Flags off metro trains marking inauguration of completed sections of Pune Metro
Hands over and lays foundation stone for houses constructed under PMAY
Inaugurates Waste to Energy Plant
“Pune is a vibrant city that gives momentum to the economy of the country and fulfills the dreams of the youth of the entire country”
“Our government is committed to enhancing quality of life of citizens”
“The metro is becoming a new lifeline for the cities in modern India”
“The industrial development of Maharashtra has paved the way for the industrial development of India since independence”
“Be it poor or middle-class, to fulfill every dream is Modi’s guarantee”

Maharashtra Governor Shri Ramesh Bais ji, Chief Minister Eknath Shinde ji, my colleagues in the Union Cabinet, Deputy Chief Ministers of Maharashtra Devendra Fadnavis ji and Ajit Pawar ji, Dilip ji, other ministers, MPs, MLAs, brothers and sisters!

August is a month of celebration and revolution. I feel fortunate to be in Pune at the beginning of this revolutionary month.

Indeed, Pune has played a significant role in India's independence movement. Pune has given many revolutionaries, freedom fighters, including Bal Gangadhar Tilak ji, to the country. Today is also the birth anniversary of Lokshahir Anna Bhau Sathe, making this day very special for all of us. Anna Bhau Sathe was a great social reformer and was influenced by the ideas of Dr. B.R. Ambedkar. Even today, a large number of students and scholars do research on his literature. Anna Bhau Sathe's works and teachings continue to inspire all of us.

Friends,

Pune is a vibrant city that drives the nation's economy and fulfils the dreams of youths across the country. This role is going to be further strengthened by the projects undertaken in Pune and Pimpri-Chinchwad today. The foundation stones and inaugurations of projects worth about Rs 15,000 crore have taken place today. Thousands of families have received pucca houses, and a modern plant has been set up to convert waste into wealth. I extend my heartfelt congratulations to all Pune residents and citizens for these projects.

Friends,

Our government is deeply committed to improving the quality of life of the professionals, especially the middle class living in the cities. When the quality of life improves, the development of the city also accelerates. Our government is constantly working to improve the quality of life in our cities like Pune. Before I came here, another section of Pune Metro has been inaugurated. I still remember when the work for Pune Metro started, I had the opportunity to lay its foundation stone, and Devendra ji described it in a very delightful manner. In these past 5 years, approximately 24 kilometers of metro network has been established.

Friends,

We must modernize public transportation if we have to elevate the living standards of people in Indian cities. That is why we are consistently expanding the metro network, building new flyovers, and emphasizing on reducing the number of red lights. Until 2014, India had less than 250 kilometers of metro network, with a majority of it in Delhi-NCR. Now, the country boasts more than 800 kilometers of metro network. Apart from this, work is going on for an additional one thousand kilometers. In 2014, metro networks existed in only 5 cities, while today metro network is operational in 20 cities across the country. Apart from Pune, Maharashtra is also witnessing metro expansions in Mumbai and Nagpur. These metro networks are becoming the lifelines of modern Indian cities. Expanding the metro in cities like Pune is crucial not only for providing efficient transportation but also for protecting the environment and reducing pollution. That is why our government is working tirelessly to expand the metro network.

Brothers and sisters,

Improving the quality of life in cities also heavily relies on maintaining cleanliness and sanitation. There was a time when developed countries were praised for having clean cities, and now we are striving to achieve the same for Indian cities. The Swachh Bharat Abhiyan (Clean India Mission) goes beyond just building toilets; it places significant emphasis on waste management as well. Huge mountains of garbage have become a huge problem in our cities. As you know, where the metro depot has been built in Pune, it was previously known as Kothrud garbage dumping yard. Efforts are underway on a mission mode to remove such mountains of garbage. Additionally, we are working on the principle of ‘Waste to Wealth’, where we aim to convert waste into useful resources. The Pimpri-Chinchwad Waste to Energy Plant is an excellent project in this regard. It generates electricity from waste. With the electricity generated here, the corporation will also be able to meet its needs. This means the problem of pollution will be reduced, and the municipal corporation will also save on costs.

