Share
 
Comments
Launches Karmayogi Prarambh module - online orientation course for new appointees
“Rozgar Mela is our endeavour to empower youth and make them the catalyst in national development”
“Government is Working in mission mode to provide government jobs”
“Central government is according the highest priority to utilise talent and energy of youth for nation-building”
“The 'Karmayogi Bharat' technology platform will be a great help in upskilling”
“Experts around the world are optimistic about India's growth trajectory”
“Possibility of new jobs in both the government and private sector is continuously increasing. More, importantly, these opportunities are emerging for the youth in their own cities and villages”
“We are colleagues and co-travellers on the path of making India a developed nation”

নমস্কাৰ!

'ৰোজগাৰ মেলা'ৰ মোৰ যুৱ বন্ধুসকল (চাকৰি মেলা),

আপোনালোক সকলোকে বহুত অভিনন্দন। আজি দেশৰ ৪৫ খন চহৰত ৭১,০০০ তকৈও অধিক যুৱক-যুৱতীক নিযুক্তি পত্ৰ প্ৰদান কৰা হৈছে। আজি হাজাৰ হাজাৰ ঘৰত সুখ-সমৃদ্ধিৰ এক নতুন যুগ আৰম্ভ হৈছে। যোৱা মাহত, ধনতেৰাছৰ আজিৰ দিনটোতে, কেন্দ্ৰীয় চৰকাৰে ৭৫,০০০ যুৱক-যুৱতীক নিযুক্তি পত্ৰ বিতৰণ কৰিছিল। চৰকাৰে চৰকাৰী চাকৰি প্ৰদানৰ বাবে কেনেদৰে মিছন মোডত কাম কৰি আছে সেয়া আজিৰ 'ৰোজগাৰ মেলা'ই প্ৰমাণ কৰে।

বন্ধুসকল,

যেতিয়া যোৱা মাহত 'ৰোজগাৰ মেলা' আৰম্ভ কৰা হৈছিল। মই কৈছিলোঁ যে বিভিন্ন কেন্দ্ৰীয় শাসিত অঞ্চল, এনডিএ আৰু বিজেপি শাসিত ৰাজ্যসমূহেও 'ৰোজগাৰ মেলা' আয়োজন কৰি যাব। মই সুখী যে যোৱা মাহত মহাৰাষ্ট্ৰ আৰু গুজৰাট চৰকাৰৰ দ্বাৰা হাজাৰ হাজাৰ যুৱক-যুৱতীক নিযুক্তি পত্ৰ বিতৰণ কৰা হৈছে। কেইদিনমান আগতে, উত্তৰ প্ৰদেশ চৰকাৰেও বহু যুৱকক নিযুক্তি পত্ৰ দিছিল। যোৱা এমাহত জম্মু-কাশ্মীৰ, লাডাখ, আন্দামান আৰু নিকোবৰ দ্বীপপুঞ্জ, লক্ষদ্বীপ, দাদৰা আৰু নগৰ হাভেলি, দমন আৰু দিউ আৰু চণ্ডীগড়ত 'ৰোজগাৰ মেলা'ৰ জৰিয়তে হাজাৰ হাজাৰ যুৱকক চাকৰি দিয়া হৈছে। মোক জনোৱা হৈছে যে কাইলৈৰ পিছদিনা অৰ্থাৎ ২৪ নৱেম্বৰত গোৱা চৰকাৰেও একেধৰণৰ 'ৰোজগাৰ মেলা' আয়োজন কৰিবলৈ গৈ আছে। ত্ৰিপুৰা চৰকাৰেও ২৮ নৱেম্বৰত 'ৰোজগাৰ মেলা'ৰ আয়োজন কৰিছে। এয়া ডাবল ইঞ্জিন চৰকাৰৰ দ্বৈত সুবিধা। 'ৰোজগাৰ মেলা'ৰ জৰিয়তে দেশৰ যুৱক-যুৱতীসকলক নিযুক্তি পত্ৰ দিয়াৰ এই অভিযান নিৰন্তৰভাৱে অব্যাহত থাকিব।

