“हे विमानतळ या संपूर्ण प्रदेशाला राष्ट्रीय गतिशक्ती बृहद आराखड्याचे एक शक्तिमान प्रतीक बनवेल”-पंतप्रधान
“पश्चिम उत्तरप्रदेशातील हजारो लोकांना या विमानतळामुळे नवा रोजगार उपलब्ध होईल”
“दुहेरी इंजिनाच्या सरकारांच्या प्रयत्नांमुळेच, आज उत्तर प्रदेश, देशातिल एक सर्वाधिक संपर्क व्यवस्था असलेला प्रदेश बनतो आहे.”
“खुर्जा इथले सिरॅमिक कारागीर, मीरतचा क्रीडा उद्योग, सहारनपूरचे लाकूडकाम, मुरादाबादचा ब्रास उद्योग, आग्राची पादत्राणे आणि पेठा उद्योग या सगळ्या लघुउद्योगांना नव्या पायाभूत सुविधांमुळे पाठबळ मिळेल.”
“आधीच्या सरकारांनी उत्तरप्रदेशाला खोटी स्वप्ने दाखवली, मात्र आज हेच राज्य केवळ राष्ट्रीयच नव्हे तर आंतरराष्ट्रीय स्तरावर आपला ठसा उमटवत आहे.”
“पायाभूत सुविधा राजकारणाचा विषय असू शकत नाहीत, तर तो राष्ट्रकारणाचा विषय आहे.”

भारत माता की जय, भारत माता की जय!

उत्तर प्रदेशचे कर्मयोगी मुख्यमंत्री श्रीमान योगी आदित्यनाथजी, इथले कर्तृत्ववान, आमचे जुने सहकारी, उप-मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्या जी, केंद्रीय मंत्रिमंडळातील माझे सहकारी श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जी, जनरल व्ही के सिंग जी, संजीव बालीयान जी, एस. पी. सिंग बघेल जी, बी. एल. वर्मा जी, उत्तर प्रदेश सरकारचे मंत्री श्री लक्ष्मी नारायण चौधरी जी, श्री जयप्रकाश सिंग जी, श्रीकांत शर्मा जी, भूपेंद्र चौधरी जी, श्री नंदगोपाल गुप्ता जी, अनिल शर्मा जी, धर्म सिंग जी, अशोक कटारिया जी, श्री जी. एस. धर्मेश जी, संसदेतील माझे सहकारी डॉ महेश शर्मा जी, श्री सुरेंद्र सिंग नागर जी, श्री भोला सिंग जी, स्थानिक आमदार श्री धीरेंद्र सिंग जी, मंचावर विराजमान इतर सर्व लोकप्रतिनिधी आणि लाखोंच्या संख्येत आम्हा सर्वांना आशीर्वाद द्यायला आलेल्या माझ्या प्रिय बंधू आणि भगिनींनो,

आपणा सर्वांना, देशाच्या लोकांना, उत्तर प्रदेशच्या आमच्या कोटी कोटी बंधू आणि भगिनींना नोएडा आंतरराष्ट्रीय विमानतळाच्या भूमिपूजनाच्या अनेक अनेक शुभेच्छा. आज या विमानतळाच्या भूमिपूजनासोबतच, दाऊ जी जत्रेसाठी प्रसिद्ध असलेलं जेवर देखील आंतरराष्ट्रीय नकाशावर आले आहे. याचा खूप मोठा फायदा दिल्ली - राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र आणि पश्चिम उत्तर प्रदेशच्या कोटी कोटी लोकांना होईल. मी यासाठी आपणा सर्वांचे, संपूर्ण देशाचे अभिनंदन करतो.

मित्रांनो,

21व्या शतकातला भारत, आज एकापेक्षा एक उत्तम पायाभूत सुविधा निर्माण करत आहे. उत्तम रस्ते, उत्तम रेल्वेचे जाळे, उत्तम विमानतळे, हे केवळ पायाभूत सुविधा प्रकल्पच नसतात, तर ते संपूर्ण क्षेत्राचा कायापालट करतात, लोकांच्या जीवनात त्यामुळे अमुलाग्र बदल घडून येतात. गरीब असो अथवा मध्यमवर्गीय, शेतकरी असोत अथवा व्यापारी, मजूर असोत अथवा उद्योगपती, प्रत्येकालाच याचा खूप खूप लाभ मिळतो. जेव्हा पायाभूत सुविधांच्या प्रकल्पांमुळे अखंड संपर्कव्यवस्था असते, शेवटच्या टोकापर्यंत दळणवळण सुविधा असतात, तेव्हा त्यांचे मूल्य आणि शक्ती अनेक पटींनी वाढते. नोएडा आंतरराष्ट्रीय विमानतळ, दळणवळणाच्या दृष्टीने देखील एक सर्वोत्तम उदाहरण ठरेल. इथे येण्या जाण्यासाठी टॅक्सी पासून मेट्रो आणि रेल्वेपर्यंत, प्रत्येक प्रकारची साधने उपलब्ध असतील. विमानतळातून बाहेर पडताच तुम्ही थेट यमुना द्रुतगती मार्गावर येऊ शकता, नोएडा - ग्रेटर नोएडा द्रुतगती मार्गापर्यंत जाऊ शकता. उत्तर प्रदेश, दिल्ली, हरियाणा कुठेही जायचं असेल तरी कमी वेळात बाह्य द्रुतगती मार्गावर पोहोचू शकता. आणि आता तर दिल्ली - मुंबई द्रुतगती मार्ग देखील तयार होणार आहे. त्याद्वारे देखील अनेक शहरांत पोहोचणं सोपं होईल. इतकंच नाही, येथून समर्पित मालवाहू मार्गिकेवर जाण्यासाठी थेट संपर्कव्यवस्था असणार आहे. एकप्रकारे, नोएडा आंतरराष्ट्रीय विमानतळ उत्तर भारतातील लॉजिस्टिक सुविधांचे महाद्वार मानेल. हे या संपूर्ण क्षेत्राचे आणि राष्ट्रीय गतिशक्ती बृहद आराखड्याचे सशक्त प्रतीक बनेल.

मित्रांनो,

आज देशात ज्या जलद गतीने नागरी हवाई वाहतूक क्षेत्राचा विकास होतो आहे, ज्या गतीने भारतीय कंपन्या शेकडो विमानांची खरेदी करत आहेत,या सर्व घडामोडींसाठी नोएडा आंतरराष्ट्रीय विमानतळाची भूमिका खूप मोठी असेल. हे विमानतळ, विमानांची देखभाल, दुरुस्ती आणि कार्यान्वयनासाठी देखील हे देशातील सर्वात मोठे केंद्र असेल. इथे 40 एकर जागेवर देखभाल, दुरुस्ती आणि एमआरओ दुरुस्ती सुविधा केंद्र विकसित केले जाणार आहे, देशविदेशातील विमानांनाही इथे सेवा मिळतील. आणि शेकडो युवकांना इथे रोजगार मिळेल.

आपण कल्पना करा, आजदेखील आपण 85 टक्के विमानांना एमआरओ सेवेसाठी परदेशात पाठवतो.  या कामासाठी दरवर्षी आपले 15 हजार कोटी रुपये खर्च होतात. आपला हा प्रकल्प केवळ 30 हजार कोटी रुपयांत पूर्ण होणार आहे. केवळ दुरुस्तीसाठी आपले 15 हजार कोटी रुपये देशाबाहेर जातात. हजारो कोटी रुपये खर्च होतात. ज्याचा बहुतांश भाग इतर देशांकडे जातो. आता हे विमानतळ ही स्थिती बदलण्यात सहकार्य करेल.

