করোর ১০ হেনবা বেনিফিসরী ওইবা লৌমীগী ইমংশিংদা লুপা করোর ২০,০০০ হেন্না ত্রান্সফর তৌখ্রে
লৌমী লাখ ১.২৪ হেন্না কান্নবা পীনবা, পি.এম.না এফ.পি.ও. চাউরাক্না ৩৫১দা লুপা করোর ১৪ এনবা ইক্বিতী গ্রান্তসু থাদোকখ্রে
“এফ.পি.ও.শিংনা ঐখোয়গী অপিকপা লৌমীশিংগী কনখৎলক্লিবা মপাঙ্গল অসিবু অপুনবগী ওইবা শক্তম অমা পীবদা য়াম্না মরু ওইবা থৌদাং লৌরিবনি”
“লৈবাক অসিগী লৌমীশিংগী থাজবা অদুনা লৈবাক্কী মরু ওইবা মপাঙ্গল ওইরিবনি”
“ঐখোয়না ২০২১দা ফংখিবা এচীবমেন্ত অদুদগী মতৌ তমদুনা অনৌবা খোংচৎ অমগী খোংথাং থাংগদবনি ”
“ ‘নেশন ফার্স’কী ৱাখল্লোনগা লোইননা লৈবাক মীয়ামদা কৎথোকপা হায়বসিনা হৌজিক্তি ভারত মচা খুদিংমক্কী ৱাখল্লোন ওইরক্লি। মরম অদুনা, ঙসিদি ঐখোয়না হোৎনরিবশিং অমসুং ঐখোয়না তৌগেনা নিংলিবশিংদা অমত্তা ওইনা লৈপ্লিবনি।
“পি.এম. কিসান সম্মান নিধি অসি ভারতকী লৌমীশিংগীদমক্তদি য়াম্না চাউবা তেংবাং অমনি। করিগুম্বা ঐখোয়না ঙসিগী ত্রান্সফর অসি য়াওহল্লবদি, পুন্না লুপা করোর লাখ ১.৮০গী মথক্তা লৌমীশিংগী মশা-মশাগ

গ্রাসরুত লেভেলদা লৈবা লৌমীশিং এমপাৱর তৌনবা লেপ্তনা তৌরক্লিবা কমিৎমেন্ত অমসুং অচেৎপা ৱারেপ অদুগী মতুং ইন্না, প্রধান মন্ত্রী, শ্রী নরেন্দ্র মোদীনা ঙসি ভীদিও কনফরেন্সিংগী খুত্থাংদা  প্রধান মন্ত্রী কিসান সম্মান নিধি (পি.এম.-কিসান)গী মখাদা ফাইনান্সিয়েল বেনিফিতকী ১০শুবা ইন্সতোলমেন্ত থাদোকখ্রে। মসিনা করোর ১০ হেনবা বেননিফিসরী ওইবা লৌমীগী ইমুংশিংদা লুপা করোর ২০,০০০ হেনবা শেনফম অমা ত্রান্সফর তৌবা ঙমহনখ্রে। থৌরম অদুদা, প্রধান মন্ত্রীনা ফার্মর প্রোদ্যুসর ওর্গনাইজেশন  (এফ.পি.ও.) চাউরাক্না ৩৫১দা লুপা করোর ১৪ হেনবা ইক্বিতী গ্রান্তসু ধাদোকখ্রে, মসিনা লৌমী লাখ ১.২৪ হেন্না কান্নগনি। থৌরম অদুদা প্রধান মন্ত্রীনা এফ.পি.ও.শিংগা লোইননা ৱারি-ৱাতাই শানখি। থৌরম অদুদা কেন্দ্রগী মন্ত্রী, নরেন্দ্র সিং তোমার অমসুং মুখ্য মন্ত্রীশিং, এল.জি.শিং, লৌউ-শিংউগী মন্ত্রীশিং অমসুং রাজ্য কয়াদগী লৌমীশিং লিঙ্ক তৌখি। 

উত্তরাখন্দদগী এফ.পি.ও.শিংগা ৱারি-ৱাতাই শাদুনা, মখোয়না ওর্গানিক ফার্মিংগী চোইস অমসুং ওর্গানিক প্রোদক্তশিংগী  সার্তিফিকেশনগী মরমগী অদুগী মতাংদা প্রধান মন্ত্রীনা হংখি। এফ.পি.ও.নসু ওর্গানিক ফর্তিলাইজরশিংগীদমক্তা মখোয়না করম্না শিন-লাংখিবগে হায়বগী মতাংদা প্রধান মন্ত্রীদা হায়খি। প্রধান মন্ত্রীনা হায়খি মদুদি সরকার অসিনসু নেচরেল অমসুং ওর্গানিক ফার্মিংবু পাক-শন্না শৌগৎনবা হোৎনদুনা লাক্লি, মরমদি মসিনা কেমেকেল ফর্তিলাইজরগী মপাল তাংবা হন্থহল্লি অমসুং লৌমীশিংগী ইনকম হেনগৎহল্লি।

পঞ্জাবতগী এফ.পি.ও.না পরালিবু মৈ থাদোক্তনা করম্না দিসপোজ তৌগনি হায়বগী মতাংদসু প্রধান মন্ত্রীদা খঙহনখি। মখোয়না সুপরসীদর অমসুং সরকারগী এজেন্সীদগী ফংখিবা মতেংগী মতাংদসু ৱারি শারকখি। প্রধান মন্ত্রীনা পরালি মেনেজমে্তকি মতাংদা মখোয়না থেংনখিবা এক্সপরিয়েন্স অদুবু মফম খুদিংমক্তা শন্দোক্নবগী অপাম্বা ফোংদোকখি।

রাজস্থানদগী এফ.পি.ও.না  খোইহি লোকপগী মতাংদা ৱারি শারকখি। মখোয়না হায়খি মদুদি এন.এ.এফ.ই.দি.গী মতেংগা লোইননা এফ.পি.ও.গী কনসেপ্ত অসি মখোয়গীদমক্তা য়াম্না কান্নৈ।

উত্তর প্রদেশতগী এফ.পি.ও.না প্রধান মন্ত্রীবু লৌমীশিংগী য়াইফনবগী ফাউন্দেশন অমা ওইনা এফ.পি.ও.শিং শেম্বগীদমক্তা থাগৎপা ফোংদোকখি। মখোয়না মেম্বরশিংবু মরুশিং, ওর্গানিক ফর্তিলাইজরশিং, হোর্তিকলচর প্রোদক্তশিংগী মখলশিং পীদুনা মতেং পাংনবগী মতাংদা ৱারি শাখি।  মখোয়না লৌমীশিংবু সরকারগী স্কীমশিংগী কান্নবা লৌবদা মতেং পাংনবগী মতাংদসু ৱারি শাখি। মখোয়না ই-নাম ফেসিলিতীশিংগী খুদোংচাবশিং ফংলি। মখোয়না লৌমীশিংগী ইনকম শরুক অনি থোক্না হেনগৎহন্নবা প্রধান মন্ত্রী মঙলান অদুবু মঙফাওননবা থাজবা পীরকখি। প্রধান মন্ত্রীনা হায়খি মদুদি লৈবাক অসিগী লৌমীশিংগী থাজবনা লৈবাক অসিগী মরু ওইবা পাঙ্গল ওইরিবনি।  

তামিল নাদুদগী এফ.পি.ও.না খঙহল্লকখি মদুদি নাবার্দকী মতেংগা লোইননা, মখোয়না হেন্না ফবা মমল ফংনবা এফ.পি.ও. শেমখি অমসুং এফ.পি.ও. অসি নুপীশিংনা মপুং ফানা মপু ওইরি অমসুং মপুং ফানা চালাইরি। মখোয়না প্রধান মন্ত্রীদা খঙহনখ্রে মদুদি সোর্ঘুম অসি মফম অদুগী ঈশিং-নুংশিৎ ফিভম অদুনা মরম ওইরগা পুথোক্লিবনি। নারি শক্তিগী মাইপাকপা অসি মখোয়গী নিংহন্নবা লৈত্রবা লিংজেল অদুগী খুদম্নি হায়না প্রধান মন্ত্রীনা হায়খি। মহাক্না লৌমীশিংদা মিল্লেত ফার্মিংগী কান্নবা লৌনবা হায়খি।

