محترم صدر، سب سے پہلے تو میں دوستانہ اور گرمجوشانہ طریقے سے ہم سب بھارتی وفد کا استقبال کرنے کے لئے آپ کا تہہ دل سے شکریہ ادا کر تا ہوں۔ 2016 میں، اور 2014 میں بھی مجھے آپ سے تفصیلی بات کرنے کا موقع حاصل ہوا تھا۔ اور اس وقت آپ نے بھارت۔ امریکہ کے تعلقات کو لےکر، آپ کا جو ویژن ہے، جس کا آپ نے الفاظ کے ذریعہ اظہار کیا تھا، وہ واقعی بہت ہی حوصلہ افزا تھا اور آج آپ بطور صدر اس ویژن کو آگے بڑھانے کے لئے جو کوششیں کر رہے ہیں، پہل قدمیاں کر رہے ہیں، اس کا میں خیرمقدم کرتا ہوں۔
آپ نے بھارت میں بائیڈن کنیت کے لوگوں کے بارے میں تفصیل سے ذکر کیا۔ آپ نے میرے ساتھ بھی اس کا تذکرہ کیا تھا۔ بعد میں، میں نے کافی کچھ کاغذات تلاشنے کی کوشش کی ہے۔ کاغذات میں لے کر بھی آیا ہوں۔ ہو سکتا ہے شاید اس میں سے کچھ آگے نکل آئے، آپ کے کچھ کام آئے۔
عالی جناب!
آج کی ہماری جو باہمی سربراہ ملاقات ہے، لیکن میں دیکھ رہا ہوں کہ یہ دہائی 21ویں صدی کی تیسری دہائی کا یہ اولین برس، میں پوری پوری دہائی کی طرف دیکھ رہا ہوں کہ آپ کی قیادت میں جو بیج ہم بوئیں گے۔ یہ پوری دہائی ہمارے نقطہ نظر سے بھارت اور امریکہ کے تعلقات میں یہ دنیا کے جمہوری ممالک کے لئے ایک بہت ہی تغیراتی دور رہے گا، ایسا میرا یقین ہے۔
جب بھارت اور امریکہ کے تعلقات میں تغیر دیکھ رہا ہوں، تب میں دیکھ رہا ہوں کہ ٹریڈیشن، جمہوری روایت اور اقدار کو لے کر جو ہم جی رہے ہیں اور جس کے تئیں ہم وقف ہیں۔ اس روایت کی اپنی ایک اہمیت ہے اور اس میں مزید اضافہ ہوگا۔

اسی طرح سے آپ نے ذکر کیا کہ 4 ملین سے زائد بھارتی افراد یہاں امریکہ کے ترقی کے سفر میں ہمارے ساتھی ہیں۔ اس دہائی میں ٹیلنٹ کی اپنی ایک اہمیت ہے۔ عوام سے عوام تک یہ ٹیلنٹ اس دہائی میں بہت ہی بااثرکردار ادا کرے گا اور بھارتی ٹیلنٹ امریکہ کے ترقی کے سفر میں پوری طرح شراکت دار بنا رہے اس سلسلے میں آپ کا تعاون بہت ضروری ہے۔
اسی طرح سے تکنالوجی دنیا میں سب سے زیادہ ڈرائیونگ فورس بنی رہی ہے ۔ اس دہائی میں بھارت اور امریکہ کے رشتوں میں تکنالوجی اور وہ بھی پوری انسانیت کے لئے مفید ثابت ہو اس سمت میں امریکہ تکنالوجی کے توسط سے بہت بڑی خدمت انجام دے سکتا ہے اور اس سے ایک بڑا موقع ہمیں حاصل ہوگا۔

اسی طرح سے بھارت اور امریکہ کے درمیان تجارت کی اپنی اہمیت ہے اور اس دہائی میں تجارت کے شعبے میں بھی ہم ایک دوسرے کے کام آسکتے ہیں۔ بہت سی چیزیں ہیں جو امریکہ کے پاس ہیں جن کی بھارت کو ضرورت ہے۔ بہت سی ایسی چیزیں  بھارت کے پاس ہیں جو امریکہ کے کام آسکتی ہیں۔ تو تجارت بھی اس دہائی کا ایک بہت اہم شعبہ رہے گا۔

