଏକ ମାମୁଲି ସହର ନୁହେଁ ବରଂ ସଂସ୍କୃତି ଓ ଶକ୍ତିର ଏକ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ କେନ୍ଦ୍ର”
“ଦେଶରେ କ୍ରୀଡା ବଞ୍ଚି ରହିବା ପାଇଁ ଯୁବଶକ୍ତିର କ୍ରୀଡା ପ୍ରତି ବିଶ୍ୱାସ ଓ ସେମାନେ କ୍ରୀଡାକୁ ବୃତ୍ତି ଭାବେ ଗ୍ରହଣ କରିବାକୁ ପ୍ରୋତ୍ସାହନ ଦେବା ଉଚିତ । ଏହା ମୋର ସଂକଳ୍ପ, ମୋର ସ୍ୱପ୍ନ”
“ଗ୍ରାମ ଓ ଛୋଟ ଛୋଟ ସହରଗୁଡିକରେ କ୍ରୀଡା ଭିତ୍ତିଭୂମି ସୁଦୃଢ଼ ହେବା ଯୋଗୁଁ ଏହି ସବୁ ସ୍ଥାନରୁ କ୍ରୀଡାବିତଙ୍କ ସଂଖ୍ୟାରେ ବୃଦ୍ଧି ଘଟୁଛି”
“କ୍ରୀଡା ବାତାବରଣ ସୁଗମ ଓ ନୂତନ ଖେଳଗୁଡିକ ସହ ନୂତନ ସମ୍ଭାବନା ମଧ୍ୟ ସୃଷ୍ଟି ହୋଇଛି । ଏଥିପାଇଁ ସମାଜରେ ବିଶ୍ୱାସ ଜନ୍ମିବା ସହ କ୍ରୀଡା ମଧ୍ୟ ସଠିକ ଦିଗରେ ଗତି କରୁଛି”
“ମିରଟ କେବଳ ଭୋକାଲ ଫର ଲୋକାଲ ନୁହେଁ, ଏହା ଲୋକାଲକୁ ଗ୍ଲୋବାଲରେ ପରିଣତ କରୁଛି”
“ଆମର ଲକ୍ଷ୍ୟ ସ୍ପଷ୍ଟ, ଯୁବଶକ୍ତି କେବଳ ରୋଲ ମଡେଲ ହେବେ ନାହିଁ ସେମାନେ ରୋଡ ମଡେଲଙ୍କୁ ଚିହ୍ନିବେ ମଧ୍ୟ”


ଭାରତ ମାତା କି, ଜୟ ।

ଭାରତ ମାତା କି, ଜୟ ।

ଉତ୍ତର ପ୍ରଦେଶର ରାଜ୍ୟପାଳ ଶ୍ରୀମତୀ ଆନନ୍ଦି ବେନ ପଟେଲ ଜୀ, ଏଠିକାର ଲୋକପ୍ରିୟ ତଥା ଶକ୍ତିଶାଳୀ ମୁଖ୍ୟମନ୍ତ୍ରୀ ଯୋଗୀ ଆଦିତ୍ୟନାଥ ଜୀ, ଉପ-ମୁଖ୍ୟମନ୍ତ୍ରୀ କେଶବ ପ୍ରତାପ ମୌର୍ଯ୍ୟ ଜୀ, କେନ୍ଦ୍ର ମନ୍ତ୍ରିମଣ୍ଡଳର ମୋର ସହକର୍ମୀ ଶ୍ରୀ ସଞ୍ଜୀବ ବାଲ୍ୟାନ ଜୀ, ଭି.କେ. ସିଂହ ଜୀ, ମନ୍ତ୍ରୀ ଶ୍ରୀ ଦିନେଶ ଖଟିକ ଜୀ, ଶ୍ରୀ ଉପେନ୍ଦ୍ର ତିୱାରୀ ଜୀ, ଶ୍ରୀ କପିଲ ଦେବ ଅଗ୍ରୱାଲ ଜୀ, ସଂସଦରେ ମୋର ସହକର୍ମୀ ଶ୍ରୀ ସତ୍ୟପାଲ ସିଂହ ଜୀ, ରାଜେନ୍ଦ୍ର ଅଗ୍ରୱାଲ ଜୀ, ବିଜୟ ପାଲ ସିଂହ ତୋମାର ଜୀ, ଶ୍ରୀମତି କାନ୍ତା କର୍ଦମ ଜୀ, ବିଧାୟକ ଭାଇ ସୌମେନ୍ଦ୍ର ତୋମର ଜୀ, ସଂଗୀତ ସୋମ ଜୀ, ଜିତେନ୍ଦ୍ର ସତୱାଲ ଜୀ, ସତ୍ୟପ୍ରକାଶ ଅଗୱାଲ ଜୀ, ମିରଟର ଜିଲ୍ଲା ପରିଷଦ ସଭାପତି ଗୌରବ ଚୌଧୁରୀ ଜୀ, ମୁଜାଫର ନଗର ଜିଲ୍ଲା ପରିଷଦ ଅଧ୍ୟକ୍ଷ ବୀରପାଲ ଜୀ, ଅନ୍ୟ ସମସ୍ତ ଜନ ପ୍ରତିନିଧି ଗଣ ଏବଂ ମିରଟର ଦୂର ଦୂରାନ୍ତରୁ ଆସିଥିବା ମୋର ପ୍ରିୟ ଭାଇ ଓ ଭଉଣୀମାନେ, ବର୍ଷ ୨ଠ୨୨ର ବହୁତ ବହୁତ ଶୁଭକାମନା ।

ବର୍ଷର ଆରମ୍ଭରେ ମିରଟକୁ ଆସିବା, ମୋ ନିଜ ପାଇଁ ଅତ୍ୟନ୍ତ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ । ଭାରତ ଇତିହାସରେ ମିରଟର ସ୍ଥାନ କେବଳ ଏକ ସହରର ସ୍ଥାନ ନୁହେଁ, ବରଂ ମିରଟ ଆମର ସଂସ୍କୃତି ଏବଂ ଆମର ଶକ୍ତିର ଏକ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ କେନ୍ଦ୍ର ହୋଇପାରିଛି । ରାମାୟଣ ଏବଂ ମହାଭାରତ କାଳରୁ ଆରମ୍ଭ କରି ଜୈନ ତୀର୍ଥଙ୍କର ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ଏବଂ ‘ପଞ୍ଚ-ପ୍ୟାରୋ’ଙ୍କ ମଧ୍ୟରୁ ଅନ୍ୟତମ ଭାଇ ଧରମ ସିଂହଙ୍କ ଦ୍ୱାରା ମିରଟ ଦେଶ ଆସ୍ଥାକୁ ଶକ୍ତିଶାଳୀ କରିଆସିଛି ।

ସିନ୍ଧୁର ଉପତ୍ୟକାର ସଭ୍ୟତା ଠାରୁ ଆରମ୍ଭ କରି ଦେଶର ପ୍ରଥମ ସ୍ୱାଧୀନତା ସଂଗ୍ରାମ ପଯ୍ୟନ୍ତ, ଏହି ଅଞ୍ଚଳ ବିଶ୍ୱକୁ ଭାରତର ସାମର୍ଥ୍ୟ କ’ଣ ଦେଖାଇଛି । ୧୮୫୭ ମସିହାରେ, ବାବା ଅଘଡ଼ନାଥ ମନ୍ଦିରରୁ ସ୍ୱାଧୀନତା ପାଇଁ ଯେଉଁ ଆହ୍ୱାନ ବାହାରିଥିଲା, ଦିଲ୍ଲୀ ଅଭିମୁଖେ ଯାତ୍ରା ପାଇଁ ଯେଉଁ ଯେଉଁ ଆହ୍ୱାନ ହେଲା ତାହା ଦାସତ୍ୱର ଅନ୍ଧକାରରୁ ଦେଶକୁ ଏକ ନୂତନ ଆଲୋକ ଦେଖାଇଲା । ବିପ୍ଳବର ଏହି ପ୍ରେରଣା ସହିତ ଆଗକୁ ବଢ଼ିବା ସହ ଆମେ ସ୍ୱାଧୀନ ହୋଇଗଲୁ ଏବଂ ଆଜି ଆମେ ଗର୍ବର ସହିତ ସ୍ୱାଧୀନତାର ଅମୃତ ମହୋତ୍ସବ ପାଳନ କରୁଛୁ । ମୁଁ ଭାଗ୍ୟବାନ ଯେ ଏଠାକୁ ଆସିବା ପୂର୍ବରୁ ମୋତେ ଔଘରଡ଼ନାଥ ମନ୍ଦିର ଦର୍ଶନ କରିବାର ଅବସର ମିଳିଲା । ମୁଁ ଅମର ଯୱାନ ଜ୍ୟୋତି ନିକଟକୁ ମଧ୍ୟ ଯାଇଥିଲି, ସ୍ୱତନ୍ତ୍ରତା ସଂଗ୍ରାମୀ ସଂଗ୍ରାହାଳୟରେ ମୁଁ ସେହି ଅନୁଭୂତିକୁ ଅନୁଭବ କଲି, ଯେଉଁମାନେ ଦେଶର ସ୍ୱାଧୀନତା ପାଇଁ କିଛି କରିଥିଲେ, ସେମାନଙ୍କ ପାଇଁ ହୃଦୟ ଆନେ୍ଦାଳିତ ହେଉଥିବ ଅନୁଭବ କଲି ।

ଭାଇ ଭଉଣୀମାନେ,

ସ୍ୱାଧୀନ ଭାରତକୁ ଏକ ନୂତନ ଦିଗ ଦେବାରେ ମିରଟ ଏବଂ ଏହାର ଆଖ-ପାଖ ଅଞ୍ଚଳ ମଧ୍ୟ ବିଶେଷ ଅବଦାନ ଦେଇଛି । ଜାତିର ସୁରକ୍ଷା ପାଇଁ ସୀମାରେ ବଳିଦାନ ହେଉ କିମ୍ବା ଖେଳ ପଡ଼ିଆରେ ରାଷ୍ଟ୍ରପତି ସମ୍ମାନ ହେଉ, ଦେଶ ଭକ୍ତି ପ୍ରତି ଏହି କ୍ଷେତ୍ର ସଦାସର୍ବଦା ଦେଶ ପ୍ରେମକୁ ପ୍ରଜ୍ୱଳିତ କରି ରଖିଛି । ଚୌଧୁରୀ ଚରଣ ସିଂହ ଜୀଙ୍କ ରୂପରେ ନୂରପୁର ମାଡେୟା ମଧ୍ୟ ଦେଶକୁ ଏକ ଦୂରଦୃଷ୍ଟି ସମ୍ପନ୍ନ ନେତୃତ୍ୱ ଦେଇଥିଲେ । ମୁଁ ଏହି ପ୍ରେରଣାସ୍ଥଳୀକୁ ବନ୍ଦନା କରୁଛି, ମୁଁ ମିରଟ ଏବଂ ଏହି ଅଞ୍ଚଳର ଲୋକଙ୍କୁ ଅଭିନନ୍ଦନ ଜଣାଉଛି ।

ଭାଇ ଓ ଭଉଣୀମାନେ,

ମିରଟ ଦେଶର ଅନ୍ୟ ଏକ ମହାନ ସନ୍ତାନ, ମେଜର ଧ୍ୟାନଚାନ୍ଦ ଜୀଙ୍କର ମଧ୍ୟ ଏହା କର୍ମସ୍ଥଳୀ ଥିଲା । କିଛି ମାସ ପୂର୍ବେ କେନ୍ଦ୍ର ସରକାର ଦେଶର ସବୁଠାରୁ ବଡ଼ କ୍ରୀଡ଼ା ପୁରସ୍କାରକୁ ଦାଦାଙ୍କ ନାମରେ ନାମିତ କରିଥିଲେ । ଆଜି ମିରଟର ସ୍ପୋର୍ଟ୍ସ ୟୁନିଭରର୍ସିଟି ମେଜର ଧ୍ୟାନଚାନ୍ଦ ଜୀଙ୍କୁ ସମର୍ପିତ କରାଯାଇଛି ଏବଂ ଯେତେବେଳେ ଏହି ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟର ନାମ ମେଜର ଧ୍ୟାନଚାନ୍ଦ ଜୀଙ୍କ ସହିତ ଯୋଡ଼ି ହୋଇଯିବ, ସେତେବେଳେ ତାଙ୍କର ବୀରତ୍ୱ ଆମକୁ କେବଳ ପ୍ରେରଣା ଦେଇ ନ ଥାଏ ବରଂ ତାଙ୍କ ନାମରେ ଏକ ବାର୍ତ୍ତା ମଧ୍ୟ ଦେଇଥାଏ । ତାଙ୍କ ନାମରେ ଥିବା ଯେଉଁ ଶବ୍ଦ ହେଉଛି ଧ୍ୟାନ, ଧ୍ୟାନ ନ ଦେଇ, ଧ୍ୟାନ ଦେଇ କୌଣସି କାର୍ଯ୍ୟକଳାପ ନ କରି, କେବେ ମଧ୍ୟ କୌଣସି ସଫଳତା ମିଳିବ ନାହିଁ । ଏବଂ ସେଥିପାଇଁ ଯେଉଁ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟର ନାମ ଧ୍ୟାନଚାନ୍ଦଙ୍କ ସହ ଯୋଡ଼ି ହୋଇଛି ସେଠାରେ ପୂର୍ଣ୍ଣମାତ୍ରାରେ ଧ୍ୟାନ ଦେଇ କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଥିବା ଯୁବଗୋଷ୍ଠୀମାନେ ଦେଶର ନାମ ରଖିବେ, ଏହା ମୋତେ ପୂର୍ଣ୍ଣ ବିଶ୍ୱାସ ରହିଛି ।

