Share
 
Comments
“100 crore vaccinations are not just a figure, but a reflection of the strength of the country”
“A success of India and the success of every countryman”
“If the disease does not discriminate, then there cannot be any discrimination in the vaccination. That's why it was ensured that the VIP culture of entitlement does not dominate the vaccination campaign”
“Acceptance that India enjoys in the world as a pharma hub will be further strengthened.”
“Government made public participation the first line of defence in the country's fight against the pandemic”
“The entire vaccination program of India has been Science-born, Science-driven and Science-based”
“Today not only are record investments coming in Indian companies but new employment opportunities are also being created for the youth. With record investment in start-ups, unicorns are emerging”
“Just like Swachh Bharat Abhiyan is a mass movement, in the same way, buying things made in India, buying things made by Indians, being Vocal for Local has to be put into practice”
“No matter how good the cover is, no matter how modern the armour is, even if armour gives a complete guarantee of protection, weapons are not given up while the battle is on. There is no reason to get careless. Celebrate our festivals with utmost precautions”

নমস্কাৰ, মোৰ মৰমৰ দেশবাসী!

আজি মই নিজৰ কথাৰ আৰম্ভণি এটা বেদবাক্যৰে কৰিব খুজিছো।

কৃতম্ মে দক্ষিণে হস্তে,

জয়ো মে সব্য আহিতঃ।

এই কথাষাৰ ভাৰতৰ সন্দৰ্ভত যদি চোৱা যায় তেন্তে বহুত চিধাচিধি অৰ্থ এইটোৱেই যে আমাৰ দেশে এফালে কৰ্তব্য পালন কৰিছে আৰু আনফালে বৃহৎ সফলতাও লাভ কৰিছে। কালি ২১ অক্টোবৰত ভাৰতে ১০০ কোটি ভেকচিন ড'জৰ কঠিন কিন্তু অসাধাৰণ লক্ষ্য আহৰণ কৰিলে। এই অভিজ্ঞতাৰ অন্তৰালত ১৩০ কোটি দেশবাসীৰ কৰ্তব্যশক্তি লাগি আছে, সেয়ে এই সফলতা ভাৰতৰ সফলতা, প্ৰত্যেক দেশবাসীৰ সফলতা। মই ইয়াৰ বাবে প্ৰত্যেক দেশবাসীক হৃদয়ৰ পৰা অভিনন্দন জনাইছো।

বন্ধুসকল,

১০০ কোটি ভেকচিন ড'জ, এয়া কেৱল এটা সংখ্যা নহয়। এয়া দেশৰ সামৰ্থ্যৰ প্ৰতিবিম্ব, ইতিহাসৰ নতুন অধ্যায়ৰ ৰচনা, এয়া সেই নতুন ভাৰতৰ ছবি যি কঠিন লক্ষ্য নিৰ্ধাৰণ কৰি, তাক আহৰণ কৰিব জানে। এয়া সেই নতুন ভাৰতৰ ছবি যি নিজৰ সংকল্পৰ সিদ্ধিৰ বাবে পৰিশ্ৰমৰ পৰাকাষ্ঠা কৰে।

বন্ধুসকল,

আজি বহু মানুহে ভাৰতৰ ভেকচিনেচন প্ৰগ্ৰেমৰ তুলনা পৃথিৱীৰ অন্য দেশৰ সৈতে কৰি আছে। যি দ্ৰুততাৰে ১০০ কোটিৰ, ৱান বিলিয়নৰ সংখ্যা অতিক্ৰম কৰিলে, তাৰ প্ৰশংসাও হৈ আছে। কিন্তু এই বিশ্লেষণত এটা কথা প্ৰায়েই আওকাণ কৰা হয় যে আমি এই আৰম্ভণি ক'ৰ পৰা কৰিলো! পৃথিৱীৰ অন্য ডাঙৰ দেশসমূহৰ বাবে ভেকচিনৰ ওপৰত ৰিছাৰ্চ কৰা, ভেকচিনৰ সন্ধান কৰা, এই ক্ষেত্ৰত দশক দশক ধৰি তেওঁলোকৰ মহাৰথ, expertise আছিল। ভাৰতে বেছিভাগ এই দেশসমূহে বনোৱা ভেকচিনৰ ওপৰতে নিৰ্ভৰশীল আছিল। আমি বাহিৰৰ পৰা অনাইছিলো, সেয়ে যেতিয়া ১০০ বছৰৰ সবাতোকৈ ডাঙৰ মহামাৰী আহিল, তেতিয়া ভাৰতৰ ওপৰত প্ৰশ্ন উঠিবলৈ ধৰিলে। ভাৰতে এই বৈশ্বিক মহামাৰীৰ সৈতে যুঁজিব পাৰিবনে? ভাৰতে অন্য দেশৰ পৰা ইমান ভেকচিন ক্ৰয় কৰাৰ পইচা ক'ৰ পৰা আনিব? ভাৰতে ভেকচিন কেতিয়া পাব? ভাৰতৰ মানুহে বাৰু ভেকচিন পাব নে নাপায়? ভাৰতে ইমান মানুহক টীকা দিব পাৰিবনে, যাতে মহামাৰীক বিয়পাত বাধা দিব পাৰে? বিধে বিধে প্ৰশ্ন আছিল, কিন্তু আজি এই ১০০ কোটি ভেকচিন ড'জে প্ৰতিটো প্ৰশ্নৰ উত্তৰ দি আছে। ভাৰতে নিজৰ নাগৰিকসকলক ১০০ কোটি ভেকচিন ড'জ লগালে, আৰু সেয়াও বিনামূলীয়া। পইচা নোলোৱাকৈ।

