1. আজি ভাৰতৰ প্ৰধানমন্ত্ৰী শ্ৰী নৰেন্দ্ৰ মোদী আৰু জাৰ্মানীৰ চেন্সেলৰ ওলাফ স্কোলজৰ অধ্যতাত ভাৰত চৰকাৰ আৰু ‘ফেডাৰেল ৰিপাব্লিক অব জাৰ্মানী’ৰ চৰকাৰ দুখনৰ মাজত ষষ্ঠ লানি ‘আন্তঃ চৰকাৰী পৰামৰ্শ সম্পৰ্কীয় আলোচনা’ অনুষ্ঠিত হয়। দুয়োগৰাকী শীৰ্ষ মুৰব্বীৰ লগতে এই আলোচনাত দুয়ো পক্ষৰ মন্ত্ৰী আৰু সংশ্লিষ্ট মন্ত্ৰালয়সমূহৰ পদাধিকাৰীসকলৰ একোটি দলেও অংশগ্ৰহণ কৰে।
  2. ভাৰতে স্বাধীনতাৰ ৭৫ সংখ্যক বৰ্ষ উদযাপনৰ সময়ত ভাৰত আৰু জাৰ্মানীৰ মাজৰ সম্পৰ্ক দুয়োখন দেশৰ পৰস্পৰৰ মাজৰ বিশ্বাস, দুয়োখন দেশৰ জনসাধাৰণৰ সেৱাৰ প্ৰতি থকা যুটীয়া আগ্ৰহ আৰু গণতান্ত্ৰিক প্ৰমূল্য অংশীদাৰিত্ব, আইনৰ শাসন আৰু মানৱাধিকাৰ তথা গোলকীয় প্ৰত্যহ্বানসমূহৰ ক্ষেত্ৰত বহু পক্ষীয় তত্পৰতাৰ ওপৰত গভীৰ ভাবে প্ৰতিষ্ঠিত হৈছে।
  3. দুয়োখন দেশেই ৰাষ্ট্ৰ সংঘ আৰু সকলো দেশৰ সাৰ্বভৌমত্ব আৰু অখণ্ডতাকে ধৰি ৰাষ্ট্ৰ সংঘৰ চনদে সমৃদ্ধ কৰা আন্তঃৰাষ্ট্ৰীয় আইনৰ বুনিয়াদী তত্বসমূহক সাৰোগত কৰি প্ৰভাৱশালী আইন-ভিত্তিক আন্তঃৰাষ্ট্ৰীয় ব্যৱস্থাপনাৰ গুৰুত্ব স্বীকাৰ কৰিছে। দুয়োখন দেশেই পৃথিৱী জোৰা শান্তি আৰু সুস্থিৰতাক সুৰক্ষা দিব পৰাকৈ, আন্তঃৰাষ্ট্ৰীয় আইনক শক্তিৱন্ত কৰিব পৰাকৈ, সংঘাতৰ শান্তিপূৰ্ণ সমাধান আৰু সাৰ্ব ভৌমত্ব আৰু ভৌগলিক অখণ্ডতাৰ মৌলিক তত্বক সুৰক্ষিত ৰাখিব পৰাকৈ বৰ্তমান আৰু ভৱিষ্যতে সন্মুখীন হব লগা প্ৰত্যাহ্বানসমূহ চম্ভালি ল’ব পৰাকৈ বহুপক্ষীয় ব্যৱস্থাপনাক শক্তিশালী কৰি তোলাৰ লগতে সংস্কাৰ সাধনৰ প্ৰতি থকা সংকল্পকো দোহাৰে।
  4. দুয়োগৰাকী নেতাই পৃথিৱীক সুৰক্ষা প্ৰদান কৰিব পৰাকৈ ক’ভিড-১৯ মহামাৰীয়ে সৃষ্টি কৰা পৰিৱ্শেৰ পৰা এক অৰ্থনৈতিক পুনৰুথ্থানৰ প্ৰতি তখা প্ৰতিশ্ৰুতিবদ্ধতাৰ কথা বিশেষভাবে উল্লেখ কৰে। তেওঁলোকে গোলকীয় গড় তাপমান ‘ঔদ্যোগীকৰণৰ প্ৰাক ক্ষণ’ত থকা পৰ্যায়তকৈ ২ডিগ্ৰী চেলচিয়াছ কম কৰাৰ আৰু তাপমান বৃদ্ধিৰ পৰিমাণ ‘ঔদ্যোগীকৰণৰ প্ৰাক ক্ষণ’ৰ পৰিমানতকৈ ১.৫ ডিগ্ৰী চেলচিয়াছতে সীমাবদ্ধ ৰখা আৰু ‘নৱীকৰণযোগ্য শক্তি’ৰ প্ৰতি গতি ধাৱমান কৰাৰ বাবে পদক্ষেপ গ্ৰহণৰ প্ৰতিশ্ৰুতিবদ্ধতা দোহাৰে। তেওঁলোকে অৰ্থনৈতিক পুনৰুথ্থানৰ ধাৰাই ‘পেৰিচ চুক্তি’ৰ আধাৰত এক অধিক স্থিতিশীল, পৰিৱেশ অনুকূল ভাবে বহণক্ষম, জলবায়ু-অনুকূল আৰু সকলোৰে বাবে সমাৱেশী ভৱিষ্যত গঢ়িব পৰাকৈ এক পৰিৱেশক সৃষ্টিত গুৰুত্ব আৰোপ কৰে।

