মহামান্য,
নমস্কাৰ!

আজি ২৩ সংখ্যক এছচিঅ' সন্মিলনত আপোনাক উষ্ম আদৰণি জনাইছো। বিগত দুটা দশকত, এছচিঅ'ই সমগ্ৰ এছিয়া অঞ্চলত শান্তি, সমৃদ্ধি আৰু উন্নয়নৰ বাবে এক গুৰুত্বপূৰ্ণ মঞ্চ হিচাপে আত্মপ্ৰকাশ কৰিছে। এই এলেকাৰ সৈতে ভাৰতৰ হাজাৰ হাজাৰ বছৰ পুৰণি সাংস্কৃতিক আৰু জনসাধাৰণৰ মাজৰ সম্পৰ্কই আমাৰ অংশীদাৰী ঐতিহ্যৰ জীৱন্ত প্ৰমাণ। আমি এই অঞ্চলটোক কেৱল "সম্প্ৰসাৰিত চুবুৰীয়া" হিচাপেই নহয়, কিন্তু এক "সম্প্ৰসাৰিত পৰিয়াল" হিচাপে বিবেচনা কৰো।


মহামান্য,
এছচিঅ'ৰ অধ্যক্ষ হিচাপে ভাৰতে আমাৰ বহুমুখী সহযোগিতাক নতুন উচ্চতালৈ লৈ যোৱাৰ বাবে নিৰন্তৰ প্ৰচেষ্টা চলাই আহিছে। আমি এই সকলো বোৰ প্ৰচেষ্টা দুটা মৌলিক নীতিৰ ওপৰত আধাৰিত কৰিছো। প্ৰথমে, বসুধৈৱ কুটুম্বকম, অৰ্থাৎ গোটেই পৃথিৱীখন এটা পৰিয়াল। প্ৰাচীন কালৰ পৰাই এই নীতি আমাৰ সামাজিক আচৰণৰ এক অবিচ্ছেদ্য অংগ হৈ আহিছে। আৰু আনকি আধুনিক সময়তো, আমাৰ বাবে এক নতুন অনুপ্ৰেৰণা আৰু শক্তিৰ উৎস আছে। আৰু দ্বিতীয়ত, সুৰক্ষিত অৰ্থাৎ সুৰক্ষা, অৰ্থনৈতিক বিকাশ, সংযোগ, ঐক্য, সাৰ্বভৌমত্বআৰু আঞ্চলিক অখণ্ডতাৰ প্ৰতি সন্মান আৰু পৰিৱেশ সুৰক্ষা। এইটো আমাৰ প্ৰেচিডেন্সিৰ বিষয়বস্তু আৰু আমাৰ এছচিঅ'ৰ দৃষ্টিভংগীৰ প্ৰতিফলন।


এই দৃষ্টিকোণৰ সৈতে, ভাৰতে এছচিঅ'ৰ ভিতৰত সহযোগিতাৰ পাঁচটা নতুন স্তম্ভ স্থাপন কৰিছে:

  • ষ্টাৰ্টআপ আৰু উদ্ভাৱন, 
  • পৰম্পৰাগত ঔষধ,
  • যুৱ সশক্তিকৰণ, 
  • ডিজিটেল অন্তৰ্ভুক্তি, আৰু
  • ভাগ বৌদ্ধ ঐতিহ্য ভাগ বতৰা কৰিছিল।


মহামান্য,

ভাৰতৰ অধ্যক্ষতাত আমি এছচিঅ'ৰ ভিতৰত এশচল্লিশৰো অধিক কাৰ্যসূচী, সন্মিলন আৰু বৈঠকৰ আয়োজন কৰিছো। আমি এছচিঅ'ৰ সকলো পৰ্যবেক্ষক আৰু সংলাপ অংশীদাৰক চৈধ্যটা পৃথক কাৰ্যসূচীত সক্ৰিয়ভাৱে অন্তৰ্ভুক্ত কৰিছো। এছ.চি.অ’.-ৰ চৈধ্যখন মন্ত্ৰী পৰ্যায়ৰ বৈঠকত, আমি একেলগে কেইবাটাও গুৰুত্বপূৰ্ণ নথি প্ৰস্তুত কৰিছো। ইয়াৰ সৈতে আমি আমাৰ সহযোগিতাত নতুন আৰু আধুনিক মাত্ৰা যোগ কৰিছো।
 

  • পৰিবহণৰ ক্ষেত্ৰত কাৰ্বানা-জেচন আৰু ডিজিটেল পৰিৱৰ্তনৰ ক্ষেত্ৰত সহযোগিতা;
  • ডিজিটেল ৰাজহুৱা আন্তঃগাঁথনিৰ ক্ষেত্ৰত সহযোগিতা।
  • শক্তি খণ্ডত উদীয়মান ইন্ধনৰ ক্ষেত্ৰত সহযোগিতা;