বন্ধুসকল,

ভাৰতৰ দৰে এখন দেশত আমাৰ কোটি কোটি যুৱক-যুৱতী এই দেশখনৰ বাবে আটাইতকৈ ডাঙৰ শক্তি। কেন্দ্ৰীয় চৰকাৰে ৰাষ্ট্ৰ নিৰ্মাণত আমাৰ যুৱপ্ৰজন্মৰ প্ৰতিভা আৰু শক্তিৰ সৰ্বাধিক ব্যৱহাৰক সৰ্বাধিক অগ্ৰাধিকাৰ দি আছে। আজি মই ৭১,০০০ তকৈও অধিক নতুন সহকৰ্মীক স্বাগতম জনাইছোঁ আৰু অভিনন্দন জনাইছোঁ যিসকলে ৰাষ্ট্ৰ নিৰ্মাণৰ পথত যোগদান কৰিছে। আপোনাসৱে আপোনাসৱৰ কঠোৰ পৰিশ্ৰমৰ জৰিয়তে আৰু কঠিন প্ৰতিযোগিতাত সফল হৈ এই সফলতা লাভ কৰিছে। সেয়েহে, আপোনাসৱ আৰু আপোনাসৱৰ পৰিয়ালো অভিনন্দনৰ যোগ্য।

মোৰ যুৱ সহকৰ্মীসকল,

আপোনাসৱে এটা বিশেষ সময়ত এই নতুন দায়িত্ব লাভ কৰিছে। দেশখনে 'অমৃত কাল' (সোণালী কাল)ত প্ৰৱেশ কৰিছে। দেশৰ জনসাধাৰণে এই 'অমৃত কাল'ত এখন উন্নত ভাৰত গঢ়ি তোলাৰ পণ লৈছে। এই প্ৰতিশ্ৰুতি পূৰণ কৰাৰ ক্ষেত্ৰত আপোনালোক সকলোৱে দেশৰ সাৰথি হ'বলৈ গৈ আছে। আপোনালোক সকলোৱে গ্ৰহণ কৰিব লগা নতুন দায়িত্বত, আপোনাক কেন্দ্ৰীয় চৰকাৰৰ প্ৰতিনিধি হিচাপে নিযুক্তি দিয়া হ'ব। সেয়েহে, কৰ্তব্য পালন কৰোঁতে আপোনাসৱে আপোনাসৱৰ ভূমিকা ভালদৰে বুজিব লাগিব। আপোনাসৱে এজন চৰকাৰী কৰ্মচাৰী হিচাপে আপোনাসৱৰ সেৱা প্ৰদান কৰাৰ বাবে নিৰন্তৰভাৱে ক্ষমতা নিৰ্মাণৰ ওপৰত গুৰুত্ব দিয়া উচিত। আজি চৰকাৰে প্ৰযুক্তিৰ সহায়ত প্ৰতিজন চৰকাৰী কৰ্মচাৰীক উন্নত প্ৰশিক্ষণৰ সুবিধা প্ৰদান কৰাৰ প্ৰয়াস কৰি আছে। শেহতীয়াকৈ মুকলি কৰা 'কৰ্মযোগী ভাৰত' টেকনোলজী প্লেটফৰ্মত বহুতো অনলাইন পাঠ্যক্ৰম উপলব্ধ আছে। আপোনাসৱৰ দৰে নতুন চৰকাৰী কৰ্মচাৰীৰ বাবে আজি এটা বিশেষ পাঠ্যক্ৰমো আৰম্ভ কৰা হৈছে। ইয়াৰ নাম 'কৰ্মযোগী প্ৰাৰম্ভ'। আপোনাসৱে 'কৰ্মযোগী ভাৰত' প্লেটফৰ্মত উপলব্ধ অনলাইন পাঠ্যক্ৰমৰ সৰ্বাধিক সুবিধা লোৱা উচিত, কিয়নো ই কেৱল আপোনাসৱৰ দক্ষতাই উন্নত নকৰে ভৱিষ্যতে আপোনাসৱৰ কেৰিয়াৰো ইয়াৰ ফলত লাভান্বিত হ'ব।

