শেয়ার
 
Comments
The setback in Chandrayaan landing has only made India’s resolve to land on the moon even stronger: PM Modi
Despite setbacks in landing, we must remember that Chandryaan had quite successful journey until now: Prime Minister Modi
We must not be disappointed that Chandrayaan was not able to land on the moon, instead, we need to learn from our mistakes and keep going till we are successful: PM Modi

भारत माता की जय, भारत माता की जय, भारत माता की जय,

आप वो लोग हैं जो मां भारती के लिए, उसकी जय के लिए जीते हैं, आप वो लोग हैं जो मां भारती की जय के लिए जूझते हैं, आप वो लोग हैं जो मां भारती के लिए जज्‍बा रखते हैं और इसलिए मां भारती का सर ऊंचा हो इसके लिए पूरा जीवन खपा देते हैं, अपने सपनों को समाहित कर देते हैं।

साथियों, मैं कल रात को आपकी मन:स्थिति को समझ रहा था, आपकी आंखे बहुत कुछ कहती थीं, आपके चेहरे की उदासी मैं पढ़ पाता था और उसके लिए ज्‍यादा देर मैं आपके बीच नहीं रुका। कई रातों से आप सोए नहीं है फिर भी मेरा मन करता था कि एक बार सुबह फिर से आपको बुलाऊं, आपसे बाते करुं। इस मिशन के साथ जुड़ा हुआ हर व्‍यक्ति एक अलग ही अवस्‍था में था। बहुत से सवाल थे। और बड़ी सफलता के साथ आगे बढ़ते हैं। और अचानक सब कुछ नजर आना बंद हो जाए। मैंने भी उस पल को आपके साथ जीया है। जब communication off आया तो आप सब हिल गए थे। मैं देख रहा था, उसे मन में स्‍वाभाविक प्रश्‍न करता था क्‍यों हुआ, कैसे हुआ और वैज्ञानिक का मन ही तो वही होता है वो हर बात को क्‍यों और क्‍यों से शुरू करता है। बहुत सी उम्‍मीदें थी। मैं देख रहा था उसके बाद भी आपको लगता था अरे यार कुछ तो होगा क्‍योंकि उसके पीछे आपका परिश्रम था, पल-पल आपने बड़ी बारी‍की से आपने बढ़ाया था।

साथियों, आज भले ही कुछ रूकावटें आई हों, रूकावटें हाथ लगी हों लेकिन इससे हमारा हौंसला कमजोर नहीं पड़ा है बल्कि और मजबूत हुआ है। आज हमारे रास्‍ते में भले ही एक आखिरी कदम पर रूकावट आई हो लेकिन इससे हमें अपनी मंजिल के रास्‍ते से डिगे नहीं हैं। आज भले ही हम चंद्रमा की सतह पर हमारी योजना से नहीं जा पाए और अगर कोई कवि को आज की घटना का लिखना होगा, साहित्‍यकारों को लिखना होगा। विज्ञान की सोच, विज्ञान की भाषा अलग है। लेकिन कला और साहित्‍य को किसी को अगर लिखना होगा तो जरूर लिखेगा कि हमनें चांद का इतना वर्णन किया है इतना रोमांटिक वर्णन किया है जीवन में तो चंद्रयान के भी स्‍वभाव में वो आ गया था। और इसलिए आखिरी कदम पर चंद्रयान... चंद्रमा को गले लगाने के लिए दौड़ पड़ा था। कवि ऐसा ही कहेंगे... आज चंद्रमा को छूने की हमारी इच्‍छाशक्ति, चंद्रमा को आगोश में लेने की हमारी इच्‍छाशक्ति और संकल्‍प और प्रबल हुआ है, और मजबूत हुआ है, दृढ़ हुआ है।   

Sisters and brothers of India, my scientist friends, for the last few hours the entire nation was awake. We were awake in solidarity with our scientists, who had embarked on one of the most ambitious mission of our space program.

We came very close but we will need to cover more ground in the times to come. Every Indian is filled with a spirit of pride as well as confidence. We are proud of our space program and scientists, their hard work and determination has ensured a better life not only for our citizens but also for other nations.

It is the outcome of their innovative zeal that several people have got access to a better quality of life including better Health Care and education facilities. India is certain that there will be many more opportunities to be proud and rejoice, thanks.

At the same time, we are full of confidence that when it comes to our space program the best is yet to come.

