PM’s address on the release of the digital version of Ramcharitmanas

Published By : Admin | August 31, 2015 | 17:18 IST
PM Narendra Modi launches digitised version of the Ramcharitmanas in New Delhi
Prime Minister Modi appreciates All India Radio's role in uniting the people and spreading awareness and information in India
Ramcharitmanas is a great epic. It contains the essence of India: PM Narendra Modi
The digital version of Ramcharitmanas will help people across the world: PM Modi

ये कार्यक्रम जहां हो रहा है, उस स्‍थान का नाम है पंचवटी और जब वाजपेयी जी प्रधानमंत्री थे, तब इस निवास स्‍थान में पंचवटी का निर्माण हुआ और नाम पंचवटी रखा गया था और शायद मैं मानता हूं आज का अवसर पंचवटी में होना अपने आप उसके कारण उसका एक कीर्तिमान बढ़ जाता है, क्‍योंकि रामचरितमानस की बात हो और पंचवटी न हो, तो फिर वो रामचरितमानस अधूरा लगता है और इसलिए ये अपने आप में एक सुफल संयोग है।

आज के इस अवसर को मैं अलग-अलग रूप में अनुभव करता हूं। कभी-कभी सरकार में लोग नौकरी करते-करते जीवन ऐसा बन जाता है, एक मशीनी गतिविधि बन जाती है और वही सुबह जाना, शाम को आना, वही फाइलें, वही बॉस, वहीं assistant, एक जिंदगी के बड़े महत्‍वपूर्ण 30-35 साल उसी में गुजर जाते है और ज्‍यादातर का मन बन जाता है कि चलो अब इस पाइपलाइन में घुसे है 30-35 साल के बाद उधर निकलेंगे। जिस रूप में निकलेंगे, निकलेंगे.. लेकिन यह अवसर देख करके ध्‍यान में आता है कि एक सरकार का मुलाजिम, जिसमें एक तड़प हो, कुछ करने की अदम्‍य इच्‍छा हो, वो कितनी बड़ी विरासत छोड़ करके जाता है और इसलिए सबसे पहले मैं आकाशवाणी के उस एक सामान्‍य अधिकारी जिनके परिवारजन.. ये औरों के लिए भी प्रेरक बन सकता है। हमारी जिंदगी व्‍यर्थ नहीं जा रही है। हम जो फाइलों पर साइन करते है वो बेकार नहीं होती, कभी न कभी इतिहास को वो नया मोड़ देते है। ये आज की घटना उस बात का जीता-जागता सबूत है।

दूसरी बात, करीब-करीब 20-22 साल तक लगातार इसका रिकार्डिंग हुआ है। 22 साल तक उस team को बनाए रखना, उस rhythm को बनाए रखना और उसे उतना ही प्राणवान बनाए रखना, वरना तो यार बहुत हो गया अब कितने ऐपिसोड हो गए, अब तो लोगों को आदत हो गई, चलो निकाल दो। नहीं। इससे जुड़े हुए कलाकार शायद आज हिन्‍दुस्‍तान के बड़े कलाकारों की संख्‍या में उनका नाम नहीं होगा, लेकिन संगीत के साधक के रूप में। 22 साल करीब-करीब ये साधना कम नहीं होती जी, 14 लोगों ने team बन करके काम किया, 7 लोग हमारे बीच नहीं रहे, सबको आज सम्‍मानित करने का आज अवसर मिला और ये सिर्फ संगीत नहीं है। ये संगीत की भी साधना है, संस्‍कृति की भी साधना है और संस्‍कार की भी साधना है। और ये काम, देखिए हमारे देश में कई उतार-चढ़ाव है, वैचारिक धरातल पर भी उतार-चढ़ाव आए हैं। आज अगर कोई ओम बोल दे तो हफ्तेभर विवाद चलता है कि ओम कैसे बोला जा सकता है। देश :::: सांम्‍प्रदायिक है। ऐसे देश में रामचरितमानस को किसी ने question नहीं किया, वो आज भी चल रहा है। हो सकता है आज के बाद किसी का ध्‍यान जाए और तूफान खड़ा कर दे, तो मैं नहीं जानता हूं। लेकिन कभी-कभार हम देखते है कि बहुत सालों से सुनते आए है, क्‍या बात है कि हस्‍ती मिटती नहीं है हमारी। जवाब खोजने के लिए मेहनत करने की जरूरत नहीं है। यही बात है कि जिसके कारण हस्‍ती मिटती नहीं है हमारी, यही तो रामचरितमानस है, यही तो परम्‍परा है, यही संस्‍कार है।