অংশীদাৰিত্বমূলক প্ৰমূল্য আৰু আঞ্চলিক তথা বহুপক্ষীয় স্বাৰ্থৰ বাবে জোঁট বন্ধন

  1. দুয়োখন দেশেই ৰাষ্ট্ৰ সংঘৰ সৈতে প্ৰভাৱশালী আইন-ভিত্তিক আন্তঃৰাষ্ট্ৰীয় ব্যৱস্থাপনাৰ গুৰুত্ব দৃঢ় ভাবে স্বীকাৰ কৰাৰ লগতে আন্তঃৰাষ্ট্ৰীয় আইনৰ প্ৰতি  প্ৰদৰ্শন কৰি জাৰ্মানী আৰু ভাৰতে প্ৰভাৱশালী আৰু সংস্কাৰিত বহুপক্ষীয় ব্যৱস্থাপনাৰ গুৰুত্ব দোহাৰিছে। তেওঁলোকে জলবায়ু পৰিৱৰ্তন, দাৰিদ্ৰ, গোলকীয় খাদ্য সুৰক্ষা, অপপ্ৰচাৰৰ দৰে গণতন্ত্ৰৰ প্ৰতি অহা ভাবুকী, আন্তঃৰাষ্ট্ৰীয় সংঘাত আৰু আন্তঃৰাষ্ট্ৰীয় সন্ত্ৰাসবাদৰ দৰে গোলকীয় প্ৰত্যাহ্বানৰ মোকাবিলা কৰিব পৰাকৈ বহুপক্ষীয় ব্যৱস্থাপনাৰ বাবে জনোৱা পূৰ্বৰ আহ্বানকে পুনৰ দোহাৰে। গ্ৰুপ অব ফৰৰ দীৰ্ঘদিনীয়া আহ্বায়ক সদস্য হিচাপে, দুয়োখন চৰকাৰে সাম্প্ৰতিক সময়ৰ বাস্তৱিকতাসমূহক চম্ভালিব পৰাকৈ সক্ষম কৰি ৰাষ্ট্ৰসংঘৰ সুৰক্ষা পৰিষদৰ সংস্কাৰ সাধনৰ দাবীক অধিক খৰটকীয়া কৰি তোলাৰো দায়বদ্ধতা স্বীকাৰ কৰে। এইসম্পৰ্কীয় নিৰ্বাচনসমূহত দুয়োখন দেশে পৰস্পৰক সহায় কৰাৰ প্ৰতিশ্ৰুতিও দোহাৰে। ‘নিউক্লীয়াৰ ছাপ্লায়াৰ্ছ গ্ৰুপ’ত ভাৰতৰ অনতি বিলম্ব প্ৰৱেশৰ প্ৰতি জাৰ্মানীয়ে দ্বিধাহীন ভাবে আগবঢ়োৱা সমৰ্থনৰ কথা পুনৰ দোহাৰে।
  2. দুয়োখন দেশে এক স্বাধীন, মুক্ত আৰু সমাৱেশী ভাৰত-প্ৰশান্ত মহাসাগৰীয় অঞ্চলৰ পোষকতা কৰাৰ লগতে ‘আছীয়ান দেশ’ৰ একতাত গুৰুত্ব আৰোপ কৰে। তেওঁলোকে জাৰ্মান ফেডাৰেল চৰকাৰে যুগুতোৱা ‘ভাৰত-প্ৰশান্ত মহাগৰীয় নীতি-নিৰ্দেশনা’, ‘ভাৰত-প্ৰশান্ত মহাসাগৰীয় অঞ্চল’ৰ ক্ষেত্ৰত ইউৰোপীয়ান ইউনিয়(ইইউ)নে যুগুতোৱা সহযোগিতা সম্পৰ্কীয় ৰণকৌশল আৰু ভাৰতে আগবঢ়োৱা ‘ভাৰত-প্ৰশান্ত মহাসাগৰীয় পদক্ষেপ’ৰ স্থিতিক স্বীকাৰ কৰে।
  3. ভাৰত আৰু জাৰ্মানীয়ে ভাৰত আৰু ‘ইইউ’-ৰ মাজত ক্ৰমাত্ গাঢ় হোৱা ৰণকৌশলগত সম্পৰ্কক স্বাগত জনাইছে। বিশেষকৈ ২০২১ত প’ৰ্টোত অনুষ্ঠিত ‘ভাৰত-ইইউৰ নেতৃত্ব সন্মিলন’ৰ পৰৱৰ্তি সময়ৰ পৰাই এই সম্পৰ্ক অধিক প্ৰগাঢ় হৈছে আৰু ইয়াক পৰৱৰ্তি পৰ্যায়লৈ উন্নত কৰাৰ বাবেও দুয়োপক্ষই সহমত ব্যক্ত কৰিছে।
  4. দুয়োটা পক্ষই ‘বে’ অব বেংগল ইনিচিয়েটিভ ফৰ মা্ল্টি-ছেক্টৰেল টেকনিকেল এণ্ড ইকনমিক কো-অপাৰেশ্যন’(বিমষ্টেক)ৰ দৰে আঞ্চলিক সংস্থাৰ লগত ‘জি-২০’ৰ দৰে বহু পক্ষীয় মঞ্চৰ মাজত সহযোগিতা বৃদ্ধিত গুৰুত্ব আৰোপ কৰে।
  5. দুয়োটা পক্ষই জাৰ্মনীৰ অধ্যক্ষতাৰ সময়ছোৱাত আগবঢ়া ‘জাষ্ট এনাৰ্জী ট্ৰেনজিশ্যন’কে ধৰি ‘জি-৭’ দেশৰ গোটটোৰ সৈতে ভাৰতৰ সহযোগিতামূলক সম্পৰ্কক স্বীকৃতি প্ৰদান কৰে। তেওঁলোকে জাৰ্মানীৰ অধ্যক্ষতা কালীন সময়ছোৱাত অন্যান্য চৰকাৰী পক্ষসমূহৰ সৈতে যুটীয়া বাবে কাম কৰাৰ প্ৰসংগত দ্বিপাক্ষিক আলোচনা অনুষ্ঠিত কৰাৰ বাবেও সহমত ব্যক্ত কৰে।
  6. ইফালে, ইউক্ৰেইনৰ বিৰুদ্ধে ৰাছীয়াই কৰা বেআইনী আৰু অপ্ৰৰোচিত আক্ৰমণক কঠোৰ ভাষাৰে দিয়া গৰিহণা পুনৰ দোহাৰিছে জাৰ্মানীয়ে। ইউক্ৰেইনত শেহতীয়া ভাবে সংঘটিত ঘটনাক্ৰমত মানৱীয়তা সংকটাপন্ন হোৱাৰ কথাতো ভাৰত আৰু জাৰ্মানীয়ে উদ্বিগ্নতা প্ৰকাশ কৰে। উভয়ে ইউক্ৰেইনত অসামৰিক লোকৰ মৃত্যু হোৱা ঘটনাকো তীব্ৰ ভাষাৰে গৰিহণা দিয়ে।
  7. সেইদৰে আফগানিস্তানৰ ক্ষেত্ৰতো দুয়োখন দেশে দেশখনত হোৱা মানৱীয়তাৰ স্খলন, লক্ষ্য নিৰ্দিষ্ট সন্ত্ৰাসবাদী কাৰ্যকলাপ, মানৱাধিকাৰ আৰু মৌলিক অধিকাৰ আৰু কন্যা আৰু মহিলাসকলৰ শিক্ষা লাভৰ ক্ষেত্ৰত অধিকাৰৰ পদ্ধতিগত উলংঘণকে ধৰি হিংসাত্মক ঘটনাৰ পুনৰুথ্থানৰ পৰিস্থিতিত উদ্বিগ্নতা প্ৰকাশ কৰে।
  8. দুযোখন দেশে আফগানিস্তানৰ ভূমিভাগ কোনো সন্ত্ৰাসবাদীৰ আশ্ৰয়, প্ৰশিক্ষণ, পৰিকল্পনা বা বিত্তীয় সাহায্য আহৰণৰ বাবে ব্যৱহাৰ নকৰাৰ বাবে বাবে গ্ৰহণ কৰা ৰাষ্ট্ৰ সংঘৰ নিৰাপত্তা পৰিষদৰ ২৫৯৩(২০২১)নং সিদ্ধান্তৰ গুৰুত্ব সন্দৰ্ভত নিজৰ সহমত দোহাৰে। আফগানিস্তানৰ পৰিস্থিতি সন্দৰ্ভত দুয়ো পক্ষৰ মাজত ঘনিষ্ঠ আলোচনা অব্যাহত ৰখাৰ কথাটো দুয়োপক্ষই সহমত ব্যক্ত কৰে।
  9. দুয়ো দেশৰ নেতৃবৃন্দই সীমা-পাৰৰ পৰা সন্ত্ৰাসবাদী কাৰ্যকলাপেৰে অব্যাহত ৰখা সংকটকে ধৰি সকলো ধৰণৰ সন্ত্ৰাসবাদী কাৰ্যকলাপ কঠোৰ ভাষাৰে গৰিহণা দিয়ে। তেওঁলোকে সন্ত্ৰাসাবাদৰ পুলিয়ে-পোখাই মূলোচ্ছেদ কৰিবলৈ আগবাঢ়ি অহাৰ বাবে সকলো দেশৰ প্ৰতি আহ্বান জনায়। তদুপৰি তেওঁলোকে ৰাষ্ট্ৰসংঘৰ নিৰাপত্তা পৰিষদৰ ১২৬৭ সংখ্যক ‘ছেংচন সমিতি’য়ে চিহ্নিত কৰা গোটসমূহকে ধৰি সকলোবোৰ সন্ত্ৰাসবাদী গোটৰ বিৰুদ্ধে কঠোৰ কাৰ্যপন্থা গ্ৰহণৰ বাবেও সংশ্লিষ্টসকলক আহ্বান জনায়।
  10. ‘মানী লণ্ডাৰিং’ আৰু সন্ত্ৰাসবাদী কাৰ্যকলাপৰ বিত্তীয় পৃষ্ঠপোষকতাৰ বিৰুদ্ধে পদক্ষেপ গ্ৰহণৰ ক্ষেত্ৰত সকলো দেশে এফএটিএফ-কে ধৰি আন্তঃৰাষ্ট্ৰীয় মানকসমূহৰ সদ্ব্যৱহাৰৰ প্ৰসংগতো গুৰুত্ব আৰোপ কৰে।
  11. দুয়ো পক্ষই বুজাবুজি সম্পৰ্কীয় আলোচনাৰ সামৰণি, প্ৰক্ৰিয়াসমূহৰ পুনৰাম্ভণিকে ধৰি আৰু ‘যুটীয়া বিস্তৃত কৰ্ম পৰিকল্পনা’ৰ সম্পূৰ্ণ ৰূপায়ণলৈ সহযোগিতা আগবঢ়োৱাৰ ক্ষেত্ৰত সন্মতি প্ৰকাশ কৰে। এই সন্দৰ্ভত ‘আইএইএ’-ৰ গুৰুত্বপূৰ্ণ ভূমিকাকো ভাৰত আৰু জাৰ্মানীয়ে প্ৰশংসা কৰে।