جناب صدر آپ نے ابھی 2 اکتوبر مہاتماگاندھی  کے یوم پیدائش کا ذکر کیا۔ مہاتما گاندھی سرپرستی کی بات کرتے تھے۔ یہ دہائی اس سرپرستی کے لئے بھی بہت اہم ہے۔ مہاتما گاندھی ہمیشہ اس بات کی وکالت کرتے تھے کہ کرہ ارض کے ہم سرپرست ہیں اور ہمیں ایک سرپرست کے طور پر اس کرہ ارض کو اپنی آنے والی نسلوں کے سپرد کرنا ہوگا۔ اور یہ سرپرستی کا احساس ہی بھارت اور امریکہ کے درمیان تعلقات  میں بہت اہمیت کا حامل ہوگا۔ اور مہاتما گاندھی کے نظریات کی تکمیل کے لئے اس سرپرستی کا جو اصول کرۂ ارض کے لئےہے ،ویسے ہی  ہر شہری کی ذمہ داری دنیا کے لئے بنتی جا رہی ہے۔

اور محترم صدر  ،جس  طرح چند موضوعات پر آپ نے بات کی۔ یہ سارے موضوعات بہت ہی اہم ہیں۔ بھارت کے لئے بھی اہم ہیں اور آپنے عہدہ سنبھالنے کے بعد خواہ کووِڈ ہو، موسمیات ہو یا کواڈ ہو، ہر ایک میں ایک بہت ہی منفرد پہل قدمی کی ہے اور میں سمجھتا ہوں کہ یہ جو آپ کی پہل قدمی ہے، آنے والے دنوں میں بہت بڑے پیمانے پر اثرانداز ہوگی۔ اور مجھے یقین ہے کہ آج کی ہماری بات چیت میں بھی ان سارے موضوعات پر ہم تفصیل سے بات چیت کرکے ہم کیسے ساتھ چل سکتے ہیں، ہم ایک دوسرے کے لئے بھی اور دونوں مل کر دنیا کے لئے بھی کیا کچھ مثبت کام کر سکتے ہیں، مجھے یقین ہے کہ آپ کی قیادت میں آج کی گفت و شنید بہت بامعنی ثابت ہوگی۔

اور محترم صدر  ،جس  طرح چند موضوعات پر آپ نے بات کی۔ یہ سارے موضوعات بہت ہی اہم ہیں۔ بھارت کے لئے بھی اہم ہیں اور آپنے عہدہ سنبھالنے کے بعد خواہ کووِڈ ہو، موسمیات ہو یا کواڈ ہو، ہر ایک میں ایک بہت ہی منفرد پہل قدمی کی ہے اور میں سمجھتا ہوں کہ یہ جو آپ کی پہل قدمی ہے، آنے والے دنوں میں بہت بڑے پیمانے پر اثرانداز ہوگی۔ اور مجھے یقین ہے کہ آج کی ہماری بات چیت میں بھی ان سارے موضوعات پر ہم تفصیل سے بات چیت کرکے ہم کیسے ساتھ چل سکتے ہیں، ہم ایک دوسرے کے لئے بھی اور دونوں مل کر دنیا کے لئے بھی کیا کچھ مثبت کام کر سکتے ہیں، مجھے یقین ہے کہ آپ کی قیادت میں آج کی گفت و شنید بہت بامعنی ثابت ہوگی۔
محترم صدر، میں ایک مرتبہ پھر آپ کا بہت بہت شکریہ ادا کرتا ہوں، اس گرمجوشانہ خیرمقدم کے لئے۔

 

Explore More
لال قلعہ کی فصیل سے 77ویں یوم آزادی کے موقع پر وزیراعظم جناب نریندر مودی کے خطاب کا متن

Popular Speeches

لال قلعہ کی فصیل سے 77ویں یوم آزادی کے موقع پر وزیراعظم جناب نریندر مودی کے خطاب کا متن
iPhone exports from India nearly double to $12.1 billion in FY24: Report

