ভাৰতীয় নৌসেনাৰ জাহাজ আৰু বিশেষ বাহিনীৰ অপাৰেচনেল প্ৰদৰ্শন প্ৰত্যক্ষ
“আমাৰ নৌ-সেনাৰ জোৱানসকলৰ নিষ্ঠাক ভাৰতে প্ৰণাম জনাইছে”
“সিন্ধুদুৰ্গই ভাৰতৰ প্ৰতিজন নাগৰিকৰ মনত গৌৰৱৰ অনুভূতি জগাই তোলে”
“বীৰ ছত্ৰপতি মহাৰাজে শক্তিশালী নৌসেনা বাহিনীৰ গুৰুত্ব অনুধাৱন কৰিছিল”
“নৌসেনাৰ বিষয়াসকলে পৰিধান কৰা নতুন ইপলেটে শিৱাজী মহাৰাজৰ পদাংকক প্ৰতিফলিত কৰিব”
“সশস্ত্ৰ বাহিনীত আমাৰ নাৰী শক্তিৰ অংশগ্ৰহণ বৃদ্ধিৰ বাবে আমি অংগীকাৰবদ্ধ”
“ভাৰতৰ নৌসেনাৰ বিজয়, সাহস, জ্ঞান, বিজ্ঞান, দক্ষতা আৰু শক্তিৰ গৌৰৱময় ইতিহাস আছে”
“উপকূলীয় অঞ্চলৰ জনসাধাৰণৰ জীৱনযাত্ৰাৰ অগ্ৰগতি সাধন এক অগ্ৰাধিকাৰ”
“কংকণ অভূতপূৰ্ব সম্ভাৱনাৰ অঞ্চল”
“ঐতিহ্যৰ সংৰক্ষণৰ লগতে উন্নয়নেই আমাৰ এখনি উন্নত ভাৰতৰ পথ”

প্ৰধানমন্ত্ৰী শ্ৰী নৰেন্দ্ৰ মোদীয়ে সিন্ধুদুৰ্গত ‘নৌসেনা দিৱস, ২০২৩’ উদযাপনৰ কাৰ্য্যসূচীত অংশগ্ৰহণ কৰে। তেখেতে সিন্ধুদুৰ্গৰ তৰকাৰলী সৈকতত অনুষ্ঠিত কৰা জাহাজ, চাবমেৰিন, বিমানৰ ‘অপাৰেচনেল প্ৰদৰ্শন’ও প্ৰত্যক্ষ কৰে। শ্ৰী মোদীয়ে গাৰ্ড অৱ অনাৰো গ্ৰহণ কৰে।

সমবেতসকলক সম্বোধনেৰে প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে কয় যে ৪ ডিচেম্বৰৰ ঐতিহাসিক দিনটোত বীৰ শিৱাজী মহাৰাজৰ দৰ্শনীয় প্ৰতিমূৰ্তি উদ্বোধনে ভাৰতৰ প্ৰতিজন নাগৰিকক আবেগ আৰু উৎসাহেৰে ভৰাই তুলিছে। নৌসেনা দিৱস উপলক্ষে শ্ৰী মোদীয়ে শুভেচ্ছা জ্ঞাপনেৰে দেশৰ বাবে প্ৰাণাহুতি দিয়া বীৰসকলক প্ৰণাম জনায়।

প্ৰধানমন্ত্ৰী মোদীয়ে কয় যে বিজয়ৰ ভূমি সিন্ধুদুৰ্গত নৌসেনা দিৱস উদযাপন কৰাটো সঁচাকৈয়ে এক অভূতপূৰ্ব গৌৰৱৰ মুহূৰ্ত। সকলো ৰাষ্ট্ৰৰ বাবে নৌসেনাৰ সামৰ্থ্যৰ গুৰুত্ব স্বীকাৰৰ ক্ষেত্ৰত শিৱাজী মহাৰাজৰ দূৰদৰ্শিতাত আলোকপাতেৰে প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে কয়, “সিন্ধুদুৰ্গই ভাৰতৰ প্ৰতিজন নাগৰিকৰ মাজত গৌৰৱৰ অনুভূতি জগাই তোলে।“ প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে কয় যে তেওঁ শক্তিশালী নৌসেনাৰ ৰূপৰেখা অংকন কৰিছিল। কানহোজী আংগ্ৰে, মায়াজী নাইক ভাটকাৰ, হিৰোজী ইণ্ডুলকাৰৰ দৰে যোদ্ধাসকলক প্ৰণাম জনাই তেখেতে কয় যে আজিও তেওঁলোক প্ৰেৰণা যোগাই আহিছে।

 

