Share
 
Comments
Ties between India and Korea are not just on the basis of business contact, but it is about people-to-people contact: PM
Happy to note that the Indian community is contributing to development, research and innovation in Korea: PM
Indian community all over the world are the country’s ‘Rashtradoots’: PM Modi

नमस्‍कार।

कोरिया में बसे मेरे भारतीय भाइयो और बहनों, फिर एक बार नमस्‍ते। इस गर्मजोशी के साथ मेरा स्‍वागत करने के लिए मैं आप सभी के प्रति आभार व्‍यक्‍त करता हूं।

मुझे बताया गया है कि आप बहुत देर से यहां पर इंतजार कर रहे हैं। खैर, बाहर ठंड है तो अंदर अच्‍छा लगता होगा। हर चीज में से हमने पोजिटिव देखना चाहिए। आपके इस प्‍यार के सामने मैं नतमस्‍तक हूं।

Friends, ये दूसरा मौका है मेरे लिए, जब मैं कोरिया आ करके भारतीय समुदाय से मुलाकात कर रहा हूं। भारत और कोरिया के सम्‍बन्‍धों का आधार सिर्फ business contact ही नहीं है, इसका मुख्‍य आधार है people to people contact. देश से आए या फिर यहीं रह रहे आप सभी भारतीय हमारे सम्‍बन्‍ध की बुनियाद हैं। राजदूत तो एक होता है, लेकिन राष्‍ट्रदूत अनेक होते हैं। भारत और कोरिया के बीच आत्‍मीयता का ये सम्‍पर्क नया नहीं है।

प्राचीन काल में भारत की राजकुमारी सूर्यरत्‍ना हजारों किलोमीटर की यात्रा कर-करके यहां पहुंची थी। उनका विवाह यहां के राजा से हुआ। आज भी लाखों कोरियाई अपने-आपको उनके वंशज मानते हैं; और इसलिए मैं ये कह सकता हूं कि कोरियाई समाज से एक प्रकार से हम लोगों का खून का रिश्‍ता है।

कोरियाई समाज की रगों में जो खून दौड़ रहा है उसमें भारत का भी अंश है। आज भी अयोध्‍या में राजकुमारी की मूर्ति स्‍थापित है और पिछली दिवाली पर यहां की प्रथम महिला किम जोंग सुक वहां पर साक्षी रहीं। बहुत बडा शानदार कार्यक्रम हुआ अयोध्‍या में, शायद यहां भी टीवी पर टेलीकास्‍ट हुआ होगा। शायद जिस समय भगवान राम जी वापिस आए थे और अयोध्‍या में रोशनी थी, हजारों साल के बाद वैसी रोशनी फिर से अयोध्‍या में हुई थी।

Friends, भारत और कोरिया के समबन्‍धों को बौद्ध धर्म ने भी बहुत ताकत दी बहुत सशक्‍त बनाया। एक कोरियाई बौद्ध भिक्षुक हाइचो ने 8वीं शताब्‍दी में भारत की यात्रा की थी।

Friends, ये जानकर अच्‍छा लगता है कि कोरिया के विकास में भी जिस प्रकार से पुरातन चीजें हमें प्रेरणा देती हैं, आप सबका पुरुषार्थ भी बहुत बड़ा योगदान दे रहा है। यहां पर भारतीय मेधा और कौशल का बहुत सम्‍मान है। आप कोरिया में research तथा innovation में योगदान दे रहे हैं। भारत में रहकर कोरियाई कम्‍पनियों को R & D facilities प्रदान कर रहे हैं। इसके अतिरिक्‍त Indian academics, researchers तथा post doctoral students अग्रणी कोरियाई यूनिवर्सिटियों में काम कर रहे हैं या पढ़ाई कर रहे हैं। और यहां रहने वाले भारतीय कोरिया की आर्थिक समृद्धि के साथ ही यहां की संस्‍कृति और सामाजिक जीवन में भी बढ़-चढ़ करके हिस्‍सा ले रहे हैं।