বন্ধুসকল,

 ১০০ কোটি ভেকচিন ড'জৰ এটা প্ৰভাৱ এইটোও হ'ব যে পৃথিৱীয়ে এতিয়া ভাৰতক কৰোণাৰ পৰা অধিক সুৰক্ষিত বুলি মানিব। এটা ফাৰ্মা হাবৰ ৰূপত ভাৰতে বিশ্বত যি স্বীকৃতি লাভ কৰিছে, সি অধিক শক্তি লাভ কৰিব।

বন্ধুসকল,

ভাৰতৰ ভেকচিনেচন অভিযান 'সবকা সাথ, সবকা বিকাশ, সবকা বিশ্বাস, আৰু সবকা প্ৰয়াস'ৰ সবাতোকৈ জীৱন্ত উদাহৰণ। কৰোণা মহামাৰীৰ আৰম্ভণিত এই আশংকাও প্ৰকাশ কৰা হৈছিল যে ভাৰতৰ দৰে গণতন্ত্ৰত এই মহামাৰীৰে যুঁজ দিয়াটো বহুত কঠিন হ'ব। ভাৰতৰ বাবে, ভাৰতৰ জনসাধাৰণৰ বাবে গণতন্ত্ৰৰ অৰ্থ হৈছে- 'সবকা সাথ'। সকলোকে লগত লৈ দেশে 'সবকো ভেকচিন' (সকলোকে ভেকচিন), 'মুফ্ট ভেকচিন' (বিনামূলীয়া ভেকচিন)ৰ অভিযান আৰম্ভ কৰে। ধনী-দুখীয়া, গাঁও-চহৰ, দূৰ-সুদূৰত দেশৰ এটাই মন্ত্ৰ সুনিশ্চিত কৰা হ'ল যে ভেকচিনেচন অভিযানত VIP কালচাৰ প্ৰয়োগ নহওক। কোনোবা যিমানেই ডাঙৰ পদত নাথাকক লাগে, যিমানেই ধনী নহওক লাগে, তেওঁ ভেকচিন সাধাৰণ লোকৰ দৰেই পাব।

বন্ধুসকল,

আমাৰ দেশৰ বাবে এইবুলিও কৈ থকা হৈছিল যে ইয়াত বেছিভাগ মানুহে টীকা লগাবলৈকে নাহে। পৃথিৱীৰ কেইবাখনো বৃহৎ বিকশিত দেশত আজিও ভেকচিন হেজিটেন্সী এটা ডাঙৰ প্ৰত্যাহ্বান হৈ আছে। কিন্তু ভাৰতৰ মানুহে ১০০ কোটি ভেকচিন ড'জ লৈ এনেকুৱা লোকক নিৰুত্তৰ কৰি দিলে।

বন্ধুসকল,

কোনো অভিযানত যেতিয়া 'সকলোৰে প্ৰয়াস' একত্ৰিত হয়, তেতিয়া পৰিণাম অদ্ভূতেই হয়। আমি মহামাৰীৰ বিৰুদ্ধে দেশৰ যুদ্ধত জনভাগিদাৰীক নিজৰ প্ৰথম শক্তি কৰিলো, ফাৰ্ষ্ট লাইন অফ ডিফেঞ্চ কৰিলো। দেশে নিজৰ ঐক্যবদ্ধতাক শক্তি দিবলৈ তালী, থালী বজালে, বন্তি জ্বলালে। কিছুমান মানুহে কৈছিল যে ইয়াৰ ফলত বেমাৰ পলাই যাবনেকি? কিন্তু আমি সকলোৱে তাত দেশৰ একতা দেখিলো, সামূহিক শক্তিৰ জাগৰণ দেখিলো। এই শক্তিয়েই কোভিড ভেকচিনেচনত আজি দেশক ইমান কম সময়ত ১০০ কোটি পোৱালেগৈ। কিমান বাৰ যে আমাৰ দেশে এদিনতে এক কোটি টীকাকৰণৰ সংখ্যা অতিক্ৰম কৰিলে। এয়া বহুত ডাঙৰ সামৰ্থ্য, প্ৰবন্ধ কৌশল, টেকনলজিৰ উপযুক্ত ব্যৱহাৰ, যি আজি ডাঙৰ ডাঙৰ দেশৰ হাতত নাই।

