Share
 
Comments

My Dear Brothers and Sisters of Guwahati who have gathered here in large numbers

Today is an important event in the history of railways. One more of the Indian states are going to be connected through rail network. Today, a new route from Mendipathar in Meghalaya to Guwahati in Assam gets connected by rail. Also there is yet another occasion for the railways as the foundation for a new rail route from Bhairabi to Sairang in Mizoram will be laid. So both these projects where one rail route is being opened up and foundation for another is being laid presents a unique occasion. 

There are those of us who believe in Vaastu though I must confess that I do not know much about it. But if I were to believe what the experts say then the North East corner of the house should be well kept. It should be clean and its sanctity should be maintained at all times. If this is done the house will forever prosper. Well, I cannot verify these claims but what I do know is that if we are able to take care of the North East India, the ‘Ishan’ corner of our homeland , then the entire India will prosper. 

So if we want India to prosper, the progress of the North East will need to be fast tracked. The first step in this direction will be the development of infrastructure. Those who are futuristic and have a great vision always start with the development of infrastructure. Once infrastructure is developed then the people themselves take development forward. 

Many of you must have heard about South Korea. It is a small country with a population of about 5-6 crores. It is along the sea coast. It was a very poor country. We talk about the poverty in India but think of a country poorer than India. But the rulers there thought of building a highway at par with international standards right in the middle of the country. This became a hugely controversial decision. People were angry that they had no food, the children had no access to education, they had no homes to live yet their ruler was thinking of spending hundreds of crores of on construction of a road. But their ruler was a man of grit and determination. He went ahead with his plans and built the road despite the criticism. And that one road changed the face of the entire nation. 

A few years back we too hosted the Commonwealth Games. We are a large country but what did we do? Whatever happened in Delhi, the negative publicity and the disgrace that followed is known to one and all. That same small country of South Korea was able to hold Olympics in their country about 12-15 years back and host a worldwide audience. That nation prospered and poverty was eradicated. And how did they achieve that, by just one road – that opened the doors of prosperity for them. 

The American President Kennedy said, it is not wealth that creates roads but it is the roads that lead to the creation of wealth. In the plans for development, infrastructure occupies a significant place. If the North East has to develop and play an important role in the development of India, then infrastructure development should be a priority. It is my firm belief that these 8 North Eastern states, our Ashta Lakshmi, (eight goddesses of wealth) have the potential of bringing in prosperity for the entire nation. If these eight states are connected to the Nation’s infrastructure which includes roads, rail and all other types of connectivity, if we are successful in doing so which I am sure we will then there will be no looking back. There is a new higher middle class which takes family vacations once or twice each year. They are always scouting for new destinations. With better connectivity North East will become the heaven which every tourist desires. The beautiful landscapes, the dense jungles and above all the warmth of the people here will make it the most sought after destination and I am sure that people from all over India will be thronging the place. 

And with this thought of developing the North East, our new government that has been recently formed, in its first budget itself allocated a sum of Rs. 28,000 crores for the development of rail network in the region. I have a firm belief that once this network is laid my people will themselves take this region to new unprecedented heights of progress and development. In the changing world scenario, it is believed that this century belongs to Asia. And if this is a century of Asia then have we made any preparations? There is an emphasis on Look East policy. We believe that if this century belongs to Asia then we are definitely going to make the most of it. And how do we intend to achieve it? Not just by following Look East but by following Look East Act East policy. And we are now moving form just Look East to Act East policy. It is our effort that North East gets connected by road and rail to Myanmar and other East Asian countries. If this is achieved, this region will become the centre of trade and commerce. This region will hold the potential for redefining progress. And then, the youth of North East will not have to leave their homeland endowed with natural wealth and go elsewhere to big cities in search of livelihood. 

