“এই শীর্ষ সম্মেলন সারা বিশ্বের সকল সংসদীয় ঐতিহ্যের একটি মহাকুম্ভ”
“পি২০ শীর্ষ সম্মেলন অনুষ্ঠিত হচ্ছে ভারতে, যা গণতন্ত্রের জননী এবং বিশ্বের সবচেয়ে বড় গণতন্ত্রও”
“ভারত শুধু বিশ্বের সবচেয়ে বড় নির্বাচনই পরিচালনা করে না, এতে জনগণের অংশগ্রহণও ক্রমাগত বাড়ছে.”
“ভারত নির্বাচন প্রক্রিয়াকে আধুনিক প্রযুক্তির সঙ্গে যুক্ত করেছে”
“ভারত আজ প্রতিটি সেক্টরে মহিলাদের অংশগ্রহণ বৃদ্ধি করছে”
“মানবতার সামনে আজ যে চ্যালেঞ্জরগুলি রয়েছে, বিভক্ত বিশ্ব তার সমাধান করতে পারবে না”
“এই সময় শান্তি ও ভ্রাতৃত্বের। একসঙ্গে এগিয়ে যাওয়ার সময় এটা। একসাথে চললে তবেই উন্নয়ন ও কল্যাণ হবে। আমাদের বিশ্বব্যাপী আস্থার সংকট কাটিয়ে উঠতে হবে এবং মানবকেন্দ্রিক চিন্তাভাবনা নিয়ে এগিয়ে যেতে হবে"

নমস্কার!

১৪০ কোটি ভারতবাসীর হয়ে নবম জি-২০ সংসদীয় অধ্যক্ষদের শীর্ষ বৈঠকে আমি আপনাদের সবাইকে স্বাগত জানাচ্ছি। এই শীর্ষ বৈঠককে এক অর্থে ‘মহাকুম্ভ’ বলা যেতে পারে, যেখানে বিশ্বের বিভিন্ন প্রান্তের সংসদীয় ব্যবস্থার মহামিলন ঘটেছে। আপনারা সবাই বিভিন্ন ধরনের সংসদীয় ব্যবস্থার সঙ্গে পরিচিত। ভারতের মতো সমৃদ্ধ গণতান্ত্রিক দেশে আপনাদের আগমন আমাদের কাছে অত্যন্ত আনন্দদায়ক।

 

বন্ধুগণ,

ভারতে এখন উৎসবের মরশুম চলছে। এই সময় দেশের বিভিন্ন প্রান্তে নানা ধরনের উৎসব হয়ে থাকে। তবে, জি-২০-র আবহে সারা বছর ধরে গোটা দেশে একটা উৎসবের পরিবেশ তৈরি হয়েছে। গোটা বছর ধরে বিশ্বের বিভিন্ন দেশের প্রতিনিধিরা জি-২০-তে যোগ দিতে এসেছেন। এর পরপরই ভারত চাঁদের মাটিতে পা রেখেছে। এতে দেশজুড়ে উদ্দীপনা আরও বেড়ে গিয়েছে। আমরা দিল্লিতে জি-২০ শীর্ষ বৈঠকও সফলভাবে আয়োজন করেছি। আর এখন পি-২০ শীর্ষ বৈঠক অনুষ্ঠিত হচ্ছে। যে কোনো দেশের মানুষের সবচেয়ে বড় শক্তি হল, তাঁদের ইচ্ছাশক্তি।

বন্ধুগণ,

ভারতে পি-২০ শীর্ষ বৈঠক অনুষ্ঠিত হচ্ছে, যা বিশ্বের বৃহত্তম গণতান্ত্রিক দেশ হিসেবে পরিচিত। এখানে বিশ্বের বিভিন্ন দেশের সংসদের প্রতিনিধিরা যোগ দিয়েছেন। আপনারা জানেন, সংসদ হল বিতর্ক এবং আলোচনার গুরুত্বপূর্ণ জায়গা। আর এই বিতর্ক ও আলোচনার বহু ভালো দৃষ্টান্ত আমাদের দেশে রয়েছে। আমাদের ৫ হাজার বছরের পুরনো ধর্মশাস্ত্র রয়েছে। বেদ-এ সভা-সমিতির উল্লেখ রয়েছে। তখন সমাজের স্বার্থে যৌথভাবে সিদ্ধান্ত নেওয়া হত। সেই সময় আমরা একসঙ্গে হাঁটতাম, একসঙ্গে কথা বলতাম এবং আমরা খোলামেলাভাবে মতবিনিময় করতাম। 

 

