શેર
 
Comments
“Dedicating this project on Ekta Diwas makes it more special”
“Due to double-engine government ‘Gati’ as well as ‘Shakti’ of development is increasing”
“Improvement in the condition of railway stations across the country is clearly visible today”
“Poor and middle class are getting the ambience that was once accessible only to the well-to-do”
​​​​​​​“Unbalanced development has been a big challenge in our country. Our government is working to solve this”

My Cabinet colleagues Shri Ashwini Vaishnaw ji, Darshanaben Jardosh, Ministers of Gujarat; MPs and MLAs; and my dear brothers and sisters who have gathered here in large numbers!

Today is a big day for Gujarat’s development and its connectivity. Lakhs of people of Gujarat who were facing difficulties due to non-availability of broad gauge lines in a substantial area, are going to get a lot of relief from today. A short while back, I got the opportunity to flag off the Asarwa-Udaipur train at Asarwa railway station. Trains running on the broad gauge from Lunidhar to Jetalsar have also been flagged off today.

Friends,

Today’s event is not only about two railway projects. The people outside Gujarat cannot easily guess how crucial these projects are that have been successfully accomplished. Decades have passed while waiting for the completion of this work. But I was fortunate to have got the opportunity to complete this work.

Friends,

A railway line without broad gauge is like a lonely island, which has no connection with anyone. It is like a computer without internet, a TV without cable or a mobile without network. Trains running on this route could not go to other states of the country, nor could trains from other states come here. Now from today this entire route has been revamped. Now the meter gauge line from Asarwa to Udaipur via Himmatnagar has been converted into broad gauge. And today in this event, people from both Gujarat as well as Rajasthan have joined us in large numbers. The gauge conversion work done between Lunidhar and Jetalsar will also improve the railway connectivity in this area. Trains originating from here will be able to go to any part of the country.

Friends,

When the meter gauge line on a route changes to broad gauge, it brings with it many new possibilities. Conversion of the 300 Km railway line from Asarwa to Udaipur to broad gauge, is therefore very crucial. With this rail section turned into broad gauge, tribal areas of Gujarat and Rajasthan will be connected to Delhi and North India. Due to this broad gauge, an alternate route is now available for Ahmedabad and Delhi. Moreover, a direct rail connectivity has also been established between the tourist places of Kutch and Udaipur. This will give an impetus to the tourist places of Kutch, Udaipur, Chittorgarh and Nathdwara. Traders here will also get the benefit of connecting directly to important industrial centers like Delhi, Mumbai and Ahmedabad.The tiles industry of Himatnagar in particular is going to get a lot of benefit. Similarly, with the conversion of the Lunidhar-Jetalsar rail line to broad gauge, the Dhasa-Jetalsar section is now fully converted into broad gauge. This rail line passes through Botad, Amreli and Rajkot districts, which till now have had limited rail connectivity. With the completion of this line, people of Bhavnagar and Amreli will have direct connectivity to Somnath and Porbandar.

And friends, this will have another advantage. The distance between Bhavnagar and cities like Rajkot, Porbandar and Veraval in Saurashtra region has also been reduced by this route. At present the distance between Bhavnagar and Veraval is about 470 kms, which takes 12 hours to commute. After the completion of this broad gauge and the opening of the new route, it has now come down to less than 290 km. Due to this the travel time will also be reduced from 12 hours to six and a half hours.

Friends,

After the opening of the new route, the distance between Bhavnagar-Porbandar has come down by about 200 kms and the distance between Bhavnagar-Rajkot by about 30 kms. This rail route is now an alternate route between the busy Surendranagar-Rajkot-Somnath-Porbandar route. The trains running on the broad gauge route will accelerate the industrial development of Gujarat, boost the tourism sector in Gujarat and will also connect the areas which were earlier cut off from the country. Dedicating this project today, on National Unity Day, makes it more special.