Times are changing and so we have to move forward with new concept of infrastructural development. The infrastructure too needs to be with ethos of next generation. In the past building rail, road, ports and airports was perceived by the people a lot was done. But now the world is changing. Now highways are required as are i-ways. Information ways, i-ways. There is no place for a digital divide. North East should be an integral part of the Digital India dream. It should have both i-ways network and connectivity. The facilities should be such that whatever one is able to achieve sitting in Delhi same should be available to a person living in the difficult terrains of the North East. 

The world is changing. Why shouldn’t there be gas grid? Why shouldn’t there be access to 24 hours of fresh water supply? Why shouldn’t there be electricity supply round the clock? Why shouldn’t there be an optical fibre network? We have to develop infrastructure keeping the new and changing times in mind. This concept of next generation infrastructure development for a Modern India should be conducted at a fast pace and should be actualized as soon as possible. The children of North East are educated in English. If there is proper optical fibre coverage and smooth connectivity then the youth of North East can do the same job work from home in their own village as is being done in Hyderabad and Bangalore. They do not need to go to Delhi and Bombay for call centre jobs. This can happen in North East itself. This world here can change hence I am taking a special interest in the development of the North East. 

A few days back I had visited Myanmar. I had discussions with the heads of state regarding improved connectivity, improved trade and greater utilization of the local human resource. Dear brothers and sisters, this rail connectivity is not only about passengers commuting from one place to another. It is a medium that connects us, gives us pace and speed and also provides us strength. The Indian railways have the potential to become the backbone of all economic activities. But instead of considering it as the energetic force of economic development we have made it completely insignificant. Nobody from the parliament or the nation ever pays attention to the discussions of the railway budget. 

The moment Railway Minister starts speaking, the statements that are greeted with applause are the ones related to increase in number of coaches or extension of some route or upgradation of some station. 

We have divided railways in such small parts. We should not be satisfied if a coach is added and applaud it or feel happy if a new route is opened. We will not be satisfied with these petty gains. We have to both expand railways and also modernize it. We are aiming at both horizontal and vertical expansion of the railways. By horizontal expansion I mean expanding its reach to every nook and corner of the country. By vertical expansion I mean the upgradation of services which involves technology upgradation, speed enhancement to save time and enhancement of facilities. It will be our endeavour to see that railways truly become an engine facilitating the economic growth of the nation in true sense. 

I have complete faith that under the dynamic leadership of our new Rail Minister, Mr. Suresh Prabhu railway will witness many fold progress in comparison to the progress made in the past 100 years. For the first time in the country’s history we have made a decision that of 100 % foreign direct investment. We are looking at 100% foreign investment in the railways. People will come, invest money, create moderns trains, create modern rail lines, modern signaling system will be implemented , modern ticketing system will be put in place – the entire railway system will be modernised. 

In a country of 125 million everyone has been a passenger some or the other time. Some people travel once a year and some people travel many times in the same day but the underlying fact is that everyone travels. So you can imagine the large commercial market that exists. We can also strive towards making eco friendly and environment friendly railways. Thus we can play an important role in the fight against global warming arising out of mass transportation. 

There are many facets which we want to involve in the creation of new systems using the railways. The entire functioning of the railways involves expertise, dedicated technology and continuous technology upgradation and for this human resources are required. Currently the railways advertise for vacancies and the people apply for jobs. Those who qualify for the interviews are subsequently trained for the services. We have thought of a new version which I am sure the new generation will definitely like. I have suggested establishing Railway University in four corners of the country. It will have all the courses and also courses dedicated to the functioning of railways. Thus on passing out, the youth will immediately find an employment opportunity with the railways. 

Human resource development along with technology upgradation, improvement in speed and management, improvement in facilities and delivery of services - this is our agenda. Our railway stations which exist right in the heart of big cities extend for miles. Land today is a major premium. But our railway stations continue to be the same as they were a hundred years back. Same chairs and benches to sit, same services to the passengers. But can’t this all be changed? We have asked for the railway stations to be privatised. The trains keep running below and above them five star , seven star hotels, motels or malls can be erected. The sky above the train is open so utilize it for income generation and enhance the services delivered at the railway stations- this is what I have explained to them. 