Media Coverage

iPhone exports from India nearly double to $12.1 billion in FY24: Report
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Today, we champion the Act East Policy, driving forward the region's development: PM Modi in Agartala
April 17, 2024
Today, we champion the Act East Policy, driving forward the region's development: PM Modi
Congress-Communists are so opportunistic that here in Tripura they have an alliance, but in Kerala, they are enemies of each other: PM
HIRA model of development of Tripura is being discussed in the entire country today: PM Modi
500 years later, Ram Navami arrives with Shri Ram seated in Ayodhya's grand temple: PM Modi

प्रियो भाई-ओ-बॉन…शबाई के नमोश्कार! जॉतनो खूलूम ओ!
अगरतला के इस स्वामी विवेकानंद मैदान में मैं जब भी आता हूं...पहले से ज्यादा उत्साह नजर आता है। आप हर बार पिछला रिकॉर्ड तोड़ देते हैं। आज नवरात्रि की महानवमी का पवित्र अवसर है। अभी मैं असम में मां कामाख्या की धरती से आया हूं। और अब यहां, माता त्रिपुरेश्वरी, माता बारी के चरणों में प्रणाम करने का अवसर मिला है।

भाइयों बहनों,
आज रामनवमी का पवित्र पर्व भी है। 500 वर्षों के लंबे इंतज़ार के बाद, वो रामनवमी आई है जब भगवान राम अयोध्या में भव्य मंदिर में विराजमान हैं। प्रभु श्रीराम जो कभी टेंट में रहते थे, आज भव्य मंदिर में सूर्य की किरणों ने उनके मस्तक का अभिषेक किया है। और हमारा सौभाग्य देखिए, ऐसे पवित्र और ऐतिहासिक अवसर पर हम सभी नॉर्थ ईस्ट की उस पवित्र धरती पर हैं, जहां सूर्य की किरणें सबसे पहले पहुंचती हैं। आज सूर्य की किरणें, देश के नए प्रकाश का प्रतीक बन रही हैं। आज देश विकसित त्रिपुरा, विकसित भारत के संकल्प के साथ आगे बढ़ रहा है। मैं महाराजा वीर विक्रम किशोर माणिक्य जी और पद्म भूषण थंगा डारलोंग जी जैसे महापुरुषों की धरती त्रिपुरा को प्रणाम करता हूं। मैं सभी को रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएं देता हूं।

साथियों,
त्रिपुरा की जनता का ये समर्थन, इस मैदान पर ये जनसैलाब, बता रहा है कि त्रिपुरा अब पीछे मुड़कर नहीं देखने वाला है। और मैं एयरपोर्ट से यहां आया। पूरे रास्ते भर जो उमंग, उत्साह और जनसैलाब था वो दिखा रहा है त्रिपुरा मूड क्या है, पूरे देश का मूड क्या है। बाबा गरिया की धरती पर हमारी माताओं-बहनों का इतना उत्साह, ये त्रिपुरा को ठगने वालों की नींद उड़ाने वाला है। त्रिपुरा जो सोच लेता है, उसे पूरा करता है। … (ऑडियो गड़बड़)… यहां की कनेक्टिविटी सुधरे, इस पर बीजेपी सरकार का विशेष जोर है। जलजीवन मिशन के तहत 5 लाख से ज्यादा घरों में हमने नल से जल पहुंचाया हैं। बिना किसी कट बिना किसी कमीशन के त्रिपुरा के ढाई लाख किसानों के खातों में किसान सम्मान निधि पहुंच रही है। हमारी सरकार ने यहां 3 लाख से ज्यादा महिलाओं को गैस कनेक्शंस देकर उन्हें धुएं से आज़ादी दिलाई है। आज जनजातीय समाज के बच्चों की अच्छी शिक्षा के लिए एकलव्य मॉडल स्कूल जैसे काम भी बीजेपी ही कर रही है। आप कल्पना करिए, हमारे त्रिपुरा में, जहां कुल आबादी ही कुछ लाख है, वहां मोदी के आने से पहले ये लाखों लोग जीवन की जरूरी सुविधाओं से वंचित थे। ये केवल मोदी के कामों का हिसाब नहीं है। जब मैं सारे काम गिनाता हूं। इसका मतलब है कि ये कांग्रेस और लेफ्ट की विकास-विरोधी राजनीति का आइना भी है।

