പങ്കിടുക
 
Comments
“Double-engine government has brought double speed in the development works''
“The Kisan Credit Card has made life a lot easier, especially for our animal husbandry workers and the fishermen community”
“Government has taken the initiative not just for the seaports but is executing port-led development”
“Government is helping the youth at every step of entrepreneurship”
“Growing infrastructure is promoting tourism in a big way”
“Some political parties have made abusing Gujarat their political ideology”
“We will not allow the dilution of the spirit of ‘Ek Bharat Shreshtha Bharat’ and dreams of Sardar Patel”

The Prime Minister, Shri Narendra Modi laid the foundation stone of various development projects worth around Rs 3580 crore in Junagadh, Gujarat today. These projects in Junagadh include the improvement of coastal highways along with the construction of missing links, two water supply projects and the construction of a godown complex for storage of Agri products. The Prime Minister also laid the foundation stone for the holistic development of Shri Krishan Rukshamani Mandir, Madhavpur and sewage and water supply projects and for maintenance dredging at Porbandar Fishery Harbour. At Gir Somnath, the Prime Minister laid the foundation stone of two projects, including the development of a fishing port at Madhwad.

Addressing the gathering, the Prime Minister on a lighter note said that Diwali and Dhanteras have arrived early and the preparations for new year celebrations are already underway for the people of Junagadh. Extending gratitude to everyone present on occasion, the Prime Minister thanked the people for their blessings. The Prime Minister expressed happiness for dedicating and laying the foundation stones of projects that were worth more than the state’s budget in earlier times. He said that this is all due to the blessings of the people of Gujarat.

The Prime Minister termed the area comprising Junagadh, Gir Somnath and Porbandar as the tourism capital of Gujarat. He said the projects that are being planned today will create huge opportunities for employment and self-employment. “My chest swells with pride today”, the Prime Minister remarked and credited it to the people of Gujarat and their blessings. The Prime Minister highlighted that even after he left Gujarat to take up responsibilities at the Centre, it was the team of Chief Minister Bhupendra Patel who took care of Gujarat with the same set of values and traditions. “Today, Gujarat is developing at a rapid pace”, the Prime Minister said,

He recalled the tough times of drought and migration from the region. He said even nature helps the people who work with dedication and authenticity as in the last two decades climate adversities also got reduced. “With people’s blessing on the one hand and nature’s support on the other, it is a pleasure to spend one’s life in the service of people”, the Prime Minister said. Maa Narmada, the Prime Minister pointed out, was a distant place of pilgrimage, with the hard work of people, Maa Narmada has reached villages of Saurashtra to give her blessings. The Prime Minister lauded the farmers of Junagadh for promoting natural farming with full dedication. The Prime Minister highlighted that the taste of Kesar Mangoes grown in Gujarat is reaching every part of the world.

Speaking about the vast coastal regions of India, the Prime Minister pointed out that a large chunk of India's coastline belongs to Gujarat. Recalling the past governments that treated the seas like a burden and its fresh air poison, Shri Modi interjected that times have now changed. “The same seas that were considered as adversity are now reaping the benefits of our efforts.” The Rann of Kutch which was marred by troubles is now leading the way forward for the development of Gujarat, the Prime Minister added. The Prime Minister remarked that the resolve he took for the development of Gujarat 25 years ago has now come to fruition.

The Prime Minister recalled that, as Chief Minister, he had launched the Sagar Khedu scheme for the welfare, security, amenities and infrastructure for the fishermen community. Due to these efforts, fish export from the state increased seven times. He remembered an instance with a Japanese delegation during his Chief Minister days when the delegation members asked to stop the presentation on the fisheries initiatives, as they could not control themselves after seeing the famous surmai fish on the screen and asked for a taste. Surmai fish is now well known in the Japanese market and substantial export takes place every year, he informed. “Double-engine government has brought double speed in the development works”, the Prime Minister said. Today itself, work started on three fishing harbours.