ଉତ୍ତର ପ୍ରଦେଶରେ ପ୍ରଥମ କ୍ରୀଡ଼ା ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ହୋଇଥିବାରୁ ମୁଁ ଉତ୍ତର ପ୍ରଦେଶର ଯୁବଗୋଷ୍ଠୀଙ୍କୁ ବହୁତ ବହୁତ ଅଭିନନ୍ଦନ ଜଣାଉଛି । ୭ଠଠ କୋଟି ଟଙ୍କା ବ୍ୟୟରେ ନିର୍ମିତ ହେବାକୁ ଥିବା ଏହି ଆଧୁନିକ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ବିଶ୍ୱର ସର୍ବୋତ୍ତମ କ୍ରୀଡ଼ା ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ମଧ୍ୟରେ ଅନ୍ୟତମ । ଏଠାରେ ଯୁବଗୋଷ୍ଠୀ ମାନଙ୍କୁ କ୍ରୀଡ଼ା ସମ୍ବନ୍ଧୀୟ ଆନ୍ତର୍ଜାତିକ ସୁବିଧା ମାନ ତ ମିଳିପାରିବ, କିନ୍ତୁ ଏହା କ୍ରୀଡ଼ାକୁ କ୍ୟାରିଅର ଭାବରେ ଗ୍ରହଣ କରିବାରେ ଆବଶ୍ୟକୀୟ ଦକ୍ଷତା ମଧ୍ୟ ଗଠନ କରିବ । ପ୍ରତି ବର୍ଷ ୧ ହଜାରରୁ ଅଧିକ ପୁଅ-ଝିଅ ସର୍ବୋତ୍ତମ ଖେଳାଳି ଭାବରେ ଏଠାରୁ ବାହାରିବେ । ତାହା ହେଉଛି, ବିପ୍ଳବୀମାନଙ୍କ ସହର, କ୍ରୀଡ଼ା ହିରୋମାନଙ୍କର ସହର ଭାବରେ ମଧ୍ୟ ନିଜର ପରିଚୟକୁ ଆହୁରି ସଶକ୍ତ କରିବ।

ସାଥୀମାନେ,

ପୂର୍ବ ସରକାରରେ, ଅପରାଧୀମାନେ ୟୁପିରେ ଖେଳ ଖେଳୁଥିଲେ, ମାଫିଆମାନେ ସେମାନଙ୍କ ଖେଳ ଖେଳୁଥିଲେ । ପୂର୍ବରୁ ଏଠାରେ ବେଆଇନ ଅଧିକାରର ଟୁର୍ଣ୍ଣାମେଣ୍ଟ ହେଉଥିଲା, ଯେଉଁମାନେ ଝିଅମାନଙ୍କ ଉପରେ ମନ୍ତବ୍ୟ ଦେଉଥିଲେ ସେମାନେ ମୁକ୍ତ ଭାବରେ ବୁଲୁଥିଲେ । ଆମର ମିରଟ ଏବଂ ଏହାର ଆଖପାଖ ଅଞ୍ଚଳର ଲୋକମାନେ କଦାପି ଭୁଲିପାରିବେ ନାହିଁ ଯେ ଲୋକଙ୍କ ଘର ଜାଳି ଦିଆଯାଉଥିଲା ଏବଂ ପୂର୍ବ ସରକାର ନିଜ ଖେଳରେ ବ୍ୟସ୍ତ ରହୁଥିଲେ । ପୂର୍ବ ସରକାରଗୁଡ଼ିକର ଖେଳର ଫଳାଫଳ ହେଲା ଯେ ଲୋକମାନେ ସେମାନଙ୍କର ପୈତୃକ ସମ୍ପତ୍ତି ଛାଡ଼ି ଚାଲିଯିବାକୁ ବାଧ୍ୟ ହେବାକୁ ପଡିଥିଲା ।

ପୂର୍ବରୁ କେଉଁ କେଉଁ ଖେଳ ଖେଳାଯାଇଥିଲା, ବର୍ତ୍ତମାନ ଯୋଗୀଙ୍କ ସରକାର ଏପରି ଅପରାଧୀମାନଙ୍କ ସହ ଜେଲ-ଜେଲ ଖେଳୁଛନ୍ତି । ଗତ ୫ ବର୍ଷ ପୂର୍ବରୁ ମିରଟର ଝଅମାନେ ସନ୍ଧ୍ୟା ପରେ ଘରୁ ବାହାରିବାକୁ ଭୟ କରୁଥିଲେ । ଆଜି ମିରଟର ଝିଅମାନେ ସମଗ୍ର ଦେଶର ନାମ ଉଜ୍ୱଳ କରୁଛନ୍ତି । ଏଠାରେ ମିରଟର ସୋତିଗଂଜ ବଜାରରେ, ଯାନ ସହିତ ଖେଳର ମଧ୍ୟ ଶେଷ ହେବାକୁ ଯାଉଛି । ବର୍ତ୍ତମାନ ୟୁପିରେ ପ୍ରକୃତ କ୍ରୀଡ଼ାକୁ ପ୍ରୋତ୍ସାହିତ କରାଯାଉଛି । ଉତ୍ତର ପ୍ରଦେଶର ଯୁବଗୋଷ୍ଠୀଙ୍କୁ କ୍ରୀଡ଼ା ଜଗତରେ ନିଜକୁ ପ୍ରତିଷ୍ଠା କରିବାକୁ ସୁଯୋଗ ମିଳିପାରୁଛି ।

ସାଥୀମାନେ,

ଆମର ଏଠାରେ କୁହାଯାଇଥାଏ- ମହାଜନୋ ୟନ ଗତ: ସ ପନ୍ଥା:

ଅର୍ଥାତ୍, ଯେଉଁ ପଥରେ ମହାନ ଲୋକ, ମହାନ ବ୍ୟକ୍ତିତ୍ୱମାନେ ଚାଲନ୍ତି, ତାହା ହେଉଛି ଆମର ପଥ । କିନ୍ତୁ ବର୍ତ୍ତମାନ ଭାରତ ବଦଳିଛି । ବର୍ତ୍ତମାନ ଆନେ ଏକବିଂଶ ଶତାବ୍ଦୀରେ ଅଛୁ । ଏବଂ ଏହି ଏକବିଂଶ ଶତାବ୍ଦୀର ନୂତନ ଭାରତରେ ସବୁଠାରୁ ବଡ଼ ଦାୟିତ୍ୱ ଆମର ଯୁବଗୋଷ୍ଠୀମାନଙ୍କ ଉପରେ ରହିଛି । ଏବଂ ଏଥିପାଇଁ, ବର୍ତ୍ତମାନ ମନ୍ତ୍ର ବଦଳିଛି- ଏକବିଂଶ ଶତାବ୍ଦୀର ମନ୍ତ୍ର ହେଉଛି: ୟୁବା ଜନୋ ୟନ ଗତା: ସ ପନ୍ଥା:

ଯେଉଁ ପଥରେ ଯୁବଗୋଷ୍ଠୀ ଚାଲିବେ, ସେହି ପଥ ହେଉଛି ଦେଶର ପଥ । ଯେଉଁ ଦିଗକୁ ଯୁବକମାନଙ୍କର ପାଦ ବଢ଼ିବ ସେଠାରେ ଲକ୍ଷ୍ୟସ୍ଥଳ ନିଜେ ନିଜେ ପାଦକୁ ଚୁମ୍ବନ ଦେବା ଆରମ୍ଭ କରିବ । ଯୁବକମାନେ ମଧ୍ୟ ନୂତନ ଭାରତର କର୍ଣ୍ଣଧାର ଅଟନ୍ତି, ଯୁବକମାନେ ନୂତନ ଭାରତର ବିସ୍ତାର ମଧ୍ୟ ଅଟନ୍ତି । ଯୁବକମାନେ ନୂଆ ଭାରତର ନିୟନ୍ତା ମଧ୍ୟ ଅଟନ୍ତି ଏବଂ ଯୁବକମାନେ ମଧ୍ୟ ନୂତନ ଭାରତର ନେତୃତ୍ୱ କର୍ତ୍ତା ଅଟନ୍ତି । ଆମର ଆଜି ଯୁବଗୋଷ୍ଠୀଙ୍କ ପାଖରେ ପ୍ରାଚୀନତାର ଐତିହ୍ୟ ରହିଛି, ସେମାନଙ୍କ ପାଖରେ ଆଧୁନିକତାର ଭାବନା ମଧ୍ୟ ଅଛି । ଏବଂ ସେଥିପାଇଁ, ଯେଉଁଠାରେ ଯୁବକମାନେ ଚାଲିବେ ସେଠାରେ ଭାରତ ଚାଲିବ । ଏବଂ ଯେଉଁଠାରେ ଭାରତ ଚାଲିବ, ବିଶ୍ୱ ସେଠାରେ ଚାଲିବାକୁ ଯାଉଛି । ଆଜି ଆମେ ଦେଖିବା ଯେ, ବିଜ୍ଞାନ ଠାରୁ ଆରମ୍ଭ କରି ସାହିତ୍ୟ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ, ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ ଠାରୁ ଆରମ୍ଭ କରି କ୍ରୀଡ଼ା ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ, ସବୁ କ୍ଷେତ୍ରରେ ଭାରତର ଯୁବକମାନେ ପ୍ରତିଷ୍ଠିତ ହୋଇପାରିଛନ୍ତି ।

ଭାଇ ଓ ଭଉଣୀମାନେ,

କ୍ରୀଡ଼ା ଜଗତକୁ ଆସିଥିବା ଆମର ଯୁବକମାନେ ମଧ୍ୟ ପୂର୍ବରୁ ସକ୍ଷମ ଥିଲେ । ସେମାନଙ୍କ ଠାରେ କଠିନ ପରିଶ୍ରମର ଅଭାବ ମଧ୍ୟ ନ ଥିଲା । ଆମ ଦେଶରେ କ୍ରୀଡ଼ା ସଂସ୍କୃତି ମଧ୍ୟ ବହୁତ ସମୃଦ୍ଧ ରହିଛି । ଆମ ଗାଁରେ ପ୍ରତ୍ୟେକ ଉତ୍ସବ, ପ୍ରତ୍ୟେକ ପର୍ବରେ କ୍ରୀଡ଼ା ଏକ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ଭୂମିକା ଗ୍ରହଣ କରିଥାଏ । ପୁରସ୍କାର ଆକାରରେ ମିଳିଥିବା ଝିଅ ପାତ୍ର ଓ ଲଡୁର ସ୍ୱାଦ ଚାଖିବା ପାଇଁ ମିରଟରେ ଆୟୋଜିତ କୁସ୍ତି ପ୍ରତିଯୋଗିତାରେ ସାମିଲ ହେବାକୁ କିଏ ବା ନ ଚାଂହିବ। କିନ୍ତୁ ଏହା ମଧ୍ୟ ସତ୍ୟ ଯେ ପୂର୍ବ ସରକାରଙ୍କ ନୀତି ଯୋଗୁଁ ଖେଳ ଏବଂ ସେମାନଙ୍କ ପ୍ରତି ଖେଳାଳିଙ୍କ ମନୋଭାବ ଅତ୍ୟନ୍ତ ଭିନ୍ନ ଥିଲା । ପୂର୍ବେ ସହରରେ, ଯଦି କୌଣସି ଯୁବକ ନିଜକୁ ଖେଳାଳି ଭାବରେ ପରିଚୟ ସୃଷ୍ଟି କରୁଥିଲା, ଯଦି ସେ କହୁଥିଲା ଯେ ମୁଁ ଜଣେ ଖେଳାଳି, ମୁଁ ଏପରି ଖେଳ ଖେଳେ, ମୁଁ ସେହି ଖେଳରେ ଆଗରେ ଅଛି, ତା’ହେଲେ ଆଗରେ ଥିବା ଲୋକମାନେ କ’ଣ ପଚାରୁଥିଲେ, ଜାଣିଛନ୍ତି କି? ସାମ୍ନାରେ ଥିବା ବ୍ୟକ୍ତି ପଚାରୁଥିଲେ- ଆରେ ପୁଅ, ଯଦି ତୁମେ ଖେଳିଛ ତ ଭଲ, କିନ୍ତୁ କାମ କ’ଣ କରୁଛ? ତାହା ହେଉଛି, ଖେଳ ପ୍ରତି କୌଣସି ସମ୍ମାନ ନ ଥିଲା ।