बंधू आणि भगिनींनो,

या विमानतळाच्या माध्यमातून पहिल्यांदाच देशात एकात्मिक बहू-पर्यायी मालवाहतूक केंद्र देखील साकारले जाणार आहे. यामुळे या संपूर्ण क्षेत्राच्या विकासाला नवी गती मिळणार आहे,नवे उड्डाण मिळेल. आपल्याला सर्वांना याची कल्पना आहे की ज्या राज्यांच्या सीमा समुद्रकिनाऱ्याला लागून असतात, त्यांच्यासाठी बंदरे ही खूप महत्त्वाची संधी असते.विकासासाठी त्याची ताकद अत्यंत उपयुक्त ठरत असते. मात्र उत्तरप्रदेशासारख्या चहूबाजूंनी भू-सीमा असलेल्या राज्यांसाठी हेच महत्त्व विमानतळाचे असते. इथे अलिगढ, मथुरा, मीरत, आग्रा, बीजनौर, मुरादाबाद, बरेली यांसारखी अनेक औद्योगिक क्षेत्र आहेत. इथे सेवा क्षेत्राची एक मोठी व्यवस्था देखील आहे, आणि कृषी क्षेत्राचे देखील पश्चिम उत्तर प्रदेशाच्या विकासात मोठे योगदान आहे. आता या विमानतळामुळे या क्षेत्राचे सामर्थ्य आणखी वाढणार आहे. म्हणूनच हे आंतरराष्ट्रीय विमानतळ, निर्यातीचे एक खूप मोठे केंद्र म्हणून आंतरराष्ट्रीय बाजारांशी थेट जोडले जाणार आहे. आता इथले शेतकरी मित्र, विशेषतः छोटे शेतकरी, फळे-भाजी, मासे यांसारख्या नाशवंत वस्तूंची सहज निर्यात करु शकतील. आपल्या खुर्जा भागातले सिरॅमिक कारागीर, मीरतचा खेळण्यांचा उद्योग, सहारनपूरचा फर्निचर उद्योग, मुरादाबादचा पितळेच्या वस्तूंचा उद्योग, आग्र्याची पादत्राणे आणि पेठा उद्योग , आणि पश्चिम उत्तर प्रदेशात असलेल्या अनेक एमएसएमई क्षेत्रांनाही परदेशी बाजारपर्यंत पोहचवणे आणखी सोपे जाणार आहे.

मित्रांनो,

कोणत्याही प्रदेशात विमानतळ आल्याने परिवर्तनाचे एक असे चक्र सुरु होते, ज्यामुळे चारही दिशांपर्यंत लाभ पोचतो. विमानतळाच्या निर्मितीदरम्यान रोजगाराच्या हजारो संधी निर्माण होतात. विमानतळ सुव्यवस्थितपणे चालण्यासाठी देखील हजारो लोकांची गरज असते.पश्चिम उत्तरप्रदेशातल्या हजारो लोकांना हे विमानतळ रोजगाराच्या नव्या संधी निर्माण होणार आहेत. राजधानी जवळ असल्यामुळे आधी अशा क्षेत्रांना विमानतळाच्या सुविधांशी जोडले जात नसे. असे समजले जात असे की दिल्लीत विमानतळाच्या इतर सुविधा आहेतच, मग इतर ठिकाणी त्याची काय गरज. आम्ही हा विचार बदलला आहे. आज बघा, आम्ही हिंडन विमानतळ प्रवासी सेवांसाठी सुरु केले आहे. याचप्रमाणे हरियाणातील हिस्सार इथेही विमानतळाचे काम जलद गतीने सुरु आहे.

बंधू आणि भगिनींनो,

जेव्हा हवाई वाहतूक सुविधा वाढतात, तेव्हा पर्यटन क्षेत्राचा  देखील विकास होतो. आपण सर्वांनी बघितलं आहे, की माता वैष्णो देवी यात्रा असो की केदारनाथ यात्रा, हेलिकॉप्टर सेवा सुरु झाल्यापासून भाविकांची संख्या सातत्याने वाढत आहे. पश्चिम उत्तर प्रदेशच्या प्रसिद्ध पर्यटन आणि श्रद्धास्थानांबाबत नोएडा आंतरराष्ट्रीय विमानतळामुळे हेच होतांना दिसेल. 

मित्रांनो,

स्वातंत्र्य मिळून सात दशके झाल्यानंतर, पहिल्यांदाच उत्तर प्रदेशाला त्याच्या हक्काच्या गोष्टी मिळायला लागल्या आहे. या गोष्टींवर राज्याचा वास्तविक नेहमीच अधिकार, हक्क होता. डबल इंजिनाच्या सरकारच्या प्रयत्नांमुळे आज उत्तर प्रदेशला आता देशाच्या इतर सर्व भागाशी सहजपणे संपर्क साधता येतो. सर्वात अधिक जोडलेल्या क्षेत्रामध्ये हे राज्य परिवर्तित होत आहे.  पश्चिम उत्तर प्रदेशमध्ये लाखो-कोट्यवधी रूपयांच्या प्रकल्पांचे काम वेगाने सुरू आहे. रॅपिड रेल कॉरिडॉर असो, एक्सप्रेस वे असो, मेट्राच्या माध्यमातून संपर्क यंत्रणा असो, पूर्व आणि पश्चिमेकडील सागरी मार्गाने उत्तर प्रदेशला जोडणा-या समर्पित मालवाहतूक मार्ग असो, अशा आधुनिक विकासकामांमुळे उत्तर प्रदेशची आता नवीन ओळख बनत चालली आहे. स्वातंत्र्यानंतर इतकी वर्षे उत्तर प्रदेशला अनेकांकडून नाइलाजाने टीकेची बोलणी खावी लागत होती. कधी गरीबीविषयी बोलणी, कधी जाती-पातीच्या राजकारणावरून टीका, तर कधी हजारों कोटींच्या घोटाळ्यांवरून टीका, कधी गुन्हेगारी- माफिया आणि राजनीती यांच्या साटेलोट्याविषयी बोलणी, उत्तर प्रदेशातल्या कोटी- कोटी सामर्थ्यवान लोकांचा हाच प्रश्न होता की, खरोखरीच उत्तर प्रदेशची एक सकारात्मक प्रतिमा कधी बनू शकणार आहे की नाही?

बंधू आणि भगिनींनो,

आधीच्या सरकारांनी ज्या प्रकारे उत्तर प्रदेशला अभाव आणि अंधःकारामध्ये कायम ठेवले, आधीच्या सरकारांनी ज्या प्रकारे उत्तर प्रदेशाला नेहमी खोटी स्वप्ने दाखवली, तोच उत्तर प्रदेश आज राष्ट्रीय नाही तर आंतरराष्ट्रीय पातळीवर स्वतःची वेगळी छबी निर्माण करून चांगली छाप पाडत आहे. आज उत्तर प्रदेशमध्ये आंतरराष्ट्रीय स्तरावरच्या वैद्यकीय संस्था निर्माण होत आहेत. महामार्ग, दृतगती मार्ग, आंतरराष्ट्रीय दर्जाची रेलमार्गाची संपर्क यंत्रणा, आज उत्तर प्रदेशात बहुराष्ट्रीय कंपन्यांचे गुंतवणूक केंद्र आहे. हे सर्व काही आज आपल्या उत्तर प्रदेशमध्ये होत आहे. म्हणूनच आज देश आणि दुनियेतले गुंतवणूकदार म्हणतात की, उत्तर प्रदेश म्हणजे उत्तम सुविधा, निरंतर गुंतवणूक. उत्तर प्रदेशची ही आंतरराष्ट्रीय ओळख बनल्यामुळे राज्याची आंतरराष्ट्रीय हवाई संपर्क यंत्रणा आता नवीन ‘आयाम’ देत आहे. आगामी 2-3 वर्षांमध्ये ज्यावेळी या विमानतळाचे काम पूर्ण होईल, त्यावेळी उत्तर प्रदेश हे पाच आंतरराष्ट्रीय विमानतळ असलेले राज्य बनेल.

मित्रांनो,

उत्तर प्रदेशमध्ये आणि केंद्रामध्ये आधी जी सरकारे होती, त्यांनी कशा प्रकारे पश्चिम उत्तर प्रदेशच्या विकास कामांकडे दुर्लक्ष केले, याचे एक उदाहरण म्हणजे हे जेवर विमानतळ आहे. दोन दशकापूर्वी उत्तर प्रदेशमधल्या भाजपा सरकारने या प्रकल्पाचे स्वप्न पाहिले होते. परंतु नंतर या विमानतळाच्या कामाचा प्रश्न दिल्ली आणि लखनौ येथे आधी जी सरकारे होती, त्यांच्यामध्ये सुरू असलेल्या रस्सीखेचाच्या खेळात अडकून पडला. उत्तर प्रदेशमध्ये आधी जे सरकार होते, त्या सरकारने तर रितसर पत्र लिहून, त्यावेळी जे केंद्रात सरकार होते, त्यांना कळवून टाकले की, या विमानतळाचा प्रकल्प बंद करून टाकला जाईल. आता डबल इंजिनाच्या सरकारने केलेल्या प्रयत्नांमुळे आज आपण त्याच विमानतळाच्या भूमिपूजनाचे साक्षीदार बनत आहोत.

