Lays foundation stone of 1406 projects worth more than Rs 80,000 crores
“Only our democratic India has the power to meet the parameters of a trustworthy partner that the world is looking for today”
“Today the world is looking at India's potential as well as appreciating its performance”
“We have laid emphasis on policy stability, coordination and ease of doing business in the last 8 years”
“For faster growth of Uttar Pradesh, our double engine government is working together on infrastructure, investment and manufacturing”
“As a MP from the state, I have felt the capability and potential in the administration and government of the state that the country expects from them”
“We are with development by policy, decisions and intention”

ઉત્તર પ્રદેશના યશસ્વી મુખ્યમંત્રી શ્રી યોગી આદિત્યનાથજી, લખનઉના સાંસદ અને ભારત સરકારના અમારા વરિષ્ઠ સાથી શ્રી રાજનાથ સિંહજી, કેન્દ્રીય મંત્રીમંડળના મારા અન્ય સાથીદારો, યુપીના નાયબ મુખ્યમંત્રી, રાજ્ય સરકારના પ્રધાનો, વિધાનસભા અને વિધાન પરિષદના સ્પીકર મહોદય, અહીં ઉપસ્થિત ઉદ્યોગ જગતના તમામ સાથીદારો, અન્ય મહાનુભાવો, દેવીઓ અને સજ્જનો!

સૌ પ્રથમ, હું ઉત્તર પ્રદેશના સાંસદ તરીકે, કાશીના સાંસદ તરીકે રોકાણકારોનું સ્વાગત કરું છું અને હું રોકાણકારોનો એટલા માટે આભાર માનું છું કારણ કે તેઓએ ઉત્તર પ્રદેશની યુવા શક્તિ પર વિશ્વાસ મૂક્યો છે. ઉત્તર પ્રદેશની યુવા શક્તિમાં તમારાં સપનાં અને સંકલ્પોને નવી ઉડાન, નવી ઊંચાઈ આપવાની શક્તિ છે અને તમે જે સંકલ્પ લઈને આવ્યા છો, ઉત્તર પ્રદેશના યુવાનોની મહેનત, તેમનો પુરુષાર્થ, તેમની સમજ, તેમનું સમર્પણ તમારાં બધાં સપનાં અને સંકલ્પોને પૂર્ણ કરશે, એ હું આપને ખાતરી આપું છું.

હું કાશીનો સાંસદ છું, તેથી એક સાંસદ તરીકે, હું આ લોભ છોડી શકતો નથી, હું આ મોહને છોડી શકતો નથી કે હું એટલું તો ઇચ્છીશ કે તમે લોકો ખૂબ વ્યસ્ત રહો છો, પણ થોડો સમય કાઢીને મારી કાશી જોઇ આવો, કાશી બહુ બદલાઈ ગઈ છે, કાશી ઘણું બદલાઈ ગયું છે. વિશ્વનું આવું શહેર તેનાં પ્રાચીન સામર્થ્યથી નવા રૂપમાં સજી શકે છે, તે ઉત્તર પ્રદેશની તાકાતનું જીવંત ઉદાહરણ છે.

સાથીઓ,

યુપીમાં 80 હજાર કરોડ રૂપિયાથી વધુના રોકાણ સંબંધિત કરારો પર હસ્તાક્ષર કરવામાં આવ્યા છે. આ રેકોર્ડ રોકાણથી યુપીમાં હજારો નવી રોજગારીની તકો ઊભી થશે. આ ભારતની સાથે જ ઉત્તર પ્રદેશની વૃદ્ધિની વાર્તામાં વધતા જતા વિશ્વાસને દર્શાવે છે. આજનાં આ આયોજન માટે હું યુપીના યુવાનોને વિશેષ અભિનંદન આપીશ, કારણ કે તેનો સૌથી મોટો ફાયદો યુપીના યુવાનોને, યુવતીઓને, આપણી નવી પેઢીને થવાનો છે.

સાથીઓ,

આપણે અત્યારે આપણી આઝાદીનાં 75મા વર્ષની ઉજવણી કરી રહ્યા છીએ. આઝાદીનો અમૃત મહોત્સવ મનાવી રહ્યા છીએ. આ સમય આગામી 25 વર્ષ માટે અમૃતકાળ, નવા સંકલ્પનો સમય છે, નવા ધ્યેયનો સમય છે અને નવાં લક્ષ્યોને પ્રાપ્ત કરવા માટે સબકા પ્રયાસના મંત્રને લઈને પરિશ્રમની પરાકાષ્ઠા કરવાનો અમૃત કાળ છે. આજે વિશ્વમાં જે વૈશ્વિક પરિસ્થિતિઓ ઊભી થઈ છે તે આપણા માટે મોટી તકો પણ લઈને આવી છે. વિશ્વ આજે જે વિશ્વાસપાત્ર ભાગીદારની શોધમાં છે તે પ્રમાણે ખરા ઉતરવાનું સામર્થ્ય ફક્ત આપણા લોકશાહી ભારત પાસે છે. આજે દુનિયા ભારતની સંભાવનાને પણ જોઈ રહી છે અને ભારતનાં પ્રદર્શનની પ્રશંસા પણ કરી રહી છે.

ભારત કોરોનાના સમયગાળા દરમિયાન પણ અટક્યું નહીં, બલકે તેના સુધારાની ગતિ વધુ વધારી દીધી. તેનું પરિણામ આજે આપણે સૌ જોઈ રહ્યાં છીએ. આપણે G-20 અર્થતંત્રોમાં સૌથી ઝડપથી વિકસી રહ્યા છીએ. આજે ભારત વૈશ્વિક રિટેલ ઈન્ડેક્સમાં બીજા નંબરે છે. ભારત વિશ્વનો ત્રીજો સૌથી મોટો ઊર્જા ઉપભોક્તા દેશ છે. ગયા વર્ષે, વિશ્વના 100થી વધુ દેશોમાંથી 84 અબજ ડૉલરનું રેકોર્ડ FDI આવ્યું છે. ભારતે પાછલાં નાણાકીય વર્ષમાં 417 અબજ ડૉલર એટલે કે 30 લાખ કરોડ રૂપિયાથી વધુના માલની નિકાસ કરીને નવો રેકોર્ડ બનાવ્યો છે.

સાથીઓ,

એક રાષ્ટ્ર તરીકે, હવે આપણા સહિયારા પ્રયાસોને અનેકગણો વધારવાનો સમય છે. આ એવો સમય છે જ્યારે આપણે આપણા નિર્ણયોને માત્ર એક વર્ષ અથવા 5 વર્ષ સુધી જોઇને મર્યાદિત કરી શકતા નથી. ભારતમાં એક મજબૂત મૅન્યુફેક્ચરિંગ ઇકોસિસ્ટમ, એક મજબૂત અને વૈવિધ્યસભર મૂલ્ય અને સપ્લાય ચેઇન વિકસાવવા માટે દરેક વ્યક્તિનું યોગદાન જરૂરી છે. સરકાર પોતાના તરફથી સતત નીતિઓ બનાવી રહી છે, જૂની નીતિઓમાં સુધારો કરી રહી છે.

હાલમાં જ કેન્દ્રમાં એનડીએ સરકારે તેનાં 8 વર્ષ પૂર્ણ કર્યાં છે. આ વર્ષોમાં અમે, જેમ યોગીજી હમણાં કહેતા હતા તેમ, રિફોર્મ-પરફોર્મ-ટ્રાન્સફોર્મના મંત્ર સાથે આગળ વધ્યા છીએ. અમે પોલિસી સ્ટેબિલિટી પર ભાર મૂક્યો છે, કોઓર્ડિનેશન પર ભાર મૂક્યો છે, બિઝનેસ કરવાની સરળતા-ઈઝ ઑફ ડુઈંગ બિઝનેસ પર ભાર મૂક્યો છે. વીતેલા સમયમાં અમે હજારો અનુપાલન નાબૂદ કર્યા છે, જૂના કાયદા નાબૂદ કર્યા છે. અમે અમારા સુધારા સાથે ભારતને એક રાષ્ટ્ર તરીકે મજબૂત કરવાનું કામ કર્યું છે. વન નેશન-વન ટેક્સ GST હોય, વન નેશન-વન ગ્રીડ હોય, વન નેશન-વન મોબિલિટી કાર્ડ હોય, વન નેશન-વન રાશન કાર્ડ હોય, આ તમામ પ્રયાસો અમારી નક્કર અને સ્પષ્ટ નીતિઓનું પ્રતિબિંબ છે.