বন্ধুসকল,

ভাৰতৰ সম্পূৰ্ণ ভেকচিনেচন প্ৰগ্ৰেম বিজ্ঞানৰ গৰ্ভত জন্মিছে, বৈজ্ঞানিক আধাৰত প্ৰয়োগ হৈছে, আৰু বৈজ্ঞানিক পদ্ধতিৰে চাৰিও দিশত পাইছে। আমি সকলোৰে বাবে গৰ্ব কৰিবলগীয়া কথা যে ভাৰতৰ সম্পূৰ্ণ ভেকচিনেচন প্ৰগ্ৰেম Science Born, Science Driven আৰু Science Based হয়। ভেকচিন প্ৰস্তুত হোৱাৰ পূৰ্বে আৰু ভেকচিন লগালৈকে এই সমগ্ৰ অভিযানত প্ৰত্যেক ঠাইত ছাইঞ্চ আৰু ছাইণ্টিফিক এপ্ৰোচ অন্তৰ্ভুক্ত আছে। আমাৰ সন্মুখত প্ৰত্যাহ্বান মেনুফেকচাৰিঙক লৈও আছিল, প্ৰডাকচনক স্কেলআপ কৰাতো আছিল। ইমান ডাঙৰ দেশ, ইমান বৃহৎ জনসংখ্যা! তাৰ পিছত, বেলেগ বেলেগ ৰাজ্যত, দূৰ-দূৰণিৰ ঠাইত সময়ত ভেকচিন উপলব্ধ কৰোৱা! এয়াও কোনো ভাগীৰথ কাৰ্যতকৈ কম নাছিল। কিন্তু বৈজ্ঞানিক পদ্ধতি আৰু নতুন নতুন ইনোভেচনেৰে দেশে এই প্ৰত্যাহ্বানবিলাকৰ সমাধান বিচাৰিলে। অসাধাৰণ স্পীডেৰে সম্পদৰাজি বঢ়োৱা হ'ল। কোন ৰাজ্যই কিমান ভেকচিন কেৰিয়া পাব লাগে, কোন অঞ্চললৈ কিমান ভেকচিন পঠিয়াব লাগে, ইয়াৰ বাবেও বৈজ্ঞানিক ফৰ্মুলাৰ জৰিয়তে কাম হ'ল। আমাৰ দেশে কোৱিন প্লেটফৰ্মৰ যি ব্যৱস্থা বনালে, সেয়াও বিশ্বত আকৰ্ষণৰ কেন্দ্ৰ। ভাৰতত নিৰ্মিত কোৱিন প্লেটফৰ্মে কেৱল সাধাৰণ মানুহকে সুবিধা দিয়া নাই, বৰং আমাৰ মেডিকেল ষ্টাফৰ কামো সহজ কৰি তোলে।

বন্ধুসকল,

আজি চাৰিওফালে এটা বিশ্বাস আছে, উৎসাহ আছে, আশা আছে। সমাজৰ পৰা ইকনমীলৈকে, আমি প্ৰত্যেক দিশত চালে optimism, optimism, optimism দেখিবলৈ পাওঁ। এক্সপাৰ্ট আৰু দেশ-বিদেশৰ অনেক এজেঞ্চি ভাৰতৰ অৰ্থনৈতিক ব্যৱস্থাক লৈ বহুত সকাৰাত্মক। আজি ভাৰতীয় কোম্পানীবিলাকত কেৱল ৰেকৰ্ড ইনভেষ্টমেণ্টেই আহি থকা নাই, বৰং যুৱক-যুৱতীসকলৰ বাবে নিয়োগৰ নতুন সুযোগো হৈ আছে। ষ্টাৰ্টআপবিলাকত ৰেকৰ্ড ইনভেষ্টমেণ্টৰ লগতে ৰেকৰ্ড ষ্টাৰ্টআপ, ইউনিকৰ্ণ হৈ আছে। হাউছিং ছেক্টৰতো নতুন শক্তি দেখা গৈছে। যোৱা মাহবিলাকত কৰা বহুতো ৰিফৰ্মে, বহুতো ইনিছিয়েটিভছে, গতিশক্তিৰ পৰা নতুন ড্ৰোন নীতিলৈকে, ভাৰতৰ অৰ্থনৈতিক ব্যৱস্থাক আৰু দ্ৰুততাৰে আগবঢ়াই নিয়াত ডাঙৰ ভূমিকা পালন কৰিব। কৰোণা কালত কৃষি ক্ষেত্ৰই আমাৰ অৰ্থনৈতিক ব্যৱস্থাক শক্তিশালীভাৱে চম্ভালি ৰাখিলে। আজি ৰেকৰ্ড লেভেলত শস্যৰ চৰকাৰী ক্ৰয় হৈ আছে, কৃষকৰ বেংকৰ খাতালৈ পোনপটীয়াকৈ পইচা গৈ আছে। ভেকচিনৰ ক্ৰমবৰ্দ্ধমান কভাৰেজৰ সমান্তৰালকৈ অৰ্থনৈতিক-সামাজিক কামকাজেই হওক, খেল জগত হওক, টুৰিজম হওক, এণ্টাৰটেইনমেণ্ট হওক, সকলো দিশত সকাৰাত্মক কামকাজ দ্ৰুত গতিত হৈ আছে। অনাগত উৎসৱৰ বতৰে ইয়াক অধিক গতি দিব, অধিক শক্তি দিব।

