പങ്കിടുക
 
Comments 2 Comments

उपस्थित सभी महानुभाव,

हमारे देश में एक अनुभव ये आता है कि बहुत सी चीजें Perception के आसपास मंडराती रहती है। और जब बारीकी से उसकी और देखें तो चित्र कुछ और ही नजर आता है। जैसे एक सामान्य व्यक्ति को पूछो तो उसको लगेगा कि “भई, ये जो बड़े-बड़े उद्योग हैं, बड़े-बड़े उद्योग घराने हैं, उससे रोजगार ज्यादा मिलता है।“ लेकिन अगर बारीकी से देखें तो चित्र कुछ और होता है, इसमें इतनी ज्यादा पूंजी लगी है। इतने सारे ताम-झांम, हवाबाजी, ये सब हम देखते आए हैं।

लेकिन अगर बारीकी से देखें तो ultimately हम विकास में हैं। रोजगार हमारी प्राथमिकता है और भारत जैसा देश जिसके पास Demographic dividend हो, जहां पर 65 प्रतिशत जनसंख्या 35 से कम आयु की हो, उस देश ने अपने विकास की जो भी नीतियां बनानी हो, उसके केंद्र में ये युवा शक्ति होना चाहिए। अगर वो बराबर match कर लिया, तो हम नई ऊंचाईयों को पार कर सकते हैं। ये जितने बड़-बड़े उद्योगों की हम चर्चा सुनते आए हैं, उसमें सिर्फ एक करोड़ 25 लाख लोगों को रोजगार मिलता है। सवा सौ करोड़ देश में सवा करोड़ लोगों को रोजगार, ये जो बहुत बड़े-बड़े लोग जिसके लिए दुनिया में चर्चा रहती है, आधा अखबार जिनसे भरा पडा रहता है, वो देते हैं।

लेकिन इस देश में छोटा-छोटा काम करने वाला व्यक्ति करीब 5 करोड़ 70 लाख लोग, 12 करोड़ लोगों को रोजगार देते हैं। उन सवा करोड़ को रोजगार देने के लिए बहुत सारी व्यवस्थाएं सक्रिय है। लेकिन 12 करोड़ लोगों को रोजगार देने वाले लोगों के लिेए थोड़ी सी हम मदद करें, तो कितना बड़ा फर्क आ सकता है इसका हम अंदाज कर सकते हैं। और इस 5 करोड़ 75 लाख इस क्षेत्र में काम करने वाले लोग हैं, जो स्वरोजगार एक प्रकार से हैं - दर्जी होंगे, कुम्हार होंगे, टायर का पंक्चर करने वाले लोग हैं, साइकिल की repairing करने वाले लोग हैं, अपनी एक ऑटो रिक्शा लेकर के काम करने वाले लोग हैं, सब्जी बेचने वाले, गरीब-गरीब लोग हैं। उनका पूरा जो कारोबार है, उसमें ज्यादा से ज्यादा हिसाब लगाएं जाएं, तो 11 लाख करोड़ रुपयों से ज्यादा उसमें पूंजी नहीं लगी है। यानी सिर्फ 11 लाख करोड़ रुपयों की पूंजी लगी है, 5 करोड़ 75 लाख उसका नेतृत्व कर रहे हैं, और 12 करोड़ लोगों का पेट भरते हैं।

ये बातें जब सामने आईं तो लगा कि देश में स्वरोजगारी के अवसर बढ़ाने चाहिए। देश की Economy को ताकत देने वाला जो नीचे पायरी पर जो लोग हैं, उनकी शक्ति को समझना चाहिए। और उनके लिए अवसर उपलब्ध कराने चाहिए और इस मूल चिंतन में से ये मुद्रा की कल्पना आई है। मेरा अपना एक अनुभव इसमें काम कर रहा था, क्योंकि सिर्फ आर्थिक जगत के लोगों के आंकड़ों के आधार पर निर्णय करना, इतना सरल नहीं होता है। लेकिन कभी-कभी अनुभव बहुत काम आता है।

मैं गुजरात में मुख्यमंत्री रहा तो मैंने पतंग उद्योग की तरफ थोड़ा ध्यान दिया। अब गुजरात में पतंग एक बड़ा त्‍योहार के रूप में मनाया जाता है, और ज्‍यादातर, अब वो पूरा Environment Friendly Industry है, Cottage Industry है। और लाखों की तादाद में गरीब मुसलमान उस काम में लगा हुआ है 90 प्रतिशत से ज्‍यादा पतंग बनाने व कबाड़ का काम गुजरात में मुसलमान कर रहा है, लेकिन वो वही पुरानी चीजें करता था। वो पतंग अगर उसको तय तीन कलर का बनाना है तो तीन कलर के कागज लाता था पेस्टिंग करता था और फिर पतंग बनाता था। अब दुनिया बदल चुकी है तीन कलर का कागज प्रिंट हो सकता है, टाइम बच सकता है। तो मैंने चेन्‍नई की एक Institute को काम दिया कि जरा सर्वे किजिए कि इनकी मुसीबत क्‍या है, कठिनाईयां क्‍या है, अनुभव ये आया कि छोटे-छोटे लोगों को थोड़ी मदद दी जाए थोड़ा Skill Development हो जाए, थोड़ी पैकेजिंग सिखा दिया जाए, आप उसमें कितना बड़ा बदलाव ला सकते है। मुझे आज कहने से आनंद होता है कि जो करीब 35 करोड़ का पतंग का बिजनेस था थोड़ी मदद की वो पतंग का उद्योग 500 करोड़ cross कर गया था।

