मन और पेट को भा गई खिचड़ी

Published By : Admin | September 16, 2016 | 23:56 IST
साझा करें
 
Comments

ये पूछना स्वाभाविक है कि – भारत के प्रधानमंत्री खाने में क्या पसंद करते हैं? क्या उन्हें मसालेदार खाना पसंद है?

इस ओर कुछ इशारा नरेंद्र मोदी स्वयं करते हैं, वो कहते हैं:

“जो लोग सार्वजनिक जीवन में काम करते हैं, उनका जीवन बहुत ही अनियमित होता है। इसलिए यदि कोई सार्वजनिक जीवन में सक्रिय होना चाहता है, तो उसका पेट मजबूत होना चाहिए।”

“35 वर्षों में विभिन्न संगठनात्मक पदों पर काम करते हुए मुझे पूरे देश का भ्रमण करना पड़ा। मुझे भोजन मांगना पड़ा और जो मिला उसे खाया। मैंने कभी लोगों से अपने लिए कोई खास खाना बनाने के लिए नहीं कहा।”

“मुझे खिचड़ी बहुत पसंद है। लेकिन मुझे जो भी मिले, मैं खा लेता हूं।”

वो कहते हैं “मैं चाहता हूं कि मेरी सेहत ऐसी हो कि वो देश के लिए बोझ न बने। अपनी अंतिम सांस तक मैं एक स्वस्थ व्यक्ति के रूप में जीना चाहता हूं।”

प्रधानमंत्री की भूमिका में बहुत अधिक यात्रा अपरिहार्य है और बहुत अधिक प्रीतिभोजों में शामिल होना पड़ता है। वो प्रत्येक प्रीतिभोज में स्थानीय शाकाहारी व्यंजन पसंद करते हैं। वो शराब नहीं पीते, इस कारण जाहिर तौर पर उनके गिलास में मादकपेय की जगह पानी रहता है या कोई जूस।

डिस्कलेमर :

यह उन कहानियों या खबरों को इकट्ठा करने के प्रयास का हिस्सा है जो प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और लोगों के जीवन पर उनके प्रभाव पर उपाख्यान / राय / विश्लेषण का वर्णन करती हैं।

Explore More
आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी

लोकप्रिय भाषण

आज का भारत एक आकांक्षी समाज है: स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी
India records highest salary increase of 10.6% in 2022 across world: Study

Media Coverage

India records highest salary increase of 10.6% in 2022 across world: Study
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
एक स्टार्ट-अप प्रधानमंत्री
September 07, 2022
साझा करें
 
Comments

जिस किसी को भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मिलने और बातचीत करने का मौका मिलता है, वह उन्हें एक प्रेरक नेता और एक उत्सुक श्रोता बताते हैं। OYO के फाउंडर रितेश अग्रवाल का केस अलग नहीं है। रितेश को पीएम मोदी के साथ ट्रैवल एंड टूरिज्म इंडस्ट्री पर चर्चा करने का अवसर मिला। प्रधानमंत्री के साथ उनकी छोटी सी मुलाकात ने उन्हें एक नया बिजनेस मॉडल तैयार करने में मदद की।

एक वीडियो में रितेश ने पीएम मोदी को ऐसे व्यक्ति के रूप में वर्णित किया जो न केवल मैक्रो लेवल पर गहरी नजर रखने की क्षमता रखते हैं, बल्कि ऐसे व्यक्ति हैं जो उन चीजों पर चर्चा कर सकते हैं जिनका जमीनी स्तर पर प्रभाव पड़ता है।

उन्होंने प्रधानमंत्री का एक उदाहरण शेयर किया। पीएम मोदी को उद्धत करते हुए रितेश ने कहा, 'भारत एक कृषि प्रधान अर्थव्यवस्था है। हमारे देश में बहुत सारे किसान हैं। उनकी आय एक समय पर अलग-अलग हो सकती है। दूसरी ओर, ऐसे लोग हैं जो गांव जाना चाहते हैं और अनुभव लेना चाहते हैं। आप विलेज टूरिज्म का प्रयास क्यों नहीं करते, ताकि इनमें से कुछ किसानों को आय का एक स्थायी दीर्घकालिक स्रोत मिल सके और शहरी लोगों को यह देखने और अनुभव करने का मौका मिले कि वास्तव में गाँव का जीवन क्या है? ”