গুজরাত্তগী এফ.পি.ও.না মহৌশাগী ওইবা মওংদা লৌউ-শিংউবা অমসুং শনদা য়ুমফম ওইবা লৌউ-শিংউবা অসিনা খরম্না শেল চংবা হন্থবা অমসুং লৈহাওদা শোকহনবা হন্থহননবগে হায়বগী মতাংদা ৱারি শাখি। লমদম অসিগী ত্রাইবল কম্যুনিতীশিংনসু মসিগী কন্সেপ্ত অসিদগী কান্নবা ফংলি।

থৌরম অদুদা ৱা ঙাংলদুনা, প্রধান মন্ত্রীনা  মাতা ৱৈস্নো দেবিগী খুভমদা নেৎশিন্নবদগী মরাইবক থিরবশিংগীদমক্তা মহাক্না অৱাবা ফোংদোকখি। প্রধান মন্ত্রীনা অশোকপশিংগীদমক্তা শিন-লাংনবা এল.জি., শ্রী মনোজ সিনহাদা মহাক্না ৱারি শাখ্রে হায়নসু খঙহল্লকখি।

প্রধান মন্ত্রীনা হায়খি মদুদি ঙসি ঐখোয়না অনৌবা চহিনা লাকপসিদা, ঐখোয়না মমাং চহিগী এচীবমেন্তশিং অদুদগী মতৌ তমদুনা অনৌবা খোংচৎ অমগীদমক্তা খোংথাং থাংগদবনি। লৈবাক অসিনা লাইচৎকা লান্থেংনবদা , ভেক্সিন কাপ্পদা অমসুং লুরবা মতমদা খ্বাইদগী খুদোংথিনিংঙাই ওইরবা কাংলুপশিংগীদমক্তা শিন-লাংবদা লৈবাক অসিগী মীয়াম্না  হোৎনখিবশীং অদু নিংশিংখি। খ্বাইদগী খুদোংথিনিংঙাই ওইরবা কাংলুপশিংদা রেশন ফংহন্নবা লৈবাক অসিনা লুপা করোর লাখ ২গা লিশিং ৬০ শিজিন্নখি। প্রধান মন্ত্রীনা হায়খি মদুদি সরাকার অসিনা লমদম অসিগী মেদিকেল ইনফ্রাস্ত্রকচর ফগৎহন্নবা লেপ্পা লৈতনা খন্না হোৎনরি।  মেদিকেল ইনফ্রাস্ত্রকচরশিং ফগৎহন্নবা ওক্সিজেন প্লান্তশিং, অনৌবা মেদিকেল কোলেজশিং, ৱেলনেস সেন্তরশিং, অয়ুশমান ভারত হেল্থ ইনফ্রাস্তরকচর মিসন অমসুং অয়ুশমান ভারত দিজিতেল হেল্থ মিসন হায়রিবশিং অসি হৌদোকখি হায়না মহাক্না পনখি।

লৈবাক অসি সবকা সাথ, সবকা ৱিকাস অমসুং সবকা প্রয়াসকী মন্ত্রাগা লোইননা চৎলি। মী ময়াম অমা লৈবাক অসিগীদমক্তা মখোয়গী পুনশি কৎথোক্লি, মখোয়না লৈবাক অসি শেমগৎলি। প্রধান মন্ত্রীনা হায়খি মদুদি মখোয়না মসিগী থবক অসি হান্নসু তৌরম্মি, অদুবু হৌজিক্তি মখোয়গী থবক অদু মশক খঙবীরে। “হন্দক্কী চহি অসিদা ঐখোয়না ঐখোয়গী নিংতম্বাগী চহি ৭৫ মপুং ফারগনি। মসি ঐখোয়না অনৌবা ইথিল অমগা লোইননা লৈবাক অসিগী অচেৎপা অনিংবা অদুগী অনৌবা নুংঙাইরবা খোংচৎ অমা হৌনবগী মতম অদুনি ”, হায়না মহাক্না হায়খি। ময়াম পুন্না হোৎনমিন্নবগী পাঙ্গলগী মতাংদা খঙহল্লদুনা প্রধান মন্ত্রীনা “ভারত মচা করোর ১৩০না খোংথাং অমা কানবা মতমদা, মসিগী খোংথাং অসি খোংথাং অমখক্তা নত্তে মসিখোংথাং করোর ১৩০গা পাংখক ওইরিবনি” হায়না তাকলকখি।

ইকোনোমীগী মতাংদা ৱা ঙাংলদুনা প্রধান মন্ত্রীনা হায়খি, হিরম কয়াদা ইন্দিয়াগী ইকোনোমী অসি কোবিদ মমাংগী মতমদগী হেন্না ফগৎলক্লি হায়না হায়খি। মহাক্না খংহল্লকখি “ঙসি ঐখোয়গী ইকোনোমীগী চাওখৎপগী চাং অসি ৮%দগী হেন্না হেল্লিবনি।  রেকোর্দ ফোরেন ইনভেস্তমেন্ত ভারত্তা য়ৌরক্লে। ঐখোয়গী ফ়োরেক্স রিজর্ভ রেকোর্দ লেভেল য়ৌবা ঙমখ্রে। জি.এস.তি. খোমগৎপগী মতাংদসু অরিবা রেকোর্দশিংদগী হেনখ্রে। এক্সপোর্ত তৌবগী মতাংদসু মরু ওইনা এগ্রিকল্চরগী মতাংদা ঐখোয়না অনৌবা রেকোর্দশিং শেমখ্রে। “২০২১দা লুপা করোর লাখ ৭০দগী হেন্না য়ু.পি.আই.দা ত্রান্সেক্সন তৌখি হায়না মহাক্না হায়খি। ভারত্তা হৌজিক হৌজিকস্তার্ত অপ লিশিং ৫০গী মথক্তা থবক তৌরি, মসিগী মরক্তা লিশিং ১০ অমদি হৌখিবা থা ৬তা থোক্লকপনি।

প্রধান মন্ত্রীনা হায়খি, ২০২১ চহি অসি, ভারতকী কলচরেল হেরিতেজ শৌগৎপগী চহিসু ওইখি।  কাশি বিশ্বনাথ ধাম অমসুং কেদারনাথ ধামবু ফজহন্নবা অমসুং চাওখৎহন্নবা, আদি সংকরাচার্য়গী সমাধিবু শেমগৎপা, অন্নপুর্না দেবিগী হুরানখিবা মুর্তিবু অমুক্কা পুরক্তুনা খিনবা, অয়োধ্যাদা রাম মন্দির শাবা অমসুং ধোলাবিরা অমসুং দুর্গা পুজা ফেস্তিবলবু ৱার্ল্দ হেরিতেজকী স্তেতস  ফংবা অমসুং তুরিজম অমসুং লাই খুরমফমবু চাওখৎনবা খোংথাং কয়া লৌখৎখি।

মাত্রা-শক্তিগীদমক্তসু ২০২১গী চহি অসি য়াম্না ফবা চহি অমা ওয়খি।  নুপীমচাশিংগীদমক নেস্নেল দিফেন্স একাদমীগা লোইন-লোইননা  সৈনিক স্কুলশিংশু হাংদোকখ্রে। হৌখিবা চহি অসিমক্তদা নুপীমচাশিংগী লুহোংবগী চহি অসি নুপামচাশিংগা চপ মান্ননা ২১ ওইহন্নবা হোৎনবসু হৌখি। ভারতকী শানরোইশিংনসু ২০২১দা লৈবাক অসিগী মায় পাকহনখি। লৈবাক অসিনা স্পোর্তসকীদমক্তসু হেন্দোক থোইদোকপা থৌরাং পায়খৎলি হায়নসু প্রধান মন্ত্রীনা হায়খি।

