প্রধান মন্ত্রীনা থৌরম অসিদা নীংশিং শেনয়েক অমসুং পোস্তেজ স্তাম্প ফোঙখি
“লৈবাক অসিনা শীংথানীংঙাই ওইরবা গুরুশিংগী পাউতাক মতুং ইন্না তুংলমচত্তা খোঙদারী”
“চহি ১০০ মীখা পোল্লবা মতুংদা ফংখিবা ভারতকী নীংতম্বগা মসিগী স্পিরিচুএল অমসুং কলচরগী খোঙচত্তগী তোঙান্না খাইদোকপা য়ারোই”
“ঔরংজেবকী তমথীবা ৱাখল্লোগী মাঙদা, গুরু তেঘ বহাদুরজীনা ‘হিন্দ দি চাদর’গী শক্তম লাংখি”
“ঐখোয়না অনৌবা ভারতকী মঙালদা গুরু তেঘ বহাদুরজীগী থৌজালবু মফম খুদিংদা উবা ফংলি”
“ঐখোয়না ‘এক ভারত’ অসিবু গুরুগী লৌশিং অমসুং থৌজালগী মওংদা মফম খুদিংদা উবা ফংলি”
“ঙসিদি, ভারতনা মালেমগী তংদু লৈতাদবা ফিভম কয়াগী মরক্তা লৈরবফাওবা মশাগী তংদু লৈতাবা ফিভমগা লোয়ননা শান্তি পুরক্নবা তকশিল্লি অমসুং ভারতনা মশাগী ঙাকশেলগীদমক্তা খোঙফম চেৎলি”

ৱাহে গুরুকীগী খালসা।

 

ৱাহে গুরিজীগী মাইপাকপা।

 

ফম্পাক অসিদা ফম্মিবা মশক নাইবা মীওইশিং, থৌরম অসিদা শরুক য়াবীরিবা মীওইশিং, মালেম পুম্বদগী ভর্চুএল ওইনা শরুক য়ারিবা মশক নাইবা মীওই পুম্নমক!

 

গুরু তেগ বহাদুরজীগী ৪০০শুবা প্রকাশ পরবদা কত্থোকখিবা অচৌবা থৌরম অসিদা ঐহাক্না ময়ামবু তরাম্না ওকচরি। ঐহাক্না হৌজিক শবদ কীর্তন তাবদা ফংখিবা নুংঙাইবা অদু ৱাহৈনা ফোঙদোকপা ঙম্লোই।

 

ঙসি ঐহাক্না গুরুদা কত্থোকপা নীংশিং শেনয়েক অমসুং পোস্তেজ স্তাম্প অমা ফোঙবগী খুদোংচাবা অমসু ফংজরি। ঐহাক্না মসি ঐখোয়গী গুরুশিংগী অখন্নবা থৌজাল অমনি হায়না লৌজৈ। মমাংদা ২০১৯দা ঐহাক্না গুরু নানক দেবজীগী ৫৫০শুবা প্রকাশ পরব অমসুং ২০১৭তা গুরু গোবিন্দজীগী ৩৫০শুবা প্রকাশ পরব পালন তৌবগী খুদোচাবা ফংজখি।

 

ঙসি ঐখোয়গী লৈবাক অসিনা ঐখোয়গী গুরুশিংনা তাকপী-তম্বীরম্বা ৱাখল্লোনশিং অদুদা মপুং ফানা কত্থোক্তুনা মাংদা চংশিল্লিবা অসিদা ঐহাক্না নুংঙাইবা পোকই। য়াইফরবা থৌরম অসিদা ঐহাক্না গুরু তরাগী খুয়া খাদা ইকোক নোন্না খুরুমজরি। ময়াম পুম্নমক্তা, ইরৈবাকচা পুম্নমক্তা অমসুং গুরুবানীদা থাজবা থম্বা মীওই পুম্নমক্তা ঐহাক্না প্রকাশ পরবগী থৌরমনা লাকপদা য়াইফ-পাউজেল পীজরি।

 

মরুপশিং,

 

লাল কিলা অসিনা মরু ওইবা মতম কয়াগী শাখি ওইরি। লানবন অসিনা গুরু তেগ বহাদুরজীনা থৱায় থাখিবা অদু উখি অমসুং লৈবাক অসিগীদমক থৱায় থাখিবা মীওই কয়াবুসু উখি। নীংতম্বা ফংখিবা চহি ৭৫ শুরক্লবা মতুংদা মফম অসিদা ভারতকী মঙাল কয়াগী কোন্থংনা নীংলরে। মরম অসিনা থৌরম অসিনা আজাদী কা অমৃত মহোৎসবকী মনুংদা থৌরম অসি লাল কিলাদা পাঙথোকপা অসিনা মসিবু য়াম্না অখন্নবা ওইহল্লি।

 

মরুপশিং,

 

ঐখোয়গী নীংতম লান্মী কয়া-কয়ানা কত্থোকখিবশিং অদুনা মরম ওইরগা ঐখোয়না ঙসি মফম অসিদা য়ৌবা ঙম্লিবনি। নীংতম্বা ভারত অমা, মশাগী ৱারেপ লৌজবা ঙম্বা ভারত অমা, গন্ত্র চৎপা ভারত অমা, মালেমদা লৈত-লায়রববু তেংবাংবগী পাউজেল শন্দোক্লিবা হিন্দুস্তান অমগী মঙলান অদু থুংহন্নবা মীওই কয়ামরুম্না মখোয় মশাবু কত্থোকখি।

 