જ્યારથી યુપીમાં ડબલ એન્જિનની સરકાર બની છે ત્યારથી યુપીમાં પણ આ દિશામાં ઝડપથી કામ ચાલી રહ્યું છે. ખાસ કરીને જે રીતે કાયદો અને વ્યવસ્થાની સ્થિતિમાં સુધારો થયો છે, એનાથી યુપીમાં, વેપારીઓનો વિશ્વાસ પાછો ફર્યો છે, વેપાર માટે યોગ્ય વાતાવરણ ઊભું થયું છે. વીતેલાં વર્ષોમાં વહીવટી ક્ષમતા અને શાસનમાં પણ સુધારો થયો છે. તેથી જ આજે લોકોને યોગીજીની સરકારમાં વિશ્વાસ છે. અને જેમ ઉદ્યોગ જગતના સાથીદારો તેમના અનુભવના આધારે હમણાં ઉત્તર પ્રદેશની પ્રશંસા કરી રહ્યા હતા.

હું સાંસદ તરીકે મારા અનુભવો વર્ણવું છું. આપણે ક્યારેય ઉત્તર પ્રદેશના વહીવટને નજીકથી જોયો ન હતો. ક્યારેક મુખ્યમંત્રીઓની બેઠકમાં લોકો આવતા હતા, તો ત્યાંનો એજન્ડા કંઈ અલગ રહેતો હતો. પરંતુ એક સાંસદ તરીકે, જ્યારે મેં અહીં કામ કરવાનું શરૂ કર્યું, ત્યારે મારો વિશ્વાસ અનેકગણો વધી ગયો કે ઉત્તર પ્રદેશની અમલદારશાહી, ઉત્તર પ્રદેશના વહીવટીતંત્ર પાસે તે શક્તિ છે જે દેશ તેમની પાસેથી ઈચ્છે છે.

જે વાત ઉદ્યોગ જગતના લોકો કહી રહ્યા હતા, એક સાંસદ તરીકે મેં પોતે આ સામર્થ્યનો અનુભવ કર્યો છે. અને તેથી જ હું અહીં સરકારના તમામ અમલદારોને, સરકારના દરેક નાના-મોટા માણસને તેમનો જે મિજાજ બન્યો છે તેના માટે હું વધામણાં આપું છું, એમને અભિનંદન આપું છું.

મિત્રો, આજે યુપીની જનતાએ 37 વર્ષ પછી ફરી કોઇ સરકારને ફરીથી સત્તામાં લાવીને તેમના સેવકને એક જવાબદારી સોંપી છે.

સાથીઓ,

ઉત્તર પ્રદેશમાં ભારતની પાંચમા-છઠ્ઠા ભાગની વસ્તી વસે છે. એટલે કે, યુપીમાંથી એક વ્યક્તિનું ભલું એ ભારતના દરેક છઠ્ઠા વ્યક્તિનું ભલું હશે. હું માનું છું કે યુપી જ છે જે 21મી સદીમાં ભારતની વિકાસગાથાને વેગ આપશે. અને આ જ દસ વર્ષમાં તમે જોશો કે, ઉત્તર પ્રદેશ હિંદુસ્તાનનું બહુ મોટું પ્રેરક બળ બનવાનું છે. તમને આ 10 વર્ષમાં દેખાય જશે.

જ્યાં પરિશ્રમની પરાકાષ્ઠા કરનારા લોકો હોય, જ્યાં દેશની કુલ વસ્તીના 16 ટકાથી વધુનો ઉપભોક્તા આધાર હોય, જ્યાં 5 લાખથી વધુ વસ્તી ધરાવતાં એક ડઝનથી વધુ શહેરો હોય, જ્યાં દરેક જિલ્લાની પોતાનાં કોઇ ને કોઇ વિશેષ ઉત્પાદન હોય, જ્યાં આટલી મોટી સંખ્યામાં MSME હોય, લઘુ  ઉદ્યોગો હોય, જ્યાં વિવિધ ઋતુઓમાં વિવિધ કૃષિ ઉત્પાદનો-અનાજ-ફળો-શાકભાજીઓનો વિપુલ જથ્થો હોય, ગંગા, યમુના, સર્યૂ સહિત અનેક નદીઓનાં આશીર્વાદ પ્રાપ્ત હોય, આવા યુપીને ઝડપી વિકાસ કરતા કોણ રોકી શકે છે ભલા?

સાથીઓ,

અત્યારે આ બજેટમાં જ, ભારત સરકારના બજેટની વાત કરું છું, અમે ગંગાની બંને બાજુએ 5-5 કિમીની ત્રિજ્યામાં રસાયણ મુક્ત કુદરતી ખેતી કૉરિડોર બનાવવાની જાહેરાત કરી છે. ડિફેન્સ કૉરિડોરની ચર્ચા તો થાય છે, પરંતુ આ કૉરિડોરની વાત કોઈ કરતું નથી. યુપીમાં, ગંગા અગિયારસો કિલોમીટરથી વધુ લાંબી છે અને અહીંના 25 થી 30 જિલ્લામાંથી પસાર થાય છે. તમે કલ્પના કરી શકો છો કે યુપીમાં કુદરતી ખેતીની વિશાળ સંભાવનાઓ ઊભી થવા જઈ રહી છે. યુપી સરકારે થોડાં વર્ષો પહેલા તેની ફૂડ પ્રોસેસિંગ પોલિસી પણ જાહેર કરી છે. હું સમજું છું કે, કોર્પોરેટ જગત માટે અને અહીં આવેલા ઉદ્યોગ જગતના લોકોને હું આ વિષય પર આગ્રહપૂર્વક કહેવા માગું છું. કોર્પોરેટ જગત માટે આ સમય કૃષિમાં રોકાણ કરવાની આ સુવર્ણ તક છે.

સાથીઓ,

ઝડપી વૃદ્ધિ માટે, અમારી ડબલ એન્જિન સરકાર ઇન્ફ્રાસ્ટ્રક્ચર, રોકાણ અને ઉત્પાદન, ત્રણેય પર એક સાથે કામ કરી રહી છે. આ વર્ષનાં બજેટમાં 7.50 લાખ કરોડ રૂપિયાના અભૂતપૂર્વ મૂડી ખર્ચની ફાળવણી આ દિશામાં લેવાયેલું એક પગલું છે. મૅન્યુફેક્ચરિંગને પ્રોત્સાહન આપવા માટે, અમે PLI સ્કીમ્સની જાહેરાત કરી છે, જેનો લાભ તમને અહીં યુપીમાં પણ મળશે.

યુપીમાં બની રહેલો ડિફેન્સ કૉરિડોર પણ તમારા માટે મોટી સંભાવનાઓ લઈને આવી રહ્યો છે. ભારતમાં આજે ડિફેન્સ મૅન્યુફેક્ચરિંગ પર જેટલો ભાર મૂકવામાં આવી રહ્યો છે એટલો પહેલા ક્યારેય ન અપાયો હતો. અમે આત્મનિર્ભર ભારત અભિયાન હેઠળ ખૂબ હિંમતથી નિર્ણય લીધો છે, અમે આવી 300 વસ્તુઓની ઓળખ કરી છે અને અમે નક્કી કર્યું છે કે આ 300 વસ્તુઓ હવે વિદેશથી નહીં આવે. એટલે કે, આ 300 સૈન્ય ઉપકરણોને લગતી વસ્તુઓ છે, એટલે કે સંરક્ષણ ક્ષેત્રે ઉત્પાદનમાં આવવા માગતા લોકો માટે આ 300 ઉત્પાદનો માટે એક ખાતરીપૂર્વકનું બજાર ઉપલબ્ધ છે. તેનાથી પણ તમને ઘણો ફાયદો થશે.

