लगभग 3700 करोड़ रुपये की सड़क परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया; तिरुथुरईपूंडी और अगस्तियामपल्ली के बीच 37 किलोमीटर के रेल-लाइन आमान परिवर्तन खंड का उद्घाटन किया
तांबरम और सेनगोट्टई के बीच एक्सप्रेस सेवा और थिरुथुराईपूंडी-अगस्थियामपल्ली के बीच डेमू सेवा को झंडी दिखाकर रवाना किया
"तमिलनाडु इतिहास और विरासत; भाषा और साहित्य की भूमि है"
"पहले, अवसंरचना परियोजनाओं का अर्थ विलम्ब था, लेकिन अब इसका मतलब इन्हें पूरा करना है"
"सरकार करदाताओं द्वारा जमा किए जाने वाले प्रत्येक रुपये के लिए जवाबदेह महसूस करती है"
"हम एक अवसंरचना को मानवीय दृष्टि से देखते हैं; यह आकांक्षा को उपलब्धि से, लोगों को संभावनाओं से और सपनों को वास्तविकता से जोड़ती है”
"तमिलनाडु का विकास, सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता"
"चेन्नई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के नए एकीकृत टर्मिनल भवन का डिज़ाइन, तमिल संस्कृति की सुंदरता को दर्शाता है"
"तमिलनाडु भारत के विकास इंजनों में से एक है"

Bharat Mata ki Jai

Bharat Mata ki Jai

Bharat Mata ki Jai

Vanakkam Tamil Nadu!

Governor of Tamil Nadu, Shri R N Ravi Ji, Chief Minister of Tamil Nadu, Shri MK Stalin Ji, My colleague in the Union Government, Shri Ashwini Vaishnaw Ji, Shri Jyotiraditya Scindia Ji, And sisters and brothers of Tamil Nadu, My greetings to all of you.

Friends,

It is always great to come to Tamil Nadu. It is the home of history and heritage. It is the land of language and literature. It is also a centre of patriotism and national consciousness. Many of our leading freedom fighters were from Tamil Nadu.

Friends,

I know that I have come to you at a festive time. In just a few days, the Tamil Puthandu will be here. This is a time for new energy, new hopes, new aspirations and new beginnings. Some new generation infrastructure projects will begin to serve the people from today. Some other projects will see work starting from now. These projects which cover roadways, railways and airways, will add cheer to the new year celebrations.

Friends,

In the past few years, India has been witnessing a revolution in terms of infrastructure. It is driven by speed and scale. When it comes to scale, you can just look at the Union Budget from earlier this year. We have set aside a record amount of Rupees 10 lakh crore for investment in infrastructure. This is five times more than that of 2014! The amount set aside for rail infrastructure is also an all-time record.

Friends,

As far as speed is concerned, some facts can give us the right perspective. The length of National Highways added per year has almost doubled when compared to the pre-2014 era. Before 2014, every year, 600 route kilometres of rail lines were electrified. Today, it is reaching about 4,000 route kilometres per year. The number of airports built until 2014 was 74. Since 2014, we have doubled it to almost 150. Tamil Nadu has a long coastline that is important for trade. The capacity augmentation of our ports has almost doubled when compared to the pre-2014 era.

Speed and scale are not only being seen in physical infrastructure but also in social and digital infrastructure. As of 2014, India had about 380 medical colleges. Today, we have about 660! In the last 9 years, our country has almost tripled the number of AIIMS. We are the world’s number one in digital transactions. We have among the world’s most inexpensive mobile data. Over 6 lakh kilometres of optic fibre has been laid, connecting almost 2 lakh gram panchayats. And today, India has more rural internet users than urban users!

Friends,

What made all these achievements possible? Two things- work culture and vision. First is the work culture. Earlier, infrastructure projects meant delays. Now, they mean delivery. This journey from delays to delivery has happened due to our work culture. We feel accountable for every rupee that our taxpayers pay. We work with specific deadlines and achieve results even before them.

Our vision for infrastructure is also different from earlier. We do not see infrastructure as concrete, bricks and cement. We see infrastructure with a human face. It connects aspiration with achievement, people with possibilities, and dreams with reality. Take some of today’s projects for example. One of the roadways projects connects the cotton farmers of Virudhanagar and Tenkasi with other markets. The Vande Bharat Express between Chennai and Coimbatore connects small businesses with customers. The new terminal of Chennai airport brings the world to Tamil Nadu. It brings investment which creates income opportunities for the youth here. On a road, railway track or metro, it’s not just the vehicles that gain speed. People’s dreams and spirit of enterprise also gain speed. The economy gets a boost. Each infrastructure project transforms the lives of crores of families.