तसे पाहिले तर मित्रांनो, आज आणखी एक गोष्ट मी सांगणार आहे. मोदी- योगी यांची जर इच्छा असती तर 2017 मध्ये सरकार सत्तेवर आल्यानंतर इथे येवून भूमिपूजन केले असते. छायाचित्रे काढली असती. वर्तमानपत्रांमध्ये बातम्या छापून आल्या असत्या. आणि असे काही आम्ही केले असते तर आधीच्या सरकारची सवय सर्वांना असल्यामुळे त्यामध्ये आम्ही काही चुकीचे करीत आहोत, असे लोकांनाही वाटले नसते. आधी राजकीय लाभासाठी गडबडीमध्ये चिल्लर वाटल्याप्रमाणे पायाभूत प्रकल्पांची घोषणा केली जात होती. कागदांवर रेषा ओढल्या जात होत्या. मात्र प्रकल्पाचे प्रत्यक्ष निर्माण काम कसे होणार, त्यामध्ये येणा-या अडचणी कशा पद्धतीने दूर केल्या जाणार, प्रकल्पासाठी लागणा-या निधीची तरतूद कुठून करणार, यावर कोणत्याही प्रकारे विचार केला जात नव्हता. या कारणांमुळे पायाभूत सुविधांचे प्रकल्प दशके उलटले तरी पूर्ण होत नव्हती. घोषणा होत होती. प्रकल्पाचा खर्च अनेकपटींनी वाढत जात होता. नंतर मग बहाणेबाजी सुरू होत होती. प्रकल्पाला विलंब झाल्याचे खापर दुस-या कुणावर तरी फोडण्याची कसरत केली जात होती. मात्र आम्ही असे काही केले नाही. कारण पायाभूत प्रकल्प हे राजकारण करण्यासाठी नाहीत तर राष्ट्रनीतीचा- देशाच्या धोरणाचा एक भाग आहेत. भारताच्या उज्ज्वल भविष्याची जबाबदारी आहे. आम्ही हे सुनिश्चित करतो की, प्रकल्पाला विलंब होणार नाही, प्रकल्पाचे काम विनाकारण थांबवले जाणार नाही. आम्ही हे सुनिश्चित करण्याचा प्रयत्न करतो की, निश्चित केलेल्या विशिष्ट कालावधीच्या आतच पायाभूत सुविधांच्या प्रकल्पांचे काम पूर्ण व्हावे. जर विलंब झाला तर त्या संबंधित लोकांना दंड करण्याची तरतूदही करण्यात आली आहे.

मित्रांनो,

आधी शेतकरी बांधवांकडून भूमी संपादन करण्याच्या कामामध्ये घोटाळा केला जात होता. यामुळे प्रकल्पाच्या कामाला विलंब होत असे. आधीच्या सरकारांनी आपल्या काळामध्ये अनेक प्रकल्पांसाठी शेतक-यांकडून जमीन तर घेतली. मात्र त्यांना देण्यात येणा-या मोबदल्या विषयी अनेक समस्या उत्पन्न झाल्या. त्यामुळे वर्षानुवर्षे या जमिनी बेकार पडून राहिल्या. आम्ही शेतकरी बांधवांच्या हिताचा विचार केला. प्रकल्पाच्या हिताचा विचार केला आणि या अडचणीही दूर केल्या. आम्ही हे सुनिश्चित केले की, प्रशासनाने शेतकरी बांधवांकडून योग्य वेळी, व्यवहारामध्ये संपूर्ण पारदर्शकता ठेवून जमिनींची खरेदी करावी. आणि त्यामुळे आता 30 हजार  कोटी रूपयांच्या या प्रकल्पाचे भूमिपूजन करण्यासाठी आम्ही पुढे आलो आहोत.

मित्रांनो,

आज प्रत्येक सामान्य देशवासियांसाठी उत्तम दर्जाच्या पायाभूत सुविधा सुनिश्चित केल्या जात आहेत. देशाच्या सर्वसामान्य नागरिकाला हवाई प्रवास करणे शक्य व्हावे, त्याचे हे स्वप्नही प्रत्यक्षात उतरवण्याचे काम उडाण योजनेने करून दाखवले आहे. आज ज्यावेळी कोणीही सहकारी आनंदाने सांगतो की, आपल्या घराजवळच्या विमानतळामुळे आपल्या माता-पित्यांबरोबर पहिल्यांदा विमानप्रवास केला, ज्यावेळी तो आपले छायाचित्र दाखवतो, त्यावेळी मला वाटते की, आपला प्रयत्न यशस्वी झाला. मला आनंद आहे की, एकट्या उत्तर प्रदेशातच गेल्या वर्षांमध्ये आठ विमानतळांवरून विमान सेवा सुरू झाली आहे. काही स्थानांवर ही सेवा सुरू करण्यासाठी काम सुरू आहे.

बंधू आणि भगिनींनो,

आपल्या देशामध्ये काही राजकीय पक्षांनी नेहमीच आपल्या  स्वार्थाला सर्वाेच्च स्थानी ठेवले. या लोकांची विचार करण्याची पद्धत अशी आहे की, आपला स्वार्थ,  फक्त आपल्या परिवाराचा विचार करायचा. आपण जिथे राहतो, त्या भागातल्या कामांना ते विकास मानत होते. मात्र आम्ही राष्ट्र प्रथम या भावनेने पुढे जात आहोत. ‘सबका साथ- सबका विश्वास, सबका विश्वास -सबका प्रयास’ हाच आमचा मंत्र आहे. उत्तर प्रदेशचे लोक याचे साक्षीदार आहेत. देशातले लोक साक्षीदार आहेत. गेल्या काही आठवड्यामध्ये काही राजकीय पक्षांकडून कशा प्रकारे राजकारण केले जात आहे, हे सर्वजण पहात आहेत. मात्र भारत विकासाच्या मार्गावरून मागे हटणार नाही. काही काळापूर्वीच भारताने 100 कोटी लसीच्या मात्रा देण्याचा अतिशय अवघड टप्पा पार केला आहे. या महिन्याच्या प्रारंभी भारताने 2070 पर्यंत ‘नेट जीरो’चे लक्ष्य गाठण्याची घोषणा केली आहे. काही दिवसांपूर्वी कुशीनगरमध्ये आंतरराष्ट्रीय विमानतळाचे लोकार्पण करण्यात आले. उत्तर प्रदेशामध्येच एकाच वेळी नऊ वैद्यकीय महाविद्यालयांचा प्रारंभ करण्यात  आला आणि देशाच्या आरोग्य क्षेत्रातल्या पायाभूत सुविधांना बळकटी देण्यात आली. महोबामध्ये नवीन धरण आणि सिंचन योजनांचे लोकार्पण करण्यात आले तर झांशीमध्ये संरक्षण कॉरिडॉरच्या कामाने वेग घेतला आहे. गेल्या आठवड्यातच उत्तर प्रदेशवासियांना पूर्वांचल द्रूतगती मार्ग समर्पित करण्यात आला. त्याच्या एकच दिवस आधी आपण आदिवासी गौरव दिवस साजरा केला. मध्य प्रदेशमध्ये एक खूप भव्य आाि आधुनिक रेल्वे स्थानकाचे लोकार्पण करण्यात आले. या महिन्यात महाराष्ट्रातल्या पंढरपूरमध्ये शेकडो किलोमीटर राष्ट्रीय महामार्गाचे लोकार्पण आणि शिलान्यास करण्यात आला. आणि आता आज नोएडा आंतरराष्ट्रीय विमानतळाचे भूमिपूजन झाले आहे. आमच्या राष्ट्रभक्तीसमोर, आमच्या राष्ट्र सेवेसमोर काही राजकीय पक्षांची स्वार्थनीती कधीच टिकू शकणार नाही.

