বনাস কম্ম্যুনিতী রেদিও স্তেসন শঙ্গাখ্রে
লুপা করোর ৬০০ হেনবগী শেনফম চংদুনা বনাসকান্থা জিলাগী দিয়োদরদা অনৌবা দাইরী কমপ্লেক্স অমসুং পোতেতো প্রোসেসিং প্লান্ত শাখি
পালনপুরদা লৈবা বনাস দাইরী প্লান্তদা চীজকী পোত্থোক অমসুং ৱে পাউদর পুথোক্নবগীদমক ফেসিলিতীশিং পাকথোক-চাউথোকহনখ্রে
গুজরাতকী দমাদা ওর্গানিক মেন্যুর অমসুং বাইওগ্যাস প্লান্ত লিংখৎখ্রে
খিমানা, রতনপুর – ভীলদি, রাধনপুর অমসুং থাৱরদা লিংখৎকদবা তন কেপাসিতী ১০০গী গোবর গ্যাস প্লান্ত মরিগী উরেপ-উয়ুং তমখ্রে
“হৌখিবা চহি কয়ামরুম অসিদা বনাস দাইরীনা লমদম অসিগী ফুরুপশিংবু মরু ওইনা লৌমীশিং অমসুং নুপীশিংবু শক্তি পীনবা হব অমা ওইদুনা লাকখি”
“বনাসকান্থানা লৌউ-শিংউদা খুমাং চাউশিল্লিবা মওং-মতৌ অসি শীংথানীংঙাই ওই। লৌমীশিংনা অনৌবা তেক্নোলোজীশিং শীজিন্নরি, ঈশিং য়োকশিনবদা মীৎয়েং থম্লি অমসুং মসিগী ফলশিং ময়েক শেংনা উবা ফংলি”
“বিদ্যা সমীক্ষা কেন্দ্র অসি গুজরাতকী স্কুল ৫৪০০০, ওজা লাখ ৪.৫ অমসুং মহৈরোয় করোর ১.৫গী পাঙ্গলনা শেম্বা অচৌবা হব অমা ওইরি”
“ঐহাক্না নখোয়না লৈরিবা লমশিংদা খোঙলোয় অমগুম্না নখোয়গীদমক লেপকনি”

খুরুমজরি!

ময়াম্না য়াম্না হরাওবীরি। ঐহাক্না অহৌবা অসিদি হিন্দীদা খরা ঙাংজবা তারি মসিগীদমক হৌজিক ঐহাকপু ঙাকপীয়ু হায়জরি। মরমদি মেদিয়াগী ইচিল-ইনাওশিংনা হিন্দী ঙাংবনা হেন্না ফগনি হায়না হায়বীরকই, অদুনা পুম্নমক ঙাংদ্রবসু মখোয়না হায়রকপা অদু তারগা ৱাহৈ খরদি ঙাংজরগে।

গুজরাতকী মমিং লৈরবা মুখ্য মন্ত্রী, শ্রী ভুপেন্দ্রভাই পতেল, পার্লিয়ামেন্তদা ঐহাক্কী মরুপ, শ্রী সি.আর. পতিল, গুজরাত প্রদেশ ভারতিয় জনতা পার্তীগী প্রসিদেন্ত, শ্রী জগদিশ পঞ্চল, গুজরাত সরকারগী মন্ত্রী, লমদম অসিগী মচা, শ্রী কির্তিসিংহ বাঘেলা, শ্রী গজেন্দ্র সিংহ পরমার, পার্লিয়ামেন্তগী মেম্বর, শ্রী পরবত ভাই, শ্রী ভরত সিংহ দাভী, দিনেস ভাই অনাবাদিয়া, বনাস দাইরীগী চিয়রমেন ঐহাক্কী ইনাও শঙ্কর চৌধরী, অতোপ্পা মশক নাইবা মীওইশিং, ইচিল-ইনাওশিং!

ঐহাক্না ইমা নরেশ্বরী অমসুং ইমা অম্বাজীগী শেংলবা লমদম অসিবু ইকাই খুম্নবা উৎচরি। ঐহাক্না ময়াম্বসু খুরুমজরি! ইমা-ইবেল অমসুং ইচে-ইচল লাক অমা মখাইনা পুন্না লাক্তুনা ঙসি মফম অসিদা ঐহাকপু থৌজানবীবগী অসিগুম্বা খুদোংচাবা ফংজবা ঐহাক্কী পুন্সিদা অহানবা ওইরি। অমসুং নখোয়না ওবরন (বলেয়া) তৌবা মতমদা ঐহাক্না পুক্নীং নীংশিরকখি। নখোয়গী থৌজালশিং, ইমা জগদমবাগী লমদমগী ইমাংশিংনা ঐঙোন্দা থৌজাল পীনবীবা অসি মমল য়াম্লবা থৌজাল অমনি। ঐহাক্না বনাসকী ইমা-ইবেল অমসুং ইচিল-ইনাও পুম্নমকপু ইকাই খুম্নবা উৎচরি।

ইচিল-ইনাওশিং,

হৌখিবা পুং অমা অনি অসিদা ঐহাক্না মফম অসিগী তোঙান-তোঙানবা মফমশিংদা চৎপা ফংজখি। ঐহাক্না দাইরী সেক্তরগা মরী লৈনবা সরকারগী স্কিমশিংগী এনিমেল হসবেন্দীগী বেনিফিসরী ইচে-ইচলশিংগা লোয়ননা কুপ্না ৱারী শাবা ফংজখি। ঐহাক্না নৌনা শাখিবা কমপ্লেক্স, পোতেতো প্রোসেসিং প্লান্তদা চৎপগী খুদোংচাবা ফংজখি। ঐহাক্না উরিবা, মফম অসিদা খন্ন-নৈনখিবা, ঐঙোন্দা পীবিরকখিবা ই-পাউ অদুদা ঐহাক্না য়াম্না অপেনবা পোকখি অমসুং দাইরী অসিগী মরুপ পুম্নমক্ত অমসুং নখোয় পুম্নমক্তা ঐহাক্না থমোয় শেংনা থাগৎপা ফোঙদোকচরি।

ভারতকী খুঙ্গংগী শেন্মীৎলোনবু, ইমা-ইবেল অমসুং ইচে-ইচলশিংবু শক্তি পীবদা করম্না মপাঙ্গল কনখৎহনগনি, কো-ওপরেতিব মুফমেন্ত হায়বদি সরকারনা করম্না আত্মনির্ভর ভারত অভিয়ান অসিবু মপাঙ্গল কনখৎহনগনি হায়বা পুম্নমক অসি মফম অসিদা হকথেংননা এক্সপরিয়েন্স তৌবা ফংগনি। থা খরগী মমাংদা ঐহাক্কী কেন্দ্র বারানসীদা ঐহাক্না বনাস কাশী সঙ্কুলগী উরেপ-উয়ুং তম্বগী খুদোংচাবা ফংজখি।

ঐহাক্না বনাস দাইরীবু থমোয় শেংনা তৌবীমল খঙবা উৎচরি, ঐহাক্কী লমদম কাশীদা লাক্লবা মতুংদসু মফম অদুগী লৌমীশিং, শা-শন লোইরিবা মীওইশিংগী শেবা তৌখি, গুজরাতকী বনাস দাইরীনা ফিরেপ চেৎনা লেপখি অমসুং মসি হৌজিক ওইথোকপা ঙমলক্লি। মসিগীদমক ঐহাক্না কাশীগী এম.পি. অমা ওইনা বনাস দাইরীবু থাগৎপা ফোঙদোকচরি। মফম অসিদা বনাস দাইরী সঙ্কুল হৌদোকপগী থৌরমদা শরুক য়াবা ফংজবা অসিদা ঙসি ঐহাক্কী নুংঙাইবা অসি শরুক কয়া হেনগৎখি।