The Prime Minister informed that for the first time ever farmers, animal husbandry workers and Sagar Khedu fishermen were connected to the services of Kisan Credit cards scheme and it simplified the process of availing a loan from the bank. “As a result, 3.5 crore beneficiaries are availing of its services,” Shri Modi added. The Prime Minister informed that it empowered the poor and needy of society to build a better future for themselves and their families. He further added that the interest would be waived off for those beneficiaries who repaid their loans on time. “The Kisan Credit Card has made life a lot easier, especially for our animal husbandry workers and the fishermen community”, the Prime Minister said.

“In the last two decades”, the Prime Minister continued, “the tremendous development of the seaports has opened the floodgates of prosperity for Gujarat. It has opened up new possibilities for Gujarat.” Throwing light on the Sagar Mala Scheme, the Prime Minister informed that the government has taken the initiative to embolden the infrastructure on the coasts of India by not just developing the seaports but by executing port-led development. “The coasts have Gujarat have witnessed many new projects based on this”, the Prime Minister continued, “Apart from Junagadh, the new Coastal Highway is going to pass through many districts of Porbandar, Jamnagar, Devbhoomi Dwarka, Morbi to Central and South Gujarat which will strengthen the connectivity of the entire coastline of Gujarat.”

The Prime Minister praised the tremendous work done by the mothers and sisters of the state and said that they become a protective shield. Highlighting the efforts of the Central Government towards women-led development in the last 8 years, the Prime Minister said that steps have been ensured at every level to make the lives of mothers and sisters easier. The Prime Minister pointed out the improving the health and respect of women and credited it to the construction of crores of toilets under Swachh Bharat Abhiyan. The Prime Minister mentioned that Ujjwala Yojana is helping the women not just by saving them time but also improving their health as well as the health of the entire family. The Prime Minister brushed off the times of previous governments who would celebrate after delivering a few water handpumps in a village with pomp and show and interjected, “Today your son is delivering piped water to every household.” Highlighting the Pradhan Mantri Matri Vandana Yojna, the Prime Minister informed that thousands of forms of help are being given to mothers during pregnancy through, so that they can eat nutritious food. “Most of the houses that our government is giving under the PM Awas Yojana are in the name of women”, he added “Today our government is giving wide expansion to women entrepreneurship in village-village through self-help groups. More than 8 crore sisters across the country are associated with self-help groups, of which lakhs are from Gujarat. Similarly, many sisters have become entrepreneurs for the first time under the Mudra Yojana.

Speaking about the emphasis on the youth of the country, the Prime Minister said that for the last 8 years, we have taken many steps to enhance the potential of the youth across the country including Gujarat. Efforts are being made to create new opportunities in every aspect from education to employment and self-employment. Today the government is helping the youth at every step of entrepreneurship. Speaking about the DefExpo2022 that the Prime Minister inaugurated in Gandhinagar earlier in the day, the Prime Minister said that the day is not far when Gujarat will be manufacturing tanks.

The Prime Minister also highlighted the strides made by the state in the education field. He said, during the last 8 years hundreds of universities opened in the country. Gujarat is witnessing the opening of many quality institutions of higher education. New National Education Policy is bringing new opportunities in Gujarati language. Similarly, digital developments are creating new opportunities for the youth of Gujarat. “Digital India has given new opportunities to the youth of Gujarat to hone their various talents, This has created new employment opportunities. The youth have access to the big market. And this is happening because of cheap Made in India mobile phones and cheap data facilities”, he said.

The Prime Minister pointed out that growing infrastructure is promoting tourism in a big way. He said one of the biggest ropeways is functional now in the area. The Prime Minister said after many years, in April this year, flights have started again from Keshod Airport. When Keshod Airport is further developed, when it becomes a cargo facility, it will be easier to ship out our fruits, vegetables, fish and other products from here. With the expansion of Keshod Airport, the country and the world will get more access to all such places here, the tourism here will increase further, he added.

The Country rejoices as one in the national achievements in space, science or sports fields, however, the Prime Minister lamented the growing tendency to politicize the achievements of Gujarat and its people by certain sections. “Some political parties have made abusing Gujarat their political ideology”, the Prime Minister said. We will never tolerate the insult of Gujaratis or for that matter people of any state of the country, he emphasized. We should not allow the dilution of the spirit of ‘Ek Bharat Shreshtha Bharat’ and the dreams of Sardar Patel. He stressed the need to convert cynicism into hope and counter falsehood through development. He said Gujarat’s unity is its strength.

