शेअर करा
 
Comments
"बुद्धांचा संदेश हा संपूर्ण विश्वासाठी असून बुद्धांचा धम्म हा मानवतेसाठी"
"बुद्ध वैश्विक आहे कारण बुद्धांची शिकवण 'स्वतःपासून सुरुवात करा' अशी आहे. बुद्धांचे बुद्धत्व आत्मिक जबाबदारीचे भान देणारे आहे"
"बुद्ध आजही भारताच्या संविधानाची प्रेरणा आहेत, बुद्धांचे धम्म-चक्र भारताच्या तिरंग्यावर विराजमान होऊन आपल्याला गती देत आहे"
"’अत्त दीपो भव’ हा भगवान बुद्धांचा संदेश भारताला स्वनिर्भरतेची प्रेरणा देणारा"

नमो बुद्धाय!

या पवित्र, मंगल कार्यक्रमाला उपस्थित असलेल्या उत्तर प्रदेशच्या राज्यपाल आनंदीबेन पटेल जी, उत्तर प्रदेशचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी, मंत्रिमंडळातले माझे सहकारी जी किशन रेड्डी, किरण रिजीजू, ज्योतिरादित्य शिंदे, श्रीलंकेतून कुशीनगरला आलेले, श्रीलंका सरकारच्या मंत्रिमंडळातले मंत्री नमल राजपक्षा, श्रीलंकेतून आलेले अति पूजनीय, आमचे इतर अतिथीगण, म्यानमार, व्हिएतनाम, थायलंड, लाओ पीडीआर, भूतान आणि दक्षिण कोरियाचे भारतातले राजदूत, श्रीलंका, मंगोलिया, जपान, सिंगापूर, नेपाळ आणि इतर देशांचे वरिष्ठ राजनैतिक अधिकारी, सर्व सन्माननीय भिक्षुगण आणि भगवान बुद्धांचे सर्व अनुयायी मित्रांनो!

अश्विन महिन्यातल्या पौर्णिमेच्या या पवित्र दिनी, कुशीनगरची पावन भूमी आणि आपल्या शरीर अंशांमध्ये- रेलिक्सच्या रूपाने साक्षात भगवान बुद्धांची असलेली उपस्थिती!

भगवान बुद्धांच्या कृपेने आजच्या दिनी अनेक अलौकिक व्यक्तींच्या संगतीमध्ये - अनेक अलौकिक संयोग घडून येत आहेत. आताच इथं येण्यापूर्वी मला कुशीनगर आंतरराष्ट्रीय विमानतळाचे लोकार्पण करण्याचे भाग्य लाभले. कुशीनगर आंतरराष्ट्रीय विमानतळाच्या माध्यमातून जगातल्या बुद्ध अनुयायींना इथे येण्याची संधी आता मिळणार आहे. त्यांचा यात्रा-प्रवास आता अधिक सुलभ होईल. या आंतरराष्ट्रीय विमानतळावर श्रीलंकेतून आलेल्या पहिल्या विमानाने अति-पूजनीय महासंघ, सन्माननीय भिक्षू, आमचे सहकारी मंडळी  यांचे कुशीनगर इथे आगमन झाले आहे. आपल्या सर्वांची या कार्यक्रमाला उपस्थिती म्हणजे- भारत आणि श्रीलंका यांच्यातील हजारो वर्षांपासूनचा असलेला अध्यात्मिक, धार्मिक आणि सांस्कृतिक वारसा, याचेच हे प्रतीक आहे.