ইচিল-ইনাওশিং,

মফম অসিদা ঙসি শঙ্গারিবা অমসুং উরেপ-উয়ুং তম্লিবশিং অসিনা ঐখোয়গী চৎনবীগী মপাঙ্গল অদুগা লোয়ননা তুংলমচৎ শেমগৎপগী অফবা খুদমশিং ওইরি। বনাস দাইরী কমপ্লেক্স, চীজ অমসুং ৱে প্লান্ত, পুম্নমক অসি দাইরী সেক্তর পাকথোক-চাউথোকহনবদা মরু ওই, বনাস দাইরীনা মফম অসিগী লৌমীশিংগী শেন্থোক হেনগৎহনবদা অতোপ্পা রিসোর্সশিং শীজিন্নবা য়াই হায়নসু উৎখি।

অলু অমসুং শঙ্গোগা করি মরী লৈনবগে, অনি অসিগী ওইবা অপুনবা করি লৈবগে? ঐঙোন্দা হায়বীয়ু। অদুবু বনাস দাইরীনা মসিসু হাপচিনখি। শঙ্গোম, বত্তরমিল্ক, শঙ্গোম অফম্বা, শঙ্গোম-সনা, আইস ক্রীমগা লোয়ননা অলু-তিক্কী, অলু বেজ, ফ্রেঞ্চ ফ্রাইজ, হেশ ব্রাউন, বর্গর পেতীজ অসিগুম্বা প্রদক্তশিং অসিবু বনাস তাইরীনা লৌমীশিংগী শক্তি ওইহনখি। মসি ভারতপু ভোকেল ফোর লোকেল ওইহন্নবা মাইকৈদা চংশিনবা অফবা খোঙথাং অমনি।

মরুপশিং,

ঙসি বনাসকান্থাদা ঐখোয়না নোং লীক্না তাবা বসানকান্থ অসিগুম্বা জিলা অমদা কানকরেজ শন, মেহসানী ইরোই অমসুং অলুনা লৌমীশিংগী লাইক্তা অহোংবা পুরকপা ঙম্মি হায়বা উবা ফংলে। বনাস দাইরীনা লৌমীশিংদা খ্বাইদগী অফবা অলু চারশিংসু পীরি অমসুং অলুশিং অফবা মমলসু পীরি। মসিনা অলু থাবা লৌমীশিংদা লুপা করোর কয়া তানবা য়ানবা অনৌবা লম অমা পীরি। অমসুং মসি শুপ্নগী অলু খক্তদা লোইশিন্দ্রি। ঐহাক্না স্বীৎ রিভোল্যুসনগী মতাংদা তোইনা হায়জৈ, লৌমীশিংবু খোহী পুথোকহন্দুনা অহেনবা শেল তান্নবা হায়খি, মসি বনাস দাইরীদা য়াম্না নীংথিনা পাঙথোক্লি। ঐহাক্না বনাসকান্থাগী অতোপ্পা মপাঙ্গল অমগী মরমদসু খঙই – লৈবাকহৱাই অমসুং হঙ্গাম থাও অসিনি, দাইরী অসিনা অচৌবা থৌরাং অমা পাইখৎলি। চানবা থাওদা আত্মনির্ভর ওইনবা সরকারগী কেম্পেন অসিদা শাহৌ পীনবা নখোয়গী ওর্গনাইজেসন্না ওইল প্লান্তশিং লিংখৎহল্লি। মসি থাও শুনবা মরুশিং থারিবা লৌমীশিংগী ওইনা অচৌবা থৌরাং অমনি।  

ইচিল ইনাওশিংম

ঙসি মফম অসিদা বাইও-সি.এন.জি প্লান্ত শঙ্গারি অমসুং গোবর গ্যাস প্লান্ত ৪গী উরেপ-উয়ুংসু তমখি। অসিগুম্বা প্লান্ত কয়ামরু বনাস দাইতীনা লৈবাক শিনবা থুংবদা লিংখৎনবা হোৎনরি। মসি অমোৎপদগী লন ওলহন্নবা সরকারগী অভিয়ান্দা মতেং ওইরগনি। গোবরধনগী খুত্থাংদা অমুক্তদা পান্দম কয়া ফংবা ঙমলি। অহানবদা, মসিনা খুঙ্গংশিং লুনান্না থম্বদা মপাঙ্গল হাপ্লি, অনিশুবদা, মসিনা শা-শন লোইবা লৌমীশিংদা শনথীদগী শেল লাকহল্লি। অহুমশুবদা, শনথীদগী বায়ো-CNG অমসুং মৈ অসিগুম্বা প্রদক্তশিং পুথোক্লি। মরিশুবদা, অপুনবা থৌওং অসিদগী ফংলিবা ওর্গানিক মেন্যুর অসিনা লৌমীশিংদা চাউনা মতেং পাংলি। অসিগুম্বা খোঙথাংশিং অসি বনাস দাইরীগী খুত্থাংদা লৈবাক পুম্বদা য়ৌরবা মতমদা ঐখোয়গী খুঙ্গংগী শেন্মীৎলোন অসি মপাঙ্গল কনখৎলক্কনি, খুঙ্গংশিংনা মপাঙ্গল কল্লক্কনি, ঐখোয়গী ইচে-ইচলশিংদা শক্তি পীবা ঙমগনি।

মরুপশিং,

ঙসি গুজরাতনা মাইপাকপগী য়ৌরিবা থাক অসিনা, চাউখৎপগী য়ৌরিবা থাক অসিনা গুজরাত্তি পুম্নমক্তা চাউথোকচবা পোকহল্লি। মসি ঙরাং ঐহাক্না গান্ধীনগরগী বিদ্যা সমীক্ষা কেন্দ্রদা খঙবা ঙমখি। গুজরাতকী অঙাংশিংগী তুংলমচৎ, ঐখোয়গী তুংগী মীরোলশিংগী তুংলমচৎ শেম্নবগীদমক বিদ্যা সমীক্ষা কেন্দ্রনা শক্তি অমা ওইরি। ঐখোয়গী সরকারগী প্রাইমরী স্কুলনা মসিগীদমক অসুক চাউখ্রবা তেক্নোলোজী শীজিন্নবা অসি মালেমগী ওইনা অঙকপা ঙমনি।

মমাংদা সেক্তর অসিদা ঐহাক্না থৌজখ্রবদু ঙরাং গুজরাত সরকারনা বর্তন তৌরকপদগী ঐহাক্না অখন্ননা গান্ধীনগরদা চৎখি। বিদ্যা সমীক্ষা কেন্দ্রদা তৌরিবা থবক্কী মওং, মসিদা তেক্নোলোজী নীংথিনা শীজিন্নবা অসি উবদা ঐহাক্না য়াম্না নুংঙাইবা ফাওখি। বিদ্যা সমীক্ষা কেন্দ্রনা ঐখোয়গী মমিং লৈরবা মুখ্য মন্ত্রূ শ্রী ভুপেন্দ্র ভাই পেতেলগী লুচিং মখাদা সেন্তর অসিনা লৈবাক পুম্বদা মাইকৈ তাক্লি।

অদোমসু খনবীয়ু, ঐহাক্না মফম অদুদা পুং অমা খক্তগী চৎখি অদুবু মফম অদুদা লৈরম্লিবা মতৌ অদুনা পুক্নিং চীংশিনখিবনা ঐহাক্না মফম অদুদা পুং অমগী প্রোগ্রাম অদু পুং অনি মখাই ওইনা পাঙথোকখি। স্কুলগী অঙাংশিং, ওজাশিংগা লোয়ননা ঐহাক্না কুপ্না ৱারী শাখি। অঙাং কয়ামরুমদা অসি খা গুজরাত, অৱাং গুজরাত, কচ্ছ সৌরাস্ত্র – অসিগুম্বা তোঙান-তোঙানবা মফমশিংদগীনি।