বন্ধুগণ,

ভারতের সংসদীয় ব্যবস্থা সময়ের সঙ্গে তাল মিলিয়ে ধারাবাহিকভাবে উন্নত হয়েছে এবং শক্তিশালী হয়েছে। আমাদের ভারতে সাধারণ নির্বাচনকে সবচেয়ে বড় উৎসব হিসেবে গণ্য করা হয়। ১৯৪৭ সালে স্বাধীনতার পর থেকে ১৭টি সাধারণ নির্বাচন হয়েছে এবং ৩০০-রও বেশি রাজ্য বিধানসভার নির্বাচন হয়েছে। ভারতে শুধুমাত্র বিশ্বের সবচেয়ে বড় নির্বাচনই হয় না, সবচেয়ে বেশি সংখ্যক মানুষও এতে অংশ নেন। ২০১৯ সালের সাধারণ নির্বাচনে দেশের মানুষ দ্বিতীয়বারের জন্য আমার দলকে ক্ষমতায় এনেছে। ২০১৯-এর সাধারণ নির্বাচনে দেশের ইতিহাসে সবচেয়ে বেশি সংখ্যক, ৬০ কোটির বেশি মানুষ ভোট দিয়েছিলেন। সে সময় ভারতে ৯১ কোটি ভোটার তাঁদের নাম নথিভুক্ত করেছিলেন, যা গোটা ইউরোপের মোট জনসংখ্যার চেয়ে বেশি। ৭০ শতাংশের বেশি মানুষ ভোটে অংশ নিয়েছিলেন, যা সংসদীয় ব্যবস্থার ওপর মানুষের আস্থার প্রমাণ দেয়। এই নির্বাচনের একটি গুরুত্বপূর্ণ বিষয় হল, সর্বাধিক সংখ্যক মহিলার অংশগ্রহণ। ২০১৯-এর সাধারণ নির্বাচনে ৬০০টির বেশি রাজনৈতিক দল অংশ নিয়েছিল। এই নির্বাচন প্রক্রিয়ায় ১ কোটির বেশি সরকারি কর্মী কাজ করেছেন। গোটা দেশে ১০ লক্ষের বেশি পোলিং স্টেশন বসানো হয়েছিল।

বন্ধুগণ,

ভারত নির্বাচনী ব্যবস্থায় আধুনিক প্রযুক্তির প্রয়োগ ঘটিয়েছে। প্রায় ২৫ বছর ধরে ভারতে বৈদ্যুতিন ভোটযন্ত্রে নির্বাচন হয়ে আসছে। ইভিএম ব্যবহারের ফলে নির্বাচনে স্বচ্ছতা এসেছে এবং নির্বাচনও অনেক দক্ষতার সঙ্গে সম্পন্ন করা সম্ভব হয়েছে। ভারতে ভোটগণনা শুরুর কয়েক ঘন্টার মধ্যেই ফলাফলও ঘোষণা করা হয়। আপনারা জানেন, আগামী বছর ভারতে আবার নির্বাচন হতে চলেছে। এই নির্বাচনে ১০০ কোটি ভোটার তাঁদের ভোটাধিকার প্রয়োগ করতে চলেছেন। আগামী বছরের সাধারণ নির্বাচন দেখার জন্য পি-২০ শীর্ষ বৈঠকে আসা প্রতিনিধিদের আমি আগাম আমন্ত্রণ জানিয়ে রাখছি।

 

বন্ধুগণ,

কয়েকদিন আগে ভারতের সংসদ একটি গুরুত্বপূর্ণ সিদ্ধান্ত নিয়েছে, যা আমি আপনাদের জানাতে চাই। সংসদ এবং রাজ্য বিধানসভাগুলিতে আমরা মহিলাদের জন্য ৩৩ শতাংশ আসন সংরক্ষণের সিদ্ধান্ত নিয়েছি। ভারতের স্থানীয় স্বায়ত্তশাসিত সংস্থাগুলিতে প্রায় ৩২ লক্ষের মতো নির্বাচিত প্রতিনিধি রয়েছেন, যেখানে মহিলা প্রতিনিধির হার ৫০ শতাংশ। এই সিদ্ধান্ত আমাদের সংসদীয় ব্যবস্থার ঐতিহ্যকে আরও সমৃদ্ধ করবে।