Friends,

Since independence, industrial development in Maharashtra has contributed significantly to India's overall industrial growth. To further boost industrial development in Maharashtra, modern infrastructure is essential. Therefore, the amount of investment our government is making in infrastructure in Maharashtra is unprecedented. Currently, large expressways, new railway routes, and airports are being constructed here. The expenditure on railway development is 12 times more than before 2014. Various cities in Maharashtra are being connected to the economic hubs of neighbouring states. The Mumbai-Ahmedabad High-Speed Rail will benefit both Gujarat and Maharashtra. The Delhi-Mumbai Economic Corridor will link Maharashtra with Madhya Pradesh and other northern states. The Western Dedicated Freight Corridor will significantly improve rail connectivity between Maharashtra and northern India. Moreover, the transmission line network linking Maharashtra with neighbouring states like Telangana and Chhattisgarh will accelerate the growth of industries in Maharashtra. Oil and gas pipelines, the Aurangabad Industrial City, the Navi Mumbai Airport, and the Shendra-Bidkin Industrial Park have the potential to give a new impetus to the economy of Maharashtra.

Friends,

Our government is running with the mantra of the development of the state, which in turn contributes to the development of the country. When Maharashtra progresses, India progresses, and when India develops, Maharashtra will also be benefited. Nowadays, discussions about India's progress and development are taking place all around the world. Maharashtra, and particularly Pune, is also reaping the benefits of this development. Over the past 9 years, India has created a new identity in the world in terms of innovation and start-ups. Just 9 years ago, there were only a few hundred start-ups in India, and now we have crossed the mark of 100,000 start-ups. This ecosystem of start-ups has flourished because of the expansion of digital infrastructure. Pune has played a significant historical role in laying the foundation of digital infrastructure in India. Cheap data, affordable phones, and internet connectivity reaching every village have strengthened this sector. Today, India is among the countries rolling out 5G services at the fastest pace in the world. In every sector, be it fintech, biotech, agritech, our young talent is excelling. Pune is reaping immense benefits from this progress.

Friends,

On one hand, we are witnessing all-round development in Maharashtra. On the other hand, we are also observing the developments in the neighbouring state of Karnataka. Bengaluru is such a significant IT hub and a centre for global investors. It was essential for Bengaluru and Karnataka to witness rapid progress during this time. However, the government which was formed there on the basis of promises, it has led to adverse consequences in a short span of time, which the entire country is witnessing and is worried about. When a party empties the government's treasury for its hidden selfish interests, it is the people of the state who suffer the most, and it raises serious questions about the future of our youth. While this may help the party form a government, it puts the future of the people at risk. The situation is such that the Karnataka government itself admits that its coffers are empty and it lacks funds for Bengaluru's development and for the progress of Karnataka. Brothers, this is a matter of great concern for our country. We are also witnessing a similar situation in Rajasthan, where the burden of debt is increasing, and developmental projects are being stalled.

Friends,

For the progress and development of the country, policy, determination, and dedication are equally crucial. The policies, intentions, and dedication of those running the government and the system decide whether there will be development or not. For example, there is a plan to provide pucca houses to the poor. The government that was there before 2014 ran two schemes in ten years to provide houses to the urban poor, and under these schemes, only 8 lakh houses were constructed throughout the country in a decade. However, the condition of these houses was so bad that most of the urban poor refused to take them. Now you imagine, if the person living in the slum also refuses to take that house then how bad that house would be. You can imagine more than 2 lakh houses were constructed during the time of the UPA government that no one was willing to take. In Maharashtra too, more than 50,000 such houses built at that time were lying vacant. It is a waste of money and they were not concerned about the problems of the people.

Brothers and sisters,

In 2014, you gave us the opportunity to serve. After coming to power, we started working with the right intentions and also changed policies. In the past 9 years, our government has constructed over 4 crore pucca houses for the poor in villages and cities. Among them, more than 75 lakh houses have been built for urban poor. We have brought transparency in the construction of these new houses and improved their quality. Our government has done another significant work. Most of the houses that the government is building and giving to the poor are being registered in the names of women. These houses are worth several lakhs of rupees. In the past 9 years, there are crores of sisters in the country who have become ‘Lakhpati’; they have become ‘Lakhpati Didi’. For the first time, property is being registered in their names. I congratulate all those brothers and sisters who have received their own homes today. I extend my heartfelt wishes to all of them. And this year's Ganesh Utsav is going to be magnificent for them.

Brothers and sisters,

Be it poor or middle class family, Modi's guarantee is to fulfil every dream. When one dream comes true, hundreds of new resolutions are born from the womb of that success. These resolutions become the greatest strength in a person's life. We are concerned about your children, your present, and your future generations.

