"સદીઓની ધીરજ, અગણિત બલિદાનો, ત્યાગ અને તપસ્યા પછી આપણા શ્રી રામ અહીં આવ્યા છે"
"22 મી જાન્યુઆરી 2024 એ કેલેન્ડરની માત્ર તારીખ નથી, તે નવા 'કાલ ચક્ર' ની ઉત્પત્તિ છે"
"હું ન્યાયની ગરિમા જાળવવા બદલ ભારતીય ન્યાયતંત્રનો આભાર માનું છું. ન્યાયનું પ્રતીક એવા ભગવાન રામનું મંદિર ન્યાયપૂર્ણ રીતે બાંધવામાં આવ્યું હતું"
"મારા 11 દિવસના ઉપવાસ અને વિધિમાં, મેં તે સ્થળોને સ્પર્શવાનો પ્રયાસ કર્યો હતો જ્યાં શ્રી રામ ચાલતા હતા"
"સમુદ્રથી લઈને સરયુ નદી સુધી, દરેક જગ્યાએ રામના નામની સમાન ઉત્સવની ભાવના પ્રચલિત છે"
"રામકથા અનંત છે અને રામાયણ પણ અનંત છે. રામના આદર્શો, મૂલ્યો અને ઉપદેશો બધે એક સરખા જ છે"
"આ રામના સ્વરૂપમાં રાષ્ટ્રીય ચેતનાનું મંદિર છે. ભગવાન રામ ભારતની આસ્થા, પાયો, વિચાર, કાયદો, ચેતના, વિચાર, પ્રતિષ્ઠા અને મહિમા છે"
"હું શુદ્ધ હૃદયથી અનુભવું છું કે સમયનું ચક્ર બદલાઈ રહ્યું છે. તે એક સુખદ સંયોગ છે કે આપણી પેઢીને આ નિર્ણાયક માર્ગના આર્કિટેક્ટ તરીકે પસંદ કરવામાં આવી છે"
"આપણે આગામી એક હજાર વર્ષ સુધી ભારતનો પાયો નાખવાનો છે"
"આપણે આપણી ચેતનાને દેવથી દેશ, રામથી રાષ્ટ્ર - દેવતાથી રાષ્ટ્ર સુધી વિસ્તૃત કરવાની છે"
"આ ભવ્ય મંદિર ભવ્ય ભારતના ઉદયનું સાક્ષી બનશે"
"આ ભારતનો સમય છે અને અમે આગળ વધી રહ્યા છીએ"

સિયાવર રામચંદ્ર કી જય

સિયાવર રામચંદ્ર કી જય

 

આદરણીય મંચ, તમામ સંતો અને ઋષિઓ, અહીં હાજર રહેલા અને વિશ્વના ખૂણે ખૂણે અમારી સાથે જોડાયેલા તમામ રામ ભક્તો, આપ સૌને વંદન, સૌને રામ-રામ.

આજે આપણા રામ આવી ગયા છે! સદીઓ સુધી રાહ જોયા પછી આપણા રામ આવી ગયા છે. સદીઓનું અભૂતપૂર્વ ધૈર્ય, અસંખ્ય ત્યાગ, બલિદાન અને તપસ્યા પછી આપણા ભગવાન રામનું આગમન થયું છે. આ શુભ અવસર પર આપ સૌને અને તમામ દેશવાસીઓને ખૂબ ખૂબ અભિનંદન.

હું હમણાં જ ગર્ભગૃહમાં દિવ્ય ચેતનાના સાક્ષી બન્યા પછી તમારી સમક્ષ હાજર થયો છું. કહેવા માટે ઘણું બધું છે... પણ મારું ગળું બંધ છે. મારું શરીર હજી પણ સ્પંદન કરે છે, મારું મન હજી પણ એ ક્ષણમાં લીન છે. આપણા રામલલ્લા હવે તંબુમાં નહીં રહે. આપણા રામલલ્લા હવે આ દિવ્ય મંદિરમાં રહેશે. હું દ્રઢપણે માનું છું અને અતૂટ વિશ્વાસ છે કે જે કંઈ પણ થયું છે, દેશ અને દુનિયાના ખૂણે ખૂણે રહેલા રામ ભક્તો તેને અનુભવતા જ હશે. આ ક્ષણ અલૌકિક છે. આ ક્ષણ સૌથી પવિત્ર છે અલૌકિક છે. આ વાતાવરણ, આ ઊર્જા, આ ક્ષણ... ભગવાન શ્રી રામના આશીર્વાદ આપણા બધા પર છે. 22 જાન્યુઆરી, 2024નો આ સૂર્ય અદ્ભુત આભા લઈને આવ્યો છે. 22 જાન્યુઆરી, 2024, કેલેન્ડર પર લખેલી તારીખ નથી. આ નવા સમય ચક્રની ઉત્પત્તિ છે. રામ મંદિરના ભૂમિપૂજન બાદ સમગ્ર દેશમાં ઉત્સાહ અને જોશ દરરોજ વધી રહ્યો હતો. નિર્માણ કાર્ય જોઈને દેશવાસીઓમાં દરરોજ એક નવો આત્મવિશ્વાસ પેદા થઈ રહ્યો હતો. આજે આપણને સદીઓની એ ધીરજનો વારસો મળ્યો છે, આજે આપણને શ્રી રામનું મંદિર મળ્યું છે. ગુલામીની માનસિકતા તોડીને ઉભરી રહેલું રાષ્ટ્ર, ભૂતકાળના દરેક ડંખમાંથી હિંમત લઈને આ રીતે નવો ઈતિહાસ રચે છે. આજથી હજાર વર્ષ પછી પણ લોકો આ તારીખ, આ ક્ષણ વિશે વાત કરશે. અને તે કેટલો મોટો આશીર્વાદ છે કે આપણે આ ક્ષણ જીવી રહ્યા છીએ અને તે ખરેખર બનતું જોઈ રહ્યા છીએ. આજે દિવસો, દિશાઓ, અંતર અને અંતર બધું જ દિવ્યતાથી ભરેલું છે. આ સમય સામાન્ય સમય નથી. આ અદમ્ય સ્મૃતિ રેખાઓ છે જે સમયના ચક્ર પર શાશ્વત શાહીથી અંકિત કરવામાં આવી છે.

મિત્રો,

આપણે બધા જાણીએ છીએ કે જ્યાં પણ રામનું કાર્ય થાય છે, ત્યાં પવનપુત્ર હનુમાન અવશ્ય હાજર હોય છે. તેથી હું રામભક્ત હનુમાન અને હનુમાનગઢીને પણ નમસ્કાર કરું છું. હું માતા જાનકી, લક્ષ્મણજી, ભરત-શત્રુઘ્ન, દરેકને નમન કરું છું. હું પવિત્ર અયોધ્યાપુરી અને પવિત્ર સરયુને પણ મારી શ્રદ્ધાંજલિ અર્પણ કરું છું. મને આ ક્ષણે એક દિવ્ય અનુભવ થઈ રહ્યો છે કે જેમના આશીર્વાદથી આ મહાન કાર્ય પૂર્ણ થયું છે... તે દિવ્ય આત્માઓ, તે દિવ્ય વ્યક્તિત્વો પણ આ સમયે આપણી આસપાસ હાજર છે. હું આ તમામ દિવ્ય ચેતનાઓને પણ કૃતજ્ઞતા સાથે નમન કરું છું. આજે હું ભગવાન શ્રી રામની માફી પણ માંગુ છું. આપણા પ્રયત્નોમાં, આપણા ત્યાગ અને તપમાં કંઈક તો કમી હોવી જોઈએ કે આપણે આટલી સદીઓ સુધી આ કામ ન કરી શક્યા. આજે એ ઉણપ દૂર થઈ ગઈ છે. મને વિશ્વાસ છે કે ભગવાન રામ આજે આપણને ચોક્કસ ક્ષમા કરશે.

મારા વ્હાલા દેશવાસીઓ,

ત્રેતામાં રામના આગમન પર તુલસીદાસજીએ લખ્યું છે - પ્રભુ બિલોકિ હર્ષે પુરબાસી. જનિત વિયોગ બિપતિ સબ નાસી. એટલે કે ભગવાનના આગમનને જોઈને અયોધ્યાના તમામ લોકો અને સમગ્ર દેશ આનંદથી ભરપૂર થયા છે લાંબા વિયોગથી જે આપત્તિઓ આવી હતી તેનો અંત આવ્યો. તે સમયે, તે વિયોગ માત્ર 14 વર્ષ માટે હતો, ત્યારે પણ તે ખૂબ જ અસહ્ય હતું. આ યુગમાં અયોધ્યા અને દેશવાસીઓએ સેંકડો વર્ષો સુધી વિયોગ સહન કર્યો છે. આપણી ઘણી પેઢીઓ વિયોગનો ભોગ બની છે. ભગવાન રામ ભારતના બંધારણમાં તેની પ્રથમ નકલમાં હાજર છે. બંધારણ અસ્તિત્વમાં આવ્યા પછી પણ ભગવાન શ્રી રામના અસ્તિત્વને લઈને દાયકાઓ સુધી કાનૂની લડાઈ ચાલી. હું ભારતીય ન્યાયતંત્રનો આભાર વ્યક્ત કરવા માંગુ છું, જેણે ન્યાયની ગરિમા જાળવી રાખી છે. ન્યાયનો પર્યાય ભગવાન રામનું મંદિર પણ ન્યાયબદ્ધ રીતે બનાવવામાં આવ્યું.

