शेअर करा
 
Comments
PM Modi launches #Saubhagya, an initiative aimed at providing power to all homes
#Saubhagya Yojana will provide power connections to all the estimated 4 crore households which currently did not have a power connection
Coal shortages have become a thing of the past, and capacity addition in power generation has exceeded targets: PM
PM outlines his vision of an increase in renewable power installed capacity, towards the target of 175 GW by 2022
UDAY scheme has brought down losses of power distribution companies: PM Modi
New India requires an energy framework that works on the principle of equity, efficiency and sustainability: PM Modi
Change in work culture in the Union Government is strengthening the energy sector: PM Modi

पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी आज नवी दिल्ली येथे “प्रधानमंत्री सहज बिजली घर” अर्थात सौभाग्य योजनेचा शुभारंभ केला. सर्व घरांमध्ये वीज पोहोचवणे हे या योजनेचे लक्ष्य आहे.



पंडित दीनदयाळ उपाध्याय यांच्या जयंतीदिनी “दिनदयाळ ऊर्जा भवन” या ओएनजीसीच्या नवीन इमारतीचे लोकार्पणही पंतप्रधानांच्या हस्ते झाले.

“वसई वायू क्षेत्रातील बूस्टर कॉम्प्रेसर सुविधा ही पंतप्रधानांनी राष्ट्राला अर्पण केली.

गरीबातल्या गरीब व्यक्तीच्या कल्याणासाठी केंद्र सरकार ज्या पध्दतीने योजनांची अंमलबजावणी करत आहे ते अधोरेखित करण्यासाठी पंतप्रधानांनी “जन धन योजना, विविध विमा योजना, मुद्रा योजना उज्वला योजना आणि “उड्डाण” या योजनांच्या यशस्वीतेचा दाखला दिला.



याच संदर्भात बोलतांना पंतप्रधानांनी “प्रधानमंत्री सहज बिजली घर योजनेचा या योजनेंतर्गंत सध्या वीज जोडणी नसणाऱ्या अंदाजे 4 कोटी वीज जोडणी दिली जाईल. या योजनेचा खर्च 16 हजार कोटी रुपयांहून अधिक असून, या वीज जोडण्या मोफत दिल्या जातील, असेही पंतप्रधानांनी सांगितले.

एक हजार दिवसात वीज नसलेल्या 18 हजार गावांचे विद्युतीकरण करण्याचे लक्ष्य कसे ठेवले होते, हे पंतप्रधानांनी यावेळी झालेल्‍या सादरीकरणाच्या वेळी स्पष्ट केले. आता 3 हजार गावांचे विद्युतीकरण शिल्लक असल्याचे ते म्हणाले.

 

कोळशाची कमतरता ही आता भूतकाळतली गोष्ट झाली असून, ऊर्जा निर्मितीतील अतिरिक्त क्षमतेचे लक्ष्य पार केले असल्याचे त्यांनी सांगितले. 2022 पर्यंत नवीकरणीय ऊर्जेसाठीचे 175 गीगावॅट लक्ष्य साध्य करतांना नवीकरणीय ऊर्जेच्या स्थापित क्षमतेत झालेल्या वाढीबद्दलही पंतप्रधानांनी सांगितले. नवीकरणीय ऊर्जेच्या दरात लक्षणीयरित्या घट झाल्याचे ते म्हणाले. पारेषण वाहिन्यांमध्येही मोठी वाढ झाल्याचे त्यांनी सांगितले.

“उदय” योजनेमुळे ऊर्जा वितरण कंपन्यांचा तोटा कसा कमी झाला आहे, याचा उल्लेखही पंतप्रधानांनी केला. ही योजना सहकार आणि स्पर्धात्मक संघराज्याचे उदाहरण असल्याचे त्यांनी सांगितले.

“उज्वला” योजनेच्या अर्थकारणातील प्रभावाबद्दल बोलतांना, एलईडी बल्बच्या किंमती मोठया प्रमाणात कमी झाल्याचेही ते म्हणाले.

नवीन भारतात समानता, कार्यक्षमता आणि शाश्वती या मूलभूत तत्वांवर कार्य करणारी ऊर्जा चौकट आवश्यक आहे, असे पंतप्रधान म्हणाले. केंद्र सरकारच्या कार्य पध्दतीतील बदलामुळे ऊर्जा क्षेत्र मजबूत होत आहे. यामुळे सर्व देशातील कार्य पध्दतीवर सकारात्मक बदल होईल असे त्यांनी सांगितले.