মসিগী ভারতভুমি অসি শুপ্নগী লৈবাক অমা খক্তা নত্তে, মাগী অথোইবা লন অমসুং অথোইবা চৎনবী লৈজৈ। ঋসিশিং, লম্বোইবশিং অমসুং গুরুশিংনা চহি লিশিং কয়া তপ্যা তৌদুনা মগুন হাপখি, মহাক্কী ৱাখল্লোন মগুন হাপখি। চৎনবী অসিবু ইকাই খুম্নবা উৎনবা গুরু তরানা মাগী শক্তাক ঙাকচনবগীদমক মখোয়গী পুন্সি কত্থোকখি।

 

মরম অসিনা মরুপশিং,

 

চহি কয়া মীনাই-নাইথাং ওইদুনা লৈরম্বা অদুগী নীংখা তম্নবা হোৎনবা অসি ভারতকী নীংতম্বা, ভারতকী স্পিরিচুএল অমসুং কলচরগী ওইবা খোঙচৎতগী কৈদৌঙৈদা তোখাইনা উবা য়ারোই। মরম অসিনা ঙসি লৈবাক অসিনা আজাদী কা অমৃত মহোৎসব পালন তৌরিবা মতম অসিদা মান্নবা ফিরেপশিংগা লোয়ননা পুন্না গুরু তেগ বহাদুরজীগী ৪০০শুবা প্রকাশ পরব পাঙথোক্লি।

 

মরুপশিং,

 

ঐখোয়গী গুরুশিংনা মতম চুপ্পদা লৌশিং অমসুং স্পিরিচুএলিতীগা লোয়ননা খুন্নাই অমসুং কলচরগী থৌদাং লৌদুনা লাকখি। মহাক্না শক্তি অসি শেবা তৌনবগী পাম্বৈ অমা ওইহনখি। গুরু তেগ বহাদুরজী পোকখিবদা গুরুগী মপাবুংনা অসুম্না হায়খি -

“তিন রচ্ছ সঙ্কত হরন”।

হায়বদি, অঙাং অসি অথোইবা থৱায় অমনি। মহাক্না ওৎ-নৈবীরবশিংবু ঙাকশেনগনি, অৱাববু মাইথিবা মীশক অমা ওইগনি। মরম অসিনা শ্রী গুরু হরগোবিন্দনা মহাক্কী মমিং ত্যাগমল হায়না থোনখি। মসিগী কত্থোকপা অসি গুরু তেগ বহাদুরজীনা মহাক্কী পুন্সিদসু উৎখি। গুরু গোবিন্দ সিংহনা মহাক্কী মরমদা অসুম্না ইরমখি-

 

“তেগ বহাদর সিমরিয়ে, গর নো নিধি আবৈ ধাই।

 

সব থাই হোই সহাই”।

ৱাহন্থোক্তি, গুরু তেগ বহাদুরজীগী সুমিরনদগী সিদ্ধি পুম্নমক মশানা মশক উৎচরকই। গুরু তেগ বহাদুরজীদা অদুগুম্বা থোইদোকপা লাইনীংগী ওইবা মগুন চেনখি, মঙোন্দা মগুল লৈরবা তোপ-তোপ্পা মহৈ চেল্লি।

 

মরুপশিং,

 

মফম অসিদা লাল কিলাগী মনাক অসিদা গুরু তেগ বহাদুরনা অমর ওইরবা কত্থোকখিবা অদুগী খুদম অমা ওইরিবা গুরুদ্বারা শিশগঞ্জ সাহিবসু লৈ। মসিগী গুরুদ্বারা অসিনা ঐখোয়দা ঐখোয়বগী অচৌবা কলচর অসিবু ঙাকশেন্নবগীদমক গুরু তেগ বহাদুরনা করম্না কত্থোকখিবগে হায়বা অদু নীংশিংহল্লি। মতম অদুদা লৈবাক অসিদা লাইনীংবু হকচিন্না লৌবা মীওই কয়া লৈরমখি। ঐখোয়গী ভারতকী মাংদা লাইনীং অসি ফিলোসোফী, সাইন্স অমসুং সেল্ফ-রেসর্চকী হীরম অমা ওইনা লৌবা, লাইনীংগী মীংদা হিংশা অমসুং তমথিবা থবক চত্থবা মীওই কয়া লৈরমখি। মতম অদুদা ভারতনা গুরু তেগ বহাদুরজীগী শক্লোনদা মাগী শক্তাক কনজনবা অচৌবা আশা অমা ফংজখি। ওরঙ্গজেবকী তমথীরবা ৱাখল্লোনগী মাংদা গুরু তেগ বহাদুরনা ‘হিন্দ দি চাদর’গী শক্লোন লৌখি অমসুং নুংগুম্না লেপখি। পুৱারীনা শাখিনি, হৌজিক্কী মতম অসিনা শাখিনি অমসুং লাল কিলা অসিনা শাখিনি মদুদি ওরঙ্গজেবনা মীগী মঙক কয়া ককখি, অদুবু ঐখোয়গী লাইনীংদা হোংহনবা ঙমখিদে। গুরু তেগ বহাদুরনা কত্থোকখিবা অদুনা মীরোল কয়াদা লৈবাক্কীদমক হিংনবা অমসুং মখোয়গী চৎনবী ঙাক্নবা থৱায় থানবা ইথিল পীদুনা লাকখি। অচৌবা শক্তিশিং মাংখ্রে, অচৌবা নোংলৈ কয়া তমথখ্রে অদুবু ভারতনা ঙসিসু অমর ওইনা লৈরি, ভারতনা মাংদা চংশিল্লি। ঙসি অমুক হন্না মালেমনা মীওইবা খুন্নাইবু লমজিংনবা লম্বী তাক্নবগী আশাদা ভারত্তা মীৎয়েং থম্নরক্লি। ঐখোয়না ‘অনৌবা ভারত’কী ওইরিবা ফীভম অসিদা মফম খুদিংদা তেগ বহাদুরজীগী থৌজালশিং অদু ফাওবা ফংলি।