 

મિત્રો,

આજે ગામેગામ એક સાથે કીર્તન અને સંકીર્તન થઈ રહ્યા છે. આજે મંદિરોમાં ઉત્સવોનું આયોજન થઈ રહ્યું છે, સ્વચ્છતા અભિયાન ચલાવવામાં આવી રહ્યું છે. આખો દેશ આજે દિવાળીની ઉજવણી કરી રહ્યો છે. આજે સાંજે દરેક ઘરમાં રામ જ્યોતિ પ્રગટાવવાની તૈયારીઓ ચાલી રહી છે. ગઈકાલે, શ્રી રામના આશીર્વાદ સાથે, હું ધનુષકોડીમાં રામ સેતુના પ્રારંભિક બિંદુ અરિચલ મુનાઈ ખાતે હતો. ભગવાન રામ જ્યારે મહાસાગરને પાર કરવા નીકળ્યા તે ક્ષણે સમયનું ચક્ર બદલી નાખ્યું. એ ભાવનાત્મક ક્ષણને અનુભવવાનો મારો આ નમ્ર પ્રયાસ હતો. મેં ત્યાં ફૂલોથી પૂજા કરી. મારી અંદર એવો વિશ્વાસ જાગ્યો કે જે રીતે તે સમયે સમયચક્ર બદલાયું હતું, તેવી જ રીતે સમયચક્ર ફરી બદલાશે અને શુભ દિશામાં આગળ વધશે. મારા 11 દિવસના વ્રત-વિધિ દરમિયાન, મેં તે સ્થાનોના ચરણ સ્પર્શ કરવાનો પ્રયાસ કર્યો જ્યાં ભગવાન રામના ચરણ પડ્યા હતા. નાસિકનું પંચવટી ધામ હોય, કેરળનું પવિત્ર ત્રિપ્રયાર મંદિર હોય, આંધ્રપ્રદેશનું લેપાક્ષી હોય, શ્રીરંગમનું રંગનાથ સ્વામી મંદિર હોય, રામેશ્વરમનું શ્રી રામનાથસ્વામી મંદિર હોય કે ધનુષકોડી હોય... આ પવિત્ર ભાવનાથી હું ભાગ્યશાળી છું. કે મને સાગરથી સરયુ સુધીની મુસાફરી કરવાની તક મળી. સાગરથી સરયુ સુધી સર્વત્ર રામનામની સમાન ઉત્સવની ભાવના પ્રવર્તે છે. ભગવાન રામ ભારતના આત્માના દરેક કણ સાથે જોડાયેલા છે. રામ ભારતીયોના હૃદયમાં વસે છે. જો આપણે કોઈના અંતરાત્માને સ્પર્શ કરીશું, તો ભારતમાં ગમે ત્યાં, આપણને આ એકતાનો અનુભવ થશે, અને આ લાગણી દરેક જગ્યાએ જોવા મળશે. દેશને સમાયોજિત કરનારું આનાથી વધુ ઉત્તમ, શ્રેષ્ઠ, સૂત્ર શું હોઈ શકે?

 

મારા વ્હાલા દેશવાસીઓ!

મને દેશના ખૂણે-ખૂણે વિવિધ ભાષાઓમાં રામાયણ સાંભળવાની તક મળી છે, પરંતુ ખાસ કરીને છેલ્લા 11 દિવસમાં, મને વિવિધ રાજ્યોમાંથી, વિવિધ ભાષાઓમાં રામાયણ સાંભળવાનો લ્હાવો મળ્યો છે. રામની વ્યાખ્યા કરતી વખતે ઋષિઓએ કહ્યું છે – રમન્તે યસ્મિન્ ઇતિ રામઃ ॥ એટલે કે જેનામાં તલ્લીન થઈ જવાય છે તે રામ છે. તહેવારોથી લઈને પરંપરાઓ સુધી લોકોની યાદોમાં રામ દરેક જગ્યાએ હાજર છે. લોકોએ દરેક યુગમાં રામ જીવ્યા છે. દરેક યુગમાં લોકોએ પોતાના શબ્દોમાં અને પોતપોતાની રીતે રામને વ્યક્ત કર્યા છે. અને આ રામરાસ જીવનના પ્રવાહની જેમ અવિરત વહેતો રહે છે. પ્રાચીન કાળથી ભારતના દરેક ખૂણેથી લોકો રામરસની પૂજા કરતા આવ્યા છે. રામકથા અનંત છે, રામાયણ પણ અનંત છે. રામના આદર્શો, રામના મૂલ્યો, રામનો ઉપદેશ, સર્વત્ર સમાન છે.

પ્રિય દેશવાસીઓ,

આજે, આ ઐતિહાસિક સમયમાં, દેશ તે વ્યક્તિત્વોને પણ યાદ કરી રહ્યો છે, જેમના કાર્ય અને સમર્પણના કારણે આપણે આ શુભ દિવસો જોઈ રહ્યા છીએ. રામના આ કાર્યમાં અનેક લોકોએ ત્યાગ અને તપસ્યાનું પરાકાષ્ઠા બતાવ્યું છે. આપણે બધા એ અસંખ્ય રામ ભક્તો, એ અસંખ્ય કાર સેવકો અને એ અસંખ્ય સંતો અને મહાત્માઓના ઋણી છીએ.

 

મિત્રો,

આજનો પ્રસંગ માત્ર ઉજવણીની ક્ષણ નથી, પરંતુ સાથે સાથે ભારતીય સમાજની પરિપક્વતાની અનુભૂતિની પણ ક્ષણ છે. અમારા માટે આ માત્ર વિજયની તક નથી પણ નમ્રતાની પણ છે. વિશ્વનો ઈતિહાસ એ વાતનો સાક્ષી છે કે અનેક રાષ્ટ્રો પોતાના ઈતિહાસમાં ફસાઈ જાય છે. જ્યારે પણ આવા દેશોએ તેમના ઈતિહાસની ગૂંચવાયેલી ગાંઠો ખોલવાનો પ્રયાસ કર્યો ત્યારે તેમને સફળતા પ્રાપ્ત કરવામાં ભારે મુશ્કેલીનો સામનો કરવો પડ્યો. વાસ્તવમાં, ઘણી વખત પરિસ્થિતિઓ પહેલા કરતાં વધુ મુશ્કેલ બની હતી. પરંતુ જે ગંભીરતા અને લાગણી સાથે આપણા દેશે ઈતિહાસની આ ગાંઠ ખોલી છે, તે દર્શાવે છે કે આપણું ભવિષ્ય આપણા ભૂતકાળ કરતાં ઘણું સુંદર બનવાનું છે. એક સમય એવો પણ હતો જ્યારે કેટલાક લોકો કહેતા હતા કે રામ મંદિર બનશે તો આગ લાગી જશે. આવા લોકો ભારતની સામાજિક ભાવનાની પવિત્રતાને સમજી શક્યા નથી. રામલલ્લાના આ મંદિરનું નિર્માણ ભારતીય સમાજની શાંતિ, ધૈર્ય, પરસ્પર સૌહાર્દ અને સમન્વયનું પણ પ્રતિક છે. આપણે જોઈ રહ્યા છીએ કે આ બાંધકામ કોઈ અગ્નિને નહીં, પરંતુ ઊર્જાને જન્મ આપી રહ્યું છે. રામ મંદિરે સમાજના દરેક વર્ગને ઉજ્જવળ ભવિષ્યના માર્ગે આગળ વધવાની પ્રેરણા આપી છે. હું આજે એ લોકોને અપીલ કરીશ... આવો, તમે સમજો, તમારા વિચારો પર પુનર્વિચાર કરો. રામ અગ્નિ નથી, રામ ઊર્જા છે. રામ એ વિવાદ નથી, રામ એ ઉકેલ છે. રામ ફક્ત આપણા નથી, રામ દરેકના છે. રામ માત્ર હાજર નથી, રામ શાશ્વત છે.