फिर मेरी उसमें जरा रूचि बढ़ने लगी तो मैं कई चीजे नई-नई करने लगा। बांस, बांस वो लाते थे असम से। कारण क्‍या तो पतंग में जिस बांस के पट्टे की जरूरत होती है वो साइज का बांस गुजरात में होता नहीं था तो मैंने ये जेनेटिक इंजीनियरिंग वालों को पकड़ा। मैंने कहा बांस हमारे यहां ऐसा क्‍यों न हो दो गांठ के बीच अंतर ज्‍यादा हो ताकि वो हमारा ही लोकल बांस का product उसको काम आ जाए। बांस वो बाहर से लाता है तो उसको फाइनेंस की व्‍यवस्‍था हो फिर मैंने एडवरटाइजमेंट कम्‍पनी को बुलाया। मैंने कहा जरा पतंग वालों के साथ बैठो पतंग के ऊपर कोई एडवरटाइजमेंट का काम हो सकता है क्‍या उनकी कमाई बढ़ सकती है।

छोटी-छोटी चीजों को मैंने इतना ध्‍यान दिया था और मुझे उतना आनंद आया था उस काम में - I’m Talking about 2003-04 - कहने का मेरा तात्‍पर्य यह था कि जो बिल्‍कुल उपेक्षित सा काम था उसमें थोड़ा ध्‍यान दिया गया, फाइनेंस की व्‍यवस्‍था की गई, उसने तेज गति से आगे बढ़ाया। ये ताकत सब दूर है। आप देखिए हर गांव में दो-चार मुसलमान बच्‍चे ऐसे होंगे, इतनें Innovative होते है technology में ईश्‍वरदत्‍त उनको कृपा है। वो तुरंत चीजों को पकड़ लेते है। आप एक ताला उसको रिपेयर करने को दीजिए वो दूसरे दिन वो ताला वैसा बना के दे देगा। जिनके हाथों में ये परम्‍परागत कौशल है। ऐसे लोगों को अगर हम मदद करें और वो कुछ गिरवी रखें तब मिले तो उसके पास तो गिरवी रखने के लिए कुछ नहीं है - सिवाय कि उसका ईमान। उसकी सबसे बड़ी पूंजी है उसका ईमान। ये गरीब इंसान की जो पूंजी है, ईमान। उस पूंजी के साथ मुद्रा अपनी पूंजी जोड़ना चाहता है, ताकि वो सफलता की कुंजी बन जाए और उस दिशा में हम काम करना चाहते है।

कुम्‍हार है, अब बिजली गांव में पहुंच गई है। वो भी चाहता है कि मैं मटकी बनाता हूं और चीजें बनाता हूं। लेकिन अगर Electric motor लग जाए तो मेरा काम तेज हो जाएगा। लेकिन Electric motor खरीदने के लिए पैसा नहीं है। बैंक के लिए उनके पास इतना समय भी नहीं है और उतना नेटवर्क भी नहीं है। लेकिन मैं आज, यहां बैंक के बड़े-बड़े लोग बैठे है। मेरे शब्‍द लिख करके रखिए। एक साल के बाद बैंक वाले Queue लगाएगें मुद्रा वालों के यहां और कहेंगे भई 50 लाख हमको client दे दीजिए।

क्‍योंकि अब देखिए प्रधानमंत्री जन-धन योजना में हिन्‍दुस्‍तान की बैंक सेक्‍टर ने जो काम किया है, मैं जितना अभिनंदन करूं उतना कम है जी, जितना अभिनंदन करूं उतना कम है। कोई सोच नहीं सकता था, क्‍योंकि बैंक के संबंध में एक सोच बनी हुई थी कि बैंक यानी इस दायरे से नीचे नहीं जा सकते। तो बैंक के लोगों ने गर्मी के दिनों में गांव-गांव घर-घर जा करके गरीब की झोपड़ी में जा करके उसको देश की फाइनेंस की Main Stream में लाने का प्रयास किया और इस देश के 14 करोड़ लोगों को, 14 करोड़ लोगों को बैंक खाते से जोड़ दिया। तो ये ताकत हमने अनुभव की है तो उसका ये अलग एक नया step है।