    ভাৰতৰ প্ৰচেষ্টা হৈছে যে এছচিঅ'ত সহযোগিতা কেৱল চৰকাৰতে সীমাবদ্ধ থাকিব নালাগে।

জনসাধাৰণৰ মাজত সম্পৰ্ক অধিক গভীৰ কৰাৰ বাবে ভাৰতৰ অধ্যক্ষতাত নতুন পদক্ষেপ গ্ৰহণ কৰা হৈছে।

প্ৰথমবাৰৰ বাবে এছচিঅ' মিলেট খাদ্য মহোৎসৱ, চলচ্চিত্ৰ মহোৎসৱ, এছচিঅ' সূৰজকুণ্ড ক্ৰাফ্ট ফেয়াৰ, থিংক টেংকচ কনফাৰেন্স, অংশীদাৰী বৌদ্ধ ঐতিহ্যৰ ওপৰত আন্তঃৰাষ্ট্ৰীয় সন্মিলন ৰ আয়োজন কৰা হৈছিল।

এছ.এ.-ৰ প্ৰথম পৰ্যটন আৰু সাংস্কৃতিক ৰাজধানী, চিৰন্তন চহৰ, বাৰাণসী, বিভিন্ন অনুষ্ঠানৰ বাবে আকৰ্ষণৰ কেন্দ্ৰবিন্দু হৈ পৰিছিল।

এছ.চি.ও. দেশসমূহৰ যুৱসকলৰ শক্তি আৰু প্ৰতিভা ব্যৱহাৰ কৰিবলৈ, আমি যুৱ বিজ্ঞানী সন্মিলন, যুৱ লেখক সন্মিলন, যুৱ আৱাসিক পণ্ডিত কাৰ্যসূচী, ষ্টাৰ্টআপ ফ'ৰাম, যুৱ পৰিষদৰ দৰে নতুন মঞ্চৰ আয়োজন কৰিছো।

বৰ্তমান, বিশ্বৰ পৰিস্থিতি এক গুৰুত্বপূৰ্ণ সন্ধিক্ষণত আছে। বিবাদ, উত্তেজনা আৰু মহামাৰীৰ দ্বাৰা আৱদ্ধ পৃথিৱীত, খাদ্য, ইন্ধন আৰু সাৰৰ সংকট সকলো দেশৰ বাবে এক ডাঙৰ প্ৰত্যাহ্বান।

আমি একেলগে বিবেচনা কৰোঁ যে আমি এটা সংগঠন হিচাপে আমাৰ লোকসকলৰ প্ৰত্যাশা আৰু আকাংক্ষা পূৰণ কৰিবলৈ সক্ষম নে নহয়।

আমি আধুনিক প্ৰত্যাহ্বানৰ সৈতে মিলিত হ'বলৈ সক্ষম নে?

এছচিঅ' এটা সংগঠন হৈ পৰিছে নেকি যি ভৱিষ্যতৰ বাবে সম্পূৰ্ণৰূপে প্ৰস্তুত?

এই ক্ষেত্ৰত, ভাৰতে এছচিঅ'ৰ সংস্কাৰ আৰু আধুনিকীকৰণৰ প্ৰস্তাৱক সমৰ্থন কৰে।

এছচিঅ'ৰ অধীনত ভাষাৰ বাধা আঁতৰাবলৈ ভাৰতৰ এআই-আধাৰিত ভাষা মঞ্চ ভাষিনীক সকলোৰে সৈতে ভাগ বতৰা কৰি আমি সুখী হ'ম।

ই সামগ্ৰিক বিকাশৰ বাবে ডিজিটেল প্ৰযুক্তিৰ এক উদাহৰণ হ'ব পাৰে।

ৰাষ্ট্ৰসংঘকে ধৰি অন্যান্য গোলকীয় প্ৰতিষ্ঠানসমূহত সংস্কাৰৰ বাবে এছচিঅ' এক গুৰুত্বপূৰ্ণ কণ্ঠস্বৰ হ'ব পাৰে।

