PM addresses G20 University Connect Finale

Published By : Admin | September 26, 2023 | 16:11 IST
Releases 4 publications related to G20 Summit in India
“Events of such scale are bound to be a success when the youth gets behind them”
“Last 30 days saw unprecedented activities in every sphere. India’s range is beyond comparison”
“The unanimous New Delhi Declaration has become headlines all over the world”
“Due to strong diplomatic efforts, India is getting new opportunities, new friends and new markets, providing new opportunities to the youth”
“India made G20 a people-driven national movement”
“Today, the honest are being rewarded while the dishonest are being taken to task”
“Clean, clear and stable governance is mandatory for nation’s development journey”
“My strength lies in the youth of India”
“Friends, come walk with me, I invite you. 25 years are in front of us, what happened 100 years ago, they moved for Swaraj, we move for Samriddhi (prosperity)”

The Prime Minister, Shri Narendra Modi addressed the G20 University Connect Finale programme at Bharat Mandapam in New Delhi today. The G20 University Connect initiative was undertaken with the aim to build an understanding of India’s G20 Presidency among India’s youth and enhance their participation in the different G20 events. The Prime Minister also released 4 publications on the occasion namely The Grand Success of G20 Bharat Presidency: Visionary Leadership, Inclusive Approach; India's G20 Presidency: Vasudhaiva Kutumbakam; Compendium of G20 University Connect Programme; and Showcasing Indian Culture at G20.

The Prime Minister began his address by recalling the hustle and bustle at the Bharat Mandapam two weeks ago during the G20 Summit and said that it had become a totally happening place. He expressed delight that the same venue is witnessing the future of India today. Noting that India has lifted the standards of organizing an event like G20 and the world is extremely surprised with it, Shri Modi emphasized that he is not at all surprised as it is the promising youth of India who had associated themselves with such an event. “Events of such scale are bound to be a success when the youth associate themselves with it”, he said. Prime Minister Modi credited the happenings in India to the youthful energy of the nation.

The Prime Minister said that India is becoming a happening place. It is evident from the activities of the last 30 days. Giving a recap of the last 30 days, the Prime Minister started by recalling the successful Chandrayaan mission when the entire world resonated with ‘India is on the moon’. “23 August has become immortal as National Space Day in our country”, the Prime Minister added. In continuation with this success, India launched its solar mission successfully. Prime Minister Modi said, Chandrayaan covered 3 lakh km, and the solar project will cover 15 lakh km. “Is there any comparison of India's range”, he quipped.

The Prime Minister underlined that India’s diplomacy has scaled new heights in the past 30 days. He touched upon the BRICS Summit that took place in South Africa before the G20 where six new nations were included as its members with India’s efforts. After South Africa, the Prime Minister mentioned traveling to Greece which was the first visit by an Indian Prime Minister in four decades. He also mentioned meeting several world leaders in Indonesia before the G20 Summit. Highlighting that numerous key decisions were taken for the betterment of the world at the same Bharat Mandapam, the Prime Minister underlined that finding a common ground for all member nations on the same stage in a globally polarized atmosphere was a special achievement for the government. “The unanimous New Delhi Declaration has become headlines all over the world”, the Prime Minister remarked as he mentioned that India has led several important initiatives and outcomes. Talking about the transformative decisions of the G20 that have the capacity to entirely change the direction of the 21st century, the Prime Minister mentioned the Inclusion of the African Union in G20 as a permanent member, International Biofuel Alliance led by India, India Middle East European corridor.

As soon as the G20 summit ended, the State Visit of the Crown Prince of Saudi Arabia took place and Saudi Arabia is going to make an investment of 100 billion dollars in India. The Prime Minister informed that he met with 85 world leaders in the last 30 days covering almost half of the world. Explaining the benefits of the growing international profile of India, the Prime Minister said that due to this, India gets new opportunities, new friends and new markets, providing new opportunities to the youth.