ଯଦି ଗାଁର କେହି ଜଣେ ନିଜକୁ ଖେଳାଳି ବୋଲି କହିଥାନ୍ତି- ଲୋକମାନେ କହୁଥିଲେ ଯେ ସେ ସେନା କିମ୍ବା ପୋଲିସରେ ଚାକିରି କରିବା ପାଇଁ ଖେଳୁଥିବ । ଅର୍ଥାତ କ୍ରୀଡ଼ା ପ୍ରତି ସେମାନଙ୍କର ଭାବନା ଏବଂ ବୁଝିବାର ପରିସର ବହୁତ ସୀମିତ ହୋଇଯାଇଥିଲା । ପୂର୍ବ ସରକାରମାନେ ଯୁବକମାନଙ୍କର ଏହି ସମ୍ଭାବନାକୁ ଗୁରୁତ୍ୱ ଦେଇ ନ ଥିଲେ । ଏହା ସରକାରଙ୍କ ଦାୟିତ୍ୱ ଥିଲା ଯେ ସମାଜରେ ଖେଳ ପ୍ରତି ଥିବା ଚିନ୍ତାଧାରାକୁ ପରିବର୍ତ୍ତନ କରି, ଖେଳ ପ୍ରତି ଗୁରୁତ୍ୱ ଦେବା ଅତ୍ୟନ୍ତ ଜରୁରୀ ଥିଲା । କିନ୍ତୁ ଏହା ବିପରୀତ, ଦେଶରେ ଖେଳ ପ୍ରତି ଉଦାସୀନତା ଅଧିକାଂଶ କ୍ଷେତ୍ରରେ ବଢ଼ିବାକୁ ଲାଗିଲା । ଏହାର ପରିଣାମ ହେଲା ଯେ ଦାସତ୍ୱ କାଳରେ ମଧ୍ୟ ମେଜର ଧ୍ୟାନଚାନ୍ଦ ଜୀଙ୍କ ଭଳି ପ୍ରତିଭା ଦେଶ ପାଇଁ ଗୌରବ ଆଣି ଦେଇଥିଲେ, ସେଥିରେ ମଧ୍ୟ ଆମକୁ ପଦକ ପାଇଁ ଦଶନ୍ଧି ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ଅପେକ୍ଷା କରିବାକୁ ପଡ଼ିଥିଲା।

ବିଶ୍ୱ ହକି ପ୍ରାକୃତିକ ପଡ଼ିଆରୁ ଆଷ୍ଟ୍ରୋ ଟର୍ଫକୁ ଚାଲିଗଲା, କିନ୍ତୁ ଆମେ ସେହି ଠାରେ ରହିଗଲୁ । ଆମେ ଉଠିବା ବେଳକୁ ବହୁତ ଡେରି ହୋଇଯାଇଥିଲା । ତା’ ଉପରେ ପୁଣି ପ୍ରଶିକ୍ଷଣ ଠାରୁ ଆରମ୍ଭ କରି ଦଳ ଚୟନ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ପ୍ରତ୍ୟେକ ପଦକ୍ଷେପରେ ଆତ୍ମୀୟତା, ଭାତୃତ୍ୱ ଖେଳ, ଦୁର୍ନୀତି ଖେଳ, ଲଗାତାର ଭାବେ ଭେଦ-ଭାବ ଏବଂ ସ୍ୱଚ୍ଛତାର କୌଣସି ଚିହ୍ନ ବର୍ଣ୍ଣ ନ ଥିଲା । ବନ୍ଧୁଗଣ, ହକି ଏକ ଉଦାହରଣ, ଏହା ପ୍ରତ୍ୟେକ ଖେଳାର କାହାଣୀ ଥିଲା । ବଦଳୁଥିବା ଟେକ୍ନୋଲୋଜୀ, ବଦଳୁଥିବା ଚାହିଦା, ବଦଳୁଥିବା ଦକ୍ଷତା ପାଇଁ ଦେଶର ପୂର୍ବ ସରକାର ସର୍ବୋତ୍ତମ ଇକୋ ସିଷ୍ଟମ ସୃଷ୍ଟି କରିପାରିଲେ ନାହିଁ ।

ସାଥୀମାନେ,

ଦେଶର ଯୁବଗୋଷ୍ଠୀଙ୍କ ନିକଟରେ ଯେଉଁ ଅସୀମ ଟ୍ୟାଲେଣ୍ଟ ଥିଲା ତାହା ସରକାରଙ୍କ ଉଦାସୀନତା ଯୋଗୁଁ ପ୍ରତିବନ୍ଧକରେ ବାନ୍ଧି ହୋଇ ରହିଥିଲା । ୨ଠ୧୪ ପରେ, ଆମେ ତାଙ୍କୁ ସେହି କବଳରୁ ମୁକ୍ତ କରିବା ପାଇଁ ପ୍ରତ୍ୟେକ ସ୍ତରରେ ସଂସ୍କାରଣ ଆଣିଥିଲୁ । ଖେଳାଳିଙ୍କ ଦକ୍ଷତା ବୃଦ୍ଧି ପାଇଁ ଆମ ସରକାର ଆମର ଖେଳାଳିଙ୍କୁ ୪ଟି ଅସ୍ତ୍ର ଦେଇଛନ୍ତି । ଖେଳାଳିମାନଙ୍କୁ ଆବଶ୍ୟକ ହେଉଛି- ଖେଳାଳିମାନେ ଆଧୁନିକ ତାଲିମ ସୁବିଧା ଆବଶ୍ୟକ କରନ୍ତି, ଖେଳାଳିମାନେ ଅନ୍ତର୍ଜାତୀୟ ଏକ୍ସପୋଜର ଆବଶ୍ୟକ କରନ୍ତି, ଖେଳାଳିମାନେ ଚୟନରେ ସ୍ୱଚ୍ଛତା ଆବଶ୍ୟକତା କରନ୍ତି। ବିଗତ ବର୍ଷଗୁଡ଼ିକରେ, ଏହି ୪ଟି ଅସ୍ତ୍ର ନିଶ୍ଚିତ ରୂପେ ମିଳିଛି । ଆମ ସରକାର ଭାରତର ଖେଳାଳିଙ୍କୁ ପ୍ରାଥମିକତା ଦେଇଛନ୍ତି । ଆମେ କ୍ରୀଡ଼ାକୁ ଯୁବକମାନଙ୍କ ଫିଟନେସ ଏବଂ ଯୁବକମାନଙ୍କ ରୋଜଗାର, ଆତ୍ମନିର୍ଭରଶୀଳତା, ସେମାନଙ୍କ କ୍ୟାରିଅର ସହିତ ସଂଯୁକ୍ତ କରିଛୁ । ଟାର୍ଗେଟ ଅଲିମ୍ପିକ୍ସ ପୋଡିୟମ ସ୍କିମ୍ ଅର୍ଥାତ୍ (ଟପ୍ସ) ଏହିପରି ଏକ ପ୍ରୟାସ ଅଟେ ।

ଆଜି ସରକାର ଖାଦ୍ୟ ଏବଂ ପାନୀୟ ଜଳ ଠାରୁ ଆରମ୍ଭ କରି ତାଲିମ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ଦେଶର ପ୍ରମୁଖ ଖେଳାଳିଙ୍କୁ ଲକ୍ଷ ଲକ୍ଷ କୋଟି କୋଟି ଟଙ୍କା ସହାୟତା ଦେଉଛନ୍ତି । ଆଜି, ଖେଲୋ ଇଣ୍ଡିଆ ଅଭିଯାନ ମାଧ୍ୟମରେ ଦେଶର ପ୍ରତ୍ୟେକ କୋଣ ଅନୁକୋଣରେ ଥିବା ପ୍ରତିଭାଙ୍କୁ ଖୁବ କମ ବୟସରେ ଚିହ୍ନଟ କରାଯାଉଛି । ସେମାନଙ୍କୁ ଆନ୍ତର୍ଜାତୀୟ ସ୍ତରର ଆଥଲେଟ କରିବା ପାଇଁ ଏହିପରି ଖେଳାଳିଙ୍କୁ ଚୟନ କରି ସେମାନଙ୍କୁ ସମସ୍ତ ସମ୍ଭାବ୍ୟ ସହାୟତା ଦିଆଯାଉଛି । ଏହି ପ୍ରୟାସ ହେତୁ, ଯେତେବେଳେ ଭାରତର ଖେଳାଳି ଆଜି ଅନ୍ତର୍ଜାତୀୟ କ୍ଷେତ୍ରରେ ପ୍ରବେଶ କରୁଛି, ସେତେବେଳେ ବିଶ୍ୱ ମଧ୍ୟ ତାଙ୍କ ପ୍ରଦର୍ଶନକୁ ପ୍ରଶଂସା କରୁଛି ଏବଂ ଦେଖୁଛି । ଗତ ବର୍ଷ ଆମେ ଅଲିମ୍ପିକ୍ସରେ ଦେଖିଥିଲୁ, ଆମେ ପାରା-ଅଲିମ୍ପିକ୍ସରେ ଦେଖିଥିଲୁ । ଯାହା ଇତିହାସରେ କେବେ ହୋଇ ନ ଥିଲା, ଯାହା ମୋ ଦେଶର ସାହସୀ ପୁଅ ଓ ଝିଅମାନେ ଗତ ଅଲିମ୍ପିକ୍ସରେ ତାହା କରି ଦେଖାଇଥିଲେ । ପଦକ ଏତେ ବଡ଼ ଖ୍ୟାତି ଆଣି ଦେଇଥିଲା ଯେ ସମଗ୍ର ଦେଶ ଗୋଟିଏ ସ୍ୱରରେ କହିଲା- କ୍ରୀଡ଼ା କ୍ଷେତ୍ରରେ ଭାରତର ଉଦୟ ହେଲା ।

ଭାଇ ଓ ଭଉଣୀମାନେ,

ଆଜି ଆମେ ଦେଖୁଛୁ ଯେ, ଉତ୍ତର ପ୍ରଦେଶର ଅନେକ ଛୋଟ ଛୋଟ ଗାଁ ଏବଂ ସହରର ଉତ୍ତର ପ୍ରଦେଶର ସାଧାରଣ ପରିବାରର ପୁଅ ଏବଂ ଝିଅମାନେ ଭାରତର ପ୍ରତିନିଧିତ୍ୱ କରୁଛନ୍ତି । ଆମର ପୁଅ ଏବଂ ଝିଅମାନେ ମଧ୍ୟ ଏହିପରି ଖେଳଗୁଡ଼ିକରେ ଆଗକୁ ଆସୁଛନ୍ତି । ଯେଉଁଥିରେ ପୂର୍ବରୁ କେବଳ ସମ୍ବଳ ସମୃଦ୍ଧ ପରିବାରର ଯୁବକମାନେ ଅଂଶଗ୍ରହଣ କରି ପାରୁଥିଲେ । ଏହି ଅଞ୍ଚଳର ଅନେକ ଖେଳାଳି ଅଲିମ୍ପିକ୍ସ ଏବଂ ପାରା-ଅଲିମ୍ପିକ୍ସରେ ଦେଶକୁ ପ୍ରତିନିଧିତ୍ୱ କରିଛନ୍ତି । ପ୍ରତ୍ୟେକ ଗ୍ରାମରେ ସରକାର ନିର୍ମାଣ କରୁଥିବା ଆଧୁନିକ କ୍ରୀଡ଼ା ଭିତ୍ତିଭୂମିର ଏହା ହେଉଛି ପରିଣାମ । ପୂର୍ବରୁ ବଡ଼ ବଡ଼ ସହରରେ କେବଳ ବଡ଼ ବଡ଼ ଷ୍ଟାଡିୟମ ଉପଲବ୍ଧ ଥିଲା, ଆଜି ଗାଁ ନିକଟରେ ଖେଳାଳିଙ୍କୁ ଏହି ସୁବିଧା ଯୋଗାଇ ଦିଆଯାଉଛି ।