मित्रांनो,

आज देशामध्ये 21 व्या शतकाच्या  आवश्यकता लक्षात घेवून अनेक आधुनिक प्रकल्पांवर वेगाने काम सुरू आहे. हीच गती, हीच प्रगती एका सक्षम आणि सशक्त भारत बनविण्याची हमी आहे. हीच प्रगती, सुविधा, सुगमता घेवून सामान्य भारतीयाची समृद्धी सुनिश्चित करण्यात येणार आहे. आपल्या सर्वांच्या आशीर्वादाने डबल इंजिन सरकार कटिबद्ध असल्यामुळे उत्तर प्रदेश अग्रणी भूमिका निभावणार आहे. आपल्याला सर्वांना मिळून पुढे जायचे आहे. या विश्वासाने आपले आंतरराष्ट्रीय विमानतळाबद्दल पुन्हा एकदा खूप-खूप अभिनंदन करतो.

माझ्याबरोबर जयघोष करावा -

भारत माता की जय!

भारत माता की जय!

भारत माता की जय!

खूप-खूप धन्यवाद!!

 

Explore More
77 व्या स्वातंत्र्य दिनानिमित्त लाल किल्ल्याच्या तटबंदीवरून पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी केलेले भाषण

लोकप्रिय भाषण

77 व्या स्वातंत्र्य दिनानिमित्त लाल किल्ल्याच्या तटबंदीवरून पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी केलेले भाषण
India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer

Media Coverage

India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's Interview to Navbharat Times
May 23, 2024

प्रश्न: वोटिंग में मत प्रतिशत उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा। क्या, कम वोट पड़ने पर भी बीजेपी 400 पार सीटें जीत सकती है? ये कौन से वोटर हैं, जो घर से नहीं निकल रहे?

उत्तर: किसी भी लोकतंत्र के लिए ये बहुत आवश्यक है कि लोग मतदान में बढ़चढ कर हिस्सा लें। ये पार्टियों की जीत-हार से बड़ा विषय है। मैं तो देशभर में जहां भी रैली कर रहा हूं, वहां लोगों से मतदान करने की अपील कर रहा हूं। इस समय उत्तर भारत में बहुत कड़ी धूप है, गर्मी है। मैं आपके माध्यम से भी लोगों से आग्रह करूंगा कि लोकतंत्र के इस महापर्व में अपनी भूमिका जरूर निभाएं। तपती धूप में लोग ऑफिस तो जा ही रहे हैं, हर व्यक्ति अपने काम के लिए घर से बाहर निकल रहा है, ऐसे में वोटिंग को भी दायित्व समझकर जरूर पूरा करें। चार चरणों के चुनाव के बाद बीजेपी ने बहुमत का आंकड़ा पा लिया है, आगे की लड़ाई 400 पार के लिए ही हो रही है। चुनाव विशेषज्ञ विश्लेषण करने में जुटे हैं, ये उनका काम है, लेकिन अगर वो मतदाताओं और बीजेपी की केमिस्ट्री देख पाएं तो समझ जाएंगे कि 400 पार का नारा हकीकत बनने जा रहा है। मैं जहां भी जा रहा हूं, बीजेपी के प्रति लोगों के अटूट विश्वास को महसूस रहा हूं। एनडीए को 400 सीटों पर जीत दिलाने के लिए लोग उत्साहित हैं।

प्रश्न: लेकिन कश्मीर में वोट प्रतिशत बढ़े। कश्मीर में बढ़ी वोटिंग का संदेश क्या है?

उत्तर: : मेरे लिए इस चुनाव में सबसे सुकून देने वाली घटना यही है कि कश्मीर में वोटिंग प्रतिशत बढ़ी है। वहां मतदान केंद्रों के बाहर कतार में लगे लोगों की तस्वीरें ऊर्जा से भर देने वाली हैं। मुझे इस बात का संतोष है कि जम्मू-कश्मीर के बेहतर भविष्य के लिए हमने जो कदम उठाए हैं, उसके सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। श्रीनगर के बाद बारामूला में भी बंपर वोटिंग हुई है। आर्टिकल 370 हटने के बाद आए परिवर्तन में हर कश्मीरी राहत महसूस कर रहा है। वहां के लोग समझ गए हैं कि 370 की आड़ में इतने वर्षों तक उनके साथ धोखा हो रहा था। दशकों तक जम्मू-कश्मीर के लोगों को विकास से दूर रखा गया। सिस्टम में फैले भ्रष्टाचार से वहां के लोग त्रस्त थे, लेकिन उन्हें कोई विकल्प नहीं दिया जा रहा था। परिवारवादी पार्टियों ने वहां की राजनीति को जकड़ कर रखा था। आज वहां के लोग बिना डरे, बिना दबाव में आए विकास के लिए वोट कर रहे हैं।

प्रश्न: 2014 और 2019 के मुकाबले 2024 के चुनाव और प्रचार में आप क्या फर्क महसूस कर रहे हैं?

उत्तर: 2014 में जब मैं लोगों के बीच गया तो मुझे देशभर के लोगों की उम्मीदों को जानने का अवसर मिला। जनता बदलाव चाहती थी। जनता विकास चाहती थी। 2019 में मैंने लोगों की आंखों में विश्वास की चमक देखी। ये विश्वास हमारी सरकार के 5 साल के काम से आया था। मैंने महसूस किया कि उन 5 वर्षों में लोगों की आकांक्षाओं का विस्तार हुआ है। उन्होंने और बड़े सपने देखे हैं। वो सपने उनके परिवार से भी जुड़े थे, और देश से भी जुड़े थे। पिछले 5 साल तेज विकास और बड़े फैसलों के रहे हैं। इसका प्रभाव हर व्यक्ति के जीवन पर पड़ा है। अब 2024 के चुनाव में मैं जब प्रचार कर रहा हूं तो मुझे लोगों की आंखों में एक संकल्प दिख रहा है। ये संकल्प है विकसित भारत का। ये संकल्प है भ्रष्टाचार मुक्त भारत का। ये संकल्प है मजबूत भारत का। 140 करोड़ भारतीयों को भरोसा है कि उनका सपना बीजेपी सरकार में ही पूरा हो सकता है, इसलिए हमारी सरकार की तीसरी पारी को लेकर जनता में अभूतपूर्व उत्साह है।

प्रश्न: 10 साल की सबसे बड़ी उपलब्धि आप किसे मानते हैं और तीसरे कार्यकाल के लिए आप किस तरह खुद को तैयार कर रहे हैं?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हमारी सरकार ने अर्थव्यवस्था, सामाजिक न्याय, गरीब कल्याण और राष्ट्रहित से जुड़े कई बड़े फैसले लिए हैं। हमारे कार्यों का प्रभाव हर वर्ग, हर समुदाय के लोगों पर पड़ा है। आप अलग-अलग क्षेत्रों का विश्लेषण करेंगे तो हमारी उपलब्धियां और उनसे प्रभावित होने वाले लोगों के बारे में पता चलेगा। मुझे इस बात का बहुत संतोष है कि हम देश के 25 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर ला पाए। करोड़ों लोगों को घर, शौचालय, बिजली-पानी, गैस कनेक्शन, मुफ्त इलाज की सुविधा दे पाए। इससे उनके जीवन में जो बदलाव आया है, उसकी उन्होंने कल्पना तक नहीं की थी। आप सोचिए, कि अगर करोड़ों लोगों को ये सुविधाएं नहीं मिली होतीं तो वो आज भी गरीबी का जीवन जी रहे होते। इतना ही नहीं, उनकी अगली पीढ़ी भी गरीबी के इस कुचक्र में पिसने के लिए तैयार हो रही होती।