মালেম অসিবু ক্লাইমেত হোংলকপগী মায়োক্তা লুচিংদুনা, মালেমগী মমাংদা ভারতনা ২০৭০ ফাওবদা নেত জিরো কার্বন এমিসন ওইনবগীদমক তার্গেত অমসু থমখ্রে। ভারতনা হায়খিবা মতমগী মমাংদা রিন্যুৱেবল ইনর্জীগী রেকোর্দ কয়াসু শেমখ্রে হায়নসু প্রধান মন্ত্রীনা হায়খি। ঙসি ভারতনা ইলেক্ত্রিক ভেহিকলশিংদা লুচিংদুনা, হায়দ্রোজেন মিশনদা থবক চৎথরি হায়নসু মহাকনা হায়খি। প্রধান মন্ত্রীনা পি.এম. গতিশক্তি নেস্নেল মাস্তর প্লান অসিনা লৈবাক অসিগী কনস্ত্রকশনগী ইন্ফ্রাস্ত্রকচরদা অনৌবা খোংথাং অমা ওইগনি হায়না মখাতানা হায়রকখি। “মেক ইন ইন্দিয়াবু অনৌবা দাইমেন্সন পীরদুনা লৈবাক অসিনা চিপ, সেমিকন্দক্তর মেনুফেক্চর তৌবগী অনৌবা সেক্তরশিংবুসু ইম্প্লিমেন্ত তৌখ্রে” হায়না মহাক্না মখাতানা হায়রকখি। 

প্রধান মন্ত্রীনা মতম অসিগী ভারতকী ৱাখল্লোনবু  “ লৈবাক মীয়ামগীদমক্তা ‘নেশন ফার্স’ হায়বা ৱাখল্লোন অসিগা লোইননা লৈবাক অসিগী কথোকপা, হায়বসি মতম অসিগী ভারত মচা খুদিংমক্কী হৌজিক লৈরিবা ৱাখললোন্নি হায়না হায়খি। অমসুং, অসিনা মরম ওইদুনা ঙসি ঐখোয়না হোৎনবদা অমসুং ৱারেপ লৌবদা অমত্তা ওইবা ৱাখল্লোন লৈরিবনি। মাইপাক্নবগীদমক্তা খোইরাংবা ফাওই। ঙসিদি ঐখোয়গী পোলিসীশিং লৌবদা অরেপ্পা অমা লৈ অমসুং ৱারেপশিং লৌবদা তুংগী ৱাখললোন য়াওরি।

প্রধান মন্ত্রীনা পি.এম. কিসান সম্মান নিধি অসি ভারতকী লৌমীশিংগীদমক অচৌবা তেংবাং অমনি হায়না হায়খি। ঙসিগী থাজজিনখিবা শেল অসিগা পাশিল্লবদি , লৌমীশিংগী মশা-মশাগী একাউন্ততা লুপা করোর লাখ ১.৮০দগী হেন্না থাজিনখ্রে হায়নসু মহাক্না হায়রকখি।

প্রধান মন্ত্রীনা হায়খি মদুদি এফ.পি.ও.শিংগী খুথাংদা লৌমী মচা-মচাশিংনা অপুনবগী ওইবা পাঙ্গলগী শক্তি অদু ফংলি হায়নসু হায়খি। মহাক্না এফ.পি.ও.শিংগী মরমদা কাননবা মঙা উৎখি। মদুদি মমল হুন্নবগী পাঙ্গল, স্কেল, ইনোভেসন, মার্কেত কন্দিসন অদুগী মতুং ইন্না রিস্ক মেনেজমেন্ত অমসুং এদাপ্তিবিলিতী হেনগৎহল্লি। এফ.পি.ও.শিং অসিনা লুপা লাখ ১৫ ফাওবগী মতেং ফংলি। মসিনা মরম ওইদুনা ওর্গেনিক এফ.পি.ও.শিং, থাউ মরুগী এফ.পি.ও.শিং, বেম্বু ক্লস্তরশিং অমদি খোইহিগী এফ.পি.ও.শিং লৈবাক শিনথুংনা হৌগৎনরক্লি। “ঙসি ঐখোয়গী লৌমীশিংনা ‘ৱন দিস্ত্রিক্ত ৱন প্রোদক্তস’ গুম্বা স্কীমদগী কানবা ফংলি অমসুং মখোয়গীদমক লৈবাক অমসুং মালেম অসিগী মার্কেতশিং মখোয়গীদমক হাংদোরক্লি। লুপা করোর লিশিং ১১গী বজেত লৈবা নেস্নেল পাম ওইল মিসন হায়রিবা স্কীম অসিগুম্বনা ইম্পোর্ত্তা মপাল তাংবা হন্থহল্লে হায়না মহাক্না হায়খি।

প্রধান মন্ত্রীনা হৌখিবা চহি খরা অসিদা এগ্রিকলচরগী সেক্তরদা ফংখিবা মাইলস্তোনগী মরমদা হায়খি। ফুদ গ্রেন প্রোদক্স‌ন্না তোন মিলিয়ন ৩০০ য়ৌবা ঙমখি অমসুং ফ্লোরিকল্চর প্রোদক্সন্না তোন মিলিয়ন ৩৩০ য়ৌখি। শঙ্গোমগী প্রোদক্সনসু হৌখিবা চহি ৬-৭ অসিদা শরুক ৪৫ রোম হেনগৎলে। হেক্তর লাখ ৬০ রোমগী লম মাইক্রো ইরিগেশনগী মখাদা লৈখি;  প্রধান মন্ত্রী ফসল বিমা য়োজনাগী মখাদা লুপা করোর লাখ ১ হেন্না কম্পেন্সেসন ওইনা পীখ‌্রে, অদুগা প্রিমিয়ম্না লুপা করোর শিং ২১ খক্তমক ফংখি। ইথানোল প্রোদক্সন্না চহি তরেত খক্তদা লিতর করোর ৪০দগী লিতর করোর ৩৪০দা হেনগৎখি। প্রাধান মন্ত্রীনা বায়ো-গ্যাস শৌগৎনবগীদমক গোবরধন স্কীমগী মরমদসু হায়খি। করিগুম্বা শন্থিগী মমল লৈরবদি সঙ্গোম থোক্তবা শাশিংসু লৌমীশিংদা অহেনবা অৱাবা ওইরোই হায়না মহাক্না হায়খি। সরকার অসিনা কামধেনু কমিসন শেমখ্রে অমসুং মসিনা দেয়রী সেক্তরগী ইন্ফ্রাস্ত্রকচরবুসু ফগৎহল্লি।

প্রধান মন্ত্রীনা নেচরেল ফার্মিংবু শৌগৎপা ওইনা অমুক্কসু হন্না প্রমোৎ তৌখি। কেমিকেল য়াওদবা ফার্মিং অসি লৈবাক্কী ফিভম কন্নবগীদমক্তা মরু ওইবা লম্বি অমনি হায়না মহাক্না হায়খি। নেচরেল ফার্মিং অসিনা মায়কৈদা মরু ওইবা খোংথাং অমনি হায়নসু হায়খি। মহাক্না লৌমী খুদিংমকপু নেচরেল ফার্মিংগী থৌওং অমসুং কানবশিং খংহনগদবনি হায়নসু হায়খি। প্রধান মন্ত্রীনা লৌমীশিংবু লৌউ-শিংউবগী অনৌ-অনৌবা থৌওং পুথোক্নবা অমসুং লু-নানবগী মুবমেন্তপু শৌগৎনবা হায়দুনা লোইশিনখি।

ৱা ঙাংখিবগী মপুংফাবা ৱারোল পানবা মসিদা নম্বীয়ু

Explore More
৭৭শুবা নিংতম্বা নুমিৎ থৌরমদা লাল কিলাদগী প্রধান মন্ত্রী শ্রী নরেন্দ্র মোদীনা ৱা ঙাংখিবগী মপুংফাবা ৱারোল

Popular Speeches

৭৭শুবা নিংতম্বা নুমিৎ থৌরমদা লাল কিলাদগী প্রধান মন্ত্রী শ্রী নরেন্দ্র মোদীনা ৱা ঙাংখিবগী মপুংফাবা ৱারোল
India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer

Media Coverage

India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's Interview to Navbharat Times
May 23, 2024

प्रश्न: वोटिंग में मत प्रतिशत उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा। क्या, कम वोट पड़ने पर भी बीजेपी 400 पार सीटें जीत सकती है? ये कौन से वोटर हैं, जो घर से नहीं निकल रहे?

