Our focus is all-round development of India & North east cannot stay behind in this journey: PM Modi
We want to ensure that youth here gets the opportunities to fulfil their dreams: PM
We would set up Central Institute of Technology for better technical education, Kokrajhar to get deemed university status: PM
Assam gave a PM for 10 years, Congress ruled here for 15 years, still the state faces problems: PM
We want to Act East. Be it rail, roads or waterways, we want to connect our North east with entire India: PM
Our aim is housing for all by 2022 & 24/7 electricity and water: PM Modi during rally in Assam
I assure our Govt would leave no stone unturned in developing the North east region: PM Modi

मंच पर विराजमान बीटीसी के चीफ़ श्रीमान अग्रमा मोहिलरी, केंद्र में मंत्रिपरिषद के मेरे साथी और जनप्रिय नेता श्रीमान सर्वानंद जी सोनमल, केंद्र में मंत्रिपरिषद के मेरे साथी और डोनर के मंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह जी, बीटीसी के डिप्टी चीफ़ श्रीमान खम्पा जी, श्रीमान हेमंत विश्व शर्मा जी, सांसद श्रीमान विश्वजीत और विशाल संख्या में पधारे हुए मेरे भाईयों एवं बहनों।

मैं सबसे पहले आप सबसे क्षमा मांगता हूँ क्योंकि मुझे आने में विलंब हुआ। मैं सिक्किम में था मुझे निकलने में देर हुई और आपको काफ़ी इंतज़ार करना पड़ा लेकिन मैं आपको विश्वास दिलाता हूँ कि मुझे इतनी देरी नहीं हुई है जिस कारण आपको विकास के लिए इंतज़ार करना पड़े, आपको अपने हक़ के लिए लड़ाई करनी पड़े। मैं आपके साथ कंधे से कंधा मिलाकर यहाँ के लोगों की भलाई करने आया हूँ, आपके शक्ति, सामर्थ्य, सपनों, यहाँ के युवाओं को अवसर मिले और वे विकास की नई ऊंचाईयों को प्राप्त करें।

मैं आपके बीच में एक ऐसे समय आया हूँ जब यहाँ पर एकता और सद्भावना का माहौल है। यहाँ के राजनीतिक गुट भी अपने वाद-विवादों को पीछे रखते हुए यहाँ के लोगों की भलाई और उनके विकास के लिए आगे आए हैं। मैं इसके लिए यहाँ के नेतृत्व को बहुत-बहुत बधाई देता हूँ और जो लोग जुड़ रहे हैं, उनका मैं तहे दिल से स्वागत करता हूँ। अग्रमा जी, खम्पा जी मेरे घर पर आये थे, दिल खोलकर बातें हुई थी। उनसे मिलकर मुझे यहाँ की समस्याओं को समझने का अवसर मिला तभी उन्होंने कहा कि मोदी जी, जो देना है, वो दिल खोलकर दे दीजिए क्योंकि बातें भी तो दिल खोलकर हुई थीं। मैं आपको विश्वास दिलाता हूँ कि दिल में आप समा गए हैं।

12-15 साल से जो वादे आपको किये गए, उन वादों का भी निपटारा नहीं हुआ। मैं यह तो मान सकता हूँ कि इसमें कुछ समय लग सकता है लेकिन आप हर बार वादे करें और फ़िर वादों को भुला दें, नए-नए वादें करें इस तरह के वादाखिलाफी से गुस्सा आता है, ये आपकी नाराजगी का प्रदर्शन है।

मैं आपको इतना ही कहने आया हूँ कि जो बात मैं कर रहा हूँ, उसे पूरा करने के लिए मैं जी-जान से जुड़ जाता हूँ, खप जाता हूँ। मैं हैरान हूँ कि एक पार्टी जिसने यहाँ 15 साल राज किया, ये असम प्रदेश जिसने 10 साल के लिए देश को प्रधानमंत्री दिया, 15 साल कांग्रेस ने लगातार राज किया; देखा जाए तो 60 साल तक वो ही सरकार चलाते रहे, मैं तो यह सोच रहा था कि असम में तो अब कोई समस्या हो ही नहीं सकती क्योंकि 10 साल यहाँ से प्रधानमंत्री रहे हैं और 15 साल से एक मुख्यमंत्री यहाँ सरकार चला रहे हैं। जिन्हें अपने काम का हिसाब देना चाहिए, वे सवाल पूछ रहे हैं तो फिर उन्होंने किया क्या? ये सब विफलताओं की दस्तक है। उन्हें यह स्वीकार करना पड़ रहा है कि उनका अपना प्रधानमंत्री था, असम से मनमोहन सिंह जी को भेजा था लेकिन अभी समस्याओं की लंबी लिस्ट है आपकी।