ভারতে সংসদীয় পরম্পরার ওপর দেশবাসীর আস্থার আরও একটি গুরুত্বপূর্ণ কারণ রয়েছে। আমাদের বৈচিত্র্য, ব্যাপকতা এবং প্রাণবন্তময়তাই হল আমাদের শক্তি। আমাদের এখানে সব ধরনের ধর্মের মানুষ রয়েছেন, শত শত রকমের খাবার রয়েছে, শত শত রকমের জীবনযাপনকারী মানুষ রয়েছেন। ভারতে শত শত ভাষা চালু রয়েছে। আমাদের শয়ে শয়ে কথ্যভাষা রয়েছে। আমাদের দেশে ৯০০-র বেশি টিভি চ্যানেল রয়েছে, যেখানে ২৪ ঘন্টা ধরে ২৮টি ভাষায় মানুষের কাছে তথ্য পৌঁছে দেওয়া হচ্ছে। আমাদের দেশে ২০০টি ভাষায় ৩৩ হাজারের বেশি সংবাদপত্র প্রকাশিত হয়। এর থেকে বোঝা যায় যে, ভারতে তথ্য আদানপ্রদান এবং মত প্রকাশের স্বাধীনতা কতটা ব্যাপক ও কতটা শক্তিশালী। একুশ শতকের বিশ্বে প্রাণবন্ত ভারতে বৈচিত্র্যের মধ্যে ঐক্যই হল সবচেয়ে বড় শক্তি।

বন্ধুগণ,

আজকের বিশ্ব বিভিন্ন সংঘাত ও দ্বন্দ্বের মুখোমুখি। গোটা বিশ্ব সঙ্কটে জর্জরিত হলেও, তা কোনও একজনের স্বার্থে হচ্ছে না। মানবতার পক্ষে গুরুত্বপূর্ণ চ্যালেঞ্জগুলির মোকাবিলা কখনই খণ্ডিত বিশ্বের মাধ্যমে হতে পারে না। এই সময়টা হল শান্তি ও ভ্রাতৃত্বের সময়। এই সময় হল, সকলের একসঙ্গে এগোনোর সময়। এই সময় হল অগ্রগতি ও সবার মঙ্গলের সময়। বিশ্বজুড়ে বিশ্বাসের যে ঘাটতি দেখা যাচ্ছে, আমাদের তা জয় করতে হবে এবং মানব-কেন্দ্রিক চিন্তাভাবনাকে এগিয়ে নিয়ে যেতে হবে। ‘এক বিশ্ব এক পরিবার’ – এই চেতনা নিয়ে গোটা বিশ্বকে চালিত করতে হবে। এই দৃষ্টিভঙ্গী নিয়েই ভারত জি-২০-তে আফ্রিকান ইউনিয়নকে স্থায়ী সদস্যপদ দেওয়ার প্রস্তাব রেখেছিল এবং আমি খুশি যে, সদস্য দেশগুলি তা গ্রহণ করেছে।

 

বন্ধুগণ,

আমাকে বলা হয়েছে, আমাদের অধ্যক্ষ ওম বিড়লাজি আজ সন্ধ্যায় নতুন সংসদ ভবনে আপনাদের সঙ্গে মিলিত হচ্ছেন। আপনারা মহাত্মা গান্ধীকেও শ্রদ্ধা জানাতে যাচ্ছেন। আপনারা জানেন, ভারত দশকের পর দশক ধরে সীমান্ত সন্ত্রাসের শিকার। ভারতে জঙ্গিরা হাজার হাজার নিরীহ মানুষকে হত্যা করেছে। নতুন সংসদ ভবনের পাশেই আপনারা পুরনো সংসদ ভবনকে দেখতে পাবেন। প্রায় ২০ বছর আগে আমাদের সংসদ ভবনকে নিশানা করেছিল জঙ্গিরা। আপনারা জেনে শোকাহত হবেন যে, সেই সময় সংসদের অধিবেশন চলছিল। জঙ্গিরা সাংসদদের পণবন্দি করা এবং তাঁদের হত্যার পরিকল্পনা করেছিল। এ ধরনের অনেক জঙ্গি হামলার মোকাবিলা করে ভারত আজ এই জায়গায় পৌঁছেছে। আজ গোটা বিশ্ব বুঝতে পারছে যে, দুনিয়ার কাছে সন্ত্রাসবাদ কতটা বড় চ্যালেঞ্জ হয়ে দাঁড়িয়েছে। যেখানেই সন্ত্রাসবাদী হামলা হোক না কেন, তা পুরোপুরি মানবতা বিরোধী। এটি অত্যন্ত দুঃখের যে, সন্ত্রাসবাদের সংজ্ঞা নিয়ে এখনও সহমত তৈরি হয়নি। এমনকি, আজও সন্ত্রাসবাদের বিরুদ্ধে লড়াই করা আন্তর্জাতিক কনভেনশন রাষ্ট্রসঙ্ঘে সহমতের অপেক্ষায় রয়েছে। বিশ্বের বিভিন্ন দেশের সংসদ এবং প্রতিনিধিদের ভাবতে হবে যে, সন্ত্রাসবাদের বিরুদ্ধে লড়াইয়ে আমরা কীভাবে একজোট হয়ে কাজ করতে পারি।