 

મિત્રો,

આજે રામ મંદિર પ્રાણ પ્રતિષ્ઠાના આ પ્રસંગ સાથે આખું વિશ્વ જે રીતે જોડાયેલું છે, તેમાં રામની સર્વવ્યાપકતા જોવા મળી રહી છે. ઉજવણીઓ ઘણા દેશોમાં સમાન છે. આજે અયોધ્યાનો આ ઉત્સવ પણ રામાયણની તે વૈશ્વિક પરંપરાઓનો ઉત્સવ બની ગયો છે. રામલલ્લાની આ પ્રાણ પ્રતિષ્ઠા 'વસુધૈવ કુટુંબકમ'ના વિચારની પણ પ્રતિષ્ઠા છે.

 

મિત્રો,

આજે અયોધ્યામાં માત્ર શ્રી રામની મૂર્તિની જ પ્રાણ પ્રતિષ્ઠા કરવામાં આવી નથી. આ પણ ભારતીય સંસ્કૃતિમાં શ્રી રામના રૂપમાં પ્રગટ થયેલી અતૂટ શ્રદ્ધાની પ્રાણ પ્રતિષ્ઠા છે. તે માનવીય મૂલ્યો અને સર્વોચ્ચ આદર્શોની પણ પ્રાણ પ્રતિષ્ઠા છે. સમગ્ર વિશ્વને આજે આ મૂલ્યોની, આ આદર્શોની જરૂર છે. સર્વ ભવન્તુ સુખિન: આપણે સદીઓથી આ સંકલ્પોનું પુનરાવર્તન કરીએ છીએ. આજે એ જ ઠરાવ રામમંદિરના રૂપમાં નક્કર સ્વરૂપ ધારણ કરી ચૂક્યો છે. આ મંદિર માત્ર ભગવાનનું મંદિર નથી. આ ભારતની દ્રષ્ટિ, ભારતની ફિલસૂફી, ભારતની દિશાનું મંદિર છે. આ રામના રૂપમાં રાષ્ટ્રીય ચેતનાનું મંદિર છે. રામ ભારતની શ્રદ્ધા છે, રામ ભારતનો પાયો છે. રામ એ ભારતનો વિચાર છે, રામ એ ભારતનો કાયદો છે. રામ એ ભારતની ચેતના છે, રામ એ ભારતની વિચારસરણી છે. રામ ભારતની પ્રતિષ્ઠા છે, રામ ભારતનું ગૌરવ છે. રામ એ પ્રવાહ છે, રામ અસર છે. રામ નેતિ પણ છે. રામ નીતિ પણ છે. રામ પણ શાશ્વત છે. રામ પણ સાતત્ય છે. રામ વિભુ છે, વિશદ છે. રામ સર્વવ્યાપી, જગત, સર્વવ્યાપી આત્મા છે. અને તેથી, જ્યારે રામ પૂજનીય છે, ત્યારે તેની અસર વર્ષો કે સદીઓ સુધી રહેતી નથી. તેની અસર હજારો વર્ષો સુધી રહે છે. મહર્ષિ વાલ્મીકિએ કહ્યું છે – રાજ્યમ દશ સહસ્રાણિ પ્રાપ્ય વર્ષાનિ રાઘવઃ. એટલે કે રામે દસ હજાર વર્ષ સુધી રાજ્ય કર્યું. એટલે કે હજારો વર્ષોથી રામરાજ્યની સ્થાપના થઈ હતી. ત્રેતામાં રામ આવ્યા ત્યારે હજારો વર્ષ માટે રામરાજ્યની સ્થાપના થઈ. રામ હજારો વર્ષોથી વિશ્વને માર્ગદર્શન આપતા હતા. અને તેથી મારા પ્રિય દેશવાસીઓ,

 

આજે અયોધ્યાની ભૂમિ આપણા બધાને, દરેક રામ ભક્તને, દરેક ભારતીયને કેટલાક પ્રશ્નો પૂછી રહી છે. શ્રી રામનું ભવ્ય મંદિર બંધાઈ ગયું... હવે આગળ શું? સદીઓની રાહ પૂરી થઈ... આગળ શું? આજના આ પ્રસંગે, શું આપણે એવા દેવતાઓ અને દિવ્ય આત્માઓને વિદાય આપીશું જેઓ આપણને આશીર્વાદ આપવા આવ્યા છે અને આપણને જોઈ રહ્યા છે? ના, બિલકુલ નહિ. આજે હું શુદ્ધ હૃદયથી અનુભવું છું કે સમયનું ચક્ર બદલાઈ રહ્યું છે. આ એક સુખદ સંયોગ છે કે આપણી પેઢીને કાલાતીત માર્ગના શિલ્પકાર તરીકે પસંદ કરવામાં આવી છે. હજાર વર્ષ પછીની પેઢી આજે રાષ્ટ્ર નિર્માણના આપણા પ્રયાસોને યાદ કરશે. તેથી જ હું કહું છું - આ સમય છે, આ યોગ્ય સમય છે. આજથી, આ પવિત્ર કાળથી, આપણે આગામી હજાર વર્ષના ભારતનો પાયો નાખવાનો છે. મંદિરના નિર્માણ સાથે આગળ વધીને, હવે આપણે બધા દેશવાસીઓ આ જ ક્ષણથી એક મજબૂત, સક્ષમ, ભવ્ય અને દિવ્ય ભારતના નિર્માણ માટે શપથ લઈએ છીએ. રામના વિચારો માનસની સાથે સાથે જનમાનસમાં પણ હોવા જોઈએ, આ રાષ્ટ્ર નિર્માણ તરફનું પગલું છે.

 

મિત્રો,

આજનો યુગની માંગ છે કે આપણે આપણા અંતઃકરણ વિસ્તારવું પડશે. આપણી ચેતના વિસ્તરવી જોઈએ... ભગવાનથી દેશ સુધી, રામથી રાષ્ટ્ર સુધી. હનુમાનજી પ્રત્યેની ભક્તિ, હનુમાનજીની સેવા, હનુમાનજીનું સમર્પણ, આ એવા ગુણો છે જેને આપણે બહાર શોધવાની જરૂર નથી. દરેક ભારતીયમાં ભક્તિ, સેવા અને સમર્પણની આ ભાવનાઓ સમર્થ, સક્ષમ, ભવ્ય અને દિવ્ય ભારતનો આધાર બનશે. અને આ છે ભગવાનમાંથી દેશની ચેતના અને રામમાંથી રાષ્ટ્રની ચેતનાનો વિસ્તરણ! દૂરના જંગલમાં ઝૂંપડીમાં રહેતી મારી આદિવાસી માતા શબરીને યાદ આવતાં જ એક અતુલ્ય વિશ્વાસ જાગે છે. માતા શબરી ઘણા સમયથી કહેતી હતી કે રામ આવશે. દરેક ભારતીયમાં જન્મેલો આ વિશ્વાસ મજબૂત, સક્ષમ, ભવ્ય અને દિવ્ય ભારતનો આધાર બનશે. અને આ છે ભગવાનમાંથી દેશની ચેતના અને રામમાંથી રાષ્ટ્રનું વિસ્તરણ! આપણે બધા જાણીએ છીએ કે નિષાદરાજની મિત્રતા તમામ સીમાઓથી પર છે. નિષાદરાજનો રામ પ્રત્યેનો મોહ, ભગવાન રામનો નિષાદરાજ પ્રત્યેનો આકર્ષણ કેટલો મૂળભૂત છે. બધા આપણા છે, બધા સમાન છે. દરેક ભારતીયમાં આ સંબંધ અને ભાઈચારાની લાગણી મજબૂત, સક્ષમ, ભવ્ય અને દિવ્ય ભારતનો આધાર બનશે. અને આ છે ભગવાનમાંથી દેશની ચેતના અને રામમાંથી રાષ્ટ્રનું વિસ્તરણ!

 

મિત્રો,

આજે દેશમાં નિરાશા માટે તસુભાર જગ્યા નથી. હું ખૂબ જ સામાન્ય છું, હું ખૂબ નાનો છું, જો કોઈ આ વિચારે છે, તો તેણે ખિસકોલીનું યોગદાન યાદ રાખવું જોઈએ. ખિસકોલીની યાદ જ આપણા સંકોચને દૂર કરશે, તે આપણને શીખવશે કે નાના કે મોટા દરેક પ્રયાસની પોતાની તાકાત હોય છે અને તેનું પોતાનું યોગદાન હોય છે. અને દરેકના પ્રયત્નોની આ ભાવના મજબૂત, સક્ષમ, ભવ્ય અને દિવ્ય ભારતનો આધાર બનશે. અને આ છે ભગવાનમાંથી દેશની ચેતના અને રામમાંથી રાષ્ટ્રનું વિસ્તરણ!