  12.  নিৰাপত্তা-সহযোগিতামূলক সম্পৰ্কক গাঢ় কৰাৰ উদ্দেশ্য আগত ৰাখি দুয়ো পক্ষই ‘ক্লাছিফাইড তথ্যাৱলী’ৰ বিনিময় সংক্ৰান্তত সহমতত উপনীত হ’ব পৰাকৈ আলোচনা অনুষ্ঠিত কৰাৰ বাবে সহমত ব্যক্ত কৰে। দুয়োপক্ষই গোলকীয় নিৰাপত্তা সম্পৰ্কীয় প্ৰত্যাহ্বান সমূহ প্ৰতিহত কৰাৰ ক্ষেত্ৰত অৱদান আগবঢ়াব পৰাকৈ ৰণকৌশলগত অংশীদাৰ হিচাপে দুয়ো পক্ষৰ মাজত নিৰাপত্তা আৰু প্ৰতিৰক্ষা সম্পৰ্কীয় সম্পৰ্ক গাঢ় কৰাৰো গুৰুত্ব দোহাৰে।
  13. দুয়োখন চৰকাৰে কাকো পিচ পৰি থাকিবলৈ নিদিয়াকৈ আংশীদাৰিত্বপূৰ্ণ, বহণক্ষম আৰু সমাৱেশী বিকাশ সাধন কৰাৰ লগতে পৃথিৱীৰ সুৰক্ষাৰ বাবে থকা তেওঁলোকৰ যৌথ দায়ব্ধতাৰ কথা স্বীকাৰ কৰে। তেওঁলোকে ‘পেৰিছ চুক্তি’ৰ আধাৰত ‘বহনক্ষম উন্নয়ণৰ লক্ষ্য’সমূহ বাস্তৱায়িত কৰাৰ বাবে ভাৰত-জাৰ্মানী সহযোগিতা প্ৰসংগও উথ্থাপন কৰে।
  14. দুয়োদেশৰ মাজৰ মৈত্ৰী পূৰ্ণ সহযোগিতাৰ ক্ষেত্ৰত উচ্চ পৰ্যায়ৰ ৰাজনৈতিক দিক-নিৰ্দেশনা দিয়াৰ বাবে আন্তঃচৰকাৰী পৰামৰ্শপ্ৰদানকাৰী আলোচনাৰ বিধি-নিৰ্দেশনাৰ আধাৰত দ্বিবাৰ্ষিক মন্ত্ৰী পৰ্যায় আলোচনা অনুষ্ঠিত কৰাৰৰ বাবেও দুয়ো পক্ষই সহমত প্ৰকাশ কৰে।
  15. শক্তিৰ ৰূপান্তৰণ, নৱীকৰণযোগ্য শক্তি, চহৰাঞ্চলৰ বহণক্ষম উন্নয়ণ, সেউজ পৰিবহণ ব্যৱস্থা, চক্ৰীয় অৰ্থনীতি, জলবায়ু সন্দৰ্ভত অন্যান্য কাৰ্যপন্থাৰ লগতে দুৰ্যোগ প্ৰশমণ, জলবায়ু নমনীয়কৰণ, সহজকৰণ, কৃষি-বাতাবৰণ সম্পৰ্কীয় ৰূপান্তৰণ, জৈৱ বৈচিত্ৰ্যৰ সংৰক্ষণ আৰু বহণক্ষম ব্যৱহাৰ, প্ৰাকৃতিক সম্পদৰ সংৰক্ষণ আৰু বহণক্ষম ব্যৱহাৰ আৰু সহযোগিতা পূৰ্ণ সম্পৰ্কৰ অগ্ৰগতি সন্দৰ্ভত নিয়মীয়া পৰ্যালোচনাৰ বাবে গ্ৰহণ কৰিব পৰা পদক্ষেপসমূহ চিনাক্ত কৰাৰ বাবে উভয় পক্ষই কাম কৰি য়োৱাৰ সিদ্ধান্ত গ্ৰহণ কৰে।
  16. ‘সেউজীয়া আৰু বহণক্ষম উন্নয়ণ’ৰ বাবে ভাৰত-জাৰ্মান সহযোগিতাৰে সম্ভৱ কৰিব খোজা পদক্ষেপসমূহৰ ক্ষেত্ৰত দুয়োপক্ষই সহমত প্ৰকাশ প্ৰসংগসমূহ হল- ‘ভাৰত-জাৰ্মান হাইড্ৰজেন ৰোডমেপ’ প্ৰস্তুত কৰা, ‘ভাৰত-জাৰ্মান নৱীকৰণযোগ্য শক্তি সহযোগিতা’ স্থাপন কৰা, ‘এগ্ৰ’ইক’লজী আৰু প্ৰাকৃতিক সম্পদৰ বহণক্ষম প্ৰবন্ধন’ সন্দৰ্ভত ‘লাইটহাউছ সহযোগিতা’ স্থাপন কৰা, ‘লে-হাৰিয়াণা ট্ৰেন্সমিছন লাইন’ৰ দৰে ‘গ্ৰীন এনাৰ্জী ক’ৰিডৰ’ স্থাপনৰ বাবে যৌথ উদ্যোগ গ্ৰহণৰ ক্ষেত্ৰত পুনঃ পৰীক্ষা কৰা, ‘বন চেলেঞ্জ’-ৰ অধীনত দাৰিদ্ৰ দূৰীকৰণ, জৈৱ বৈচিত্ৰ্ৰ্যৰ সংৰক্ষণ আৰু পুনঃস্থাপন আদিৰ দৰে ক্ষেত্ৰত সহযোগিতা গাঢ় কৰা, ‘গ্ৰীণ প্ৰযুক্তি’ৰ বহণক্ষম ব্যৱহাৰৰ দৰে ক্ষেত্ৰসমূহত সহযোগিতা প্ৰগাঢ় কৰাৰ বাবে সহমত প্ৰকাশ কৰে।
  17. ‘সেউজীয়া আৰু বহণক্ষম উন্নয়ণ’ৰ ক্ষেত্ৰত বৰ্তমানে গ্ৰহণ কৰা পদক্ষেপসমূহৰ অগ্ৰগতিক দুয়ো পক্ষই আদৰণি জনায়।
  18. ‘আন্তঃৰাষ্ট্ৰীয় স্মাৰ্ট চিটী নেটৱৰ্ক’ৰ ভিতৰত চহৰাঞ্চলৰ উন্নয়ণ সন্দৰ্ভত তেওঁলোকৰ সফল সযোগিতাৰ সম্পৰ্ক অব্যাহত ৰখাৰ অভিপ্ৰায় দুয়ো পক্ষই দোহাৰে।
  19. বহণক্ষম চহৰীয়া উন্নয়ণ সম্পৰ্কীয় ‘ভাৰত-জাৰ্মান যুটীয়া কৰ্ম গোট’ৰ নিয়মীয়া সভা অনুষ্ঠিতকৰণ সন্দৰ্ভতো উভয় পক্ষই সহমত ব্যক্ত কৰে।
  20. কৃষি, খাদ্য উদ্যোগ আৰু গ্ৰাহক সুৰক্ষা সম্পৰ্কীয় যুটীয়া কৰ্ম গোটৰ ইতিবাচক ভূমিকা সন্দৰ্ভত উভয় পক্ষই প্ৰকাশ কৰা প্ৰাসংগিকতা পক্ষ দুটাই পুনৰ দোহাৰে।
  21. কৃষকক উচ্চ মানৰ বীজ উপলব্ধ কৰোৱাৰ বাবে ভাৰতীয় বীজ খণ্ডত ৰূপায়ণ কৰা সফল ধ্বজাবাহী প্ৰকল্পৰ চূড়ান্ত পৰ্যায়কো দুয়োখন চৰকাৰে প্ৰশংসা কৰে।
  22. বৰ্তমানে চলি থকা সহযোগিতা চুক্তিৰ আধাৰতে খাদ্য সুৰক্ষাৰ ক্ষেত্ৰতো সহযোগিতামূলক কৰ্মসূচী বিকশিত কৰাৰ বাবে দুয়ো পক্ষই ইচ্ছা প্ৰাকশ কৰে।
  23. কৃষি খণ্ডত ‘ভাৰত-জাৰ্মান উত্কৰ্ষতাৰ কেন্দ্ৰ’ স্থাপনৰ বাবে ‘জাৰ্মান এগ্ৰি বিজনেছ এলায়েন্স’(জিএএ) আৰু ‘এগ্ৰিকালশ্যাৰ স্কিল কাউন্সিল অব ইণ্ডিয়া’ৰ মাজত সম্পাদিত বুজাবুজিৰ চুক্তিখনকো উভয় পক্ষই স্বীকৃতি প্ৰদান কৰে।
  24. কৃষি আৰু খাদ্য খণ্ডত প্ৰযুক্তি আৰু জ্ঞানৰ বিনিময় সন্দৰ্ভতো উভয় পক্ষই সহমতি প্ৰকাশ কৰে।
  25. ‘ইণ্টাৰনেশ্যনেল ছ’লাৰ এলায়েন্স’(আইএছএ) সন্দৰ্ভতো দুয়োটা পক্ষই সহযোগিতা গভীৰ কৰাত সহমত প্ৰকাশ কৰে।
  26. দুয়োটা পক্ষই জলবায়ু আৰু দুৰ্যোগৰ বিপৰীতে আগবঢ়াবলগীয়া বিত্তীয় সহযোগিতা আৰু বীমাকৰণৰ ক্ষেত্ৰত থকা আংশকা প্ৰশমণ কৰিব পৰাকৈ গঠন কৰা ‘ইন্সুৰিজেলিয়েন্স গ্লোবেল পাৰ্টনাৰ্শ্বিপ’ আৰু ‘কোৱালিশ্যন ফৰ ডিজেষ্টাৰ ৰিজেলিয়েণ্ট ইনফ্ৰাষ্ট্ৰাকশ্যাৰ’ৰ ক্ষেত্ৰতো সহযোগিতা আগবঢ়াবলৈ  সহমত প্ৰকাশ কৰে।
  27. বহণক্ষম বিকাশৰ লক্ষ্যত উপনীত হোৱাৰ বাবে চৰকাৰী-ব্যক্তিগত খণ্ডৰ সহযোগিতাৰ আধাৰত ভাৰত আৰু জাৰ্মানীৰ ব্যক্তিগত খণ্ডৰ মাজত সহযোগিতা বৃদ্ধিৰ বাবে দুয়ো পক্ষই সহমত প্ৰকাশ কৰে।
  28. ৰাষ্ট্ৰসংঘৰ ‘২০২৩ জল সন্মিলন’ৰ প্ৰস্তুতি সন্দৰ্ভতো উভয় পক্ষই সপ্ৰশংস মন্তব্য আগবঢ়ায়।

