பகிர்ந்து
 
Comments 2 Comments

उपस्थित सभी महानुभाव,

हमारे देश में एक अनुभव ये आता है कि बहुत सी चीजें Perception के आसपास मंडराती रहती है। और जब बारीकी से उसकी और देखें तो चित्र कुछ और ही नजर आता है। जैसे एक सामान्य व्यक्ति को पूछो तो उसको लगेगा कि “भई, ये जो बड़े-बड़े उद्योग हैं, बड़े-बड़े उद्योग घराने हैं, उससे रोजगार ज्यादा मिलता है।“ लेकिन अगर बारीकी से देखें तो चित्र कुछ और होता है, इसमें इतनी ज्यादा पूंजी लगी है। इतने सारे ताम-झांम, हवाबाजी, ये सब हम देखते आए हैं।

लेकिन अगर बारीकी से देखें तो ultimately हम विकास में हैं। रोजगार हमारी प्राथमिकता है और भारत जैसा देश जिसके पास Demographic dividend हो, जहां पर 65 प्रतिशत जनसंख्या 35 से कम आयु की हो, उस देश ने अपने विकास की जो भी नीतियां बनानी हो, उसके केंद्र में ये युवा शक्ति होना चाहिए। अगर वो बराबर match कर लिया, तो हम नई ऊंचाईयों को पार कर सकते हैं। ये जितने बड़-बड़े उद्योगों की हम चर्चा सुनते आए हैं, उसमें सिर्फ एक करोड़ 25 लाख लोगों को रोजगार मिलता है। सवा सौ करोड़ देश में सवा करोड़ लोगों को रोजगार, ये जो बहुत बड़े-बड़े लोग जिसके लिए दुनिया में चर्चा रहती है, आधा अखबार जिनसे भरा पडा रहता है, वो देते हैं।

लेकिन इस देश में छोटा-छोटा काम करने वाला व्यक्ति करीब 5 करोड़ 70 लाख लोग, 12 करोड़ लोगों को रोजगार देते हैं। उन सवा करोड़ को रोजगार देने के लिए बहुत सारी व्यवस्थाएं सक्रिय है। लेकिन 12 करोड़ लोगों को रोजगार देने वाले लोगों के लिेए थोड़ी सी हम मदद करें, तो कितना बड़ा फर्क आ सकता है इसका हम अंदाज कर सकते हैं। और इस 5 करोड़ 75 लाख इस क्षेत्र में काम करने वाले लोग हैं, जो स्वरोजगार एक प्रकार से हैं - दर्जी होंगे, कुम्हार होंगे, टायर का पंक्चर करने वाले लोग हैं, साइकिल की repairing करने वाले लोग हैं, अपनी एक ऑटो रिक्शा लेकर के काम करने वाले लोग हैं, सब्जी बेचने वाले, गरीब-गरीब लोग हैं। उनका पूरा जो कारोबार है, उसमें ज्यादा से ज्यादा हिसाब लगाएं जाएं, तो 11 लाख करोड़ रुपयों से ज्यादा उसमें पूंजी नहीं लगी है। यानी सिर्फ 11 लाख करोड़ रुपयों की पूंजी लगी है, 5 करोड़ 75 लाख उसका नेतृत्व कर रहे हैं, और 12 करोड़ लोगों का पेट भरते हैं।

ये बातें जब सामने आईं तो लगा कि देश में स्वरोजगारी के अवसर बढ़ाने चाहिए। देश की Economy को ताकत देने वाला जो नीचे पायरी पर जो लोग हैं, उनकी शक्ति को समझना चाहिए। और उनके लिए अवसर उपलब्ध कराने चाहिए और इस मूल चिंतन में से ये मुद्रा की कल्पना आई है। मेरा अपना एक अनुभव इसमें काम कर रहा था, क्योंकि सिर्फ आर्थिक जगत के लोगों के आंकड़ों के आधार पर निर्णय करना, इतना सरल नहीं होता है। लेकिन कभी-कभी अनुभव बहुत काम आता है।

मैं गुजरात में मुख्यमंत्री रहा तो मैंने पतंग उद्योग की तरफ थोड़ा ध्यान दिया। अब गुजरात में पतंग एक बड़ा त्‍योहार के रूप में मनाया जाता है, और ज्‍यादातर, अब वो पूरा Environment Friendly Industry है, Cottage Industry है। और लाखों की तादाद में गरीब मुसलमान उस काम में लगा हुआ है 90 प्रतिशत से ज्‍यादा पतंग बनाने व कबाड़ का काम गुजरात में मुसलमान कर रहा है, लेकिन वो वही पुरानी चीजें करता था। वो पतंग अगर उसको तय तीन कलर का बनाना है तो तीन कलर के कागज लाता था पेस्टिंग करता था और फिर पतंग बनाता था। अब दुनिया बदल चुकी है तीन कलर का कागज प्रिंट हो सकता है, टाइम बच सकता है। तो मैंने चेन्‍नई की एक Institute को काम दिया कि जरा सर्वे किजिए कि इनकी मुसीबत क्‍या है, कठिनाईयां क्‍या है, अनुभव ये आया कि छोटे-छोटे लोगों को थोड़ी मदद दी जाए थोड़ा Skill Development हो जाए, थोड़ी पैकेजिंग सिखा दिया जाए, आप उसमें कितना बड़ा बदलाव ला सकते है। मुझे आज कहने से आनंद होता है कि जो करीब 35 करोड़ का पतंग का बिजनेस था थोड़ी मदद की वो पतंग का उद्योग 500 करोड़ cross कर गया था।