ঙসি বিদ্যা সমীক্ষা কেন্দ্র অসি গুজরাতকী ওজা লাখ মরি মখাই, স্কুল লিশিং ৫৪ হেনবগী মহৈরোয় ১.৫ হেনবগী পাঙ্গলগী সেন্তর অমনি, লিবিং ইনর্জী অমনি। সেন্তর অসিদা এ.আই., মেছিন লর্নিং অমসুং অচৌবা দেতা এনালাইতিক্স অনিগুম্বা মতমগা চুনবা ফেসিলিতীশিং লৈ।

বিদ্যা সমীক্ষা কেন্দ্রনা চহি খুদিংগী দেতা সেৎ করোর ৫০০ এনালাইজ তৌখি। মসিদা এসেসমেন্ত তেস্ত, সেসন-এন্দ একজামিনেসন, স্কুল এক্রেদিতেসন, অঙাংশিংগী অমসুং ওজাশিংগী এতেন্দেন্সকা মরী লৈনবা থবক তৌরি। রাজ্য পুম্বদা লৈরিবা স্কুলশিংগী ওইনা মান্নবা তাইম-তেবল, ক্বেসন পেপরশিং, চেক তৌবা পুম্নমক অসিদা বিদ্যা সমীক্ষা কেন্দ্রনা অচৌবা থৌদাং অমা লৌরি। সেন্তর অসিনা মরম ওইরগা স্কুলশিংদা অঙাংশিং কারকপগী চাং অসি চাদা ২৬ হেনগৎলকখি।

এজুকেসনগী লমদা অনৌবা সেন্তর অসিনা লৈবাক পুম্বদা অচৌবা অহোংবশিং পুরকপা ঙমগনি। ঐহাক্না লৈবাক অসিগী এজুকেসনগা মরী লৈনবা স্তেকহোল্দরশিং, ওফিসরশিং অমসুং অতোপ্পা রাজ্যশিংদা অসিগুম্বা মখলগী ফেসিলিতী অসি নৈন্নবা অমসুং শীজিন্ননবা হায়জরি। বিদ্যা সমীক্চা কেন্দ্রগুম্বা মোদর্ন সিস্তেমদগী লৈবাক অসিগী অঙাং কয়ানা কান্নবা ফংলবা মতমদা ভারতকী তুংলমচৎ অসি হেন্না মঙাল লৈগনি।