বেহা-বেপাৰ, বিনিয়োগ আৰু ডিজিটেল ট্ৰেন্সফোৰমেশ্যন

  1. নীতি আধাৰিত, মুক্ত, সমাৱেশী, স্বচ্ছ আৰু সুলভ বেহাৰ গুৰুত্ব দোহাৰি  জাৰ্মানী আৰু ভাৰতে বহু পক্ষীয় বেহা-বেপাৰৰ কেন্দ্ৰ হিচাপে বিশ্ব বাণিজ্য সংস্থাৰ ভূমিকা অব্যাহত থকাত গুৰুত্ব আৰোপ কৰে।
  2. ভাৰত আৰু জাৰ্মানী উভয়ে বাণিজ্য আৰু বিনিয়োগ ক্ষেত্ৰৰ গুৰুত্বপূৰ্ণ সহযোগী। ভাৰত আৰু ‘ইউৰোপীয়ান ইউনিয়ন’ৰ মাজত সম্পাদিত হবলগীয়া মুক্ত বাণিজ্য সংক্ৰান্তীয় চুক্তি, এখন বিনিয়োগ সুৰক্ষা সম্পৰ্কীয় চুক্তি আৰু এখন ভূ-তাত্বিক সংকেতক সম্পৰ্কীয় চুক্তিকেইখনলৈ উভয় পক্ষই সজোৰে সমৰ্থন আগবঢ়ায়।
  3. ৰাষ্ট্ৰসংঘৰ বেহা-বেপাৰ সম্পৰ্কীয় বিধি-নিৰ্দেশনা আৰু মনৱাধিকাৰ আৰু বহু দেশীয় প্ৰতিষ্ঠানৰ ক্ষেত্ৰত প্ৰযোজ্য ‘অইচিডি-বিধি-নিৰ্দেশনা’ ৰূপায়ণৰ গুৰুত্ব সন্দৰ্ভতো ভাৰত-জাৰ্মানীয়ে বিশেষ প্ৰাসংগিকতা দোহাৰে।
  4. গোলকীয় প্ৰেক্ষাপটত চাকৰি আৰু সামজিক সংকটৰ অন্যতম দশকৰ প্ৰেক্ষাপটত এক বহণক্ষম শ্ৰম বজাৰ গঢ়ি তোলাৰ বাবে একেলগে কাম কৰাৰ প্ৰাসংগিতাও দোহাৰে দুয়োটা পক্ষই।
  5. ২০১৭ চনত ভৰতে ‘আইএলঅ’ কনভেনশ্যন’ৰ ১৩৮ আৰু ১৮২ সংকল্প গ্ৰহণ কৰি স্বাক্ষৰ দান কৰা কাৰ্যক আদৰণী জনায় জাৰ্মানীয়ে।
  6. প্ৰযুক্তিগত, অৰ্থনৈতিক আৰু সামাজিক পৰিৱৰ্তনৰ বাবে মূল চালিকা শক্তি হিচাপে ‘ডিজিটেল ৰূপান্তৰণ’ৰ গুৰুত্ব স্বীকাৰ কৰে দুয়োটা পক্ষই।
  7. ২০২১ চনৰ ৮ অক্টোবৰত ‘বেছ ইৰ’ছন এণ্ড প্ৰফিট শ্বিফ্টিং’(বিইপিএছ) সম্পৰ্কীয় ‘সমাৱেশী পৰিকাঠামো’ত গ্ৰহণ কৰা দ্বি-স্তম্ভীয়-সমাধানসূত্ৰৰ ক্ষেত্ৰত হোৱা সহমতিক দুয়ো পক্ষই আদৰণি জনায়।
  8. দ্বিপাক্ষিক বাণিজ্য আৰু বিনিয়োগ সম্পৰ্কীয় ক্ষেত্ৰসমূহত ‘ভাৰত-জাৰ্মান ফাষ্ট-ট্ৰেক মেকানিজম’ৰ সফল স্বৰূপক অব্যাহত ৰখাৰ বাবে দুয়োটা পক্ষই পৰস্পৰে সষ্টম হৈ থকাৰ কথা পুনৰ স্পষ্ট কৰে।
  9. ‘ক’ৰ্পোৰেট মেনেজাৰৰ প্ৰশিক্ষণ কাৰ্যক্ৰম’ৰ ৰূপায়ণৰে দ্বিপাক্ষিক অৰ্থনৈতিক সম্পৰ্ক অব্যাহত ৰখাৰ প্ৰতিশ্ৰুতিও দোহাৰে দুয়োটা পক্ষই।
  10. ৰে’লৱে’ খণ্ডত জাৰ্মান কোম্পানীসমূহৰ কাৰিকৰী পাৰদৰ্শিতাৰ কথা ভাৰতীয় পক্ষই স্বীকাৰ কৰে। ২০৩০ চনৰ ভিতৰত ‘নেট জিৰো’ পৰ্যায়ত উপনীত হোৱাৰ বাবে ভাৰতীয় ৰে’লে পোষণ কৰা প্ৰত্যাশা পূৰণ কৰাৰ বাবে জাৰ্মানীয়ে সহযোগিতা আগবঢ়োৱাৰ কথা ২০১৯ চনত ইণ্টাৰনেটৰ জৰিয়তে কৰা ‘যুটীয়া ঘোষণা-পত্ৰ’ত প্ৰকাশ কৰা হৈছিল।
  11. ‘গ্লোবেল প্ৰজেক্ট কোৱালিটী ইনফ্ৰাষ্ট্ৰাকশ্যাৰ’(জিপিকিউআই)ৰ অধীনত ‘ভাৰত-জাৰ্মান কৰ্ম গোট’ৰ জৰিয়তে দুয়োথন দেশৰ মাজৰ সম্পৰ্ক অধিক প্ৰগাঢ় কৰাৰ বাবে প্ৰয়াস অব্যাহত ৰখাৰ কথাক প্ৰশংসা কৰে দুয়ো দেশৰ প্ৰতিনিধিবৰ্গই।
  12. ষ্টাৰ্ট-আপ সহযোগিতা আৰু অধিক কৰি তোলা আৰু এই প্ৰসংগত ‘ষ্টাৰ্ট-আপ ইণ্ডিয়া’ আৰু ‘জাৰ্মান এক্সিলাৰেটৰ’(জিএ)ৰ মাজত অব্যাহত থকা সহযগিতাৰো শলাগ লয় দুয়ো দেশৰ চৰকাৰে।

ৰাজনৈতিক আৰু বৌদ্ধিক বিনিময়, বৈজ্ঞানিক সহযোগিতা, কৰ্মবাহিনী আৰু মানুহৰ আহ-যাহ  সংক্ৰান্তীয় অংশীদাৰিত্ব

  1. ছাত্ৰ-ছাত্ৰী, শিক্ষায়তনিক আৰু পেছাদাৰী কৰ্ম-বাহিনীকে ধৰি জন-সাধাৰণৰ মাজৰ সক্ৰিয় বিনিময়কো দুয়োখন চৰকাৰে আদৰণি জনায়।
  2. শিক্ষা আৰু দক্ষতা বিকাশৰ ক্ষেত্ৰত দুয়োখন দেশৰ মাজত ক্ৰমাত্ বৃদ্ধি পোৱা বিনিময় প্ৰসংগত জাৰ্মানী আৰু ভাৰতে সন্তুষ্টি প্ৰকাশ কৰাৰ লগতে ইয়াক আৰু অধিক বিস্তৃত কৰাৰো ইচ্ছা প্ৰকট কৰে।
  3. ভাৰত-জাৰ্মান ৰণ-কৌশলগত গৱেষণা তথা উন্নয়ণী অংশীদাৰিত্বৰ ক্ষেত্ৰত বৌদ্ধিক পৰিমণ্ডল-উদ্যোগসমূহে গ্ৰহণ কৰা মূল অনুঘটকৰ ভূমিকা স্বীকাৰ কৰাৰ লগতে দুয়োটা পক্ষই শেহতীয়া ভাবে গ্ৰহণ কৰা ‘ভাৰত-জাৰ্মান বিজ্ঞান আৰু প্ৰযুক্তি কেন্দ্ৰ’(আইজিএছটিচি)ৰ পদক্ষেপক আদৰণি জনায়।
  4. বিশেষকৈ দ্বিপাক্ষিক বৈজ্ঞানিক সহযোগিতাৰ ক্ষেত্ৰত অন্যতম স্মাৰক হিচাপে পৰিগণিত হোৱা ডাৰ্মষ্টেডত স্থাপিত ‘ইণ্টাৰনেশ্যনেল ফেচিলিটী ফৰ এণ্টিপ্ৰটন এণ্ড আয়ন ৰিছাৰ্চ’(ফেয়াৰ)লৈ তেওঁলোকৰ সমৰ্থন আগবঢ়ায়।
  5. ভাৰত আৰু জাৰ্মানীৰ মাজত সম্পাদিত হ’বলগীয়া দ্বিপাক্ষিক চুক্তিখনৰ ইংৰাজী ভাষাত যুগুত কৰা আজিৰ ডূড়ান্ত খচৰাটো দুয়োখন চৰকাৰে আদৰণি জনায়।
  6. দক্ষ স্বাস্থ্য কৰ্মীৰ স্থানান্তৰণ সন্দৰ্ভত কেৰালা ৰাজ্য আৰু ‘জাৰ্মান ফেডাৰেল এম্প্লইমেণ্ট এজেন্সী’(বিএ) মাজত সম্পাদিত নিয়োগ সম্পৰ্কীয় চুক্তিখন স্বাক্ষৰিত কৰা কথাটোকো দুয়োখন চৰকাৰে আদৰণি জনায়।
  7. জাৰ্মান ছচিয়েল এক্সিডেণ্ট ইন্সুৰেঞ্চ(ডিজিইউভি) আৰু নেশ্যনেল ছেফ্টী কাউন্সিল(এনএছচি) অব ইণ্ডিয়াৰ মাজত সম্পাদিত বুজাবুজিৰ চুক্তিখনকো দুয়োখন চৰকাৰে আদৰমি জনায়।
  8. ভাৰত আৰু জাৰ্মানীৰ মাজত সম্পাদিত হোৱা বিস্তৃত পৰিসৰৰ সাংস্কৃতিক বিনিময় আৰু শিক্ষামূলক সহযোগিতা আৰু এই সংক্ৰান্ত ‘গয়েথে-ইনষ্টিটিউট’, ‘জাৰ্মান একাডেমিক একচেঞ্জ ছাৰ্ভিচ’(ডিএএডি), ‘ইউনিভাৰ্ছিটী গ্ৰাণ্ট কমিশ্যন’(ইউডিচি), ‘অল ইণ্ডিয়া কাউন্সিল ফৰ টেকনিকেল এডুকেশ্যন’(এআইচিটিই) আৰু অন্যান্য প্ৰতিষ্ঠানসমূৰ ভূমিকাক দুয়োখন চৰকাৰে প্ৰশংসা কৰে।

গোলকীয় স্বাস্থ্যৰ বাবে এক সহযোগিতা

  1. ক’ভিড-১৯ৰ উপৰ্যুপৰিতাৰ কথা অনুভৱ কৰিয়েই দুয়োখন চৰকাৰে ‘মেডিকেল ছাপ্লাই চেইন’ৰ সুৰক্ষা নিশ্চিত কৰা, স্বাস্থ্য সংক্ৰন্তীয় প্ৰসংগত গোলকীয় সষ্টমতা বৃদ্ধি কৰা, ভৱিষ্যতে পশুজনিত ৰোগৰ আংশকা প্ৰশমিত কৰা, ‘ওৱান-হেল্থ-এপ্ৰোচ’ গ্ৰহণৰ দৰে প্ৰসংগত পৰস্পৰে সহযোগিতা আগবঢ়োৱাৰ বাবে সহমত ব্যক্ত কৰে।
  2. ভাৰতৰ ‘নেশ্যনেল চেণ্টাৰ ফৰ ডিজিজ কণ্ট্ৰোল’(এনচিডিচি) আৰু জাৰ্মানীৰ ‘ৰবাৰ্ট-কোচ-ইনষ্টিটিউট’(আৰকেআই)ৰ মাজৰ জোঁটবন্ধনৰ পদক্ষেপক দুয়ো পক্ষই আদৰণি জনায়।
  3. যুটীয়া ঘোষণা পত্ৰ প্ৰকাশৰে চিকিত্সা সামগ্ৰী নিয়ামক বিধি প্ৰণয়ন ক্ষেত্ৰত সহযোগিতা শক্তিশালী কৰি তোলাৰ বাবে দুয়ো চৰকাৰে ইচ্ছা প্ৰকাশ কৰে।
  4. ষষ্ঠ ভাৰত-জাৰ্মানী চৰকাৰী পৰামৰ্শ(আইজিচি)সম্পৰ্কীয় আলোচনাক লৈ দুয়োপক্ষৰ প্ৰতিনিধিবৰ্গই সন্তুষ্টি প্ৰকাশ কৰাৰ লগতে ভাৰত-জাৰ্মান ৰণ-কৌশলগত সহযোগিতা আৰু অধিক প্ৰগাঢ় কৰাৰ বাবে প্ৰতিশ্ৰুতি দোহাৰে। প্ৰধানমন্ত্ৰী মোদীয়ে চেঞ্চেলৰ স্কলজক তেওঁ আগবঢ়োৱা আতিথ্যৰ বাবে ধন্যবাদ জনায়। ভাৰতৰ তৰফৰ পৰা পৰৱৰ্তি ‘আইজিচি’ অনুষ্ঠিত কৰাৰো ইচ্ছা ব্যক্ত কৰা হয়।
Explore More
৭৭সংখ্যক স্বাধীনতা দিৱস উপলক্ষে লালকিল্লাৰ প্ৰাচীৰৰ পৰা দেশবাসীক উদ্দেশ্যি প্ৰধানমন্ত্ৰী শ্ৰী নৰেন্দ্ৰ মোদীয়ে আগবঢ়োৱা ভাষণৰ অসমীয়া অনুবাদ

