ମହାମହିମ ଗଣ,

ନମସ୍କାର!

ଆଜି ୨୩ତମ ଏସସିଓ ଶିଖର ସମ୍ମିଳନୀରେ, ଆପଣମାନଙ୍କୁ ସ୍ୱାଗତ ଜଣାଉଛି । ବିଗତ ଦୁଇ ଦଶନ୍ଧି ମଧ୍ୟରେ, ଏସସିଓ ସମଗ୍ର ଏସୀୟ କ୍ଷେତ୍ରରେ ଶାନ୍ତି, ସମୃଦ୍ଧି ଓ ବିକାଶ ପାଇଁ ଏକ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ମଞ୍ଚ ରୂପରେ ଉଭା ହୋଇଛି । ଏହି କ୍ଷେତ୍ର ସହିତ ଭାରତର ହଜାର ହଜାର ବର୍ଷ ପୁରୁଣା ସାଂସ୍କୃତିକ ଏବଂ ନାଗରିକ ସମ୍ପର୍କ ରହିଛି । ଆମ ସହଭାଗୀ ଐତିହ୍ୟ ଏହାର ଜୀବନ୍ତ ପ୍ରମାଣ। ଆମେ ଏହି କ୍ଷେତ୍ରକୁ କେବଳ ‘‘ସମ୍ପ୍ରସାରିତ ପଡ଼ୋଶୀ’’ ବୋଲି ଗ୍ରହଣ କରି ନାହୁଁ ବରଂ ଆମେ ଏହାକୁ ‘‘ବଡ଼ ପରିବାର’’ ଭଳି ଦେଖୁଛୁ ।

ମହାମହିମ ଗଣ,

ଏସସିଓର ଅଧ୍ୟକ୍ଷ ଭାବେ ଭାରତ ଆମର ବହୁମୁଖୀ ସହଯୋଗକୁ ନୂଆ ଉଚ୍ଚତାକୁ ନେଇଯିବା ଲାଗି ନିରନ୍ତର ପ୍ରୟାସ କରିଛି । ଏସବୁ ପ୍ରୟାସ ଦୁଇଟି ମୌଳିକ ସିଦ୍ଧାନ୍ତ ଉପରେ ଆଧାରିତ । ପ୍ରଥମ, ବସୁଧୈବ କୁଟୁମ୍ବକମ୍‌ ଅର୍ଥାତ୍‌ ସାରା ବିଶ୍ୱ ଏକ ପରିବାର ଭଳି । ଏହି ସିଦ୍ଧାନ୍ତ, ପ୍ରାଚୀନ ସମୟରୁ ଆମ ସାମାଜିକ ଆଚରଣର ଅଭିନ୍ନ ଅଙ୍ଗ ହୋଇ ରହିଛି । ଆହୁରି ଆଧୁନିକ ସମୟରେ ମଧ୍ୟ ଆମ ପାଇଁ ଏକ ନୂଆ ପ୍ରେରଣା ଏବଂ ଶକ୍ତିର ଉତ୍ସ ପାଲଟିଛି । ଦ୍ୱିତୀୟଟି ହେଉଛି ସୁରକ୍ଷା, ଅର୍ଥାତ୍‌ ଆର୍ଥିକ ବିକାଶ, ଯୋଗାଯୋଗ, ଏକତା, ସାର୍ବଭୌମତ୍ୱ ଓ କ୍ଷେତ୍ରୀୟ ଅଖଣ୍ଡତା ପ୍ରତି ସମ୍ମାନ ଏବଂ ପରିବେଶ ସୁରକ୍ଷା । ଏହା ଆମ ଅଧ୍ୟକ୍ଷତାର ବିଷୟବସ୍ତୁ ଏବଂ ଆମ ଏସସିଓ ସଂକଳ୍ପର ପ୍ରତିବିମ୍ବ ।

ଭାରତ, ଏହି ଦୃଷ୍ଟିକୋଣ ସହିତ ଏସସିଓରେ ସହଯୋଗ ପାଇଁ ପାଞ୍ଚଟି ନୂଆ ସ୍ତମ୍ଭ ପ୍ରତିଷ୍ଠା କରିଛି :

ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ୍‌ ଓ ଉଦ୍ଭାବନ

ପାରମ୍ପରିକ ଔଷଧ,

ଯୁବ ସଶକ୍ତିକରଣ,

ଡିଜିଟାଲ ସମାବେଶନ ଏବଂ

ସହଭାଗୀ ବୌଦ୍ଧ ଐତିହ୍ୟ

 

ମହାମହିମ ଗଣ,

ଭାରତ ନିଜର ଏସସିଓ ଅଧ୍ୟକ୍ଷତା ସମୟରେ ୧୪୦ରୁ ଅଧିକ କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମ, ସମ୍ମିଳନୀ ଓ ବୈଠକ ଆୟୋଜନ କରିଛି । ଆମେ ଏସସିଓର ସବୁ ପର୍ଯ୍ୟବେକ୍ଷକ ଓ ଆଲୋଚନା ସହଯୋଗୀମାନଙ୍କୁ ୧୪ଟି ବିଭିନ୍ନ କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମରେ ସାମିଲ କରିଛୁ । ଆଇଏସସିଓର ୧୪ଟି ମନ୍ତ୍ରୀସ୍ତରୀୟ ବୈଠକରେ, ଆମେ ମିଶି ଅନେକ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ଦସ୍ତାବିଜ ପ୍ରସ୍ତୁତ କରିଛୁ । ଏହା ଜରିଆରେ ଆମେ ନିଜ ସହଯୋଗରେ ନୂଆ ଓ ଆଧୁନିକ ଦିଗକୁ ଯୋଡ଼ି ଚାଲିଛୁ - ଯଥା