Referring to the steps taken by the government to empower the SC, ST, OBC communities, and the poor and the middle class in the past 30 days, the Prime Minister mentioned launching PM Vishwakarma Yojna on the auspicious occasion of Vishwakarma Jayanti which will greatly benefit artisans, craftsmen and traditional workers. He mentioned the organization of Rozgar Melas to hand appointment letters of Central Government jobs to more than 1 lakh youth. The Prime Minister also informed that more than 6 lakh youths have been given appointment letters since the inception of Rozgar Melas. Prime Minister Modi also mentioned the inaugural session of the New Parliament taking place where the first bill to be passed was Narishakti Vandan Adhiniyam.

Throwing light on the latest developments in electric mobility, the Prime Minister mentioned the approval of a new scheme to empower the battery energy storage system in the country. Among other developments, Shri Modi touched upon the inauguration of Yashobhoomi Convention Centre in Dwaraka, New Delhi; laying the foundation stone of a new International Cricket stadium in Varanasi, and the flagging off of 9 Vande Bharat Trains. The Prime Minister also mentioned laying the foundation stone for a petrochemical complex in a refinery in Madhya Pradesh along with a renewable energy IT Park, a Mega Industrial Park and six new industrial sectors in the state. “All these developments are associated with job creation and enhancing the skills of the youth”, Shri Modi added.

The Prime Minister said that youth progress where there is optimism, opportunities and openness. The Prime Minister asked the youth to think big. “There is no achievement that is beyond you or the country is not behind you”, he said. He said that no occasion should be treated as small and that effort should be made to convert every activity into a benchmark. He illustrated this by giving an example of G20 which could have been a mere diplomatic and Delhi-centric event. Instead, “India made G20 a people-driven national movement”, he said. He praised the participation of youth in the event as more than 1 lakh students from more than 100 universities participated in the G20 University Connect. The Government took the G20 to 5 crore students in schools, higher education and skill development institutions. “Our people think big and deliver even grander”, he added.

Reiterating the importance of the next 25 years of Amrit Kaal, the Prime Minister underlined the criticality of the period for both the nation and the youth. Dwelling on the convergence of the contributing factors, the Prime Minister said that India is among the fastest growing economies as the nation became 5th largest economy from 10th place in a very short time. The global trust in India is strong and there is record foreign investment in the country. The export, manufacturing and service sector is scaling new heights. In just 5 years, 13.5 crore people have come out of poverty transitioning into India’s neo-middle class. “Strides in physical, social and digital infrastructure are ensuring new speed in the development. Physical infrastructure is seeing an investment of 10 lakh crore”, he added.

Talking about the new opportunities for the youth, the Prime Minister informed that about 5 crore registrations have taken place on EPFO payroll. Out of these, 3.5 crores have come into the ambit of EPFO for the first time, meaning this is their first formal block. He also talked about the phenomenal growth of startups in the country after 2014 from less than 100 to more than 1 lakh today. “India is the second biggest mobile handset manufacturer in India. Defence exports increased by 23 times as compared to 2014. Mudra Yojana is making the youth a job-creator”, he said. He informed that 8 crore first-time entrepreneurs were created in the scheme and 5 lakh Common Service Centers were opened in India in the last 9 years.

Prime Minister Modi credited the positive developments taking place in the country to the political stability, policy clarity and democratic values. In the last 9 years, the Prime Minister emphasized that the government has made honest efforts to curb corruption and gave the example of implementation of technology-based systems to control the middlemen and stop the leakages in the system. “Today, the honest are being rewarded while the dishonest are being taken to task”, Shri Modi emphasized.

“Clean, clear and stable governance is mandatory for continuing a nation’s development journey”, the Prime Minister emphasized. He underlined that if the youth of India are determined, then nothing can stop India from becoming a developed and atmanirbhar nation by 2047. He emphasized that the entire world is looking towards India with hope as they now recognize the potential of India and its youth. He said that the progress of India and its youth is extremely important for the progress of the world. Noting that it is the spirit of the youth that enables the Prime Minister to make commitments on behalf of the nation, he said that the youth of India is the inspiration behind him when he puts forward India’s view on the world stage. “My strength lies in the youth of India”, the Prime Minister exclaimed and assured everyone of tirelessly working for the better future of India’s youth.