फिर मेरी उसमें जरा रूचि बढ़ने लगी तो मैं कई चीजे नई-नई करने लगा। बांस, बांस वो लाते थे असम से। कारण क्‍या तो पतंग में जिस बांस के पट्टे की जरूरत होती है वो साइज का बांस गुजरात में होता नहीं था तो मैंने ये जेनेटिक इंजीनियरिंग वालों को पकड़ा। मैंने कहा बांस हमारे यहां ऐसा क्‍यों न हो दो गांठ के बीच अंतर ज्‍यादा हो ताकि वो हमारा ही लोकल बांस का product उसको काम आ जाए। बांस वो बाहर से लाता है तो उसको फाइनेंस की व्‍यवस्‍था हो फिर मैंने एडवरटाइजमेंट कम्‍पनी को बुलाया। मैंने कहा जरा पतंग वालों के साथ बैठो पतंग के ऊपर कोई एडवरटाइजमेंट का काम हो सकता है क्‍या उनकी कमाई बढ़ सकती है।

छोटी-छोटी चीजों को मैंने इतना ध्‍यान दिया था और मुझे उतना आनंद आया था उस काम में - I’m Talking about 2003-04 - कहने का मेरा तात्‍पर्य यह था कि जो बिल्‍कुल उपेक्षित सा काम था उसमें थोड़ा ध्‍यान दिया गया, फाइनेंस की व्‍यवस्‍था की गई, उसने तेज गति से आगे बढ़ाया। ये ताकत सब दूर है। आप देखिए हर गांव में दो-चार मुसलमान बच्‍चे ऐसे होंगे, इतनें Innovative होते है technology में ईश्‍वरदत्‍त उनको कृपा है। वो तुरंत चीजों को पकड़ लेते है। आप एक ताला उसको रिपेयर करने को दीजिए वो दूसरे दिन वो ताला वैसा बना के दे देगा। जिनके हाथों में ये परम्‍परागत कौशल है। ऐसे लोगों को अगर हम मदद करें और वो कुछ गिरवी रखें तब मिले तो उसके पास तो गिरवी रखने के लिए कुछ नहीं है - सिवाय कि उसका ईमान। उसकी सबसे बड़ी पूंजी है उसका ईमान। ये गरीब इंसान की जो पूंजी है, ईमान। उस पूंजी के साथ मुद्रा अपनी पूंजी जोड़ना चाहता है, ताकि वो सफलता की कुंजी बन जाए और उस दिशा में हम काम करना चाहते है।

कुम्‍हार है, अब बिजली गांव में पहुंच गई है। वो भी चाहता है कि मैं मटकी बनाता हूं और चीजें बनाता हूं। लेकिन अगर Electric motor लग जाए तो मेरा काम तेज हो जाएगा। लेकिन Electric motor खरीदने के लिए पैसा नहीं है। बैंक के लिए उनके पास इतना समय भी नहीं है और उतना नेटवर्क भी नहीं है। लेकिन मैं आज, यहां बैंक के बड़े-बड़े लोग बैठे है। मेरे शब्‍द लिख करके रखिए। एक साल के बाद बैंक वाले Queue लगाएगें मुद्रा वालों के यहां और कहेंगे भई 50 लाख हमको client दे दीजिए।

क्‍योंकि अब देखिए प्रधानमंत्री जन-धन योजना में हिन्‍दुस्‍तान की बैंक सेक्‍टर ने जो काम किया है, मैं जितना अभिनंदन करूं उतना कम है जी, जितना अभिनंदन करूं उतना कम है। कोई सोच नहीं सकता था, क्‍योंकि बैंक के संबंध में एक सोच बनी हुई थी कि बैंक यानी इस दायरे से नीचे नहीं जा सकते। तो बैंक के लोगों ने गर्मी के दिनों में गांव-गांव घर-घर जा करके गरीब की झोपड़ी में जा करके उसको देश की फाइनेंस की Main Stream में लाने का प्रयास किया और इस देश के 14 करोड़ लोगों को, 14 करोड़ लोगों को बैंक खाते से जोड़ दिया। तो ये ताकत हमने अनुभव की है तो उसका ये अलग एक नया step है।

आज वैसे एक ओर भी अवसर है SIDBI का रजत जयंती वर्ष है SIDBI 25 साल की उम्र हो गई और मूलतः SIDBI का कारोबार इसी काम से शुरू हुआ था, छोटे-छोटे लोगों को... लेकिन जितनी तेजी से क्योंकि भारत देश rhythmic way में progress करे तो अपेक्षाएं पूरी नहीं होंगी। हमने उस rhythm को बदलकर के jump लगाने की जरूरत है। हमने दायरा बढ़ाने की जरूरत है। हमने अधिक लोगों को इसके अंदर जोड़ने की आवश्यकता है और सामान्य मानवी का अपना अनुभव है।