आज वैसे एक ओर भी अवसर है SIDBI का रजत जयंती वर्ष है SIDBI 25 साल की उम्र हो गई और मूलतः SIDBI का कारोबार इसी काम से शुरू हुआ था, छोटे-छोटे लोगों को... लेकिन जितनी तेजी से क्योंकि भारत देश rhythmic way में progress करे तो अपेक्षाएं पूरी नहीं होंगी। हमने उस rhythm को बदलकर के jump लगाने की जरूरत है। हमने दायरा बढ़ाने की जरूरत है। हमने अधिक लोगों को इसके अंदर जोड़ने की आवश्यकता है और सामान्य मानवी का अपना अनुभव है।

आप देखिए हिंदुस्तान में जहां भी women self help group चलते हैं, पैसों के विषय में शायद ऐसी ईमानदारी कहीं देखने को मिलेगी नहीं। उनको अगर 5 तारीख को पैसा जमा करवाना है तो 1 तारीख को जाकर के जमा करवाकर आ जाती हैं। बचत हमारे यहां स्वभाव है, उसको और जरा ताकत देने की आश्यकता है। हमारी परंपरागत वो शक्ति है।

मुद्रा बैंक के माध्यम से व्यवसाय के क्षेत्र में, स्वरोजगार के क्षेत्र में, उद्योग के क्षेत्र में जो निचले तबके पर आर्थिक व्यवस्था में रहे हुए लोग हैं, वे हमारा सबसे बड़ा client, हमारा सबसे बड़ा target group है। हम उसी पर focus करना चाहते हैं। इन 5 करोड़ 75 लाख जो छोटे व्यापारी हैं... और उनका average कर्ज कितना है? पूरे हिंदुस्तान में 11 लाख करोड़ की उनके पास पूंजी है total पूरे देश में कोई ज्यादा amount नहीं है वो और average कर्ज निकाला जाए तो एक यूनिट का average कर्ज 17 thousand है सिर्फ। 17 thousand हैं, यानि कुछ नहीं है। अगर उसको एक लाख के कर्ज की ताकत दे दी जाए। उसको इतना अगर जोड़ दिया जाए और ये 11 लाख करोड़ है वो एक करोड़ तक अगर पहुंच जाए। हम कल्पना कर सकते हैं देश की economy को GDP को, नीचे से ताकत देने का इतना बड़ा force जो कि कभी untapped था।

और इसलिए जब हम प्रधानमंत्री जन-धन योजना लेकर के आए थे तब हमने कहा था, जहां बैंक नहीं उसको बैंक से जोड़ेंगे। आज जब हम मुद्रा लेकर के आए हैं, तो हमारा मंत्र है जिसको funding नहीं हो रहा है, जो un-funded है, उसको funding करने का हम बीड़ा उठाते हैं।

ये एक ऐसी व्यवस्था है, जिसमें शुरू के समय में सामान्य व्यक्ति जाएगा ये संभव नहीं है क्योंकि बेचारों को अनुभव बहुत खराब है। वो कहता है भई मुझे तो साहूकार से ही पैसा लेना पड़ता है। 24 percent, 30 percent interest देना पड़ता है, वो ही मुझे आदत हो गई है। वो विश्वास नहीं करेगा कि उसको इस प्रकार से ऋण मिल सकता है। हम ये एक नया विश्वास पैदा करना चाहते हैं कि आप देश के लिए काम कर रहे हो, देश के विकास के भागीदार हो, देश आपके लिए चिंता करने के लिए तैयार है। ये message मुझे देना है।

और ये मुद्रा के concept के द्वारा, उसी दिशा में हम आगे बढ़ना चाहते हैं। हमारे देश में agriculture sector में value addition - इतनी बड़ी संभावनाएं हैं। अगर उसकी एक विधा को develop कर दिया जाए तो हमारे किसान को कभी संकटों से गुजरना नहीं पड़ेगा। और ये छोटे-छोटे entrepreneur के माध्यम से ये पूरा network खड़ा किया जा सकता है जो सामान्य किसान, जो सामान्य पैदावार करता है, उसमें value addition का काम करे। और स्थानीय स्तर पर करे। कोई बहुत बड़ी व्यवस्था की आवश्यकता नहीं है। अपने आप उसका काम आगे बढ़ जाएगा।

और हम देखते हैं आम उसको बेचना है, तो बेचारे को बड़ा कम पैसा मिलता है लेकिन एक अगर एक छोटा सा unit भी हो, आम में से अचार बना दे तो ज्यादा पैसा मिलता है और अचार को भी अच्छा बढ़िया bottle में packing करे और ज्यादा पैसा मिलता है और कोई नटी bottle लेकर खड़ी हो जाए तो और ज्यादा पैसा मिलता है advertising होता है तो।