Popular Speeches

৭৭সংখ্যক স্বাধীনতা দিৱস উপলক্ষে লালকিল্লাৰ প্ৰাচীৰৰ পৰা দেশবাসীক উদ্দেশ্যি প্ৰধানমন্ত্ৰী শ্ৰী নৰেন্দ্ৰ মোদীয়ে আগবঢ়োৱা ভাষণৰ অসমীয়া অনুবাদ
India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer

Media Coverage

India a 'green shoot' for the world, any mandate other than Modi will lead to 'surprise and bewilderment': Ian Bremmer
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM Modi's Interview to Navbharat Times
May 23, 2024

प्रश्न: वोटिंग में मत प्रतिशत उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा। क्या, कम वोट पड़ने पर भी बीजेपी 400 पार सीटें जीत सकती है? ये कौन से वोटर हैं, जो घर से नहीं निकल रहे?

उत्तर: किसी भी लोकतंत्र के लिए ये बहुत आवश्यक है कि लोग मतदान में बढ़चढ कर हिस्सा लें। ये पार्टियों की जीत-हार से बड़ा विषय है। मैं तो देशभर में जहां भी रैली कर रहा हूं, वहां लोगों से मतदान करने की अपील कर रहा हूं। इस समय उत्तर भारत में बहुत कड़ी धूप है, गर्मी है। मैं आपके माध्यम से भी लोगों से आग्रह करूंगा कि लोकतंत्र के इस महापर्व में अपनी भूमिका जरूर निभाएं। तपती धूप में लोग ऑफिस तो जा ही रहे हैं, हर व्यक्ति अपने काम के लिए घर से बाहर निकल रहा है, ऐसे में वोटिंग को भी दायित्व समझकर जरूर पूरा करें। चार चरणों के चुनाव के बाद बीजेपी ने बहुमत का आंकड़ा पा लिया है, आगे की लड़ाई 400 पार के लिए ही हो रही है। चुनाव विशेषज्ञ विश्लेषण करने में जुटे हैं, ये उनका काम है, लेकिन अगर वो मतदाताओं और बीजेपी की केमिस्ट्री देख पाएं तो समझ जाएंगे कि 400 पार का नारा हकीकत बनने जा रहा है। मैं जहां भी जा रहा हूं, बीजेपी के प्रति लोगों के अटूट विश्वास को महसूस रहा हूं। एनडीए को 400 सीटों पर जीत दिलाने के लिए लोग उत्साहित हैं।

प्रश्न: लेकिन कश्मीर में वोट प्रतिशत बढ़े। कश्मीर में बढ़ी वोटिंग का संदेश क्या है?

उत्तर: : मेरे लिए इस चुनाव में सबसे सुकून देने वाली घटना यही है कि कश्मीर में वोटिंग प्रतिशत बढ़ी है। वहां मतदान केंद्रों के बाहर कतार में लगे लोगों की तस्वीरें ऊर्जा से भर देने वाली हैं। मुझे इस बात का संतोष है कि जम्मू-कश्मीर के बेहतर भविष्य के लिए हमने जो कदम उठाए हैं, उसके सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। श्रीनगर के बाद बारामूला में भी बंपर वोटिंग हुई है। आर्टिकल 370 हटने के बाद आए परिवर्तन में हर कश्मीरी राहत महसूस कर रहा है। वहां के लोग समझ गए हैं कि 370 की आड़ में इतने वर्षों तक उनके साथ धोखा हो रहा था। दशकों तक जम्मू-कश्मीर के लोगों को विकास से दूर रखा गया। सिस्टम में फैले भ्रष्टाचार से वहां के लोग त्रस्त थे, लेकिन उन्हें कोई विकल्प नहीं दिया जा रहा था। परिवारवादी पार्टियों ने वहां की राजनीति को जकड़ कर रखा था। आज वहां के लोग बिना डरे, बिना दबाव में आए विकास के लिए वोट कर रहे हैं।

प्रश्न: 2014 और 2019 के मुकाबले 2024 के चुनाव और प्रचार में आप क्या फर्क महसूस कर रहे हैं?

उत्तर: 2014 में जब मैं लोगों के बीच गया तो मुझे देशभर के लोगों की उम्मीदों को जानने का अवसर मिला। जनता बदलाव चाहती थी। जनता विकास चाहती थी। 2019 में मैंने लोगों की आंखों में विश्वास की चमक देखी। ये विश्वास हमारी सरकार के 5 साल के काम से आया था। मैंने महसूस किया कि उन 5 वर्षों में लोगों की आकांक्षाओं का विस्तार हुआ है। उन्होंने और बड़े सपने देखे हैं। वो सपने उनके परिवार से भी जुड़े थे, और देश से भी जुड़े थे। पिछले 5 साल तेज विकास और बड़े फैसलों के रहे हैं। इसका प्रभाव हर व्यक्ति के जीवन पर पड़ा है। अब 2024 के चुनाव में मैं जब प्रचार कर रहा हूं तो मुझे लोगों की आंखों में एक संकल्प दिख रहा है। ये संकल्प है विकसित भारत का। ये संकल्प है भ्रष्टाचार मुक्त भारत का। ये संकल्प है मजबूत भारत का। 140 करोड़ भारतीयों को भरोसा है कि उनका सपना बीजेपी सरकार में ही पूरा हो सकता है, इसलिए हमारी सरकार की तीसरी पारी को लेकर जनता में अभूतपूर्व उत्साह है।

प्रश्न: 10 साल की सबसे बड़ी उपलब्धि आप किसे मानते हैं और तीसरे कार्यकाल के लिए आप किस तरह खुद को तैयार कर रहे हैं?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हमारी सरकार ने अर्थव्यवस्था, सामाजिक न्याय, गरीब कल्याण और राष्ट्रहित से जुड़े कई बड़े फैसले लिए हैं। हमारे कार्यों का प्रभाव हर वर्ग, हर समुदाय के लोगों पर पड़ा है। आप अलग-अलग क्षेत्रों का विश्लेषण करेंगे तो हमारी उपलब्धियां और उनसे प्रभावित होने वाले लोगों के बारे में पता चलेगा। मुझे इस बात का बहुत संतोष है कि हम देश के 25 करोड़ लोगों को गरीबी से बाहर ला पाए। करोड़ों लोगों को घर, शौचालय, बिजली-पानी, गैस कनेक्शन, मुफ्त इलाज की सुविधा दे पाए। इससे उनके जीवन में जो बदलाव आया है, उसकी उन्होंने कल्पना तक नहीं की थी। आप सोचिए, कि अगर करोड़ों लोगों को ये सुविधाएं नहीं मिली होतीं तो वो आज भी गरीबी का जीवन जी रहे होते। इतना ही नहीं, उनकी अगली पीढ़ी भी गरीबी के इस कुचक्र में पिसने के लिए तैयार हो रही होती।

हमने गरीब को सिर्फ घर और सुविधाएं नहीं दी हैं, हमने उसे सम्मान से जीने का अधिकार दिया है। हमने उसे हौसला दिया है कि वो खुद अपने पैरों पर खड़ा हो सके। हमने उसे एक विश्वास दिया कि जो जीवन उसे देखना पड़ा, वो उसके बच्चों को नहीं देखना पड़ेगा। ऐसे परिवार फिर से गरीबी में न चले जाएं, इसके लिए हम हर कदम पर उनके साथ खड़े हैं। इसीलिए, आज देश के 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया जा रहा है, ताकि वो अपनी आय अपनी दूसरी जरूरतों पर खर्च कर सकें। हम कौशल विकास, पीएम विश्वकर्मा और स्वनिधि जैसी योजनाओं के माध्यम से उन्हें आगे बढ़ने में मदद कर रहे हैं। हमने घर की महिला सदस्य को सशक्त बनाने के भी प्रयास किए। लखपति दीदी, ड्रोन दीदी जैसी योजनाओं से महिलाएं आर्थिक रूप से मजबूत हुई हैं। मेरी सरकार के तीसरे कार्यकाल में इन योजनाओं को और विस्तार मिलेगा, जिससे ज्यादा महिलाओं तक इनका लाभ पहुंचेगा।

प्रश्न: हमारे रिपोर्टर्स देशभर में घूमे, एक बात उभर कर आई कि रोजगार और महंगाई पर लोगों ने हर जगह बात की है। जीतने के बाद पहले 100 दिनों में युवाओं के लिए क्या करेंगे? रोजगार के मोर्चे पर युवाओं को कोई भरोसा देना चाहेंगे?