হৌজিক ঐহাক্না ময়ামদা ঐখোয়গী বনাসকী মতাংদা অমুক ৱারী শাজরগে, অহানবা ওইনা বনাস দেরীগা লোয়ননা বনাসকী লমদম অসিদা লাকচবদা ঐহাক্না শ্রী গলবা কাকাগীদমক ইকোক নোন্দুনা ইকাই খুম্নবা উৎচরি। অমসুং চহি ৬০গী মমাংদা লৌমীগী মচা গলবা কাকানা মঙলান অমা মঙজখি, হায়রিবা অদু ঙসিদি উজাও অমা ওইরে। অসুং মহাক্না বসানকান্থাগী য়ুমথোং খুদিংদা অনৌবা শেন্মীৎলোনগী শক্তি অমা পীখি, অহানবা ওইনা ঐহাক্না গলবা কাকাদা ইকাই খুম্নবা উৎচরি। অনিশুবদা ঐহাক্কী বসানকান্থাগী ইমা-ইবেল অমসুং ইচে-ইচলশিংবু ইকাই খুম্নজরি, ঐহাক্কী বসানকান্থাগী ইমা-ইবেল অমসুং ইচে-ইচলশিংবু মখোয়না মখোয়গী অঙাংশিং য়েংশিনবা অদুগুম্না মখোয়গী শা-শনশিংবু য়েংশিনখিবা, এনিমেল হসবেন্দীগীদমক তৌখিবা থবক অদু ঐহাক্না উবা ফংখি। করিগুম্বা শা-শনশিং অসিনা থক্নবা ঈশিং ফংদবা মতমদা ইমা-ইবেল অমসুং ইচে-ইচলশিংনা ঈশিং থকপা ঙমখিদে। করিগুম্বা লুহোংবা, হরাও-কুহ্মৈগীদমক ইমা-ইবেল অমসুং ইচে-ইচলশিংনা মরী-মতাংগী লুহোংবা অদু চৎতে অদুবু শা-শন অদুদি হুন্দোক্তুনা চৎতে। ইমা-ইবেল অমসুং ইচে-ইচলশিংনা তৌখিবা তপস্যা অদুগী ফলনা ঙসি বনাসনা চাউখৎপা ঙম্লি। মরম অসিনা ঐহাক্না বসানকান্থাকী ইমা-ইবেল অমসুং ইচে-ইচলশিংদা অনিরকশুবা ওইনা ইকোক নোন্দুনা খুরুমজরি। কোরোনাগী মতমদসু বনাস দাইরীনা মরু ওইবা থবক তৌখি, গলবা কাকাগী মমিংদা মেদিকেল কোলেজ অমা শাখি অমসুং হৌজিক ঐহাক্কী বনাস দাইরী অসিদা অলুগীদমক, শা-শনগীদমক, শ্গোমগীদমক, শনথীগীদমক, খোহীগীদমক ৱানীংঙাই ওইদ্রে, ইনর্জীগী হৌরফম ওইবা খক্তা নত্তনা অঙাংশিংগী এজুকেসনগীদমক থবকসু তৌরি। অমরোমদা বনাসকান্থাগী বনাস দাইরীগী কোওপরেসন মুফমেন্ত অসিনা বসানকান্থা পুম্বগী অফবা তুংলমচৎ অমগী হৌরকফম ওইরি। মসিগীদমক বিজিন সিস্তেম অমা লৈফম থোকই, অমসুং হৌখিবা চহি তরেৎ-নিপান অসিদা দাইরী অসিনা পাকথোক-চাউথোরক্লিবা মওং-মতৌ অসিদা ঐহাক্না মসিদা মপুং ফানা থাজবা থম্মি, ঐহাক্না মুখ্য মন্ত্রী ওইরিঙৈ মতমদগী থাজবা থমলকখি। অমসুং হৌজিক ঐহাকপু নখোয়দা দিল্লীদা থাবীরি, মদুদসু ঐহাক্না নখোয়বু কৈদৌনুংদা থাদোক্তে। নখোয়গী অৱা-নুংঙাইদা নখোয়গা পুন্না লেপখি। ঙসি বনাস দাইরীগী ইহৌ অসিনা উত্তর প্রদেশ, হরিয়ানা, রাজস্থান, ওরিশা (সোমনাথতগী জগন্নাথ), অন্ধ্র প্রদেশ অমসুং ঝারখন্দ অসিগুম্বা রাজ্যশিংদা লৈরিবা লৌমীশিং অমসুং শা-শন লোইরিবা ফুরুপশিংদা চাউনা কান্নবা ফংহল্লি। ঙসি মালেমগী ওইনা শঙ্গোম খ্বাইদগী য়াম্না পুথোকপা লৈবাকশিংদা, লৌমী কয়াগী পুন্সিনা শঙ্গোমগী মপাল তংলিবা অসিদা চহি অমদা কয়ারক মশিং কয়াম পুথোকপগে হায়বা অসিদা মীওই খরা, অচৌবা ইকনোমিস্তশিংনা মীৎয়েং চংদে।   ঐখোয়গী লৈবাক অসিদা চহি অমদা শঙ্গোম লিতর করোর নিপানগা লাখ অমা মখাই পুথোকই। হীরম অসিদা খুঙ্গংশিংগী দিসেন্ত্রেলাইজ ইকনোমিক সিস্তেম অসি খুদম অমনি। গেহু অমসুং চেং পুথোকপা অসি করোর নিপান লাখ অনি মখাই য়দে। শঙ্গোম পুথোকপনা হেল্লি অমসুং দাইরী সেক্তরদগী অপীকপা লৌমীশিংনা চাউনা কান্নবা ফংলি, বিঘা অনি, অহুম, মঙা লম লৈবা মীওইশিংদা নোং চুরক্ত্রবা, ঈশিং লৈত্রবদি লৌমী ইচিল-ইনাওশিং অসিগী পুন্দি অসি অৱাবগী মশক ওই। এনিমেল হস্বেন্দরী তৌদুনা ইমুং মনুং অদু শা-শনশিংনা থাকই। দাইরী অসিদা অপীকপা লৌমীশিংনা মীৎয়েং চংলক্লি। অমসুং ঐহাক্না দিল্লীদা চৎপা মতমদা লৈবাক পুম্বগী অপীকপা লৌমীশিংগী অচৌবা থৌদাংশিং লৌখি। অমসুং ঙসি চহি অমদা অহুমরক ঐহাক্না লৌমীশিংগী একাউন্তশিংদা লুপা লিশিং অনি হকথেংননা হাপ্পি। দিল্লীদগী থোরকপা শেল অসিগী পাইসা ১৫ খক্তা য়ৌই হায়না মমাংগী প্রধান মন্ত্রীনা হায়রমখি। প্রধান মন্ত্রী অসিনা হায়জরি ঙসিদি দিল্লীদগী চৎখিবা লুপা ১০০দা পাইদা ১০০ মপুং ফানা য়ুমশিং অসিদা য়ৌহনখি। অদুগা লৌমীশিংগী একাউন্ততা দিপোজিৎ তৌখি। ঙসিদি ভারত সরকার, গুজরাত সরকার অমসুং গুজরাতকী কোওপরেতিব মুভমেন্ত মসি পুন্না তৌমিন্নবনা, ঐহাক্না থমোয় শেংন মসিগী মুভমেন্তশিং অসিবু থাগৎপা ফোঙদোকচরি। ঙাইহাক্কী মমাংদা ভুপেন্দ্র ভাইনা পুক্নীং নুংশিনা ৱাফম অমা ফোঙদোকপীরম্মি, ওর্গানিক ফার্মিং, বনাসকান্থানা করিগুম্বা অমা খংলবদি, বনাসকান্থানা মদু মতম চুপ্পদা থাদোক্তে, মসিগী ঐহাক্না থেংনজরকপনি। মসি অহৌবদদি অৱাবা থবক অমা ওইরম্মি, ঐহাক্না ইলেক্ত্রিসিতী থাদোক্লো, ইলেক্ত্রিসিতী থাদোক্লো হায়না লাওবদা অৱবা অমা ওইখিবদু নীংশিংলকই। অদুবু বনাসকী মীয়াম্না মোদীনা করিগুম্বা অমত্তা খংদে হায়না খনখি, ইলেক্ত্রিকসিতীদগী মপান থোরকউ হায়না লাউরদুনা ঐহাক্কী মায়োক্তা লাওখি, অদুবু বনাসকী লৌমিশিংনা মখোয়না ঐঙোন্দগী খোঙকাপ তরা হেন্না চৎখৎলে হায়না খংবা মতমদা অমসুং ঈশিং য়োকশীন্নবা অচৌবা কেম্পেন পাংথোকপা মতমদা দ্রিপ ইরিগেনস শিজিন্নখি, অদুগা ঙসিদি বনাসকী ফার্মিংদা অঙকপা ফংনা অহোংবা পুরকপা মতমদা ঐহাক্না ঙসি মসিদা বনাসকান্থা পাংথোক্লি। ইমা নর্মাদানা বনাসকা উনবা লাকপদা মসিগী ঈশিং অসি ইশ্বরগী প্রসাদনি হায়না খন্দুনা, ঈশিং অসিবু পারসনি হায়না লৌরে হায়না ঐহাক্না থাজবা থম্মি অমসুং হন্দক্তি অজাদী কা অমৃত মহোতসবনি, নীংতম্বগী চহি ৭৫ শুরে, ঐহাক্না বনাস জিলাগী মীয়ামদা হায়জনীংবদি মসিগী অকংবা বনাসকী লম অসিদা করিগুম্বা পোত্থোক অমত্তা লৈতবনা অচৌবা পুখ্রি ৭৫ তৌনবা ঐহাক্না হায়জরি অমসুং নোং অমুরক, অনিরক চুবা মতমদা মদুদা ঈশিং চেনশিন্দুনা ঈশিং তুংদুনা লৈনবা শেম শানবা হোৎবীয়ু। করিগুম্বা মসি ঐখোয়না পাংথোকপা হৌরবদি, পৃথীবি অসি অমৃতময়ি ওইরক্লগনি। মরম অদুনা জুন থা লাক্ত্রিঙৈ, নোং চুবা হৌদ্রিঙৈদা লাক্কদৌরিবা থা অনি অহুম অসিদা অচৌবা কেম্পেন অমা পাংথোকপা ঙমগনি হায়বসি ঐহাক্কী থাজবনি। অদুগা অজাদীকা অমেট মহোতসব মতম ওগস্ত ১৫ ২০২৩দা চহি অমা অসিগী মনুংদা বনাস জিলাদা য়ামদ্রবদা অচৌবা পুখ্রি ৭৫ তৌগদবনি অমসুং ঈশিং থন্না থমগদবনি। মসিনা মরম ওইরগা ঐখোয়না ঙসি থেংনরিবা অৱাবা মচা-মচাশিং অসি কোকহনবা ঙমগদৌরিবা অমসুং ঐহাক্না ময়ামগী মতেং পাংগনি। অদুগা মসিনা মরম ওইরগা ঐহাক্না অদোমগা পুন্না চৎমিন্নদুনা অদোমগী খোঙলোয় ওইনা থবক তৌবা পাম্লিবনি। হৌজিক্তি নদাবেত অসি তুরিজমগী মরুওইবা মফম অমা ওইরে, গুজরাতনা ভারতকী ঙমখৈগী জিলা করম্না চাউখৎহনগনি, ভারতকী ঙমখৈ করম্না কনগনি হায়বগী খুদম পীরি। কচ্ছকী অকোইবা মফমশিং অসি চাউখৎলে অমসুং মফম অদুগী খুঙ্গংগী মীওইশিংগী শেন্মীৎলোন ফগৎলে। সীমাদর্শনগী প্রোগ্রাম হৌদোকখিবা নদাবেত অসি হৌজিক বনাস অমসুং পতান জিলাগী ঙমখৈগী অকোইবদা লৈরিবা খুঞ্জাশিংদা তুরিজম্না মরম ওইরগা হরাউ নুংঙাইবা পুরক্লগনি। খ্বাইদগী মনুং হঞ্জিনবা খুঙ্গংশিংদা ফাওবা হীংনবা পাম্বৈগী খুদোংচাবশিং লাকপা হৌরে, চাউখৎ থৌরাংগী লম কয়ামরুম লাকপা য়াই, মহৌশাগী তম্পাক্তা ফম্লদুনা ঐখোয়না খ্বাইদগী লুরবা তাংফমশিংদা অওনবা করম্না পুরকখিবগে হায়বসি ঐখোয়গী মাংদা উৎলিবা খ্বাইদগী মতিক চারবা খুদম অমনি। অদুগা মসিগী মমল য়াম্লবা মনি অসি বনাসতা লৈরিবা গুজরাতকী প্রজাশিং অমসুং লৈবাক অসিগী প্রজাশিংগী খুয়া খাদা কৎচরি। অদুগা ঐহাকপু খুদোংচাবা অসি পীবিবগীদমক বনাস দেরীবু তৌবিমল খংবা উৎচরি। ঐহাক্কা লোয়ননা খুৎ অনিমক থাংগত্তুনা মীয়াম তানবা ভারত ইমা হায়না লাউরসি।

ভারত ইমানা য়াইফরে, ভারত ইমানা য়াইফরে!