ছত্ৰপতি শিৱাজী মহাৰাজৰ আদৰ্শৰে অনুপ্ৰাণিত হৈ প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে কয় যে আজিৰ ভাৰতবৰ্ষই দাসত্বৰ মানসিকতা পৰিত্যাগ কৰি আগবাঢ়িছে। তেখেতে আনন্দ প্ৰকাশেৰে কয় যে নৌসেনাৰ বিষয়াসকলে পিন্ধা ইপলেটসমূহে এতিয়া ছত্ৰপতি শিৱাজী মহাৰাজৰ ঐতিহ্য আৰু উত্তৰাধিকাৰক উজ্জ্বল কৰি তুলিব। নতুন ইপলেটসমূহ নৌসেনাৰ এনচাইনৰ সৈতে সংগতিপূৰ্ণ। যোৱা বছৰ নেভেল এন্সাইন উন্মোচনৰ কথাও তেখেতে স্মৰণ কৰে। নিজৰ ঐতিহ্যক লৈ গৌৰৱৰ অনুভূতিৰে প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে কয় যে ভাৰতীয় নৌসেনাই এতিয়া ভাৰতীয় পৰম্পৰাৰে খাপ-খুৱাইছে নিজকে। সশস্ত্ৰ বাহিনীত নাৰী শক্তিক শক্তিশালীকৰণতো গুৰুত্ব আৰোপ কৰা হৈছে। নৌসেনাৰ জাহাজত ভাৰতৰ প্ৰথমগৰাকী মহিলা কামাণ্ডিং অফিচাৰ নিযুক্তিৰ বাবে শ্ৰী মোদীয়ে ভাৰতীয় নৌসেনাক অভিনন্দন জনায়।

প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে কয় যে ভাৰতে ডাঙৰ-ডাঙৰ লক্ষ্য নিৰ্ধাৰণেৰে সম্পূৰ্ণ দৃঢ়তাৰে সেই লক্ষ্যত উপনীত হ’বলৈ কাম কৰি থকাৰ ক্ষেত্ৰত ১৪০ কোটি ভাৰতীয়ৰ আস্থা সৰ্বাধিক শক্তি। প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে কয় যে বৈচিত্ৰ্যময় ৰাষ্ট্ৰখনৰ জনসাধাৰণক ‘প্ৰথম ৰাষ্ট্ৰ’ৰ মনোভাৱেৰে পৰিচালিত কৰিবলৈ সংকল্প, আৱেগ আৰু আকাংক্ষাৰ ঐক্যৰ ইতিবাচক ফলাফলৰ আভাস দৃশ্যমান হৈছে। “আজি দেশখনে ইতিহাসৰপৰা প্ৰেৰণা লৈ উজ্জ্বল ভৱিষ্যতৰ ৰোডমেপ প্ৰস্তুত কৰাত ব্যস্ত হৈছে। নেতিবাচকতাৰ ৰাজনীতিক পৰাস্তৰে প্ৰতিটো ক্ষেত্ৰতে আগবাঢ়ি যোৱাৰ অংগীকাৰ কৰিছে ৰাইজে। এই প্ৰতিজ্ঞাই আমাক উন্নত ভাৰতৰ দিশে লৈ যাব”, তেখেতে লগতে কয়।

ভাৰতৰ বৰ্ণাঢ্য ইতিহাস সম্পৰ্কে আলোকপাতেৰে প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে কয় যে এয়া কেৱল দাসত্ব, পৰাজয় আৰু হতাশাৰ বিষয় নহয়, বৰঞ্চ ইয়াত ভাৰতৰ বিজয়, সাহস, জ্ঞান আৰু বিজ্ঞান, কলা আৰু সৃষ্টিশীল দক্ষতা, ভাৰতৰ সামুদ্ৰিক সামৰ্থ্যৰ গৌৰৱময় অধ্যায়সমূহো সন্নিবিষ্ট হৈছে। তেখেতে সিন্দুদুৰ্গৰ উদাহৰণ দাঙি ধৰি ভাৰতৰ সামৰ্থ্যত আলোকপাত কৰে যি প্ৰযুক্তি আৰু সম্পদ নথকা সময়তে নিৰ্মাণ কৰা হৈছিল। প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে কয় যে চোলা সাম্ৰাজ্যই দক্ষিণ-পূব এছিয়াৰ দেশসমূহলৈ বাণিজ্য সম্প্ৰসাৰণৰ বাবে ভাৰতৰ সামুদ্ৰিক শক্তিৰ সুবিধা আহৰণ কৰিছিল। ভাৰতৰ সামুদ্ৰিক শক্তি প্ৰথমে বিদেশী শক্তিৰ আক্ৰমণৰ বলি হৈছিল বুলি খেদ প্ৰকাশেৰে প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে কয় যে নাও আৰু জাহাজ নিৰ্মাণৰ বাবে বিখ্যাত ভাৰতে সাগৰত নিয়ন্ত্ৰণ হেৰুৱাই পেলাইছিল আৰু তাৰ ফলত কৌশলগত-অৰ্থনৈতিক শক্তি হেৰুৱাই পেলাইছিল। ভাৰত উন্নয়নৰ দিশে আগবাঢ়ি যোৱাৰ সময়ত প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে হেৰুৱা গৌৰৱ পুনৰুদ্ধাৰত গুৰুত্ব আৰোপেৰে সুনীল অৰ্থনীতিৰ প্ৰতি চৰকাৰৰ অভূতপূৰ্ব উদ্দীপনাক আলোকপাত কৰে। তেখেতে ‘সাগৰমালা’ৰ অধীনত বন্দৰ-আধাৰিত উন্নয়নৰ কথা উল্লেখেৰে কয় যে ভাৰতে ‘সামুদ্ৰিক দৃষ্টিভংগী’ৰ অধীনত নিজৰ মহাসাগৰসমূহৰ সম্পূৰ্ণ সম্ভাৱনাক ব্যৱহাৰৰ দিশত আগবাঢ়িছে। তেখেতে জনোৱা মতে, চৰকাৰে ব্যৱসায়িক জাহাজ চলোৱাৰ বাবে নতুন নিয়ম প্ৰণয়ন কৰিছে, যাৰ ফলত ভাৰতত যোৱা ৯ বছৰত নাৱিকৰ সংখ্যা ১৪০ শতাংশৰো অধিক বৃদ্ধি পাইছে।