Impressed by the contributions of the youth in making the Swachh Bharat campaign a grand success, the Prime Minister appealed to them to take part in an extensive cleanliness campaign to be held across the nation on the 1st of October, 2023, a day before the Gandhi Jayant. His second request was about promoting digital transactions. He asked them to teach at least 7 people to operate UPI within a week. His third request was about Vocal for Local. He asked them to purchase ‘Made in India’ gifts during the festivals and appealed to make use of things that were indigenous in their origin. He asked them to do an exercise of making a list of things of everyday use and check how many of them are foreign-made. He said that many foreign-made objects unknown to us have encroached on our lives and getting rid of them is important for saving the country.

Noting that India’s college and university campuses can become crucial centers for ‘Vocal for Local’, the Prime Minister urged the students to make Khadi a fashion statement of the campus. He suggested conducting Khadi fashion shows and promoting the work of Vishwakarmas at college cultural fests. Noting that the three appeals made by the Prime Minister are for the betterment of the youth of today as well the future generations, he expressed confidence that the youth will leave Bharat Mandapam today with this resolve.

The Prime Minister said that unlike the stalwarts of the freedom struggle we did not get an opportunity to die for the country but we have all the opportunity to live for the nation. He said the youth of the decades a century ago had decided on the grand goal of Independence and that nation-wide energy freed the nation from colonial powers. “Friends, come walk with me, I invite you. 25 years are in front of us, what happened 100 years ago, they moved for Swaraj, we can move for Samriddhi (prosperity)”, the Prime Minister exhorted the youth. “Aatmnirbhar Bharat opens new doors of prosperity and takes self-belief to new heights”, he added. He reiterated his guarantee of taking India into the top three economies, “That is why I need your support and cooperation for Maa Bharati and for 140 crore Indians”, he concluded.

Union Minister for Education, Shri Dharmendra Pradhan was present on the occasion.

Background

The G20 Jan Bhagidari movement saw a record participation of more than 5 crore youth from different schools, higher education institutions and skill development institutes from across the country. The G20 University Connect initiative was undertaken with the aim to build an understanding of India’s G20 Presidency among India’s youth and enhance their participation in the different G20 events. The programme engaged over 1 lakh students from universities across India. Initially planned for 75 universities to commemorate India's 75 years of independence, the initiative eventually expanded its reach to 101 universities across India.

Several programmes were held across the country under the G-20 University Connect initiative. They witnessed extensive participation from higher education institutions. Further, what initially began as a programme for universities quickly grew to include schools and colleges, reaching an even wider audience.

The G20 University Connect Finale was attended by about 3,000 students, faculty members, and Vice Chancellors of the participating Universities while students from across the country joined the live event.

Click here to read full text speech

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
Indian Air Force’s Made-in-India Samar-II to shield India’s skies against threats from enemies

Media Coverage

Indian Air Force’s Made-in-India Samar-II to shield India’s skies against threats from enemies
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
New India is finishing tasks at a rapid pace: PM Modi
February 25, 2024
Dedicates five AIIMS at Rajkot, Bathinda, Raebareli, Kalyani and Mangalagiri
Lays foundation stone and dedicates to nation more than 200 Health Care Infrastructure Projects worth more than Rs 11,500 crore across 23 States /UTs
Inaugurates National Institute of Naturopathy named ‘Nisarg Gram’ in Pune
Inaugurates and dedicates to nation 21 projects of the Employees’ State Insurance Corporation worth around Rs 2280 crores
Lays foundation stone for various renewable energy projects
Lays foundation stone for New Mundra-Panipat pipeline project worth over Rs 9000 crores
“We are taking the government out of Delhi and trend of holding important national events outside Delhi is on the rise”
“New India is finishing tasks at rapid pace”
“I can see that generations have changed but affection for Modi is beyond any age limit”
“With Darshan of the submerged Dwarka, my resolve for Vikas and Virasat has gained new strength; divine faith has been added to my goal of a Viksit Bharat”
“In 7 decades 7 AIIMS were approved, some of them never completed. In last 10 days, inauguration or foundation stone laying of 7 AIIMS have taken place”
“When Modi guarantees to make India the world’s third largest economic superpower, the goal is health for all and prosperity for all”

भारत माता की जय!

भारत माता की जय!