मित्रांनो,

आपण सर्वजण जाणून आहात की, श्रीलंकेमध्ये बौद्ध धर्माचा संदेश, सर्वात प्रथम भारतातून सम्राट अशोकाचे पुत्र महेंद्र आणि कन्या संघमित्रा यांनी नेला होता. असे मानतात की, आजच्याच दिवशी ‘अर्हत महिंदा’ यांनी परत येवून आपल्या पित्याला सांगितले होते की, श्रीलंकेने बुद्धांचा संदेश अतिशय उत्साहाने, पूर्ण शक्तीनिशी स्वीकारला आहे, या संदेशाचा अंगिकार केला आहे. या वृत्तामुळे सर्वांचा विश्वास अधिक वाढला होता. बुद्धांचा संदेश हा संपूर्ण विश्वासाठी आहे, बुद्ध हा धम्म मानवतेसाठी आहे, असा दृढ विश्वास निर्माण झाला. म्हणूनच आजचा हा दिवस आपण सर्व देशांच्या युगायुगांपासून असलेल्या प्राचीन सांस्कृतिक संबंधांना नवीन शक्ती देण्याचाही दिवस आहे. मी आपल्या सर्वांना शुभेच्छा देतो ही, आपण आज भगवान बुद्धांच्या महा-परिनिर्वाण स्थानी, त्यांच्या समोर उपस्थित आहोत. मी श्रीलंका आणि इतर सर्व देशांतून आलेल्या आमच्या सन्माननीय अतिथीगणांचे हार्दिक स्वागत करतो. आपले जे अतिपूजनीय महासंघ, आपल्याला आशीर्वाद देण्यासाठी उपस्थित आहेत, त्यांनाही मी आदरपूर्वक नमस्कार करतो. आपण आम्हा सर्वांना भगवान बुद्धांच्या अवशेष स्वरूपाचे -रेलिक्सचे दर्शन देण्याचे भाग्य दिले. इथे कुशीनगरच्या या कार्यक्रमानंतर तुम्ही मी खासदार म्हणून ज्या मतदार संघाचे प्रतिनिधित्व करतो, त्या वाराणसी शहरामध्ये जाणार आहात. आपली पवित्र चरणं, तिथे पडतील, आणि तिथेही सौभाग्याचे आगमन होईल.

मित्रांनो,

मी आज आंतरराष्ट्रीय बौद्ध महासंघाच्या सर्व सदस्यांचेही अभिनंदन करतो. ते ज्यापद्धतीने आधुनिक विश्वामध्ये भगवान बुद्धांच्या संदेशाचा प्रसार करीत आहेत, ते अतिशय वाखाणण्यासारखे आहे. आज या कार्यक्रमाच्या निमित्ताने माझे जुने सहकारी शक्ती सिन्हा यांचीही खूप आठवण येत आहे. आंतरराष्ट्रीय बौद्ध महासंघाचे महासंचालक म्हणून कार्य करीत असलेले शक्ती सिन्हा जी यांचे काही दिवसांपूर्वीच निधन झाले आहे. भगवान बुद्धांविषयी त्यांना असलेली आस्था, त्यांचा समर्पण भाव या सर्व गोष्टी आपल्या सर्वांना प्रेरणादायक आहेत.

मित्रांनो,

आपण सर्वजण जाणून आहातच की, आज आणखी एका दृष्टीने महत्वाचा दिवस आहे. भगवान बुद्धांचे तुषिता येथून आजच्या दिवशीच पन्हा एकदा धरतीवर आगमन झाले होते. म्हणूनच अश्विनी पौर्णिमेला आज  भिक्षुगण आापला तीन महिन्यांचा ‘वर्षावास’ही पूर्ण करतात. आज मलाही वर्षावासानंतर संघ भिक्षुंना ‘चीवर दान’ करण्याचे भाग्य लाभले. भगवान बुद्धांचा हा बोध अद्भूत आहे. त्यांनी अशा परंपरांना जन्म दिला. पावसाळ्याच्या महिन्यात आपला निसर्ग, आपल्या आजूबाजूला असलेले वृक्ष-लता-वेली,रोपे यांना नवीन जीवन मिळत असते. जीवमात्रांविषयी अहिंसेचा संकल्प आणि झाडां-रोपांमध्येही परमात्मा पाहण्याचा भाव, बुद्धांचा हा संदेशच इतका जिवंत आहे की, आजही आपले भिक्षू त्या संदेशानुसार जगत आहेत. जो कोणी साधक नेहमी क्रियाशील असतात, सदैव गतिशील असतात, ते हे पावसाळ्याचे तीन महिने एके ठिकाणी थांबतात. कारण आपल्या पायाखाली नव्याने अंकूर फुटण्याच्या अवस्थेत असलेली बीजे येवू नयेत, चिरडली जावू नयेत. तसेच नव्याने निर्मितीच्या टप्प्यात असलेल्या निसर्गाच्या नियमामध्ये कोणत्याही प्रकारे व्यत्यय येवू नये, असा विचार भिक्षुगण करतात. या वर्षावासामध्ये केवळ बाहेरच निसर्ग प्रस्फुटित होतो, असे नाही, तर आपल्या आतमध्येही वसलेल्या निसर्गाला संशोधन करण्याची संधी मिळत असते.