સાથીઓ,

અમે મૅન્યુફેક્ચરિંગ અને ટ્રાન્સપોર્ટેશન જેવા પરંપરાગત ધંધાની માગને પહોંચી વળવા માટે ભૌતિક ઈન્ફ્રાસ્ટ્રક્ચરનું આધુનિકીકરણ કરી રહ્યા છીએ. અહીં યુપીમાં પણ આધુનિક પાવર ગ્રિડ હોય, ગેસ પાઈપલાઈનનું નેટવર્ક હોય કે મલ્ટિમોડલ કનેક્ટિવિટી હોય, બધા પર 21મી સદીની જરૂરિયાતો અનુસાર કામ થઈ રહ્યું છે. આજે યુપીમાં જેટલા કિલોમીટરના એક્સપ્રેસ વે પર કામ થઈ રહ્યું છે તે પોતાનામાં એક રેકોર્ડ છે. આધુનિક એક્સપ્રેસ વેનું મજબૂત નેટવર્ક ઉત્તર પ્રદેશના તમામ આર્થિક ક્ષેત્રો-ઈકોનોમિક ઝોન્સને જોડવા જઈ રહ્યું છે.

ટૂંક સમયમાં યુપી આધુનિક રેલવે ઈન્ફ્રાસ્ટ્રક્ચરના સંગમ તરીકે પણ ઓળખાવાનું છે. ઇસ્ટર્ન અને વેસ્ટર્ન ડેડિકેટેડ ફ્રેટ કૉરિડોર અહીં યુપીમાં જ એકબીજા સાથે જોડાનાર છે. જેવર સહિત યુપીના 5 ઇન્ટરનેશનલ એરપોર્ટ્સ અહીંની ઇન્ટરનેશનલ કનેક્ટિવિટી વધુ મજબૂત કરવાના છે. ગ્રેટર નોઈડાનો વિસ્તાર હોય કે પછી વારાણસી, અહીં બે મલ્ટી મોડલ લોજિસ્ટિક્સ ટ્રાન્સપોર્ટ હબ પણ બનાવવામાં આવી રહ્યા છે. ઔદ્યોગિક વ્યૂહરચનાના સંદર્ભમાં, લોજિસ્ટિક્સના સંદર્ભમાં, યુપી દેશના સૌથી આધુનિક માળખાકીય સુવિધાઓ સાથેના રાજ્યોમાં સામેલ થઈ રહ્યું છે. યુપીમાં આ વધતી જતી કનેક્ટિવિટી અને વધતું જતું રોકાણ યુપીના યુવાનો માટે ઘણી નવી તકો લઈને આવી રહ્યું છે.

સાથીઓ,

આધુનિક ઈન્ફ્રાસ્ટ્રક્ચરનાં નિર્માણમાં ગતિ આવે એ માટે અમારી સરકારે પીએમ ગતિશક્તિ નેશનલ માસ્ટર પ્લાન તૈયાર કર્યો છે. કેન્દ્ર સરકાર, રાજ્ય સરકાર, વિવિધ વિભાગો, વિવિધ એજન્સીઓ, એટલું જ નહીં, સ્થાનિક સમાજની સંસ્થાઓ સુધી, આ બધાને એક સાથે જોડવા માટે, તે જ રીતે, ખાનગી ક્ષેત્ર, વ્યવસાય સંબંધિત સંસ્થાઓને એક જ પ્લેટફોર્મ પર લાવવાનું કામ આ પીએમ ગતિશક્તિ યોજના દ્વારા કરવામાં આવી રહ્યું છે. આ પ્લેટફોર્મ દ્વારા, કોઈપણ પ્રોજેક્ટ સાથે સંકળાયેલા દરેક હિતધારકને વાસ્તવિક સમયની માહિતી મળશે. તે સમયસર આયોજન કરી શકશે કે તેણે કેટલા સમયમાં તેના ભાગનું કામ પૂરું કરવાનું છે. છેલ્લાં 8 વર્ષમાં દેશમાં પ્રોજેક્ટ સમયસર પૂરા કરવાની જે નવી સંસ્કૃતિ વિકસિત થઈ છે, તે તેને નવા આયામો આપશે.

સાથીઓ,

ભારતે વીતેલાં વર્ષોમાં જે ઝડપ સાથે કામ કર્યું છે તેનું ઉદાહરણ આપણી ડિજિટલ ક્રાંતિ છે. 2014માં, આપણા દેશમાં ફક્ત 6 કરોડ બ્રોડબેન્ડ ગ્રાહકો હતા. આજે તેમની સંખ્યા 78 કરોડને વટાવી ગઈ છે. 2014માં એક જીબી ડેટાની કિંમત લગભગ 200 રૂપિયા હતી. આજે તેની કિંમત ઘટીને 11-12 રૂપિયા થઈ ગઈ છે. ભારત વિશ્વના એવા દેશોમાંથી એક છે જ્યાં આટલો સસ્તો ડેટા છે. 2014માં દેશમાં 11 લાખ કિમી ઓપ્ટિકલ ફાઈબર હતો. હવે દેશમાં બિછાવાયેલ ઓપ્ટિકલ ફાઈબરની લંબાઈ 28 લાખ કિમીને વટાવી ગઈ છે.

2014માં, ઓપ્ટિકલ ફાઈબર દેશની 100થી ઓછી ગ્રામ પંચાયતો સુધી પહોંચ્યું હતું. આજે ઓપ્ટિકલ ફાઈબર સાથે જોડાયેલી ગ્રામ પંચાયતોની સંખ્યા પણ પોણા બે લાખને પાર કરી ગઈ છે. 2014માં દેશમાં માત્ર 90 હજારની આસપાસ કોમન સર્વિસ સેન્ટર હતા. આજે દેશમાં કોમન સર્વિસ સેન્ટરની સંખ્યા પણ 4 લાખને વટાવી ગઈ છે. આજે દુનિયાના 40 ટકા જેટલા ડિજિટલ વ્યવહારો ભારતમાં થાય છે, દુનિયાના 40 ટકા. કોઈપણ હિંદુસ્તાનીને ગર્વ થશે. જે ભારતને લોકો અભણ કહે છે, તે ભારત આ કમાલ કરી રહ્યું છે.

છેલ્લાં 8 વર્ષમાં ડિજિટલ ક્રાંતિ માટે આપણે જે પાયો મજબૂત કર્યો છે તેનું જ પરિણામ છે કે આજે વિવિધ ક્ષેત્રો માટે આટલી શક્યતાઓ ઊભી થઈ છે. આપણા યુવાનોને આનો મોટો લાભ મળ્યો છે. 2014 પહેલા આપણે ત્યાં માત્ર થોડાક સો સ્ટાર્ટ-અપ્સ હતાં. પરંતુ આજે દેશમાં રજિસ્ટર્ડ સ્ટાર્ટ અપ્સની સંખ્યા પણ 70 હજારની આસપાસ પહોંચી રહી છે. તાજેતરમાં જ, ભારતે 100 યુનિકોર્નનો રેકોર્ડ પણ બનાવ્યો છે. આપણી નવી અર્થવ્યવસ્થાની માગને પહોંચી વળવા માટે, ડિજિટલ ઈન્ફ્રાસ્ટ્રક્ચરની મજબૂતાઈનો ઘણો લાભ તમને લોકોને મળવાનો છે.

સાથીઓ,

હું તમને ખાતરી આપું છું કે યુપીના વિકાસ માટે, આત્મનિર્ભર ભારતનાં નિર્માણ માટે, કોઈપણ ક્ષેત્રમાં, જે પણ સુધારાની જરૂર પડશે, તે સુધારાઓ સતત થતા રહેશે. અમે નીતિથી પણ વિકાસ સાથે છીએ, અમે નિર્ણયોથી પણ વિકાસની સાથે છીએ, અમે ઈરાદાથી પણ  વિકાસની સાથે છીએ અને અમે સ્વભાવથી પણ વિકાસ સાથે છીએ.