হন্না হন্না থাগৎপা ফোঙদোকচরি!

Explore More
৭৭শুবা নিংতম্বা নুমিৎ থৌরমদা লাল কিলাদগী প্রধান মন্ত্রী শ্রী নরেন্দ্র মোদীনা ৱা ঙাংখিবগী মপুংফাবা ৱারোল

Popular Speeches

৭৭শুবা নিংতম্বা নুমিৎ থৌরমদা লাল কিলাদগী প্রধান মন্ত্রী শ্রী নরেন্দ্র মোদীনা ৱা ঙাংখিবগী মপুংফাবা ৱারোল
Why Was Chandrayaan-3 Touchdown Spot Named 'Shiv Shakti'? PM Modi Explains

Media Coverage

Why Was Chandrayaan-3 Touchdown Spot Named 'Shiv Shakti'? PM Modi Explains
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's Interview to Dainik Jagran
May 27, 2024

भाजपा के सबसे बड़े स्टार प्रचारक व प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी चुनाव अभियान में यह स्पष्ट करने में कोई कमी नहीं छोड़ रहे हैं कि विपक्ष की नीयत ठीक नहीं है। दो महीने चले इस चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री ने दूसरी बार दैनिक जागरण के राजनीतिक संपादक आशुतोष झा से कुछ मुद्दों पर बात की है।

प्रश्न- चुनाव लगभग संपूर्ण हो गया है। आपने काफी लंबा प्रचार किया। क्या आप संतुष्ट हैं कि आपकी बात लोगों तक पहुंच गई?अब भाजपा को मिलने वाली सीटों का कोई ठोस आंकड़ा देंगे?

उत्तर- चुनाव को मैं एक उत्सव की तरह देखता हूं। मेरे लिए ये पूरे देश में जनता जनार्दन के दर्शन का अवसर है। इतनी बड़ी संख्या में लोगों से मिलना, संवाद करना, उनके साथ समय बिताना, इससे कई सारे नए अनुभव होते हैं। इस बार के चुनाव में मैंने देश की हर दिशा यानी उत्तर, दक्षिण, पूर्व, पश्चिम में बहुत दौरे किए। मैं नार्थ ईस्ट कई बार गया। इस दौरान मैं जहां भी गया, वहां जनता का अभूतपूर्व समर्थन मिला।

जनसमर्थन और जनता का प्यार मुझे 2014 और 2019 के चुनाव में भी मिला था, लेकिन इस बार लोगों का उत्साह पहले से कहीं ज्यादा है। इसकी एक खास वजह है। लोगों के मन में भाजपा को लेकर 2014 में उम्मीद थी, 2019 में एक विश्वास था और 2024 में एक गारंटी है। लोगों को भरोसा है कि काम तो मोदी ही करेंगे। विकसित भारत बनाने की प्रतिबद्धता सिर्फ भाजपा में है।

आप सीटों का आंकड़ा पूछ रहे हैं तो जो संख्या हमने चुनाव अभियान के शुरू में दी थी,वही अभी भी है। पहले चरण से लेकर अब तक हर वोटर 400 पार के नारे पर ही चर्चा कर रहा है। 400 पार का आंकड़ा जनता के बीच से आया है,और इसे लोगों ने पूरी तरह अपना लिया है। देश की जनता 400 पार के नारे को सच करके दिखाएगी।

 

 

प्रश्न- इस बार आपका एक नया रूप दिखा। जिस तरह आपने मीडिया के साथ इंटरेक्शन बढ़ाया और एक पीएम के रूप में हर इच्छुक पत्रकारों को समय दिया। इसकी रणनीति क्या थी?

उत्तर- हर चुनाव में मेरी कोशिश यही होती है कि मैं ज्यादा से ज्यादा मीडिया के साथियों से बात कर सकूं, इंटरव्यू दे सकूं। 2014 और 2019 में भी मैंने ये प्रयास किए थे। मीडिया के साथियों से मुझे बहुमूल्य फीडबैक मिलता है। ये जनता के पास अपनी बात पहुंचाने का एक अच्छा माध्यम होता है।

दूसरी तरफ आप देखिए कि मीडिया को लेकर “शहजादे” की भाषा का स्तर कितना गिरता जा रहा है। उन्होंने अब मीडिया पर हमले करना शुरू कर दिया है। उनके मन में मोदी को लेकर इतनी नफरत भर गई है कि जो लोग मुझसे बात करने आ रहे हैं,उनके बारे में भी अनाप-शनाप बोलने लगे।

 

प्रश्न- पश्चिम बंगाल में ओबीसी को लेकर हाई कोर्ट का एक फैसला आया है जिसमें प्रदेश सरकार की एक सूची को रद कर दिया गया। ममता बनर्जी कह रही हैं कि यह भाजपा ने करवाया है। कह रही हैं कि कोर्ट में भाजपा और आरएसएस के लोगों को जमावड़ा है। आप क्या कहेंगे?

उत्तर- ममता बनर्जी क्या कह रही हैं यह महत्वपूर्ण नहीं है। सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि कोर्ट ने क्या कहा है। कोर्ट ने इसे पूरी तरह से असंवैधानिक और गैरकानूनी बताया है। एक अच्छी बात ये हुई कि ये फैसला तब आया है जब देश में इसे लेकर एक चर्चा छिड़ी हुई है। देश का जो ओबीसी- एससी- एसटी समाज है बहुत व्यथित है। उनमें बहुत गुस्सा है। जो हक बाबासाहेब के संविधान ने उन्हें दिया है वो कोई सरकार उनसे छीनकर मुसलमानों को नहीं दे सकती है।

ममता बनर्जी की सरकार का जो पाप है, जो पिछड़ों के प्रति अन्याय है, उसे रंगे हाथ पकड़ लिया गया है और देश भर में इन लोगों के चेहरे बेनकाब हो गये हैं। तो थोड़ी बौखलाहट तो रहेगी ही। ये तो पक्का है कि देश भर का पिछड़ा, दलित, वंचित और आदिवासी समाज उन्हें माफ नहीं करेगा।

बतौर प्रधानमंत्री पूरे देश की चिंता लेकिन संसदीय क्षेत्र वाराणसी की बात आते ही जो भावुकता और अपनत्व प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी में एकबारगी दिखता है वह कई लोगों के लिए सीख हो सकती है। खासतौर से तब जबकि चुनाव में बडी संख्या में उम्मीदवारों को लेकर उनके ही क्षेत्रों में असंतोष दिखता रहा है। अब चुनाव उस मोड़ पर पहुंच गया है, जहां वही स्टार प्रचारक खुद मैदान में जिसके नाम और छवि पर केवल भाजपा की नहीं बल्कि राजग सहयोगी दलों के कई उम्मीदवार भी जीत की आस लगाए बैठे हैं। दैनिक जागरण के राजनीतिक संपादक आशुतोष झा से प्रधानमंत्री मोदी वाराणसी के मुद्दों पर बात करते हैं तो लगता है कि दस साल में उन्हें काशी की हर गलियां याद हो गई हैं। वह कहते हैं- बनारस कुछ खास है। जैसे आप कहीं भी चले जाएं लेकिन जब आप अपने घर पहुंचते हैं,अपनी मां के पास पहुंचते हैं तो अलग प्रकार का सुकून मिलता है। वैसे ही बनारस मेरे लिए मां है, वहां मां गंगा भी है।

 

प्रश्न: यह लगातार देखा गया है कि प्रधानमंत्री होते हुए भी आप बहुत बड़ी संख्या में चुनावी अभियान करते हैं। ऐसा इसलिए कि आप लोगों के बीच जाना पसंद करते हैं या आप एहसास करते हैं कि जीत के लिए आपको ही जिम्मेदारी निभानी होगी?