उत्तर: किसी भी लोकतंत्र के लिए ये बहुत आवश्यक है कि लोग मतदान में बढ़चढ कर हिस्सा लें। ये पार्टियों की जीत-हार से बड़ा विषय है। मैं तो देशभर में जहां भी रैली कर रहा हूं, वहां लोगों से मतदान करने की अपील कर रहा हूं। इस समय उत्तर भारत में बहुत कड़ी धूप है, गर्मी है। मैं आपके माध्यम से भी लोगों से आग्रह करूंगा कि लोकतंत्र के इस महापर्व में अपनी भूमिका जरूर निभाएं। तपती धूप में लोग ऑफिस तो जा ही रहे हैं, हर व्यक्ति अपने काम के लिए घर से बाहर निकल रहा है, ऐसे में वोटिंग को भी दायित्व समझकर जरूर पूरा करें। चार चरणों के चुनाव के बाद बीजेपी ने बहुमत का आंकड़ा पा लिया है, आगे की लड़ाई 400 पार के लिए ही हो रही है। चुनाव विशेषज्ञ विश्लेषण करने में जुटे हैं, ये उनका काम है, लेकिन अगर वो मतदाताओं और बीजेपी की केमिस्ट्री देख पाएं तो समझ जाएंगे कि 400 पार का नारा हकीकत बनने जा रहा है। मैं जहां भी जा रहा हूं, बीजेपी के प्रति लोगों के अटूट विश्वास को महसूस रहा हूं। एनडीए को 400 सीटों पर जीत दिलाने के लिए लोग उत्साहित हैं।

प्रश्न: लेकिन कश्मीर में वोट प्रतिशत बढ़े। कश्मीर में बढ़ी वोटिंग का संदेश क्या है?

उत्तर: : मेरे लिए इस चुनाव में सबसे सुकून देने वाली घटना यही है कि कश्मीर में वोटिंग प्रतिशत बढ़ी है। वहां मतदान केंद्रों के बाहर कतार में लगे लोगों की तस्वीरें ऊर्जा से भर देने वाली हैं। मुझे इस बात का संतोष है कि जम्मू-कश्मीर के बेहतर भविष्य के लिए हमने जो कदम उठाए हैं, उसके सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। श्रीनगर के बाद बारामूला में भी बंपर वोटिंग हुई है। आर्टिकल 370 हटने के बाद आए परिवर्तन में हर कश्मीरी राहत महसूस कर रहा है। वहां के लोग समझ गए हैं कि 370 की आड़ में इतने वर्षों तक उनके साथ धोखा हो रहा था। दशकों तक जम्मू-कश्मीर के लोगों को विकास से दूर रखा गया। सिस्टम में फैले भ्रष्टाचार से वहां के लोग त्रस्त थे, लेकिन उन्हें कोई विकल्प नहीं दिया जा रहा था। परिवारवादी पार्टियों ने वहां की राजनीति को जकड़ कर रखा था। आज वहां के लोग बिना डरे, बिना दबाव में आए विकास के लिए वोट कर रहे हैं।

प्रश्न: 2014 और 2019 के मुकाबले 2024 के चुनाव और प्रचार में आप क्या फर्क महसूस कर रहे हैं?

उत्तर: 2014 में जब मैं लोगों के बीच गया तो मुझे देशभर के लोगों की उम्मीदों को जानने का अवसर मिला। जनता बदलाव चाहती थी। जनता विकास चाहती थी। 2019 में मैंने लोगों की आंखों में विश्वास की चमक देखी। ये विश्वास हमारी सरकार के 5 साल के काम से आया था। मैंने महसूस किया कि उन 5 वर्षों में लोगों की आकांक्षाओं का विस्तार हुआ है। उन्होंने और बड़े सपने देखे हैं। वो सपने उनके परिवार से भी जुड़े थे, और देश से भी जुड़े थे। पिछले 5 साल तेज विकास और बड़े फैसलों के रहे हैं। इसका प्रभाव हर व्यक्ति के जीवन पर पड़ा है। अब 2024 के चुनाव में मैं जब प्रचार कर रहा हूं तो मुझे लोगों की आंखों में एक संकल्प दिख रहा है। ये संकल्प है विकसित भारत का। ये संकल्प है भ्रष्टाचार मुक्त भारत का। ये संकल्प है मजबूत भारत का। 140 करोड़ भारतीयों को भरोसा है कि उनका सपना बीजेपी सरकार में ही पूरा हो सकता है, इसलिए हमारी सरकार की तीसरी पारी को लेकर जनता में अभूतपूर्व उत्साह है।

प्रश्न: 10 साल की सबसे बड़ी उपलब्धि आप किसे मानते हैं और तीसरे कार्यकाल के लिए आप किस तरह खुद को तैयार कर रहे हैं?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हमारी सरकार ने अर्थव्यवस्था, सामाजिक न्याय, गरीब कल्याण और राष्ट्रहित से जुड़े कई बड़े फैसले लिए हैं। हमारे कार्यों का प्रभाव हर वर्ग, हर समुदाय के लोगों पर पड़ा है। आप अलग-अलग क्षेत्रों का विश्लेषण करेंगे तो हमारी उपलब्धियां और उनसे प्रभावित होने वाले लोगों के बारे में पता चलेगा। मुझे इस बात का बहुत संतोष है कि हम देश के 25 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर ला पाए। करोड़ों लोगों को घर, शौचालय, बिजली-पानी, गैस कनेक्शन, मुफ्त इलाज की सुविधा दे पाए। इससे उनके जीवन में जो बदलाव आया है, उसकी उन्होंने कल्पना तक नहीं की थी। आप सोचिए, कि अगर करोड़ों लोगों को ये सुविधाएं नहीं मिली होतीं तो वो आज भी गरीबी का जीवन जी रहे होते। इतना ही नहीं, उनकी अगली पीढ़ी भी गरीबी के इस कुचक्र में पिसने के लिए तैयार हो रही होती।

हमने गरीब को सिर्फ घर और सुविधाएं नहीं दी हैं, हमने उसे सम्मान से जीने का अधिकार दिया है। हमने उसे हौसला दिया है कि वो खुद अपने पैरों पर खड़ा हो सके। हमने उसे एक विश्वास दिया कि जो जीवन उसे देखना पड़ा, वो उसके बच्चों को नहीं देखना पड़ेगा। ऐसे परिवार फिर से गरीबी में न चले जाएं, इसके लिए हम हर कदम पर उनके साथ खड़े हैं। इसीलिए, आज देश के 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया जा रहा है, ताकि वो अपनी आय अपनी दूसरी जरूरतों पर खर्च कर सकें। हम कौशल विकास, पीएम विश्वकर्मा और स्वनिधि जैसी योजनाओं के माध्यम से उन्हें आगे बढ़ने में मदद कर रहे हैं। हमने घर की महिला सदस्य को सशक्त बनाने के भी प्रयास किए। लखपति दीदी, ड्रोन दीदी जैसी योजनाओं से महिलाएं आर्थिक रूप से मजबूत हुई हैं। मेरी सरकार के तीसरे कार्यकाल में इन योजनाओं को और विस्तार मिलेगा, जिससे ज्यादा महिलाओं तक इनका लाभ पहुंचेगा।