मंच पर उपस्थित गुजरात के लोकप्रिय मुख्यमंत्री श्रीमान भूपेंद्र भाई पटेल, केंद्र में मंत्रिपरिषद के मेरे सहयोगी मनसुख मांडविया, गुजरात प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष और संसद में मेरे साथी सी आर पाटिल, मंच पर विराजमान अन्य सभी वरिष्ठ महानुभाव, और राजकोट के मेरे भाइयों और बहनों, नमस्कार।

आज के इस कार्यक्रम से देश के अनेक राज्यों से बहुत बड़ी संख्या में अन्य लोग भी जुड़े हैं। कई राज्यों के माननीय मुख्यमंत्री, माननीय गवर्नर श्री, विधायकगण, सांसदगण, केंद्र के मंत्रीगण, ये सब इस कार्यक्रम में वीडियो कांफ्रेंसिंग से हमारे साथ जुड़े हैं। मैं उन सभी का भी हृदय से बहुत-बहुत अभिनंदन करता हूं।

एक समय था, जब देश के सारे प्रमुख कार्यक्रम दिल्ली में ही होकर रह जाते थे। मैंने भारत सरकार को दिल्ली से बाहर निकालकर देश के कोने-कोने तक पहुंचा दिया है और आज राजकोट पहुंच गए। आज का ये कार्यक्रम भी इसी बात का गवाह है। आज इस एक कार्यक्रम से देश के अनेकों शहरों में विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास होना, एक नई परंपरा को आगे बढ़ा रहा है। कुछ दिन पहले ही मैं जम्मू कश्मीर में था। वहां से मैंने IIT भिलाई, IIT तिरुपति, ट्रिपल आईटी DM कुरनूल, IIM बोध गया, IIM जम्मू, IIM विशाखापट्टनम और IIS कानपुर के कैंपस का एक साथ जम्‍मू से लोकार्पण किया था। और अब आज यहां राजकोट से- एम्स राजकोट, एम्स रायबरेली, एम्स मंगलगिरी, एम्स भटिंडा, एम्स कल्याणी का लोकार्पण हुआ है। पांच एम्स, विकसित होता भारत, ऐसे ही तेज गति से काम कर रहा है, काम पूरे कर रहा है।

साथियों,

आज मैं राजकोट आया हूं, तो बहुत कुछ पुराना भी याद आ रहा है। मेरे जीवन का कल एक विशेष दिन था। मेरी चुनावी यात्रा की शुरुआत में राजकोट की बड़ी भूमिका है। 22 साल पहले 24 फरवरी को ही राजकोट ने मुझे पहली बार आशीर्वाद दिया था, अपना MLA चुना था। और आज 25 फरवरी के दिन मैंने पहली बार राजकोट के विधायक के तौर पर गांधीनगर विधानसभा में शपथ ली थी, जिंदगी में पहली बार। आपने तब मुझे अपने प्यार, अपने विश्वास का कर्जदार बना दिया था। लेकिन आज 22 साल बाद मैं राजकोट के एक-एक परिजन को गर्व के साथ कह सकता हूं कि मैंने आपके भरोसे पर खरा उतरने की पूरी कोशिश की है।

आज पूरा देश इतना प्यार दे रहा है, इतने आशीर्वाद दे रहा है, तो इसके यश का हकदार ये राजकोट भी है। आज जब पूरा देश, तीसरी बार-NDA सरकार को आशीर्वाद दे रहा है, आज जब पूरा देश, अबकी बार-400 पार का विश्वास, 400 पार का विश्वास कर रहा है। तब मैं पुन: राजकोट के एक-एक परिजन को सिर झुकाकर नमन करता हूं। मैं देख रहा हूं, पीढ़ियां बदल गई हैं, लेकिन मोदी के लिए स्नेह हर आयु सीमा से परे है। ये जो आपका कर्ज है, इसको मैं ब्याज के साथ, विकास करके चुकाने का प्रयास करता हूं।

