साझा करें
 
Comments

भाईयों और बहनों,

आप सबका स्‍वागत है। दो दिन बड़ी विस्‍तार से चर्चा होने वाली है। इस मंथन में से कई महत्‍वपूर्ण बाते उभरकर के आएगी जो आगे चलकर के नीति या नियम का रूप ले सकती है और इसलिए हम जितना ज्‍यादा एक लम्‍बे विजन के साथ इन चर्चाओं में अपना योगदान देंगे तो यह दो दिवसीय सम्‍मेलन अधिक सार्थक होगा। इस विषय में कुछ बातें बताने का आज मन करता है मेरा। Climate के संबंध में या Environment के संबंध में प्रारंभ से कुछ हमारी गलत अभिव्‍यक्ति रही है और हम ऐसे जैसे अपनी बात को दुनिया के आगे प्रस्‍तुत किया कि ऐसा लगने लगा कि जैसे हमें न Climate की परवाह है न Environment की परवाह है। और सारी दुनिया हमारी इस अभिव्‍यक्ति की गलती के कारण यह मानकार के बैठी कि विश्‍व तो Environment conscious हो रहा है। विश्‍व climate की चिंता कर रहा है कि यह देश है जो कोई अडंगे डाल रहा है और इसका मूल कारण यह नहीं है कि हमने environment को बिगाड़ने में कोई अहम भूमिका निभाई है। climate को बर्बाद करने में हमारी या हमारे पूर्वजों की कोई भूमिका रही है। हकीकत तो उल्‍टी है। हम उस परंपरा में पले है, उन नीति, नियम और बंधनों में पले-बढ़े लोग हैं, जहां प्रकृति को परमेश्‍वर के रूप माना गया है, जहां पर प्रकृति की पूजा को सार्थक माना गया है और जहां पर प्रकृति की रक्षा को मानवीय संवेदनाओं के साथ जोड़ा गया है। लेकिन हम अपनी बात किसी न किसी कारण से, एक तो हम कई वर्षों से गुलाम रहे, सदियों से गुलाम रहने के कारण एक हमारी मानसिकता भी बनी हुई है कि अपनी बात दुनिया के सामने रखते हुए हम बहुत संकोच करते हैं। ऐसा लगता है कि यार कहीं यह आगे बढ़ा हुआ विश्‍व हम Third country के लोग। हमारी बात मजाक तो नहीं बन जाएगी। जब तक हमारे भीतर एक confidence नहीं आता है, शायद इस विषय पर हम ठीक से deal नहीं कर पाएंगे।

और मैं आज इस सभागृह में उपस्थित सभी महानुभावों से आग्रहपूर्वक कहना चाहता हूं हम जितने प्रकृति के विषय में संवेदनशील है। दुनिया हमारे लिए सवालिया निशान खड़ा नहीं कर सकती है। आज भी प्रति व्‍यक्ति अगर carbon emission में contribution किसी का होगा तो कम से कम contribution वालों में हम है। लेकिन उसके बाद भी आवश्‍यकता यह थी कि विश्‍व में जब climate विषय में एक चिंता शुरू हुई, भारत ने सबसे पहले इसका नेतृत्‍व करना चाहिए था। क्‍योंकि दुनिया में अधिकतम वर्ग यह है कि जो climate की चिंता औरों पर restriction की दिशा में करता रहता है, जबकि हम लोग सदियों से प्रकृति की रक्षा करते-करते जीवन विकास की यात्रा में आगे बढ़ने के पक्षकार रहे हैं। दुनिया जो आज climate के संकट से गुजर रही है, Global Warming के संकट से गुजर रही है, उसको अभी भी रास्‍ता नहीं मिल रहा है कि कैसे बचा जाए, क्‍योंकि वो बाहरी प्रयास कर रहे हैं। और मैंने कई बार कहा कि इन समस्‍या की जड़ में हम carbon emission को रोकने के लिए जो सारे नीति-नियम बना रहे हैं, विश्‍व के अंदर एक बंधनों की दिशा में हम आगे बढ़ रहे हैं, लेकिन हम कोई अपनी Life Style बदलने के लिए तैयार नहीं है। समस्‍या की जड़ में मानवजात जो कि उपभोग की तरफ आगे बढ़ती चली गई है और जहां ज्‍यादा उपभोग की परंपरा है, वहां सबसे ज्‍यादा प्रकृति का नुकसान होता है, जहां पर उपभोग की प्रवृति कम है, वहां प्रकृति का शोषण भी कम होता है और इसलिए हम जब तक अपने life style के संबंध में focus नहीं करेंगे और दुनिया में इस एक बात को केंद्र बिंदु में नहीं लाएंगे हम शायद बाकी सारे प्रयासों के बावजूद भी, लेकिन यह जो बहुत आगे बढ़ चुके देश है, उनके गले उतारना जरा कठिन है। वो माने न माने हम तो इन्‍हीं बातों में पले-बढ़े लोग हैं। हमें फिर से अगर वो चीजें भूला दी गई है, तो हमें उस पर सोचना चाहिए। मैं उदाहरण के तौर पर कहता हूं आजकल दुनिया में Recycle की बडी चर्चा है और माना जाता है कि यह दुनिया में कोई नया विज्ञान आया है, नई व्‍यवस्‍था आई है। जरा हमारे यहां देखों Recycle, reuse और कम से कम उपयोग करने की हमारी प्रकृति कैसी रही है। पुराना जमाना की जरा अपने घर में दादी मां उनके जीवन को देखिए। घर में कपड़े अगर पुराने हो गए होंगे, तो उसमें से रात को बिछाने के लिए गद्दी बना देंगे। वो अब उपयोगी नहीं रही तो उसमें से भी झाडू-पौचे के लिए उस जगह का उपयोग करेंगे। यानी एक चीज को recycle कैसे करना घर में हर चीज का वो हमारे यहां सहज परंपरा थी। सहज प्रकृति थी।

मैंने देखा है गुजरात के लोग आम खाते हैं, लेकिन आम को भी इतना Recycle करते हैं, Reuse करते हैं शायद कोई बाहर सोच नहीं सकता है। कहने का तात्‍पर्य है कि कोई बाहर से borrow की हुई चीज नहीं है। लेकिन हमने दुनिया समझे उस terminology में उन चीजों को आग्रहपूर्वक रखा नहीं। विश्‍व के सामने हम अपनी बातों को ढंग से रख नहीं पाए। हमारे यहां पौधे में परमात्‍मा है। जगदीश चंद्र बोस ने विज्ञान के माध्‍यम से जब Laboratory में जब सिद्ध किया कि पौधे में जीव होता है, उसके बाद ही हमने जीव है ऐसा मानना तय किया, ऐसा नहीं है। हम सहस्‍त्रों वर्ष से गीता का उल्‍लेख करे, महाभारत का उल्‍लेख करे हमें तभी से मानते हुए आए हैं कि पौधे में परमात्‍मा होता है। और इसलिए पौधे की पूजा, पौधे की रक्षा यह सारी चीजें हमें परंपराओं से सिखाई गई थी। लेकिन काल क्रम में हमने ही अपने आप को कुछ और तरीके से रास्‍ते खोजने के प्रयास किए। कभी-कभी मुझे लगता है.. यहां urban secretaries बहुत बड़ी संख्‍या में है हम परंपरागत रूप से चीजों को कैसे कर सकते हैं। मैं जानता हूं मैं जो बातें बताऊंगा, ये जो so called अंग्रेजीयत वाले लोग हैं, वो उसका मजाक उड़ाएंगे 48 घंटे तक। बड़ा मजाक उड़ाएंगे, आपको भी बड़ा मनोरंजन मिलेगा टीवी पर, क्‍योंकि एक अलग सोच के लोग हैं। जैसे मैं आपको एक बात बताऊं। आपको मालूम होगा यहां से जिनका गांव के साथ जीवन रहा होगा। गांव में एक परंपरा हुआ करती थी कि जब full moon होता था, तो दादी मां बच्‍चों को चांदनी की रोशनी में सुई के अंदर धागा पिरोने के लिए प्रयास करते थे, क्‍यों eye sight तो थी, लेकिन उस चांदनी की रोशनी की अनुभूति कराते थे।

आज शायद नई पीढ़ी को पूछा जाए कि आपने चांदनी की रोशनी देखी है क्‍या? क्‍या पूर्णिमा की रात को बाहर निकले हो क्‍या? अब हम प्रकृति से इतने कट गए हैं।