বন্ধুগণ,

বিশ্বের বিভিন্ন চ্যালেঞ্জের মোকাবিলায় মানুষের অংশগ্রহণের চেয়ে ভালো মাধ্যম কিছু হতে পারে না। আমি সব সময় বিশ্বাস করে এসেছি যে, সরকার সংখ্যাগরিষ্ঠতার মাধ্যমে গঠিত হলেও, সহমতের ভিত্তিতে দেশ চালানো উচিত। আমাদের সংসদে এবং এই পি-২০ মঞ্চেও এই অনুভূতিকে শক্তিশালী করা যেতে পারে। বিতর্ক ও আলোচনার মাধ্যমে এই বিশ্বকে আরও সুন্দর জায়গা হিসেবে গড়ে তোলার ব্যাপারে আমাদের প্রয়াস নিশ্চিতভাবেই সফল হবে। আমি নিশ্চিত,  আপনাদের এই ভারত সফর আনন্দদায়ক হবে। আমি আবার আপনাদের সবাইকে শুভেচ্ছা জানাচ্ছি। 

 

আপনাদের ধন্যবাদ।

প্রধানমন্ত্রী মূল ভাষণটি দিয়েছেন হিন্দিতে।

 

Explore More
ভারতের ৭৭তম স্বাধীনতা দিবস উপলক্ষে লালকেল্লার প্রাকার থেকে দেশবাসীর উদ্দেশে প্রধানমন্ত্রীর ভাষণ

জনপ্রিয় ভাষণ

ভারতের ৭৭তম স্বাধীনতা দিবস উপলক্ষে লালকেল্লার প্রাকার থেকে দেশবাসীর উদ্দেশে প্রধানমন্ত্রীর ভাষণ
How India's digital public infrastructure can push inclusive global growth

Media Coverage

How India's digital public infrastructure can push inclusive global growth
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Our government is dedicated to tribal welfare in Chhattisgarh: PM Modi in Surguja
April 24, 2024
Our government is dedicated to tribal welfare in Chhattisgarh: PM Modi
Congress, in its greed for power, has destroyed India through consistent misgovernance and negligence: PM Modi
Congress' anti-Constitutional tendencies aim to provide religious reservations for vote-bank politics: PM Modi
Congress simply aims to loot the 'hard-earned money' of the 'common people' to fill their coffers: PM Modi
Congress will set a dangerous precedent by implementing an 'Inheritance Tax': PM Modi

मां महामाया माई की जय!

मां महामाया माई की जय!

हमर बहिनी, भाई, दद्दा अउ जम्मो संगवारी मन ला, मोर जय जोहार। 

भाजपा ने जब मुझे पीएम पद का उम्मीदवार बनाया था, तब अंबिकापुर में ही आपने लाल किला बनाया था। और जो कांग्रेस का इकोसिस्टम है आए दिन मोदी पर हमला करने के लिए जगह ढ़ूंढते रहते हैं। उस पूरी टोली ने उस समय मुझपर बहुत हमला बोल दिया था। ये लाल किला कैसे बनाया जा सकता है, अभी तो प्रधानमंत्री का चुनाव बाकि है, अभी ये लाल किले का दृश्य बना के वहां से सभा कर रहे हैं, कैसे कर रहे हैं। यानि तूफान मचा दिया था और बात का बवंडर बना दिया था। लेकिन आप की सोच थी वही  मोदी लाल किले में पहुंचा और राष्ट्र के नाम संदेश दिया। आज अंबिकापुर, ये क्षेत्र फिर वही आशीर्वाद दे रहा है- फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

साथियों, 

कुछ महीने पहले मैंने आपसे छत्तीसगढ़ से कांग्रेस का भ्रष्टाचारी पंजा हटाने के लिए आशीर्वाद मांगा था। आपने मेरी बात का मान रखा। और इस भ्रष्टाचारी पंजे को साफ कर दिया। आज देखिए, आप सबके आशीर्वाद से सरगुजा की संतान, आदिवासी समाज की संतान, आज छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के रूप में छत्तीसगढ़ के सपनों को साकार कर रहा है। और मेरा अनन्य साथी भाई विष्णु जी, विकास के लिए बहुत तेजी से काम कर रहे हैं। आप देखिए, अभी समय ही कितना हुआ है। लेकिन इन्होंने इतने कम समय में रॉकेट की गति से सरकार चलाई है। इन्होंने धान किसानों को दी गारंटी पूरी कर दी। अब तेंदु पत्ता संग्राहकों को भी ज्यादा पैसा मिल रहा है, तेंदू पत्ता की खरीद भी तेज़ी से हो रही है। यहां की माताओं-बहनों को महतारी वंदन योजना से भी लाभ हुआ है। छत्तीसगढ़ में जिस तरह कांग्रेस के घोटालेबाज़ों पर एक्शन हो रहा है, वो पूरा देश देख रहा है।

