“It is up to the custodians of the leading economies and monetary systems of the world to bring back stability, confidence and growth to the global economy”
“Focus your discussions on the most vulnerable citizens of the world”
“Global economic leadership can win back the confidence of the world only by creating an inclusive agenda”
“The theme of our G20 Presidency promotes an inclusive vision - One Earth, One Family, One Future”
“India has created a highly secure, highly trusted, and highly efficient public digital infrastructure in its digital payments ecosystem”
“Our digital payments ecosystem has been developed as a free public good”
“Examples like UPI can be templates for many other countries too”

Excellencies,

I warmly welcome the G20 Finance Ministers and Central Bank Governors to India. Your meeting marks the first Minister-level dialogue under India's G20 Presidency. Even as I convey my best wishes to you for a productive meeting, I am aware of the challenges you face. You represent the leadership of global finance and economy at a time when the world is facing serious economic difficulties. The COVID pandemic has delivered a once-in-a-Century blow to the global economy. Many countries, especially developing economies, are still coping with its after-effects. We are also witnessing rising geo-political tensions in different parts of the world. There are disruptions in global supply chains. Many societies are suffering due to rising prices. And, food and energy security have become major concerns across the world. Even the financial viability of many countries is threatened by unsustainable debt levels. Trust in international financial institutions has eroded. This is partly because they have been slow to reform themselves. It is now up to you - the custodians of the leading economies and monetary systems of the world to bring back stability, confidence and growth to the global economy. It is not an easy task.

However, I hope that you will draw inspiration from the vibrancy of the Indian economy. Indian consumers and producers are optimistic and confident about the future. We hope that you will be able to transmit the same positive spirit to the global economy. I would urge that your discussions should focus on the most vulnerable citizens of the world. Only by creating an inclusive agenda will the global economic leadership win back the confidence of the world. The theme of our G20 Presidency also promotes this inclusive vision 'One Earth, One Family, One Future'.

Excellencies,

Even as the world population has crossed 8 billion, progress on Sustainable Development Goals seems to be slowing down. We need to collectively work to strengthen Multilateral Development Banks for meeting global challenges like climate change and high debt levels.

Excellencies,

In the world of finance, technology is increasingly dominant. During the pandemic, digital payments enabled contactless and seamless transactions. However, some recent innovations in digital finance also pose risks of destabilization and misuse. I hope that you will explore how the power of technology can be used for good, while developing standards to regulate its possible risks. India's own experience can be a model. Over the past few years, we have created a highly secure, highly trusted, and highly efficient public digital infrastructure. Our digital payments eco-system has been developed as a free public good. This has radically transformed governance, financial inclusion, and ease-of-living in India. As you are meeting in Bengaluru, the technology capital of India, you will have first-hand experience of how Indian consumers have embraced digital payments. In fact, during our G20 Presidency, we have created a new system. This allows our G20 guests to use India's path-breaking digital payments platform, UPI. As you make use of it and experience its ease of use, you will understand why Indian consumers have adopted it so willingly. Examples like UPI can be templates for many other countries too. We would be happy

to share our experience with the world. And, the G20 can be a vehicle for this.

Excellencies,

I once again thank you all for your participation in this important meeting, and wish you all the best for very productive and successful discussions.

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
India’s booming economy: A golden age for real estate investment

Media Coverage

India’s booming economy: A golden age for real estate investment
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
India and Greece have a long history of deep cultural and people-to-people ties: PM Modi at press meet with PM Mitsotakis
February 21, 2024

Your Excellency, प्रधानमंत्री मित्सो-ताकिस,
दोनों देशों के delegates,
मीडिया के साथियों,

नमस्कार!

प्रधानमंत्री मित्सो-ताकिस और उनके डेलिगेशन का भारत में स्वागत करते हुए मुझे बहुत ख़ुशी हो रही है। पिछले वर्ष मेरी ग्रीस यात्रा के बाद उनकी यह भारत यात्रा दोनों देशों के बीच मजबूत होती स्ट्रेटेजिक पार्टनरशिप का संकेत है।और सोलह वर्षों के बाद, इतना बड़ा अंतराल के बाद ग्रीस के प्रधानमंत्री का भारत आना, अपने आप में एक ऐतिहासिक अवसर है।