ଊର୍ଜା କ୍ଷେତ୍ରରେ ଆଧୁନିକ ଇନ୍ଧନକୁ ନେଇ ସହଯୋଗ;

ପରିବହନ କ୍ଷେତ୍ରରେ ଅଙ୍ଗାରକାମ୍ଳ ହ୍ରାସ ପାଇଁ ସହଯୋଗ ଏବଂ ଡିଜିଟାଲ ରୂପାନ୍ତରଣରେ ସହଯୋଗ;

ଡିଜିଟାଲ ସାର୍ବଜନୀନ ଭିତ୍ତିଭୂମି କ୍ଷେତ୍ରରେ ସହଯୋଗ।

ଏସସିଓରେ ସହଯୋଗ କେବଳ ସରକାରଙ୍କ ସ୍ତରରେ ସୀମିତ ନରହୁ ବୋଲି ଭାରତ ପ୍ରୟାସ କରୁଛି ।

ଲୋକମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ସମ୍ପର୍କକୁ ଆହୁରି ନିବିଡ଼ କରିବା ଲାଗି ଭାରତର ଅଧ୍ୟକ୍ଷତା ଅଧୀନରେ ନୂଆ ପ୍ରୟାସ କରାଯାଇଛି ।

ପ୍ରଥମ ଥର, ଏସସିଓ ମିଲେଟ୍‌ ଖାଦ୍ୟ ମେଳା, ଚଳଚ୍ଚିତ୍ର ମହୋତ୍ସବ, ଏସସିଓ ସୁରଜକୁଣ୍ଡ ହସ୍ତଶିଳ୍ପ ମେଳା, ବୁଦ୍ଧିଜୀବୀ ସମ୍ମିଳନୀ, ସହଭାଗୀ ବୌଦ୍ଧ ଐତିହ୍ୟ ଉପରେ ଅନ୍ତର୍ଜାତୀୟ ସମ୍ମିଳନୀ ଆୟୋଜନ କରାଯାଇଛି।

ଏସସିଓର ପ୍ରଥମ ପର୍ଯ୍ୟଟନ ଏବଂ ସାଂସ୍କୃତିକ ରାଜଧାନୀ, ପ୍ରାଚୀନ ସହର ବାରାଣସୀ ଭିନ୍ନ ଭିନ୍ନ କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମ ପାଇଁ ଏକ ଆକର୍ଷଣର କେନ୍ଦ୍ର ପାଲଟିଥିଲା।

ଏସସିଓ ଦେଶଗୁଡ଼ିକର ଯୁବକମାନଙ୍କର ଉତ୍ସାହ ଓ ପ୍ରତିଭାକୁ ସାର୍ଥକ କରିବା ଲାଗି ଆମେ ଯୁବ ବୈଜ୍ଞାନିକ ସମ୍ମିଳନୀ, ଯୁବ ଲେଖକ ସମ୍ମିଳନୀ, ଯୁବ ଆବାସିକ ଗବେଷକ କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମ, ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ୍‌ ଫୋରମ୍‌, ଯୁବ ପରିଷଦ ଭଳି ନୂଆ ମଞ୍ଚର ଆୟୋଜନ କରିଛୁ ।

ମହାମହିମ ଗଣ,

ବର୍ତ୍ତମାନ ସମୟରେ ବିଶ୍ୱର ପରିସ୍ଥିତି ଏକ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ମୋଡ଼ରେ ରହିଛି । ବିବାଦ, ଉତ୍ତେଜନା ଓ ମହାମାରୀରେ ଘେରି ରହିଥିବା ବିଶ୍ୱରେ ଖାଦ୍ୟ, ଇନ୍ଧନ ଓ ସାର ସଂକଟ ସବୁ ଦେଶ ପାଇଁ ଏକ ବଡ଼ ଆହ୍ୱାନ ।

ଆମେ ସମସ୍ତେ ମିଶି ନିମ୍ନ ବିଷୟରେ ଚିନ୍ତା କରିବା ଉଚିତ୍‌ । ଆମେ ଏକ ସଂଗଠନ ରୂପରେ ଆମ ଲୋକମାନଙ୍କର ଆଶା ଓ ଆକାଂକ୍ଷାକୁ ପୂରଣ କରିବା ଲାଗି ସମର୍ଥ କି? 

ଆଧୁନିକ ଆହ୍ୱାନର ସାମ୍ନା କରିବା ଲାଗି ଆମେ ସକ୍ଷମ ଅଛୁ କି?

ଭବିଷ୍ୟତ ପାଇଁ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ପ୍ରସ୍ତୁତ ଥିବା ଏକ ସଂଗଠନ ରୂପରେ ଏସସିଓ ବିକଶିତ ହେଉଛି କି?

ଏ ପ୍ରସଙ୍ଗରେ ଏସସିଓରେ ସଂସ୍କାର ଓ ଆଧୁନିକୀକରଣ ପ୍ରସ୍ତାବକୁ ଭାରତ ସମର୍ଥନ କରୁଛି ।

ଏସସିଓ ଅଧୀନରେ ଭାଷା ସମ୍ବନ୍ଧୀୟ ବାଧା ଦୂର କରିବା ଲାଗି ଭାରତର ଏଆଇ ଆଧାରିତ ଭାଷା ପ୍ଲାଟଫର୍ମ ‘ଭାଷିଣୀ’କୁ ସମସ୍ତଙ୍କ ପାଇଁ ଉପଲବ୍ଧ କରି ଆମେ ଖୁସି ହେବୁ ।

ଏହା ସମାବେଶୀ ବିକାଶ ପାଇଁ ଡିଜିଟାଲ ପ୍ରଯୁକ୍ତିର ଏକ ଉଦାହରଣ ହୋଇପାରିବ ।

ମିଳିତ ଜାତିସଂଘ ସମେତ ଅନ୍ୟ ବିଶ୍ୱସ୍ତରୀୟ ସଂଗଠନରେ ସଂସ୍କାର ପାଇଁ ଏସସିଓ ଏକ ଦୃଢ଼ ସ୍ୱର ହୋଇପାରେ ।

