Centre's free ration scheme will be extended by 5 more years: PM Modi in Ratlam

Published By : Admin | November 4, 2023 | 16:12 IST
Centre's free ration scheme, Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojana will be extended by 5 more years, says PM Modi in Ratlam
Be it the country or Madhya Pradesh, Congress is only left with false promises. Congress doesn't even know the roadmap for the development of Madhya Pradesh: PM Modi
In Ratlam, PM Modi says the bag of urea, which costs Rs 3,000 in foreign countries, today is available to Indian farmers for less than Rs 300
Congress leaders are filmy, their dialogues are also filmy. When the characters are filmy then the scene will also be filmy: PM Modi takes a dig at Congress leaders in Ratlam

भारत माता की...

भारत माता की...

मैं खाटूश्याम जी को शीश नवाकर प्रणाम करता हूं। श्री नागेश्वर पार्श्वनाथ तीर्थ को भी मेरा प्रणाम। रतलाम की पहचान, स्वाद के लिए है। रतलाम आए और रतलामी सेव नहीं खाया तो उसे रतलाम आया माना नहीं जाता है। सही बात है ना? यही सच्चाई है ना? जब 3 दिसंबर को भाजपा सरकार की वापसी का जश्न मनेगा, तो लड्डू के साथ रतलामी सेव भी खूब खाया जाएगा।

मेरे परिवारजनों,
MP में भाजपा के समर्थन में चल रही ये आंधी अद्भुत है। जो लोग दिल्ली में बैठकर के गुणा-भाग करते रहते हैं ना आज उनका हिसाब-किताब बदल जाएगा। अब चर्चा ये नहीं होगी कौन जीतेगा? चर्चा ये होगी कि भाजपा दो तिहाई बहुमत लेगा या दो तिहाई बहुमत के कम रहेगा? ये भाजपा ही है जिसने MP को एग्रीकल्चर में इतना आगे बढ़ाया। ये भाजपा ही है जिसने MP को रोड और रेल नेटवर्क में इतना आगे बढ़ाया। ये भाजपा ही जिसने MP में औद्योगिक विकास किया, इसे आधुनिक शिक्षा का हब बनाया। इसलिए MP के लोग भाजपा पर अटूट विश्वास करते हैं। और भाजपा पर मध्य प्रदेश का ये भरोसा तब से है जब देश में भाजपा को बहुत कम लोग जानते थे। आज तो भाजपा, दुनिया का सबसे बड़ा राजनीतिक दल है। आज केंद्र में करीब 10 साल से भाजपा की सरकार है। वो भाजपा सरकार, जिसने भारत को विश्व में 5वें नंबर की आर्थिक शक्ति बना दिया। वो भाजपा सरकार जिसने कोरोना के इतने बड़े महासंकट में देश को पिछड़ने नहीं दिया। वो भाजपा सरकार जिसके कार्यकाल में देश ने चंद्रमा पर अपना झंडा गाड़ा। आज भारत के गौरव को नई बुलंदी मिली है, नई पहचान मिली है। और इसमें मध्य प्रदेश का भी बहुत बड़ा योगदान है। इसलिए, लोग आज कहते हैं कि एमपी के मन में मोदी है और मोदी के मन में एमपी है। इसलिए, एमपी कह रहा है-
एक बार फिर... एक बार फिर... एक बार फिर... भाजपा सरकार !

मेरे परिवारजनों,
देश हो या फिर मध्य प्रदेश, कांग्रेस के पास सिर्फ झूठी घोषणाओं का भोंपू ही बच गया है। मध्य प्रदेश के विकास के लिए ठोस रोडमैप क्या होगा, ये कांग्रेस को पता तक नहीं है। इतनी दूर की कांग्रेस सोच ही नहीं सकती। कांग्रेस के नेता फिल्मी हैं। कांग्रेसियों के डायलॉग फिल्मी हैं। कांग्रेस की घोषणाएं भी फिल्मी हैं। और जब किरदार फिल्मी हैं, तब सीन भी तो फिल्मी ही होगा। यहां कांग्रेस के दो नेताओं के बीच, कपड़े फाड़ने का कंपटीशन चल रहा है। और अभी तो ये फिल्म का ट्रेलर है। ये अपने-अपने चेलों को बताते हैं कि एक बार अगर मौका मिल गया ना तो उसके वे खुद के तो फाड़ेंगे ही आपके भी फाड़ेंगे। 3 दिसंबर को भाजपा की जीत के बाद यहां कांग्रेस की असली पिक्चर दिखेगी, कांग्रेस की असली सिर-फुटव्वल होगी। अभी तो प्रैक्टिस चल रही है।

साथियों,
कांग्रेस की आपसी लड़ाई में हमें एक बात कभी भी भूलनी नहीं है। आप याद रखिए, ये जो आपस में गुथमगुत्था है ना, एक-दूसरे के कपड़े फाड़ रहे हैं ना। जहां भी उनको मौका मिला है ना उन्होंने जनता के ही कपड़े फाड़ दिए हैं और इनको अवसर देना बहुत बड़ा संकट होता है।