Friends,

Tamil Nadu’s development is of great priority to us. Tamil Nadu has been allocated an all-time high budget of over Rupees Six Thousand Crore this year for rail infrastructure. The average amount allocated per year during 2009-2014 was less than Rupees Nine Hundred Crore. Between 2004 and 2014, the length of national highways added in Tamil Nadu was about Eight Hundred kilometres. Between 2014 and 2023, nearly Two Thousand kilometres of national highways were added! In 2014-15, the investment in the development and maintenance of national highways in Tamil Nadu was around Rupees One Thousand Two Hundred Crore. In 2022-23, it increased 6-fold, to over Rupees Eight Thousand Two Hundred Crore.

In the last few years, Tamil Nadu has seen a number of important projects. The Defence Industrial Corridor is strengthening India’s security and also creating jobs here. The recent announcement related to PM MITRA mega textile parks will also benefit Tamil Nadu’s textile sector. Last year, we laid the foundation stone for the Bengaluru-Chennai expressway. Construction of a multi-modal logistics park near Chennai is also going on. The entire East Coast Road from Mamallapuram to Kanyakumari is being improved under the Bharatmala project. There are so many such projects that are furthering the growth of Tamil Nadu. And today, some more projects are being inaugurated or getting foundation stones laid.

Friends,

Today, three important cities of Tamil Nadu-Chennai, Madurai and Coimbatore are being directly benefited by the projects being inaugurated or started. The New Integrated Terminal Building is being inaugurated at the Chennai International Airport. This will cater to the growing passenger demand. This new terminal building has been designed to reflect the beauty of Tamil culture. You must have already seen some of the stunning photos. Be it the design of the roof, flooring, ceilings or murals, each of them will remind you of some aspect of Tamil Nadu. While tradition shines in the airport, it is also built for the modern needs of sustainability. It has been built using eco-friendly materials and also uses many green techniques such as LED lighting and solar energy.

Friends,

Chennai is also getting another Vande Bharat train, connecting it with Coimbatore. When the first Vande Bharat train came to Chennai, I remember that my young friends from Tamil Nadu were especially very excited. I saw some videos of the Vande Bharat train going viral on social media back then. This pride in ‘Made In India’ is natural in the land of the great VO Chidambaram Pillai.

Friends,

Whether it is the textile sector, MSMEs or industries, Coimbatore has been an industrial powerhouse. Modern connectivity will only increase the productivity of its people. Now, the journey between Chennai and Coimbatore will be only around 6 hours! This Vande Bharat Express also benefits textile and industrial hubs like Salem, Erode and Tirupur.

Friends,

Madurai is said to be Tamil Nadu’s cultural capital. It is one of the most ancient cities in the world. The projects of today also boost this ancient city’s modern infrastructure. They provide ease of living and ease of travel to Madurai. Many districts in the Southwest and coastal parts of Tamil Nadu are also being benefited by many of today’s projects.

Friends,

Tamil Nadu is one of India’s growth engines. I am sure that the projects inaugurated today will give a big boost to the aspirations of the people of Tamil Nadu. When top-quality infrastructure creates jobs here, incomes rise and Tamil Nadu grows. When Tamil Nadu grows, India grows. Thank you very much for your love. Vanakkam!

Explore More
अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

अमृतकाल में त्याग और तपस्या से आने वाले 1000 साल का हमारा स्वर्णिम इतिहास अंकुरित होने वाला है : लाल किले से पीएम मोदी
GST collection rises 12.5% YoY to ₹1.68 lakh crore in February, gross FY24 sum at ₹18.4 lakh crore