ଆଜି ଇରାନ୍‌ ଏସସିଓ ପରିବାରରେ ଏକ ନୂଆ ସଦସ୍ୟ ଭାବେ ଯୋଡ଼ି ହେବାକୁ ଯାଉଥିବାରୁ ମୁଁ ଆନନ୍ଦିତ ।

ଏଥିପାଇଁ ରାଷ୍ଟ୍ରପତି ରାୟସୀ ଏବଂ ଇରାନର ଲୋକମାନଙ୍କୁ ଅନେକ ଅନେକ ଶୁଭକାମନା ଜଣାଉଛି ।

ଏଥିସହିତ ଆମେ ବେଲାରୁସର ଏସସିଓ ସଦସ୍ୟତା ପାଇଁ ଉତ୍ତରଦାୟିତ୍ୱ ବୁଝାମଣାରେ ସ୍ୱାକ୍ଷର କରାଯିବାକୁ ସ୍ୱାଗତ କରୁଛୁ ।

ଆଜି ଏସସିଓ ସହ ଯୋଡ଼ି ହେବା ଲାଗି ଅନ୍ୟ ଦେଶମାନେ ଆଗ୍ରହ ପ୍ରକଟ କରିବା ଏହି ସଂଗଠନର ମହତ୍ୱକୁ ପ୍ରମାଣିତ କରୁଛି ।

ଏହି ପ୍ରକ୍ରିୟାରେ, ଏସସିଓର ମୂଳ ଧ୍ୟାନ ମଧ୍ୟ-ଏସୀୟ ରାଷ୍ଟ୍ରମାନଙ୍କ ହିତ ଓ ଆକାଂକ୍ଷା ଉପରେ କେନ୍ଦ୍ରିତ ହେବ ସବୁଠୁ ଜରୁରୀ ।

ମହାମହିମ ଗଣ,

ଆତଙ୍କବାଦ ଆଞ୍ଚଳିକ ଏବଂ ବିଶ୍ୱ ଶାନ୍ତି ପାଇଁ ଏକ ପ୍ରମୁଖ ବିପଦ ପାଲଟିଛି । ଏହି ଆହ୍ୱାନର ମୁକାବିଲା କରିବା ଲାଗି ନିର୍ଣ୍ଣାୟକ କାର୍ଯ୍ୟାନୁଷ୍ଠାନ ଆବଶ୍ୟକ । ଆତଙ୍କବାଦ ଯେକୌଣସି ରୂପ, ଯେକୌଣସି ଅଭିବ୍ୟକ୍ତିରେ ଥାଉ ପଛେ, ଆମକୁ ଏହା ବିରୋଧରେ ମିଳିତ ଭାବେ ଲଢ଼େଇ କରିବାକୁ ହେବ । କିଛି ଦେଶ, ସୀମାପାର୍‌ ଆତଙ୍କବାଦକୁ ନିଜ ନୀତିର ଏକ ପ୍ରମୁଖ ଉପାଦାନ ଭାବେ ବ୍ୟବହାର କରିଥାନ୍ତି । ଆତଙ୍କବାଦୀମାନଙ୍କୁ ଆଶ୍ରୟ ଦେଇଥାନ୍ତି । ଏସସିଓ ଏପରି ଦେଶ ବିରୋଧରେ ସ୍ୱର ଉତ୍ତୋଳନ କରିବା ଲାଗି ସଂକୋଚ କରିବା ଉଚିତ୍‌ ନୁହେଁ । ଏଭଳି ଗମ୍ଭୀର ବିଷୟରେ ଦୋହରା ମାନଦଣ୍ଡ ଆପଣାଇବା ଆଦୌ ଉଚିତ୍‌ ନୁହେଁ । ଆତଙ୍କବାଦ ପାଇଁ ପାଣ୍ଠି ଯୋଗାଣର ମୁକାବିଲା କରିବା ଲାଗି ମଧ୍ୟ ଆମକୁ ଆପୋସ ସହଯୋଗ ବଢ଼ାଇବାକୁ ହେବ । ଏଥିରେ ଏସସିଓର ଆରଏଟିଏସ ବ୍ୟବସ୍ଥାର ବିଶେଷ ମହତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ଭୂମିକା ରହିଛି । ଆମ ଦେଶଗୁଡ଼ିକର ଯୁବକମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ଉଗ୍ରବାଦର ପ୍ରସାରକୁ ରୋକିବା ଲାଗି ମଧ୍ୟ ଆମକୁ ଆହୁରି ସକ୍ରିୟ ଭାବେ ପଦକ୍ଷେପ ନେବା ଉଚିତ୍‌ । ଉଗ୍ରବାଦ ବିଷୟ ଉପରେ ଆଜି ଜାରି କରାଯାଉଥିବା ମିଳିତ ବକ୍ତବ୍ୟ ଆମ ସହଭାଗୀ ପ୍ରତିବଦ୍ଧତାର ପ୍ରତୀକ ।