અમે બધા તમારા દરેક પ્રયાસમાં તમારી સાથે રહીશું અને તમને દરેક પગલામાં સાથ આપીશું. ઉત્તર પ્રદેશની વિકાસયાત્રામાં પૂરા ઉત્સાહ સાથે જોડાઓ. ઉત્તર પ્રદેશનાં ભવિષ્યનું નિર્માણ તમારું ભવિષ્ય પણ ઉજ્જવળ બનાવશે. આ જીત-જીતની સ્થિતિ છે. આ રોકાણ બધા માટે શુભ બની રહે, તે બધા માટે લાભદાયી બની રહે.

એ જ ઈચ્છા સાથે ઇતિ શુભમ કહીને, તમને બધાંને ખૂબ ખૂબ શુભેચ્છાઓ!

આભાર!

Explore More
77મા સ્વતંત્રતા દિવસના પ્રસંગે લાલ કિલ્લાની પ્રાચીર પરથી પ્રધાનમંત્રી શ્રી નરેન્દ્ર મોદીનાં સંબોધનનો મૂળપાઠ

લોકપ્રિય ભાષણો

77મા સ્વતંત્રતા દિવસના પ્રસંગે લાલ કિલ્લાની પ્રાચીર પરથી પ્રધાનમંત્રી શ્રી નરેન્દ્ર મોદીનાં સંબોધનનો મૂળપાઠ
India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer

Media Coverage

India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's Interview to Navbharat Times
May 23, 2024

प्रश्न: वोटिंग में मत प्रतिशत उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा। क्या, कम वोट पड़ने पर भी बीजेपी 400 पार सीटें जीत सकती है? ये कौन से वोटर हैं, जो घर से नहीं निकल रहे?

उत्तर: किसी भी लोकतंत्र के लिए ये बहुत आवश्यक है कि लोग मतदान में बढ़चढ कर हिस्सा लें। ये पार्टियों की जीत-हार से बड़ा विषय है। मैं तो देशभर में जहां भी रैली कर रहा हूं, वहां लोगों से मतदान करने की अपील कर रहा हूं। इस समय उत्तर भारत में बहुत कड़ी धूप है, गर्मी है। मैं आपके माध्यम से भी लोगों से आग्रह करूंगा कि लोकतंत्र के इस महापर्व में अपनी भूमिका जरूर निभाएं। तपती धूप में लोग ऑफिस तो जा ही रहे हैं, हर व्यक्ति अपने काम के लिए घर से बाहर निकल रहा है, ऐसे में वोटिंग को भी दायित्व समझकर जरूर पूरा करें। चार चरणों के चुनाव के बाद बीजेपी ने बहुमत का आंकड़ा पा लिया है, आगे की लड़ाई 400 पार के लिए ही हो रही है। चुनाव विशेषज्ञ विश्लेषण करने में जुटे हैं, ये उनका काम है, लेकिन अगर वो मतदाताओं और बीजेपी की केमिस्ट्री देख पाएं तो समझ जाएंगे कि 400 पार का नारा हकीकत बनने जा रहा है। मैं जहां भी जा रहा हूं, बीजेपी के प्रति लोगों के अटूट विश्वास को महसूस रहा हूं। एनडीए को 400 सीटों पर जीत दिलाने के लिए लोग उत्साहित हैं।

प्रश्न: लेकिन कश्मीर में वोट प्रतिशत बढ़े। कश्मीर में बढ़ी वोटिंग का संदेश क्या है?

उत्तर: : मेरे लिए इस चुनाव में सबसे सुकून देने वाली घटना यही है कि कश्मीर में वोटिंग प्रतिशत बढ़ी है। वहां मतदान केंद्रों के बाहर कतार में लगे लोगों की तस्वीरें ऊर्जा से भर देने वाली हैं। मुझे इस बात का संतोष है कि जम्मू-कश्मीर के बेहतर भविष्य के लिए हमने जो कदम उठाए हैं, उसके सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। श्रीनगर के बाद बारामूला में भी बंपर वोटिंग हुई है। आर्टिकल 370 हटने के बाद आए परिवर्तन में हर कश्मीरी राहत महसूस कर रहा है। वहां के लोग समझ गए हैं कि 370 की आड़ में इतने वर्षों तक उनके साथ धोखा हो रहा था। दशकों तक जम्मू-कश्मीर के लोगों को विकास से दूर रखा गया। सिस्टम में फैले भ्रष्टाचार से वहां के लोग त्रस्त थे, लेकिन उन्हें कोई विकल्प नहीं दिया जा रहा था। परिवारवादी पार्टियों ने वहां की राजनीति को जकड़ कर रखा था। आज वहां के लोग बिना डरे, बिना दबाव में आए विकास के लिए वोट कर रहे हैं।

प्रश्न: 2014 और 2019 के मुकाबले 2024 के चुनाव और प्रचार में आप क्या फर्क महसूस कर रहे हैं?

उत्तर: 2014 में जब मैं लोगों के बीच गया तो मुझे देशभर के लोगों की उम्मीदों को जानने का अवसर मिला। जनता बदलाव चाहती थी। जनता विकास चाहती थी। 2019 में मैंने लोगों की आंखों में विश्वास की चमक देखी। ये विश्वास हमारी सरकार के 5 साल के काम से आया था। मैंने महसूस किया कि उन 5 वर्षों में लोगों की आकांक्षाओं का विस्तार हुआ है। उन्होंने और बड़े सपने देखे हैं। वो सपने उनके परिवार से भी जुड़े थे, और देश से भी जुड़े थे। पिछले 5 साल तेज विकास और बड़े फैसलों के रहे हैं। इसका प्रभाव हर व्यक्ति के जीवन पर पड़ा है। अब 2024 के चुनाव में मैं जब प्रचार कर रहा हूं तो मुझे लोगों की आंखों में एक संकल्प दिख रहा है। ये संकल्प है विकसित भारत का। ये संकल्प है भ्रष्टाचार मुक्त भारत का। ये संकल्प है मजबूत भारत का। 140 करोड़ भारतीयों को भरोसा है कि उनका सपना बीजेपी सरकार में ही पूरा हो सकता है, इसलिए हमारी सरकार की तीसरी पारी को लेकर जनता में अभूतपूर्व उत्साह है।

प्रश्न: 10 साल की सबसे बड़ी उपलब्धि आप किसे मानते हैं और तीसरे कार्यकाल के लिए आप किस तरह खुद को तैयार कर रहे हैं?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हमारी सरकार ने अर्थव्यवस्था, सामाजिक न्याय, गरीब कल्याण और राष्ट्रहित से जुड़े कई बड़े फैसले लिए हैं। हमारे कार्यों का प्रभाव हर वर्ग, हर समुदाय के लोगों पर पड़ा है। आप अलग-अलग क्षेत्रों का विश्लेषण करेंगे तो हमारी उपलब्धियां और उनसे प्रभावित होने वाले लोगों के बारे में पता चलेगा। मुझे इस बात का बहुत संतोष है कि हम देश के 25 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर ला पाए। करोड़ों लोगों को घर, शौचालय, बिजली-पानी, गैस कनेक्शन, मुफ्त इलाज की सुविधा दे पाए। इससे उनके जीवन में जो बदलाव आया है, उसकी उन्होंने कल्पना तक नहीं की थी। आप सोचिए, कि अगर करोड़ों लोगों को ये सुविधाएं नहीं मिली होतीं तो वो आज भी गरीबी का जीवन जी रहे होते। इतना ही नहीं, उनकी अगली पीढ़ी भी गरीबी के इस कुचक्र में पिसने के लिए तैयार हो रही होती।