हजारों साल से दुनिया में हमारी जो सबसे बड़ी विशेषता है जिसके लिए विश्‍व के किसी भी समाज को हमारे प्रति ईर्ष्‍या हो सकती है, वो है हमारी परिवार व्‍यवस्‍था और हम बचे हैं बने है उसका एक कारण.. जब तक हमारी परिवार व्‍यवस्‍था प्राणवान रही है, हम ताकतवर रहे है और उस परिवार व्‍यवस्‍था को प्राणवान बनाने में बहुत बड़ी भूमिका अगर किसी ने निभाई है तो रामचरितमानस और राम जी का परिवार जीवन है। मर्यादा पुरूषोत्‍तम राम.. मर्यादाओं में किसने कैसे जीना परिवार में। किसकी कैसे मर्यादा को पालन करना, कैसा व्‍यवहार करना, आचरण का उत्‍तम संस्‍कार का हमें दर्शन होता है। रामचरितमानस की क्‍या ताकत देखिए हजारों साल हो गए, पीढि़यां बीत गई लेकिन वहीं भाव, वही परम्‍परा, वही संस्‍कार, वही संदेश आज भी जीवित है। आज एक बात हम कहें, लिखित कहें लेकिन संदेश पहुंचते-पहुंचते सात दिन में उसका अर्थ अलग ही हो जाता है। ऐसा कौन सा सामर्थ्‍य होगा कि जिसमें आज भी अनेक व्‍याख्‍याएं होने के बाद भी मूल तत्‍व को कहीं पर भी खरोच नहीं आई है। ऐसी कृति मानव को इस धरती के साथ जोड़ने का इतना बड़ा काम है।

आज भी अगर हम मॉरिशस में जाए दुनिया के कई देशों में, जो लोग गुलामी के कालखंड में मजदूर के रूप में उनको उठा करके ले जाया गया, कुछ नहीं था, निर्धन थे। लेकिन तुलसीकृत रामायण साथ ले जाना नहीं भूले, हनुमान चालीसा ले जाना नहीं भूले और डेढ़ सौ साल अलग जीवन, भाषा भूल गए, पहनावा बदल गया, नाम में बदलाव आया, लेकिन एक अमानत उनके पास बची जिससे आज भी भारत के साथ उनका नाता जुड़ा रहा है और कैसे जुड़ता है मुझे बहुत साल पहले की घटना याद है। वेंस्‍टइंडिज की एक क्रिकेट टीम भारत में खेलने के लिए आई थी। बहुत साल पहले की बात कर रहा हूं और उसके मैनेजर का मेरे यहा फोन आया। अब आज से 30-35, 40 साल पहले मुझे कोई पहचानता नहीं था, न कोई नाम न कोई जान। उनका टेलीफोन आया मुझे आश्‍चर्य हुआ, कि बोले वेंस्‍टइंडिज के क्रिकेटर के मैनेजर आप से बात करना चाहते है, मिलना चाहते है। तो किसी ने नाम दिया होगा, कही परिचय निकला होगा। मैंने कहा वेंस्‍टइंडिज टीम से मेरा तो वैसे भी क्रिकेट के खेल से.. मैं कोई खिलाड़ी तो हूं नहीं, तो पता चला तो बोले रामरिखीनाम है इनका और वो अपनी पत्‍नी के साथ आए है। मूल भारतीय है, तो मैं उनको मिलने गया तो वहां एचआरडी मिनिस्‍ट्री में काम करते थे और टीम मैनेजर के रूप में आए थे। तो मैंने कहा ये ऋषि शब्‍द कहा से आया तो बोले ऋषि में से आया हुआ होगा, फिर उनकी पत्‍नी का नाम पूछा तो बोले सीता। वो भारत पहली बार आए थे। लेकिन उनको अपना और मैं जब गया तो specially वो भारतीय परिवेश पहन करके बैठे थे। यानी एक प्रकार से एक ग्रंथ डेढ़ सौ साल के बाद भी अपनेपन से जोड़ करके रखता है] इसका ये उत्‍तम अनुभव.. और इस अर्थ में रामचरितमानस आज digital form में ये सबके सामने जा रहा है।

आकाशवाणी की ताकत बहुत बड़ी है, कितनी ही चीजें क्‍यों न बदल जाए, लेकिन कुछ मूलभूत चीजें होती है, जो अपनी.. बुलंदी कभी खोती नहीं है। हिन्‍दुस्‍तान के जीवन में आकाशवाणी की ये बहुत बड़ी ताकत है। लोगों को भले एहसास न होता, हो मुझे तो एहसास है। हम लोग भली-भांति समझते है आकाशवाणी की ताकत क्‍या है। ये मेरा एक ऐसा अनुभव है जो मैं कभी भूल नहीं सकता। मैं हिमाचल में भारतीय जनता पार्टी के संगठन का काम करता था। अटल बिहारी वाजपेयी जी प्रधानमंत्री थे। और मैं हिमाचल में काम करता था, तो एक दिन मैं अपने दौरे पर जा रहा था तो ऐसे ही पहाड़ों में एक ढाबे पर रूक करके चाय पीने की सोचा, तो गाड़ी को रोकी। जब मैं नीचे उतरा तो जो ढाबे वाला था, चाय वाला उसने मुझे लड्डू खिलाया। मैंने कहा भई मुझे चाय पीनी है। अरे बोले साहब लड्डू खाओ पहले, मौज करो। मैंने कहा क्‍या बात है। बोले अरे आज अटल जी ने बम फोड़ दिया, मैंने कहा अटल जी ने बम फोड़ दिया। अरे बोले अभी-अभी रोडियो पर सुना है कि भारत ने बम फोड़ा है। न्‍यू‍क्लियर टेस्‍ट हुआ था। मुझे वो पहली खबर आकाशवाणी के माध्‍यम से एक चाय वाले, ढाबे वाले ने दी।

