Witnesses Operational Demonstrations by Indian Navy’s ships and special forces
“India salutes the dedication of our navy personnel”
“Sindhudurg Fort instills a feeling of pride in every citizen of India”
“Veer Chhatrapati Maharaj knew the importance of having a strong naval force”
“New epaulettes worn by Naval Officers will reflect Shivaji Maharaj’s heritage”
“We are committed to increasing the strength of our Nari Shakti in the armed forces”
“India has a glorious history of victories, bravery, knowledge, sciences, skills and our naval strength”
“Improving the lives of people in coastal areas is a priority”
“Konkan is a region of unprecedented possibilities”
“Heritage as well as development, this is our path to a developed India”

ছত্রপতি বীর শিবাজী মহারাজনা য়াইফরে!

ছত্রপতি বীর শিবাজী মহারাজনা য়াইফরে!

মহারাস্ত্রগী রাজ্যপাল শ্রীমান রমেশজী, মুখ্য মন্ত্রী একনাথজী, কেন্দ্র মন্ত্রী মন্দলগী শরুক ওইরিবা ঐহাক্কী মরুপ রাজনাথ সিংহজী, নরায়ন রানেজী, উপ-মুখ্য মন্ত্রী দেবেন্দ্র ফদনাবিসজী, অজীত পাৱারজী, সিদিএস জেনেরেল অনিল চৌহানজী, নেভীগী চীফ এদমিরেল আর. হরি কুমার, নেভীগী মরুপ খুদিংমক অমসুং ঐহাক্কী ইমুংগী মীওইশিং!

ঙসিগী দিসেম্বর 4গী পুৱারি ওইরবা নুমিৎ অসিদা সিন্ধুদুর্গকী পুৱারি ওইরবা লানবন, মালৱন-তারকর্লীগী নীংথিরবা তোর্বান, মাইকৈ মরিদা পাকতক্ননা শন্দোক্লিবা ছত্রপতি বীর শিবাজী মহারাজকী মতিক মগুন, রাজকোত লানবনদা লৈরিবা মহাক্কী চাউরবা মীতমগী মায়খুম হাংদোকপদা নিল্লিবা অদোমগী হরাও-নুংঙাইবগী খোঞ্জেলনা ঐখোয়গী ইফমদা থৌজানবীরি। অদোমগীদমক্তা হায়নখ্রবনি –

চলো নই মিসাল হো, বরো নয়া কমাল হো,

ঝুকো নহি, রুকো নহি, বরে চলো, বরে চলো।।

ঐহাক্না নেভীগী ইমুংগী মীপুম খুদিংগী মফমদা নেভীগী নুমিৎ অসিগীদমক্তা অখন্ননা থাগৎচরি। ঙসিগী নুমিৎ অসিদা ঐখোয়না লৈবাক্কীদমক্তা খ্বাইদগী অথোইবা কত্থোকপা ওইনা মশাগী পুন্সি কত্থোকখ্রবা অথৌবশিংগী মফমদা ইকায় খুম্নজরি।

মরুপশিং,

ঙসি, থৌনা লৈরবা মীওইশিংগী লমদম, সিন্ধুদুর্গকী লমদমদগী নেভীগী নুমিৎকীদমক্তা য়াইফ পাউজেল পীবসি মশানা অচৌবা থৌদোক অমা ওইহল্লে। সিন্ধুদুর্গকী পুৱারি ওইরবা লানবন অসিবু উরুবদা ভারত মচা খুদিংনা মশাদা চাউথোকচবা ফাওনরি। লৈবাক অমা হেক্তদা মখোয়গী সমুদ্রগী পাঙ্গল অসি কয়া য়াম্না মরু ওইবগে হায়বা ছত্রপতি বীর শিবাজী মহারাজনা খঙলম্মি। মহাক্না হায়রম্মি – জলমেব য়স্য, বলমেব তস্য! মসিনা হায়বদি “সমুদ্রবু খুদুম চনবা ঙম্বা মীওইদুদি খ্বাইদগী মপাঙ্গল লৈবনি”। মহাক্না মপাঙ্গল লৈরবা নেভীগী তেঙ্গোল অমা শেমখি। কানহাজী আঙ্গরে ওইরো, মায়াজী নায়ক ভাতকর ওইরো, হীরোজী ইন্দালকর ওইরো, মখোয়গুম্বা অথোইবা লান্মী কয়ানা ঐখোয়গী চাউরবা ইথিল ওইরি। ঐহাক্না ঙসি, নেভীগী নুমিৎ অসিদা লৈবাক্কী মখোয়গুম্লবা থৌনা লৈরবা লান্মীশিংগী মফমদা কোক নোঞ্জরি।

 

মরুপশিং,

ছত্রপতি বীর শিবাজী মহারাজতগী ইথিল লৌরদুনা ঙসি ভারতনা মীখা পোনবগী ৱাখল্লোনবু তুংদা থনমদুনা তুংলমচত্তা খোঙদারি। ঐখোয়গী নেভীগী ওফিসরশিংনা শেৎলিবা ‘এপো-লেৎস’ অসিদা ছত্রপতি বীর শিবাজী মহারাজকী পুৱারিগী মমি তাবসিদা ঐহাক্না নুংঙাইবা ফাওই। অনৌবা ‘এপো-লেৎস’ অসি হৌজিক নেভীগী ইনসিগনিয়াগা মান্নরগনি।

ঐহাক্না মমাংগী চহিদা নেভীগী ফিরালগা ছত্রপতি বীর শিবাজী মহারাজগী পুৱারিগা মরী লৈনহনবগী খুদোংচাবা ফংখিবদা নুংঙাইবা ফাওই। হৌজিক্তি, ‘এপো-লেৎস’ অসিদসু ছত্রপতি বীর শিবাজী মহারাজগী মথৌনা উবা ফংলগনি। ইশাগী হেরিতেজকীদমক্তা চাউথোকচবা ফাওবগা লোয়ননা, ঐহাক্না ঙসি অতোপ্পা ৱাফম অমা লাউথোকপসিদা নুংঙাইবা ফাওজরি। ইন্দিয়ন নেভীনা মশাগী রেঙ্কশিংবু হৌজিক ভারতকী চৎনবীগী মখা পোন্না মিংথোল্লগনি। ঐখোয়গী আর্ম্দ ফোর্সশিংদা নুপীশিংগী পাঙ্গল হেনগৎলক্লিবা অসিদসু ঐখোয়না মিৎয়েং চঙলি। লৈবাক্কী খ্বাইদগী অহানবা নুপী কম্মান্দিং ওফিসর অমবু নেভেল জহাজ অমদা খল্লিবা অসিগীদমক্তা ঐহাক্না নেভীবু থাগৎপা পামজরি।