বন্ধুসকল,

আজি বিশ্বব্যাপী মহামাৰী আৰু যুদ্ধৰ ফলত সমগ্ৰ বিশ্বতে যুৱপ্ৰজন্মৰ সন্মুখত নতুন সুযোগৰ সংকটে দেখা দিছে। বহুতো বিশেষজ্ঞই উন্নত দেশসমূহতো এক বৃহৎ সংকটৰ আশংকা কৰিছে। অৱশ্যে, অৰ্থনীতিবিদ আৰু বিশেষজ্ঞসকলে লগতে কয় যে ভাৰতৰ অৰ্থনৈতিক সম্ভাৱনা প্ৰদৰ্শন কৰা আৰু নতুন সুযোগ মুকলি কৰাৰ এক অনন্য সুযোগ আছে। আজি সেৱা ৰপ্তানিৰ ক্ষেত্ৰত ভাৰত বিশ্বৰ এক প্ৰধান শক্তি হৈ পৰিছে। এতিয়া ভাৰতো বিশ্বৰ উৎপাদন কেন্দ্ৰ হ'বলৈ গৈ আছে বুলি বিশেষজ্ঞসকলে বিশ্বাস কৰিছে। এইক্ষেত্ৰত আমাৰ উৎপাদন সংযোজিত ইনচেণ্টিভ আঁচনি আৰু অন্যান্য আঁচনিৰ এক গুৰুত্বপূৰ্ণ ভূমিকা থাকিব, কিন্তু ভাৰতৰ দক্ষ জনশক্তি আৰু যুৱসকল ইয়াৰ মূল আধাৰ হব। কেৱল পিএলআই আঁচনিৰ জৰিয়তে দেশত প্ৰায় ৬০ লাখ নতুন চাকৰি সৃষ্টি হোৱাৰ সম্ভাৱনা আছে। 'মেক ইন ইণ্ডিয়া', 'ভোকেল ফৰ লোকেল', বা 'লোকেল টু গ্লোবেল' হওঁক, এই সকলোবোৰ অভিযানে দেশত নিযুক্তি আৰু স্বনিয়োজনৰ বাবে নতুন সুযোগ সৃষ্টি কৰিছে। অৰ্থাৎ চৰকাৰ আৰু বেচৰকাৰী উভয় ক্ষেত্ৰতে নতুন চাকৰিৰ সম্ভাৱনা নিৰন্তৰ বৃদ্ধি পাই আহিছে। আৰু গুৰুত্বপূৰ্ণভাৱে, এই নতুন সুযোগবোৰ যুৱপ্ৰজন্মৰ বাবে তেওঁলোকৰ নিজৰ চহৰ আৰু গাওঁবোৰত সৃষ্টি কৰা হৈছে। ফলস্বৰূপে, যুৱক-যুৱতীসকলে আন চহৰলৈ প্ৰব্ৰজন কৰিবলৈ বাধ্য নহয় আৰু তেওঁলোকে তেওঁলোকৰ নিজৰ এলেকাৰ বিকাশত অৰিহণা যোগাব পাৰে।

ষ্টাৰ্ট-আপৰ পৰা স্বনিয়োজনলৈকে আৰু মহাকাশৰ পৰা ড্ৰোনলৈকে আজি ভাৰতৰ যুৱপ্ৰজন্মৰ বাবে সকলোধৰণৰ নতুন সুযোগ সৃষ্টি কৰা হৈছে। আজি ভাৰতৰ ৮০,০০০ তকৈও অধিক ষ্টাৰ্ট-আপে যুৱপ্ৰজন্মক বিভিন্ন ক্ষেত্ৰত তেওঁলোকৰ সম্ভাৱনা প্ৰদৰ্শন কৰাৰ সুযোগ প্ৰদান কৰিছে। ঔষধৰ যোগানেই হওঁক বা কীটনাশক ছটিওৱাই হওঁক, স্বামিত্ব আঁচনিৰ ভূমিৰ মেপিং হওঁক বা প্ৰতিৰক্ষা খণ্ডই হওঁক, দেশত ড্ৰোনৰ ব্যৱহাৰ নিৰন্তৰভাৱে বৃদ্ধি পাই আহিছে। আৰু ড্ৰোনৰ এই বৰ্ধিত ব্যৱহাৰে যুৱপ্ৰজন্মক নতুন চাকৰি প্ৰদান কৰিছে। মহাকাশ খণ্ড মুকলি কৰাৰ বাবে আমাৰ চৰকাৰে লোৱা সিদ্ধান্তই যুৱসকলকো যথেষ্ট লাভান্বিত কৰিছে। আমি ইতিমধ্যে দেখিবলৈ পাইছোঁ যে কিদৰে ভাৰতৰ ব্যক্তিগত খণ্ডই ২-৩ দিন আগতে ইয়াৰ প্ৰথম মহাকাশ ৰকেট সফলতাৰে উৎক্ষেপণ কৰিছে।

