Share
 
Comments
Government is pushing growth and development of every individual and the country: PM Modi
Both the eastern and western dedicated freight corridors are being seen as a game changer for 21st century India: PM Modi
Dedicated Freight Corridors will help in the development of new growth centres in different parts of the country: PM

প্রধান মন্ত্রী, শ্রী নরেন্দ্র মোদীনা ঙসি কিলোমীতর ৩০৬ শাংবা ৱেস্তর্ন দেদিকেতেদ ফ্রৈৎ কোরিদোরগী রেৱারী – মদার সেক্সনবু ভিদিও কনফরেন্সিংগী খুত্থাংদা লৈবাক মীয়ামদা শিন্নখ্রে। মহাক্না লম্বী অসিদা দবল স্তেক লোং হোল কন্তেনর ত্রেনসু লমথাখি। রাজস্থান অমসুং হরিয়ানাগী রাজ্যপাল অমসুং মুখ্য মন্ত্রীশিং অমসুং কেন্দ্রগী মন্ত্রী শ্রী পিয়ুশ গোয়ল, শ্রী গজেন্দ্র সিংহ শেখাৱৎ, শ্রী অর্জুন রাম মেঘ্বাল, শ্রী কাইলাশ চৌধরী, শ্রী রাও ইন্দর্জিৎ সিংহ, শ্রী রতন লাল খতারিয়া, শ্রী কিশন পাল গুর্জারসু থৌরম অদুদা শরুক য়াখি।

থৌরম অদুদা ৱা ঙাংবদা, প্রধান মন্ত্রীনা লৈবাক্কী ইনফ্রাস্ত্রকচর অসিবু মতমগা চান্নহন্নবা মহা য়াগ্না পাংথোকপা অসিনা ঙসিদগী হৌনা অনৌবা শাফু অমা ফংলে হায়খি। লৈবাক্কী ইনফ্রাস্ত্রকচর অসিবু মতমগা চান্নহন্নবা হৌখিবা নুমিৎ ১২নিদা পাংথোকখিবা লৌউবশিংদা দি.বি.তি. পীবা, এয়র্পোর্ত এক্সপ্রেস লাইন্দা নেস্নেল মোবিলিতী কার্দ লোঞ্চ তৌবা, রাজকোৎকী এমস, সম্বলপুরগী আই.আই.এম. শঙ্গাবা, শহর ৬তা লাইৎ হাউস প্রোজেক্ত শঙ্গাবা, নেস্নেল এতোমিক তাইমস্কেল অমসুং ভারতিয় নির্দেশক দ্রভ্যা, নেস্নেল ইনভাইরনমেন্তেল স্তেন্দর্দ লেবোরেতরী, কোচি-মেঙ্গালোর গ্যাস পাইপলাইন, ১০০শুবা কিসান রেল, ইস্তর্ন দেদিকেতেদ ফ্রৈৎ কোরিদোরগী সেক্সন অমনচিংবা সরকারগী খোঙথাং কয়াগী মতাংদসু মহাক্না ৱাফম কয়া পনখি। লৈবাক অসিবু মতমগা চান্নহন্নবা কোরোনাগী মরক অসিদসু থবক-থৌরম কয়া অমা হৌদোকখি হায়না মহাক্না মখা তানা হায়খি।

 