Friends,

हमारी आज की चर्चाएँ बहुत ही सार्थक और उपयोगी रहीं।यह प्रसन्नता का विषय है कि हम 2030 तक द्विपक्षीय व्यापार को दोगुना करने के लक्ष्य की ओर तेज़ी से अग्रसर हैं। हमने अपने सहयोग को नई ऊर्जा और दिशा देने के लिए कई नए अवसरों की पहचान की। कृषि के क्षेत्र में दोनों देशों के बीच करीबी सहयोग की संभावनाएं अनेक हैं। और मुझे ख़ुशी है कि पिछले वर्ष इस क्षेत्र में किए गए समझौते के कार्यान्वयन के लिए दोनों पक्ष कदम उठा रहे हैं। हमने फार्मा, Medical Devices, टेक्नोलॉजी, इनोवेशन, Skill Development, और Space जैसे कई क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाने पर ज़ोर दिया।

हमने दोनों देशों के start-ups को भी आपस में जोड़ने पर चर्चा की। Shipping और Connectivity दोनों देशों के लिए उच्च प्राथमिकता के विषय हैं। हमने इन क्षेत्रों में भी सहयोग को बढ़ाने पर विचार विमर्श किया।

Friends,

Defence और Security में बढ़ता सहयोग हमारे गहरे आपसी विश्वास को दर्शाता है। इस क्षेत्र में Working Group के गठन से हम defence, cyber security, counter-terrorism, maritime security जैसी साझा चुनौतियों पर आपसी समन्वय बढ़ा सकेंगे।

भारत में defence manufacturing में co-production और co-development के नए अवसर बन रहे हैं, जो दोनों देशों के लिए लाभदायक हो सकते हैं। हमने दोनों देशों के रक्षा उद्योगों को आपस में जोड़ने पर सहमति जताई हैं। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत और ग्रीस की चिंताएं और प्राथमिकताएं समान हैं। हमने इस क्षेत्र में अपने सहयोग को और अधिक मज़बूत करने पर विस्तारपूर्वक चर्चा की।

Friends,

दो प्राचीन और महान सभ्यताओं के रूप में भारत और ग्रीस के बीच गहरे सांस्कृतिक और people-to-people संबंधों का लम्बा इतिहास है। लगभग ढाई हज़ार वर्षों से दोनों देशों के लोग व्यापारिक और सांस्कृतिक संबंधों के साथ-साथ विचारों का भी आदान प्रदान करते रहे हैं।

आज हमने इन संबंधों को एक आधुनिक स्वरूप देने के लिए कई नए initiatives की पहचान की। हमने दोनों देशों के बीच Migration and Mobility Partnership Agreement को जल्द से जल्द संपन्न करने पर चर्चा की। इससे हमारे people-to-people संबंध और सुदृढ़ होंगे।

हमने दोनों देशों के उच्च शिक्षा संस्थानों के बीच सहयोग को बढ़ावा देने पर भी बल दिया। अगले वर्ष भारत और ग्रीस के डिप्लोमेटिक संबंधों की 75वीं वर्षगाँठ मनाने के लिए हमने एक Action Plan बनाने का निर्णय लिया। इससे हम दोनों देशों की साझा धरोहर, science and technology, innovation, sports और अन्य क्षेत्रों में उपलब्धियों को वैश्विक मंच पर दर्शा सकेंगे।

Friends,

आज की बैठक में हमने कई क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों पर भी चर्चा की। हम सहमत हैं कि सभी विवादों और तनावों का समाधान dialogue और diplomacy के माध्यम से किया जाना चाहिए।हम Indo-Pacific में ग्रीस की सक्रीय भागीदारी और सकारात्मक भूमिका का स्वागत करते हैं। यह ख़ुशी का विषय है कि ग्रीस ने Indo-Pacific Oceans Initiative से जुड़ने का निर्णय लिया है। पूर्वी Mediterranean क्षेत्र में भी सहयोग के लिए सहमति बनी है। भारत की G-20 अध्यक्षता के दौरान Launch किया गया आई-मैक कॉरिडोर लम्बे समय तक मानवता के विकास में महत्वपूर्ण योगदान देगा।

इस पहल में ग्रीस भी एक अहम भागीदार बन सकता है।हम UN तथा अन्य वैश्विक संस्थानों के reform के लिए सहमत हैं, ताकि इन्हें समकालीन बनाया जा सके। भारत और ग्रीस वैश्विक शांति और स्थिरता में योगदान देने के लिए अपने प्रयास जारी रखेंगे।

Excellency,

आज शाम आप रायसीना डायलॉग में Chief Guest के तौर पर शामिल होंगे। वहाँ आपका संबोधन सुनने के लिए हम सभी उत्सुक हैं। आपकी भारत यात्रा और हमारी उपयोगी चर्चा के लिए मैं आपका बहुत-बहुत धन्यवाद करता हूं।