Media Coverage

GST collection rises 12.5% YoY to ₹1.68 lakh crore in February, gross FY24 sum at ₹18.4 lakh crore
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
विकसित बिहार मेरा संकल्प और मिशन: पीएम मोदी
March 02, 2024
लगभग 1.48 लाख करोड़ रुपये की कई तेल और गैस परियोजनाएं राष्ट्र को समर्पित कीं और शिलान्यास किया
बिहार में 13,400 करोड़ रुपये से अधिक की कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन किया और आधारशिला रखी
बरौनी में हिंदुस्तान उर्वरक एवं रसायन लिमिटेड (एचयूआरएल) उर्वरक संयंत्र का उद्घाटन किया
लगभग 3917 करोड़ रुपये की कई रेलवे परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया
देश में पशुधन के लिए डिजिटल डेटाबेस - 'भारत पशुधन' राष्ट्र को समर्पित किया
'1962 किसान ऐप' लॉन्च किया
"डबल इंजन सरकार की ताकत से बिहार उत्साह और आत्मविश्वास से भरा है"
"अगर बिहार विकसित होगा तो भारत भी विकसित होगा"
"इतिहास गवाह है कि जब बिहार और पूर्वी भारत समृद्ध रहा, तब भारत भी सशक्त रहा है"
“सच्चा सामाजिक न्याय 'संतुष्टिकरण' से मिलता है, 'तुष्टिकरण' से नहीं
"डबल इंजन सरकार के दोहरे प्रयास से बिहार का विकास होना तय है"

बिहार के राज्यपाल श्रीमान राजेंद्र अर्लेकर जी, मुख्यमंत्री श्रीमान नीतीश कुमार जी, मंत्रिमंडल के मेरे सहयोगी गिरिराज सिंह जी, हरदीप सिंह पुरी जी, उपमुख्यमंत्री विजय सिन्हा जी, सम्राट चौधरी जी, मंच पर विराजमान अन्य सभी महानुभाव और बेगुसराय से पधारे हुए उत्साही मेरे प्यारे भाइयों और बहनों।

जयमंगला गढ़ मंदिर और नौलखा मंदिर में विराजमान देवी-देवताओं को मैं प्रणाम करता हूं। मैं आज विकसित भारत के लिए विकसित बिहार के निर्माण के संकल्प के साथ बेगुसराय आया हूं। ये मेरा सौभाग्य है कि इतनी विशाल संख्या में आप जनता-जनार्दन, आपके दर्शन करने का मुझे सौभाग्य मिला है।

साथियों,

बेगूसराय की ये धरती प्रतिभावान युवाओं की धरती है। इस धरती ने हमेशा देश के किसान और देश के मज़दूर, दोनों को मजबूत किया है। आज इस धरती का पुराना गौरव फिर लौट रहा है। आज यहां से बिहार सहित, पूरे देश के लिए 1 लाख 60 हज़ार करोड़ रुपए उससे भी अधिक के प्रोजेक्ट्स का शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है, डेढ़ लाख करोड़ से भी ज्यादा। पहले ऐसे कार्यक्रम दिल्ली के विज्ञान भवन में होते थे, लेकिन आज मोदी दिल्ली को बेगुसराय ले आया है। और इन योजनाओं में करीब-करीब 30 हज़ार करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट्स सिर्फ और सिर्फ ये मेरे बिहार के हैं। एक ही कार्यक्रम में सरकार का इतना बड़ा निवेश ये दिखाता है कि भारत का सामर्थ्य कितना बढ़ रहा है। इससे बिहार के नौजवानों को यहीं पर नौकरी के, रोजगार के अनेकों नए अवसर बनेंगे। आज के ये प्रोजेक्ट, भारत को दुनिया की तीसरी बड़ी आर्थिक महाशक्ति बनाने का माध्यम बनेंगे। आप रूकिए भैया बहुत हो गया आपका प्यार मुझे मंजूर है, आप रूकिए, आप बैठिए, आप चेयर पर से नीचे आ जाइए, प्लीज, मेरी आपसे प्रार्थना है, आप बैठिए...हां। आप बैठ जाइए, वो कुर्सी पर बैठ जाइए आराम से, थक जाएंगे। आज की ये परियोजनाएं, बिहार में सुविधा और समृद्धि का रास्ता बनाएंगी। आज बिहार को नई ट्रेन सेवाएं मिली हैं। ऐसे ही काम है, जिसके कारण आज देश पूरे विश्वास से कह रहा है, बच्चा-बच्चा कह रहा है, गांव भी कह रहा है, शहर भी कह रहा है- अबकी बार...400 पार!, अबकी बार...400 पार!, अबकी बार...400 पार! NDA सरकार...400 पार!