મિત્રો,

લંકાનો શાસક રાવણ અત્યંત જ્ઞાની અને અપાર શક્તિ ધરાવતો હતો. પરંતુ જટાયુ જીની પ્રામાણિકતા જુઓ, તેઓ શક્તિશાળી રાવણ સામે લડ્યા. તે એ પણ જાણતો હતો કે તે રાવણને હરાવી શકશે નહીં. પરંતુ તેમ છતાં તેણે રાવણને પડકાર ફેંક્યો. કર્તવ્યની આ પરાકાષ્ઠા એ સક્ષમ, સક્ષમ, ભવ્ય અને દિવ્ય ભારતનો આધાર છે. અને આ બધું છે, ભગવાનમાંથી દેશની ચેતના અને રામમાંથી રાષ્ટ્રનું વિસ્તરણ. આવો, આપણે પ્રતિજ્ઞા લઈએ કે આપણે આપણા જીવનની દરેક ક્ષણ રાષ્ટ્ર નિર્માણ માટે સમર્પિત કરીશું. રામના કાર્ય સાથે, રાષ્ટ્રના કાર્ય સાથે, સમયની દરેક ક્ષણ, શરીરના દરેક કણ, રામના સમર્પણને રાષ્ટ્રને સમર્પણના લક્ષ્ય સાથે જોડશે.

મારા દેશવાસીઓ,

ભગવાન શ્રી રામની આપણી પૂજા વિશેષ હોવી જોઈએ. આ ઉપાસના સ્વયંથી ઉપર ઉઠીને સમગ્ર માટે હોવી જોઈએ. આ પૂજા અહંકારને બદલે વયમ માટે કરવી જોઈએ. ભગવાનને અર્પણ એ વિકસિત ભારત માટે આપણી મહેનતની પરાકાષ્ઠા પણ હશે. આપણે આપણી રોજની બહાદુરી, પ્રયત્નો અને ભગવાન રામને સમર્પણ આપવું પડશે. આ સાથે આપણે દરરોજ ભગવાન રામની પૂજા કરવી પડશે, તો જ આપણે ભારતને સમૃદ્ધ અને વિકસિત બનાવી શકીશું.

મારા વ્હાલા દેશવાસીઓ,

આ ભારતના વિકાસનો સુવર્ણ યુગ છે. આજે ભારત યુવા અને ઊર્જાથી ભરેલું છે. કોણ જાણે કેટલા સમય પછી આવા હકારાત્મક સંજોગો ઊભા થશે. આપણે હવે ચૂકવાનું નથી, આપણે હવે બેસવાનું નથી. હું આપણા દેશના યુવાનોને કહીશ. તમારી સમક્ષ હજારો વર્ષોની પરંપરાની પ્રેરણા છે. તમે ભારતની એ પેઢીનું પ્રતિનિધિત્વ કરો છો... જે ચંદ્ર પર ત્રિરંગો લહેરાવી રહી છે, જે 15 લાખ કિલોમીટરની મુસાફરી કરીને, સૂર્યની નજીક જઈને મિશન આદિત્યને સફળ બનાવી રહી છે, જે આકાશમાં તેજસ છે... સમુદ્રમાં વિક્રાંત.. ..તેનો ધ્વજ લહેરાવે છે. તમારે તમારા વારસા પર ગર્વ રાખીને ભારતની નવી સવાર લખવાની છે. પરંપરાની શુદ્ધતા અને આધુનિકતાની અનંતતા બંનેના માર્ગે ચાલીને ભારત સમૃદ્ધિના લક્ષ્ય સુધી પહોંચશે.

મારા મિત્રો,

આવનારો સમય હવે સફળતાનો છે. આવનાર સમય હવે સિદ્ધિનો છે. આ ભવ્ય રામ મંદિર ભારતના ઉદયનું, ભારતના ઉદયનું સાક્ષી બનશે.આ ભવ્ય રામ મંદિર ભવ્ય ભારત, વિકસિત ભારતના ઉદયનું સાક્ષી બનશે! આ મંદિર શીખવે છે કે જો ધ્યેય વાજબી હોય, જો સામૂહિક અને સંગઠિત શક્તિમાંથી ધ્યેયનો જન્મ થાય તો તે લક્ષ્ય પ્રાપ્ત કરવું અશક્ય નથી. આ ભારતનો સમય છે અને ભારત આગળ વધવાનું છે. સદીઓની રાહ જોયા પછી આપણે અહીં પહોંચ્યા છીએ. આપણે બધાએ આ યુગ, આ સમયગાળાની રાહ જોઈ છે. હવે અમે રોકાઈશું નહીં. અમે વિકાસની ઉંચાઈઓ સુધી પહોંચવાનું ચાલુ રાખીશું. આ લાગણી સાથે અમે રામલલ્લાના ચરણોમાં નમસ્કાર કરીએ છીએ અને આપ સૌને ખૂબ ખૂબ શુભેચ્છા પાઠવીએ છીએ. તમામ સંતોના ચરણોમાં મારા વંદન.

સિયાવર રામચંદ્ર કી જય

સિયાવર રામચંદ્ર કી જય

સિયાવર રામચંદ્ર કી જય

 

Explore More
77મા સ્વતંત્રતા દિવસના પ્રસંગે લાલ કિલ્લાની પ્રાચીર પરથી પ્રધાનમંત્રી શ્રી નરેન્દ્ર મોદીનાં સંબોધનનો મૂળપાઠ

લોકપ્રિય ભાષણો

77મા સ્વતંત્રતા દિવસના પ્રસંગે લાલ કિલ્લાની પ્રાચીર પરથી પ્રધાનમંત્રી શ્રી નરેન્દ્ર મોદીનાં સંબોધનનો મૂળપાઠ
India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer

Media Coverage

India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's Interview to Navbharat Times
May 23, 2024

प्रश्न: वोटिंग में मत प्रतिशत उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा। क्या, कम वोट पड़ने पर भी बीजेपी 400 पार सीटें जीत सकती है? ये कौन से वोटर हैं, जो घर से नहीं निकल रहे?

उत्तर: किसी भी लोकतंत्र के लिए ये बहुत आवश्यक है कि लोग मतदान में बढ़चढ कर हिस्सा लें। ये पार्टियों की जीत-हार से बड़ा विषय है। मैं तो देशभर में जहां भी रैली कर रहा हूं, वहां लोगों से मतदान करने की अपील कर रहा हूं। इस समय उत्तर भारत में बहुत कड़ी धूप है, गर्मी है। मैं आपके माध्यम से भी लोगों से आग्रह करूंगा कि लोकतंत्र के इस महापर्व में अपनी भूमिका जरूर निभाएं। तपती धूप में लोग ऑफिस तो जा ही रहे हैं, हर व्यक्ति अपने काम के लिए घर से बाहर निकल रहा है, ऐसे में वोटिंग को भी दायित्व समझकर जरूर पूरा करें। चार चरणों के चुनाव के बाद बीजेपी ने बहुमत का आंकड़ा पा लिया है, आगे की लड़ाई 400 पार के लिए ही हो रही है। चुनाव विशेषज्ञ विश्लेषण करने में जुटे हैं, ये उनका काम है, लेकिन अगर वो मतदाताओं और बीजेपी की केमिस्ट्री देख पाएं तो समझ जाएंगे कि 400 पार का नारा हकीकत बनने जा रहा है। मैं जहां भी जा रहा हूं, बीजेपी के प्रति लोगों के अटूट विश्वास को महसूस रहा हूं। एनडीए को 400 सीटों पर जीत दिलाने के लिए लोग उत्साहित हैं।

प्रश्न: लेकिन कश्मीर में वोट प्रतिशत बढ़े। कश्मीर में बढ़ी वोटिंग का संदेश क्या है?

उत्तर: : मेरे लिए इस चुनाव में सबसे सुकून देने वाली घटना यही है कि कश्मीर में वोटिंग प्रतिशत बढ़ी है। वहां मतदान केंद्रों के बाहर कतार में लगे लोगों की तस्वीरें ऊर्जा से भर देने वाली हैं। मुझे इस बात का संतोष है कि जम्मू-कश्मीर के बेहतर भविष्य के लिए हमने जो कदम उठाए हैं, उसके सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। श्रीनगर के बाद बारामूला में भी बंपर वोटिंग हुई है। आर्टिकल 370 हटने के बाद आए परिवर्तन में हर कश्मीरी राहत महसूस कर रहा है। वहां के लोग समझ गए हैं कि 370 की आड़ में इतने वर्षों तक उनके साथ धोखा हो रहा था। दशकों तक जम्मू-कश्मीर के लोगों को विकास से दूर रखा गया। सिस्टम में फैले भ्रष्टाचार से वहां के लोग त्रस्त थे, लेकिन उन्हें कोई विकल्प नहीं दिया जा रहा था। परिवारवादी पार्टियों ने वहां की राजनीति को जकड़ कर रखा था। आज वहां के लोग बिना डरे, बिना दबाव में आए विकास के लिए वोट कर रहे हैं।

प्रश्न: 2014 और 2019 के मुकाबले 2024 के चुनाव और प्रचार में आप क्या फर्क महसूस कर रहे हैं?