 

ইচিল-ইনাওশিং,

 

ঐখোয়গী মাংদা অনৌবা শীংনবা অমা হেক্তা থোরকপা মতমদা, অনৌবা লম্বীদা লমজিংদুনা অরিবা লৈবাক অসিদা মাইকৈ তাক্নবা অথোইবা থৱায় খরা থোরকই। রিজন খুদিংদা, ভারতকী কাচিন-কোয়া খুদিংদা ঐখোয়গী গুরুশিংগী ইথিল অমদি লৌশিংনা ঙালহল্লি। গুরু নানক দেবজীনা লৈবাক পুম্ববু লংলা অমনা পুনশিনবীরমখি। গুরু তেগ বহাদুরগী তুংইনবশিং মফম খুদিংদা লৈ। গুরুশিংগী লৌশিং অমসুং থৌজালশিংগী শক্লোন লৌদুনা মফম খুদিংদা, পতবাগী পতনা সাহিব অমসুং দিল্লীগী রকাবগঞ্জ সাহিবতা ‘এক ভারত’ উবা ফংলি।

 

ইচিল-ইনাওশিং,

 

গুরুশিংগী শেবা তৌজনবা খুদোংচাব ফংজবা অসিদা ঐহাক্না ঐহাক্কী সরকার অসি লাইবক ফৈ হায়না লৌজৈ। হৌখিবা চহিমক্তদা ঐখোয়গী সরকারনা দিসেম্বর ২৬ অসিবু ভীর বাল দিবস হায়না সাহিবজাদশিংনা কত্থোকখিবশিং অদুবু নীংশিংবা ওইনা পালন তৌনবা ৱারেপ লৌখি। ঐখোয়গী সরকারনা সিখকী লাইনীংগী ওইবা লাইফমলেনশিং শম্নহন্নবা খোঙথাংশিং লেপ্পা লৈতনা পাইখৎলি। দিকেদ কয়া ঙাইদুনা লৈরক্লবা করতারপুর সাহিব কোরিদোর শাদুনা ঐখোয়গী সরকারনা গুরু সেবগীদমক ৱাশকখিবা অদু ঙাকখি। ঐখোয়গী সরকারনা পতনা সাহিব য়াওনা গুরু গোবিন্দজীগা মরী লৈনবা মফমশিংদা মতমগা চুনরবা রেল ফেসিলিতীশিং ফংহনখি। ‘স্বাদেশ দর্শন য়োজনা’গী খুত্থাংদা পঞ্জাবকী অনন্দপুর সাহিব অমসুং অমৃতসরগী অমৃতসর সাহিব য়াওনা মরু ওইবা মফম পুম্নম শম্নহন্নবা পিলগ্রিমেজ সর্কিৎ অমা শেগৎলি। উত্তরাখন্দদা হেমকুন্দ সাহিবকীদমক রোপৱে শাবগী থবক চত্থরি।  

মরুপশিং,

 

শ্রী গুরুগ্রন্থ সাহিবজী অসি ঐখোয়গী ওইনদি ইশাবু মশক খঙজনবা লমজিংলিবা লোয়ননা ভারতকী দাইভর্সিতী অমসুং য়ুনিতীগী হিংদুনা লৈরিবা খুদম অমা ওইরি। মরম অসিনা অফঘানিস্তান্দা ইরাং অমা থোকপা মতমদা ঐখোয়গী শেংলবা গুরু গ্রন্থ সাহিবকী স্বরুপশিং অমুক হন্না পুরক্নবা হোৎনখি, ভারত সরকারনা অঙম্বা থাক্তা হোৎনখি। ঐখোয়না ইকাই খুম্নবগা লোয়ননা কোকথক্তা হাপতুনা শ্রী গুরু গ্রন্থ সাহিবকী স্বরুপশিং পুরকখি। মসিতা নত্তনা অৱাবা তারবা ঐখোয়গী সিখ ইচিল-ইনাওশিংসু কনখি। সিতিজেন অমেন্দমেন্ত এক্ত অসিনা য়ুমলোন্নরিবা লৈবাকশিংদা লৈরিবা সিখ অমসুং মশিং য়ামজদবা কাংলুপশিংবু লৈবাক অসিগী সিতিজেনশিপ ফংনবগী লম্বী অমা পীরি। পুম্নমক অসি ঐখোয়গী গুরুশিংনা মীওইবা খুন্নাই হান্না হায়বা ৱাখল্লোনশিং তাকপীরম্বা অদুনা ওইথোকপা ঙম্বনি। নুংশি-চান্নবা অমসুং শন্তি লৈবা হায়বা অসি ঐখোয়গী চৎনবীনি।

মরুপশিং,

 

ঐখোয়গী গুরুগী খোলাওদি,

 

ভৈ কাহু কো দেত নহি,

নহি ভৈ মানত আন।

 

কহু নানক সুনি রে মনা,

জ্ঞানী তাহি বখানি।

 