उत्तर: पिछले 10 वर्षों में हम महंगाई दर को काबू रख पाने में सफल रहे हैं। यूपीए के समय महंगाई दर डबल डिजिट में हुआ करती थी। आज दुनिया के अलग-अलग कोनों में युद्ध की स्थिति है। इन परिस्थितियों का असर देश की अर्थव्यवस्था और महंगाई पर पड़ा है। हमने दुनिया के ताकतवर देशों के सामने अपने देश के लोगों के हित को प्राथमिकता दी, और पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ने नहीं दीं। पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़तीं तो हर चीज महंगी हो जाती। हमने महंगाई का बोझ कम करने के लिए हर छोटी से छोटी चीज पर फोकस किया। आज गरीब परिवारों को अच्छे से अच्छे अस्पताल में 5 लाख रुपये तक इलाज मुफ्त मिलता है। जन औषधि केंद्रों की वजह से दवाओं के खर्च में 70 से 80 प्रतिशत तक राहत मिली है। घुटनों की सर्जरी हो या हार्ट ऑपरेशन, सबका खर्च आधे से ज्यादा कम हो गया है। आज देश में लोन की दरें सबसे कम हैं। कार लेनी हो, घर लेना हो तो आसानी से और सस्ता लोन उपलब्ध है। पर्सनल लोन इतना आसान देश में कभी नहीं था। किसान को यूरिया और खाद की बोरी दुनिया के मुकाबले दस गुना कम कीमत पर मिल रही है। पिछले 10 वर्षों में रोजगार के अनेक नए अवसर बने हैं। लाखों युवाओं को सरकारी नौकरी मिली है। प्राइवेट सेक्टर में रोजगार के नए मौके बने हैं। EPFO के मुताबिक पिछले सात साल में 6 करोड़ नए सदस्य इसमें जुड़े हैं।

PLFS का डेटा बताता है कि 2017 में जो बेरोजगारी दर 6% थी, वो अब 3% रह गई है। हमारी माइक्रो फाइनैंस की नीतियां कितनी प्रभावी हैं, इस पर SKOCH ग्रुप की एक रिपोर्ट आई है। इस रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 10 साल में हर वर्ष 5 करोड़ पर्सन-ईयर रोजगार पैदा हुए हैं। युवाओं के पास अब स्पेस सेक्टर, ड्रोन सेक्टर, गेमिंग सेक्टर में भी आगे बढ़ने के अवसर हैं। देश में डिजिटल क्रांति से भी युवाओं के लिए अवसर बने हैं। आज भारत में डेटा इतना सस्ता है तभी देश की क्रिएटर इकनॉमी बड़ी हो रही है। आज देश में सवा लाख से ज्यादा स्टार्टअप्स हैं, इनसे बड़ी संख्या में रोजगार के अवसर बन रहे हैं। हमने अपनी सरकार के पहले 100 दिनों का एक्शन प्लान तैयार किया है, उसमें हमने अलग से युवाओं के लिए 25 दिन और जोड़े हैं। हम देशभर से आ रहे युवाओं के सुझाव पर गौर कर रहे हैं, और नतीजों के बाद उस पर तेजी से काम शुरू होगा।

प्रश्न: सोशल मीडिया में एआई और डीपफेक जैसे मसलों पर आपने चिंता जताई है। इस चुनाव में भी इसके दुरुपयोग की मिसाल दिखी हैं। मिसइनफरमेशन का ये टूल न बने, इसके लिए क्या किया जा सकता है? कई एक्टिविस्ट और विपक्ष का कहना रहा है कि इन चीजों पर सख्ती की आड़ में कहीं फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन पर पाबंदी तो नहीं लगेगी? इन सवालों पर कैसे आश्वस्त करेंगे?

उत्तर: तकनीक का इस्तेमाल जीवन में सुगमता लाने के लिए किया जाना चाहिए। आज एआई ने भारत के युवाओँ के लिए अवसरों के नए द्वार खोल दिए हैं। एआई, मशीन लर्निगं और इंटरनेट ऑफ थिंग्स अब हमारे रोज के जीवन की सच्चाई बनती जा रही है। लोगों को सहूलियत देने के लिए कंपनियां अब इन तकनीकों का उपयोग बढ़ा रही हैं। दूसरी तरफ इनके माध्यम से गलत सूचनाएं देने, अफवाह फैलाने और लोगों को भ्रमित करने की घटनाएं भी हो रही हैं। चुनाव में विपक्ष ने अपने झूठे नरैटिव को फैलाने के लिए यही करना शुरू किया था। हमने सख्ती करके इस तरह की कोशिश पर रोक लगाने का प्रयास किया। इस तरह की प्रैक्टिस किसी को भी फायदा नहीं पहुंचाएगी, उल्टे तकनीक का गलत इस्तेमाल उन्हें नुकसान ही पहुंचाएगा। अभिव्यक्ति की आजादी का फेक न्यूज और फेक नरैटिव से कोई लेना-देना नहीं है। मैंने एआई के एक्सपर्ट्स के सामने और अंतरराष्ट्रीय मंचों पर डीप फेक के गलत इस्तेमाल से जुड़े विषयों को गंभीरता से रखा है। डीप फेक को लेकर वर्ल्ड लेवल पर क्या हो सकता है, इस पर मंथन चल रहा है। भारत इस दिशा में गंभीरता से प्रयास कर रहा है। लोगों को जागरूक करने के लिए ही मैंने खुद सोशल मीडिया पर अपना एक डीफ फेक वीडियो शेयर किया था। लोगों के लिए ये जानना आवश्यक है कि ये तकनीक क्या कर सकती है।

प्रश्न:देश के लोगों की सेहत को लेकर आपकी चिंता हम सब जानते हैं। आपने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस शुरू किया, योगा प्रोटोकॉल बनवाया, आपने आयुष्मान योजना शुरू की है। तीसरे कार्यकाल में क्या इन चीज़ों पर भी काम करेंगे, जो हमारी सेहत खराब होने के मूल कारक हैं। जैसे लोगों को साफ हवा, पानी, मिट्टी मिले।

उत्तर: देश 2047 तक विकसित भारत का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ रहा है। इस सपने को शक्ति तभी मिलेगी, जब देश का हर नागरिक स्वस्थ हो। शारीरिक और मानसिक रूप से मजबूत हो। यही वजह है कि हम सेहत को लेकर एक होलिस्टिक अप्रोच अपना रहे हैं। एलोपैथ के साथ ही योग, आयुर्वेद, भारतीय परंपरागत पद्धतियां, होम्योपैथ के जरिए हम लोगों को स्वस्थ रखने की दिशा में काम कर रहे हैं। राजनीति में आने से पहले मैंने लंबा समय देश का भ्रमण करने में बिताया है। उस समय मैंने एक बात अनुभव की थी कि घर की महिला सदस्य अपने खराब स्वास्थ्य के बारे छिपाती है। वो खुद तकलीफ झेलती है, लेकिन नहीं चाहती कि परिवार के लोगों को परेशानी हो। उसे इस बात की भी फिक्र रहती है कि डॉक्टर, दवा में पैसे खर्च हो जाएंगे। जब 2014 में मुझे देश की सेवा करने का अवसर मिला तो सबसे पहले मैंने घर की महिला सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता की। मैंने माताओं-बहनों को धुएं से मुक्ति दिलाने का संकल्प लिया और 10 करोड़ से ज्यादा महिलाओं को मुफ्त गैस कनेक्शन दिए। मैंने बुजुर्गों की सेहत पर भी ध्यान दिया है। हमारी सरकार की तीसरी पारी में 70 साल से ऊपर के सभी बुजुर्गों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ मिलने लगेगा। यानी उनके इलाज का खर्च सरकार उठाएगी। साफ हवा, पानी, मिट्टी के लिए हम काम शुरू कर चुके हैं। सिंगल यूज प्लास्टिक पर हमारा अभियान चल रहा है। जल जीवन मिशन के तहत हम देश के लाखों गांवों तक साफ पानी पहुंचा रहे हैं। सॉयल हेल्थ कार्ड, आर्गेनिक खेती की दिशा में काम हो रहा है। हम मिशन लाइफ को प्राथमिकता दे रहे हैं और इस विचार को आगे बढ़ा रहे हैं कि हर व्यक्ति पर्यावरण के अनुकूल जीवन पद्धति को अपनाए।

प्रश्न: विदेश नीति आपके दोनों कार्यकाल में काफी अहम रही है। इस वक्त दुनिया काफी उतार चढ़ाव से गुजर रही है, चुनाव नतीजों के तुरंत बाद जी7 समिट है। आप नए हालात में भारत के रोल को किस तरह देखते हैं?

उत्तर: शायद ये पहला चुनाव है, जिसमें भारत की विदेश नीति की इतनी चर्चा हो रही है। वो इसलिए कि पिछले 10 साल में दुनियाभर में भारत की साख मजबूत हुई है। जब देश की साख बढ़ती है तो हर भारतीय को गर्व होता है। जी20 समिट में भारत ग्लोबल साउथ की मजबूत आवाज बना, अब जी7 में भारत की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होने वाली है। आज दुनिया का हर देश जानता है कि भारत में एक मजबूत सरकार है और सरकार के पीछे 140 करोड़ देशवासियों का समर्थन है। हमने अपनी विदेश नीति में भारत और भारत के लोगों के हित को सर्वोपरि रखा है। आज जब हम व्यापार समझौते की टेबल पर होते हैं, तो सामने वाले को ये महसूस होता है कि ये पहले वाला भारत नहीं है। आज हर डील में भारतीय लोगों के हित को प्राथमिकता दी जाती है। हमारे इस बदले रूप को देखकर दूसरे देशों को हैरानी हुई, लेकिन धीरे-धीरे उन्होंने इसे स्वीकार कर लिया। ये नया भारत है, आत्मविश्वास से भरा भारत है। आज भारत संकट में फंसे हर भारतीय की मदद के लिए तत्पर रहता है। पिछले 10 वर्षों में अनेक भारतीयों को संकट से बाहर निकालकर देश में ले आए। हम अपनी सांस्कृतिक धरोहरों को भी देश में वापस ला रहे हैं। युद्ध में आमने-सामने खड़े दोनों देशों को भारत ने बड़ी मजबूती से ये कहा है कि ये युद्ध का समय नहीं है, ये बातचीत से समाधान का समय है। आज दुनिया मानती है कि भारत का आगे बढ़ना पूरी दुनिया और मानवता के लिए अच्छा है।

प्रश्न: अमेरिका भी चुनाव से गुजर रहा है। आपके रिश्ते ट्रम्प और बाइडन दोनों के साथ बहुत अच्छे रहे हैं। आप कैसे देखते हैं अमेरिका के साथ भारतीय रिश्तों को इन संदर्भ में?