Railways have taken a call for the modernisation of some railway platforms. I hold the view that railway platform should be better than the airports. Because railway platform is used by the poorest of poor, the common man as well as a labourer hence the services at the railway platform have to change. You will see that within no time I will create 10 -12 model stations. Once this is attained, then the entire country will follow and our work will gain momentum. 

Brothers and sisters, we have to bring about a dramatic change in the railways. Our endeavour should be to be the best in the world and for that whatever new technology is required we will bring it in. 

By connecting the North East, this Ashta Lakshmi of India by rail we intend to make this region the most prosperous in India. We are working in that direction. I congratulate the railway officials and give them my best wishes. I congratulate the Rail ministry and the new Rail minister who will take this forward at a great speed. I congratulate the people of Meghalaya and Mizoram. I thank the governor and Chief Minister from all my heart. Let us all work to take our nation to new heights and our idea of progress should entail development for all, no region should be left behind. Let us move forward with the notion that development touches one and all, is inclusive and all encompassing, is fulfilling for everyone and extends everywhere. In taking this development forward, I thank everybody for their contribution. I express my gratitude to Shri Tarun ji. 

Thank You. 

(The original speech was in Hindi, this is the English rendering. Original speech remains the authoritative version) 

Explore More
Today's India is an aspirational society: PM Modi on Independence Day

Popular Speeches

Today's India is an aspirational society: PM Modi on Independence Day
PM Modi praises Chhattisgarh's Millet Cafe in Mann Ki Baat... Know why!

Media Coverage

PM Modi praises Chhattisgarh's Millet Cafe in Mann Ki Baat... Know why!
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of PM's speech at NCC Rally at the Cariappa Parade Ground in Delhi
January 28, 2023
Share
 
Comments
“You represent ‘Amrit Generation’ that will create a Viksit and Aatmnirbhar Bharat”
“When dreams turn into resolution and a life is dedicated to it, success is assured. This is the time of new opportunities for the youth of India”
“India’s time has arrived”
“Yuva Shakti is the driving force of India's development journey”
“When the country is brimming with the energy and enthusiasm of the youth, the priorities of that country will always be its young people”
“This a time of great possibilities especially for the daughters of the country in the defence forces and agencies”

केंद्रीय मंत्रिमंडल के मेरे सहयोगी श्रीमान राजनाथ सिंह जी, श्री अजय भट्ट जी, सीडीएस अनिल चौहान जी, तीनों सेनाओं के प्रमुख, रक्षा सचिव, डीजी एनसीसी और आज विशाल संख्या में पधारे हुए सभी अतिथिगण और मेरे प्यारे युवा साथियों!

आजादी के 75 वर्ष के इस पड़ाव में एनसीसी भी अपनी 75वीं वर्षगांठ मना रहा है। इन वर्षों में जिन लोगों ने एनसीसी का प्रतिनिधित्व किया है, जो इसका हिस्सा रहे हैं, मैं राष्ट्र निर्माण में उनके योगदान की सराहना करता हूं। आज इस समय मेरे सामने जो कैडेट्स हैं, जो इस समय NCC में हैं, वो तो और भी विशेष हैं, स्पेशल हैं। आज जिस प्रकार से कार्यक्रम की रचना हुई है, सिर्फ समय नहीं बदला है, स्वरूप भी बदला है। पहले की तुलना में दर्शक भी बहुत बड़ी मात्रा में हैं। और कार्यक्रम की रचना भी विविधताओं से भरी हुई लेकिन ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ के मूल मंत्र को गूंजता हुआ हिन्दुस्तान के कोने-कोने में ले जाने वाला ये समारोह हमेशा-हमेशा याद रहेगा। और इसलिए मैं एनसीसी की पूरी टीम को उनके सभी अधिकारी और व्यवस्थापक सबको हृदय से बहुत-बहुत बधाई देता हूं। आप एनसीसी कैडेट्स के रूप में भी और देश की युवा पीढ़ी के रूप में भी, एक अमृत पीढ़ी का प्रतिनिधित्व करते हैं। ये अमृत पीढ़ी, आने वाले 25 वर्षों में देश को एक नई ऊंचाई पर ले जाएगी, भारत को आत्मनिर्भर बनाएगी, विकसित बनाएगी।

