ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମୋଦୀଙ୍କ ନେତୃତ୍ୱରେ ଉତ୍ପାଦନ କ୍ଷେତ୍ର ପାଇଁ ବିଭିନ୍ନ ସହାୟତା ପଦକ୍ଷେପ ଯୋଗୁଁ ଭାରତୀୟ ଅର୍ଥନନୈତିକ ଅଭିବୃଦ୍ଧି ଆହୁରି ତ୍ୱରାନ୍ୱିତ ହୋଇଛି : ଜାପାନ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କିଶିଦା
“ମାରୁତି-ସୁଜୁକିର ସଫଳତା ଭାରତ-ଜାପାନ ସହଭାଗିତାର ଦୃଢତାକୁ ସୂଚୀତ କରେ”
“ଗତ ଆଠ ବର୍ଷ ମଧ୍ୟରେ ଭାରତ ଏବଂ ଜାପାନ ମଧ୍ୟରେ ସମ୍ପର୍କ ନୂଆ ଶିଖରରେ ପହଞ୍ଚିଛି”
“ଯେତେବେଳେ ଏହି ବନ୍ଧୁତା କଥା ଆସେ, ପ୍ରତ୍ୟେକ ଭାରତୀୟ ନିଶ୍ଚିତ ଭାବରେ ଆମର ବନ୍ଧୁ ପୂର୍ବତନ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ସିଞ୍ଜୋ ଆବେଙ୍କୁ ମନେ ପକାନ୍ତି”
“ଆମର ପ୍ରୟାସ ସର୍ବଦା ଜାପାନ ପ୍ରତି ଗମ୍ଭୀରତା ଏବଂ ସମ୍ମାନ ବହନ କରୁଥିଲା, ସେଥିପାଇଁ ଗୁଜୁରାଟରେ ଜାପାନର ପ୍ରାୟ ୧୨୫ କମ୍ପାନୀ କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଛନ୍ତି”
“ଯୋଗାଣ, ଚାହିଦା ଏବଂ ଇକୋସିଷ୍ଟମ ମଜବୁତ ହେବା ସହିତ ଇଭି ସେକ୍ଟର ନିଶ୍ଚିତ ଭାବରେ ଅଗ୍ରଗତି କରିବାକୁ ଯାଉଛି”

ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ଶ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀ ଆଜି ଗାନ୍ଧିନଗରର ମହାତ୍ମା ମନ୍ଦିରରେ ଆୟୋଜିତ ଭାରତରେ ସୁଜୁକିର ୪୦ ବର୍ଷ ପୂର୍ତ୍ତିର ସ୍ମୃତି ଉଦ୍ଦେଶ୍ୟରେ ଏକ କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମକୁ ସମ୍ବୋଧିତ କରିଛନ୍ତି । ଭାରତରେ ଜାପାନର ରାଷ୍ଟ୍ରଦୂତ ମାନ୍ୟବର ଶ୍ରୀ ସାତୋସି ସୁଜୁକି, ଗୁଜୁରାଟର ମୁଖ୍ୟମନ୍ତ୍ରୀ ଶ୍ରୀ ଭୁପେନ୍ଦ୍ର ପଟେଲ, ସାଂସଦ ଶ୍ରୀ ସି ଆର ପାଟିଲ, ରାଷ୍ଟ୍ର ମନ୍ତ୍ରୀ ଶ୍ରୀ ଜଗଦୀଶ ପଞ୍ଚଲ, ସୁଜୁକି ମୋଟର ନିଗମର ପୂର୍ବତନ ସଭାପତି ଶ୍ରୀ ଓ ସୁଜୁକି, ସୁଜୁକି ମୋଟର ନିଗମର ସଭାପତି ଶ୍ରୀ ଟି ସୁଜୁକି ଏବଂ ମାରୁତି-ସୁଜୁକିର ଅଧ୍ୟକ୍ଷ ଶ୍ରୀ ଆର ସି ଭାର୍ଗବ ଏହି ଉତ୍ସବରେ ଉପସ୍ଥିତ ଥିଲେ । ହରିୟାଣାର ମୁଖ୍ୟମନ୍ତ୍ରୀ ଶ୍ରୀ ମନୋହର ଲାଲ ଭିଡିଓ କନଫରେନ୍ସିଂ ଜରିଆରେ ଉଦ୍‍ବୋଧନ ଦେଇଥିଲେ ଏବଂ ଜାପାନର ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମାନ୍ୟବର ଶ୍ରୀ ଫୁମିଓ କିଶିଡାଙ୍କ ଭିଡିଓ ବାର୍ତ୍ତା ଉପସ୍ଥାପିତ ହୋଇଥିଲା ।