প্রধান মন্ত্রীনা হায়খিবদা নুমিৎ খরনিগী মমাংদা অয়াবা পীখ্রবা ভারত্তা শাবা কোরোনাগী ভেক্সিন অসিনা মীয়ামদা থাজবগী অনৌবা ৱাখল্লোন অমা লৈহল্লে হায়খি। ২১শুবা চহি চা অসিদা দেদিকেতেদ ফ্রৈৎ কোরিদোর অসি ভারতকী অনৌবা অহোংবা লৈহনগদবা প্রোজেক্ত অমনি হায়না উনরি হায়না মহাক্না হায়খি। ন্যু ভৌপুর – ন্যু খুর্জা সেক্সন হেক হৌখিবদগী সেক্সন অসিদা ফ্রৈৎ ত্রেন্সিংনা চেল্লিবা চাংচৎকী ওইবা খোঙজেল অসি শরুক অহুম থোক্না হেনগৎখ্রে হায়না মহাক্না হায়খি। হরিয়ানাগী ন্যু অতেলিদগী রাজস্থানগী ন্যু কিশানগর্হ ফাওবগী মনুংদা দবল স্তেক কন্তেনর ত্রেন লমথাদুনা ভারতনা মালেমগী খনগৎলবা লৈবাকশিংগী মনুং চনবা ঙমখ্রে হায়না মহাক্না হায়খি। মসিগী মশক থোকপা মাই পাকপা অসিগীদমক্তা মহাক্না ইঞ্জিন্যার অমসুং মখোয়বু তীমশিংবু থাগৎপা ফোংদোকখি। মসিগী দেদিকেতেদ ফ্রৈৎ কোরিদোর অসিনা মীয়ামদা, মরু ওইনা লৌউবশিং, রাজস্থানগী ওন্তোপ্রিনর অমসুং মর্চেন্তশিংদা অনৌবা খুদোংচাবা অমসুং ৱাখল্লোন পীরগনি হায়না মহাক্না হায়খি। মসিগী ফ্রৈৎ কোরিদোর অসিনা মোদর্ন ফ্রৈৎ ত্রেনগী লম্বী ওইবতা নত্তনা লৈবাক অসিবু অথুবা মতমদা চাউখৎহন্নবা লম্বী অমসু ওইরগনি হায়না মহাক্না হায়খি। মসিগী কোরিদোরশিং অসিনা অনৌবা চাউখৎফমগী য়ুম্ফম ওইদুনা লৈবাক অসিগী তোঙান-তোঙানবা শহরশিংগী চাউখৎপদা তেংবাংগদবা মফম অমা ওইরগনি হায়নসু মহাক্না মখা তানা হায়খি।

প্রধান মন্ত্রীনা ইস্তর্ন ফ্রৈৎ কোরিদোর অসিনা মখোয়না মতৌ করম্না লৈবাক অসিগী মফম কয়া অমগী মপাঙ্গল হেনগৎহনবগে হায়বসু উৎপা হৌরে হায়না মহাক্না হায়খি। ৱেস্তর্ন ফ্রৈৎ কোরিদোর অসিনা হরিয়ানা অমসুং রাজস্থানগী লৌউ-শিংউবা অমসুং মসিগা মরী লৈনবা কারবারশিংদা লাইহনবতা নত্তনা মসিনা মহেন্দ্রগর্হ, জয়পুর, অজমের অমসুং সিকারনচিংবা শহরশিংদসু অনৌবা পাঙ্গল হাপ্লগনি হায়না হায়খি। মসিগী রাজ্যশিং অসিগী মেন্যুফেকচরিং য়ুনিৎ অমসুং ওন্তোপ্রিনর্শিংদা অহোঙবা মমলদা লৈবাক্কী অমসুং মালেমগী কৈথেলশিংদা থুনা য়ৌবা ঙম্বগী খুদোংচাবা হাংদোক্লে। গুজরাত অমসুং মহারাস্ত্রাগী হিথাংফমশিংদা থুনা য়ৌহনবা ঙমহনবা অসিনা মফম অসিদা শেল থাদবগী অনৌবা খুদোংচাবা কয়া অমসু খুমাং চাউশিনহল্লগনি।

 