ସାଥୀମାନେ,

ଯେତେବେଳେ ବି ଆମେ ଏକ ନୂତନ କାର୍ଯ୍ୟ ସଂସ୍କୃତିକୁ ପ୍ରୋତ୍ସାହିତ କରିବାରେ ଯେଉଁ ଚେଷ୍ଟା କରୁଛୁ, ଏଥିପାଇଁ ତିନୋଟି ଜିନିଷ ଜରୁରୀ- ସାନ୍ନିଧ୍ୟ, ଚିନ୍ତା ଏବଂ ସଂସାଧନ! କ୍ରୀଡ଼ା ସହିତ ଆମର ସମ୍ପର୍କ ବହୁ ପୁରାତନ । କିନ୍ତୁ କେବଳ କ୍ରୀଡ଼ା ସହିତ ଆମର ପୁରୁଣା ସମ୍ପର୍କ କ୍ରୀଡ଼ାର ସଂସ୍କୃତି ସୃଷ୍ଟି କରିବା ପାଇଁ କାମ କରିବ ନାହିଁ, ଏଥିପାଇଁ ଆମକୁ ଏକ ନୂତନ ଆଭିମୁଖ୍ୟ ମଧ୍ୟ ଆବଶ୍ୟକ । ଦେଶରେ କ୍ରୀଡ଼ା ପାଇଁ, ଏହା ଆବଶ୍ୟକ ଯେ ଆମର ଯୁବକମାନେ କ୍ରୀଡ଼ା ଉପରେ ବିଶ୍ୱାସ କରିବା ଉଚିତ ଏବଂ କ୍ରୀଡ଼ାକୁ ସେମାନଙ୍କର ବୃତ୍ତି ଭାବେ ଗ୍ରହଣ କରିବାକୁ ଉତ୍ସାହିତ ହେବା ଆବଶ୍ୟକ। ଏବଂ ଏହା ମୋର ସଂକଳ୍ପ, ଏବଂ ଏହା ମଧ୍ୟ ମୋର ସ୍ୱପ୍ନ ଅଟେ! ମୁଁ ଚାହୁଁଛି ଯେ ଆମର ଯୁବକମାନେ ଅନ୍ୟ ବୃତ୍ତି ପରି କ୍ରୀଡ଼ାକୁ ମଧ୍ୟ ଦେଖନ୍ତୁ । ଆମକୁ ଏହା ମଧ୍ୟ ବୁଝିବାକୁ ହେବ ଯେ ଯିଏ କ୍ରୀଡ଼ାକୁ ଯାଏ, ସେ ବିଶ୍ୱରେ ନମ୍ବର ୱାନ ହେବ, ଏହା ଆବଶ୍ୟକ ନୁହେଁ । ଏବଂ ଯେତେବେଳେ ସ୍ପୋର୍ଟ୍ସ ଇକୋ ସିଷ୍ଟମ ପ୍ରସ୍ତୁତ ହୁଏ, ତା’ପରେ କ୍ରୀଡ଼ା ପରିଚାଳନା ଠାରୁ ଆରମ୍ଭ କରି କ୍ରୀଡ଼ା ଲେଖା ଏବଂ କ୍ରୀଡ଼ା ମନୋବିଜ୍ଞାନ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ, କ୍ରୀଡ଼ା ସହିତ ଜଡ଼ିତ ବହୁ ପ୍ରକାରର ସମ୍ଭାବନା ସୃଷ୍ଟି ହୋଇଥାଏ । କ୍ରମଶଃ, ସମାଜରେ ଏକ ବିଶ୍ୱାସ ସୃଷ୍ଟି ହୋଇଥାଏ ଯେ ଯୁବକମାନେ କ୍ରୀଡ଼ା ଦିଗକୁ ଅଗ୍ରସର ହେବା ଏକ ସଠିକ ନିଷ୍ପତ୍ତି । ଏହି ପରି ଏକ ଇକୋ ସିଷ୍ଟମ ସୃଷ୍ଟି କରିବା ପାଇଁ ସଂସାଧନର ଆବଶ୍ୟକତା ହୋଇଥାଏ । ଯେତେବେଳେ ଆବଶ୍ୟକ ସମ୍ବଳ, ଆବଶ୍ୟକ ଭିତ୍ତିଭୂମି ବିକାଶ କରୁ, ସେତେବେଳେ କ୍ରୀଡ଼ାର ସଂସ୍କୃତି ମଧ୍ୟ ଅଧିକ ଶକ୍ତିଶାଳୀ ହୋଇଥାଏ । ଯଦି କ୍ରୀଡ଼ା ପାଇଁ ଆବଶ୍ୟକ ସମ୍ବଳ ଅଛି, ତେବେ ଦେଶରେ କ୍ରୀଡ଼ାର ସଂସ୍କୃତି ମଧ୍ୟ ରୂପ ଧାରଣ କରିବ ଏବଂ ବିସ୍ତୃତ ହେବ ।

ସେଥିପାଇଁ ଆଜି ଏହିଭଳି କ୍ରୀଡ଼ା ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟଗୁଡ଼ିକ ଏତିକି ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ଅଟେ । ଏହି କ୍ରୀଡ଼ା ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟଗୁଡ଼ିକ କ୍ରୀଡ଼ାର ସଂସ୍କୃତିର ବିକାଶ ପାଇଁ ନର୍ସରୀ ପରି କାର୍ଯ୍ୟ କରନ୍ତି । ସେଥିପାଇଁ ସ୍ୱାଧୀନତାର ସାତ ଦଶନ୍ଧିରେ, ୨ଠ୧୮ରେ ଆମ ସରକାର ମଣିପୁରରେ ପ୍ରଥମ ଜାତୀୟ କ୍ରୀଡ଼ା ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ପ୍ରତିଷ୍ଠା କଲେ। ଗତ ୭ ବର୍ଷ ମଧ୍ୟରେ କ୍ରୀଡ଼ା, ଶିକ୍ଷା ଏବଂ ଦକ୍ଷତା ସହ ଜଡ଼ିତ ଅନେକ ଅନୁଷ୍ଠାନ ସମଗ୍ର ଦେଶରେ ଆଧୁନିକୀକରଣ କରାଯାଇଛି । ଏବଂ ଆଜି ମେଜର ଧ୍ୟାନଚାନ୍ଦ ସ୍ପୋର୍ଟ୍ସ ୟୁନିଭର୍ସିଟି ଦେଶରେ, କ୍ରୀଡ଼ା କ୍ଷେତ୍ରରେ ଉଚ୍ଚଶିକ୍ଷାର ଆଉ ଏକ ଶ୍ରେଷ୍ଠ ଅନୁଷ୍ଠାନ ଦେଶକୁ ମିଳିଛି ।

ସାଥୀମାନେ,

ଆମକୁ କ୍ରୀଡ଼ା ଜଗତ ସହ ଜଡ଼ିତ ଆଉ ଗୋଟିଏ କଥା ମନେ ରଖିବାକୁ ପଡ଼ିବ । ଏବଂ ମିରଟର ଲୋକମାନେ ଏହାକୁ ଭଲ ଭାବରେ ଜାଣିଛନ୍ତି । କ୍ରୀଡ଼ା ସହିତ ଜଡ଼ିତ ସେବା ଏବଂ ସାମଗ୍ରୀ ପାଇଁ ବିଶ୍ୱରେ ବଜାର ମୂଲ୍ୟ ଲକ୍ଷ ଲକ୍ଷ କୋଟି କୋଟି ଟଙ୍କାର ଅଛି । କ୍ରୀଡ଼ା ସାମଗ୍ରୀ ମିରଟରୁ ୧ଠଠରୁ ଅଧିକ ଦେଶକୁ ରପ୍ତାନି ହୋଇଥାଏ । ମିରଟ ପାଇଁ ଏହା ଲୋକାଲ ଫର ଭୋକାଲ ଅଟେ, ଏହା ଲୋକାଲକୁ ଗ୍ଲୋବାଲ ମଧ୍ୟ କରୁଛି । ଏହିପରି ଅନେକ କ୍ରୀଡ଼ା କ୍ଲଷ୍ଟର ମଧ୍ୟ ଆଜି ଦେଶରେ ବିକଶିତ କରାଯାଉଛି । ଉଦେ୍ଦଶ୍ୟ ହେଉଛି ଯେ କ୍ରୀଡ଼ା ସାମଗ୍ରୀ ଏବଂ ଯନ୍ତ୍ରପାତି ଉତ୍ପାଦନରେ ଦେଶ ମଧ୍ୟ ଆତ୍ମନିର୍ଭରଶୀଳ ହୋଇପାରିବ ।

ବର୍ତ୍ତମାନ ଯେଉଁ ନୂତନ ଜାତୀୟ ଶିକ୍ଷାନୀତି କାର୍ଯ୍ୟକାରୀ ହେଉଛି ସେଥିରେ କ୍ରୀଡ଼ାକୁ ପ୍ରାଥମିକତା ଦିଆଯାଇଛି । କ୍ରୀଡ଼ାକୁ ମଧ୍ୟ ସମାନ ଭାବେ ରଖାଯାଇଛି । ଯେମିତିକି ବିଜ୍ଞାନ, ବାଣିଜ୍ୟ, ଗଣିତ, ଭୂଗୋଳ କିମ୍ବା ଅନ୍ୟାନ୍ୟ ଅଧ୍ୟୟନ। ପୂର୍ବରୁ କ୍ରୀଡ଼ାକୁ ଅତିରକ୍ତ କାର୍ଯ୍ୟକଳାପ ଭାବରେ ବିବେଚନା କରାଯାଉଥିଲା, କିନ୍ତୁ ବର୍ତ୍ତମାନ କ୍ରୀଡ଼ା ବିଦ୍ୟାଳୟରେ ଏକ ବିଷୟ ହେବ । ଅନ୍ୟ ବିଷୟଗୁଡ଼ିକ ପରି ତାହାର ମଧ୍ୟ ମହତ୍ୱ ରହିବ ।

ସାଥୀମାନେ,

ୟୁପିର ଯୁବଗୋଷ୍ଠୀଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ଏତେ ପ୍ରତିଭା ଅଛି, ଆମର ୟୁପିର ଯୁବଗୋଷ୍ଠୀ ଏତେ ଦକ୍ଷ ଯେ ଆକାଶ ଛୋଟ ପଡ଼ିଯାଉଛି । ତେଣୁ ୟୁପିରେ ଡବଲ ଇଞ୍ଜିନ ସରକାର ଅନେକ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ପ୍ରତିଷ୍ଠା କରୁଛନ୍ତି । ଗୋରଖପୁରରେ ମହାଯୋଗୀ ଗୁରୁ ଗୋରଖନାଥ ଆୟୁଷ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ, ପ୍ରୟାଗରାଜରେ ରାଜେନ୍ଦ୍ର ପ୍ରସାଦ ଆଇନ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ, ଲକ୍ଷ୍ନୌରେ ରାଜ୍ୟ ଫନେନସିକ ସାଇନ୍ସ ଇନ୍ଷ୍ଟିଚୁଟ, ଆଲିଗଡ଼ରେ ରାଜା ମହେନ୍ଦ୍ର ପ୍ରତାପ ସିଂହ ରାଜ୍ୟ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ, ତହାରନପୁରର ମା ଶକୁମ୍ବରୀ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ଏବଂ ଏହି ମିରଟରେ ମେଜର ଧ୍ୟାନଚାନ୍ଦ ସ୍ପୋର୍ଟ୍ସ ୟୁନିଭର୍ସିଟି । ଆମର ଉଦେଶ୍ୟ ସ୍ପଷ୍ଟ ଅଟେ । ଆମର ଯୁବକମାନେ କେବଳ ଆଦର୍ଶ ହୁଅନ୍ତୁ ନାହିଁ, ସେମାନେ ସେମାନଙ୍କର ଆଦର୍ଶକୁ ମଧ୍ୟ ଚିହ୍ନନ୍ତୁ ।

ସାଥୀମାନେ,

ସରକାରଙ୍କ ଭୂମିକା ଜଣେ ଅଭିଭାବକଙ୍କ ଭଳି ହୋଇଥାଏ । ଯଦିଓ ଆପଣଙ୍କର ସାମର୍ଥ୍ୟ ଅଛି ତେବେ ପ୍ରୋତ୍ସାହନ ଦିଅନ୍ତୁ ଏବଂ ଭୁଲ ହେବା ମାତ୍ରେ ପୁଅମାନେ ଭୁଲ କରନ୍ତି ବୋଲି ଆଡ଼େଇ ଦିଅନ୍ତୁ ନାହଁ । ଆଜି ଯୋଗୀ ଜୀଙ୍କ ସରକାର ଯୁବପିଢ଼ିଙ୍କୁ ରେକର୍ଡ ସଂଖ୍ୟାରେ ସରକାରୀ ନିଯୁକ୍ତି ପ୍ରଦାନ କରୁଛନ୍ତି । ଆଇଟିଆଇରୁ ତାଲିମ ପାଇଥିବା ହଜାର ହଜାର ଯୁବକଙ୍କୁ ବଡ଼ ବଡ଼ କମ୍ପାନୀରେ ନିଯୁକ୍ତି ଦିଆଯାଇଛି । ରାଷ୍ଟ୍ରୀୟ ଆପ୍ରେଣ୍ଟିସ ସ୍କିମ ହେଉ କିମ୍ବା ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କୌଶଳ ବିକାଶ ଯୋଜନା ହେଉ, ଲକ୍ଷ ଲକ୍ଷ ଯୁବକଙ୍କୁ ଏହାର ସୁବିଧା ଦିଆଯାଇଛି । ଅଟଳ ଜୀଙ୍କ ଜନ୍ମ ବାର୍ଷିକୀରେ ୟୁପି ସରକାର ଛାତ୍ରଛାତ୍ରୀଙ୍କୁ ଟାବଲେଟ ଏବଂ ସ୍ମାର୍ଟ ଫୋନ ଦେବା ଅଭିଯାନ ମଧ୍ୟ ଆରମ୍ଭ କରିଛନ୍ତି ।

 