আজি, ব্যৱসায় আৰম্ভ কৰিব বিচৰাসকলেও মুদ্ৰা ঋণৰ পৰা যথেষ্ট সহায় লাভ কৰিছে। এতিয়ালৈকে, দেশত ৩৫ কোটিতকৈও অধিক মুদ্ৰা ঋণ মঞ্জুৰ কৰা হৈছে। দেশত উদ্ভাৱন আৰু গৱেষণাৰ প্ৰচাৰে নিযুক্তিৰ সুযোগ বৃদ্ধি কৰিছে। মই দেশৰ যুৱপ্ৰজন্মৰ সকলোকে এই নতুন সুযোগসমূহৰ সম্পূৰ্ণ সুবিধা ল'বলৈ অনুৰোধ জনাম। আজি মই আকৌ এবাৰ অভিনন্দন জনাইছোঁ আৰু নিযুক্তি পত্ৰ লাভ কৰা ৭১,০০০ তকৈও অধিক যুৱক-যুৱতীক শুভেচ্ছা জনাইছোঁ। মই নিশ্চিত যে আপোনাসৱে আপোনাসৱৰ ক্ষমতা বৃদ্ধিৰ বাবে প্ৰচেষ্টা কৰাৰ ক্ষেত্ৰত চেষ্টাৰ কোনো ক্ৰুটি নকৰিব। আজিৰ নিযুক্ত পত্ৰ হৈছে আপোনাসৱৰ প্ৰৱেশ বিন্দু। ইয়াৰ অৰ্থ হৈছে যে এতিয়া আপোনাসৱৰ আগত প্ৰগতিৰ এক নতুন পৃথিৱী মুকলি হৈছে। একেসময়তে আপোনাসৱে কাম কৰোঁতে জ্ঞান আহৰণ কৰি নিজকে অধিক যোগ্য কৰি তুলিব আৰু আপোনাসৱৰ জ্যেষ্ঠসকলৰ পৰা ভাল কথা শিকি আপোনাসৱৰ সামৰ্থ্য বৃদ্ধি কৰিব।

বন্ধুসকল,

আপোনাসৱৰ দৰে ময়ো নিৰন্তৰ শিকিবলৈ চেষ্টা কৰোঁ আৰু মোৰ মাজৰ শিক্ষাৰ্থীজনক কেতিয়াও মৃত্যু হবলৈ নিদিওঁ। মই সকলোৰে পৰা শিকিছোঁ আৰু মই প্ৰতিটো সৰু বস্তুৰ পৰা শিকিবলৈ চেষ্টা কৰোঁ। ইয়াৰ ফলস্বৰূপে, মই একে সময়তে কেইবাটাও কাম কৰিবলৈ কেতিয়াও দ্বিধা নকৰো। মই এয়া কৰিবলৈ সক্ষম। আপোনাসৱেও এইটো কৰিব পাৰে, আৰু সেয়েহে, মই বিচাৰো যে আপোনাসৱে 'কৰ্মযোগী ভাৰতৰ' সৈতে জড়িত হৈ পৰক। আপোনাসৱে আপোনাসৱৰ অনলাইন প্ৰশিক্ষণৰ অভিজ্ঞতা, ভুল-ক্ৰুটি যদি থাকে আৰু ইয়াক কেনেদৰে অধিক উন্নত কৰিব লাগে সেই বিষয়ে এমাহৰ পিছত আপোনাসৱৰ পৰামৰ্শ আগবঢ়াব পাৰিবনে? আপোনাসৱে ইয়াক আৰু উন্নীত কৰাৰ পৰামৰ্শ আগবঢ়াব পাৰিবনে? মই আপোনাসৱৰ সঁহাৰিৰ বাবে অপেক্ষা কৰিম। চাওক, আমি সকলোৱে অংশীদাৰ, সহকৰ্মী আৰু সহযাত্ৰী। আমি ভাৰতক এখন উন্নত ৰাষ্ট্ৰ হিচাপে গঢ়ি তুলিবলৈ এটা পথ তৈয়াৰ কৰিছোঁ। আমি সকলোৱে একেলগে আগবাঢ়ি যাবলৈ সংকল্প লওঁ আহক। আপোনাসৱক বহুতো শুভকামনা জনাইছোঁ!