হায়বদি, লৌশিং লৈবা হায়বা অসি কনাগুম্ববু কিহনবা তৌদে, নত্ত্রগা মহাক মশানা কনাবুসু কীদে। ভারতনা লৈবাক নত্ত্রগা খুন্নাই অমত্তদা অকী-অখং পীখিবা লৈতে। ঙসিমকসু ঐখোয়না মালেম পুম্বগী য়াইফনবা খল্লি। অপাম্বা অমা খক্তা লৈ। করিগুম্বা ঐখোয়না আত্মনির্ভর ভারতকী মতাংদা ৱারী শাবা মতমদা মালেম পুম্বনা চাউখৎপা হায়বা পান্দম অসি মাংদা থমখি। ভারতনা মালেমদা য়োগ শন্দোক্লিবা অসি মালেম পুম্বনা হকচাং ফবা অমসুং শান্তি লৈবা ওইহনবা পাম্বদগীনি। ঐহাক্না ঙরাং খক্তা গুজরাত্তগী হল্লকখি। মফম অদুদা ৱর্ল্দ হেল্থ ওর্গনাইজেসনগী গ্লোবেল সেন্তর ফোর ত্রেদিস্নেল মেদিসিন উরেপ-উয়ুং তমখি। হৌজিক ভারতনা মালেমগী কাচিন-কোয়া শিনবা থুংবদা ত্রেদিস্নেল মেদিসিনগী লান্নবশিং ফংহল্লগনি, মীয়ামগী হকশেল ফগৎহনবদা মরু ওইবা থৌদাং লৌরগনি।

মরুপশিং,

 

ঙসি ভারতনা মালেমদা লান থোক্লিঙৈ চৈরক অসিদা শান্তি অমদি তংদু লৈতাবা ফীভম অমদা পুরক্নবা হোৎনরি। অমসুং ভারতনা মশাগী ঙাকশেলগীদমক ঙসিসু খোঙফম চেৎনা লেপ্পি। ঐখোয়গী মাংদা ঐখোয়দা গুরুশিংনা তাকপীরম্বা অথোইবা সিখকী চৎনবী অদু লৈরি। অরিবা ৱাখল্লোনশিং, অরিবা স্তেরিওতাইপশিং লৌথোক্লদুনা গুরুশিংনা অনৌবা ৱাখল্লোনশিং মাংদা পূথোক্লি। মখোয়গী তুংইল্লিবশিংনা মদুবু ইনখি অমসুং মদুদগী তমজখি। অসিগুম্বা অনৌবা ৱাখল্লোন খনবগী থৌওং অসিমক্না ৱাখল খনবগী অনৌবা থৌওং ওইখি। অনৌবা ৱাখল্লোন খনবা, লেপ্তনা শু-নোম্বা অমসুং হোৎনবা অমসুং ১০০%গী চাংদা ৱাখল চেৎপা হায়বসিনা ঙসি ফাওবদা ঐখোয়গী সিখ খুন্নাইগী শক্তাক ওইরি। মসিদি নীংতম্বগী অমৃত মহোৎসবকী মতমদা লৈবাক অসিনা লৌবা ৱারেপ্নি। ঐখোয়না ইশাগী শক্তাক্কীদমক্তা চাউথোকচগদবনি। ঐখোয়না লোকেলগীদমক্তা চাউথোকচগদবনি অমসুং মরোমদোম লেপচবা ঙম্বা ভারত অমা শেমগদবনি। ঐখোয়না মালেমনা মীৎয়েং থম্লিবা , মালেমবু অনৌবা পনখৈ তম্না পুখৎপা ঙম্বা মতিক ময়াই চেনবা ভারত অমা ওইহন্নবা হোৎনগদবনি। লৈবাক চাউখৎহনবা হায়বা অসি ঐখোয় পুম্নমক্কী থৌদাংনি। মসিগীদমক ‘মীপুম খুদিংমক্না শরুক য়াবা’ তঙাই ফদে। গুরুশিংগী থৌজালশিংগা লোয়ননা ভারতনা চাউখৎপগী পন্দোম লোম্বা ঙমগনি হায়না ঐহাক্না থাজৈ। ঐখোয়না নীংতম্বগী চহি চামা শুরকপা মতমদা ঐখোয়গী মাংদা অনৌবা ভারত অমা লৈরগনি।

 

গুরু তেগ বহাদুরজীনা অসুম্না হায়বীরমখি -

 

সাধো,

গোবিন্দ কে গুন আৱো।

 

মানস জন্ম অমোল কপায়ো,

য়্যর্থা কাহে গবাবো।

 

ৱাখল্লোন অসিগা লোয়ননা ঐখোয়না লৈবাক অসিগীদমক্তা ঐখোয়গী পুন্সিগী মীকুপ খুদিংমক কত্থোকপা তাই। পুন্না ঐখোয়না থাজবা অসুগা লোয়ননা লৈবাক অসিবু চাউখৎপগী অনৌবা পনখৈ তম্না পুখৎকদবনি। অমুক হন্না ঐহাক্না পুম্নমক্তা থমোয় শেংনা থাগৎপা ফোঙদোচরি।

 

ৱাহে গুরুজীগী খালসা।

 

ৱাহে গুরুজীগী মাইপাকপা।

Explore More
৭৭শুবা নিংতম্বা নুমিৎ থৌরমদা লাল কিলাদগী প্রধান মন্ত্রী শ্রী নরেন্দ্র মোদীনা ৱা ঙাংখিবগী মপুংফাবা ৱারোল

Popular Speeches

৭৭শুবা নিংতম্বা নুমিৎ থৌরমদা লাল কিলাদগী প্রধান মন্ত্রী শ্রী নরেন্দ্র মোদীনা ৱা ঙাংখিবগী মপুংফাবা ৱারোল
Equity euphoria boosts mutual fund investor additions by 70% in FY24