प्रश्न: हमारे रिपोर्टर्स देशभर में घूमे, एक बात उभर कर आई कि रोजगार और महंगाई पर लोगों ने हर जगह बात की है। जीतने के बाद पहले 100 दिनों में युवाओं के लिए क्या करेंगे? रोजगार के मोर्चे पर युवाओं को कोई भरोसा देना चाहेंगे?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हम महंगाई दर को काबू रख पाने में सफल रहे हैं। यूपीए के समय महंगाई दर डबल डिजिट में हुआ करती थी। आज दुनिया के अलग-अलग कोनों में युद्ध की स्थिति है। इन परिस्थितियों का असर देश की अर्थव्यवस्था और महंगाई पर पड़ा है। हमने दुनिया के ताकतवर देशों के सामने अपने देश के लोगों के हित को प्राथमिकता दी, और पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ने नहीं दीं। पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़तीं तो हर चीज महंगी हो जाती। हमने महंगाई का बोझ कम करने के लिए हर छोटी से छोटी चीज पर फोकस किया। आज गरीब परिवारों को अच्छे से अच्छे अस्पताल में 5 लाख रुपये तक इलाज मुफ्त मिलता है। जन औषधि केंद्रों की वजह से दवाओं के खर्च में 70 से 80 प्रतिशत तक राहत मिली है। घुटनों की सर्जरी हो या हार्ट ऑपरेशन, सबका खर्च आधे से ज्यादा कम हो गया है। आज देश में लोन की दरें सबसे कम हैं। कार लेनी हो, घर लेना हो तो आसानी से और सस्ता लोन उपलब्ध है। पर्सनल लोन इतना आसान देश में कभी नहीं था। किसान को यूरिया और खाद की बोरी दुनिया के मुकाबले दस गुना कम कीमत पर मिल रही है। पिछले 10 वर्षों में रोजगार के अनेक नए अवसर बने हैं। लाखों युवाओं को सरकारी नौकरी मिली है। प्राइवेट सेक्टर में रोजगार के नए मौके बने हैं। EPFO के मुताबिक पिछले सात साल में 6 करोड़ नए सदस्य इसमें जुड़े हैं।

PLFS का डेटा बताता है कि 2017 में जो बेरोजगारी दर 6% थी, वो अब 3% रह गई है। हमारी माइक्रो फाइनैंस की नीतियां कितनी प्रभावी हैं, इस पर SKOCH ग्रुप की एक रिपोर्ट आई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 10 साल में हर वर्ष 5 करोड़ पर्सन-ईयर रोजगार पैदा हुए हैं। युवाओं के पास अब स्पेस सेक्टर, ड्रोन सेक्टर, गेमिंग सेक्टर में भी आगे बढ़ने के अवसर हैं। देश में डिजिटल क्रांति से भी युवाओं के लिए अवसर बने हैं। आज भारत में डेटा इतना सस्ता है तभी देश की क्रिएटर इकनॉमी बड़ी हो रही है। आज देश में सवा लाख से ज्यादा स्टार्टअप्स हैं, इनसे बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर बन रहे हैं। हमने अपनी सरकार के पहले 100 दिनों का एक्शन प्लान तैयार किया है, उसमें हमने अलग से युवाओं के लिए 25 दिन और जोड़े हैं। हम देशभर से आ रहे युवाओं के सुझाव पर गौर कर रहे हैं, और नतीजों के बाद उस पर तेजी से काम शुरू होगा।

प्रश्न: सोशल मीडिया में एआई और डीपफेक जैसे मसलों पर आपने चिंता जताई है। इस चुनाव में भी इसके दुरुपयोग की मिसाल दिखी हैं। मिसइनफरमेशन का ये टूल न बने, इसके लिए क्या किया जा सकता है? कई एक्टिविस्ट और विपक्ष का कहना रहा है कि इन चीजों पर सख्ती की आड़ में कहीं फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन पर पाबंदी तो नहीं लगेगी? इन सवालों पर कैसे आश्वस्त करेंगे?

उत्तर: तकनीक का इस्तेमाल जीवन में सुगमता लाने के लिए किया जाना चाहिए। आज एआई ने भारत के युवाओँ के लिए अवसरों के नए द्वार खोल दिए हैं। एआई, मशीन लर्निगं और इंटरनेट ऑफ थिंग्स अब हमारे रोज के जीवन की सच्चाई बनती जा रही है। लोगों को सहूलियत देने के लिए कंपनियां अब इन तकनीकों का उपयोग बढ़ा रही हैं। दूसरी तरफ इनके माध्यम से गलत सूचनाएं देने, अफवाह फैलाने और लोगों को भ्रमित करने की घटनाएं भी हो रही हैं। चुनाव में विपक्ष ने अपने झूठे नरैटिव को फैलाने के लिए यही करना शुरू किया था। हमने सख्ती करके इस तरह की कोशिश पर रोक लगाने का प्रयास किया। इस तरह की प्रैक्टिस किसी को भी फायदा नहीं पहुंचाएगी, उल्टे तकनीक का गलत इस्तेमाल उन्हें नुकसान ही पहुंचाएगा। अभिव्यक्ति की आजादी का फेक न्यूज और फेक नरैटिव से कोई लेना-देना नहीं है। मैंने एआई के एक्सपर्ट्स के सामने और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर डीप फेक के गलत इस्तेमाल से जुड़े विषयों को गंभीरता से रखा है। डीप फेक को लेकर वर्ल्ड लेवल पर क्या हो सकता है, इस पर मंथन चल रहा है। भारत इस दिशा में गंभीरता से प्रयास कर रहा है। लोगों को जागरूक करने के लिए ही मैंने खुद सोशल मीडिया पर अपना एक डीफ फेक वीडियो शेयर किया था। लोगों के लिए ये जानना आवश्यक है कि ये तकनीक क्या कर सकती है।

प्रश्न:देश के लोगों की सेहत को लेकर आपकी चिंता हम सब जानते हैं। आपने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस शुरू किया, योगा प्रोटोकॉल बनवाया, आपने आयुष्मान योजना शुरू की है। तीसरे कार्यकाल में क्या इन चीज़ों पर भी काम करेंगे, जो हमारी सेहत खराब होने के मूल कारक हैं। जैसे लोगों को साफ हवा, पानी, मिट्टी मिले।

उत्तर: देश 2047 तक विकसित भारत का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रहा है। इस सपने को शक्ति तभी मिलेगी, जब देश का हर नागरिक स्वस्थ हो। शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत हो। यही वजह है कि हम सेहत को लेकर एक होलिस्टिक अप्रोच अपना रहे हैं। एलोपैथ के साथ ही योग, आयुर्वेद, भारतीय परंपरागत पद्धतियां, होम्योपैथ के जरिए हम लोगों को स्वस्थ रखने की दिशा में काम कर रहे हैं। राजनीति में आने से पहले मैंने लंबा समय देश का भ्रमण करने में बिताया है। उस समय मैंने एक बात अनुभव की थी कि घर की महिला सदस्य अपने खराब स्वास्थ्य के बारे छिपाती है। वो खुद तकलीफ झेलती है, लेकिन नहीं चाहती कि परिवार के लोगों को परेशानी हो। उसे इस बात की भी फिक्र रहती है कि डॉक्टर, दवा में पैसे खर्च हो जाएंगे। जब 2014 में मुझे देश की सेवा करने का अवसर मिला तो सबसे पहले मैंने घर की महिला सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता की। मैंने माताओं-बहनों को धुएं से मुक्ति दिलाने का संकल्प लिया और 10 करोड़ से ज्यादा महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन दिए। मैंने बुजुर्गों की सेहत पर भी ध्यान दिया है। हमारी सरकार की तीसरी पारी में 70 साल से ऊपर के सभी बुजुर्गों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिलने लगेगा। यानी उनके इलाज का खर्च सरकार उठाएगी। साफ हवा, पानी, मिट्टी के लिए हम काम शुरू कर चुके हैं। सिंगल यूज प्लास्टिक पर हमारा अभियान चल रहा है। जल जीवन मिशन के तहत हम देश के लाखों गांवों तक साफ पानी पहुंचा रहे हैं। सॉयल हेल्थ कार्ड, आर्गेनिक खेती की दिशा में काम हो रहा है। हम मिशन लाइफ को प्राथमिकता दे रहे हैं और इस विचार को आगे बढ़ा रहे हैं कि हर व्यक्ति पर्यावरण के अनुकूल जीवन पद्धति को अपनाए।

प्रश्न: विदेश नीति आपके दोनों कार्यकाल में काफी अहम रही है। इस वक्त दुनिया काफी उतार चढ़ाव से गुजर रही है, चुनाव नतीजों के तुरंत बाद जी7 समिट है। आप नए हालात में भारत के रोल को किस तरह देखते हैं?