বন্ধুসকল,

এটা সময় আছিল যেতিয়া Made in এইখন country, made in সৌখন countryৰ বহুত ক্ৰেজ হৈছিল। আৰু সেয়ে আজি মই আপোনালোকক আকৌ এই কথা ক'ম যে আমি প্ৰত্যেক সৰুতকৈও সৰু বস্তু, যি Made in India হয়, যাক বনাওঁতে কোনো ভাৰতবাসীৰ ঘাম ওলাইছে, তাক ক্ৰয় কৰাত জোৰ দিব লাগে। আৰু এইটো সকলোৰে প্ৰয়াসত হে সম্ভৱ হ'ব। যেনেকৈ স্বচ্ছ ভাৰত অভিযান, এটা জন আন্দোলন, তেনেকৈয়ে ভাৰতত প্ৰস্তুত সামগ্ৰী ক্ৰয় কৰা, ভাৰতীয়ৰ দ্বাৰা নিৰ্মিত সামগ্ৰী ক্ৰয় কৰা, Vocal for Local হোৱা, এই কথা আমি ব্যৱহাৰলৈ আনিবই লাগিব। আৰু মোৰ বিশ্বাস আছে যে সকলোৰে প্ৰয়াসত আমি ইয়াকো কৰিমেই। ১০০ কোটি ভেকচিন ড'জৰ কাৰণে এটা বিশ্বাসৰ ভাব আছে। যদি মোৰ দেশৰ ভেকচিনে মোক সুৰক্ষা দিব পাৰে, তেন্তে মোৰ দেশৰ উৎপাদন, মোৰ দেশত নিৰ্মিত সামগ্ৰীয়ে, মোৰ দীপাৱলি আৰু ভব্য কৰি তুলিব পাৰে। দীপাৱলিৰ সময়ত বিক্ৰী এফালে আৰু বাকী বছৰৰ বিক্ৰী এফালে হয়। আমাৰ ইয়াত দীপাৱলিৰ সময়ত, উৎসৱৰ সময়ত বিক্ৰী একদম বাঢ়ি যায়। ১০০ কোটি ভেকচিন ড'জ, আমাৰ সৰু সৰু দোকানী, আমাৰ সৰু সৰু উদ্যমী, আমাৰ দালদৰিদ্ৰ ভাই-ভনীসকল, সকলোৰে বাবে আশাৰ কিৰণ হৈ আহিছে।

বন্ধুসকল,

আজি আমাৰ সন্মুখত অমৃত মহোৎসৱৰ সংকল্প আছে, এনে অৱস্থাত আমাৰ এই সফলতাই আমাক নতুন আত্মবিশ্বাস দিয়ে। আমি আজি ক'ব পাৰো যে দেশে ডাঙৰ লক্ষ্য নিৰ্ধাৰণ কৰিব আৰু তাক আহৰণ কৰিব ভালদৰে জানে। কিন্তু ইয়াৰ বাবে আমি সততে সাৱধান হৈ থকা দৰকাৰ। আমি অসতৰ্ক হ'ব নালাগে। কৱচ যিমানেই উত্তম নহওক লাগে, কৱচ যিমানেই আধুনিক নহওক লাগে, কৱচৰ জৰিয়তে সুৰক্ষাৰ সম্পূৰ্ণ গেৰাণ্টী যিমানেই নাথাকক, তেতিয়াও যিমান দিনলৈ যুদ্ধ চলে, সিমান দিনলৈ অস্ত্ৰ পেলাই দিয়া নহয়। মোৰ আৱেদন এয়ে যে আমি আমাৰ উৎসৱ অত্যন্ত সতৰ্কতাৰে পালন কৰিব লাগিব। আৰু যিমানলৈকে মাস্কৰ প্ৰশ্ন আছে, কেতিয়াবা অলপ হৈছিল কিন্তু এতিয়া তো ডিজাইনৰ জগতখনেও মাস্কত প্ৰৱেশ কৰি পেলাইছে। মোৰ ইমানেই ক'বলগীয়া আছে যে যেনেকৈ আমাৰ জোতা পিন্ধি হে বাহিৰলৈ যোৱা অভ্যাস হৈ পৰিছে, ঠিক তেনেকৈ মাস্ককো এটা সহজ স্বভাৱ বনাবই লাগিব। যি এতিয়ালৈকে ভেকচিন লোৱা নাই, তেওঁ ইয়াক সৰ্বোচ্চ প্ৰাথমিকতা দিয়ক। যাক ভেকচিন লগোৱা হৈছে, তেওঁলোকে আনক অনুপ্ৰাণিত কৰক। মোৰ সম্পূৰ্ণ ভৰষা আছে যে আমি সকলোৱে মিলি যদি প্ৰয়াস কৰো, তেন্তে কৰোণাক আৰু সোনকালে হৰুৱাব পাৰিম। আপোনালোক সকলোকে অনাগত উৎসৱৰ আকৌ এবাৰ বহুত বহুত শুভকামনা। বহুত বহুত ধন্যবাদ!

‘মন কী বাত’ৰ বাবে আপোনাৰ ধাৰণা আৰু পৰামৰ্শ এতিয়াই শ্বেয়াৰ কৰক!
সেৱা আৰু সমৰ্পণৰ ২০ বছৰক সূচিত কৰা ২০ খন আলোকচিত্ৰ
Explore More
Our Jawans are the 'Suraksha Kavach' of 'Maa Bharti': PM Modi

Popular Speeches

Our Jawans are the 'Suraksha Kavach' of 'Maa Bharti': PM Modi
Indian economy shows strong signs of recovery, upswing in 19 of 22 eco indicators

Media Coverage

Indian economy shows strong signs of recovery, upswing in 19 of 22 eco indicators
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Double engine government doubles the speed of development works: PM Modi
December 07, 2021
Share
 
Comments
Inaugurates AIIMS, Fertilizer Plant and ICMR Centre
Double engine Government doubles the speed of Developmental works: PM
“Government that thinks of deprived and exploited, works hard as well get results”
“Today's event is evidence of determination new India for whom nothing is impossible”
Lauds UP Government for the work done for the benefit of sugarcane farmers