মতমগা চান্নবা ইনফ্রাস্ত্রকচর লৈহনবা অসিনা পুন্সি অমসুং কারবারগী অনৌবা পথাপ অমা লৈহনবগা লোয়ননা মসিগা মরী লৈনবা থবক-থৌরম কয়া অমগী খোঙজেলসু য়াঙখৎহল্লগনি অমসুং মসিনা শেন্মিৎলোনগী তোঙান-তোঙানবা ইঞ্জিন কয়া অমদসু পুন্সি হাপ্লগনি হায়না প্রধান মন্ত্রীনা হায়খি। কোরিদোর অসিনা কন্সত্রক্সন সেক্তরদা থবক লৈহনবতা নত্তনা সীমেন্ত, স্তীল অমসুং ত্রান্সপোর্ত সেক্তরদসু থবক কয়া অমা লৈহনগনি হায়না মহাক্না মখা তানা হায়খি। দেদিকেতেদ ফ্রৈৎ কোরিদোরগী কান্নবা কয়াগী মতাংদা কুপ্না তাক্লদুনা, প্রধান মন্ত্রীনা মসিনা রাজ্য ৯গী রেলৱে স্তেসন ১৩৩ কোনগনি হায়খি। মসিগী স্তেসন শিং অসিদা মলতি মোদেল লোজিস্তিক পার্ক, ফ্রৈৎ তর্মিনেল, কন্তেনর দীপো, কন্তেনর তর্মিনেল, পার্সেল হবশিংসু লৈগনি। মসিগী খুদোংচাবা কয়া অসিনা লৌউবশিং, অপিকপা ইন্দস্ত্রী, কোত্তেজ ইন্দস্ত্রী অমসুং পোত্থোক পুথোকপা অচৌবা কাংবুশিংদসু কান্নবা ফংহনগনি।

রেলৱেগী ত্রেক্তা খুদম ওইনা পীরদুনা, প্রধান মন্ত্রীনা ঙসিদি ভারতকী ইনফ্রাস্ত্রকচরগী থবকশিং অসি ত্রেক অনিদা (মীওই অমগী ওইবা অমসুং লৈবাক্কী শাহৌ লৌবগী ইঞ্জিনগী) মতম অমত্তদা পাংথোক্লি হায়খি। মীওই অমগী থাক্তনা, প্রধান মন্ত্রীনা হায়খিবদা, য়ুম্লৈ-কৈরৈ, সেনিতেসন, ইলেক্ত্রিসিতী, এল.পি.জি., লম্বী শোরোক অমসুং ইন্তর্নেৎ শম্নহনবগী মতাংদা পাংথোক্লিবা শেমদোক্লিবশিংগী মতাংদনি হায়খি। অসিগুম্বা স্কিম কয়া অসিদগী ভারত মচা করোর কয়া অমনা কান্নবা ফংলি। অতোপ্পা ত্রেক অমদনা, ইন্দস্ত্রী অমসুং ওন্তোপ্রিনরগুম্বা শাহৌ লৌবগী ইঞ্জিনশিং অসিনা হাইৱে, রেলৱে, এয়রৱে, ঈশিংগী লম্বী অমসুং মলতি-মোদেল পোর্ত কন্নেক্তিভিতীগুম্বা থৌওং কয়া খোঙজেল য়াঙনা পায়খৎলক্লিবা অসিদগী কান্নবা কয়া অমা ফংলিবনি। ফ্রৈৎ কোরিদোরগুম্না শেন্মিৎলোনগী কোরিদোর, দিফেন্স কোরিদোর, তেক ক্লস্তর কয়া অমসু ইন্দস্ত্রীশিংদা পীরিবনি। মসিগী মীওই অমগী অমসুং ইন্দস্ত্রীগী ইনফ্রাস্ত্রকচরশিং অসিনা ভারতকী চাউখৎপগী মমি তাহল্লি অমসুং মসিগী মমিনা অমুক হেনগৎলক্লিবা ফোরেন এক্সচেঞ্জকী রীজর্বতা তাবা ফংই হায়না প্রধান মন্ত্রীনা মখা তানা হায়খি।

 

প্রধান মন্ত্রীনা জাপয়ানগী মীয়ামদা মখয়না প্রোজেক্ত অসিদা তেক্নিকেল অমসুং শেল-থুমগী তেংবাংলকপগীদমক্তা থাগৎপা ফোংদোকখি।