यानी हम जिन चीजों का कभी-कभी महत्‍व नहीं समझते, वो कितना बड़ा होता है ओर सिर्फ खबर नहीं, सिर्फ खबर नहीं। हिमायल की पहाडि़यों में दूर-सुदूर अकेला चाय के ढाबे वाला, इस समाचार से अपने आपको इतना गौरवान्वित महसूस कर रहा है कि गरीब होने के बावजूद भी अपनी दुकान की मिठाई मुफ्त में बांट रहा है। संदेश की ताकत क्या है, देखिए और समय ज्‍यादा नहीं हुआ होगा, ये 5 बजे declare हुआ होगा शाम को और मैं करीब 6 सवा 6 बजे वहां से गुजर रहा हूं। कहने का तात्‍पर्य ये कि हमारे ये communication अपने आप में इतने बड़े देश में बहुत अनिवार्य है, बहुत आवश्‍यक है और आज के competition के युग में आकाशवाणी को स्‍पर्धा में फंसने की जरूरत नहीं है जी। उसने तो अपनी मूलभूत धाराओं को पकड़ करके जन-जन के दिलों तक जुड़े रहना ओर देश को जोड़ के रखना और भविष्‍य के साथ उनको उत्‍साहित करते रहना ये उसका काम है। और उस काम को हम कैसे निभाएं।

युग बदलता जाए वैसे बदलाव आवश्‍यक होता है कायाकल्प जरूरी होते है ओर जब कायाकल्प की बात करता हूं तब आत्‍मा वही रहता है, समयाकूल बदलाव आता है। ये डिजिटल रूप उसका एक सही कदम है। हम लोग, अब मुझे बताया गया आकाशवाणी के पास 9 लाख घंटों का recording material उपलब्‍ध है, 9 लाख घंटे। शायद दुनिया में किसी एक ईकाई के पास इतना खजाना नहीं होगा जी और उस समय आकाशवाणी का जो रूप-रंग था बाद में जो हमारे यहां जो चला माहौल, अलग बात है, मैं जरूर मानता हूं कि आ‍काशवाणी के पास भारत की मूल आवाज, भारत का मूल चिंतन, भारत की मूल undiluted ये उसमें उपलब्ध होगा। ये 9 लाख घंटों का जब digital version तैयार होगा फिर उसमें भाषाओं का उपयोग किया जा सकता है कि नहीं कितनी बड़ी सेवा होगी, कितना बड़ा खजाना ओर एक प्रकार से digital history का ये सबसे बड़ा resource material बन सकता है। जो शायद आने वाले दिनों में जो पीएचडी करना चाहते होगे उनके लिए एक बहुत अवसर बनेगा। और भारत का दूरदर्शन का काम तो ऐसा है कि हिन्‍दुस्तान की सभी यूनिवर्सिटी में एकाध-एकाध विद्यार्थी ने सिर्फ आकाशवाणी के योगदान पर पीएचडी करनी चाहिए, रिसर्च करनी चाहिए। हम लोगों के स्‍वभाव नहीं है। एक एकाध प्रेमचंद की कथा पर तो रिसर्च कर लेते है, लेकिन इतना बड़ा खजाना। आगे चल करके Human Resource Department के लोग, Culture Department के लोग सोचें कि हमारे नौजवान इस खजाने का research करके क्‍या दे सकते है दुनिया को। हम आगे के लिए क्‍या सोचे। विश्‍व के लोग भी अंतर्राष्‍ट्रीय योगा दिवस ने सिद्ध कर दिया है कि दुनिया भारत को जानने-समझने के लिए आतुर है, तैयार है। वे अंतर्राष्‍ट्रीय योगा दिवस ने ये message दिया है कि भारत के पास कुछ है जो हमें जानना है, पाना है ये मूढ़ बना है तब हमारा कर्तव्‍य बनता है कि हम इसको कैसे पहुंचाए और ये अगर हम कर सकते है तो हम कितनी बढ़ी सेवा कर सकते है।

इनदिनों आकाशवाणी एक अच्‍छा काम भी किया है.. आकाशवाणी नहीं, रेडियों के कारण धीरे-धीरे जो आज एफएम चैनल वगैरह सब जो दुनिया चलती है। लोग कहते है भ्रष्‍टाचार के लिए क्‍या किया? हमारे यहां FM चैनल सारी पहले सरकारी खजाने में 80 सौ करोड़ रुपया देती थी। अभी आक्‍शन चल रहा है, आक्‍शन से देंगे ट्रांसपैरेंसी, परिणाम क्‍या आया मालूम है अब तक करीब-करीब साढ़े 11 सौ करोड़ की बोली बोल चुके है, अभी तो बोली चल रही है और उसके जो rules and regulations है उसके हिसाब से सरकार के खजाने में जो 80 सौ करोड़ आते थे एक स्थिति आएंगी 27 सौ-28 सौ करोड़ रुपए आएगे। व्‍यवस्‍थाओं को transparent करने से व्‍यवस्‍थाओं को आधुनिक टेक्‍नोलोजी से जोड़ करके भ्रष्‍टाचार से मुक्ति कैसे पाई जा सकती है। कोई नया आर्थिक बोझ डाले बिना भी देश के विकास में धन कैसे उपलब्‍ध किया जो सकता है इसका एक बेहतरीन नमूना.. ये आकाशवाणी और रेडियो के संबंध में जो भारत सरकार ने अरुण जी के नेतृत्‍व में किया है, उसका ये परिणाम है।