मित्रांनो,

धम्मंचा निर्देश आहे - यथापि रूचिरं पुप्फं, वण्णवन्तं सुगन्धकं।

एवं सुभासिता वाचा, सफलाहोति कुब्बतो।।

याचा अर्थ असा की, चांगली वाणी आणि चांगले विचार जर तितक्याच निष्ठेने आचरणामध्ये आणले तर त्याचा परिणामही सुगंधित फुलाप्रमाणेच चांगला होतो. कारण आपण आचरण चांगले केले नाही तर मात्र उत्तमातील उत्तम गोष्ट म्हणजे, सुगंध नसलेल्या फुलाप्रमाणे असणार आहे. दुनियेमध्ये जिथे जिथे बुद्धांचे विचार अगदी योग्य पद्धतीने आत्मसात केले गेले आहेत, तिथे तिथे अतिशय कठीण परिस्थितीमध्येही प्रगतीचे मार्ग बनले आहेत. 

म्हणूनच  बुद्ध  वैश्विक आहे, कारण बुद्ध आपल्याला स्वतःपासून सुरुवात करायला सांगतात. भगवान बुद्ध यांचे बुद्धत्व आहे - sense of ultimate responsibility. अर्थात पूर्ण जबाबदारीची भावना. आपल्या आसपास, आपल्या  ब्रह्मांडात जे काही घडत आहे , आपण स्वतःला त्याच्याशी जोडून पाहतो , स्वतः  त्याची जबाबदारी घेतो. जे घडत आहे त्याला  जर आपण आपल्या सकारात्मक प्रयत्नांची जोड दिली तर आपण सृजनाला गती देऊ शकू.  आज जेव्हा जगभरात पर्यावरण संरक्षणाबाबत बोलले जात आहे, हवामान बदलाबाबत चिंता व्यक्त केली जात आहे , तेव्हा त्याबरोबर अनेक प्रश्न देखील उपस्थित केले जातात. मात्र जर आपण बुद्धाचा संदेश अंगिकारला तर ‘कुणी करायचे आहे ' या ऐवजी 'काय करायचे आहे' याचा मार्ग आपोआप दिसायला लागतो.

मित्रांनो ,

हजारो वर्षांपूर्वी  भगवान बुद्ध जेव्हा या धरतीवर होते तेव्हा आजच्यासारख्या व्यवस्था नव्हत्या, मात्र तरीही बुद्ध जगभरातील कोट्यवधी लोकांपर्यंत पोहचले, त्यांच्या अंतर्मनाशी जोडले गेले. मी विविध देशांमध्ये  बौद्ध धर्माशी संबंधित मंदिरे ,  विहारामध्ये याचा प्रत्यक्ष अनुभव घेतला आहे. मी पाहिले आहे की  कैंडी ते  क्योटो पर्यंत , हनोई ते  हंबनटोटा पर्यंत भगवान बुद्ध आपल्या विचारांच्या माध्यमातून मठ, अवशेष आणि  संस्कृतीद्वारे प्रत्येक ठिकाणी आहेत. हे माझे सौभाग्य आहे की मी  कैंडी येथे  श्री डलाडा मैलागोवा इथे  दर्शन घेण्यासाठी गेलो होतो ,  सिंगापुर येथे त्यांचे  दंत-अवशेष मी पाहिले आहेत, आणि क्योटो मध्ये किन्का-कुजीला भेट देण्याची मला संधी मिळाली होती.  त्याचप्रमाणे दक्षिण पूर्व देशांमधील  भिक्षुकांचा आशीर्वाद देखील मला मिळत आला आहे. वेगवेगळे  देश, वेगवेगळी परिसंस्था , मात्र  त्यांच्या आत्म्यात वसलेले बुद्ध सर्वांना जोडत आहेत. भारताने भगवान बुद्ध यांच्या या शिकवणीला आपल्या  विकास यात्रेचा भाग बनवले आहे. त्याचा स्वीकार केला आहे. आम्ही  ज्ञान, महान संदेश, महान आत्म्यांच्या विचारांना सीमित ठेवण्यावर कधीच विश्वास ठेवला नाही. ते सीमित ठेवणे ही आमची विचारधारा नाही , आम्ही जे काही आमचे होते ते मानवतेसाठी ‘ममभावने ’ ने अर्पित केले. म्हणूनच , अहिंसा, दया, करुणा सारखी  मानवीय मूल्य आजही तेवढ्याच सहजतेने भारताच्या  अन्तर्मनात रुजली आहेत. म्हणूनच, बुद्ध आजही  भारताच्या  संविधानाची प्रेरणा आहेत,  बुद्ध यांचे धम्म-चक्र भारताच्या तिरंग्यावर विराजमान होऊन आपल्याला गती देत आहेत. आजही भारताच्या संसदेत कुणी जाते तेव्हा त्यांची नजर या मंत्रावर नक्कीच पडते-  ‘धर्म चक्र प्रवर्तनाय’!