 

বৰ্তমান সময়ৰ গুৰুত্ব সম্পৰ্কে আলোকপাতেৰে প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে কয়, “এয়া ভাৰতৰ ইতিহাসৰ সেই সময়ছোৱা, যিয়ে কেৱল ৫-১০ বছৰৰ নহয়, আগন্তুক শতিকাবোৰৰ ভৱিষ্যৎ নিৰ্ধাৰণ কৰিবলৈ আগবাঢ়িছে।” তেখেতে জনায় যে যোৱা ১০ বছৰত ভাৰত দশম স্থানৰপৰা ৫ম সৰ্ববৃহৎ অৰ্থনীতিত পৰিণত হৈছে আৰু দ্ৰুতগতিত ৩য় স্থানৰ দিশে আগবাঢ়িছে। “বিশ্বই ভাৰতৰ মাজত ‘বিশ্ব মিত্ৰ (বিশ্বৰ বন্ধু) বৈশিষ্ট্য দেখিছে”, শ্ৰী মোদীয়ে কয়। তেখেতে আৰু কয় যে ভাৰত মধ্যপ্ৰাচ্য ইউৰোপীয় কৰিডৰৰ দৰে ব্যৱস্থাই এটি নতুন যুগৰ সূচনা কৰিব। তেখেতে মেড ইন ইণ্ডিয়াৰ শক্তিৰ কথাও উল্লেখেৰে তেজছ, কিষাণ ড্ৰোন, ইউপিআই ব্যৱস্থা আৰু চন্দ্ৰযান-৩ৰ কথা কয়। প্ৰতিৰক্ষাৰ ক্ষেত্ৰত আত্মনিৰ্ভৰশীলতা, আইএনএছ বিক্ৰান্তৰ অৱলোকন কৰে।

উপকূলীয় আৰু সীমান্তৱৰ্তী গাঁওসমূহক শেষ গাঁওৰ পৰিৱৰ্তে প্ৰথম গাঁও হিচাপে গণ্যৰ চৰকাৰৰ পন্থা পুনৰবাৰ উল্লেখেৰে শ্ৰী মোদীয়ে কয়, “আজি উপকূলীয় অঞ্চলত বসবাস কৰা প্ৰতিটো পৰিয়ালৰ জীৱন উন্নত কৰাটো কেন্দ্ৰীয় চৰকাৰৰ অগ্ৰাধিকাৰ।” ২০১৯ত পৃথক মীন মন্ত্ৰালয় গঠন আৰু এই খণ্ডত ৪০ হাজাৰ কোটি টকা বিনিয়োগৰ কথা উল্লেখ কৰে। তেখেতে জনোৱা মতে, ২০১৪ৰ পাছত মীন উৎপাদন ৮ শতাংশ আৰু ৰপ্তানি ১১০ শতাংশ বৃদ্ধি পাইছে। তদুপৰি কৃষকসকলৰ বীমা কভাৰ ২ ৰপৰা ৫ লাখলৈ বৃদ্ধি কৰা হৈছে আৰু তেওঁলোকে কিষাণ ক্ৰেডিট কাৰ্ডৰ সুবিধা লাভ কৰিছে।

মীন খণ্ডৰ মূল্য শৃংখল উন্নয়ন সন্দৰ্ভত প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে কয় যে সাগৰমালা আঁচনিখনে উপকূলীয় অঞ্চলসমূহত আধুনিক সংযোগ শক্তিশালী কৰি তুলিছে। ইয়াৰ বাবে লাখ-লাখ কোটি টকা ব্যয় কৰা হৈছে। সাগৰীয় খাদ্য সংসাধন সম্পৰ্কীয় উদ্যোগ আৰু মাছ ধৰা নাওসমূহৰ আধুনিকীকৰণৰ কামো কৰা হৈছে। 

“কংকণ অভূতপূৰ্ব সম্ভাৱনাৰ অঞ্চল”, প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে কয়। অঞ্চলটোৰ উন্নয়নৰ প্ৰতি চৰকাৰৰ দায়বদ্ধতাক আলোকপাত্ৰে প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে সিন্ধুদুৰ্গ, ৰত্নগিৰি, আলিবাগ, পৰভানী আৰু ধৰাশিৱত চিকিৎসা মহাবিদ্যালয় উদ্বোধন, চিপি বিমানবন্দৰৰ পৰিচালনা আৰু দিল্লী-মুম্বাই ঔদ্যোগিক কৰিডৰৰ কথা উল্লেখ কৰে। প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে ইয়াত কাজু খেতিয়কসকলৰ বাবে প্ৰস্তুত কৰা বিশেষ আঁচনিৰ কথাও উল্লেখ কৰে। তেখেতে আলোকপাত কৰে যে চৰকাৰৰ অগ্ৰাধিকাৰ হৈছে সাগৰৰ পাৰত অৱস্থিত আৱাসিক অঞ্চলসমূহক সুৰক্ষিত কৰা। এই প্ৰচেষ্টাত তেখেতে মেংগ্ৰোভৰ পৰিসৰ বৃদ্ধিত গুৰুত্ব দিয়াৰ কথা উল্লেখ কৰে। প্ৰধানমন্ত্ৰী মোদীয়ে জনোৱা মতে, মালভান, আচৰা-ৰত্নগিৰি আৰু দেৱগড়-বিজয়দুৰ্গকে ধৰি মহাৰাষ্ট্ৰৰ বহু স্থান মেংগ্ৰোভ ব্যৱস্থাপনাৰ বাবে বাছনি কৰা হৈছে।