साथियों,

देश के विकास में NCC की क्या भूमिका है, आप सभी कितना प्रशंसनीय काम कर रहे हैं, ये हमने थोड़ी देर पहले यहां देखा है। आप में से एक साथी ने मुझे यूनिटी फ्लेम सौंपी। आपने हर दिन 50 किलोमीटर की दौड़ लगाते हुए, 60 दिनों में कन्याकुमारी से दिल्ली की ये यात्रा पूरी की है। एकता की इस लौ से ‘एक भारत, श्रेष्ठ भारत’ की भावना सशक्त हो, इसके लिए बहुत से साथी इस दौड़ में शामिल हुए। आपने वाकई बहुत प्रशंसनीय काम किया है, प्रेरक काम किया है। यहां आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया। भारत की सांस्कृतिक विविधता, आपके कौशल और कर्मठता के इस प्रदर्शन में और इसके लिए भी मैं आपको जितनी बधाई दूं, उतनी कम है।

साथियों,

आपने गणतंत्र दिवस की परेड में भी हिस्सा लिया। इस बार ये परेड इसलिए भी विशेष थी, क्योंकि पहली बार ये कर्तव्य पथ पर हुई थी। और दिल्ली का मौसम तो आजकल ज़रा ज्यादा ही ठंडा रहता है। आप में से अनेक साथियों को शायद इस मौसम की आदत भी नहीं होगी। फिर भी मैं आपको दिल्ली में कुछ जगह ज़रूर घूमने का आग्रह करुंगा, समय निकालेंगे ना। देखिए नेशनल वॉर मेमोरियल, पुलिस मेमोरियल अगर आप नहीं गए हैं, तो आपको जरूर जाना चाहिए। इसी प्रकार लाल किले में नेताजी सुभाष चंद्र बोस म्यूजियम में भी आप अवश्य जाएं। आज़ाद भारत के सभी प्रधानमंत्रियों से परिचय कराता एक आधुनिक PM-म्यूजियम भी बना है। वहां आप बीते 75 वर्षों में देश की विकास यात्रा के बारे में जान-समझ सकते हैं। आपको यहां सरदार वल्लभभाई पटेल का बढ़िया म्यूजियम देखने को मिलेगा, बाबा साहब अंबेडकर का बहुत बढ़िया म्यूजियम देखने को मिलेगा, बहुत कुछ है। हो सकता है, इन जगहों में से आपको कोई ना कोई प्रेरणा मिले, प्रोत्साहन मिले, जिससे आपका जीवन एक निर्धारत लक्ष्य को लेकर के कुछ कर गुजरने के लिए चल पड़े, आगे बढ़ता ही बढ़ता चला जाए।

मेरे युवा साथियों,

किसी भी राष्ट्र को चलाने के लिए जो ऊर्जा सबसे अहम होती है, वो ऊर्जा है युवा। अभी आप उम्र के जिस पड़ाव पर है, वहां एक जोश होता है, जुनून होता है। आपके बहुत सारे सपने होते हैं। और जब सपने संकल्प बन जाएं और संकल्प के लिए जीवन जुट जाए तो जिंदगी भी सफल हो जाती है। और भारत के युवाओं के लिए ये समय नए अवसरों का समय है। हर तरफ एक ही चर्चा है कि भारत का समय आ गया है, India’s time has arrived. आज पूरी दुनिया भारत की तरफ देख रही है। और इसके पीछे सबसे बड़ी वजह आप हैं, भारत के युवा हैं। भारत का युवा आज कितना जागरूक है, इसका एक उदाहरण मैं आज जरूर आपको बताना चाहता हूं। ये आपको पता है कि इस वर्ष भारत दुनिया की 20 सबसे ताकतवर अर्थव्यवस्थाओं के समूह, G-20 की अध्यक्षता कर रहा है। मैं तब हैरान रह गया, जब देशभर के अनेक युवाओं ने मुझे इसको लेकर के चिट्ठियां लिखीं। देश की उपलब्धियों और प्राथमिकताओं को लेकर आप जैसे युवा जिस प्रकार से रुचि ले रहे हैं, ये देखकर सचमुच में बहुत गर्व होता है।