মই সুখী যে আজি ইৰাণে এছচিঅ' পৰিয়ালত নতুন সদস্য হিচাপে যোগদান কৰিবলৈ লৈছে।

ইয়াৰ বাবে মই ৰাষ্ট্ৰপতি ৰাইচি আৰু ইৰাণৰ জনসাধাৰণলৈ শুভেচ্ছা জ্ঞাপন কৰিছো।

মহামহিম,

সন্ত্ৰাসবাদ আঞ্চলিক আৰু গোলকীয় শান্তিৰ বাবে এক ডাঙৰ ভাবুকি হৈ আছে। এই প্ৰত্যাহ্বানৰ মোকাবিলা কৰিবলৈ নিৰ্ণায়ক পদক্ষেপ লোৱা প্ৰয়োজন। সন্ত্ৰাসবাদ, যি কোনো প্ৰকাৰে আৰু যিকোনো প্ৰকাৰে, আমি একেলগে যুঁজিব লাগিব। কিছুমান দেশে তেওঁলোকৰ নীতিৰ এক সঁজুলি হিচাপে সীমান্তৰ সিপাৰৰ সন্ত্ৰাসবাদ ব্যৱহাৰ কৰে। তেওঁলোকে সন্ত্ৰাসবাদীসকলক আশ্ৰয় দিয়ে। এনে দেশসমূহক সমালোচনা কৰিবলৈ এছচিঅ'ৰ কোনো দ্বিধা থাকিব নালাগে। এনে গুৰুতৰ বিষয়ত দুটা মানদণ্ডৰ কোনো স্থান থাকিব নালাগে। আমি সন্ত্ৰাসবাদীৰ বিত্তীয় যোগানৰ সৈতে মোকাবিলা কৰিবলৈ পাৰস্পৰিক সহযোগিতাবৃদ্ধি কৰা উচিত। এছচিঅ'ৰ এআৰটিএছ প্ৰণালীয়ে ইয়াত এক গুৰুত্বপূৰ্ণ ভূমিকা পালন কৰিছে। আমি আমাৰ দেশসমূহৰ যুৱপ্ৰজন্মৰ মাজত মৌলবাদৰ বিস্তাৰ বন্ধ কৰিবলৈ অধিক সক্ৰিয় পদক্ষেপ ল'ব লাগিব। আজি জাৰী কৰা মৌলবাদৰ ওপৰত যুটীয়া বিবৃতি আমাৰ অংশীদাৰী প্ৰতিশ্ৰুতিৰ প্ৰতীক।

মহামহিম,

আফগানিস্তানৰ পৰিস্থিতিয়ে আমাৰ সকলোৰে নিৰাপত্তাৰ ওপৰত পোনপটীয়া প্ৰভাৱ পেলাইছে। আফগানিস্তানৰ ওপৰত ভাৰতৰ উদ্বেগ আৰু প্ৰত্যাশা বেছিভাগ SCO দেশৰ দৰেই। আমি আফগানিস্তানৰ জনসাধাৰণৰ কল্যাণৰ বাবে একেলগে কাম কৰিব লাগিব। আফগান নাগৰিকসকলক মানৱীয় সহায়; এক অন্তৰ্ভুক্ত চৰকাৰ গঠন; সন্ত্ৰাসবাদ আৰু ড্ৰাগছ সৰবৰাহৰ বিৰুদ্ধে যুঁজ; আৰু, মহিলা, শিশু আৰু সংখ্যালঘুসকলৰ অধিকাৰ নিশ্চিত কৰাটো আমাৰ অংশীদাৰী অগ্ৰাধিকাৰ। ভাৰত আৰু আফগানিস্তানৰ জনসাধাৰণে বহু পুৰণি বন্ধুত্বপূৰ্ণ সম্পৰ্ক উপভোগ কৰে। যোৱা দুটা দশকত আমি আফগানিস্তানৰ অৰ্থনৈতিক আৰু সামাজিক বিকাশত অৰিহণা যোগাইছো। আনকি ২০২১ চনৰ ঘটনাৰ পাছতো, আমি মানৱীয় সহায় প্ৰেৰণ কৰি আহিছো। চুবুৰীয়া দেশসমূহক অস্থিৰ কৰিবলৈ, বা উগ্ৰপন্থী মতাদৰ্শৰ প্ৰচাৰৰ বাবে আফগানিস্তানৰ ভূমি ব্যৱহাৰ নকৰাটো অত্যাৱশ্যকীয়।

মহামহিম,
যিকোনো অঞ্চলৰ প্ৰগতিৰ বাবে শক্তিশালী সংযোগ অতি গুৰুত্বপূৰ্ণ। উন্নত সংযোগে কেৱল পাৰস্পৰিক বাণিজ্যেই নহয় পাৰস্পৰিক বিশ্বাসো বৃদ্ধি কৰে। কিন্তু এই প্ৰচেষ্টাবোৰত, এছচিঅ' চাৰ্টাৰৰ মৌলিক নীতিসমূহ, বিশেষকৈ সদস্য ৰাষ্ট্ৰসমূহৰ সাৰ্বভৌমত্ব আৰু আঞ্চলিক অখণ্ডতাক সন্মান কৰাটো অতি গুৰুত্বপূৰ্ণ। ইৰাণৰ এছচিঅ' সদস্যপদৰ পিছত, আমি চাবাহাৰ বন্দৰৰ উন্নত ব্যৱহাৰৰ বাবে কাম কৰিব পাৰোঁ। মধ্য এছিয়াৰ স্থলবেষ্টিত দেশসমূহৰ বাবে, আন্তৰ্জাতিক উত্তৰ-দক্ষিণ পৰিবহন কৰিডৰ ভাৰত মহাসাগৰত উপনীত হোৱাৰ এক সুৰক্ষিত আৰু সহজ উপায় হ'ব পাৰে। আমি ইয়াৰ সম্পূৰ্ণ সম্ভাৱনা উপলব্ধি কৰা উচিত।