Friends, कोरिया में योग को बहुत सम्‍मान और स्‍नेह मिला है। आप लोग करते होंगे, मुझे मालूम नहीं लेकिन बाहर वाले तो पूछते होंगे जब भी मिलते होंगे, अच्‍छा भाई तुम योग का क्‍या जानते हो, तो आप कहते होगे, नाक पकड़कर बैठ जाओ।

Seoul, Busan तथा अन्‍य शहरों में दो हजार से ज्‍यादा लोगों ने अंतर्राष्‍ट्रीय योग दिवस में बहुत ही मनोयोग से, जोश के साथ हिस्‍सा लिया था। कोरिया में आप सभी होली, दिवाली, बैसाखी- एक प्रकार से सभी भारतीय उत्‍सवों को सिर्फ मानते ही नहीं बल्कि उसमें अपने कोरियाई दोस्‍तों को शामिल भी करते हैं। अब‍ यहां के शहरों में भारतीय रेस्टोरेंट्स को जगह मिलनी शुरू हो गई है, वहीं यहां के मेन्‍यु में भारतीय डिशों को भी स्‍थान मिल रहा है। यहां के लोग भी जानने लगे हैं कि इसका मतलब क्‍या होता है।

यहां पर भारतीय फिल्‍में काफी popular होती जा रही हैं। अब कोरियाई बच्‍चों के बीच कबड्डी-कबड्डी सुनने को मिल रहा है, बोल रहे हैं ना यहां के लोग कबड्डी? साल 2018 में तो एशियन गेम्‍स में कोरिया की टीम ने Silver मैडल भी जीता है, इसके लिए मैं यहां के सब लोगों को बहुत-बहुत बधाई देता हूं।

Friends, मैंने पहले ही कहा कि राजदूत एक ही होता है लेकिन हर हिन्‍दुस्‍तानी जहां भी हो वो राष्‍ट्रदूत होता है। एक प्रकार से आप भारत के ambassador हैं। Thirty million overseas Indians, इनकी कड़ी मेहनत, अनुशासन से दुनियाभर में देश की साख बड़ी है और मैं जिस देश में भी जाता हूं, मुझे ये सुनकर बहुत खुशी होती है कि भारतीयों की प्रतिष्‍ठा कानून मानने वाले नागरिकों के तौर पर बड़े गौरवपूर्ण रूप से उल्‍लेख होता है।

Friends, हमारे देश के लिए ये साल जरा खास है, क्‍यों? क्‍यों? इसलिए खास है कि राष्‍ट्रपिता महात्‍मा गांधीजी की 150वीं वर्षगांठ है। एक ऐसा अवसर है जब हम उन्‍हें याद करें, उनकी शिक्षाओं, उनके दर्शन से प्रेरणा हासिल करें। और मैं चाहूंगा महात्‍मा गांधी जैसा इतना विराट व्‍यक्तित्‍व विश्‍व मानव, जिस समय दुनिया में इस महापुरुष की जिस रूप में पहचान होनी चाहिए थी, दुर्भाग्‍य से नहीं हुई।

नेल्‍सन मंडेला को दुनिया जानती है, मार्टिन लूथर किंग को जानती है, केनेडी को जानती है; दुनिया अभी भी गांधी के संबंध में कहो तो- अच्‍छा कौन है, कहां से है। क्‍या हम लोगों का दायित्‍व नहीं है कि भारत के पास इस युग की इतनी बड़ी विरासत महात्‍मा गांधी; दुनिया के हर बच्‍चे की जुबान पर गांधी का नाम होना चाहिए, ये हमारा सपना होना चाहिए।

वे विश्‍व मानव थे और आज जब दुनिया बहुत सी चुनौतियों से जूझ रही है तो महात्‍मा गांधी का दर्शन और भी प्रासंगिक हो जाता है। बापू के जीवन में प्रकृति के प्रति बड़ी, बहुत ही श्रद्धा थी, उनकी भूमिका थी। अपने जीवन में पर्यावरण से तालमेल बिठाने पर उन्‍होंने बहुत जोर दिया था। कोरिया में बापू को अनोखे ढंग से श्रद्धांजलि दी जा रही है। बापू की याद में हम सभी कोरिया में 150 पौधे लगाने जा रहे हैं।