भाईयों-बहनों, वे 15 साल में कुछ नहीं कर पाए और मुझसे अपेक्षा करते हैं कि मैं 15 दिन में सबकुछ कर दूँ। मुझे बताईये कि क्या ये मेरे साथ न्याय है? ये आपलोगों को गुमराह करने के लिए है लेकिन मेरा आप पर भरोसा है कि आप गुमराह नहीं होंगे। आपने उनके 15 साल देखे हैं और आपने हमारे 15 महीने भी देखे हैं। मेरे सामने कुछ बातें रखी गई थीं और आज मैं बड़े संतोष के साथ कहना चाहता हूँ कि असम के कार्बी मिकिर जनजाति को मैदानी इलाके में अनुसूचित जनजाति के रूप में और असम के बोडो काछारी जनजाति को ट्राइब आंगलोंग और एनसी हिल ऑटोनोमस काउंसिल के इलाके में अनुसूचित जनजाति के रूप में घोषित किये जाने का मुद्दा काफ़ी समय से लंबित है। अब दोनों ही मसलों की रजिस्ट्रार सेंट्रल ऑफ़ इंडिया और अनुसूचित जनजाति के लिए राष्ट्रीय आयोग द्वारा सिफ़ारिश कर दी गई है। आने वाले कुछ समय में ये मामला कैबिनेट में अप्रूव हो जाएगा और उसके बाद संसद में इसे पारित किया जाएगा। वर्षों से आपकी इस समस्या का समाधान निकाला जा रहा है।

आपके नेता ने जब मुझे इस समस्या के बारे में बताया तो मैंने कहा कि मैं पहले इसका समाधान निकालूँगा, फ़िर आऊंगा। इस क्षेत्र के छात्रों को उच्च गुणवत्ता की तकनीकी शिक्षा के अवसर उपलब्ध कराने के लिए, औद्योगिकीकरण को बढ़ावा देने के लिए सेंट्रल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, कोकराझार को एक वर्ष की अवधि में डीम्ड यूनिवर्सिटी का दर्जा दिया जाएगा। इस कार्य से यूनिवर्सिटी को और अधिक अकादमिक तथा प्रशासनिक अधिकार प्राप्त होंगे।

मेरे सामने एक मसला आया था, एयरपोर्ट का बहुत पहले एक एयरपोर्ट सेना के साथ मिलकर काम कर रहा था, फ़िर वो बंद हो गया। अब राज्य सरकार ज़मीन नहीं दे रही है मैं आपको विश्वास दिलाता हूँ कि जैसे ही ज़मीन का मसला पूरा हो जाएगा, रूपसी एयरपोर्ट को भारतीय वायुसेना और आम जनता के लिए संयुक्त रूप से विकसित किया जाएगा।

कंचनजंघा एक्सप्रेस ट्रेन के रूट का बराक वेली में सिलचर तक विस्तार किया जाएगा और मैं आने वाले दिनों में बहुत जल्द उस ट्रेन को आरंभ करने जा रहा हूँ। मुझे एक और कठिनाई बताई गई कि हमारे लिए बजट में इतना आवंटन होता है लेकिन पता नहीं कहाँ जाता है। जनता की पाई-पाई जनता के ही पास जानी चाहिए; जो अब तक लूटा गया है और अब लूटने का अवसर नहीं मिल रहा है इसलिए ये लोग हमसे परेशान हैं। दिल्ली आजकल हिसाब मांगता है।