भारत माता की –  जय, भारत माता की –  जय, धर्म अध्यात्म अउर क्रांति क नगरी गोरखपुर क, देवतुल्य लोगन के हम प्रणाम करत बानी। परमहंस योगानंद, महायोगी गोरखनाथ जी, वंदनीय हनुमान प्रसाद पोद्दार जी, अउर महा बलीदानी पंडित राम प्रसाद बिस्मिल क,ई पावन धरती के कोटि-कोटि नमन। आप सब लोग जवने खाद कारखाना, अउर एम्स क बहुत दिन से इंतजार करत रहली ह, आज उ घड़ी आ गईल बा ! आप सबके बहुत-बहुत बधाई।

मेरे साथ मंच पर उपस्थित उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल जी, उत्तर प्रदेश के यशस्वी कर्मयोगी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी, उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, डॉक्टर दिनेश शर्मा, भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष श्री स्वतंत्रदेव सिंह जी, अपना दल की राष्ट्रीय अध्यक्ष और मंत्रिमंडल में हमारी साथी, बहन अनुप्रिया पटेल जी, निषाद पार्टी के अध्यक्ष भाई संजय निषाद जी, मंत्रिमंडल में मेरे सहयोगी श्री पंकज चौधरी जी, उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री श्री जयप्रताप सिंह जी, श्री सूर्य प्रताप शाही जी, श्री दारा सिंह चौहान जी, स्वामी प्रसाद मौर्या जी, उपेंद्र तिवारी जी, सतीश द्विवेदी जी, जय प्रकाश निषाद जी, राम चौहान जी, आनंद स्वरूप शुक्ला जी, संसद में मेरे साथीगण, यूपी विधानसभा और विधान परिषद के सदस्यगण, और विशाल संख्या में हमें आर्शीवाद देने के लिए आए हुए मेरे प्यारे भाइयों और बहनों!

जब मैं मंच पर आया तो मैं सोच रहा था ये भीड़ है। यहां नजर भी नहीं पहुंच रही है। लेकिन जब उस तरफ देखा तो मैं हैरान हो गया, इतनी बड़ी तादाद में लोग और में नहीं मानता हूं शायद उनको दिखाई भी नहीं देता होगा, सुनाई भी नहीं देता होगा। इतने दूर-दूर लोग झंडे हिला रहे हैं। ये आपका प्यार, ये आपके आर्शीवाद हमें आपके लिए दिन-रात काम करने की प्रेरणा देते हैं, ऊर्जा देते हैं, ताकत देते हैं। 5 साल पहले मैं यहां एम्स और खाद कारखाने का शिलान्यास करने आया था। आज इन दोनों का एक साथ लोकार्पण करने का सौभाग्य भी आपने मुझे ही दिया है। ICMR के रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर को भी आज अपनी नई बिल्डिंग मिली है। मैं यूपी के लोगों को बहुत-बहुत बधाई देता हूं।

साथियों,

गोरखपुर में फर्टिलाइजर प्लांट का शुरू होना, गोरखपुर में एम्स का शुरू होना, अनेक संदेश दे रहा है। जब डबल इंजन की सरकार होती है, तो डबल तेजी से काम भी होता है। जब नेक नीयत से काम होता है, तो आपदाएं भी अवरोध नहीं बन पातीं। जब गरीब-शोषित-वंचित की चिंता करने वाली सरकार होती है, तो वो परिश्रम भी करती है, परिणाम भी लाकर दिखाती है। गोरखपुर में आज हो रहा आयोजन, इस बात का भी सबूत है कि नया भारत जब ठान लेता है, तो इसके लिए कुछ भी असंभव नहीं है।

साथियों,

जब 2014 में आपने मुझे सेवा का अवसर दिया था, तो उस समय देश में फर्टिलाइजर सेक्टर बहुत बुरी स्थिति में था। देश के कई बड़े- बड़े खाद कारखाने बरसों से बंद पड़े थे, और विदेशों से आयात लगातार बढ़ता जा रहा था। एक बड़ी दिक्कत ये भी थी कि जो खाद उपलब्ध थी, उसका इस्तेमाल चोरी-छिपे खेती के अलावा और भी कामों में गुप-चुप चला जाता था। इसलिए देशभर में यूरिया की किल्लत तब सुर्खियों में रहा करती थी, किसानों को खाद के लिए लाठी-गोली तक खानी पड़ती थी। ऐसी स्थिति से देश को निकालने के लिए ही हम एक नए संकल्प के साथ आगे बढ़े। हमने तीन सूत्रों पर एक साथ काम करना शुरू किया। एक-    हमने यूरिया का गलत इस्तेमाल रोका, यूरिया की 100 प्रतिशत नीम कोटिंग की। दूसरा-   हमने करोड़ों किसानों को सॉयल हेल्थ कार्ड दिए, ताकि उन्हें पता चल सके कि उनके खेत को किस तरह की खाद की जरूरत है और तीसरा-  हमने यूरिया के उत्पादन को बढ़ाने पर जोर दिया। बंद पड़े फर्टिलाइजर प्लांट्स को फिर से खोलने पर हमने ताकत लगाई। इसी अभियान के तहत गोरखपुर के इस फर्टिलाइजर प्लांट समेत देश के 4 और बड़े खाद कारखाने हमने चुने। आज एक की शुरुआत हो गई है, बाकी भी अगले वर्षों में शुरू हो जाएंगे।