Media Coverage

Equity euphoria boosts mutual fund investor additions by 70% in FY24
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
I.N.D.I alliance have disregarded the culture as well as development of India: PM Modi in Udhampur
April 12, 2024
After several decades, it is the first time that Terrorism, Bandhs, stone pelting, border skirmishes are not the issues for the upcoming Lok Sabha elections in the state of JandK
For a Viksit Bharat, a Viksit JandK is imminent. The NC, PDP and the Congress parties are dynastic parties who do not wish for the holistic development of JandK
Abrogation of Article 370 has enabled equal constitutional rights for all, record increase in tourism and establishment of I.I.M. and I.I.T. for quality educational prospects in JandK
The I.N.D.I alliance have disregarded the culture as well as the development of India, and a direct example of this is the opposition and boycott of the Pran-Pratishtha of Shri Ram
In the advent of continuing their politics of appeasement, the leaders of I.N.D.I alliance lived in big bungalows but forced Ram Lalla to live in a tent

भारत माता की जय...भारत माता की जय...भारत माता की जय...सारे डुग्गरदेस दे लोकें गी मेरा नमस्कार! ज़ोर कन्ने बोलो...जय माता दी! जोर से बोलो...जय माता दी ! सारे बोलो…जय माता दी !

मैं उधमपुर, पिछले कई दशकों से आ रहा हूं। जम्मू कश्मीर की धरती पर आना-जाना पीछले पांच दशक से चल रहा है। मुझे याद है 1992 में एकता यात्रा के दौरान यहां जो आपने भव्य स्वागत किया था। जो सम्मान किया था। एक प्रकार से पूरा क्षेत्र रोड पर आ गया था। और आप भी जानते हैं। तब हमारा मिशन, कश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा फहराने का था। तब यहां माताओं-बहनों ने बहुत आशीर्वाद दिया था।

2014 में माता वैष्णों देवी के दर्शन करके आया था। इसी मैदान पर मैंने आपको गारंटी दी थी कि जम्मू कश्मीर की अनेक पीढ़ियों ने जो कुछ सहा है, उससे मुक्ति दिलाऊंगा। आज आपके आशीर्वाद से मोदी ने वो गारंटी पूरी की है। दशकों बाद ये पहला चुनाव है, जब आतंकवाद, अलगाववाद, पत्थरबाज़ी, बंद-हड़ताल, सीमापार से गोलीबारी, ये चुनाव के मुद्दे ही नहीं हैं। तब माता वैष्णो देवी यात्रा हो या अमरनाथ यात्रा, ये सुरक्षित तरीके से कैसे हों, इसको लेकर ही चिंताएं होती थीं। अगर एक दिन शांति से गया तो अखबार में बड़ी खबर बन जाती थी। आज स्थिति एकदम बदल गई है। आज जम्मू- कश्मीर में विकास भी हो रहा है और विश्वास भी बढ़ रहा है। इसलिए, आज जम्मू-कश्मीर के चप्पे-चप्पे में भी एक ही गूंज सुनाई दे रही है-फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

भाइयों और बहनों,

ये चुनाव सिर्फ सांसद चुनने भर का नहीं है, बल्कि ये देश में एक मजबूत सरकार बनाने का चुनाव है। सरकार मजबूत होती है तो जमीन पर चुनौतियों के बीच भी चुनौतियों को चुनौती देते हुए काम करके दिखाती है। दिखता है कि नहीं दिखता है...दिखता है कि नहीं दिखता है। यहां जो पुराने लोग हैं, उनको 10 साल पहले का मेरा भाषण याद होगा। यहीं मैंने आपसे कहा था कि आप मुझपर भरोसा कीजिए, याद है ना मैंने कहा था कि मुझ पर भरोसा कीजिए। मैं 60 वर्षों की समस्याओं का समाधान करके दिखाउंगा। तब मैंने यहां माताओं-बहनों के सम्मान देने की गारंटी दी थी। गरीब को 2 वक्त के खाने की चिंता न करनी पड़े, इसकी गारंटी दी थी। आज जम्मू-कश्मीर के लाखों परिवारों के पास अगले 5 साल तक मुफ्त राशन की गारंटी है। आज जम्मू कश्मीर के लाखों परिवारों के पास 5 लाख रुपए के मुफ्त इलाज की गारंटी है। 10 वर्ष पहले तक जम्मू कश्मीर के कितने ही गांव थे, जहां बिजली-पानी और सड़क तक नहीं थी। आज गांव-गांव तक बिजली पहुंच चुकी है। आज जम्मू-कश्मीर के 75 प्रतिशत से ज्यादा घरों को पाइप से पानी की सुविधा मिल रही है। इतना ही नहीं ये डिजिटल का जमाना है, डिजिटल कनेक्टिविटी चाहिए, मोबाइल टावर दूर-सुदूर पहाड़ों में लगाने का अभियान चलाया है। 

भाइयों और बहनों,

मोदी की गारंटी यानि गारंटी पूरा होने की गारंटी। आप याद कीजिए, कांग्रेस की कमज़ोर सरकारों ने शाहपुर कंडी डैम को कैसे दशकों तक लटकाए रखा था। जम्मू के किसानों के खेत सूखे थे, गांव अंधेरे में थे, लेकिन हमारे हक का रावी का पानी पाकिस्तान जा रहा था। मोदी ने किसानों को गारंटी दी थी और इसे पूरा भी कर दिखाया है। इससे कठुआ और सांबा के हजारों किसानों को फायदा हुआ है। यही नहीं, इस डैम से जो बिजली पैदा होगी, वो जम्मू कश्मीर के घरों को रोशन करेगी।