उत्तर: शायद ये पहला चुनाव है, जिसमें भारत की विदेश नीति की इतनी चर्चा हो रही है। वो इसलिए कि पिछले 10 साल में दुनियाभर में भारत की साख मजबूत हुई है। जब देश की साख बढ़ती है तो हर भारतीय को गर्व होता है। जी20 समिट में भारत ग्लोबल साउथ की मजबूत आवाज बना, अब जी7 में भारत की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होने वाली है। आज दुनिया का हर देश जानता है कि भारत में एक मजबूत सरकार है और सरकार के पीछे 140 करोड़ देशवासियों का समर्थन है। हमने अपनी विदेश नीति में भारत और भारत के लोगों के हित को सर्वोपरि रखा है। आज जब हम व्यापार समझौते की टेबल पर होते हैं, तो सामने वाले को ये महसूस होता है कि ये पहले वाला भारत नहीं है। आज हर डील में भारतीय लोगों के हित को प्राथमिकता दी जाती है। हमारे इस बदले रूप को देखकर दूसरे देशों को हैरानी हुई, लेकिन धीरे-धीरे उन्होंने इसे स्वीकार कर लिया। ये नया भारत है, आत्मविश्वास से भरा भारत है। आज भारत संकट में फंसे हर भारतीय की मदद के लिए तत्पर रहता है। पिछले 10 वर्षों में अनेक भारतीयों को संकट से बाहर निकालकर देश में ले आए। हम अपनी सांस्कृतिक धरोहरों को भी देश में वापस ला रहे हैं। युद्ध में आमने-सामने खड़े दोनों देशों को भारत ने बड़ी मजबूती से ये कहा है कि ये युद्ध का समय नहीं है, ये बातचीत से समाधान का समय है। आज दुनिया मानती है कि भारत का आगे बढ़ना पूरी दुनिया और मानवता के लिए अच्छा है।

प्रश्न: अमेरिका भी चुनाव से गुजर रहा है। आपके रिश्ते ट्रम्प और बाइडन दोनों के साथ बहुत अच्छे रहे हैं। आप कैसे देखते हैं अमेरिका के साथ भारतीय रिश्तों को इन संदर्भ में?

उत्तर: हमारी विदेश नीति का मूल मंत्र है इंडिया फर्स्ट। पिछले 10 वर्षों में हमने इसी को ध्यान में रखकर विभिन्न देशों और प्रभावशाली नेताओं से संबंध बनाए हैं। भारत-अमेरिका संबंधों की मजबूती का आधार 140 करोड़ भारतीय हैं। हमारे लोग हमारी ताकत हैं, और दुनिया हमारी इस शक्ति को बहुत महत्वपूर्ण मानती है। अमेरिका में राष्ट्रपति चाहे ट्रंप रहे हों या बाइडन, हमने उनके साथ मिलकर दोनों देशों के संबंध को और मजबूत बनाने का प्रयास किया है। भारत-अमेरिका के संबंधों पर चुनाव से कोई अंतर नहीं आएगा। वहां जो भी राष्ट्रपति बनेगा, उसके साथ मिलकर नई ऊर्जा के साथ काम करेंगे।

प्रश्न: BJP का पूरा प्रचार आप पर ही केंद्रित है, क्या इससे सांसदों के खुद के काम करने और लोगों के संपर्क में रहने जैसे कामों को तवज्जो कम हो गई है और नेता सिर्फ मोदी मैजिक से ही चुनाव जीतने के भरोसे हैं। आप इसे किस तरह काउंटर करते हैं?

उत्तर: बीजेपी एक टीम की तरह काम करती है। इस टीम का हर सदस्य चुनाव जीतने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहा है। चुनावी अभियान में जितना महत्वपूर्ण पीएम है, उतना ही महत्वपूर्ण कार्यकर्ता है। ये परिवारवादी पार्टियों का फैलाया गया प्रपंच है। उनकी पार्टी में एक परिवार या कोई एक व्यक्ति बहुत अहम होता है। हमारी पार्टी में हर नेता और कार्यकर्ता को एक दायित्व दिया जाता है।

मैं पूछता हूं, क्या हमारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रोज रैली नहीं कर रहे हैं। क्या हमारे मंत्री, मुख्यमंत्री, पार्टी पदाधिकारी रोड शो और रैलियां नहीं कर रहे। मैं पीएम के तौर पर जनता से कनेक्ट करने जरूर जाता हूं, लेकिन लोग एमपी उम्मीदवार के माध्यम से ही हमसे जुड़ते हैं। मैं लोगों के पास नैशनल विजन लेकर जा रहा हूं, उसे पूरा करने की गारंटी दे रहा हूं, तो हमारा एमपी उम्मीदवार स्थानीय आकांक्षाओं को पूरा करने का भरोसा दे रहा है। हमने उन्हीं उम्मीदवारों का चयन किया है, जो हमारे विजन को जनता के बीच पहुंचा सकें। विकसित भारत की सोच से लोगों को जोड़ने के लिए जितनी अहमियत मेरी है, उतनी ही जरूरत हमारे उम्मीदवारों की भी है। हमारी पूरी टीम मिलकर हर सीट पर कमल खिलाने में जुटी है।

प्रश्न: महिला आरक्षण पर आप ने विधेयक पास कराए। क्या नई सरकार में हम इन पर अमल होते हुए देखेंगे?

उत्तर: ये प्रश्न कांग्रेस के शासनकाल के अनुभव से निकला है, तब कानून बना दिए जाते थे लेकिन उसे नोटिफाई करने में वर्षों लग जाते थे। हमने अगले 5 वर्षों का जो रोडमैप तैयार किया है, उसमें नारी शक्ति वंदन अधिनियम की महत्वपूर्ण भूमिका है। हम देश की आधी आबादी को उसका अधिकार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इंडी गठबंधन की पार्टियों ने दशकों तक महिलाओं को इस अधिकार से वंचित रखा। सामाजिक न्याय की बात करने वालों ने इसे रोककर रखा था। देश की संसद और विधानसभा में महिलाओं की भागीदारी बढ़ने से महिला सशक्तिकरण का एक नया दौर शुरू होगा। इस परिवर्तन का असर बहुत प्रभावशाली होगा।

प्रश्न: महाराष्ट्र की सियासी हालत इस बार बहुत पेचीदा हो गई है। एनडीए क्या पिछली दो बार का रिकॉर्ड दोहरा पाएगा?