आप देखिए हिंदुस्तान में जहां भी women self help group चलते हैं, पैसों के विषय में शायद ऐसी ईमानदारी कहीं देखने को मिलेगी नहीं। उनको अगर 5 तारीख को पैसा जमा करवाना है तो 1 तारीख को जाकर के जमा करवाकर आ जाती हैं। बचत हमारे यहां स्वभाव है, उसको और जरा ताकत देने की आश्यकता है। हमारी परंपरागत वो शक्ति है।

मुद्रा बैंक के माध्यम से व्यवसाय के क्षेत्र में, स्वरोजगार के क्षेत्र में, उद्योग के क्षेत्र में जो निचले तबके पर आर्थिक व्यवस्था में रहे हुए लोग हैं, वे हमारा सबसे बड़ा client, हमारा सबसे बड़ा target group है। हम उसी पर focus करना चाहते हैं। इन 5 करोड़ 75 लाख जो छोटे व्यापारी हैं... और उनका average कर्ज कितना है? पूरे हिंदुस्तान में 11 लाख करोड़ की उनके पास पूंजी है total पूरे देश में कोई ज्यादा amount नहीं है वो और average कर्ज निकाला जाए तो एक यूनिट का average कर्ज 17 thousand है सिर्फ। 17 thousand हैं, यानि कुछ नहीं है। अगर उसको एक लाख के कर्ज की ताकत दे दी जाए। उसको इतना अगर जोड़ दिया जाए और ये 11 लाख करोड़ है वो एक करोड़ तक अगर पहुंच जाए। हम कल्पना कर सकते हैं देश की economy को GDP को, नीचे से ताकत देने का इतना बड़ा force जो कि कभी untapped था।

और इसलिए जब हम प्रधानमंत्री जन-धन योजना लेकर के आए थे तब हमने कहा था, जहां बैंक नहीं उसको बैंक से जोड़ेंगे। आज जब हम मुद्रा लेकर के आए हैं, तो हमारा मंत्र है जिसको funding नहीं हो रहा है, जो un-funded है, उसको funding करने का हम बीड़ा उठाते हैं।

ये एक ऐसी व्यवस्था है, जिसमें शुरू के समय में सामान्य व्यक्ति जाएगा ये संभव नहीं है क्योंकि बेचारों को अनुभव बहुत खराब है। वो कहता है भई मुझे तो साहूकार से ही पैसा लेना पड़ता है। 24 percent, 30 percent interest देना पड़ता है, वो ही मुझे आदत हो गई है। वो विश्वास नहीं करेगा कि उसको इस प्रकार से ऋण मिल सकता है। हम ये एक नया विश्वास पैदा करना चाहते हैं कि आप देश के लिए काम कर रहे हो, देश के विकास के भागीदार हो, देश आपके लिए चिंता करने के लिए तैयार है। ये message मुझे देना है।

और ये मुद्रा के concept के द्वारा, उसी दिशा में हम आगे बढ़ना चाहते हैं। हमारे देश में agriculture sector में value addition - इतनी बड़ी संभावनाएं हैं। अगर उसकी एक विधा को develop कर दिया जाए तो हमारे किसान को कभी संकटों से गुजरना नहीं पड़ेगा। और ये छोटे-छोटे entrepreneur के माध्यम से ये पूरा network खड़ा किया जा सकता है जो सामान्य किसान, जो सामान्य पैदावार करता है, उसमें value addition का काम करे। और स्थानीय स्तर पर करे। कोई बहुत बड़ी व्यवस्था की आवश्यकता नहीं है। अपने आप उसका काम आगे बढ़ जाएगा।

और हम देखते हैं आम उसको बेचना है, तो बेचारे को बड़ा कम पैसा मिलता है लेकिन एक अगर एक छोटा सा unit भी हो, आम में से अचार बना दे तो ज्यादा पैसा मिलता है और अचार को भी अच्छा बढ़िया bottle में packing करे और ज्यादा पैसा मिलता है और कोई नटी bottle लेकर खड़ी हो जाए तो और ज्यादा पैसा मिलता है advertising होता है तो।

यानि वक्त बदल चुका है, branding, advertising इन सारी चीजों की जरूरत पड़ गई है। हम ऐसे छोटे-छोटे लोगों को ताकत देना चाहते हैं। और उनको अगर ताकत मिलती है तो देश की economy की नीचे की धरातल, जितनी ज्यादा मजबूत होगी, उतनी देश की economy को लाभ होने वाला है। और जब मैंने ये आकड़े बताए तो आप भी चौंक गए होगे कि इतना बड़ा तामझाम सवा करोड़ लोग रोजगार पाते है। और जिसकी ओर कोई देखता नहीं है, वो 12 करोड़ लोगों के पेट भरता है। कितना बड़ा अंतर है। ये जो 12 करोड़ लोग है 25 करोड़ को रोजगार देने की ताकत देते है। वो Potential पड़ा है। और ज्‍यादा कोई शासकीय व्‍यवस्‍था में बड़े बदलाव की भी जरूरत नहीं है। थोड़ी संवदेनशीलता चाहिए, थोड़ी समझ चाहिए और थोड़ा Pro-Active role चाहिए।