उत्तर: 2014 में जब मैं लोगों के बीच गया तो मुझे देशभर के लोगों की उम्मीदों को जानने का अवसर मिला। जनता बदलाव चाहती थी। जनता विकास चाहती थी। 2019 में मैंने लोगों की आंखों में विश्वास की चमक देखी। ये विश्वास हमारी सरकार के 5 साल के काम से आया था। मैंने महसूस किया कि उन 5 वर्षों में लोगों की आकांक्षाओं का विस्तार हुआ है। उन्होंने और बड़े सपने देखे हैं। वो सपने उनके परिवार से भी जुड़े थे, और देश से भी जुड़े थे। पिछले 5 साल तेज विकास और बड़े फैसलों के रहे हैं। इसका प्रभाव हर व्यक्ति के जीवन पर पड़ा है। अब 2024 के चुनाव में मैं जब प्रचार कर रहा हूं तो मुझे लोगों की आंखों में एक संकल्प दिख रहा है। ये संकल्प है विकसित भारत का। ये संकल्प है भ्रष्टाचार मुक्त भारत का। ये संकल्प है मजबूत भारत का। 140 करोड़ भारतीयों को भरोसा है कि उनका सपना बीजेपी सरकार में ही पूरा हो सकता है, इसलिए हमारी सरकार की तीसरी पारी को लेकर जनता में अभूतपूर्व उत्साह है।

प्रश्न: 10 साल की सबसे बड़ी उपलब्धि आप किसे मानते हैं और तीसरे कार्यकाल के लिए आप किस तरह खुद को तैयार कर रहे हैं?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हमारी सरकार ने अर्थव्यवस्था, सामाजिक न्याय, गरीब कल्याण और राष्ट्रहित से जुड़े कई बड़े फैसले लिए हैं। हमारे कार्यों का प्रभाव हर वर्ग, हर समुदाय के लोगों पर पड़ा है। आप अलग-अलग क्षेत्रों का विश्लेषण करेंगे तो हमारी उपलब्धियां और उनसे प्रभावित होने वाले लोगों के बारे में पता चलेगा। मुझे इस बात का बहुत संतोष है कि हम देश के 25 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर ला पाए। करोड़ों लोगों को घर, शौचालय, बिजली-पानी, गैस कनेक्शन, मुफ्त इलाज की सुविधा दे पाए। इससे उनके जीवन में जो बदलाव आया है, उसकी उन्होंने कल्पना तक नहीं की थी। आप सोचिए, कि अगर करोड़ों लोगों को ये सुविधाएं नहीं मिली होतीं तो वो आज भी गरीबी का जीवन जी रहे होते। इतना ही नहीं, उनकी अगली पीढ़ी भी गरीबी के इस कुचक्र में पिसने के लिए तैयार हो रही होती।

हमने गरीब को सिर्फ घर और सुविधाएं नहीं दी हैं, हमने उसे सम्मान से जीने का अधिकार दिया है। हमने उसे हौसला दिया है कि वो खुद अपने पैरों पर खड़ा हो सके। हमने उसे एक विश्वास दिया कि जो जीवन उसे देखना पड़ा, वो उसके बच्चों को नहीं देखना पड़ेगा। ऐसे परिवार फिर से गरीबी में न चले जाएं, इसके लिए हम हर कदम पर उनके साथ खड़े हैं। इसीलिए, आज देश के 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया जा रहा है, ताकि वो अपनी आय अपनी दूसरी जरूरतों पर खर्च कर सकें। हम कौशल विकास, पीएम विश्वकर्मा और स्वनिधि जैसी योजनाओं के माध्यम से उन्हें आगे बढ़ने में मदद कर रहे हैं। हमने घर की महिला सदस्य को सशक्त बनाने के भी प्रयास किए। लखपति दीदी, ड्रोन दीदी जैसी योजनाओं से महिलाएं आर्थिक रूप से मजबूत हुई हैं। मेरी सरकार के तीसरे कार्यकाल में इन योजनाओं को और विस्तार मिलेगा, जिससे ज्यादा महिलाओं तक इनका लाभ पहुंचेगा।

प्रश्न: हमारे रिपोर्टर्स देशभर में घूमे, एक बात उभर कर आई कि रोजगार और महंगाई पर लोगों ने हर जगह बात की है। जीतने के बाद पहले 100 दिनों में युवाओं के लिए क्या करेंगे? रोजगार के मोर्चे पर युवाओं को कोई भरोसा देना चाहेंगे?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हम महंगाई दर को काबू रख पाने में सफल रहे हैं। यूपीए के समय महंगाई दर डबल डिजिट में हुआ करती थी। आज दुनिया के अलग-अलग कोनों में युद्ध की स्थिति है। इन परिस्थितियों का असर देश की अर्थव्यवस्था और महंगाई पर पड़ा है। हमने दुनिया के ताकतवर देशों के सामने अपने देश के लोगों के हित को प्राथमिकता दी, और पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ने नहीं दीं। पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़तीं तो हर चीज महंगी हो जाती। हमने महंगाई का बोझ कम करने के लिए हर छोटी से छोटी चीज पर फोकस किया। आज गरीब परिवारों को अच्छे से अच्छे अस्पताल में 5 लाख रुपये तक इलाज मुफ्त मिलता है। जन औषधि केंद्रों की वजह से दवाओं के खर्च में 70 से 80 प्रतिशत तक राहत मिली है। घुटनों की सर्जरी हो या हार्ट ऑपरेशन, सबका खर्च आधे से ज्यादा कम हो गया है। आज देश में लोन की दरें सबसे कम हैं। कार लेनी हो, घर लेना हो तो आसानी से और सस्ता लोन उपलब्ध है। पर्सनल लोन इतना आसान देश में कभी नहीं था। किसान को यूरिया और खाद की बोरी दुनिया के मुकाबले दस गुना कम कीमत पर मिल रही है। पिछले 10 वर्षों में रोजगार के अनेक नए अवसर बने हैं। लाखों युवाओं को सरकारी नौकरी मिली है। प्राइवेट सेक्टर में रोजगार के नए मौके बने हैं। EPFO के मुताबिक पिछले सात साल में 6 करोड़ नए सदस्य इसमें जुड़े हैं।

PLFS का डेटा बताता है कि 2017 में जो बेरोजगारी दर 6% थी, वो अब 3% रह गई है। हमारी माइक्रो फाइनैंस की नीतियां कितनी प्रभावी हैं, इस पर SKOCH ग्रुप की एक रिपोर्ट आई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 10 साल में हर वर्ष 5 करोड़ पर्सन-ईयर रोजगार पैदा हुए हैं। युवाओं के पास अब स्पेस सेक्टर, ड्रोन सेक्टर, गेमिंग सेक्टर में भी आगे बढ़ने के अवसर हैं। देश में डिजिटल क्रांति से भी युवाओं के लिए अवसर बने हैं। आज भारत में डेटा इतना सस्ता है तभी देश की क्रिएटर इकनॉमी बड़ी हो रही है। आज देश में सवा लाख से ज्यादा स्टार्टअप्स हैं, इनसे बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर बन रहे हैं। हमने अपनी सरकार के पहले 100 दिनों का एक्शन प्लान तैयार किया है, उसमें हमने अलग से युवाओं के लिए 25 दिन और जोड़े हैं। हम देशभर से आ रहे युवाओं के सुझाव पर गौर कर रहे हैं, और नतीजों के बाद उस पर तेजी से काम शुरू होगा।

प्रश्न: सोशल मीडिया में एआई और डीपफेक जैसे मसलों पर आपने चिंता जताई है। इस चुनाव में भी इसके दुरुपयोग की मिसाल दिखी हैं। मिसइनफरमेशन का ये टूल न बने, इसके लिए क्या किया जा सकता है? कई एक्टिविस्ट और विपक्ष का कहना रहा है कि इन चीजों पर सख्ती की आड़ में कहीं फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन पर पाबंदी तो नहीं लगेगी? इन सवालों पर कैसे आश्वस्त करेंगे?