প্রধান মন্ত্রীনা মীওই অমগী, ইন্দস্ত্রী অমসুং ইন্দিয়ন রেলৱেজপু মতমগা চান্নহন্নবা শেল থাদবগী থৌওংশিং অসিনা খন্ন-নৈনদুনা চৎমিন্নবগী মতাংদা অহেনবা মিৎয়েং চঙখি। অঙনবা মতমদা পেসেঞ্জরশিংনা থেংনখিবা অৱাবা কয়া অদু নীংশিংলদুনা, প্রধান মন্ত্রীনা লু-নানবা, মতম নায়বা, অফবা সেবা পীবা, তিকেৎ ককপা, খুদোংচাবা অমসুং তেক্ত-কায়দবগী হীরম কয়াদা মশক থোকপা থবক কয়া পায়খৎখ্রে হায়খি। মহাক্না স্তেসন অমসুং কম্পার্ৎমেন্ত লু-নান্না থম্লিবা, বাইওদিগ্রেদেবল তোইলেৎ, কেতরিং, মতম চান্নবা তিকেৎ ককপগী পথাপ অমসুং তেজাস নত্ত্রগা ভন্দে ভারত এক্সপ্রেস, ভিস্তা-দোম কোচকুম্বা মতমগা চান্নবা ত্রেনশিংবু খুদম ওইনা পনখি। ত্রেকশিংবু ব্রোদ-গেজ ওন্থোক্নবা অমসুং ইলেক্ত্রিক্না চেনবা ত্রেন ওন্থোক্নবা হোৎনবদা হান্নগুম তৌখিদ্রিবা মওংদা শেল থাদরিবা অসিনা রেলৱেগী পাকথোক চাউথোকপা অমসুং খোঙজেল হেনগৎহল্লক্লিবা অসিগী মতাংদা মহাক্না অহেনবা মিৎয়েং চঙখি। মহাক্না সেমি হাই-স্পীদ ত্রেন, ত্রেক শেম্নবা মোদর্ন তেক্নোলোজী শিজিন্নবগী মতাংদা পল্লদুনা অৱাং-নোংপোক্কী রাজ্যশিংগী কোনুংশিংসু অথুবা মতমদা রেলৱেনা শম্নহল্লগনি হায়বগী থাজবা লৈরে হায়না ফোংদোকখি।

প্রধান মন্ত্রীনা রেলৱেনা কোরোনাগী মতম অসিদা নীংহন্নবা লৈতনা তেংবাংলিবা অসিবু শক খঙলদুনা মখোয়না শিন্মীশিংবু ময়ুমদা য়ৌহন্নবা হোৎনবদা লৌখিবা থৌদাংশিংগীদমক্তা থাগৎপা ফোংদোকখি।

ৱা ঙাংখিবগী মপুংফাবা ৱারোল পানবা মসিদা নম্বীয়ু

Explore More
পি.এম.না ৭৬শুবা নীংতম নুমিৎকী থৌরমদা লাল কিলাগী লানবন্দগী জাতি মীয়ামদা থমখিবা ৱারোল

Popular Speeches

পি.এম.না ৭৬শুবা নীংতম নুমিৎকী থৌরমদা লাল কিলাগী লানবন্দগী জাতি মীয়ামদা থমখিবা ৱারোল
The Bharat Budget: Why this budget marks the transition from India to Bharat

Media Coverage

The Bharat Budget: Why this budget marks the transition from India to Bharat
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of PM’s address at the Krishnaguru Eknaam Akhand Kirtan for World Peace
February 03, 2023
Share
 
Comments
“Krishnaguru ji propagated ancient Indian traditions of knowledge, service and humanity”
“Eknaam Akhanda Kirtan is making the world familiar with the heritage and spiritual consciousness of the Northeast”
“There has been an ancient tradition of organizing such events on a period of 12 years”
“Priority for the deprived is key guiding force for us today”
“50 tourist destination will be developed through special campaign”
“Gamosa’s attraction and demand have increased in the country in last 8-9 years”
“In order to make the income of women a means of their empowerment, ‘Mahila Samman Saving Certificate’ scheme has also been started”
“The life force of the country's welfare schemes are social energy and public participation”
“Coarse grains have now been given a new identity - Shri Anna”

जय कृष्णगुरु !