साथियों,
आज आपके बीच आया हूं, तो मुझे ये भी याद आ रहा है कि कैसे त्रिपुरा में पीएम आवास योजना कुछ स्थानीय नियमों में फंस गई थी। त्रिपुरा की भौगोलिक स्थिति की वजह से यहां ज्यादा गरीबों को पीएम आवास योजना का लाभ नहीं मिल पाता था। कच्चे घर की परिभाषा इसमें बाधा थी। जब मुझे इसका पता चला तो मैंने कहा ऐसे तो नहीं चलेगा। हमने त्रिपुरा के लिए ‘कच्चे’ घर की परिभाषा ही बदल दी। आज उसका ही नतीजा है कि त्रिपुरा में करीब साढ़े तीन लाख पक्के घर यहां के लोगों को मिल सके हैं। अब भाजपा ने संकल्प लिया है कि अगले 5 वर्षों में देश में 3 करोड़ नए घर बनाए जाएंगे। इसका भी बड़ा लाभ मेरे त्रिपुरा के लोगों को मिलेगा। और मैं आपको एक काम बताता हूं करोगे, करोगे, पक्का करोगे। जब आप लोगों से मिलने जाएं और आपको ये कहीं नजर आएं कि कोई है जो कच्चा घर में रहता है, उसको पक्का घर नहीं मिला है उनको कह देना मोदी की तरफ से, कि मोदी की गारंटी है, ये दूसरे जो 3 करोड़ घर बन रहे हैं, उसमें से उसको भी मिलेगा। ये वादा करके आ जाइए, आपका वादा ही मेरी जिम्मेवारी है।

साथियों,
इन 10 वर्षों में त्रिपुरा और नॉर्थ ईस्ट के विकास के लिए बीजेपी ने जो किया है न, वो तो बस ट्रेलर है। अभी तो हमें त्रिपुरा को और भी आगे ले जाना है। बीजेपी ने अगले 5 वर्ष का जो संकल्प पत्र पेश किया है, वो त्रिपुरा के लोगों के लिए समृद्धि का काम करेगा। अगले 5 वर्ष, हर लाभार्थी को मुफ्त राशन मिलता रहेगा ताकि गरीब का चूल्हा जलता रहे, गरीब के बच्चे भूखे न रहें, और ये मोदी की गारंटी है। और एक बहुत बड़ी घोषणा बीजेपी ने अपने मेनिफेस्टो में की है। इसका सीधा लाभ परिवार के उन लोगों को पहले होगा जिनकी आयु 30 साल, 40 साल, 50 साल, 60 साल है। मेहनत करके कमाई करते हैं और परिवार में दादा है, दादी है, पिता है, बुजुर्ग है, मैं उन दोनों के लिए वादा लेकर आया हूं। आपके परिवार में जो 70 साल से ऊपर के हैं। कोई भी हो, त्रिपुरा का कोई भी नागरिक, जो 70 साल से ऊपर का है और अगर वो बीमार हो जाता है, गंभीर तकलीफ आ जाती है, तो अब उनके बच्चों को, आप सबको चिंता करने की जरूरत नहीं है। अब मोदी उसका खर्चा करेगा। उनका इलाज, उनकी दवाई, मोदी करेगा और आपको इतने पैसे बचेंगे जो आपके और काम आ जाएंगे और आपके माता-पिता की तबीयत भी अच्छी हो जाएगी। ये हमने आय़ुष्मान योजना के तहत 70 साल से ऊपर के सभी महानुभाव के लिए, माताओं-बहनों के लिए गारंटी दी है। मुफ्त इलाज मिलेगा। कोई गरीब घर के बुजुर्ग हों, मध्यम वर्ग के हों या उच्च वर्ग के, हर बुजुर्ग को बीजेपी आयुष्मान योजना के दायरे में लाएगी। इसका बहुत बड़ा लाभ त्रिपुरा के लोगों को होगा, यहां के बुजुर्गों को होगा।