There are new frontiers to discover and new places to go. We will rise to the occasion and scale newer heights of success.

To our scientists I want to say India is with you. You are exceptional professionals who have made an incredible contribution to national progress.

you have given your best always and will give us several more opportunities to smile true to your nature you ventured into a place where no one had ever done before a bloke

आप लोग मक्‍खन पर लकीर करने वाले नहीं, पत्‍थर पर लकीर करने वाले लोग हैं।

You came as close as you could. Stay steady and look ahead. I also salute the families of our space scientists. Their silent but valuable support remains a major asset.

Sisters and brothers of India resilience and tenacity are Central to India’s ethos. In our glorious history of thousands of years we have faced moments that may have slowed us but they have never crushed our spirit. We have bounced back again and gone to do spectacular things. This is the reason our civilization stands tall.

My dear friends as important as the final result, is the journey and the effort. I can proudly say that the effort was worth it and so was the journey. Our team worked hard, traveled far and those teachings will always remain with us. We will look back at the journey and effort with great satisfaction. The learnings from today will make us stronger and better. There will be a new dawn and a brighter tomorrow very soon .

साथियों, परिणामों से निराश हुए बिना, निरंतर लक्ष्‍य की तरफ बढ़ने की हमारी परंपरा भी रही हैं, और हमारे संस्‍कार भी है। हमारा हजारों वर्ष का इतिहास ऐसे उदाहरणों से भरा हुआ है। जब शुरुआती रूकावटों के बावजूद हमने ऐतिहासिक स्थितिया हासिल की हैं.

खुद इसरो भी कभी ना हार मानने वाली संस्‍कृत का जीता-जागता उदाहरण है। अगर अपनी शुरूआती दिकक्‍तों और चुनौतियों से हम हार जाते तो आज इसरो दुनियां की अग्रणी स्‍पेस एजेंसी में से एक का स्‍थान नहीं ले पाता।

साथियों, परिणाम अपनी जगह है लेकिन मुझे वह पूरे देश को अपने वैज्ञानिकों, इंजीनियरों आप सभी के प्रयासों पर गर्व है। मैंने आपसे रात में भी कहा था और अभी फिर कह रहा हूं कि मैं आपके साथ हूं, देश भी आपके साथ है।

साथियों, हर मुश्किल.. हर संघर्ष.. हर कठिनाई हमें कुछ नया सिखा कर जाती है। कुछ नए आविष्‍कार, नई टेक्‍नोलॉजी के लिए प्रेरित करती है। और इसी से हमारी आगे की सफलता तय होती है वैसे भी मैं मानता हूं ज्ञान का अगर सबसे बड़ा शिक्षक कोई है तो विज्ञान है। विज्ञान में विफलता होती ही नहीं है केवल प्रयोग और प्रयास होते हैं। हर प्रयोग, हर प्रयास ज्ञान के नए बीज बो कर जाता है। नई संभावनाओं की नींव रखकर के जाता है और हमें अपने असीम सामर्थ्‍य का एहसास दिलाता है।

साथियों, चंद्रयान के सफर का आखिरी पड़ाव भले ही आशा के अनुकूल न रहा हो लेकिन हमें यह भी याद रखना होगा कि चंद्रयान की यात्रा शानदार रही है, जानदार रही है। इस पूरे मिशन के दौरान देश अनेक बार आनंदित हुआ है। गर्व से भरा है इस वक्‍त भी हमारा orbiter पूरी शान से चंद्रमा के चक्‍कर लगा रहा है। मैं खुद भी इस मिशन के दौरान चाहे देश में रहा या विदेश में हर बार चंद्रयान की स्थिति से जुड़ी सूचना लेता रहता था।

साथियों, भारत दुनिया की अहम स्‍पेस पावर में से एक है तो उसके पीछे आप सभी का दशकों से.... जिन साथियों ने इसरो में काम किया है..... उनका परिश्रम है, उनका योगदान है। यह आप ही लोग है जिन्‍होंने अपने पहले ही प्रयास में मंगल ग्रह पर भारत का झंडा फहराया था। इससे पहले दुनिया में ऐसी उपलब्धि किसी के नाम नहीं थी। हमारे चंद्रयान ने ही दुनिया को चांद पर पानी होने जैसी अहम जान‍कारियां दी। यह भी आपके ही प्रयास थे कि हमने सौ से ज्‍यादा सैटेलाइट एक साथ लान्‍च करके एक नया रिकार्ड बनाया था। जब इसरो के पास success के encyclopedia हो तो रूकावट के एक दो लम्‍हों से आपकी उड़ान out of trajectory नहीं हो सकती।