मित्रांनो ,

साधरणपणे ही देखील धारणा असते की बौद्ध धर्माचा प्रभाव, भारतात प्रामुख्याने पूर्वेकडेच जास्त राहिला. मात्र इतिहासाकडे बारकाईने पाहिले तर आपल्याला आढळून येते की  बुद्ध यांनी जेवढे पूर्वेकडील भागांना प्रभावित केले तेवढेच  पश्चिम आणि दक्षिणेवरही त्यांचा प्रभाव आहे. गुजरातमधील वडनगर, जे माझे  जन्मस्थान देखील आहे, ते प्राचीन काळी  बौद्ध धर्माशी संबंधित एक महत्वपूर्ण स्थान होते. आतापर्यन्त आपण  ह्वेन सांग यांच्या उद्धरणांच्या माध्यमातून हा इतिहास जाणून होतो , मात्र आता वडनगर येथे पुरातनकालीन मठ आणि स्तूप देखील उत्खननात मिळाले आहेत.  गुजरातचा हा भूतकाळ याचाही पुरावा आहे की बुद्ध दिशा आणि सीमांच्या पलिकडे होते. गुजरातमध्ये जन्मलेले महात्मा गांधी तर बुद्ध यांच्या सत्य आणि अहिंसा  संदेशांचे आधुनिक संवाहक होते.

मित्रांनो

आज भारत आपला स्वातंत्र्याचा अमृत महोत्सव साजरा करत आहे. या  अमृत महोत्सवात आपण आपल्या भविष्यासाठी, मानवतेच्या भविष्यासाठी  संकल्प करत आहोत. या अमृत संकल्पांच्या केंद्रस्थानी भगवान बुद्ध यांचा तो संदेश आहे जो सांगतो -

अप्पमादो अमतपदं,

पमादो मच्चुनो पदं।

अप्पमत्ता न मीयन्ति,

ये पमत्ता यथा मता।

म्हणजेच प्रमाद टाळणे हेच  अमृत पद आहे आणि  प्रमाद हाच मृत्यू आहे. म्हणूनच  आज भारत नव्या ऊर्जेने पुढे जात आहे , संपूर्ण जगाला बरोबर घेऊन पुढे वाटचाल करत आहे.  भगवान बुद्ध यांनी म्हटले होते -

“अप्प दीपो भव”।

म्हणजे  आपला प्रकाश स्वतः बना. स्वयंप्रकाशित व्यक्ती जगाला प्रकाश देऊ शकते. भारताला आत्मनिर्भर बनवण्यामागे हीच प्रेरणा आहे.  जगातील प्रत्येक देशाच्या विकासात सहभागी होण्यासाठी हीच प्रेरणा आपल्याला  बळ देते. भगवान बुद्धांची हीच शिकवण  भारत सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास आणि सबका प्रयास या मंत्रासह  पुढे नेत आहे. 

मला पूर्ण  विश्वास आहे की  भगवान बुद्ध यांच्या  या विचारांचे अनुसरण करत आपण सर्व एकजुटीने मानवतेच्या कल्याणाचा मार्ग प्रशस्त करू.

याच कामनेसह तुम्हा सर्वांना खूप-खूप  धन्यवाद!