भाइयों और बहनों,

मोदी विकसित भारत के लिए विकसित जम्मू-कश्मीर के निर्माण की गारंटी दे रहा है। लेकिन कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी और बाकी सारे दल जम्मू-कश्मीर को फिर उन पुराने दिनों की तरफ ले जाना चाहते हैं। इन ‘परिवार-चलित’ पार्टियों ने, परिवार के द्वारा ही चलने वाली पार्टियों ने जम्मू कश्मीर का जितना नुकसान किया, उतना किसी ने नहीं किया है। यहां तो पॉलिटिकल पार्टी मतलब ऑफ द फैमिली, बाई द फैमिली, फॉर द फैमिली। सत्ता के लिए इन्होंने जम्मू कश्मीर में 370 की दीवार बना दी थी। जम्मू-कश्मीर के लोग बाहर नहीं झांक सकते थे और बाहर वाले जम्मू-कश्मीर की तरफ नहीं झांक सकते थे। ऐसा भ्रम बनाकर रखा था कि उनकी जिंदगी 370 है तभी बचेगी। ऐसा झूठ चलाया। ऐसा झूठ चलाया। आपके आशीर्वाद से मोदी ने 370 की दीवार गिरा दी। दीवार गिरा दी इतना ही नहीं, उसके मलबे को भी जमीन में गाड़ दिया है मैंने। 

मैं चुनौती देता हूं हिंदुस्तान की कोई पॉलीटिकल पार्टी हिम्मत करके आ जाए। विशेष कर मैं कांग्रेस को चुनौती देता हूं। वह घोषणा करें कि 370 को वापस लाएंगे। यह देश उनका मुंह तक देखने को तैयार नहीं होगा। यह कैसे-कैसे भ्रम फैलाते हैँ। कैसे-कैसे लोगों को डरा कर रखते हैं। यह कहते थे, 370 हटी तो आग लग जाएगी। जम्मू-कश्मीर हमें छोड़ कर चला जाएगा। लेकिन जम्मू कश्मीर के नौजवानों ने इनको आइना दिखा दिया। अब देखिए, जब यहां उनकी नहीं चली जम्मू-कश्मीर को लोग उनकी असलीयत को जान गए। अब जम्मू-कश्मीर में उनके झूठे वादे भ्रम का मायाजाल नहीं चल पा रही है। तो ये लोग जम्मू-कश्मीर के बाहर देश के लोगों के बीच भ्रम फैलाने का खेल-खेल रहे हैं। यह कहते हैं कि 370 हटने से देश का कोई लाभ नहीं हुआ। जिस राज्य में जाते हैं, वहां भी बोलते हैं। तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ, तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ? 

370 के हटने से क्या लाभ हुआ है, वो जम्मू-कश्मीर की मेरी बहनों-बेटियों से पूछो, जो अपने हकों के लिए तरस रही थी। यह उनका भाई, यह उनका बेटा, उन्होंने उनके हक वापस दिए हैं। जरा कांग्रेस के लोगों जरा देश भर के दलित नेताओं से मैं कहना चाहता हूं। यहां के हमारे दलित भाई-बहन हमारे बाल्मीकि भाई-बहन देश आजाद हुआ, तब से परेशानी झेल रहे थे। जरा जाकर उन बाल्मीकि भाई-बहनों से पूछो और गड्डा ब्राह्मण, कोहली से पूछो और पहाड़ी परिवार हों, मचैल माता की भूमि में रहने वाले मेरे पाड्डरी साथी हों, अब हर किसी को संविधान में मिले अधिकार मिलने लगे हैं।

अब हमारे फौजियों की वीर माताओं को चिंता नहीं करनी पड़ती, क्योंकि पत्थरबाज़ी नहीं होती। इतना ही नहीं घाटी की माताएं मुझे आशीर्वाद देती हैं, उनको चिंता रहती थी कि बेटा अगर दो चार दिन दिखाई ना दे। तो उनको लगता था कि कहीं गलत हाथों में तो नहीं फंस गया है। आज कश्मीर घाटी की हर माता चैन की नींद सोती है क्योंकि अब उनका बच्चा बर्बाद होने से बच रहा है। 

साथियो, 

अब स्कूल नहीं जलाए जाते, बल्कि स्कूल सजाए जाते हैं। अब यहां एम्स बन रहे हैं, IIT बन रहे हैं, IIM बन रहे हैं। अब आधुनिक टनल, आधुनिक और चौड़ी सड़कें, शानदार रेल का सफर जम्मू-कश्मीर की तकदीर बन रही है। जम्मू हो या कश्मीर, अब रिकॉर्ड संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु आने लगे हैं। ये सपना यहां की अनेक पीढ़ियों ने देखा है और मैं आपको गारंटी देता हूं कि आपका सपना, मोदी का संकल्प है। आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल आपके नाम, आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल देश के नाम, विकसित भारत का सपना पूरा करने के लिए 24/7, 24/74 फॉर 2047, यह मोदी के गारंटी है। 10 सालों में हमने आतंकवादियों और भ्रष्टाचारियों पर घेरा बहुत ही कसा है। अब आने वाले 5 सालों में इस क्षेत्र को विकास की नई ऊंचाई पर ले जाना है।