ସାଥୀମାନେ,

ୟୁପିର ଯୁବକମାନେ ମଧ୍ୟ କେନ୍ଦ୍ର ସରକାରଙ୍କ ଅନ୍ୟ ଏକ ଯୋଜନା ବିଷୟରେ ଜାଣିବା ଆବଶ୍ୟକ । ଏହି ଯୋଜନା ହେଉଛି ମାଲିକାନା ଯୋଜନା । ଏହି ଯୋଜନା ଅଧିନରେ କେନ୍ଦ୍ର ସରକାର ଗ୍ରାମରେ ରହୁଥିବା ଲୋକମାନଙ୍କୁ ସେମାନଙ୍କ ସମ୍ପତ୍ତିର ମାଲିକାନା ସମ୍ବନ୍ଧୀୟ କାଗଜପତ୍ର ପ୍ରଦାନ କରୁଛନ୍ତି । ଘରକୁ ଆସିବା ପରେ ଗାଁର ଯୁବକମାନେ ସେମାନଙ୍କ ବ୍ୟବସାୟ ଆରମ୍ଭ କରିବା ପାଇଁ ବ୍ୟାଙ୍କରୁ ସହଜରେ ସାହାଯ୍ୟ ପାଇପାରିବେ । ଏହା ସହ ଘରର ମାଲିକ, ଗରିବ, ଅଧିବାସୀ, ବଞ୍ଚôତ, ଦଳିତ, ପଛୁଆ ସମାଜର ପ୍ରତ୍ୟେକ ବିଭାଗକୁ ସେମାନଙ୍କ ଘରର ବେଆଇନ ଦଖଲର ଚିନ୍ତାରୁ ମୁକ୍ତ କରିବ । ମୁଁ ଖୁସି ଯେ ଯୋଗୀ ସରକାର ସ୍ୱାମୀତ୍ୱ ଯୋଜନାକୁ ଖୁବଶୀଘ୍ର ଆଗକୁ ନେଉଛନ୍ତି । ୟୁପିର ୭୫ଟି ଜିଲ୍ଲାରେ ୨୩ ଲକ୍ଷରୁ ଅଧିକ ଲୋକଙ୍କୁ ଘର ଦିଆଯାଇଛି । ନିର୍ବାଚନ ପରେ ଯୋଗୀ ଜୀଙ୍କ ସରକାର ଏହି ଅଭିଯାନକୁ ଆହୁରି ଜୋରଦାର କରିବେ ।

ଭାଇ ଓ ଭଉଣୀମାନେ,

ଏହି ଅଞ୍ଚଳର ଅଧିକାଂଶ ଯୁବକ ଗ୍ରାମାଞ୍ଚଳରେ ରୁହନ୍ତି, ଆମ ସରକାର ମଧ୍ୟ ଗ୍ରାମୀଣ ଅର୍ଥନୀତିକୁ ମଜବୁତ କରିବା ପାଇଁ ନିରନ୍ତର କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଛନ୍ତି । କେବଳ ଗତକାଲି ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କିଷାନ ସମ୍ମାନ ନିଧି ମାଧ୍ୟମରେ ୟୁପିର ଲକ୍ଷ ଲକ୍ଷ ଚାଷୀଙ୍କ ବ୍ୟାଙ୍କ ଆକାଉଣ୍ଟକୁ କୋଟି କୋଟି ଟଙ୍କା ଟ୍ରାନ୍ସଫର କରାଯାଇଛି । ଏହାର ବିପୁଳ ଲାଭ ଏହି ଅଞ୍ଚଳର କ୍ଷୁଦ୍ର ଚାଷୀଙ୍କୁ ମଧ୍ୟ ଦିଆଯାଉଛି ।

ସାଥୀମାନେ,

ଯେଉଁମାନେ ପୂର୍ବରୁ କ୍ଷମତାରେ ଥିଲେ, ସେମାନେ କିସ୍ତିରେ ଆଖୁ ମୂଲ୍ୟକୁ ବହୁ କଷ୍ଟରେ ଦେଇଛନ୍ତି । କିନ୍ତୁ ଯୋଗୀ ଜୀ ସରକାରରେ ଆଖୁ ଚାଷୀଙ୍କୁ ଯେଉଁ ରାଶି ପ୍ରଦାନ କରାଯାଇଛି, ତାହା ପୂର୍ବ ଦୁଇ ସରକାରଙ୍କ ସମୟରେ କୃଷକମାନଙ୍କୁ ମିଳି ନ ଥିଲା । ପୂର୍ବ ସରକାରଗୁଡ଼ିକରେ ଚିନି ମିଲଗୁଡ଼ିକ ଏକ ପଇସା ମୂଲ୍ୟରେ ବିକ୍ରି ହେଉଥିଲା, ଆପଣ ମୋ ଠାରୁ ଅଧିକ ଜାଣନ୍ତି, ଆପଣ ଜାଣନ୍ତି ନାହିଁ? ଚିନି ମିଲ ବିକ୍ରି ହେଉଛି କି ନାହିଁ? ଦୁର୍ନୀତି ଘଟିଛି କି ନା ନାହି? ଯୋଗୀ ସରକାରଙ୍କ ଅଧିନରେ ମିଲ ବନ୍ଦ ହୋଇନାହିଁ, ଏଠାରେ ସେମାନେ ମିଲର ବିସ୍ତାର କରିଛନ୍ତି, ନୂତନ ମିଲ ଖୋଲାଯାଇଛି । ବର୍ତ୍ତମାନ ୟୁପି, ଆଖୁରୁ ତିଆରି ହେଉଥିବା ଇଥାନଲ ଉତ୍ପାଦନରେ ମଧ୍ୟ ଖୁବଶୀଘ୍ର ଆଗେଇ ଚାଲିଛି। ଗତ ସାଢ଼େ ଚାରିବର୍ଷ ମଧ୍ୟରେ ୟୁପିରୁ ପ୍ରାୟ ୧୨ ହଜାର କୋଟି ଟଙ୍କାର ଇଥାନଲ କ୍ରୟ କରାଯାଇଛି । ସରକାର କୃଷି ଭିତ୍ତିଭୂମି ଏବଂ ଖାଦ୍ୟ ପ୍ରକ୍ରିୟାକରଣ ଭଳି ଶିଳ୍ପଗୁଡ଼ିକୁ ମଧ୍ୟ ଦ୍ରୁତ ଗତିରେ ବିସ୍ତାର କରୁଛନ୍ତି । ଆଜି ଗ୍ରାମାଞ୍ଚଳର ଭିତ୍ତିଭୂମି, ଷ୍ଟୋରେଜ ବ୍ୟବସ୍ଥା, ଶୀତଳ ଭଣ୍ଡାର ପାଇଁ ଏକ ଲକ୍ଷ କୋଟି ଟଙ୍କା ଖର୍ଚ୍ଚ କରାଯାଉଛି ।

ଭାଇ ଓ ଭଉଣୀମାନେ,

ଡବଲ ଇଞ୍ଜିନ ସରକାର ଯୁବପିଢ଼ିଙ୍କ ସାମର୍ଥ୍ୟ ସହିତ ଏହି କ୍ଷେତ୍ରର ଦକ୍ଷତା ବୃଦ୍ଧି ପାଇଁ କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଛି । ମିରଟର ରେୱଡି-ଗଜକ, ହ୍ୟାଣ୍ଡଲୁମ, ବ୍ରାସବ୍ୟାଣ୍ଡ, ଆଭୂଷଣ, ଏଭଳି କାରବାର ଏହି ସ୍ଥାନର ପରିଚୟ ଅଟେ । ମିରଟ - ମୁଜାଫର ନଗରରେ ଛୋଟ ଏବଂ ଲଘୁ ଉଦ୍ୟୋଗର ବିସ୍ତାର ହେଉ, ଏଠାରେ ବଡ଼ ଉଦ୍ୟୋଗର ମଜବୁତ ଆଧାର ହେଉ, କୃଷିଜାତ ଦ୍ରବ୍ୟ ପାଇଁ ନୂତନ ବଜାର ଯୋଗାଇବା ଏବଂ ଏଠାରେ ଉତ୍ପାଦନ ପାଇଁ ବିଭିନ୍ନ ପ୍ରୟାସ କରାଯାଉଛି। ତେଣୁ ଏହି ଅଞ୍ଚଳକୁ ଦେଶର ସବୁଠାରୁ ଆଧୁନିକ ଏବଂ ସଂଯୁକ୍ତ ଅଞ୍ଚଳ ଭାବେ ପରିଣତ କରିବା ପାଇଁ କାର୍ଯ୍ୟ କରାଯାଉଛି । ଦିଲ୍ଲୀ-ମିରଟ ଏକ୍ସପ୍ରେସ ୱେ ଯୋଗୁଁ ଦିଲ୍ଲୀ ବର୍ତ୍ତମାନ ଏକ ଘଣ୍ଟା ଦୂରରେ ରହିଛି । କିଛିଦିନ ପୂର୍ବରୁ ଆରମ୍ଭ ହୋଇଥିବା ଗଙ୍ଗା ଏକ୍ସପ୍ରେସ ୱେ’ର କାମ ମଧ୍ୟ ମିରଟରୁ ଆରମ୍ଭ ହେବ । ୟୁପିର ଅନ୍ୟାନ୍ୟ ସହର ସହିତ ମିରଟ ଏହି ସଂଯୋଗ ଏବଂ ସମ୍ପର୍କ, କାରବାରର ସୁଗମତା ପାଇଁ କାର୍ଯ୍ୟ କରିବ । ଦେଶର ପ୍ରଥମ ଆଞ୍ଚଳିକ ଦ୍ରୁତ ରେଳ ଗମାନଗମନ ବ୍ୟବସ୍ଥା ମଧ୍ୟ ମିରଟକୁ ରାଜଧାନୀ ସହିତ ସଂଯୋଗ କରୁଛି । ମିରଟ ଦେଶର ପ୍ରଥମ ସହର ହେବ, ଯେଉଁଠାରେ ମେଟ୍ରୋ ଏବଂ ହାଇସ୍ପିଡ ରାପିଡ ରେଳ ଏକତ୍ର ଚାଲିବ । ପୂର୍ବ ସରକାର ଆଇଟି ପାର୍କକୁ ଘୋଷଣା କରି ଛାଡ଼ି ଦେଇଥିଲେ, ତାକୁ ମଧ୍ୟ ଲୋକାର୍ପଣ କରାଯାଇଛି ।

ସାଥୀମାନେ,

ଏହା ହେଉଛି ଡବଲ ଲାଭ, ଡବଲ ସ୍ପିଡ, ଡବଲ ଇଞ୍ଜିନ ସରକାରଙ୍କ ପରିଚୟ । ଏହି ପରିଚୟକୁ ଆହୁରି ମଜବୁତ କରିବାକୁ ପଡ଼ିବ । ମୋର ପଶ୍ଚିମ ଉତ୍ତର ପ୍ରଦେଶ ପ୍ରଦେଶର ଲୋକମାନେ ଜାଣିଛନ୍ତି ଯେ ଯଦି ତୁମେ ସେଠାରେ ହାତ ବଢ଼ାଇବ, ଲକ୍ଷ୍ନୌରେ ଯୋଗୀ, ଏବଂ ଯଦି ତୁମେ ଏଠାରେ ହାତ ବଢ଼ାଇବ, ମୁଁ ତୁମ ପାଇଁ ଦିଲ୍ଲୀରେ ଅଛି । ବିକାଶର ଗତିକୁ ଆହୁରି ତ୍ୱରାନ୍ୱିତ କରିବା । ନୂତନ ବର୍ଷରେ ଆମେ ନୂତନ ଶକ୍ତି ସହିତ ଆଗକୁ ବଢ଼ିବା । ମୋର ଯୁବ ବନ୍ଧୁଗଣ, ଆଜି ସମଗ୍ର ଭାରତ ମିରଟର ଶକ୍ତି, ପଶ୍ଚିମ ଉତ୍ତର ପ୍ରଦେଶର ଶକ୍ତି, ଯୁବପିଢ଼ିଙ୍କର ଶକ୍ତି ଦେଖୁଛି । ଏହି ଶକ୍ତି ହେଉଛି ଦେଶର ଶକ୍ତି ଏବଂ ଏହି ଶକ୍ତିକୁ ପ୍ରୋତ୍ସାହିତ କରିବା ପାଇଁ, ପୁଣି ଥରେ ଏକ ନୂତନ ବିଶ୍ୱାସ ସହିତ ଆପଣଙ୍କୁ ପୁଣିଥରେ ମେଜର ଧ୍ୟାନଚାନ୍ଦ କ୍ରୀଡ଼ା ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳ ପାଇଁ ଅନେକ ଅନେକ ଅଭିନନ୍ଦନ! ଭାରତ ମାତା କି ଜୟ! ଭାରତ ମାତା କି ଜୟ!

ବଂଦେ ମା ତରମ!

ବଂଦେ ମା ତରମ!