तो हर दिशा में हम इस काम को आगे बढ़ा रहे है और मुझे आशा है कि ये digital version के कारण विश्‍व के लोग जो जानना चाहते है, समझना चाहते है उनके लिए उपकारक होगा। भोपाल केंद्र के लोगों ने गौरवपूर्ण काम किया है; आने वाले दिनों में भोपाल में एक विश्‍व हिन्‍दी सम्‍मेलन हो रहा है। आकाशवाणी सोचे विश्‍व हिन्‍दी सम्‍मेलन में जो delegate आने वाले है भोपाल में ही हो रहा है तो ये उनको गिफ्ट के रूप में दिया जाए, ताकि एक souvenir..एक सच्चा souvenir ये बनेगा, जो विश्‍वभर से गरीब, काफी बड़ी तादात में लोग आ रहे है तो एक बहुत बड़ा अवसर बनेगा।

मैं फिर एक बार विभाग को, प्रसार भारती को, आकाशवाणी को ये बहुमूल्य चीजें संभाले रखने के लिए बधाई देता हूं। और देशवासियों को ये नजराना देते हुए मैं गर्व महसूस करता हूं। मैं आभारी हूं डॉ. कर्ण सिंह जी का और मैंने देखा है कि हमारे कर्ण सिंह जी इन चीजों से ऐसे जुड़े हुए है, इसका इतना महामूल्‍य मानते है वो, कि उनको कोई राजकीय विचारधारा कभी बाधा नहीं बनती है और हमेशा ऐसी चीजों को वो आर्शीवाद देते रहें, प्रोत्‍साहन देते रहें। आज विशेषरूप आए इसलिए मैं उनका आभार व्‍यक्‍त करता हूं।

बहुत-बहुत धन्‍यवाद!

Explore More
77வது சுதந்திர தினத்தை முன்னிட்டு செங்கோட்டை கொத்தளத்தலிருந்து பிரதமர் திரு நரேந்திர மோடி நிகழ்த்திய உரையின் தமிழாக்கம்

பிரபலமான பேச்சுகள்

77வது சுதந்திர தினத்தை முன்னிட்டு செங்கோட்டை கொத்தளத்தலிருந்து பிரதமர் திரு நரேந்திர மோடி நிகழ்த்திய உரையின் தமிழாக்கம்
'After June 4, action against corrupt will intensify...': PM Modi in Bengal's Purulia

Media Coverage

'After June 4, action against corrupt will intensify...': PM Modi in Bengal's Purulia
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Congress and JMM don't understand even the basics of development: PM Modi in Jamshedpur
May 19, 2024
Congress and JMM don't understand even the basics of development: PM Modi in Jamshedpur
Common man remains poor while Congress & JMM filled their homes with black money: PM in Jamshedpur
Congress has been the mother of corruption: PM Modi in Jamshedpur
Congress and JMM have no interest in the country's industries: PM Modi in Jamshedpur
Dynastic parties like Congress consider the country their property: PM Modi in Jamshedpur

सनमको जोतो कोगे जोहार!
नोमोस्कार!
मैं रंकिणी की मिट्टी को प्रणाम करता हूं। हमारा जमशेदपुर केवल एक शहर मात्र नहीं है। ये हमारा जमशेदपुर विविधताओं से भरा मिनी हिंदुस्तान है। इसीलिए, जमशेदपुर का आशीर्वाद मिलना, ऐसा लगता है जैसे पूरा देश दे रहा है। (यहां एक बेटी एक बढ़िया चित्र बना करके ले आई है वहां एक नौजवान भी कोई चित्र वगैरह ले करके आए हैं। जरा एसपीजी उनसे ले लें चित्र। ये बच्चे बड़े उत्साह से देखिए वो दूसरा एक नौजवान भी ले आया है। हां कलेक्ट कर लीजिए भाई। अच्छा आप अपना नाम लिख देना, मैं आपको चिट्ठी लिखूंगा। पीछे अपना नाम लिख देना। अपना नाम पता आराम से लिखो बेटा, आराम से लिखो, फिर ये मेरे एसपीजी के जो साथी है ना उनको दे देना। उधर भी जो बेटा है, बेटे आप भी अपना नाम पता लिख देना मैं चिट्ठी लिखूंगा आपको।) भारत माता की, भारत माता की। आपका उत्साह बता रहा है कि जमशेदपुर में 4 जून को क्या परिणाम आने वाला है।

साथियों,

मैं बहुत सालों तक भारतीय जनता पार्टी के संगठन का काम करता था। और कोई मुझे कहे कि चुनावी रैली है सुबह 10-11 बजे रख लो तो मैं हाथ जोड़कर कहता था नहीं जी 11 बजे कौन आएगा ऐसा करो एक बजे-दो बजे रख लो। मैं जानता हूं 10-11 बजे इतनी बड़ी रैली करना लोहे के चने चबाने वाला काम होता है लेकिन आज सुबह-सुबह जमशेदपुर में इतनी बड़ी जन मेदिनी यह अपने आप में जनजागृति का एक नया पर्व मैं देख रहा हूं, मैं आपका बहुत-बहुत आभारी हूं।