दिल्ली में अटल जी के समय में नार्थ-ईस्ट के विकास के लिए एक विशेष मंत्रालय - डोनर बना था। अटल जी की सरकार के जाने के बाद इनकी सरकार में क्या-क्या होता है, ये आप सभी को मालूम ही है। हमने डोनर मंत्रालय को एक नया काम दिया है जिससे यहाँ के कुछ नेता लोग काफ़ी परेशान हैं। पहले यहाँ के लोगों को दिल्ली जाना पड़ता था, मिनिस्ट्री खोजनी पड़ती थी, सामान्य लोग वहां जा नहीं पाते थे, शिकायत पहुंचाई नहीं जा सकती थी, क्या चल रहा है, सच-झूठ का पता ही नहीं चलता था। रुपये तो आते थे लेकिन ज़मीन पर कोई काम दिखाई नहीं देता था।

राजीव गाँधी सही कहते थे कि दिल्ली से एक रुपया निकलता है और गाँव में जाते-जाते 15 पैसे हो जाता है। इसलिए हमने तय किया कि डोनर मिनिस्ट्री, उसके अधिकारी महीने में एक बार नार्थ-ईस्ट के राज्यों में जाएंगे, पूरा सचिवालय दिल्ली से गुवाहाटी जाएगा। दिनभर वहां बैठेंगे, सरकार ने जो पैसे दिये, उसका हिसाब मांगेंगे, रुपये कहाँ जा रहे हैं, उसकी पूछताछ होगी और यह काम डॉ. जितेन्द्र सिंह की टीम बखूबी कर रही है। इसके कारण यहाँ लोगों को परेशानी हो रही है कि मोदी हिसाब मांग रहे हैं और आजकल फैशन हो गया है, अपने काम का हिसाब नहीं देना। जब हिसाब मांगते हैं तो कोई और ही आरोप लगाना शुरू कर देते हैं इसलिए नार्थ-ईस्ट की सभी सरकारों को पैसे का हिसाब देना पड़ेगा क्योंकि ये जनता का पैसा है और ये जनता के काम आना चाहिए और इसलिए मैं इन लोगों को बुरा लगता हूँ।

मैं अपना समय इस लिए बर्बाद नहीं करता कि मैं अच्छा लगूं यां बुरा लगूं; मैं अपना समय खपाता हूँ ताकि मेरा देश अच्छा बने। हमारे देश का भविष्य बदलने के लिए मेरा तीन सूत्रीय कार्यक्रम है – विकास, विकास और सिर्फ़ विकास। सारी समस्याओं का समाधान विकास में ही है। पिछले दिनों आपने देखा होगा कि जब दिल्ली में पुलिस की भर्ती हुई तो मैंने आग्रह रखा कि नार्थ-ईस्ट राज्यों के नौजवानों को दिल्ली में पुलिस में भर्ती करना चाहिए और आज बहुत बड़ी संख्या में यहाँ के नौजवानों को दिल्ली में रक्षा के लिए ले जाया गया। एक बार जो बात कही, उसे लागू करने के लिए जी-जान से लगे रहते हैं, पूरी कोशिश करते हैं।

हमें अगर विकास करना है तो इस इलाके की सबसे पहली ज़रूरत है – इंफ्रास्ट्रक्चर, चाहे सड़क हो, रेल हो, या जलमार्ग हो और इसलिए हमारी सरकार ने एक्ट ईस्ट पॉलिसी बनाई है। इस पॉलिसी के माध्यम से नार्थ-ईस्ट राज्यों को भारत की विकासधारा में जोड़ना है, रास्तों का नेटवर्क बनाना है। पिछले बजट में आपने देखा होगा कि जैसा आवंटन हुआ था, वैसा पहले कभी नहीं किया गया होगा, उतने रुपये हम नार्थ-ईस्ट में सड़क और रेल में लगा रहे हैं।

