शेअर करा
 
Comments
गुजरातच्या लोकांच्या सेवा भावनेची केली प्रशंसा
"आपण सरदार पटेल यांच्या विचारांचे पालन केले पाहिजे आणि आपल्या देशावर प्रेम केले पाहिजे, परस्पर स्नेह आणि सहकार्याने आपले भवितव्य घडवले पाहिजे."
“अमृतकाळ आपल्याला त्या व्यक्तिमत्त्वांची आठवण करण्यास प्रेरित करतो ज्यांनी सार्वजनिक जाणीव जागृत करण्यात मोठी भूमिका बजावली. आजच्या पिढीला त्यांच्याबद्दल माहिती असणे खूप महत्वाचे आहे.”
"देश आता आपल्या पारंपरिक कौशल्यांना आधुनिक शक्यतांशी जोडत आहे."
'सबका साथ, सबका विकास'ची ताकद काय आहे, हे मी गुजरातपासून शिकलो.
"कोरोनाच्या कठीण काळानंतर अर्थव्यवस्थेने ज्या वेगाने पुनरागमन केले आहे त्यानंतर संपूर्ण जगाला भारताबद्दल आशा आहे."

पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी सूरत येथील सौराष्ट्र पटेल सेवा समाज यांनी बांधलेल्या वसतिगृहाच्या पहिल्या टप्प्याचे भूमिपूजन व्हिडिओ कॉन्फरन्सिंगद्वारे केले.

उपस्थितांना संबोधित करताना पंतप्रधानांनी गुजराती लोकांच्या भावनेची प्रशंसा केली आणि ते म्हणाले की, त्यांच्यासाठी अभिमानाची गोष्ट आहे की सामाजिक विकासाच्या कार्यात गुजरातने नेहमीच आघाडी घेतली आहे. त्यांनी याप्रसंगी सरदार पटेल यांचे स्मरण करून राष्ट्रीय विकासाच्या कामात जात-पंथ अडसर ठरू नयेत हे पटवून देताना या महान नेत्याचा हवाला दिला. ते म्हणाले “आम्ही सर्व भारताची लेकरे आहोत. आपण सर्वांनी आपल्या देशावर प्रेम केले पाहिजे, परस्पर स्नेह आणि सहकार्याने आपले नशीब घडवले पाहिजे."

पंतप्रधान म्हणाले की, भारत सध्या स्वातंत्र्याचे 75 वे वर्ष साजरा करत आहे. नवीन संकल्पांसह, हा अमृतकाळ आपल्याला त्या व्यक्तिमत्त्वांचे स्मरण करण्याची प्रेरणा देतो ज्यांनी सार्वजनिक जाणीव जागृत करण्यात मोठी भूमिका बजावली. आजच्या पिढीला त्यांच्याबद्दल माहिती असणे खूप महत्वाचे आहे, असेही ते म्हणाले.

वल्लभ विद्यानगरविषयी पंतप्रधानांनी माहिती दिली. शिक्षणाचा प्रसार व्हावा, गाव विकास कामांना गती मिळावी यासाठी हे ठिकाण विकसित करण्यात आले असल्याचे ते म्हणाले. मुख्यमंत्री म्हणून गुजरातची सेवा करण्याचा अनुभव कथन करताना ते म्हणाले की, त्यांच्यासारख्या राजकारणात कोणताही जाती-आधार नसलेल्या व्यक्तीला 2001 मध्ये राज्याची सेवा करण्याचा जन आशीर्वाद प्राप्त झाला. लोकांच्या आशीर्वादाच्या बळावरच वीस वर्षांहून अधिक काळ अव्याहतपणे आधी राज्य आणि नंतर संपूर्ण देशाची सेवा सुरू ठेवता आली असे प्रशंसोद्गार त्यांनी काढले. 'सबका साथ, सबका विकास'ची ताकद काय आहे, ते मी गुजरातपासूनच शिकलो' हे सांगताना त्यांनी आठवण करून दिली की पूर्वी गुजरातमध्ये चांगल्या शाळांचा अभाव होता, चांगल्या शिक्षणासाठी शिक्षकांची कमतरता होती. या समस्येचे निराकरण करण्यासाठी लोकांना कसे जोडले याची माहिती पंतप्रधानांनी दिली. 