उत्तर: महाराष्ट्र समेत पूरे देश में इस बार बीजेपी और एनडीए को लेकर जबरदस्त उत्साह है। महाराष्ट्र में स्थिति पेचीदा नहीं, बल्कि बहुत सरल हो गई है। लोगों को परिवारवादी पार्टियों और देश के विकास के लिए समर्पित महायुति में से चुनाव करना है। बाला साहेब ठाकरे के विचारों को आगे बढ़ाने वाली शिवसेना हमारे साथ है। लोग देख रहे हैं कि नकली शिवसेना अपने मूल विचारों का त्याग करके कांग्रेस से हाथ मिला चुकी है। इसी तरह एनसीपी महाराष्ट्र और देश के विकास के लिए हमारे साथ जुड़ी है। अब जो महा ‘विनाश’ अघाड़ी की एनसीपी है, वो सिर्फ अपने परिवार को आगे बढ़ाने के लिए वोट मांग रही है। लोग ये भी देख रहे हैं कि इंडी गठबंधन अभी से अपनी हार मान चुका है। अब वो चुनाव के बाद अपना अस्तित्व बचाने के लिए कांग्रेस में विलय की बात कर रहे हैं। ऐसे लोगों को मतदान करना, अपने वोट को बर्बाद करना है। इस बार हम महाराष्ट्र में अपने पिछले रिकॉर्ड को तोड़ने वाले हैं।

प्रश्न: पश्चिम बंगाल में भी बीजेपी ने बहुत प्रयास किए हैं। पिछली बार बीजेपी 18 सीटें जीतने में कामयाब रही थी। बाकी राज्यों की तुलना में यह आपके लिए कितना कठिन राज्य है और इस बार आपको क्या उम्मीद है?

उत्तर: TMC हो, कांग्रेस हो, लेफ्ट हो, इन सबने बंगाल में एक जैसे ही पाप किए हैं। बंगाल में लोग समझ चुके हैं कि इन पार्टियों के पास सिर्फ नारे हैं, विकास का विजन नहीं हैं। कभी दूसरे राज्यों से लोग रोजगार के लिए बंगाल आते थे, आज पूरे बंगाल से लोग पलायन करने को मजबूर हैं। जनता ये भी देख रही है कि बंगाल में जो पार्टियां एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं, दिल्ली में वही एक साथ नजर आ रही हैं। मतदाताओं के साथ इससे बड़ा छल कुछ और नहीं हो सकता। यही वजह है कि इंडी गठबंधन लोगों का भरोसा नहीं जीत पा रहा। बंगाल के लोग लंबे समय से भ्रष्टाचार, हिंसा, अराजकता, माफिया और तुष्टिकरण को बर्दाश्त कर रहे हैं। टीएमसी की पहचान घोटाले वाली सरकार की बन गई है। टीएमसी के नेताओं ने अपनी तिजोरी भरने के लिए युवाओं के सपनों को कुचला है। यहां स्थिति ये है कि सरकारी नौकरी पाने के बाद भी युवाओं को भरोसा नहीं है कि उनकी नौकरी रहेगी या जाएगी। लोग बंगाल की मौजूदा सरकार से पूरी तरह हताश हैं।अब उनके सामने बीजेपी का विकास मॉडल है। मैं बंगाल में जहां भी गया, वहां लोगों में बीजेपी के प्रति अभूतपूर्व विश्वास नजर आया। विशेष रुप से बंगाल में मैंने देखा कि माताओं-बहनों का बहुत स्नेह मुझे मिल रहा है। मैं उनसे जब भी मिलता हूं, वो खुद तो इमोशनल हो ही जाती हैं, मैं भी अपने भावनाओं को रोक नहीं पाता हूं। इस बार बंगाल में हम पहले से ज्यादा सीटों पर जीत हासिल करेंगे।

प्रश्न: शराब मामले को लेकर अरविंद केजरीवाल को जेल जाना पड़ा है। उनका कहना है कि ईडी ने जबरदस्ती उन्हें इस मामले में घसीटा है जबकि अब तक उनके पास से कोई पैसा बरामद नहीं हुआ?

उत्तर: आपने कभी किसी ऐसे व्यक्ति को सुना है जो आरोपी हो और ये कह रहा हो कि उसने घोटाला किया था। या कह रहा हो कि पुलिस ने उसे सही गिरफ्तार किया है। अगर एजेंसियों ने उन्हें गलत पकड़ा था, तो कोर्ट से उन्हें राहत क्यों नहीं मिली। ईडी और एजेसिंयो पर आरोप लगाने वाला विपक्ष आज तक एक मामले में ये साबित नहीं कर पाया है कि उनके खिलाफ गलत आरोप लगा है। वो कुछ दिन के लिए जमानत पर बाहर आए हैं, लेकिन बाहर आकर वो और एक्सपोज हो गए। वो और उनके लोग गलतियां कर रहे हैं और आरोप बीजेपी पर लगा रहे हैं। लेकिन जनता उनका सच जानती है। उनकी बातों की अब कोई विश्वसनीयता नहीं रह गई है।

प्रश्न: इस बार दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। इससे क्या लगातार दो बार से सातों सीटें जीतने के क्रम में बीजेपी को कुछ दिक्कत हो सकती है? इस बार आपने छह उम्मीदवार बदल दिए

उत्तर: इंडी गठबंधन की पार्टियां दिल्ली में हारी हुई लड़ाई लड़ रहे हैं। उनके सामने अपना अस्तित्व बचाने का संकट है। चुनाव के बाद वैसे भी इंडी गठबंधन नाम की कोई चीज बचेगी नहीं। दिल्ली की जनता ने बहुत पहले कांग्रेस को बाहर कर दिया था, अब दूसरे दलों के साथ मिलकर वो अपनी मौजूदगी दिखाना चाहते हैं। क्या कभी किसी ने सोचा था कि देश पर इतने लंबे समय तक शासन करने वाली कांग्रेस के ये दिन भी आएंगे कि उनके परिवार के नेता अपनी पार्टी के नहीं, बल्कि किसी और उम्मीदवार के लिए वोट डालेंगे।

दिल्ली में इंडी गठबंधन की जो पार्टियां हैं, उनकी पहचान दो चीजों से होती है। एक तो भ्रष्टाचार और दूसरा बेशर्मी के साथ झूठ बोलना। मीडिया के माध्यम से ये जनता की भावनाओं को बरगलाना चाहते हैं। झूठे वादे देकर ये लोगों को गुमराह करना चाहते हैं। ये जनता के नीर-क्षीर विवेक का अपमान है। जनता आज बहुत समझदार है, वो फैसला करेगी। बीजेपी ने लोगों के हित को ध्यान में रखते हुए अपने उम्मीदवार उतारे हैं। बीजेपी में कोई लोकसभा सीट नेता की जागीर नहीं समझी जाती। जो जनहित में उचित होता है, पार्टी उसी के अनुरूप फैसला लेती है। हमारे लिए राजनीति सेवा का माध्यम है। यही वजह है कि हमारे कार्यकर्ता इस बात से निराश नहीं होते कि टिकट कट गया, बल्कि वो पूरे मनोयोग से जनता की सेवा में जुट जाते हैं।

प्रश्न: विपक्ष का कहना है कि लोकतंत्र खतरे में है और अगर बीजेपी जीतती है तो लोकतंत्र औपचारिक रह जाएगा। आप उनके इन आरोपों को कैसे देखते हैं?