मेरे प्यारे परिवारजनों,
आप राजस्थान और छत्तीसगढ़ में देखिए, 5 साल तक इन्होंने इन राज्यों का क्या हाल कर के रखा दिया है। कांग्रेस मतलब राज्य में हजारों करोड़ के घोटाले, कांग्रेस मतलब राज्य में अपराधियों का बोल-बाला, कांग्रेस मतलब राज्य में गरीबों से विश्वासघात, कांग्रेस मतलब राज्य में दलितों-पिछड़ों-अदिवासियों पर अत्याचार, कांग्रेस मतलब राज्य को बीमार बनाने की गारंटी। कांग्रेस को ऐसे ही काम उनके चरित्र में बन गए उनके स्वभाव में बन गए उनके खून का हिस्सा बन गए। जानते हैं कि यहां के कांग्रेस के शीर्ष नेता आपस में क्यों लड़ रहे हैं? ये सीएम की कुर्सी के लिए नहीं लड़ रहे, उन्हें पता है कि MP में उनकी दाल गलने वाली नहीं है। इसलिए वे सीएम की कुर्सी के लिए नहीं ल़ड़ रहे हैं। ये जो अंदर गुत्थमगुत्थी चल रही है ना कपड़ा फाड़ काम चल रहा है ना, ये दोनों नेता तो अपने-अपने बेटों के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं, कि आगे किसको मिलेगा। लड़ाई इस बात की है कि किसका बेटा, मध्य प्रदेश कांग्रेस पर कब्ज़ा करेगा। कांग्रेस सिर्फ परिवारवाद का परचम लहरा सकती है। मध्य प्रदेश का परचम लहराना कांग्रेस के बस की बात नहीं है।

साथियों,
भाजपा, आपके परिवार के वर्तमान, आपके बच्चों के भविष्य के लिए काम कर रही है। आपका सपना ही, मध्य प्रदेश के मेरे भाइयों और बहनों, मेरी गारंटी है आपका सपना ही मोदी का संकल्प है। इसलिए गरीब से गरीब परिवार को समर्थ बनाना भाजपा सरकार का मिशन है। इसलिए भाजपा सरकार, गरीब की हर चिंता का समाधान कर रही है, गरीब की हर छोटी-छोटी जरूरत को पूरा कर रही है। जैसे गरीब का बहुत बड़ा सपना होता है कि उसके पास अपना पक्का घर हो। जब केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी तो गरीबों के घर बनाने में उसकी कोई दिलचस्पी नहीं थी। ये भाजपा सरकार है जिसने पिछले 10 साल में 4 करोड़ से ज्यादा घर गरीबों को बनाकर के दिए हैं। मध्य प्रदेश में भी करीब-करीब 50 लाख गरीबों को पीएम आवास योजना के पक्के घर मिले हैं। यहां रतलाम में भी गरीबों के लिए 90 हजार घर बनाए गए हैं। ये लाखों रुपए के घर हैं और इनमें से अधिकतर घरों की रजिस्ट्री बहनों के नाम पर हुई है। और अब हमारा मध्य प्रदेश तो जब बहन को याद करो तो मामा याद आ ही जाता है। यानि, यहां की हज़ारों महिलाएं, लखपति बनी हैं, उनके नाम पर पहली बार कोई संपत्ति हुई है। हमारे शहरों में रहने वाले मध्यम वर्ग के लोगों का, अपने घर का सपना पूरा हो, इसके लिए भी केंद्र सरकार पूरी गंभीरता से काम कर रही है। जिसकी 18 लाख रुपए की आय है, उसे घर खरीदने पर ब्याज में छूट देने वाली योजना चलाई जा रही है। और इस देश में आजादी के इतने सालों के बाद भी मध्यम वर्ग के लिए शहरी मध्यम वर्ग के लिए किसी सरकार ने योजना नहीं बनाई थी। ये मोदी पहला प्रधानमंत्री है जिसने इसकी चिंता की। इस योजना का लाभ लेने वाले मध्यम वर्ग के हर परिवार को लाखों रुपए की मदद हो रही है।

मेरे परिवारजनों,
जब मैं गरीबों की बात करता हूं, तो इसमें भी सबसे बड़ी संख्या, मेरे दलित भाई-बहन, मेरे पिछड़े भाई-बहन और मेरे आदिवासी परिवारों की रही है। ये भाजपा ही है जिसने कोरोना के संकट काल में भी गरीबों को मुफ्त राशन देने की योजना बनाई। एक वक्त के खाने की भूख क्या होती है, ये गरीबी से निकला व्यक्ति ही महसूस कर सकता है। देश की किसी मां को, किसी पिता को, अपने बच्चे को भूखा ना देखना पड़े, आज मोदी इसकी गारंटी बन गया है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत देश में पिछले तीन साल से गरीबों को मुफ्त राशन दिया जा रहा है। मुफ्त राशन से जुड़ा एक और निश्चय, और मोदी तो गरीबी से निकला है ना, उसे मालूम है.. मेरा एक और निर्णय है, मेरा एक और निश्चय है। वैसे तो ये योजना एक महीने के बाद उसका समय पूरा हो रहा है। 80 करोड़ गरीबों को मुफ्त राशन देने वाली योजना दिसंबर में पूरी हो रही है, लेकिन मोदी का निश्चय है आने वाले पांच साल के लिए इसको बढ़ाया जाएगा। आने वाले पांच साल तक 80 करोड़ मेरे देशवासियों का चूल्हा जलता रहे। ये मोदी की गारंटी है। और अब ये योजना पांच साल के लिए आगे बढ़ेगी। गरीबों को राशन मुफ्त में मिलता रहेगा। उसे जो पैसे बचेंगे वो जीवन के और आवश्यकताओं के लिए मेरा गरीब लगाएगा। देश के हर गरीब को, हर माता-बहन को मोदी जब गारंटी देता है ना तो गारंटी पूरी करने की गारंटी साथ देकर आता है।