“ঐতিহ্যৰ লগতে উন্নয়ন, এয়াই আমাৰ উন্নত ভাৰতৰ পথ”, প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে এইদৰে কৰে। কংকণকে ধৰি সমগ্ৰ মহাৰাষ্ট্ৰৰ এই ঐতিহ্যসমূহৰ সংৰক্ষণৰ বাবে শ-শ কোটি টকা ব্যয় কৰাৰ সময়তে ছত্ৰপতি বীৰ শিৱাজী মহাৰাজৰ সময়ছোৱাত নিৰ্মিত দুৰ্গসমূহ সংৰক্ষণৰ বাবে কেন্দ্ৰীয় আৰু ৰাজ্য চৰকাৰ দৃঢ়প্ৰতিজ্ঞ বুলি কয়। প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে উল্লেখ কৰে যে ইয়াৰদ্বাৰা অঞ্চলটোত পৰ্যটনো বৃদ্ধি পাব তথা নতুন কৰ্মসংস্থাপন আৰু স্বনিয়োজনৰ সুবিধাও সৃষ্টি হ’ব।

 

সম্বোধনৰ সামৰণিত প্ৰধানমন্ত্ৰীগৰাকীয়ে দিল্লীৰ বাহিৰত সশস্ত্ৰ বাহিনী দিৱস যেনেঃ সেনা দিৱস, নৌসেনা দিৱস আদি অনুষ্ঠিতকৰণৰ নতুন পৰম্পৰাৰ কথা উল্লেখ কৰে। কিয়নো ইয়াৰ ফলত সমগ্ৰ ভাৰতলৈ এই অনুষ্ঠান বিস্তাৰিত হৈছে আৰু নতুন ঠাইবোৰে নতুন মনোযোগ আকৰ্ষণ কৰিছে।  

এই অনুষ্ঠানত মহাৰাষ্ট্ৰৰ ৰাজ্যপাল শ্ৰী ৰমেশ বাইছ, মহাৰাষ্ট্ৰৰ মুখ্যমন্ত্ৰী শ্ৰী একনাথ শিণ্ডে, কেন্দ্ৰীয় প্ৰতিৰক্ষা মন্ত্ৰী শ্ৰী ৰাজনাথ সিং, কেন্দ্ৰীয় ক্ষুদ্ৰ, লঘু আৰু মজলীয়া উদ্যোগ দপ্তৰৰ মন্ত্ৰী শ্ৰী নাৰায়ণ ৰাণে, মহাৰাষ্ট্ৰৰ উপ-মুখ্যমন্ত্ৰী শ্ৰী দেৱেন্দ্ৰ ফাদনবিছ, নৌসেনাৰ মুৰব্বী এডমিৰেল আৰ হৰি কুমাৰকে প্ৰমুখ্য কৰি আন-আন বিশিষ্ট লোকসকল উপস্থিত থাকে।

পটভূমি

প্ৰতি বছৰে ৪ ডিচেম্বৰত নৌসেনা দিৱস পালন কৰা হয়। সিন্ধুদুৰ্গত ‘নৌসেনা দিৱস, ২০২৩’ উদযাপনৰ জৰিয়তে ছত্ৰপতি শিৱাজী মহাৰাজক শ্ৰদ্ধাঞ্জলি জনোৱা হয়।

প্ৰতি বছৰে নৌসেনা দিৱস উপলক্ষে ভাৰতীয় নৌসেনাৰ জাহাজ, চাবমেৰিন, বিমানৰ ‘অপাৰেচনেল প্ৰদৰ্শন’ৰ আয়োজনৰ পৰম্পৰা অব্যাহত আছে। এই ‘অপাৰেচনেল প্ৰদৰ্শনে’ ভাৰতীয় নৌসেনাই গ্ৰহণ কৰা বহু-ডমেইন অভিযানৰ ভিন্ন দিশক প্ৰতিফলিত কৰিছে। ইয়াত ৰাষ্ট্ৰীয় নিৰাপত্তাৰ দিশত নৌসেনাৰ অৱদানত আলোকপাত কৰা হৈছে আৰু লগতে নাগৰিকসকলৰ মাজত সামুদ্ৰিক সচেতনতাৰ আগজাননী দিয়া হৈছে।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

সম্পূৰ্ণ ভাষণ পঢ়িবলৈ ইয়াত ক্লিক কৰক

Explore More
৭৭সংখ্যক স্বাধীনতা দিৱস উপলক্ষে লালকিল্লাৰ প্ৰাচীৰৰ পৰা দেশবাসীক উদ্দেশ্যি প্ৰধানমন্ত্ৰী শ্ৰী নৰেন্দ্ৰ মোদীয়ে আগবঢ়োৱা ভাষণৰ অসমীয়া অনুবাদ

