PM dedicates 75 Digital Banking Units across 75 districts to the nation

Published By : Admin | October 16, 2022 | 10:57 IST
শেয়ার
 
Comments
“We have given top priority to ensure that banking services reach the last mile”
“A whole new world of possibilities opens up when financial partnerships are combined with digital partnerships”
“Today the number of branches per one lakh adult citizens in India is more than countries like Germany, China and South Africa”
“The IMF has praised India's digital banking infrastructure”
“The World Bank has even gone so far as to say that India has become a leader in ensuring social security through digitization”
“Banking today has gone beyond financial transactions and has also become a medium of ‘Good Governance’ and ‘Better Service Delivery’”
“If Jan Dhan accounts had laid the foundation of financial inclusion in the country, then Fintech would form the basis of financial revolution”
“Today the entire country is experiencing the power of Jan Dhan Bank accounts”
“The economy of any country is as progressive as its banking system is strong”

The Prime Minister, Shri Narendra Modi dedicated 75 Digital Banking Units (DBU) across 75 districts to the nation via video conferencing.

Addressing the gathering, the Prime Minister started by stressing that the 75 Digital Banking Units (DBU) will further financial inclusion and enhance banking experience for citizens. “DBU is a big step in the direction of Ease of Living for the common citizens”, he said. The Prime Minister informed that in such a banking setup, the government aims to provide maximum services with minimum infrastructure, and all of this will happen digitally without involving any paperwork. It will also simplify the banking procedure while also providing a robust and secure banking system. “People living in small towns and villages will find benefits like transferring money to availing loans. Digital Banking Units are another big step in that direction which is going on in the country to make the life of common man of India easier”, he added.

The Prime Minister said that the aim of the government is to empower the common citizen and make them powerful, and as a result, policies were made keeping in mind the last person and the entire government moving in the direction of their welfare. He pointed out the two areas on which the government worked simultaneously. First, reforming, strengthening, and making the banking system transparent, and secondly financial inclusion.

Recalling the traditional ways of the past where people had to go to the bank, the Prime Minister said that this government transformed the approach by bringing the bank to the people. “We have given top priority to ensure that banking services reach the last mile”, he said. A huge change from the days when it was expected that poor will go to the bank to a scenario when the banks were going on the doorstep of the poor. This involved reduction of distance between the poor and the banks. “We not only removed the physical distance but, most importantly, we removed the psychological distance.” Highest priority was given to cover far flung areas with banking. The Prime Minister informed that today more than 99 percent of villages in India have a bank branch, banking outlet or a ‘banking mitra’ within 5 km radius. “Extensive Post Office network too was harnessed via India Post Banks for providing the banking needs to the common citizens”, he said. “Today the number of branches per one lakh adult citizens in India is more than countries like Germany, China and South Africa”, he added.

Despite initial misgivings in certain sections, the Prime Minister said, “today the entire country is experiencing the power of Jan Dhan Bank accounts.” He informed that these accounts enabled the government to provide insurance to the vulnerable at a very low premium. “This opened the way for loans for the poor without collateral and provided Direct Benefit Transfer to the accounts of the target beneficiaries. These accounts were the key modality for providing homes, toilets, gas subsidy, and benefits of schemes for farmers could be ensured seamlessly”, he said. The Prime Minister acknowledged the global recognition for India’s digital banking infrastructure. “The IMF has praised India's digital banking infrastructure. The credit for this goes to the poor, farmers and labourers of India, who have adopted new technologies, made it a part of their lives”, he emphasised.

“UPI has opened up new possibilities for India,” the Prime Minister continued, “When financial partnerships are combined with digital partnerships, a whole new world of possibilities opens up. A huge example like UPI is before us. India is proud of this as it is the first technology of its kind in the world.” He informed that today 70 crore indigenous Rupay cards are in operation, a vast change from the days of foreign players and the elite nature of such products. “This combination of technology and economy is enhancing the dignity and affordability for the poor and empowering the middle class, while at the same time it is also eliminating the digital divide of the country”, he said. He also praised the role of DBT in eliminating corruption and said that more than 25 lakh crore rupees have been transferred in various schemes via DBT. He informed that he will transfer the next instalment to the farmers tomorrow. “Today the whole world is appreciating this DBT and the digital power of India. Today it is being seen as a global model. The World Bank has even gone so far as to say that India has become a leader in ensuring social security through digitization”, said the Prime Minister.