भवतु सब्ब मंगलं।

नमो बुद्धाय॥

 

' मन की बात' बाबतच्या तुमच्या कल्पना आणि सूचना पाठवा!
परीक्षा पे चर्चा 2022' साठी पंतप्रधानांचे सहभागी होण्याचे आवाहन
Explore More
उत्तरप्रदेशात वाराणसी इथे काशी विश्वनाथ धामच्या उद्घाटन प्रसंगी पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी केलेलं भाषण

लोकप्रिय भाषण

उत्तरप्रदेशात वाराणसी इथे काशी विश्वनाथ धामच्या उद्घाटन प्रसंगी पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी केलेलं भाषण
Undoing efforts of past to obliterate many heroes: PM Modi

Media Coverage

Undoing efforts of past to obliterate many heroes: PM Modi
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Our youth has a key role in taking India to new heights in the next 25 years: PM Modi
January 24, 2022
शेअर करा
 
Comments
“Sacrifice of Sahibzadas of Guru Gobind Singh Ji for India's civilization, culture, faith and religion is incomparable”
“Today we feel proud when we see the youth of India excelling in the world of startups. We feel proud when we see that the youth of India are innovating and taking the country forward”
“This is New India, which does not hold back from innovating. Courage and determination are the hallmark of India today”
“Children of India have shown their modern and scientific temperament in the vaccination program and since January 3, in just 20 days, more than 40 million children have taken the corona vaccine”

कार्यक्रम में उपस्थित मंत्रीपरिषद के हमारे साथी स्मृति ईरानी जी, डॉक्टर महेंद्रभाई, सभी अधिकारीगण, सभी अभिभावक एवं शिक्षकगण, और भारत के भविष्य, ऐसे मेरे सभी युवा साथियों!

आप सबसे बातचीत करके बहुत अच्छा लगा। आपसे आपके अनुभवों के बारे में जानने को भी मिला। कला-संस्कृति से लेकर वीरता, शिक्षा से लेकर इनोवेशन, समाजसेवा और खेल, जैसे अनेकविध क्षेत्रों में आपकी असाधारण उपलब्धियों के लिए आपको अवार्ड मिले हैं। और ये अवार्ड एक बहुत बड़ी स्‍पर्धा के बाद आपको मिले हैं। देश के हर कोने से बच्‍चे आगे आए हैं। उसमें से आपका नंबर लगा है। मतलब कि अवार्ड पाने वालों की संख्‍या भले कम है, लेकिन इस प्रकार से होनहार बालकों की संख्‍या हमारे देश में अपरम्‍पार है। आप सबको एक बार फिर इन पुरस्कारों के लिए बहुत बहुत बधाई। आज National Girl Child Day भी है। मैं देश की सभी बेटियों को भी बधाई देता हूं, शुभकामनाएं देता हूं।

साथियों

आपके साथ-साथ मैं आपके माता-पिता और टीचर्स को भी विशेष रूप से बधाई देना चाहता हूँ। आज आप इस मुकाम पर पहुंचे हैं, इसके पीछे उनका भी बहुत बड़ा योगदान है। इसीलिए, आपकी हर सफलता आपके अपनों की भी सफलता है। उसमें आपके अपनों का प्रयास और उनकी भावनाएं शामिल हैं।

मेरे नौजवान साथियों,

आपको आज ये जो अवार्ड मिला है, ये एक और वजह से बहुत खास है। ये वजह है- इन पुरस्कारों का अवसर! देश इस समय अपनी आज़ादी के 75 साल का पर्व मना रहा है। आपको ये अवार्ड इस महत्वपूर्ण कालखंड में मिला है। आप जीवन भर, गर्व से कहेंगे कि जब मेरा देश आज़ादी का अमृत महोत्सव मना रहा था, तब मुझे ये अवार्ड मिला था। इस अवार्ड के साथ आपको बहुत बड़ी ज़िम्मेदारी भी मिली है। अब दोस्तों की, परिवार की, समाज की, हर किसी की आपसे अपेक्षाएँ भी बढ़ गई हैं। इन अपेक्षाओं का आपको दबाव नहीं लेना है, इनसे प्रेरणा लेनी है।

युवा साथियों, हमारे देश के छोटे छोटे बच्चों ने, बेटे-बेटियों ने हर युग में इतिहास लिखा है। हमारी आज़ादी की लड़ाई में वीरबाला कनकलता बरुआ, खुदीराम बोस, रानी गाइडिनिल्यू जैसे वीरों का ऐसा इतिहास है जो हमें गर्व से भर देता है। इन सेनानियों ने छोटी सी उम्र में ही देश की आज़ादी को अपने जीवन का मिशन बना लिया था, उसके लिए खुद को समर्पित कर दिया था।