ଜାପାନର ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କିଶିଦା ଏହି ଅବସରରେ ଅଭିନନ୍ଦନ ଜଣାଇବା ସହ କହିଛନ୍ତି ଯେ ୪ ଦଶନ୍ଧି ମଧ୍ୟରେ ମାରୁତି ସୁଜୁକିର ଅଭିବୃଦ୍ଧି ଭାରତ ଏବଂ ଜାପାନ ମଧ୍ୟରେ ଦୃଢ ଅର୍ଥନୈତିକ ସମ୍ପର୍କକୁ ଦର୍ଶାଉଛି । ଭାରତୀୟ ବଜାରର ସମ୍ଭାବନାକୁ ସ୍ୱୀକୃତି ଦେଇ ସେ ସୁଜୁକିର ପରିଚାଳନାକୁ ପ୍ରଶଂସା କରିଥିଲେ । “ମୁଁ ଭାବୁଛି ଯେ ଭାରତର ଲୋକ ତଥା ସରକାରଙ୍କ ବୁଝାମଣା ଏବଂ ସମର୍ଥନ ପାଇଁ ଆମର ଏହି ସଫଳତା । ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମୋଦୀଙ୍କ ଦୃଢ ନେତୃତ୍ୱ ଦ୍ୱାରା ଉତ୍ପାଦନ କ୍ଷେତ୍ର ପାଇଁ ବିଭିନ୍ନ ସହାୟତା ପଦକ୍ଷେପ ଯୋଗୁଁ ନିକଟରେ ଭାରତୀୟ ଅର୍ଥନୈତିକ ଅଭିବୃଦ୍ଧି ଆହୁରି ତ୍ୱରାନ୍ୱିତ ହୋଇଛି ବୋଲି ସେ କହିଛନ୍ତି ।” ସେ ସୂଚନା ଦେଇଛନ୍ତି ଯେ ଜାପାନର ଅନ୍ୟ ଅନେକ କମ୍ପାନୀ ଭାରତରେ ପୁଞ୍ଜି ବିନିଯୋଗ କରିବାକୁ ଆଗ୍ରହ ପ୍ରକାଶ କରିଛନ୍ତି । ଭାରତ ଏବଂ ଜାପାନ ସେମାନଙ୍କ ସମ୍ପର୍କର ୭୦ ବର୍ଷ ପୂରଣ କରୁଥିବାରୁ ସେ ଚଳିତ ବର୍ଷର ଗୁରୁତ୍ୱକୁ ମଧ୍ୟ ଉଲ୍ଲେଖ କରିଛନ୍ତି । ସେ ଆହୁରି ମଧ୍ୟ କହିଛନ୍ତି ଯେ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମୋଦୀଙ୍କ ସହ ମିଶି ମୁଁ ଜାପାନ-ଭାରତ ରଣନୀତିକ ତଥା ଆର୍ନ୍ତଜାତିକ ସହଯୋଗିତାକୁ ଆହୁରି ବିକଶିତ କରିବା ଏବଂ ଏକ ମୁକ୍ତ ଏବଂ ଖୋଲା ଭାରତ ପ୍ରଶାନ୍ତ ମହାସାଗରୀୟ କ୍ଷେତ୍ରରେ କାର୍ଯ୍ୟ ପାଇଁ ଉଦ୍ୟମ କରିବାକୁ ସଂକଳ୍ପବଦ୍ଧ ।

ଏହି ସମାବେଶକୁ ସମ୍ବୋଧିତ କରି ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ସୁଜୁକି ନିଗମ ସହ ଜଡିତ ସମସ୍ତଙ୍କୁ ଅଭିନନ୍ଦନ ଜଣାଇଛନ୍ତି । ସେ କହିଛନ୍ତି, ଭାରତର ପରିବାର ସହିତ ସୁଜୁକିର ଘନିଷ୍ଠତା ବର୍ତ୍ତମାନ ୪୦ ବର୍ଷ ମଜବୁତ ହୋଇଛି । ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କହିଛନ୍ତି ମାରୁତି-ସୁଜୁକିର ସଫଳତା ମଧ୍ୟ ଭାରତ-ଜାପାନ ସହଭାଗିତାକୁ ସୂଚୀତ କରେ । ଗତ ଆଠ ବର୍ଷ ମଧ୍ୟରେ ଆମର ଦୁଇ ଦେଶ ମଧ୍ୟରେ ଏହି ସମ୍ପର୍କ ନୂଆ ଶିଖରରେ ପହଞ୍ଚିଛି । ଆଜି ଗୁଜୁରାଟ-ମହାରାଷ୍ଟ୍ରର ବୁଲେଟ୍ ଟ୍ରେନ୍ ଠାରୁ ଆରମ୍ଭ କରି ୟୁପିର ବନାରସର ରୁଦ୍ରାକ୍ଷ କେନ୍ଦ୍ର ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ଅନେକ ବିକାଶମୂଳକ ପ୍ରକଳ୍ପ ଭାରତ-ଜାପାନ ବନ୍ଧୁତ୍ୱର ଉଦାହରଣ ଅଟେ । ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ତାଙ୍କ ବକ୍ତବ୍ୟ ଜାରି ରଖି କହିଥିଲେ ଯେ ଯେତେବେଳେ ଏହି ବନ୍ଧୁତା କଥା ଆସେ, ପ୍ରତ୍ୟେକ ଭାରତୀୟ ନିଶ୍ଚିତ ଭାବରେ ଆମର ବନ୍ଧୁ, ପୂର୍ବତନ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ସିଞ୍ଜୋ ଆବେଙ୍କୁ ମନେ ପକାନ୍ତି । ଯେତେବେଳେ ଆବେ ସାନ୍ ଗୁଜରାଟକୁ ଆସି ଏଠାରେ ସମୟ ଅତିବାହିତ କରିଥିଲେ, ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କହିଛନ୍ତି ଯେ ତାହାକୁ ଗୁଜୁରାଟର ଲୋକମାନେ ଏହାକୁ ଭଲଭାବେ ମନେ ରଖିଛନ୍ତି । ସେ ଆହୁରି ମଧ୍ୟ କହିଛନ୍ତି ଯେ ଆଜି ଦୁଇ ଦେଶକୁ ନିକଟତର କରିବା ପାଇଁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କିଶିଦା ଉଦ୍ୟମ ଜାରି ରଖିଛନ୍ତି ।