মরুপশিং,

ঙসিগী ভারতনা মশাগী পান্দম লেপচরি, অমসুং, মদু ফংনবা মশাগী অঙম্বা পাঙ্গল থাদগনি। পান্দমশিং অসি ফংহনবা ঙমগদবা অচৌবা পাঙ্গল ভারত্তা লৈ। পাঙ্গল অসিদি ভারত মচা করোর 140গী থাজবনি। মসিগী পাঙ্গল অসি মালেমগী খ্বাইদগী চাউবা গনতন্ত্রগী পাঙ্গলসু ওইরিবনি। ঙরাং লৈবাক্কী রাজ্য 4দা পাঙ্গল অসিগী শক্তম উবা ফংখ্রে। মীয়ামগী অপাম্বনা অমত্তা ওইরকপা মতমদা, মীয়ামগী ৱাখল্লোন্না অমগা অমগা মরী লৈনরকপা মতমদা, পুক্নিং থৌগৎনীংঙাই ওইবা মহৈ উবা ফংই হায়বসি লৈবাক্না উরে।

তোঙান-তোঙানবা রাজ্যশিংগী প্রাইওরিতী তোঙাল্লি, মখোয়গী তঙাই ফদবশিংসু তোঙাল্লি। অদুবু, রাজ্য খুদিংগী মীয়াম্না লৈবাক্না খ্বাইদগী হানবা হায়বা ইথিলদি মান্ননা লৈ। লৈবাক লৈবগী ঐখোয় লৈরিবনি, লৈবাক্না মাংজিল থাবা মতমদা ঐখোয়সু মাংজিল থাগদৌরিবনি, ৱাখল্লোন অসি ঙসিদি মীপুম খুদিংগী মফমদা চেল্লে। ঙসিদি লৈবাক অসিনা পুৱারিদগী ইথিল লৌদুনা নুংঙাই য়াইফবা ভারত অমগী রোদমেপ শেম-শাবগী থবক্তা লুপ্নখ্রে। নেগেতিবিতী শন্দোকপা রাজনীতিবু মীয়াম্না মায়থীবা পীদুনা সেক্তর খুদিংদা মাংজিল থাবগী ৱাশক শক্নখ্রে। ৱাশক অসিনা ঐখোয়বু বিকশিৎ ভারতকী মাইকৈদা পুগনি। ৱাশক অসিনা ঐখোয়গী মাঙখ্রবা মিংচৎ অমুক হন্না পুরক্কনি, মিংচৎ অসি ঐখোয়গী লৈবাক্না শোইদনা ফংফম থোকপনি।

 

মরুপশিং,

ভারতকী পুৱারি অসি চহি লিশিং অমা মীখা পোনবগী পুৱারিখক নত্তে, মায়থীবা নংবা অমসুং নীংবা থুংদবগী পুৱারি নত্তে। ভারতকী পুৱারিদি মায় পাকপগী পুৱারিনি। ভারতকী পুৱারিদি থৌনা ফবগী পুৱারিনি। জ্ঞান অমসুং বিজ্ঞান, সমুদ্রগী পাঙ্গলগী পুৱারিনি। মসিগুম্বা তেক্নোলোজী, খুদোংচাবা লৈত্রিবা য়াম্লবা চহি কয়াগী মমাংদগী ঐখোয়না সমুদ্র থত্তুনা সিন্ধুদুর্গকুম্বা লানবন কয়া অমা শাখ্রবনি।

ভারতকী সমুদ্রগী পাঙ্গল অসিদি চহি লিশিং কয়া শুরবনি। গুজরাতকী লোথলদা ফংলিবা সিন্ধু ঘাতী সিভিলাইজেসনগী হিথাংফম অসি ঙসিদি ঐখোয়গী অচৌবা হেরিতেজ অমা ওইরি। মতম অমদা, সুরতকী বন্দর্গরদা লৈবাক 80 হেনবগী জহাজশিংনা এঙ্কর থাদদুনা লৈনরম্লিবনি। চোলা নিংথৌ শাগৈনা ভারতকী মসিগুম্বা পাঙ্গলদা য়ুম্ফম ওইদুনা খা-নোংপোক এসিয়াগী লৈবাক কয়াদা কারবার শন্দোকখি।

মরম অদুনা, মীরম লৈবাক্না ভারত্তা লান্দারকখিবা মতমদা, মখোয়না খ্বাইদগী অহানবদা লান্দাখিবা অদুদি ঐখোয়গী পাঙ্গল অসিদনি। হি অমসুং জহাজ শাবদা মমিং চৎলম্বা ভারতকী মসিগুম্বা হৈ-শিংবা অসি নম্থদুনা থম্বীখ্রে। অদুগা ঐখোয়না সমুদ্রবু খুদুম চনবগী পাঙ্গল মাঙখিবা মতমদা, ঐখোয়গী সোসিও-ইকোনোমিক পাঙ্গলসু মাঙখি।

মরম অদুনা, হৌজিক ঐখোয়না বিকশিৎ ভারতকী পান্দম ফংনবা চঙশিল্লিবা অসিদা, ঐখোয়না মাঙখ্রবা ইশাগী মিংচৎ অমুক হন্না ফংবা তাবনি। অদুনা, মসিগা মরী লৈনবা সেক্তর খুদিংদা মিৎয়েং চঙদুনা ঐখোয়গী সরকারনা থবক পায়খৎলি। ঙসিদি, ভারতনা ব্লু ইকোনোমীবু খুমাং চাউশিনহল্লি। ঙসিদি, ভারতনা সাগরমালাগী মখাদা পোর্ত-লেদ দিভেলপমেন্তকীদমক্তা খোঙফম চেৎলি। ঙসিদি, ভারতনা মেরিতাইম ভিজনগী মখাদা ইশাগী সমুদ্রগী পাঙ্গল শিজিন্নবগী মাইকৈদা খোঙজেল য়াঙনা চঙশিল্লি। মর্চেন্ত শিপমেন্তপু হেন্না চাউখৎহন্নবা সরকারনা অনৌবা কাঙলোন কয়া শেমখ্রে। সরকারগী হোৎনজমন্না মরম ওইরগা, হৌখিবা চহি 9দা ভারতনা সীফেররগী মশিংদা চাদা 140গী চাংদগী হেনগৎহনখি।