Chief Minister of Gujarat, Shri Bhupendra Patel, Members of Parliament, Shri Rajeshbhai Chudasama and Shri Ramesh Dhaduk, and Ministers from Gujarat Government, Shri Rushikesh Patel and Shri Devabhai Malam were those present on the occasion among others.

Background

The Prime Minister laid the foundation stone for the improvement of coastal highways along with the construction of missing links. In the first phase of this project, a total highway length of over 270 Km will be covered across 13 districts.

Prime Minister will lay the foundation stone of two water supply projects and for the construction of a godown complex for storage of Agri products at Junagadh. At Porbandar, Prime Minister laid the foundation stone for the holistic development of Shri Krishan Rukshamani Mandir, Madhavpur. He also laid the foundation stone of sewage and water supply projects and for maintenance dredging at Porbandar Fishery Harbour. At Gir Somnath, the Prime Minister laid the foundation stone of two projects, including the development of a fishing port at Madhwad.

Click here to read full text speech

Explore More
76-ാം സ്വാതന്ത്ര്യ ദിനത്തില്‍ പ്രധാനമന്ത്രി ചുവപ്പു കോട്ടയുടെ കൊത്തളത്തിൽ നിന്ന് നടത്തിയ പ്രസംഗത്തിന്റെ പൂർണ്ണരൂപം

ജനപ്രിയ പ്രസംഗങ്ങൾ

76-ാം സ്വാതന്ത്ര്യ ദിനത്തില്‍ പ്രധാനമന്ത്രി ചുവപ്പു കോട്ടയുടെ കൊത്തളത്തിൽ നിന്ന് നടത്തിയ പ്രസംഗത്തിന്റെ പൂർണ്ണരൂപം
India's 1.4 bn population could become world economy's new growth engine

Media Coverage

India's 1.4 bn population could become world economy's new growth engine
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of PM's speech at NCC Rally at the Cariappa Parade Ground in Delhi
January 28, 2023
പങ്കിടുക
 
Comments
“You represent ‘Amrit Generation’ that will create a Viksit and Aatmnirbhar Bharat”
“When dreams turn into resolution and a life is dedicated to it, success is assured. This is the time of new opportunities for the youth of India”
“India’s time has arrived”
“Yuva Shakti is the driving force of India's development journey”
“When the country is brimming with the energy and enthusiasm of the youth, the priorities of that country will always be its young people”
“This a time of great possibilities especially for the daughters of the country in the defence forces and agencies”

केंद्रीय मंत्रिमंडल के मेरे सहयोगी श्रीमान राजनाथ सिंह जी, श्री अजय भट्ट जी, सीडीएस अनिल चौहान जी, तीनों सेनाओं के प्रमुख, रक्षा सचिव, डीजी एनसीसी और आज विशाल संख्या में पधारे हुए सभी अतिथिगण और मेरे प्यारे युवा साथियों!

आजादी के 75 वर्ष के इस पड़ाव में एनसीसी भी अपनी 75वीं वर्षगांठ मना रहा है। इन वर्षों में जिन लोगों ने एनसीसी का प्रतिनिधित्व किया है, जो इसका हिस्सा रहे हैं, मैं राष्ट्र निर्माण में उनके योगदान की सराहना करता हूं। आज इस समय मेरे सामने जो कैडेट्स हैं, जो इस समय NCC में हैं, वो तो और भी विशेष हैं, स्पेशल हैं। आज जिस प्रकार से कार्यक्रम की रचना हुई है, सिर्फ समय नहीं बदला है, स्वरूप भी बदला है। पहले की तुलना में दर्शक भी बहुत बड़ी मात्रा में हैं। और कार्यक्रम की रचना भी विविधताओं से भरी हुई लेकिन ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ के मूल मंत्र को गूंजता हुआ हिन्दुस्तान के कोने-कोने में ले जाने वाला ये समारोह हमेशा-हमेशा याद रहेगा। और इसलिए मैं एनसीसी की पूरी टीम को उनके सभी अधिकारी और व्यवस्थापक सबको हृदय से बहुत-बहुत बधाई देता हूं। आप एनसीसी कैडेट्स के रूप में भी और देश की युवा पीढ़ी के रूप में भी, एक अमृत पीढ़ी का प्रतिनिधित्व करते हैं। ये अमृत पीढ़ी, आने वाले 25 वर्षों में देश को एक नई ऊंचाई पर ले जाएगी, भारत को आत्मनिर्भर बनाएगी, विकसित बनाएगी।