यानि वक्त बदल चुका है, branding, advertising इन सारी चीजों की जरूरत पड़ गई है। हम ऐसे छोटे-छोटे लोगों को ताकत देना चाहते हैं। और उनको अगर ताकत मिलती है तो देश की economy की नीचे की धरातल, जितनी ज्यादा मजबूत होगी, उतनी देश की economy को लाभ होने वाला है। और जब मैंने ये आकड़े बताए तो आप भी चौंक गए होगे कि इतना बड़ा तामझाम सवा करोड़ लोग रोजगार पाते है। और जिसकी ओर कोई देखता नहीं है, वो 12 करोड़ लोगों के पेट भरता है। कितना बड़ा अंतर है। ये जो 12 करोड़ लोग है 25 करोड़ को रोजगार देने की ताकत देते है। वो Potential पड़ा है। और ज्‍यादा कोई शासकीय व्‍यवस्‍था में बड़े बदलाव की भी जरूरत नहीं है। थोड़ी संवदेनशीलता चाहिए, थोड़ी समझ चाहिए और थोड़ा Pro-Active role चाहिए।

मुद्रा एक ऐसा platform खड़ा किया गया है, जिस platform के साथ इसको... आज छोटी-मोटी finance की व्‍यवस्‍थाएं चल पड़ी है। दुनिया में कई जगह पर प्रयोग हुए है Micro finance के। लिए मैं चाहूंगा कि हम पूरे विश्‍व में Micro finance के जो Successful Model है हम भी उसका अध्‍ययन करें। उसकी जो अच्‍छाइयां है जो हमारे लिए suitable है, हम उसको adopt करें। और हिन्‍दुस्‍तान इतना बड़ा देश है कि जो चीज नागालैंड में चलती है वो महाराष्‍ट्र में चलेगी जरूरी नहीं है। विविधता चाहिए। और विविधताओं के अनुसार स्‍थानीय आवश्‍यकताओं के अनुसार अपने मॉडल बनाएं उसकी requirement करें। वरना हम दिल्‍ली में बैठ करके tailor के लिए ये और फिर कहेंगे कि तुमको ये मिलेगा तो मेल नहीं बैठेगा। वो वहां है उसी को पूछना पड़ेगा कि भई बताओं तुम्‍हारे लिए क्‍या जरूरत है? ये अगर हमने कर दिया तो हम बहुत बड़ी मात्रा में समाज के इस नीचे के तबके को मदद कर सकते है।

जिस प्रकार से सामान्‍य व्‍यक्ति की चिंता करना ये हमारा प्रयास है... और आपने इस सरकार के एक-एक कदम देखें होंगे, गतिशीलता तो आप देखते ही होंगे। वरना सामान्‍यत: देश में योजनाओं की घोषणा को ही काम माना जाता था और आप रोज नई योजना की घोषणा करो तो अखबार के आधार पर देश को समझने वाले जो लोग है वो तो यही मानते है कि वाह देश बहुत आगे बढ़ गया। और दो-चार साल के बाद देखते है कि वही कि वही रह गए। हमारी कोशिश है योजनाओं को धरती पर उतारना।

प्रधानमंत्री जन-धन योजना ये सीधा-सीधा दिखता है। पहल योजना - दुनिया में सबसे बड़ा Cash Transfer का काम। गैस सब्सिडी में। 13 करोड़ लोगों के गैस सब्सिडी सिलेंडर, सब्सिडी सीधी उसके बैंक खाते में चली गई। यानी अगर एक बार निर्णय करें कि इस काम पूरा करना है और हर काम को आप देखिए... जब हमने 15 अगस्‍त को प्रधानमंत्री जन-धन योजना की बात कही करीब-करीब सवा सौ दिन के अंदर उस काम को पूरा कर दिया।

जब हम प्रधानमंत्री जन-धन योजना के बाद हम आगे बढ़े सौ दिन के भीतर-भीतर हमने पहल का काम पूरा कर दिया।

और आज जब बजट के अंदर घोषणा हुई, 50 दिन भी नहीं हुए, वो आज योजना आपके सामने रख दी। और ये Functional होगी और उसका परिणाम मैं कहता हूं एक साल मैं ज्‍यादा समय नहीं कहता। एक साल के भीतर-भीतर हमारी जो Established Banking System है, वो मुद्रा के मॉडल की ओर जाएगी मैं दावे से कहता हूं क्‍योंकि इसकी ताकत इसकी ताकत पहचान में आने वाली है। वे अपना एक लचीली बैंकिंग व्‍यवस्‍था खड़ी करेंगे, एक बहुत बड़ी ऑफिस चाहिए, कोई एयरकंडीशन चाहिए कोई जरूरत नहीं है। ऐसे Bare footed बैंकरर्स तैयार हो सकते है जो मुद्रा के मॉडल पर बड़ी-बड़ी बैंकों का काम भी कर सकते है।

आने वाले दिनों में कम से कम धन लगा करके भी ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों को रोजगार देने का काम इसके साथ सरलता से हो सकता है और ये लोग जो संकट से गुजरते है, ब्‍याज के चक्‍कर में गरीब आदमी मर जाता है। उसको बचाना है और उसकी जो ताकत है उसके लिए अवसर देना है उस अवसर की दिशा में काम कर रहे है, जिस प्रकार से देश में ये जो वर्ग है उसकी जितनी चिंता करते है, उतनी ही देश के किसान की चिंता करना उतना ही जरूरी है।