हमने गरीब को सिर्फ घर और सुविधाएं नहीं दी हैं, हमने उसे सम्मान से जीने का अधिकार दिया है। हमने उसे हौसला दिया है कि वो खुद अपने पैरों पर खड़ा हो सके। हमने उसे एक विश्वास दिया कि जो जीवन उसे देखना पड़ा, वो उसके बच्चों को नहीं देखना पड़ेगा। ऐसे परिवार फिर से गरीबी में न चले जाएं, इसके लिए हम हर कदम पर उनके साथ खड़े हैं। इसीलिए, आज देश के 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया जा रहा है, ताकि वो अपनी आय अपनी दूसरी जरूरतों पर खर्च कर सकें। हम कौशल विकास, पीएम विश्वकर्मा और स्वनिधि जैसी योजनाओं के माध्यम से उन्हें आगे बढ़ने में मदद कर रहे हैं। हमने घर की महिला सदस्य को सशक्त बनाने के भी प्रयास किए। लखपति दीदी, ड्रोन दीदी जैसी योजनाओं से महिलाएं आर्थिक रूप से मजबूत हुई हैं। मेरी सरकार के तीसरे कार्यकाल में इन योजनाओं को और विस्तार मिलेगा, जिससे ज्यादा महिलाओं तक इनका लाभ पहुंचेगा।

प्रश्न: हमारे रिपोर्टर्स देशभर में घूमे, एक बात उभर कर आई कि रोजगार और महंगाई पर लोगों ने हर जगह बात की है। जीतने के बाद पहले 100 दिनों में युवाओं के लिए क्या करेंगे? रोजगार के मोर्चे पर युवाओं को कोई भरोसा देना चाहेंगे?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हम महंगाई दर को काबू रख पाने में सफल रहे हैं। यूपीए के समय महंगाई दर डबल डिजिट में हुआ करती थी। आज दुनिया के अलग-अलग कोनों में युद्ध की स्थिति है। इन परिस्थितियों का असर देश की अर्थव्यवस्था और महंगाई पर पड़ा है। हमने दुनिया के ताकतवर देशों के सामने अपने देश के लोगों के हित को प्राथमिकता दी, और पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ने नहीं दीं। पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़तीं तो हर चीज महंगी हो जाती। हमने महंगाई का बोझ कम करने के लिए हर छोटी से छोटी चीज पर फोकस किया। आज गरीब परिवारों को अच्छे से अच्छे अस्पताल में 5 लाख रुपये तक इलाज मुफ्त मिलता है। जन औषधि केंद्रों की वजह से दवाओं के खर्च में 70 से 80 प्रतिशत तक राहत मिली है। घुटनों की सर्जरी हो या हार्ट ऑपरेशन, सबका खर्च आधे से ज्यादा कम हो गया है। आज देश में लोन की दरें सबसे कम हैं। कार लेनी हो, घर लेना हो तो आसानी से और सस्ता लोन उपलब्ध है। पर्सनल लोन इतना आसान देश में कभी नहीं था। किसान को यूरिया और खाद की बोरी दुनिया के मुकाबले दस गुना कम कीमत पर मिल रही है। पिछले 10 वर्षों में रोजगार के अनेक नए अवसर बने हैं। लाखों युवाओं को सरकारी नौकरी मिली है। प्राइवेट सेक्टर में रोजगार के नए मौके बने हैं। EPFO के मुताबिक पिछले सात साल में 6 करोड़ नए सदस्य इसमें जुड़े हैं।

PLFS का डेटा बताता है कि 2017 में जो बेरोजगारी दर 6% थी, वो अब 3% रह गई है। हमारी माइक्रो फाइनैंस की नीतियां कितनी प्रभावी हैं, इस पर SKOCH ग्रुप की एक रिपोर्ट आई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 10 साल में हर वर्ष 5 करोड़ पर्सन-ईयर रोजगार पैदा हुए हैं। युवाओं के पास अब स्पेस सेक्टर, ड्रोन सेक्टर, गेमिंग सेक्टर में भी आगे बढ़ने के अवसर हैं। देश में डिजिटल क्रांति से भी युवाओं के लिए अवसर बने हैं। आज भारत में डेटा इतना सस्ता है तभी देश की क्रिएटर इकनॉमी बड़ी हो रही है। आज देश में सवा लाख से ज्यादा स्टार्टअप्स हैं, इनसे बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर बन रहे हैं। हमने अपनी सरकार के पहले 100 दिनों का एक्शन प्लान तैयार किया है, उसमें हमने अलग से युवाओं के लिए 25 दिन और जोड़े हैं। हम देशभर से आ रहे युवाओं के सुझाव पर गौर कर रहे हैं, और नतीजों के बाद उस पर तेजी से काम शुरू होगा।

प्रश्न: सोशल मीडिया में एआई और डीपफेक जैसे मसलों पर आपने चिंता जताई है। इस चुनाव में भी इसके दुरुपयोग की मिसाल दिखी हैं। मिसइनफरमेशन का ये टूल न बने, इसके लिए क्या किया जा सकता है? कई एक्टिविस्ट और विपक्ष का कहना रहा है कि इन चीजों पर सख्ती की आड़ में कहीं फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन पर पाबंदी तो नहीं लगेगी? इन सवालों पर कैसे आश्वस्त करेंगे?

उत्तर: तकनीक का इस्तेमाल जीवन में सुगमता लाने के लिए किया जाना चाहिए। आज एआई ने भारत के युवाओँ के लिए अवसरों के नए द्वार खोल दिए हैं। एआई, मशीन लर्निगं और इंटरनेट ऑफ थिंग्स अब हमारे रोज के जीवन की सच्चाई बनती जा रही है। लोगों को सहूलियत देने के लिए कंपनियां अब इन तकनीकों का उपयोग बढ़ा रही हैं। दूसरी तरफ इनके माध्यम से गलत सूचनाएं देने, अफवाह फैलाने और लोगों को भ्रमित करने की घटनाएं भी हो रही हैं। चुनाव में विपक्ष ने अपने झूठे नरैटिव को फैलाने के लिए यही करना शुरू किया था। हमने सख्ती करके इस तरह की कोशिश पर रोक लगाने का प्रयास किया। इस तरह की प्रैक्टिस किसी को भी फायदा नहीं पहुंचाएगी, उल्टे तकनीक का गलत इस्तेमाल उन्हें नुकसान ही पहुंचाएगा। अभिव्यक्ति की आजादी का फेक न्यूज और फेक नरैटिव से कोई लेना-देना नहीं है। मैंने एआई के एक्सपर्ट्स के सामने और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर डीप फेक के गलत इस्तेमाल से जुड़े विषयों को गंभीरता से रखा है। डीप फेक को लेकर वर्ल्ड लेवल पर क्या हो सकता है, इस पर मंथन चल रहा है। भारत इस दिशा में गंभीरता से प्रयास कर रहा है। लोगों को जागरूक करने के लिए ही मैंने खुद सोशल मीडिया पर अपना एक डीफ फेक वीडियो शेयर किया था। लोगों के लिए ये जानना आवश्यक है कि ये तकनीक क्या कर सकती है।

प्रश्न:देश के लोगों की सेहत को लेकर आपकी चिंता हम सब जानते हैं। आपने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस शुरू किया, योगा प्रोटोकॉल बनवाया, आपने आयुष्मान योजना शुरू की है। तीसरे कार्यकाल में क्या इन चीज़ों पर भी काम करेंगे, जो हमारी सेहत खराब होने के मूल कारक हैं। जैसे लोगों को साफ हवा, पानी, मिट्टी मिले।