पंतप्रधान म्हणाले की, नवीन राष्ट्रीय शिक्षण धोरणात स्थानिक भाषेत व्यावसायिक अभ्यासक्रम शिकवण्याचा पर्यायही देण्यात आला आहे. आता अभ्यास हा केवळ पदवीपुरता मर्यादित नाही, तर अभ्यासाचा संबंध कौशल्याशी जोडला जात आहे. देश आता आपल्या पारंपरिक कौशल्यांना आधुनिक शक्यतांशी जोडत आहे.

महामारीच्या पार्श्वभूमीवर मजबूत पुनर्प्राप्तीचा उल्लेख करताना पंतप्रधान म्हणाले की, कोरोनाच्या कठीण काळानंतर अर्थव्यवस्थेने ज्या वेगाने पुनरागमन केले आहे त्यासह संपूर्ण जगाला भारताबद्दल आशा आहे. भारत पुन्हा एकदा जगातील सर्वात वेगाने वाढणारी अर्थव्यवस्था बनणार असल्याच्या जागतिक संस्थेच्या भाकीताचा संदर्भही त्यांनी दिला.

पंतप्रधानांनी गुजरातच्या मुख्यमंत्र्यांचे कौतुक केले आणि त्यांनी तंत्रज्ञानाचा वस्तुस्थितीशी घातलेला मेळ उद्धृत केला. विविध स्तरांवर काम करण्याचा त्यांचा अनुभव गुजरातच्या विकासासाठी खूप उपयुक्त ठरणार आहे, असेही पंतप्रधान म्हणाले.

संपूर्ण भाषण वाचण्यासाठी इथे क्लिक करा

' मन की बात' बाबतच्या तुमच्या कल्पना आणि सूचना पाठवा!
21 Exclusive Photos of PM Modi from 2021
Explore More
उत्तरप्रदेशात वाराणसी इथे काशी विश्वनाथ धामच्या उद्घाटन प्रसंगी पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी केलेलं भाषण

लोकप्रिय भाषण

उत्तरप्रदेशात वाराणसी इथे काशी विश्वनाथ धामच्या उद्घाटन प्रसंगी पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी केलेलं भाषण
PM Modi tops list of most popular world leaders with 71 pc rating: Survey

Media Coverage

PM Modi tops list of most popular world leaders with 71 pc rating: Survey
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Manipur has a key role in making Northeast the centre of Act East policy: PM Modi
January 21, 2022
शेअर करा
 
Comments
“Resilience and unity of the Manipuri people in the face of ups and downs of their history is their true strength”
“Manipur deserves peace and freedom from closures and blockades”
“Government is committed to make Manipur the sports powerhouse of the country”
“Manipur has a key role in the vision of making the North-East the center of Act East policy”
“Obstacles in the growth journey of the state have been removed and next 25 years are the Amrit Kaal of Manipur’s development”

खुरुमजरी !

नमस्कार

स्थापना के 50 वर्ष पूरे होने पर मणिपुरवासियों को बहुत-बहुत बधाई !

मणिपुर एक राज्य के रूप में आज जिस मुकाम पर पहुंचा है, उसके लिए बहुत लोगों ने अपना तप और त्याग किया है। ऐसे हर व्यक्ति को मैं आदरपूर्वक नमन करता हूं। मणिपुर ने बीते 50 सालों में बहुत उतार चढ़ाव देखे हैं। हर तरह के समय को सभी मणिपुर वासियों ने एकजुटता के साथ जीया है, हर परिस्थिति का सामना किया है। यही मणिपुर की सच्ची ताकत है। बीते 7 सालों में मेरा निरंतर प्रयास रहा है कि आपके बीच आऊं और आपकी अपेक्षाओं, आकांक्षाओं और आवश्यकताओं का फर्स्ट हैंड अकाउंट ले सकूं। यही कारण भी है कि मैं आपकी उम्मीदों को, आपकी भावनाओं को, और बेहतर तरीके से समझ पाया और आपकी समस्याओं के समाधान के नए रास्ते तलाश कर पाया। मणिपुर शांति डिज़र्व करता है, बंद-ब्लॉकेड से मुक्ति डिज़र्व करता है। ये एक बहुत बड़ी आकांक्षा मणिपुरवासियों की रही है। आज मुझे खुशी है कि बीरेन सिंह जी के नेतृत्व में मणिपुर के लोगों ने ये हासिल किया है। बड़े लंबे इंतजार के बार हासिल किया है। आज बिना किसी भेदभाव के मणिपुर के हर क्षेत्र, हर वर्ग तक विकास पहुंच रहा है। मेरे लिए ये व्यक्तिगत तौर पर बहुत संतोष की बात है।