किसी न किसी कारण से देश का किसान प्राकृतिक संकटों से जूझ रहा है। गत वर्ष, वर्षा कम हुई। वर्षा कम होने के कारण वैसे ही किसान मुसीबत से गुजारा कर रहा था और इस बार जितनी मात्रा में बेमौसमी वर्षा और ओले गिरना। इतनी तबाही हुई है किसान की। हमने मंत्रियों को भेजा था। खेतों में जा करके किसानों से बात करके परिस्थिति का जायजा लिया। कल इन सारे मंत्रियों से मैंने डिटेल में रिपोर्ट ली थी। इन किसानों को हम क्या मदद कर सकते हैं। और मैंने पहले दिन कहा था कि किसान को इस मुसीबत से बचाना, उसका साथ देना, उसको संकटों से बाहर लाना। ये सरकार की, समाज की, हम सबकी जिम्मेवारी है और किसान की चिंता करना ये आवश्यक है।

Natural calamity पहले भी आई है। लेकिन सरकार के जो parameter रहे हैं, उन parameters में आज के संकट में किसान को ज्यादा मदद नहीं मिल सकती है। और इसलिए ये संकट की व्यापकता इतनी है और उस समय है जबकि उसको फसल लेकर के बाजार में जाना था। एक प्रकार से उसके नोटों का बंडल ही जल गया, इस प्रकार से हम कह सकते हैं। इतना बड़ा उसका, उसका पूरा पसीना बहाया हुआ उसका, ये हालत हुई है। और इसलिए हमने insurance company को भी आदेश किया है कि बहुत ही proactive होकर के उनकी मदद की जाए। बैंकों को हमने आदेश किया है कि बैंक उनके जो कर्ज हैं, उनके संबंध में किस प्रकार से restructure करे ताकि उनको इस संकट से बाहर लाया जाए।

सरकार की तरफ से भी एक बहुत बड़ा अहम निर्णय हम करने जा रहे हैं। अब तक खेत में 50 प्रतिशत से ज्यादा अगर नुकसान हुआ हो, तभी वो उस मदद पाने की list में आता है। 50 प्रतिशत से ज्यादा अगर नुकसान हुआ होगा तभी आपको मदद मिल सकती है। अगर 50 प्रतिशत से कम हुआ है तो मदद नहीं मिल सकती है। राज्यों के मुख्यमंत्रियों का भी ये एक सुझाव था कि साहब ये norms बदलना चाहिए। हमारे मंत्री अभी जाकर के आए, उन्होंने प्रत्यक्ष देखा, और ये सब देखने के बाद एक बहुत बड़ा हमने एक महत्वपूर्ण निर्णय किया है कि अब किसान के वो जो 50 प्रतिशत के नुकसान वाला दायरा था उसको बदलकर के 33 percent भी अगर नुकसान हुआ है तो भी वो किसान हकदार बनेगा।

उसके कारण मुझे मालूम है बहुत बड़ा बोझ आने वाला है, बहुत बड़ा बोझ आने वाला है लेकिन किसान को 50 प्रतिशत वाले हिसाब में रखने से उसको ज्यादा लाभ नहीं मिलेगा। 33 percent जो कि कईयों की मांग थी, उसको हमने स्वीकार किया है।

दूसरा विषय है उसको जो मुआवजा दिया जाता है। देश में आजादी के बाद सबसे बड़ा निर्णय पहली बार हुआ है 50 प्रतिशत को 33 प्रतिशत लाना। और दूसरा महत्वपूर्ण आजादी के बाद इतना बड़ा jump नहीं लगाया है, किसानों को मदद करने में हम इतना बड़ा jump इस बार लगा रहे हैं। और आज उसको जो मदद करने के सारे parameters हैं, उसको अब डेढ़ गुना कर दिया जाएगा। अगर उसको नुकसान में पहले 100 रुपया मिलता था, 150 मिलेगा, लाख मिलता था तो डेढ़ लाख मिलेगा, उसकी मदद डेढ़ गुना कर दी जाएगी।

कभी हमारे यहां incremental होता था 5 percent, 2 percent, 50 प्रतिशत वृद्धि। और ये किसान को तत्काल मदद मिले। राज्यों ने सर्वे का काम किया है। भारत सरकार और राज्य सरकार मिलकर के उसको आगे बढ़ाएगी लेकिन मैं चाहता हूं हमारे देश के किसानों को जितनी मदद हो सके, उतनी मदद करने के लिए ये सरकार संकल्पबद्ध है। क्योंकि आर्थिक विकास की यात्रा में किसान का भी बहुत बड़ा योगदान है और हमारी जीवन नैया चलाने में भी किसान का बहुत बड़ा योगदान है। बैंक हो, insurance company हो, भारत सरकार हो, राज्य सरकार हो, हम सब मिलकर के किसान को इस संकट की घड़ी से हम बाहर लाएंगे। ऐसा मुझे पूरा विश्वास है।