हमने गरीब को सिर्फ घर और सुविधाएं नहीं दी हैं, हमने उसे सम्मान से जीने का अधिकार दिया है। हमने उसे हौसला दिया है कि वो खुद अपने पैरों पर खड़ा हो सके। हमने उसे एक विश्वास दिया कि जो जीवन उसे देखना पड़ा, वो उसके बच्चों को नहीं देखना पड़ेगा। ऐसे परिवार फिर से गरीबी में न चले जाएं, इसके लिए हम हर कदम पर उनके साथ खड़े हैं। इसीलिए, आज देश के 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया जा रहा है, ताकि वो अपनी आय अपनी दूसरी जरूरतों पर खर्च कर सकें। हम कौशल विकास, पीएम विश्वकर्मा और स्वनिधि जैसी योजनाओं के माध्यम से उन्हें आगे बढ़ने में मदद कर रहे हैं। हमने घर की महिला सदस्य को सशक्त बनाने के भी प्रयास किए। लखपति दीदी, ड्रोन दीदी जैसी योजनाओं से महिलाएं आर्थिक रूप से मजबूत हुई हैं। मेरी सरकार के तीसरे कार्यकाल में इन योजनाओं को और विस्तार मिलेगा, जिससे ज्यादा महिलाओं तक इनका लाभ पहुंचेगा।

प्रश्न: हमारे रिपोर्टर्स देशभर में घूमे, एक बात उभर कर आई कि रोजगार और महंगाई पर लोगों ने हर जगह बात की है। जीतने के बाद पहले 100 दिनों में युवाओं के लिए क्या करेंगे? रोजगार के मोर्चे पर युवाओं को कोई भरोसा देना चाहेंगे?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हम महंगाई दर को काबू रख पाने में सफल रहे हैं। यूपीए के समय महंगाई दर डबल डिजिट में हुआ करती थी। आज दुनिया के अलग-अलग कोनों में युद्ध की स्थिति है। इन परिस्थितियों का असर देश की अर्थव्यवस्था और महंगाई पर पड़ा है। हमने दुनिया के ताकतवर देशों के सामने अपने देश के लोगों के हित को प्राथमिकता दी, और पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ने नहीं दीं। पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़तीं तो हर चीज महंगी हो जाती। हमने महंगाई का बोझ कम करने के लिए हर छोटी से छोटी चीज पर फोकस किया। आज गरीब परिवारों को अच्छे से अच्छे अस्पताल में 5 लाख रुपये तक इलाज मुफ्त मिलता है। जन औषधि केंद्रों की वजह से दवाओं के खर्च में 70 से 80 प्रतिशत तक राहत मिली है। घुटनों की सर्जरी हो या हार्ट ऑपरेशन, सबका खर्च आधे से ज्यादा कम हो गया है। आज देश में लोन की दरें सबसे कम हैं। कार लेनी हो, घर लेना हो तो आसानी से और सस्ता लोन उपलब्ध है। पर्सनल लोन इतना आसान देश में कभी नहीं था। किसान को यूरिया और खाद की बोरी दुनिया के मुकाबले दस गुना कम कीमत पर मिल रही है। पिछले 10 वर्षों में रोजगार के अनेक नए अवसर बने हैं। लाखों युवाओं को सरकारी नौकरी मिली है। प्राइवेट सेक्टर में रोजगार के नए मौके बने हैं। EPFO के मुताबिक पिछले सात साल में 6 करोड़ नए सदस्य इसमें जुड़े हैं।

PLFS का डेटा बताता है कि 2017 में जो बेरोजगारी दर 6% थी, वो अब 3% रह गई है। हमारी माइक्रो फाइनैंस की नीतियां कितनी प्रभावी हैं, इस पर SKOCH ग्रुप की एक रिपोर्ट आई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 10 साल में हर वर्ष 5 करोड़ पर्सन-ईयर रोजगार पैदा हुए हैं। युवाओं के पास अब स्पेस सेक्टर, ड्रोन सेक्टर, गेमिंग सेक्टर में भी आगे बढ़ने के अवसर हैं। देश में डिजिटल क्रांति से भी युवाओं के लिए अवसर बने हैं। आज भारत में डेटा इतना सस्ता है तभी देश की क्रिएटर इकनॉमी बड़ी हो रही है। आज देश में सवा लाख से ज्यादा स्टार्टअप्स हैं, इनसे बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर बन रहे हैं। हमने अपनी सरकार के पहले 100 दिनों का एक्शन प्लान तैयार किया है, उसमें हमने अलग से युवाओं के लिए 25 दिन और जोड़े हैं। हम देशभर से आ रहे युवाओं के सुझाव पर गौर कर रहे हैं, और नतीजों के बाद उस पर तेजी से काम शुरू होगा।

प्रश्न: सोशल मीडिया में एआई और डीपफेक जैसे मसलों पर आपने चिंता जताई है। इस चुनाव में भी इसके दुरुपयोग की मिसाल दिखी हैं। मिसइनफरमेशन का ये टूल न बने, इसके लिए क्या किया जा सकता है? कई एक्टिविस्ट और विपक्ष का कहना रहा है कि इन चीजों पर सख्ती की आड़ में कहीं फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन पर पाबंदी तो नहीं लगेगी? इन सवालों पर कैसे आश्वस्त करेंगे?

उत्तर: तकनीक का इस्तेमाल जीवन में सुगमता लाने के लिए किया जाना चाहिए। आज एआई ने भारत के युवाओँ के लिए अवसरों के नए द्वार खोल दिए हैं। एआई, मशीन लर्निगं और इंटरनेट ऑफ थिंग्स अब हमारे रोज के जीवन की सच्चाई बनती जा रही है। लोगों को सहूलियत देने के लिए कंपनियां अब इन तकनीकों का उपयोग बढ़ा रही हैं। दूसरी तरफ इनके माध्यम से गलत सूचनाएं देने, अफवाह फैलाने और लोगों को भ्रमित करने की घटनाएं भी हो रही हैं। चुनाव में विपक्ष ने अपने झूठे नरैटिव को फैलाने के लिए यही करना शुरू किया था। हमने सख्ती करके इस तरह की कोशिश पर रोक लगाने का प्रयास किया। इस तरह की प्रैक्टिस किसी को भी फायदा नहीं पहुंचाएगी, उल्टे तकनीक का गलत इस्तेमाल उन्हें नुकसान ही पहुंचाएगा। अभिव्यक्ति की आजादी का फेक न्यूज और फेक नरैटिव से कोई लेना-देना नहीं है। मैंने एआई के एक्सपर्ट्स के सामने और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर डीप फेक के गलत इस्तेमाल से जुड़े विषयों को गंभीरता से रखा है। डीप फेक को लेकर वर्ल्ड लेवल पर क्या हो सकता है, इस पर मंथन चल रहा है। भारत इस दिशा में गंभीरता से प्रयास कर रहा है। लोगों को जागरूक करने के लिए ही मैंने खुद सोशल मीडिया पर अपना एक डीफ फेक वीडियो शेयर किया था। लोगों के लिए ये जानना आवश्यक है कि ये तकनीक क्या कर सकती है।

प्रश्न:देश के लोगों की सेहत को लेकर आपकी चिंता हम सब जानते हैं। आपने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस शुरू किया, योगा प्रोटोकॉल बनवाया, आपने आयुष्मान योजना शुरू की है। तीसरे कार्यकाल में क्या इन चीज़ों पर भी काम करेंगे, जो हमारी सेहत खराब होने के मूल कारक हैं। जैसे लोगों को साफ हवा, पानी, मिट्टी मिले।