देश की आज़ादी के इतने साल बीत गए और मैं सोच रहा था कि अब तक तो देश के सभी गांवों में बिजली पहुँच गई होगी लेकिन मुझे हिसाब मिला कि अभी भी 18,000 गाँव ऐसे हैं जहाँ बिजली का खंभा भी नहीं है। हमने बीड़ा उठाया, 15 अगस्त को लाल किले से हमने घोषणा की कि मेरी सरकार जी-जान से काम करेगी और 1,000 दिन में 18,000 गाँव में बिजली पहुंचाऊंगा। आप अपने मोबाइल पर इसका पूरा विवरण देख सकते हैं। इसके लिए एक अलग वेबसाइट बनाई है कि कहाँ-कहाँ बिजली पहुंची और दिन-प्रतिदिन का हिसाब रखा जाता है और हर दिन किसी-न-किसी गाँव में बिजली पहुँच रही है। गाँव में बिजली पहुँचने के बाद लोगों को अहसास होता होगा कि आज़ादी किसे कहते हैं। मैं तो मीडिया के मित्रों को भी कहता हूँ कि बिजली पहुँचने के बाद गाँव में जो लोगों का उत्साह है, उसे लोगों को दिखाएं। इससे देश के साथ-साथ काम करने वालों का भी हौसला बुलंद होगा।

बिजली पहुँचने से शिक्षा और जीवन-व्यवस्था में सुधार होगा और हमारा सपना है 2022 में भारत की आज़ादी के 75 साल होने पर सब जगह लोगों को 24 घंटे बिजली मिले जो आज नहीं मिल रही है। मैं आपको विश्वास दिलाता हूँ कि 2022 तक हम यह काम करके रहेंगे।

हमारा एक और सपना यह है कि देश के गरीब परिवारों को अपना घर मिले। हमने ठान लिया है कि 2022 में देश के गरीब से गरीब व्यक्ति के पास भी ख़ुद का रहने का घर हो और घर भी ऐसा जिसमें बिजली हो, पानी आता हो, शौचालय भी हो और बच्चों के लिए नजदीक में स्कूल भी हो। जब इतने मकान बनेंगे, रास्ते बनेंगे, रेल का काम होगा तो बहुत सारे लोगों को रोजगार भी मिलेगा, काम के अवसर बढ़ेंगे।

हमने तय किया था कि हम गरीब से गरीब व्यक्ति का बैंक खाता खोलेंगे; प्रधानमंत्री जन-धन योजना शुरू की। लोगों को लगता था कि जो काम 70 साल में नहीं हुआ, वो मोदी जी कैसे करेंगे। आज बताते हुए मुझे ख़ुशी हो रही है कि जन-धन योजना के अंतर्गत हमने 20 करोड़ लोगों के खाते खोल दिए हैं। हमने उन्हें अर्थव्यवस्था के धारा में जोड़ा, बैंक तक उनका रास्ता खोला। मैंने कहा था कि पैसे नहीं होंगे तो भी खाते खुलेंगे लेकिन मुझे ख़ुशी है कि गरीबों ने भी सोच लिया कि मुफ़्त में नहीं करना है, बैंक में कुछ तो जमा करेंगे और लोगों ने करीब-करीब 30 हज़ार करोड़ रुपये जमा किये। ये ताकत है देश के आम जन की और इस ताकत को लेकर हम आगे बढ़ना चाहते हैं।

मेरा एक ही इरादा है कि हिन्दुस्तान में और जगहों पर जितना विकास हुआ है, यहाँ भी उतना ही विकास होना चाहिए। ये काम मुझे करना है और इसलिए मैं आपके पास आशीर्वाद लेने आया हूँ। आज लाखों की तादाद में मैं यह जनसैलाब देख रहा हूँ। मैंने असम में बहुत दौरे किये हैं। लोकसभा के चुनाव में भी आपने भरपूर आशीर्वाद दिया है लेकिन ऐसा नज़ारा मैंने पहले कभी नहीं देखा, ऐसा माहौल पहले कभी नहीं देखा। आपके इसी आशीर्वाद से मुझे ताकत मिलती है, आपके लिए दिन-रात दौड़ने की मुझे प्रेरणा मिलती है। मुझे ख़ुशी है कि मुझे नए साथियों के साथ काम करने का मौका मिला है और मैं विश्वास दिलाता हूँ कि यहाँ की जितनी रुकी समस्याएं हैं, उनके समाधान के लिए कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेंगे। मैं आप सभी का आभारी हूँ, बहुत-बहुत धन्यवाद!       