Friends,

When the double engine government works, its impact is not only double, but manifold. Here, one and one doesn’t make 2 but becomes 11. The development of rail infrastructure in Gujarat is one such example. I will never forget the times before 2014 when I had to repeatedly approach the central government for new rail routes in Gujarat. Gujarat was treated unjustly in relation to the railways as also in other fields. But with the double engine government, not only the pace of work in Gujarat has increased, but also the power to expand it further. Between 2009 and 2014 there was less than 125 km of ‘railway line doubling’ work done in Gujarat while between 2014 and 2022, the ‘railway line doubling’ work done was more than 550 Km in Gujarat. Similarly, only about 60 km of track was electrified in Gujarat between 2009 and 2014 whereas between 2014 and 2022, more than 1700 km of track has been electrified. That is, the government of double engine has worked several times more than the previous governments.

And friends, we haven’t just improved the scale and speed, but have also reformed at various levels like quality, convenience, safety and cleanliness. The improvement in the condition of railway stations across the country is clearly visible today. The poor and middle class are also being given the same environment, which was once accessible only to the well-to-do people. You can see how modern and grand Gandhinagar station is! Now Ahmedabad station is also being developed in a similar way. Apart from this, in future, stations like Surat, Udhna, Sabarmati, Somnath and New Bhuj will also be before you in a modern avatar. Now Vande Bharat Express service has also started between Gandhinagar and Mumbai. With the introduction of the fastest train service in this route, it has become the most important business corridor for the country. This achievement has been possible only because of the double engine government.

Friends,

To give a new dimension to the development of Western Railway, 12 Gati Shakti Cargo Terminals have also been planned. The first Gati Shakti Multimodal Cargo Terminal has been commissioned in Vadodara circle. Soon the rest of the terminals will also be ready to provide their services. Due to the double engine government, both the pace and strength of development are increasing in every field.

Friends,

For decades after independence, the rich-poor gap, the urban-rural gap and the unbalanced development have been major challenges for our country. Our government is also engaged in solving these challenges of the country. Our policy has been very clear for the ‘development of all’, such as emphasizing upon the infrastructure, providing facilities to the middle class and giving the poor means to fight against poverty. This tradition of development has been established in the whole country today. Pucca houses, toilets, electricity, water, gas, free treatment and insurance facilities for the poor are the symbols of good governance today. Today, infrastructures like metro connectivity, electric vehicles, solar power, cheap internet, better roads, AIIMS, medical colleges, IITs, are providing new opportunities to the countrymen. We are trying to ensure that the lives of ordinary families are easier and commuting and carrying out business and trade are also easy.

Brothers & Sisters,

There has now been a drastic change in the approach to the development of connectivity infrastructure in the country. Now the work of connectivity is not being done in silos; like a road is built at one place, the rail track is laid in another while the airport is built in a third place. Instead a holistic system of connectivity is being developed. That is, it is being ensured that different modes of transport are also connected to each other. Here in Ahmedabad itself, the facilities of rail, metro and buses are being connected to each other. Similar work is being done in other cities as well. We are trying to ensure that be it passenger travel or freight movement, there should be seamless connectivity in every way so that different modes of transport are easily accessible. This will save time as well as save money.

Friends,

Gujarat is a major industrial hub. Logistics cost was a huge issue here. As a result, not only the businesses faced problems, but the price of the goods also increased. Therefore, today be it railways, highways, airports or ports, improving the connectivity is being emphasized. When the ports of Gujarat are empowered, it directly impacts the economy of the whole country. We have also experienced this in the last 8 years. During this period, the capacity of Gujarat’s ports has almost doubled. Now the ports of Gujarat are being connected with other parts of the country through the Western Dedicated Freight Corridor. A large part of it has already been completed. The special tracks being laid for goods trains will also expand industries in Gujarat. Opportunities will be created for new sectors. Similarly, a network of good roads is being laid along the entire coastline under the Sagarmala scheme.