साथियों, 

मैं आज आपसे विकसित भारत-विकसित छत्तीसगढ़ के लिए आशीर्वाद मांगने के लिए आया हूं। जब मैं विकसित भारत कहता हूं, तो कांग्रेस वालों का और दुनिया में बैठी कुछ ताकतों का माथा गरम हो जाता है। अगर भारत शक्तिशाली हो गया, तो कुछ ताकतों का खेल बिगड़ जाएगा। आज अगर भारत आत्मनिर्भर बन गया, तो कुछ ताकतों की दुकान बंद हो जाएगी। इसलिए वो भारत में कांग्रेस और इंडी-गठबंधन की कमज़ोर सरकार चाहते हैं। ऐसी कांग्रेस सरकार जो आपस में लड़ती रहे, जो घोटाले करती रहे। 

साथियों,

कांग्रेस का इतिहास सत्ता के लालच में देश को तबाह करने का रहा है। देश में आतंकवाद फैला किसके कारण फैला? किसके कारण फैला? किसके कारण फैला? कांग्रेस की नीतियों के कारण फैला। देश में नक्सलवाद कैसे बढ़ा? किसके कारण बढ़ा? किसके कारण बढ़ा? कांग्रेस का कुशासन और लापरवाही यही कारण है कि देश बर्बाद होता गया। आज भाजपा सरकार, आतंकवाद और नक्सलवाद के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई कर रही है। लेकिन कांग्रेस क्या कर रही है? कांग्रेस, हिंसा फैलाने वालों का समर्थन कर रही है, जो निर्दोषों को मारते हैं, जीना हराम कर देते हैं, पुलिस पर हमला करते हैं, सुरक्षा बलों पर हमला करते हैं। अगर वे मारे जाएं, तो कांग्रेस वाले उन्हें शहीद कहते हैं। अगर आप उन्हें शहीद कहते हो तो शहीदों का अपमान करते हो। इसी कांग्रेस की सबसे बड़ी नेता, आतंकवादियों के मारे जाने पर आंसू बहाती हैं। ऐसी ही करतूतों के कारण कांग्रेस देश का भरोसा खो चुकी है।

भाइयों और बहनों, 

आज जब मैं सरगुजा आया हूं, तो कांग्रेस की मुस्लिम लीगी सोच को देश के सामने रखना चाहता हूं। जब उनका मेनिफेस्टो आया उसी दिन मैंने कह दिया था। उसी दिन मैंने कहा था कि कांग्रेस के मोनिफेस्टो पर मुस्लिम लीग की छाप है। 

साथियों, 

जब संविधान बन रहा था, काफी चर्चा विचार के बाद, देश के बुद्धिमान लोगों के चिंतन मनन के बाद, बाबासाहेब अम्बेडकर के नेतृत्व में तय किया गया था कि भारत में धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं होगा। आरक्षण होगा तो मेरे दलित और आदिवासी भाई-बहनों के नाम पर होगा। लेकिन धर्म के नाम पर आरक्षण नहीं होगा। लेकिन वोट बैंक की भूखी कांग्रेस ने कभी इन महापुरुषों की परवाह नहीं की। संविधान की पवित्रता की परवाह नहीं की, बाबासाहेब अम्बेडकर के शब्दों की परवाह नहीं की। कांग्रेस ने बरसों पहले आंध्र प्रदेश में धर्म के आधार पर आरक्षण देने का प्रयास किया था। फिर कांग्रेस ने इसको पूरे देश में लागू करने की योजना बनाई। इन लोग ने धर्म के आधार पर 15 प्रतिशत आरक्षण की बात कही। ये भी कहा कि SC/ST/OBC का जो कोटा है उसी में से कम करके, उसी में से चोरी करके, धर्म के आधार पर कुछ लोगों को आरक्षण दिया जाए। 2009 के अपने घोषणापत्र में कांग्रेस ने यही इरादा जताया। 2014 के घोषणापत्र में भी इन्होंने साफ-साफ कहा था कि वो इस मामले को कभी भी छोड़ेंगे नहीं। मतलब धर्म के आधार पर आरक्षण देंगे, दलितों का, आदिवासियों का आरक्षण कट करना पड़े तो करेंगे। कई साल पहले कांग्रेस ने कर्नाटका में धर्म के आधार पर आरक्षण लागू भी कर दिया था। जब वहां बीजेपी सरकार आई तो हमने संविधान के विरुद्ध, बाबासाहेब अम्बेडर की भावना के विरुद्ध कांग्रेस ने जो निर्णय किया था, उसको उखाड़ करके फेंक दिया और दलितों, आदिवासियों और पिछड़ों को उनका अधिकार वापस दिया। लेकिन कर्नाटक की कांग्रेस सरकार उसने एक और पाप किया मुस्लिम समुदाय की सभी जातियों को ओबीसी कोटा में शामिल कर दिया है। और ओबीसी बना दिया। यानि हमारे ओबीसी समाज को जो लाभ मिलता था, उसका बड़ा हिस्सा कट गया और वो भी वहां चला गया, यानि कांग्रेस ने समाजिक न्याय का अपमान किया, समाजिक न्याय की हत्या की। कांग्रेस ने भारत के सेक्युलरिज्म की हत्या की। कर्नाटक अपना यही मॉडल पूरे देश में लागू करना चाहती है। कांग्रेस संविधान बदलकर, SC/ST/OBC का हक अपने वोट बैंक को देना चाहती है।