মহামহিম,
এছ.চি.ও.-য়ে বিশ্বৰ চল্লিশ শতাংশ লোক আৰু বিশ্ব অৰ্থনীতিৰ প্ৰায় এক-তৃতীয়াংশ প্ৰতিনিধিত্ব কৰে। আৰু এই কাৰণে, ইজনে সিজনৰ প্ৰয়োজনীয়তা আৰু সংবেদনশীলতা বুজি পোৱাটো আমাৰ অংশীদাৰী দায়িত্ব। উন্নত সহযোগিতা আৰু সমন্বয়ৰ জৰিয়তে সকলো প্ৰত্যাহ্বানৰ মোকাবিলা কৰা। আৰু আমাৰ লোকসকলৰ কল্যাণৰ বাবে নিৰন্তৰ প্ৰচেষ্টা চলাওক। ভাৰতৰ ৰাষ্ট্ৰপতিত্বসফল কৰাৰ ক্ষেত্ৰত আমি সকলোৱে নিৰন্তৰ সমৰ্থন লাভ কৰিছো। ইয়াৰ বাবে, মই আপোনালোক সকলোকে বহুত ধন্যবাদ জনাইছো। সমগ্ৰ ভাৰতৰ হৈ মই এছচিঅ'ৰ পৰৱৰ্তী ৰাষ্ট্ৰপতি, কাজাখস্তানৰ ৰাষ্ট্ৰপতি আৰু মোৰ বন্ধু ৰাষ্ট্ৰপতি টোকায়েভলৈ শুভেচ্ছা জ্ঞাপন কৰিছো। এছ.চি.ও.-ৰ সফলতাৰ বাবে, ভাৰতে এছ.চি.ও.-ৰ সফলতাত সক্ৰিয়ভাৱে অৰিহণা যোগাবলৈ প্ৰতিশ্ৰুতিবদ্ধ।

বহুত ধন্যবাদ।

 

 

 

 

 

 

 

Explore More
৭৭সংখ্যক স্বাধীনতা দিৱস উপলক্ষে লালকিল্লাৰ প্ৰাচীৰৰ পৰা দেশবাসীক উদ্দেশ্যি প্ৰধানমন্ত্ৰী শ্ৰী নৰেন্দ্ৰ মোদীয়ে আগবঢ়োৱা ভাষণৰ অসমীয়া অনুবাদ

Popular Speeches

৭৭সংখ্যক স্বাধীনতা দিৱস উপলক্ষে লালকিল্লাৰ প্ৰাচীৰৰ পৰা দেশবাসীক উদ্দেশ্যি প্ৰধানমন্ত্ৰী শ্ৰী নৰেন্দ্ৰ মোদীয়ে আগবঢ়োৱা ভাষণৰ অসমীয়া অনুবাদ
How India's digital public infrastructure can push inclusive global growth

Media Coverage

How India's digital public infrastructure can push inclusive global growth
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Our government is dedicated to tribal welfare in Chhattisgarh: PM Modi in Surguja
April 24, 2024
Our government is dedicated to tribal welfare in Chhattisgarh: PM Modi
Congress, in its greed for power, has destroyed India through consistent misgovernance and negligence: PM Modi
Congress' anti-Constitutional tendencies aim to provide religious reservations for vote-bank politics: PM Modi
Congress simply aims to loot the 'hard-earned money' of the 'common people' to fill their coffers: PM Modi
Congress will set a dangerous precedent by implementing an 'Inheritance Tax': PM Modi

मां महामाया माई की जय!

मां महामाया माई की जय!

हमर बहिनी, भाई, दद्दा अउ जम्मो संगवारी मन ला, मोर जय जोहार। 

भाजपा ने जब मुझे पीएम पद का उम्मीदवार बनाया था, तब अंबिकापुर में ही आपने लाल किला बनाया था। और जो कांग्रेस का इकोसिस्टम है आए दिन मोदी पर हमला करने के लिए जगह ढ़ूंढते रहते हैं। उस पूरी टोली ने उस समय मुझपर बहुत हमला बोल दिया था। ये लाल किला कैसे बनाया जा सकता है, अभी तो प्रधानमंत्री का चुनाव बाकि है, अभी ये लाल किले का दृश्य बना के वहां से सभा कर रहे हैं, कैसे कर रहे हैं। यानि तूफान मचा दिया था और बात का बवंडर बना दिया था। लेकिन आप की सोच थी वही  मोदी लाल किले में पहुंचा और राष्ट्र के नाम संदेश दिया। आज अंबिकापुर, ये क्षेत्र फिर वही आशीर्वाद दे रहा है- फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