साथियों,

देश के विकास में NCC की क्या भूमिका है, आप सभी कितना प्रशंसनीय काम कर रहे हैं, ये हमने थोड़ी देर पहले यहां देखा है। आप में से एक साथी ने मुझे यूनिटी फ्लेम सौंपी। आपने हर दिन 50 किलोमीटर की दौड़ लगाते हुए, 60 दिनों में कन्याकुमारी से दिल्ली की ये यात्रा पूरी की है। एकता की इस लौ से ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ की भावना सशक्त हो, इसके लिए बहुत से साथी इस दौड़ में शामिल हुए। आपने वाकई बहुत प्रशंसनीय काम किया है, प्रेरक काम किया है। यहां आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया। भारत की सांस्कृतिक विविधता, आपके कौशल और कर्मठता के इस प्रदर्शन में और इसके लिए भी मैं आपको जितनी बधाई दूं, उतनी कम है।

साथियों,

आपने गणतंत्र दिवस की परेड में भी हिस्सा लिया। इस बार ये परेड इसलिए भी विशेष थी, क्योंकि पहली बार ये कर्तव्य पथ पर हुई थी। और दिल्ली का मौसम तो आजकल ज़रा ज्यादा ही ठंडा रहता है। आप में से अनेक साथियों को शायद इस मौसम की आदत भी नहीं होगी। फिर भी मैं आपको दिल्ली में कुछ जगह ज़रूर घूमने का आग्रह करुंगा, समय निकालेंगे ना। देखिए नेशनल वॉर मेमोरियल, पुलिस मेमोरियल अगर आप नहीं गए हैं, तो आपको जरूर जाना चाहिए। इसी प्रकार लाल किले में नेताजी सुभाष चंद्र बोस म्यूजियम में भी आप अवश्य जाएं। आज़ाद भारत के सभी प्रधानमंत्रियों से परिचय कराता एक आधुनिक PM-म्यूजियम भी बना है। वहां आप बीते 75 वर्षों में देश की विकास यात्रा के बारे में जान-समझ सकते हैं। आपको यहां सरदार वल्लभभाई पटेल का बढ़िया म्यूजियम देखने को मिलेगा, बाबा साहब अंबेडकर का बहुत बढ़िया म्यूजियम देखने को मिलेगा, बहुत कुछ है। हो सकता है, इन जगहों में से आपको कोई ना कोई प्रेरणा मिले, प्रोत्साहन मिले, जिससे आपका जीवन एक निर्धारत लक्ष्य को लेकर के कुछ कर गुजरने के लिए चल पड़े, आगे बढ़ता ही बढ़ता चला जाए।