ঐহাক্কী মরুপশিং,

ভারতকী পুৱারিগী হৌজিক্কী মতম অসিনা লাক্কদৌরিবা চহি 5-10 খক্তা নত্তনা চহি চা কয়াগী তুংগী মতম লেপকদৌরিবনি। চহি 10দগী হেন্না তাথবা মতমদা, মালেমগী শেন্মিৎলোনগী 10শুবা থাক্তা লৈরম্বদগী 5শুবা থাক্তা য়ৌখ্রে। 3শুবা থাক্তা লাক্নবা খোঙজেল য়াঙনা চঙশিল্লি।

 

ঙসিদি লৈবাক অসিদা মশাদা থাজবগী মতৌনা থল্লে। ভারত অসি মালেমগী মরুপ ওইবগী মতৌ অমা উবা ফংলক্লি। ঙসিদি, স্পেস নত্ত্রগা সমুদ্র ওইরো, হীরম খুদিংদা ভারতকী মপাঙ্গল উবা ফংলি। ঙসিদি, ভারত-মিদ্দল ইস্ত-য়ুরোপ কোরিদোরগী মতাংদা মালেম পুম্বনা ৱারি শান্নরি। ঐখোয়না থাইনগী মতমদা স্পাইস রুত অমা উখিবদো, মদুনা ভারতকী পাঙ্গলগী মপাঙ্গল লৈবা ফম্বাক অমা অমুক ওইগদৌরে। মালেম পুম্বনা ঙসিদি মেদ-ইন-ইন্দিয়াগী ৱারি শারি। তেজাস ফাইতর প্লেন নত্ত্রগা কিসান দ্রোন ওইরো, UPI সীস্তেম নত্ত্রগা চন্দ্রয়ান-3 ওইরো, হীরম খুদিং, সেক্তর খুদিংদা ভারতনা মীথোই মীহেল্লি। ঙসিদি, ভারত লান্মীশিংগী অয়াম্বা তঙাই ফদবশিং ভারত্তা শাবা খুৎলায়না মনিং থুংহনবা ঙম্লে। লৈবাক অসিদা ত্রান্সপোর্ত এয়রক্রাফ শাবগী থবক অহানবা ওইনা হৌরে। মমাংগী চহিমক্তদা, ঐহাক্না কোচীদা INS Vikrant, লৈবাক অসিদা শাজবা এয়রক্রাফ কেরিয়রবু নেভীগী মফমদা খুৎশিন্নখি, কম্মিসন তৌখি। INS Vikrant অসিনা আত্মানির্ভর ভারতকী চাউরবা খুদম অমা ওইরি। ঙসিদি, ভারত অসি মসিগুম্বা পাঙ্গল লৈবা খনগৎলবা লৈবাক খরগী মনুং চল্লবনি।

মরুপশিং,

হৌখিবা চহিশিংদা ঐখোয়না মমাংগী সরকারগী অরিবা ৱাখল্লোন অমবুসু হোংদোকখি। মমাংগী সরকারশিংনা ঐখোয়গী ঙমখৈ অমসুং সমুদ্র তোর্বান্দা তাবা খুঙ্গং, মফমশিংবু খ্বাইদগী অরোইবা মফম্নি হায়না খল্লম্মি। ঐখোয়গী ঙাক-শেল মন্ত্রীনা মসিগী মতাংদসু শন্দোক্না পাউদমখ্রে। মসিগুম্বা ৱাখল্লোন অসিনা মরম ওইরগা, হায়রিবা মফমশিংনা চাউখৎপদা থিন্থদুনা অমসুং খুদোংচাবা কয়া ৱাৎনা লৈরকখি। ঙসিদি, সমুদ্র তোর্বান্দা খুন্দাবা ইমুং খুদিংগী পুন্সি মহিং নুংঙাইহন্নবা কেন্দ্র সরকারনা অহেনবা মিৎয়েং চঙলি।

ফিশরী সেক্তরগীদমক্তা তোঙানবা মন্ত্রালয়া অমা ইং 2019দা শেমখিবা অসিদি ঐখোয়গী সরকারনি। ঐখোয়না সেক্তর অসিদা চাউরাক্না করোর লিশিং 40মুক থাদখ্রে। মসিনা মরম ওইদুনা, ইং 2014গী মতুংদগী, ভারতকী ঙা পুথোকপগী চাংদা চাদা 80 হেনগৎখ্রিবনি। ভারতকী ঙা এক্সপোর্তসু চাদা 110 হেন্না হেনগৎলে। ঐখোয়গী সরকারনা ঙামীশিংগী ইন্স্যুরেন্স কবরবু লাক্ষ 2দগী লাক্ষ 5তা হেনগৎখ্রবনি।

লৈবাক অসিদা খ্বাইদগী অহানবা ওইনা, ঙামীশিংনা কিসান ক্রেদিত কার্দসু ফংনখ্রে। সরকারনা ফিশরী সেক্তরগী ভেল্যু চেন শেমগৎপদসু অহেনবা মিৎয়েং চঙলি। ঙসিদি, সাগরমালা প্রোজেক্তকী মতেংদগী সমুদ্র তোর্বানশিংদা মতমগা চুনবা কন্নেক্তিবিতীদা অহেনবা মিৎয়েং চঙলি। মসিদা লুপা করোর লাক্ষ কয়াসু থাদরি, মসিগী পান্দমদি, সমুদ্র তোর্বান্দা অনৌবা ইন্দস্ত্রী, অনৌবা কারবার লাকহনবনি।