साथियों, 

कुछ महीने पहले मैंने आपसे छत्तीसगढ़ से कांग्रेस का भ्रष्टाचारी पंजा हटाने के लिए आशीर्वाद मांगा था। आपने मेरी बात का मान रखा। और इस भ्रष्टाचारी पंजे को साफ कर दिया। आज देखिए, आप सबके आशीर्वाद से सरगुजा की संतान, आदिवासी समाज की संतान, आज छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के रूप में छत्तीसगढ़ के सपनों को साकार कर रहा है। और मेरा अनन्य साथी भाई विष्णु जी, विकास के लिए बहुत तेजी से काम कर रहे हैं। आप देखिए, अभी समय ही कितना हुआ है। लेकिन इन्होंने इतने कम समय में रॉकेट की गति से सरकार चलाई है। इन्होंने धान किसानों को दी गारंटी पूरी कर दी। अब तेंदु पत्ता संग्राहकों को भी ज्यादा पैसा मिल रहा है, तेंदू पत्ता की खरीद भी तेज़ी से हो रही है। यहां की माताओं-बहनों को महतारी वंदन योजना से भी लाभ हुआ है। छत्तीसगढ़ में जिस तरह कांग्रेस के घोटालेबाज़ों पर एक्शन हो रहा है, वो पूरा देश देख रहा है।

साथियों, 

मैं आज आपसे विकसित भारत-विकसित छत्तीसगढ़ के लिए आशीर्वाद मांगने के लिए आया हूं। जब मैं विकसित भारत कहता हूं, तो कांग्रेस वालों का और दुनिया में बैठी कुछ ताकतों का माथा गरम हो जाता है। अगर भारत शक्तिशाली हो गया, तो कुछ ताकतों का खेल बिगड़ जाएगा। आज अगर भारत आत्मनिर्भर बन गया, तो कुछ ताकतों की दुकान बंद हो जाएगी। इसलिए वो भारत में कांग्रेस और इंडी-गठबंधन की कमज़ोर सरकार चाहते हैं। ऐसी कांग्रेस सरकार जो आपस में लड़ती रहे, जो घोटाले करती रहे। 

साथियों,

कांग्रेस का इतिहास सत्ता के लालच में देश को तबाह करने का रहा है। देश में आतंकवाद फैला किसके कारण फैला? किसके कारण फैला? किसके कारण फैला? कांग्रेस की नीतियों के कारण फैला। देश में नक्सलवाद कैसे बढ़ा? किसके कारण बढ़ा? किसके कारण बढ़ा? कांग्रेस का कुशासन और लापरवाही यही कारण है कि देश बर्बाद होता गया। आज भाजपा सरकार, आतंकवाद और नक्सलवाद के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई कर रही है। लेकिन कांग्रेस क्या कर रही है? कांग्रेस, हिंसा फैलाने वालों का समर्थन कर रही है, जो निर्दोषों को मारते हैं, जीना हराम कर देते हैं, पुलिस पर हमला करते हैं, सुरक्षा बलों पर हमला करते हैं। अगर वे मारे जाएं, तो कांग्रेस वाले उन्हें शहीद कहते हैं। अगर आप उन्हें शहीद कहते हो तो शहीदों का अपमान करते हो। इसी कांग्रेस की सबसे बड़ी नेता, आतंकवादियों के मारे जाने पर आंसू बहाती हैं। ऐसी ही करतूतों के कारण कांग्रेस देश का भरोसा खो चुकी है।

भाइयों और बहनों, 

आज जब मैं सरगुजा आया हूं, तो कांग्रेस की मुस्लिम लीगी सोच को देश के सामने रखना चाहता हूं। जब उनका मेनिफेस्टो आया उसी दिन मैंने कह दिया था। उसी दिन मैंने कहा था कि कांग्रेस के मोनिफेस्टो पर मुस्लिम लीग की छाप है। 