साथियों,

2014 में जब आपने NDA को सेवा का अवसर दिया, तब मैं कहता था कि पूर्वी भारत का तेज़ विकास ये हमारी प्राथमिकता है। इतिहास गवाह रहा है, जब-जब बिहार और ये पूर्वी भारत, समृद्ध रहा है, तब-तब भारत भी सशक्त रहा है। जब बिहार में स्थितियां खराब हुईं, तो देश पर भी इसका बहुत बुरा असर बड़ा। इसलिए मैं बेगुसराय से पूरे बिहार की जनता को कहता हूं- बिहार विकसित होगा, तो देश भी विकसित होगा। बिहार के मेरे भाई-बहन, आप मुझे बहुत अच्छी तरह जानते हैं, और जब आपके बीच आया हूं तो मैं दोहराना चाहता हूं- ये वादा नहीं है- ये संकल्प है, ये मिशन है। आज जो ये प्रोजेक्ट बिहार को मिले हैं, देश को मिले हैं, वो इसी दिशा में बहुत बड़ा कदम हैं। इनमें से अधिकतर पेट्रोलियम से जुड़े हैं, फर्टिलाइज़र से जुड़े हैं, रेलवे से जुड़े हैं। ऊर्जा, उर्वरक और कनेक्टिविटी, यही तो विकास का आधार हैं। खेती हो या फिर उद्योग, सब कुछ इन्हीं पर निर्भर करता है। और जब इन पर तेजी से काम चलता है, तब स्वाभाविक है रोजगार के अवसर भी बढ़ते हैं, रोजगार भी मिलता है। आप याद कीजिए, बरौनी का जो खाद कारखाना बंद पड़ चुका था, मैंने उसे फिर से चालू करने की गारंटी दी थी। आपके आशीर्वाद से मोदी ने वो गारंटी पूरी कर दी। ये बिहार सहित पूरे देश के किसानों के लिए बहुत बड़ा काम हुआ है। पुरानी सरकारों की बेरुखी के कारण, बरौनी, सिंदरी, गोरखपुर, रामागुंडम, वहां जो कारखाने थे, वो बंद पड़े थे, मशीन सड़ रहे थे। आज ये सारे कारखाने, यूरिया में भारत की आत्मनिर्भरता की शान बन रहे हैं। इसलिए तो देश कहता है- मोदी की गारंटी यानि गारंटी पूरा होने की गारंटी। मोदी की गारंटी यानि गारंटी जे पूरा होय छय !

साथियों,

आज बरौनी रिफाइनरी की क्षमता के विस्तार का काम शुरु हो रहा है। इसके निर्माण के दौरान ही, हजारों श्रमिकों को महीनों तक लगातार रोजगार मिला। ये रिफाइनरी, बिहार में औद्योगिक विकास को नई ऊर्जा देगी और भारत को आत्मनिर्भर बनाने में मदद करेगी। मुझे आपको ये बताते हुए खुशी है कि बीते 10 साल में पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस से जुड़े 65 हज़ार करोड़ रुपए से अधिक के प्रोजेक्ट्स बिहार को मिले हैं, जिनमें से अनेक पूरे भी हो चुके हैं। बिहार के कोने-कोने में जो गैस पाइपलाइन का नेटवर्क पहुंच रहा है, इससे बहनों को सस्ती गैस देने में मदद मिल रही है। इससे यहां उद्योग लगाना आसान हो रहा है।

साथियों,

आज हम यहां आत्मनिर्भर भारत से जुड़े एक और ऐतिहासिक पल के साक्षी बने हैं। कर्नाटक में केजी बेसिन के तेल कुओं से तेल का उत्पादन शुरु हो चुका है। इससे विदेशों से कच्चे तेल के आयात पर हमारी निर्भरता कम होगी।

साथियों,

राष्ट्रहित और जनहित के लिए समर्पित मजबूत सरकार ऐसे ही फैसले लेती है। जब परिवारहित और वोटबैंक से बंधी सरकारें होती हैं, तो वो क्या करती हैं, ये बिहार ने बहुत भुगता है। अगर 2005 से पहले के हालात होते तो बिहार में हज़ारों करोड़ की ऐसी परियोजनाओं के बारे में घोषणा करने से पहले सौ बार सोचना पड़ता। सड़क, बिजली, पानी, रेलवे की क्या स्थिति थी, ये मुझसे ज्यादा आप जानते हैं। 2014 से पहले के 10 वर्षों में रेलवे के नाम पर, रेल के संसाधनों को कैसे लूटा गया, ये पूरा बिहार जानता है। लेकिन आज देखिए, पूरी दुनिया में भारतीय रेल के आधुनिकीकरण की चर्चा हो रही है। भारतीय रेल का तेज़ी से बिजलीकरण हो रहा है। हमारे रेलवे स्टेशन भी एयरपोर्ट की तरह सुविधाओँ वाले बन रहे हैं।