ମହାମହିମ ଗଣ,

ଆଫଗାନିସ୍ତାନର ସ୍ଥିତି ଆମ ସମସ୍ତଙ୍କ ସୁରକ୍ଷା ଉପରେ ସିଧା ପ୍ରଭାବ ପକାଇଛି । ଆଫଗାନିସ୍ତାନକୁ ନେଇ ଭାରତର ଚିନ୍ତା ଓ ଆଶା ଅଧିକାଂଶ ଏସସିଓ ଦେଶ ସହିତ ସମାନ । ଆମକୁ ଆଫଗାନିସ୍ତାନର ଲୋକଙ୍କ କଲ୍ୟାଣ ପାଇ ମିଳିମିଶି ପ୍ରୟାସ କରିବାକୁ ହେବ । ଆଫଗାନିସ୍ତାନ ନାଗରିକମାନଙ୍କୁ ମାନବୀୟ ସହାୟତା; ଏକ ସମାବେଶୀ ସରକାର ଗଠନ; ଆତଙ୍କବାଦ ଓ ନିଶାଦ୍ରବ୍ୟ କାରବାର ବିରୋଧରେ ଲଢ଼େଇ; ତଥା ମହିଳା, ଶିଶୁ ଓ ସଂଖ୍ୟାଲଘୁମାନଙ୍କ ଅଧିକାରକୁ ସୁନିଶ୍ଚିତ କରିବା ଆମର ସହଭାଗୀ ପ୍ରାଥମିକତା ଅଟେ। ଭାରତ ଏବଂ ଆଫଗାନିସ୍ତାନର ଲୋକମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ, ଶହ ଶହ ବର୍ଷ ପୁରୁଣା ବନ୍ଧୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ସମ୍ପର୍କ ରହିଛି । ବିଗତ ଦୁଇ ଦଶନ୍ଧି ମଧ୍ୟରେ, ଆମେ ଆଫଗାନିସ୍ତାନର ଆର୍ଥିକ ଓ ସାମାଜିକ ବିକାଶ ପାଇଁ ଯୋଗଦାନ ଦେଇଛୁ । ୨୦୨୧ର ଘଟଣାକ୍ରମ ପରେ ମଧ୍ୟ ଆମେ ମାନବୀୟ ସହାୟତା ପଠାଇ ଚାଲିଛୁ । ଆଫଗାନିସ୍ତାନର ଭୂମିକୁ ପଡ଼ୋଶୀ ଦେଶରେ ଅସ୍ଥିରତା ସୃଷ୍ଟି କରିବା କିମ୍ବା ଉଗ୍ରବାଦୀ ବିଚାରଧାରାକୁ ପ୍ରୋତ୍ସାହନ ଦେବା ଲାଗି ଉପଯୋଗ କରାଯିବା ଉଚିତ୍‌ ନୁହେଁ । 

ମହାମହିମ ଗଣ,

ଯେକୌଣସି କ୍ଷେତ୍ରର ବିକାଶ ପାଇଁ ମଜବୁତ ଯୋଗାଯୋଗ ସୁବିଧା ରହିବା ଅତି ଆବଶ୍ୟକ । ଉନ୍ନତ ଯୋଗାଯୋଗ ଆପୋସ ବ୍ୟବସାୟ ନୁହେଁ, ଆପୋସ ବିଶ୍ୱାସ ମଧ୍ୟ ବଢ଼ାଇଥାଏ। କିନ୍ତୁ ଏହି ପ୍ରୟାସରେ, ଏସସିଓ ଚାର୍ଟରର ମୂଳ ସିଦ୍ଧାନ୍ତ, ବିଶେଷ କରି ସଦସ୍ୟ ଦେଶମାନଙ୍କର ସାର୍ବଭୌମତ୍ୱ ଏବଂ କ୍ଷେତ୍ରୀୟ ଅଖଣ୍ଡତାକୁ ସମ୍ମାନ କରିବା ଅତି ଆବଶ୍ୟକ। ଇରାନର ଏସସିଓ ସଦସ୍ୟତା ପରେ ଆମେ ଚାବାହର ବନ୍ଦରକୁ ଉନ୍ନତ ଭାବେ ଉପଯୋଗ କରିବା ଦିଗରେ କାମ କରିପାରିବା । ମଧ୍ୟ ଏସିଆର ଭୂଖଣ୍ଡ ଆବଦ୍ଧ ଦେଶମାନଙ୍କ ପାଇଁ ଅନ୍ତର୍ଜାତୀୟ ଉତ୍ତର-ଦକ୍ଷିଣ ପରିବହନ କରିଡର, ଭାରତ ମହାସାଗର ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ପହଞ୍ଚିବା ଲାଗି ଏକ ସୁରକ୍ଷିତ ଓ ସୁଗମ ରାସ୍ତା ହୋଇପାରିବ । ଆମେ ଏହାର ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ସମ୍ଭାବନାକୁ ସାକାର ରୂପ ଦେବା ଉଚିତ୍‌ ।

ମହାମହିମ ଗଣ,

ଏସସିଓ ବିଶ୍ୱର ୪୦ ପ୍ରତିଶତ ଜନସଂଖ୍ୟା ଏବଂ ବିଶ୍ୱ ଅର୍ଥବ୍ୟବସ୍ଥାର ଏକ ତୃତୀୟାଂଶ ଭାଗର ପ୍ରତିନିଧିତ୍ୱ କରିଥାଏ। ଆଉ ଏହି କାରଣରୁ ପରସ୍ପରର ଆବଶ୍ୟକତା ଓ ସମ୍ବେଦନଶୀଳତାକୁ ବୁଝିବା ଆମର ସହଭାଗୀ ଉତ୍ତରଦାୟିତ୍ୱ । ଉନ୍ନତ ସହଯୋଗ ଏବଂ ସମନ୍ୱୟ ଜରିଆରେ ଆମେ ସବୁ ସମସ୍ୟାର ସମାଧାନ କରିବା ଉଚିତ୍‌ । ଆମେ ନିରନ୍ତର ଭାବେ ଜନକଲ୍ୟାଣ ପାଇଁ ପ୍ରୟାସ କରିବା ଆବଶ୍ୟକ । ଭାରତର ଅଧ୍ୟକ୍ଷତାକୁ ସଫଳ କରାଇବାରେ ଆପଣମାନଙ୍କ ଠାରୁ ଲଗାତର ସହଯୋଗ ମିଳିଛି । ଏଥିପାଇଁ ମୁଁ ଆପଣମାନଙ୍କୁ ବହୁତ ବହୁତ ଧନ୍ୟବାଦ ଦେଉଛି । ମୁଁ ଏସସିଓର ପରବର୍ତ୍ତୀ ଅଧ୍ୟକ୍ଷ, କଜାଖସ୍ତାନର ରାଷ୍ଟ୍ରପତି ଏବଂ ମୋର ବନ୍ଧୁ ପ୍ରେସିଡେଣ୍ଟ ତୋକାୟେଭଙ୍କୁ ସାରା ଭାରତ ପକ୍ଷରୁ ଅନେକ ଅନେକ ଶୁଭକାମନା ଜଣାଉଛି । ଏସସିଓର ସଫଳତା ପାଇଁ ଭାରତ ସମସ୍ତଙ୍କ ସହିତ ମିଶି, ସକ୍ରିୟ ଭାବେ ନିଜର ଯୋଗଦାନ ଦେବା ପାଇଁ ସଂକଳ୍ପବଦ୍ଧ ।