୧୩ ବର୍ଷ ପୂର୍ବେ ଗୁଜୁରାଟରେ ସୁଜୁକିର ଆଗମନକୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମନେ ପକାଇଥିଲେ ଏବଂ ଏକ ଭଲ ଶାସନ ମଡେଲ ଭାବରେ ଏହାକୁ ଉପସ୍ଥାପନ କରିବାକୁ ଗୁଜୁରାଟର ଆତ୍ମବିଶ୍ୱାସକୁ ମନେ ରଖିଥିଲେ । ମୁଁ ଖୁସି ଯେ ଗୁଜୁରାଟ ସୁଜୁକିକୁ ଦେଇଥିବା ପ୍ରତିଶ୍ରୁତି ପାଳନ କରିଛି ଏବଂ ସୁଜୁକି ମଧ୍ୟ ଗୁଜୁରାଟର ଇଚ୍ଛାକୁ ସମାନ ସମ୍ମାନର ସହ ରଖିଛି । ଗୁଜୁରାଟ ବିଶ୍ୱର ଏକ ଅଟୋମୋବାଇଲ୍ ଉତ୍ପାଦନ ହବ୍ ଭାବରେ ଉଭା ହୋଇଛି ବୋଲି ସେ କହିଛନ୍ତି । ଗୁଜୁରାଟ ଏବଂ ଜାପାନ ମଧ୍ୟରେ ରହିଥିବା ସମ୍ପର୍କ ଉପରେ ଗୁରୁତ୍ୱ ଦେଇ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କହିଛନ୍ତି ଯେ ଏହା କୂଟନୈତିକ ସମ୍ପର୍କ ଠାରୁ ଅଧିକ ଅଟେ । ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କହିଛନ୍ତି ଯେ ମୋର ମନେ ଅଛି ଯେତେବେଳେ ୨୦୦୯ ରେ ଭାଇବ୍ରାଣ୍ଟ ଗୁଜୁରାଟ ସମ୍ମିଳନୀ ଆରମ୍ଭ ହୋଇଥିଲା, ସେହି ଦିନଠାରୁ ଜାପାନ ଏକ ସହଭାଗୀ ଦେଶ ଭାବରେ ସାମିଲ ଥିଲା । ଜାପାନ ନିବେଶକ ମାନେ ଯେଭଳି ଗୁଜରାଟରେ ନିଜ ଘରେ ନିବେଶ କରିବାର ଅନୁଭୂତି ପାଇବେ ସେଥିପାଇଁ ଗୁଜରାଟରେ ଏକ ମିନି ଜାପାନ ତିଆରି କରିବାର ସଂକଳ୍ପ ସେ ମନେ ରଖିଥିଲେ । ଏହାକୁ ହୃଦୟଙ୍ଗମ କରିବା ପାଇଁ ଅନେକ ଛୋଟ ପଦକ୍ଷେପ ନିଆଯାଇଥିଲା । ଜାପାନିଜ ରୋଷେଇ ସହିତ ବିଶ୍ୱ ସ୍ତରୀୟ ଗଲ୍ଫ ଖେଳ ଏବଂ ରେଷ୍ଟୁରାଣ୍ଟଣ୍ଟନିର୍ମାଣ ଏବଂ ଜାପାନୀ ଭାଷାର ପ୍ରୋତ୍ସାହନ ଏହିପରି କିଛି ଉଦାହରଣ ଅଟେ । ସେ ଆହୁରି ମଧ୍ୟ କହିଛନ୍ତି ଯେ ଆମର ପ୍ରୟାସ ସର୍ବଦା ଜାପାନ ପ୍ରତି ଗମ୍ଭୀରତା ଏବଂ ସମ୍ମାନ ବହନ କରୁଥିଲା, ସେଥିପାଇଁ ଗୁଜୁରାଟରେ ସୁଜୁକି ସହିତ ଜାପାନର ପ୍ରାୟ ୧୨୫ ଟି କମ୍ପାନୀ କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଛନ୍ତି । ଅହମ୍ମଦାବାଦରେ ଜେଟ୍ରୋ ରନ୍ ସପୋର୍ଟ ସେଣ୍ଟର ଅନେକ କମ୍ପାନୀକୁ ଶିଳ୍ପ ପ୍ରତିଷ୍ଠା ପାଇଁ ତତ୍କାଳ ସୁବିଧା ଯୋଗାଉଛି । ଜାପାନ ଇଣ୍ଡିଆ ଇନଷ୍ଟିଚ୍ୟୁଟ୍ ଫର ମାନ୍ୟୁଫାକ୍‍ଚରିଂ ଅନେକ ଲୋକଙ୍କୁ ତାଲିମ ଦେଉଛି । ଗୁଜୁରାଟର ବିକାଶ ଯାତ୍ରାରେ "କାଇଜେନ” ର ଅବଦାନକୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ଉଲ୍ଲେଖ କରିଛନ୍ତି । ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କହିଛନ୍ତି ଯେ ପିଏମଓ ଏବଂ ଅନ୍ୟାନ୍ୟ ବିଭାଗରେ ମଧ୍ୟ କାଇଜେନର ଦୃଷ୍ଟିକୋଣକୁ ପ୍ରୟୋଗ କରାଯାଇଥିଲା ।