साथियों,
भाजपा की डबल इंजन सरकार की हर योजना के मूल में माताएं-बहनें और बेटियां हैं। शौचालय के अभाव में, गैस कनेक्शन के अभाव में, बिजली और पानी के अभाव में, सबसे अधिक परेशानी अगर किसी को होती है तो परिवार में हमारी माताओ, बहनों, और बेटियों को ही होती है। उज्जवला योजना के कारण आदिवासी परिवारों की, दलित-पिछड़े परिवारों की करोड़ों बहनों को धुएं से मुक्ति मिली है। और आपको कुछ ही दिन पहले रक्षाबंधन पर एक और खुशखबरी मैंने भेजी थी, उज्जवला की लाभार्थियों बहनों के लिए गैस सिलेंडर, 500 रुपए सस्ता कर दिया गया है। बहनों को पानी के लिए घर से दूर ना जाना पड़े, इसका बीड़ा भी आपके इस भाई ने ही उठाया है। हर घर जल अभियान, के तहत मध्य प्रदेश के लाखों परिवारों को नल से जल की सुविधा दी जा चुकी है। और वो दिन दूर नहीं, जब एमपी के हर घर में पाइप से पानी की सुविधा होगी।

साथियों,
डबल इंजन सरकार का क्या फायदा होता है, इसका एक और उदाहरण हमारे जनधन खाते हैं। मोदी ने महिलाओं के बैंकों में खाते खुलवाए, हर लाभ, उन बैंक खातों में पहुंचे इसकी व्यवस्था की। यहां मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार ने उन बैंक खातों के माध्यम से बहनों-बेटियों तक सीधी सहायता पहुंचाई। लाडली बहन योजना और लाडली लक्ष्मी योजना की प्रशंसा आज पूरे देश में हो रही है। गर्भवती माताओं को भी अच्छा पोषक आहार मिले, इसके लिए भी प्रधानमंत्री मातृवंदना योजना चल रही है। इसके तहत भी मध्य प्रदेश की लाखों बहनों को 1600 करोड़ रुपए दिए जा चुके हैं।

मेरे परिवारजनों,
माताओं-बहनों के सशक्तिकरण की ये सच्ची कोशिश ही भाजपा सरकार की सही पहचान है। इसलिए भाजपा ने महिलाओं को दी गई अपनी एक-एक गारंटी पूरी की है। महिलाओं के लिए विधानसभा और लोकसभा में 33 प्रतिशत आरक्षण की मांग पर कांग्रेस बरसों तक बैठी रही। हमने नारीशक्ति वंदन अधिनियम लाकर महिलाओं की बरसों पुरानी मांग पूरी की। कांग्रेस तो ऐसी पार्टी है, जो एक परिवार से बाहर देख ही नहीं सकती। इसलिए आदिवासियों के सच्चे सशक्तिकरण के लिए भी उसने कभी काम नहीं किया। आप याद कीजिए, देश की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति जी का कांग्रेस ने कितना घनघोर विरोध किया था। भाजपा के ही एक पुराने नेता को उनके खिलाफ मैदान में उतारकर, कांग्रेस ने दिखाया कि वो आदिवासी बेटी को रोकने के लिए किस हद तक जा सकती है। इसलिए पूरे देश का आदिवासी समाज, कांग्रेस से बहुत नाराज़ है। कांग्रेस को सजा देने के मूड में है।

मेरे परिवारजनों,
आदिवासी हितों की रक्षा, आदिवासी भाई-बहनों का कल्याण, भाजपा की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है। ये भाजपा है, जिसने देश की आजादी में आदिवासी समाज के योगदान को राष्ट्रीय पहचान दी है।
ये भाजपा सरकार ही है जिसने भगवान बिरसा मुंडा के जन्मदिन 15 नवंबर को जनजातीय गौरव दिवस घोषित किया है। कुछ दिन पहले ही हमने रानी दुर्गावती की 500वीं जन्म-जयंति को धूमधाम से मनाया है। मुझे जबलपुर में उनके भव्य स्मारक का, गोंड संस्कृति के स्मारक का शिलान्यास करने का अवसर मिला। मैं और शिवराज जी दोनों वहां जाकर के एक बहुत बड़े काम का आरंभ किया। आज भारत के आधुनिकतम रेलवे स्टेशन का नाम, रानी कमलापति के नाम पर है। आज जननायक टंट्याभील के नाम पर मध्य प्रदेश में अनेक संस्थान हैं, अनेक योजनाएँ हैं।

मेरे परिवारजनों,
भाजपा सरकार लोकल उत्पादों को देश-विदेश तक पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है। इसलिए, एक जिला, एक उत्‍पाद के तहत वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट के तहत रतलामी सेव को चुना गया है। यहां नमकीन क्‍लस्‍टर भी स्‍थापित किया गया है। जो नए औद्योगिक क्‍लस्‍टर बन रहे हैं, उससे भी छोटे-छोटे उद्योगों को बल मिलेगा। नए टेक्‍सटाइल पार्क से भी अनेक रोजगार बनने वाले हैं। भाजपा के शासन में 21वीं सदी का मध्य प्रदेश अब आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर से लैस हो रहा है। रतलाम से भी कभी 8 लेन का एक्सप्रेस वे होकर गुज़रेगा, पुरानी पीढ़ी ने ये सोचा भी नहीं होगा। लेकिन आज ये एक सच्चाई बन चुका है। दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस-वे की वजह से ये क्षेत्र कोटा और सूरत जैसे शहरों से भी कनेक्ट हो गया है। अब यहां उद्योगों के लिए नया गलियारा बनने जा रहा है। नया कॉरिडोर बनने जा रहा है। इससे यहां के युवाओं के लिए रोजगार के नए अवसर बनने जा रहे हैं। इससे एक महत्वपूर्ण व्यापारिक केंद्र के रूप में मालवा की, रतलाम की पहचान और सशक्त होगी।