ঙা ওইরো, অনিশুবদা, সী ফুদ ওইরো, মালেমদা মসিগী দিমান্দ য়াম্না চাউনা লৈরি। মরম অদুনা, ঐখোয়না সী ফুদ প্রোসেসিংগা মরী লৈনবা ইন্দস্ত্রীশিংদা প্রাইওরিতী পীরি, ঙামীশিংগী শেন্থোক হেনগৎহন্নবা থৌরাং য়াৎলি। ঙামীশিংনা অরুবা সমুদ্রদা ঙা ফাবা ঙমহন্নবগীদমক্তা মখোয়গী হিশিংবু মতমগা চুনহন্নবা মখোয়দা তেংবাংসু পীরি।

মরুপশিং,

মসিগী কোঙ্কানীগী মফম অসিদি লোইনাইদ্রবা খুদোংচাবা কয়াগী মফম্নি। ঐখোয়গী সরকারনা সেক্তর অসিগী চাউখৎ থৌরাংগীদমক্তা খোঙফম চেৎনা থবক তৌরি। সিন্ধুদুর্গ, রত্নাগিরী, অলিবাগ, পর্ভনী অমসুং ধারাশিবদা মেদিকেল কোলেজ হাংদোক্লি। চিপী এয়রপোর্তসু হৌদোকখ্রে। দিল্লী-মুম্বাই ইন্দস্ত্রীএল কোরিদোরনা মানগাও ফাওবা শম্নরগনি।

মফমসিগী কাজু লৌমীশিংগী ওইনসু অখন্নবা স্কিম কয়া শেম্লি। ঐখোয়গী প্রাইওরিতীদি সমুদ্র তোর্বান্দা লৈরিবা মী তাবা মফমশিংবু ঙাক শেনবনি। মসিগীদমক্তা, মেংগ্রুবনা কোনবা মফম পাকথোক চাউথোকহন্নবা ঐখোয়না কন্না হোৎনরি। কেন্দ্র সরকারনা মসিগীদমক্তা ওইনসু অখন্নবা স্কিম অমা শেমখ্রে। মসিদা মালৱান, অচরা রত্নাগিরী, দেবগর-বিজয়দুর্গ য়াওনা মহারাস্ত্রগী তোঙান-তোঙানবা মফমশিংবু মেংগ্রুব মেনেজমেন্তকীদমক্তা খনগৎখ্রবনি।

মরুপশিং,

হেরিতেজসু কনগনি, চাউখৎপসু পুরক্কনি, মসিমক চাউখৎপা ভারতকী লম্বীনি। মরম অদুনা, লমদম অসিদা লৈরিবা ঐখোয়গী নীংথিরবা হেরিতেজপু ঙাক-শেন্নবা ঐখোয়না কন্না হোৎনরি। ছত্রপতি বীর শিবাজী মহারাজকী মতমদা দুর্গকুম্বা লানবন শাখিবশিং অসিবু ঙাক-শেন্নবগীদমক্তা কেন্দ্র অমসুং রাজ্য সরকারনা পুন্না হোৎনরি। কোঙ্কন য়াওনা, অপুনবা মহারাস্ত্রগী মসিগুম্বা হেরিতেজ ঙাক শেন্নবা লুপা করোর কয়া চাদিং তৌরি। লৈবাক পুম্বগী মীয়াম্না মসিগুম্বা চাউথোকচনীংঙাই ওইরবা ঐখোয়গী হেরিতেজ য়েংবা লাকহনবা ঐখোয়না পাম্মি। মসিদগী মফম অসিগী তুরিজমসু হেনগৎলক্কনি, থবক পীবসু হৌরক্কনি।

মরুপশিং,

ঐখোয়না মতাং অসিদগী হৌনা, বিকশিৎ ভারতকী খোঙচৎকী খোঙজেল য়াঙখৎহনগদবনি। লৈবাক্না তেক্ত কায়দবা, পাঙ্গল লৈবা অমসুং তৌবা ঙম্বগী মতিক চাউনা লৈবা চাউখৎপা ভারত অমা ওইহনগদবনি। অদুগা মরুপশিং, আর্মী নুমিৎ, এয়রফোর্স নুমিৎ অমসুং নেভী নুমিৎ অসি অয়াম্বা মতমদা দিল্লীদা পাংথোকপনি। অদুগা, দিল্লীগী অনকপদা লৈবা মীয়াম্না মসিদা শরুক য়াবনি, মখোয়গী মফমশিংদা অয়াম্বা থৌদোকশিং পাংথোকপনি। ঐহাক্না চৎনবী অসি হোংদোক্লে। হায়রিবা নুমিৎশিং লৈবাক্কী তোঙান-তোঙানবা মফমশিংদা পাংথোকহন্নবা ঐহাক্না হোৎনরি। থৌরাং অসিগী মখাদা, শেংলবা মফম অসিদা ঙসিগী নেভীগী নুমিৎ অসি পাংথোক্লিবনি।

মমাংগী চয়োলদগী হৌনা মীওই লিশিং কয়ানা মফমসিদা লাক্নরি হায়না ঐহাক্কী ইফমদা পাউদমখ্রে। লমম অসিবু লৈবাক্কী মীয়াম্না পাম্বা হেল্লগনি হায়বগী থাজবসু হৌজিক্তি ঐহাক্কী ইফমদা লৈরে। সিন্ধু দুর্গবু লাইনীংফম অমা ওইনা খনবগী মতৌসু লৈরক্লগনি। ঐখোয়গী শিবাজী মহারাজনা লানফমদা অচৌবা থৌদাং য়াখি। ঐখোয়না ঙসি চাউথোকচরিবা নেভীগী চৎনবী অসি মহাক্কী মরমদগী হৌদোকখিবনি। মসিগীদমক্তা লৈবাক মীয়াম্না চাউথোকচবা ফাওনগনি।