उत्तर: तकनीक का इस्तेमाल जीवन में सुगमता लाने के लिए किया जाना चाहिए। आज एआई ने भारत के युवाओँ के लिए अवसरों के नए द्वार खोल दिए हैं। एआई, मशीन लर्निगं और इंटरनेट ऑफ थिंग्स अब हमारे रोज के जीवन की सच्चाई बनती जा रही है। लोगों को सहूलियत देने के लिए कंपनियां अब इन तकनीकों का उपयोग बढ़ा रही हैं। दूसरी तरफ इनके माध्यम से गलत सूचनाएं देने, अफवाह फैलाने और लोगों को भ्रमित करने की घटनाएं भी हो रही हैं। चुनाव में विपक्ष ने अपने झूठे नरैटिव को फैलाने के लिए यही करना शुरू किया था। हमने सख्ती करके इस तरह की कोशिश पर रोक लगाने का प्रयास किया। इस तरह की प्रैक्टिस किसी को भी फायदा नहीं पहुंचाएगी, उल्टे तकनीक का गलत इस्तेमाल उन्हें नुकसान ही पहुंचाएगा। अभिव्यक्ति की आजादी का फेक न्यूज और फेक नरैटिव से कोई लेना-देना नहीं है। मैंने एआई के एक्सपर्ट्स के सामने और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर डीप फेक के गलत इस्तेमाल से जुड़े विषयों को गंभीरता से रखा है। डीप फेक को लेकर वर्ल्ड लेवल पर क्या हो सकता है, इस पर मंथन चल रहा है। भारत इस दिशा में गंभीरता से प्रयास कर रहा है। लोगों को जागरूक करने के लिए ही मैंने खुद सोशल मीडिया पर अपना एक डीफ फेक वीडियो शेयर किया था। लोगों के लिए ये जानना आवश्यक है कि ये तकनीक क्या कर सकती है।

प्रश्न:देश के लोगों की सेहत को लेकर आपकी चिंता हम सब जानते हैं। आपने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस शुरू किया, योगा प्रोटोकॉल बनवाया, आपने आयुष्मान योजना शुरू की है। तीसरे कार्यकाल में क्या इन चीज़ों पर भी काम करेंगे, जो हमारी सेहत खराब होने के मूल कारक हैं। जैसे लोगों को साफ हवा, पानी, मिट्टी मिले।

उत्तर: देश 2047 तक विकसित भारत का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रहा है। इस सपने को शक्ति तभी मिलेगी, जब देश का हर नागरिक स्वस्थ हो। शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत हो। यही वजह है कि हम सेहत को लेकर एक होलिस्टिक अप्रोच अपना रहे हैं। एलोपैथ के साथ ही योग, आयुर्वेद, भारतीय परंपरागत पद्धतियां, होम्योपैथ के जरिए हम लोगों को स्वस्थ रखने की दिशा में काम कर रहे हैं। राजनीति में आने से पहले मैंने लंबा समय देश का भ्रमण करने में बिताया है। उस समय मैंने एक बात अनुभव की थी कि घर की महिला सदस्य अपने खराब स्वास्थ्य के बारे छिपाती है। वो खुद तकलीफ झेलती है, लेकिन नहीं चाहती कि परिवार के लोगों को परेशानी हो। उसे इस बात की भी फिक्र रहती है कि डॉक्टर, दवा में पैसे खर्च हो जाएंगे। जब 2014 में मुझे देश की सेवा करने का अवसर मिला तो सबसे पहले मैंने घर की महिला सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता की। मैंने माताओं-बहनों को धुएं से मुक्ति दिलाने का संकल्प लिया और 10 करोड़ से ज्यादा महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन दिए। मैंने बुजुर्गों की सेहत पर भी ध्यान दिया है। हमारी सरकार की तीसरी पारी में 70 साल से ऊपर के सभी बुजुर्गों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिलने लगेगा। यानी उनके इलाज का खर्च सरकार उठाएगी। साफ हवा, पानी, मिट्टी के लिए हम काम शुरू कर चुके हैं। सिंगल यूज प्लास्टिक पर हमारा अभियान चल रहा है। जल जीवन मिशन के तहत हम देश के लाखों गांवों तक साफ पानी पहुंचा रहे हैं। सॉयल हेल्थ कार्ड, आर्गेनिक खेती की दिशा में काम हो रहा है। हम मिशन लाइफ को प्राथमिकता दे रहे हैं और इस विचार को आगे बढ़ा रहे हैं कि हर व्यक्ति पर्यावरण के अनुकूल जीवन पद्धति को अपनाए।

प्रश्न: विदेश नीति आपके दोनों कार्यकाल में काफी अहम रही है। इस वक्त दुनिया काफी उतार चढ़ाव से गुजर रही है, चुनाव नतीजों के तुरंत बाद जी7 समिट है। आप नए हालात में भारत के रोल को किस तरह देखते हैं?

उत्तर: शायद ये पहला चुनाव है, जिसमें भारत की विदेश नीति की इतनी चर्चा हो रही है। वो इसलिए कि पिछले 10 साल में दुनियाभर में भारत की साख मजबूत हुई है। जब देश की साख बढ़ती है तो हर भारतीय को गर्व होता है। जी20 समिट में भारत ग्लोबल साउथ की मजबूत आवाज बना, अब जी7 में भारत की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होने वाली है। आज दुनिया का हर देश जानता है कि भारत में एक मजबूत सरकार है और सरकार के पीछे 140 करोड़ देशवासियों का समर्थन है। हमने अपनी विदेश नीति में भारत और भारत के लोगों के हित को सर्वोपरि रखा है। आज जब हम व्यापार समझौते की टेबल पर होते हैं, तो सामने वाले को ये महसूस होता है कि ये पहले वाला भारत नहीं है। आज हर डील में भारतीय लोगों के हित को प्राथमिकता दी जाती है। हमारे इस बदले रूप को देखकर दूसरे देशों को हैरानी हुई, लेकिन धीरे-धीरे उन्होंने इसे स्वीकार कर लिया। ये नया भारत है, आत्मविश्वास से भरा भारत है। आज भारत संकट में फंसे हर भारतीय की मदद के लिए तत्पर रहता है। पिछले 10 वर्षों में अनेक भारतीयों को संकट से बाहर निकालकर देश में ले आए। हम अपनी सांस्कृतिक धरोहरों को भी देश में वापस ला रहे हैं। युद्ध में आमने-सामने खड़े दोनों देशों को भारत ने बड़ी मजबूती से ये कहा है कि ये युद्ध का समय नहीं है, ये बातचीत से समाधान का समय है। आज दुनिया मानती है कि भारत का आगे बढ़ना पूरी दुनिया और मानवता के लिए अच्छा है।

प्रश्न: अमेरिका भी चुनाव से गुजर रहा है। आपके रिश्ते ट्रम्प और बाइडन दोनों के साथ बहुत अच्छे रहे हैं। आप कैसे देखते हैं अमेरिका के साथ भारतीय रिश्तों को इन संदर्भ में?

उत्तर: हमारी विदेश नीति का मूल मंत्र है इंडिया फर्स्ट। पिछले 10 वर्षों में हमने इसी को ध्यान में रखकर विभिन्न देशों और प्रभावशाली नेताओं से संबंध बनाए हैं। भारत-अमेरिका संबंधों की मजबूती का आधार 140 करोड़ भारतीय हैं। हमारे लोग हमारी ताकत हैं, और दुनिया हमारी इस शक्ति को बहुत महत्वपूर्ण मानती है। अमेरिका में राष्ट्रपति चाहे ट्रंप रहे हों या बाइडन, हमने उनके साथ मिलकर दोनों देशों के संबंध को और मजबूत बनाने का प्रयास किया है। भारत-अमेरिका के संबंधों पर चुनाव से कोई अंतर नहीं आएगा। वहां जो भी राष्ट्रपति बनेगा, उसके साथ मिलकर नई ऊर्जा के साथ काम करेंगे।

प्रश्न: BJP का पूरा प्रचार आप पर ही केंद्रित है, क्या इससे सांसदों के खुद के काम करने और लोगों के संपर्क में रहने जैसे कामों को तवज्जो कम हो गई है और नेता सिर्फ मोदी मैजिक से ही चुनाव जीतने के भरोसे हैं। आप इसे किस तरह काउंटर करते हैं?

उत्तर: बीजेपी एक टीम की तरह काम करती है। इस टीम का हर सदस्य चुनाव जीतने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहा है। चुनावी अभियान में जितना महत्वपूर्ण पीएम है, उतना ही महत्वपूर्ण कार्यकर्ता है। ये परिवारवादी पार्टियों का फैलाया गया प्रपंच है। उनकी पार्टी में एक परिवार या कोई एक व्यक्ति बहुत अहम होता है। हमारी पार्टी में हर नेता और कार्यकर्ता को एक दायित्व दिया जाता है।

मैं पूछता हूं, क्या हमारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रोज रैली नहीं कर रहे हैं। क्या हमारे मंत्री, मुख्यमंत्री, पार्टी पदाधिकारी रोड शो और रैलियां नहीं कर रहे। मैं पीएम के तौर पर जनता से कनेक्ट करने जरूर जाता हूं, लेकिन लोग एमपी उम्मीदवार के माध्यम से ही हमसे जुड़ते हैं। मैं लोगों के पास नैशनल विजन लेकर जा रहा हूं, उसे पूरा करने की गारंटी दे रहा हूं, तो हमारा एमपी उम्मीदवार स्थानीय आकांक्षाओं को पूरा करने का भरोसा दे रहा है। हमने उन्हीं उम्मीदवारों का चयन किया है, जो हमारे विजन को जनता के बीच पहुंचा सकें। विकसित भारत की सोच से लोगों को जोड़ने के लिए जितनी अहमियत मेरी है, उतनी ही जरूरत हमारे उम्मीदवारों की भी है। हमारी पूरी टीम मिलकर हर सीट पर कमल खिलाने में जुटी है।

प्रश्न: महिला आरक्षण पर आप ने विधेयक पास कराए। क्या नई सरकार में हम इन पर अमल होते हुए देखेंगे?