Friends,

Development is a continuous process. Development goals are like the top of a mountain. As soon as you reach one peak, another peak starts appearing higher than the previous one. Then there are efforts to reach it. Development is one such process. Gujarat has scaled many peaks of development in the last 20 years. But in the coming 25 years, we have a huge goal for a developed Gujarat in front of us. Just like we have achieved success together in the last two decades, in the same way every Gujarati has to participate in the development journey in this ‘Amritkaal’. Our motto is ‘to build a developed Gujarat for a developed India’. And we all know that once a Gujarati decides to do something, he makes sure to accomplish it. Today is the birth anniversary of Sardar Patel. It is a proud moment for the country. Today we are reaping the benefits of what this great personality had done to unite India. Sardar Vallabhbhai Patel was the first Home Minister of the country. He had worked to unite the country. Every Indian is proud of Sardar Patel, isn’t it? Did Sardar Vallabhbhai Patel belong to BJP? He was not from BJP. Sardar Vallabhbhai Patel was a great leader of Congress. Today, on his birthday, I saw two newspapers. Congress Party Rajasthan has published full page advertisements in Gujarati newspapers. These advertisements have been published by the Congress government. But in that advertisement today, on the birth anniversary of Sardar Vallabhbhai Patel, there is neither the name nor a photo of Sardar Patel. There was not even any homage paid to him. Such a grave insult to him, that too on the soil of Gujarat! How can the Congress which is unable to associate Sardar Patel with it, will associate itself with the countrymen? This is an insult to Sardar Sahib as well as to the country. He was not from BJP. He belonged to Congress. But he lived for the country and contributed immensely to the country. Today we are proud of constructing the world’s largest statue. But they are not even ready to mention his name.

Brothers Sisters,

Gujarat or the country can never forgive such an attitude.

Friends,

This railway also connects different parts of the country. Work goes on relentlessly to speed up the process of connecting north to south and east to west at a fast pace. Today you are also getting the benefit of the same. My best wishes to you!

Thanks a lot!

 

 

Explore More
પ્રધાનમંત્રીએ 76મા સ્વતંત્રતા દિવસના પ્રસંગે લાલ કિલ્લાની પ્રાચીર પરથી દેશને કરેલાં સંબોધનનો મૂળપાઠ

લોકપ્રિય ભાષણો

પ્રધાનમંત્રીએ 76મા સ્વતંત્રતા દિવસના પ્રસંગે લાલ કિલ્લાની પ્રાચીર પરથી દેશને કરેલાં સંબોધનનો મૂળપાઠ
‘Never thought I’ll watch Republic Day parade in person’

Media Coverage

‘Never thought I’ll watch Republic Day parade in person’
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of PM's speech at NCC Rally at the Cariappa Parade Ground in Delhi
January 28, 2023
શેર
 
Comments
“You represent ‘Amrit Generation’ that will create a Viksit and Aatmnirbhar Bharat”
“When dreams turn into resolution and a life is dedicated to it, success is assured. This is the time of new opportunities for the youth of India”
“India’s time has arrived”
“Yuva Shakti is the driving force of India's development journey”
“When the country is brimming with the energy and enthusiasm of the youth, the priorities of that country will always be its young people”
“This a time of great possibilities especially for the daughters of the country in the defence forces and agencies”

केंद्रीय मंत्रिमंडल के मेरे सहयोगी श्रीमान राजनाथ सिंह जी, श्री अजय भट्ट जी, सीडीएस अनिल चौहान जी, तीनों सेनाओं के प्रमुख, रक्षा सचिव, डीजी एनसीसी और आज विशाल संख्या में पधारे हुए सभी अतिथिगण और मेरे प्यारे युवा साथियों!

आजादी के 75 वर्ष के इस पड़ाव में एनसीसी भी अपनी 75वीं वर्षगांठ मना रहा है। इन वर्षों में जिन लोगों ने एनसीसी का प्रतिनिधित्व किया है, जो इसका हिस्सा रहे हैं, मैं राष्ट्र निर्माण में उनके योगदान की सराहना करता हूं। आज इस समय मेरे सामने जो कैडेट्स हैं, जो इस समय NCC में हैं, वो तो और भी विशेष हैं, स्पेशल हैं। आज जिस प्रकार से कार्यक्रम की रचना हुई है, सिर्फ समय नहीं बदला है, स्वरूप भी बदला है। पहले की तुलना में दर्शक भी बहुत बड़ी मात्रा में हैं। और कार्यक्रम की रचना भी विविधताओं से भरी हुई लेकिन ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ के मूल मंत्र को गूंजता हुआ हिन्दुस्तान के कोने-कोने में ले जाने वाला ये समारोह हमेशा-हमेशा याद रहेगा। और इसलिए मैं एनसीसी की पूरी टीम को उनके सभी अधिकारी और व्यवस्थापक सबको हृदय से बहुत-बहुत बधाई देता हूं। आप एनसीसी कैडेट्स के रूप में भी और देश की युवा पीढ़ी के रूप में भी, एक अमृत पीढ़ी का प्रतिनिधित्व करते हैं। ये अमृत पीढ़ी, आने वाले 25 वर्षों में देश को एक नई ऊंचाई पर ले जाएगी, भारत को आत्मनिर्भर बनाएगी, विकसित बनाएगी।