उत्तर: लोकतंत्र में चुनाव की एक बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है। लोकतंत्र में जरूरी है कि जो चुने हुए प्रतिनिधि हैं वो लोगों तक पहुंचें, उनको अपना काम बताएं, उनका फीडबैक लें और फिर जनता की जरूरतों के मुताबिक काम करने का संकल्प लें। देश के लोग पहली बार एक ऐसी सरकार देख रहे हैं जो अपना रिपोर्ट कार्ड लेकर जनता के पास जाती है। हमारे लिए एक-एक वोट हमारे काम पर जनता की मुहर है। इस देश में 10 साल तक एक ऐसे प्रधानमंत्री रहे जो इलेक्टेड यानी चुने हुए प्रधानमंत्री ही नहीं थे। तो उनके लिए चुनाव, वोट मांगना, लोगों से मिलना, ये सब कोई महत्व ही नहीं रखता था। उनके बाद अब मैं जो कर रहा हूं वो लोगों को नया लगता है। मैं प्रधानमंत्री तो हूं पर भाजपा का नेता भी हूं। भाजपा का नेता होने के नाते मेरा कर्तव्य है कि पार्टी मुझे जो जिम्मेदारी देगी, मैं उसे निभाऊंगा।

भाजपा में प्रधानमंत्री से पन्ना प्रमुख तक हर स्तर पर सभी कार्यकर्ता कड़ी मेहनत कर रहे हैं। आप हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष जी को देखिए, आप रक्षा मंत्री जी को देखिए, आप गृहमंत्री जी को देखिए। हमारे मुख्यमंत्री, हमारे मंत्री सब बहुत मेहनत कर रहे हैं। सभी दिन में चार से पांच कार्यक्रम कर रहे हैं। ये भारतीय जनता पार्टी की संस्कृति है, संस्कार हैं। सभी अपना अधिकतम योगदान देने में जुटे हैं।

 

प्रश्न: यूं तो आप पूरे देश में बड़ी संख्या में रैली व रोड शो कर रहे हैं लेकिन जब आप अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में पहुंचते हैं, वहां रोड शो या रैली करते हैं तो वह दूसरे क्षेत्रों से क्या और कितना अलग होता है?

उत्तर: (थोड़ी मुस्कान के साथ) बनारस कुछ खास है। जैसे आप कहीं भी चले जाएं लेकिन जब आप अपने घर पहुंचते हैं, अपनी मां के पास पहुंचते हैं तो अलग प्रकार का सुकून मिलता है। वैसे ही बनारस मेरे लिए मां है, वहां मां गंगा भी है। जब भी मैं बनारस जाता हूं तो मुझे एक अलग प्रकार का अपनापन मिलता है। अलग प्रकार का स्नेह मिलता है। मैं वहां का प्रतिनिधि हूं, मैं लोगों से वोट मांगता हूं, लोग मुझे समर्थन देते हैं, वोट देते हैं। ये सब तो चलता रहता है लेकिन बनारस के साथ मेरा रिश्ता इससे बढ़कर है।

काशी बहुसंस्कृति की नगरी है। आप जब रोड शो में अलग-अलग मोहल्लों से होकर गुजरते हैं,तो आपको अलग अलग संस्कृतियां भी देखने को मिलती हैं। अभी मैं नामांकन करने गया था। जिस बीएचयू के पास से रोड शो शुरू हुआ, वहां बिहार समेत पूर्वी भारत के अनेक परिवार रहते हैं। आगे बढ़ने पर अस्सी मोहल्ला है, वहां आपको दक्षिण भारत से जुड़े अनेक मठ और आश्रम मिल जाएंगे। इसी रास्ते में कांची कामकोटिश्वर मठ है। केदार घाट पर उत्तराखंड की शैली में बने मंदिर हैं। वो घाट हैं जो राजस्थान के राजाओं ने बनवाए।

इसी रास्ते पर आगे बढ़ेंगे, तो मदनपुरा में मुस्लिम परिवार और बुनकर भाइयों के घर मिलेंगे। इसके बाद जंगमबाड़ी में बंगाली परिवारों का मोहल्ला है। गोदौलिया पर पूरे भारत से आने वाले लोग मिल जाएंगे। आगे विश्वनाथ मंदिर की ओर बढ़ने पर मराठी और गुजराती परिवार मिल जाते हैं। यही काशी है। एक 4-5 किलोमीटर के रोड शो में कोई आरती करता है, कोई शिवाजी महाराज की तस्वीर लेकर खड़ा होता है, कोई बंगाली साड़ी पहने तो कोई दक्षिण के परिधानों में मिलता है। काशी के रोड शो और सभाओं में पूरे भारत की संस्कृति का संगम होता है। मेरे लिए ये एक भारत-श्रेष्ठ भारत का सबसे सशक्त रूप है। इसीलिए काशी सबसे अलग है, सबको जोड़े हुए है।


प्रश्न: ‘दिव्य काशी, भव्य काशी’ की हर ओर चर्चा होती है। बीते दस सालों में काशी का, यहां के इन्फ्रास्ट्रक्चर का आपने कायाकल्प कर दिखाया। यह काम कितना मुश्किल था?

उत्तर: देखिए, काशी में जो काम हुआ है, मैं उसका निमित्त भर था। ये सबकुछ बाबा विश्वनाथ के आदेश से हुआ। और जिस नगरी का विकास, विधान स्वयं महादेव निर्धारित करें, वो दिव्य और भव्य तो बन ही जाती है। हां, विकास के जो काम हुए उनके बारे में मैं कुछ बातें आपको बताता हूं। देखिए वाराणसी का मॉडल पूरे विश्व में सबसे अलग है। करीब 70 लाख लोगों का शहर है और अब हर रोज करीब 5 लाख पर्यटक भी यहां आते हैं। हमने बीते 10 वर्षों में इतनी जनसंख्या के लिए शहर को अलग-अलग मॉडल पर बदला। स्थानीय लोगों की जो समस्याएं थीं और पर्यटन का विकास होने के कारण बाद में जो जरूरतें बनीं, हमने दोनों पर काम किया।

स्थानीय लोगों के लिए गलियों की साफ सफाई, पुराने सीवेज सिस्टम में बदलाव, सड़कों का चौड़ीकरण, हेरिटेज मॉडल पर बाजारों का विकास, स्ट्रीट लाइट सिस्टम, लोकल वेंडिंग जोन की समस्या ऐसी कई चीजें हमने योजनाबद्ध तरीके से बदली। बनारस में एक कमांड सेंटर बनाकर ट्रैफिक मैनेजमेंट सही किया गया। ये काशी के अर्बन इंफ्रास्ट्रक्चर मॉडल का पहला कदम था।

बनारस में हर रोज लाखों लोग इलाज, दर्शन, बाजार और पर्यटन के लिए आते हैं। हमने ऐसे यात्रियों के लिए शहरभर में पार्किंग बनाई हैं। गोदौलिया और बेनियाबाग की हाईटेक पार्किंग ऐसे ही इंतजाम हैं। पर्यटकों के आने के लिए वाराणसी के चारों ओर के हाइवे नेटवर्क को सुधारा गया। पूर्वांचल के अलग-अलग जिलों से आने वालों के लिए गाजीपुर-वाराणसी, जौनपुर वाराणसी, आजमगढ़-वाराणसी की सड़कें सुधारी हैं।