भाइयों और बहनों,

ये सिर्फ आपके आरक्षण को ही लूटना नहीं चाहते, उनके तो और बहुत कारनामे हैं इसलिए हमारे दलित, आदिवासी और ओबीसी भाई-बहनों  को कहना चाहता हूं कि कांग्रेस के इरादे नेक नहीं है, संविधान और सामाजिक न्याय के अनुरूप नहीं है , भारत की बिन सांप्रदायिकता के अनुरूप नहीं है। अगर आपके आरक्षण की कोई रक्षा कर सकता है, तो सिर्फ और सिर्फ भारतीय जनता पार्टी कर सकती है। इसलिए आप भारतीय जनता पार्टी को भारी समर्थन दीजिए। ताकि कांग्रेस की एक न चले, किसी राज्य में भी वह कोई हरकत ना कर सके। इतनी ताकत आप मुझे दीजिए। ताकि मैं आपकी रक्षा कर सकूं। 

साथियों!

कांग्रेस की नजर! सिर्फ आपके आरक्षण पर ही है ऐसा नहीं है। बल्कि कांग्रेस की नज़र आपकी कमाई पर, आपके मकान-दुकान, खेत-खलिहान पर भी है। कांग्रेस के शहज़ादे का कहना है कि ये देश के हर घर, हर अलमारी, हर परिवार की संपत्ति का एक्स-रे करेंगे। हमारी माताओं-बहनों के पास जो थोड़े बहुत गहने-ज़ेवर होते हैं, कांग्रेस उनकी भी जांच कराएगी। यहां सरगुजा में तो हमारी आदिवासी बहनें, चंदवा पहनती हैं, हंसुली पहनती हैं, हमारी बहनें मंगलसूत्र पहनती हैं। कांग्रेस ये सब आपसे छीनकर, वे कहते हैं कि बराबर-बराबर डिस्ट्रिब्यूट कर देंगे। वो आपको मालूम हैं ना कि वे किसको देंगे। आपसे लूटकर के किसको देंगे मालूम है ना, मुझे कहने की जरूरत है क्या। क्या ये पाप करने देंगे आप और कहती है कांग्रेस सत्ता में आने के बाद वे ऐसे क्रांतिकारी कदम उठाएगी। अरे ये सपने मन देखो देश की जनता आपको ये मौका नहीं देगी। 

साथियों, 

कांग्रेस पार्टी के खतरनाक इरादे एक के बाद एक खुलकर सामने आ रहे हैं। शाही परिवार के शहजादे के सलाहकार, शाही परिवार के शहजादे के पिताजी के भी सलाहकार, उन्होंने  ने कुछ समय पहले कहा था और ये परिवार उन्हीं की बात मानता है कि उन्होंने कहा था कि हमारे देश का मिडिल क्लास यानि मध्यम वर्गीय लोग जो हैं, जो मेहनत करके कमाते हैं। उन्होंने कहा कि उनपर ज्यादा टैक्स लगाना चाहिए। इन्होंने पब्लिकली कहा है। अब ये लोग इससे भी एक कदम और आगे बढ़ गए हैं। अब कांग्रेस का कहना है कि वो Inheritance Tax लगाएगी, माता-पिता से मिलने वाली विरासत पर भी टैक्स लगाएगी। आप जो अपनी मेहनत से संपत्ति जुटाते हैं, वो आपके बच्चों को नहीं मिलेगी, बल्कि कांग्रेस सरकार का पंजा उसे भी आपसे छीन लेगा। यानि कांग्रेस का मंत्र है- कांग्रेस की लूट जिंदगी के साथ भी और जिंदगी के बाद भी। जब तक आप जीवित रहेंगे, कांग्रेस आपको ज्यादा टैक्स से मारेगी। और जब आप जीवित नहीं रहेंगे, तो वो आप पर Inheritance Tax का बोझ लाद देगी। जिन लोगों ने पूरी कांग्रेस पार्टी को पैतृक संपत्ति मानकर अपने बच्चों को दे दी, वो लोग नहीं चाहते कि एक सामान्य भारतीय अपने बच्चों को अपनी संपत्ति दे। 