The Prime Minister informed that fintech is at the heart of India's policies and efforts, and it is playing a key role in shaping the future. Digital banking units will further expand this capability of fintech. “If Jan Dhan accounts had laid the foundation of financial inclusion in the country, then Fintech would form the basis of financial revolution”, he said.

Referring to the government’s announcement of the launch of a digital currency based on blockchain technology, the Prime Minister pointed out that “Be it digital currency in the coming times, or digital transactions in today's time, apart from the economy, many important aspects are associated with them”. He listed the savings, elimination of the hassle of physical currency and environmental benefits as key advantages. The Prime Minister pointed out that paper and ink for currency printing are imported, and by adopting a digital economy we are contributing to a self-reliant India while also benefiting the environment by reducing the consumption of paper.

The Prime Minister pointed out that banking today has gone beyond financial transactions and has also become a medium of ‘Good Governance’ and ‘Better Service Delivery’. Today, this system has given rise to immense possibilities for growth for the private sector and small-scale industries as well. He further added that there is hardly any area in India in which product and service delivery through technology is not creating a new startup ecosystem. “Digital economy today is a great strength of our economy, of our startup world, of Make in India and of self-reliant India”, he said. “Today our small industries, our MSMEs are also participating in government tenders through a system like GEM. They are getting new business opportunities. So far, orders worth Rs 2.5 lakh crore have been placed on GEM. Many more new opportunities will now arise in this direction through digital banking units”, he added.

“The economy of any country is as progressive as its banking system is strong”, the Prime Minister remarked. He informed that the country has shifted from the pre-2014 ‘phone banking’ system to digital banking in the last 8 years, and as a result, India's economy is moving forward with a continuum. Recalling the old ways, the Prime Minister pointed out that before 2014, the banks used to get phone calls to decide their functioning. He further added that phone banking politics had made the banks unsafe and made the country's economy insecure by sowing the seeds of thousands of crores of scams.

Throwing light on how the present government had transformed the system, the Prime Minister informed that transparency has been the main focus. He continued, “After bringing transparency in the identification of NPAs, lakhs of crores of rupees were brought back into the banking system. We recapitalized banks, took action against willful defaulters, and reformed the Prevention of Corruption Act.” He further noted that the resolution of NPA-related issues was expedited with the help of IBC while promoting the use of technology and analytics for loans, for the creation of a transparent and scientific system. “Decisions such as the merger of banks were victims of policy paralysis and the country took them boldly. The results of these decisions are before us today”, he added. He informed that a new self-driven mechanism is now being created for the banking system through new initiatives like digital banking units and innovative use of Fintech. There is as much autonomy for the consumers, there is also the same convenience and transparency for the banks, he said while asking the stakeholders to take the movement further.

In concluding his address, the Prime Minister urged the small business owners from villages to completely move towards digital transactions. He also urged banks to connect 100 merchants with them for going totally digital for the benefit of the country. “I am sure, this initiative will take our banking system and economy to a stage which will be future-ready, and will have the capability to lead the global economy”, Shri Modi concluded.

Union Minister of Finance, Smt Nirmala Sitharaman and Governor of Reserve Bank of India, Shri Shaktikanta Das were among those present on occasion among others. Chief Ministers, Union Ministers, State Ministers, Members of Parliament, banking leaders, experts and beneficiaries were connected via video conferencing.

Background

In yet another measure to deepen financial inclusion, the Prime Minister, Shri Narendra Modi dedicated 75 Digital Banking Units (DBUs) to the nation via video conferencing.