ବହୁତ ବହୁତ ଧନ୍ୟବାଦ।

 

 

 

 

 

Explore More
୭୭ତମ ସ୍ବାଧୀନତା ଦିବସ ଅବସରରେ ଲାଲକିଲ୍ଲା ପ୍ରାଚୀରରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀଙ୍କ ଅଭିଭାଷଣର ମୂଳ ପାଠ

ଲୋକପ୍ରିୟ ଅଭିଭାଷଣ

୭୭ତମ ସ୍ବାଧୀନତା ଦିବସ ଅବସରରେ ଲାଲକିଲ୍ଲା ପ୍ରାଚୀରରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀଙ୍କ ଅଭିଭାଷଣର ମୂଳ ପାଠ
How India's digital public infrastructure can push inclusive global growth

Media Coverage

How India's digital public infrastructure can push inclusive global growth
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Our government is dedicated to tribal welfare in Chhattisgarh: PM Modi in Surguja
April 24, 2024
Our government is dedicated to tribal welfare in Chhattisgarh: PM Modi
Congress, in its greed for power, has destroyed India through consistent misgovernance and negligence: PM Modi
Congress' anti-Constitutional tendencies aim to provide religious reservations for vote-bank politics: PM Modi
Congress simply aims to loot the 'hard-earned money' of the 'common people' to fill their coffers: PM Modi
Congress will set a dangerous precedent by implementing an 'Inheritance Tax': PM Modi

मां महामाया माई की जय!

मां महामाया माई की जय!

हमर बहिनी, भाई, दद्दा अउ जम्मो संगवारी मन ला, मोर जय जोहार। 

भाजपा ने जब मुझे पीएम पद का उम्मीदवार बनाया था, तब अंबिकापुर में ही आपने लाल किला बनाया था। और जो कांग्रेस का इकोसिस्टम है आए दिन मोदी पर हमला करने के लिए जगह ढ़ूंढते रहते हैं। उस पूरी टोली ने उस समय मुझपर बहुत हमला बोल दिया था। ये लाल किला कैसे बनाया जा सकता है, अभी तो प्रधानमंत्री का चुनाव बाकि है, अभी ये लाल किले का दृश्य बना के वहां से सभा कर रहे हैं, कैसे कर रहे हैं। यानि तूफान मचा दिया था और बात का बवंडर बना दिया था। लेकिन आप की सोच थी वही  मोदी लाल किले में पहुंचा और राष्ट्र के नाम संदेश दिया। आज अंबिकापुर, ये क्षेत्र फिर वही आशीर्वाद दे रहा है- फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

साथियों, 

कुछ महीने पहले मैंने आपसे छत्तीसगढ़ से कांग्रेस का भ्रष्टाचारी पंजा हटाने के लिए आशीर्वाद मांगा था। आपने मेरी बात का मान रखा। और इस भ्रष्टाचारी पंजे को साफ कर दिया। आज देखिए, आप सबके आशीर्वाद से सरगुजा की संतान, आदिवासी समाज की संतान, आज छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के रूप में छत्तीसगढ़ के सपनों को साकार कर रहा है। और मेरा अनन्य साथी भाई विष्णु जी, विकास के लिए बहुत तेजी से काम कर रहे हैं। आप देखिए, अभी समय ही कितना हुआ है। लेकिन इन्होंने इतने कम समय में रॉकेट की गति से सरकार चलाई है। इन्होंने धान किसानों को दी गारंटी पूरी कर दी। अब तेंदु पत्ता संग्राहकों को भी ज्यादा पैसा मिल रहा है, तेंदू पत्ता की खरीद भी तेज़ी से हो रही है। यहां की माताओं-बहनों को महतारी वंदन योजना से भी लाभ हुआ है। छत्तीसगढ़ में जिस तरह कांग्रेस के घोटालेबाज़ों पर एक्शन हो रहा है, वो पूरा देश देख रहा है।

साथियों, 

मैं आज आपसे विकसित भारत-विकसित छत्तीसगढ़ के लिए आशीर्वाद मांगने के लिए आया हूं। जब मैं विकसित भारत कहता हूं, तो कांग्रेस वालों का और दुनिया में बैठी कुछ ताकतों का माथा गरम हो जाता है। अगर भारत शक्तिशाली हो गया, तो कुछ ताकतों का खेल बिगड़ जाएगा। आज अगर भारत आत्मनिर्भर बन गया, तो कुछ ताकतों की दुकान बंद हो जाएगी। इसलिए वो भारत में कांग्रेस और इंडी-गठबंधन की कमज़ोर सरकार चाहते हैं। ऐसी कांग्रेस सरकार जो आपस में लड़ती रहे, जो घोटाले करती रहे। 