Friends, कोरिया के साथ हर दिन हमारे सम्‍बन्‍ध मजबूत रहे हैं, बढ़ते चले जा रहे हैं और मजबूती के साथ बढ़ते जा रहे हैं। कोरिया और भारत इस पूरे क्षेत्र में शांति, स्थिरता और स्‍मृद्धि को बढ़ावा देने में कदम से कदम से कदम मिला करके आगे बढ़ रहे हैं। हमारे बीच एक स्‍पष्‍ट और सहज भागीदारी है। हम मिलकर एक-दूसरे को लाभ पहुंचा सकते हैं।

इसी साझेदारी को भारतीय कम्‍पनियों की कोरिया में मौजूदगी और मजबूत कर रही है। कोरियाई ब्रांड तो भारत के घर-घर तक का हिस्‍सा बन चुका है। एलजी, सेमसंग, हुंडई जैसे कोरियाई ब्रांड तो भारत के गांव-गावं तक पहुंच गए हैं, लोगों की बोलचाल का हिस्‍सा तक बन गए हैं।

Friends, आज पूरी दुनिया भारत की तरफ उम्‍मीद-भरी निगाहों से देख रही है। हम आज दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाली बड़ी अर्थव्‍यवस्‍था हैं। हमारी economy मजबूत हुई है। 2014 के पहले हम यही सुनते थे कि भारत यानी Fragile Five में एक, हम तो डूबेंगे सनम तुम्‍हे भी ले डूबेंगे। आज बड़ी economy में दुनिया में सबसे तेज गति से आगे बढ़ने वाली economy है और अगले कुछ ही साल में भारत five trillion की अर्थव्‍यवस्‍था बनने की तरफ तेजी से कदम बढ़ा रहा है, five trillion की क्‍लब में हम होंगे, वो दिन दूर नहीं होगा। और जब 2014 में, मैंने जब कार्यभार संभाला था, तब दुनिया में आर्थिक दृष्टि से हम 11वें नम्‍बर पर थे; आज हम छह पर पहुंच गए हैं, और पांच होने में देर नहीं लगेगी, आप विश्‍वास कीजिए। और हमारी कोशिश ये है कि अगले डेढ़ दशक में भारत top three में जगह बना ले।

Friends, भारत में पिछले साढ़े चार साल में हम ease of living और ease of doing business सुनिश्वित करने में जुटे हैं। निरन्‍तर हो रहे आर्थिक और सामा‍जिक सुधारों के कारण हम सफलता भी प्राप्‍त कर रहे हैं। सबसे बड़ा indirect tax reform, goods and service tax, GST आज सिस्‍टम का हिस्‍सा है। सरदार वल्‍लभ भाई पटेल ने देश को एक किया था उसके बाद आर्थिक रूप से देश के एकीकरण का काम जीएसटी के द्वारा हुआ है। हमने cashless economy की तरफ दृढ़ता से कदम बढ़ाए हैं, हमने fiscal discipline को कायम रखा है। इसका नतीजा ये हुआ है कि पिछले चार वर्षों मेंease of doing business के मामले में हमने global ranking में 65 स्‍थानों की छलांग लगाई है और दुनिया को अचरज हो रहा है कि इतना बड़ा देश, इतनी विविधताओं से भरा हुआ देश, developing country, ये इतना बड़ा jump लगा सकता है क्‍या?

World Bank के चेयरमैन ने मुझे especially फोन किया था- बोले हमारे लिए बड़ा surprise है कि कोई देश determination के साथ इतना बड़ा परिणाम ला सकता है, और ये हिन्‍दुस्‍तान की ताकत है कि लाए। हम बहुत ही जल्‍द- आ गए, मतलब अब मौज करो, ये मोदी नहीं कर सकता। और मैंने जिस दिन ये परिणाम आया, इतना बड़ा jump लगाया, लोग खूशी मना रहे थे; मैंने कहा, मुझे वादा करो 50 में कैसे जाएंगे? Top Fifty में भारत कैसे अपनी जगह बनाएगा?