মরম অদুনা, ঐহাক্কী নেভীগী মরুপশিং, ঐখোয়গী ঙাক-শেল মন্ত্রীজী, ঙসিগী থৌরম অসিগীদমক্তা মফম অসিবু খনবগীদমক্তা ঐহাক্না থম্মোই শেংনা থাগৎচরি। ঙসি শীন লাঙলিবশিং অসি য়াম্না লুবা থবক্নি হায়বা ঐহাক খঙই, অদুবু, মসিনা লমদম অসিদা কান্নহনগনি, মীচম মীয়াম কয়ানা থৌরমসিদা শরুক য়ারি, মীরম লৈবাক্কী মীওই কয়াসু ঙসি ঐখোয়গী মরক্তা তিল্লরি। নেভীগী ৱাখল্লোন অসি ছত্রপতি শিবাজী মহারাজনা চহি চা কয়াগী মমাংদগী হৌদোক্লম্বনি হায়বা ৱাফম অসি মখোয়দা য়াম্না অনৌবা ওইনা থোক্কনি।

ভারত্তা খ্বাইদগী চাউবা গনতন্ত্রা চৎনবতা নত্তনা ভারতনা মদর ওফ দিমোক্রেসী ওই হায়বা ৱাফমসি G-20দগী মালেম্না খঙলে হায়বা ঐহাক চেৎনা থাজৈ। মান্নবা মতৌ ওইনা, ভারতনা নেভীগী ৱাখল্লোন হৌদোকখিবনি, পাঙ্গল হাপখিবনি অমসুং ঙসিদি মালেম্না ৱাফম অসিবুসু য়ারবনি। অদুনা, ঙসিগী থৌরম অসিদি মালেমগী থাক্তা অনৌবা ৱাখল্লোন অমা থোকপগী ফম্বাকসু ওইরবনি।

ঐহাক্না নেভীগী নুমিৎ অসিদা জৱান খুদিংমক, মখোয়গী ইমুং-মনুং অমসুং লৈবাক মীয়াম্বু হন্না হন্না থাগৎচবগা লোয়ননা য়াইফ পাউজেলসু পীজরি। ঐহাক্কা লোয়ননা অমুক্তা লাউমিন্নসি –

ভারত ইমানা – য়াইফরে!

ভারত ইমানা – য়াইফরে!

ভারত ইমানা – য়াইফরে!

ভারত ইমানা – য়াইফরে!

হন্না হন্না থাগৎচরি।

 

Explore More
৭৭শুবা নিংতম্বা নুমিৎ থৌরমদা লাল কিলাদগী প্রধান মন্ত্রী শ্রী নরেন্দ্র মোদীনা ৱা ঙাংখিবগী মপুংফাবা ৱারোল

Popular Speeches

৭৭শুবা নিংতম্বা নুমিৎ থৌরমদা লাল কিলাদগী প্রধান মন্ত্রী শ্রী নরেন্দ্র মোদীনা ৱা ঙাংখিবগী মপুংফাবা ৱারোল
Equity euphoria boosts mutual fund investor additions by 70% in FY24

Media Coverage

Equity euphoria boosts mutual fund investor additions by 70% in FY24
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of PM Modi's speech at public rally in Udhampur, Jammu & Kashmir
April 12, 2024
After several decades, it is the first time that Terrorism, Bandhs, stone pelting, border skirmishes are not the issues for the upcoming Lok Sabha elections in the state of JandK
For a Viksit Bharat, a Viksit JandK is imminent. The NC, PDP and the Congress parties are dynastic parties who do not wish for the holistic development of JandK
Abrogation of Article 370 has enabled equal constitutional rights for all, record increase in tourism and establishment of I.I.M. and I.I.T. for quality educational prospects in JandK
The I.N.D.I alliance have disregarded the culture as well as the development of India, and a direct example of this is the opposition and boycott of the Pran-Pratishtha of Shri Ram
In the advent of continuing their politics of appeasement, the leaders of I.N.D.I alliance lived in big bungalows but forced Ram Lalla to live in a tent

भारत माता की जय...भारत माता की जय...भारत माता की जय...सारे डुग्गरदेस दे लोकें गी मेरा नमस्कार! ज़ोर कन्ने बोलो...जय माता दी! जोर से बोलो...जय माता दी ! सारे बोलो…जय माता दी !

मैं उधमपुर, पिछले कई दशकों से आ रहा हूं। जम्मू कश्मीर की धरती पर आना-जाना पीछले पांच दशक से चल रहा है। मुझे याद है 1992 में एकता यात्रा के दौरान यहां जो आपने भव्य स्वागत किया था। जो सम्मान किया था। एक प्रकार से पूरा क्षेत्र रोड पर आ गया था। और आप भी जानते हैं। तब हमारा मिशन, कश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा फहराने का था। तब यहां माताओं-बहनों ने बहुत आशीर्वाद दिया था।

2014 में माता वैष्णों देवी के दर्शन करके आया था। इसी मैदान पर मैंने आपको गारंटी दी थी कि जम्मू कश्मीर की अनेक पीढ़ियों ने जो कुछ सहा है, उससे मुक्ति दिलाऊंगा। आज आपके आशीर्वाद से मोदी ने वो गारंटी पूरी की है। दशकों बाद ये पहला चुनाव है, जब आतंकवाद, अलगाववाद, पत्थरबाज़ी, बंद-हड़ताल, सीमापार से गोलीबारी, ये चुनाव के मुद्दे ही नहीं हैं। तब माता वैष्णो देवी यात्रा हो या अमरनाथ यात्रा, ये सुरक्षित तरीके से कैसे हों, इसको लेकर ही चिंताएं होती थीं। अगर एक दिन शांति से गया तो अखबार में बड़ी खबर बन जाती थी। आज स्थिति एकदम बदल गई है। आज जम्मू- कश्मीर में विकास भी हो रहा है और विश्वास भी बढ़ रहा है। इसलिए, आज जम्मू-कश्मीर के चप्पे-चप्पे में भी एक ही गूंज सुनाई दे रही है-फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