            

Explore More
No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort

Popular Speeches

No ifs and buts in anybody's mind about India’s capabilities: PM Modi on 77th Independence Day at Red Fort
India's Q3 GDP grows at 8.4%; FY24 growth pegged at 7.6%

Media Coverage

India's Q3 GDP grows at 8.4%; FY24 growth pegged at 7.6%
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Double engine govt of Madhya Pradesh is committed to the welfare of the people: PM Modi
February 29, 2024
Lays foundation stone and dedicates to nation multiple development projects worth about Rs 17,000 crore across Madhya Pradesh in sectors of irrigation, power, road, rail, water supply, coal and industry
Launches Cyber Tehsil project in Madhya Pradesh
“Double engine government of Madhya Pradesh is committed to the welfare of the people”
“India will develop only when its states develop”
“Vikramaditya Vedic Clock in Ujjain will become witness to the ‘kaal chakra’ when India is on the path to becoming a developed nation”
“Double engine government is carrying out development work with double speed”
“Government is laying great emphasis on making villages aatmanirbhar”
“We are witnessing a revolution in Madhya Pradesh’s irrigation sector”
“In the last 10 years, India's reputation has increased a lot in the whole world”
“Youth’s dreams are Modi’s resolution”

नमस्कार !

'विकसित राज्य से विकसित भारत अभियान' में आज हम मध्य प्रदेश के हमारे भाई-बहनों के साथ जुड़ रहे हैं। लेकिन इस पर बात करने से पहले मैं डिंडोरी सड़क हादसे पर अपना दुख व्यक्त करता हूं। इस हादसे में जिन लोगों ने अपने परिजनों को खोया है, मेरी संवेदनाएं उनके साथ हैं। जो लोग घायल हैं, उनके उपचार की हर व्यवस्था सरकार कर रही है। दुख की इस घड़ी में, मैं मध्य प्रदेश के लोगों के साथ हूं।

साथियों,

इस समय एमपी की हर लोकसभा-विधानसभा सीट पर, विकसित मध्य प्रदेश के संकल्प के साथ लाखों साथी जुड़े हैं। बीते कुछ दिनों से देश के अलग-अलग राज्यों ने ऐसे ही विकसित होने का संकल्प लिया है। क्योंकि भारत तभी विकसित होगा, जब राज्य विकसित होंगे। आज इस संकल्प यात्रा से मध्य प्रदेश जुड़ रहा है। मैं आप सभी का अभिनंदन करता हूं।

साथियों,

कल से ही एमपी में 9 दिन का विक्रमोत्सव शुरु होने वाला है। ये हमारी गौरवशाली विरासत और वर्तमान के विकास का उत्सव है। हमारी सरकार विरासत और विकास को कैसे एक साथ लेकर चलती है, इसका प्रमाण उज्जैन में लगी वैदिक घड़ी भी है। बाबा महाकाल की नगरी कभी पूरी दुनिया के लिए काल गणना का केंद्र थी। लेकिन उस महत्व को भुला दिया गया था। अब हमने विश्व की पहली "विक्रमादित्‍य वैदिक घड़ी" फिर से स्थापित की है। ये सिर्फ अपने समृद्ध अतीत को पुन: याद करने का सिर्फ अवसर भर है, ऐसा नहीं है। ये उस कालचक्र की भी साक्षी बनने वाली है, जो भारत को विकसित बनाएगा।

 

साथियों,

आज, एमपी की सभी लोकसभा सीटों को, एक साथ लगभग 17 हज़ार करोड़ रुपए की विकास परियोजनाएं मिली हैं। इनमें पेयजल और सिंचाई की परियोजनाएं हैं। इनमें बिजली, सड़क, रेल, खेल परिसर, सामुदायिक सभागार, और अन्य उद्योगों में जुड़े प्रोजेक्ट्स हैं। कुछ दिन पहले ही एमपी के 30 से अधिक रेलवे स्टेशनों के आधुनिकीकरण पर भी काम शुरु हुआ है। भाजपा की डबल इंजन सरकार ऐसे ही डबल स्पीड से विकास कर रही है। ये परियोजनाएं एमपी के लोगों का जीवन आसान बनाएंगी, यहां निवेश और नौकरियों के नए अवसर बनाएंगी। इसके लिए आप सभी को बहुत-बहुत बधाई।