उत्तर: देश 2047 तक विकसित भारत का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रहा है। इस सपने को शक्ति तभी मिलेगी, जब देश का हर नागरिक स्वस्थ हो। शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत हो। यही वजह है कि हम सेहत को लेकर एक होलिस्टिक अप्रोच अपना रहे हैं। एलोपैथ के साथ ही योग, आयुर्वेद, भारतीय परंपरागत पद्धतियां, होम्योपैथ के जरिए हम लोगों को स्वस्थ रखने की दिशा में काम कर रहे हैं। राजनीति में आने से पहले मैंने लंबा समय देश का भ्रमण करने में बिताया है। उस समय मैंने एक बात अनुभव की थी कि घर की महिला सदस्य अपने खराब स्वास्थ्य के बारे छिपाती है। वो खुद तकलीफ झेलती है, लेकिन नहीं चाहती कि परिवार के लोगों को परेशानी हो। उसे इस बात की भी फिक्र रहती है कि डॉक्टर, दवा में पैसे खर्च हो जाएंगे। जब 2014 में मुझे देश की सेवा करने का अवसर मिला तो सबसे पहले मैंने घर की महिला सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता की। मैंने माताओं-बहनों को धुएं से मुक्ति दिलाने का संकल्प लिया और 10 करोड़ से ज्यादा महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन दिए। मैंने बुजुर्गों की सेहत पर भी ध्यान दिया है। हमारी सरकार की तीसरी पारी में 70 साल से ऊपर के सभी बुजुर्गों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिलने लगेगा। यानी उनके इलाज का खर्च सरकार उठाएगी। साफ हवा, पानी, मिट्टी के लिए हम काम शुरू कर चुके हैं। सिंगल यूज प्लास्टिक पर हमारा अभियान चल रहा है। जल जीवन मिशन के तहत हम देश के लाखों गांवों तक साफ पानी पहुंचा रहे हैं। सॉयल हेल्थ कार्ड, आर्गेनिक खेती की दिशा में काम हो रहा है। हम मिशन लाइफ को प्राथमिकता दे रहे हैं और इस विचार को आगे बढ़ा रहे हैं कि हर व्यक्ति पर्यावरण के अनुकूल जीवन पद्धति को अपनाए।

प्रश्न: विदेश नीति आपके दोनों कार्यकाल में काफी अहम रही है। इस वक्त दुनिया काफी उतार चढ़ाव से गुजर रही है, चुनाव नतीजों के तुरंत बाद जी7 समिट है। आप नए हालात में भारत के रोल को किस तरह देखते हैं?

उत्तर: शायद ये पहला चुनाव है, जिसमें भारत की विदेश नीति की इतनी चर्चा हो रही है। वो इसलिए कि पिछले 10 साल में दुनियाभर में भारत की साख मजबूत हुई है। जब देश की साख बढ़ती है तो हर भारतीय को गर्व होता है। जी20 समिट में भारत ग्लोबल साउथ की मजबूत आवाज बना, अब जी7 में भारत की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होने वाली है। आज दुनिया का हर देश जानता है कि भारत में एक मजबूत सरकार है और सरकार के पीछे 140 करोड़ देशवासियों का समर्थन है। हमने अपनी विदेश नीति में भारत और भारत के लोगों के हित को सर्वोपरि रखा है। आज जब हम व्यापार समझौते की टेबल पर होते हैं, तो सामने वाले को ये महसूस होता है कि ये पहले वाला भारत नहीं है। आज हर डील में भारतीय लोगों के हित को प्राथमिकता दी जाती है। हमारे इस बदले रूप को देखकर दूसरे देशों को हैरानी हुई, लेकिन धीरे-धीरे उन्होंने इसे स्वीकार कर लिया। ये नया भारत है, आत्मविश्वास से भरा भारत है। आज भारत संकट में फंसे हर भारतीय की मदद के लिए तत्पर रहता है। पिछले 10 वर्षों में अनेक भारतीयों को संकट से बाहर निकालकर देश में ले आए। हम अपनी सांस्कृतिक धरोहरों को भी देश में वापस ला रहे हैं। युद्ध में आमने-सामने खड़े दोनों देशों को भारत ने बड़ी मजबूती से ये कहा है कि ये युद्ध का समय नहीं है, ये बातचीत से समाधान का समय है। आज दुनिया मानती है कि भारत का आगे बढ़ना पूरी दुनिया और मानवता के लिए अच्छा है।

प्रश्न: अमेरिका भी चुनाव से गुजर रहा है। आपके रिश्ते ट्रम्प और बाइडन दोनों के साथ बहुत अच्छे रहे हैं। आप कैसे देखते हैं अमेरिका के साथ भारतीय रिश्तों को इन संदर्भ में?

उत्तर: हमारी विदेश नीति का मूल मंत्र है इंडिया फर्स्ट। पिछले 10 वर्षों में हमने इसी को ध्यान में रखकर विभिन्न देशों और प्रभावशाली नेताओं से संबंध बनाए हैं। भारत-अमेरिका संबंधों की मजबूती का आधार 140 करोड़ भारतीय हैं। हमारे लोग हमारी ताकत हैं, और दुनिया हमारी इस शक्ति को बहुत महत्वपूर्ण मानती है। अमेरिका में राष्ट्रपति चाहे ट्रंप रहे हों या बाइडन, हमने उनके साथ मिलकर दोनों देशों के संबंध को और मजबूत बनाने का प्रयास किया है। भारत-अमेरिका के संबंधों पर चुनाव से कोई अंतर नहीं आएगा। वहां जो भी राष्ट्रपति बनेगा, उसके साथ मिलकर नई ऊर्जा के साथ काम करेंगे।

प्रश्न: BJP का पूरा प्रचार आप पर ही केंद्रित है, क्या इससे सांसदों के खुद के काम करने और लोगों के संपर्क में रहने जैसे कामों को तवज्जो कम हो गई है और नेता सिर्फ मोदी मैजिक से ही चुनाव जीतने के भरोसे हैं। आप इसे किस तरह काउंटर करते हैं?

उत्तर: बीजेपी एक टीम की तरह काम करती है। इस टीम का हर सदस्य चुनाव जीतने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहा है। चुनावी अभियान में जितना महत्वपूर्ण पीएम है, उतना ही महत्वपूर्ण कार्यकर्ता है। ये परिवारवादी पार्टियों का फैलाया गया प्रपंच है। उनकी पार्टी में एक परिवार या कोई एक व्यक्ति बहुत अहम होता है। हमारी पार्टी में हर नेता और कार्यकर्ता को एक दायित्व दिया जाता है।

मैं पूछता हूं, क्या हमारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रोज रैली नहीं कर रहे हैं। क्या हमारे मंत्री, मुख्यमंत्री, पार्टी पदाधिकारी रोड शो और रैलियां नहीं कर रहे। मैं पीएम के तौर पर जनता से कनेक्ट करने जरूर जाता हूं, लेकिन लोग एमपी उम्मीदवार के माध्यम से ही हमसे जुड़ते हैं। मैं लोगों के पास नैशनल विजन लेकर जा रहा हूं, उसे पूरा करने की गारंटी दे रहा हूं, तो हमारा एमपी उम्मीदवार स्थानीय आकांक्षाओं को पूरा करने का भरोसा दे रहा है। हमने उन्हीं उम्मीदवारों का चयन किया है, जो हमारे विजन को जनता के बीच पहुंचा सकें। विकसित भारत की सोच से लोगों को जोड़ने के लिए जितनी अहमियत मेरी है, उतनी ही जरूरत हमारे उम्मीदवारों की भी है। हमारी पूरी टीम मिलकर हर सीट पर कमल खिलाने में जुटी है।

प्रश्न: महिला आरक्षण पर आप ने विधेयक पास कराए। क्या नई सरकार में हम इन पर अमल होते हुए देखेंगे?

उत्तर: ये प्रश्न कांग्रेस के शासनकाल के अनुभव से निकला है, तब कानून बना दिए जाते थे लेकिन उसे नोटिफाई करने में वर्षों लग जाते थे। हमने अगले 5 वर्षों का जो रोडमैप तैयार किया है, उसमें नारी शक्ति वंदन अधिनियम की महत्वपूर्ण भूमिका है। हम देश की आधी आबादी को उसका अधिकार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इंडी गठबंधन की पार्टियों ने दशकों तक महिलाओं को इस अधिकार से वंचित रखा। सामाजिक न्याय की बात करने वालों ने इसे रोककर रखा था। देश की संसद और विधानसभा में महिलाओं की भागीदारी बढ़ने से महिला सशक्तिकरण का एक नया दौर शुरू होगा। इस परिवर्तन का असर बहुत प्रभावशाली होगा।

प्रश्न: महाराष्ट्र की सियासी हालत इस बार बहुत पेचीदा हो गई है। एनडीए क्या पिछली दो बार का रिकॉर्ड दोहरा पाएगा?