साथियों,

लोकसभा चुनाव देश के भविष्य को सशक्त बनाना, मजबूत बनाना वर्तमान पीढ़ी और आने वाली पीढ़ियों का भी उज्जवल भविष्य निश्चित करने का ये चुनाव है। मेरे प्यारे भाई-बहन ये देश का भविष्य कैसे तय होगा। मैं आपसे पूछता हूं, चुनाव में देश की अर्थव्यवस्था पर बात होनी चाहिए कि नहीं होनी चाहिए। जरा पूरी ताकत से मुझे बताइए जमशेदपुर के लोग पूरा देश आपको सुनेगा। चुनाव में देश की अर्थव्यवस्था की चर्चा होनी चाहिए कि नहीं होनी चाहिए। चुनाव में उद्योगों लघु उद्योगों की बात होनी चाहिए कि नहीं होनी चाहिए। साथियों, चुनाव में राष्ट्रीय सुरक्षा की बात होनी चाहिए कि नहीं होनी चाहिए। चुनाव में कृषि और वन उपज की बात होनी चाहिए कि नहीं होनी चाहिए चुनाव में युवाओं के लिए बनते नए अवसरों की बात होनी चाहिए या नहीं होनी चाहिए चुनाव में हाईवेज, एक्सप्रेसवेज, इंफ्रास्ट्रक्चर पर बात होनी चाहिए कि नहीं होनी चाहिए। लेकिन कांग्रेस और झामुमो वालों को इन सबसे कोई मतलब नहीं है। इन्हें विकास का क-ख-ग-घ भी मालूम नहीं। इनका तरीका क्या है? झूठ बोलो जोर से बोलो, बार-बार बोलो, इधर भी बोलो उधर भी बोलो, खड़े खड़े बोलो, नाच नाच के बोलो, झूठ ही बोलो और इनके मुद्दे क्या है गरीब की संपत्ति का एक्सरे करेंगे, उसे छीनेंगे। एससी, एसटी, ओबीसी का आरक्षण छीनेंगे। मोदी जी को रोज नई-नई गालियां देंगे। इससे ज्यादा आगे यह सोच ही नहीं सकते क्या। इंडी अलायंस वाले आपसे झूठ बोलते हैं। इनकी सच्चाई पूरा देश जान गया है। इसलिए पूरा हिंदुस्तान कह रहा है फिर एक बार, फिर एक बार, फिर एक बार, फिर एक बार।

साथियों,

साथियों झारखंड जैसा राज्य खनिज संपदा में इतना अमीर है, इतना अमीर है, आप कल्पना नहीं कर सकते, लेकिन फिर भी यहां इतनी गरीबी क्यों है। दुर्भाग्य देखिए, आज झारखंड शब्द आपके कान पर पड़ेगा। झारखंड का नाम सुनते ही कौन सा दृश्य सामने आता है। एक ही दृश्य सामने आता है नोटों के ढेर। झारखंड सुनते ही नोटों के पहाड़ देखने को मिलते हैं। याद करो हर पल, कौन झारखंड अच्छा-अच्छा वो नोटों के ढेर पकड़े गए थे वो। वो अफसर जेल में है वो, वो मुख्यमंत्री जेल में सड़ रहे हैं वो। भाइयों बहनों, सामान्य मानवी को गरीब रखकर कांग्रेस और झामुमो वालों ने अपने घरों में काली कमाई का अंबार लगा रखा है।

साथियों,

कांग्रेस, झामुमो और RJD जैसी पार्टियों ने हमारे झारखंड को हर मौके पर लूटा है। कांग्रेस तो भ्रष्टाचार की जननी ही रही है। कांग्रेस ने 2जी घोटाला किया, कोयला घोटाला किया, अनगिनत घोटालों में कांग्रेस ने लूट के रिकॉर्ड बनाए। आप आरजेडी को देखिए, नौकरी के बदले गरीब से, जो बेचारा दो टाइम की रोटी के लिए नौकरी तलाशता था ऐसे गरीब की जमीन लिखवा ली। गरीब से जमीन छीन भी ली और बदले में नौकरी का वादा किया। झामुमो ने यही गुण, वही आदतें, वही चरित्र कांग्रेस से और आरजेडी से सीखा है। झामुमो ने झारखंड में जमीन घोटाला किया और इन लोगों ने किसकी जमीनें हड़पी। हमारे गरीब आदिवासियों की जमीनें हड़पी, सेना की जमीन तक हड़पने की कोशिश की। सेना की जमीन हड़पना मतलब चोरी करने की आदत कितनी भयंकर होगी इसका यह उदाहरण है। मैं आपसे पूछता हूं इनके घरों से जो नोटों के पहाड़ बरामद हुए हैं वो पैसे किसके हैं, वो पैसे किसके हैं, पैसे किसके हैं, वो पैसे किसके हैं? आपका है कि नहीं है। इसके मालिक आप हैं कि नहीं हैं। ये आपके बच्चों का हक का पैसा है कि नहीं है। यह आपका पैसा है। भोले भाले मेरे आदिवासी भाई बहनों का पैसा है। दलितों का पिछड़ा का पैसा है जो इन लोगों ने लूटा है। आप मुझे बताइए, क्या यह लोग अपनी इस काली कमाई में से एक भी रुपया आपके बच्चों को देते क्या? और ये लूट करते हैं ना तो क्या कहते हैं अरे भाई अरबों-खरबों लूट लेंगे और वकील को क्या है अरे जो चाहिए दे देंगे, अदालत से निकल जाएंगे और फिर तो मौज ही मौज है। यानी वकील के लिए भी आपका चोरी का पैसा। ये खेल है इनका, लेकिन मोदी इन बेईमानों के ठिकानों से पैसा बरामद करवा रहा है। लेकिन मेरे झारखंड के भाई-बहन ये जो नोटों के पहाड़ में पकड़ रहा हूं ना। मैं आपको गारंटी देता हूं मैं सरकार की तिजोरी में ले जाने के लिए नहीं कर रहा हूं। मैं ये खोजूंगा ये पैसे किसके थे, उसको उनको क्यों देना पड़ा, कैसे दिया था और अगर यह पक्का हो जाएगा हां इन्हीं के पैसे हैं। ये सारे पहाड़ के पहाड़ के रुपए है ना, मैं उन सब गरीबों को लौटा दूंगा। यह पैसा आपका है। मोदी इसके लिए कानूनी सलाह ले रहा है, मैं रास्ते खोज रहा हूं कि जो गरीब का पैसा है, जिसके हक का पैसा गया है वह पैसा उसको वापस कैसे मिले।