Friends, दुनिया में भारत को investment के लिए सबसे bright spot माना जा रहा है और इसलिए देश को पिछले चार वर्षों में रिकॉर्ड two hundred sixty three billion dollar का FDI प्राप्‍त हुआ है।

Friends, आप में से कुछ लोग अभी हाल में भारत आए होंगे, आपको अपना देश बदला हुआ दिखा होगा.... बोलो ना.. आते ही नहीं हो क्‍या? अगर आए होंगे तो जरूर बदला हुआ नजर आया होगा। पिछले चार साल में भारत में तेजी से बदलाव हो रहा है।

आज भारत में करीब-करीब हर व्‍यक्ति के पास बैंक एकाउंट है। और इसके लिए सिर्फ एक हजार दिनों में 33 करोड़ से ज्‍यादा खाते खोले गए। और एक Report ये कहता है कि दुनिया में पिछले चार साल में जितने बैंक एकाउंट खोले गए, उसके fifty percent अकेले हिन्‍दुस्‍तान में खोले गए। और खाते खोले गए इतना ही नहीं, जब गरीब लोग हैं, ये बैंक में खाता खुला है तो उनको भी saving करने का मन कर गया, इन खातों में आज 12 billion dollar जमा हैं। दुनिया इस समय भारत में financial inclusion की क्रांति बड़ी बारीकी से देख रही है।

मुद्रा योजना के तहत hundred and twenty eight million लोगों को ninety billion dollar से अधिक का micro credit दिया गया है, और आपको जान करके खुशी होगी, इनमें से 74 percent ऋण लेने वाली महिलाएं हैं और अधिकतम first time हैं, बैंक का दरवाजा पहली बार देखा, बैंक से पैसा पहली बार लिया; यानी ये कितना बड़ा revolution है, आप अंदाज लगा सकते हैं।

सामाजिक सुरक्षा के लिए आज affordable pensions और insurance की ऐसी स्‍कीम हैं जिसमें 90 पैसे लेकर, यानी 90 पैसे से ले करके एक रुपये तक प्रीमियम है। 90 पैसे कुछ नहीं होता है जी। इतने से प्रीमियम से गरीब व्‍यक्ति का दो-दो लाख रुपये का इंश्‍योरेंस पक्‍का हो रहा है। आज दुनिया की सबसे बड़ी health insurance scheme, आयुष्‍मान भारत, लोग इसे मोदीकेयर के नाम से जानते हैं। 50 करोड़ लोगों को मुफ्त इलाज मिल रहा है। यानी 50 करोड़ लोगों का मतलब-अमेरिका, कनाडा, मैक्सिको इनकी total population से ज्‍यादा। और ये हिन्‍दुस्‍तान कर रहा है।

दुनिया की सबसे बड़ी ऊंची मूर्ति statue of unity, आज भारत का नाम लिया जाता है। ऐसे बहुत से काम हैं जिनसे देश की प्रतिष्‍ठा को शक्ति मिली है।

Digital India से भारत के लोगों के जीवन में तेजी से बदलाव आया है। आज करीब-करीब हर भारतीय के पास biometric identity है। देश के सवा लाख गांवों में optical fiber पहुंचा है।

Friends, आज कई मामलों में भारत दुनिया के world leaders की पंक्ति में खड़ा है। विश्‍व में TB के खात्‍मे के लिए दुनिया ने 2030 target बनाया है, भारत ने ये टारगेट 2025 रखा है। और 130 करोड़ भारतीयों की तरफ से मैं आपको विश्‍वास दिलाता हूं कि हम 2025 में ये goal achieve करके रहेंगे।

आज clean energy के मामले में हम दुनिया को रास्‍ता दिखा रहे हैं। International solar alliance की स्‍थापना और गति देने की हमारी पहलों से भारत global leadership से green economy, दोनों की तरफ तेजी से बढ़ रहा है।

