শেয়ার
 
Comments

Your Royal Highness, Excellencies, Ladies & Gentleman, Friends, namaskar, Good Evening

मैं His Majesty the King and the Custodian of the two holy mosques और मेरे भाई His Royal Highness the Crown Prince का धन्यवाद करना चाहूँगा कि उन्होंने मुझे इस Forum में भाग लेने का निमंत्रण दिया। Saudi Arabia और यहाँ स्थित पवित्र mosque, दुनिया के करोड़ों लोगों की आस्था का केंद्र रहे हैं। यह भूमि world economy का भी ऊर्जा–स्रोत रही है। आज Riyadh के इस उर्जावान शहर में आपके बीच मुझे भी positive energy महसूस हो रही है।

Friends,

Future Investment Initiative Forum के विषय ये स्पष्ट करते हैं कि इस Forum का उद्देश्य सिर्फ यहाँ के अर्थतंत्र की ही चर्चा करना नहीं है। बल्कि विश्व में उभरते trends को समझना और इसमें विश्व-कल्याण के रास्ते ढूँढना भी है। इसी कारण, यह dynamic platform बिजनेस world के calendar का महत्वपूर्ण भाग बन गया है। सिर्फ तीन साल के कम समय में ही इस Forum ने लंबा सफ़र तय किया है। मेरे मित्र और भाई Crown Prince इस सफलता के लिए बहुत बधाई के पात्र हैं।उनके इस forum को Davos of the Desert कहा जाता है. पिछली शतब्दी में Saudi Arabia के लोगो की मेहनत और कुदरत की नेमत ने desert के रेत को सोना बना दिआ. अगर चाहता तो सऊदी अरब का नेतृत्व आराम से बैठ सकता था, मगर आपने आने वाली कई पीढ़ीओ के बारे में सोचा, भविष्य की चिंता की, पूरी मानवता का ख्याल किआ. मै His Highness Crown Prince को इस बात के लिए भी बधाई देता हूँ कि उन्होंने इस फोरम का सिर्फ नाम ही Future नहीं रखा, बल्कि इसकी पूरी संकल्पना forward looking है, भविष्य के प्रति उन्मुख है।ऐसे में, उनका भाई और पड़ोसी होने के नाते, इस उम्दा initiative में दुनिया की सबसे तेज़ विकासमान अर्थव्यवस्था का प्रतिनिधित्व करना मेरे लिए स्वाभाविक ही है।

Friends,

मैं आप के बीच भारत के लोगों की शुभेच्छाएं लेकर आया हूँ। हमारा सऊदी अरब से नाता हजारों वर्षों का रहा है। ऐसी दोस्ती रही है, जैसे आप कहते हैं - सदकतुम, कि एक दुसरे के वहां हमें अपनापन लगता है।हमारे ऐतिहासिक संबंधों और संपर्कों ने हमारी strategic partnership की मजबूत बुनियाद भी रखी है। और आज हमने Crown Prince के साथ बातचीत में Strategic Partnership Council की स्थापना करके अपने संबंधों को नई ऊँचाई प्रदान की है। His Majesty the King और His Royal Highness Crown Prince के मार्गदर्शन से हम संबंधों में अप्रत्याशित प्रगति और अपनापन ला पाए हैं। मैं उनके प्रयासों के लिए, भारत के प्रति उनके अपनत्व के लिए उनका आभार व्यक्त करता हूं।

साथियों,

Future Investment Initiative में आज मुझे,"What’s next for Global Business” और उसमें भारत में उभरते अवसरों और संभावनाओं, हमारी अपेक्षाओं और लक्ष्यों पर अपनी बात रखने का अवसर मिला है। भारत ने अगले पांच साल में अपनी economy को दुगुनी करके 5 trillion dollars तक पहुँचाने का लक्ष्य रखा है। ऐसे समय में तो ये विषय और भी प्रासंगिक और महत्वपूर्ण हो जाता है।

साथियों,

आज जब भारत में हम विकास को गति देना चाहते है तो हमें उभरते हुए trends को अच्छी तरह समझना होगा।इसलिए, आज मैं आपसे Global business को प्रभावित करने वाले पांच बड़े trends के बारे में बात करना चाहूँगा। पहला Trend है - Technology और Innovation का प्रभाव दूसरा – Global Growth के लिए Infrastructure की Importance तीसरा - human resource और future of work में आ रहा बदलाव चौथा– compassion for environmentऔर पांचवा Trend - business friendly governance.