फिर एक बार मैं SIDBI की इस रजत जयंती वर्ष के प्रारंभ पर उनको मैं बहुत-बहुत शुभकामना देता हूं और SIDBI आने वाले दिनों में नए लक्ष्य को लेकर के और नई ऊंचाइयों को पार करने में सफल होगा, ऐसी मेरी शुभकामनाएं हैं।

और मुद्रा platform प्रधानमंत्री मुद्रा योजना आने वाले दिनों में देश की आर्थिक, जो पक्की धरोहर है उसको जानदार बनाना, शानदार बनाने के काम में मुद्रा बहुत बड़ा role play करेगी। और ये पूंजी उसकी सफलत की कुंजी बने, ये मंत्र को हम चरितार्थ करेंगे। इसी एक शुभ आशय के साथ आज इस महत्वपूर्ण योजना को प्रारंभ करते हुए मुझे खुशी हो रही है, मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

धन्यवाद।

'മൻ കി ബാത്തിനായുള്ള' നിങ്ങളുടെ ആശയങ്ങളും നിർദ്ദേശങ്ങളും ഇപ്പോൾ പങ്കിടുക!
സേവനത്തിന്റെയും സമർപ്പണത്തിന്റെയും 20 വർഷങ്ങൾ നിർവ്വചിക്കുന്ന 20 ചിത്രങ്ങൾ
Explore More
ജമ്മു കശ്മീരിലെ നൗഷേരയിൽ ദീപാവലിയോടനുബന്ധിച്ച് ഇന്ത്യൻ സായുധ സേനയിലെ സൈനികരുമായി പ്രധാനമന്ത്രി നടത്തിയ ആശയവിനിമയം

ജനപ്രിയ പ്രസംഗങ്ങൾ

ജമ്മു കശ്മീരിലെ നൗഷേരയിൽ ദീപാവലിയോടനുബന്ധിച്ച് ഇന്ത്യൻ സായുധ സേനയിലെ സൈനികരുമായി പ്രധാനമന്ത്രി നടത്തിയ ആശയവിനിമയം
Over 130 cr Covid vaccine doses administered so far, says government

Media Coverage

Over 130 cr Covid vaccine doses administered so far, says government
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Double engine government doubles the speed of development works: PM Modi
December 07, 2021
പങ്കിടുക
 
Comments
Inaugurates AIIMS, Fertilizer Plant and ICMR Centre
Double engine Government doubles the speed of Developmental works: PM
“Government that thinks of deprived and exploited, works hard as well get results”
“Today's event is evidence of determination new India for whom nothing is impossible”
Lauds UP Government for the work done for the benefit of sugarcane farmers

Bharat Mata Ki-Jai, Bharat Mata Ki-Jai! I greet the divine people of Gorakhpur, the city of religion, spirituality and revolution. I pay my respects to Paramahansa Yogananda, Mahayogi Gorakhnath ji, respectable Hanuman Prasad Poddar ji, and die-hard revolutionary Pandit Ram Prasad Bismil and to this holy land. Today that moment has come for which all of you were waiting for the fertilizer factory and AIIMS for a long time. Many congratulations to all of you.

Present on the dais with me are Uttar Pradesh Governor Smt. Anandiben Patel, the popular Karmayogi Chief Minister of Uttar Pradesh, Yogi Adityanath ji, the Deputy Chief Ministers of Uttar Pradesh, Keshav Prasad Maurya and Dr. Dinesh Sharma, the president of the Uttar Pradesh unit of Bharatiya Janata Party, Shri Swatantradev Singh ji, national president of the Apna Dal and our colleague in the cabinet, Anupriya Patel ji, the President of Nishad Party, Sanjay Nishad ji, my colleague in the cabinet Shri Pankaj Choudhary ji, Ministers of Uttar Pradesh government Shri Jaipratap Singh ji, Shri Surya Pratap Shahi ji, Shri Dara Singh Chauhan ji, Swami Prasad Maurya ji, Upendra Tiwari ji, Satish Dwivedi ji, Jai Prakash Nishad ji, Ram Chauhan ji and Anand Swaroop Shukla ji, my colleagues in Parliament, members of the UP Legislative Assembly and Legislative Council, and my dear brothers and sisters who have come in large numbers to bless us!

When I came on stage, I was astonished looking at such a huge crowd and many of them who are far away perhaps might not even see or listen to me. People from far and wide are waving flags. Your love and blessings give energy and strength and inspire us to work for you. I came here five years ago to lay the foundation stone of AIIMS and fertilizer factory. You have given me the privilege of launching these two projects together today. The Regional Medical Research Center of ICMR has also got its new building today. I congratulate the people of UP very much.

Friends,

The launch of the fertilizer plant and AIIMS in Gorakhpur is sending out many messages. When there is a double engine government, then the work is also done with double the speed. When something is done with a good intention, then even disasters do not become a hindrance. When there is a government that cares about the poor, exploited and downtrodden and works hard for them, it leads to positive results. The event being held in Gorakhpur today is a proof of the fact that when a new India is determined then nothing is impossible.