उत्तर: ये प्रश्न कांग्रेस के शासनकाल के अनुभव से निकला है, तब कानून बना दिए जाते थे लेकिन उसे नोटिफाई करने में वर्षों लग जाते थे। हमने अगले 5 वर्षों का जो रोडमैप तैयार किया है, उसमें नारी शक्ति वंदन अधिनियम की महत्वपूर्ण भूमिका है। हम देश की आधी आबादी को उसका अधिकार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इंडी गठबंधन की पार्टियों ने दशकों तक महिलाओं को इस अधिकार से वंचित रखा। सामाजिक न्याय की बात करने वालों ने इसे रोककर रखा था। देश की संसद और विधानसभा में महिलाओं की भागीदारी बढ़ने से महिला सशक्तिकरण का एक नया दौर शुरू होगा। इस परिवर्तन का असर बहुत प्रभावशाली होगा।

प्रश्न: महाराष्ट्र की सियासी हालत इस बार बहुत पेचीदा हो गई है। एनडीए क्या पिछली दो बार का रिकॉर्ड दोहरा पाएगा?

उत्तर: महाराष्ट्र समेत पूरे देश में इस बार बीजेपी और एनडीए को लेकर जबरदस्त उत्साह है। महाराष्ट्र में स्थिति पेचीदा नहीं, बल्कि बहुत सरल हो गई है। लोगों को परिवारवादी पार्टियों और देश के विकास के लिए समर्पित महायुति में से चुनाव करना है। बाला साहेब ठाकरे के विचारों को आगे बढ़ाने वाली शिवसेना हमारे साथ है। लोग देख रहे हैं कि नकली शिवसेना अपने मूल विचारों का त्याग करके कांग्रेस से हाथ मिला चुकी है। इसी तरह एनसीपी महाराष्ट्र और देश के विकास के लिए हमारे साथ जुड़ी है। अब जो महा ‘विनाश’ अघाड़ी की एनसीपी है, वो सिर्फ अपने परिवार को आगे बढ़ाने के लिए वोट मांग रही है। लोग ये भी देख रहे हैं कि इंडी गठबंधन अभी से अपनी हार मान चुका है। अब वो चुनाव के बाद अपना अस्तित्व बचाने के लिए कांग्रेस में विलय की बात कर रहे हैं। ऐसे लोगों को मतदान करना, अपने वोट को बर्बाद करना है। इस बार हम महाराष्ट्र में अपने पिछले रिकॉर्ड को तोड़ने वाले हैं।

प्रश्न: पश्चिम बंगाल में भी बीजेपी ने बहुत प्रयास किए हैं। पिछली बार बीजेपी 18 सीटें जीतने में कामयाब रही थी। बाकी राज्यों की तुलना में यह आपके लिए कितना कठिन राज्य है और इस बार आपको क्या उम्मीद है?

उत्तर: TMC हो, कांग्रेस हो, लेफ्ट हो, इन सबने बंगाल में एक जैसे ही पाप किए हैं। बंगाल में लोग समझ चुके हैं कि इन पार्टियों के पास सिर्फ नारे हैं, विकास का विजन नहीं हैं। कभी दूसरे राज्यों से लोग रोजगार के लिए बंगाल आते थे, आज पूरे बंगाल से लोग पलायन करने को मजबूर हैं। जनता ये भी देख रही है कि बंगाल में जो पार्टियां एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं, दिल्ली में वही एक साथ नजर आ रही हैं। मतदाताओं के साथ इससे बड़ा छल कुछ और नहीं हो सकता। यही वजह है कि इंडी गठबंधन लोगों का भरोसा नहीं जीत पा रहा। बंगाल के लोग लंबे समय से भ्रष्टाचार, हिंसा, अराजकता, माफिया और तुष्टिकरण को बर्दाश्त कर रहे हैं। टीएमसी की पहचान घोटाले वाली सरकार की बन गई है। टीएमसी के नेताओं ने अपनी तिजोरी भरने के लिए युवाओं के सपनों को कुचला है। यहां स्थिति ये है कि सरकारी नौकरी पाने के बाद भी युवाओं को भरोसा नहीं है कि उनकी नौकरी रहेगी या जाएगी। लोग बंगाल की मौजूदा सरकार से पूरी तरह हताश हैं।अब उनके सामने बीजेपी का विकास मॉडल है। मैं बंगाल में जहां भी गया, वहां लोगों में बीजेपी के प्रति अभूतपूर्व विश्वास नजर आया। विशेष रुप से बंगाल में मैंने देखा कि माताओं-बहनों का बहुत स्नेह मुझे मिल रहा है। मैं उनसे जब भी मिलता हूं, वो खुद तो इमोशनल हो ही जाती हैं, मैं भी अपने भावनाओं को रोक नहीं पाता हूं। इस बार बंगाल में हम पहले से ज्यादा सीटों पर जीत हासिल करेंगे।

प्रश्न: शराब मामले को लेकर अरविंद केजरीवाल को जेल जाना पड़ा है। उनका कहना है कि ईडी ने जबरदस्ती उन्हें इस मामले में घसीटा है जबकि अब तक उनके पास से कोई पैसा बरामद नहीं हुआ?

उत्तर: आपने कभी किसी ऐसे व्यक्ति को सुना है जो आरोपी हो और ये कह रहा हो कि उसने घोटाला किया था। या कह रहा हो कि पुलिस ने उसे सही गिरफ्तार किया है। अगर एजेंसियों ने उन्हें गलत पकड़ा था, तो कोर्ट से उन्हें राहत क्यों नहीं मिली। ईडी और एजेसिंयो पर आरोप लगाने वाला विपक्ष आज तक एक मामले में ये साबित नहीं कर पाया है कि उनके खिलाफ गलत आरोप लगा है। वो कुछ दिन के लिए जमानत पर बाहर आए हैं, लेकिन बाहर आकर वो और एक्सपोज हो गए। वो और उनके लोग गलतियां कर रहे हैं और आरोप बीजेपी पर लगा रहे हैं। लेकिन जनता उनका सच जानती है। उनकी बातों की अब कोई विश्वसनीयता नहीं रह गई है।

प्रश्न: इस बार दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। इससे क्या लगातार दो बार से सातों सीटें जीतने के क्रम में बीजेपी को कुछ दिक्कत हो सकती है? इस बार आपने छह उम्मीदवार बदल दिए

उत्तर: इंडी गठबंधन की पार्टियां दिल्ली में हारी हुई लड़ाई लड़ रहे हैं। उनके सामने अपना अस्तित्व बचाने का संकट है। चुनाव के बाद वैसे भी इंडी गठबंधन नाम की कोई चीज बचेगी नहीं। दिल्ली की जनता ने बहुत पहले कांग्रेस को बाहर कर दिया था, अब दूसरे दलों के साथ मिलकर वो अपनी मौजूदगी दिखाना चाहते हैं। क्या कभी किसी ने सोचा था कि देश पर इतने लंबे समय तक शासन करने वाली कांग्रेस के ये दिन भी आएंगे कि उनके परिवार के नेता अपनी पार्टी के नहीं, बल्कि किसी और उम्मीदवार के लिए वोट डालेंगे।

दिल्ली में इंडी गठबंधन की जो पार्टियां हैं, उनकी पहचान दो चीजों से होती है। एक तो भ्रष्टाचार और दूसरा बेशर्मी के साथ झूठ बोलना। मीडिया के माध्यम से ये जनता की भावनाओं को बरगलाना चाहते हैं। झूठे वादे देकर ये लोगों को गुमराह करना चाहते हैं। ये जनता के नीर-क्षीर विवेक का अपमान है। जनता आज बहुत समझदार है, वो फैसला करेगी। बीजेपी ने लोगों के हित को ध्यान में रखते हुए अपने उम्मीदवार उतारे हैं। बीजेपी में कोई लोकसभा सीट नेता की जागीर नहीं समझी जाती। जो जनहित में उचित होता है, पार्टी उसी के अनुरूप फैसला लेती है। हमारे लिए राजनीति सेवा का माध्यम है। यही वजह है कि हमारे कार्यकर्ता इस बात से निराश नहीं होते कि टिकट कट गया, बल्कि वो पूरे मनोयोग से जनता की सेवा में जुट जाते हैं।

प्रश्न: विपक्ष का कहना है कि लोकतंत्र खतरे में है और अगर बीजेपी जीतती है तो लोकतंत्र औपचारिक रह जाएगा। आप उनके इन आरोपों को कैसे देखते हैं?