मुद्रा एक ऐसा platform खड़ा किया गया है, जिस platform के साथ इसको... आज छोटी-मोटी finance की व्‍यवस्‍थाएं चल पड़ी है। दुनिया में कई जगह पर प्रयोग हुए है Micro finance के। लिए मैं चाहूंगा कि हम पूरे विश्‍व में Micro finance के जो Successful Model है हम भी उसका अध्‍ययन करें। उसकी जो अच्‍छाइयां है जो हमारे लिए suitable है, हम उसको adopt करें। और हिन्‍दुस्‍तान इतना बड़ा देश है कि जो चीज नागालैंड में चलती है वो महाराष्‍ट्र में चलेगी जरूरी नहीं है। विविधता चाहिए। और विविधताओं के अनुसार स्‍थानीय आवश्‍यकताओं के अनुसार अपने मॉडल बनाएं उसकी requirement करें। वरना हम दिल्‍ली में बैठ करके tailor के लिए ये और फिर कहेंगे कि तुमको ये मिलेगा तो मेल नहीं बैठेगा। वो वहां है उसी को पूछना पड़ेगा कि भई बताओं तुम्‍हारे लिए क्‍या जरूरत है? ये अगर हमने कर दिया तो हम बहुत बड़ी मात्रा में समाज के इस नीचे के तबके को मदद कर सकते है।

जिस प्रकार से सामान्‍य व्‍यक्ति की चिंता करना ये हमारा प्रयास है... और आपने इस सरकार के एक-एक कदम देखें होंगे, गतिशीलता तो आप देखते ही होंगे। वरना सामान्‍यत: देश में योजनाओं की घोषणा को ही काम माना जाता था और आप रोज नई योजना की घोषणा करो तो अखबार के आधार पर देश को समझने वाले जो लोग है वो तो यही मानते है कि वाह देश बहुत आगे बढ़ गया। और दो-चार साल के बाद देखते है कि वही कि वही रह गए। हमारी कोशिश है योजनाओं को धरती पर उतारना।

प्रधानमंत्री जन-धन योजना ये सीधा-सीधा दिखता है। पहल योजना - दुनिया में सबसे बड़ा Cash Transfer का काम। गैस सब्सिडी में। 13 करोड़ लोगों के गैस सब्सिडी सिलेंडर, सब्सिडी सीधी उसके बैंक खाते में चली गई। यानी अगर एक बार निर्णय करें कि इस काम पूरा करना है और हर काम को आप देखिए... जब हमने 15 अगस्‍त को प्रधानमंत्री जन-धन योजना की बात कही करीब-करीब सवा सौ दिन के अंदर उस काम को पूरा कर दिया।

जब हम प्रधानमंत्री जन-धन योजना के बाद हम आगे बढ़े सौ दिन के भीतर-भीतर हमने पहल का काम पूरा कर दिया।

और आज जब बजट के अंदर घोषणा हुई, 50 दिन भी नहीं हुए, वो आज योजना आपके सामने रख दी। और ये Functional होगी और उसका परिणाम मैं कहता हूं एक साल मैं ज्‍यादा समय नहीं कहता। एक साल के भीतर-भीतर हमारी जो Established Banking System है, वो मुद्रा के मॉडल की ओर जाएगी मैं दावे से कहता हूं क्‍योंकि इसकी ताकत इसकी ताकत पहचान में आने वाली है। वे अपना एक लचीली बैंकिंग व्‍यवस्‍था खड़ी करेंगे, एक बहुत बड़ी ऑफिस चाहिए, कोई एयरकंडीशन चाहिए कोई जरूरत नहीं है। ऐसे Bare footed बैंकरर्स तैयार हो सकते है जो मुद्रा के मॉडल पर बड़ी-बड़ी बैंकों का काम भी कर सकते है।

आने वाले दिनों में कम से कम धन लगा करके भी ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों को रोजगार देने का काम इसके साथ सरलता से हो सकता है और ये लोग जो संकट से गुजरते है, ब्‍याज के चक्‍कर में गरीब आदमी मर जाता है। उसको बचाना है और उसकी जो ताकत है उसके लिए अवसर देना है उस अवसर की दिशा में काम कर रहे है, जिस प्रकार से देश में ये जो वर्ग है उसकी जितनी चिंता करते है, उतनी ही देश के किसान की चिंता करना उतना ही जरूरी है।

किसी न किसी कारण से देश का किसान प्राकृतिक संकटों से जूझ रहा है। गत वर्ष, वर्षा कम हुई। वर्षा कम होने के कारण वैसे ही किसान मुसीबत से गुजारा कर रहा था और इस बार जितनी मात्रा में बेमौसमी वर्षा और ओले गिरना। इतनी तबाही हुई है किसान की। हमने मंत्रियों को भेजा था। खेतों में जा करके किसानों से बात करके परिस्थिति का जायजा लिया। कल इन सारे मंत्रियों से मैंने डिटेल में रिपोर्ट ली थी। इन किसानों को हम क्या मदद कर सकते हैं। और मैंने पहले दिन कहा था कि किसान को इस मुसीबत से बचाना, उसका साथ देना, उसको संकटों से बाहर लाना। ये सरकार की, समाज की, हम सबकी जिम्मेवारी है और किसान की चिंता करना ये आवश्यक है।