अगर हमारी urban body यह तय करे, लोगों को विश्‍वास में लेकर के करें कि भई हम पूर्णिमा की रात को street light नहीं जलाएंगे। इतना ही नहीं उस दिन festival मनाएंगे पूरे शहर में, सब मोहल्‍ले में लोग स्‍पर्धा करेंगे, सुई में धागा डालने की। एक community event हो जाएगा, एक आनंद उत्‍सव हो जाएगा और पर्यावरण की रक्षा भी होगी। चीज छोटी होती है। आप कल्‍पना कर सकते हैं कि सभी Urban Body में महीने में एक बार इस चांदनी रात का उपयोग करते हुए अगर street light बंद की जाए तो कितनी ऊर्जा बचेगी? कितनी ऊर्जा बचेगी तो कितना emission हम कम करेंगे? लेकिन यही चीज इस carbon emission के हिसाब से रखोगे, तो यह जो so called अपने आप को पढ़ा-लिखा मानता हैं, वो कहे वाह नया idea है, लेकिन वही चींज हमारी गांव की दादी मां कहती वो सुई और धागे की कथा कहकर के कहेंगे, अरे क्‍या यह पुराने लोग हैं इनको कोई समझ नहीं है, देश बदल चुका है। क्‍या यह हम हमारे युवा को प्रेरित कर सकते हैं कि भई Sunday हो, Sunday on cycle मान लीजिए, हो सकता है कोई यह भी कह दें कि मोदी अब cycle कपंनियों के agent बन गया हैं। यह बड़ा दुर्भाग्‍य है देश का। पता नहीं कौन क्‍या हर चीज का अर्थ निकालता है। जरूरी नहीं कि हर कोई लोग cycle खरीदने जाए, तय करे कि भई मैं सप्‍ताह में एक दिन ऊर्जा से उपयोग में आने वाले साधनों का उपयोग में नहीं करूंगा। अपनी अनुकूलता है।

समाज मैं जो life style की बात करता हूं हम पर्यावरण की रक्षा में इतना बड़ा योगदान दें सकते हैं। सहज रूप से दे सकते हैं और थोड़ा सा प्रयास करना पड़ता है। एक शिक्षक के जीवन को मैं बराबर जानता हूं। मैं जब गुजरात में मुख्‍यमंत्री था तो उन पिछड़े इलाकों में चला जाता था, जून महीने में कि जहां पर girl child education बहुत कम हो। 40-44 डिग्री Temperature रहा करता था जून महीने में और मैं ऐसे गांव में जाकर तीन दिन रहता था। जब तक मैं मुख्‍यमंत्री रहा वो काम regularly करता था। एक बार मैं समुद्री तट के एक गांव में गया। एक भी पेड़ नहीं था, पूरे गावं में कहीं पर नहीं, लेकिन जो स्‍कूल था, वो घने जंगलों में जैसे कोई छोटी झोपड़ी वाली स्‍कूल हो, ऐसा माहौल था। तो मेरे लिए आश्‍चर्य था। मैंने कहा कि यार कहीं एक पेड़ नहीं दिखता, लेकिन स्‍कूल बड़ी green है, क्‍या कारण है। तो वहां एक teacher था, उस teacher का initiative इतना unique initiative था, उसने क्‍या किया – कहीं से भी bisleri की बोतल मिलती थी खाली, उठाकर ले आता था, पेट्रोल पम्‍प पर oil के जो टीन खाली होते थे वो उठाकर ले आता था और लाकर के students को एक-एक देता था, साफ करके खुद और उनको कहता था कि आपकी माताजी जो kitchen में बर्तन साफ करके kitchen का जो पानी होता है, वो पानी इस बोतल में भरकर के रोज जब स्‍कूल में आओगे तो साथ लेकर के आओ। और हमें भी हैरानी थी कि सारे बच्‍चे हाथ में यह गंदा दिखने वाला पानी भरकर के क्‍यों आते हैं। उसने हर बच्‍चे को पेड़ दे दिया था और कह दिया था कि इस बोतल से daily तुम्‍हें पानी डालना है। Fertilizer भी मिल जाता था। एक व्‍यक्ति के अभिरत प्रयास का परिणाम था कि वो पूरा स्‍कूल का campus एकदम से हरा-भरा था। कहना का तात्‍पर्य है कि इन चीजों के लिए समाज का जो सहज स्‍वभाव है, उन सहज स्‍वभाव को हम कितना ज्‍यादा प्रेरित कर सकते हैं, करना चाहिए।

मैं एक बार इस्राइल गया था, इस्राइल में रेगिस्‍तान में कम से कम बारिश, एक-एक बूंद पानी का कैसे उपयोग हो, पानी का recycle कैसे हो, समुद्री की पानी से कैसे sweet water बनाया जाए, इन सारे विषयों में काफी उन्‍होंने काम किया है। काफी प्रगति की है। इस्राइल तो इस समय एक अभी भी रेगिस्‍तान है जहां हरा-भरा होना बाकी है और एक है पूर्णतय: उन्‍होंने रेगिस्‍तान को हरा-भरा बना दिया है।

बेन गुरियन जो इस्राइल के राष्‍ट्रपिता के रूप में माने जाते हैं, तो मैं जब इस्राइल गया था तो मेरा मन कर गया कि उनका जो निवासा स्‍थान है वो मुझे देखना है, उनकी समाधि पर जाना है। तो मैंने वहां की सरकार को request की थी बहुत साल पहले की बात है। तो मैं गया, उनका घर उस रेगिस्‍तान वाले इलाके में ही था, वहीं रहते थे वो। और दो चीजें मेरे मन को छू गई – एक उनके bedroom में महात्‍मा गांधी की तस्‍वीर थी। वे सुबह उठते ही पहले उनको प्रणाम करते थे और दूसरी विशेषता यह थी कि उनकी जो समाधि थी, उन समाधि के पास एक टोकरी में पत्‍थर रखे हुए थे। सामान्‍य रूप से इतने बड़े महापुरूष के वहां जाएंगे तो मन करता है कि फूल रखें वहां, नमन करे। लेकिन चूंकि उनको green protection करना है, greenery की रक्षा करनी है। फूल-फल इसको नष्‍ट नहीं करना, यह संस्‍कार बढ़ाने के लिए बेन बुरियन की समाधि पर अगर आपको आदर करना है तो क्‍या करना होता था उस टोकरी में से एक पत्‍थर उठाना और पत्‍थर रखना और शाम को वो क्‍या करते थे सारे पत्‍थर इकट्ठे करके के फिर टोकरी में रख देते थे। अब देखिए environment की protection के लिए किस प्रकार की व्‍यवस्‍थाओं को लोग विकसित करते हैं। हम अपने आपसे बाकी सारी बातों के साथ-साथ हम अपने जीवन में इन चीजों को कैसे लाए उसके आधार पर हम इसको बढ़ावा दे सकते हैं। हमारे स्‍कूलों में, इन सब में किस प्रकार से एक माहौल बनाया जाए प्रकृति रक्षा, प्रकृति पूजा, प्रकृति संरक्षण यह सहज मानव प्रकृति का हिस्‍सा कैसे बने, उस दिशा में हमको जाना होगा। और हम वो लोग है जिनका व्‍येन तक्‍तेन मुंजिता। यही जिनके जीवन का आदर्श रहा है। जहां व्‍येन तक्‍तेन मुंजिता का आदर्श रहा हो, वहां पर हमें प्रकृति का शोषण करने का अधिकार नहीं है। हमें प्रकृति का दोहन करने से अधिक प्रकृति को उपयोग, दुरूपयोग करने का हक नहीं मिलता है। दुनिया में प्रकृत‍ि का शोषण ही प्रवृति है, भारत में प्रकृति को दोहन एक संस्‍कार है। शोषण ही हमारी प्रवृति नहीं है और इसलिए विश्‍व इस संकट से जो गुजर रहा है, मैं अभी भी मानता हूं कि दुनिया को इस क्षेत्र में बचाने के लिए नेतृत्‍व भारत ने करना चाहिए। और उस दिमाग से भारत ने अपनी योजनाएं बनानी चाहिए। दुनिया climate change के लिए हमें guide करे और हम दुनिया को follow करें। दुनिया parameter तय करे और हम दुनिया को follow करे, ऐसा नहीं है। सचमुच में इस विषय में हमारी हजारों साल से वो विरासत है, हम विश्‍व का नेतृत्‍व कर सकते हैं, हम विश्‍व का मार्गदर्शन कर सकते हैं और विश्‍व को इस संकट से बचाने के लिए भारत रास्‍ता प्रशस्‍त कर सकता है। इस विश्‍वास के साथ इस conference से हम निकल सकते हैं। हम दुनिया की बहुत बड़ी सेवा करेंगे। उस विजन के साथ हम अपनी व्‍यवस्‍थाओं के प्रति जो भी समयानुकूल हम बदलाव लाना है, हम बदलाव लाए। जैसे अभी अब यह तो हम नहीं कहेंगे..

