मैं जानता हूं कि हम सभी किस गहरी वेदना से गुजर रहे हैं, पुलवामा में जो हुआ, उसको लेकर आपके आक्रोश को मैं समझ रहा हूं, जिन परिवारों ने अपने लाल को खोया है, उनकी पीड़ा मैं अनुभव कर सकता हूं: प्रधानमंत्री मोदी
ज़मीन हो, जंगल की पैदावार हो, पढ़ाई लिखाई हो, खेल से जुड़ी प्रतिभा हो, हर स्तर पर आदिवासियों के कल्याण के लिए व्यापक प्रयास हो रहे हैं: पीएम मोदी
केंद्र सरकार ने 2022 तक हर बेघर को पक्का घर देने का लक्ष्य रखा है और सरकार तेज़ी से अपने लक्ष्य की तरफ बढ़ रही है: प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र के धुले का दौरा किया । उन्होंने राज्य में अनेक परियोजनाओं का अनावरण किया । इस अवसर पर महाराष्ट्र के राज्यपाल श्री सी विद्यासागर राव, केंद्रीय मंत्री श्री नितिन गडकरी, केंद्रीय रक्षा राज्यमंत्री डॉक्टर सुभाष भामरे एवं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री देवेंद्र फड़नवीस भी उपस्थित थे ।

पुलवामा में अपने प्राणों की आहुति देने वाले शूरवीरों की प्रशंसा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि देश शोक एवं दुख के इस अवसर पर उनके साथ खड़ा है । आतंकवादी हमले के गुनाहगारों को कड़ा संदेश देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि यह भारत की नीति है कि वह किसी अन्य के मामलों में छेड़छाड़ नहीं करता । यद्यपि यदि कोई भारत के मामलों से छेड़छाड़ करे तो वह उनको छोड़ता भी नहीं । “मैं न सिर्फ भारत के वीर सपूतों को नमन करता हूं, बल्कि उनकी माताओं को भी नमन करता हूं जिन्होंने ऐसे वीर सपूतों को जन्म दिया । पुलवामा के गुनाहगारों को न्याय के अंजाम तक पहुंचाया जाएगा एवं विश्व यह देखेगा कि भारत एक नया भारत है और नये दृष्टिकोण वाला भारत है एवं हर आंसू का प्रतिशोध लिया जाएगा ।”

प्रधानमंत्री ने प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (पीएमकेएसवाई) के अंतर्गत लोअर पंजारा मध्यम परियोजना का शुभारंभ भी किया । यह परियोजना धुले एवं आसपास के क्षेत्रों के 21 गांवों के लगभग 7585 हेक्टेयर क्षेत्रफल की सिंचाई करेगी, यथा पानी की कमी वाले क्षेत्र में जीवनदायिनी का कार्य करेगी । उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री सिंचाई योजना धुले समेत महाराष्ट्र एवं देश के अन्य हिस्सों में सिंचाई की स्थिति की बेहतरी करने के लिये शुरू की गई है । उन्होंने आगे कहा, “पिछले चार वर्षों में 99 सिंचाई परियोजनाओं के कार्य में गति लाकर उनको पूरा किया गया है । इनमें से 26 ऐसी परियोजनाएं महाराष्ट्र से ही संबंधित हैं, इनमें से पंजारा एक परियोजना है । इस परियोजना की शुरुआत पच्चीस वर्ष पूर्व केवल 21 करोड़ रुपये में की गई थी किंतु अब यब 500 करोड़ रुपये की लागत से पूरा हो चुका है । यह महाराष्ट्र के सुदूरवर्ती क्षेत्रों तक जल पहुंचाने के हमारे प्रयासों का परिणाम है ।”