उत्तर: देश 2047 तक विकसित भारत का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रहा है। इस सपने को शक्ति तभी मिलेगी, जब देश का हर नागरिक स्वस्थ हो। शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत हो। यही वजह है कि हम सेहत को लेकर एक होलिस्टिक अप्रोच अपना रहे हैं। एलोपैथ के साथ ही योग, आयुर्वेद, भारतीय परंपरागत पद्धतियां, होम्योपैथ के जरिए हम लोगों को स्वस्थ रखने की दिशा में काम कर रहे हैं। राजनीति में आने से पहले मैंने लंबा समय देश का भ्रमण करने में बिताया है। उस समय मैंने एक बात अनुभव की थी कि घर की महिला सदस्य अपने खराब स्वास्थ्य के बारे छिपाती है। वो खुद तकलीफ झेलती है, लेकिन नहीं चाहती कि परिवार के लोगों को परेशानी हो। उसे इस बात की भी फिक्र रहती है कि डॉक्टर, दवा में पैसे खर्च हो जाएंगे। जब 2014 में मुझे देश की सेवा करने का अवसर मिला तो सबसे पहले मैंने घर की महिला सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता की। मैंने माताओं-बहनों को धुएं से मुक्ति दिलाने का संकल्प लिया और 10 करोड़ से ज्यादा महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन दिए। मैंने बुजुर्गों की सेहत पर भी ध्यान दिया है। हमारी सरकार की तीसरी पारी में 70 साल से ऊपर के सभी बुजुर्गों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिलने लगेगा। यानी उनके इलाज का खर्च सरकार उठाएगी। साफ हवा, पानी, मिट्टी के लिए हम काम शुरू कर चुके हैं। सिंगल यूज प्लास्टिक पर हमारा अभियान चल रहा है। जल जीवन मिशन के तहत हम देश के लाखों गांवों तक साफ पानी पहुंचा रहे हैं। सॉयल हेल्थ कार्ड, आर्गेनिक खेती की दिशा में काम हो रहा है। हम मिशन लाइफ को प्राथमिकता दे रहे हैं और इस विचार को आगे बढ़ा रहे हैं कि हर व्यक्ति पर्यावरण के अनुकूल जीवन पद्धति को अपनाए।

प्रश्न: विदेश नीति आपके दोनों कार्यकाल में काफी अहम रही है। इस वक्त दुनिया काफी उतार चढ़ाव से गुजर रही है, चुनाव नतीजों के तुरंत बाद जी7 समिट है। आप नए हालात में भारत के रोल को किस तरह देखते हैं?

उत्तर: शायद ये पहला चुनाव है, जिसमें भारत की विदेश नीति की इतनी चर्चा हो रही है। वो इसलिए कि पिछले 10 साल में दुनियाभर में भारत की साख मजबूत हुई है। जब देश की साख बढ़ती है तो हर भारतीय को गर्व होता है। जी20 समिट में भारत ग्लोबल साउथ की मजबूत आवाज बना, अब जी7 में भारत की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होने वाली है। आज दुनिया का हर देश जानता है कि भारत में एक मजबूत सरकार है और सरकार के पीछे 140 करोड़ देशवासियों का समर्थन है। हमने अपनी विदेश नीति में भारत और भारत के लोगों के हित को सर्वोपरि रखा है। आज जब हम व्यापार समझौते की टेबल पर होते हैं, तो सामने वाले को ये महसूस होता है कि ये पहले वाला भारत नहीं है। आज हर डील में भारतीय लोगों के हित को प्राथमिकता दी जाती है। हमारे इस बदले रूप को देखकर दूसरे देशों को हैरानी हुई, लेकिन धीरे-धीरे उन्होंने इसे स्वीकार कर लिया। ये नया भारत है, आत्मविश्वास से भरा भारत है। आज भारत संकट में फंसे हर भारतीय की मदद के लिए तत्पर रहता है। पिछले 10 वर्षों में अनेक भारतीयों को संकट से बाहर निकालकर देश में ले आए। हम अपनी सांस्कृतिक धरोहरों को भी देश में वापस ला रहे हैं। युद्ध में आमने-सामने खड़े दोनों देशों को भारत ने बड़ी मजबूती से ये कहा है कि ये युद्ध का समय नहीं है, ये बातचीत से समाधान का समय है। आज दुनिया मानती है कि भारत का आगे बढ़ना पूरी दुनिया और मानवता के लिए अच्छा है।

प्रश्न: अमेरिका भी चुनाव से गुजर रहा है। आपके रिश्ते ट्रम्प और बाइडन दोनों के साथ बहुत अच्छे रहे हैं। आप कैसे देखते हैं अमेरिका के साथ भारतीय रिश्तों को इन संदर्भ में?

उत्तर: हमारी विदेश नीति का मूल मंत्र है इंडिया फर्स्ट। पिछले 10 वर्षों में हमने इसी को ध्यान में रखकर विभिन्न देशों और प्रभावशाली नेताओं से संबंध बनाए हैं। भारत-अमेरिका संबंधों की मजबूती का आधार 140 करोड़ भारतीय हैं। हमारे लोग हमारी ताकत हैं, और दुनिया हमारी इस शक्ति को बहुत महत्वपूर्ण मानती है। अमेरिका में राष्ट्रपति चाहे ट्रंप रहे हों या बाइडन, हमने उनके साथ मिलकर दोनों देशों के संबंध को और मजबूत बनाने का प्रयास किया है। भारत-अमेरिका के संबंधों पर चुनाव से कोई अंतर नहीं आएगा। वहां जो भी राष्ट्रपति बनेगा, उसके साथ मिलकर नई ऊर्जा के साथ काम करेंगे।

प्रश्न: BJP का पूरा प्रचार आप पर ही केंद्रित है, क्या इससे सांसदों के खुद के काम करने और लोगों के संपर्क में रहने जैसे कामों को तवज्जो कम हो गई है और नेता सिर्फ मोदी मैजिक से ही चुनाव जीतने के भरोसे हैं। आप इसे किस तरह काउंटर करते हैं?

उत्तर: बीजेपी एक टीम की तरह काम करती है। इस टीम का हर सदस्य चुनाव जीतने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहा है। चुनावी अभियान में जितना महत्वपूर्ण पीएम है, उतना ही महत्वपूर्ण कार्यकर्ता है। ये परिवारवादी पार्टियों का फैलाया गया प्रपंच है। उनकी पार्टी में एक परिवार या कोई एक व्यक्ति बहुत अहम होता है। हमारी पार्टी में हर नेता और कार्यकर्ता को एक दायित्व दिया जाता है।

मैं पूछता हूं, क्या हमारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रोज रैली नहीं कर रहे हैं। क्या हमारे मंत्री, मुख्यमंत्री, पार्टी पदाधिकारी रोड शो और रैलियां नहीं कर रहे। मैं पीएम के तौर पर जनता से कनेक्ट करने जरूर जाता हूं, लेकिन लोग एमपी उम्मीदवार के माध्यम से ही हमसे जुड़ते हैं। मैं लोगों के पास नैशनल विजन लेकर जा रहा हूं, उसे पूरा करने की गारंटी दे रहा हूं, तो हमारा एमपी उम्मीदवार स्थानीय आकांक्षाओं को पूरा करने का भरोसा दे रहा है। हमने उन्हीं उम्मीदवारों का चयन किया है, जो हमारे विजन को जनता के बीच पहुंचा सकें। विकसित भारत की सोच से लोगों को जोड़ने के लिए जितनी अहमियत मेरी है, उतनी ही जरूरत हमारे उम्मीदवारों की भी है। हमारी पूरी टीम मिलकर हर सीट पर कमल खिलाने में जुटी है।

प्रश्न: महिला आरक्षण पर आप ने विधेयक पास कराए। क्या नई सरकार में हम इन पर अमल होते हुए देखेंगे?

उत्तर: ये प्रश्न कांग्रेस के शासनकाल के अनुभव से निकला है, तब कानून बना दिए जाते थे लेकिन उसे नोटिफाई करने में वर्षों लग जाते थे। हमने अगले 5 वर्षों का जो रोडमैप तैयार किया है, उसमें नारी शक्ति वंदन अधिनियम की महत्वपूर्ण भूमिका है। हम देश की आधी आबादी को उसका अधिकार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इंडी गठबंधन की पार्टियों ने दशकों तक महिलाओं को इस अधिकार से वंचित रखा। सामाजिक न्याय की बात करने वालों ने इसे रोककर रखा था। देश की संसद और विधानसभा में महिलाओं की भागीदारी बढ़ने से महिला सशक्तिकरण का एक नया दौर शुरू होगा। इस परिवर्तन का असर बहुत प्रभावशाली होगा।

प्रश्न: महाराष्ट्र की सियासी हालत इस बार बहुत पेचीदा हो गई है। एनडीए क्या पिछली दो बार का रिकॉर्ड दोहरा पाएगा?