অশেষ ধন্যবাদ।

Explore More
৭৬ সংখ্যক স্বাধীনতা দিৱস উপলক্ষে লালকিল্লাৰ দূৰ্গৰ পৰা ৰাষ্ট্ৰবাসীক উদ্দেশ্যি প্ৰধানমন্ত্ৰীৰ ভাষণৰ অসমীয়া অনুবাদ

Popular Speeches

৭৬ সংখ্যক স্বাধীনতা দিৱস উপলক্ষে লালকিল্লাৰ দূৰ্গৰ পৰা ৰাষ্ট্ৰবাসীক উদ্দেশ্যি প্ৰধানমন্ত্ৰীৰ ভাষণৰ অসমীয়া অনুবাদ
The Bharat Budget: Why this budget marks the transition from India to Bharat

Media Coverage

The Bharat Budget: Why this budget marks the transition from India to Bharat
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of PM’s address at the Krishnaguru Eknaam Akhand Kirtan for World Peace
February 03, 2023
Share
 
Comments
“Krishnaguru ji propagated ancient Indian traditions of knowledge, service and humanity”
“Eknaam Akhanda Kirtan is making the world familiar with the heritage and spiritual consciousness of the Northeast”
“There has been an ancient tradition of organizing such events on a period of 12 years”
“Priority for the deprived is key guiding force for us today”
“50 tourist destination will be developed through special campaign”
“Gamosa’s attraction and demand have increased in the country in last 8-9 years”
“In order to make the income of women a means of their empowerment, ‘Mahila Samman Saving Certificate’ scheme has also been started”
“The life force of the country's welfare schemes are social energy and public participation”
“Coarse grains have now been given a new identity - Shri Anna”

जय कृष्णगुरु !

जय कृष्णगुरु !

जय कृष्णगुरु !

जय जयते परम कृष्णगुरु ईश्वर !.

कृष्णगुरू सेवाश्रम में जुटे आप सभी संतों-मनीषियों और भक्तों को मेरा सादर प्रणाम। कृष्णगुरू एकनाम अखंड कीर्तन का ये आयोजन पिछले एक महीने से चल रहा है। मुझे खुशी है कि ज्ञान, सेवा और मानवता की जिस प्राचीन भारतीय परंपरा को कृष्णगुरु जी ने आगे बढ़ाया, वो आज भी निरंतर गतिमान है। गुरूकृष्ण प्रेमानंद प्रभु जी और उनके सहयोग के आशीर्वाद से और कृष्णगुरू के भक्तों के प्रयास से इस आयोजन में वो दिव्यता साफ दिखाई दे रही है। मेरी इच्छा थी कि मैं इस अवसर पर असम आकर आप सबके साथ इस कार्यक्रम में शामिल होऊं! मैंने कृष्णगुरु जी की पावन तपोस्थली पर आने का पहले भी कई बार प्रयास किया है। लेकिन शायद मेरे प्रयासों में कोई कमी रह गई कि चाहकर के भी मैं अब तक वहां नहीं आ पाया। मेरी कामना है कि कृष्णगुरु का आशीर्वाद मुझे ये अवसर दे कि मैं आने वाले समय में वहाँ आकर आप सभी को नमन करूँ, आपके दर्शन करूं।