ବୈଦ୍ୟୁତିକ ଯାନଗୁଡିକର ଏକ ମହତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ବୈଶିଷ୍ଟ୍ୟକୁ ଦର୍ଶାଇ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କହିଛନ୍ତି ଯେ ସେମାନେ ନୀରବ ଅଟନ୍ତି । ଦୁଇ ଚକିଆ କିମ୍ବା ଚାରି ଚକିଆ ହେଉ, ସେମାନେ କୌଣସି ଶବ୍ଦ କରନ୍ତି ନାହିଁ । ସେ କହିଛନ୍ତି ଯେ ଏହି ନିରବତା କେବଳ ଏହାର ଇଞ୍ଜିନିୟରିଂ ବିଷୟରେ ନୁହେଁ, ଏହା ଦେଶରେ ନିରବ ବିପ୍ଳବର ଆରମ୍ଭ ମଧ୍ୟ ଅଟେ । ଇଭି ଇକୋସିଷ୍ଟମକୁ ମଜବୁତ କରିବା ପାଇଁ ସରକାରଙ୍କ ପ୍ରୟାସର ଏକ ଅଂଶ ଭାବରେ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କହିଛନ୍ତି ଯେ ଇଲେକ୍ଟ୍ରିକ୍ ଯାନ କ୍ରେତାଙ୍କୁ ବିଭିନ୍ନ ପ୍ରୋତ୍ସାହନ ଦିଆଯାଉଛି । ଆୟକର ରିହାତି ଏବଂ ଋଣ ପ୍ରକ୍ରିୟାକୁ ସରଳ କରିବା ଭଳି ସରକାର ଅନେକ ପଦକ୍ଷେପ ନେଇଛନ୍ତି । ଯୋଗାଣକୁ ବଢାଇବା ପାଇଁ ଅଟୋମୋବାଇଲ ଏବଂ ଅଟୋମୋବାଇଲ ଉପାଦାନ ଉତ୍ପାଦନରେ ପିଏଲଆଇ ଯୋଜନା ପ୍ରବର୍ତ୍ତନ ପାଇଁ ମଧ୍ୟ ଦ୍ରୁତ ଗତିରେ କାର୍ଯ୍ୟ ଚାଲିଛି ବୋଲି ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କହିଛନ୍ତି । ଏକ ଦୃଢ ବୈଦ୍ୟୁତିକ ଯାନ ଚାର୍ଜିଂ ଭିତ୍ତିଭୂମି ପ୍ରସ୍ତୁତ କରିବାକୁ ମଧ୍ୟ ଅନେକ ନୀତିଗତ ନିଷ୍ପତ୍ତି ନିଆଯାଇଛି । ୨୦୨୨ ଆର୍ଥିକ ବଜେଟରେ ଏକ ବ୍ୟାଟେରୀ ଅଦଳବଦଳ ନୀତି ମଧ୍ୟ ପ୍ରଣୟନ କରାଯାଇଛି ବୋଲି ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କହିଛନ୍ତି । ସେ ଏହା ମଧ୍ୟ କହିଛନ୍ତି ଯେ ଏହା ନିଶ୍ଚିତ ଯେ ଯୋଗାଣ, ଚାହିଦା ଏବଂ ଇକୋସିଷ୍ଟମକୁ ଦୃଢ କରିବା ସହିତ ଇଭି କ୍ଷେତ୍ର ଅଗ୍ରଗତି କରିବାକୁ ଯାଉଛି ।

ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମନ୍ତବ୍ୟ ଦେଇଛନ୍ତି ଯେ ସିଓପି-୨୬ ରେ ଭାରତ ଘୋଷଣା କରିଛି ଯେ ଏହା ୨୦୩୦ ସୁଦ୍ଧା ଅଣ-ଜୀବାଶ୍ମ ଉତ୍ସରୁ ଏହାର ସ୍ଥାପିତ ବୈଦ୍ୟୁତିକ କ୍ଷମତାର ୫୦% ହାସଲ କରିବ । ୨୦୭୦ ପାଇଁ ଆମେ 'ନେଟ୍ ଜିରୋ' ଲକ୍ଷ୍ୟ ସ୍ଥିର କରିଛୁ ବୋଲି ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କହିଛନ୍ତି । ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ଖୁସି ବ୍ୟକ୍ତ କରିଛନ୍ତି ଯେ ମାରୁତି ସୁଜୁକି ମଧ୍ୟ ଜୈବ ଇନ୍ଧନ, ଇଥାନଲ ମିଶ୍ରଣ ଏବଂ ହାଇବ୍ରିଡ ଇଭି ଭଳି ପ୍ରକଳ୍ପ ଉପରେ କାମ କରୁଛନ୍ତି । ସୁଜୁକି କମ୍ପ୍ରେସଡ୍‍ ବାୟୋମିଥେନ୍ ଗ୍ୟାସ୍ ସମ୍ବନ୍ଧୀୟ ପ୍ରକଳ୍ପଗୁଡ଼ିକ ଉପରେ କାମ ଆରମ୍ଭ କରିବାକୁ ମଧ୍ୟ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ପରାମର୍ଶ ଦେଇଛନ୍ତି । ସୁସ୍ଥ ପ୍ରତିଯୋଗିତା ଏବଂ ପାରସ୍ପରିକ ଶିକ୍ଷା ପାଇଁ ଏକ ଉତ୍ତମ ପରିବେଶ ସୃଷ୍ଟି କରାଯିବାକୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମଧ୍ୟ ଚାହୁଁଛନ୍ତି । ଏହା ଉଭୟ ଦେଶ ତଥା ବ୍ୟବସାୟ ପାଇଁ ଲାଭଦାୟକ ହେବ ବୋଲି ସେ କହିଛନ୍ତି । ଆମର ଲକ୍ଷ୍ୟ ହେଉଛି ଅମୃତ କାଳର ଆଗାମୀ ୨୫ ବର୍ଷ ମଧ୍ୟରେ ଶକ୍ତି ଆବଶ୍ୟକତା କ୍ଷେତ୍ରରେ ଭାରତ ଆତ୍ମନିର୍ଭର ହେବା । ପରିବହନ କ୍ଷେତ୍ରରେ ଶକ୍ତି ବ୍ୟବହାରର ଏକ ପ୍ରମୁଖ ଅଂଶ ହୋଇଥିବାରୁ ଏହି କ୍ଷେତ୍ରରେ ନବସୃଜନ ଏବଂ ପ୍ରୟାସ ଆମର ପ୍ରାଥମିକତା ହେବା ଉଚିତ୍‍ । ମୁଁ ନିଶ୍ଚିତ ଯେ ଆମେ ଏହା ହାସଲ କରିପାରିବା ବୋଲି ସେ କହିଛନ୍ତି ।