Popular Speeches

৭৭সংখ্যক স্বাধীনতা দিৱস উপলক্ষে লালকিল্লাৰ প্ৰাচীৰৰ পৰা দেশবাসীক উদ্দেশ্যি প্ৰধানমন্ত্ৰী শ্ৰী নৰেন্দ্ৰ মোদীয়ে আগবঢ়োৱা ভাষণৰ অসমীয়া অনুবাদ
How India's digital public infrastructure can push inclusive global growth

Media Coverage

How India's digital public infrastructure can push inclusive global growth
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Our government is dedicated to tribal welfare in Chhattisgarh: PM Modi in Surguja
April 24, 2024
Our government is dedicated to tribal welfare in Chhattisgarh: PM Modi
Congress, in its greed for power, has destroyed India through consistent misgovernance and negligence: PM Modi
Congress' anti-Constitutional tendencies aim to provide religious reservations for vote-bank politics: PM Modi
Congress simply aims to loot the 'hard-earned money' of the 'common people' to fill their coffers: PM Modi
Congress will set a dangerous precedent by implementing an 'Inheritance Tax': PM Modi

मां महामाया माई की जय!

मां महामाया माई की जय!

हमर बहिनी, भाई, दद्दा अउ जम्मो संगवारी मन ला, मोर जय जोहार। 

भाजपा ने जब मुझे पीएम पद का उम्मीदवार बनाया था, तब अंबिकापुर में ही आपने लाल किला बनाया था। और जो कांग्रेस का इकोसिस्टम है आए दिन मोदी पर हमला करने के लिए जगह ढ़ूंढते रहते हैं। उस पूरी टोली ने उस समय मुझपर बहुत हमला बोल दिया था। ये लाल किला कैसे बनाया जा सकता है, अभी तो प्रधानमंत्री का चुनाव बाकि है, अभी ये लाल किले का दृश्य बना के वहां से सभा कर रहे हैं, कैसे कर रहे हैं। यानि तूफान मचा दिया था और बात का बवंडर बना दिया था। लेकिन आप की सोच थी वही  मोदी लाल किले में पहुंचा और राष्ट्र के नाम संदेश दिया। आज अंबिकापुर, ये क्षेत्र फिर वही आशीर्वाद दे रहा है- फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

साथियों, 

कुछ महीने पहले मैंने आपसे छत्तीसगढ़ से कांग्रेस का भ्रष्टाचारी पंजा हटाने के लिए आशीर्वाद मांगा था। आपने मेरी बात का मान रखा। और इस भ्रष्टाचारी पंजे को साफ कर दिया। आज देखिए, आप सबके आशीर्वाद से सरगुजा की संतान, आदिवासी समाज की संतान, आज छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के रूप में छत्तीसगढ़ के सपनों को साकार कर रहा है। और मेरा अनन्य साथी भाई विष्णु जी, विकास के लिए बहुत तेजी से काम कर रहे हैं। आप देखिए, अभी समय ही कितना हुआ है। लेकिन इन्होंने इतने कम समय में रॉकेट की गति से सरकार चलाई है। इन्होंने धान किसानों को दी गारंटी पूरी कर दी। अब तेंदु पत्ता संग्राहकों को भी ज्यादा पैसा मिल रहा है, तेंदू पत्ता की खरीद भी तेज़ी से हो रही है। यहां की माताओं-बहनों को महतारी वंदन योजना से भी लाभ हुआ है। छत्तीसगढ़ में जिस तरह कांग्रेस के घोटालेबाज़ों पर एक्शन हो रहा है, वो पूरा देश देख रहा है।

साथियों, 

मैं आज आपसे विकसित भारत-विकसित छत्तीसगढ़ के लिए आशीर्वाद मांगने के लिए आया हूं। जब मैं विकसित भारत कहता हूं, तो कांग्रेस वालों का और दुनिया में बैठी कुछ ताकतों का माथा गरम हो जाता है। अगर भारत शक्तिशाली हो गया, तो कुछ ताकतों का खेल बिगड़ जाएगा। आज अगर भारत आत्मनिर्भर बन गया, तो कुछ ताकतों की दुकान बंद हो जाएगी। इसलिए वो भारत में कांग्रेस और इंडी-गठबंधन की कमज़ोर सरकार चाहते हैं। ऐसी कांग्रेस सरकार जो आपस में लड़ती रहे, जो घोटाले करती रहे। 

साथियों,

कांग्रेस का इतिहास सत्ता के लालच में देश को तबाह करने का रहा है। देश में आतंकवाद फैला किसके कारण फैला? किसके कारण फैला? किसके कारण फैला? कांग्रेस की नीतियों के कारण फैला। देश में नक्सलवाद कैसे बढ़ा? किसके कारण बढ़ा? किसके कारण बढ़ा? कांग्रेस का कुशासन और लापरवाही यही कारण है कि देश बर्बाद होता गया। आज भाजपा सरकार, आतंकवाद और नक्सलवाद के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई कर रही है। लेकिन कांग्रेस क्या कर रही है? कांग्रेस, हिंसा फैलाने वालों का समर्थन कर रही है, जो निर्दोषों को मारते हैं, जीना हराम कर देते हैं, पुलिस पर हमला करते हैं, सुरक्षा बलों पर हमला करते हैं। अगर वे मारे जाएं, तो कांग्रेस वाले उन्हें शहीद कहते हैं। अगर आप उन्हें शहीद कहते हो तो शहीदों का अपमान करते हो। इसी कांग्रेस की सबसे बड़ी नेता, आतंकवादियों के मारे जाने पर आंसू बहाती हैं। ऐसी ही करतूतों के कारण कांग्रेस देश का भरोसा खो चुकी है।