Friends,

When you gave me the opportunity to serve in 2014, the fertilizer sector in the country was in a very bad shape. Major fertilizer factories of the country were closed for years and imports were increasing continuously. Another major problem was that the available fertilizer was secretly used for other purposes other than agriculture. Therefore, the shortage of urea used to hog the headlines and farmers had to bear sticks and bullets for fertilizer. We moved forward with a new resolve to extricate the country from that situation. We started working on three fronts simultaneously. To start with, we stopped the misuse of urea and made 100% neem coating of urea. Secondly, we gave soil health cards to crores of farmers so that they could identify the kind of fertilizers needed for their fields and thirdly, we emphasized on increasing the production of urea. We focused on reopening the closed fertilizer plants. Under this campaign, we selected four major fertilizer factories of the country, including this fertilizer plant in Gorakhpur. One has started working today and the rest will also be operational in the next few years.

Friends,

Another important thing has happened to start the Gorakhpur Fertilizer Plant. Just as Bhagiratha ji brought the River Ganga ji to earth from the heavens, similarly Urja Ganga has been used to bring fuel to this fertilizer plant. The Haldia-Jagdishpur pipeline has been laid under the PM Urja Ganga Gas Pipeline Project. Due to this pipeline, Gorakhpur Fertilizer Plant has not only started, but dozens of districts of Eastern India have started getting affordable piped gas.

Brothers and sisters,

While laying the foundation stone of the fertilizer plant, I had said that Gorakhpur would emerge as the pivot of development in this entire region because of this factory. Today I can see it come true. This fertilizer factory will not only give enough urea to many farmers of the state, but will also create thousands of new employment and self-employment opportunities in Purvanchal. Now a new possibility of economic development will emerge and many new businesses will start. Along with the ancillary industries associated with the fertilizer factory, the transportation and service sector will also get a boost.

Friends,

Gorakhpur Fertilizer Factory will play a huge role in making the country self-reliant in the production of urea. After the commissioning of five fertilizer plants being built in different parts of the country, 60 lakh tonnes of additional urea will be available. In other words, India will not have to send thousands of crores of rupees abroad; India's money will be spent in India only.

Friends,

We have realized the importance of self-sufficiency in fertilizers during the Corona crisis. Corona led to worldwide lockdowns, restriction of movement from one country to another and supply chains were interrupted. This led to a steep rise in the prices of fertilizers internationally. But our government, which is dedicated and sensitive to the farmers, ensured not to let the burden of the price rise of fertilizers in the world pass on to the farmers. We took the responsibility to see that farmers had minimum problems. You will be surprised to know my brothers and sisters that we needed to increase the subsidy to the farmers by more than 43,000 crore rupees due to increase in the prices of the NPK (Nitrogen, Phosphorus and Potassium) fertilizer in the world and we did it. Our government also increased the subsidy to urea by Rs 33,000 crore so that our farmers were not burdened with the escalating prices of fertilizer. While urea is being sold at Rs 60-65 per kg in the international market, there is an effort to provide urea 10 to 12 times cheaper to farmers in India.

Brothers and sisters,

Today, India spends thousands of crores of rupees every year to import edible oil. In order to change this situation, a national mission has been started for the production of sufficient edible oil in the country itself. India also spends 5-7 lakh crore rupees every year on import of crude oil for petrol and diesel. We are also trying to reduce the import of crude oil by emphasizing on ethanol and bio-fuel. This area of ​​Purvanchal is the stronghold of sugarcane farmers. Ethanol is turning out to be a much better source of income for sugarcane farmers than sugar. Several factories are being set up in Uttar Pradesh itself to make bio-fuel. Only 20 crore liters of ethanol from UP was supplied to oil companies before we formed the government. Today, the farmers of Uttar Pradesh alone are supplying almost 100 crore liters of ethanol to the oil companies. Earlier oil used to come from the Gulf andnow oil from (sugarcane) cropshas started coming. Today, I will appreciate the Yogi ji government for the unprecedented work for the sugarcane farmers in the past few years. Recently, remunerative price for sugarcane farmers has been increased to Rs.350 (per quintal). What the two previous governments paid to the sugarcane farmers in 10 years, Yogi ji's government has paid almost as much in its four-and-a-half years.

Brothers and sisters,

The real development is that which is balanced and which is beneficial for all. And this can be understood only by those who are sensitive and who care about the poor. For a long time, this huge region, including Gorakhpur, was dependent only on one medical college. The poor and middle class families had to go to Banaras or Lucknow for treatment. You know better than me the situation of meningitis in this region till five years ago. The research center which used to run in the medical college here did not even have its own building.