भाईयों-बहनों, 

हमारा देश संस्कारों से संस्कृति से उपभोक्तावादी देश नहीं है। हम संचय करने में विश्वास करते हैं। संवर्धन करने में विश्वास करते हैं। संरक्षित करने में विश्वास करते हैं। आज अगर हमारी प्रकृति बची है, पर्यावरण बचा है। तो हमारे इन संस्कारों के कारण बचा है। हमारे घर में बूढ़े मां बाप होंगे, दादा-दादी होंगे। उनके पास से छोटा सा भी गहना होगा ना? अच्छी एक चीज होगी। तो संभाल करके रखेगी खुद भी पहनेगी नहीं, वो सोचती है कि जब मेरी पोती की शादी होगी तो मैं उसको यह दूंगी। मेरी नाती की शादी होगी, तो मैं उसको दूंगी। यानि तीन पीढ़ी का सोच करके वह खुद अपना हक भी नहीं भोगती,  बचा के रखती है, ताकि अपने नाती, नातिन को भी दे सके। यह मेरे देश का स्वभाव है। मेरे देश के लोग कर्ज कर करके जिंदगी जीने के शौकीन लोग नहीं हैं। मेहनत करके जरूरत के हिसाब से खर्च करते हैं। और बचाने के स्वभाव के हैं। भारत के मूलभूत चिंतन पर, भारत के मूलभूत संस्कार पर कांग्रेस पार्टी कड़ा प्रहार करने जा रही है। और उन्होंने कल यह बयान क्यों दिया है उसका एक कारण है। यह उनकी सोच बहुत पुरानी है। और जब आप पुरानी चीज खोजोगे ना? और ये जो फैक्ट चेक करने वाले हैं ना मोदी की बाल की खाल उधेड़ने में लगे रहते हैं, कांग्रेस की हर चीज देखिए। आपको हर चीज में ये बू आएगी। मोदी की बाल की खाल उधेड़ने में टाइम मत खराब करो। लेकिन मैं कहना चाहता हूं। यह कल तूफान उनके यहां क्यों मच गया,  जब मैंने कहा कि अर्बन नक्सल शहरी माओवादियों ने कांग्रेस पर कब्जा कर लिया तो उनको लगा कि कुछ अमेरिका को भी खुश करने के लिए करना चाहिए कि मोदी ने इतना बड़ा आरोप लगाया, तो बैलेंस करने के लिए वह उधर की तरफ बढ़ने का नाटक कर रहे हैं। लेकिन वह आपकी संपत्ति को लूटना चाहते हैं। आपके संतानों का हक आज ही लूट लेना चाहते हैं। क्या आपको यह मंजूर है कि आपको मंजूर है जरा पूरी ताकत से बताइए उनके कान में भी सुनाई दे। यह मंजूर है। देश ये चलने देगा। आपको लूटने देगा। आपके बच्चों की संपत्ति लूटने देगा।

साथियों,

जितने साल देश में कांग्रेस की सरकार रही, आपके हक का पैसा लूटा जाता रहा। लेकिन भाजपा सरकार आने के बाद अब आपके हक का पैसा आप लोगों पर खर्च हो रहा है। इस पैसे से छत्तीसगढ़ के करीब 13 लाख परिवारों को पक्के घर मिले। इसी पैसे से, यहां लाखों परिवारों को मुफ्त राशन मिल रहा है। इसी पैसे से 5 लाख रुपए तक का मुफ्त इलाज मिल रहा है। मोदी ने ये भी गारंटी दी है कि 4 जून के बाद छत्तीसगढ़ के हर परिवार में जो बुजुर्ग माता-पिता हैं, जिनकी आयु 70 साल हो गई है। आज आप बीमार होते हैं तो आपकी बेटे और बेटी को खर्च करना पड़ता है। अगर 70 साल की उम्र हो गई है और आप किसी पर बोझ नहीं बनना चाहते तो ये मोदी आपका बेटा है। आपका इलाज मोदी करेगा। आपके इलाज का खर्च मोदी करेगा। सरगुजा के ही करीब 1 लाख किसानों के बैंक खाते में किसान निधि के सवा 2 सौ करोड़ रुपए जमा हो चुके हैं और ये आगे भी होते रहेंगे।