ପୃଷ୍ଠଭୂମି

ଏହି କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମରେ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ଭାରତର ସୁଜୁକି ଗୋଷ୍ଠୀର ଦୁଇଟି ପ୍ରମୁଖ ପ୍ରକଳ୍ପର ଭିତ୍ତିପ୍ରସ୍ତର ସ୍ଥାପନ କରିଛନ୍ତି - ଗୁଜୁରାଟର ହାନସାଲପୁରରେ ସୁଜୁକି ମୋଟର ଗୁଜୁରାଟ ଇଲେକ୍ଟ୍ରିକ୍ ଯାନ ବ୍ୟାଟେରୀ ଉତ୍ପାଦନ ସୁବିଧା ଏବଂ ହରିୟାନାର ଖାରଖୋଡା ଠାରେ ମାରୁତି ସୁଜୁକିର ଆଗାମୀ ଯାନ ଉତ୍ପାଦନ ସୁବିଧା ରହିଛି ।

 

ଗୁଜୁରାଟର ହାନସାଲପୁରରେ ୭୩୦୦ କୋଟି ଟଙ୍କା ବିନିଯୋଗରେ ଇଲେକ୍ଟ୍ରିକ୍ ଯାନ ପାଇଁ ସୁଜୁକି ମୋଟର ଗୁଜୁରାଟ ଇଲେକ୍ଟ୍ରିକ୍ ଭେଇକିଲ୍ ବ୍ୟାଟେରୀ ଉତ୍ପାଦନ କାରଖାନା ପ୍ରତିଷ୍ଠା କରିବ । ହରିୟାଣାର ଖାରଖୋଡା ଠାରେ ବର୍ଷକୁ ୧୦ ଲକ୍ଷ ଯାତ୍ରୀବାହୀ ଯାନ ଉତ୍ପାଦନ କରିବାର ସୁବିଧା ଥିବା କ୍ଷମତା ପାଇବ ଏବଂ ଏହାକୁ ବିଶ୍ୱର ଗୋଟିଏ ସ୍ଥାନରେ ସର୍ବ ବୃହତ ଯାତ୍ରୀବାହୀ ଯାନ ଉତ୍ପାଦନ ସୁବିଧା ଭାବରେ ପରିଣତ କରିବ । ୧୧,୦୦୦ କୋଟିରୁ ଅଧିକ ପୁଞ୍ଜି ବିନିଯୋଗ ସହିତ ପ୍ରକଳ୍ପ ପ୍ରଥମ ପର୍ଯ୍ୟାୟ ସ୍ଥାପନ କରାଯିବ ।

ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ଅଭିଭାଷଣ ପଢିବା ପାଇଁ ଏଠାରେ କ୍ଲିକ କରନ୍ତୁ

Explore More
୭୭ତମ ସ୍ବାଧୀନତା ଦିବସ ଅବସରରେ ଲାଲକିଲ୍ଲା ପ୍ରାଚୀରରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀଙ୍କ ଅଭିଭାଷଣର ମୂଳ ପାଠ

ଲୋକପ୍ରିୟ ଅଭିଭାଷଣ

୭୭ତମ ସ୍ବାଧୀନତା ଦିବସ ଅବସରରେ ଲାଲକିଲ୍ଲା ପ୍ରାଚୀରରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀଙ୍କ ଅଭିଭାଷଣର ମୂଳ ପାଠ
Apple’s India output: $10 billion in 10 months

Media Coverage

Apple’s India output: $10 billion in 10 months
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
India's path to development will be strong through a developed Tamil Nadu: PM Modi
March 04, 2024
PM Modi emphasizes Chennai's pivotal role in India's development journey
Smart City Mission, AMRUT Scheme, Chennai Metro, and more projects are set to transform the cityscape: PM Modi in Chennai
Direct fund transfer to Tamil Nadu beneficiaries underscores BJP's transparent governance model: PM Modi
PM Modi lauds PM Surya Ghar Scheme, highlighting Tamil Nadu's significant role in achieving energy self-reliance
PM Modi celebrates India's strides in the energy sector, emphasizes clean politics over dynastic interests
PM Modi applauds to Supreme Court's decision against corrupt practices, vows to continue serving India with dedication

वणक्कम् चेन्नई
Every time I come to Chennai; I feel energised by the people. It is great to be here in this city which is full of life. Chennai is also a great hub of talent, trade and tradition.In our mission to build a developed India, the people of Chennai will play a very-very important role.

साथियों,
तमिलनाडु के प्रति मेरा लगाव बहुत पहले से है। मुझसे आपका प्रेम भी बहुत पुराना है। लेकिन, इधर कुछ वर्षों से मैं जब भी तमिलनाडु आता हूं, कुछ लोगों के पेट में दर्द होने लगता है। इन्हें इस बात से तकलीफ होती है कि बीजेपी का जनाधार यहां लगातार बढ़ रहा है। और आज यहां चेन्नई में भी हम देख रहे हैं। दूर-दूर तक लोग ही लोग बैठे हैं, उत्साह से भरे हुए लोग बैठे हैं।