साथियों,

गोरखपुर फर्जिलाइजर प्लांट को शुरू करवाने के लिए एक और भगीरथ कार्य हुआ है। जिस तरह से भगीरथ जी, गंगा जी को लेकर आए थे,वैसे ही इस फर्टिलाइजर प्लांट तक ईंधन पहुंचाने के लिए ऊर्जा गंगा को लाया गया है। पीएम ऊर्जा गंगा गैस पाइपलाइन परियोजना के तहत हल्दिया से जगदीशपुर पाइपलाइन बिछाई गई है। इस पाइपलाइन की वजह से गोरखपुर फर्टिलाइजर प्लांट तो शुरू हुआ ही है, पूर्वी भारत के दर्जनों जिलों में पाइप से सस्ती गैस भी मिलने लगी है।

भाइयों और बहनों,

फर्टिलाइजर प्लांट के शिलान्यास के समय मैंने कहा था कि इस कारखाने के कारण गोरखपुर इस पूरे क्षेत्र में विकास की धुरी बनकर उभरेगा। आज मैं इसे सच होते देख रहा हूं। ये खाद कारखाना राज्य के अनेक किसानों को पर्याप्त यूरिया तो देगा ही, इससे पूर्वांचल में रोज़गार और स्वरोज़गार के हजारों नए अवसर तैयार होंगे। अब यहां आर्थिक विकास की एक नई संभावना फिर से पैदा होगी, अनेक नए बिजनेस शुरू होंगे। खाद कारखाने से जुड़े सहायक उद्योगों के साथ ही ट्रांसपोर्टेशन और सर्विस सेक्टर को भी इससे बढ़ावा मिलेगा।

साथियों,

गोरखपुर खाद कारखाने की बहुत बड़ी भूमिका, देश को यूरिया के उत्पादन में आत्मनिर्भर बनाने में भी होगी। देश के अलग-अलग हिस्सों में बन रहे 5 फर्टिलाइजर प्लांट शुरू होने के बाद 60 लाख टन अतिरिक्त यूरिया देश को मिलेगा। यानि भारत को हजारों करोड़ रुपए विदेश नहीं भेजने होंगे, भारत का पैसा, भारत में ही लगेगा।

साथियों,

खाद के मामले में आत्मनिर्भरता क्यों जरूरी है, ये हमने कोरोना के इस संकट काल में भी देखा है। कोरोना से दुनिया भर में लॉकडाउन लगे, एक देश से दूसरे देश में आवाजाही रुक गई, सप्लाई चेन टूट गई। इससे अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खाद की कीमतें बहुत ज्यादा बढ़ गईं। लेकिन किसानों के लिए समर्पित और संवेदनशील हमारी सरकार ने ये सुनिश्चित किया कि दुनिया में फर्टिलाइज़र के दाम भले बढ़ें, बहुत बढ़ गए लेकिन वे बोझ हम किसानों की तरफ नहीं जाने देंगे। किसानों को कम से कम परेशानी हो। इसकी हमने जिम्मेवारी ली है। आप हैरान हो जाएंगे सुनके भाईयो- बहनों,  इसी साल N.P.K. फर्टिलाइज़र के लिए दुनिया में दाम बढने के कारण 43 हज़ार करोड़ रुपए से ज्यादा सब्सिडी हमें किसानों के लिए बढ़ाना आवश्यक हुआ और हमने किया। यूरिया के लिए भी सब्सिडी में हमारी सरकार ने 33 हज़ार करोड़ रुपए की वृद्धि की। क्यों, कि दुनिया में दाम बढ़े उसका बोझ हमारे किसानों पर न जाये। अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में जहां यूरिया 60-65 रुपए प्रति किलो बिक रहा है, वहीं भारत में किसानों को यूरिया 10 से 12 गुना सस्ता देने का प्रयास है।

भाइयों और बहनों,

आज खाने के तेल को आयात करने के लिए भी भारत, हर साल हज़ारों करोड़ रुपए विदेश भेजता है। इस स्थिति को बदलने के लिए देश में ही पर्याप्त खाद्य तेल के उत्पादन के लिए राष्ट्रीय मिशन शुरु किया गया है। पेट्रोल-डीजल के लिए कच्चे तेल पर भी भारत हर वर्ष 5-7 लाख करोड़ रुपए खर्च करता है। इस आयात को भी हम इथेनॉल और बायोफ्यूल पर बल देकर कम करने में जुटे हैं। पूर्वांचल का ये क्षेत्र तो गन्ना किसानों का गढ़ है। इथेनॉल, गन्ना किसानों के लिए चीनी के अतिरिक्त कमाई का एक बहुत बेहतर साधन बन रहा है। उत्तर प्रदेश में ही बायोफ्यूल बनाने के लिए अनेक फैक्ट्रियों पर काम चल रहा है। हमारी सरकार आने से पहले यूपी से सिर्फ 20 करोड़ लीटर इथेनॉल, तेल कंपनियों को भेजा जाता था। आज करीब-करीब 100 करोड़ लीटर इथेलॉन, अकेले उत्तर प्रदेश के किसान, भारत की तेल कंपनियों को भेज रहे हैं। पहले खाड़ी का तेल आता था। अब झाड़ी का भी तेल आने लगा है।  मैं आज योगी जी सरकार की इस बात के लिए सराहना करूंगा कि उन्होंने गन्ना किसानों के लिए बीते सालों में अभूतपूर्व काम किया है। गन्ना किसानों के लिए लाभकारी मूल्य, हाल में साढ़े 3 सौ रुपए तक बढ़ाया है। पहले की 2 सरकारों ने 10 साल में जितना भुगतान गन्ना किसानों को किया था, लगभग उतना योगी जी की सरकार ने अपने साढ़े 4 साल में किया है।