साथियों,

आज चारों तरफ एक ही बात सुनाई देती है- अबकी बार, 400 पार, अबकी बार, 400 पार! पहली बार ऐसा हुआ है जब जनता ने खुद अपनी प्रिय सरकार की वापसी के लिए ऐसा नारा बुलंद कर दिया है। ये नारा बीजेपी ने नहीं बल्कि देश की जनता-जनार्दन का दिया हुआ है। मोदी की गारंटी पर, देश का इतना विश्वास भाव-विभोर करने वाला है।

लेकिन साथियों,

हमारे लिए ये सिर्फ तीसरी बार सरकार बनाने का सिर्फ लक्ष्य है, ऐसा नहीं है। हम तीसरी बार में, देश को तीसरी बड़ी आर्थिक महाशक्ति बनाने के लिए चुनाव में उतर रहे हैं। हमारे लिए सरकार बनाना अंतिम लक्ष्य नहीं है, हमारे लिए सरकार बनाना, देश बनाने का माध्यम है। यही हम मध्य प्रदेश में भी देख रहे हैं। बीते 2 दशक से निरंतर आप हमें अवसर दे रहे हैं। आज भी विकास के लिए कितनी उमंग, कितना उत्साह है, ये आपने नई सरकार के बीते कुछ महीनों में देखा है। और अभी मैं, मेरे सामने स्क्रीन पर देख रहा हूं, लोग ही लोग नज़र आ रहे हैं। वीडियो कांफ्रेंस पर कार्यक्रम हो और 15 लाख से ज्यादा लोग जुड़े हों, 200 से अधिक स्थानों पर जुड़े हों। ये घटना सामान्य नहीं है और मैं, मेरी आंखों से यहां सामने देख रहा हूं टीवी पर। कितना उत्साह है, कितना उमंग है, कितना जोश दिखाई दे रहा है, मैं फिर एक बार मध्यप्रदेश के भाइयों के इस प्यार को नमन करता हूं, आपके इस आशीर्वाद को प्रणाम करता हूं।

साथियों,

विकसित मध्य प्रदेश के निर्माण के लिए डबल इंजन सरकार खेती, उद्योग और टूरिज्म, इन तीनों पर बहुत बल दे रही है। आज माँ नर्मदा वहां पर बन रही तीन जल परियोजनाओं का भूमिपूजन हुआ है। इन परियोजनाओं से आदिवासी क्षेत्रों में सिंचाई के साथ-साथ पेयजल की समस्या का भी समाधान होगा। सिंचाई के क्षेत्र में मध्यप्रदेश में हम एक नई क्रांति होते देख रहे हैं। केन-बेतवा लिंक परियोजना से बुंदेलखंड के लाखों परिवारों का जीवन बदलने वाला है। जब किसान के खेत तक पानी पहुंचता है, तो इससे बड़ी सेवा उसकी क्या हो सकती है। भाजपा सरकार और कांग्रेस की सरकार के बीच का क्या अंतर होता है, इसका उदाहरण सिंचाई योजना भी है। 2014 से पहले के 10 वर्षों में देश में लगभग 40 लाख हेक्टेयर भूमि को सूक्ष्म सिंचाई के दायरे में लाया गया था। लेकिन बीते 10 वर्ष के हमारे सेवाकाल में इसका दोगुना यानि लगभग 90 लाख हेक्टेयर खेती को सूक्ष्म सिंचाई से जोड़ा गया है। ये दिखाता है कि भाजपा सरकार की प्राथमिकता क्या है। ये दिखाता है कि भाजपा सरकार यानि गति भी, प्रगति भी।

साथियों,

छोटे किसानों की एक और बड़ी परेशानी, गोदाम की कमी की रही है। इसके कारण छोटे किसानों को औने-पौने दाम पर अपनी उपज मजबूरी में बेचनी पड़ती थी। अब हम भंडारण से जुड़ी दुनिया की सबसे बड़ी योजना पर काम कर रहे हैं। आने वाले वर्षो में देश में हजारों की संख्या में बड़े गोदाम बनाए जाएंगे। इससे 700 लाख मीट्रिक टन अनाज के भंडारण की व्यवस्था देश में बनेगी। इस पर सरकार सवा लाख करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च करने जा रही है।