शहर में 15 ऐसे फ्लाईओवर बने हैं, जिनसे जाम की समस्या बहुत हद तक खत्म हुई है। वाराणसी के बाहरी इलाकों में रिंग रोड बनी है। एयरपोर्ट का विकास हो रहा है, काशी के स्टेशन को फ्यूचर रेडी किया जा रहा है। इससे पर्यटकों को काशी आने में सहूलियत मिलती है और काशीवासियों को भी लाभ होता है। जो लोग इलाज के लिए आते हैं, उनके लिए कैंसर का अस्पताल और सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल बने हैं। बीएचयू के अस्पताल का बड़ा अपग्रेडेशन हुआ है। इससे ना सिर्फ पूर्वांचल बल्कि बिहार के भी लाखों लोग लाभान्वित हो रहे हैं। इन सब के साथ शहर में बिजली, पानी और वेस्ट मैनेजमेंट की व्यवस्था के लिए भी करोड़ों रुपये खर्च किए गए हैं।

अब बनारस भविष्य के लिए तैयार हो रहा है। भारत का पहला सिटी रोप-वे बनारस में बन रहा है। इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम से लेकर घाटों तक बहुत सारे काम हो रहे हैं। काशी में रुद्राक्ष जैसा हाइटेक कन्वेंशन सेंटर भी है और बाबा विश्वनाथ का भव्य धाम भी। काशी शहरी विकास की मॉडल सिटी है। काशी जैसे जनघनत्व वाले शहर में इतने सारे काम हुए होंगे, तो सोचिए लोगों को कितनी सारी परेशानी हुई होगी। लेकिन काशीवासियों ने विकास कार्यों में मेरा बहुत साथ दिया। यही कारण है कि हम काशी को इतना बदल पाए।


प्रश्न: काशी की भारत की आध्यात्मिक राजधानी के रूप में मान्यता है, पर दस साल पहले तक यहां आने वाले श्रद्धालुओं को कई असुविधाओं का सामना करना पड़ता था। काशी की पौराणिकता को सहेजने और संवारने के लिए आपके द्वारा किये गए कामों की सूची लंबी है। क्या इस दौर को हम सनातन-शाश्वत काशी का स्वर्ण काल कह सकते हैं?

उत्तर: काशी तो भारत के आध्यात्मिक वैभव की नगरी है। ये महादेव का तीर्थ भी है और बुद्ध की नगरी भी। यहां संत रविदास का सीर गोवर्धन भी है और मां गंगा के घाटों की श्रृंखला भी। इन सभी के दर्शन के लिए शताब्दियों से श्रद्धालु यहां आते हैं। इनके लिए पहले जो व्यवस्थाएं थीं, वो बढ़ती जनसंख्या के साथ अपर्याप्त होती गईं। इससे असुविधाएं होने लगीं, लेकिन काशीवासियों ने आतिथ्य भाव में कभी कमी नहीं की। जिन सरकारों ने यूपी या देश पर राज किया उन्होंने कभी काशी के विकास के बारे में सोचा तक नहीं। गलियां, सड़कें, मंदिर सब वैसे ही रह गए। कुछ क्षतिग्रस्त हो गए और कुछ होने की कगार पर आ गए। एक जमाना था, जब बाबा विश्वनाथ के दर्शन के लिए लोग गलियों में लंबी लाइन में लगते थे और वहीं सीवर बहता रहता था। सारनाथ या सीरगोवर्धन में कोई आयोजन हो जाए तो पूरे शहर में जाम की स्थिति बन जाती थी। काशी आने वाले यात्रियों के लिए सड़क, ट्रेन और हवाई मार्ग से अच्छे साधन नहीं थे।

लेकिन 10 वर्षों में हमने चीजें बदलीं। हमने शहर के 101 मंदिरों का विकास किया। जिन कुंडों पर काशी के संस्कार होते थे, उनकी सफाई और जीर्णोद्धार किया। काशी के जिस मणिकर्णिका घाट पर पूर्वांचल और बिहार के लोग क्रिया कर्म के लिए आते हैं उसका पुनर्निर्माण हो रहा है। पंचक्रोशी यात्रा के पड़ावों को ठीक किया गया। ये काशी की संस्कृति और भव्यता के अनुरूप बनें, इसका सबसे ज्यादा ध्यान रखा। आज पहले की तुलना में कई गुना ज्यादा लोग यहां आते हैं। काशी में साधन और संसाधन दोनों का विकास हुआ है। आप इसे स्वर्ण काल कहते हैं ये आपका मानना है। मैं संतुष्ट नहीं होता। अभी काशी में बहुत कुछ करना है। मुझे विश्वास है कि बाबा विश्वनाथ के आशीर्वाद से काशी और समृद्ध होगी।


प्रश्न: आप संतुष्ट होकर रुकना नहीं चाहते हैं यह तो अच्छी बात है। लेकिन श्री विश्वनाथ धाम का भव्य निर्माण आपको कितना संतोष देता है? विश्वनाथ मंदिर के पुनरुद्धार ने करोड़ों-करोड़ों शिवभक्तों की सदियों की प्रतीक्षा को खत्म किया। आप विरासत भी विकास भी की बात करते हैं। क्या यह पूरा होता नजर आ रहा है।

उत्तर: बाबा विश्वनाथ धाम का भव्य निर्माण मेरे लिए ड्रीम प्रोजेक्ट की तरह था। मैं इस मंदिर से अपनी अंतरात्मा से जुड़ा हूं। जब भी बाबा के अरघे के किनारे बैठता हूं, लगता है एक दूसरी ऊर्जा से जुड़ गया हूं। विश्वनाथ धाम का निर्माण इसी शक्ति से हुआ है। आज बाबा विश्वनाथ के धाम में बाबा का गर्भगृह स्वर्णमंडित हुआ है। धाम का स्वरूप भव्य हुआ है। गंगा के तट से बाबा का धाम जुड़ा है। हजारों भक्तों के एकसाथ खड़े होने की व्यवस्था हुई है। बाबा के धाम के साथ पूरी काशी के मोहल्लों के कुंड भी भव्य हुए हैं। काशी के लक्खा मेलों का आनंद भी बढ़ा है। बाबा विश्वनाथ सर्वसमावेशी विकास के सबसे बड़े पुंज हैं।

आज एक तरफ बाबा का धाम दिखता है, दूसरी तरफ गंगा में चलते हाइटेक क्रूज दिखते हैं। यही विरासत और विकास का संगम है। मेरे लिए यही उपलब्धि है कि काशी अपनी पुरातन परंपरा को संरक्षित करते हुए नवयुग को देख रही है। लेकिन ये महादेव की कृपा से हुआ है। मैं बस साधन हूं, साध्य खुद बाबा विश्वनाथ हैं। सनातन में ये धारणा रही है कि परमात्मा की इच्छा से ही जगत के सारे काम हो रहे हैं। मेरे जीवन का भी एक उद्देश्य ईश्वर ने तय किया है, और उस उद्देश्य को पूर करने की शक्ति भी वही देते हैं। मैं स्वयं ये सब नहीं कर रहा, बल्कि महादेव मुझसे काशी की सेवा करा रहे हैं। भगवान शिव स्वयं विरक्त रहते हैं, लेकिन भक्तों की हर इच्छा पूरी करते हैं। मैंने भी उनसे विरक्त जीवन जीते हुए लोक कल्याण के लिए काम करने की प्रेरणा ली है।


प्रश्न: जब आप दस साल पहले बनारस आये तो आपने कहा कि मुझे मां गंगा ने बुलाया है। हाल ही में आपने कहा कि मुझे मां गंगा ने गोद ले लिया है। मां गंगा और काशी से अपने नाते की बात करते आप भावुक हो जाते है। अपने जीवन में काशी के प्रभाव के बारे में आप क्या कहेंगे?