अच्‍छा, कुछ लोगों ने मान लिया कि पर्यावरण की रक्षा और विकास दोनों कोई आमने-सामने है। यह सोच मूलभूत गलत है। दोनों को साथ-साथ चलाया जा सकता है। दोनों को साथ-साथ आगे बढ़ाया जा सकता है। कुछ do’s and don’ts होते हैं, इसका पालन होना चाहिए। अगर वो पालन होता है तो हम उसकी रखवाली भी करते हैं और उसके लिए कोई चीजें, जैसे अभी हमने कोयले की खदानें उसकी नीलामी की, लेकिन उसके साथ-साथ उनसे जो पहले राशि ली जाती थी environment protection के लिए वो चार गुना बढ़ा दी, क्‍योंकि वो एक महत्‍वपूर्ण हिस्‍सा है। आवश्‍यक है तो वो भी बदलाव किया। हमारी यह कोशिश रहनी चाहिए कि हम इस प्रकार से बदलाव लाने की दिशा में कैसे प्रयास करे और अगर हम प्रयास करते तो परिणाम मिल सकता है। दूसरी बात है, ज्‍यादातर भ्रम हमारे यहां बहुत फैलाया जाता है। अभी Land Acquisition Bill की चर्चा हुई है। इस Land Acquisition Bill में कहीं पर भी एक भी शब्‍द वनवासियों की जमीन के संबंध में नहीं है, आदिवासियों की जमीन के संबंध में नहीं है, Forest Land के संबंध में नहीं है। वो जमीन, उसके मालिक, Land Acquisition bill के दायरे में आते ही नहीं है, लेकिन उसके बावजूद भी जिनको इन सारी चीजों की समझ नहीं है। वो चौबीसों घंटे चलाते रहते हैं। पता ही नहीं उनको कहीं उल्‍लेख तक नहीं है। उनको भ्रमित करने का प्रयास किया जा रहा है। मैं समझता हूं कि समाज का गुमराह करने का इस प्रकार का प्रयास आपके लिए कोई छोटी बात होगी, आपके राजनीतिक उसूल होंगे लेकिन उसके कारण देश को कितना नुकसान होता है और कृपा करके ऐसे भ्रम फैलाना बंद होना चाहिए, सच्‍चाई की धरा पर पूरी debate होनी चाहिए। उसमें पक्ष विपक्ष हो सकता है, उसमें कुछ बुरा नहीं है, लोकतंत्र है। लेकिन आप जो सत्‍य कहना चाहते हो, उसमें दम नहीं है, इसलिए झूठ कहते रहो। इससे देश नहीं चलता है और इसलिए मैं विशेष रूप से वन विभाग से जुड़े हुए मंत्री और अधिकारी यहां उपस्थित हैं तो विशेष रूप से इस बात का उल्‍लेख करना चाहता हूं कि Land Acquisition Act के अंदर कहीं पर जंगल की जमीन, आदिवासियों की जमीन उसका कोई संबंध नहीं है। उस दायरे में वो आता नहीं है, हम सबको मालूम है कि उसका एक अलग कानून है, वो अलग कानूनों से protected है। इस कानून का उसके साथ कोई संबंध नहीं है, लेकिन झूठ फैलाया जा रहा है और इसलिए मैं चाहूंगा कि कम से कम और ऐसे मित्रों से प्रार्थना करूंगा कि देशहित में कम से कम ऐसे झूठ को बढ़ावा देने में आप शिकार न हो जाएं यह मेरा आग्रह रहेगा।