साथियों,

देश के विकास में NCC की क्या भूमिका है, आप सभी कितना प्रशंसनीय काम कर रहे हैं, ये हमने थोड़ी देर पहले यहां देखा है। आप में से एक साथी ने मुझे यूनिटी फ्लेम सौंपी। आपने हर दिन 50 किलोमीटर की दौड़ लगाते हुए, 60 दिनों में कन्याकुमारी से दिल्ली की ये यात्रा पूरी की है। एकता की इस लौ से ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ की भावना सशक्त हो, इसके लिए बहुत से साथी इस दौड़ में शामिल हुए। आपने वाकई बहुत प्रशंसनीय काम किया है, प्रेरक काम किया है। यहां आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया। भारत की सांस्कृतिक विविधता, आपके कौशल और कर्मठता के इस प्रदर्शन में और इसके लिए भी मैं आपको जितनी बधाई दूं, उतनी कम है।

साथियों,

आपने गणतंत्र दिवस की परेड में भी हिस्सा लिया। इस बार ये परेड इसलिए भी विशेष थी, क्योंकि पहली बार ये कर्तव्य पथ पर हुई थी। और दिल्ली का मौसम तो आजकल ज़रा ज्यादा ही ठंडा रहता है। आप में से अनेक साथियों को शायद इस मौसम की आदत भी नहीं होगी। फिर भी मैं आपको दिल्ली में कुछ जगह ज़रूर घूमने का आग्रह करुंगा, समय निकालेंगे ना। देखिए नेशनल वॉर मेमोरियल, पुलिस मेमोरियल अगर आप नहीं गए हैं, तो आपको जरूर जाना चाहिए। इसी प्रकार लाल किले में नेताजी सुभाष चंद्र बोस म्यूजियम में भी आप अवश्य जाएं। आज़ाद भारत के सभी प्रधानमंत्रियों से परिचय कराता एक आधुनिक PM-म्यूजियम भी बना है। वहां आप बीते 75 वर्षों में देश की विकास यात्रा के बारे में जान-समझ सकते हैं। आपको यहां सरदार वल्लभभाई पटेल का बढ़िया म्यूजियम देखने को मिलेगा, बाबा साहब अंबेडकर का बहुत बढ़िया म्यूजियम देखने को मिलेगा, बहुत कुछ है। हो सकता है, इन जगहों में से आपको कोई ना कोई प्रेरणा मिले, प्रोत्साहन मिले, जिससे आपका जीवन एक निर्धारत लक्ष्य को लेकर के कुछ कर गुजरने के लिए चल पड़े, आगे बढ़ता ही बढ़ता चला जाए।