प्रधानमंत्री ने जलगांव-उधना रेलमार्ग के दोहरीकरण एवं विद्युतीकरण की परियोजना भी देश के नाम समर्पित की । माल एवं लोगों का गमन सुसाध्य बनाने के लिये पिछले चार वर्षों के दौरान 2400 करोड़ रुपये की परियोजना के कार्य में गति लाई गई । देश के उत्तर एवं दक्षिण भागों को जोड़ने वाली रेल लाइन से आसपास के क्षेत्रों की अभूतपूर्व प्रगति होगी ।

प्रधानमंत्री श्री नरेद्र मोदी ने वीडियो-लिंक के माध्यम से भुसावल-बांद्रा खंडेश एक्सप्रेस ट्रेन को हरी झंडी दिखाई । यह ट्रेन मुंबई से भुसावल के बीच सीधा रेल सम्पर्क मुहैया कराएगी । प्रधानमंत्री ने नंदूदरबार-उधना मेमू ट्रेन एवं उधना-पालदी मेमू ट्रेन को भी हरी झंडी दिखलाई ।

प्रधानमंत्री ने बटन दबा कर 51 किलोमीटर लंबे धुले-नरदाना रेलमार्ग एवं 107 किलोमीटर लंबे जलगांव-मनमाड़ तीसरे रेलमार्ग का शिलान्यास किया । इन परियोजनाओं से समय एवं यातायात के बेहतर प्रबंधन में सहायता प्राप्त होगी ।

 प्रधानमंत्री ने कहा कि यह परियोजनाएं इस क्षेत्र में रेल सम्पर्क एवं विकास को बढ़ावा देंगी एवं विकास के मामले में धुले शीघ्र ही सूरत से प्रतिस्पर्धा करने लगेगा ।

प्रधानमंत्री ने सुलवाड़े झम्फल कनोली लिफ्ट सिंचाई योजना का अनावरण भी किया । इस परियोजना से तापी नदी से जल की प्राप्ति होगी एवं इससे जुड़े बांधों, जलाशयों एवं नहरों को जल की आपूर्ति होगी, जिससे 100 गांवों के 1 लाख किसानों को लाभ पहुंचेगा ।

प्रधानमंत्री ने धुले शहर के लिये लगभग 500 करोड़ रुपये की प्राक्कलित लागत से अमृत के अंतर्गत जलापूर्ति योजना एवं भूमिगत सीवर परियोजना की आधारशिला रखी । जलापूर्ति योजना पानी की कमी वाले धुले क्षेत्र में जल संबंधी परेशानियों का समापन करेगी ।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार भारत के हर नागरिक का जीवन आसान बनाने के लिये हरसंभव प्रयास कर रही है । उन्होंने कहा कि इतनी छोटी से अवधि में आयुष्मान भारत ने महाराष्ट्र के 70,000 रोगियों, जिनमें से धुले के 1800 हैं, समेत 12 लाख लोगों को लाभान्वित किया है, साथ ही यह निर्धन एवं हाशिए पर धकेले गए लोगों के लिये एक आशा की किरण रही है ।

पूरा भाषण पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
India's industrial production beats estimates; growth seen at 5.9% YoY in May

Media Coverage

India's industrial production beats estimates; growth seen at 5.9% YoY in May
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
कैथोलिक बिशप्स कॉन्फ्रेंस ऑफ इंडिया के एक प्रतिनिधिमंडल ने पीएम से मुलाकात की
July 12, 2024

कैथोलिक बिशप्स कॉन्फ्रेंस ऑफ इंडिया के एक प्रतिनिधिमंडल ने आज प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की।

प्रधानमंत्री कार्यालय ने एक्स पर पोस्ट किया:

"कैथोलिक बिशप्स कॉन्फ्रेंस ऑफ इंडिया के एक प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल में मोस्ट रेव. एंड्रयूज थैजाथ, रिटा. रेव. जोसेफ मार थॉमस, मोस्ट रेव. डॉ. अनिल जोसेफ थॉमस कॉउटो और रेव. फादर साजिमोन जोसेफ कोयिकल शामिल थे।"