साथियों,

हमारी सरकार गांव को आत्मनिर्भर बनाने पर बहुत बल दे रही है। इसके लिए सहकारिता का विस्तार किया जा रहा है। अभी तक हम दूध और गन्ने के क्षेत्र में सहकारिता के लाभ देख रहे हैं। भाजपा सरकार, अनाज, फल-सब्ज़ी, मछली, ऐसे हर सेक्टर में सहकारिता पर बल दे रही है। इसके लिए लाखों गांवों में सहकारी समितियों का, सहकारी संस्थानों का गठन किया जा रहा है।

कोशिश यही है कि खेती हो, पशुपालन हो, मधुमक्खी पालन हो, मुर्गीपालन हो, मछलीपालन हो, हर प्रकार से गांव की आय बढ़े।

साथियों,

गांव के विकास में अतीत में एक और बहुत बड़ी समस्या रही है। गांव की ज़मीन हो, गांव की प्रॉपर्टी हो, उसको लेकर अनेक विवाद रहते थे। गांव वालों को जमीन से जुड़े छोटे-छोटे काम के लिए तहसीलों के चक्कर काटने पड़ते थे। अब ऐसी समस्याओं का हमारी डबल इंजन की सरकार, पीएम स्वामित्व योजना के जरिए स्थाई समाधान निकाल रही है। और मध्य प्रदेश तो स्वामित्व योजना के तहत बहुत अच्छा काम कर रहा है। मध्य प्रदेश में शत-प्रतिशत गांवों का ड्रोन से सर्वे किया जा चुका है। अभी तक 20 लाख से अधिक स्वामित्व कार्ड दिए जा चुके हैं। ये जो गांव के घरों के कानूनी दस्तावेज़ मिल रहे हैं, इससे गरीब कई तरह के विवादों से बचेगा। गरीब को हर मुसीबत से बचाना ही तो मोदी की गारंटी है। आज मध्यप्रदेश के सभी 55 जिलों मेँ साइबर तहसील कार्यक्रम का भी विस्तार किया जा रहा है। अब नामांतरण, रजिस्ट्री से जुड़े मामलों का समाधान डिजिटल माध्यम से ही हो जाएगा। इससे भी ग्रामीण परिवारों का समय भी बचेगा और खर्च भी बचेगा।

साथियों,

मध्य प्रदेश के नौजवान चाहते हैं कि एमपी देश के अग्रणी औद्योगिक राज्यों में से एक बने। मैं एमपी के हर नौजवान को, विशेष रूप से फर्स्ट टाइम वोटर को कहूंगा कि, आपके लिए बीजेपी सरकार नए अवसर बनाने में कोई कसर बाकी नहीं रख रही। आपके सपने ही मोदी का संकल्प है। मध्य प्रदेश, आत्मनिर्भर भारत का, मेक इन इंडिया का एक मज़बूत स्तंभ बनेगा। मुरैना के सीतापुर में मेगा लेदर एंड फुटवेयर क्लस्टर, इंदौर में रेडीमेड गारमेंट इंडस्ट्री के लिए पार्क, मंदसौर के इंडस्ट्रियल पार्क का विस्तार, धार इंडस्ट्रियल पार्क का नया निर्माण, ये सब कुछ इसी दिशा में उठाए जा रहे कदम हैं। कांग्रेस की सरकारों ने तो मैन्युफेक्चरिंग की हमारी पारंपरिक ताकत को भी बर्बाद कर दिया था। हमारे यहां खिलौना बनाने की कितनी बड़ी परंपरा रही है। लेकिन स्थिति ये थी कि कुछ साल पहले तक हमारे बाज़ार और हमारे घर विदेशी खिलौनों से ही भरे पड़े थे। हमने देश में खिलौना बनाने वाले अपने पारंपरिक साथियों को, विश्वकर्मा परिवारों को मदद दी। आज विदेशों से खिलौनों का आयात बहुत कम हो गया है। बल्कि जितने खिलौने हम आयात करते थे, उससे ज्यादा खिलौने आज निर्यात कर रहे हैं। हमारे बुधनी के खिलौना बनाने वाले साथियों के लिए भी अनेक अवसर बनने वाले हैं। आज बुधनी में जिन सुविधाओं पर काम शुरु हुआ है, उससे खिलौना निर्माण को बल मिलेगा।