उत्तर: महाराष्ट्र समेत पूरे देश में इस बार बीजेपी और एनडीए को लेकर जबरदस्त उत्साह है। महाराष्ट्र में स्थिति पेचीदा नहीं, बल्कि बहुत सरल हो गई है। लोगों को परिवारवादी पार्टियों और देश के विकास के लिए समर्पित महायुति में से चुनाव करना है। बाला साहेब ठाकरे के विचारों को आगे बढ़ाने वाली शिवसेना हमारे साथ है। लोग देख रहे हैं कि नकली शिवसेना अपने मूल विचारों का त्याग करके कांग्रेस से हाथ मिला चुकी है। इसी तरह एनसीपी महाराष्ट्र और देश के विकास के लिए हमारे साथ जुड़ी है। अब जो महा ‘विनाश’ अघाड़ी की एनसीपी है, वो सिर्फ अपने परिवार को आगे बढ़ाने के लिए वोट मांग रही है। लोग ये भी देख रहे हैं कि इंडी गठबंधन अभी से अपनी हार मान चुका है। अब वो चुनाव के बाद अपना अस्तित्व बचाने के लिए कांग्रेस में विलय की बात कर रहे हैं। ऐसे लोगों को मतदान करना, अपने वोट को बर्बाद करना है। इस बार हम महाराष्ट्र में अपने पिछले रिकॉर्ड को तोड़ने वाले हैं।

प्रश्न: पश्चिम बंगाल में भी बीजेपी ने बहुत प्रयास किए हैं। पिछली बार बीजेपी 18 सीटें जीतने में कामयाब रही थी। बाकी राज्यों की तुलना में यह आपके लिए कितना कठिन राज्य है और इस बार आपको क्या उम्मीद है?

उत्तर: TMC हो, कांग्रेस हो, लेफ्ट हो, इन सबने बंगाल में एक जैसे ही पाप किए हैं। बंगाल में लोग समझ चुके हैं कि इन पार्टियों के पास सिर्फ नारे हैं, विकास का विजन नहीं हैं। कभी दूसरे राज्यों से लोग रोजगार के लिए बंगाल आते थे, आज पूरे बंगाल से लोग पलायन करने को मजबूर हैं। जनता ये भी देख रही है कि बंगाल में जो पार्टियां एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं, दिल्ली में वही एक साथ नजर आ रही हैं। मतदाताओं के साथ इससे बड़ा छल कुछ और नहीं हो सकता। यही वजह है कि इंडी गठबंधन लोगों का भरोसा नहीं जीत पा रहा। बंगाल के लोग लंबे समय से भ्रष्टाचार, हिंसा, अराजकता, माफिया और तुष्टिकरण को बर्दाश्त कर रहे हैं। टीएमसी की पहचान घोटाले वाली सरकार की बन गई है। टीएमसी के नेताओं ने अपनी तिजोरी भरने के लिए युवाओं के सपनों को कुचला है। यहां स्थिति ये है कि सरकारी नौकरी पाने के बाद भी युवाओं को भरोसा नहीं है कि उनकी नौकरी रहेगी या जाएगी। लोग बंगाल की मौजूदा सरकार से पूरी तरह हताश हैं।अब उनके सामने बीजेपी का विकास मॉडल है। मैं बंगाल में जहां भी गया, वहां लोगों में बीजेपी के प्रति अभूतपूर्व विश्वास नजर आया। विशेष रुप से बंगाल में मैंने देखा कि माताओं-बहनों का बहुत स्नेह मुझे मिल रहा है। मैं उनसे जब भी मिलता हूं, वो खुद तो इमोशनल हो ही जाती हैं, मैं भी अपने भावनाओं को रोक नहीं पाता हूं। इस बार बंगाल में हम पहले से ज्यादा सीटों पर जीत हासिल करेंगे।

प्रश्न: शराब मामले को लेकर अरविंद केजरीवाल को जेल जाना पड़ा है। उनका कहना है कि ईडी ने जबरदस्ती उन्हें इस मामले में घसीटा है जबकि अब तक उनके पास से कोई पैसा बरामद नहीं हुआ?

उत्तर: आपने कभी किसी ऐसे व्यक्ति को सुना है जो आरोपी हो और ये कह रहा हो कि उसने घोटाला किया था। या कह रहा हो कि पुलिस ने उसे सही गिरफ्तार किया है। अगर एजेंसियों ने उन्हें गलत पकड़ा था, तो कोर्ट से उन्हें राहत क्यों नहीं मिली। ईडी और एजेसिंयो पर आरोप लगाने वाला विपक्ष आज तक एक मामले में ये साबित नहीं कर पाया है कि उनके खिलाफ गलत आरोप लगा है। वो कुछ दिन के लिए जमानत पर बाहर आए हैं, लेकिन बाहर आकर वो और एक्सपोज हो गए। वो और उनके लोग गलतियां कर रहे हैं और आरोप बीजेपी पर लगा रहे हैं। लेकिन जनता उनका सच जानती है। उनकी बातों की अब कोई विश्वसनीयता नहीं रह गई है।

प्रश्न: इस बार दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। इससे क्या लगातार दो बार से सातों सीटें जीतने के क्रम में बीजेपी को कुछ दिक्कत हो सकती है? इस बार आपने छह उम्मीदवार बदल दिए

उत्तर: इंडी गठबंधन की पार्टियां दिल्ली में हारी हुई लड़ाई लड़ रहे हैं। उनके सामने अपना अस्तित्व बचाने का संकट है। चुनाव के बाद वैसे भी इंडी गठबंधन नाम की कोई चीज बचेगी नहीं। दिल्ली की जनता ने बहुत पहले कांग्रेस को बाहर कर दिया था, अब दूसरे दलों के साथ मिलकर वो अपनी मौजूदगी दिखाना चाहते हैं। क्या कभी किसी ने सोचा था कि देश पर इतने लंबे समय तक शासन करने वाली कांग्रेस के ये दिन भी आएंगे कि उनके परिवार के नेता अपनी पार्टी के नहीं, बल्कि किसी और उम्मीदवार के लिए वोट डालेंगे।

दिल्ली में इंडी गठबंधन की जो पार्टियां हैं, उनकी पहचान दो चीजों से होती है। एक तो भ्रष्टाचार और दूसरा बेशर्मी के साथ झूठ बोलना। मीडिया के माध्यम से ये जनता की भावनाओं को बरगलाना चाहते हैं। झूठे वादे देकर ये लोगों को गुमराह करना चाहते हैं। ये जनता के नीर-क्षीर विवेक का अपमान है। जनता आज बहुत समझदार है, वो फैसला करेगी। बीजेपी ने लोगों के हित को ध्यान में रखते हुए अपने उम्मीदवार उतारे हैं। बीजेपी में कोई लोकसभा सीट नेता की जागीर नहीं समझी जाती। जो जनहित में उचित होता है, पार्टी उसी के अनुरूप फैसला लेती है। हमारे लिए राजनीति सेवा का माध्यम है। यही वजह है कि हमारे कार्यकर्ता इस बात से निराश नहीं होते कि टिकट कट गया, बल्कि वो पूरे मनोयोग से जनता की सेवा में जुट जाते हैं।

प्रश्न: विपक्ष का कहना है कि लोकतंत्र खतरे में है और अगर बीजेपी जीतती है तो लोकतंत्र औपचारिक रह जाएगा। आप उनके इन आरोपों को कैसे देखते हैं?