साथियों,

कृष्णगुरु जी ने विश्व शांति के लिए हर 12 वर्ष में 1 मास के अखंड नामजप और कीर्तन का अनुष्ठान शुरू किया था। हमारे देश में तो 12 वर्ष की अवधि पर इस तरह के आयोजनों की प्राचीन परंपरा रही है। और इन आयोजनों का मुख्य भाव रहा है- कर्तव्य I ये समारोह, व्यक्ति में, समाज में, कर्तव्य बोध को पुनर्जीवित करते थे। इन आयोजनों में पूरे देश के लोग एक साथ एकत्रित होते थे। पिछले 12 वर्षों में जो कुछ भी बीते समय में हुआ है, उसकी समीक्षा होती थी, वर्तमान का मूल्यांकन होता था, और भविष्य की रूपरेखा तय की जाती थी। हर 12 वर्ष पर कुम्भ की परंपरा भी इसका एक सशक्त उदाहरण रहा है। 2019 में ही असम के लोगों ने ब्रह्मपुत्र नदी में पुष्करम समारोह का सफल आयोजन किया था। अब फिर से ब्रह्मपुत्र नदी पर ये आयोजन 12वें साल में ही होगा। तमिलनाडु के कुंभकोणम में महामाहम पर्व भी 12 वर्ष में मनाया जाता है। भगवान बाहुबली का महा-मस्तकाभिषेक ये भी 12 साल पर ही होता है। ये भी संयोग है कि नीलगिरी की पहाड़ियों पर खिलने वाला नील कुरुंजी पुष्प भी हर 12 साल में ही उगता है। 12 वर्ष पर हो रहा कृष्णगुरु एकनाम अखंड कीर्तन भी ऐसी ही सशक्त परंपरा का सृजन कर रहा है। ये कीर्तन, पूर्वोत्तर की विरासत से, यहाँ की आध्यात्मिक चेतना से विश्व को परिचित करा रहा है। मैं आप सभी को इस आयोजन के लिए अनेकों-अनेक शुभकामनाएं देता हूँ।

साथियों,

कृष्णगुरु जी की विलक्षण प्रतिभा, उनका आध्यात्मिक बोध, उनसे जुड़ी हैरान कर देने वाली घटनाएं, हम सभी को निरंतर प्रेरणा देती हैं। उन्होंने हमें सिखाया है कि कोई भी काम, कोई भी व्यक्ति ना छोटा होता है ना बड़ा होता है। बीते 8-9 वर्षों में देश ने इसी भावना से, सबके साथ से सबके विकास के लिए समर्पण भाव से कार्य किया है। आज विकास की दौड़ में जो जितना पीछे है, देश के लिए वो उतनी ही पहली प्राथमिकता है। यानि जो वंचित है, उसे देश आज वरीयता दे रहा है, वंचितों को वरीयता। असम हो, हमारा नॉर्थ ईस्ट हो, वो भी दशकों तक विकास के कनेक्टिविटी से वंचित रहा था। आज देश असम और नॉर्थ ईस्ट के विकास को वरीयता दे रहा है, प्राथमिकता दे रहा है।

इस बार के बजट में भी देश के इन प्रयासों की, और हमारे भविष्य की मजबूत झलक दिखाई दी है। पूर्वोत्तर की इकॉनमी और प्रगति में पर्यटन की एक बड़ी भूमिका है। इस बार के बजट में पर्यटन से जुड़े अवसरों को बढ़ाने के लिए विशेष प्रावधान किए गए हैं। देश में 50 टूरिस्ट डेस्टिनेशन्स को विशेष अभियान चलाकर विकसित किया जाएगा। इनके लिए आधुनिक इनफ्रास्ट्रक्चर बनाया जाएगा, वर्चुअल connectivity को बेहतर किया जाएगा, टूरिस्ट सुविधाओं का भी निर्माण किया जाएगा। पूर्वोत्तर और असम को इन विकास कार्यों का बड़ा लाभ मिलेगा। वैसे आज इस आयोजन में जुटे आप सभी संतों-विद्वानों को मैं एक और जानकारी देना चाहता हूं। आप सबने भी गंगा विलास क्रूज़ के बारे में सुना होगा। गंगा विलास क्रूज़ दुनिया का सबसे लंबा रिवर क्रूज़ है। इस पर बड़ी संख्या में विदेशी पर्यटक भी सफर कर रहे हैं। बनारस से बिहार में पटना, बक्सर, मुंगेर होते हुये ये क्रूज़ बंगाल में कोलकाता से आगे तक की यात्रा करते हुए बांग्लादेश पहुंच चुका है। कुछ समय बाद ये क्रूज असम पहुँचने वाला है। इसमें सवार पर्यटक इन जगहों को नदियों के जरिए विस्तार से जान रहे हैं, वहाँ की संस्कृति को जी रहे हैं। और हम तो जानते है भारत की सांस्कृतिक विरासत की सबसे बड़ी अहमियत, सबसे बड़ा मूल्यवान खजाना हमारे नदी, तटों पर ही है क्योंकि हमारी पूरी संस्कृति की विकास यात्रा नदी, तटों से जुड़ी हुई है। मुझे विश्वास है, असमिया संस्कृति और खूबसूरती भी गंगा विलास के जरिए दुनिया तक एक नए तरीके से पहुंचेगी।