साथियों,

जिस देश के युवा इतने उत्साह और जोश से भरे हुए हों, उस देश की प्राथमिकता सदैव युवा ही होंगे। आज का भारत भी अपने सभी युवा साथियों के लिए वो प्लेटफॉर्म देने का प्रयास कर रहा है, जो आपके सपनों को पूरा करने में मदद कर सके। आज भारत में युवाओं के लिए नए-नए सेक्टर्स खोले जा रहे हैं। भारत की डिजिटल क्रांति हो, भारत की स्टार्ट-अप क्रांति हो, इनोवेशन क्रांति हो, इन सबका सबसे बड़ा लाभ युवाओं को ही तो हो रहा है। आज भारत जिस तरह अपने डिफेंस सेक्टर में लगातार रिफॉर्म्स कर रहा है, उसका लाभ भी देश के युवाओं को हो रहा है। एक समय था, जब हम असॉल्ट राइफल और बुलेट प्रूफ जैकेट तक विदेशों से मंगवाते थे। आज सेना की ज़रूरत के सैकड़ों ऐसे सामान हैं, जो हम भारत में बना रहे हैं। आज हम अपने बॉर्डर इंफ्रास्ट्रक्चर पर भी बहुत तेज़ी से काम कर काम रहे हैं। ये सारे अभियान, भारत के युवाओं के लिए नई संभावनाएं लेकर के आए हैं, अवसर लेकर के आए हैं।

साथियों,

जब हम युवाओं पर भरोसा करते हैं, तब क्या परिणाम आता है, इसका एक उत्तम उदाहरण हमारा स्पेस सेक्टर है। देश ने स्पेस सेक्टर के द्वार युवा टैलेंट के लिए खोल दिए। और देखते ही देखते पहला प्राइवेट सैटेलाइट लॉन्च किया गया। इसी प्रकार एनीमेशन और गेमिंग सेक्टर, प्रतिभाशाली युवाओं के लिए अवसरों का विस्तार लेकर आया है। आपने ड्रोन का उपयोग या तो खुद किया होगा, या फिर किसी दूसरे को करते हुए देखा होगा। अब तो ड्रोन का ये दायरा भी लगातार बढ़ रहा है। एंटरटेनमेंट हो, लॉजिस्टिक हो, खेती-बाड़ी हो, हर जगह ड्रोन टेक्नॉलॉजी आ रही है। आज देश के युवा हर प्रकार का ड्रोन भारत में तैयार करने के लिए आगे आ रहे हैं।