उत्तर: महाराष्ट्र समेत पूरे देश में इस बार बीजेपी और एनडीए को लेकर जबरदस्त उत्साह है। महाराष्ट्र में स्थिति पेचीदा नहीं, बल्कि बहुत सरल हो गई है। लोगों को परिवारवादी पार्टियों और देश के विकास के लिए समर्पित महायुति में से चुनाव करना है। बाला साहेब ठाकरे के विचारों को आगे बढ़ाने वाली शिवसेना हमारे साथ है। लोग देख रहे हैं कि नकली शिवसेना अपने मूल विचारों का त्याग करके कांग्रेस से हाथ मिला चुकी है। इसी तरह एनसीपी महाराष्ट्र और देश के विकास के लिए हमारे साथ जुड़ी है। अब जो महा ‘विनाश’ अघाड़ी की एनसीपी है, वो सिर्फ अपने परिवार को आगे बढ़ाने के लिए वोट मांग रही है। लोग ये भी देख रहे हैं कि इंडी गठबंधन अभी से अपनी हार मान चुका है। अब वो चुनाव के बाद अपना अस्तित्व बचाने के लिए कांग्रेस में विलय की बात कर रहे हैं। ऐसे लोगों को मतदान करना, अपने वोट को बर्बाद करना है। इस बार हम महाराष्ट्र में अपने पिछले रिकॉर्ड को तोड़ने वाले हैं।

प्रश्न: पश्चिम बंगाल में भी बीजेपी ने बहुत प्रयास किए हैं। पिछली बार बीजेपी 18 सीटें जीतने में कामयाब रही थी। बाकी राज्यों की तुलना में यह आपके लिए कितना कठिन राज्य है और इस बार आपको क्या उम्मीद है?

उत्तर: TMC हो, कांग्रेस हो, लेफ्ट हो, इन सबने बंगाल में एक जैसे ही पाप किए हैं। बंगाल में लोग समझ चुके हैं कि इन पार्टियों के पास सिर्फ नारे हैं, विकास का विजन नहीं हैं। कभी दूसरे राज्यों से लोग रोजगार के लिए बंगाल आते थे, आज पूरे बंगाल से लोग पलायन करने को मजबूर हैं। जनता ये भी देख रही है कि बंगाल में जो पार्टियां एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं, दिल्ली में वही एक साथ नजर आ रही हैं। मतदाताओं के साथ इससे बड़ा छल कुछ और नहीं हो सकता। यही वजह है कि इंडी गठबंधन लोगों का भरोसा नहीं जीत पा रहा। बंगाल के लोग लंबे समय से भ्रष्टाचार, हिंसा, अराजकता, माफिया और तुष्टिकरण को बर्दाश्त कर रहे हैं। टीएमसी की पहचान घोटाले वाली सरकार की बन गई है। टीएमसी के नेताओं ने अपनी तिजोरी भरने के लिए युवाओं के सपनों को कुचला है। यहां स्थिति ये है कि सरकारी नौकरी पाने के बाद भी युवाओं को भरोसा नहीं है कि उनकी नौकरी रहेगी या जाएगी। लोग बंगाल की मौजूदा सरकार से पूरी तरह हताश हैं।अब उनके सामने बीजेपी का विकास मॉडल है। मैं बंगाल में जहां भी गया, वहां लोगों में बीजेपी के प्रति अभूतपूर्व विश्वास नजर आया। विशेष रुप से बंगाल में मैंने देखा कि माताओं-बहनों का बहुत स्नेह मुझे मिल रहा है। मैं उनसे जब भी मिलता हूं, वो खुद तो इमोशनल हो ही जाती हैं, मैं भी अपने भावनाओं को रोक नहीं पाता हूं। इस बार बंगाल में हम पहले से ज्यादा सीटों पर जीत हासिल करेंगे।

प्रश्न: शराब मामले को लेकर अरविंद केजरीवाल को जेल जाना पड़ा है। उनका कहना है कि ईडी ने जबरदस्ती उन्हें इस मामले में घसीटा है जबकि अब तक उनके पास से कोई पैसा बरामद नहीं हुआ?

उत्तर: आपने कभी किसी ऐसे व्यक्ति को सुना है जो आरोपी हो और ये कह रहा हो कि उसने घोटाला किया था। या कह रहा हो कि पुलिस ने उसे सही गिरफ्तार किया है। अगर एजेंसियों ने उन्हें गलत पकड़ा था, तो कोर्ट से उन्हें राहत क्यों नहीं मिली। ईडी और एजेसिंयो पर आरोप लगाने वाला विपक्ष आज तक एक मामले में ये साबित नहीं कर पाया है कि उनके खिलाफ गलत आरोप लगा है। वो कुछ दिन के लिए जमानत पर बाहर आए हैं, लेकिन बाहर आकर वो और एक्सपोज हो गए। वो और उनके लोग गलतियां कर रहे हैं और आरोप बीजेपी पर लगा रहे हैं। लेकिन जनता उनका सच जानती है। उनकी बातों की अब कोई विश्वसनीयता नहीं रह गई है।

प्रश्न: इस बार दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। इससे क्या लगातार दो बार से सातों सीटें जीतने के क्रम में बीजेपी को कुछ दिक्कत हो सकती है? इस बार आपने छह उम्मीदवार बदल दिए

उत्तर: इंडी गठबंधन की पार्टियां दिल्ली में हारी हुई लड़ाई लड़ रहे हैं। उनके सामने अपना अस्तित्व बचाने का संकट है। चुनाव के बाद वैसे भी इंडी गठबंधन नाम की कोई चीज बचेगी नहीं। दिल्ली की जनता ने बहुत पहले कांग्रेस को बाहर कर दिया था, अब दूसरे दलों के साथ मिलकर वो अपनी मौजूदगी दिखाना चाहते हैं। क्या कभी किसी ने सोचा था कि देश पर इतने लंबे समय तक शासन करने वाली कांग्रेस के ये दिन भी आएंगे कि उनके परिवार के नेता अपनी पार्टी के नहीं, बल्कि किसी और उम्मीदवार के लिए वोट डालेंगे।

दिल्ली में इंडी गठबंधन की जो पार्टियां हैं, उनकी पहचान दो चीजों से होती है। एक तो भ्रष्टाचार और दूसरा बेशर्मी के साथ झूठ बोलना। मीडिया के माध्यम से ये जनता की भावनाओं को बरगलाना चाहते हैं। झूठे वादे देकर ये लोगों को गुमराह करना चाहते हैं। ये जनता के नीर-क्षीर विवेक का अपमान है। जनता आज बहुत समझदार है, वो फैसला करेगी। बीजेपी ने लोगों के हित को ध्यान में रखते हुए अपने उम्मीदवार उतारे हैं। बीजेपी में कोई लोकसभा सीट नेता की जागीर नहीं समझी जाती। जो जनहित में उचित होता है, पार्टी उसी के अनुरूप फैसला लेती है। हमारे लिए राजनीति सेवा का माध्यम है। यही वजह है कि हमारे कार्यकर्ता इस बात से निराश नहीं होते कि टिकट कट गया, बल्कि वो पूरे मनोयोग से जनता की सेवा में जुट जाते हैं।

प्रश्न: विपक्ष का कहना है कि लोकतंत्र खतरे में है और अगर बीजेपी जीतती है तो लोकतंत्र औपचारिक रह जाएगा। आप उनके इन आरोपों को कैसे देखते हैं?