साथियों,
त्रिपुरा के विकास के लिए हमारी सरकार ने जिस HIRA मॉडल पर काम किया है, और अभी मुख्यमंत्री जी अभी HIRA मॉडल की चर्चा कर रहे थे। आज उसकी पूरे देश में चर्चा हो रही है। HIRA यानि Highway, Internet way, Railway और Airway! ये मैंने आपसे वायदा किया था और इसे पूरा करके दिखाया है। आज त्रिपुरा में 3 हजार करोड़ रुपये की लागत से फोर लेन हाइवे का काम प्रगति पर है। वेस्टर्न अगरतला बाइपास का काम भी अगले दो-ढाई वर्ष में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। त्रिपुरा को बांग्लादेश से जोड़ने के लिए दो-तीन साल पहले मैत्री सेतु की शुरुआत की गई है। एक समय था जब त्रिपुरा में मोबाइल के सिग्नल भी ठीक से नहीं आते थे। लेकिन अब, त्रिपुरा में 5G सेवाओं का भी विस्तार हो रहा है। और मैं आपको एक बात बताऊं...अगर दिल्ली में कांग्रेस की सरकार होती, तो आपका मोबाइल बिल जो आज मोदी के राज में मोबाइल बिल 400-500 रुपए आता है, अगर कांग्रेस होती न तो आपका मोबाइल का बिल तीन-चार हजार रुपए से कम नहीं आता। ये काम मोदी करता है। लेकिन मोदी ने मोबाइल डेटा इतना सस्ता कर दिया है कि गरीब से गरीब भी मोबाइल पर इंटरनेट का इस्तेमाल कर रहा है। और कोविड में गरीब के बच्चे से मोबाइल से पढ़ाई कर रहे थे। और किसी से पीछे नहीं छूटे।

साथियों,
रेलवेज़ के विकास के लिए, बीते 10 वर्षों में त्रिपुरा को 1 दर्जन से अधिक ट्रेनों से जोड़ा गया है। राज्य की रेलवे लाइन्स के इलेक्ट्रिफिकेशन के काम को तेजी से पूरा कराया गया है। हमारी ही सरकार ने राजधानी अगरतला में महाराजा बीर बिक्रम एयरपोर्ट पर नया आधुनिक टर्मिनल बनवाया। अब माणिक साहा जी की सरकार त्रिपुरा के विकास के लिए एक कदम और आगे बढ़कर HIRA plus मॉडल पर काम कर रही है।

साथियों,
पहले राजनैतिक पार्टियों और सरकारों को नॉर्थ ईस्ट की याद तभी आती थी, जब उन्हें आपके वोट चाहिए होते थे। कांग्रेस और इंडी अलायंस की सरकार में नॉर्थ-ईस्ट के लिए केवल एक ही पॉलिसी चलती थी- ‘लूट ईस्ट पॉलिसी’। आपको याद है न, उनकी पॉलिसी थी ‘लूट ईस्ट पॉलिसी’। लेकिन, 10 साल पहले मोदी ने कांग्रेस-कम्यूनिस्टों के इंडी अलायंस वालों की ‘लूट ईस्ट पॉलिसी’ को बंद कर दिया है। अब देश की Act East Policy पर आगे बढ़ रहा है। हम नॉर्थ ईस्ट के विकास के लिए दिन रात काम कर रहे हैं। मैं ऐसा पहला प्रधानमंत्री हूं जो पिछले 10 वर्षों में 50 से ज्यादा बार नॉर्थ-ईस्ट आया हूं। जबकि कांग्रेस सरकारों में कई मंत्रियों को ये भी नहीं पता होता था कि भारत के नक्शे में त्रिपुरा कहां पड़ता है!

साथियों,
आज त्रिपुरा के लिए बीजेपी का मतलब है- विकास की राजनीति! लेकिन, यहां कम्यूनिस्टों का इतिहास रहा है- विनाश की राजनीति! और कांग्रेस का तो ट्रैक रिकॉर्ड ही है- करप्शन की राजनीति! जब तक त्रिपुरा में CPM और कांग्रेस पक्ष-विपक्ष में रहे यहां करप्शन फलता-फूलता रहा। कम्यूनिस्टों ने त्रिपुरा को हिंसा और भ्रष्टाचार का अड्डा बना दिया था। तब कांग्रेस विपक्ष में थी। लेकिन, आज एक दूसरे को गाली देने वाले यही लोग अपनी लूट की दुकान बचाने यहां एक साथ आ गए हैं। ये कांग्रेस-कम्यूनिस्ट इतने अवसरवादी हैं कि यहां त्रिपुरा में इनका गठबंधन है, लेकिन केरला में ये लोग एक दूसरे के जानी दुश्मन हैं। केरला में कांग्रेस कम्यूनिस्टों को आतंकवादी कहती है और कम्यूनिस्ट कांग्रेस को महाभ्रष्ट कहते हैं। आप वहां के अखबार देख लीजिए, यही बोलते हैं।