साथियों,

मुझे ये देखकर बहुत खुशी होती है कि आज मणिपुर अपना सामर्थ्य, विकास में लगा रहा है, यहां के युवाओं का सामर्थ्य विश्व पटल पर निखर कर आ रहा है। आज जब हम मणिपुर के बेटे-बेटियों का खेल के मैदान पर जज्बा और जुनून देखते हैं, तो पूरे देश का माथा गर्व से ऊंचा हो जाता है। मणिपुर के युवाओं के पोटेंशियल को देखते हुए ही, राज्य को देश का स्पोर्ट्स पावर हाउस बनाने का बीड़ा हमने उठाया है। देश की पहली नेशनल स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी की स्थापना के पीछे यही सोच है। खेल को, खेल से जुड़ी शिक्षा, खेल प्रबंधन और तकनीक को प्रोत्साहित करने के लिए ये बहुत बड़ा प्रयास है। स्पोर्ट्स ही नहीं, स्टार्टअप्स और entrepreneurship के मामले में भी मणिपुर के युवा कमाल कर रहे हैं। इसमें भी बहनों-बेटियों का रोल प्रशंसनीय है। हैंडिक्राफ्ट की जो ताकत मणिपुर के पास है, उसको समृद्ध करने के लिए सरकार प्रतिबद्धता के साथ काम कर रही है।

साथियों,

नॉर्थ ईस्ट को एक्ट ईस्ट पॉलिसी का सेंटर बनाने के जिस विजन को लेकर हम आगे बढ़ रहे हैं, उसमें मणिपुर की भूमिका अहम है। आपको पहली पैसेंजर ट्रेन के लिए 50 साल का इंतज़ार करना पड़ा। इतने लंबे कालखंड के बाद, कई दशकों के बाद आज रेल का इंजन मणिपुर पहुंचा है और जब ये सपना साकार होता देखते हैं तो हर मणिपुरवासी कहता है कि डबल इंजन की सरकार का कमाल है। इतनी बेसिक सुविधा पहुंचने में दशकों लगे। लेकिन अब मणिपुर की कनेक्टिविटी पर तेज़ी से काम हो रहा है। आज हज़ारों करोड़ रुपए के कनेक्टिविटी प्रोजेक्ट्स पर तेज़ी से काम चल रहा है। इसमें जिरबम-तुपुल-इंफाल रेलवे लाइन भी शामिल है। इंफाल एयरपोर्ट को अंतर्राष्ट्रीय दर्जा देने से नॉर्थ ईस्ट के राज्यों, कोलकाता, बेंगलुरू और दिल्ली से एयर कनेक्टिविटी बेहतर हुई है। इंडिया-म्यांमार-थाईलैंड ट्राइलेट्रल हाईवे पर भी तेज़ी से काम चल रहा है। नॉर्थ ईस्ट में 9 हज़ार करोड़ रुपए से जो नेचुरल गैस पाइपलाइन बिछ रही है, उसका लाभ भी मणिपुर को मिलने वाला है।

भाइयों और बहनों,

50 वर्ष की यात्रा के बाद आज मणिपुर एक अहम पड़ाव पर खड़ा है। मणिपुर ने तेज़ विकास की तरफ सफर शुरु कर दिया है। जो रुकावटें थीं, वो अब हट गई हैं। यहां से अब हमें पीछे मुड़कर नहीं देखना है। जब हमारा देश अपनी आजादी के 100 वर्ष पूरे करेगा, तो मणिपुर को संपूर्ण राज्य का दर्जा मिले 75 वर्ष हो जाएंगे। इसलिए, ये मणिपुर के लिए भी विकास का अमृतकाल है। जिन ताकतों ने लंबे समय तक मणिपुर के विकास को रोके रखा, उनको फिर सिर उठाने का अवसर ना मिले, ये हमें याद रखना है। अब हमें आने वाले दशक के लिए नए सपनों, नए संकल्पों के साथ चलना है। मैं विशेष रूप से युवा बेटे-बेटियों से आग्रह करुंगा कि आपको आगे आना है। आपके उज्जवल भविष्य में, इस विषय में मैं बहुत आश्वस्त हूं। विकास के डबल इंजन के साथ मणिपुर को तेज गति से आगे बढ़ाना है। मणिपुर के मेरे प्‍यारे भाईयों और बहनों एक बार फिर आपको बहुत-बहुत शुभकामनाएं !

बहुत बुहत धन्यवाद !