साथियों,

बिहार ने दशकों तक परिवारवाद का नुकसान देखा है, परिवारवाद का दंश सहा है। परिवारवाद और सामाजिक न्याय, ये एक दूसरे के घोर विरोधी हैं। परिवारवाद, विशेष रूप से नौजवानों का, प्रतिभा का, सबसे बड़ा दुश्मन है। यही बिहार है, जिसके पास भारत रत्न कर्पूरी ठाकुर जी की एक समृद्ध विरासत है। नीतीश जी के नेतृत्व में NDA सरकार, यहां इसी विरासत को आगे बढ़ा रही है। वहीं दूसरी तरफ RJD-कांग्रेस की घोर परिवारवादी कुरीति है। RJD-कांग्रेस के लोग, अपने परिवारवाद और भ्रष्टाचार को उचित ठहराने के लिए, दलित, वंचित, पिछड़ों को ढाल बनाते हैं। ये सामाजिक न्याय नहीं, बल्कि समाज के साथ विश्वासघात है। ये सामाजिक न्याय नय, समाज क साथ विश्वासघात छय। वरना क्या कारण है कि सिर्फ एक ही परिवार का सशक्तिकरण हुआ। और समाज के बाकी परिवार पीछे रह गए? किस तरह यहां एक परिवार के लिए, युवाओं को नौकरी के नाम पर उनकी जमीनों पर कब्जा किया गया, ये भी देश ने देखा है।

साथियों,

सच्चा सामाजिक न्याय सैचुरेशन से आता है। सच्चा सामाजिक न्याय, तुष्टिकरण से नहीं संतुष्टिकरण से आता है। मोदी ऐसे ही सामाजिक न्याय, ऐसे ही सेकुलरिज्म को मानता है। जब मुफ्त राशन हर लाभार्थी तक पहुंचता है, जब हर गरीब लाभार्थी को पक्का घर मिलता है, जब हर बहन को गैस, पानी का नल, घर में टॉयलेट मिलता है, जब गरीब से गरीब को भी अच्छा और मुफ्त इलाज मिलता है, जब हर किसान लाभार्थी के बैंक खाते में सम्मान निधि आती है, तब सैचुरेशन होता है। और यही सच्चा, सामाजिक न्याय है। बीते 10 वर्षों में मोदी की ये गारंटी, जिन-जिन परिवारों तक पहुंची हैं, उनमें से सबसे अधिक दलित, पिछड़े, अतिपिछड़े वही मेरे परिवार ही हैं।

साथियों,

हमारे लिए सामाजिक न्याय, नारीशक्ति को ताकत देने का है। बीते 10 सालों में 1 करोड़ बहनों को, मेरी माताएं-बहनें इतनी बड़ी तादाद में आशीर्वाद देने आई हैं, उसका कारण है। 1 करोड़ बहनों को हम लखपति दीदी बना चुके हैं। मुझे खुशी है इसमें बिहार की भी लाखों बहनें हैं, जो अब लखपति दीदी बन चुकी हैं। और अब मोदी ने 3 करोड़ बहनों को, आंकड़ा सुनिए जरा याद रखना 3 करोड़ बहनों को लखपति दीदी बनाने की गारंटी दी है। हाल में हमने बिजली का बिल जीरो करने और बिजली से कमाई करने की भी योजना शुरु की है। पीएम सूर्यघर- मुफ्त बिजली योजना। इससे बिहार के भी अनेक परिवारों को फायदा होने वाला है। बिहार की NDA सरकार भी बिहार के युवा, किसान, कामगार, महिला, सबके लिए निरंतर काम कर रही है। डबल इंजन के डबल प्रयासों से बिहार, विकसित होकर रहेगा। आज इतना बड़ा विकास का उत्सव हम मना रहे हैं, और आप इतनी बड़ी तादाद में विकास के रास्ते को मजबूत कर रहे हैं, मैं आपका आभारी हूं। एक बार फिर आप सभी को विकास की, हजारों करोड़ की इन परियोजनाओं के लिए मैं बहुत-बहुत बधाई देता हूं। इतनी बड़ी तादाद में माताएं-बहनें आई हैं, उनको विशेष रूप से प्रणाम करता हूं। मेरे साथ बोलिए-

भारत माता की जय !

दोनों हाथ ऊपर करके पूरी ताकत से बोलिए-

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

बहुत-बहुत धन्यवाद।