मेरे परिवारजनों,
देश में ऐसा कोई नहीं है जिसे कांग्रेस ने कभी ठगा नहीं है। हर चुनाव में कांग्रेस, कर्जमाफी का झुनझुना लेकर आती रहती है। पिछली बार भी इन्होंने यही किया था। लेकिन कांग्रेस का इतिहास है कि कांग्रेस की कर्जमाफी का फायदा किसानों को नहीं कांग्रेसियों को उनके चेले चपाटों को ही मिलता है। जबकि भाजपा सरकार जो कहती है, वो करके दिखाती है। हम किसानों के हर छोटे-बड़े खर्चों की चिंता कर रहे हैं। पीएम किसान सम्मान निधि के तहत देशभर के किसानों को 2 लाख 60 हज़ार करोड़ रुपए सीधे उनके बैंक खाते में भेजे गए हैं। मध्य प्रदेश में तो डबल इंजन सरकार के कारण, किसानों को डबल फायदा मिल रहा है। आज अनाज हो या फिर दलहन-तिलहन, कांग्रेस राज की तुलना में भाजपा सरकार, कहीं ज्यादा मात्रा में खरीद कर रही है। हाल ही में गेहूं, चना और दूसरी फसलों के MSP में भी बड़ी बढ़ोतरी की गई है। इसका लाभ भी मध्य प्रदेश के किसानों को होगा।
किसानों को महंगा यूरिया, महंगी खाद ना खरीदनी पड़े, इसके लिए भी भाजपा सरकार लगातार काम कर रही है। विदेशों में यूरिया की जो बोरी 3 हज़ार रुपए की है, आज वही बोरी भारत के किसानों को 300 रुपए से भी कम में मिलती है। इस पर भी भाजपा सरकार लाखों करोड़ रुपए खर्च कर रही है।

मेरे परिवारजनों,
समाज के हर वर्ग, हर क्षेत्र, हर परिवार के हित में जब ऐसे काम होते हैं, तभी भाजपा सरकार पर इतना अधिक भरोसा होता है। यहां रतलाम में जो कुछ मैं देख रहा हूं, वो भाजपा की प्रचंड विजय का उद्घोष है। साथियों मैं अभी छत्तीसगढ़ से आ रहा हूं। मेरा ये शब्द लिख लीजिए... छत्तीसगढ़ में भी भाजपा सरकार बनना तय है। लेकिन भाजपा की ये विजय सिर्फ सीटों तक सीमित नहीं रहनी चाहिए, बल्कि शत-प्रतिशत बूथों में कमल खिलना चाहिए। आप इतनी बड़ी संख्या में आए। आपके दर्शन का मुझे सौभाग्य मिला। लेकिन मेरा एक काम यहां आए हैं तो करना पड़ेगा। करोगे? जो वहां टेंट के बाहर लोग बहुत खड़े हैं, सुन रहे हैं मेरी बात। जरा हाथ ऊपर करके बताइए मेरा काम करेंगे? मेरा एक काम करेगे आपलोग? ये वाले टेंट वाले भी करेंगे? ये वाले भी करेंगे? पक्का करेंगे? मैं भरोसा करूं? वाह.. तो मेरा ये काम करिए। ये जो मैं कह रहा हूं ना काम वो चुनावी काम नहीं है। करोगे ना? चुनाव के लिए नहीं कह रहा हूं मेरे लिए कह रहा हूं। करोगे पक्का? एक काम करिएगा। यहां से घर-घर जाइए.. और हर घर जाकर के कहिए कि मोदी जी रतलाम आए थे, मोदी जी ने आपको प्रणाम कहा है। इतना कह देंगे? मेरा प्रणाम पहुंचा देंगे? हर परिवार में जब मेरा प्रणाम पहुंचेगा वो माता वो बुजुर्ग, घरे के परिवार के मुखिया जब मुझे आशीर्वाद देते हैं ना तो काम करने की मेरी ताकत कई गुना बढ़ जाती है। साथियों आप इतनी बड़ी तादाद में आए, ये मोमेंटम बना रहे। मेरे साथ बोलिए भारत माता की...

भारत माता की...

भारत माता की...

बहुत-बहुत धन्यवाद

Explore More
77வது சுதந்திர தினத்தை முன்னிட்டு செங்கோட்டை கொத்தளத்தலிருந்து பிரதமர் திரு நரேந்திர மோடி நிகழ்த்திய உரையின் தமிழாக்கம்

பிரபலமான பேச்சுகள்

77வது சுதந்திர தினத்தை முன்னிட்டு செங்கோட்டை கொத்தளத்தலிருந்து பிரதமர் திரு நரேந்திர மோடி நிகழ்த்திய உரையின் தமிழாக்கம்
Equity euphoria boosts mutual fund investor additions by 70% in FY24

Media Coverage

Equity euphoria boosts mutual fund investor additions by 70% in FY24
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Text of PM Modi's speech at public rally in Udhampur, Jammu & Kashmir
April 12, 2024
After several decades, it is the first time that Terrorism, Bandhs, stone pelting, border skirmishes are not the issues for the upcoming Lok Sabha elections in the state of JandK
For a Viksit Bharat, a Viksit JandK is imminent. The NC, PDP and the Congress parties are dynastic parties who do not wish for the holistic development of JandK
Abrogation of Article 370 has enabled equal constitutional rights for all, record increase in tourism and establishment of I.I.M. and I.I.T. for quality educational prospects in JandK
The I.N.D.I alliance have disregarded the culture as well as the development of India, and a direct example of this is the opposition and boycott of the Pran-Pratishtha of Shri Ram
In the advent of continuing their politics of appeasement, the leaders of I.N.D.I alliance lived in big bungalows but forced Ram Lalla to live in a tent

भारत माता की जय...भारत माता की जय...भारत माता की जय...सारे डुग्गरदेस दे लोकें गी मेरा नमस्कार! ज़ोर कन्ने बोलो...जय माता दी! जोर से बोलो...जय माता दी ! सारे बोलो…जय माता दी !