Explore More
୭୭ତମ ସ୍ବାଧୀନତା ଦିବସ ଅବସରରେ ଲାଲକିଲ୍ଲା ପ୍ରାଚୀରରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀଙ୍କ ଅଭିଭାଷଣର ମୂଳ ପାଠ

ଲୋକପ୍ରିୟ ଅଭିଭାଷଣ

୭୭ତମ ସ୍ବାଧୀନତା ଦିବସ ଅବସରରେ ଲାଲକିଲ୍ଲା ପ୍ରାଚୀରରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀଙ୍କ ଅଭିଭାଷଣର ମୂଳ ପାଠ
India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer

Media Coverage

India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's Interview to Navbharat Times
May 23, 2024

प्रश्न: वोटिंग में मत प्रतिशत उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा। क्या, कम वोट पड़ने पर भी बीजेपी 400 पार सीटें जीत सकती है? ये कौन से वोटर हैं, जो घर से नहीं निकल रहे?

उत्तर: किसी भी लोकतंत्र के लिए ये बहुत आवश्यक है कि लोग मतदान में बढ़चढ कर हिस्सा लें। ये पार्टियों की जीत-हार से बड़ा विषय है। मैं तो देशभर में जहां भी रैली कर रहा हूं, वहां लोगों से मतदान करने की अपील कर रहा हूं। इस समय उत्तर भारत में बहुत कड़ी धूप है, गर्मी है। मैं आपके माध्यम से भी लोगों से आग्रह करूंगा कि लोकतंत्र के इस महापर्व में अपनी भूमिका जरूर निभाएं। तपती धूप में लोग ऑफिस तो जा ही रहे हैं, हर व्यक्ति अपने काम के लिए घर से बाहर निकल रहा है, ऐसे में वोटिंग को भी दायित्व समझकर जरूर पूरा करें। चार चरणों के चुनाव के बाद बीजेपी ने बहुमत का आंकड़ा पा लिया है, आगे की लड़ाई 400 पार के लिए ही हो रही है। चुनाव विशेषज्ञ विश्लेषण करने में जुटे हैं, ये उनका काम है, लेकिन अगर वो मतदाताओं और बीजेपी की केमिस्ट्री देख पाएं तो समझ जाएंगे कि 400 पार का नारा हकीकत बनने जा रहा है। मैं जहां भी जा रहा हूं, बीजेपी के प्रति लोगों के अटूट विश्वास को महसूस रहा हूं। एनडीए को 400 सीटों पर जीत दिलाने के लिए लोग उत्साहित हैं।

प्रश्न: लेकिन कश्मीर में वोट प्रतिशत बढ़े। कश्मीर में बढ़ी वोटिंग का संदेश क्या है?

उत्तर: : मेरे लिए इस चुनाव में सबसे सुकून देने वाली घटना यही है कि कश्मीर में वोटिंग प्रतिशत बढ़ी है। वहां मतदान केंद्रों के बाहर कतार में लगे लोगों की तस्वीरें ऊर्जा से भर देने वाली हैं। मुझे इस बात का संतोष है कि जम्मू-कश्मीर के बेहतर भविष्य के लिए हमने जो कदम उठाए हैं, उसके सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। श्रीनगर के बाद बारामूला में भी बंपर वोटिंग हुई है। आर्टिकल 370 हटने के बाद आए परिवर्तन में हर कश्मीरी राहत महसूस कर रहा है। वहां के लोग समझ गए हैं कि 370 की आड़ में इतने वर्षों तक उनके साथ धोखा हो रहा था। दशकों तक जम्मू-कश्मीर के लोगों को विकास से दूर रखा गया। सिस्टम में फैले भ्रष्टाचार से वहां के लोग त्रस्त थे, लेकिन उन्हें कोई विकल्प नहीं दिया जा रहा था। परिवारवादी पार्टियों ने वहां की राजनीति को जकड़ कर रखा था। आज वहां के लोग बिना डरे, बिना दबाव में आए विकास के लिए वोट कर रहे हैं।

प्रश्न: 2014 और 2019 के मुकाबले 2024 के चुनाव और प्रचार में आप क्या फर्क महसूस कर रहे हैं?

उत्तर: 2014 में जब मैं लोगों के बीच गया तो मुझे देशभर के लोगों की उम्मीदों को जानने का अवसर मिला। जनता बदलाव चाहती थी। जनता विकास चाहती थी। 2019 में मैंने लोगों की आंखों में विश्वास की चमक देखी। ये विश्वास हमारी सरकार के 5 साल के काम से आया था। मैंने महसूस किया कि उन 5 वर्षों में लोगों की आकांक्षाओं का विस्तार हुआ है। उन्होंने और बड़े सपने देखे हैं। वो सपने उनके परिवार से भी जुड़े थे, और देश से भी जुड़े थे। पिछले 5 साल तेज विकास और बड़े फैसलों के रहे हैं। इसका प्रभाव हर व्यक्ति के जीवन पर पड़ा है। अब 2024 के चुनाव में मैं जब प्रचार कर रहा हूं तो मुझे लोगों की आंखों में एक संकल्प दिख रहा है। ये संकल्प है विकसित भारत का। ये संकल्प है भ्रष्टाचार मुक्त भारत का। ये संकल्प है मजबूत भारत का। 140 करोड़ भारतीयों को भरोसा है कि उनका सपना बीजेपी सरकार में ही पूरा हो सकता है, इसलिए हमारी सरकार की तीसरी पारी को लेकर जनता में अभूतपूर्व उत्साह है।

प्रश्न: 10 साल की सबसे बड़ी उपलब्धि आप किसे मानते हैं और तीसरे कार्यकाल के लिए आप किस तरह खुद को तैयार कर रहे हैं?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हमारी सरकार ने अर्थव्यवस्था, सामाजिक न्याय, गरीब कल्याण और राष्ट्रहित से जुड़े कई बड़े फैसले लिए हैं। हमारे कार्यों का प्रभाव हर वर्ग, हर समुदाय के लोगों पर पड़ा है। आप अलग-अलग क्षेत्रों का विश्लेषण करेंगे तो हमारी उपलब्धियां और उनसे प्रभावित होने वाले लोगों के बारे में पता चलेगा। मुझे इस बात का बहुत संतोष है कि हम देश के 25 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर ला पाए। करोड़ों लोगों को घर, शौचालय, बिजली-पानी, गैस कनेक्शन, मुफ्त इलाज की सुविधा दे पाए। इससे उनके जीवन में जो बदलाव आया है, उसकी उन्होंने कल्पना तक नहीं की थी। आप सोचिए, कि अगर करोड़ों लोगों को ये सुविधाएं नहीं मिली होतीं तो वो आज भी गरीबी का जीवन जी रहे होते। इतना ही नहीं, उनकी अगली पीढ़ी भी गरीबी के इस कुचक्र में पिसने के लिए तैयार हो रही होती।

हमने गरीब को सिर्फ घर और सुविधाएं नहीं दी हैं, हमने उसे सम्मान से जीने का अधिकार दिया है। हमने उसे हौसला दिया है कि वो खुद अपने पैरों पर खड़ा हो सके। हमने उसे एक विश्वास दिया कि जो जीवन उसे देखना पड़ा, वो उसके बच्चों को नहीं देखना पड़ेगा। ऐसे परिवार फिर से गरीबी में न चले जाएं, इसके लिए हम हर कदम पर उनके साथ खड़े हैं। इसीलिए, आज देश के 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया जा रहा है, ताकि वो अपनी आय अपनी दूसरी जरूरतों पर खर्च कर सकें। हम कौशल विकास, पीएम विश्वकर्मा और स्वनिधि जैसी योजनाओं के माध्यम से उन्हें आगे बढ़ने में मदद कर रहे हैं। हमने घर की महिला सदस्य को सशक्त बनाने के भी प्रयास किए। लखपति दीदी, ड्रोन दीदी जैसी योजनाओं से महिलाएं आर्थिक रूप से मजबूत हुई हैं। मेरी सरकार के तीसरे कार्यकाल में इन योजनाओं को और विस्तार मिलेगा, जिससे ज्यादा महिलाओं तक इनका लाभ पहुंचेगा।

प्रश्न: हमारे रिपोर्टर्स देशभर में घूमे, एक बात उभर कर आई कि रोजगार और महंगाई पर लोगों ने हर जगह बात की है। जीतने के बाद पहले 100 दिनों में युवाओं के लिए क्या करेंगे? रोजगार के मोर्चे पर युवाओं को कोई भरोसा देना चाहेंगे?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हम महंगाई दर को काबू रख पाने में सफल रहे हैं। यूपीए के समय महंगाई दर डबल डिजिट में हुआ करती थी। आज दुनिया के अलग-अलग कोनों में युद्ध की स्थिति है। इन परिस्थितियों का असर देश की अर्थव्यवस्था और महंगाई पर पड़ा है। हमने दुनिया के ताकतवर देशों के सामने अपने देश के लोगों के हित को प्राथमिकता दी, और पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ने नहीं दीं। पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़तीं तो हर चीज महंगी हो जाती। हमने महंगाई का बोझ कम करने के लिए हर छोटी से छोटी चीज पर फोकस किया। आज गरीब परिवारों को अच्छे से अच्छे अस्पताल में 5 लाख रुपये तक इलाज मुफ्त मिलता है। जन औषधि केंद्रों की वजह से दवाओं के खर्च में 70 से 80 प्रतिशत तक राहत मिली है। घुटनों की सर्जरी हो या हार्ट ऑपरेशन, सबका खर्च आधे से ज्यादा कम हो गया है। आज देश में लोन की दरें सबसे कम हैं। कार लेनी हो, घर लेना हो तो आसानी से और सस्ता लोन उपलब्ध है। पर्सनल लोन इतना आसान देश में कभी नहीं था। किसान को यूरिया और खाद की बोरी दुनिया के मुकाबले दस गुना कम कीमत पर मिल रही है। पिछले 10 वर्षों में रोजगार के अनेक नए अवसर बने हैं। लाखों युवाओं को सरकारी नौकरी मिली है। प्राइवेट सेक्टर में रोजगार के नए मौके बने हैं। EPFO के मुताबिक पिछले सात साल में 6 करोड़ नए सदस्य इसमें जुड़े हैं।

PLFS का डेटा बताता है कि 2017 में जो बेरोजगारी दर 6% थी, वो अब 3% रह गई है। हमारी माइक्रो फाइनैंस की नीतियां कितनी प्रभावी हैं, इस पर SKOCH ग्रुप की एक रिपोर्ट आई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 10 साल में हर वर्ष 5 करोड़ पर्सन-ईयर रोजगार पैदा हुए हैं। युवाओं के पास अब स्पेस सेक्टर, ड्रोन सेक्टर, गेमिंग सेक्टर में भी आगे बढ़ने के अवसर हैं। देश में डिजिटल क्रांति से भी युवाओं के लिए अवसर बने हैं। आज भारत में डेटा इतना सस्ता है तभी देश की क्रिएटर इकनॉमी बड़ी हो रही है। आज देश में सवा लाख से ज्यादा स्टार्टअप्स हैं, इनसे बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर बन रहे हैं। हमने अपनी सरकार के पहले 100 दिनों का एक्शन प्लान तैयार किया है, उसमें हमने अलग से युवाओं के लिए 25 दिन और जोड़े हैं। हम देशभर से आ रहे युवाओं के सुझाव पर गौर कर रहे हैं, और नतीजों के बाद उस पर तेजी से काम शुरू होगा।

प्रश्न: सोशल मीडिया में एआई और डीपफेक जैसे मसलों पर आपने चिंता जताई है। इस चुनाव में भी इसके दुरुपयोग की मिसाल दिखी हैं। मिसइनफरमेशन का ये टूल न बने, इसके लिए क्या किया जा सकता है? कई एक्टिविस्ट और विपक्ष का कहना रहा है कि इन चीजों पर सख्ती की आड़ में कहीं फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन पर पाबंदी तो नहीं लगेगी? इन सवालों पर कैसे आश्वस्त करेंगे?