उत्तर: हमारी विदेश नीति का मूल मंत्र है इंडिया फर्स्ट। पिछले 10 वर्षों में हमने इसी को ध्यान में रखकर विभिन्न देशों और प्रभावशाली नेताओं से संबंध बनाए हैं। भारत-अमेरिका संबंधों की मजबूती का आधार 140 करोड़ भारतीय हैं। हमारे लोग हमारी ताकत हैं, और दुनिया हमारी इस शक्ति को बहुत महत्वपूर्ण मानती है। अमेरिका में राष्ट्रपति चाहे ट्रंप रहे हों या बाइडन, हमने उनके साथ मिलकर दोनों देशों के संबंध को और मजबूत बनाने का प्रयास किया है। भारत-अमेरिका के संबंधों पर चुनाव से कोई अंतर नहीं आएगा। वहां जो भी राष्ट्रपति बनेगा, उसके साथ मिलकर नई ऊर्जा के साथ काम करेंगे।

प्रश्न: BJP का पूरा प्रचार आप पर ही केंद्रित है, क्या इससे सांसदों के खुद के काम करने और लोगों के संपर्क में रहने जैसे कामों को तवज्जो कम हो गई है और नेता सिर्फ मोदी मैजिक से ही चुनाव जीतने के भरोसे हैं। आप इसे किस तरह काउंटर करते हैं?

उत्तर: बीजेपी एक टीम की तरह काम करती है। इस टीम का हर सदस्य चुनाव जीतने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहा है। चुनावी अभियान में जितना महत्वपूर्ण पीएम है, उतना ही महत्वपूर्ण कार्यकर्ता है। ये परिवारवादी पार्टियों का फैलाया गया प्रपंच है। उनकी पार्टी में एक परिवार या कोई एक व्यक्ति बहुत अहम होता है। हमारी पार्टी में हर नेता और कार्यकर्ता को एक दायित्व दिया जाता है।

मैं पूछता हूं, क्या हमारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रोज रैली नहीं कर रहे हैं। क्या हमारे मंत्री, मुख्यमंत्री, पार्टी पदाधिकारी रोड शो और रैलियां नहीं कर रहे। मैं पीएम के तौर पर जनता से कनेक्ट करने जरूर जाता हूं, लेकिन लोग एमपी उम्मीदवार के माध्यम से ही हमसे जुड़ते हैं। मैं लोगों के पास नैशनल विजन लेकर जा रहा हूं, उसे पूरा करने की गारंटी दे रहा हूं, तो हमारा एमपी उम्मीदवार स्थानीय आकांक्षाओं को पूरा करने का भरोसा दे रहा है। हमने उन्हीं उम्मीदवारों का चयन किया है, जो हमारे विजन को जनता के बीच पहुंचा सकें। विकसित भारत की सोच से लोगों को जोड़ने के लिए जितनी अहमियत मेरी है, उतनी ही जरूरत हमारे उम्मीदवारों की भी है। हमारी पूरी टीम मिलकर हर सीट पर कमल खिलाने में जुटी है।

प्रश्न: महिला आरक्षण पर आप ने विधेयक पास कराए। क्या नई सरकार में हम इन पर अमल होते हुए देखेंगे?

उत्तर: ये प्रश्न कांग्रेस के शासनकाल के अनुभव से निकला है, तब कानून बना दिए जाते थे लेकिन उसे नोटिफाई करने में वर्षों लग जाते थे। हमने अगले 5 वर्षों का जो रोडमैप तैयार किया है, उसमें नारी शक्ति वंदन अधिनियम की महत्वपूर्ण भूमिका है। हम देश की आधी आबादी को उसका अधिकार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इंडी गठबंधन की पार्टियों ने दशकों तक महिलाओं को इस अधिकार से वंचित रखा। सामाजिक न्याय की बात करने वालों ने इसे रोककर रखा था। देश की संसद और विधानसभा में महिलाओं की भागीदारी बढ़ने से महिला सशक्तिकरण का एक नया दौर शुरू होगा। इस परिवर्तन का असर बहुत प्रभावशाली होगा।

प्रश्न: महाराष्ट्र की सियासी हालत इस बार बहुत पेचीदा हो गई है। एनडीए क्या पिछली दो बार का रिकॉर्ड दोहरा पाएगा?

उत्तर: महाराष्ट्र समेत पूरे देश में इस बार बीजेपी और एनडीए को लेकर जबरदस्त उत्साह है। महाराष्ट्र में स्थिति पेचीदा नहीं, बल्कि बहुत सरल हो गई है। लोगों को परिवारवादी पार्टियों और देश के विकास के लिए समर्पित महायुति में से चुनाव करना है। बाला साहेब ठाकरे के विचारों को आगे बढ़ाने वाली शिवसेना हमारे साथ है। लोग देख रहे हैं कि नकली शिवसेना अपने मूल विचारों का त्याग करके कांग्रेस से हाथ मिला चुकी है। इसी तरह एनसीपी महाराष्ट्र और देश के विकास के लिए हमारे साथ जुड़ी है। अब जो महा ‘विनाश’ अघाड़ी की एनसीपी है, वो सिर्फ अपने परिवार को आगे बढ़ाने के लिए वोट मांग रही है। लोग ये भी देख रहे हैं कि इंडी गठबंधन अभी से अपनी हार मान चुका है। अब वो चुनाव के बाद अपना अस्तित्व बचाने के लिए कांग्रेस में विलय की बात कर रहे हैं। ऐसे लोगों को मतदान करना, अपने वोट को बर्बाद करना है। इस बार हम महाराष्ट्र में अपने पिछले रिकॉर्ड को तोड़ने वाले हैं।

प्रश्न: पश्चिम बंगाल में भी बीजेपी ने बहुत प्रयास किए हैं। पिछली बार बीजेपी 18 सीटें जीतने में कामयाब रही थी। बाकी राज्यों की तुलना में यह आपके लिए कितना कठिन राज्य है और इस बार आपको क्या उम्मीद है?

उत्तर: TMC हो, कांग्रेस हो, लेफ्ट हो, इन सबने बंगाल में एक जैसे ही पाप किए हैं। बंगाल में लोग समझ चुके हैं कि इन पार्टियों के पास सिर्फ नारे हैं, विकास का विजन नहीं हैं। कभी दूसरे राज्यों से लोग रोजगार के लिए बंगाल आते थे, आज पूरे बंगाल से लोग पलायन करने को मजबूर हैं। जनता ये भी देख रही है कि बंगाल में जो पार्टियां एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ रही हैं, दिल्ली में वही एक साथ नजर आ रही हैं। मतदाताओं के साथ इससे बड़ा छल कुछ और नहीं हो सकता। यही वजह है कि इंडी गठबंधन लोगों का भरोसा नहीं जीत पा रहा। बंगाल के लोग लंबे समय से भ्रष्टाचार, हिंसा, अराजकता, माफिया और तुष्टिकरण को बर्दाश्त कर रहे हैं। टीएमसी की पहचान घोटाले वाली सरकार की बन गई है। टीएमसी के नेताओं ने अपनी तिजोरी भरने के लिए युवाओं के सपनों को कुचला है। यहां स्थिति ये है कि सरकारी नौकरी पाने के बाद भी युवाओं को भरोसा नहीं है कि उनकी नौकरी रहेगी या जाएगी। लोग बंगाल की मौजूदा सरकार से पूरी तरह हताश हैं।अब उनके सामने बीजेपी का विकास मॉडल है। मैं बंगाल में जहां भी गया, वहां लोगों में बीजेपी के प्रति अभूतपूर्व विश्वास नजर आया। विशेष रुप से बंगाल में मैंने देखा कि माताओं-बहनों का बहुत स्नेह मुझे मिल रहा है। मैं उनसे जब भी मिलता हूं, वो खुद तो इमोशनल हो ही जाती हैं, मैं भी अपने भावनाओं को रोक नहीं पाता हूं। इस बार बंगाल में हम पहले से ज्यादा सीटों पर जीत हासिल करेंगे।

प्रश्न: शराब मामले को लेकर अरविंद केजरीवाल को जेल जाना पड़ा है। उनका कहना है कि ईडी ने जबरदस्ती उन्हें इस मामले में घसीटा है जबकि अब तक उनके पास से कोई पैसा बरामद नहीं हुआ?

उत्तर: आपने कभी किसी ऐसे व्यक्ति को सुना है जो आरोपी हो और ये कह रहा हो कि उसने घोटाला किया था। या कह रहा हो कि पुलिस ने उसे सही गिरफ्तार किया है। अगर एजेंसियों ने उन्हें गलत पकड़ा था, तो कोर्ट से उन्हें राहत क्यों नहीं मिली। ईडी और एजेसिंयो पर आरोप लगाने वाला विपक्ष आज तक एक मामले में ये साबित नहीं कर पाया है कि उनके खिलाफ गलत आरोप लगा है। वो कुछ दिन के लिए जमानत पर बाहर आए हैं, लेकिन बाहर आकर वो और एक्सपोज हो गए। वो और उनके लोग गलतियां कर रहे हैं और आरोप बीजेपी पर लगा रहे हैं। लेकिन जनता उनका सच जानती है। उनकी बातों की अब कोई विश्वसनीयता नहीं रह गई है।

प्रश्न: इस बार दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। इससे क्या लगातार दो बार से सातों सीटें जीतने के क्रम में बीजेपी को कुछ दिक्कत हो सकती है? इस बार आपने छह उम्मीदवार बदल दिए

उत्तर: इंडी गठबंधन की पार्टियां दिल्ली में हारी हुई लड़ाई लड़ रहे हैं। उनके सामने अपना अस्तित्व बचाने का संकट है। चुनाव के बाद वैसे भी इंडी गठबंधन नाम की कोई चीज बचेगी नहीं। दिल्ली की जनता ने बहुत पहले कांग्रेस को बाहर कर दिया था, अब दूसरे दलों के साथ मिलकर वो अपनी मौजूदगी दिखाना चाहते हैं। क्या कभी किसी ने सोचा था कि देश पर इतने लंबे समय तक शासन करने वाली कांग्रेस के ये दिन भी आएंगे कि उनके परिवार के नेता अपनी पार्टी के नहीं, बल्कि किसी और उम्मीदवार के लिए वोट डालेंगे।

दिल्ली में इंडी गठबंधन की जो पार्टियां हैं, उनकी पहचान दो चीजों से होती है। एक तो भ्रष्टाचार और दूसरा बेशर्मी के साथ झूठ बोलना। मीडिया के माध्यम से ये जनता की भावनाओं को बरगलाना चाहते हैं। झूठे वादे देकर ये लोगों को गुमराह करना चाहते हैं। ये जनता के नीर-क्षीर विवेक का अपमान है। जनता आज बहुत समझदार है, वो फैसला करेगी। बीजेपी ने लोगों के हित को ध्यान में रखते हुए अपने उम्मीदवार उतारे हैं। बीजेपी में कोई लोकसभा सीट नेता की जागीर नहीं समझी जाती। जो जनहित में उचित होता है, पार्टी उसी के अनुरूप फैसला लेती है। हमारे लिए राजनीति सेवा का माध्यम है। यही वजह है कि हमारे कार्यकर्ता इस बात से निराश नहीं होते कि टिकट कट गया, बल्कि वो पूरे मनोयोग से जनता की सेवा में जुट जाते हैं।

प्रश्न: विपक्ष का कहना है कि लोकतंत्र खतरे में है और अगर बीजेपी जीतती है तो लोकतंत्र औपचारिक रह जाएगा। आप उनके इन आरोपों को कैसे देखते हैं?