जय कृष्णगुरु !

जय कृष्णगुरु !

जय जयते परम कृष्णगुरु ईश्वर !.

कृष्णगुरू सेवाश्रम में जुटे आप सभी संतों-मनीषियों और भक्तों को मेरा सादर प्रणाम। कृष्णगुरू एकनाम अखंड कीर्तन का ये आयोजन पिछले एक महीने से चल रहा है। मुझे खुशी है कि ज्ञान, सेवा और मानवता की जिस प्राचीन भारतीय परंपरा को कृष्णगुरु जी ने आगे बढ़ाया, वो आज भी निरंतर गतिमान है। गुरूकृष्ण प्रेमानंद प्रभु जी और उनके सहयोग के आशीर्वाद से और कृष्णगुरू के भक्तों के प्रयास से इस आयोजन में वो दिव्यता साफ दिखाई दे रही है। मेरी इच्छा थी कि मैं इस अवसर पर असम आकर आप सबके साथ इस कार्यक्रम में शामिल होऊं! मैंने कृष्णगुरु जी की पावन तपोस्थली पर आने का पहले भी कई बार प्रयास किया है। लेकिन शायद मेरे प्रयासों में कोई कमी रह गई कि चाहकर के भी मैं अब तक वहां नहीं आ पाया। मेरी कामना है कि कृष्णगुरु का आशीर्वाद मुझे ये अवसर दे कि मैं आने वाले समय में वहाँ आकर आप सभी को नमन करूँ, आपके दर्शन करूं।

साथियों,

कृष्णगुरु जी ने विश्व शांति के लिए हर 12 वर्ष में 1 मास के अखंड नामजप और कीर्तन का अनुष्ठान शुरू किया था। हमारे देश में तो 12 वर्ष की अवधि पर इस तरह के आयोजनों की प्राचीन परंपरा रही है। और इन आयोजनों का मुख्य भाव रहा है- कर्तव्य I ये समारोह, व्यक्ति में, समाज में, कर्तव्य बोध को पुनर्जीवित करते थे। इन आयोजनों में पूरे देश के लोग एक साथ एकत्रित होते थे। पिछले 12 वर्षों में जो कुछ भी बीते समय में हुआ है, उसकी समीक्षा होती थी, वर्तमान का मूल्यांकन होता था, और भविष्य की रूपरेखा तय की जाती थी। हर 12 वर्ष पर कुम्भ की परंपरा भी इसका एक सशक्त उदाहरण रहा है। 2019 में ही असम के लोगों ने ब्रह्मपुत्र नदी में पुष्करम समारोह का सफल आयोजन किया था। अब फिर से ब्रह्मपुत्र नदी पर ये आयोजन 12वें साल में ही होगा। तमिलनाडु के कुंभकोणम में महामाहम पर्व भी 12 वर्ष में मनाया जाता है। भगवान बाहुबली का महा-मस्तकाभिषेक ये भी 12 साल पर ही होता है। ये भी संयोग है कि नीलगिरी की पहाड़ियों पर खिलने वाला नील कुरुंजी पुष्प भी हर 12 साल में ही उगता है। 12 वर्ष पर हो रहा कृष्णगुरु एकनाम अखंड कीर्तन भी ऐसी ही सशक्त परंपरा का सृजन कर रहा है। ये कीर्तन, पूर्वोत्तर की विरासत से, यहाँ की आध्यात्मिक चेतना से विश्व को परिचित करा रहा है। मैं आप सभी को इस आयोजन के लिए अनेकों-अनेक शुभकामनाएं देता हूँ।