साथियों, 

जब संविधान बन रहा था, काफी चर्चा विचार के बाद, देश के बुद्धिमान लोगों के चिंतन मनन के बाद, बाबासाहेब अम्बेडकर के नेतृत्व में तय किया गया था कि भारत में धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं होगा। आरक्षण होगा तो मेरे दलित और आदिवासी भाई-बहनों के नाम पर होगा। लेकिन धर्म के नाम पर आरक्षण नहीं होगा। लेकिन वोट बैंक की भूखी कांग्रेस ने कभी इन महापुरुषों की परवाह नहीं की। संविधान की पवित्रता की परवाह नहीं की, बाबासाहेब अम्बेडकर के शब्दों की परवाह नहीं की। कांग्रेस ने बरसों पहले आंध्र प्रदेश में धर्म के आधार पर आरक्षण देने का प्रयास किया था। फिर कांग्रेस ने इसको पूरे देश में लागू करने की योजना बनाई। इन लोग ने धर्म के आधार पर 15 प्रतिशत आरक्षण की बात कही। ये भी कहा कि SC/ST/OBC का जो कोटा है उसी में से कम करके, उसी में से चोरी करके, धर्म के आधार पर कुछ लोगों को आरक्षण दिया जाए। 2009 के अपने घोषणापत्र में कांग्रेस ने यही इरादा जताया। 2014 के घोषणापत्र में भी इन्होंने साफ-साफ कहा था कि वो इस मामले को कभी भी छोड़ेंगे नहीं। मतलब धर्म के आधार पर आरक्षण देंगे, दलितों का, आदिवासियों का आरक्षण कट करना पड़े तो करेंगे। कई साल पहले कांग्रेस ने कर्नाटका में धर्म के आधार पर आरक्षण लागू भी कर दिया था। जब वहां बीजेपी सरकार आई तो हमने संविधान के विरुद्ध, बाबासाहेब अम्बेडर की भावना के विरुद्ध कांग्रेस ने जो निर्णय किया था, उसको उखाड़ करके फेंक दिया और दलितों, आदिवासियों और पिछड़ों को उनका अधिकार वापस दिया। लेकिन कर्नाटक की कांग्रेस सरकार उसने एक और पाप किया मुस्लिम समुदाय की सभी जातियों को ओबीसी कोटा में शामिल कर दिया है। और ओबीसी बना दिया। यानि हमारे ओबीसी समाज को जो लाभ मिलता था, उसका बड़ा हिस्सा कट गया और वो भी वहां चला गया, यानि कांग्रेस ने समाजिक न्याय का अपमान किया, समाजिक न्याय की हत्या की। कांग्रेस ने भारत के सेक्युलरिज्म की हत्या की। कर्नाटक अपना यही मॉडल पूरे देश में लागू करना चाहती है। कांग्रेस संविधान बदलकर, SC/ST/OBC का हक अपने वोट बैंक को देना चाहती है।

भाइयों और बहनों,

ये सिर्फ आपके आरक्षण को ही लूटना नहीं चाहते, उनके तो और बहुत कारनामे हैं इसलिए हमारे दलित, आदिवासी और ओबीसी भाई-बहनों  को कहना चाहता हूं कि कांग्रेस के इरादे नेक नहीं है, संविधान और सामाजिक न्याय के अनुरूप नहीं है , भारत की बिन सांप्रदायिकता के अनुरूप नहीं है। अगर आपके आरक्षण की कोई रक्षा कर सकता है, तो सिर्फ और सिर्फ भारतीय जनता पार्टी कर सकती है। इसलिए आप भारतीय जनता पार्टी को भारी समर्थन दीजिए। ताकि कांग्रेस की एक न चले, किसी राज्य में भी वह कोई हरकत ना कर सके। इतनी ताकत आप मुझे दीजिए। ताकि मैं आपकी रक्षा कर सकूं। 

साथियों!

कांग्रेस की नजर! सिर्फ आपके आरक्षण पर ही है ऐसा नहीं है। बल्कि कांग्रेस की नज़र आपकी कमाई पर, आपके मकान-दुकान, खेत-खलिहान पर भी है। कांग्रेस के शहज़ादे का कहना है कि ये देश के हर घर, हर अलमारी, हर परिवार की संपत्ति का एक्स-रे करेंगे। हमारी माताओं-बहनों के पास जो थोड़े बहुत गहने-ज़ेवर होते हैं, कांग्रेस उनकी भी जांच कराएगी। यहां सरगुजा में तो हमारी आदिवासी बहनें, चंदवा पहनती हैं, हंसुली पहनती हैं, हमारी बहनें मंगलसूत्र पहनती हैं। कांग्रेस ये सब आपसे छीनकर, वे कहते हैं कि बराबर-बराबर डिस्ट्रिब्यूट कर देंगे। वो आपको मालूम हैं ना कि वे किसको देंगे। आपसे लूटकर के किसको देंगे मालूम है ना, मुझे कहने की जरूरत है क्या। क्या ये पाप करने देंगे आप और कहती है कांग्रेस सत्ता में आने के बाद वे ऐसे क्रांतिकारी कदम उठाएगी। अरे ये सपने मन देखो देश की जनता आपको ये मौका नहीं देगी। 