उत्तर: कांग्रेस और उसका इकोसिस्टम झूठ और अफवाह के सहारे चुनाव लड़ने निकला है। पुराने दौर में उनका यह पैंतरा कभी-कभी काम कर जाता था, लेकिन आज सोशल मीडिया के जमाने में उनके हर झूठ का मिनटों में पर्दाफाश हो जाता है।

उन्होंने राफेल पर झूठ बोला, पकड़े गए। एचएएल पर झूठ बोला, पकड़े गए। जनता अब इनकी बातों को गंभीरता से नहीं लेती है। देश जानता है कि कौन संविधान बदलना चाहता है। आपातकाल के जरिए देश के लोकतंत्र को खत्म करने की साजिश किसने की थी। कांग्रेस के कार्यकाल में सबसे ज्यादा बार संविधान की मूल प्रति को बदल दिया। कांग्रेस पहले संविधान संसोधन का प्रस्ताव अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा लगाने के लिए लाई थी। 60 वर्षों में उन्होंने बार-बार संविधान की मूल भावना पर चोट की और एक के बाद एक कई राज्य सरकारों को बर्खास्त किया। सबसे ज्यादा बार राष्ट्रपति शासन लगाने का रेकॉर्ड कांग्रेस के नाम है। उनकी जो असल मंशा है, उसके रास्ते में संविधान सबसे बड़ी दीवार है। इसलिए इस दीवार को तोड़ने की कोशिश करते रहते हैं। आप देखिए कि संविधान निर्माताओं ने धर्म के आधार पर आरक्षण का विरोध किया था। लेकिन कांग्रेस अपने वोटबैंक को खुश करने के लिए बार-बार यही करने की कोशिश करती है। अपनी कोई कोशिशों में नाकाम रहने के बाद आखिरकार उन्होंने कर्नाटक में ओबीसी आरक्षण में सेंध लगा ही दी।

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के नेता लोकतंत्र की दुहाई देते हैं, लेकिन वास्तविकता ये है कि लोकतंत्र को कुचलने के लिए, जनता की आवाज दबाने के लिए ये पूरी ताकत लगा देते हैं। ये लोग उनके खिलाफ बोलने वालों के पीछे पूरी मशीनरी झोंक देते हैं। इनके एक राज्य की पुलिस दूसरे राज्य में जाकर कार्रवाई कर रही है। इस काम में ये लोग खुलकर एक-दूसरे का साथ दे रहे हैं। जनता ये सब देख रही है, और समझ रही है कि अगर इन लोगों के हाथ में ताकत आ गई तो ये देश का, क्या हाल करेंगे।

प्रश्न: आप एकदम चुस्त-दुरुस्त और फिट दिखते हैं, आपकी सेहत का राज, सुबह से रात तक का रूटीन?

उत्तर: मैं यह मानता हूं कि मुझ पर किसी दैवीय शक्ति की बहुत बड़ी कृपा है, जिसने लोक कल्याण के लिए मुझे माध्यम बनाया है। इतने वर्षों में मेरा यह विश्वास प्रबल हुआ है कि ईश्वर ने मुझे विशेष दायित्व पूरा करने के लिए चुना है। उसे पूरा करने के लिए वही मुझे सामर्थ्य भी दे रहा है। लोगों की सेवा करने की भावना से ही मुझे ऊर्जा मिलती है।

प्रश्न: प्रधानमंत्री जी, आप काशी के सांसद हैं। बीते 10 साल में आप ने काशी को खूब प्रमोट किया है। आज काशी देश में सबसे प्रेफर्ड टूरिज्म डेस्टिनेशमन बन रही है। इसके अलावा आप ने जो इंफ्रास्ट्रक्चर के काम किए हैं, उससे भी बनारस में बहुत बदलाव आया है। इससे बनारस और पूर्वांचल की इकोनॉमी और रोजगार पर जो असर हुआ है, उसे आप कैसे देखते हैं?

उत्तर: काशी एक अद्भूत नगरी है। एक तरफ तो ये दुनिया का सबसे प्राचीन शहर है। इसकी अपनी पौराणिक मान्यता है। दूसरी तरफ ये पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार की आर्थिक धुरी भी है। 10 साल में हमने काशी में धार्मिक पर्यटन का खूब विकास किया। शहर की गलियां, साफ-सफाई, बाजारों में सुविधाएं, ट्रेन और बस के इंतजाम पर फोकस किया। गंगा में सीएनजी बोट चली, शहर में ई-बस और ई-रिक्शा चले। यात्रियों के लिए हमने स्टेशन से लेकर शहर के अलग-अलग स्थानों पर तमाम सुविधाएं बढ़ाई।

इन सब के बाद जब हम बनारस को प्रमोट करने उतरे, तो देशभर के श्रद्धालुओं में नई काशी को देखने का भाव उमड़ आया। यह यहां सालभर पहले से कई गुना ज्यादा पर्यटक आते हैं। इससे पूरे शहर में रोजगार के नए अवसर तैयार हुए।

हमने बनारस में इंडस्ट्री लानी शुरू की है। TCS का नया कैंपस बना है, बनास डेयरी बनी है, ट्रेड फैसिलिटी सेंटर बना है, काशी के बुनकरों को नई मशीनें दी जा रही है, युवाओं को मुद्रा लोन मिले हैं। इससे सिर्फ बनारस ही नहीं, आसपास के कई जिलों की अर्थव्यवस्था को नई गति मिली।

प्रश्न: आपने कहा कि वाराणसी उत्तर प्रदेश की राजनीतिक धुरी जैसा शहर है। बीते 10 वर्षों में पू्र्वांचल में जो विकास हुआ है, उसको कैसे देखते हैं?

उत्तर: देखिए, पूर्वांचल अपार संभावनाओं का क्षेत्र है। पिछले 10 वर्षों में हमने केंद्र की तमाम योजनाओं में इस क्षेत्र को बहुत वरीयता दी है। एक समय था, जब पूर्वांचल विकास में बहुत पिछड़ा था। वाराणसी में ही कई घंटे बिजली कटौती होती थी। पूर्वांचल के गांव-गांव में लालटेन के सहारे लोग गर्मियों के दिन काटते थे। आज बिजली की व्यवस्था में बहुत सुधार हुआ है, और इस भीषण गर्मी में भी कटौती का संकट करीब-करीब खत्म हो चला है। ऐसे ही पूरे पूर्वांचल में सड़कों की हालत बहुत खराब थी। आज यहां के लोगों को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की सुविधा मिली है। गाजीपुर, आजमगढ़, मऊ, बलिया, चंदौली जैसे टियर थ्री कहे जाने वाले शहरों में हजारों की सड़कें बनी हैं।

आजमगढ़ में अभी कुछ दिन पहले मैंने एयरपोर्ट की शुरुआत की है। महाराजा सुहेलदेव के नाम पर यूनिवर्सिटी बनाई गई है। पूरे पूर्वांचल में नए मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं। बनारस में इनलैंड वाटर-वे का पोर्ट बना है। काशी से ही देश की पहली वंदे भारत ट्रेन चली थी। देश का पहला रोप-वे ट्रांसपोर्ट सिस्टम बन रहा है।

कांग्रेस की सरकार में पूर्वांचल के लोग ऐसी सुविधाएं मिलने के बारे में सोचते तक नहीं थे। क्योंकि लोगों को बिजली-पानी-सड़क जैसी मूलभूत सुविआधाओं में ही उलझाकर रखा गया था। यह स्थिति तब थी जब इनके सीएम तक पूर्वांचल से चुने जाते थे। तब पूर्वांचल में सिर्फ नेताओं के हेलिकॉप्टर उतरते थे, आज जमीन पर विकास उतर आया है।

प्रश्न: आप कहते हैं कि बनारस ने आपको बनारसी बना दिया है। मां गंगा ने आपको बुलाया था, अब आपको अपना लिया है। आप काशी के सांसद हैं, यहां के लोगों से क्या कहेंगे?

उत्तर: मैं एक बात मानता हूं कि काशी में सबकुछ बाबा की कृपा से होता है। मां गंगा के आशीर्वाद से ही यहां हर काम फलीभूत होते हैं! 10 साल पहले मैंने जब ये कहा था कि मां गंगा ने मुझे बुलाया है, तो वो बात भी मैंने इसी भावना से कही थी। जिस नगरी में लोग एक बार आने को तरसते हैं, वहां मुझे दो बार सांसद के रूप में सेवा करने का अवसर मिला। जब पार्टी ने तीसरी बार मुझे काशी की उम्मीदवारी करने को कहा, तभी मेरे मन में यह भाव आया कि मां गंगा ने मुझे गोद ले लिया है। काशी ने मुझे अपार प्रेम दिया है। उनका यह स्नेह और विश्वास मुझ पर एक कर्ज है। मैं जीवनभर काशी की सेवा करके भी इस कर्ज को नहीं उतार पाऊंगा।

Following is the clipping of the interview:

 

 

Source: Navbharat Times