आज यह भी यहां बताया गया कि Tiger की संख्‍या बढ़ी है। करीब 40% वृद्धि हुई है। अच्‍छा लगता है सुनकर के वरना दुनिया में Tiger की संख्‍या कम होती जा रही है और दो-तिहाई संख्‍या हमारे पास ही है तो एक हमारा बहुत बड़ा गौरव है और यह गौरव मानवीय संस्‍कृति का भी द्योतक होता है। इन दोनों को जोड़कर हमें इस चीज का गौरव करना चाहिए। और विश्‍व को इस बात का परिचय होना चाहिए कि हम किस प्रकार की मानवीय संस्‍कृतियों को लेकर के जीते हैं कि जहां पर इतनी तेज गति से tiger की जनसंख्‍या का विकास हो रहा है। हमारे पूरब के इलाके में खासकर के हाथी को लेकर के रोज नई खबरें आती है। हा‍थी को लेकर के परेशानियां आती है। अभी मैं कोई एक science magazine पढ़ रहा था। बड़ी interesting चीज मैंने पहली बार पढ़ी, आप लोग तो शायद उसके जानकारी होगी। जब खेत में हाथियों का झुंड आ जाता है, तो बड़ी परेशानी रहती कैसे निकालना है, यह forest department के लोग भांति-भांति के सशत्र लेकर पहुंच जाते हैं और दो-दो दिन तक हो हल्‍ला हो जाता है। मैंने एक science magazine पढ़ा, कहीं पर लोगों ने प्रयोग किया है बड़ा ही Interesting प्रयोग लगा मुझे। वे अपने खेत के बाढ़ पर या पैड है उस पर Honey Bee को भी Developed करते हैं मधुमक्‍खी को रखते हैं और जब हाथी के झुंड आते हैं तो मधुमक्‍खी एक Special प्रकार की आवाज करती है और हाथी भाग जाता है। अब ये चीजे जो हैं कहीं न कहीं सफल हुई हैं आज भी शायद हमारे यहां हो सकता है कुछ इलाकों में करते भी होंगे। हमें इस प्रकार की व्‍यवस्‍थाओं को भी समझना होगा ताकि हमें हाथियों से संघर्ष करना पड़ सके। मानव और हाथी के बीच जो संघर्ष के जो समाचार आते हैं, उससे हम कैसे बचें। हम हाथी की भी देखभाल करें, अपने खेत की भी देखभाल कर सकें। अगर ऐसे सामान्‍य व्‍यवस्‍थाएं विकसित हो सकती है और अगर यह सत्‍य है तो मैंने कहीं पढ़ा था, लेकिन किसी प्रत्‍यक्ष मेरी किसान से बात हुई नहीं है लेकिन मैं कभी असम की तरफ जाऊंगा तो पूछूंगा सबसे बात करूंगा कि क्‍या है जानकारी लाने का प्रयास करूंगा मैं, लेकिन आपसे में उस दिशा में काम करने वाले जहां हाथी की जनसंख्‍या हैं और गांवों में कभी-कभी चली आती हैं तो उनके लिए शायद हो सकता है कि ये अगर इस प्रकार का प्रयोग हुआ हो तो यह काम आ सकता है। मेरा कहने का तात्‍पर्य यह है कि यह जगत सब समस्‍याओं से जुड़ा हुआ होगा हम ही पहली बार गुजर रहे हैं ऐसा थोड़ी है और हरेक ने अपने-अपने तरीके से उसके उपाय खोजे होंगे। उनको फिर से एक बार वैज्ञानिक तरीके से वैज्ञानिक तराजू से देखा जाए कि हम इन चीजों को कैसे फिर से एक बार प्रयोग में ला सकते हैं। थोड़ा उसे Modify करके उसे प्रयोग में ला सकते हैं। इन दिनों जब पर्यावरण की रक्षा की बात आती है, तो ज्‍यादातर कारखानें और ऊर्जा उसके आस-पास चर्चा रहती है। भारत उस अर्थ में ईश्‍वर की कृपा वाला राष्‍ट्र रहा है कि जिसके पास Maximum solar Radiation वाली संभावना वाला देश है। इसका हमें Maximum उपयोग कैसे करना है और इसलिए सरकार ने Initiative लिया है कि हम Solar Energy हम Wind Energy Biomass Energy उस पर कितना ज्‍यादा बल दें ताकि हम जो विश्‍व की चिंता है उसमें हम मशरूफ हों। लेकिन मजा देखिए, जो दुनिया Climate के लिए Lead करती है, दुनिया को पाठ पढ़ाती है अगर हम उनको कहें कि हम Nuclear Energy में आगे जाना चाहते हैं कि Nuclear Energy Environment protection का एक अच्‍छा रास्‍ता है और हम उनको जब कहते हैं कि Nuclear Energy के लिए आवश्‍यक Fuel दो तो मना कर देते हैं यानी हम दुनिया की इतनी बड़ी सेवा करना चाहते हैं लेकिन आप सेवा करों यह नियम पालन करो व‍ह नियम पालन करो। मैं दुनिया के सभी उस देशवासियों से यह निवेदन करना चाहूंगा कि भारत जैसा देश जिस प्रकार से नेतृत्‍व करने के लिए तैयार है Environment protection के लिए Civil Nuclear की तरफ हमारा बल है। हम Nuclear Energy पर आगे बढ़ने के लिए तैयार हैं, हम उसे करने के लिए तैयार हैं क्‍योंकि हमें पता है कि पर्यावरण की रक्षा में अच्‍छे सा अच्‍छा रास्‍तों में महत्‍वपूर्ण है। लेकिन वही लोग जो हमें Environment के लिए भाषण देते हैं वो Nuclear के लिए Fuel देने के लिए तैयार नहीं है। ये दो तराजू से दुनिया नहीं चल सकती है और इसलिए विश्‍व पर हमें भी यह दबाव पैदा करना पड़ेगा और मुझे विश्‍वास है कि आने वाले दिनों में यह दबाव दिखने वाला है, लोग अनुभव करेंगे हम Solar Energy की तरफ जा रहे हैं। Biomass की तरफ जा रहे हैं। लेकिन मैं Urban Bodies को कहना चाहूंगा अगर हम स्‍वच्‍छ भारत की चर्चा करें तो भी और अगर हम Environment की चर्चा करें तो भी। Waste Water & Solid waste Management की दिशा में हम लोंगों को आग्रहपूर्वक आगे बढ़ना चाहिए। Public Private Partnership Model को लेकर आगे बढ़ना चाहिए। Solid Waste Management की ओर हमने पूरा ध्‍यान देना चाहिए। और आज Waste Wealth का एक सबसे बड़ा Business है। Waste में से Wealth create करना एक बहुत बड़ा Entrepreneurship शुरू हुआ है। हम अपने Urban Bodies में इसको कैसे जोड़े। Urban Bodies में Waste में से Wealth को create पैदा करने में स्‍पेशल फोकस करें। और आप देखिए कि बहुत बड़ा बदलाव आ सकता है। एक छोटा सा प्रयोग है मैं Urban Bodies से आग्रह करूंगा मान लीजिए हम हिंदुस्‍तान में पांच सौ शहर पकड़े, जहां एक लाख से ज्‍यादा आबादी है और वहां पर हम तय करें अब देखिए आज जो शहर का कूड़ा-कचरा फेंकने के लिए जो जगह जमीन की जो जरूरत है हजारों एकड़ भूमि की जरूरत पड़ेगी अगर ये कचरों के ढेर करने हैं तो अब गमिल लाओंगे कहां से और अब जमीन नहीं हैं तो क्‍या मतलब है कि कूड़ा-कचरा पड़ा रहेगा क्‍या और इसलिए हमारे लिए उस पर Process करना Recycle करना Waste Management करना यह अनिवार्य हो गया है। अब वैज्ञानिक के तरीके उपलब्‍ध हैं अगर हम Urban Body Waste Water Treatment करें और पानी को ठीक करके अगर किसानों को वापिस दे वरना एक समय ऐसा आएगा शहर और गांव के बीच संघर्ष होगा पानी के लिए। गांव कहेगा कि मैं शहर को पानी नहीं देने दूंगा और शहर बिना पानी मरेगा। लेकिन जो अगर शहर पानी प्रयोग करता है उसको Recycle करके गांव को वापस दे देता है खेतों में तो यह संघर्ष की नौबत नहीं आएगी और एक प्रकार से Treated Water होगा तो Fertilizer की दृष्टि से उपयोग इस प्रकार से पानी को इस प्रकार से बनाकर दिया जा सकता है। और Urban Body जो होता है उसके गांव जो होते हैं वो ज्‍यादातर सब्‍जी की खेती करते हैं और वही सब्‍जी उनके शहर के अंदर बिकने के लिए आती हैं रोजमर्रा की उनकी आजीविका उससे चलती है। हम इन्‍हीं को Solid Waste Management करके Solid Waste में से हम मानव Fertilizer बनाएं और वो Fertilizer हम उनको दें तो Organic सब्‍जी शहर में आएगी कि नहीं आएगी। इतनी बड़ी मात्रा में अगर हम Fertilizer देते हैं शहरों के कूड़े-कचरों से बनाया हुआ तो अच्‍छी Quality का विपुल मात्रा में सब्‍जी शहर में आएगी तो सस्‍ती सब्‍जी मिलेगी या नहीं मिलेगी? सस्‍ती सब्‍जी गरीब से गरीब व्‍यक्ति खाएगा तो Nutrition के Problem का Solution होगा कि नहीं होगा। Vegetable Sufficient खाएगा तो Health सेक्‍टर का बजट कम होगा कि नहीं होगा। एक प्रयास कितने ओर चीजों पर इफैक्‍ट कर सकता है इसका अगर हम एक Integrated approach करें तो हम हमारे गांवों को भी बचा सकते हैं हमारे शहरों को भी बचा सकते हैं। कभी-कभार अज्ञान का भी कारण होता है। हमारे यहां देखा है कि फसल होने के बाद अब जैसे Cotton है Cotton लेने के बाद बाकी जो है उसको जला देते हैं। लेकिन उसी को अगर टुकड़े कर करके खेत में डाल दें तो वहीं चीज Nutrition के रूप में काम आती है Fertilizer के रूप में काम आती है। मैंने एक प्रयोग देखा था केले की खेती हमारे यहां हो रही थी तब केला उतारे के बाद केला देने की क्षमता जब कम हो जाती है तो वो जो पेड़ का हिस्‍सा होता है उसके टुकड़े कर कर के उन्‍हें जमीन में डाले और मैंने अनुभव किया कि उसके अंदर इतना Water Content होता है केले के Waste Part में कि 90 दिन तक आपको फसल को पानी नहीं देना पड़ता है वो उसी में से फसल पानी ले लेती है। अब हम थोड़ा सा इनका प्रयोग चीजों को सीखें, समझें। इसको अगर Popular करें तो हम पानी को भी बचा सकते हैं, फसल को भी बचा सकते हैं। हम चीजों को किस प्रकार से और इसके लिए बहुत बड़ा आधुनिक से आधुनिक बड़ा विज्ञान की जरूरत होती है ऐसा नहीं है। सहज समझ का विषय होता है इनको हम जितना आगे बढ़ाएंगे हम इन चीजों को कर सकते हैं। Urban Body आग्रहपूर्वक Public Private Partnership Model उसमें Vibrating Gap funding का भी रास्‍ता निकल सकता है। आप जो इन Waste खेतों के किसानों को उसके कारण अगर Chemical Fertilizer का उपयोग कम होता है तो Chemical Fertilizer में से जो सब्सिडी बचेगी मैं आपको विश्‍वास दिलाता हूं वो सब्सिडी जो बचेगी वो Vibrating Gap Funding के लिए शहरों को दे देंगे, यानी आपके देश में से Wealth Create होगी और जो आप खाद्य तैयार करोगे वो खाद्य उपयोग करने के कारण Chemical Fertilizer की सब्सिडी बचेगी वो आपको मिलेगी। आप गैस पैदा करोगे, गैस दोगो तो जितनी मात्रा में गैसा पैदा करोगे जो गैस सिलेंडर की जो सब्सिडी है वो बचेगी तो वो सब्सिडी हम आपको Transfer करेंगे आपके Vibrating Gap Funding में काम आएगी। हम एक उसका Finance का Model कर सकते हैं, लेकिन भारत सरकार, राज्‍य सरकार और Local Self Government ये तीनों मिल करके हम Environment को Priority देते हुए हमारे नगरों को स्‍वच्‍छ रखते हुए, वहां के कूड़े-कचरे को Waste में Wealth Create करें और बहुत Entrepreneur मिले हैं। उनको हम कैसे प्रयोग में हम करें मैंने एक जगह देखा है जहां पर Waste में से ईंटे बना रहे हैं और इतनी बढि़या ईंटे मजबूत बन रही हैं कि बहुत काम आ रही है। आपने देखा होगा पहले जहां पर बिजली के थर्मल प्‍लांट हुआ करते थे वहां पर बाहर कोयले की Ash जो होता है उसके ढेर लगे रहते थे। आज Recycle और Chemical में से ईंटे बनने के कारण सीमेंट में उपयोग आने के कारण वो निकलते ही Contract हो जाता है और दो-दो साल का Contract और निकलते ही हम उठाएंगे यानी कि जो किसी पर्यावरण को बिगाड़ने के लिए संकट था वो ही आज Property में Convert हो गया है हम थोड़ा इस दिशा में प्रयास करें, initiative लें, हम इसमें काफी मदद कर सकते हैं और मेरा सबसे आग्रह है कि हम इन चीजों को बल मानते हुए आने वाले दिशों में दो दिन जब आप चर्चा करेंगे। गंगा की सफाई उसके साथ जुड़ा हुआ है गंगा के किनारे पर रहने वाले, गंगा किनारे के गांव और शहर मैं उन संबंधित राज्‍य सरकारों से आग्रह करूंगा इसमें कोई Comprise मत कीजिए। बैंकों से हम आग्रह करेंगे उनको हम कम दर से लोन दें। लेकिन Approved Plant उनमें वो लगाये जाएं Sewerage Treatment plant किये जाएं। एक बार हमने सफलतापूर्वक ढाई हजार किलोमीटर लम्‍बी गंगा के अंदर जाने वाले प्रदूषण को रोक लिया पूरे दुनिया के सामने और पूरे हिंदुस्‍तान के सामने एक नया विश्‍वास पैदा कर सकता है कि हम सामान्‍य अपने तौर तरीकों से पर्यावरण की सुरक्षा कर सकते हैं। यह विश्‍वास पैदा करने के लिए Model की तरह इस काम को खड़ा करना और ये एक बार काम खड़ा हो गया तो और काम अपने आप खड़े हो जाएंगे। एक विश्‍वास पैदा करने की आवश्‍यकता है और किया जा सकता है। एक बार हम किसी चीज को हाथ लगाएं पीछे लग जाएं परिणाम मिल सकता है और मैं चाहूंगा ज्‍यादातर इन पांच राज्‍यों से कि जो गंगा के किनारे की उनकी जिम्‍मेवारी है छह हजार के करीब गांव है, एक सौ 18000 किलोमीटर हैं कोई आठ सौ के करीब Industries हैं जो Pollution के लिए तैयार है इसको Target करते हुए एक बार गंगा के किनारे पर हम तय कर ले वहां से कोई भी दूषित पानी या कूड़ा-कचरा गंगा में जाने नहीं देंगे। आप देखिए अपने आप में बदलाव शुरू हो जाएगा। फिर तो गंगा की अपनी ताकत भी है खुद को साफ रखने की। और वो हमने आगे निकल जाएगी लेकिन हम तय करे कि हम गंदा नहीं करेंगे तो गंगा को साफ करने के लिए तो हमें गंदा नहीं करना पड़ेगा गंगा अपना खुद कर सकती है। लेकिन हम गंदा न करे इतना तो संकल्‍प करना पड़ेगा और उस काम को ले करके आप जब यहां पर बैठे है जो गंगा किनारे को जो इस विभाग के मंत्री हैं वो विशेष रूप से आधा-पौना घंटा बैठ करके उन चीजों को कैसे आगे बढ़ाया जाए। विशेष रूप से चर्चा करें मेरा आग्रह रहेगा फिर एक बार मैं इस प्रयास का स्‍वागत करता हूं और मुझे विश्‍वास है कि इस सपने के साथ फिर एक बार मैं दोहराता हूं ये एक ऐसा विषय है जो हमारी बपौती है, हमारा डीएनए है। हमारे पूर्वजों ने इन मानव जाति की बहुत बड़ी सेवा की है। विश्‍व का नेतृत्‍व हमारे पास ही होना चाहिए Climate के मुद्दे पर ये मिजाज होना चाहिए। पूरे विश्‍व को हम दिखा सकते हैं कि यह हमारा विषय है। हमारी परंपरा है। दुनिया को हम सीखा सकते हैं इतनी ताकत के साथ हम यहां से निकले यही अपेक्षा के साथ बहुत-बहुत शुभकामनाएं धन्‍यवाद।