Brothers and sisters,

When you gave us the opportunity to serve, you see AIIMS coming up here. Not only this, the research center's own building is also ready. When I came to lay the foundation stone of AIIMS, I had said then that we would do our best to get this region rid of encephalitis. We worked on eliminating the causes of the outbreak of meningitis and also on its treatment. Today that hard work is visible on the ground. Today, the cases of encephalitis have reduced by almost 90 percent in seven districts of Gorakhpur and Basti division. We are succeeding in saving more and more lives of children who fall sick. The work done by the Yogi government in this regard is now being talked about internationally as well. With the new AIIMS and ICMR Research Center, the campaign to get rid of encephalitis will be further strengthened. This will also help UP a lot in the prevention of other infectious diseases and epidemics.

Brothers and sisters,

For any country to progress, it is very necessary that its health services should be affordable and accessible to all. Otherwise, I have also seen a lot of people traveling from one city to another, mortgaging their land and borrowing money from others for treatment. I am working hard to get every poor, downtrodden, oppressed, exploited, underprivileged, whatever class they belong to and in whatever area they live in to get out of this mess. Earlier it was thought that medical institutions like AIIMS are only meant for big cities,whereas our government is ensuring the best treatment, the biggest hospital to the farthest areas of the country. Can you imaginethere was only one AIIMS in the country since independence till the beginning of this century? Atal ji had sanctioned six more AIIMS during his tenure. Work is underway to build 16 new AIIMS across the country in the last seven years. Our goal is that every district of the country must have at least one medical college. I am happy that the work of medical colleges is progressing rapidly in many districts in UP also. And just now Yogi ji was describing in detail the progress of medical colleges.Recently, you gave me the opportunity to inaugurate nine medical colleges in UP simultaneously. It is the result of the top priority being given to health that UP is reaching the milestone of about 17 crore vaccination doses.

Brothers and sisters,

The health, convenience and prosperity of more than 130 crore countrymen is paramount to us, particularly for our mothers, sisters and daughters whose health and facilities received very little attention. In the past few years, our sisters have got pucca houses, toilets, which you people call 'Izzat Ghar',electricity, gas, water, nutrition, vaccination etc and their results are now visible. The recent Family Health Survey also points out many positive signs. For the first time in the country, the number of women has exceeded that of men. Better health facilities have also played a big role in this. In the last 5-6 years, the ownership of land and house of women has increased. Uttar Pradesh is among the top states in this regard. Similarly, there has been an unprecedented increase in the number of women using bank accounts and mobile phones.

Friends,

While talking to you today, I am reminded of the dubious attitude of the earlier governments and their apathy towards the people. I purposely want to mention this. Everyone knew the importance of the fertilizer plant of Gorakhpur for the farmers of this entire region and for employment here. But the earlier governments did not show any interest in starting it. Everyone knew that the demand for AIIMS in Gorakhpur was being raised for years. But those who were running the government before 2017 made all kinds of excuses in providing land for AIIMS. I rememberthe land for Gorakhpur AIIMS was allotted by the previous government very reluctantly andthat too out of compulsion.

Friends,

Today's event is also a befitting reply to those people who are very fond of questioning timings. When such projects are completed, years of hard work is involved in it. These people will never understand that the double engine government remained engaged in development and did not let the work stop even during the Corona crisis.

My dear brothers and sisters,

These people have abandoned the ideals of Lohia ji, Jai Prakash Narayan ji, the discipline of these great personalities long ago. Today the entire UP knows very well that those with red caps have been concerned with red beacons on their cars and they have nothing to do with your hardship. The red-cap people want power for scams, to fill their chests, for illegal occupations and to give free rein to the mafia. The red-cap people want to form the government to show favour to the terrorists and to get them out of jail. Therefore, remember, those wearing red caps are a red alert to UP, i.e., alarm bells!

Friends,

The sugarcane farmers of UP cannot forget the earlier government which was there before Yogi ji as they had a tough time in getting their dues. It used to take months before the amount was paid in installments. There were different types of games played and scams committed related to sugar mills. People of Purvanchal and UP know this very well.

Friends,

Our double engine government is committed to serving you and making your life easier. We do not want you to pass on the troubles that you have inherited to your children. We want to change this. The country has also seen those days of the earlier governments when the poor did not get food grains despite having plenty of it. Today our government has opened government godowns for the poor and Yogi ji is busy delivering food grains to every household. About 15 crore people of UP are getting its benefit. Recently, the PM Garib Kalyan Anna Yojana has been extended till Holi.

Friends,

Earlier, some districts of UP were VIP districts in the matter of power supply. Yogi ji has made every district of UP a VIP district by providing electricity. Today, every village is getting equal and abundant electricity under Yogi ji's government. Earlier governments had defamed UP by providing protection to criminals. Today mafias are in jail and investors are investing openly in UP. That's the double development of the double engine. Therefore, UP has faith in the double engine government. With the expectation that we will continue to receive your blessings, many congratulations to all of you once again! Speak loudly with me, Bharat Mata ki Jai! Bharat Mata ki Jai! Bharat Mata ki Jai! Thanks a lot.