साथियों,

मैं आप सबकी भी क्षमा चाहता हूं, और सभी अलग-अलग राज्यों में माननीय मुख्यमंत्री और वहां के जो नागरिक बैठे हैं, मैं उन सबसे भी क्षमा मांगता हूं क्योंकि मुझे आज आने में थोड़ा विलंब हो गया, आपको इंतजार करना पड़ा। लेकिन इसके पीछे कारण ये था कि आज मैं द्वारका में भगवान द्वारकाधीश के दर्शन करके, उन्हें प्रणाम करके राजकोट आया हूं। द्वारका को बेट द्वारका से जोड़ने वाले सुदर्शन सेतु का लोकार्पण भी मैंने किया है। द्वारका की इस सेवा के साथ-साथ ही आज मुझे एक अद्भुत आध्यात्मिक साधना का लाभ भी मिला है। प्राचीन द्वारका, जिसके बारे में कहते हैं कि उसे खुद भगवान श्रीकृष्ण ने बसाया था, आज वो समुद्र में डूब गई है, आज मेरा सौभाग्य था कि मैं समुद्र के भीतर जाकर बहुत गहराई में चला गया और भीतर जाकर मुझे उस समुद्र में डूब चुकी श्रीकृष्‍ण वाली द्वारका, उसके दर्शन करने का और जो अवशेष हैं, उसे स्पर्श करके जीवन को धन्य बनाने का, पूजन करने का, वहां कुछ पल प्रभु श्रीकृष्ण का स्मरण करने का मुझे सौभाग्य मिला। मेरे मन में लंबे अर्से से ये इच्छा थी कि भगवान कृष्ण की बसाई उस द्वारका भले ही पानी के भीतर रही हो, कभी न कभी जाऊंगा, मत्था टेकुंगा और वो सौभाग्य आज मुझे मिला। प्राचीन ग्रंथों में द्वारका के बारे में पढ़ना, पुरातत्वविदों की खोजों को जानना, ये हमें आश्चर्य से भर देता है। आज समंदर के भीतर जाकर मैंने उसी दृश्य को अपनी आंखों से देखा, उस पवित्र भूमि को स्पर्श किया। मैंने पूजन के साथ ही वहां मोर पंख को भी अर्पित किया। उस अनुभव ने मुझे कितना भाव विभोर किया है, ये शब्दों में बताना मेरे लिए मुश्किल है। समंदर के गहरे पानी में मैं यही सोच रहा था कि हमारे भारत का वैभव, उसके विकास का स्तर कितना ऊंचा रहा है। मैं समुद्र से जब बाहर निकला, तो भगवान श्रीकृष्ण के आशीर्वाद के साथ-साथ मैं द्वारका की प्रेरणा भी अपने साथ लेकर लाया हूं। विकास और विरासत के मेरे संकल्पों को आज एक नई ताकत मिली है, नई ऊर्जा मिली है, विकसित भारत के मेरे लक्ष्य से आज दैवीय विश्वास उसके साथ जुड़ गया है।

साथियों,

आज भी यहां 48 हज़ार करोड़ से ज्यादा के प्रोजेक्ट्स आपको, पूरे देश को मिले हैं। आज न्यू मुंद्रा-पानीपत पाइपलाइन प्रोजेक्ट का शिलान्यास हुआ है। इससे गुजरात से कच्चा तेल सीधे हरियाणा की रिफाइनरी तक पाइप से पहुंचेगा। आज राजकोट सहित पूरे सौराष्ट्र को रोड, उसके bridges, रेल लाइन के दोहरीकरण, बिजली, स्वास्थ्य और शिक्षा सहित अनेक सुविधाएं भी मिली हैं। इंटरनेशनल एयरपोर्ट के बाद, अब एम्स भी राजकोट को समर्पित है और इसके लिए राजकोट को, पूरे सौराष्‍ट्र को, पूरे गुजरात को बहुत-बहुत बधाई! और देश में जिन-जिन स्‍थानों पर आज ये एम्स समर्पित हो रहा है, वहां के भी सब नागरिक भाई-बहनों को मेरी तरफ से बहुत-बहुत बधाई।