भाइयों और बहनों,

सही विकास वही होता है, जिसका लाभ सब तक पहुंचे, जो विकास संतुलित हो, जो सबके लिए हितकारी हो। और ये बात वही समझ सकता है, जो संवेदनशील हो, जिसे गरीबों की चिंता हो। लंबे समय से गोरखपुर सहित ये बहुत बड़ा क्षेत्र सिर्फ एक मेडिकल कॉलेज के भरोसे चल रहा था। यहां के गरीब और मध्यम वर्गीय परिवारों को इलाज के लिए बनारस या लखनऊ जाना पड़ता था। 5 साल पहले तक दिमागी बुखार की इस क्षेत्र में क्या स्थिति थी, ये मुझसे ज्यादा आप लोग जानते हैं। यहां मेडिकल कॉलेज में भी जो रिसर्च सेंटर चलता था, उसकी अपनी बिल्डिंग तक नहीं थी।

भाइयों और बहनों,

आपने जब हमें सेवा का अवसर दिया, तो यहां एम्स में भी, आपने देखा इतना बड़ा एम्स बन गया। इतना ही नहीं रिसर्च सेंटर की अपनी बिल्डिंग भी तैयार है। जब मैं एम्स का शिलान्यास करने आया था तब भी मैंने कहा था कि हम दिमागी बुखार से इस क्षेत्र को राहत दिलाने के लिए पूरी मेहनत करेंगे। हमने दिमागी बुखार फैलने की वजहों को दूर करने पर भी काम किया और इसके उपचार पर भी। आज वो मेहनत ज़मीन पर दिख रही है। आज गोरखपुर और बस्ती डिविजन के 7 जिलों में दिमागी बुखार के मामले लगभग 90 प्रतिशत तक कम हो चुके हैं। जो बच्चे बीमार होते भी हैं, उनमें से ज्यादा से ज्यादा का जीवन बचा पाने में हमें सफलता मिल रही है। योगी सरकार ने इस क्षेत्र में जो काम किया है, उसकी चर्चा अब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी हो रही है। एम्स और ICMR रिसर्च सेंटर बनने से अब इंन्सेफ्लाइटिस से मुक्ति के अभियान को और मजबूती मिलेगी। इससे दूसरी संक्रामक बीमारियों, महामारियों के बचाव में भी यूपी को बहुत मदद मिलेगी।

भाइयों और बहनों,

किसी भी देश को आगे बढ़ने के लिए, बहुत आवश्यक है कि उसकी स्वास्थ्य सेवाएं सस्ती हों, सर्व सुलभ हों, सबकी पहुंच में हों। वर्ना मैंने भी इलाज के लिए लोगों को एक शहर से दूसरे शहर तक चक्कर लगाते, अपनी जमीन गिरवी रखते, दूसरों से पैसों की उधारी लेते, हमने भी बहुत देखा है। मैं देश के हर गरीब, दलित, पीड़ित, शोषित, वंचित, चाहे वो किसी भी वर्ग का हो, किसी भी क्षेत्र में रहता हो, इस स्थिति से बाहर निकालने के लिए जी-जान से जुटा हूं। पहले सोचा जाता था कि एम्स जैसे बड़े मेडिकल संस्थान, बड़े शहरों के लिए ही होते हैं। जबकि हमारी सरकार, अच्छे से अच्छे इलाज को, बड़े से बड़े अस्पताल को देश के दूर-सुदूर क्षेत्रों तक ले जा रही है। आप कल्पना कर सकते हैं, आज़ादी के बाद से इस सदी की शुरुआत तक देश में सिर्फ 1 एम्स था, एक। अटल जी ने 6 और एम्स स्वीकृत किए थे अपने कालखंड में। बीते 7 वर्षों में 16 नए एम्स बनाने पर देशभर में काम चल रहा है। हमारा लक्ष्य ये है कि देश के हर जिले में कम से कम एक मेडिकल कॉलेज जरूर हो। मुझे खुशी है कि यहां यूपी में भी अनेक जिलों में मेडिकल कॉलेज का काम तेजी से आगे बढ़ रहा है। और अभी योगी जी पूरा वर्णन कर रहे थे, कहां मेडिकल कॉलेज का काम हुआ है। हाल में ही यूपी के 9 मेडिकल कॉलेज का एक साथ लोकार्पण करने का अवसर आपने मुझे भी दिया था। स्वास्थ्य को दी जा रही सर्वोच्च प्राथमिकता का ही नतीजा है कि यूपी लगभग 17 करोड़ टीके के पड़ाव पर पहुंच रहा है।

भाइयों और बहनों,

हमारे लिए 130 करोड़ से अधिक देशवासियों का स्वास्थ्य, सुविधा और समृद्धि सर्वोपरि है। विशेष रूप से हमारी माताओं-बहनों-बेटियों की सुविधा और स्वास्थ्य जिस पर बहुत ही कम ध्यान दिया गया। बीते सालों में पक्के घर, शौचालय, जिसको आप लोग इज्जत घर कहते हैं। बिजली, गैस, पानी, पोषण, टीकाकरण, ऐसी अनेक सुविधाएं जो गरीब बहनों को मिली हैं, उसके परिणाम अब दिख रहे हैं। हाल में जो फैमिली हेल्थ सर्वे आया है, वो भी कई सकारात्मक संकेत देता है। देश में पहली बार महिलाओं की संख्या पुरुषों से अधिक हुई है। इसमें बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं की भी बड़ी भूमिका है। बीते 5-6 सालों में महिलाओं का ज़मीन और घर पर मालिकाना हक बढ़ा है। और इसमें उत्तर प्रदेश टॉप के राज्यों में है। इसी प्रकार बैंक खाते और मोबाइल फोन के उपयोग में भी महिलाओं की संख्या में अभूतपूर्व वृद्धि दर्ज की गई है।