Friends,

Power comes and goes, but society and the country remain. Therefore, our effort is to make your today as well as your tomorrow better. The commitment to building a developed India is the manifestation of this sentiment. For this, we all must come together and work unitedly. Here in Maharashtra, so many different parties have come together with the same goal. The aim is that with everyone's participation, Maharashtra can progress rapidly and achieve better results. Maharashtra has always showered us with love and blessings. With this wish that this affection will continue, I extend my heartfelt congratulations to all of you for the development projects.

Join me and say Bharat Mata ki – Jai!

Bharat Mata ki – Jai!

Bharat Mata ki – Jai!

Thanks!

 

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
Union Cabinet approves amendment in FDI policy on space sector, upto 100% in making components for satellites

Media Coverage

Union Cabinet approves amendment in FDI policy on space sector, upto 100% in making components for satellites
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Today, every effort being made in New India is creating a legacy for the future generations: PM Modi
February 22, 2024
Inaugurates multiple projects under the internet connectivity, rail, road, education, health, connectivity, research and tourism sectors
Dedicates to nation Bharat Net Phase-II - Gujarat Fibre Grid Network Limited
Dedicates multiple projects for rail, road and water supply
Dedicates main academic building of Gujarat Biotechnology University at Gandhinagar
Lays foundation stone for district-level Hospital & Ayurvedic Hospital in Anand and development of Rinchhadiya Mahadev Temple and Lake at Ambaji
Lays foundation stone for multiple road and water supply improvement projects in Gandhinagar, Ahmedabad, Banaskantha, and Mahesana; Runway of Air Force Station, Deesa
Lays foundation stone for Human and Biological Science Gallery in Ahmedabad, new building of Gujarat Biotechnology Research Centre (GBRC) at GIFT city
“It is always special to be in Mehsana”
“This is a time when whether it is God's work (Dev Kaaj) or country's work (Desh Kaaj), both are happening at a fast pace”
“Goal of Modi’s guarantee is to transform the life of the person on the last pedestal of the society”
“Whatever pledge Modi takes, he fulfills it, this runway of Deesa is an example of this. This is Modi's guarantee”
“Today, every effort being made in New India is creating a legacy for the future generations”

जय वाड़ीनाथ! जय-जय वाड़ीनाथ।

पराम्बा हिंगलाज माताजी की जय! हिंगलाज माताजी की जय!

भगवान श्री दत्तात्रेय की जय! भगवान श्री दत्तात्रेय की जय!

कैसे है आप सभी? इस गांव के पुराने जोगियों के दर्शन हुए, पुराने-पुराने साथियों के भी दर्शन हुए। भाई, वाड़ीनाथ ने तो रंग जमा दिया, वाड़ीनाथ पहले भी आया हूं, और कई बार आया हूं, परंतु आज की रौनक ही कुछ और है। दुनिया में कितना ही स्वागत हो, सम्मान हो, परंतु घर पर जब होता है, उसका आनंद ही कुछ और होता है। मेरे गांव के बीच-बीच में कुछ दिख रहे थे आज, और मामा के घर आए तो उसका आनंद भी अनोखा होता है, ऐसा वातावरण मैंने देखा है उसके आधार पर मैं कह सकता हूं कि श्रद्धा से, आस्था से सराबोर आप सभी भक्तगणों को मेरा प्रणाम। देखिए संयोग कैसा है, आज से ठीक एक महीना पहले 22 जनवरी को अयोध्या में प्रभु राम के चरणों में था। वहां मुझे प्रभु रामलला के विग्रह की प्राण-प्रतिष्ठा के ऐतिहासिक आयोजन में शामिल होने का सौभाग्य मिला। इसके बाद 14 फरवरी बसंत पंचमी को अबु धाबी में, खाड़ी देशों के पहले हिन्दू मंदिर के लोकार्पण का अवसर मिला। और अभी दो-तीन दिन पहले ही मुझे यूपी के संभल में कल्कि धाम के शिलान्यास का भी मौका मिला। और अब आज मुझे यहां तरभ में इस भव्य, दिव्य मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के बाद पूजा करने का समारोह में हिस्सा लेने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है।

साथियों,

देश और दुनिया के लिए तो ये वाड़ीनाथ शिवधाम तीर्थ है। लेकिन रबारी समाज के लिए पूज्य गुरु गादी है। देशभर से रबारी समाज के अन्य भक्तगण आज मैं यहां देख रहा हूं, अलग-अलग राज्यों के लोग भी मुझे नज़र आ रहे हैं। मैं आप सभी का अभिनंदन करता हूं।