साथियों,

आज का दिन सिर्फ राजकोट और गुजरात के लिए ही नहीं, बल्कि पूरे देश के लिए भी ऐतिहासिक है। दुनिया की 5वीं बड़ी अर्थव्यवस्था का हेल्थ सेक्टर कैसा होना चाहिए? विकसित भारत में स्वास्थ्य सुविधाओं का स्तर कैसा होगा? इसकी एक झलक आज हम राजकोट में देख रहे हैं। आज़ादी के 50 सालों तक देश में सिर्फ एक एम्स था और भी दिल्ली में। आज़ादी के 7 दशकें में सिर्फ 7 एम्स को मंजूरी दी गई, लेकिन वो भी कभी पूरे नहीं बन पाए। और आज देखिए, बीते सिर्फ 10 दिन में, 10 दिन के भीतर-भीतर, 7 नए एम्स का शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है। इसलिए ही मैं कहता हूं कि जो 6-7 दशकों में नहीं हुआ, उससे कई गुना तेजी से हम देश का विकास करके, देश की जनता के चरणों में समर्पित कर रहे हैं। आज 23 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में 200 से अधिक हेल्थ केयर इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स का भी शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है। इनमें मेडिकल कॉलेज हैं, बड़े अस्पतालों के सैटेलाइट सेंटर हैं, गंभीर बीमारियों के लिए इलाज से जुड़े बड़े अस्पताल हैं।

साथियों,

आज देश कह रहा है, मोदी की गारंटी यानि गारंटी पूरा होने की गारंटी। मोदी की गारंटी पर ये अटूट भरोसा क्यों है, इसका जवाब भी एम्स में मिलेगा। मैंने राजकोट को गुजरात के पहले एम्स की गारंटी दी थी। 3 साल पहले शिलान्यास किया और आज लोकार्पण किया- आपके सेवक ने गारंटी पूरी की। मैंने पंजाब को अपने एम्स की गारंटी दी थी, भटिंडा एम्स का शिलान्यास भी मैंने किया था और आज लोकार्पण भी मैं ही कर रहा हूं- आपके सेवक ने गारंटी पूरी की। मैंने यूपी के रायबरेली को एम्स की गारंटी दी थी। कांग्रेस के शाही परिवार ने रायबरेली में सिर्फ राजनीति की, काम मोदी ने किया। मैंने रायबरेली एम्स का 5 साल पहले शिलान्यास किया और आज लोकार्पण किया। आपके इस सेवक ने गारंटी पूरी की। मैंने पश्चिम बंगाल को पहले एम्स की गारंटी दी थी, आज कल्याणी एम्स का लोकार्पण भी हुआ-आपके सेवक ने गारंटी पूरी कर दी। मैंने आंध्र प्रदेश को पहले एम्स की गारंटी दी थी, आज मंगलगिरी एम्स का लोकार्पण हुआ- आपके सेवक ने वो गारंटी भी पूरी कर दी। मैंने हरियाणा के रेवाड़ी को एम्स की गारंटी दी थी, कुछ दिन पहले ही, 16 फरवरी को उसकी आधारशिला रखी गई है। यानि आपके सेवक ने ये गारंटी भी पूरी की। बीते 10 वर्षों में हमारी सरकार ने 10 नए एम्स देश के अलग-अलग राज्यों में स्वीकृत किए हैं। कभी राज्यों के लोग केंद्र सरकार से एम्स की मांग करते-करते थक जाते थे। आज एक के बाद एक देश में एम्स जैसे आधुनिक अस्पताल और मेडिकल कॉलेज खुल रहे हैं। तभी तो देश कहता है- जहां दूसरों से उम्मीद खत्म हो जाती है, मोदी की गारंटी वहीं से शुरू हो जाती है।