साथियों, 

सरगुजा में करीब 400 बसाहटें ऐसी हैं जहां पहाड़ी कोरवा परिवार रहते हैं। पण्डो, माझी-मझवार जैसी अनेक अति पिछड़ी जनजातियां यहां रहती हैं, छत्तीसगढ़ और दूसरे राज्यों में रहती हैं। हमने पहली बार ऐसी सभी जनजातियों के लिए, 24 हज़ार करोड़ रुपए की पीएम-जनमन योजना भी बनाई है। इस योजना के तहत पक्के घर, बिजली, पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य, कौशल विकास, ऐसी सभी सुविधाएं पिछड़ी जनजातियों के गांव पहुंचेंगी। 

साथियों, 

10 वर्षों में भांति-भांति की चुनौतियों के बावजूद, यहां रेल, सड़क, अस्तपताल, मोबाइल टावर, ऐसे अनेक काम हुए हैं। यहां एयरपोर्ट की बरसों पुरानी मांग पूरी की गई है। आपने देखा है, अंबिकापुर से दिल्ली के ट्रेन चली तो कितनी सुविधा हुई है।

साथियों,

10 साल में हमने गरीब कल्याण, आदिवासी कल्याण के लिए इतना कुछ किया। लेकिन ये तो सिर्फ ट्रेलर है। आने वाले 5 साल में बहुत कुछ करना है। सरगुजा तो ही स्वर्गजा यानि स्वर्ग की बेटी है। यहां प्राकृतिक सौंदर्य भी है, कला-संस्कृति भी है, बड़े मंदिर भी हैं। हमें इस क्षेत्र को बहुत आगे लेकर जाना है। इसलिए, आपको हर बूथ पर कमल खिलाना है। 24 के इस चुनाव में आप का ये सेवक नरेन्द्र मोदी को आपका आशीर्वाद चाहिए, मैं आपसे आशीर्वाद मांगने आया हूं। आपको केवल एक सांसद ही नहीं चुनना, बल्कि देश का उज्ज्वल भविष्य भी चुनना है। अपनी आने वाली पीढ़ियों का भविष्य चुनना है। इसलिए राष्ट्र निर्माण का मौका बिल्कुल ना गंवाएं। सर्दी हो शादी ब्याह का मौसम हो, खेत में कोई काम निकला हो। रिश्तेदार के यहां जाने की जरूरत पड़ गई हो, इन सबके बावजूद भी कुछ समय आपके सेवक मोदी के लिए निकालिए। भारत के लोकतंत्र और उज्ज्वल भविष्य के लिए निकालिए। आपके बच्चों की गारंटी के लिए निकालिए और मतदान अवश्य करें। अपने बूथ में सारे रिकॉर्ड तोड़नेवाला मतदान हो। इसके लिए मैं आपसे प्रार्थना करता हूं। और आग्राह है पहले जलपान फिर मतदान। हर बूथ में मतदान का उत्सव होना चाहिए, लोकतंत्र का उत्सव होना चाहिए। गाजे-बाजे के साथ लोकतंत्र जिंदाबाद, लोकतंत्र जिंदाबाद करते करते मतदान करना चाहिए। और मैं आप को वादा करता हूं। 

भाइयों-बहनों  

मेरे लिए आपका एक-एक वोट, वोट नहीं है, ईश्वर रूपी जनता जनार्दन का आर्शीवाद है। ये आशीर्वाद परमात्मा से कम नहीं है। ये आशीर्वाद ईश्वर से कम नहीं है। इसलिए भारतीय जनता पार्टी को दिया गया एक-एक वोट, कमल के फूल को दिया गया एक-एक वोट, विकसित भारत बनाएगा ये मोदी की गारंटी है। कमल के निशान पर आप बटन दबाएंगे, कमल के फूल पर आप वोट देंगे तो वो सीधा मोदी के खाते में जाएगा। वो सीधा मोदी को मिलेगा।      

भाइयों और बहनों, 

7 मई को चिंतामणि महाराज जी को भारी मतों से जिताना है। मेरा एक और आग्रह है। आप घर-घर जाइएगा और कहिएगा मोदी जी ने जोहार कहा है, कहेंगे। मेरे साथ बोलिए...  भारत माता की जय! 

भारत माता की जय! 

भारत माता की जय!