Natural calamity पहले भी आई है। लेकिन सरकार के जो parameter रहे हैं, उन parameters में आज के संकट में किसान को ज्यादा मदद नहीं मिल सकती है। और इसलिए ये संकट की व्यापकता इतनी है और उस समय है जबकि उसको फसल लेकर के बाजार में जाना था। एक प्रकार से उसके नोटों का बंडल ही जल गया, इस प्रकार से हम कह सकते हैं। इतना बड़ा उसका, उसका पूरा पसीना बहाया हुआ उसका, ये हालत हुई है। और इसलिए हमने insurance company को भी आदेश किया है कि बहुत ही proactive होकर के उनकी मदद की जाए। बैंकों को हमने आदेश किया है कि बैंक उनके जो कर्ज हैं, उनके संबंध में किस प्रकार से restructure करे ताकि उनको इस संकट से बाहर लाया जाए।

सरकार की तरफ से भी एक बहुत बड़ा अहम निर्णय हम करने जा रहे हैं। अब तक खेत में 50 प्रतिशत से ज्यादा अगर नुकसान हुआ हो, तभी वो उस मदद पाने की list में आता है। 50 प्रतिशत से ज्यादा अगर नुकसान हुआ होगा तभी आपको मदद मिल सकती है। अगर 50 प्रतिशत से कम हुआ है तो मदद नहीं मिल सकती है। राज्यों के मुख्यमंत्रियों का भी ये एक सुझाव था कि साहब ये norms बदलना चाहिए। हमारे मंत्री अभी जाकर के आए, उन्होंने प्रत्यक्ष देखा, और ये सब देखने के बाद एक बहुत बड़ा हमने एक महत्वपूर्ण निर्णय किया है कि अब किसान के वो जो 50 प्रतिशत के नुकसान वाला दायरा था उसको बदलकर के 33 percent भी अगर नुकसान हुआ है तो भी वो किसान हकदार बनेगा।

उसके कारण मुझे मालूम है बहुत बड़ा बोझ आने वाला है, बहुत बड़ा बोझ आने वाला है लेकिन किसान को 50 प्रतिशत वाले हिसाब में रखने से उसको ज्यादा लाभ नहीं मिलेगा। 33 percent जो कि कईयों की मांग थी, उसको हमने स्वीकार किया है।

दूसरा विषय है उसको जो मुआवजा दिया जाता है। देश में आजादी के बाद सबसे बड़ा निर्णय पहली बार हुआ है 50 प्रतिशत को 33 प्रतिशत लाना। और दूसरा महत्वपूर्ण आजादी के बाद इतना बड़ा jump नहीं लगाया है, किसानों को मदद करने में हम इतना बड़ा jump इस बार लगा रहे हैं। और आज उसको जो मदद करने के सारे parameters हैं, उसको अब डेढ़ गुना कर दिया जाएगा। अगर उसको नुकसान में पहले 100 रुपया मिलता था, 150 मिलेगा, लाख मिलता था तो डेढ़ लाख मिलेगा, उसकी मदद डेढ़ गुना कर दी जाएगी।

कभी हमारे यहां incremental होता था 5 percent, 2 percent, 50 प्रतिशत वृद्धि। और ये किसान को तत्काल मदद मिले। राज्यों ने सर्वे का काम किया है। भारत सरकार और राज्य सरकार मिलकर के उसको आगे बढ़ाएगी लेकिन मैं चाहता हूं हमारे देश के किसानों को जितनी मदद हो सके, उतनी मदद करने के लिए ये सरकार संकल्पबद्ध है। क्योंकि आर्थिक विकास की यात्रा में किसान का भी बहुत बड़ा योगदान है और हमारी जीवन नैया चलाने में भी किसान का बहुत बड़ा योगदान है। बैंक हो, insurance company हो, भारत सरकार हो, राज्य सरकार हो, हम सब मिलकर के किसान को इस संकट की घड़ी से हम बाहर लाएंगे। ऐसा मुझे पूरा विश्वास है।

फिर एक बार मैं SIDBI की इस रजत जयंती वर्ष के प्रारंभ पर उनको मैं बहुत-बहुत शुभकामना देता हूं और SIDBI आने वाले दिनों में नए लक्ष्य को लेकर के और नई ऊंचाइयों को पार करने में सफल होगा, ऐसी मेरी शुभकामनाएं हैं।

और मुद्रा platform प्रधानमंत्री मुद्रा योजना आने वाले दिनों में देश की आर्थिक, जो पक्की धरोहर है उसको जानदार बनाना, शानदार बनाने के काम में मुद्रा बहुत बड़ा role play करेगी। और ये पूंजी उसकी सफलत की कुंजी बने, ये मंत्र को हम चरितार्थ करेंगे। इसी एक शुभ आशय के साथ आज इस महत्वपूर्ण योजना को प्रारंभ करते हुए मुझे खुशी हो रही है, मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