मेरे युवा साथियों,

किसी भी राष्ट्र को चलाने के लिए जो ऊर्जा सबसे अहम होती है, वो ऊर्जा है युवा। अभी आप उम्र के जिस पड़ाव पर है, वहां एक जोश होता है, जुनून होता है। आपके बहुत सारे सपने होते हैं। और जब सपने संकल्प बन जाएं और संकल्प के लिए जीवन जुट जाए तो जिंदगी भी सफल हो जाती है। और भारत के युवाओं के लिए ये समय नए अवसरों का समय है। हर तरफ एक ही चर्चा है कि भारत का समय आ गया है, India’s time has arrived. आज पूरी दुनिया भारत की तरफ देख रही है। और इसके पीछे सबसे बड़ी वजह आप हैं, भारत के युवा हैं। भारत का युवा आज कितना जागरूक है, इसका एक उदाहरण मैं आज जरूर आपको बताना चाहता हूं। ये आपको पता है कि इस वर्ष भारत दुनिया की 20 सबसे ताकतवर अर्थव्यवस्थाओं के समूह, G-20 की अध्यक्षता कर रहा है। मैं तब हैरान रह गया, जब देशभर के अनेक युवाओं ने मुझे इसको लेकर के चिट्ठियां लिखीं। देश की उपलब्धियों और प्राथमिकताओं को लेकर आप जैसे युवा जिस प्रकार से रुचि ले रहे हैं, ये देखकर सचमुच में बहुत गर्व होता है।

साथियों,

जिस देश के युवा इतने उत्साह और जोश से भरे हुए हों, उस देश की प्राथमिकता सदैव युवा ही होंगे। आज का भारत भी अपने सभी युवा साथियों के लिए वो प्लेटफॉर्म देने का प्रयास कर रहा है, जो आपके सपनों को पूरा करने में मदद कर सके। आज भारत में युवाओं के लिए नए-नए सेक्टर्स खोले जा रहे हैं। भारत की डिजिटल क्रांति हो, भारत की स्टार्ट-अप क्रांति हो, इनोवेशन क्रांति हो, इन सबका सबसे बड़ा लाभ युवाओं को ही तो हो रहा है। आज भारत जिस तरह अपने डिफेंस सेक्टर में लगातार रिफॉर्म्स कर रहा है, उसका लाभ भी देश के युवाओं को हो रहा है। एक समय था, जब हम असॉल्ट राइफल और बुलेट प्रूफ जैकेट तक विदेशों से मंगवाते थे। आज सेना की ज़रूरत के सैकड़ों ऐसे सामान हैं, जो हम भारत में बना रहे हैं। आज हम अपने बॉर्डर इंफ्रास्ट्रक्चर पर भी बहुत तेज़ी से काम कर काम रहे हैं। ये सारे अभियान, भारत के युवाओं के लिए नई संभावनाएं लेकर के आए हैं, अवसर लेकर के आए हैं।

साथियों,

जब हम युवाओं पर भरोसा करते हैं, तब क्या परिणाम आता है, इसका एक उत्तम उदाहरण हमारा स्पेस सेक्टर है। देश ने स्पेस सेक्टर के द्वार युवा टैलेंट के लिए खोल दिए। और देखते ही देखते पहला प्राइवेट सैटेलाइट लॉन्च किया गया। इसी प्रकार एनीमेशन और गेमिंग सेक्टर, प्रतिभाशाली युवाओं के लिए अवसरों का विस्तार लेकर आया है। आपने ड्रोन का उपयोग या तो खुद किया होगा, या फिर किसी दूसरे को करते हुए देखा होगा। अब तो ड्रोन का ये दायरा भी लगातार बढ़ रहा है। एंटरटेनमेंट हो, लॉजिस्टिक हो, खेती-बाड़ी हो, हर जगह ड्रोन टेक्नॉलॉजी आ रही है। आज देश के युवा हर प्रकार का ड्रोन भारत में तैयार करने के लिए आगे आ रहे हैं।