मैं उधमपुर, पिछले कई दशकों से आ रहा हूं। जम्मू कश्मीर की धरती पर आना-जाना पीछले पांच दशक से चल रहा है। मुझे याद है 1992 में एकता यात्रा के दौरान यहां जो आपने भव्य स्वागत किया था। जो सम्मान किया था। एक प्रकार से पूरा क्षेत्र रोड पर आ गया था। और आप भी जानते हैं। तब हमारा मिशन, कश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा फहराने का था। तब यहां माताओं-बहनों ने बहुत आशीर्वाद दिया था।

2014 में माता वैष्णों देवी के दर्शन करके आया था। इसी मैदान पर मैंने आपको गारंटी दी थी कि जम्मू कश्मीर की अनेक पीढ़ियों ने जो कुछ सहा है, उससे मुक्ति दिलाऊंगा। आज आपके आशीर्वाद से मोदी ने वो गारंटी पूरी की है। दशकों बाद ये पहला चुनाव है, जब आतंकवाद, अलगाववाद, पत्थरबाज़ी, बंद-हड़ताल, सीमापार से गोलीबारी, ये चुनाव के मुद्दे ही नहीं हैं। तब माता वैष्णो देवी यात्रा हो या अमरनाथ यात्रा, ये सुरक्षित तरीके से कैसे हों, इसको लेकर ही चिंताएं होती थीं। अगर एक दिन शांति से गया तो अखबार में बड़ी खबर बन जाती थी। आज स्थिति एकदम बदल गई है। आज जम्मू- कश्मीर में विकास भी हो रहा है और विश्वास भी बढ़ रहा है। इसलिए, आज जम्मू-कश्मीर के चप्पे-चप्पे में भी एक ही गूंज सुनाई दे रही है-फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

भाइयों और बहनों,

ये चुनाव सिर्फ सांसद चुनने भर का नहीं है, बल्कि ये देश में एक मजबूत सरकार बनाने का चुनाव है। सरकार मजबूत होती है तो जमीन पर चुनौतियों के बीच भी चुनौतियों को चुनौती देते हुए काम करके दिखाती है। दिखता है कि नहीं दिखता है...दिखता है कि नहीं दिखता है। यहां जो पुराने लोग हैं, उनको 10 साल पहले का मेरा भाषण याद होगा। यहीं मैंने आपसे कहा था कि आप मुझपर भरोसा कीजिए, याद है ना मैंने कहा था कि मुझ पर भरोसा कीजिए। मैं 60 वर्षों की समस्याओं का समाधान करके दिखाउंगा। तब मैंने यहां माताओं-बहनों के सम्मान देने की गारंटी दी थी। गरीब को 2 वक्त के खाने की चिंता न करनी पड़े, इसकी गारंटी दी थी। आज जम्मू-कश्मीर के लाखों परिवारों के पास अगले 5 साल तक मुफ्त राशन की गारंटी है। आज जम्मू कश्मीर के लाखों परिवारों के पास 5 लाख रुपए के मुफ्त इलाज की गारंटी है। 10 वर्ष पहले तक जम्मू कश्मीर के कितने ही गांव थे, जहां बिजली-पानी और सड़क तक नहीं थी। आज गांव-गांव तक बिजली पहुंच चुकी है। आज जम्मू-कश्मीर के 75 प्रतिशत से ज्यादा घरों को पाइप से पानी की सुविधा मिल रही है। इतना ही नहीं ये डिजिटल का जमाना है, डिजिटल कनेक्टिविटी चाहिए, मोबाइल टावर दूर-सुदूर पहाड़ों में लगाने का अभियान चलाया है। 

भाइयों और बहनों,

मोदी की गारंटी यानि गारंटी पूरा होने की गारंटी। आप याद कीजिए, कांग्रेस की कमज़ोर सरकारों ने शाहपुर कंडी डैम को कैसे दशकों तक लटकाए रखा था। जम्मू के किसानों के खेत सूखे थे, गांव अंधेरे में थे, लेकिन हमारे हक का रावी का पानी पाकिस्तान जा रहा था। मोदी ने किसानों को गारंटी दी थी और इसे पूरा भी कर दिखाया है। इससे कठुआ और सांबा के हजारों किसानों को फायदा हुआ है। यही नहीं, इस डैम से जो बिजली पैदा होगी, वो जम्मू कश्मीर के घरों को रोशन करेगी।