आपने टीवी देखा होगा, मैं पिछले साल दीवाली पर जम्मू-कश्मीर के नौशेरा सेक्टर में गया था। वहां मेरी मुलाकात श्रीमान बलदेव सिंह और श्रीमान बसंत सिंह नाम के ऐसे वीरों से हुई जिन्होंने आज़ादी के तुरंत बाद जो युद्ध हुआ था कश्‍मीर की धरती पर, अभी तो इनकी उम्र बहुत बड़ी है, तब वो बहुत छोटी उम्र के थे और उन्‍होंने उस युद्ध में बाल सैनिक की भूमिका निभाई थी। और हमारी सेना में पहली बार बाल-सैनिक के रूप में उनकी पहचान की गई थी। उन्होंने अपने जीवन की परवाह न करते हुए उतनी कम उम्र में अपनी सेना की मदद की थी।

इसी तरह, हमारे भारत का एक और उदाहरण है- गुरु गोविन्द सिंह जी के बेटों का शौर्य और बलिदान! साहिबज़ादों ने जब असीम वीरता के साथ, धैर्य के साथ, साहस के साथ पूर्ण समर्पण भाव से बलिदान दिया था तब उनकी उम्र बहुत कम थी। भारत की सभ्यता, संस्कृति, आस्था और धर्म के लिए उनका बलिदान अतुलनीय है। साहिबज़ादों के बलिदान की स्मृति में देश ने 26 दिसम्बर को 'वीर बाल दिवस' की भी शुरुआत की है। मैं चाहूँगा कि आप सब, और देश के सभी युवा वीर साहिबज़ादों के बारे में जरूर पढ़ें।

आपने ये भी जरूर देखा होगा, कल दिल्ली में इंडिया गेट के पास नेताजी सुभाषचंद्र बोस की डिजिटल प्रतिमा भी स्थापित की गई है। नेताजी से हमें सबसे बड़ी प्रेरणा मिलती है- कर्तव्य की, राष्ट्रप्रथम की! नेताजी से प्रेरणा लेकर हम सबको, और युवा पीढ़ी को विशेष रूप से देश के लिए अपने कर्तव्यपथ पर आगे बढ़ना है।

साथियों,

हमारी आजादी के 75 साल इसलिए महत्वपूर्ण हैं क्योंकि आज हमारे सामने अपने अतीत पर गर्व करने का, उससे ऊर्जा लेने का समय है। ये समय वर्तमान के संकल्पों को पूरा करने का है। ये समय भविष्य के लिए नए सपने देखने का है, नए लक्ष्य निर्धारित करके उन पर बढ़ने का है। ये लक्ष्य अगले 25 सालों के लिए हैं, जब देश अपनी आज़ादी के सौ साल पूरे करेगा।

अब आप कल्‍पना कीजिए, आज आप में से ज्‍यादातर लोग 10 और 20 के बीच की उम्र के हैं। जब आजादी के सौ साल होंगे तब आप जीवन के उस पड़ाव पर होंगे, तब ये देश कितना भव्‍य, दिव्‍य, प्रगतिशील, ऊंचाइयों पर पहुंचा हुआ, आपका जीवन कितना सुख-शांति से भरा हुआ होगा। यानी, ये लक्ष्य हमारे युवाओं के लिए हैं, आपकी पीढ़ी और आपके लिए हैं। अगले 25 सालों में देश जिस ऊंचाई पर होगा, देश का जो सामर्थ्य बढ़ेगा, उसमें बहुत बड़ी भूमिका हमारी युवा पीढ़ी की है।

साथियों,

हमारे पूर्वजों ने जो बोया, उन्‍होंने जो तप किया, त्‍याग किया, उसके फल हम सबको नसीब हुए हैं। लेकिन आप वो लोग हैं, आप एक ऐसे कालखंड में पहुंचे हैं, देश आज उस जगह पर पहुंचा हुआ है कि आप जो बोऐंगे उसके फल आपको खाने को मिलेंगे, इतना जल्‍दी से बदलाव होने वाला है। इसीलिए, आप देखते होंगे, आज देश में जो नीतियाँ बन रही हैं, जो प्रयास हो रहे हैं, उन सबके केंद्र में हमारी युवा पीढ़ी है, आप लोग हैं।