आज हमारा देश दुनिया में renewable energy का छठा सबसे बड़ा उत्‍पादक बन गया है। आज दुनियाभर में भारत की प्रतिष्‍ठा बढ़ी है, आप अनुभव करते हैं, नहीं करते हैं? लोग हाथ मिलाते हैं तो छोड़़ते हैं क्‍या? India! पकड़ कर रखते हैं कि नहीं, हैं? ये बदलाव आया है।

Friends, मैं आपसे ये भी आग्रह करता हूं कि आप भारत के सकारात्‍मक विकास की जानकारियों को अपने कोरियाई मित्रों के साथ साझा करें। Make in India आज Global brand बन चुका है। कोरिया जैसे मित्र देशों के साथ मिलकर हम electronics manufacturing का बहुत बड़ा hub बनना चाहते हैं।

Friends, आज भारत में एक नई ऊर्जा दिखाई पड़ रही है। इसी ऊर्जा के प्रतिनिधि के रूप में कल मुझे Seoul Peace Prize का सम्‍मान दिया जाएगा। ये पुरस्‍कार मेरा नहीं है, मैं तो बस 130 करोड़ भारतीयों की तरफ से और तीन करोड़ प्रवासी भारतीयों की तरफ से, सिर्फ उसको स्‍वीकार करने के लिए आया हूं। ये पुरस्‍कार हर भारतीय के पुरुषार्थ का सम्‍मान है, हर हिन्‍दुस्‍तानी नागरिक के पुरुषार्थ का सम्‍मान है। ये पुरस्‍कार उस मेहनत को मान्‍यता देता है जो पिछले चार साल में भारतीयों ने लगातार, दिन-रात की है।

मैं एक बार फिर से अपने देश का मान बढाने के लिए आप सभी का आभार व्‍यक्‍त करता हूं और इस देश में आपकी तरक्‍की और उपलब्धियों के लिए मेरी तरफ से बहुत-बहुत शुभकामनाएं देता हूं।

हमारे यहां कुंभ का मेला नया नहीं है। नई पीढ़ी के लोग जाते होंगे कि नहीं जाते होंगे, मुझे मालूम नहीं है, लेकिन आपके यहां जो पुरानी पीढ़ी के लोग होंगे, उनका मन करता है कि जरूर कुम्‍भ के मेले में जाएं। हमारे देश के त्‍योहार, इस प्रकार के मेले, वो- उसका चित्र मन में आते ही एक निश्चित प्रकार की छवि उभर करके आती है। लेकिन आपको जान करके खुशी होगी कि भारत- हालांकि कुंभ का मेला छोटा नहीं होता है जी- हर दिन गंगा के तट पर यूरोप का एक देश daily इकट्ठा होता है वहां, और पूरे कुंभ के मेले के दरम्‍यान गंगा में डुबकी लगाने वालों की संख्‍या चार कोरिया से ज्‍यादा होगी। यहां की जनसंख्‍या से चार गुना लोग उस गंगा में स्‍नान करेंगे- जब ये कार्यक्रम पुरा होगा तो। इतनी बड़ी ताकत, और पहली बार ये ध्‍यान में आया है कि जो भी कुंभ के मेले में गए हैं, उन्‍होंने मेले की व्‍यवस्‍था और मेले की स्‍वच्‍छता- इसकी चर्चा व्‍यापक रूप से की है। वरना हमारा स्‍वभाव था, ऐसी चीजों की तरफ हमारा ध्‍यान नहीं था, हमको आदत हो गई, अरे चलता है, चलो यार। पहली बार न्‍यूयार्क टाइम्‍स ने कुंभ मेले की चर्चा करते हुए कुंभ मेले की स्‍वच्‍छता का विशेष रूप से उल्‍लेख किया है। ये, ये देश अगर ठान ले- क्‍या कर सकता है, इस बात का जीता-जागता सबूत‍ इस बार का कुंभ का मेला है।