साथियों,

सड़क, बिजली, पानी, यात्रा, प्रवास वो तो है। सबसे बड़ी बात है कि जम्मू-कश्मीर का मन बदला है। निराशा में से आशा की और बढ़े हैं। जीवन पूरी तरीके से विश्वास से भरा हुआ है, इतना विकास यहां हुआ है। चारों तरफ विकास हो रहा। लोग कहेंगे, मोदी जी अभी इतना कर लिया। चिंता मत कीजिए, हम आपके साथ हैं। आपका साथ उसके प्रति तो मेरा अपार विश्वास है। मैं यहां ना आता तो भी मुझे पता था कि जम्मू कश्मीर का मेरा नाता इतना गहरा है कि आप मेरे लिए मुझे भी ज्यादा करेंगे। लेकिन मैं तो आया हूं। मां वैष्णो देवी के चरणों में बैठे हुए आप लोगों के बीच दर्शन करने के लिए। मां वैष्णो देवी की छत्रछाया में जीने वाले भी मेरे लिए दर्शन की योग्य होते हैं और जब लोग कहते हैं, कितना कर लिया, इतना हो गया, इतना हो गया और इससे ज्यादा क्या कर सकते हैं। मेरे जम्मू कश्मीर के भाई-बहन अपने पहले इतने बुरे दिन देखे हैं कि आपको यह सब बहुत लग रहा है। बहुत अच्छा लग रहा है लेकिन जो विकास जैसा लग रहा है लेकिन मोदी है ना वह तो बहुत बड़ा सोचता है। यह मोदी दूर का सोचता है। और इसलिए अब तक जो हुआ है वह तो ट्रेलर है ट्रेलर। मुझे तो नए जम्मू कश्मीर की नई और शानदार तस्वीर बनाने के लिए जुट जाना है। 

वो समय दूर नहीं जब जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा के चुनाव होंगे। जम्मू कश्मीर को वापस राज्य का दर्जा मिलेगा। आप अपने विधायक, अपने मंत्रियों से अपने सपने साझा कर पाएंगे। हर वर्ग की समस्याओं का तेज़ी से समाधान होगा। यहां जो सड़कों और रेल का काम चल रहा है, वो तेज़ी से पूरा होगा। देश-विदेश से बड़ी-बड़ी कंपनियां, बड़ी-बड़ी फैक्ट्रियां औऱ ज्यादा संख्या में आएंगी। जम्मू कश्मीर, टूरिज्म के साथ ही sports और start-ups के लिए जाना जाएगा, इस संकल्प को लेकर मुझे जम्मू कश्मीर को आगे बढ़ाना है। 

भाइयों और बहनों,

ये ‘परिवार-चलित’ परिवारवादी , परिवार के लिए जीने मरने वाली पार्टियां, विकास की भी विरोधी है और विरासत की भी विरोधी है। आपने देखा होगा कि कांग्रेस राम मंदिर से कितनी नफरत करती है। कांग्रेस और उनकी पूरा इको सिस्टम अगर मुंह से कहीं राम मंदिर निकल गया। तो चिल्लाने लग जाती है, रात-दिन चिल्लाती है कि राम मंदिर बीजेपी के लिए चुनावी मुद्दा है। राम मंदिर ना चुनाव का मुद्दा था, ना चुनाव का मुद्दा है और ना कभी चुनाव का मुद्दा बनेगा। अरे राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था, जब कि भाजपा का जन्म भी नहीं हुआ था। राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था जब यहां अंग्रेजी सल्तनत भी नहीं आई थी। राम मंदिर का संघर्ष 500 साल पुराना है। जब कोई चुनाव का नामोनिशान नहीं था। जब विदेशी आक्रांताओं ने हमारे मंदिर तोड़े, तो भारत के लोगों ने अपने धर्मस्थलों को बचाने की लड़ाई लड़ी थी। वर्षों तक, लोगों ने अपनी ही आस्था के लिए क्या-क्या नहीं झेला। कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों के नेता बड़े-बड़े बंगलों में रहते थे, लेकिन जब रामलला के टेंट बदलने की बात आती थी तो ये लोग मुंह फेर लेते थे, अदालतों की धमकियां देते थे। बारिश में रामलला का टेंट टपकता रहता था और रामलला के भक्त टेंट बदलवाने के लिए अदालतों के चक्कर काटते रहते थे। ये उन करोड़ों-अरबों लोगों की आस्था पर आघात था, जो राम को अपना आराध्य कहते हैं। हमने इन्हीं लोगों से कहा कि एक दिन आएगा, जब रामलला भव्य मंदिर में विराजेंगे। और तीन बातें कभी भूल नहीं सकते। एक 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद ये हुआ। आप सहमत हैं। 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद हुआ है, आप सहमत हैं। दूसरा, पूरी न्यायिक प्रक्रिया की कसौटी से कस करके, न्याय के तराजू से तौल करके अदालत के निर्णय से ये काम हुआ है, सहमत हैं। तीसरा, ये भव्य राम मंदिर सरकारी खजाने से नहीं, देश के कोटि-कोटि नागरिकों ने पाई-पाई दान देकर बनाया है। सहमत हैं। 

जब उस मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा हुई तो पिछले 70 साल में कांग्रेस ने जो भी पाप किए थे, उनके साथियों ने जो रुकावटें डाली थी, सबको माफ करके, राम मंदिर के जो ट्रस्टी हैं, वो खुद कांग्रेस वालों के घर गए, इंडी गठबंधन वालों के घर गए, उनके पुराने पापों को माफ कर दिया। उन्होंने कहा राम आपके भी हैं, आप प्राण-प्रतिष्ठा में जरूर पधारिये। सम्मान के साथ बुलाया। लेकिन उन्होंने इस निमंत्रण को भी ठुकरा दिया। कोई बताए, वो कौन सा चुनावी कारनामा था, जिसके दबाव में आपने राम मंदिर के प्राण-प्रतिष्ठा के निमंत्रण को ठुकरा दिया। वो कौन सा चुनावी खेल था कि आपने प्राण-प्रतिष्ठा के पवित्र कार्य को ठुकरा दिया। और ये कांग्रेस वाले, इंडी गठबंधन वाले इसे चुनाव का मुद्दा कहते हैं। उनके लिए ये चुनावी मुद्दा था, देश के लिए ये श्रद्धा का मुद्दा था। ये धैर्य की विजय का मुद्दा था। ये आस्था और विश्वास का मु्द्दा था। ये 500 वर्षों की तपस्या का मुद्दा था।