भाइयों और बहनों,

ये चुनाव सिर्फ सांसद चुनने भर का नहीं है, बल्कि ये देश में एक मजबूत सरकार बनाने का चुनाव है। सरकार मजबूत होती है तो जमीन पर चुनौतियों के बीच भी चुनौतियों को चुनौती देते हुए काम करके दिखाती है। दिखता है कि नहीं दिखता है...दिखता है कि नहीं दिखता है। यहां जो पुराने लोग हैं, उनको 10 साल पहले का मेरा भाषण याद होगा। यहीं मैंने आपसे कहा था कि आप मुझपर भरोसा कीजिए, याद है ना मैंने कहा था कि मुझ पर भरोसा कीजिए। मैं 60 वर्षों की समस्याओं का समाधान करके दिखाउंगा। तब मैंने यहां माताओं-बहनों के सम्मान देने की गारंटी दी थी। गरीब को 2 वक्त के खाने की चिंता न करनी पड़े, इसकी गारंटी दी थी। आज जम्मू-कश्मीर के लाखों परिवारों के पास अगले 5 साल तक मुफ्त राशन की गारंटी है। आज जम्मू कश्मीर के लाखों परिवारों के पास 5 लाख रुपए के मुफ्त इलाज की गारंटी है। 10 वर्ष पहले तक जम्मू कश्मीर के कितने ही गांव थे, जहां बिजली-पानी और सड़क तक नहीं थी। आज गांव-गांव तक बिजली पहुंच चुकी है। आज जम्मू-कश्मीर के 75 प्रतिशत से ज्यादा घरों को पाइप से पानी की सुविधा मिल रही है। इतना ही नहीं ये डिजिटल का जमाना है, डिजिटल कनेक्टिविटी चाहिए, मोबाइल टावर दूर-सुदूर पहाड़ों में लगाने का अभियान चलाया है। 

भाइयों और बहनों,

मोदी की गारंटी यानि गारंटी पूरा होने की गारंटी। आप याद कीजिए, कांग्रेस की कमज़ोर सरकारों ने शाहपुर कंडी डैम को कैसे दशकों तक लटकाए रखा था। जम्मू के किसानों के खेत सूखे थे, गांव अंधेरे में थे, लेकिन हमारे हक का रावी का पानी पाकिस्तान जा रहा था। मोदी ने किसानों को गारंटी दी थी और इसे पूरा भी कर दिखाया है। इससे कठुआ और सांबा के हजारों किसानों को फायदा हुआ है। यही नहीं, इस डैम से जो बिजली पैदा होगी, वो जम्मू कश्मीर के घरों को रोशन करेगी।

भाइयों और बहनों,

मोदी विकसित भारत के लिए विकसित जम्मू-कश्मीर के निर्माण की गारंटी दे रहा है। लेकिन कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी और बाकी सारे दल जम्मू-कश्मीर को फिर उन पुराने दिनों की तरफ ले जाना चाहते हैं। इन ‘परिवार-चलित’ पार्टियों ने, परिवार के द्वारा ही चलने वाली पार्टियों ने जम्मू कश्मीर का जितना नुकसान किया, उतना किसी ने नहीं किया है। यहां तो पॉलिटिकल पार्टी मतलब ऑफ द फैमिली, बाई द फैमिली, फॉर द फैमिली। सत्ता के लिए इन्होंने जम्मू कश्मीर में 370 की दीवार बना दी थी। जम्मू-कश्मीर के लोग बाहर नहीं झांक सकते थे और बाहर वाले जम्मू-कश्मीर की तरफ नहीं झांक सकते थे। ऐसा भ्रम बनाकर रखा था कि उनकी जिंदगी 370 है तभी बचेगी। ऐसा झूठ चलाया। ऐसा झूठ चलाया। आपके आशीर्वाद से मोदी ने 370 की दीवार गिरा दी। दीवार गिरा दी इतना ही नहीं, उसके मलबे को भी जमीन में गाड़ दिया है मैंने। 

मैं चुनौती देता हूं हिंदुस्तान की कोई पॉलीटिकल पार्टी हिम्मत करके आ जाए। विशेष कर मैं कांग्रेस को चुनौती देता हूं। वह घोषणा करें कि 370 को वापस लाएंगे। यह देश उनका मुंह तक देखने को तैयार नहीं होगा। यह कैसे-कैसे भ्रम फैलाते हैँ। कैसे-कैसे लोगों को डरा कर रखते हैं। यह कहते थे, 370 हटी तो आग लग जाएगी। जम्मू-कश्मीर हमें छोड़ कर चला जाएगा। लेकिन जम्मू कश्मीर के नौजवानों ने इनको आइना दिखा दिया। अब देखिए, जब यहां उनकी नहीं चली जम्मू-कश्मीर को लोग उनकी असलीयत को जान गए। अब जम्मू-कश्मीर में उनके झूठे वादे भ्रम का मायाजाल नहीं चल पा रही है। तो ये लोग जम्मू-कश्मीर के बाहर देश के लोगों के बीच भ्रम फैलाने का खेल-खेल रहे हैं। यह कहते हैं कि 370 हटने से देश का कोई लाभ नहीं हुआ। जिस राज्य में जाते हैं, वहां भी बोलते हैं। तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ, तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ? 

370 के हटने से क्या लाभ हुआ है, वो जम्मू-कश्मीर की मेरी बहनों-बेटियों से पूछो, जो अपने हकों के लिए तरस रही थी। यह उनका भाई, यह उनका बेटा, उन्होंने उनके हक वापस दिए हैं। जरा कांग्रेस के लोगों जरा देश भर के दलित नेताओं से मैं कहना चाहता हूं। यहां के हमारे दलित भाई-बहन हमारे बाल्मीकि भाई-बहन देश आजाद हुआ, तब से परेशानी झेल रहे थे। जरा जाकर उन बाल्मीकि भाई-बहनों से पूछो और गड्डा ब्राह्मण, कोहली से पूछो और पहाड़ी परिवार हों, मचैल माता की भूमि में रहने वाले मेरे पाड्डरी साथी हों, अब हर किसी को संविधान में मिले अधिकार मिलने लगे हैं।

अब हमारे फौजियों की वीर माताओं को चिंता नहीं करनी पड़ती, क्योंकि पत्थरबाज़ी नहीं होती। इतना ही नहीं घाटी की माताएं मुझे आशीर्वाद देती हैं, उनको चिंता रहती थी कि बेटा अगर दो चार दिन दिखाई ना दे। तो उनको लगता था कि कहीं गलत हाथों में तो नहीं फंस गया है। आज कश्मीर घाटी की हर माता चैन की नींद सोती है क्योंकि अब उनका बच्चा बर्बाद होने से बच रहा है। 