As part of the Union budget speech for 2022-23, the Finance Minister announced setting up the 75 DBUs in 75 districts to commemorate our country's 75 years of independence. The DBUs are being set up with the objective to ensure the benefits of digital banking reach every nook and corner of the country and will cover all the States and Union territories. 11 Public Sector Banks, 12 Private Sector Banks and one Small Finance Bank are participating in the endeavour.

DBUs will be brick-and-mortar outlets which will provide a variety of digital banking facilities to people such as opening savings accounts, balance-check, print passbooks, transfer of funds, investment in fixed deposits, loan applications, stop-payment instructions for cheques issued, applying for credit/debit cards, view statement of account, pay taxes, pay bills, make nominations, etc.

DBUs will enable customers to have cost-effective, convenient access and enhanced digital experience of banking products and services throughout the year. They will spread Digital Financial Literacy and special emphasis will be given to customer education on cyber security awareness and safeguards. Also, there shall be adequate digital mechanisms to offer real-time assistance and redress customer grievances arising from business and services provided by the DBUs directly or through Business Facilitators/ Correspondents.

Click here to read full text speech

Explore More
৭৬তম স্বাধীনতা দিবস উপলক্ষে লালকেল্লার প্রাকার থেকে প্রধানমন্ত্রী শ্রী নরেন্দ্র মোদীর জাতির উদ্দেশে ভাষণের বঙ্গানুবাদ

জনপ্রিয় ভাষণ

৭৬তম স্বাধীনতা দিবস উপলক্ষে লালকেল্লার প্রাকার থেকে প্রধানমন্ত্রী শ্রী নরেন্দ্র মোদীর জাতির উদ্দেশে ভাষণের বঙ্গানুবাদ
India's 1.4 bn population could become world economy's new growth engine

Media Coverage

India's 1.4 bn population could become world economy's new growth engine
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of PM's speech at NCC Rally at the Cariappa Parade Ground in Delhi
January 28, 2023
শেয়ার
 
Comments
“You represent ‘Amrit Generation’ that will create a Viksit and Aatmnirbhar Bharat”
“When dreams turn into resolution and a life is dedicated to it, success is assured. This is the time of new opportunities for the youth of India”
“India’s time has arrived”
“Yuva Shakti is the driving force of India's development journey”
“When the country is brimming with the energy and enthusiasm of the youth, the priorities of that country will always be its young people”
“This a time of great possibilities especially for the daughters of the country in the defence forces and agencies”

केंद्रीय मंत्रिमंडल के मेरे सहयोगी श्रीमान राजनाथ सिंह जी, श्री अजय भट्ट जी, सीडीएस अनिल चौहान जी, तीनों सेनाओं के प्रमुख, रक्षा सचिव, डीजी एनसीसी और आज विशाल संख्या में पधारे हुए सभी अतिथिगण और मेरे प्यारे युवा साथियों!

आजादी के 75 वर्ष के इस पड़ाव में एनसीसी भी अपनी 75वीं वर्षगांठ मना रहा है। इन वर्षों में जिन लोगों ने एनसीसी का प्रतिनिधित्व किया है, जो इसका हिस्सा रहे हैं, मैं राष्ट्र निर्माण में उनके योगदान की सराहना करता हूं। आज इस समय मेरे सामने जो कैडेट्स हैं, जो इस समय NCC में हैं, वो तो और भी विशेष हैं, स्पेशल हैं। आज जिस प्रकार से कार्यक्रम की रचना हुई है, सिर्फ समय नहीं बदला है, स्वरूप भी बदला है। पहले की तुलना में दर्शक भी बहुत बड़ी मात्रा में हैं। और कार्यक्रम की रचना भी विविधताओं से भरी हुई लेकिन ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ के मूल मंत्र को गूंजता हुआ हिन्दुस्तान के कोने-कोने में ले जाने वाला ये समारोह हमेशा-हमेशा याद रहेगा। और इसलिए मैं एनसीसी की पूरी टीम को उनके सभी अधिकारी और व्यवस्थापक सबको हृदय से बहुत-बहुत बधाई देता हूं। आप एनसीसी कैडेट्स के रूप में भी और देश की युवा पीढ़ी के रूप में भी, एक अमृत पीढ़ी का प्रतिनिधित्व करते हैं। ये अमृत पीढ़ी, आने वाले 25 वर्षों में देश को एक नई ऊंचाई पर ले जाएगी, भारत को आत्मनिर्भर बनाएगी, विकसित बनाएगी।