साथियों,

मुझे एहसास है कि आप में से अधिकतर युवा हमारी सेनाओं से, हमारे सुरक्षा बलों से, एजेंसियों से जुड़ने की आकांक्षा रखते हैं। ये निश्चित रूप से आपके लिए, विशेष रूप से हमारी बेटियों के लिए भी बहुत बड़े अवसर का समय है। बीते 8 वर्षों में पुलिस और अर्धसैनिक बलों में बेटियों की संख्या में लगभग दोगुनी वृद्धि हुई है। आज आप देखिए, सेना के तीनों अंगों में अग्रिम मोर्चों पर महिलाओं की तैनाती का रास्ता खुल चुका है। आज महिलाएं भारतीय नौसेना में पहली बार अग्निवीर के रूप में, नाविक के रूप में शामिल हुई हैं। महिलाओं ने सशस्त्र बलों में लड़ाकू भूमिकाओं में भी प्रवेश करना शुरू किया है। NDA पुणे में महिला कैडेट्स के पहले बैच की ट्रेनिंग शुरु हो चुकी है। हमारी सरकार द्वारा सैनिक स्कूलों में बेटियों के एडमिशन की अनुमति भी दी गई है। आज मुझे खुशी है कि लगभग 1500 छात्राएं सैनिक स्कूलों में पढ़ाई शुरु कर चुकी हैं। यहां तक की एनसीसी में भी हम बदलाव देख रहे हैं। बीते एक दशक के दौरान एनसीसी में बेटियों की भागीदारी भी लगातार बढ़ रही है। मैं देख रहा था कि यहां जो परेड हुई, उसका नेतृत्व भी एक बेटी ने किया। सीमावर्ती और तटीय क्षेत्रों में एनसीसी के विस्तार के अभियान से भी बड़ी संख्या में युवा जुड़ रहे हैं। अभी तक सीमावर्ती और तटवर्ती क्षेत्रों से लगभग एक लाख कैडेट्स को नामांकित किया गया है। इतनी बड़ी युवाशक्ति जब राष्ट्र निर्माण में जुटेगी, देश के विकास में जुटेगी, तो साथियों बहुत विश्वास से कहता हूं कोई भी लक्ष्य असंभव नहीं रह जाएगा। मुझे विश्वास है कि एक संगठन के तौर पर भी और व्यक्तिगत रूप से भी आप सभी देश के संकल्पों की सिद्धि में अपनी भूमिका का विस्तार करेंगे। मां भारती के लिए आजादी के जंग में अनेक लोगों ने देश के लिए मरने का रास्ता चुना था। लेकिन आजाद भारत में पल-पल देश के लिए जीने का रास्ता ही देश को दुनिया में नई ऊंचाइयों पर पहुंचाता है। और इस संकल्प की पूर्ति के लिए ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ के आदर्शों को लेकर के देश को तोड़ने के कई बहाने ढूंढे जाते हैं। भांति-भांति की बातें निकालकर के मां भारती की संतानों के बीच में दूध में दरार करने की कोशिशें हो रही हैं। लाख कोशिशें हो जाएं, मां के दूध में कभी दरार नहीं हो सकती। और इसके लिए एकता का मंत्र ये बहुत बड़ी औषधि है, बहुत बड़ा सामर्थ्य है। भारत के भविष्य के लिए एकता का मंत्र ये संकल्प भी है, भारत का सामर्थ्य भी है और भारत को भव्यता प्राप्त करने के लिए यही एक मार्ग है। उस मार्ग को हमें जीना है, उस मार्ग पर आने वाली रूकावटों के सामने हमें जूझना हैं। और देश के लिए जीकर के समृद्ध भारत को अपनी आंखों के सामने देखना है। इसी आंखों से भव्य भारत को देखना, इससे छोटा संकल्प हो ही नहीं सकता। इस संकल्प की पूर्ति के लिए आप सबको मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएं हैं। 75 वर्ष की यह यात्रा, आने वाले 25 वर्ष जो भारत का अमृतकाल है, जो आपका भी अमृतकाल है। जब देश 2047 में आजादी के 100 साल मनाएगा, एक डेवलप कंट्री होगा तो उस समय आप उस ऊंचाई पर बैठे होंगे। 25 साल के बाद आप किस ऊंचाई पर होंगे, कल्पना कीजिये दोस्तों। और इसलिए एक पल भी खोना नहीं है, एक भी मौका खोना नहीं है। बस मां भारती को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के संकल्प लेकर के चलते ही रहना है, बढ़ते ही रहना है, नई-नई सिद्धियों को प्राप्त करते ही जाना है, विजयश्री का संकल्प लेकर के चलना है। यही मेरी आप सबको शुभकामनाएं हैं। पूरी ताकत से मेरे साथ बोलिए- भारत माता की जय, भारत माता की जय! भारत माता की जय।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

बहुत-बहुत धन्यवाद।