साथियों,

पूरी दुनिया जानती है कि देश की प्रगति के लिए उद्योग जरूरी है जमशेदपुर का तो नाम ही जमशेद जी टाटा के नाम पर है। लेकिन कांग्रेस पार्टी उद्यम करने वालों को देश का दुश्मन मानती है। उसके नेता खुलेआम कहते हैं जो कारोबारी हमें पैसा नहीं देते हम उन पर हमला करते हैं। यानी कांग्रेस और झामुमो जैसे दलों को देश के उद्योगों से मतलब नहीं है उन्हें अपने भ्रष्टाचार और वसूली से मतलब है। भाइयों-बहनों, मैं आज एक गंभीर विषय को स्पर्श करना चाहता हूं क्योंकि मैं आज उद्योग की धरती पर खड़ा हूं और मेरे आदिवासी भाई बहनों के बीच खड़ा हूं। मैं जरा कांग्रेस को उनके साथियों को, जहां जहां उनकी सरकारें है चाहे तमिलनाडु में हो, केरल में हो, कर्नाटका में हो, तेलंगाना में हो, पश्चिम बंगाल में हो, हिमाचल में हो, मैं उन मुख्यमंत्रियों को चुनौती देता हूं और जरा समझ लें मेरी चुनौती को। ये मेरा पॉलिटिकल स्टेटमेंट नहीं है यह मेरा चुनावी स्टेटमेंट नहीं है। मैं बड़ी गंभीरता से एक विषय को छेड़ना चाहता हूं और जो मीडिया वाले अपने आप को बड़ा खैर खा मानते हैं, अपने आप को न्यूट्रल मानते हैं वह जरा इनके मुख्यमंत्रियों को जाकर के सवाल पूछे। ये उनके शहजादे आए दिन उद्योगों का विरोध करते हैं उद्योगपतियों का विरोध करते हैं निवेश का विरोध करते हैं। आने वाले दिनों में कौन उद्योगपति उनके राज्य में जाकर के पूंजी निवेश करेगा। उन राज्यों के नौजवानों का क्या होगा। ये महाराष्ट्र में जो लोग चुनाव लड़ने के लिए हमारे सामने है क्या वे शहजादे की इस भाषा को मान्य करते हैं क्या। सारे निवेशक जो मुझे मिलने आते हैं वह कहते हैं साहब हम इन राज्यों में नहीं जाएंगे क्योंकि वहां तो हमारे विरोधी विचारधारा है निवेश की विरोध की विचारधारा है, उद्योगपतियों को गालियां दी जाती है। मैं उन राज्यों के नौजवानों को पूछता हूं जो शहजादे की भाषा को सुनकर के कौन उद्योगपति उन राज्यों में आएगा। वो 50 बार सोचेगा कि शहजादे की नीतियां हैं तो उनके मुख्यमंत्री भी वैसा ही करेंगे। हमारा उद्योग पैसे तो लग जाएंगे बर्बाद हो जाएगा। और फिर चिल्लाना मत कि हमारे यहां से उद्योग चले गए, फलाने राज्य में गए, ढिकने राज्य में गए। ये आपके शहजादे की भाषा के कारण आज दुनिया से इतने उद्योग का आ रहे हैं, आपके राज्य में आने को कोई तैयार नहीं है। निवेश करने को तैयार नहीं है और मुझे मेरे लिए हिंदुस्तान के किसी भी कोने का नौजवान मेरा अपना है। मैं उसके अधिकारों को कोई छीन ले यह मुझे स्वीकार्य नहीं है। और इसलिए कांग्रेस के, इंडिया अलायंस के, टीएमसी के, ये जितने मुख्यमंत्री है वो स्पष्ट करें ये जो शहजादे की भाषा है, उद्योगकारों के खिलाफ जो बोला जा रहा है, उद्योगों के खिलाफ बोला जा रहा है, निवेश के खिलाफ बोला जा रहा है। देश के नौजवानों की जिंदगी तबाह करने की भाषा बोली जा रही है। क्या ये सारे मुख्यमंत्री उससे सहमत हैं कि विरोध में हैं। कोई निवेशक उनके यहां नहीं आएगा। और फिर दूसरे राज्यों में चले जाएंगे और आप रोते बैठोगे और आपके राज्य के नौजवानों को पलायन करके उन राज्यों में जाना पड़ेगा जहां उद्योग लग रहे हैं।