Friends!

Technology और innovation के बढ़ते हुए प्रभाव के हम सब चश्मदीद गवाह हैं। Transformative technologies जैसे Artificial Intelligence, Genetics और nano-technology, research से आगे बढ़कर आज रोजमर्रा के जीवन का भाग बनती जा रही हैं। Technology के इस बदलाव का उन समाजों को सबसे ज्यादा फायदा हुआ है जिनमें नई technologies को अपनाने और उन पर further innovation का culture विकसित हुआ है। भारत में हमने इस culture को मजबूत करने के लिए अनेक स्तरों पर प्रयास किया है। चाहे वह युवाओं के लिए Start up challenges हो या Hackathons हों। या फिर school children के लिए अटल tinkering labs, जहां वो इनोवेशन को खुद अनुभव करते हैं। आज भारत में Research and Development से लेकर tech-entrepreneurship का एक व्यापक eco-system तैयार हो रहा है।हमारे इन प्रयासों के नतीजे भी आना शुरू हुए हैं। आज भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा startup ecosystem बन गया है। भारत के टीयर 2 और टीयर 3 शहरों में भी start-ups उभरकर आये हैं। भारत में 1 billion यूएस डॉलर से ज्यादा valuation वाले unicorns की संख्या बढती जा रही है। हमारे कई start-ups वैश्विक स्तर पर निवेश करने लगे हैं। Indian start-ups are acing everything, from food delivery to transport, to hospitality, to medical treatment, to tourism. और इसलिए,विश्व के सभी investors, खासकर venture funds से मेरा अनुरोध है कि आप हमारे start-up ecosystem का लाभ उठाएं। मुझे पूरा भरोसा है कि भारत में innovation में किया गया निवेश सबसे ज्यादा returns देगा। और ये returns सिर्फ भौतिक नहीं होंगे, बल्कि युवाओं को empower करेंगे।

Friends!

वैश्विक वृद्धि और Business के विकास के लिए Infrastructure का महत्त्व लगातार बढ़ता जा रहा है। मैं मानता हूं कि Infrastructure एक opportunity multiplier है। Infrastructure businesses को निवेश के व्यापक अवसर देता है। तो दूसरी और business की वृद्धि के लिए infrastructure आवश्यक है।

साथियों,

आज दुनिया में physical Infrastructure के अवसर सबसे ज्यादा विकासशील देशों में है। एशिया में देखे तो, infrastructure में प्रति वर्ष $ 700 billion के निवेश की जरुरत है।भारत में हमने अगले कुछ सालों में infrastructure में $1.5 trillion के निवेश का लक्ष्य रखा है। और फिर, आज हम infrastructure के बारे में silos में नहीं सोचते बल्कि हमारा प्रयास integrated approach का है।One Nation One Power Grid,One Nation One gas grid,और One Water grid,One Nation One Mobility Card,One Nation One Optical Fiber Network,ऐसे अनेक प्रयासों से हम भारत के infrastructure को integrate कर रहे हैं।हमने हर भारतीय को घर देने का, और हर घर तक बिजली और नल-जल पहुँचाने का लक्ष्य रखा है।Infrastructure के निर्माण की अपनी speed और scale को भी हमने अभूतपूर्व रूप से बढ़ाया है।और इसलिए,भारत में infrastructure की growth double-digit में रहेगी, और इसमें capacity saturation की कोई संभावना नहीं है।इसके कारण निवेशकों को return भी सुनिश्चित रहेगा।

साथियों,

तीसरा trend यानि human resource और future of work में आ रहे बदलाव भी बहुत महत्वपूर्ण है।आज International investment के निर्णय quality manpower की उपलब्धता पर निर्भर करते हैं।साथ ही, Skilled manpower किसी भी company के valuation का मानदंड बन गया है।ऐसे में, तेजी से लोगों को skilled करना हमारे सामने एक चुनौती है। जिस तरह nature of work में बदलाव आ रहा है, उससे आने वाले सालों में हमें लोगों को कई बार re-skill करना पड़ेगा।Learn-unlearn and re-learn के cycles जरुरी बन जाएंगे।

Friends!