उत्तर: (थोड़ी चुप्पी के बाद) काशी में कुछ है जिसे शब्दों में नहीं बताया जा सकता। जिस नगरी में गंगा का नित प्रवाह हो, बाबा विश्वनाथ का अभय दान हो और माता अन्नपूर्णा की समृद्धि हो वही काशी है। मैं जब यहां आया था, तो जन प्रतिनिधि के रूप में था। अब परिवार के प्रतिनिधि के रूप में हूं। इसीलिए मैं कहता हूं कि काशी ने मुझे बनारसी बना दिया है।

जब भी काशी आता हूं, काशी के लोग आत्मीयता से मिलते हैं। काशी परिवार सी लगती है। मां गंगा ने मुझे 10 वर्ष पहले काशी बुलाया था, पर आज लगता है कि उन्होंने मुझे बेटा मानकर अपना लिया है। चूंकि मेरी मां अब प्रत्यक्ष रूप से मेरे साथ नहीं, इसलिए गंगा ही मेरी मां के रूप में हैं। मैं काशी आता हूं तो लगता है मां के घर आया हूं। अब बेटा मां और परिवार के पास आएगा तो उसका भावुक होना स्वाभाविक है।


प्रश्न: पंजाब में भाजपा की जड़ें नहीं जम पाई। क्या कारण है। क्या इस बार कुछ उम्मीदें हैं?

उत्तर: पंजाब में भाजपा लगभग 3 दशक के बाद बिना गठबंधन के उतरी है। जब तक हम गठबंधन में रहे तब तक हमारा दायरा सीमित रहा। हम गठबंधन धर्म के नियमों से बंधे थे। उस समय भी हम लोक कल्याण के अपने दायित्वों से पीछे नहीं हटे। लेकिन तब हमें पंजाब के हर जिले, हर पिंड में विस्तार का अवसर नहीं मिला।

2024 के चुनाव में भाजपा देश और पंजाब के विकास का विजन लेकर लोगों के बीच जा रही है। पिछले 10 वर्षों में केंद्र की भाजपा सरकार ने जो काम किए हैं उससे लोगों का भाजपा पर विश्वास बढ़ा है। लोगों के सामने एक तरफ हमारे 10 साल का ट्रैक रिकॉर्ड है तो दूसरी तरफ भ्रष्टाचार, ड्रग्स की समस्या, इंफ्रास्ट्रक्चर का बुरा हाल और खस्ताहाल कानून-व्यवस्था का अनुभव है।

कांग्रेस और आम आदमी पार्टी पंजाब में अलग-अलग चुनाव लड़ रही हैं, लेकिन दिल्ली और देश के दूसरे हिस्सों में वो मिलकर चुनाव प्रचार कर रहे हैं। ऐसे में वो पंजाब के लोगों से जो चाहें कह लें, जनता उनकी असलियत जानती है। उनकी नीति और नीयत की कोई विश्वसनीयता नहीं है। इंडी अलायंस की ये राजनीति लोगों के गले नहीं उतर रही। ऐसे में लोगों को भाजपा से बड़ी उम्मीदें हैं। मुझे विश्वास है कि पंजाब के लोग भाजपा के विकसित भारत के संकल्प के साथ जुड़ेंगे और पंजाब के बेहतर भविष्य के लिए हमारा समर्थन करेंगे।


प्रश्न: बिहार में एनडीए की ओर से अभी भी जंगलराज की ही याद दिलायी जाती है, जबकि लालू राज खत्म हुए 20 साल हो गये हैं। आप कुछ कहेंगे?

उत्तर: दुनिया में किसी भी चीज की बुरी यादें होती हैं तो वो वर्षों तक याद रहती हैं। उदाहरण के लिए देश के लोग इमरजेंसी की खौफनाक यादों को अब भी नहीं भूल पाए हैं। जब कभी चर्चा होती है कि कोई सरकार किस तरह लोगों को दबा सकती है, किस तरह विरोध की आवाज कुचल सकती है, तो तुरंत आपातकाल का स्मरण हो जाता है। वैसे ही जंगलराज की कटु यादें हैं। भले ही कुछ समय बीत गया हो पर जो लोगों ने देखा और भुगता है, सहन किया है वो सबको याद हैं। लूट, हत्या, डकैती, फिरौती, खुले आम महिलाओं के साथ अपराध, ध्वस्त कानून व्यवस्था वो कोई भूल नहीं सकता है।

इसकी वजह से जिन लोगों ने पलायन किया वो 20-30 साल से बिहार से दूर रह रहे हैं फिर भी उनके मन से इसका चित्र नहीं जाता है। जिन्होंने ये सब नहीं देखा था या जो भूल गए थे, उन्हें इन लोगों की कुछ समय के लिए आई सरकार ने फिर से याद करा दिया है। उस दौर की भयानक यादें फिर से ताजा हो गयी हैं। इन्होंने दिखा दिया कि अगर इन्हें फिर से सत्ता मिली तो ये उससे भी भयानक काम कर सकते हैं। रोज-रोज मर्डर, डकैती, लूट और जहां कानून का कोई राज ही ना हो, वैसा शासन उन्होंने कुछ ही समय में करके दिखाया है।


प्रश्न: जिस तरह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर टकराव बढ़ रहा है उसमें माना जा रहा है कि आनेवाले दिन संकट और संघर्ष के रहेंगे। उसमें भारत की गति को साधना कितना मुश्किल रहेगा?

उत्तर: हम सब देख रहे हैं कि दुनिया एक अप्रत्याशित दौर से गुजर रही है। पहले कोविड और अभी दो बड़े संघर्ष चल रहे हैं। इसका असर अलग अलग सेक्टर्स पर पड़ रहा है। खासकर फूड, फ्यूल और फर्टिलाइजर। इनके या तो दाम बढ़े हैं या फिर किल्लत है। ये स्थिति दुनिया में सब जगह है। ऐसे समय में भारत ने ये सुनिश्चित किया है कि फ्यूल, फूड और फर्टिलाइजर की कोई कमी नहीं हो। ना ही हमारे लोगों को इसके लिए ज्यादा कीमत चुकानी पड़े।

दुनिया में संघर्ष की स्थिति और विकट हो सकती है। ये सब ऐसे समय में हो रहा है जब भारत को तेजी से विकास करना है। फिर भी मेरा मानना है कि भारत के लिए विकास का सही समय यही है। ऐसे समय में ये बहुत जरूरी है कि भारत दुनिया भर के संघर्षों के बीच विकास की गति बनाए रखे। हमें इस गति को और बढ़ाना होगा ताकि हम विकसित भारत का अपना सपना पूरा कर सकें। इसके लिए देश में एक स्थिर और पूर्ण बहुमत वाली सरकार का होना बहुत आवश्यक है।

लोगों ने देखा है कि हमारी विदेश नीति में जो अभूतपूर्व परिवर्तन आया है, उसकी वजह भी पूर्ण बहुमत वाली स्थिर और मजबूत सरकार है। आज विश्व के हर मंच पर भारत अपनी बात पूरे आत्मविश्वास से कहता है। जब दुनियाभर में तेल के दाम बढ़ रहे हैं, तब भारत बिना किसी दबाव के रूस से तेल खरीदता है क्योंकि भारत के पास एक स्थिर सरकार है। आज भारत दुनिया के हर देश से आंख मिलाकर बात करता है। इसका कारण भी पूर्ण बहुमत की सरकार है।

Following is the clipping of the interview:

Source: Dainik Jagran