दोस्‍ता, देश बहुत तेजी से बदला है, देश बहुत तेजी से आगे बढ़ रहा है। टूरिज्‍म विकास के लिए बहुत बड़ी ताकत है। और मैं जहां भी जाता हूं, भारतीय समुदाय से मुफ्त में मिलता नहीं हूं, बदले में कुछ मांगता हूं- देंगे? सब कह देते हैं- मोदी कहां दोबारा आने वाला है, पूछने के लिए हैं और आज वो चला गया, अब चार साल के बाद, तीन साल के बाद आएगा, कौन याद रखेगा। मैं ऐसा नहीं हूं, मैं तो पूछूंगा, मांगू- आवाज ढीली हो जाती है। सचमुच में मांगूं? क्‍या आज हमारा हर हिन्‍दुस्‍तानी, जो दुनिया में रहता है- कहीं आप पढ़ते होंगे, कहीं फैक्‍टरी में काम करते होंगे, कहीं management में काम करते होंगे- तो लोकल लोगों से आपका संपर्क आता ही होगा- स्‍वाभाविक होता होगा। क्‍या आपने मन में ठानी है कि हर वर्ष कम से कम पांच non-Indian families को हिन्‍दुस्‍तान देखने के लिए धक्‍का मारूंगा? इतना कर सकते हो क्‍या? अगर सिर्फ विश्‍व में फैले हुए हिन्‍दुस्‍तानी ये तय कर लें कि मैं देश में जा करके investment करूं, हरेक के पास कहां पैसे हैं भाई, वो अपनी जिंदगी गुजारा कर लेता है, थोड़ा-बहुत बचा लेता है।

लेकिन देश सेवा में एक काम जरूर कर सकता है कि मैं एक साल में कम से कम पांच non- Indian families को भारत देखने के लिए प्रेरित करूंगा, प्रोत्‍साहित करूंगा, जाने में मदद करूंगा। आप कल्‍पना कर सकते हैं भारत का टूरिज्‍म कितना बढ़ सकता है, कितनी बड़ी सेवा आप कर सकते हैं।द्य

तो मैंने आपसे मांगा है, मैं पूछूंगा हमारे Embassy को कि कितनों ने वीजा मांगा भई, बताओ। और मेरा मत है कि हिन्‍दुस्‍तान वादा करता है तो निभाता है। लो मैं आपकी तारीफ कर रहा हूं, आप ही हंस रहे हो।

मैं आऊंगा, मैं आऊंगा, बार-बार आऊंगा, आप चिंता मत कीजिए। लेकिन जब मैं आऊंगा तब‍ फिर से पूछंगा ये। देखिए- देश की बहुत बड़ी सेवा होगी।

मैं फिर एक बार- वैसे ठंड के माहौल में भी आप यहां आए, आपने मुझे आ करके आशीर्वाद दिया, इसके लिए मैं आपका बहुत-बहुत आभारी हूं।

धन्‍यवाद।

Donation
Explore More
It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi

Popular Speeches

It is now time to leave the 'Chalta Hai' attitude & think of 'Badal Sakta Hai': PM Modi
Dreams take shape in a house: PM Modi on PMAY completing 3 years

Media Coverage

Dreams take shape in a house: PM Modi on PMAY completing 3 years
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM’s Meeting with Mr. Tony Abbott, Former Prime Minister of Australia
November 20, 2019
Share
 
Comments

Prime Minister Shri Narendra Modi met Mr Tony Abbott, Former Prime Minister of Australia today.

The Prime Minister conveyed his condolences on the loss of life and property in the recent bushfires along the eastern coast of Australia.

The Prime Minister expressed happiness at the visit of Mr. Tony Abbott to India, including to the Golden Temple on the 550th year of Guru Nanak Dev Ji’s Prakash Parv.

The Prime Minister fondly recalled his visit to Australia in November 2014 for G-20 Summit in Brisbane, productive bilateral engagements in Canberra, Sydney and Melbourne and his address to the Joint Session of the Australian Parliament.

 

The Prime Minister also warmly acknowledged the role of Mr. Tony Abbott in strengthening India-Australia relations.