भारत के skilled human resources को दुनिया भर में आदर और प्रतिष्ठा मिले हैं।भारतीय talent ने यहाँ सऊदी अरबिया में अनुशासित, कानून का पालन करने वाले, परिश्रमी और कुशल कार्यबल के रूप में अपनी अनूठी पहचान बनाई है। भारत में skill का विकास करने के लिए हमने एक comprehensive vision तैयार किया है और उस पर लगातार काम कर रहे हैं। Skill India initiative के माध्यम से हम अगले तीन-चार वर्षों में 400 million लोगों को विभिन्न skills में train करेंगे। भारत में निवेश करने वाली कम्पनीज को इससे assured skilled manpower मिलेगा।

साथियों,

Skilled मैनपावर का आवागमन आसान बनाने से पूरे विश्व की अर्थव्यवस्था में वृद्धि होगी। मैं मानता हूं कि हमें international trade agreements को सिर्फ goods तक सीमित नहीं रखना चाहिए बल्कि manpower और talent mobility को भी उसका अभिन्न अंग बनाकर उसमें सरलता लानी चाहिए।

Friends!

चौथा trend यानि compassion for environment, ट्रेंड ही नहीं है, बल्कि हमारे समय की प्रमुख आवश्यकता भी बन गयी है। Climate change का प्रभाव और clean उर्जा का महत्व इतने व्यापक हैं कि उन्हें नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। आने वाले सालों में हमारा energy consumption का pattern और बदलेगा।Coal से oil और oil से gas और फिर renewables की तरफ झुकाव बढ़ता जाएगा।उर्जा की खपत और उर्जा की बचत दोनों ही महत्तवपूर्ण होंगे, और Storage भी।Environment degradation की चुनौतियां भी बढ़ती जएंगी।इसी को समझते हुए भारत में हम gas और oil के infrastructure में बड़ी मात्रा में निवेश बढ़ा रहे हैं।वर्ष 2024 तक हमारा refining, pipelines और gas terminals में $ 100 billion तक के निवेश का लक्ष्य है।मुझे ख़ुशी है कि Saudi Aramco ने भारत में West Coast refinery project - जो Asia की सबसे बड़ी refinery होगी - उसमें निवेश करने का निर्णय लिया है। हमने हाल ही में डाउनस्ट्रीम सेक्टर में, खास करके रीटेलिंग में, निवेश के norms को liberalize किया है, जिससे इस क्षेत्र में ease of doing business और बढ़ेगा। इसके अलावा हमने Renewables में 175 गीगा वाट उर्जा पैदा करने का जो लक्ष्य रखा था, उसे भी आने वाले वर्षों में बढ़ाकर 450 गीगा वाट तक ले जाने का तय किया है। भारत की तेज गति से बढ़ती economy के लिए ऊर्जा में निवेश बहुत जरुरी है। और हम यहाँ मौजूद energy companies से इन अवसरों का लाभ उठाने का अनुरोध करते हैं।

Friends!

Last but not the least, पांचवा trend यानि सरकार की बदलती भूमिका और उसका future of business पर प्रभाव भी बहुत व्यापक है। मेरी emphasis हमेशा Minimum Government Maximum Governance पर रही है। मैं समझता हूं कि competitive, innovative और dynamic business sector के लिए एक proactive तथा transparent government अच्छे facilitator का रोल अदा कर सकती हैं। स्पष्ट नियम और fair system private sector की growth के लिए आवश्यक हैं।इसी सोच और इसी approach के साथ भारत में पिछले पांच सालों में हमने कई major structural reforms किये हैं। FDI policy को सुगम और liberalize करने के कारण आज भारत Foreign Investment का सबसे बड़ा destination बन गया है। बीते 5 सालों में भारत में $ 286 बिलियन Foreign Direct Investment हुआ है। ये बीते 20 साल में भारत के Total FDI Inflow का लगभग आधा है। Insolvency और bankruptcy code हो या देश व्यापी एक taxation system, हमने मुश्किल से मुश्किल decisions लिए हैं।आज भारत का tax structure और IPR regime विश्व के सबसे अच्छे business regimes के साथ comparable हैं। ऐसे ही सुधारों के कारण हर Global Ranking में भारत निरंतर बेहतर प्रदर्शन करता जा रहा है। Logistics Performance Index में 10 Rank का jump Global Innovation Index में 24 नंबर का सुधारWorld Bank की Ease of Doing Business Index में 2014 में हम 142 थे। उस से ऊपर उठकर आज 2019 में हम 63वें नंबर पर हैं।लगातार तीसरे साल हम दुनिया के Top 10 reforms में है।हमने 1500 से ज्यादा ऐसे पुराने कानूनों को भी समाप्त कर दिया है, जो विकास में अड़चन पैदा कर रहे थे।