भाइयों बहनों,

ये कांग्रेस की भाषा, ये शहजादे की भाषा पूरी तरह नक्सली भाषा है, माओवादी भाषा है। और नक्सली भी तो बिना रंगदारी लिए किसी कारोबारी को काम नहीं करने देते। आज मोदी ने नक्सलियों की कमर तोड़ दी है इसलिए आज रंगदारी की जिम्मेदारी कांग्रेस और झामुमो ने उठा ली है। आप मुझे बताइए, ये नए नए तरीके से रंगदारी करना, नए-नए तरीके से लूट चलाना नोटों के पहाड़ इकट्ठा करना ऐसे कांग्रेस झामुमो को एक भी वोट मिलना चाहिए क्या। जरा पूरी ताकत से, इन लोगों को एक भी वोट मिलना चाहिए क्या। हर बूथ में से इनका सफाया होना चाहिए कि नहीं होना चाहिए।

साथियों,

कांग्रेस जैसे दलों ने कभी आपकी परवाह नहीं की। इन लोगों ने 60 साल तक ‘गरीबी हटाओ’ का झूठा नारा दिया। ये मोदी है जो गरीब मां का बेटा है, गरीबी का दर्द क्या होता है वो जानता है, जी करके आया है। और इसलिए मैं 10 साल से लगा हूं और अब तक 25 करोड़ गरीबों को गरीबी से बाहर निकाल करके लाया हूं। कांग्रेस ने गरीबों को बैंकों में दरवाजे तक नहीं जाने दिया। मोदी ने 52 करोड़ देशवासियों के जनधन खाते खोले, बैंक के दरवाजे खोल दिए। हमारे देश में करोड़ों गरीबों को सर पर छत भी नसीब नहीं थी। मोदी ने 4 करोड़ गरीबों को पक्का घर बना कर के दिया है। 4 करोड़ पक्का घर आजादी के इतिहास की बहुत बड़ी घटना है। कांग्रेस सरकार में देश के 18000 गांव 18वीं शताब्दी में जीते थे, बिजली नहीं थी भाइयों। देश के हर गांव तक बिजली पहुंचाने का काम ये आपकी गरीब मां के बेटे ने किया है। कांग्रेस ने देश के करोड़ों घर को साफ पानी से भी वंचित रखा, ये मोदी है जो हर घर नल से जल पहुंचाने में जुटा है।

साथियों,

कांग्रेस-झामुमो-आरजेडी के शासन में जमशेदपुर जैसे शहरों की दशकों तक उपेक्षा हुई। कुछ समय पहले तक रांची से जमशेदपुर पहुंचने में 6 घंटे लगते थे। हमने रोड इनफ्रास्ट्रक्चर पर काम किया। आज ये सफर आधे से भी कम समय में पूरा हो जाता है। हमने NH-33 को फोरलेन करवाया है। आज इस क्षेत्र में रेलवे कनेक्टिविटी के लिए, रेलवे स्टेशनों के आधुनिकीकरण के लिए तेजी से काम चल रहा है। हमारी सरकार धालधुनगढ़ में एयरपोर्ट भी बनाना चाहती है। लेकिन, झारखंड सरकार इसमें रोड़े अटका रही है।

साथियों,

परिवारवादी पार्टियां देश को अपनी पर्सनल प्रॉपर्टी समझती हैं। आपने न्यूज़ में देखा होगा। कांग्रेस के शहजादे वायनाड से भागकर चुनाव लड़ने रायबरेली गए हैं। वो सबको कहते घूम रहे हैं, ये मेरी मम्मी की सीट है! अरे कोई बच्चा स्कूल में पढ़ने जाता है ना तो भी यह नहीं कहता है कि मेरे पप्पा का स्कूल है। भले पप्पा वहां पढ़े हों। ये कहते मेरी मम्मी की सीट है। आठ साल का बच्चा भी ऐसा नहीं बोलता है जी। उनकी माता जी भी वहां गई प्रचार करने के लिए और रायबरेली में जाकर कहा कि वह अपना बेटा उनको सौंप रहे हैं। रायबरेली में उनको 50-50 साल साल से इस परिवार की सेवा करने वाला एक भी कार्यकर्ता नहीं मिला जिनको वो रायबरेली में पसंद करना चाहते हों। यह प्रॉपर्टी का भाव और भाइयों बहनों रायबरेली वाले पूछते हैं कि बेटे को रायबरेली देने आई हो लेकिन रायबरेली में जब कोविड के कारण लोग परेशान थे क्या एक बार भी रायबरेली आने का मौका नहीं मिला। क्या आपने रायबरेली में आकर के कोविड के समय भी क्या एक बार भी पूछा है कि आपका हाल क्या है और आज कह रही हो कि आप अपने बेटे को रायबरेली सुपुर्द कर दो। आप कल्पना करिए हमारे लोकतन्त्र का मंदिर, हमारी संसद, ये परिवारवादी लोग संसदीय सीटों का वसीयतनामा लिख रहे हैं। ये वही लोग हैं जो आपकी विरासत पर टैक्स लगाने की बात करते हैं! यानी, जीवन भर कमाएंगे आप, लेकिन आपकी कमाई आपके बच्चों को नहीं मिलेगी! उसे हड़पेगी कांग्रेस! लेकिन, संसद की सीट इन्हें अपनी खानदानी जायदाद लगती है। खुद रिटायर हो रहे हैं, तो पार्टी के कार्यकर्ता को मौका नहीं मिलेगा। सीट बेटे को मिलेगी! (बेटी आप तस्वीर लेकर आई हो थक जाओगी ऐसे खड़े खड़े। जरा यह तस्वीर भी एसपीजी वाले उन बेटी से ले लेना। अपना नाम पता लिख देना बेटा, नाम पता लिख देना।) ऐसी परिवारवादी पार्टियों से हमें झारखंड को बचाकर रखना है।