भाइयों और बहनों, 

आज जब मैं सरगुजा आया हूं, तो कांग्रेस की मुस्लिम लीगी सोच को देश के सामने रखना चाहता हूं। जब उनका मेनिफेस्टो आया उसी दिन मैंने कह दिया था। उसी दिन मैंने कहा था कि कांग्रेस के मोनिफेस्टो पर मुस्लिम लीग की छाप है। 

साथियों, 

जब संविधान बन रहा था, काफी चर्चा विचार के बाद, देश के बुद्धिमान लोगों के चिंतन मनन के बाद, बाबासाहेब अम्बेडकर के नेतृत्व में तय किया गया था कि भारत में धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं होगा। आरक्षण होगा तो मेरे दलित और आदिवासी भाई-बहनों के नाम पर होगा। लेकिन धर्म के नाम पर आरक्षण नहीं होगा। लेकिन वोट बैंक की भूखी कांग्रेस ने कभी इन महापुरुषों की परवाह नहीं की। संविधान की पवित्रता की परवाह नहीं की, बाबासाहेब अम्बेडकर के शब्दों की परवाह नहीं की। कांग्रेस ने बरसों पहले आंध्र प्रदेश में धर्म के आधार पर आरक्षण देने का प्रयास किया था। फिर कांग्रेस ने इसको पूरे देश में लागू करने की योजना बनाई। इन लोग ने धर्म के आधार पर 15 प्रतिशत आरक्षण की बात कही। ये भी कहा कि SC/ST/OBC का जो कोटा है उसी में से कम करके, उसी में से चोरी करके, धर्म के आधार पर कुछ लोगों को आरक्षण दिया जाए। 2009 के अपने घोषणापत्र में कांग्रेस ने यही इरादा जताया। 2014 के घोषणापत्र में भी इन्होंने साफ-साफ कहा था कि वो इस मामले को कभी भी छोड़ेंगे नहीं। मतलब धर्म के आधार पर आरक्षण देंगे, दलितों का, आदिवासियों का आरक्षण कट करना पड़े तो करेंगे। कई साल पहले कांग्रेस ने कर्नाटका में धर्म के आधार पर आरक्षण लागू भी कर दिया था। जब वहां बीजेपी सरकार आई तो हमने संविधान के विरुद्ध, बाबासाहेब अम्बेडर की भावना के विरुद्ध कांग्रेस ने जो निर्णय किया था, उसको उखाड़ करके फेंक दिया और दलितों, आदिवासियों और पिछड़ों को उनका अधिकार वापस दिया। लेकिन कर्नाटक की कांग्रेस सरकार उसने एक और पाप किया मुस्लिम समुदाय की सभी जातियों को ओबीसी कोटा में शामिल कर दिया है। और ओबीसी बना दिया। यानि हमारे ओबीसी समाज को जो लाभ मिलता था, उसका बड़ा हिस्सा कट गया और वो भी वहां चला गया, यानि कांग्रेस ने समाजिक न्याय का अपमान किया, समाजिक न्याय की हत्या की। कांग्रेस ने भारत के सेक्युलरिज्म की हत्या की। कर्नाटक अपना यही मॉडल पूरे देश में लागू करना चाहती है। कांग्रेस संविधान बदलकर, SC/ST/OBC का हक अपने वोट बैंक को देना चाहती है।

भाइयों और बहनों,

ये सिर्फ आपके आरक्षण को ही लूटना नहीं चाहते, उनके तो और बहुत कारनामे हैं इसलिए हमारे दलित, आदिवासी और ओबीसी भाई-बहनों  को कहना चाहता हूं कि कांग्रेस के इरादे नेक नहीं है, संविधान और सामाजिक न्याय के अनुरूप नहीं है , भारत की बिन सांप्रदायिकता के अनुरूप नहीं है। अगर आपके आरक्षण की कोई रक्षा कर सकता है, तो सिर्फ और सिर्फ भारतीय जनता पार्टी कर सकती है। इसलिए आप भारतीय जनता पार्टी को भारी समर्थन दीजिए। ताकि कांग्रेस की एक न चले, किसी राज्य में भी वह कोई हरकत ना कर सके। इतनी ताकत आप मुझे दीजिए। ताकि मैं आपकी रक्षा कर सकूं। 

साथियों!

कांग्रेस की नजर! सिर्फ आपके आरक्षण पर ही है ऐसा नहीं है। बल्कि कांग्रेस की नज़र आपकी कमाई पर, आपके मकान-दुकान, खेत-खलिहान पर भी है। कांग्रेस के शहज़ादे का कहना है कि ये देश के हर घर, हर अलमारी, हर परिवार की संपत्ति का एक्स-रे करेंगे। हमारी माताओं-बहनों के पास जो थोड़े बहुत गहने-ज़ेवर होते हैं, कांग्रेस उनकी भी जांच कराएगी। यहां सरगुजा में तो हमारी आदिवासी बहनें, चंदवा पहनती हैं, हंसुली पहनती हैं, हमारी बहनें मंगलसूत्र पहनती हैं। कांग्रेस ये सब आपसे छीनकर, वे कहते हैं कि बराबर-बराबर डिस्ट्रिब्यूट कर देंगे। वो आपको मालूम हैं ना कि वे किसको देंगे। आपसे लूटकर के किसको देंगे मालूम है ना, मुझे कहने की जरूरत है क्या। क्या ये पाप करने देंगे आप और कहती है कांग्रेस सत्ता में आने के बाद वे ऐसे क्रांतिकारी कदम उठाएगी। अरे ये सपने मन देखो देश की जनता आपको ये मौका नहीं देगी। 