रितेश ने बताया कि कैसे विलेज टूरिज्म के बारे में पीएम के साथ बातचीत के कुछ मिनटों ने उनके लिए एक अवसर का निर्माण कर दिया, जिससे कई किसानों और ग्रामीण परिवारों को स्थायी आय अर्जित करने में लाभ हुआ है। रितेश ने बताया कि किसी विषय के बारे में गहरी पकड़ और व्यापक जानकारी पीएम मोदी को 'स्टार्ट-अप प्रधानमंत्री' बनाता है।

रितेश ने आगे कहा कि न केवल ट्रैवल एंड टूरिज्म, बल्कि पीएम मोदी के पास किसी भी इंडस्ट्री से संबंधित विषयों पर चर्चा करने की क्षमता और गहराई है। "मैंने उन्हें डेटा सेंटर्स के विस्तार के बारे में चर्चा करते हुए देखा है, हम सोलर से इथेनॉल तक, अक्षय ऊर्जा में कैसे अच्छा कर सकते हैं, भारत में पैनलों का निर्माण करने के लिए सभी कच्चे माल की क्या आवश्यकता है, और यह PLI योजना में किसी कंपनी को कैसे लाभ पहुंचा सकता है?....जब भी हम इंफ्रास्ट्रक्चर के बारे में बात करते हैं, हम खुद को सड़कों, रेलवे और राजमार्गों तक सीमित रखते हैं, लेकिन जब भी हम उनसे उद्योग प्रतिनिधिमंडल के हिस्से के रूप में मिलते हैं, तो मैंने उन्हें उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स पर भी चर्चा करते देखा है। भारत इस साल इलेक्ट्रॉनिक्स मैन्युफैक्चरिंग में अकेला सबसे बड़ा देश होगा, जिसके बारे में शायद ही लोग जानते हों। भारत ड्रोन मैन्युफैक्चरिंग और इसके अनुसंधान और नवाचार का केंद्र बन गया है... इनमें से प्रत्येक उद्योग में, मेरे विचार में इतनी गहराई का होना अद्वितीय है और यही इन उद्योगों को तेजी से विकसित कर रहा है।"

रितेश ने कहा कि पीएम मोदी एक 'अविश्वसनीय श्रोता' हैं। उन्होंने केंद्रीय बजट से पहले आयोजित एक कार्यक्रम का एक उदाहरण दिया। उन्होंने उस कार्यक्रम को याद किया जिसमें पीएम मोदी ने भाग लिया था। उन्होंने एक बार फिर पीएम को उद्धत करते हुए कहा, " यदि पर्यटन का विस्तार करने की आवश्यकता है, तो हमें बड़े पैमाने पर और दीर्घकालिक इंफ्रास्ट्रक्चर निवेश करना चाहिए जिससे इंडस्ट्री इसका लाभ उठा सकें।" रितेश ने कहा कि गुजरात में केवड़िया इसी सोच का एक बड़ा उदाहरण है, कैसे स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के आसपास के आकर्षण ने वहां एक होटल उद्योग को फलने-फूलने में मदद की है। रितेश ने कहा, "दीर्घकालीन सुधारवादी और वैल्यू क्रिएटर के रूप में पीएम मोदी के बारे में मुझे इंफ्रास्ट्रक्चर के बारे में पांच, दस, पंद्रह साल के बारे में आगे की ओर देखना आकर्षक लगा।"


रितेश ने आगे कहा कि पीएम मोदी में एक एंटरप्रेन्योर के कई गुण हैं। उन्होंने कहा, "पीएम मोदी, इम्पैक्ट के मामले में बड़ा सोचते हैं लेकिन ऐसा करने से पहले वह छोटे पैमाने पर अनुभव प्राप्त करते हैं। उनकी क्षमता बड़े पैमाने की पहल को देखने और उसके क्रियान्वयन को बहुत बारीकी से ट्रैक करने की है।” OYO के फाउंडर ने कहा, “हमारे देश में एक नेता है जो कह रहा है कि हम Incremental होने से संतुष्ट नहीं हैं। हम एक ऐसा देश हैं जहां दुनिया में सर्वश्रेष्ठ बनने की आकांक्षा और प्रेरणा के साथ एक अरब से अधिक लोग हैं।"

Disclaimer:

It is part of an endeavour to collect stories which narrate or recount people’s anecdotes/opinion/analysis on Prime Minister Shri Narendra Modi & his impact on lives of people.