साथियों,

पिछले चार-पांच साल में additional 350 million से ज्यादा लोगों को banking system से जोड़ा गया हैं। भारत में आज लगभग हर नागरिक के पास unique ID, Mobile Phone और Bank Account हैं। इस व्यवस्था के कारण Direct Benifit Transfer में transparency से 20 बिलियन डॉलर से अधिक का leakage बंद किया जा सका। यानि 20 बिलियन डॉलर की बचत हुई।स्वास्थ्य किसी भी सरकार की महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी हैं। इस क्षेत्र में quality of service बढ़ाने के लिए भारत ने कई कदम उठाए हैं। दुनिया का सबसे बड़ा Government Health Care Programme आयुष्मान भारत 500 मिलियन यानी America, Canada और Mexico की कुल आबादी से ज़्यादा लोगों को health cover देता है। यही नहीं, इस योजना के कारण भारत में health care में निवेश की अपार संभावनाएं बढ़ गयी हैं। आज भारत सबसे बड़ा health care consumer और quality healthcare provider भी है।स्वास्थ्य सेवा में technology के उपयोग ने क्रांति ला दी है। इससे न सिर्फ economic अवसर पैदा हुए हैं, बल्कि करोड़ों लोगों की productivity बढी है।

साथियों,

आज इस मंच से मैं आपको विश्वास दिलाना चाहता हूं कि भारत में प्रगति की ये रफ़्तार और तेज होगी। हम देश के विकास से जुड़ा हर फैसला ले रहे हैं। न हमारी नीतियों में भ्रम है और न ही हमारे लक्ष्य में संदेह।हमारे $ 5 trillion economy के लक्ष्य का roadmap तैयार है।यह लक्ष्य सिर्फ quantitative growth का ही नहीं है पर हर भारतीय की quality of life बेहतर करने का भी है। हम ease of doing business में ही नहीं ease of living में भी सुधार ला रहे हैं। Political stability, Predictable Policy और बड़े diverse market के कारण, भारत में आपका Investment सबसे अधिक लाभदायक रहेगा।

Friends,

हमारे साथी देशों का सहयोग हमारी विकास यात्रा का अभिन्न अंग है। सभी देशों के साथ पूरकता खोज कर, और सिनर्जी बढ़ा कर, हम win-win solution के लिए काम कर रहे हैं। Saudi Arabia के Vision 2030 और economy को diversify करने की योजनाओं में हम उनके साथ कदम से कदम मिलाकर चलेंगे।

Friends,

भारत की स्वतंत्रता को 2022 में 75 साल पूरे होंगे। हमने उस समय तक 'NEW INDIA' बनाने का लक्ष्य अपने सामने रखा है। उस NEW INDIA में हर भारतीय की आँखों में नये सपने होंगे, दिल में नया सम्बल होगा और कदमों में नई उर्जा होगी। उस नये भारत में नया सामर्थ्य और नई क्षमता होगी।