साथियों,

कांग्रेस का इतिहास सत्ता के लालच में देश को तबाह करने का रहा है। देश में आतंकवाद फैला किसके कारण फैला? किसके कारण फैला? किसके कारण फैला? कांग्रेस की नीतियों के कारण फैला। देश में नक्सलवाद कैसे बढ़ा? किसके कारण बढ़ा? किसके कारण बढ़ा? कांग्रेस का कुशासन और लापरवाही यही कारण है कि देश बर्बाद होता गया। आज भाजपा सरकार, आतंकवाद और नक्सलवाद के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई कर रही है। लेकिन कांग्रेस क्या कर रही है? कांग्रेस, हिंसा फैलाने वालों का समर्थन कर रही है, जो निर्दोषों को मारते हैं, जीना हराम कर देते हैं, पुलिस पर हमला करते हैं, सुरक्षा बलों पर हमला करते हैं। अगर वे मारे जाएं, तो कांग्रेस वाले उन्हें शहीद कहते हैं। अगर आप उन्हें शहीद कहते हो तो शहीदों का अपमान करते हो। इसी कांग्रेस की सबसे बड़ी नेता, आतंकवादियों के मारे जाने पर आंसू बहाती हैं। ऐसी ही करतूतों के कारण कांग्रेस देश का भरोसा खो चुकी है।

भाइयों और बहनों, 

आज जब मैं सरगुजा आया हूं, तो कांग्रेस की मुस्लिम लीगी सोच को देश के सामने रखना चाहता हूं। जब उनका मेनिफेस्टो आया उसी दिन मैंने कह दिया था। उसी दिन मैंने कहा था कि कांग्रेस के मोनिफेस्टो पर मुस्लिम लीग की छाप है। 

साथियों, 

जब संविधान बन रहा था, काफी चर्चा विचार के बाद, देश के बुद्धिमान लोगों के चिंतन मनन के बाद, बाबासाहेब अम्बेडकर के नेतृत्व में तय किया गया था कि भारत में धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं होगा। आरक्षण होगा तो मेरे दलित और आदिवासी भाई-बहनों के नाम पर होगा। लेकिन धर्म के नाम पर आरक्षण नहीं होगा। लेकिन वोट बैंक की भूखी कांग्रेस ने कभी इन महापुरुषों की परवाह नहीं की। संविधान की पवित्रता की परवाह नहीं की, बाबासाहेब अम्बेडकर के शब्दों की परवाह नहीं की। कांग्रेस ने बरसों पहले आंध्र प्रदेश में धर्म के आधार पर आरक्षण देने का प्रयास किया था। फिर कांग्रेस ने इसको पूरे देश में लागू करने की योजना बनाई। इन लोग ने धर्म के आधार पर 15 प्रतिशत आरक्षण की बात कही। ये भी कहा कि SC/ST/OBC का जो कोटा है उसी में से कम करके, उसी में से चोरी करके, धर्म के आधार पर कुछ लोगों को आरक्षण दिया जाए। 2009 के अपने घोषणापत्र में कांग्रेस ने यही इरादा जताया। 2014 के घोषणापत्र में भी इन्होंने साफ-साफ कहा था कि वो इस मामले को कभी भी छोड़ेंगे नहीं। मतलब धर्म के आधार पर आरक्षण देंगे, दलितों का, आदिवासियों का आरक्षण कट करना पड़े तो करेंगे। कई साल पहले कांग्रेस ने कर्नाटका में धर्म के आधार पर आरक्षण लागू भी कर दिया था। जब वहां बीजेपी सरकार आई तो हमने संविधान के विरुद्ध, बाबासाहेब अम्बेडर की भावना के विरुद्ध कांग्रेस ने जो निर्णय किया था, उसको उखाड़ करके फेंक दिया और दलितों, आदिवासियों और पिछड़ों को उनका अधिकार वापस दिया। लेकिन कर्नाटक की कांग्रेस सरकार उसने एक और पाप किया मुस्लिम समुदाय की सभी जातियों को ओबीसी कोटा में शामिल कर दिया है। और ओबीसी बना दिया। यानि हमारे ओबीसी समाज को जो लाभ मिलता था, उसका बड़ा हिस्सा कट गया और वो भी वहां चला गया, यानि कांग्रेस ने समाजिक न्याय का अपमान किया, समाजिक न्याय की हत्या की। कांग्रेस ने भारत के सेक्युलरिज्म की हत्या की। कर्नाटक अपना यही मॉडल पूरे देश में लागू करना चाहती है। कांग्रेस संविधान बदलकर, SC/ST/OBC का हक अपने वोट बैंक को देना चाहती है।

भाइयों और बहनों,

ये सिर्फ आपके आरक्षण को ही लूटना नहीं चाहते, उनके तो और बहुत कारनामे हैं इसलिए हमारे दलित, आदिवासी और ओबीसी भाई-बहनों  को कहना चाहता हूं कि कांग्रेस के इरादे नेक नहीं है, संविधान और सामाजिक न्याय के अनुरूप नहीं है , भारत की बिन सांप्रदायिकता के अनुरूप नहीं है। अगर आपके आरक्षण की कोई रक्षा कर सकता है, तो सिर्फ और सिर्फ भारतीय जनता पार्टी कर सकती है। इसलिए आप भारतीय जनता पार्टी को भारी समर्थन दीजिए। ताकि कांग्रेस की एक न चले, किसी राज्य में भी वह कोई हरकत ना कर सके। इतनी ताकत आप मुझे दीजिए। ताकि मैं आपकी रक्षा कर सकूं। 

साथियों!