धन्यवाद।

20 ஆண்டுகள் சேவை மற்றும் அர்ப்பணிப்பை வரையறுக்கும் 20 படங்கள்
Explore More
’பரவாயில்லை இருக்கட்டும்’ என்ற மனப்பான்மையை விட்டு விட்டு “ மாற்றம் கொண்டு வரலாம்” என்று சிந்திக்கும் நேரம் இப்போது வந்து விட்டது : பிரதமர் மோடி

பிரபலமான பேச்சுகள்

’பரவாயில்லை இருக்கட்டும்’ என்ற மனப்பான்மையை விட்டு விட்டு “ மாற்றம் கொண்டு வரலாம்” என்று சிந்திக்கும் நேரம் இப்போது வந்து விட்டது : பிரதமர் மோடி
Forex reserves surge by $58.38 bn in first half of FY22: RBI report

Media Coverage

Forex reserves surge by $58.38 bn in first half of FY22: RBI report
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Double Engine Government of Uttar Pradesh is the result of decades of hard work of many Karma Yogis: PM
October 25, 2021
பகிர்ந்து
 
Comments
“In post-independence India, health infrastructure did not get the required attention for a very long time and citizens had to run from pillar to post for proper treatment, leading to worsening of the condition and financial strain”
“Government at the Center and in the state understands the pain of the poor, downtrodden, oppressed, backward and middle class”
“Through PM Ayushman Bharat Health Infrastructure Mission an entire ecosystem for services from treatment to critical research will be created in every corner of the country”
“PM Ayushman Bharat Health Infrastructure Mission, along with health, is also a medium of aatmnirbharta.”
“Heart of Kashi is the same, the mind is the same, but sincere efforts are being made to improve the body”
“Today, from technology to health, unprecedented facilities are being created in BHU. Young friends from all over the country are coming here for studies”

Har Har Mahadev!

May I start with your permission! Greetings to all the brothers and sisters of Kashi, the holy land of Har Har Mahadev, Baba Vishwanath and Mother Annapurna! Happy Diwali, Dev Deepawali, Annakoot, Bhai Duj, Prakashotsav and Chhath to all of you!

Governor of Uttar Pradesh Smt. Anandiben Patel ji, energetic Chief Minister of UP Yogi Adityanath ji, Union Health Minister Mansukh Mandaviya ji, other ministers of the UP government, our colleague at the Centre Mahendra Nath Pandey ji, state ministers Anil Rajbhar ji, Neelkanth Tiwari ji, Ravindra Jaiswal ji, other ministers, our colleagues in Parliament Smt Seema Dwivedi ji and B.P. Saroj ji, Mayor of Varanasi Smt Mridula Jaiswal ji, other public representatives, health professionals associated with district hospitals and medical institutes across the country and my brothers and sisters of Banaras.

The country achieved a major milestone of 100 crore vaccine doses in its fight against the corona pandemic. With the blessings of Baba Vishwanath, the unwavering glory of Maa Ganga and the unshakable faith of the people of Kashi, the campaign of free vaccine for all is progressing with success. I respectfully greet all of you. Sometime back today, I got the privilege of dedicating nine new medical colleges to Uttar Pradesh. This will greatly benefit crores of poor, Dalit-backward-exploited-deprived people of Purvanchal and the entire UP, all sections of society, and they will be spared from the troubles of visiting big hospitals in other cities.

Friends,

There is a verse:

मुक्ति जन्म महि जानि,ज्ञान खानिअघ हानि कर।

जहं बस सम्भु भवानि,सो कासी सेइअ कस न।।

That is, Shiva and Shakti reside in Kashi. Kashi, the powerhouse of knowledge, relieves us from both pain and suffering. Then what better place than Kashi to start such a mega plan related to health and such a huge resolution to get rid of diseases and sufferings? My brothers and sisters of Kashi, two big events are taking place from this platform. First, an Indian government scheme worth more than Rs. 64,000 crores for the entire country is being launched today from the holy land of Kashi. And secondly, projects worth thousands of crores of rupees for the development of Kashi and Purvanchal are being inaugurated. And if we add both these schemes, I can say that projects worth about 75,000 crore rupees are either being launched or dedicated. Mahadev's blessings are also there in these schemes being launched from Kashi. And where there is the blessing of Mahadev, then well-being and success is assured. And when Mahadev's blessings are there, then freedom from suffering is also inevitable.

Friends,

I have had the privilege of dedicating Ayushman Bharat Health Infrastructure Mission worth Rs. 64,000 crores to the nation from Kashi to strengthen the health infrastructure of the entire country including UP, to prepare ourselves better for the prevention of pandemics in future and to instill confidence and self-reliance in our health system up to the village and block level. Today infrastructure projects worth Rs 5,000 crore for Kashi have also been inaugurated. This includes projects for beautification of the Ghats, the cleanliness of Ganga and Varuna rivers, bridges, parking places and many other facilities in BHU. This festival of development in this festive season from Kashi to make life easy, healthy and prosperous will give new energy, strength and confidence to the entire country. Many congratulations to all the 130 crore countrymen living across the villages and cities, including Kashi!