उत्तर: कांग्रेस और उसका इकोसिस्टम झूठ और अफवाह के सहारे चुनाव लड़ने निकला है। पुराने दौर में उनका यह पैंतरा कभी-कभी काम कर जाता था, लेकिन आज सोशल मीडिया के जमाने में उनके हर झूठ का मिनटों में पर्दाफाश हो जाता है।

उन्होंने राफेल पर झूठ बोला, पकड़े गए। एचएएल पर झूठ बोला, पकड़े गए। जनता अब इनकी बातों को गंभीरता से नहीं लेती है। देश जानता है कि कौन संविधान बदलना चाहता है। आपातकाल के जरिए देश के लोकतंत्र को खत्म करने की साजिश किसने की थी। कांग्रेस के कार्यकाल में सबसे ज्यादा बार संविधान की मूल प्रति को बदल दिया। कांग्रेस पहले संविधान संसोधन का प्रस्ताव अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा लगाने के लिए लाई थी। 60 वर्षों में उन्होंने बार-बार संविधान की मूल भावना पर चोट की और एक के बाद एक कई राज्य सरकारों को बर्खास्त किया। सबसे ज्यादा बार राष्ट्रपति शासन लगाने का रेकॉर्ड कांग्रेस के नाम है। उनकी जो असल मंशा है, उसके रास्ते में संविधान सबसे बड़ी दीवार है। इसलिए इस दीवार को तोड़ने की कोशिश करते रहते हैं। आप देखिए कि संविधान निर्माताओं ने धर्म के आधार पर आरक्षण का विरोध किया था। लेकिन कांग्रेस अपने वोटबैंक को खुश करने के लिए बार-बार यही करने की कोशिश करती है। अपनी कोई कोशिशों में नाकाम रहने के बाद आखिरकार उन्होंने कर्नाटक में ओबीसी आरक्षण में सेंध लगा ही दी।

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के नेता लोकतंत्र की दुहाई देते हैं, लेकिन वास्तविकता ये है कि लोकतंत्र को कुचलने के लिए, जनता की आवाज दबाने के लिए ये पूरी ताकत लगा देते हैं। ये लोग उनके खिलाफ बोलने वालों के पीछे पूरी मशीनरी झोंक देते हैं। इनके एक राज्य की पुलिस दूसरे राज्य में जाकर कार्रवाई कर रही है। इस काम में ये लोग खुलकर एक-दूसरे का साथ दे रहे हैं। जनता ये सब देख रही है, और समझ रही है कि अगर इन लोगों के हाथ में ताकत आ गई तो ये देश का, क्या हाल करेंगे।

प्रश्न: आप एकदम चुस्त-दुरुस्त और फिट दिखते हैं, आपकी सेहत का राज, सुबह से रात तक का रूटीन?

उत्तर: मैं यह मानता हूं कि मुझ पर किसी दैवीय शक्ति की बहुत बड़ी कृपा है, जिसने लोक कल्याण के लिए मुझे माध्यम बनाया है। इतने वर्षों में मेरा यह विश्वास प्रबल हुआ है कि ईश्वर ने मुझे विशेष दायित्व पूरा करने के लिए चुना है। उसे पूरा करने के लिए वही मुझे सामर्थ्य भी दे रहा है। लोगों की सेवा करने की भावना से ही मुझे ऊर्जा मिलती है।

प्रश्न: प्रधानमंत्री जी, आप काशी के सांसद हैं। बीते 10 साल में आप ने काशी को खूब प्रमोट किया है। आज काशी देश में सबसे प्रेफर्ड टूरिज्म डेस्टिनेशमन बन रही है। इसके अलावा आप ने जो इंफ्रास्ट्रक्चर के काम किए हैं, उससे भी बनारस में बहुत बदलाव आया है। इससे बनारस और पूर्वांचल की इकोनॉमी और रोजगार पर जो असर हुआ है, उसे आप कैसे देखते हैं?

उत्तर: काशी एक अद्भूत नगरी है। एक तरफ तो ये दुनिया का सबसे प्राचीन शहर है। इसकी अपनी पौराणिक मान्यता है। दूसरी तरफ ये पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार की आर्थिक धुरी भी है। 10 साल में हमने काशी में धार्मिक पर्यटन का खूब विकास किया। शहर की गलियां, साफ-सफाई, बाजारों में सुविधाएं, ट्रेन और बस के इंतजाम पर फोकस किया। गंगा में सीएनजी बोट चली, शहर में ई-बस और ई-रिक्शा चले। यात्रियों के लिए हमने स्टेशन से लेकर शहर के अलग-अलग स्थानों पर तमाम सुविधाएं बढ़ाई।

इन सब के बाद जब हम बनारस को प्रमोट करने उतरे, तो देशभर के श्रद्धालुओं में नई काशी को देखने का भाव उमड़ आया। यह यहां सालभर पहले से कई गुना ज्यादा पर्यटक आते हैं। इससे पूरे शहर में रोजगार के नए अवसर तैयार हुए।

हमने बनारस में इंडस्ट्री लानी शुरू की है। TCS का नया कैंपस बना है, बनास डेयरी बनी है, ट्रेड फैसिलिटी सेंटर बना है, काशी के बुनकरों को नई मशीनें दी जा रही है, युवाओं को मुद्रा लोन मिले हैं। इससे सिर्फ बनारस ही नहीं, आसपास के कई जिलों की अर्थव्यवस्था को नई गति मिली।

प्रश्न: आपने कहा कि वाराणसी उत्तर प्रदेश की राजनीतिक धुरी जैसा शहर है। बीते 10 वर्षों में पू्र्वांचल में जो विकास हुआ है, उसको कैसे देखते हैं?

उत्तर: देखिए, पूर्वांचल अपार संभावनाओं का क्षेत्र है। पिछले 10 वर्षों में हमने केंद्र की तमाम योजनाओं में इस क्षेत्र को बहुत वरीयता दी है। एक समय था, जब पूर्वांचल विकास में बहुत पिछड़ा था। वाराणसी में ही कई घंटे बिजली कटौती होती थी। पूर्वांचल के गांव-गांव में लालटेन के सहारे लोग गर्मियों के दिन काटते थे। आज बिजली की व्यवस्था में बहुत सुधार हुआ है, और इस भीषण गर्मी में भी कटौती का संकट करीब-करीब खत्म हो चला है। ऐसे ही पूरे पूर्वांचल में सड़कों की हालत बहुत खराब थी। आज यहां के लोगों को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की सुविधा मिली है। गाजीपुर, आजमगढ़, मऊ, बलिया, चंदौली जैसे टियर थ्री कहे जाने वाले शहरों में हजारों की सड़कें बनी हैं।

आजमगढ़ में अभी कुछ दिन पहले मैंने एयरपोर्ट की शुरुआत की है। महाराजा सुहेलदेव के नाम पर यूनिवर्सिटी बनाई गई है। पूरे पूर्वांचल में नए मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं। बनारस में इनलैंड वाटर-वे का पोर्ट बना है। काशी से ही देश की पहली वंदे भारत ट्रेन चली थी। देश का पहला रोप-वे ट्रांसपोर्ट सिस्टम बन रहा है।

कांग्रेस की सरकार में पूर्वांचल के लोग ऐसी सुविधाएं मिलने के बारे में सोचते तक नहीं थे। क्योंकि लोगों को बिजली-पानी-सड़क जैसी मूलभूत सुविआधाओं में ही उलझाकर रखा गया था। यह स्थिति तब थी जब इनके सीएम तक पूर्वांचल से चुने जाते थे। तब पूर्वांचल में सिर्फ नेताओं के हेलिकॉप्टर उतरते थे, आज जमीन पर विकास उतर आया है।

प्रश्न: आप कहते हैं कि बनारस ने आपको बनारसी बना दिया है। मां गंगा ने आपको बुलाया था, अब आपको अपना लिया है। आप काशी के सांसद हैं, यहां के लोगों से क्या कहेंगे?

उत्तर: मैं एक बात मानता हूं कि काशी में सबकुछ बाबा की कृपा से होता है। मां गंगा के आशीर्वाद से ही यहां हर काम फलीभूत होते हैं! 10 साल पहले मैंने जब ये कहा था कि मां गंगा ने मुझे बुलाया है, तो वो बात भी मैंने इसी भावना से कही थी। जिस नगरी में लोग एक बार आने को तरसते हैं, वहां मुझे दो बार सांसद के रूप में सेवा करने का अवसर मिला। जब पार्टी ने तीसरी बार मुझे काशी की उम्मीदवारी करने को कहा, तभी मेरे मन में यह भाव आया कि मां गंगा ने मुझे गोद ले लिया है। काशी ने मुझे अपार प्रेम दिया है। उनका यह स्नेह और विश्वास मुझ पर एक कर्ज है। मैं जीवनभर काशी की सेवा करके भी इस कर्ज को नहीं उतार पाऊंगा।

Following is the clipping of the interview:

 

 

Source: Navbharat Times