साथियों,

मुझे एहसास है कि आप में से अधिकतर युवा हमारी सेनाओं से, हमारे सुरक्षा बलों से, एजेंसियों से जुड़ने की आकांक्षा रखते हैं। ये निश्चित रूप से आपके लिए, विशेष रूप से हमारी बेटियों के लिए भी बहुत बड़े अवसर का समय है। बीते 8 वर्षों में पुलिस और अर्धसैनिक बलों में बेटियों की संख्या में लगभग दोगुनी वृद्धि हुई है। आज आप देखिए, सेना के तीनों अंगों में अग्रिम मोर्चों पर महिलाओं की तैनाती का रास्ता खुल चुका है। आज महिलाएं भारतीय नौसेना में पहली बार अग्निवीर के रूप में, नाविक के रूप में शामिल हुई हैं। महिलाओं ने सशस्त्र बलों में लड़ाकू भूमिकाओं में भी प्रवेश करना शुरू किया है। NDA पुणे में महिला कैडेट्स के पहले बैच की ट्रेनिंग शुरु हो चुकी है। हमारी सरकार द्वारा सैनिक स्कूलों में बेटियों के एडमिशन की अनुमति भी दी गई है। आज मुझे खुशी है कि लगभग 1500 छात्राएं सैनिक स्कूलों में पढ़ाई शुरु कर चुकी हैं। यहां तक की एनसीसी में भी हम बदलाव देख रहे हैं। बीते एक दशक के दौरान एनसीसी में बेटियों की भागीदारी भी लगातार बढ़ रही है। मैं देख रहा था कि यहां जो परेड हुई, उसका नेतृत्व भी एक बेटी ने किया। सीमावर्ती और तटीय क्षेत्रों में एनसीसी के विस्तार के अभियान से भी बड़ी संख्या में युवा जुड़ रहे हैं। अभी तक सीमावर्ती और तटवर्ती क्षेत्रों से लगभग एक लाख कैडेट्स को नामांकित किया गया है। इतनी बड़ी युवाशक्ति जब राष्ट्र निर्माण में जुटेगी, देश के विकास में जुटेगी, तो साथियों बहुत विश्वास से कहता हूं कोई भी लक्ष्य असंभव नहीं रह जाएगा। मुझे विश्वास है कि एक संगठन के तौर पर भी और व्यक्तिगत रूप से भी आप सभी देश के संकल्पों की सिद्धि में अपनी भूमिका का विस्तार करेंगे। मां भारती के लिए आजादी के जंग में अनेक लोगों ने देश के लिए मरने का रास्ता चुना था। लेकिन आजाद भारत में पल-पल देश के लिए जीने का रास्ता ही देश को दुनिया में नई ऊंचाइयों पर पहुंचाता है। और इस संकल्प की पूर्ति के लिए ‘एक भारत श्रेष्ठ भारत’ के आदर्शों को लेकर के देश को तोड़ने के कई बहाने ढूंढे जाते हैं। भांति-भांति की बातें निकालकर के मां भारती की संतानों के बीच में दूध में दरार करने की कोशिशें हो रही हैं। लाख कोशिशें हो जाएं, मां के दूध में कभी दरार नहीं हो सकती। और इसके लिए एकता का मंत्र ये बहुत बड़ी औषधि है, बहुत बड़ा सामर्थ्य है। भारत के भविष्य के लिए एकता का मंत्र ये संकल्प भी है, भारत का सामर्थ्य भी है और भारत को भव्यता प्राप्त करने के लिए यही एक मार्ग है। उस मार्ग को हमें जीना है, उस मार्ग पर आने वाली रूकावटों के सामने हमें जूझना हैं। और देश के लिए जीकर के समृद्ध भारत को अपनी आंखों के सामने देखना है। इसी आंखों से भव्य भारत को देखना, इससे छोटा संकल्प हो ही नहीं सकता। इस संकल्प की पूर्ति के लिए आप सबको मेरी बहुत-बहुत शुभकामनाएं हैं। 75 वर्ष की यह यात्रा, आने वाले 25 वर्ष जो भारत का अमृतकाल है, जो आपका भी अमृतकाल है। जब देश 2047 में आजादी के 100 साल मनाएगा, एक डेवलप कंट्री होगा तो उस समय आप उस ऊंचाई पर बैठे होंगे। 25 साल के बाद आप किस ऊंचाई पर होंगे, कल्पना कीजिये दोस्तों। और इसलिए एक पल भी खोना नहीं है, एक भी मौका खोना नहीं है। बस मां भारती को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के संकल्प लेकर के चलते ही रहना है, बढ़ते ही रहना है, नई-नई सिद्धियों को प्राप्त करते ही जाना है, विजयश्री का संकल्प लेकर के चलना है। यही मेरी आप सबको शुभकामनाएं हैं। पूरी ताकत से मेरे साथ बोलिए- भारत माता की जय, भारत माता की जय! भारत माता की जय।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

वंदे-मातरम, वंदे-मातरम।

बहुत-बहुत धन्यवाद।