आप किसी सेक्टर को सामने रखिए, आज देश के सामने स्टार्टअप इंडिया जैसे मिशन हैं, स्टैंडअप इंडिया जैसे प्रोग्राम चल रहे हैं, डिजिटल इंडिया का इतना बड़ा अभियान हमारे सामने है, मेक इन इंडिया को गति दी जा रही है, आत्मनिर्भर भारत का जनआंदोलन देश ने शुरू किया है, देश के हर कोने में तेजी से आधुनिक इनफ्रास्ट्रक्चर विस्तार ले रहा है, हाइवेज़ बन रहे हैं, हाइस्पीड एक्सप्रेसवेज़ बन रहे हैं, ये प्रगति, ये गति किसकी स्पीड से मैच करती है? आप लोग ही हैं जो इन सब बदलावों से खुद को जोड़कर देखते हैं, इन सबके लिए इतना excited रहते हैं। आपकी ही जेनेरेशन, भारत ही नहीं, बल्कि भारत के बाहर भी इस नए दौर को लीड कर रही है।

आज हमें गर्व होता है जब देखते हैं कि दुनिया की तमाम बड़ी कंपनियों के CEO, हर कोई उसकी चर्चा कर रहा है, ये CEO कौन हैं, हमारे ही देश की संतान हैं। इसी देश की युवा पीढ़ी है जो आज विश्‍व में छाई हुई है। आज हमें गर्व होता है जब देखते हैं कि भारत के युवा स्टार्ट अप की दुनिया में अपना परचम फहरा रहे हैं। आज हमें गर्व होता है, जब हम देखते हैं कि भारत के युवा नए-नए इनोवेशन कर रहे हैं, देश को आगे बढ़ा रहे हैं। अब से कुछ समय बाद, भारत अपने दमखम पर, पहली बार अंतरिक्ष में भारतीयों को भेजने वाला है। इस गगनयान मिशन का दारोमदार भी हमारे युवाओं के पर ही है। जो युवा इस मिशन के लिए चुने गए हैं, वो इस समय कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

साथियों,

आज आपको मिले ये अवार्ड भी हमारी युवा पीढ़ी के साहस और वीरता को भी celebrate करते हैं। ये साहस और वीरता ही आज नए भारत की पहचान है। कोरोना के खिलाफ देश की लड़ाई हमने देखी है, हमारे वैज्ञानिकों ने, हमारे वैक्सीन Manufacturers ने दुनिया में लीड लेते हुये देश को वैक्सीन्स दीं। हमारे हेल्थकेयर वर्कर्स ने मुश्किल से मुश्किल समय में भी बिना डरे, बिना रुके देशवासियों की सेवा की, हमारी नर्सेस गाँव गाँव, मुश्किल से मुश्किल जगहों पर जाकर लोगों को वैक्सीन लगा रही हैं, ये एक देश के रूप में साहस और हिम्मत की बड़ी मिसाल है।

इसी तरह, सीमाओं पर डटे हमारे सैनिकों की वीरता को देखिए। देश की रक्षा के लिए उनकी जांबाजी हमारी पहचान बन गई है। हमारे खिलाड़ी भी आज वो मुकाम हासिल कर रहे हैं, जो भारत के लिए कभी संभव नहीं माने जाते थे। इसी तरह, जिन क्षेत्रों में बेटियों को पहले इजाजत भी नहीं होती थी, बेटियाँ आज उनमें कमाल कर रही हैं। यही तो वो नया भारत है, जो नया करने से पीछे नहीं रहता, हिम्मत और हौसला आज भारत की पहचान है।

साथियों,

आज भारत, अपनी वर्तमान और आने वाली पीढ़ियों के भविष्य को मजबूत करने के लिए निरंतर कदम उठा रहा है। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में स्थानीय भाषा में पढ़ाई पर जोर दिया जा रहा है। इससे आपको पढ़ने में, सीखने में और आसानी होगी। आप अपनी पसंद के विषय पढ़ पाएं, इसके लिए भी शिक्षा नीति में विशेष प्रावधान किए गए हैं। देश भर के हजारों स्कूलों में बन रही अटल टिंकरिंग लैब्स, पढ़ाई के शुरुआती दिनों से ही बच्चों में इनोवेशन का सामर्थ्य बढ़ा रही हैं।