साथियों, 

कांग्रेस पार्टी के खतरनाक इरादे एक के बाद एक खुलकर सामने आ रहे हैं। शाही परिवार के शहजादे के सलाहकार, शाही परिवार के शहजादे के पिताजी के भी सलाहकार, उन्होंने  ने कुछ समय पहले कहा था और ये परिवार उन्हीं की बात मानता है कि उन्होंने कहा था कि हमारे देश का मिडिल क्लास यानि मध्यम वर्गीय लोग जो हैं, जो मेहनत करके कमाते हैं। उन्होंने कहा कि उनपर ज्यादा टैक्स लगाना चाहिए। इन्होंने पब्लिकली कहा है। अब ये लोग इससे भी एक कदम और आगे बढ़ गए हैं। अब कांग्रेस का कहना है कि वो Inheritance Tax लगाएगी, माता-पिता से मिलने वाली विरासत पर भी टैक्स लगाएगी। आप जो अपनी मेहनत से संपत्ति जुटाते हैं, वो आपके बच्चों को नहीं मिलेगी, बल्कि कांग्रेस सरकार का पंजा उसे भी आपसे छीन लेगा। यानि कांग्रेस का मंत्र है- कांग्रेस की लूट जिंदगी के साथ भी और जिंदगी के बाद भी। जब तक आप जीवित रहेंगे, कांग्रेस आपको ज्यादा टैक्स से मारेगी। और जब आप जीवित नहीं रहेंगे, तो वो आप पर Inheritance Tax का बोझ लाद देगी। जिन लोगों ने पूरी कांग्रेस पार्टी को पैतृक संपत्ति मानकर अपने बच्चों को दे दी, वो लोग नहीं चाहते कि एक सामान्य भारतीय अपने बच्चों को अपनी संपत्ति दे। 

भाईयों-बहनों, 

हमारा देश संस्कारों से संस्कृति से उपभोक्तावादी देश नहीं है। हम संचय करने में विश्वास करते हैं। संवर्धन करने में विश्वास करते हैं। संरक्षित करने में विश्वास करते हैं। आज अगर हमारी प्रकृति बची है, पर्यावरण बचा है। तो हमारे इन संस्कारों के कारण बचा है। हमारे घर में बूढ़े मां बाप होंगे, दादा-दादी होंगे। उनके पास से छोटा सा भी गहना होगा ना? अच्छी एक चीज होगी। तो संभाल करके रखेगी खुद भी पहनेगी नहीं, वो सोचती है कि जब मेरी पोती की शादी होगी तो मैं उसको यह दूंगी। मेरी नाती की शादी होगी, तो मैं उसको दूंगी। यानि तीन पीढ़ी का सोच करके वह खुद अपना हक भी नहीं भोगती,  बचा के रखती है, ताकि अपने नाती, नातिन को भी दे सके। यह मेरे देश का स्वभाव है। मेरे देश के लोग कर्ज कर करके जिंदगी जीने के शौकीन लोग नहीं हैं। मेहनत करके जरूरत के हिसाब से खर्च करते हैं। और बचाने के स्वभाव के हैं। भारत के मूलभूत चिंतन पर, भारत के मूलभूत संस्कार पर कांग्रेस पार्टी कड़ा प्रहार करने जा रही है। और उन्होंने कल यह बयान क्यों दिया है उसका एक कारण है। यह उनकी सोच बहुत पुरानी है। और जब आप पुरानी चीज खोजोगे ना? और ये जो फैक्ट चेक करने वाले हैं ना मोदी की बाल की खाल उधेड़ने में लगे रहते हैं, कांग्रेस की हर चीज देखिए। आपको हर चीज में ये बू आएगी। मोदी की बाल की खाल उधेड़ने में टाइम मत खराब करो। लेकिन मैं कहना चाहता हूं। यह कल तूफान उनके यहां क्यों मच गया,  जब मैंने कहा कि अर्बन नक्सल शहरी माओवादियों ने कांग्रेस पर कब्जा कर लिया तो उनको लगा कि कुछ अमेरिका को भी खुश करने के लिए करना चाहिए कि मोदी ने इतना बड़ा आरोप लगाया, तो बैलेंस करने के लिए वह उधर की तरफ बढ़ने का नाटक कर रहे हैं। लेकिन वह आपकी संपत्ति को लूटना चाहते हैं। आपके संतानों का हक आज ही लूट लेना चाहते हैं। क्या आपको यह मंजूर है कि आपको मंजूर है जरा पूरी ताकत से बताइए उनके कान में भी सुनाई दे। यह मंजूर है। देश ये चलने देगा। आपको लूटने देगा। आपके बच्चों की संपत्ति लूटने देगा।

साथियों,

जितने साल देश में कांग्रेस की सरकार रही, आपके हक का पैसा लूटा जाता रहा। लेकिन भाजपा सरकार आने के बाद अब आपके हक का पैसा आप लोगों पर खर्च हो रहा है। इस पैसे से छत्तीसगढ़ के करीब 13 लाख परिवारों को पक्के घर मिले। इसी पैसे से, यहां लाखों परिवारों को मुफ्त राशन मिल रहा है। इसी पैसे से 5 लाख रुपए तक का मुफ्त इलाज मिल रहा है। मोदी ने ये भी गारंटी दी है कि 4 जून के बाद छत्तीसगढ़ के हर परिवार में जो बुजुर्ग माता-पिता हैं, जिनकी आयु 70 साल हो गई है। आज आप बीमार होते हैं तो आपकी बेटे और बेटी को खर्च करना पड़ता है। अगर 70 साल की उम्र हो गई है और आप किसी पर बोझ नहीं बनना चाहते तो ये मोदी आपका बेटा है। आपका इलाज मोदी करेगा। आपके इलाज का खर्च मोदी करेगा। सरगुजा के ही करीब 1 लाख किसानों के बैंक खाते में किसान निधि के सवा 2 सौ करोड़ रुपए जमा हो चुके हैं और ये आगे भी होते रहेंगे।

