साझा करें
 
Comments

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी 26-27 जून 2022 को जर्मनी की अध्‍यक्षता के तहत जी7 शिखर सम्मेलन के लिए जर्मनी के चांसलर माननीय श्री ओलाफ स्कोल्ज के निमंत्रण पर जर्मनी के श्लॉस एल्मौ का दौरा करेंगे। उम्‍मीद है कि शिखर सम्‍मेलन के दौरान प्रधानमंत्री पर्यावरण, ऊर्जा, जलवायु, खाद्य सुरक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य, महिला-पुरूष समानता और लोकतंत्र जैसे मुद्दों पर अपने विचार रखेंगे। इन महत्वपूर्ण मुद्दों पर अंतरराष्ट्रीय सहयोग को मजबूत करने के प्रयासों के तहत अर्जेंटीना, इंडोनेशिया, सेनेगल और दक्षिण अफ्रीका जैसे अन्य लोकतांत्रिक देशों को भी आमंत्रित किया गया है। इस शिखर सम्मेलन से इतर प्रधानमंत्री श्री मोदी कुछ प्रतिभागी देशों के राजनेताओं के साथ द्विपक्षीय बैठकें करेंगे।

जी7 शिखर सम्मेलन के लिए यह निमंत्रण दरअसल भारत और जर्मनी के बीच मजबूत एवं घनिष्ठ साझेदारी एवं उच्चस्तरीय राजनीतिक संपर्कों की परंपरा को ध्यान में रखते हुए ही दिया गया है। प्रधानमंत्री श्री मोदी की पिछली जर्मनी यात्रा 2 मई 2022 को भारत-जर्मनी अंतर-सरकारी परामर्श (आईजीसी) के छठे संस्करण के लिए हुई थी।

जी7 शिखर सम्मेलन में भाग लेने के बाद प्रधानमंत्री श्री मोदी 28 जून 2022 को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के दौरे पर रहेंगे, जहां वह संयुक्त अरब अमीरात के पूर्व राष्ट्रपति और अबू धाबी के शासक महामहिम शेख खलीफा बिन जायद अल नाहयान के निधन पर व्यक्तिगत संवेदना व्यक्त करेंगे। प्रधानमंत्री श्री मोदी इसके साथ ही इस दौरान महामहिम शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान को यूएई के नए राष्ट्रपति और अबू धाबी के शासक के रूप में चुने जाने पर बधाई देंगे।

प्रधानमंत्री श्री मोदी उसी रात यानी 28 जून को संयुक्त अरब अमीरात से प्रस्थान करेंगे।

Explore More
आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी
'India on track to attract $100 billion FDI this fiscal: Govt

Media Coverage

'India on track to attract $100 billion FDI this fiscal: Govt
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
सोशल मीडिया कॉर्नर 24 सितंबर 2022
September 24, 2022
साझा करें
 
Comments

Due to the initiatives of the Modi government, J&K has seen a massive influx in tourism.

Citizens appreciate the brilliant work by the government towards infrastructure and economic development.