साथियों,

परिवारवादी इंडी गठबंधन वालों ने सबसे ज्यादा नुकसान दलित, पिछड़ा और आदिवासी समाज का किया है। खरसांवा और गुआ गोलीकांड को कौन भूल सकता है? कांग्रेस सरकार ने आम लोगों का, आदिवासी युवाओं का सामूहिक नरसंहार किया था। कांग्रेस को आदिवासी समाज से नफरत रही है। आज़ादी की लड़ाई में हमारे आदिवासी समाज ने कितने बलिदान दिये! लेकिन, कांग्रेस ने किसका इतिहास पढ़ाया? केवल एक परिवार का! जब बीजेपी सत्ता में आई, तो हमने आदिवासी गौरव के लिए दिन-रात काम किया है। हमने भगवान बिरसा मुंडा की जयंती पर जनजातीय गौरव दिवस मनाने की शुरुआत की। आज हम देश भर में आदिवासी सेनानियों के म्यूज़ियम बना रहे हैं। हमने पहली बार एक आदिवासी महिला द्रोपदी मुर्मु जी को देश की राष्ट्रपति बनाया है। और मैं याद दिलाउंगा, कांग्रेस ने द्रोपदी मुर्मु को भी चुनाव हरवाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी थी! और ये झामुमो वाले उसी कांग्रेस के साथ खड़े हैं।

साथियों,

आज देश जान चुका है, संविधान को खतरा इंडी गठबंधन वालों से है। बाबा साहेब आंबेडकर धर्म के आधार पर आरक्षण के खिलाफ थे। लेकिन ये इंडी वाले संविधान बदलकर दलित, पिछड़ा और आदिवासी का आरक्षण बंद करना चाहते हैं। अब ये पूरा का पूरा आरक्षण मुस्लिमों को देने की बात कर रहे हैं। कुछ राज्यों में इन्होंने इसकी शुरुआत भी कर दी है। मोदी इन्हें 23 अप्रैल से चुनौती दे रहा है कि लिखित में दें कि SC-ST-OBC का आरक्षण छीनकर उसे मुसलमानों को नहीं देंगे। लेकिन आज 25 दिन हो रहे हैं कांग्रेस और इंडी वालों ने चुप्पी साध रखी है। अपने पाप की तैयारी कर रहे हैं।

साथियों,

25 मई को आपका एक वोट झारखंड और देश के भाग्य का फैसला करेगा। बीजेपी ने जमशेदपुर से श्री विद्युत बरन महतो को ज़िम्मेदारी सौंपी है। आप इनके लिए कमल का बटन दबाएंगे। और जब आप इनको कमल का बटन दबा कर के वोट देंगे ना वो वोट सीधा सीधा मोदी के खाते में जाएगा। आपका वोट सीधा मोदी को मिलेगा, मोदी को मजबूती मिलेगी। आप ज्यादा से ज्यादा लोगों को मिलेंगे ज्यादा से ज्यादा मतदान कराएंगे? 10 बजे के पहले ज्यादा मतदान हो कोशिश करेंगे? पहले मतदान फिर जलपान यह यह करके दिखाएंगे। अच्छा मेरा एक काम करेंगे। जरा दोनों हाथ ऊपर करके सबके सब बताओ तो मैं बोलूं। मेरा एक काम करेंगे, मेरा एक काम करेंगे। यहां से जाकर ज्यादा से ज्यादा घरों में जाइए, ज्यादा से ज्यादा परिवारों से मिलिए और मिलकर के कहिए कि मोदी जी जमशेदपुर आए थे और मोदी जी ने परिवार के सबको प्रणाम कहा है। मेरा प्रणाम कह देंगे। मेरा प्रणाम कह देंगे। एक और काम करेंगे। हमारे यहां हर गांव में ग्राम देवता का मंदिर होता है छोटा सा भी मंदिर होता है आप जाकर के वहां जरूर प्रणाम करना, मेरी तरफ से माथा टेकना और कहना देश के उज्जवल भविष्य के लिए परमात्मा हम सबको आशीर्वाद दे।
मेरे साथ बोलिए भारत माता की,

भारत माता की,

भारत माता की।

बहुत बहुत धन्यवाद।