कांग्रेस की नजर! सिर्फ आपके आरक्षण पर ही है ऐसा नहीं है। बल्कि कांग्रेस की नज़र आपकी कमाई पर, आपके मकान-दुकान, खेत-खलिहान पर भी है। कांग्रेस के शहज़ादे का कहना है कि ये देश के हर घर, हर अलमारी, हर परिवार की संपत्ति का एक्स-रे करेंगे। हमारी माताओं-बहनों के पास जो थोड़े बहुत गहने-ज़ेवर होते हैं, कांग्रेस उनकी भी जांच कराएगी। यहां सरगुजा में तो हमारी आदिवासी बहनें, चंदवा पहनती हैं, हंसुली पहनती हैं, हमारी बहनें मंगलसूत्र पहनती हैं। कांग्रेस ये सब आपसे छीनकर, वे कहते हैं कि बराबर-बराबर डिस्ट्रिब्यूट कर देंगे। वो आपको मालूम हैं ना कि वे किसको देंगे। आपसे लूटकर के किसको देंगे मालूम है ना, मुझे कहने की जरूरत है क्या। क्या ये पाप करने देंगे आप और कहती है कांग्रेस सत्ता में आने के बाद वे ऐसे क्रांतिकारी कदम उठाएगी। अरे ये सपने मन देखो देश की जनता आपको ये मौका नहीं देगी। 

साथियों, 

कांग्रेस पार्टी के खतरनाक इरादे एक के बाद एक खुलकर सामने आ रहे हैं। शाही परिवार के शहजादे के सलाहकार, शाही परिवार के शहजादे के पिताजी के भी सलाहकार, उन्होंने  ने कुछ समय पहले कहा था और ये परिवार उन्हीं की बात मानता है कि उन्होंने कहा था कि हमारे देश का मिडिल क्लास यानि मध्यम वर्गीय लोग जो हैं, जो मेहनत करके कमाते हैं। उन्होंने कहा कि उनपर ज्यादा टैक्स लगाना चाहिए। इन्होंने पब्लिकली कहा है। अब ये लोग इससे भी एक कदम और आगे बढ़ गए हैं। अब कांग्रेस का कहना है कि वो Inheritance Tax लगाएगी, माता-पिता से मिलने वाली विरासत पर भी टैक्स लगाएगी। आप जो अपनी मेहनत से संपत्ति जुटाते हैं, वो आपके बच्चों को नहीं मिलेगी, बल्कि कांग्रेस सरकार का पंजा उसे भी आपसे छीन लेगा। यानि कांग्रेस का मंत्र है- कांग्रेस की लूट जिंदगी के साथ भी और जिंदगी के बाद भी। जब तक आप जीवित रहेंगे, कांग्रेस आपको ज्यादा टैक्स से मारेगी। और जब आप जीवित नहीं रहेंगे, तो वो आप पर Inheritance Tax का बोझ लाद देगी। जिन लोगों ने पूरी कांग्रेस पार्टी को पैतृक संपत्ति मानकर अपने बच्चों को दे दी, वो लोग नहीं चाहते कि एक सामान्य भारतीय अपने बच्चों को अपनी संपत्ति दे। 

भाईयों-बहनों, 

हमारा देश संस्कारों से संस्कृति से उपभोक्तावादी देश नहीं है। हम संचय करने में विश्वास करते हैं। संवर्धन करने में विश्वास करते हैं। संरक्षित करने में विश्वास करते हैं। आज अगर हमारी प्रकृति बची है, पर्यावरण बचा है। तो हमारे इन संस्कारों के कारण बचा है। हमारे घर में बूढ़े मां बाप होंगे, दादा-दादी होंगे। उनके पास से छोटा सा भी गहना होगा ना? अच्छी एक चीज होगी। तो संभाल करके रखेगी खुद भी पहनेगी नहीं, वो सोचती है कि जब मेरी पोती की शादी होगी तो मैं उसको यह दूंगी। मेरी नाती की शादी होगी, तो मैं उसको दूंगी। यानि तीन पीढ़ी का सोच करके वह खुद अपना हक भी नहीं भोगती,  बचा के रखती है, ताकि अपने नाती, नातिन को भी दे सके। यह मेरे देश का स्वभाव है। मेरे देश के लोग कर्ज कर करके जिंदगी जीने के शौकीन लोग नहीं हैं। मेहनत करके जरूरत के हिसाब से खर्च करते हैं। और बचाने के स्वभाव के हैं। भारत के मूलभूत चिंतन पर, भारत के मूलभूत संस्कार पर कांग्रेस पार्टी कड़ा प्रहार करने जा रही है। और उन्होंने कल यह बयान क्यों दिया है उसका एक कारण है। यह उनकी सोच बहुत पुरानी है। और जब आप पुरानी चीज खोजोगे ना? और ये जो फैक्ट चेक करने वाले हैं ना मोदी की बाल की खाल उधेड़ने में लगे रहते हैं, कांग्रेस की हर चीज देखिए। आपको हर चीज में ये बू आएगी। मोदी की बाल की खाल उधेड़ने में टाइम मत खराब करो। लेकिन मैं कहना चाहता हूं। यह कल तूफान उनके यहां क्यों मच गया,  जब मैंने कहा कि अर्बन नक्सल शहरी माओवादियों ने कांग्रेस पर कब्जा कर लिया तो उनको लगा कि कुछ अमेरिका को भी खुश करने के लिए करना चाहिए कि मोदी ने इतना बड़ा आरोप लगाया, तो बैलेंस करने के लिए वह उधर की तरफ बढ़ने का नाटक कर रहे हैं। लेकिन वह आपकी संपत्ति को लूटना चाहते हैं। आपके संतानों का हक आज ही लूट लेना चाहते हैं। क्या आपको यह मंजूर है कि आपको मंजूर है जरा पूरी ताकत से बताइए उनके कान में भी सुनाई दे। यह मंजूर है। देश ये चलने देगा। आपको लूटने देगा। आपके बच्चों की संपत्ति लूटने देगा।