साथियों,

भारत की विकास यात्रा में एक अद्भुत कालखंड है। एक ऐसा समय है, जब देवकाज हो या फिर देश काज, दोनों तेज़ गति से हो रहे हैं। देव सेवा भी हो रही है, देश सेवा भी हो रही है। आज एक तरफ ये पावन कार्य संपन्न हुआ है, वहीं विकास से जुड़े 13 हज़ार करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट्स का भी शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है। ये प्रोजेक्ट रेल, रोड, पोर्ट-ट्रांसपोर्ट, पानी, राष्ट्रीय सुरक्षा, शहरी विकास, टूरिज्म ऐसे कई महत्वपूर्ण विकास कामों से जुड़े हैं। और इनसे लोगों का जीवन आसान होगा और इस क्षेत्र के युवाओं के लिए रोजगार के, स्वरोजगार के नए अवसर बनेंगे।

मेरे परिवारजनों,

आज मैं इस पवित्र धरती पर एक दिव्य ऊर्जा महसूस कर रहा हूं। ये ऊर्जा, हजारों वर्ष से चली आ रही उस आध्यात्मिक चेतना से हमें जोड़ती है, जिसका संबंध भगवान कृष्ण से भी है और महादेव जी से भी है। ये ऊर्जा, हमें उस यात्रा से भी जोड़ती है जो पहले गादीपति महंत वीरम-गिरि बापू जी ने शुरू की थी। मैं गादीपति पूज्य जयरामगिरी बापू को भी आदरपूर्वक प्रणाम करता हूं। आपने गादीपति महंत बलदेवगिरि बापू के संकल्प को आगे बढ़ाया और उसे सिद्धि तक पहुंचाया। आप में से बहुत लोग जानते हैं, बलदेवगिरी बापू के साथ मेरा करीब 3-4 दशक का बहुत ही गहरा नाता रहा था। जब मुख्यमंत्री था, तो कई बार मुझे मेरे निवास स्थान पर उनके स्वागत का अवसर मिला। करीब-करीब 100 साल हमारे बीच वो आध्यात्मिक चेतना जगाते रहे, और जब 2021 में हमें छोड़कर चले गए, तब भी मैंने फोन करके मेरी भावनाओं को प्रकट किया था। लेकिन आज जब उनके सपने को सिद्ध होता हुआ देखता हूं, तो मेरी आत्मा कहती है- आज वो जहां होंगे, इस सिद्धि को देखकर प्रसन्न हो रहे होंगे, हमें आशीर्वाद देते होंगे। सैकड़ों वर्ष पुराना ये मंदिर, आज 21वीं सदी की भव्यता और पुरातन दिव्यता के साथ तैयार हुआ है। ये मंदिर सैकड़ों शिल्पकारों, श्रमजीवियों के बरसों के अथक परिश्रम का भी परिणाम है। इसी परिश्रम के कारण इस भव्य मंदिर में आज वाड़ीनाथ महादेव, पराम्बा श्री हिंगलाज माताजी और भगवान दत्तात्रेय विराजे हैं। मंदिर निर्माण में जुटे रहे अपने सभी श्रमिक साथियों का भी मैं वंदन करता हूं।

भाइयों और बहनों,

हमारे ये मंदिर सिर्फ देवालय हैं, ऐसा नहीं है। सिर्फ पूजापाठ करने की जगह हैं, ऐसा भी नहीं है। बल्कि ये हमारी हजारों वर्ष पुरानी संस्कृति के, परंपरा के प्रतीक हैं। हमारे यहां मंदिर, ज्ञान और विज्ञान के केंद्र रहे हैं, देश और समाज को अज्ञान से ज्ञान की तरफ ले जाने के माध्यम रहे हैं। शिवधाम, श्री वाड़ीनाथ अखाड़े ने तो शिक्षा और समाज सुधार की इस पवित्र परंपरा को पूरी निष्ठा से आगे बढ़ाया है। और मुझे बराबर याद है पूज्य बलदेवगिरी महाराज जी के साथ जब भी बात करता था, तो आध्यात्मिक या मंदिर की बातों से ज्यादा वे समाज के बेटे-बेटियों की शिक्षा की चर्चा करते थे। पुस्तक परब के आयोजन से लोगों में जागरूकता बढ़ी है। स्कूल और हॉस्टल के निर्माण से शिक्षा का स्तर और बेहतर हुआ है। आज, प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले सैकड़ों विद्यार्थियों को रहने-खाने और लाइब्रेरी की सुविधा दी जा रही है। देवकाज और देश काज का इससे बेहतर उदाहरण भला क्या हो सकता है। ऐसी परंपरा को आगे बढ़ाने के लिए रबारी समाज प्रशंसा का पात्र है। और रबारी समाज को प्रशंसा बहुत कम मिलती है।