साथियों,
करप्शन को लेकर ये देश के साथ कैसे खेल खेलते हैं, ये भी त्रिपुरा की धरती से पूरे देश को बताना चाहता हूं। सब जानते हैं कांग्रेस के युवराज यूपी में चुनाव हारने के बाद अपनी इज्जत बचाने के लिए केरला भाग गए थे। अब इन दिनों केरला के मुख्यमंत्री ने कांग्रेस के युवराज के खिलाफ हल्ला बोल दिया है। इससे नाराज होकर कांग्रेस के युवराज ने कहा कि केरला के सीएम भ्रष्टाचार में डूबे हुए हैं...उन्हें जेल में डालना चाहिए। हमेशा केन्द्रीय जांच एजेंसियों को गाली देने वाले युवराज, अब उनसे केरला के सीएम के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। यानि किसी ने उनकी आलोचना की तो कांग्रेस के युवराज चाहते हैं कि उसे जेल की सलाखों के पीछे डाल दिया जाए। भ्रष्टाचार का दोषी कोई भी व्यक्ति छोड़ा नहीं जाएगा, ये भी हमारा संकल्प है। मैं बार बार केरला सीएम की भ्रष्ट सरकार का सच लोगों के सामने लाता हूं। लेकिन तब कांग्रेस की बोलती बंद हो जाती है। अब कांग्रेस के युवराज की आलोचना हुई तो कांग्रेस, केरला के सीएम को जेल में डलवाना चाहती है। लेकिन साथियों, वहां तो जेल में डलवाना चाहते हैं, और यहां महल में भेजना चाहते हैं। ये कौन सा तरीका है। लेकिन साथियों, जैसे ही कोई जांच एजेंसी कार्रवाई करेगी, यही कांग्रेस चीख-चीख कर कहना शुरू कर देगी कि मोदी ने गलत किया है। यही है इन लोगों का असली चेहरा। इसलिए जब मैं कहता हूँ भ्रष्टाचार हटाओ, तो कांग्रेस कहती है भ्रष्टाचारी बचाओ!

साथियों,
इस लोकसभा चुनाव में कांग्रेस और कम्यूनिस्टों को दिया एक भी वोट, आप लिख के रखिए, कांग्रेस को आपने एक भी वोट दिया, कम्युनिस्टों को एक भी वोट दिया, वो केंद्र में सरकार नहीं बना सकता। आपका वोट बेकार जाएगा। और इसीलिए आपका वोट बीजेपी की सरकार बनाएगा ये गारंटी है। BJP-NDA को दिया हर वोट- विकसित भारत बनाएगा। इसलिए मेरा आपसे आग्रह है कि 19 अप्रैल को आप त्रिपुरा वेस्ट सीट से भाजपा उम्मीदवार मेरे मित्र बिपल्व कुमार देव जी और फिर 26 अप्रैल यानि दूसरे चरण में त्रिपुरा ईस्ट सीट से भाजपा उम्मीदवार महारानी कृति सिंह देवबर्मा जी दीदी रानी को भारी मतों से विजयी बनाएं। बीजेपी को दिया आपका एक एक वोट, त्रिपुरा की समृद्धि के लिए मोदी की गारंटी को मजबूत करेगा। तो आप ज्यादा से ज्यादा लोगों से मिलोगे, घर-घर जाओगे, पोलिंग बूथ जीतोगे। आपको मेरा एक काम और करना है, त्रिपुरा के जन-जन तक मेरा प्रणाम पहुंचाना है। भारी मतों से जीतोगे, मेरा एक काम करोगे। घर-घर जाना है, सबको बताना है, कि अपने मोदी अगरतला आए थे और आप सबको प्रणाम पहुंचाया है। मेरा प्रणाम पहुंचा देंगे। हर किसी को मेरा प्रणाम पहुंचा देंगे।
मेरे साथ बोलिए...भारत माता की… भारत माता की… भारत माता की…
बहुत बहुत धन्यवाद।