साथियों,

भारत ने कोरोना को कैसे हराया, इसकी चर्चा आज पूरी दुनिया में होती है। हम ये इसलिए कर पाए, क्योंकि बीते 10 वर्षों में भारत का हेल्थ केयर सिस्टम पूरी तरह से बदल गया है। बीते दशक में एम्स, मेडिकल कॉलेज और क्रिटिकल केयर इंफ्रास्ट्रक्चर के नेटवर्क का अभूतपूर्व विस्तार हुआ है। हमने छोटी-छोटी बीमारियों के लिए गांव-गांव में डेढ़ लाख से ज्यादा आयुष्मान आरोग्य मंदिर बनाए हैं, डेढ़ लाख से ज्यादा। 10 साल पहले देश में करीब-करीब 380-390 मेडिकल कॉलेज थे, आज 706 मेडिकल कॉलेज हैं। 10 साल पहले MBBS की सीटें लगभग 50 हज़ार थीं, आज 1 लाख से अधिक हैं। 10 साल पहले मेडिकल की पोस्ट ग्रेजुएट सीटें करीब 30 हज़ार थीं, आज 70 हज़ार से अधिक हैं। आने वाले कुछ वर्षों में भारत में जितने युवा डॉक्टर बनने जा रहे हैं, उतने आजादी के बाद 70 साल में भी नहीं बने। आज देश में 64 हज़ार करोड़ रुपए का आयुष्मान भारत हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर मिशन चल रहा है। आज भी यहां अनेक मेडिकल कॉलेज, टीबी के इलाज से जुड़े अस्पताल और रिसर्च सेंटर, PGI के सैटेलाइट सेंटर, क्रिटिकल केयर ब्लॉक्स, ऐसे अनेक प्रोजेक्ट्स का शिलान्यास और लोकार्पण किया गया है। आज ESIC के दर्जनों अस्पताल भी राज्यों को मिले हैं।

साथियों,

हमारी सरकार की प्राथमिकता, बीमारी से बचाव और बीमारी से लड़ने की क्षमता बढ़ाने की भी है। हमने पोषण पर बल दिया है, योग-आयुष और स्वच्छता पर बल दिया है, ताकि बीमारी से बचाव हो। हमने पारंपरिक भारतीय चिकित्सा पद्धति और आधुनिक चिकित्सा, दोनों को बढ़ावा दिया है। आज ही महाराष्ट्र और हरियाणा में योग और नेचुरोपैथी से जुड़े दो बड़े अस्पताल और रिसर्च सेंटर का भी उद्घाटन हुआ है। यहां गुजरात में ही पारंपरिक चिकित्सा पद्धति से जुड़ा WHO का वैश्विक सेंटर भी बन रहा है।

साथियों,

हमारी सरकार का ये निरंतर प्रयास है कि गरीब हो या मध्यम वर्ग, उसको बेहतर इलाज भी मिले और उसकी बचत भी हो। आयुष्मान भारत योजना की वजह से गरीबों के एक लाख करोड़ रुपए खर्च होने से बचे हैं। जन औषधि केंद्रों में 80 परसेंट डिस्काउंट पर दवा मिलने से गरीबों और मध्यम वर्ग के 30 हजार करोड़ रुपए खर्च होने से बचे हैं। यानि सरकार ने जीवन तो बचाया, इतना बोझ भी गरीब और मिडिल क्लास पर पड़ने से बचाया है। उज्ज्वला योजना से भी गरीब परिवारों को 70 हज़ार करोड़ रुपए से अधिक की बचत हो चुकी है। हमारी सरकार ने जो डेटा सस्ता किया है, उसकी वजह से हर मोबाइल इस्तेमाल करने वाले के करीब-करीब 4 हजार रुपए हर महीने बच रहे हैं। टैक्स से जुड़े जो रिफॉर्म्स हुए हैं, उसके कारण भी टैक्सपेयर्स को लगभग ढाई लाख करोड़ रुपए की बचत हुई है।

साथियों,

अब हमारी सरकार एक और ऐसी योजना लेकर आई है, जिससे आने वाले वर्षों में अनेक परिवारों की बचत और बढ़ेगी। हम बिजली का बिल ज़ीरो करने में जुटे हैं और बिजली से परिवारों को कमाई का भी इंतजाम कर रहे हैं। पीएम सूर्य घर- मुफ्त बिजली योजना के माध्यम से हम देश के लोगों की बचत भी कराएंगे और कमाई भी कराएंगे। इस योजना से जुड़ने वाले लोगों को 300 यूनिट तक मुफ्त बिजली मिलेगी और बाकी बिजली सरकार खरीदेगी, आपको पैसे देगी।