दान
Explore More
'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी
‘Salute and contribute’: PM Modi urges citizens on Armed Forces Flag Day

Media Coverage

‘Salute and contribute’: PM Modi urges citizens on Armed Forces Flag Day
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
बेहतर कल के लिए हमारी सरकार, वर्तमान की चुनौतियों पर, समस्याओं पर काम कर रही है: प्रधानमंत्री मोदी
December 06, 2019
साझा करें
 
Comments
आर्टिकल 370 को हटाने का फैसला राजनीतिक तौर पर मुश्किल भले लगता हो, लेकिन इसने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों में विकास की नई उम्मीद जगाई है: प्रधानमंत्री मोदी
Better Tomorrow के लिए हमारी सरकार, वर्तमान की चुनौतियों पर, समस्याओं पर काम कर रही है: पीएम मोदी
हमें याद रखना होगा कि राम जन्मभूमि का फैसला आने से पहले न जाने क्या-क्या आशंकाएं जताई जा रहीं थी,
सुबह फैसला आया और शाम होते-होते देश के लोगों ने सारी आशंकाओं को गलत साबित कर दिया, इसके पीछे का भाव क्या था - Better Tomorrow: प्रधानमंत्री

शोभना भरतिया जी, हिंदुस्तान टाइम्स परिवार के सभी स्वजन देश और विदेश से यहां उपस्थित देवियों और सज्जनों, किसी भी देश को दिशा देने में, किसी समाज या व्यक्ति को नई ऊर्जा के साथ आगे बढ़ने में Conversations-संवाद का बहुत महत्व होता है।आज के ये Conversations ही Better Tomorrow की बुनियाद बनते हैं।आज ही हमारे संविधान निर्माता बाबा साहेब डॉक्टर भीम राव आंबेडकर जी की पुण्यतिथि भी है।

मैं उन्हें देशवासियों की तरफ से श्रद्धांजलि देता हूं, नमन करता हूं और ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि बाबा साहेब ने जिस Better Tomorrow का सपना देखा था, उसे हमें पूरा करने की शक्ति दें, हमें समर्थ बनाए।

साथियों,

भविष्य में हम जिस दिशा में जाना चाहते हैं, उसमें सबसे बड़ी भूमिका आज की है, हमारे वर्तमान की है और अभी शोभना जी ने एक सवाल रखा कि आप सबको बताइये कि आप कैसे चुनाव जीते, देश की जनता ने जिताया इसलिए जीत गए और देश की जनता ने क्यों जिताया क्योंकि सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास इस मंत्र से काम किया इसलिए जिताया और कई लोगों के ना चाहते हुए भी हुआ। खैर Better Tomorrow के लिए हमारी सरकार, वर्तमान की चुनौतियों पर, समस्याओं पर काम कर रही हैऔर ये चुनौतियां, आज पैदा हुई, ऐसा नहीं हैं। ये दशकों से चली आ रही हैं।

साथियों,

आर्टिकल 370 को हटाने का फैसला राजनीतिक तौर पर मुश्किल भले लगता हो, लेकिन इसने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों के विकास की और उनके भीतर एक नई उम्मीद जगाई है, मुस्लिम बहनों को तीन तलाक के दंश से मुक्ति मिलने से, देश के लाखों परिवारों को Better Future का एहसास मिला है।

पड़ोसी देशों से आए सैकड़ों परिवार, जिनके साथ उन देशों में अत्याचार हुआ, जिनकी मां भारती में आस्था थी, जब उनकी नागरिकता का रास्ता खुलेगा, तो इससे भी उनका Better Future ही सुनिश्चित होगा। दिल्ली की अनाधिकृत कॉलोनियों को लेकर जो फैसला हुआ है, उसने भी यहां के 40 लाख लोगों के बेहतर भविष्य का रास्ता पक्का किया है। ऐसे अनेक फैसले हैं, जो Past की legacy है, लेकिन New India के लिए, Better Tomorrow के लिए उनको टाला नहीं जा सकता।

इसी तरह राम जन्मभूमि विवाद का शांतिपूर्ण समाधान, सिर्फ एक विवाद का हल नहीं है, बल्कि भारत के Better Future का एक बड़ा कारक भी है।

और साथियों, हमें याद रखना होगा कि राम जन्मभूमि का फैसला आने से पहले न जाने क्या-क्या आशंकाएं जताई जा रहीं थी। सुबह फैसला आया और शाम होते-होते देश के लोगों ने सारी आशंकाओं को गलत साबित कर दिया। इसके पीछे का भाव क्या था- Better Tomorrow. समाज अब बीती बातों की उलझनों में नहीं रहना चाहता, देश भविष्य की ओर देख रहा है। देश के बेहतर भविष्य के लिए, जन-मन में आए इस बहुत बड़े परिवर्तन को हम कम नहीं आंक सकते।

भाइयों और बहनों,

समस्याओं को, चुनौतियों को पालते हुए-पोसते हुए Better Tomorrow की कल्पना नहीं की जा सकती और हमारी सरकार की Approach क्या है, अगर मैं सहज भाव से आपको एक उदाहरण देकर बताना चाहूं जैसे अगर मैं आप ही को दायरे में बात करूं ऐसा सिर्फ Hindustan times को ही पूछ रहा हूं ऐसा नही, लेकिन मैं आपकी दुनिया से पूछ रहा हूं, क्या कभी ऐसा होता है कि अगर editorial page के लिए कॉलम नहीं आ पाए तो आप लोग कहते हैं कि क्या हुआ, कल तो छपा था तो आज blank छोड़ देते हैं?

कभी ऐसा हुआ क्या? नही हुआ

या कभी ऐसा हुआ हो कि अख़बार के आखिरी पेज के लिए कोई खबर ही नहीं बची और उसे blank छोड़ दिया गया हो? ये सोच लिया गया हो कि पहले page से जब रीडर पढ़ना शुरू करता है तो आगे पहुंचते-पहुंचते थक जाएगा वो कहां देखने वाला है छोड़ तो आज last page खाली रखो। मुझे पूरा पता है कि आप लोगों ने Hindustan times के इतिहास में या किसी भी अखबार ने अपने इतिहास में ऐसा कभी नही किया होगा। अख़बार का हर page उत्तम से उत्तम बने, इसके लिए आपके रिपोर्टर्स, आपके न्यूजरूम के लोग जान लगा देते हैं।

लेकिन साथियों, आप जानकर हैरान हो जाएंगे कि हमारे यहां तो सरकारों ने देश के एक बहुत बड़े हिस्से को ही blank छोड़ दिया था। देश के ये वो जिले थे जो सबसे पिछड़े थे, लगभग हर पैरामीटर पर सबसे पिछड़े।

माता मृत्यु दर सबसे ज्यादा कहां? इन्हीं जिलों में।

नवजात शिशुओं की सबसे ज्यादा मृत्यु कहां पर ? इन्हीं जिलों में।

कुपोषण की सबसे ज्यादा समस्या कहां? इन्हीं जिलों में।

टीकाकरण से सबसे ज्यादा छूटे हुए बच्चे कहां? इन्हीं जिलों में।

पानी का, बिजली का, सड़कों का सबसे ज्यादा संकट कहां? इन्हीं जिलों में।

अब Contrast देखिए- विरोधाभास देखिए।

पहले की सरकारों का सबसे कम जोर किन जिलों में था?- इन्हीं जिलों में।

सरकार के मंत्रियों की सबसे कम बैठकें किन जिलों में हुई?- इन्हीं जिलों में हुई।

सरकार के सबसे कमजोर अफसरों की पोस्टिंग कहां हुई?- इन्हीं जिलों में हुई।

सरकार की मॉनीटरिंग से सबसे दूर कौन रहा?- यही जिले रहे। यानि विकास की दौड़ में आखिरी पेज पर रहने वाले इन जिलों को blank छोड़ दिया गया था, अपने नसीब पर, अपने हाल पर छोड़ दिया गया था।

साथियों

आज जब हम Better Tomorrow की बात कर रहे हैं तो मैं आपको ये भी बताना चाहूंगा कि इन जिलों में 5-10 लाख नहीं, देश के 15 करोड़ अत्यंत गरीब लोग रहते हैं। ये लोग मुख्यतया आदिवासी हैं, जनजातीय हैं, दलित हैं, पिछड़े हैं।

क्या Better Tomorrow के लिए इनके सपने कोई मायने नहीं रखते थे? क्या इन जिलों के गरीबों को, अपने उज्जवल भविष्य का सपना देखने का अधिकार नहीं था?