मेरे युवा साथियों,

किसी भी राष्ट्र को चलाने के लिए जो ऊर्जा सबसे अहम होती है, वो ऊर्जा है युवा। अभी आप उम्र के जिस पड़ाव पर है, वहां एक जोश होता है, जुनून होता है। आपके बहुत सारे सपने होते हैं। और जब सपने संकल्प बन जाएं और संकल्प के लिए जीवन जुट जाए तो जिंदगी भी सफल हो जाती है। और भारत के युवाओं के लिए ये समय नए अवसरों का समय है। हर तरफ एक ही चर्चा है कि भारत का समय आ गया है, India’s time has arrived. आज पूरी दुनिया भारत की तरफ देख रही है। और इसके पीछे सबसे बड़ी वजह आप हैं, भारत के युवा हैं। भारत का युवा आज कितना जागरूक है, इसका एक उदाहरण मैं आज जरूर आपको बताना चाहता हूं। ये आपको पता है कि इस वर्ष भारत दुनिया की 20 सबसे ताकतवर अर्थव्यवस्थाओं के समूह, G-20 की अध्यक्षता कर रहा है। मैं तब हैरान रह गया, जब देशभर के अनेक युवाओं ने मुझे इसको लेकर के चिट्ठियां लिखीं। देश की उपलब्धियों और प्राथमिकताओं को लेकर आप जैसे युवा जिस प्रकार से रुचि ले रहे हैं, ये देखकर सचमुच में बहुत गर्व होता है।

साथियों,

जिस देश के युवा इतने उत्साह और जोश से भरे हुए हों, उस देश की प्राथमिकता सदैव युवा ही होंगे। आज का भारत भी अपने सभी युवा साथियों के लिए वो प्लेटफॉर्म देने का प्रयास कर रहा है, जो आपके सपनों को पूरा करने में मदद कर सके। आज भारत में युवाओं के लिए नए-नए सेक्टर्स खोले जा रहे हैं। भारत की डिजिटल क्रांति हो, भारत की स्टार्ट-अप क्रांति हो, इनोवेशन क्रांति हो, इन सबका सबसे बड़ा लाभ युवाओं को ही तो हो रहा है। आज भारत जिस तरह अपने डिफेंस सेक्टर में लगातार रिफॉर्म्स कर रहा है, उसका लाभ भी देश के युवाओं को हो रहा है। एक समय था, जब हम असॉल्ट राइफल और बुलेट प्रूफ जैकेट तक विदेशों से मंगवाते थे। आज सेना की ज़रूरत के सैकड़ों ऐसे सामान हैं, जो हम भारत में बना रहे हैं। आज हम अपने बॉर्डर इंफ्रास्ट्रक्चर पर भी बहुत तेज़ी से काम कर काम रहे हैं। ये सारे अभियान, भारत के युवाओं के लिए नई संभावनाएं लेकर के आए हैं, अवसर लेकर के आए हैं।

साथियों,

जब हम युवाओं पर भरोसा करते हैं, तब क्या परिणाम आता है, इसका एक उत्तम उदाहरण हमारा स्पेस सेक्टर है। देश ने स्पेस सेक्टर के द्वार युवा टैलेंट के लिए खोल दिए। और देखते ही देखते पहला प्राइवेट सैटेलाइट लॉन्च किया गया। इसी प्रकार एनीमेशन और गेमिंग सेक्टर, प्रतिभाशाली युवाओं के लिए अवसरों का विस्तार लेकर आया है। आपने ड्रोन का उपयोग या तो खुद किया होगा, या फिर किसी दूसरे को करते हुए देखा होगा। अब तो ड्रोन का ये दायरा भी लगातार बढ़ रहा है। एंटरटेनमेंट हो, लॉजिस्टिक हो, खेती-बाड़ी हो, हर जगह ड्रोन टेक्नॉलॉजी आ रही है। आज देश के युवा हर प्रकार का ड्रोन भारत में तैयार करने के लिए आगे आ रहे हैं।