साथियों,

कृष्णगुरु सेवाश्रम, विभिन्न संस्थाओं के जरिए पारंपरिक शिल्प और कौशल से जुड़े लोगों के कल्याण के लिए भी काम करता है। बीते वर्षों में पूर्वोत्तर के पारंपरिक कौशल को नई पहचान देकर ग्लोबल मार्केट में जोड़ने की दिशा में देश ने ऐतिहासिक काम किए हैं। आज असम की आर्ट, असम के लोगों के स्किल, यहाँ के बैम्बू प्रॉडक्ट्स के बारे में पूरे देश और दुनिया में लोग जान रहे हैं, उन्हें पसंद कर रहे हैं। आपको ये भी याद होगा कि पहले बैम्बू को पेड़ों की कैटेगरी में रखकर इसके काटने पर कानूनी रोक लग गई थी। हमने इस कानून को बदला, गुलामी के कालखंड का कानून था। बैम्बू को घास की कैटेगरी में रखकर पारंपरिक रोजगार के लिए सभी रास्ते खोल दिये। अब इस तरह के पारंपरिक कौशल विकास के लिए, इन प्रॉडक्ट्स की क्वालिटी और पहुँच बढ़ाने के लिए बजट में विशेष प्रावधान किया गया है। इस तरह के उत्पादों को पहचान दिलाने के लिए बजट में हर राज्य में यूनिटी मॉल-एकता मॉल बनाने की भी घोषणा इस बजट में की गई है। यानी, असम के किसान, असम के कारीगर, असम के युवा जो प्रॉडक्ट्स बनाएँगे, यूनिटी मॉल-एकता मॉल में उनका विशेष डिस्प्ले होगा ताकि उसकी ज्यादा बिक्री हो सके। यही नहीं, दूसरे राज्यों की राजधानी या बड़े पर्यटन स्थलों में भी जो यूनिटी मॉल बनेंगे, उसमें भी असम के प्रॉडक्ट्स रखे जाएंगे। पर्यटक जब यूनिटी मॉल जाएंगे, तो असम के उत्पादों को भी नया बाजार मिलेगा।

साथियों,

जब असम के शिल्प की बात होती है तो यहाँ के ये 'गोमोशा' का भी ये ‘गोमोशा’ इसका भी ज़िक्र अपने आप हो जाता है। मुझे खुद 'गोमोशा' पहनना बहुत अच्छा लगता है। हर खूबसूरत गोमोशा के पीछे असम की महिलाओं, हमारी माताओं-बहनों की मेहनत होती है। बीते 8-9 वर्षों में देश में गोमोशा को लेकर आकर्षण बढ़ा है, तो उसकी मांग भी बढ़ी है। इस मांग को पूरा करने के लिए बड़ी संख्या में महिला सेल्फ हेल्प ग्रुप्स सामने आए हैं। इन ग्रुप्स में हजारों-लाखों महिलाओं को रोजगार मिल रहा है। अब ये ग्रुप्स और आगे बढ़कर देश की अर्थव्यवस्था की ताकत बनेंगे। इसके लिए इस साल के बजट में विशेष प्रावधान किए गए हैं। महिलाओं की आय उनके सशक्तिकरण का माध्यम बने, इसके लिए 'महिला सम्मान सेविंग सर्टिफिकेट' योजना भी शुरू की गई है। महिलाओं को सेविंग पर विशेष रूप से ज्यादा ब्याज का फायदा मिलेगा। साथ ही, पीएम आवास योजना का बजट भी बढ़ाकर 70 हजार करोड़ रुपए कर दिया गया है, ताकि हर परिवार को जो गरीब है, जिसके पास पक्का घर नहीं है, उसका पक्का घर मिल सके। ये घर भी अधिकांश महिलाओं के ही नाम पर बनाए जाते हैं। उसका मालिकी हक महिलाओं का होता है। इस बजट में ऐसे अनेक प्रावधान हैं, जिनसे असम, नागालैंड, त्रिपुरा, मेघालय जैसे पूर्वोत्तर राज्यों की महिलाओं को व्यापक लाभ होगा, उनके लिए नए अवसर बनेंगे।