भाइयों और बहनों,

मोदी विकसित भारत के लिए विकसित जम्मू-कश्मीर के निर्माण की गारंटी दे रहा है। लेकिन कांग्रेस, नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी और बाकी सारे दल जम्मू-कश्मीर को फिर उन पुराने दिनों की तरफ ले जाना चाहते हैं। इन ‘परिवार-चलित’ पार्टियों ने, परिवार के द्वारा ही चलने वाली पार्टियों ने जम्मू कश्मीर का जितना नुकसान किया, उतना किसी ने नहीं किया है। यहां तो पॉलिटिकल पार्टी मतलब ऑफ द फैमिली, बाई द फैमिली, फॉर द फैमिली। सत्ता के लिए इन्होंने जम्मू कश्मीर में 370 की दीवार बना दी थी। जम्मू-कश्मीर के लोग बाहर नहीं झांक सकते थे और बाहर वाले जम्मू-कश्मीर की तरफ नहीं झांक सकते थे। ऐसा भ्रम बनाकर रखा था कि उनकी जिंदगी 370 है तभी बचेगी। ऐसा झूठ चलाया। ऐसा झूठ चलाया। आपके आशीर्वाद से मोदी ने 370 की दीवार गिरा दी। दीवार गिरा दी इतना ही नहीं, उसके मलबे को भी जमीन में गाड़ दिया है मैंने। 

मैं चुनौती देता हूं हिंदुस्तान की कोई पॉलीटिकल पार्टी हिम्मत करके आ जाए। विशेष कर मैं कांग्रेस को चुनौती देता हूं। वह घोषणा करें कि 370 को वापस लाएंगे। यह देश उनका मुंह तक देखने को तैयार नहीं होगा। यह कैसे-कैसे भ्रम फैलाते हैँ। कैसे-कैसे लोगों को डरा कर रखते हैं। यह कहते थे, 370 हटी तो आग लग जाएगी। जम्मू-कश्मीर हमें छोड़ कर चला जाएगा। लेकिन जम्मू कश्मीर के नौजवानों ने इनको आइना दिखा दिया। अब देखिए, जब यहां उनकी नहीं चली जम्मू-कश्मीर को लोग उनकी असलीयत को जान गए। अब जम्मू-कश्मीर में उनके झूठे वादे भ्रम का मायाजाल नहीं चल पा रही है। तो ये लोग जम्मू-कश्मीर के बाहर देश के लोगों के बीच भ्रम फैलाने का खेल-खेल रहे हैं। यह कहते हैं कि 370 हटने से देश का कोई लाभ नहीं हुआ। जिस राज्य में जाते हैं, वहां भी बोलते हैं। तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ, तुम्हारे राज्य को क्या लाभ हुआ? 

370 के हटने से क्या लाभ हुआ है, वो जम्मू-कश्मीर की मेरी बहनों-बेटियों से पूछो, जो अपने हकों के लिए तरस रही थी। यह उनका भाई, यह उनका बेटा, उन्होंने उनके हक वापस दिए हैं। जरा कांग्रेस के लोगों जरा देश भर के दलित नेताओं से मैं कहना चाहता हूं। यहां के हमारे दलित भाई-बहन हमारे बाल्मीकि भाई-बहन देश आजाद हुआ, तब से परेशानी झेल रहे थे। जरा जाकर उन बाल्मीकि भाई-बहनों से पूछो और गड्डा ब्राह्मण, कोहली से पूछो और पहाड़ी परिवार हों, मचैल माता की भूमि में रहने वाले मेरे पाड्डरी साथी हों, अब हर किसी को संविधान में मिले अधिकार मिलने लगे हैं।

अब हमारे फौजियों की वीर माताओं को चिंता नहीं करनी पड़ती, क्योंकि पत्थरबाज़ी नहीं होती। इतना ही नहीं घाटी की माताएं मुझे आशीर्वाद देती हैं, उनको चिंता रहती थी कि बेटा अगर दो चार दिन दिखाई ना दे। तो उनको लगता था कि कहीं गलत हाथों में तो नहीं फंस गया है। आज कश्मीर घाटी की हर माता चैन की नींद सोती है क्योंकि अब उनका बच्चा बर्बाद होने से बच रहा है। 

साथियो, 

अब स्कूल नहीं जलाए जाते, बल्कि स्कूल सजाए जाते हैं। अब यहां एम्स बन रहे हैं, IIT बन रहे हैं, IIM बन रहे हैं। अब आधुनिक टनल, आधुनिक और चौड़ी सड़कें, शानदार रेल का सफर जम्मू-कश्मीर की तकदीर बन रही है। जम्मू हो या कश्मीर, अब रिकॉर्ड संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु आने लगे हैं। ये सपना यहां की अनेक पीढ़ियों ने देखा है और मैं आपको गारंटी देता हूं कि आपका सपना, मोदी का संकल्प है। आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल आपके नाम, आपके सपनों को पूरा करने के लिए हर पल देश के नाम, विकसित भारत का सपना पूरा करने के लिए 24/7, 24/74 फॉर 2047, यह मोदी के गारंटी है। 10 सालों में हमने आतंकवादियों और भ्रष्टाचारियों पर घेरा बहुत ही कसा है। अब आने वाले 5 सालों में इस क्षेत्र को विकास की नई ऊंचाई पर ले जाना है।