मैं कांग्रेस से पूछता हूं...आप ने अपनी सरकार के समय दिन-रात इसका विरोध किया, तब ये किस चुनाव का मुद्दा था? लेकिन आप राम भक्तों की आस्था देखिए। मंदिर बना तो ये लोग इंडी गठबंधन वालें के घर प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण देने खुद गए। जिस क्षण के लिए करोड़ों लोगों ने इंतजार किया, आप बुलाने पर भी उसे देखने नहीं गए। पूरी दुनिया के रामभक्तों ने आपके इस अहंकार को देखा है। ये किस चुनावी मंशा को देखा है। ये चुनावी मंशा थी कि आपने प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण ठुकरा दिया। आपके लिए चुनाव का खेल है। ये किस तरह की तुष्टिकरण की राजनीति थी। भगवान राम को काल्पनिक कहकर कांग्रेस किसे खुश करना चाहती थी?

साथियों, 

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के लोगों को देश के ज्यादातर लोगों की भावनाओं की कोई परवाह नहीं है। इन्हें लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने में मजा आता है। ये लोग सावन में एक सजायाफ्ता, कोर्ट ने जिसे सजा की है, जो जमानत पर है, ऐसे मुजरिम के घर जाकर के सावन के महीने में मटन बनाने का मौज ले रहे हैं इतना ही नहीं उसका वीडियो बनाकर के देश के लोगों को चिढ़ाने का काम करते हैं। कानून किसी को कुछ खाने से नहीं रोकता। ना ही मोदी रोकता है। सभी को स्वतंत्रता है की जब मन करें वेज खायें या नॉन-वेज खाएं। लेकिन इन लोगों की मंशा दूसरी होती है। जब मुगल यहां आक्रमण करते थे ना तो उनको सत्ता यानि राजा को पराजित करने से संतोष नहीं होता था, जब तक मंदिर तोड़ते नहीं थे, जब तक श्रद्धास्थलों का कत्ल नहीं करते थे, उसको संतोष नहीं होता था, उनको उसी में मजा आता था वैसे ही सावन के महीने में वीडियो दिखाकर वो मुगल के लोगों के जमाने की जो मानसिकता है ना उसके द्वारा वो देश के लोगों को चिढ़ाना चाहते हैं, और अपनी वोट बैंक पक्की करना चाहते हैं। ये वोट बैंक के लिए चिढ़ाना चाहते हैं । आप किसे चिढ़ाना चाहते हैंनवरात्र के दिनों में आपका नॉनवेज खाना,  आप किस मंशा से वीडियो दिखा-दिखा कर के लोगों की भावनाओं को चोट पहुंचा करके, किसको खुश करने का खेल कर रहे हो।  

मैं जानता हूं मैं  जब आज ये  बोल रहा हूं, उसके बाद ये लोग पूरा गोला-बारूद लेकर गालियों की बौछार मुझ पर चलाएंगे, मेरे पीछे पड़ जाएंगे। लेकिन जब बात  बर्दाश्त के बाहर हो जाती है, तो लोकतंत्र में मेरा दायित्व बनता है कि सही चीजों का सही पहलू बताऊं। और मैं वो अपना कर्तव्य पूरा कर रहा हूं। ये लोग ऐसा जानबूझकर इसलिए करते हैं ताकि इस देश की मान्यताओं पर हमला हो। ये इसलिए होता है, ताकि एक बड़ा वर्ग इनके वीडियो को देखकर चिढ़ता रहे, असहज होता रहे। समस्या इस अंदाज से है। तुष्टिकरण से आगे बढ़कर ये इनकी मुगलिया सोच है। लेकिन ये लोग नहीं जानते, जनता जब जवाब देती है तो बड़े-बड़े शाही खानदान के युवराजों को बेदखल होना पड़ता है।

साथियों, 

ये जो परिवार-चलित पार्टियां हैं, ये जो भ्रष्टाचारी हैं, अब इनको फिर मौका नहीं देना है। उधमपुर से डॉ. जितेंद्र सिंह और जम्मू से जुगल किशोर जी को नया रिकॉर्ड बनाकर सांसद भेजना है। जीत के बाद दोबारा जब उधमपुर आऊं तो, स्वादिष्ट कलाड़ी का आनंद ज़रूर लूंगा। आपको मेरा एक काम और करना है। इतना निकट आकर मैं माता वैष्णों देवी जा नहीं पा रहा हूं। तो माता वैष्णों देवी को क्षमा मांगिए और मेरी तरफ से मत्था टेकिए। दूसरा एक काम करोगे। एक और काम करोगे, मेरा एक और काम करोगे, पक्का करोगे। देखिए आपको घर-घर जाना है। कहना मोदी जी उधमपुर आए थे, मोदी जी ने आपको प्रणाम कहा है, राम-राम कहा है। जय माता दी कहा है, कहोगे। मेरे साथ बोलिए

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय ! 

बहुत-बहुत धन्यवाद