साथियो, 

अब स्कूल नहीं जलाए जाते, बल्कि स्कूल सजाए जाते हैं। अब यहां एम्स बन रहे हैं, IIT बन रहे हैं, IIM बन रहे हैं। अब आधुनिक टनल, आधुनिक और चौड़ी सड़कें, शानदार रेल का सफर जम्मू-कश्मीर की तकदीर बन रही है। जम्मू हो या कश्मीर, अब रिकॉर्ड संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु आने लगे हैं। ये सपना यहां की अनेक पीढ़ियों ने देखा है और मैं आपको गारंटी देता हूं कि आपका सपना, मोदी का संकल्प है। आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल आपके नाम, आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल देश के नाम, विकसित भारत का सपना पूरा करने के लिए 24/7, 24/74 फॉर 2047, यह मोदी के गारंटी है। 10 सालों में हमने आतंकवादियों और भ्रष्टाचारियों पर घेरा बहुत ही कसा है। अब आने वाले 5 सालों में इस क्षेत्र को विकास की नई ऊंचाई पर ले जाना है।

साथियों,

सड़क, बिजली, पानी, यात्रा, प्रवास वो तो है। सबसे बड़ी बात है कि जम्मू-कश्मीर का मन बदला है। निराशा में से आशा की और बढ़े हैं। जीवन पूरी तरीके से विश्वास से भरा हुआ है, इतना विकास यहां हुआ है। चारों तरफ विकास हो रहा। लोग कहेंगे, मोदी जी अभी इतना कर लिया। चिंता मत कीजिए, हम आपके साथ हैं। आपका साथ उसके प्रति तो मेरा अपार विश्वास है। मैं यहां ना आता तो भी मुझे पता था कि जम्मू कश्मीर का मेरा नाता इतना गहरा है कि आप मेरे लिए मुझे भी ज्यादा करेंगे। लेकिन मैं तो आया हूं। मां वैष्णो देवी के चरणों में बैठे हुए आप लोगों के बीच दर्शन करने के लिए। मां वैष्णो देवी की छत्रछाया में जीने वाले भी मेरे लिए दर्शन की योग्य होते हैं और जब लोग कहते हैं, कितना कर लिया, इतना हो गया, इतना हो गया और इससे ज्यादा क्या कर सकते हैं। मेरे जम्मू कश्मीर के भाई-बहन अपने पहले इतने बुरे दिन देखे हैं कि आपको यह सब बहुत लग रहा है। बहुत अच्छा लग रहा है लेकिन जो विकास जैसा लग रहा है लेकिन मोदी है ना वह तो बहुत बड़ा सोचता है। यह मोदी दूर का सोचता है। और इसलिए अब तक जो हुआ है वह तो ट्रेलर है ट्रेलर। मुझे तो नए जम्मू कश्मीर की नई और शानदार तस्वीर बनाने के लिए जुट जाना है। 

वो समय दूर नहीं जब जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा के चुनाव होंगे। जम्मू कश्मीर को वापस राज्य का दर्जा मिलेगा। आप अपने विधायक, अपने मंत्रियों से अपने सपने साझा कर पाएंगे। हर वर्ग की समस्याओं का तेज़ी से समाधान होगा। यहां जो सड़कों और रेल का काम चल रहा है, वो तेज़ी से पूरा होगा। देश-विदेश से बड़ी-बड़ी कंपनियां, बड़ी-बड़ी फैक्ट्रियां औऱ ज्यादा संख्या में आएंगी। जम्मू कश्मीर, टूरिज्म के साथ ही sports और start-ups के लिए जाना जाएगा, इस संकल्प को लेकर मुझे जम्मू कश्मीर को आगे बढ़ाना है। 

भाइयों और बहनों,

ये ‘परिवार-चलित’ परिवारवादी , परिवार के लिए जीने मरने वाली पार्टियां, विकास की भी विरोधी है और विरासत की भी विरोधी है। आपने देखा होगा कि कांग्रेस राम मंदिर से कितनी नफरत करती है। कांग्रेस और उनकी पूरा इको सिस्टम अगर मुंह से कहीं राम मंदिर निकल गया। तो चिल्लाने लग जाती है, रात-दिन चिल्लाती है कि राम मंदिर बीजेपी के लिए चुनावी मुद्दा है। राम मंदिर ना चुनाव का मुद्दा था, ना चुनाव का मुद्दा है और ना कभी चुनाव का मुद्दा बनेगा। अरे राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था, जब कि भाजपा का जन्म भी नहीं हुआ था। राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था जब यहां अंग्रेजी सल्तनत भी नहीं आई थी। राम मंदिर का संघर्ष 500 साल पुराना है। जब कोई चुनाव का नामोनिशान नहीं था। जब विदेशी आक्रांताओं ने हमारे मंदिर तोड़े, तो भारत के लोगों ने अपने धर्मस्थलों को बचाने की लड़ाई लड़ी थी। वर्षों तक, लोगों ने अपनी ही आस्था के लिए क्या-क्या नहीं झेला। कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों के नेता बड़े-बड़े बंगलों में रहते थे, लेकिन जब रामलला के टेंट बदलने की बात आती थी तो ये लोग मुंह फेर लेते थे, अदालतों की धमकियां देते थे। बारिश में रामलला का टेंट टपकता रहता था और रामलला के भक्त टेंट बदलवाने के लिए अदालतों के चक्कर काटते रहते थे। ये उन करोड़ों-अरबों लोगों की आस्था पर आघात था, जो राम को अपना आराध्य कहते हैं। हमने इन्हीं लोगों से कहा कि एक दिन आएगा, जब रामलला भव्य मंदिर में विराजेंगे। और तीन बातें कभी भूल नहीं सकते। एक 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद ये हुआ। आप सहमत हैं। 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद हुआ है, आप सहमत हैं। दूसरा, पूरी न्यायिक प्रक्रिया की कसौटी से कस करके, न्याय के तराजू से तौल करके अदालत के निर्णय से ये काम हुआ है, सहमत हैं। तीसरा, ये भव्य राम मंदिर सरकारी खजाने से नहीं, देश के कोटि-कोटि नागरिकों ने पाई-पाई दान देकर बनाया है। सहमत हैं। 