साथियों,

कृष्णगुरु जी की विलक्षण प्रतिभा, उनका आध्यात्मिक बोध, उनसे जुड़ी हैरान कर देने वाली घटनाएं, हम सभी को निरंतर प्रेरणा देती हैं। उन्होंने हमें सिखाया है कि कोई भी काम, कोई भी व्यक्ति ना छोटा होता है ना बड़ा होता है। बीते 8-9 वर्षों में देश ने इसी भावना से, सबके साथ से सबके विकास के लिए समर्पण भाव से कार्य किया है। आज विकास की दौड़ में जो जितना पीछे है, देश के लिए वो उतनी ही पहली प्राथमिकता है। यानि जो वंचित है, उसे देश आज वरीयता दे रहा है, वंचितों को वरीयता। असम हो, हमारा नॉर्थ ईस्ट हो, वो भी दशकों तक विकास के कनेक्टिविटी से वंचित रहा था। आज देश असम और नॉर्थ ईस्ट के विकास को वरीयता दे रहा है, प्राथमिकता दे रहा है।

इस बार के बजट में भी देश के इन प्रयासों की, और हमारे भविष्य की मजबूत झलक दिखाई दी है। पूर्वोत्तर की इकॉनमी और प्रगति में पर्यटन की एक बड़ी भूमिका है। इस बार के बजट में पर्यटन से जुड़े अवसरों को बढ़ाने के लिए विशेष प्रावधान किए गए हैं। देश में 50 टूरिस्ट डेस्टिनेशन्स को विशेष अभियान चलाकर विकसित किया जाएगा। इनके लिए आधुनिक इनफ्रास्ट्रक्चर बनाया जाएगा, वर्चुअल connectivity को बेहतर किया जाएगा, टूरिस्ट सुविधाओं का भी निर्माण किया जाएगा। पूर्वोत्तर और असम को इन विकास कार्यों का बड़ा लाभ मिलेगा। वैसे आज इस आयोजन में जुटे आप सभी संतों-विद्वानों को मैं एक और जानकारी देना चाहता हूं। आप सबने भी गंगा विलास क्रूज़ के बारे में सुना होगा। गंगा विलास क्रूज़ दुनिया का सबसे लंबा रिवर क्रूज़ है। इस पर बड़ी संख्या में विदेशी पर्यटक भी सफर कर रहे हैं। बनारस से बिहार में पटना, बक्सर, मुंगेर होते हुये ये क्रूज़ बंगाल में कोलकाता से आगे तक की यात्रा करते हुए बांग्लादेश पहुंच चुका है। कुछ समय बाद ये क्रूज असम पहुँचने वाला है। इसमें सवार पर्यटक इन जगहों को नदियों के जरिए विस्तार से जान रहे हैं, वहाँ की संस्कृति को जी रहे हैं। और हम तो जानते है भारत की सांस्कृतिक विरासत की सबसे बड़ी अहमियत, सबसे बड़ा मूल्यवान खजाना हमारे नदी, तटों पर ही है क्योंकि हमारी पूरी संस्कृति की विकास यात्रा नदी, तटों से जुड़ी हुई है। मुझे विश्वास है, असमिया संस्कृति और खूबसूरती भी गंगा विलास के जरिए दुनिया तक एक नए तरीके से पहुंचेगी।