 

Click here to read the full text speech

Explore More
76 व्या स्वातंत्र्य दिनानिमित्त पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी लाल किल्यावरुन देशवासियांना केलेले संबोधन

लोकप्रिय भाषण

76 व्या स्वातंत्र्य दिनानिमित्त पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी लाल किल्यावरुन देशवासियांना केलेले संबोधन
'India undeniably global powerhouse': South Korea on G20 International meet

Media Coverage

'India undeniably global powerhouse': South Korea on G20 International meet
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's remarks ahead of Budget Session of Parliament
January 31, 2023
शेअर करा
 
Comments
BJP-led NDA government has always focused on only one objective of 'India First, Citizen First': PM Modi
Moment of pride for the entire country that the Budget Session would start with the address of President Murmu, who belongs to tribal community: PM Modi

नमस्‍कार साथियों।

2023 का वर्ष आज बजट सत्र का प्रारंभ हो रहा है और प्रारंभ में ही अर्थ जगत के जिनकी आवाज को मान्‍यता होती है वैसी आवाज चारों तरफ से सकारात्‍मक संदेश लेकर के आ रही है, आशा की किरण लेकर के आ रही है, उमंग का आगाज लेकर के आ रही है। आज एक महत्‍वपूर्ण अवसर है। भारत के वर्तमान राष्‍ट्रपति जी की आज पहली ही संयुक्‍त सदन को वो संबोधित करने जा रही है। राष्‍ट्रपति जी का भाषण भारत के संविधान का गौरव है, भारत की संसदीय प्रणाली का गौरव है और विशेष रूप से आज नारी सम्‍मान का भी अवसर है और दूर-सुदूर जंगलों में जीवन बसर करने वाले हमारे देश के महान आदिवासी परंपरा के सम्‍मान का भी अवसर है। न सिर्फ सांसदों को लेकिन आज पूरे देश के लिए गौरव का पल है की भारत के वर्तमान राष्‍ट्रपति जी का आज पहला उदृबोधन हो रहा है। और हमारे संसदीय कार्य में छह सात दशक से जो परंपराऐं विकसित हुई है उन परंपराओं में देखा गया है कि अगर कोई भी नया सांसद जो पहली बार सदन में बोलने के लिए में खड़ा होता है तो किसी भी दल का क्‍यों न हो जो वो पहली बार बोलता है तो पूरा सदन उनको सम्‍मानित करता है, उनका आत्‍मविश्‍वास बढ़े उस प्रकार से एक सहानूकूल वातावरण तैयार करता है। एक उज्‍जवल और उत्‍तम परंपरा है। आज राष्‍ट्रपति जी का उदृबोधन भी पहला उदृबोधन है सभी सांसदों की तरफ से उमंग, उत्‍साह और ऊर्जा से भरा हुआ आज का ये पल हो ये हम सबका दायित्‍व है। मुझे विश्‍वास है हम सभी सांसद इस कसौटी पर खरे उतरेंगे। हमारे देश की वित्त मंत्री भी महिला है वे कल और एक बजट लेकर के देश के सामने आ रही है। आज की वैश्‍विक परिस्‍थिति में भारत के बजट की तरफ न सिर्फ भारत का लेकिन पूरे विश्‍व का ध्‍यान है। डामाडोल विश्‍व की आर्थिक परिस्‍थिति में भारत का बजट भारत के सामान्‍य मानवी की आशा-आकाक्षों को तो पूरा करने का प्रयास करेगा ही लेकिन विश्‍व जो आशा की किरण देख रहा है उसे वो और अधिक प्रकाशमान नजर आए। मुझे पूरा भरोसा है निर्मला जी इन अपेक्षाओं को पूर्ण करने के लिए भरपूर प्रयास करेगी। भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्‍व में एनडीए सरकार उसका एक ही मकसद रहा है, एक ही मोटो रहा है, एक ही लक्ष्‍य रहा है और हमारी कार्य संस्‍कृति के केंद्र बिंदु में भी एक ही विचार रहा है ‘India First Citizen First’ सबसे पहले देश, सबसे पहले देशवासी। उसी भावना को आगे बढाते हुए ये बजट सत्र में भी तकरार भी रहेगी लेकिन तकरीर भी तो होनी चाहिए और मुझे विश्‍वास है कि हमारे विपक्ष के सभी साथी बड़ी तैयारी के साथ बहुत बारीकी से अध्‍ययन करके सदन में अपनी बात रखेंगे। सदन देश के नीति-निर्धारण में बहुत ही अच्‍छी तरह से चर्चा करके अमृत निकालेगा जो देश का काम आएगा। मैं फिर एक बार आप सबका स्‍वागत करता हूं।

बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं। धन्‍यवाद।