साथियों,

देश के विकास में NCC की क्या भूमिका है, आप सभी कितना प्रशंसनीय काम कर रहे हैं, ये हमने थोड़ी देर पहले यहां देखा है। आप में से एक साथी ने मुझे यूनिटी फ्लेम सौंपी। आपने हर दिन 50 किलोमीटर की दौड़ लगाते हुए, 60 दिनों में कन्याकुमारी से दिल्ली की ये यात्रा पूरी की है। एकता की इस लौ से ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ की भावना सशक्त हो, इसके लिए बहुत से साथी इस दौड़ में शामिल हुए। आपने वाकई बहुत प्रशंसनीय काम किया है, प्रेरक काम किया है। यहां आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया। भारत की सांस्कृतिक विविधता, आपके कौशल और कर्मठता के इस प्रदर्शन में और इसके लिए भी मैं आपको जितनी बधाई दूं, उतनी कम है।

साथियों,

आपने गणतंत्र दिवस की परेड में भी हिस्सा लिया। इस बार ये परेड इसलिए भी विशेष थी, क्योंकि पहली बार ये कर्तव्य पथ पर हुई थी। और दिल्ली का मौसम तो आजकल ज़रा ज्यादा ही ठंडा रहता है। आप में से अनेक साथियों को शायद इस मौसम की आदत भी नहीं होगी। फिर भी मैं आपको दिल्ली में कुछ जगह ज़रूर घूमने का आग्रह करुंगा, समय निकालेंगे ना। देखिए नेशनल वॉर मेमोरियल, पुलिस मेमोरियल अगर आप नहीं गए हैं, तो आपको जरूर जाना चाहिए। इसी प्रकार लाल किले में नेताजी सुभाष चंद्र बोस म्यूजियम में भी आप अवश्य जाएं। आज़ाद भारत के सभी प्रधानमंत्रियों से परिचय कराता एक आधुनिक PM-म्यूजियम भी बना है। वहां आप बीते 75 वर्षों में देश की विकास यात्रा के बारे में जान-समझ सकते हैं। आपको यहां सरदार वल्लभभाई पटेल का बढ़िया म्यूजियम देखने को मिलेगा, बाबा साहब अंबेडकर का बहुत बढ़िया म्यूजियम देखने को मिलेगा, बहुत कुछ है। हो सकता है, इन जगहों में से आपको कोई ना कोई प्रेरणा मिले, प्रोत्साहन मिले, जिससे आपका जीवन एक निर्धारत लक्ष्य को लेकर के कुछ कर गुजरने के लिए चल पड़े, आगे बढ़ता ही बढ़ता चला जाए।

मेरे युवा साथियों,

किसी भी राष्ट्र को चलाने के लिए जो ऊर्जा सबसे अहम होती है, वो ऊर्जा है युवा। अभी आप उम्र के जिस पड़ाव पर है, वहां एक जोश होता है, जुनून होता है। आपके बहुत सारे सपने होते हैं। और जब सपने संकल्प बन जाएं और संकल्प के लिए जीवन जुट जाए तो जिंदगी भी सफल हो जाती है। और भारत के युवाओं के लिए ये समय नए अवसरों का समय है। हर तरफ एक ही चर्चा है कि भारत का समय आ गया है, India’s time has arrived. आज पूरी दुनिया भारत की तरफ देख रही है। और इसके पीछे सबसे बड़ी वजह आप हैं, भारत के युवा हैं। भारत का युवा आज कितना जागरूक है, इसका एक उदाहरण मैं आज जरूर आपको बताना चाहता हूं। ये आपको पता है कि इस वर्ष भारत दुनिया की 20 सबसे ताकतवर अर्थव्यवस्थाओं के समूह, G-20 की अध्यक्षता कर रहा है। मैं तब हैरान रह गया, जब देशभर के अनेक युवाओं ने मुझे इसको लेकर के चिट्ठियां लिखीं। देश की उपलब्धियों और प्राथमिकताओं को लेकर आप जैसे युवा जिस प्रकार से रुचि ले रहे हैं, ये देखकर सचमुच में बहुत गर्व होता है।