साथियों,
मोदी ने विकसित भारत के साथ-साथ विकसित तमिलनाडु का संकल्प लिया हुआ है। हमें जल्द ही भारत को दुनिया की टॉप 3 इकॉनमी बनाना है। इसमें तमिलनाडु की, चेन्नई की भी बड़ी भूमिका है। भारत सरकार चेन्नई जैसे शहरों को विकसित करने के लिए निरंतर काम कर रही है। हमारी सरकार द्वारा, चेन्नई में हजारों करोड़ रुपये के Urban Infrastructure Projects पर काम किया जा रहा है। स्मार्ट सिटी मिशन हो, पीने के पानी और सीवेज मैनेजमेंट के लिए AMRUT Scheme हो, चेन्नई मेट्रो और चेन्नई एयरपोर्ट प्रोजेक्ट हो हमने ऐसे कई प्रोजेक्ट्स को आगे बढ़ाया है, जिससे यहां Ease of Living बढ़े। चेन्नई पोर्ट से मदुरवोयल के बीच कॉरिडोर बनाने के लिए भी हजारों करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे हैं।

साथियों,
केंद्र सरकार के इन प्रयासों के बीच DMK सरकार ने चेन्नई के लोगों की जरूरतों से, आपके सपनों से मुंह फेर रखा है। अभी कुछ समय पहले इतना बड़ा साइक्लोन आया। चेन्नई के लोगों को इतनी परेशानी हुई। लेकिन DMK सरकार ने मदद करने की जगह लोगों की मुश्किलों को और ज्यादा बढ़ाने का काम किया। DMK के लोग संकट के समय Flood Management नहीं करते, बल्कि, ये Media Management करने में लगे रहते हैं। लोगों के घरों में पानी भरा हुआ था, लेकिन ये लोग मीडिया से कह रहे थे कि सब ठीक हो गया है। इसी से पता चलता है कि DMK सरकार को जनता के सुख-दुख से आपके सुख-दुख से कोई मतलब नहीं है।

साथियों,
BJP की केंद्र सरकार संवेदनशील है, और गरीब की चिंता करने वाली सरकार है। कोरोना महामारी में हमने सबसे पहले गरीबों के लिए मुफ्त राशन की चिंता की। जब देश ने अपनी वैक्सीन बनाई तो हमने तय किया कि हर एक व्यक्ति को मुफ्त में वैक्सीन मिले। तमिलनाडु तो MSME Sector का Leader State है। हमारी MSME को नुकसान न हो, इसके लिए हमारी सरकार ने तमिलनाडु की लाखों MSMEs को हजारों करोड़ रुपए का क्रेडिट भी दिलाया।

साथियों,
बीजेपी की केंद्र सरकार, तमिलनाडु के विकास के लिए प्रतिबद्ध है। इसके लिए भारत सरकार, अनेक योजनाओं का पैसा सीधे यहां के लाभार्थियों को भेज रही है। DMK को दिक्कत इसी बात से है कि लाखों करोड़ रुपये का ये लाभ सीधे तमिलनाडु के लोगों के अकाउंट में पहुंच रहा है। आज टॉयलेट्स, गैस कनेक्शन, नल से जल कनेक्शन, फ्री हेल्थ इंश्योरेंश, सड़क, रेल, हाइवे, पोर्ट सब पर काम हो रहा है। लाखों करोड़ रुपए के इन विकास कार्यों को लूटने में DMK के लोगों को मुश्किल आ रही है। इस बात से यहां की एक फ़ैमिली बहुत परेशान है। इसलिए ये DMK के लोग सोच रहे हैं कि अगर पैसे नहीं तो कम से कम इन कामों का क्रेडिट ही खा सकें! लेकिन, उसमें भी इन्हें सफलता नहीं मिल रही। मैं DMK को बताना चाहता हूं, मोदी तमिलनाडु के विकास का पैसा आपको लूटने नहीं देगा। और जो पैसा आपने लूटा है, वो वसूलकर वापस तमिलनाडु के लोगों पर खर्च किया जाएगा। ये मोदी की गारंटी है- इदु मोदियिन् गारंटी।

साथियों,
परिवारवादी पार्टियां सिर्फ और सिर्फ अपने भविष्य की सोचती हैं, जबकि मोदी देश के भविष्य का सोचकर काम कर रहा है। परिवारवादी पार्टियों के समय देश के 18 हजार गांवों में बिजली नहीं थी, देश के ढाई करोड़ से ज्यादा घर अंधेरे में थे। आप भी जानते हैं कि 21वीं सदी की बहुत बड़ी चुनौती Energy Security है। आज हमारी सरकार इस दिशा में भी तेजी से काम कर रही है। अभी मैं कलपाक्कम से ही आ रहा हूं जहां भारत ने ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने के लिए बड़ा कदम उठाया है। आज कलपाक्कम में, देश के पहले और मेड इन इंडिया, फास्ट ब्रीडर रिएक्टर ने बिजली उत्पादन के लिए ऐतिहासिक पड़ाव पार किया है। तकनीकी भाषा में कहें तो आज इस परमाणु ऊर्जा केंद्र में “Core Loading” का आरंभ हो गया है। कुछ ही समय में इससे बिजली उत्पादन शुरू हो जाएगा। इस रिएक्टर के चालू होने के बाद भारत, ऐसी टेक्नॉलॉजी हासिल करने वाला दुनिया का दूसरा देश बन जाएगा। मैं सभी भारत वासियों को इस उपलब्धि के लिए बहुत-बधाई देता हूं।