मैं इस सभाग्रह में बैठे लोगों से पूछना चाहता हूं- आपने मामित का नाम सुना है क्या? नामसाई का नाम सुना है क्या ?किफिरे का नाम सुना है क्या? आप में से किसी ने नहीं सुना होगा और शायद कभी एक आद बार किसी ने सुन लिया हो। ये क्या है ये हमारे ही देश के जिलों के नाम हैं।

लेकिन कालाहांडी का नाम तो आप जानते होंगे? गुमला तो आपको पता होगा सुना होगा, बेगूसराय तो आपने सुना होगा? गढ़चिरौली-बस्तर तो आपने सुना होगा?

भाइयों और बहनों,

ऐसे 112 जिलों यानि हिंदुस्तान के करीब 700 जिले देखें, 112 जिलों को अब हमारी सरकार Aspirational Districts की तरह विकसित कर रही है। डवलपमेंट के हर पैरामीटर पर, गवर्नेंस के हर पैरामीटर पर अब पूरा फोकस करके हम इन जिलों में काम कर रहे हैं।

चाहे वो कुपोषण हो, माता और शिशु मृत्यु दर हो, बैकिंग सुविधा हो, बीमा सुरक्षा हो, बिजली कनेक्शन हो, शिक्षा व्यवस्था हो, स्वास्थ्य से जुड़ी सुविधाएं हों, हम तमाम पैरामीटर्स पर लगातार real time monitoring कर रहे हैं।

सैकड़ों अफसरों को विशेष तौर पर इन Aspirational Districts के विकास के लिए लगाया गया है। आमतौर पर सरकारी मुलाज़िमों के प्रति नफरत का भाव उनके प्रति देखने का negative temperament एक लंबे काल से बना हुआ है। लेकिन आपको जानकर खुशी हुई कि दिल्ली में air condition कमरों में बैठने वाले सैंकड़ों अफसर इन दिनों लगातार महीने में दो बार-तीन बार उन दूर-दराज के districts में जाकर के बैठते है, दो-दो, तीन-तीन दिन वहां रहते हैं उस टीम के साथ बैठकर के, रणनीति बनाकर के implement कर-कर के चीजों को बदलने के लिए खुद कोशिश कर रहे हैं। भारत सरकार के केंद्रीय दफ्तर के सैंकड़ों मुलाज़िमों का हिंदुस्तान के दूर-दराज के इलाकों में दो-दो दिन travelling करना पड़ता है। जा रहे हैं एक better tomorrow की तो गारंटी है। और आज मैं हिंदुस्तान टाइम्स के मंच से कह रहा हूं।भारत के ओवरऑल डवलपमेंट पैरामीटर्स को सुधारने के लिए सबसे बड़ा Push इन्हीं 112 Aspiration Districts से मिलेगा। जब यहां के लोगों का भविष्य सुधरेगा तो भारत का भविष्य अपने आप सुधरेगा।

साथियों,

हम पेज छोड़ने वालों में से नहीं, हम नया अध्याय लिखने वालों में से हैं।

हम देश के सामर्थ्य, देश के संसाधन और देश के सपनों पर भरोसा करने वालों में से हैं। हम पूरी निष्ठा के साथ, पूरी ईमानदारी के साथ, देशवासियों के बेहतर भविष्य के लिए, देश में उपलब्ध हर संसाधन का उपयोग करने का प्रयास कर रहे हैं। हम देश को Politics of Promises के बजाय Politics of Performance की तरफ ले जा रहे हैं।

चुनाव है तो नई रेल लाइन का ऐलान कर दो, चुनाव है तो नए हाईवे का ऐलान कर दो, चुनाव है तो कर्जमाफी का सपना दिखा दो, चुनाव है तो गरीबी हटाओ का नारा उछाल दो।ये देश बहुत देख चुका है।

साथियों,

पहले की सरकारों के समय हमारे यहां सैकड़ों ऐसी नई ट्रेनों का ऐलान किया गया और parliament में बोली गई हर बात sanctity होती है। parliament में बोला गया और तालियां, टेबल थपथपाए गए और सब एमपी ने भी अपने इलाके में जाकर ये घोषणा कर दी कि हमारे इलाके में ट्रेन आने वाली है और आप हैरान होंगे बहुत सारा ऐलान किया गया बहुत ट्रेनों का ऐलान किया गया लेकिन एक भी ट्रेन शुरू नहीं हुईं। और मैं 30-40 साल का हिसाब दे रहा हूं मैंने आकर के कुछ तो ऐसी घोषणाएं देखी जो 30 साल 40 साल पहले हुई है लेकिन कागज़ पर वो रेल लाइन की पटरी कहां होगी ये कागज़ पर भी पेंट किया हुआ नही है। जमीन की बात छोड़ों, आप हैरान होंगे आज मुझे 30-30, 40-40 साल पुराने लाखों करोड़ के रेलवे और हाईवे प्रोजेक्ट्स को पूरा करने के लिए मशक्कत करनी पड़ रही है। उस समय जो किया गया, क्या वो Better Tomorrow के बारे में सोचकर किया गया? नहीं।

कोई सरकार हो, केंद्र की या राज्य की, उस पर ये दबाव होना चाहिए कि उसे Perform करना ही पड़ेगा।

मैं जानता हूं कि ये दबाव हमने खुद आगे बढ़कर अपने ऊपर लिया है, आज मीडिया में जितने विषयों पर हमारी आलोचना होती है वो सारे विषय हमने सेट किए हुए हैं हमने कहा है कि हम ये करना चाहते हैं तो कोई हमें पूछेगा कि बताओं ये क्यों नही हुआ और ये अच्छी बात ये दबाव जरूरी है एक नए culture को हमने promote किया है। लेकिन इसी ने और मैं मानता हूं result देने का रास्ता यही है। दबाव बढ़ेगा लोगों की अपेक्षाएं बढ़ेंगी और लोगों का Better Tomorrow सुनिश्चित करने में उनकी भागीदारी भी बढ़ेगी।

साथियों,

देश के Better Future की चिंता थी, इसलिए ही हमनें देश में स्वच्छ भारत अभियान शुरू किया और अब उतनी ही शक्ति से हम जल जीवन मिशन की शुरुआत कर रहे हैं । अब ये ऐसी चीजें है कि पिछले 50 सालों में नही हुआ तो किसी ने पूछा नही कि क्यो नहीं हुआ लेकिन अब मैने कहा है तो अब मुझ से हर दिन पूछा जाएगा कि कहां तक किया। लेकिन क्या ये करना जरूरी था या नहीं था। मैं भी टाल सकता था मैं भी बचके निकल सकता था वो रास्ता मुझे मंजूर नहीं है।

आने वाले वर्षों में करीब-करीब 15 करोड़ घरों को पानी की सप्लाई से जोड़ने के लिए हम काम कर रहे हैं।

इसी तरह आज भारत पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी बनाने के लिए जुटा हुआ है।

ये लक्ष्य अर्थव्यवस्था के साथ-साथ 130 करोड़ भारतीयों की औसत आय, उनकी Ease of Living और उनके Better Tomorrow से जुड़ा हुआ है।

इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए हमारी सरकार Enabler, Facilitator और Promoter की भूमिका पूरी ताकत से निभा रही है।हम Reform and Performके इरादे के साथ आगे बढ़ रहे हैं।

देश के Physical और Financial Infrastructure में सुधार करने से लेकरGlobal Platform पर Indian Industry को बढ़ावा देने तक, डेढ़ हजार से ज्यादा पुराने कानूनों की समाप्ति से लेकर, Rules और Procedures के Simplification तक,

हम हर दिशा में एक साथ काम कर रहे हैं।

साथियों,

विकास की गति बढ़ाने के लिए अक्सर चार चीजों की चर्चा होती है।

टैक्स रेट में कमी,

Ease of Doing Business में सुधार,

Labour Reforms और Disinvestment.