साथियों,

भारत के बच्चों ने, युवा पीढ़ी ने हमेशा साबित किया है कि वो 21वीं सदी में भारत को नई ऊंचाई पर ले जाने के लिए कितने सामर्थ्य से भरे हुए हैं। मुझे याद है, चंद्रयान के समय, मैंने देशभर के बच्चों को बुलाया था। उनका उत्साह, उनका जोश मैं कभी भूल नहीं सकता। भारत के बच्चों ने, अभी वैक्सीनेशन प्रोग्राम में भी अपनी आधुनिक और वैज्ञानिक सोच का परिचय दिया है। 3 जनवरी के बाद से सिर्फ 20 दिनों में ही चार करोड़ से ज्यादा बच्चों ने कोरोना वैक्सीन लगवाई है। ये दिखाता है कि हमारे देश के बच्चे कितने जागरूक हैं, उन्हें अपनी जिम्मेदारियों का कितना एहसास है।

साथियों,

स्वच्छ भारत अभियान की सफलता का बहुत बड़ा श्रेय भी मैं भारत के बच्चों को देता हूं। आप लोगों ने घर-घर में बाल सैनिक बनकर, स्‍वच्‍छाग्रही बनकर अपने परिवार को स्वच्छता अभियान के लिए प्रेरित किया। घर के लोग, स्वच्छता रखें, घर के भीतर और बाहर गंदगी ना हो, इसका बीड़ा बच्चों ने खुद उठा लिया था। आज मैं देश के बच्चों से एक और बात के लिए सहयोग मांग रहा हूं। और बच्‍चे मेरा साथ देंगे तो हर परिवार में परिवर्तन आएगा। और मुझे विश्‍वास है ये मेरे नन्‍हें-मुन्‍हें साथी, यही मेरी बाल सेना मुझे इस काम में बहुत मदद करेगी।

जैसे आप स्वच्छता अभियान के लिए आगे आए, वैसे ही आप वोकल फॉर लोकल अभियान के लिए भी आगे आइए। आप घर में बैठ करके, सब भाई-बहन बैठ करके एक लिस्‍ट बनाइए, गिनती करिए, कागज ले करके देखिए, सुबह से रात देर तक आप जो चीजों का उपयोग करते हैं, घर में जो सामान है, ऐसे कितने Products हैं, जो भारत में नहीं बने हैं, विदेशी हैं। इसके बाद घर के लोगों से आग्रह करें कि भविष्य में जब वैसा ही कोई Product खरीदा जाए तो वो भारत में बना हो। उसमें भारत की मिट्टी की सुगंध हो, जिसमें भारत के युवाओं के पसीने की सुगंध हो। जब आप भारत में बनी चीजें खरीदेंगे तो क्‍या होने वाला है। एकदम से हमारा उत्‍पादन बढ़ने लग जाएगा। हर चीज में उत्पादन बढ़ेगा। और जब उत्पादन बढ़ेगा, तो रोजगार के भी नए अवसर बनेंगे। जब रोजगार बढ़ेंगे तो आपका जीवन भी आत्मनिर्भर बनेगा। इसलिए आत्मनिर्भर भारत का अभियान, हमारी युवा पीढ़ी, आप सभी से भी जुड़ा हुआ है।

साथियों,

आज से दो दिन बाद देश अपना गणतन्त्र दिवस भी मनाएगा। हमें गणतन्त्र दिवस पर अपने देश के लिए कुछ नए संकल्प लेने हैं। हमारे ये संकल्प समाज के लिए, देश के लिए, और पूरे विश्व के भविष्य के लिए हो सकते हैं। जैसे कि पर्यावरण का उदाहरण हमारे सामने है। भारत पर्यावरण की दिशा में आज इतना कुछ कर रहा है, और इसका लाभ पूरे विश्व को मिलेगा।

मैं चाहूँगा कि आप उन संकल्पों के बारे में सोचें जो भारत की पहचान से जुड़े हों, जो भारत को आधुनिक और विकसित बनाने में मदद करें। मुझे पूरा भरोसा है, आपके सपने देश के संकल्पों से जुड़ेंगे, और आप आने वाले समय में देश के लिए अनगिनत कीर्तिमान स्थापित करेंगे।

इसी विश्वास के साथ आप सभी को एक बार फिर बहुत बहुत बधाई,

सभी मेरे बाल मित्रों को बहुत-बहुत प्‍यार, बहुत-बहुत बधाई, बहुत बहुत धन्यवाद !