Brothers and sisters,

Health is considered to be the basic basis of every action in our country. Investing for a healthy body has always been considered a good investment. But for long after independence, not much attention was paid to health facilities. The governments, which ruled for long in the country, neglected instead of developing the country's healthcare system. There was either no hospital in the villages and if there was one then there was no one to treat. There were no facilities for tests in the block-level hospitals. Even if the test was done, there were doubts about its accuracy. Upon reaching a district hospital, one used to be detected with a serious disease that required surgery. Since there were no such facilities for surgery, one had to rush to a bigger hospital which was crowded and there used to be a long waiting period. We are all witness to the fact that the patient and his entire family used to face a host of problems and as a result a serious illness would worsen and entail a financial burden on the poor.

Friends,

The huge gap in our healthcare system created an ever-lasting anxiety among the poor and middle class regarding treatment. The Ayushman Bharat Health Infrastructure Mission is a solution to these flaws of the country's healthcare system. Our health system is being prepared today so that we are ready and able to deal with any epidemic in future. Efforts are also made that the disease is detected early and there are no delays in the investigation. The goal is to strengthen the critical healthcare network from village to block, district, regional and national levels in the country in the next four-five years. Special focus is on the states which lack health facilities critically, particularly our North East and hilly states like Uttarakhand and Himachal.

Friends,

There are three major aspects of the Ayushman Bharat Health Infrastructure Mission to address the different gaps in the health sector of the country. The first relates to the creation of elaborate facilities for diagnostics and treatment. Under this, Health and Wellness Centers are being opened in villages and cities, where there will be facilities for early detection of diseases. Facilities like free medical consultations, free tests and free medicines will be available in these centers. If the disease is detected in time, then there are less chances of it getting malignant. More than 35,000 new beds will be prepared for the treatment of critical illnesses in more than 600 districts. Referral facilities will be provided in the remaining 125 districts. At the national level, a plan is afoot to develop necessary facilities in 12 central hospitals for training and other capacity building. Under this scheme, 15 emergency operation centers running 24x7 will also be created in the states to strengthen the surgery network.

Friends,

The second aspect of the scheme is related to the testing network for diagnosis of diseases. Under this mission, necessary infrastructure will be developed for the diagnosis and monitoring of diseases. Integrated Public Health Labs will be set up in 730 districts and Block Public Health Units in 3,500 identified blocks in the country. Five Regional National Centers for Disease Control, 20 Metropolitan Units and 15 BSL Labs will further strengthen this network.

Brothers and sisters,

The third aspect of this mission is the expansion and empowerment of epidemic related research institutions. At present, there are 80 viral diagnostics and research labs in the country. These will be improved further. Bio-safety level-3 labs are needed in epidemics. Therefore, 15 such new labs will be made operational. Apart from this, four new National Institutes of Virology and one National Institute for One Health are also being established in the country. The WHO's Regional Research Platform for South Asia will also strengthen this network of research. In short, a complete ecosystem from treatment to critical research will be developed in each and every part of the country through the Ayushman Bharat Health Infrastructure Mission.

Friends,

Well, this should have been done decades ago. But I do not need to describe the situation. We are continuously improving for the last seven years but now it needs to be done on a very large scale and with a very aggressive approach. A few days ago, I launched GatiShakti, a mega nationwide infrastructure program for the entire country, from Delhi. Today this second big mission worth 64,000 crore rupees for health is being launched from the land of Kashi to keep every citizen of the country healthy.

Friends,

When such a health infrastructure is developed, it not only improves the health service, it also creates a complete employment environment. Doctors, paramedics, labs, pharmacies, cleanliness, offices, travel and transport, food outlets and other such jobs are going to be created through this scheme. We have seen that if a big hospital is built, then a whole city settles around it which becomes the center of livelihood for the activities related to the hospital. It becomes the center of great economic activity. Hence, the Ayushman Bharat Health Infrastructure Mission is a medium of health as well as economic self-reliance. This is a part of the efforts being made for holistic healthcare. Holistic healthcare means it should be accessible and affordable to all. Holistic healthcare means where the focus is on health as well as wellness. Swachh Bharat Abhiyan, Jal Jeevan Mission, Ujjwala Yojana, Poshan Abhiyan, Mission Indradhanush, many such campaigns have saved crores of poor of the country from diseases. The Ayushman Bharat scheme has also provided free treatment to more than two crore poor people in the hospitals. Many problems related to treatment are being solved through the Ayushman Bharat Digital Mission.

Brothers and sisters,

For those who were in the government for long before us, healthcare had been a means of earning money and scams. They kept running away from the troubles of the poor. Today there is a government at the Center and in the state which understands the pain of the poor, downtrodden, oppressed, backward, middle class, everybody. We are working round the clock to improve health facilities in the country. Earlier, public money used to go into scams, and to the chests of such people, today money is being spent in mega projects. Therefore, today the country is also dealing with the biggest pandemic in history and is also building infrastructure worth lakhs of crores of rupees for a self-reliant India.

Friends,

While increasing the medical facilities, it is necessary that the number of doctors and paramedical staff is also increased in the same proportion. The speed with which new medical colleges are being opened in UP will have a great impact on the number of medical seats and doctors. Due to the increase in the number of seats, now the child of poor parents will also be able to dream of becoming a doctor and fulfill it.

