साझा करें
 
Comments
भारत और रवांडा के संबंध समय की कसौटी पर खरे उतरे हैं, हमारे लिए यह गर्व का विषय है कि रवांडा की आर्थिक विकास और राष्ट्रीय विकास यात्रा में भारत आपका विश्वस्त साझेदार रहा है: प्रधानमंत्री मोदी
भारत बहुत जल्द रवांडा में अपना पहला हाई कमीशन शुरू करेगा: पीएम मोदी
हम रवांडा के साथ अपने व्यापारिक और निवेश संबंधों को और अधिक मजबूत करना चाहते हैं: प्रधानमंत्री

Your Excellency President
पॉल कगामे,

Distinguished delegates,
Members of the Media,

यह पहला अवसर है जब भारत का कोई प्रधानमंत्री Rwanda आया है। और मेरा सौभाग्य है कि मेरे मित्र राष्ट्रपति कगामे जी के निमंत्रण पर यह सुअवसर मुझे मिला है।

राष्ट्रपति जी के दोस्ताना शब्दों, और मेरे तथा मेरे delegation के गर्मजोशी भरे स्वागत और सम्मान के लिए मैं ह्रदय से आभार प्रकट करता हूँ। राष्ट्रपति जी स्वयं मेरा स्वागत करने airport आए। उनका यह special gesture पूरे भारत का सम्मान है। कल सुबह, Kigali जेनोसाइड मेमोरियल पर मैं श्रद्धाजंलि अर्पित करूंगा। 1994 के जेनोसाइड के बाद Rwanda ने जो शांति-प्रक्रिया अपनाई है, वह सच्चे अर्थों में सराहनीय और अनूठी है। President Kagame का कुशल नेतृत्व ही है जिनके प्रभावी और सक्षम शासन से Rwanda आज तेज गति से आर्थिक प्रगति कर रहा है।

Friends,

भारत और Rwanda के संबंध समय की कसौटी पर खरे उतरे हैं। हमारे लिए यह गर्व का विषय है कि Rwanda की आर्थिक विकास और राष्ट्रीय विकास यात्रा में भारत आपका विश्वस्त साझेदार रहा है। Rwanda की विकास यात्रा में हमारा योगदान आगे भी बना रहेगा। हम training, technology, infrastructure development और project assistance के क्षेत्रों में सहयोग करते रहे हैं। Finance, management, rural development और ICT जैसे क्षेत्रों में हम Rwanda के लिए अग्रणी भारतीय संस्थानों में training प्रदान करते हैं। Capacity building में इस योगदान को हम और बढ़ाना चाहेंगे। आज हमने Two hundred million dollars के lines of credit और training के विषय पर समझौते किये हैं। आज हमने नए क्षेत्रों जैसे लेदर और डेरी research सहित दोनों देशों के बीच सहयोग के विभिन्न क्षेत्रों पर भी चर्चा की है। इस संदर्भ में, मैं कल राष्ट्रपति जी के साथ रवेरू आदर्श गाँव की यात्रा के बारे में बहुत उत्सुक हूँ। भारत स्वयं एक कृषि प्रधान देश है, और हमारी अधिकांश जन-संख्या गावों में बसती है। और इसलिए, मैं ग्रामीण जीवन को सुधारने के लिए Rwanda के अनुभव से और राष्ट्रपति जी की पहलों से लाभान्वित होना चाहता हूँ। मेनीफेकचरिंग Sector, Hospitality और Tourism सहित हमने ऐसे बहुत से क्षेत्र प्रस्तावित किए हैं जहां भारत और Rwanda व्यापक विकासात्मक भागीदारी मजबूत कर सकते हैं। हम अपने व्यापारिक और निवेश संबंधों को और अधिक मजबूत करना चाहते हैं। और इसलिए, President कगामे और मैं कल दोनों देशों के प्रमुख business leaders से मिलेंगे और उनके सुझावों पर विचार करेंगे।

Friends,

मुझे यह बताते हुए प्रसन्नता है कि हम शीघ्र ही Rwanda में High Commission खोलने वाले है। इससे न सिर्फ़ हमारी सरकारों के बीच घनिष्ठ संवाद संभव होगा,साथ ही कोनसूलर, पासपोर्ट और वीज़ा तथा अन्य सुविधाएं भी सुलभ होंगी। हम दोनों देशों के बीच संबंधों को आने वाले समय में और अधिक उच्च स्तर पर ले जाने के लिए आशान्वित हैं।

मैं एक बार फिर राष्ट्रपति जी को अपना हार्दिक आभार देता हूँ। और सवा सौ करोड़ भारतीयों की ओर से रवांडा के लोंगों को भी शुभकामनाएं देता हूँ।

धन्यवाद।

दान
Explore More
'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

'चलता है' नहीं बल्कि बदला है, बदल रहा है, बदल सकता है... हम इस विश्वास और संकल्प के साथ आगे बढ़ें: पीएम मोदी
FPIs stay bullish on India, pour in Rs 5,072 cr in October so far

Media Coverage

FPIs stay bullish on India, pour in Rs 5,072 cr in October so far
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
US India Strategic Partnership Forum calls on PM
October 21, 2019
साझा करें
 
Comments

The members of US India Strategic Partnership Forum (USISPF) called on Prime Minister Shri Narendra Modi at 7, Lok Kalyan Marg, New Delhi today. The delegation was led by Chairman, USISPF, Mr. John Chambers. 

The Prime Minister thanked the delegation for reposing faith in the Indian Economy. He mentioned about the evolving start-up ecosystem in the country, highlighting the entrepreneurial risk taking capacity of India’s youth. He also outlined the steps taken by the Government including Atal Tinkering Labs and conducting Hackathons to boost innovation potential and solve problems using technology.

Prime Minister talked about steps taken to ensure Ease of Doing Business like reduction of corporate tax and labour reforms. He also outlined that the target of government is ensuring Ease of Living. He said that the unique strength of India is the availability of three Ds - democracy, demography and ‘dimaag’.

The Delegation expressed faith in the vision of the Prime Minister for the country and said that the next five years of India will define the next twenty five years of the world. 

About USISPF

The US-India Strategic Partnership Forum (USISPF) is a non-profit organization, with the primary objective of strengthening the India-US bilateral and strategic partnership through policy advocacy in the fields of economic growth, entrepreneurship, employment-creation, and innovation.