साथियों,

सड़क, बिजली, पानी, यात्रा, प्रवास वो तो है। सबसे बड़ी बात है कि जम्मू-कश्मीर का मन बदला है। निराशा में से आशा की और बढ़े हैं। जीवन पूरी तरीके से विश्वास से भरा हुआ है, इतना विकास यहां हुआ है। चारों तरफ विकास हो रहा। लोग कहेंगे, मोदी जी अभी इतना कर लिया। चिंता मत कीजिए, हम आपके साथ हैं। आपका साथ उसके प्रति तो मेरा अपार विश्वास है। मैं यहां ना आता तो भी मुझे पता था कि जम्मू कश्मीर का मेरा नाता इतना गहरा है कि आप मेरे लिए मुझे भी ज्यादा करेंगे। लेकिन मैं तो आया हूं। मां वैष्णो देवी के चरणों में बैठे हुए आप लोगों के बीच दर्शन करने के लिए। मां वैष्णो देवी की छत्रछाया में जीने वाले भी मेरे लिए दर्शन की योग्य होते हैं और जब लोग कहते हैं, कितना कर लिया, इतना हो गया, इतना हो गया और इससे ज्यादा क्या कर सकते हैं। मेरे जम्मू कश्मीर के भाई-बहन अपने पहले इतने बुरे दिन देखे हैं कि आपको यह सब बहुत लग रहा है। बहुत अच्छा लग रहा है लेकिन जो विकास जैसा लग रहा है लेकिन मोदी है ना वह तो बहुत बड़ा सोचता है। यह मोदी दूर का सोचता है। और इसलिए अब तक जो हुआ है वह तो ट्रेलर है ट्रेलर। मुझे तो नए जम्मू कश्मीर की नई और शानदार तस्वीर बनाने के लिए जुट जाना है। 

वो समय दूर नहीं जब जम्मू-कश्मीर में भी विधानसभा के चुनाव होंगे। जम्मू कश्मीर को वापस राज्य का दर्जा मिलेगा। आप अपने विधायक, अपने मंत्रियों से अपने सपने साझा कर पाएंगे। हर वर्ग की समस्याओं का तेज़ी से समाधान होगा। यहां जो सड़कों और रेल का काम चल रहा है, वो तेज़ी से पूरा होगा। देश-विदेश से बड़ी-बड़ी कंपनियां, बड़ी-बड़ी फैक्ट्रियां औऱ ज्यादा संख्या में आएंगी। जम्मू कश्मीर, टूरिज्म के साथ ही sports और start-ups के लिए जाना जाएगा, इस संकल्प को लेकर मुझे जम्मू कश्मीर को आगे बढ़ाना है। 

भाइयों और बहनों,

ये ‘परिवार-चलित’ परिवारवादी , परिवार के लिए जीने मरने वाली पार्टियां, विकास की भी विरोधी है और विरासत की भी विरोधी है। आपने देखा होगा कि कांग्रेस राम मंदिर से कितनी नफरत करती है। कांग्रेस और उनकी पूरा इको सिस्टम अगर मुंह से कहीं राम मंदिर निकल गया। तो चिल्लाने लग जाती है, रात-दिन चिल्लाती है कि राम मंदिर बीजेपी के लिए चुनावी मुद्दा है। राम मंदिर ना चुनाव का मुद्दा था, ना चुनाव का मुद्दा है और ना कभी चुनाव का मुद्दा बनेगा। अरे राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था, जब कि भाजपा का जन्म भी नहीं हुआ था। राम मंदिर का संघर्ष तो तब से हो रहा था जब यहां अंग्रेजी सल्तनत भी नहीं आई थी। राम मंदिर का संघर्ष 500 साल पुराना है। जब कोई चुनाव का नामोनिशान नहीं था। जब विदेशी आक्रांताओं ने हमारे मंदिर तोड़े, तो भारत के लोगों ने अपने धर्मस्थलों को बचाने की लड़ाई लड़ी थी। वर्षों तक, लोगों ने अपनी ही आस्था के लिए क्या-क्या नहीं झेला। कांग्रेस और उसके सहयोगी दलों के नेता बड़े-बड़े बंगलों में रहते थे, लेकिन जब रामलला के टेंट बदलने की बात आती थी तो ये लोग मुंह फेर लेते थे, अदालतों की धमकियां देते थे। बारिश में रामलला का टेंट टपकता रहता था और रामलला के भक्त टेंट बदलवाने के लिए अदालतों के चक्कर काटते रहते थे। ये उन करोड़ों-अरबों लोगों की आस्था पर आघात था, जो राम को अपना आराध्य कहते हैं। हमने इन्हीं लोगों से कहा कि एक दिन आएगा, जब रामलला भव्य मंदिर में विराजेंगे। और तीन बातें कभी भूल नहीं सकते। एक 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद ये हुआ। आप सहमत हैं। 500 साल के अविरत संघर्ष के बाद हुआ है, आप सहमत हैं। दूसरा, पूरी न्यायिक प्रक्रिया की कसौटी से कस करके, न्याय के तराजू से तौल करके अदालत के निर्णय से ये काम हुआ है, सहमत हैं। तीसरा, ये भव्य राम मंदिर सरकारी खजाने से नहीं, देश के कोटि-कोटि नागरिकों ने पाई-पाई दान देकर बनाया है। सहमत हैं। 

जब उस मंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा हुई तो पिछले 70 साल में कांग्रेस ने जो भी पाप किए थे, उनके साथियों ने जो रुकावटें डाली थी, सबको माफ करके, राम मंदिर के जो ट्रस्टी हैं, वो खुद कांग्रेस वालों के घर गए, इंडी गठबंधन वालों के घर गए, उनके पुराने पापों को माफ कर दिया। उन्होंने कहा राम आपके भी हैं, आप प्राण-प्रतिष्ठा में जरूर पधारिये। सम्मान के साथ बुलाया। लेकिन उन्होंने इस निमंत्रण को भी ठुकरा दिया। कोई बताए, वो कौन सा चुनावी कारनामा था, जिसके दबाव में आपने राम मंदिर के प्राण-प्रतिष्ठा के निमंत्रण को ठुकरा दिया। वो कौन सा चुनावी खेल था कि आपने प्राण-प्रतिष्ठा के पवित्र कार्य को ठुकरा दिया। और ये कांग्रेस वाले, इंडी गठबंधन वाले इसे चुनाव का मुद्दा कहते हैं। उनके लिए ये चुनावी मुद्दा था, देश के लिए ये श्रद्धा का मुद्दा था। ये धैर्य की विजय का मुद्दा था। ये आस्था और विश्वास का मु्द्दा था। ये 500 वर्षों की तपस्या का मुद्दा था।