उत्तर: तकनीक का इस्तेमाल जीवन में सुगमता लाने के लिए किया जाना चाहिए। आज एआई ने भारत के युवाओँ के लिए अवसरों के नए द्वार खोल दिए हैं। एआई, मशीन लर्निगं और इंटरनेट ऑफ थिंग्स अब हमारे रोज के जीवन की सच्चाई बनती जा रही है। लोगों को सहूलियत देने के लिए कंपनियां अब इन तकनीकों का उपयोग बढ़ा रही हैं। दूसरी तरफ इनके माध्यम से गलत सूचनाएं देने, अफवाह फैलाने और लोगों को भ्रमित करने की घटनाएं भी हो रही हैं। चुनाव में विपक्ष ने अपने झूठे नरैटिव को फैलाने के लिए यही करना शुरू किया था। हमने सख्ती करके इस तरह की कोशिश पर रोक लगाने का प्रयास किया। इस तरह की प्रैक्टिस किसी को भी फायदा नहीं पहुंचाएगी, उल्टे तकनीक का गलत इस्तेमाल उन्हें नुकसान ही पहुंचाएगा। अभिव्यक्ति की आजादी का फेक न्यूज और फेक नरैटिव से कोई लेना-देना नहीं है। मैंने एआई के एक्सपर्ट्स के सामने और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर डीप फेक के गलत इस्तेमाल से जुड़े विषयों को गंभीरता से रखा है। डीप फेक को लेकर वर्ल्ड लेवल पर क्या हो सकता है, इस पर मंथन चल रहा है। भारत इस दिशा में गंभीरता से प्रयास कर रहा है। लोगों को जागरूक करने के लिए ही मैंने खुद सोशल मीडिया पर अपना एक डीफ फेक वीडियो शेयर किया था। लोगों के लिए ये जानना आवश्यक है कि ये तकनीक क्या कर सकती है।

प्रश्न:देश के लोगों की सेहत को लेकर आपकी चिंता हम सब जानते हैं। आपने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस शुरू किया, योगा प्रोटोकॉल बनवाया, आपने आयुष्मान योजना शुरू की है। तीसरे कार्यकाल में क्या इन चीज़ों पर भी काम करेंगे, जो हमारी सेहत खराब होने के मूल कारक हैं। जैसे लोगों को साफ हवा, पानी, मिट्टी मिले।

उत्तर: देश 2047 तक विकसित भारत का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रहा है। इस सपने को शक्ति तभी मिलेगी, जब देश का हर नागरिक स्वस्थ हो। शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत हो। यही वजह है कि हम सेहत को लेकर एक होलिस्टिक अप्रोच अपना रहे हैं। एलोपैथ के साथ ही योग, आयुर्वेद, भारतीय परंपरागत पद्धतियां, होम्योपैथ के जरिए हम लोगों को स्वस्थ रखने की दिशा में काम कर रहे हैं। राजनीति में आने से पहले मैंने लंबा समय देश का भ्रमण करने में बिताया है। उस समय मैंने एक बात अनुभव की थी कि घर की महिला सदस्य अपने खराब स्वास्थ्य के बारे छिपाती है। वो खुद तकलीफ झेलती है, लेकिन नहीं चाहती कि परिवार के लोगों को परेशानी हो। उसे इस बात की भी फिक्र रहती है कि डॉक्टर, दवा में पैसे खर्च हो जाएंगे। जब 2014 में मुझे देश की सेवा करने का अवसर मिला तो सबसे पहले मैंने घर की महिला सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता की। मैंने माताओं-बहनों को धुएं से मुक्ति दिलाने का संकल्प लिया और 10 करोड़ से ज्यादा महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन दिए। मैंने बुजुर्गों की सेहत पर भी ध्यान दिया है। हमारी सरकार की तीसरी पारी में 70 साल से ऊपर के सभी बुजुर्गों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिलने लगेगा। यानी उनके इलाज का खर्च सरकार उठाएगी। साफ हवा, पानी, मिट्टी के लिए हम काम शुरू कर चुके हैं। सिंगल यूज प्लास्टिक पर हमारा अभियान चल रहा है। जल जीवन मिशन के तहत हम देश के लाखों गांवों तक साफ पानी पहुंचा रहे हैं। सॉयल हेल्थ कार्ड, आर्गेनिक खेती की दिशा में काम हो रहा है। हम मिशन लाइफ को प्राथमिकता दे रहे हैं और इस विचार को आगे बढ़ा रहे हैं कि हर व्यक्ति पर्यावरण के अनुकूल जीवन पद्धति को अपनाए।

प्रश्न: विदेश नीति आपके दोनों कार्यकाल में काफी अहम रही है। इस वक्त दुनिया काफी उतार चढ़ाव से गुजर रही है, चुनाव नतीजों के तुरंत बाद जी7 समिट है। आप नए हालात में भारत के रोल को किस तरह देखते हैं?

उत्तर: शायद ये पहला चुनाव है, जिसमें भारत की विदेश नीति की इतनी चर्चा हो रही है। वो इसलिए कि पिछले 10 साल में दुनियाभर में भारत की साख मजबूत हुई है। जब देश की साख बढ़ती है तो हर भारतीय को गर्व होता है। जी20 समिट में भारत ग्लोबल साउथ की मजबूत आवाज बना, अब जी7 में भारत की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होने वाली है। आज दुनिया का हर देश जानता है कि भारत में एक मजबूत सरकार है और सरकार के पीछे 140 करोड़ देशवासियों का समर्थन है। हमने अपनी विदेश नीति में भारत और भारत के लोगों के हित को सर्वोपरि रखा है। आज जब हम व्यापार समझौते की टेबल पर होते हैं, तो सामने वाले को ये महसूस होता है कि ये पहले वाला भारत नहीं है। आज हर डील में भारतीय लोगों के हित को प्राथमिकता दी जाती है। हमारे इस बदले रूप को देखकर दूसरे देशों को हैरानी हुई, लेकिन धीरे-धीरे उन्होंने इसे स्वीकार कर लिया। ये नया भारत है, आत्मविश्वास से भरा भारत है। आज भारत संकट में फंसे हर भारतीय की मदद के लिए तत्पर रहता है। पिछले 10 वर्षों में अनेक भारतीयों को संकट से बाहर निकालकर देश में ले आए। हम अपनी सांस्कृतिक धरोहरों को भी देश में वापस ला रहे हैं। युद्ध में आमने-सामने खड़े दोनों देशों को भारत ने बड़ी मजबूती से ये कहा है कि ये युद्ध का समय नहीं है, ये बातचीत से समाधान का समय है। आज दुनिया मानती है कि भारत का आगे बढ़ना पूरी दुनिया और मानवता के लिए अच्छा है।

प्रश्न: अमेरिका भी चुनाव से गुजर रहा है। आपके रिश्ते ट्रम्प और बाइडन दोनों के साथ बहुत अच्छे रहे हैं। आप कैसे देखते हैं अमेरिका के साथ भारतीय रिश्तों को इन संदर्भ में?

उत्तर: हमारी विदेश नीति का मूल मंत्र है इंडिया फर्स्ट। पिछले 10 वर्षों में हमने इसी को ध्यान में रखकर विभिन्न देशों और प्रभावशाली नेताओं से संबंध बनाए हैं। भारत-अमेरिका संबंधों की मजबूती का आधार 140 करोड़ भारतीय हैं। हमारे लोग हमारी ताकत हैं, और दुनिया हमारी इस शक्ति को बहुत महत्वपूर्ण मानती है। अमेरिका में राष्ट्रपति चाहे ट्रंप रहे हों या बाइडन, हमने उनके साथ मिलकर दोनों देशों के संबंध को और मजबूत बनाने का प्रयास किया है। भारत-अमेरिका के संबंधों पर चुनाव से कोई अंतर नहीं आएगा। वहां जो भी राष्ट्रपति बनेगा, उसके साथ मिलकर नई ऊर्जा के साथ काम करेंगे।

प्रश्न: BJP का पूरा प्रचार आप पर ही केंद्रित है, क्या इससे सांसदों के खुद के काम करने और लोगों के संपर्क में रहने जैसे कामों को तवज्जो कम हो गई है और नेता सिर्फ मोदी मैजिक से ही चुनाव जीतने के भरोसे हैं। आप इसे किस तरह काउंटर करते हैं?

उत्तर: बीजेपी एक टीम की तरह काम करती है। इस टीम का हर सदस्य चुनाव जीतने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहा है। चुनावी अभियान में जितना महत्वपूर्ण पीएम है, उतना ही महत्वपूर्ण कार्यकर्ता है। ये परिवारवादी पार्टियों का फैलाया गया प्रपंच है। उनकी पार्टी में एक परिवार या कोई एक व्यक्ति बहुत अहम होता है। हमारी पार्टी में हर नेता और कार्यकर्ता को एक दायित्व दिया जाता है।

मैं पूछता हूं, क्या हमारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रोज रैली नहीं कर रहे हैं। क्या हमारे मंत्री, मुख्यमंत्री, पार्टी पदाधिकारी रोड शो और रैलियां नहीं कर रहे। मैं पीएम के तौर पर जनता से कनेक्ट करने जरूर जाता हूं, लेकिन लोग एमपी उम्मीदवार के माध्यम से ही हमसे जुड़ते हैं। मैं लोगों के पास नैशनल विजन लेकर जा रहा हूं, उसे पूरा करने की गारंटी दे रहा हूं, तो हमारा एमपी उम्मीदवार स्थानीय आकांक्षाओं को पूरा करने का भरोसा दे रहा है। हमने उन्हीं उम्मीदवारों का चयन किया है, जो हमारे विजन को जनता के बीच पहुंचा सकें। विकसित भारत की सोच से लोगों को जोड़ने के लिए जितनी अहमियत मेरी है, उतनी ही जरूरत हमारे उम्मीदवारों की भी है। हमारी पूरी टीम मिलकर हर सीट पर कमल खिलाने में जुटी है।

प्रश्न: महिला आरक्षण पर आप ने विधेयक पास कराए। क्या नई सरकार में हम इन पर अमल होते हुए देखेंगे?

उत्तर: ये प्रश्न कांग्रेस के शासनकाल के अनुभव से निकला है, तब कानून बना दिए जाते थे लेकिन उसे नोटिफाई करने में वर्षों लग जाते थे। हमने अगले 5 वर्षों का जो रोडमैप तैयार किया है, उसमें नारी शक्ति वंदन अधिनियम की महत्वपूर्ण भूमिका है। हम देश की आधी आबादी को उसका अधिकार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इंडी गठबंधन की पार्टियों ने दशकों तक महिलाओं को इस अधिकार से वंचित रखा। सामाजिक न्याय की बात करने वालों ने इसे रोककर रखा था। देश की संसद और विधानसभा में महिलाओं की भागीदारी बढ़ने से महिला सशक्तिकरण का एक नया दौर शुरू होगा। इस परिवर्तन का असर बहुत प्रभावशाली होगा।

प्रश्न: महाराष्ट्र की सियासी हालत इस बार बहुत पेचीदा हो गई है। एनडीए क्या पिछली दो बार का रिकॉर्ड दोहरा पाएगा?

उत्तर: महाराष्ट्र समेत पूरे देश में इस बार बीजेपी और एनडीए को लेकर जबरदस्त उत्साह है। महाराष्ट्र में स्थिति पेचीदा नहीं, बल्कि बहुत सरल हो गई है। लोगों को परिवारवादी पार्टियों और देश के विकास के लिए समर्पित महायुति में से चुनाव करना है। बाला साहेब ठाकरे के विचारों को आगे बढ़ाने वाली शिवसेना हमारे साथ है। लोग देख रहे हैं कि नकली शिवसेना अपने मूल विचारों का त्याग करके कांग्रेस से हाथ मिला चुकी है। इसी तरह एनसीपी महाराष्ट्र और देश के विकास के लिए हमारे साथ जुड़ी है। अब जो महा ‘विनाश’ अघाड़ी की एनसीपी है, वो सिर्फ अपने परिवार को आगे बढ़ाने के लिए वोट मांग रही है। लोग ये भी देख रहे हैं कि इंडी गठबंधन अभी से अपनी हार मान चुका है। अब वो चुनाव के बाद अपना अस्तित्व बचाने के लिए कांग्रेस में विलय की बात कर रहे हैं। ऐसे लोगों को मतदान करना, अपने वोट को बर्बाद करना है। इस बार हम महाराष्ट्र में अपने पिछले रिकॉर्ड को तोड़ने वाले हैं।

प्रश्न: पश्चिम बंगाल में भी बीजेपी ने बहुत प्रयास किए हैं। पिछली बार बीजेपी 18 सीटें जीतने में कामयाब रही थी। बाकी राज्यों की तुलना में यह आपके लिए कितना कठिन राज्य है और इस बार आपको क्या उम्मीद है?

उत्तर: TMC हो, कांग्रेस हो, लेफ्ट हो, इन सबने बंगाल में एक जैसे ही पाप किए हैं। बंगाल में लोग समझ चुके हैं कि इन पार्टियों के पास सिर्फ नारे हैं, विकास का विजन नहीं हैं। कभी दूसरे राज्यों से लोग रोजगार के लिए बंगाल आते थे, आज पूरे बंगाल से लोग पलायन करने को मजबूर हैं। जनता ये भी देख रही है कि बंगाल में जो पार्टियां एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं, दिल्ली में वही एक साथ नजर आ रही हैं। मतदाताओं के साथ इससे बड़ा छल कुछ और नहीं हो सकता। यही वजह है कि इंडी गठबंधन लोगों का भरोसा नहीं जीत पा रहा। बंगाल के लोग लंबे समय से भ्रष्टाचार, हिंसा, अराजकता, माफिया और तुष्टिकरण को बर्दाश्त कर रहे हैं। टीएमसी की पहचान घोटाले वाली सरकार की बन गई है। टीएमसी के नेताओं ने अपनी तिजोरी भरने के लिए युवाओं के सपनों को कुचला है। यहां स्थिति ये है कि सरकारी नौकरी पाने के बाद भी युवाओं को भरोसा नहीं है कि उनकी नौकरी रहेगी या जाएगी। लोग बंगाल की मौजूदा सरकार से पूरी तरह हताश हैं।अब उनके सामने बीजेपी का विकास मॉडल है। मैं बंगाल में जहां भी गया, वहां लोगों में बीजेपी के प्रति अभूतपूर्व विश्वास नजर आया। विशेष रुप से बंगाल में मैंने देखा कि माताओं-बहनों का बहुत स्नेह मुझे मिल रहा है। मैं उनसे जब भी मिलता हूं, वो खुद तो इमोशनल हो ही जाती हैं, मैं भी अपने भावनाओं को रोक नहीं पाता हूं। इस बार बंगाल में हम पहले से ज्यादा सीटों पर जीत हासिल करेंगे।

प्रश्न: शराब मामले को लेकर अरविंद केजरीवाल को जेल जाना पड़ा है। उनका कहना है कि ईडी ने जबरदस्ती उन्हें इस मामले में घसीटा है जबकि अब तक उनके पास से कोई पैसा बरामद नहीं हुआ?