साथियों,

कृष्णगुरु सेवाश्रम, विभिन्न संस्थाओं के जरिए पारंपरिक शिल्प और कौशल से जुड़े लोगों के कल्याण के लिए भी काम करता है। बीते वर्षों में पूर्वोत्तर के पारंपरिक कौशल को नई पहचान देकर ग्लोबल मार्केट में जोड़ने की दिशा में देश ने ऐतिहासिक काम किए हैं। आज असम की आर्ट, असम के लोगों के स्किल, यहाँ के बैम्बू प्रॉडक्ट्स के बारे में पूरे देश और दुनिया में लोग जान रहे हैं, उन्हें पसंद कर रहे हैं। आपको ये भी याद होगा कि पहले बैम्बू को पेड़ों की कैटेगरी में रखकर इसके काटने पर कानूनी रोक लग गई थी। हमने इस कानून को बदला, गुलामी के कालखंड का कानून था। बैम्बू को घास की कैटेगरी में रखकर पारंपरिक रोजगार के लिए सभी रास्ते खोल दिये। अब इस तरह के पारंपरिक कौशल विकास के लिए, इन प्रॉडक्ट्स की क्वालिटी और पहुँच बढ़ाने के लिए बजट में विशेष प्रावधान किया गया है। इस तरह के उत्पादों को पहचान दिलाने के लिए बजट में हर राज्य में यूनिटी मॉल-एकता मॉल बनाने की भी घोषणा इस बजट में की गई है। यानी, असम के किसान, असम के कारीगर, असम के युवा जो प्रॉडक्ट्स बनाएँगे, यूनिटी मॉल-एकता मॉल में उनका विशेष डिस्प्ले होगा ताकि उसकी ज्यादा बिक्री हो सके। यही नहीं, दूसरे राज्यों की राजधानी या बड़े पर्यटन स्थलों में भी जो यूनिटी मॉल बनेंगे, उसमें भी असम के प्रॉडक्ट्स रखे जाएंगे। पर्यटक जब यूनिटी मॉल जाएंगे, तो असम के उत्पादों को भी नया बाजार मिलेगा।

साथियों,

जब असम के शिल्प की बात होती है तो यहाँ के ये 'गोमोशा' का भी ये ‘गोमोशा’ इसका भी ज़िक्र अपने आप हो जाता है। मुझे खुद 'गोमोशा' पहनना बहुत अच्छा लगता है। हर खूबसूरत गोमोशा के पीछे असम की महिलाओं, हमारी माताओं-बहनों की मेहनत होती है। बीते 8-9 वर्षों में देश में गोमोशा को लेकर आकर्षण बढ़ा है, तो उसकी मांग भी बढ़ी है। इस मांग को पूरा करने के लिए बड़ी संख्या में महिला सेल्फ हेल्प ग्रुप्स सामने आए हैं। इन ग्रुप्स में हजारों-लाखों महिलाओं को रोजगार मिल रहा है। अब ये ग्रुप्स और आगे बढ़कर देश की अर्थव्यवस्था की ताकत बनेंगे। इसके लिए इस साल के बजट में विशेष प्रावधान किए गए हैं। महिलाओं की आय उनके सशक्तिकरण का माध्यम बने, इसके लिए 'महिला सम्मान सेविंग सर्टिफिकेट' योजना भी शुरू की गई है। महिलाओं को सेविंग पर विशेष रूप से ज्यादा ब्याज का फायदा मिलेगा। साथ ही, पीएम आवास योजना का बजट भी बढ़ाकर 70 हजार करोड़ रुपए कर दिया गया है, ताकि हर परिवार को जो गरीब है, जिसके पास पक्का घर नहीं है, उसका पक्का घर मिल सके। ये घर भी अधिकांश महिलाओं के ही नाम पर बनाए जाते हैं। उसका मालिकी हक महिलाओं का होता है। इस बजट में ऐसे अनेक प्रावधान हैं, जिनसे असम, नागालैंड, त्रिपुरा, मेघालय जैसे पूर्वोत्तर राज्यों की महिलाओं को व्यापक लाभ होगा, उनके लिए नए अवसर बनेंगे।