उत्तर: कांग्रेस और उसका इकोसिस्टम झूठ और अफवाह के सहारे चुनाव लड़ने निकला है। पुराने दौर में उनका यह पैंतरा कभी-कभी काम कर जाता था, लेकिन आज सोशल मीडिया के जमाने में उनके हर झूठ का मिनटों में पर्दाफाश हो जाता है।

उन्होंने राफेल पर झूठ बोला, पकड़े गए। एचएएल पर झूठ बोला, पकड़े गए। जनता अब इनकी बातों को गंभीरता से नहीं लेती है। देश जानता है कि कौन संविधान बदलना चाहता है। आपातकाल के जरिए देश के लोकतंत्र को खत्म करने की साजिश किसने की थी। कांग्रेस के कार्यकाल में सबसे ज्यादा बार संविधान की मूल प्रति को बदल दिया। कांग्रेस पहले संविधान संसोधन का प्रस्ताव अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा लगाने के लिए लाई थी। 60 वर्षों में उन्होंने बार-बार संविधान की मूल भावना पर चोट की और एक के बाद एक कई राज्य सरकारों को बर्खास्त किया। सबसे ज्यादा बार राष्ट्रपति शासन लगाने का रेकॉर्ड कांग्रेस के नाम है। उनकी जो असल मंशा है, उसके रास्ते में संविधान सबसे बड़ी दीवार है। इसलिए इस दीवार को तोड़ने की कोशिश करते रहते हैं। आप देखिए कि संविधान निर्माताओं ने धर्म के आधार पर आरक्षण का विरोध किया था। लेकिन कांग्रेस अपने वोटबैंक को खुश करने के लिए बार-बार यही करने की कोशिश करती है। अपनी कोई कोशिशों में नाकाम रहने के बाद आखिरकार उन्होंने कर्नाटक में ओबीसी आरक्षण में सेंध लगा ही दी।

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के नेता लोकतंत्र की दुहाई देते हैं, लेकिन वास्तविकता ये है कि लोकतंत्र को कुचलने के लिए, जनता की आवाज दबाने के लिए ये पूरी ताकत लगा देते हैं। ये लोग उनके खिलाफ बोलने वालों के पीछे पूरी मशीनरी झोंक देते हैं। इनके एक राज्य की पुलिस दूसरे राज्य में जाकर कार्रवाई कर रही है। इस काम में ये लोग खुलकर एक-दूसरे का साथ दे रहे हैं। जनता ये सब देख रही है, और समझ रही है कि अगर इन लोगों के हाथ में ताकत आ गई तो ये देश का, क्या हाल करेंगे।

प्रश्न: आप एकदम चुस्त-दुरुस्त और फिट दिखते हैं, आपकी सेहत का राज, सुबह से रात तक का रूटीन?

उत्तर: मैं यह मानता हूं कि मुझ पर किसी दैवीय शक्ति की बहुत बड़ी कृपा है, जिसने लोक कल्याण के लिए मुझे माध्यम बनाया है। इतने वर्षों में मेरा यह विश्वास प्रबल हुआ है कि ईश्वर ने मुझे विशेष दायित्व पूरा करने के लिए चुना है। उसे पूरा करने के लिए वही मुझे सामर्थ्य भी दे रहा है। लोगों की सेवा करने की भावना से ही मुझे ऊर्जा मिलती है।

प्रश्न: प्रधानमंत्री जी, आप काशी के सांसद हैं। बीते 10 साल में आप ने काशी को खूब प्रमोट किया है। आज काशी देश में सबसे प्रेफर्ड टूरिज्म डेस्टिनेशमन बन रही है। इसके अलावा आप ने जो इंफ्रास्ट्रक्चर के काम किए हैं, उससे भी बनारस में बहुत बदलाव आया है। इससे बनारस और पूर्वांचल की इकोनॉमी और रोजगार पर जो असर हुआ है, उसे आप कैसे देखते हैं?

उत्तर: काशी एक अद्भूत नगरी है। एक तरफ तो ये दुनिया का सबसे प्राचीन शहर है। इसकी अपनी पौराणिक मान्यता है। दूसरी तरफ ये पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार की आर्थिक धुरी भी है। 10 साल में हमने काशी में धार्मिक पर्यटन का खूब विकास किया। शहर की गलियां, साफ-सफाई, बाजारों में सुविधाएं, ट्रेन और बस के इंतजाम पर फोकस किया। गंगा में सीएनजी बोट चली, शहर में ई-बस और ई-रिक्शा चले। यात्रियों के लिए हमने स्टेशन से लेकर शहर के अलग-अलग स्थानों पर तमाम सुविधाएं बढ़ाई।

इन सब के बाद जब हम बनारस को प्रमोट करने उतरे, तो देशभर के श्रद्धालुओं में नई काशी को देखने का भाव उमड़ आया। यह यहां सालभर पहले से कई गुना ज्यादा पर्यटक आते हैं। इससे पूरे शहर में रोजगार के नए अवसर तैयार हुए।

हमने बनारस में इंडस्ट्री लानी शुरू की है। TCS का नया कैंपस बना है, बनास डेयरी बनी है, ट्रेड फैसिलिटी सेंटर बना है, काशी के बुनकरों को नई मशीनें दी जा रही है, युवाओं को मुद्रा लोन मिले हैं। इससे सिर्फ बनारस ही नहीं, आसपास के कई जिलों की अर्थव्यवस्था को नई गति मिली।

प्रश्न: आपने कहा कि वाराणसी उत्तर प्रदेश की राजनीतिक धुरी जैसा शहर है। बीते 10 वर्षों में पू्र्वांचल में जो विकास हुआ है, उसको कैसे देखते हैं?

उत्तर: देखिए, पूर्वांचल अपार संभावनाओं का क्षेत्र है। पिछले 10 वर्षों में हमने केंद्र की तमाम योजनाओं में इस क्षेत्र को बहुत वरीयता दी है। एक समय था, जब पूर्वांचल विकास में बहुत पिछड़ा था। वाराणसी में ही कई घंटे बिजली कटौती होती थी। पूर्वांचल के गांव-गांव में लालटेन के सहारे लोग गर्मियों के दिन काटते थे। आज बिजली की व्यवस्था में बहुत सुधार हुआ है, और इस भीषण गर्मी में भी कटौती का संकट करीब-करीब खत्म हो चला है। ऐसे ही पूरे पूर्वांचल में सड़कों की हालत बहुत खराब थी। आज यहां के लोगों को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की सुविधा मिली है। गाजीपुर, आजमगढ़, मऊ, बलिया, चंदौली जैसे टियर थ्री कहे जाने वाले शहरों में हजारों की सड़कें बनी हैं।

आजमगढ़ में अभी कुछ दिन पहले मैंने एयरपोर्ट की शुरुआत की है। महाराजा सुहेलदेव के नाम पर यूनिवर्सिटी बनाई गई है। पूरे पूर्वांचल में नए मेडिकल कॉलेज बन रहे हैं। बनारस में इनलैंड वाटर-वे का पोर्ट बना है। काशी से ही देश की पहली वंदे भारत ट्रेन चली थी। देश का पहला रोप-वे ट्रांसपोर्ट सिस्टम बन रहा है।

कांग्रेस की सरकार में पूर्वांचल के लोग ऐसी सुविधाएं मिलने के बारे में सोचते तक नहीं थे। क्योंकि लोगों को बिजली-पानी-सड़क जैसी मूलभूत सुविआधाओं में ही उलझाकर रखा गया था। यह स्थिति तब थी जब इनके सीएम तक पूर्वांचल से चुने जाते थे। तब पूर्वांचल में सिर्फ नेताओं के हेलिकॉप्टर उतरते थे, आज जमीन पर विकास उतर आया है।

प्रश्न: आप कहते हैं कि बनारस ने आपको बनारसी बना दिया है। मां गंगा ने आपको बुलाया था, अब आपको अपना लिया है। आप काशी के सांसद हैं, यहां के लोगों से क्या कहेंगे?

उत्तर: मैं एक बात मानता हूं कि काशी में सबकुछ बाबा की कृपा से होता है। मां गंगा के आशीर्वाद से ही यहां हर काम फलीभूत होते हैं! 10 साल पहले मैंने जब ये कहा था कि मां गंगा ने मुझे बुलाया है, तो वो बात भी मैंने इसी भावना से कही थी। जिस नगरी में लोग एक बार आने को तरसते हैं, वहां मुझे दो बार सांसद के रूप में सेवा करने का अवसर मिला। जब पार्टी ने तीसरी बार मुझे काशी की उम्मीदवारी करने को कहा, तभी मेरे मन में यह भाव आया कि मां गंगा ने मुझे गोद ले लिया है। काशी ने मुझे अपार प्रेम दिया है। उनका यह स्नेह और विश्वास मुझ पर एक कर्ज है। मैं जीवनभर काशी की सेवा करके भी इस कर्ज को नहीं उतार पाऊंगा।

Following is the clipping of the interview:

 

 

Source: Navbharat Times