उत्तर: आपने कभी किसी ऐसे व्यक्ति को सुना है जो आरोपी हो और ये कह रहा हो कि उसने घोटाला किया था। या कह रहा हो कि पुलिस ने उसे सही गिरफ्तार किया है। अगर एजेंसियों ने उन्हें गलत पकड़ा था, तो कोर्ट से उन्हें राहत क्यों नहीं मिली। ईडी और एजेसिंयो पर आरोप लगाने वाला विपक्ष आज तक एक मामले में ये साबित नहीं कर पाया है कि उनके खिलाफ गलत आरोप लगा है। वो कुछ दिन के लिए जमानत पर बाहर आए हैं, लेकिन बाहर आकर वो और एक्सपोज हो गए। वो और उनके लोग गलतियां कर रहे हैं और आरोप बीजेपी पर लगा रहे हैं। लेकिन जनता उनका सच जानती है। उनकी बातों की अब कोई विश्वसनीयता नहीं रह गई है।

प्रश्न: इस बार दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। इससे क्या लगातार दो बार से सातों सीटें जीतने के क्रम में बीजेपी को कुछ दिक्कत हो सकती है? इस बार आपने छह उम्मीदवार बदल दिए

उत्तर: इंडी गठबंधन की पार्टियां दिल्ली में हारी हुई लड़ाई लड़ रहे हैं। उनके सामने अपना अस्तित्व बचाने का संकट है। चुनाव के बाद वैसे भी इंडी गठबंधन नाम की कोई चीज बचेगी नहीं। दिल्ली की जनता ने बहुत पहले कांग्रेस को बाहर कर दिया था, अब दूसरे दलों के साथ मिलकर वो अपनी मौजूदगी दिखाना चाहते हैं। क्या कभी किसी ने सोचा था कि देश पर इतने लंबे समय तक शासन करने वाली कांग्रेस के ये दिन भी आएंगे कि उनके परिवार के नेता अपनी पार्टी के नहीं, बल्कि किसी और उम्मीदवार के लिए वोट डालेंगे।

दिल्ली में इंडी गठबंधन की जो पार्टियां हैं, उनकी पहचान दो चीजों से होती है। एक तो भ्रष्टाचार और दूसरा बेशर्मी के साथ झूठ बोलना। मीडिया के माध्यम से ये जनता की भावनाओं को बरगलाना चाहते हैं। झूठे वादे देकर ये लोगों को गुमराह करना चाहते हैं। ये जनता के नीर-क्षीर विवेक का अपमान है। जनता आज बहुत समझदार है, वो फैसला करेगी। बीजेपी ने लोगों के हित को ध्यान में रखते हुए अपने उम्मीदवार उतारे हैं। बीजेपी में कोई लोकसभा सीट नेता की जागीर नहीं समझी जाती। जो जनहित में उचित होता है, पार्टी उसी के अनुरूप फैसला लेती है। हमारे लिए राजनीति सेवा का माध्यम है। यही वजह है कि हमारे कार्यकर्ता इस बात से निराश नहीं होते कि टिकट कट गया, बल्कि वो पूरे मनोयोग से जनता की सेवा में जुट जाते हैं।

प्रश्न: विपक्ष का कहना है कि लोकतंत्र खतरे में है और अगर बीजेपी जीतती है तो लोकतंत्र औपचारिक रह जाएगा। आप उनके इन आरोपों को कैसे देखते हैं?

उत्तर: कांग्रेस और उसका इकोसिस्टम झूठ और अफवाह के सहारे चुनाव लड़ने निकला है। पुराने दौर में उनका यह पैंतरा कभी-कभी काम कर जाता था, लेकिन आज सोशल मीडिया के जमाने में उनके हर झूठ का मिनटों में पर्दाफाश हो जाता है।

उन्होंने राफेल पर झूठ बोला, पकड़े गए। एचएएल पर झूठ बोला, पकड़े गए। जनता अब इनकी बातों को गंभीरता से नहीं लेती है। देश जानता है कि कौन संविधान बदलना चाहता है। आपातकाल के जरिए देश के लोकतंत्र को खत्म करने की साजिश किसने की थी। कांग्रेस के कार्यकाल में सबसे ज्यादा बार संविधान की मूल प्रति को बदल दिया। कांग्रेस पहले संविधान संसोधन का प्रस्ताव अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा लगाने के लिए लाई थी। 60 वर्षों में उन्होंने बार-बार संविधान की मूल भावना पर चोट की और एक के बाद एक कई राज्य सरकारों को बर्खास्त किया। सबसे ज्यादा बार राष्ट्रपति शासन लगाने का रेकॉर्ड कांग्रेस के नाम है। उनकी जो असल मंशा है, उसके रास्ते में संविधान सबसे बड़ी दीवार है। इसलिए इस दीवार को तोड़ने की कोशिश करते रहते हैं। आप देखिए कि संविधान निर्माताओं ने धर्म के आधार पर आरक्षण का विरोध किया था। लेकिन कांग्रेस अपने वोटबैंक को खुश करने के लिए बार-बार यही करने की कोशिश करती है। अपनी कोई कोशिशों में नाकाम रहने के बाद आखिरकार उन्होंने कर्नाटक में ओबीसी आरक्षण में सेंध लगा ही दी।

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के नेता लोकतंत्र की दुहाई देते हैं, लेकिन वास्तविकता ये है कि लोकतंत्र को कुचलने के लिए, जनता की आवाज दबाने के लिए ये पूरी ताकत लगा देते हैं। ये लोग उनके खिलाफ बोलने वालों के पीछे पूरी मशीनरी झोंक देते हैं। इनके एक राज्य की पुलिस दूसरे राज्य में जाकर कार्रवाई कर रही है। इस काम में ये लोग खुलकर एक-दूसरे का साथ दे रहे हैं। जनता ये सब देख रही है, और समझ रही है कि अगर इन लोगों के हाथ में ताकत आ गई तो ये देश का, क्या हाल करेंगे।

प्रश्न: आप एकदम चुस्त-दुरुस्त और फिट दिखते हैं, आपकी सेहत का राज, सुबह से रात तक का रूटीन?

उत्तर: मैं यह मानता हूं कि मुझ पर किसी दैवीय शक्ति की बहुत बड़ी कृपा है, जिसने लोक कल्याण के लिए मुझे माध्यम बनाया है। इतने वर्षों में मेरा यह विश्वास प्रबल हुआ है कि ईश्वर ने मुझे विशेष दायित्व पूरा करने के लिए चुना है। उसे पूरा करने के लिए वही मुझे सामर्थ्य भी दे रहा है। लोगों की सेवा करने की भावना से ही मुझे ऊर्जा मिलती है।

प्रश्न: प्रधानमंत्री जी, आप काशी के सांसद हैं। बीते 10 साल में आप ने काशी को खूब प्रमोट किया है। आज काशी देश में सबसे प्रेफर्ड टूरिज्म डेस्टिनेशमन बन रही है। इसके अलावा आप ने जो इंफ्रास्ट्रक्चर के काम किए हैं, उससे भी बनारस में बहुत बदलाव आया है। इससे बनारस और पूर्वांचल की इकोनॉमी और रोजगार पर जो असर हुआ है, उसे आप कैसे देखते हैं?

उत्तर: काशी एक अद्भूत नगरी है। एक तरफ तो ये दुनिया का सबसे प्राचीन शहर है। इसकी अपनी पौराणिक मान्यता है। दूसरी तरफ ये पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार की आर्थिक धुरी भी है। 10 साल में हमने काशी में धार्मिक पर्यटन का खूब विकास किया। शहर की गलियां, साफ-सफाई, बाजारों में सुविधाएं, ट्रेन और बस के इंतजाम पर फोकस किया। गंगा में सीएनजी बोट चली, शहर में ई-बस और ई-रिक्शा चले। यात्रियों के लिए हमने स्टेशन से लेकर शहर के अलग-अलग स्थानों पर तमाम सुविधाएं बढ़ाई।

इन सब के बाद जब हम बनारस को प्रमोट करने उतरे, तो देशभर के श्रद्धालुओं में नई काशी को देखने का भाव उमड़ आया। यह यहां सालभर पहले से कई गुना ज्यादा पर्यटक आते हैं। इससे पूरे शहर में रोजगार के नए अवसर तैयार हुए।

हमने बनारस में इंडस्ट्री लानी शुरू की है। TCS का नया कैंपस बना है, बनास डेयरी बनी है, ट्रेड फैसिलिटी सेंटर बना है, काशी के बुनकरों को नई मशीनें दी जा रही है, युवाओं को मुद्रा लोन मिले हैं। इससे सिर्फ बनारस ही नहीं, आसपास के कई जिलों की अर्थव्यवस्था को नई गति मिली।

प्रश्न: आपने कहा कि वाराणसी उत्तर प्रदेश की राजनीतिक धुरी जैसा शहर है। बीते 10 वर्षों में पू्र्वांचल में जो विकास हुआ है, उसको कैसे देखते हैं?

उत्तर: देखिए, पूर्वांचल अपार संभावनाओं का क्षेत्र है। पिछले 10 वर्षों में हमने केंद्र की तमाम योजनाओं में इस क्षेत्र को बहुत वरीयता दी है। एक समय था, जब पूर्वांचल विकास में बहुत पिछड़ा था। वाराणसी में ही कई घंटे बिजली कटौती होती थी। पूर्वांचल के गांव-गांव में लालटेन के सहारे लोग गर्मियों के दिन काटते थे। आज बिजली की व्यवस्था में बहुत सुधार हुआ है, और इस भीषण गर्मी में भी कटौती का संकट करीब-करीब खत्म हो चला है। ऐसे ही पूरे पूर्वांचल में सड़कों की हालत बहुत खराब थी। आज यहां के लोगों को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की सुविधा मिली है। गाजीपुर, आजमगढ़, मऊ, बलिया, चंदौली जैसे टियर थ्री कहे जाने वाले शहरों में हजारों की सड़कें बनी हैं।

आजमगढ़ में अभी कुछ दिन पहले मैंने एयरपोर्ट की शुरुआत की है। महाराजा सुहेलदेव के नाम पर यूनिवर्सिटी बनाई गई है। पूरे पूर्वांचल में नए मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं। बनारस में इनलैंड वाटर-वे का पोर्ट बना है। काशी से ही देश की पहली वंदे भारत ट्रेन चली थी। देश का पहला रोप-वे ट्रांसपोर्ट सिस्टम बन रहा है।

कांग्रेस की सरकार में पूर्वांचल के लोग ऐसी सुविधाएं मिलने के बारे में सोचते तक नहीं थे। क्योंकि लोगों को बिजली-पानी-सड़क जैसी मूलभूत सुविआधाओं में ही उलझाकर रखा गया था। यह स्थिति तब थी जब इनके सीएम तक पूर्वांचल से चुने जाते थे। तब पूर्वांचल में सिर्फ नेताओं के हेलिकॉप्टर उतरते थे, आज जमीन पर विकास उतर आया है।

प्रश्न: आप कहते हैं कि बनारस ने आपको बनारसी बना दिया है। मां गंगा ने आपको बुलाया था, अब आपको अपना लिया है। आप काशी के सांसद हैं, यहां के लोगों से क्या कहेंगे?

उत्तर: मैं एक बात मानता हूं कि काशी में सबकुछ बाबा की कृपा से होता है। मां गंगा के आशीर्वाद से ही यहां हर काम फलीभूत होते हैं! 10 साल पहले मैंने जब ये कहा था कि मां गंगा ने मुझे बुलाया है, तो वो बात भी मैंने इसी भावना से कही थी। जिस नगरी में लोग एक बार आने को तरसते हैं, वहां मुझे दो बार सांसद के रूप में सेवा करने का अवसर मिला। जब पार्टी ने तीसरी बार मुझे काशी की उम्मीदवारी करने को कहा, तभी मेरे मन में यह भाव आया कि मां गंगा ने मुझे गोद ले लिया है। काशी ने मुझे अपार प्रेम दिया है। उनका यह स्नेह और विश्वास मुझ पर एक कर्ज है। मैं जीवनभर काशी की सेवा करके भी इस कर्ज को नहीं उतार पाऊंगा।

Following is the clipping of the interview:

 

 

Source: Navbharat Times