साथियों, 

कांग्रेस पार्टी के खतरनाक इरादे एक के बाद एक खुलकर सामने आ रहे हैं। शाही परिवार के शहजादे के सलाहकार, शाही परिवार के शहजादे के पिताजी के भी सलाहकार, उन्होंने  ने कुछ समय पहले कहा था और ये परिवार उन्हीं की बात मानता है कि उन्होंने कहा था कि हमारे देश का मिडिल क्लास यानि मध्यम वर्गीय लोग जो हैं, जो मेहनत करके कमाते हैं। उन्होंने कहा कि उनपर ज्यादा टैक्स लगाना चाहिए। इन्होंने पब्लिकली कहा है। अब ये लोग इससे भी एक कदम और आगे बढ़ गए हैं। अब कांग्रेस का कहना है कि वो Inheritance Tax लगाएगी, माता-पिता से मिलने वाली विरासत पर भी टैक्स लगाएगी। आप जो अपनी मेहनत से संपत्ति जुटाते हैं, वो आपके बच्चों को नहीं मिलेगी, बल्कि कांग्रेस सरकार का पंजा उसे भी आपसे छीन लेगा। यानि कांग्रेस का मंत्र है- कांग्रेस की लूट जिंदगी के साथ भी और जिंदगी के बाद भी। जब तक आप जीवित रहेंगे, कांग्रेस आपको ज्यादा टैक्स से मारेगी। और जब आप जीवित नहीं रहेंगे, तो वो आप पर Inheritance Tax का बोझ लाद देगी। जिन लोगों ने पूरी कांग्रेस पार्टी को पैतृक संपत्ति मानकर अपने बच्चों को दे दी, वो लोग नहीं चाहते कि एक सामान्य भारतीय अपने बच्चों को अपनी संपत्ति दे। 

भाईयों-बहनों, 

हमारा देश संस्कारों से संस्कृति से उपभोक्तावादी देश नहीं है। हम संचय करने में विश्वास करते हैं। संवर्धन करने में विश्वास करते हैं। संरक्षित करने में विश्वास करते हैं। आज अगर हमारी प्रकृति बची है, पर्यावरण बचा है। तो हमारे इन संस्कारों के कारण बचा है। हमारे घर में बूढ़े मां बाप होंगे, दादा-दादी होंगे। उनके पास से छोटा सा भी गहना होगा ना? अच्छी एक चीज होगी। तो संभाल करके रखेगी खुद भी पहनेगी नहीं, वो सोचती है कि जब मेरी पोती की शादी होगी तो मैं उसको यह दूंगी। मेरी नाती की शादी होगी, तो मैं उसको दूंगी। यानि तीन पीढ़ी का सोच करके वह खुद अपना हक भी नहीं भोगती,  बचा के रखती है, ताकि अपने नाती, नातिन को भी दे सके। यह मेरे देश का स्वभाव है। मेरे देश के लोग कर्ज कर करके जिंदगी जीने के शौकीन लोग नहीं हैं। मेहनत करके जरूरत के हिसाब से खर्च करते हैं। और बचाने के स्वभाव के हैं। भारत के मूलभूत चिंतन पर, भारत के मूलभूत संस्कार पर कांग्रेस पार्टी कड़ा प्रहार करने जा रही है। और उन्होंने कल यह बयान क्यों दिया है उसका एक कारण है। यह उनकी सोच बहुत पुरानी है। और जब आप पुरानी चीज खोजोगे ना? और ये जो फैक्ट चेक करने वाले हैं ना मोदी की बाल की खाल उधेड़ने में लगे रहते हैं, कांग्रेस की हर चीज देखिए। आपको हर चीज में ये बू आएगी। मोदी की बाल की खाल उधेड़ने में टाइम मत खराब करो। लेकिन मैं कहना चाहता हूं। यह कल तूफान उनके यहां क्यों मच गया,  जब मैंने कहा कि अर्बन नक्सल शहरी माओवादियों ने कांग्रेस पर कब्जा कर लिया तो उनको लगा कि कुछ अमेरिका को भी खुश करने के लिए करना चाहिए कि मोदी ने इतना बड़ा आरोप लगाया, तो बैलेंस करने के लिए वह उधर की तरफ बढ़ने का नाटक कर रहे हैं। लेकिन वह आपकी संपत्ति को लूटना चाहते हैं। आपके संतानों का हक आज ही लूट लेना चाहते हैं। क्या आपको यह मंजूर है कि आपको मंजूर है जरा पूरी ताकत से बताइए उनके कान में भी सुनाई दे। यह मंजूर है। देश ये चलने देगा। आपको लूटने देगा। आपके बच्चों की संपत्ति लूटने देगा।