उत्तर: कांग्रेस और उसका इकोसिस्टम झूठ और अफवाह के सहारे चुनाव लड़ने निकला है। पुराने दौर में उनका यह पैंतरा कभी-कभी काम कर जाता था, लेकिन आज सोशल मीडिया के जमाने में उनके हर झूठ का मिनटों में पर्दाफाश हो जाता है।

उन्होंने राफेल पर झूठ बोला, पकड़े गए। एचएएल पर झूठ बोला, पकड़े गए। जनता अब इनकी बातों को गंभीरता से नहीं लेती है। देश जानता है कि कौन संविधान बदलना चाहता है। आपातकाल के जरिए देश के लोकतंत्र को खत्म करने की साजिश किसने की थी। कांग्रेस के कार्यकाल में सबसे ज्यादा बार संविधान की मूल प्रति को बदल दिया। कांग्रेस पहले संविधान संसोधन का प्रस्ताव अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा लगाने के लिए लाई थी। 60 वर्षों में उन्होंने बार-बार संविधान की मूल भावना पर चोट की और एक के बाद एक कई राज्य सरकारों को बर्खास्त किया। सबसे ज्यादा बार राष्ट्रपति शासन लगाने का रेकॉर्ड कांग्रेस के नाम है। उनकी जो असल मंशा है, उसके रास्ते में संविधान सबसे बड़ी दीवार है। इसलिए इस दीवार को तोड़ने की कोशिश करते रहते हैं। आप देखिए कि संविधान निर्माताओं ने धर्म के आधार पर आरक्षण का विरोध किया था। लेकिन कांग्रेस अपने वोटबैंक को खुश करने के लिए बार-बार यही करने की कोशिश करती है। अपनी कोई कोशिशों में नाकाम रहने के बाद आखिरकार उन्होंने कर्नाटक में ओबीसी आरक्षण में सेंध लगा ही दी।

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के नेता लोकतंत्र की दुहाई देते हैं, लेकिन वास्तविकता ये है कि लोकतंत्र को कुचलने के लिए, जनता की आवाज दबाने के लिए ये पूरी ताकत लगा देते हैं। ये लोग उनके खिलाफ बोलने वालों के पीछे पूरी मशीनरी झोंक देते हैं। इनके एक राज्य की पुलिस दूसरे राज्य में जाकर कार्रवाई कर रही है। इस काम में ये लोग खुलकर एक-दूसरे का साथ दे रहे हैं। जनता ये सब देख रही है, और समझ रही है कि अगर इन लोगों के हाथ में ताकत आ गई तो ये देश का, क्या हाल करेंगे।

प्रश्न: आप एकदम चुस्त-दुरुस्त और फिट दिखते हैं, आपकी सेहत का राज, सुबह से रात तक का रूटीन?

उत्तर: मैं यह मानता हूं कि मुझ पर किसी दैवीय शक्ति की बहुत बड़ी कृपा है, जिसने लोक कल्याण के लिए मुझे माध्यम बनाया है। इतने वर्षों में मेरा यह विश्वास प्रबल हुआ है कि ईश्वर ने मुझे विशेष दायित्व पूरा करने के लिए चुना है। उसे पूरा करने के लिए वही मुझे सामर्थ्य भी दे रहा है। लोगों की सेवा करने की भावना से ही मुझे ऊर्जा मिलती है।

प्रश्न: प्रधानमंत्री जी, आप काशी के सांसद हैं। बीते 10 साल में आप ने काशी को खूब प्रमोट किया है। आज काशी देश में सबसे प्रेफर्ड टूरिज्म डेस्टिनेशमन बन रही है। इसके अलावा आप ने जो इंफ्रास्ट्रक्चर के काम किए हैं, उससे भी बनारस में बहुत बदलाव आया है। इससे बनारस और पूर्वांचल की इकोनॉमी और रोजगार पर जो असर हुआ है, उसे आप कैसे देखते हैं?

उत्तर: काशी एक अद्भूत नगरी है। एक तरफ तो ये दुनिया का सबसे प्राचीन शहर है। इसकी अपनी पौराणिक मान्यता है। दूसरी तरफ ये पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार की आर्थिक धुरी भी है। 10 साल में हमने काशी में धार्मिक पर्यटन का खूब विकास किया। शहर की गलियां, साफ-सफाई, बाजारों में सुविधाएं, ट्रेन और बस के इंतजाम पर फोकस किया। गंगा में सीएनजी बोट चली, शहर में ई-बस और ई-रिक्शा चले। यात्रियों के लिए हमने स्टेशन से लेकर शहर के अलग-अलग स्थानों पर तमाम सुविधाएं बढ़ाई।

इन सब के बाद जब हम बनारस को प्रमोट करने उतरे, तो देशभर के श्रद्धालुओं में नई काशी को देखने का भाव उमड़ आया। यह यहां सालभर पहले से कई गुना ज्यादा पर्यटक आते हैं। इससे पूरे शहर में रोजगार के नए अवसर तैयार हुए।

हमने बनारस में इंडस्ट्री लानी शुरू की है। TCS का नया कैंपस बना है, बनास डेयरी बनी है, ट्रेड फैसिलिटी सेंटर बना है, काशी के बुनकरों को नई मशीनें दी जा रही है, युवाओं को मुद्रा लोन मिले हैं। इससे सिर्फ बनारस ही नहीं, आसपास के कई जिलों की अर्थव्यवस्था को नई गति मिली।

प्रश्न: आपने कहा कि वाराणसी उत्तर प्रदेश की राजनीतिक धुरी जैसा शहर है। बीते 10 वर्षों में पू्र्वांचल में जो विकास हुआ है, उसको कैसे देखते हैं?

उत्तर: देखिए, पूर्वांचल अपार संभावनाओं का क्षेत्र है। पिछले 10 वर्षों में हमने केंद्र की तमाम योजनाओं में इस क्षेत्र को बहुत वरीयता दी है। एक समय था, जब पूर्वांचल विकास में बहुत पिछड़ा था। वाराणसी में ही कई घंटे बिजली कटौती होती थी। पूर्वांचल के गांव-गांव में लालटेन के सहारे लोग गर्मियों के दिन काटते थे। आज बिजली की व्यवस्था में बहुत सुधार हुआ है, और इस भीषण गर्मी में भी कटौती का संकट करीब-करीब खत्म हो चला है। ऐसे ही पूरे पूर्वांचल में सड़कों की हालत बहुत खराब थी। आज यहां के लोगों को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की सुविधा मिली है। गाजीपुर, आजमगढ़, मऊ, बलिया, चंदौली जैसे टियर थ्री कहे जाने वाले शहरों में हजारों की सड़कें बनी हैं।

आजमगढ़ में अभी कुछ दिन पहले मैंने एयरपोर्ट की शुरुआत की है। महाराजा सुहेलदेव के नाम पर यूनिवर्सिटी बनाई गई है। पूरे पूर्वांचल में नए मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं। बनारस में इनलैंड वाटर-वे का पोर्ट बना है। काशी से ही देश की पहली वंदे भारत ट्रेन चली थी। देश का पहला रोप-वे ट्रांसपोर्ट सिस्टम बन रहा है।

कांग्रेस की सरकार में पूर्वांचल के लोग ऐसी सुविधाएं मिलने के बारे में सोचते तक नहीं थे। क्योंकि लोगों को बिजली-पानी-सड़क जैसी मूलभूत सुविआधाओं में ही उलझाकर रखा गया था। यह स्थिति तब थी जब इनके सीएम तक पूर्वांचल से चुने जाते थे। तब पूर्वांचल में सिर्फ नेताओं के हेलिकॉप्टर उतरते थे, आज जमीन पर विकास उतर आया है।

प्रश्न: आप कहते हैं कि बनारस ने आपको बनारसी बना दिया है। मां गंगा ने आपको बुलाया था, अब आपको अपना लिया है। आप काशी के सांसद हैं, यहां के लोगों से क्या कहेंगे?

उत्तर: मैं एक बात मानता हूं कि काशी में सबकुछ बाबा की कृपा से होता है। मां गंगा के आशीर्वाद से ही यहां हर काम फलीभूत होते हैं! 10 साल पहले मैंने जब ये कहा था कि मां गंगा ने मुझे बुलाया है, तो वो बात भी मैंने इसी भावना से कही थी। जिस नगरी में लोग एक बार आने को तरसते हैं, वहां मुझे दो बार सांसद के रूप में सेवा करने का अवसर मिला। जब पार्टी ने तीसरी बार मुझे काशी की उम्मीदवारी करने को कहा, तभी मेरे मन में यह भाव आया कि मां गंगा ने मुझे गोद ले लिया है। काशी ने मुझे अपार प्रेम दिया है। उनका यह स्नेह और विश्वास मुझ पर एक कर्ज है। मैं जीवनभर काशी की सेवा करके भी इस कर्ज को नहीं उतार पाऊंगा।

Following is the clipping of the interview:

 

 

Source: Navbharat Times