साथियों, 

सरगुजा में करीब 400 बसाहटें ऐसी हैं जहां पहाड़ी कोरवा परिवार रहते हैं। पण्डो, माझी-मझवार जैसी अनेक अति पिछड़ी जनजातियां यहां रहती हैं, छत्तीसगढ़ और दूसरे राज्यों में रहती हैं। हमने पहली बार ऐसी सभी जनजातियों के लिए, 24 हज़ार करोड़ रुपए की पीएम-जनमन योजना भी बनाई है। इस योजना के तहत पक्के घर, बिजली, पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य, कौशल विकास, ऐसी सभी सुविधाएं पिछड़ी जनजातियों के गांव पहुंचेंगी। 

साथियों, 

10 वर्षों में भांति-भांति की चुनौतियों के बावजूद, यहां रेल, सड़क, अस्तपताल, मोबाइल टावर, ऐसे अनेक काम हुए हैं। यहां एयरपोर्ट की बरसों पुरानी मांग पूरी की गई है। आपने देखा है, अंबिकापुर से दिल्ली के ट्रेन चली तो कितनी सुविधा हुई है।

साथियों,

10 साल में हमने गरीब कल्याण, आदिवासी कल्याण के लिए इतना कुछ किया। लेकिन ये तो सिर्फ ट्रेलर है। आने वाले 5 साल में बहुत कुछ करना है। सरगुजा तो ही स्वर्गजा यानि स्वर्ग की बेटी है। यहां प्राकृतिक सौंदर्य भी है, कला-संस्कृति भी है, बड़े मंदिर भी हैं। हमें इस क्षेत्र को बहुत आगे लेकर जाना है। इसलिए, आपको हर बूथ पर कमल खिलाना है। 24 के इस चुनाव में आप का ये सेवक नरेन्द्र मोदी को आपका आशीर्वाद चाहिए, मैं आपसे आशीर्वाद मांगने आया हूं। आपको केवल एक सांसद ही नहीं चुनना, बल्कि देश का उज्ज्वल भविष्य भी चुनना है। अपनी आने वाली पीढ़ियों का भविष्य चुनना है। इसलिए राष्ट्र निर्माण का मौका बिल्कुल ना गंवाएं। सर्दी हो शादी ब्याह का मौसम हो, खेत में कोई काम निकला हो। रिश्तेदार के यहां जाने की जरूरत पड़ गई हो, इन सबके बावजूद भी कुछ समय आपके सेवक मोदी के लिए निकालिए। भारत के लोकतंत्र और उज्ज्वल भविष्य के लिए निकालिए। आपके बच्चों की गारंटी के लिए निकालिए और मतदान अवश्य करें। अपने बूथ में सारे रिकॉर्ड तोड़नेवाला मतदान हो। इसके लिए मैं आपसे प्रार्थना करता हूं। और आग्राह है पहले जलपान फिर मतदान। हर बूथ में मतदान का उत्सव होना चाहिए, लोकतंत्र का उत्सव होना चाहिए। गाजे-बाजे के साथ लोकतंत्र जिंदाबाद, लोकतंत्र जिंदाबाद करते करते मतदान करना चाहिए। और मैं आप को वादा करता हूं। 

भाइयों-बहनों  

मेरे लिए आपका एक-एक वोट, वोट नहीं है, ईश्वर रूपी जनता जनार्दन का आर्शीवाद है। ये आशीर्वाद परमात्मा से कम नहीं है। ये आशीर्वाद ईश्वर से कम नहीं है। इसलिए भारतीय जनता पार्टी को दिया गया एक-एक वोट, कमल के फूल को दिया गया एक-एक वोट, विकसित भारत बनाएगा ये मोदी की गारंटी है। कमल के निशान पर आप बटन दबाएंगे, कमल के फूल पर आप वोट देंगे तो वो सीधा मोदी के खाते में जाएगा। वो सीधा मोदी को मिलेगा।      

भाइयों और बहनों, 

7 मई को चिंतामणि महाराज जी को भारी मतों से जिताना है। मेरा एक और आग्रह है। आप घर-घर जाइएगा और कहिएगा मोदी जी ने जोहार कहा है, कहेंगे। मेरे साथ बोलिए...  भारत माता की जय! 

भारत माता की जय! 

भारत माता की जय!