साथियों,
जब संकल्प बड़े हों तो परिश्रम भी उतना ही ज्यादा करना पड़ता है। साल 2024 की शुरुआत हुए बहुत सप्ताह नहीं गुजरे हैं। अभी तो हम मार्च की शुरुआत में हैं, लेकिन ये कालखंड दिखाता है कि भारत अपनी ऊर्जा जरूरतें पूरी करने के लिए कितने बड़े स्केल पर काम कर रहा है। कुछ दिन पहले ही मैंने काकरापार परमाणु ऊर्जा केंद्र में स्थापित 1,400 मेगावाट की क्षमता वाले दो नए रिएक्टर राष्ट्र को समर्पित किए। आज ही तेलंगाना से अनेक पावर प्रोजेक्ट्स का शिलान्यास, उद्घाटन और लोकार्पण हुआ है। इसी कालखंड में, तेलंगाना में, 1600 मेगावॉट के थर्मल पावर प्लांट का लोकार्पण हुआ है। झारखंड में 1300 मेगावॉट के थर्मल पावर प्लांट का लोकार्पण हुआ है। यूपी में 1600 मेगावॉट के थर्मल पावर प्लांट का शिलान्यास हुआ है। यूपी में ही 300 मेगावॉट के सोलर पावर प्लांट का शिलान्यास हुआ है। राजस्थान में भी बड़े सोलर पावर प्लांट का शिलान्यास हुआ है। यूपी में ही अल्ट्रा मेगा रीन्यूएबल पार्क का शिलान्यास हुआ है। हिमाचल में हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट का शिलान्यास हुआ है। छत्तीसगढ़ के रायपुर में 4G इथेनॉल प्लांट का शिलान्यास हुआ है। यूपी के नोएडा में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट से निकले पानी से ग्रीन हाइड्रोजन बनाने का काम शुरु हुआ है। ये मैं 50 दिन का हिसाब आपको दे रहा हूं। ये 50 दिन में सिर्फ एनर्जी के क्षेत्र में क्या काम हुआ है मैं इसकी बात कर रहा हूं। विकास कैसे होता है, स्केल कितना बड़ा होता है इसका अंदाज देश को आएगा।

साथियों,
आप जरा, एक बात मैं कहने जा रहा हूं जरा ध्यान से सुनिए। चेन्नई के लोग भी सुनें, तमिलनाडु के लोग भी सुनें और देश के लोग भी सुनें। कुछ दिन पहले तमिलनाडु में ही देश के पहले ग्रीन हाइड्रोजन फ्यूल सेल वेसल को लॉन्च किया गया था। यूपी के मेरठ-सिंभावली ट्रांसमिशन लाइन्स का उद्घाटन इसी दौरान हुआ है। कर्नाटका के कोप्पल में विंड एनर्जी ज़ोन से ट्रांसमिशन लाइन्स का उद्घाटन भी किया गया है।

साथियों,
जो एक महत्वपूर्ण बात मैं कहना चाहता हूं… भारत सरकार द्वारा 1 करोड़ परिवारों को मुफ्त बिजली…ये आपके लिए है चेन्नई के लिए है…तमिलनाडु के लिए है, देश के लिए है विशेषकर मध्यम वर्ग के लिए हैं। मुफ्त बिजली, जीरो बिल देने वाली। पीएम सूर्यघर- मुफ्त बिजली योजना भी शुरु की गई है। इस योजना पर सरकार 75 हजार करोड़ रुपए खर्च करने जा रही है। बिजली से जुड़े ऐसे अनेक प्रोजेक्ट्स भारत को बिजली सेक्टर में आत्मनिर्भर बनाएंगे। और इसमें तमिलनाडु की बहुत बड़ी भूमिका रहेगी। आप अपने सोलर से बिजली बना सकेंगे। 300 यूनिट बिजली आपका जीरो बिल और ज्यादा बिजली पैदा करेंगे तो सरकार खरीदेगी आपको बिजली बेचकर कमाई होगी। हर परिवार की बिजली खुद की होगी, बिजली बेचकर कमाई भी होगी।

साथियों,
ये आप DMK वालों को भलीभांति जानते हैं। और कांग्रेस को भी आप अच्छी तरह जानते हैं। ये दोनों लोग हैं ऐसे और इनके जैसे और भी हैं। DMK औऱ कांग्रेस जैसी पार्टियां कहती हैं, उनका मोटो है- Family First और मोदी कहता है- Nation First. इसलिए अब इंडी गठबंधन के लोगों ने मुझे गाली देने का नया फॉर्मूला निकाला है। ये लोग कहने लगे हैं कि मोदी का तो कोई परिवार ही नहीं है, मतलब जिनको परिवार है उनको भ्रष्टाचार करने का लाइसेंस मिल जाता है। क्या जिनको परिवार है उनको सत्ता परिवार के लोगों के लिए हड़प करने का लाइसेंस मिल जाता है क्या। मेरे प्यारे देशवासियों, मेरे प्यारे परिवारजनों ये बार-बार मेरे परिवार को गाली देने का उनको शौक लग गया है। भाइयों-बहनों, मैंने घर छोड़ा है। खुद के लिए नहीं, मौजमस्ती के लिए नहीं, मेरे देश के लिए। ये मेरा देश यही मेरा परिवार है। 140 करोड़ भारतवासी यही मेरा परिवार है। देश के युवा मेरा परिवार हैं इसलिए मैं उनके भविष्य को उज्जवल बनाने के लिए दिन रात मेहनत कर रहा हूं। देश की बहनें-बेटियां मेरा परिवार हैं इसलिए मैं उन्हें ज्यादा से ज्यादा नए अवसर देने के लिए काम कर रहा हूं। देश के किसान, देश के गरीब ये सब मेरे परिवार हैं इसलिए मैं उन्हें Empower करने के लिए खुद को खपा रहा हूं। और मेरे परिवारजनों, जिसका कोई नहीं है, वो भी मोदी के हैं और मोदी उनका है।
मेरा भारत- मेरा परिवार ! मेरा भारत- मेरा परिवार ! इसलिए आज पूरा देश कश्मीर से कन्याकुमारी, कच्छ से कामरूप तक आज पूरा देश एक सुर में कह रहा है-
मैं हूं...मोदी का परिवार !
मैं हूं...मोदी का परिवार !
नान् दान्.... मोदियिन् कुडुम्बम्
नान् दान्.... मोदियिन् कुडुम्बम्
नान् दान्.... मोदियिन् कुडुम्बम्
यही…यही मेरा परिवार है।