साथियों,

कृष्णगुरू कहा करते थे- नित्य भक्ति के कार्यों में विश्वास के साथ अपनी आत्मा की सेवा करें। अपनी आत्मा की सेवा में, समाज की सेवा, समाज के विकास के इस मंत्र में बड़ी शक्ति समाई हुई है। मुझे खुशी है कि कृष्णगुरु सेवाश्रम समाज से जुड़े लगभग हर आयाम में इस मंत्र के साथ काम कर रहा है। आपके द्वारा चलाये जा रहे ये सेवायज्ञ देश की बड़ी ताकत बन रहे हैं। देश के विकास के लिए सरकार अनेकों योजनाएं चलाती है। लेकिन देश की कल्याणकारी योजनाओं की प्राणवायु, समाज की शक्ति और जन भागीदारी ही है। हमने देखा है कि कैसे देश ने स्वच्छ भारत अभियान शुरू किया और फिर जनभागीदारी ने उसे सफल बना दिया। डिजिटल इंडिया अभियान की सफलता के पीछे भी सबसे बड़ी वजह जनभागीदारी ही है। देश को सशक्त करने वाली इस तरह की अनेकों योजनाओं को आगे बढ़ाने में कृष्णगुरु सेवाश्रम की भूमिका बहुत अहम है। जैसे कि सेवाश्रम महिलाओं और युवाओं के लिए कई सामाजिक कार्य करता है। आप बेटी-बचाओ, बेटी-पढ़ाओ और पोषण जैसे अभियानों को आगे बढ़ाने की भी ज़िम्मेदारी ले सकते हैं। 'खेलो इंडिया' और 'फिट इंडिया' जैसे अभियानों से ज्यादा से ज्यादा युवाओं को जोड़ने से सेवाश्रम की प्रेरणा बहुत अहम है। योग हो, आयुर्वेद हो, इनके प्रचार-प्रसार में आपकी और ज्यादा सहभागिता, समाज शक्ति को मजबूत करेगी।

साथियों,

आप जानते हैं कि हमारे यहां पारंपरिक तौर पर हाथ से, किसी औजार की मदद से काम करने वाले कारीगरों को, हुनरमंदों को विश्वकर्मा कहा जाता है। देश ने अब पहली बार इन पारंपरिक कारीगरों के कौशल को बढ़ाने का संकल्प लिया है। इनके लिए पीएम-विश्वकर्मा कौशल सम्मान यानि पीएम विकास योजना शुरू की जा रही है और इस बजट में इसका विस्तार से वर्णन किया गया है। कृष्णगुरु सेवाश्रम, विश्वकर्मा साथियों में इस योजना के प्रति जागरूकता बढ़ाकर भी उनका हित कर सकता है।

साथियों,

2023 में भारत की पहल पर पूरा विश्व मिलेट ईयर भी मना रहा है। मिलेट यानी, मोटे अनाजों को, जिसको हम आमतौर पर मोटा अनाज कहते है नाम अलग-अलग होते है लेकिन मोटा अनाज कहते हैं। मोटे अनाजों को अब एक नई पहचान दी गई है। ये पहचान है- श्री अन्न। यानि अन्न में जो सर्वश्रेष्ठ है, वो हुआ श्री अन्न। कृष्णगुरु सेवाश्रम और सभी धार्मिक संस्थाएं श्री-अन्न के प्रसार में बड़ी भूमिका निभा सकती हैं। आश्रम में जो प्रसाद बँटता है, मेरा आग्रह है कि वो प्रसाद श्री अन्न से बनाया जाए। ऐसे ही, आज़ादी के अमृत महोत्सव में हमारे स्वाधीनता सेनानियों के इतिहास को युवापीढ़ी तक पहुंचाने के लिए अभियान चल रहा है। इस दिशा में सेवाश्रम प्रकाशन द्वारा, असम और पूर्वोत्तर के क्रांतिकारियों के बारे में बहुत कुछ किया जा सकता है। मुझे विश्वास है, 12 वर्षों बाद जब ये अखंड कीर्तन होगा, तो आपके और देश के इन साझा प्रयासों से हम और अधिक सशक्त भारत के दर्शन कर रहे होंगे। और इसी कामना के साथ सभी संतों को प्रणाम करता हूं, सभी पुण्य आत्माओं को प्रणाम करता हूं और आप सभी को एक बार फिर बहुत बहुत शुभकामनाएं देता हूं।

धन्यवाद!