भाइयों और बहनों,

आज देश सबका साथ, सबका विकास के मंत्र पर चल रहा है। ये भावना हमारे देश में कैसे रची-बसी है, इसके दर्शन भी हमें वाड़ीनाथ धाम में होते हैं। ये ऐसा स्थान है, जहां भगवान ने प्रकट होने के लिए एक रबारी चरवाहे भाई को निमित्त बनाया। यहां पूजापाठ का ज़िम्मा रबारी समाज के पास होता है। लेकिन दर्शन सर्वसमाज करता है। संतों की इसी भावना के अनुकूल ही हमारी सरकार आज देश में हर क्षेत्र, हर वर्ग के जीवन को बेहतर बनाने में जुटी है। मोदी की गारंटी, ये मोदी की गारंटी का लक्ष्य, समाज के अंतिम पायदान पर खड़े देशवासी का भी जीवन बदलना है। इसलिए एक तरफ देश में देवालय भी बन रहे हैं तो दूसरी तरफ करोड़ों गरीबों के पक्के घर भी बन रहे हैं। कुछ ही दिन पहले मुझे गुजरात में सवा लाख से अधिक गरीबों के घरों के लोकार्पण का और शिलान्यास का अवसर मिला, सवा लाख घर, ये गरीब परिवार कितने आशीर्वाद देंगे, आप कल्पना कीजिए। आज देश के 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन मिल रहा है, ताकि गरीब के घर का भी चूल्हा जलता रहे। ये एक प्रकार से भगवान का ही प्रसाद है। आज देश के 10 करोड़ नए परिवारों को नल से जल मिलना शुरू हुआ है। ये उन गरीब परिवारों के लिए किसी अमृत से कम नहीं है, जिन्हें पहले पानी के इंतजाम में दूर-दूर तक जाना पड़ता था। हमारे उत्तर गुजरात वालों को तो पता है कि पानी के लिए कितनी तकलीफ उठानी पड़ती थी। दो-दो, तीन-तीन किलोमीटर सिर पर घड़ा रखकर ले जाना पड़ता था। और मुझे याद है, जब मैंने सुजलाम-सुफलाम योजना बनाई, तब उत्तर गुजरात के कांग्रेस के विधायक भी मुझसे कहा करते थे कि साहब ऐसा काम कोई नहीं कर सकता, जो आपने किया है। यह 100 साल तक लोग भूलेंगे नहीं। उनके साक्षी यहां पर भी बैठे हैं।

साथियों,

बीते 2 दशकों में हमने गुजरात में विकास के साथ-साथ विरासत से जुड़े स्थानों की भव्यता के लिए भी काम किया है। दुर्भाग्य से आज़ाद भारत में लंबे समय तक विकास और विरासत, उसके बीच टकराव पैदा किया गया, दुश्मनी बना दी। इसके लिए अगर कोई दोषी है, तो वही कांग्रेस हैं, जिन्होंने दशकों तक देश पर शासन किया। ये वही लोग हैं, जिन्होंने सोमनाथ जैसे पावन स्थल को भी विवाद का कारण बनाया। ये वही लोग हैं, जिन्होंने पावागढ़ में धर्म ध्वजा फहराने की इच्छा तक नहीं दिखाई। ये वही लोग हैं, जिन्होंने दशकों तक मोढेरा के सूर्यमंदिर को भी वोट बैंक की राजनीति से जोड़कर देखा। ये वही लोग हैं, जिन्होंने भगवान राम के अस्तित्व पर भी सवाल उठाए, उनके मंदिर निर्माण को लेकर रोड़े अटकाए। और आज जब जन्मभूमि पर भव्य मंदिर का निर्माण हो चुका है, जब पूरा देश इससे खुश है, तो भी नकारात्मकता को जीने वाले लोग नफरत का रास्ता छोड़ नहीं रहे हैं।