साथियों, हमारे संस्‍कार, हमारा चिंतन, हमारी सोच इस बात से भरी पड़ी है जो हमें कहते हैं और जिन पर हम विश्‍वास करते हैं वयम् अमृतस्य पुत्र:। हम अमृत की संतान है जिसके साथ अमृत जुड़ा हुआ होता है। अमृत की संतान के लिए न कोई रूकावट है और न ही कोई निराशा। हमें पीछे मुडकर निराश नहीं होना है। हमें सबक लेना है, सीखना है, आगे ही बढ़ते जाना है और लक्ष्‍य की प्राप्ति तक रूकना नहीं है। हम निश्‍चित रूप से सफल होंगे, हम मिशन के अगले प्रयास में भी और उसके बाद हर प्रयास में भी कामयाबी हमारे साथ होगी।

21वीं सदी में भारत के सपनों और आंकाक्षाओं को पूरा करने से हमे कोई भी क्षणिक बाधा रोक नहीं सकती है। आप सभी को आने वाले हर मिशन के लिए बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं। और मैंने पहले कहा भी, विज्ञान परिणामों से कभी संतुष्‍ट नहीं होता है। विज्ञान की inherent quality है प्रयास, प्रयास और प्रयास । वो परिणाम में से भी नए प्रयास के अवसर ढ़ूढंता है, वो परिणाम से रूकता नहीं है। न ही वो परिणाम के सामने झुकता है और ये आपके संस्‍कारों में हैं। और इसीलिए तो देश आपके प्रति गर्व करता है। मेरा आप पर भी विश्‍वास है, मुझसे भी आपके सपने बहुत ऊंचे हैं, मुझसे भी आपके संकल्‍प और गहरे हैं। मुझसे भी आपका प्रयास सिद्धियों को चूमने का सामर्थ्‍य रखता है और इसलिए मैं पूरे विश्‍वास के साथ आपके हौसलों पर भरोसा करके.... दरअसल मैं आपको उपदेश देने नहीं आया हूं। मैंने सुबह-सुबह आपके दर्शन आपसे प्रेरणा पाने के लिए किए हैं। आप अपने-आप में प्रेरणा का समंदर हैं, प्रेरणा की जीता-जागता स्‍वरूप हैं। और इसलिए इस प्रेरणा की पल है मेरे लिए, जहां निराशा को वैज्ञानिक मन आशा में परिवर्तित कर देता है। जहां सपनों को वैज्ञानिक मन सिद्धि में अंकुरित कर देता है, और इसलिए ऐसी सामर्थ्‍यवान, ऊर्जावान, संकल्‍पवान सिद्धि के लिए समर्पित इन साथियों की टोली को अनेक-अनेक बधाई भी देता हूं, अनेक-अनेक शुभकामनाएं भी देता हूं।

बहुत-बहुत धन्‍यवाद

भारत माता की जय, भारत माता की जय, भारत माता की जय,

बहुत-बहुत धन्‍यवाद

ডোনেশন
Explore More
আমাদের ‘চলতা হ্যায়’ মানসিকতা ছেড়ে ‘বদল সাকতা হ্যায়’ চিন্তায় উদ্বুদ্ধ হতে হবে: প্রধানমন্ত্রী

জনপ্রিয় ভাষণ

আমাদের ‘চলতা হ্যায়’ মানসিকতা ছেড়ে ‘বদল সাকতা হ্যায়’ চিন্তায় উদ্বুদ্ধ হতে হবে: প্রধানমন্ত্রী
9 admissions a minute, Ayushman Bharat completes 50 lakh treatments

Media Coverage

9 admissions a minute, Ayushman Bharat completes 50 lakh treatments
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
সোশ্যাল মিডিয়া কর্নার 15 অক্টোবর 2019
October 15, 2019
শেয়ার
 
Comments

Huge gatherings during PM Narendra Modi’s public rallies in Dadri & Kurukshetra, Haryana are testament to their unparalleled support for BJP

Reaching an important milestone in moving towards a healthy India, more than 50 Lakh patients have been provided free treatment under Ayushman Bharat

Citizens gave a warm welcome to PM Narendra Modi during his public rally in Ballabhgarh, Haryana

Stories of Transformation under the Modi Govt.