Brothers and sisters,

The country is going to get many more doctors in the next 10-12 years than the number of doctors in the country in 70 years after independence. You can imagine the kind of work happening in the medical field in the country. When there are more doctors, they will be available easily in every nook and corner of the country. This is the new India which has moved beyond scarcities and is in the process to fulfill every aspiration.

Brothers and sisters,

What would be the situation in Kashi today had the pace of work continued in the same way as in the past in the country or in Uttar Pradesh? They had left the world's oldest city Kashi, a symbol of India's cultural heritage, on its own. Hanging electric wires, patchy roads, the plight of Ghats and the Ganges, jams, pollution, chaos was normal. Today the heart and soul of Kashi is the same, but sincere efforts are being made to improve its body. The amount of work done in Varanasi in the last seven years has not been done in the last several decades.

Brothers and sisters,

You have experienced jams in Kashi over the years in the absence of a Ring Road. Waiting for the opening of 'No Entry' had become a habit of the people of Banaras. Now with the opening of the Ring Road, one need not disturb the people of the city while traveling to Prayagraj, Lucknow, Sultanpur, Azamgarh, Ghazipur, Gorakhpur, Delhi, Kolkata, or anywhere in the country. Moreover, the Ring Road is now connected to the four-lane national highway till Birnon in Ghazipur. There are service road facilities at various places also. This has facilitated the movement in many villages as well as Prayagraj, Lucknow, Gorakhpur, Bihar and Nepal. This will not only make travel easier, business will get a boost and the transport cost will also come down.

Brothers and sisters,

Unless there is a dedicated infrastructure in the country, the pace of development remains incomplete. With the two new bridges on the Varuna River, it has become easier for dozens of villages to travel to the city. This will greatly facilitate the people of Prayagraj, Bhadohi and Mirzapur commuting to the airport. Those associated with the carpet industry will also be benefited. It will also facilitate devotees desiring to visit Maa Vindhyavasini by going to Mirzapur directly from the airport. Several projects related to roads, bridges and parking lots have been dedicated to the residents of Kashi today, which will make life easier in and around the city. The modern executive lounge at the railway station will further enhance the convenience of the passengers.

Friends,

Extensive work has been carried out in the last few years for the cleanliness and purity of Ganga ji, the result of which is in front of us today. Efforts are also being made to ensure that the dirty water from the houses does not enter the Ganges. Now a modern treatment plant has started functioning in Ramnagar to treat sewage flowing from five drains. As a result, more than 50,000 people are getting direct benefit. Along with Ganga ji, Varuna's cleanliness is also being prioritised. Varuna, a victim of neglect for a long time, was on the verge of losing her existence. The channelization plan was worked out to save Varuna. Today clean water is also reaching Varuna and 13 small and big drains are also being treated. Pathways, railings, lighting, pucca ghats, stairs, many such facilities are also being completed on both the banks of the Varuna.

Friends,

Kashi is an important center of spiritual as well as rural economy. Many facilities have been developed in the last few years to ensure the produce of the farmers of entire Purvanchal including Kashi to the markets of the country and abroad. Modern infrastructure from perishable cargo handling centers to packaging and processing has been developed here. As part of this, the Lal Bahadur Shastri Fruit and Vegetable Market has been modernized and renovated, which will be of great help to the farmers. With the construction of the Bio-CNG plant in Shahanshahpur, biogas along with thousands of metric tonnes of organic manure will also be available to the farmers.

Brothers and sisters,

A major achievement of Kashi in the past few years is the progress of BHU again towards excellence in the world. Unprecedented facilities from technology to health are being developed in BHU. Young people from all over the country are coming here for studies. The residential facilities that have been built here for hundreds of students will also prove to be helpful to them. The hostel facilities especially for hundreds of girl students will give further impetus in realizing the vision of Malviya ji. It will help us to realize his vision of providing higher and modern education to the daughters.

Brothers and sisters,

All these development projects are going to realize our resolve of self-reliance. Kashi and the entire region is known for its amazing clay artists, craftsmen and weavers who create magic on cloth. The production of Khadi and other cottage industries in Varanasi has increased by about 60 percent and sales by about 90 percent in the last five years due to the efforts of the government. Therefore, I would urge all the countrymen to take care of the Diwali of these companions as well. We have to be vocal for the local right from the decoration of our houses, to our clothes and Diwali lamps. If you make a lot of local purchases from Dhanteras to Diwali, everyone's Diwali will be filled with happiness. And when I talk about vocal for local, I have seen that our TV media only shows earthen lamps. Vocal for local is not limited only to lamps. It includes all products in which the sweat of my countrymen is there and has the fragrance of the soil of my country. And once it becomes our habit to buy the country-made products, then production will also increase and so will employment and the poorest of the poor will also get work. We can do this together and we can bring a big change with everyone's efforts.

Friends,

Once again, many congratulations to the entire country for the Ayushman Bharat Health Infrastructure Mission and to Kashi for many development projects. Once again many advance wishes to all of you for all the upcoming festivals. Thank you very much!