भाइयों और बहनों,

कोई भी देश अपनी विरासत को सहेज कर ही आगे बढ़ सकता है। गुजरात में भी भारत की प्राचीन सभ्यता के अनेक प्रतीक चिन्ह हैं। ये प्रतीक इतिहास को समझने के लिए ही नहीं, बल्कि आने वाली पीढ़ियों को अपने मूल से जोड़ने के लिए भी बहुत ज़रूरी है। इसलिए हमारी सरकार का ये निरंतर प्रयास रहा है कि इन प्रतीकों को सहेजा जाए, इन्हें विश्व धरोहरों के रूप में विकसित किया जाए। अब आप देखिए वडनगर में खुदाई में नया-नया इतिहास कैसे सामने आ रहा है। पिछले महीने ही वडनगर में 2800 साल पुरानी बस्ती के निशान मिले हैं, 2800 साल पहले लोग वहां रहते थे। धोलावीरा में भी कैसे प्राचीन भारत के दिव्य दर्शन हो रहे हैं। ये भारत के गौरव हैं। हमें अपने इस समृद्ध अतीत पर गर्व है।

साथियों,

आज नए भारत में हो रहा हर प्रयास, भावी पीढ़ी के लिए विरासत बनाने का काम कर रहा है। आज जो नई और आधुनिक सड़कें बन रही हैं, रेलवे ट्रैक बन रहे हैं, ये विकसित भारत के ही रास्ते हैं। आज मेहसाणा की रेल कनेक्टिविटी और मजबूत हुई है। रेल लाइन के दोहरीकरण से, अब बनासकांठा और पाटन की कांडला, टुना और मुंद्रा पोर्ट से कनेक्टिविटी बेहतर हुई है। इससे नई ट्रेन चलाना भी संभव हुआ है और मालगाड़ियों के लिए भी सुविधा हुई है। आज डीसा के एयरफोर्स स्टेशन के रनवे उसका भी लोकार्पण हुआ है। और भविष्य में ये सिर्फ रनवे नहीं, भारत की सुरक्षा का एयरफोर्स का एक बहुत बड़ा केंद्र विकसित होने वाला है। मुझे याद है मुख्यमंत्री रहते हुए मैंने इस प्रोजेक्ट के लिए भारत सरकार को ढ़ेर सारी चिट्ठियाँ लिखी थीं, अनेक बार प्रयास किया था। लेकिन कांग्रेस की सरकार ने इस काम को, इस निर्माण को रोकने के लिए कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी थी। एयरफोर्स के लोग कहते थे कि ये लोकेशन भारत की सुरक्षा के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, लेकिन नहीं करते थे। 2004 से लेकर 2014 तक कांग्रेस सरकार इसकी फ़ाइलों को लेकर बैठी रही। डेढ़ साल पहले मैंने इस रनवे के काम का शिलान्यास किया था। मोदी जो संकल्प लेता है, वो पूरे करता है, डीसा के ये रनवे आज उसका लोकार्पण हो गया, ये उसका उदाहरण है। और यही तो है मोदी की गारंटी।

साथियों,

20-25 साल पहले का एक वो भी समय था, जब उत्तर गुजरात में अवसर बहुत ही सीमित थे। तब किसानों के खेतों में पानी नहीं था, पशुपालकों के सामने अपनी चुनौतियां थीं। औद्योगीकरण का दायरा भी बहुत सीमित था। लेकिन भाजपा सरकार में आज स्थितियां लगातार बदल रही हैं। आज यहां के किसान साल में 2-3 फसल उगाने लगे हैं। पूरे इलाके का जल स्तर भी ऊंचा उठ गया है। आज यहां जल आपूर्ति और जल स्रोतों से जुड़ी 8 परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया गया है। इन पर 15 सौ करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च किए जाएंगे। इससे उत्तर गुजरात की पानी की समस्याओं को दूर करने में और मदद लेगी। उत्तर गुजरात के किसानों ने टपक सिंचाई जैसी आधुनिक टेक्नॉलॉजी को जैसे अपनाया है, वो अद्भुत है। अब तो मैं यहां देख रहा हूं कि केमिकल मुक्त, प्राकृतिक खेती का चलन भी बढ़ने लगा है। आपके प्रयासों से पूरे देश में किसानों का उत्साह बढ़ेगा।

भाइयों और बहनों,

हम इसी तरह विकास भी करेंगे और विरासत भी सहेजेंगे। अंत में इस दिव्य अनुभूति का भागीदार बनाने के लिए मैं एक बार फिर आप सभी साथियों का आभार व्यक्त करता हूं। आप सबका बहुत-बहुत धन्यवाद ! मेरे साथ बोलिए-

भारत माता की जय।

भारत माता की जय।

भारत माता की जय।

धन्यवाद।