साथियों,

जिस देश के युवा इतने उत्साह और जोश से भरे हुए हों, उस देश की प्राथमिकता सदैव युवा ही होंगे। आज का भारत भी अपने सभी युवा साथियों के लिए वो प्लेटफॉर्म देने का प्रयास कर रहा है, जो आपके सपनों को पूरा करने में मदद कर सके। आज भारत में युवाओं के लिए नए-नए सेक्टर्स खोले जा रहे हैं। भारत की डिजिटल क्रांति हो, भारत की स्टार्ट-अप क्रांति हो, इनोवेशन क्रांति हो, इन सबका सबसे बड़ा लाभ युवाओं को ही तो हो रहा है। आज भारत जिस तरह अपने डिफेंस सेक्टर में लगातार रिफॉर्म्स कर रहा है, उसका लाभ भी देश के युवाओं को हो रहा है। एक समय था, जब हम असॉल्ट राइफल और बुलेट प्रूफ जैकेट तक विदेशों से मंगवाते थे। आज सेना की ज़रूरत के सैकड़ों ऐसे सामान हैं, जो हम भारत में बना रहे हैं। आज हम अपने बॉर्डर इंफ्रास्ट्रक्चर पर भी बहुत तेज़ी से काम कर काम रहे हैं। ये सारे अभियान, भारत के युवाओं के लिए नई संभावनाएं लेकर के आए हैं, अवसर लेकर के आए हैं।

साथियों,

जब हम युवाओं पर भरोसा करते हैं, तब क्या परिणाम आता है, इसका एक उत्तम उदाहरण हमारा स्पेस सेक्टर है। देश ने स्पेस सेक्टर के द्वार युवा टैलेंट के लिए खोल दिए। और देखते ही देखते पहला प्राइवेट सैटेलाइट लॉन्च किया गया। इसी प्रकार एनीमेशन और गेमिंग सेक्टर, प्रतिभाशाली युवाओं के लिए अवसरों का विस्तार लेकर आया है। आपने ड्रोन का उपयोग या तो खुद किया होगा, या फिर किसी दूसरे को करते हुए देखा होगा। अब तो ड्रोन का ये दायरा भी लगातार बढ़ रहा है। एंटरटेनमेंट हो, लॉजिस्टिक हो, खेती-बाड़ी हो, हर जगह ड्रोन टेक्नॉलॉजी आ रही है। आज देश के युवा हर प्रकार का ड्रोन भारत में तैयार करने के लिए आगे आ रहे हैं।