मैं कांग्रेस से पूछता हूं...आप ने अपनी सरकार के समय दिन-रात इसका विरोध किया, तब ये किस चुनाव का मुद्दा था? लेकिन आप राम भक्तों की आस्था देखिए। मंदिर बना तो ये लोग इंडी गठबंधन वालें के घर प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण देने खुद गए। जिस क्षण के लिए करोड़ों लोगों ने इंतजार किया, आप बुलाने पर भी उसे देखने नहीं गए। पूरी दुनिया के रामभक्तों ने आपके इस अहंकार को देखा है। ये किस चुनावी मंशा को देखा है। ये चुनावी मंशा थी कि आपने प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण ठुकरा दिया। आपके लिए चुनाव का खेल है। ये किस तरह की तुष्टिकरण की राजनीति थी। भगवान राम को काल्पनिक कहकर कांग्रेस किसे खुश करना चाहती थी?

साथियों, 

कांग्रेस और इंडी गठबंधन के लोगों को देश के ज्यादातर लोगों की भावनाओं की कोई परवाह नहीं है। इन्हें लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने में मजा आता है। ये लोग सावन में एक सजायाफ्ता, कोर्ट ने जिसे सजा की है, जो जमानत पर है, ऐसे मुजरिम के घर जाकर के सावन के महीने में मटन बनाने का मौज ले रहे हैं इतना ही नहीं उसका वीडियो बनाकर के देश के लोगों को चिढ़ाने का काम करते हैं। कानून किसी को कुछ खाने से नहीं रोकता। ना ही मोदी रोकता है। सभी को स्वतंत्रता है की जब मन करें वेज खायें या नॉन-वेज खाएं। लेकिन इन लोगों की मंशा दूसरी होती है। जब मुगल यहां आक्रमण करते थे ना तो उनको सत्ता यानि राजा को पराजित करने से संतोष नहीं होता था, जब तक मंदिर तोड़ते नहीं थे, जब तक श्रद्धास्थलों का कत्ल नहीं करते थे, उसको संतोष नहीं होता था, उनको उसी में मजा आता था वैसे ही सावन के महीने में वीडियो दिखाकर वो मुगल के लोगों के जमाने की जो मानसिकता है ना उसके द्वारा वो देश के लोगों को चिढ़ाना चाहते हैं, और अपनी वोट बैंक पक्की करना चाहते हैं। ये वोट बैंक के लिए चिढ़ाना चाहते हैं । आप किसे चिढ़ाना चाहते हैंनवरात्र के दिनों में आपका नॉनवेज खाना,  आप किस मंशा से वीडियो दिखा-दिखा कर के लोगों की भावनाओं को चोट पहुंचा करके, किसको खुश करने का खेल कर रहे हो।  

मैं जानता हूं मैं  जब आज ये  बोल रहा हूं, उसके बाद ये लोग पूरा गोला-बारूद लेकर गालियों की बौछार मुझ पर चलाएंगे, मेरे पीछे पड़ जाएंगे। लेकिन जब बात  बर्दाश्त के बाहर हो जाती है, तो लोकतंत्र में मेरा दायित्व बनता है कि सही चीजों का सही पहलू बताऊं। और मैं वो अपना कर्तव्य पूरा कर रहा हूं। ये लोग ऐसा जानबूझकर इसलिए करते हैं ताकि इस देश की मान्यताओं पर हमला हो। ये इसलिए होता है, ताकि एक बड़ा वर्ग इनके वीडियो को देखकर चिढ़ता रहे, असहज होता रहे। समस्या इस अंदाज से है। तुष्टिकरण से आगे बढ़कर ये इनकी मुगलिया सोच है। लेकिन ये लोग नहीं जानते, जनता जब जवाब देती है तो बड़े-बड़े शाही खानदान के युवराजों को बेदखल होना पड़ता है।

साथियों, 

ये जो परिवार-चलित पार्टियां हैं, ये जो भ्रष्टाचारी हैं, अब इनको फिर मौका नहीं देना है। उधमपुर से डॉ. जितेंद्र सिंह और जम्मू से जुगल किशोर जी को नया रिकॉर्ड बनाकर सांसद भेजना है। जीत के बाद दोबारा जब उधमपुर आऊं तो, स्वादिष्ट कलाड़ी का आनंद ज़रूर लूंगा। आपको मेरा एक काम और करना है। इतना निकट आकर मैं माता वैष्णों देवी जा नहीं पा रहा हूं। तो माता वैष्णों देवी को क्षमा मांगिए और मेरी तरफ से मत्था टेकिए। दूसरा एक काम करोगे। एक और काम करोगे, मेरा एक और काम करोगे, पक्का करोगे। देखिए आपको घर-घर जाना है। कहना मोदी जी उधमपुर आए थे, मोदी जी ने आपको प्रणाम कहा है, राम-राम कहा है। जय माता दी कहा है, कहोगे। मेरे साथ बोलिए

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय ! 

बहुत-बहुत धन्यवाद