साथियों,

जितने साल देश में कांग्रेस की सरकार रही, आपके हक का पैसा लूटा जाता रहा। लेकिन भाजपा सरकार आने के बाद अब आपके हक का पैसा आप लोगों पर खर्च हो रहा है। इस पैसे से छत्तीसगढ़ के करीब 13 लाख परिवारों को पक्के घर मिले। इसी पैसे से, यहां लाखों परिवारों को मुफ्त राशन मिल रहा है। इसी पैसे से 5 लाख रुपए तक का मुफ्त इलाज मिल रहा है। मोदी ने ये भी गारंटी दी है कि 4 जून के बाद छत्तीसगढ़ के हर परिवार में जो बुजुर्ग माता-पिता हैं, जिनकी आयु 70 साल हो गई है। आज आप बीमार होते हैं तो आपकी बेटे और बेटी को खर्च करना पड़ता है। अगर 70 साल की उम्र हो गई है और आप किसी पर बोझ नहीं बनना चाहते तो ये मोदी आपका बेटा है। आपका इलाज मोदी करेगा। आपके इलाज का खर्च मोदी करेगा। सरगुजा के ही करीब 1 लाख किसानों के बैंक खाते में किसान निधि के सवा 2 सौ करोड़ रुपए जमा हो चुके हैं और ये आगे भी होते रहेंगे।

साथियों, 

सरगुजा में करीब 400 बसाहटें ऐसी हैं जहां पहाड़ी कोरवा परिवार रहते हैं। पण्डो, माझी-मझवार जैसी अनेक अति पिछड़ी जनजातियां यहां रहती हैं, छत्तीसगढ़ और दूसरे राज्यों में रहती हैं। हमने पहली बार ऐसी सभी जनजातियों के लिए, 24 हज़ार करोड़ रुपए की पीएम-जनमन योजना भी बनाई है। इस योजना के तहत पक्के घर, बिजली, पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य, कौशल विकास, ऐसी सभी सुविधाएं पिछड़ी जनजातियों के गांव पहुंचेंगी। 

साथियों, 

10 वर्षों में भांति-भांति की चुनौतियों के बावजूद, यहां रेल, सड़क, अस्तपताल, मोबाइल टावर, ऐसे अनेक काम हुए हैं। यहां एयरपोर्ट की बरसों पुरानी मांग पूरी की गई है। आपने देखा है, अंबिकापुर से दिल्ली के ट्रेन चली तो कितनी सुविधा हुई है।

साथियों,

10 साल में हमने गरीब कल्याण, आदिवासी कल्याण के लिए इतना कुछ किया। लेकिन ये तो सिर्फ ट्रेलर है। आने वाले 5 साल में बहुत कुछ करना है। सरगुजा तो ही स्वर्गजा यानि स्वर्ग की बेटी है। यहां प्राकृतिक सौंदर्य भी है, कला-संस्कृति भी है, बड़े मंदिर भी हैं। हमें इस क्षेत्र को बहुत आगे लेकर जाना है। इसलिए, आपको हर बूथ पर कमल खिलाना है। 24 के इस चुनाव में आप का ये सेवक नरेन्द्र मोदी को आपका आशीर्वाद चाहिए, मैं आपसे आशीर्वाद मांगने आया हूं। आपको केवल एक सांसद ही नहीं चुनना, बल्कि देश का उज्ज्वल भविष्य भी चुनना है। अपनी आने वाली पीढ़ियों का भविष्य चुनना है। इसलिए राष्ट्र निर्माण का मौका बिल्कुल ना गंवाएं। सर्दी हो शादी ब्याह का मौसम हो, खेत में कोई काम निकला हो। रिश्तेदार के यहां जाने की जरूरत पड़ गई हो, इन सबके बावजूद भी कुछ समय आपके सेवक मोदी के लिए निकालिए। भारत के लोकतंत्र और उज्ज्वल भविष्य के लिए निकालिए। आपके बच्चों की गारंटी के लिए निकालिए और मतदान अवश्य करें। अपने बूथ में सारे रिकॉर्ड तोड़नेवाला मतदान हो। इसके लिए मैं आपसे प्रार्थना करता हूं। और आग्राह है पहले जलपान फिर मतदान। हर बूथ में मतदान का उत्सव होना चाहिए, लोकतंत्र का उत्सव होना चाहिए। गाजे-बाजे के साथ लोकतंत्र जिंदाबाद, लोकतंत्र जिंदाबाद करते करते मतदान करना चाहिए। और मैं आप को वादा करता हूं। 

भाइयों-बहनों  

मेरे लिए आपका एक-एक वोट, वोट नहीं है, ईश्वर रूपी जनता जनार्दन का आर्शीवाद है। ये आशीर्वाद परमात्मा से कम नहीं है। ये आशीर्वाद ईश्वर से कम नहीं है। इसलिए भारतीय जनता पार्टी को दिया गया एक-एक वोट, कमल के फूल को दिया गया एक-एक वोट, विकसित भारत बनाएगा ये मोदी की गारंटी है। कमल के निशान पर आप बटन दबाएंगे, कमल के फूल पर आप वोट देंगे तो वो सीधा मोदी के खाते में जाएगा। वो सीधा मोदी को मिलेगा।      

भाइयों और बहनों, 

7 मई को चिंतामणि महाराज जी को भारी मतों से जिताना है। मेरा एक और आग्रह है। आप घर-घर जाइएगा और कहिएगा मोदी जी ने जोहार कहा है, कहेंगे। मेरे साथ बोलिए...  भारत माता की जय! 

भारत माता की जय! 

भारत माता की जय!