Friends

वह समर्थ और शक्तिमान भारत सिर्फ अपने लिए ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया के लिए शांति और उल्लास का स्रोत होगा। इतिहास साक्षी है कि भारत जब दुनिया की सबसे बड़ी Economy था और सैन्य रूप से भी सबल था, तब भी हमने किसी पर दबाव नहीं डाला, किसी पर बल प्रयोग नहीं किया। भारत ने अपनी क्षमता और उपलब्धियों का पूरी दुनिया के साथ बांटा है। क्योंकि हमने पूरी दुनिया को एक परिवार माना है – 'वसुधैव कुटुम्बकम्'। नये भारत में शक्ति नयी होगी, लेकिन उसके चिंतन में वही सनातन आत्मा झलकेगी। हमारा विकास विश्व में विश्वास पैदा करेगा। हमारी प्रगति परस्पर प्रेम बढ़ायेगी।विश्व कल्याण के इस सफर में भारत के साथ पार्टनरशिप करने के लिए, मैं आपको, पूरे विश्व के बिजनेस को आमंत्रित करता हूँ। मैं और मेरी टीम सदैव आपकी सहायता के लिए तत्पर है। आपने मुझे कुछ विचार साझा करने का अवसर दिया और मुझे ध्यानपूर्वक सुना। इसके लिए मैं आप सब का बहुत-बहुत धन्यवाद करता हूँ।फिर एक बार crown prince का, kingdom का हृदय से आभार व्यक्त करते हुए अपनी वाणी को विराम देता हूँ.बहुत-बहुत धन्यवाद।

 

ডোনেশন
Explore More
আমাদের ‘চলতা হ্যায়’ মানসিকতা ছেড়ে ‘বদল সাকতা হ্যায়’ চিন্তায় উদ্বুদ্ধ হতে হবে: প্রধানমন্ত্রী

জনপ্রিয় ভাষণ

আমাদের ‘চলতা হ্যায়’ মানসিকতা ছেড়ে ‘বদল সাকতা হ্যায়’ চিন্তায় উদ্বুদ্ধ হতে হবে: প্রধানমন্ত্রী
‘Salute and contribute’: PM Modi urges citizens on Armed Forces Flag Day

Media Coverage

‘Salute and contribute’: PM Modi urges citizens on Armed Forces Flag Day
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Prime Minister addresses the 54th DGsP/IGsP Conference
December 08, 2019
শেয়ার
 
Comments

The Prime Minister participated in the 54th DGsP/IGsP Conference in Pune on December 7-8, 2019. Apart from leading the discussions and giving valuable suggestions over the past two days, he addressed the valedictory session of the Conference this evening. The Prime Minister also awarded the President’s police medals for distinguished service to officers of the Intelligence Bureau.

With the guidance of the Prime Minister, in order to encourage meaningful exchange of views and experiences, the Conference, which earlier used to be a one day event, was changed to a three day affair starting from 2015. Moreover, the Conference was taken out of Delhi and organized in different parts of the country. The format of the Conference has also undergone significant changes in terms of the presence of the Prime Minister and the Union Home Minister. In the lead-up to the Conference, Committees of DGsP are established to formulate the contours of presentations, which are on contemporary security threats. Additionally, during the Conference, break-out sessions are held to further refine policy issues. This year, eleven core groups were formed for holding brain storming sessions on key aspects of internal and external security such as terrorism, naxalism, coastal security, cyber threats, combating radicalization and narco-terrorism etc.

Commending the Conference for generating good inputs for policy planning and implementation, Prime Minister laid emphasis on emergence of concrete outcomes from the finalized action points. 

The Prime Minister, while appreciating the meticulous efforts made by the country’s police forces for maintaining general peace and tranquility in the country and ensuring normalcy, said that we must not forget the contribution of their families who stood firmly behind them. At all times, he said, they must strive to improve the image of the police force to inspire confidence amongst all sections of society including women and children. The Prime Minister emphasized the role of effective policing in making sure that women feel safe and secure.

Prime Minister urged the heads of police departments to carry forth the spirit of the Conference to the lowest level-from state to District to the police station (thana). After listening to the presentations given by different state police forces, Prime Minister mentioned that a comprehensive list of best practices could be prepared and adopted by all the states and UTs.

Prime Minister further commented that technology provides us with an effective weapon to ensure pro-active policing that factors-in the feedback of the common man. 

PM expressed his special interest for the development of North Eastern States which is critical for Act East Policy of the government and urged the DGPs of these states to make extra efforts to create a conducive environment for the development programs. 

Prime Minister concluded his remarks by recognizing the pulls and pressures confronting the police officer in the day to day discharge of duties. However, he said, that whenever they are in doubt they should remember the ideals and the spirit with which they appeared for the civil services exams and continue to work in national interest, keeping in mind the welfare of the weakest and poorest sections of society.