साथियों,
कांग्रेस, DMK और इंडी गठबंधन से जुड़ी पार्टियां भ्रष्टाचार और परिवारवाद में डूबी हुई पार्टियां हैं। उनके लिए अपना परिवार ही सब कुछ है, उनके लिए भ्रष्टाचार ही सब कुछ है। इंडी गठबंधन के भ्रष्ट नेताओं को संरक्षण देने वाले एक फैसले को आज सुप्रीम कोर्ट ने पलट दिया है। मैं इस फैसले का स्वागत करता हूं। साथियों, सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद इंडी एलायंस में मातम छाया हुआ है। आंसू उनके सूख नहीं रहे हैं। डरे हुए हैं, कांप रहे हैं। क्योंकि इंडी अलायंस को रिश्वतखोरी के अलावा, भ्रष्टाचार के अलावा, देश की व्यवस्थाओं को करप्ट करने के अलावा और कुछ भी न करना आता है न करने का इरादा है और न ही वो अपने परिवार के बाहर सोच सकते हैं। दशकों तक इंडी अलायंस में शामिल दलों ने लूट की राजनीति की है। आज इन्हीं लोगों की वजह से देश का युवा, राजनीति से, व्यवस्थाओं से इतना चिढ़ा रहता है। आज आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला, स्वच्छ राजनीति को बढ़ावा देगा। और आप ये जानते हैं कि मोदी का सबसे बड़ा प्रिय काम है… स्वच्छता अभियान। और स्वच्छता अभियान कैसा भी हो, मुझे सब जगह पर साफ-सफाई करनी ही है। बस आपके आशीर्वाद चाहिए।

साथियों,
परिवारवाद का एक स्वभाव है। ये परिवारवादी जो पार्टियां होती है न उनको परिश्रम से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं होता है। वो मेहनत-वेहनत करना…अपनी जिम्मेदारी मानते ही नहीं हैं। इसलिए परिवारवाद अपने साथ अहंकार भी लेकर आता है। और जब कोई परिवारवादी सरकार में किसी अहम पद पर आ जाता है, तो उसे लगता है कि देश और देश की जनता उसकी गुलाम है। वो अपने पद की गरिमा तक भूल जाता है। आज हमने ये भी देखा है कि कैसे देश की सबसे बड़ी अदालत ने, सुप्रीम कोर्ट ने DMK परिवार के एक मंत्री से सख्त सवाल किए हैं। करोड़ों लोगों की आस्था का घोर अपमान करना भी परिवारवादियों की एक निशानी है, पहचान है, आदत है। और मुझे अफसोस है कि जिन्हें अपने अहंकार में जनता की भावनाओं तक की परवाह नहीं है, वो तमिलनाडु सरकार में प्रमुख पद पर बने बैठे हैं।

साथियों,
आज मैं एक गंभीर विषय की भी चर्चा करना चाहता हूं। मैं अपनी एक चिंता साझा करना चाहता हूं। और मैं चाहता हूं कि तमिलनाडु हर मां-बाप मेरी इस चिंता को समझे। मुझे आपके बच्चों की चिंता है, मुझे आपके बेटे-बेटियों की चिंता है। और इसलिए मैं बहुत चिंता के साथ, बड़ी गंभीरता के साथ, मेरे दिल का एक दर्द आपसे साझा करना चाहता हूं। आप जानते हैं कि तमिलनाडु में सत्तारूढ़ पार्टी के संरक्षण में ड्रग्स, ड्रग्स के गिरोह पनप रहे हैं। और जो जानकारियां मेरे पास आ रही हैं, वो चिंताजनक है। मुझे आपकी आने वाली पीढ़ी की चिंता है। मुझे आपके बेटे-बेटियों की चिंता है। आपको ऐसी पार्टी से बहुत सावधान रहने की जरूरत है जो आपके बच्चों का भविष्य तबाह होता देख रही है, आंखें मूंद करके बैठी है। आप लोग भाजपा को मजबूत करेंगे तो तमिलनाडु के दुश्मनों पर भी कार्रवाई और तेज होगी। और ये मोदी की गारंटी है- इदु मोदियिन् गारंटी।

साथियों,
विकसित तमिलनाडु के लिए हम सबको मिलकर काम करना है। विकसित तमिलनाडु से ही विकसित भारत का रास्ता मजबूत होगा। और हम ये संकल्प लेकर चले हैं। हम विकसित भारत बनाकर रहेंगे। आप इतनी बड़ी संख्या में हमें आशीर्वाद देने आए हैं। दिल्ली में एयर कंडीशन कमरों में बैठ करके जो राजनीति की कथाएं क्रिएट करने में लगे रहते हैं खबरों को मैन्यूफैक्चर करने में लगे रहते हैं, ये चेन्नई का दृश्य आज उनकी भी नींद खराब कर देगा कि तमिलनाडु जग चुका है, एनडीए के साथ जुड़ चुका है।

मेरे साथ बोलिए…भारत माता की…पूरी ताकत से दोनों हाथ ऊपर करके बोलिए। भारत माता की…भारत माता की…भारत माता की…वंदे..वंदे..वंदे..वंदे..वंदे।
बहुत बहुत धन्यवाद