साथियों,

आज आपसे बात करते हुए मुझे पहले की सरकारों का दोहरा रवैया, जनता से उनकी बेरुखी भी बार-बार याद आ रही है। मैं इसका जिक्र भी आपसे जरूर करना चाहता हूं। सब जानते थे कि गोरखपुर का फर्टिलाइजर प्लांट, इस पूरे क्षेत्र के किसानों के लिए, यहां रोजगार के लिए कितना जरूरी था। लेकिन पहले की सरकारों ने इसे शुरू करवाने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। सब जानते थे कि गोरखपुर में एम्स की मांग बरसों से हो रही थी। लेकिन 2017 से पहले जो सरकार चला रहे थे, उन्होंने एम्स के लिए जमीन देने में हर तरह के बहाने बनाए। मुझे याद है, जब बात आर या पार की हो गई, तब बहुत बेमन से, बहुत मजबूरी में पहले की सरकार द्वारा गोरखपुर एम्स के लिए जमीन आवंटित की गई थी।

साथियों,

आज का ये कार्यक्रम, उन लोगों को भी करारा जवाब दे रहा है, जिन्हें टाइमिंग पर सवाल उठाने का बहुत शौक है। जब ऐसे प्रोजेक्ट पूरे होते हैं, तो उनके पीछे बरसों की मेहनत होती है, दिन रात का परिश्रम होता है। ये लोग कभी इस बात को नहीं समझेंगे कि कोराना के इस संकट काल में भी डबल इंजन की सरकार विकास में जुटी रही, उसने काम रुकने नहीं दिया।

मेरे प्यारे भाईयों - बहनों,

लोहिया जी, जय प्रकाश नारायण जी के आदर्शों को, इन महापुरुषों के अनुशासन को ये लोग कब से छोड़ चुके हैं। आज पूरा यूपी भलिभांति जानता है कि लाल टोपी वालों को लाल बत्ती से मतलब रहा है, उनको आपके दुख-तकलीफ से कोई लेना देना नहीं है। ये लाल टोपी वालों को सत्ता चाहिए, घोटालों के लिए, अपनी तिजोरी भरने के लिए, अवैध कब्जों के लिए, माफियाओं को खुली छूट देने के लिए। लाल टोपी वालों को सरकार बनानी है, आतंकवादियों पर मेहरबानी दिखाने के लिए, आतंकियों को जेल से छुड़ाने के लिए। और इसलिए, याद रखिए, लाल टोपी वाले यूपी के लिए रेड अलर्ट हैं, रेल अलर्ट। यानि खतरे की घंटी है!

साथियों,

यूपी का गन्ना किसान नहीं भूल सकता है कि योगी जी के पहले की जो सरकार थी उसने कैसे गन्ना किसानों को पैसे के भुगतान में रुला दिया था। किश्तों में जो पैसा मिलता था उसमें भी महीनों का अंतर होता था। उत्तर प्रदेश में चीनी मिलों को लेकर कैसे-कैस खेल होते थे, क्या-क्या घोटाले किए जाते थे इससे पूर्वांचल और पूरे यूपी के लोग अच्छी तरह परिचित है।

साथियों,

हमारी डबल इंजन की सरकार, आपकी सेवा करने में जुटी है, आपका जीवन आसान बनाने में जुटी है। भाईयों – बहनों आपको विरासत में जो मुसीबतें मिली हैं। हम नहीं चाहते हैं कि आपको ऐसी मुसीबतें विरासत में आपके संतानों को देने की नौबत आये। हम ये बदलाव लाना चाहते हैं। पहले की सरकारों के वो दिन भी देश ने देखे हैं जब अनाज होते हुए भी गरीबों को नहीं मिलता था। आज हमारी सरकार ने सरकारी गोदाम गरीबों के लिए खोल दिए हैं और योगी जी पूरी ताकत से हर घर अन्न पहुंचाने में जुटे हैं। इसका लाभ यूपी के लगभग 15 करोड़ लोगों को हो रहा है। हाल ही में पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना को, होली से आगे तक के लिए बढ़ा दिया गया है।

साथियों,

पहले बिजली सप्लाई के मामले में यूपी के कुछ जिले VIP थे, VIP। योगी जी ने यूपी के हर जिले को आज VIP बनाकर बिजली पहुंचाने का काम किया है।आज योगी जी की सरकार में हर गांव को बराबर और भरपूर बिजली मिल रही है। पहले की सरकारों ने अपराधियों को संरक्षण देकर यूपी का नाम बदनाम कर दिया था। आज माफिया जेल में हैं और निवेशक दिल खोल कर यूपी में निवेश कर रहे हैं। यही डबल इंजन का डबल विकास है। इसलिए डबल इंजन की सरकार पर यूपी को विश्वास है। आपका ये आशीर्वाद हमें मिलता रहेगा, इसी अपेक्षा के साथ एक बार फिर से आप सबको बहुत-बहुत बधाई।मेरे साथ जोर से बोलिये, भारत माता की जय ! भारत माता की जय ! भारत माता की जय ! बहुत – बहुत धन्यवाद।