साथियों,

एक तरफ हम हर परिवार को सौर ऊर्जा का उत्पादक बना रहे हैं, तो वहीं सूर्य और पवन ऊर्जा के बड़े प्लांट भी लगा रहे हैं। आज ही कच्छ में दो बड़े सोलर प्रोजेक्ट और एक विंड एनर्जी प्रोजेक्ट का शिलान्यास हुआ है। इससे रिन्यूएबल एनर्जी के उत्पादन में गुजरात की क्षमता का और विस्तार होगा।

साथियों,

हमारा राजकोट, उद्यमियों का, श्रमिकों, कारीगरों का शहर है। ये वो साथी हैं जो आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में बहुत बड़ी भूमिका निभा रहे हैं। इनमें से अनेक साथी हैं, जिन्हें पहली बार मोदी ने पूछा है, मोदी ने पूजा है। हमारे विश्वकर्मा साथियों के लिए देश के इतिहास में पहली बार एक राष्ट्रव्यापी योजना बनी है। 13 हज़ार करोड़ रुपए की पीएम विश्वकर्मा योजना से अभी तक लाखों लोग जुड़ चुके हैं। इसके तहत उन्हें अपने हुनर को निखारने और अपने व्यापार को आगे बढ़ाने में मदद मिल रही है। इस योजना की मदद से गुजरात में 20 हजार से ज्यादा लोगों की ट्रेनिंग पूरी हो चुकी है। इनमें से प्रत्येक विश्वकर्मा लाभार्थी को 15 हजार रुपए तक की मदद भी मिल चुकी है।

साथियों,

आप तो जानते हैं कि हमारे राजकोट में, हमारे यहाँ सोनार का काम कितना बड़ा काम है। इस विश्वकर्मा योजना का लाभ इस व्यवसाय से जुड़े लोगों को भी मिला है।

साथियों,

हमारे लाखों रेहड़ी-ठेले वाले साथियों के लिए पहली बार पीएम स्वनिधि योजना बनी है। अभी तक इस योजना के तहत लगभग 10 हज़ार करोड़ रुपए की मदद इन साथियों को दी जा चुकी है। यहां गुजरात में भी रेहड़ी-पटरी-ठेले वाले भाइयों को करीब 800 करोड़ रुपए की मदद मिली है। आप कल्पना कर सकते हैं कि जिन रेहड़ी-पटरी वालों को पहले दुत्कार दिया जाता था, उन्हें भाजपा किस तरह सम्मानित कर रही है। यहां राजकोट में भी पीएम स्वनिधि योजना के तहत 30 हजार से ज्यादा लोन दिए गए हैं।

साथियों,

जब हमारे ये साथी सशक्त होते हैं, तो विकसित भारत का मिशन सशक्त होता है। जब मोदी भारत को तीसरे नंबर की आर्थिक महाशक्ति बनाने की गारंटी देता है, तो उसका लक्ष्य ही, सबका आरोग्य और सबकी समृद्धि है। आज जो ये प्रोजेक्ट देश को मिले हैं, ये हमारे इस संकल्प को पूरा करेंगे, इसी कामना के साथ आपने जो भव्‍य स्‍वागत किया, एयरपोर्ट से यहां तक आने में पूरे रास्ते पर और यहां भी बीच में आकर के आप के दर्शन करने का अवसर मिला। पुराने कई साथियों के चेहरे आज बहुत सालों के बाद देखे हैं, सबको नमस्ते किया, प्रणाम किया। मुझे बहुत अच्छा लगा। मैं बीजेपी के राजकोट के साथियों का हृदय से अभिनंदन करता हूं। इतना बड़ा भव्य कार्यक्रम करने के लिए और फिर एक बार इन सारे विकास कामों के लिए और विकसित भारत के सपने को साकार करने के लिए हम सब मिलजुल करके आगे बढ़ें। आप सबको बहुत-बहुत बधाई। मेरे साथ बोलिए- भारत माता की जय! भारत माता की जय! भारत माता की जय!

बहुत-बहुत धन्यवाद!

डिस्क्लेमर: प्रधानमंत्री के भाषण का कुछ अंश कहीं-कहीं पर गुजराती भाषा में भी है, जिसका यहाँ भावानुवाद किया गया है।