साथियों,

मुझे एहसास है कि आप में से अधिकतर युवा हमारी सेनाओं से, हमारे सुरक्षा बलों से, एजेंसियों से जुड़ने की आकांक्षा रखते हैं। ये निश्चित रूप से आपके लिए, विशेष रूप से हमारी बेटियों के लिए भी बहुत बड़े अवसर का समय है। बीते 8 वर्षों में पुलिस और अर्धसैनिक बलों में बेटियों की संख्या में लगभग दोगुनी वृद्धि हुई है। आज आप देखिए, सेना के तीनों अंगों में अग्रिम मोर्चों पर महिलाओं की तैनाती का रास्ता खुल चुका है। आज महिलाएं भारतीय नौसेना में पहली बार अग्निवीर के रूप में, नाविक के रूप में शामिल हुई हैं। महिलाओं ने सशस्त्र बलों में लड़ाकू भूमिकाओं में भी प्रवेश करना शुरू किया है। NDA पुणे में महिला कैडेट्स के पहले बैच की ट्रेनिंग शुरु हो चुकी है। हमारी सरकार द्वारा सैनिक स्कूलों में बेटियों के एडमिशन की अनुमति भी दी गई है। आज मुझे खुशी है कि लगभग 1500 छात्राएं सैनिक स्कूलों में पढ़ाई शुरु कर चुकी हैं। यहां तक की एनसीसी में भी हम बदलाव देख रहे हैं। बीते एक दशक के दौरान एनसीसी में बेटियों की भागीदारी भी लगातार बढ़ रही है। मैं देख रहा था कि यहां जो परेड हुई, उसका नेतृत्व भी एक बेटी ने किया। सीमावर्ती और तटीय क्षेत्रों में एनसीसी के विस्तार के अभियान से भी बड़ी संख्या में युवा जुड़ रहे हैं। अभी तक सीमावर्ती और तटवर्ती क्षेत्रों से लगभग एक लाख कैडेट्स को नामांकित किया गया है। इतनी बड़ी युवाशक्ति जब राष्ट्र निर्माण में जुटेगी, देश के विकास में जुटेगी, तो साथियों बहुत विश्वास से कहता हूं कोई भी लक्ष्य असंभव नहीं रह जाएगा। मुझे विश्वास है कि एक संगठन के तौर पर भी और व्यक्तिगत रूप से भी आप सभी देश के संकल्पों की सिद्धि में अपनी भूमिका का विस्तार करेंगे। मां भारती के लिए आजादी के जंग में अनेक लोगों ने देश के लिए मरने का रास्ता चुना था। लेकिन आजाद भारत में पल-पल देश के लिए जीने का रास्ता ही देश को दुनिया में नई ऊंचाइयों पर पहुंचाता है। और इस संकल्प की पूर्ति के लिए ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ के आदर्शों को लेकर के देश को तोड़ने के कई बहाने ढूंढे जाते हैं। भांति-भांति की बातें निकालकर के मां भारती की संतानों के बीच में दूध में दरार करने की कोशिशें हो रही हैं। लाख कोशिशें हो जाएं, मां के दूध में कभी दरार नहीं हो सकती। और इसके लिए एकता का मंत्र ये बहुत बड़ी औषधि है, बहुत बड़ा सामर्थ्य है। भारत के भविष्य के लिए एकता का मंत्र ये संकल्प भी है, भारत का सामर्थ्य भी है और भारत को भव्यता प्राप्त करने के लिए यही एक मार्ग है। उस मार्ग को हमें जीना है, उस मार्ग पर आने वाली रूकावटों के सामने हमें जूझना हैं। और देश के लिए जीकर के समृद्ध भारत को अपनी आंखों के सामने देखना है। इसी आंखों से भव्य भारत को देखना, इससे छोटा संकल्प हो ही नहीं सकता। इस संकल्प की पूर्ति के लिए आप सबको मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएं हैं। 75 वर्ष की यह यात्रा, आने वाले 25 वर्ष जो भारत का अमृतकाल है, जो आपका भी अमृतकाल है। जब देश 2047 में आजादी के 100 साल मनाएगा, एक डेवलप कंट्री होगा तो उस समय आप उस ऊंचाई पर बैठे होंगे। 25 साल के बाद आप किस ऊंचाई पर होंगे, कल्पना कीजिये दोस्तों। और इसलिए एक पल भी खोना नहीं है, एक भी मौका खोना नहीं है। बस मां भारती को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के संकल्प लेकर के चलते ही रहना है, बढ़ते ही रहना है, नई-नई सिद्धियों को प्राप्त करते ही जाना है, विजयश्री का संकल्प लेकर के चलना है। यही मेरी आप सबको शुभकामनाएं हैं। पूरी ताकत से मेरे साथ बोलिए- भारत माता की जय, भारत माता की जय! भारत माता की जय।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

बहुत-बहुत धन्यवाद।