साथियों,

जितने साल देश में कांग्रेस की सरकार रही, आपके हक का पैसा लूटा जाता रहा। लेकिन भाजपा सरकार आने के बाद अब आपके हक का पैसा आप लोगों पर खर्च हो रहा है। इस पैसे से छत्तीसगढ़ के करीब 13 लाख परिवारों को पक्के घर मिले। इसी पैसे से, यहां लाखों परिवारों को मुफ्त राशन मिल रहा है। इसी पैसे से 5 लाख रुपए तक का मुफ्त इलाज मिल रहा है। मोदी ने ये भी गारंटी दी है कि 4 जून के बाद छत्तीसगढ़ के हर परिवार में जो बुजुर्ग माता-पिता हैं, जिनकी आयु 70 साल हो गई है। आज आप बीमार होते हैं तो आपकी बेटे और बेटी को खर्च करना पड़ता है। अगर 70 साल की उम्र हो गई है और आप किसी पर बोझ नहीं बनना चाहते तो ये मोदी आपका बेटा है। आपका इलाज मोदी करेगा। आपके इलाज का खर्च मोदी करेगा। सरगुजा के ही करीब 1 लाख किसानों के बैंक खाते में किसान निधि के सवा 2 सौ करोड़ रुपए जमा हो चुके हैं और ये आगे भी होते रहेंगे।

साथियों, 

सरगुजा में करीब 400 बसाहटें ऐसी हैं जहां पहाड़ी कोरवा परिवार रहते हैं। पण्डो, माझी-मझवार जैसी अनेक अति पिछड़ी जनजातियां यहां रहती हैं, छत्तीसगढ़ और दूसरे राज्यों में रहती हैं। हमने पहली बार ऐसी सभी जनजातियों के लिए, 24 हज़ार करोड़ रुपए की पीएम-जनमन योजना भी बनाई है। इस योजना के तहत पक्के घर, बिजली, पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य, कौशल विकास, ऐसी सभी सुविधाएं पिछड़ी जनजातियों के गांव पहुंचेंगी। 

साथियों, 

10 वर्षों में भांति-भांति की चुनौतियों के बावजूद, यहां रेल, सड़क, अस्तपताल, मोबाइल टावर, ऐसे अनेक काम हुए हैं। यहां एयरपोर्ट की बरसों पुरानी मांग पूरी की गई है। आपने देखा है, अंबिकापुर से दिल्ली के ट्रेन चली तो कितनी सुविधा हुई है।

साथियों,

10 साल में हमने गरीब कल्याण, आदिवासी कल्याण के लिए इतना कुछ किया। लेकिन ये तो सिर्फ ट्रेलर है। आने वाले 5 साल में बहुत कुछ करना है। सरगुजा तो ही स्वर्गजा यानि स्वर्ग की बेटी है। यहां प्राकृतिक सौंदर्य भी है, कला-संस्कृति भी है, बड़े मंदिर भी हैं। हमें इस क्षेत्र को बहुत आगे लेकर जाना है। इसलिए, आपको हर बूथ पर कमल खिलाना है। 24 के इस चुनाव में आप का ये सेवक नरेन्द्र मोदी को आपका आशीर्वाद चाहिए, मैं आपसे आशीर्वाद मांगने आया हूं। आपको केवल एक सांसद ही नहीं चुनना, बल्कि देश का उज्ज्वल भविष्य भी चुनना है। अपनी आने वाली पीढ़ियों का भविष्य चुनना है। इसलिए राष्ट्र निर्माण का मौका बिल्कुल ना गंवाएं। सर्दी हो शादी ब्याह का मौसम हो, खेत में कोई काम निकला हो। रिश्तेदार के यहां जाने की जरूरत पड़ गई हो, इन सबके बावजूद भी कुछ समय आपके सेवक मोदी के लिए निकालिए। भारत के लोकतंत्र और उज्ज्वल भविष्य के लिए निकालिए। आपके बच्चों की गारंटी के लिए निकालिए और मतदान अवश्य करें। अपने बूथ में सारे रिकॉर्ड तोड़नेवाला मतदान हो। इसके लिए मैं आपसे प्रार्थना करता हूं। और आग्राह है पहले जलपान फिर मतदान। हर बूथ में मतदान का उत्सव होना चाहिए, लोकतंत्र का उत्सव होना चाहिए। गाजे-बाजे के साथ लोकतंत्र जिंदाबाद, लोकतंत्र जिंदाबाद करते करते मतदान करना चाहिए। और मैं आप को वादा करता हूं। 

भाइयों-बहनों  

मेरे लिए आपका एक-एक वोट, वोट नहीं है, ईश्वर रूपी जनता जनार्दन का आर्शीवाद है। ये आशीर्वाद परमात्मा से कम नहीं है। ये आशीर्वाद ईश्वर से कम नहीं है। इसलिए भारतीय जनता पार्टी को दिया गया एक-एक वोट, कमल के फूल को दिया गया एक-एक वोट, विकसित भारत बनाएगा ये मोदी की गारंटी है। कमल के निशान पर आप बटन दबाएंगे, कमल के फूल पर आप वोट देंगे तो वो सीधा मोदी के खाते में जाएगा। वो सीधा मोदी को मिलेगा।      

भाइयों और बहनों, 

7 मई को चिंतामणि महाराज जी को भारी मतों से जिताना है। मेरा एक और आग्रह है। आप घर-घर जाइएगा और कहिएगा मोदी जी ने जोहार कहा है, कहेंगे। मेरे साथ बोलिए...  भारत माता की जय! 

भारत माता की जय! 

भारत माता की जय!