साथियों,

मुझे एहसास है कि आप में से अधिकतर युवा हमारी सेनाओं से, हमारे सुरक्षा बलों से, एजेंसियों से जुड़ने की आकांक्षा रखते हैं। ये निश्चित रूप से आपके लिए, विशेष रूप से हमारी बेटियों के लिए भी बहुत बड़े अवसर का समय है। बीते 8 वर्षों में पुलिस और अर्धसैनिक बलों में बेटियों की संख्या में लगभग दोगुनी वृद्धि हुई है। आज आप देखिए, सेना के तीनों अंगों में अग्रिम मोर्चों पर महिलाओं की तैनाती का रास्ता खुल चुका है। आज महिलाएं भारतीय नौसेना में पहली बार अग्निवीर के रूप में, नाविक के रूप में शामिल हुई हैं। महिलाओं ने सशस्त्र बलों में लड़ाकू भूमिकाओं में भी प्रवेश करना शुरू किया है। NDA पुणे में महिला कैडेट्स के पहले बैच की ट्रेनिंग शुरु हो चुकी है। हमारी सरकार द्वारा सैनिक स्कूलों में बेटियों के एडमिशन की अनुमति भी दी गई है। आज मुझे खुशी है कि लगभग 1500 छात्राएं सैनिक स्कूलों में पढ़ाई शुरु कर चुकी हैं। यहां तक की एनसीसी में भी हम बदलाव देख रहे हैं। बीते एक दशक के दौरान एनसीसी में बेटियों की भागीदारी भी लगातार बढ़ रही है। मैं देख रहा था कि यहां जो परेड हुई, उसका नेतृत्व भी एक बेटी ने किया। सीमावर्ती और तटीय क्षेत्रों में एनसीसी के विस्तार के अभियान से भी बड़ी संख्या में युवा जुड़ रहे हैं। अभी तक सीमावर्ती और तटवर्ती क्षेत्रों से लगभग एक लाख कैडेट्स को नामांकित किया गया है। इतनी बड़ी युवाशक्ति जब राष्ट्र निर्माण में जुटेगी, देश के विकास में जुटेगी, तो साथियों बहुत विश्वास से कहता हूं कोई भी लक्ष्य असंभव नहीं रह जाएगा। मुझे विश्वास है कि एक संगठन के तौर पर भी और व्यक्तिगत रूप से भी आप सभी देश के संकल्पों की सिद्धि में अपनी भूमिका का विस्तार करेंगे। मां भारती के लिए आजादी के जंग में अनेक लोगों ने देश के लिए मरने का रास्ता चुना था। लेकिन आजाद भारत में पल-पल देश के लिए जीने का रास्ता ही देश को दुनिया में नई ऊंचाइयों पर पहुंचाता है। और इस संकल्प की पूर्ति के लिए ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ के आदर्शों को लेकर के देश को तोड़ने के कई बहाने ढूंढे जाते हैं। भांति-भांति की बातें निकालकर के मां भारती की संतानों के बीच में दूध में दरार करने की कोशिशें हो रही हैं। लाख कोशिशें हो जाएं, मां के दूध में कभी दरार नहीं हो सकती। और इसके लिए एकता का मंत्र ये बहुत बड़ी औषधि है, बहुत बड़ा सामर्थ्य है। भारत के भविष्य के लिए एकता का मंत्र ये संकल्प भी है, भारत का सामर्थ्य भी है और भारत को भव्यता प्राप्त करने के लिए यही एक मार्ग है। उस मार्ग को हमें जीना है, उस मार्ग पर आने वाली रूकावटों के सामने हमें जूझना हैं। और देश के लिए जीकर के समृद्ध भारत को अपनी आंखों के सामने देखना है। इसी आंखों से भव्य भारत को देखना, इससे छोटा संकल्प हो ही नहीं सकता। इस संकल्प की पूर्ति के लिए आप सबको मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएं हैं। 75 वर्ष की यह यात्रा, आने वाले 25 वर्ष जो भारत का अमृतकाल है, जो आपका भी अमृतकाल है। जब देश 2047 में आजादी के 100 साल मनाएगा, एक डेवलप कंट्री होगा तो उस समय आप उस ऊंचाई पर बैठे होंगे। 25 साल के बाद आप किस ऊंचाई पर होंगे, कल्पना कीजिये दोस्तों। और इसलिए एक पल भी खोना नहीं है, एक भी मौका खोना नहीं है। बस मां भारती को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के संकल्प लेकर के चलते ही रहना है, बढ़ते ही रहना है, नई-नई सिद्धियों को प्राप्त करते ही जाना है, विजयश्री का संकल्प लेकर के चलना है। यही मेरी आप सबको शुभकामनाएं हैं। पूरी ताकत से मेरे साथ बोलिए- भारत माता की जय, भारत माता की जय! भारत माता की जय।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

बहुत-बहुत धन्यवाद।