जब उस मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा हुई तो पिछले 70 साल में कांग्रेस ने जो भी पाप किए थे, उनके साथियों ने जो रुकावटें डाली थी, सबको माफ करके, राम मंदिर के जो ट्रस्टी हैं, वो खुद कांग्रेस वालों के घर गए, इंडी गठबंधन वालों के घर गए, उनके पुराने पापों को माफ कर दिया। उन्होंने कहा राम आपके भी हैं, आप प्राण-प्रतिष्ठा में जरूर पधारिये। सम्मान के साथ बुलाया। लेकिन उन्होंने इस निमंत्रण को भी ठुकरा दिया। कोई बताए, वो कौन सा चुनावी कारनामा था, जिसके दबाव में आपने राम मंदिर के प्राण-प्रतिष्ठा के निमंत्रण को ठुकरा दिया। वो कौन सा चुनावी खेल था कि आपने प्राण-प्रतिष्ठा के पवित्र कार्य को ठुकरा दिया। और ये कांग्रेस वाले, इंडी गठबंधन वाले इसे चुनाव का मुद्दा कहते हैं। उनके लिए ये चुनावी मुद्दा था, देश के लिए ये श्रद्धा का मुद्दा था। ये धैर्य की विजय का मुद्दा था। ये आस्था और विश्वास का मु्द्दा था। ये 500 वर्षों की तपस्या का मुद्दा था।

मैं कांग्रेस से पूछता हूं...आप ने अपनी सरकार के समय दिन-रात इसका विरोध किया, तब ये किस चुनाव का मुद्दा था? लेकिन आप राम भक्तों की आस्था देखिए। मंदिर बना तो ये लोग इंडी गठबंधन वालें के घर प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण देने खुद गए। जिस क्षण के लिए करोड़ों लोगों ने इंतजार किया, आप बुलाने पर भी उसे देखने नहीं गए। पूरी दुनिया के रामभक्तों ने आपके इस अहंकार को देखा है। ये किस चुनावी मंशा को देखा है। ये चुनावी मंशा थी कि आपने प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण ठुकरा दिया। आपके लिए चुनाव का खेल है। ये किस तरह की तुष्टिकरण की राजनीति थी। भगवान राम को काल्पनिक कहकर कांग्रेस किसे खुश करना चाहती थी?

साथियों, 

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के लोगों को देश के ज्यादातर लोगों की भावनाओं की कोई परवाह नहीं है। इन्हें लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने में मजा आता है। ये लोग सावन में एक सजायाफ्ता, कोर्ट ने जिसे सजा की है, जो जमानत पर है, ऐसे मुजरिम के घर जाकर के सावन के महीने में मटन बनाने का मौज ले रहे हैं इतना ही नहीं उसका वीडियो बनाकर के देश के लोगों को चिढ़ाने का काम करते हैं। कानून किसी को कुछ खाने से नहीं रोकता। ना ही मोदी रोकता है। सभी को स्वतंत्रता है की जब मन करें वेज खायें या नॉन-वेज खाएं। लेकिन इन लोगों की मंशा दूसरी होती है। जब मुगल यहां आक्रमण करते थे ना तो उनको सत्ता यानि राजा को पराजित करने से संतोष नहीं होता था, जब तक मंदिर तोड़ते नहीं थे, जब तक श्रद्धास्थलों का कत्ल नहीं करते थे, उसको संतोष नहीं होता था, उनको उसी में मजा आता था वैसे ही सावन के महीने में वीडियो दिखाकर वो मुगल के लोगों के जमाने की जो मानसिकता है ना उसके द्वारा वो देश के लोगों को चिढ़ाना चाहते हैं, और अपनी वोट बैंक पक्की करना चाहते हैं। ये वोट बैंक के लिए चिढ़ाना चाहते हैं । आप किसे चिढ़ाना चाहते हैंनवरात्र के दिनों में आपका नॉनवेज खाना,  आप किस मंशा से वीडियो दिखा-दिखा कर के लोगों की भावनाओं को चोट पहुंचा करके, किसको खुश करने का खेल कर रहे हो।  

मैं जानता हूं मैं  जब आज ये  बोल रहा हूं, उसके बाद ये लोग पूरा गोला-बारूद लेकर गालियों की बौछार मुझ पर चलाएंगे, मेरे पीछे पड़ जाएंगे। लेकिन जब बात  बर्दाश्त के बाहर हो जाती है, तो लोकतंत्र में मेरा दायित्व बनता है कि सही चीजों का सही पहलू बताऊं। और मैं वो अपना कर्तव्य पूरा कर रहा हूं। ये लोग ऐसा जानबूझकर इसलिए करते हैं ताकि इस देश की मान्यताओं पर हमला हो। ये इसलिए होता है, ताकि एक बड़ा वर्ग इनके वीडियो को देखकर चिढ़ता रहे, असहज होता रहे। समस्या इस अंदाज से है। तुष्टिकरण से आगे बढ़कर ये इनकी मुगलिया सोच है। लेकिन ये लोग नहीं जानते, जनता जब जवाब देती है तो बड़े-बड़े शाही खानदान के युवराजों को बेदखल होना पड़ता है।

साथियों, 

ये जो परिवार-चलित पार्टियां हैं, ये जो भ्रष्टाचारी हैं, अब इनको फिर मौका नहीं देना है। उधमपुर से डॉ. जितेंद्र सिंह और जम्मू से जुगल किशोर जी को नया रिकॉर्ड बनाकर सांसद भेजना है। जीत के बाद दोबारा जब उधमपुर आऊं तो, स्वादिष्ट कलाड़ी का आनंद ज़रूर लूंगा। आपको मेरा एक काम और करना है। इतना निकट आकर मैं माता वैष्णों देवी जा नहीं पा रहा हूं। तो माता वैष्णों देवी को क्षमा मांगिए और मेरी तरफ से मत्था टेकिए। दूसरा एक काम करोगे। एक और काम करोगे, मेरा एक और काम करोगे, पक्का करोगे। देखिए आपको घर-घर जाना है। कहना मोदी जी उधमपुर आए थे, मोदी जी ने आपको प्रणाम कहा है, राम-राम कहा है। जय माता दी कहा है, कहोगे। मेरे साथ बोलिए

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय ! 

बहुत-बहुत धन्यवाद