उत्तर: कांग्रेस और उसका इकोसिस्टम झूठ और अफवाह के सहारे चुनाव लड़ने निकला है। पुराने दौर में उनका यह पैंतरा कभी-कभी काम कर जाता था, लेकिन आज सोशल मीडिया के जमाने में उनके हर झूठ का मिनटों में पर्दाफाश हो जाता है।

उन्होंने राफेल पर झूठ बोला, पकड़े गए। एचएएल पर झूठ बोला, पकड़े गए। जनता अब इनकी बातों को गंभीरता से नहीं लेती है। देश जानता है कि कौन संविधान बदलना चाहता है। आपातकाल के जरिए देश के लोकतंत्र को खत्म करने की साजिश किसने की थी। कांग्रेस के कार्यकाल में सबसे ज्यादा बार संविधान की मूल प्रति को बदल दिया। कांग्रेस पहले संविधान संसोधन का प्रस्ताव अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा लगाने के लिए लाई थी। 60 वर्षों में उन्होंने बार-बार संविधान की मूल भावना पर चोट की और एक के बाद एक कई राज्य सरकारों को बर्खास्त किया। सबसे ज्यादा बार राष्ट्रपति शासन लगाने का रेकॉर्ड कांग्रेस के नाम है। उनकी जो असल मंशा है, उसके रास्ते में संविधान सबसे बड़ी दीवार है। इसलिए इस दीवार को तोड़ने की कोशिश करते रहते हैं। आप देखिए कि संविधान निर्माताओं ने धर्म के आधार पर आरक्षण का विरोध किया था। लेकिन कांग्रेस अपने वोटबैंक को खुश करने के लिए बार-बार यही करने की कोशिश करती है। अपनी कोई कोशिशों में नाकाम रहने के बाद आखिरकार उन्होंने कर्नाटक में ओबीसी आरक्षण में सेंध लगा ही दी।

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के नेता लोकतंत्र की दुहाई देते हैं, लेकिन वास्तविकता ये है कि लोकतंत्र को कुचलने के लिए, जनता की आवाज दबाने के लिए ये पूरी ताकत लगा देते हैं। ये लोग उनके खिलाफ बोलने वालों के पीछे पूरी मशीनरी झोंक देते हैं। इनके एक राज्य की पुलिस दूसरे राज्य में जाकर कार्रवाई कर रही है। इस काम में ये लोग खुलकर एक-दूसरे का साथ दे रहे हैं। जनता ये सब देख रही है, और समझ रही है कि अगर इन लोगों के हाथ में ताकत आ गई तो ये देश का, क्या हाल करेंगे।

प्रश्न: आप एकदम चुस्त-दुरुस्त और फिट दिखते हैं, आपकी सेहत का राज, सुबह से रात तक का रूटीन?

उत्तर: मैं यह मानता हूं कि मुझ पर किसी दैवीय शक्ति की बहुत बड़ी कृपा है, जिसने लोक कल्याण के लिए मुझे माध्यम बनाया है। इतने वर्षों में मेरा यह विश्वास प्रबल हुआ है कि ईश्वर ने मुझे विशेष दायित्व पूरा करने के लिए चुना है। उसे पूरा करने के लिए वही मुझे सामर्थ्य भी दे रहा है। लोगों की सेवा करने की भावना से ही मुझे ऊर्जा मिलती है।

प्रश्न: प्रधानमंत्री जी, आप काशी के सांसद हैं। बीते 10 साल में आप ने काशी को खूब प्रमोट किया है। आज काशी देश में सबसे प्रेफर्ड टूरिज्म डेस्टिनेशमन बन रही है। इसके अलावा आप ने जो इंफ्रास्ट्रक्चर के काम किए हैं, उससे भी बनारस में बहुत बदलाव आया है। इससे बनारस और पूर्वांचल की इकोनॉमी और रोजगार पर जो असर हुआ है, उसे आप कैसे देखते हैं?

उत्तर: काशी एक अद्भूत नगरी है। एक तरफ तो ये दुनिया का सबसे प्राचीन शहर है। इसकी अपनी पौराणिक मान्यता है। दूसरी तरफ ये पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार की आर्थिक धुरी भी है। 10 साल में हमने काशी में धार्मिक पर्यटन का खूब विकास किया। शहर की गलियां, साफ-सफाई, बाजारों में सुविधाएं, ट्रेन और बस के इंतजाम पर फोकस किया। गंगा में सीएनजी बोट चली, शहर में ई-बस और ई-रिक्शा चले। यात्रियों के लिए हमने स्टेशन से लेकर शहर के अलग-अलग स्थानों पर तमाम सुविधाएं बढ़ाई।

इन सब के बाद जब हम बनारस को प्रमोट करने उतरे, तो देशभर के श्रद्धालुओं में नई काशी को देखने का भाव उमड़ आया। यह यहां सालभर पहले से कई गुना ज्यादा पर्यटक आते हैं। इससे पूरे शहर में रोजगार के नए अवसर तैयार हुए।

हमने बनारस में इंडस्ट्री लानी शुरू की है। TCS का नया कैंपस बना है, बनास डेयरी बनी है, ट्रेड फैसिलिटी सेंटर बना है, काशी के बुनकरों को नई मशीनें दी जा रही है, युवाओं को मुद्रा लोन मिले हैं। इससे सिर्फ बनारस ही नहीं, आसपास के कई जिलों की अर्थव्यवस्था को नई गति मिली।

प्रश्न: आपने कहा कि वाराणसी उत्तर प्रदेश की राजनीतिक धुरी जैसा शहर है। बीते 10 वर्षों में पू्र्वांचल में जो विकास हुआ है, उसको कैसे देखते हैं?

उत्तर: देखिए, पूर्वांचल अपार संभावनाओं का क्षेत्र है। पिछले 10 वर्षों में हमने केंद्र की तमाम योजनाओं में इस क्षेत्र को बहुत वरीयता दी है। एक समय था, जब पूर्वांचल विकास में बहुत पिछड़ा था। वाराणसी में ही कई घंटे बिजली कटौती होती थी। पूर्वांचल के गांव-गांव में लालटेन के सहारे लोग गर्मियों के दिन काटते थे। आज बिजली की व्यवस्था में बहुत सुधार हुआ है, और इस भीषण गर्मी में भी कटौती का संकट करीब-करीब खत्म हो चला है। ऐसे ही पूरे पूर्वांचल में सड़कों की हालत बहुत खराब थी। आज यहां के लोगों को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की सुविधा मिली है। गाजीपुर, आजमगढ़, मऊ, बलिया, चंदौली जैसे टियर थ्री कहे जाने वाले शहरों में हजारों की सड़कें बनी हैं।

आजमगढ़ में अभी कुछ दिन पहले मैंने एयरपोर्ट की शुरुआत की है। महाराजा सुहेलदेव के नाम पर यूनिवर्सिटी बनाई गई है। पूरे पूर्वांचल में नए मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं। बनारस में इनलैंड वाटर-वे का पोर्ट बना है। काशी से ही देश की पहली वंदे भारत ट्रेन चली थी। देश का पहला रोप-वे ट्रांसपोर्ट सिस्टम बन रहा है।

कांग्रेस की सरकार में पूर्वांचल के लोग ऐसी सुविधाएं मिलने के बारे में सोचते तक नहीं थे। क्योंकि लोगों को बिजली-पानी-सड़क जैसी मूलभूत सुविआधाओं में ही उलझाकर रखा गया था। यह स्थिति तब थी जब इनके सीएम तक पूर्वांचल से चुने जाते थे। तब पूर्वांचल में सिर्फ नेताओं के हेलिकॉप्टर उतरते थे, आज जमीन पर विकास उतर आया है।

प्रश्न: आप कहते हैं कि बनारस ने आपको बनारसी बना दिया है। मां गंगा ने आपको बुलाया था, अब आपको अपना लिया है। आप काशी के सांसद हैं, यहां के लोगों से क्या कहेंगे?

उत्तर: मैं एक बात मानता हूं कि काशी में सबकुछ बाबा की कृपा से होता है। मां गंगा के आशीर्वाद से ही यहां हर काम फलीभूत होते हैं! 10 साल पहले मैंने जब ये कहा था कि मां गंगा ने मुझे बुलाया है, तो वो बात भी मैंने इसी भावना से कही थी। जिस नगरी में लोग एक बार आने को तरसते हैं, वहां मुझे दो बार सांसद के रूप में सेवा करने का अवसर मिला। जब पार्टी ने तीसरी बार मुझे काशी की उम्मीदवारी करने को कहा, तभी मेरे मन में यह भाव आया कि मां गंगा ने मुझे गोद ले लिया है। काशी ने मुझे अपार प्रेम दिया है। उनका यह स्नेह और विश्वास मुझ पर एक कर्ज है। मैं जीवनभर काशी की सेवा करके भी इस कर्ज को नहीं उतार पाऊंगा।

Following is the clipping of the interview:

 

 

Source: Navbharat Times