साथियों,

कृष्णगुरू कहा करते थे- नित्य भक्ति के कार्यों में विश्वास के साथ अपनी आत्मा की सेवा करें। अपनी आत्मा की सेवा में, समाज की सेवा, समाज के विकास के इस मंत्र में बड़ी शक्ति समाई हुई है। मुझे खुशी है कि कृष्णगुरु सेवाश्रम समाज से जुड़े लगभग हर आयाम में इस मंत्र के साथ काम कर रहा है। आपके द्वारा चलाये जा रहे ये सेवायज्ञ देश की बड़ी ताकत बन रहे हैं। देश के विकास के लिए सरकार अनेकों योजनाएं चलाती है। लेकिन देश की कल्याणकारी योजनाओं की प्राणवायु, समाज की शक्ति और जन भागीदारी ही है। हमने देखा है कि कैसे देश ने स्वच्छ भारत अभियान शुरू किया और फिर जनभागीदारी ने उसे सफल बना दिया। डिजिटल इंडिया अभियान की सफलता के पीछे भी सबसे बड़ी वजह जनभागीदारी ही है। देश को सशक्त करने वाली इस तरह की अनेकों योजनाओं को आगे बढ़ाने में कृष्णगुरु सेवाश्रम की भूमिका बहुत अहम है। जैसे कि सेवाश्रम महिलाओं और युवाओं के लिए कई सामाजिक कार्य करता है। आप बेटी-बचाओ, बेटी-पढ़ाओ और पोषण जैसे अभियानों को आगे बढ़ाने की भी ज़िम्मेदारी ले सकते हैं। 'खेलो इंडिया' और 'फिट इंडिया' जैसे अभियानों से ज्यादा से ज्यादा युवाओं को जोड़ने से सेवाश्रम की प्रेरणा बहुत अहम है। योग हो, आयुर्वेद हो, इनके प्रचार-प्रसार में आपकी और ज्यादा सहभागिता, समाज शक्ति को मजबूत करेगी।

साथियों,

आप जानते हैं कि हमारे यहां पारंपरिक तौर पर हाथ से, किसी औजार की मदद से काम करने वाले कारीगरों को, हुनरमंदों को विश्वकर्मा कहा जाता है। देश ने अब पहली बार इन पारंपरिक कारीगरों के कौशल को बढ़ाने का संकल्प लिया है। इनके लिए पीएम-विश्वकर्मा कौशल सम्मान यानि पीएम विकास योजना शुरू की जा रही है और इस बजट में इसका विस्तार से वर्णन किया गया है। कृष्णगुरु सेवाश्रम, विश्वकर्मा साथियों में इस योजना के प्रति जागरूकता बढ़ाकर भी उनका हित कर सकता है।

साथियों,

2023 में भारत की पहल पर पूरा विश्व मिलेट ईयर भी मना रहा है। मिलेट यानी, मोटे अनाजों को, जिसको हम आमतौर पर मोटा अनाज कहते है नाम अलग-अलग होते है लेकिन मोटा अनाज कहते हैं। मोटे अनाजों को अब एक नई पहचान दी गई है। ये पहचान है- श्री अन्न। यानि अन्न में जो सर्वश्रेष्ठ है, वो हुआ श्री अन्न। कृष्णगुरु सेवाश्रम और सभी धार्मिक संस्थाएं श्री-अन्न के प्रसार में बड़ी भूमिका निभा सकती हैं। आश्रम में जो प्रसाद बँटता है, मेरा आग्रह है कि वो प्रसाद श्री अन्न से बनाया जाए। ऐसे ही, आज़ादी के अमृत महोत्सव में हमारे स्वाधीनता सेनानियों के इतिहास को युवापीढ़ी तक पहुंचाने के लिए अभियान चल रहा है। इस दिशा में सेवाश्रम प्रकाशन द्वारा, असम और पूर्वोत्तर के क्रांतिकारियों के बारे में बहुत कुछ किया जा सकता है। मुझे विश्वास है, 12 वर्षों बाद जब ये अखंड कीर्तन होगा, तो आपके और देश के इन साझा प्रयासों से हम और अधिक सशक्त भारत के दर्शन कर रहे होंगे। और इसी कामना के साथ सभी संतों को प्रणाम करता हूं, सभी पुण्य आत्माओं को प्रणाम करता हूं और आप सभी को एक बार फिर बहुत बहुत शुभकामनाएं देता हूं।

धन्यवाद!