इन सभी पहलुओं पर सरकार ने जो कदम उठाए हैं, वो बेहतर भविष्य की उम्मीद जगाने वाले हैं।

इसी साल Personal Tax को लेकर हमने बड़ा फैसला लिया और 5 लाख रुपए तक की इनकम को टैक्स फ्री कर दिया।

इससे हर महीने 40 हज़ार रुपए से अधिक तक की आय वाले एक बहुत बड़े वर्ग को सीधा लाभ हुआ है, जबकि सेविंग्स के लिहाज़ से 70 हज़ार रुपए तक Monthly Income वाले को भी बहुत बड़ी राहत मिली है।

यहां से हो रही बचत निश्चित रूप से इन परिवारों के Better Tomorrow में मदद करने वाली है।

इसी तरह Corporate Tax में की गई ऐतिहासिक कटौती से भारत दुनिया की सबसे कम टैक्स दरों वाली अर्थव्यवस्था तो बना ही है, Investment और Manufacturing को प्रमोट करने के लिए भी हमारी स्थिति मजबूत हुई है।

टैक्स सिस्टम को सुधारने के लिए, Businessmen और Citizens के साथ Harassment की हर संभावना को समाप्त करने के लिए, हाल में E-Assessment Scheme लागू की गई है।

अब किस अधिकारी के पास आपकी फाइल जाएगी ये न आपको पता होगा और न अधिकारी को पता होगा कि ये फाइल किसकी है।

इतना ही नहीं, क्योंकि अफसर को ये पता ही नहीं होगा कि उसे किसका Assessment करना है, इसलिए ट्रांसफर पोस्टिंग को लेकर जो गुणा-गणित होता था, वो भी बंद हो जाएगा।

यानि कुल मिलाकर होगा ये कि Tax Assessment के बीच में जो खेल होते थे, इन खेलों के बहाने आम लोगों को जो दिक्कतें आती थीं, वो अब खत्म हो जाएगी।

Ease of Doing Business में हम इस वर्ष भी टॉप-10 Best Performers में से एक हैं। बीते 5 वर्षों में हमने 79 रैंक का सुधार किया है। मुझे बराबर याद है पिछली बार जब Ease of Doing Business के रैंक आए तो world bank के चेयरमैन ने मुझे specially फोन किया कि रैंकिंग तो आते है मेरे लिए खुशी की बात है कि इतना बड़ा देश वो भी developing country और वें इतना बड़ा सुधार करें और लगातार करता रहे world bank के पास ऐसी कोई history available नही है जो पहली बार इंडिया ने किया है उन्होने फोन करके बताया।

जहां तक लेबर रिफॉर्म की बात है तो दशकों पुराने दर्जनों कानूनों को 4 कानूनों में Codify किया जा रहा है, जिससे Employee और Employer दोनों को बहुत लाभ होने वाला है।

Disinvestment की बात करूं तो हाल में लिए गए फैसलों से स्पष्ट है कि उस दिशा में भी हम तेजी से आगे बढ़ रहे हैं।

भाइयों और बहनों,

तीन-चार दशक पहले जब देश में बैंकों का राष्ट्रीयकरण हुआ तो खूब ढोल-नगाड़े बजवाए गए थे कि बहुत बड़ा सुधार हुआ है।

फिर समय के साथ ये पाया गया कि इतने सारे बैंकों की व्यवस्था की भी अपनी खामियां हैं।

आप लोगों के यहां ही एडिटोरियल लिखे जाते थे, इकोनॉमी के जानकार मांग करते थे कि देश में बैंक कम होने चाहिए, तभी हमारी बैंकिंग प्रभावी होगी।

हमने बैंकों का मर्जर करने के साथ ही, उनके Recapitalisation के लिए ढाई लाख करोड़ रुपए की राशि भी दी है।

Insolvency and Bankruptcy Code- IBC ने करीब-करीब 3 लाख करोड़ रुपए की वापसी सुनिश्चित की है।

इस तरह के बहुत से Reforms के बाद, बहुत से बड़े फैसलों के बाद आज देश का बैंकिंग सेक्टर पहले से काफी मजबूत स्थिति में हैं।

मैं आज फिर आपके माध्यम से, देश के प्रत्येक बैंक कर्मचारी को ये भरोसा देना चाहता हूं कि पुरानी स्थितियों से हम बाहर निकल आए हैं। अब आपके Genuine Business Decisions पर सवाल नहीं उठाए जाएंगे।

किसी भी तरह की कार्रवाई से पहले किसी Serving Finance और Banking Expert से Scrutiny कराने से जुड़े दिशा-निर्देश भी जल्द ही जारी किए जा रहे हैं। आज जो बैंकिंग सेक्टर पर दबाव है, तनाव है, उससे मुक्ति दिलाना ये भी तो सरकार का काम है और हम करेंगे, अगर बैंक में बैठा हुआ व्यक्ति decisions लेने में डरता है तो उसको चिंता रहती है तो वो निर्णय नही कर पाएगा और सरकार उसको असहाय नहीं छोड़ सकती उसकी सुरक्षा करने के लिए सरकार पूरी जिम्मेदारी लेती है। और तभी तो देश आगे बढ़ता है। और मैं ऐसा हूं मैं जिम्मेदारियों से भागने वाला इंसान नहीं हूं। मैं जिम्मेदारियां खुद लेता हूं।

भाइयों और बहनों,

आज यहां इस हॉल में बहुत से लोग हैं जो दिल्ली-एनसीआर में रहते हैं। ब्लैकमनी के अंधाधुंध प्रवाह ने Real Estate Sector की क्या हालत की थी, आप सभी को पता है। आज भी सैकड़ों-हजारों लोग ऐसे हैं जो बरसों से EMI दे रहे हैं, किराए के घर में रह रहे हैं और अपने सपने के घर का इंतजार कर रहे हैं।

Real Estate Sector को इस स्थिति से निकालने के लिए, अधूरे और अटके हुए प्रोजेक्ट्स को पूरा करने के लिए सरकार ने हाल में एक Special Window भी बनाई है। इसके तहत 25 हजार करोड़ रुपए जुटाए जा रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि मध्यम वर्ग के एक बड़े हिस्से का, अपने घर का सपना पूरा होगा।

इसके अलावा सरकार अपनी योजनाओं के तहत जो 2 करोड़ घर बनवाने जा रही है, GST में छूट, ब्याज में छूट जैसे फैसलों से भी इस सेक्टर को बहुत मदद मिलने वाली है।

भाइयों और बहनों,

Better Tomorrow का हमारे सपने में एक चीज और बहुत अहम रही है। ये है भारत में World Class Infrastructure. आने वाले कुछ वर्षों में इस सपने को पूरा करने के लिए सरकार 100 लाख करोड़ रुपए की परियोजनाएं शुरू करने जा रही है।

इसके साथ ही, हमारा प्रयास Infrastructure के क्षेत्र में Private Investment को भी बढ़ाने पर है। सरकार इस बात भी नजर रखे हुए है कि Infrastructure और Industry को Credit Flow में किसी तरह की दिक्कत न आए।

साथियों,

आज सरकार रेल कनेक्टिविटी पर, रोड कनेक्टिविटी पर, एयर कनेक्टिविटी पर जितना निवेश कर रही है, उतना पहले कभी नहीं किया।

इसके पर्यावरण पर, Ease Of Living पर प्रभावों से आप परिचित हैं।

लेकिन एक और सेक्टर पर कनेक्टिविटी सुधारने का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ा है।

ये सेक्टर है- टूरिज्म।

साथियों,

सरकार के प्रयासों का ही नतीजा है कि आज भारत World Economic Forum के Travel and Tourism Competitiveness Index में 34वें स्थान पर है। जबकि साल 2009 से 2013 के बीच के वर्षों में हम 62 से 65वें स्थान के बीच थे।

और मैं आपको ये भी याद दिला दूं, टूरिज्म बढ़ने का सबसे ज्यादा गरीब को फायदा होता है, गरीब से गरीब को रोजगार मिलता है कम से कम पूंजी निवेश से ज्यादा से ज्यादा रोजगार मिलता है। जब टूरिज्म बढ़ता है, विदेशी पर्यटक आते हैं, तो यहां खर्च भी करते हैं। साल 2014 में भारत के लोगों को टूरिज्म सेक्टर से विदेशी मुद्रा में 1 लाख 20 हजार करोड़ रुपए की कमाई हुई थी। वहीं पिछले साल ये विदेशी मुद्रा बढ़कर करीब-करीब 2 लाख करोड़ रुपए पहुंच गई है।

आखिर ये कमाई किसकी हुई। भारत की होटल इंडस्ट्री से जुड़े लोगों की, टूरिस्ट गाइड्स की, टैक्सी वालों की, छोटे-छोटे ढाबे वालों की। हैंडीक्राफ्ट बेचने वालों की

भाइयों और बहनों,

देश के Better Future के लिए, आज समय की मांग है कि सरकार Core Areas of Governance पर काम करे।

लोगों के जीवन में सरकार का दखल जितना कम होगा, और सुशासन जितना ज्यादा होगा, उतना ही तेजी से देश आगे बढ़ेगा। ये मेरा conviction है कि गरीब के लिए सरकार का अभाव नही होना चाहिए और नागरिक के जीवन में सरकार का दबाव नही होना चाहिए। सरकार जितनी ज्यादा लोगों की ज़िंदगी से निकल जाए उतना ही अच्छा रहेगा।

इसके लिए बहुत आवश्यक है कि सरकार खुद अपने Human Resources पर भी ध्यान दे।

साथियों,

हमने 21वीं सदी में एक ऐसे Governance Model के साथ एंट्री ली जो 19वीं और 20वीं सदी की सोच और अप्रोच से चलता था।

इस System के अहम टूल यानि हमारे अधिकारी, हमारे कर्मचारी पुरानी धारणाओं, पुराने तौर-तरीकों के आदी हो चुके थे और वही Legacy वो आगे पास करते थे।

19वीं-20वीं सदी की मानसिकता वाले Governance Model के साथ 21वीं सदी के भारत की Aspirations को पूरा करना बहुत मुश्किल था।

इसलिए बीते 5 वर्षों में हमने इस सिस्टम को और सरकार के Human Resource को ट्रांसफॉर्म करने का एक गंभीर प्रयास किया।

मैंने कभी इस बारे में सार्वजनिक मंच से विस्तार से बात नहीं की है।

लेकिन Better Tomorrow का ये बहुत Important Aspect है, इसलिए आज इस बारे में भी कुछ बातें Share करना चाहता हूं।