भाइयों और बहनों,

जिनको कोई नहीं पूछता, उनको मोदी पूछता है। देश में ऐसे पारंपरिक काम से जुड़े साथियों की मेहनत का प्रचार करने का जिम्मा भी अब मोदी ने उठा लिया है। मैं देश-दुनिया में आपकी कला, आपके कौशल का प्रचार कर रहा हूं और करता रहूंगा। जब मैं विदेशी अतिथियों को कुटीर उद्योग में बने सामान उपहार के रूप में देता हूं, तो आपका भी प्रचार करने का पूरा प्रयास करता हूं। जब मैं लोकल के लिए वोकल होने की बात करता हूं, तो आपके उज्ज्वल भविष्य के लिए घर-घर एक प्रकार से बात पहुंचाता हूं।

साथियों,

बीते 10 वर्षों में पूरे विश्व में भारत की साख बहुत अधिक बढ़ी है। आज दुनिया के देश भारत के साथ दोस्ती करना पसंद करते हैं। कोई भी भारतीय आज विदेश जाता है, तो उसको बहुत सम्मान मिलता है। भारत की इस बढ़ी हुई साख का सीधा लाभ निवेश में होता है, पर्यटन में होता है। आज अधिक से अधिक लोग भारत आना चाहते हैं। भारत आएंगे, तो एमपी आना तो बहुत स्वाभाविक है। क्योंकि एमपी तो अजब है, एमपी तो गजब है। पिछले कुछ वर्षों में ओंकारेश्वर और ममलेश्वर में श्रद्धालुओं की संख्या में भारी बढ़ोतरी हुई है। ओंकारेश्वर आदि गुरु शंकराचार्य की स्मृति में विकसित किए जा रहे एकात्म धाम के निर्माण में, ये संख्या और बढ़ेगी। उज्जैन में 2028 में सिंहस्थ कुंभ भी होने वाला है। इंदौर के इच्छापुर से ओंकारेश्वर तक 4-लेन सड़क के बनने से श्रद्धालुओं को और सुविधा होगी। आज जिन रेल परियोजनाओं का उद्घाटन हुआ है, उससे भी मध्य प्रदेश की कनेक्टिविटी और सशक्त होगी। जब कनेक्टिविटी बेहतर होती है, तो खेती हो, पर्यटन हो या फिर उद्योग, हर किसी को लाभ होता है।

साथियों,

बीते 10 वर्ष में हमारी नारीशक्ति के उत्थान के रहे हैं। मोदी की गारंटी थी कि माताओं-बहनों के जीवन से हर असुविधा, हर कष्ट को दूर करने का ईमानदार प्रयास करुंगा। ये गारंटी मैंने पूरी ईमानदारी से पूरा करने का प्रयास किया है। लेकिन आने वाले 5 वर्ष हमारी बहनों-बेटियों के अभूतपूर्व सशक्तिकरण के होंगे। आने वाले 5 वर्षों में हर गांव में अनेक लखपति दीदियां बनेंगी। आने वाले 5 वर्षों में गांव की बहनें, नमो ड्रोन दीदियां बनकर, खेती मे नई क्रांति का आधार बनेंगी। आने वाले 5 वर्षों में बहनों की आर्थिक स्थिति में अभूतपूर्व सुधार आएगा। हाल में एक रिपोर्ट आई है। इसके मुताबिक, बीते 10 वर्षों में गरीब कल्याण के लिए जो काम हुए हैं, उससे गांव के गरीब परिवारों की आय तेज़ी से बढ़ रही है। रिपोर्ट के मुताबिक शहरों के मुकाबले गांव में आय ज्यादा तेज़ी से बढ़ रही है। बीते 10 वर्षों में 25 करोड़ देशवासी गरीबी से बाहर आए हैं। यानि बीजेपी सरकार सही दिशा में काम कर रही है। मुझे विश्वास है कि मध्य प्रदेश ऐसे ही तेजी से विकास की नई ऊंचाई प्राप्त करता रहेगा। एक बार फिर आप सभी को विकास कार्यों की बहुत-बहुत बधाई देता हूं। और आज आप इतनी बड़ी तादाद में वीडियो कांफ्रेंस वाले कार्यक्रम में आए, आपने नया इतिहास बना दिया है। मैं आप सब भाई-बहनों का ह्दय से धन्यवाद करता हूं।

धन्यवाद !