साथियों,

हमने सरकार में Employment के नियम बदले हैं, Appointment के नियम बदले हैं। बड़े पदों पर नियुक्तियों के लिए सिफारिश, अब बीते दिनों की बात हो गई है। बैंकों के पारदर्शी नियुक्तियों के लिए हमने बैंकिंग बोर्ड की भी शुरुआत की है।

साथियों,

देश के जो Top Decision Makers हैं, Policy Makers हैं, उनके साथ Governance को लेकर हम लगातार Brain Storming Sessions कर रहे हैं औऱ इस व्यवस्था को सिस्टम का हिस्सा बना रहे हैं।

मैं खुद अलग-अलग सेक्टर्स के Brain Storming Sessions में जाता हूं, चाहे वो रेलवे हो, बैंकिंग हो या फिर नीति आयोग के तमाम लेक्चर्स।

हम पुरानी और औपचारिक व्यवस्थाओं को Outcome Based बना रहे हैं। जहां जरूरत है, वहां विदेशी औऱ इंडस्ट्री के एक्सपर्टस को बुलाकर हम ब्यूरोक्रेसी को ट्रेन करवा करे हैं।

अब जैसे कल-परसों पुणे जा रहा हूं वहां ही जो DGP कॉन्फ्रेंस होने जा रही है, इस DGP कॉन्फ्रेंस की परंपरा करीब-करीब 120 साल से चल रही है लेकिन उसमें 115 साल ये मीटिंग दिल्ली में ही हुई है और सुबह शुरू होती थी और लंच के बाद पूरी हो जाती थी यानि करीब 115 साल की legacy मैने उसको पूरा बदल दिया है अब दिल्ली के बाहर करता हूं तीन दिन सभी पुलिस विभाग के लोग इकट्ठा आते हैं बारिकी से चर्चा करते हैं नए-नए समस्याओं, नए-नए संकटों की चर्चा करते हैं अपनी best practices को share करते हैं, नए initiatives की चर्चा करते हैं और सब मिलकर ही एक एजेंडा तय करते है कि अब पुलिसिंग में कैसे आगे बढ़ना है। थोपा नही जा रहा है तीन दिन तक लगातार पुणे में बैठकर के ये काम अभी करेंगे। हर साल किसी ना किसी स्थान पर जाकर के इस काम को करते हैं।

यानि Result Oriented Approach लेकर वे वहां से निकलें। time bound काम की जिम्मेदारी लेकर चलें उस दिशा में काम हो रहा है। आज ये भी सही है कि law & order स्टेट का subject होने के बाद भी ये subject बहुत interconnected है। एक राज्य की इस प्रकार की टोली के विषय में दूसरा राज्य नहीं जानता है तो कभी ना कभी संकट आ सकता है। तो इस प्रकार से एक law & order state subject होने के बाद भी जानकारियों की दृष्टि से, संपर्क की दृष्टि से states की interconnected व्यवस्थाएं बहुत आवश्यक हो गई हैं। हम इसमें बदलाव ला रहे हैं।

साथियों,

एक और पहल हमने की है सिविल सर्वेंट्स को लेकर। नियुक्ति के शुरुआती दिनों में ही उन्हें इस बात का अनुभव दिया जा रहा है कि पॉलिसी लेवल पर कैसे काम किया जाता है, फ्लैगशिप स्कीम्स को कैसे फॉलो किया जाता है।

पहले उन्हें ऐसा अनुभव ही नहीं मिलता था। कई आईएएस-आईपीएस अफसर ऐसे हैं कि उनको job मिलने के बाद अपने स्टेट कैडर में चले गए उनको कभी दिल्ली आने का सौभाग्य नहीं मिला, इतना बड़ा देश कैसे काम करता है कभी सौभाग्य ही नहीं मिला वो रिटायर भी हो गए। हमने अब शुरू के कालखंड में ही मसूरी से निकलते है तो 3 महीनें भारत सरकार के भिन्न-भिन्न व्यवस्थाओं में जोड़ना शुरू किया है। ताकि वो यहां एक विजन लेकर के जाएं, के हां देश के सामने ये चुनौतियां होती हैं तो मैं जहां ग्रासरूट लेवल पर काम करूंगा तो भी मैं देश की इन बातों को ध्यान में रखकर के निर्णय प्रक्रियाओं को चलाउंगा। ताकि देश और लोकल की स्थितियों में contradiction पैदा ना हो और उस एक सफल प्रयोग हुआ है और एक दूसरा लाभ हुआ है कि यहां पर ज्यादातर वो लोग होते हैं जो retirement की date लिखकर के बैठें होते हैं। main team वही होती है वो सोचते है कि अब 11 महीनें बाकी रहे 9 महीनें बाकी रहे, 6 महीनें बाकी रहे ऐसे में ये जिसका 35 साल भविष्य बाकी है ऐसे नए ऊर्जावान नौजवान उनके साथ जुड़ जाते हैं तो automatic ऊर्जा मिलना उनकों भी शुरू हो जाता है। बदलाव शुरू हो जाता है। इतना ही नही इस वर्ष हमने एक और शुरूआत की है। इस बार देश में 20 से ज्यादा सिविल सेवाओं के Trainees का साझा Foundation programme हमने किया।

अभी तक बहुत बड़ी शिकायत ये रहती थी और मैने एक बार लाल किले पर से नया जब आया तो मैने पहले ही साइलॉस की चर्चा की थी। पहला मेरा जो लाल किले का भाषण था अब मैं वो बीमारी तो बता दी गई solve करना तो पड़ेगा और मुझे ही करना पड़ेगा और हमने उसी को समस्या का समाधान के लिए जो Services Isolation में काम करती हैं। उसमें बदलाव लाने के लिए एक प्रकार से joint foundation course की दिशा में हम आगे बढ़ रहे हैं। अलग-अलग सर्विसेस जैसे रेवेन्यू, फोरेस्ट, रेलवेज, अकाउंट एंड ऑडिट उनके अफसरों को इन दिनों हमने बहुत जिम्मेदारी पूर्वक काम दिये हैं महत्वपूर्ण ज्वाइंट सेकेट्री लेवल की पोस्ट भी दी है ताकि पॉलिसी मेकिंग में सभी सर्विसेस का Integration हो सके।

और हां,

इन सबके बीच हमने 220 से ज्यादा सरकारी अफसरों को भ्रष्टाचार के आरोप में, काम सही तरीके से न कर पाने के आरोप में Pre-Mature Retirement भी दिया है।

साथियों,

Privilege के बजाय हम Professionalism को Promote करने पर बल दे रहे हैं।

Lateral Entry, आपमें से बहुत लोग है जो इस बात को मानते है कि कोई आईएएस हो गया तो सारी दुनिया वही जानता है ये सोच ठीक नही है। समाज में बहुत प्रतिभावान लोग होते है। इतनाम बड़ा देश चलाने के लिए वो भी contribute करना चाहते हैं उनको अवसर मिलना चाहिए और उनको अवसर देने के लिए हमने एक mechanism विषय develop किया है वो भी organized way में सरकार के विम पर नही यूपीएससी की process से और देश से मैने देखा है एक-एक दो-दो करोड़ के पैकेज से काम करने वाले नौजवान सामान्य तनख्वा लेकर के दो साल तीन साल देश को देने के लिए सरकार व्यवस्था में आने के लिए तैयार हो रहे हैं कुछ हमने शुरूआत की है और उनके पास corporate world का अनुभव है governance और government के साथ जुड़ने के कारण वो ज्यादा evaluation कर पा रहे हैं। मैं समझता हूं कि आने वाले दिनों में एक अधिक अच्छे out-come के लिए ये जो हम कोशिश कर रहे हैं वो सुखद परिणाम लाएगी। और देश का बेहतरीन टैलेंट, भले ही वो सिविल सेवाओं की तय प्रक्रियाओं का हिस्सा नहीं है, वो देश के दूसरे बेस्ट संस्थानों की Values को Introduce कर सके, ये कोशिश की जा रही है।

अब Deadline को सरकारी सिस्टम में भी Sacrosanct माना जाने लगा है। मैं ये नहीं कहता कि पूरे देश में ये व्यवस्था बन चुकी है। लेकिन बहुत सारे विभागों में इस बदलाव को आप अनुभव कर सकते हैं।

Governance के Infrastructure में किया जा रहा ये सुधार सिर्फ 5 या 10 वर्ष के लिए नहीं है। ये सिर्फ हमारी सरकार तक सीमित नहीं है। बल्कि इसका लाभ आने वाले दशकों तक देश को मिलने वाला है।

यही सोच और अप्रोच हमारी रही है।

हम सिर्फ 5 या 10 वर्षों के कार्यकाल के लिए काम नहीं कर रहे हैं बल्कि Better Tomorrow के लिए New India के लिए Permanent और Performance Oriented व्यवस्था बनाने का प्रयास कर रहे हैं।

130 करोड़ भारतीयों के Better Future के लिए Right Intention, Better Technology और Effective Implementation, यही हमारा Roadmap है।

मुझे उम्मीद है कि इस समिट में जो संवाद होगा, उसमें भारत के हितों से जुड़ी जितनी बातें सामने उभरकर आएंगी, वो भी Better Tomorrow की गारंटी लेकर आएंगी।

आप सभी को सार्थक चर्चा के लिए बहुत-बहुत शुभकामनाओं के साथ, बहुत-बहुत धन्यवाद !