பகிர்ந்து
 
Comments
With our mantra of ‘Sabka Saath, Sabka Vikas’ we continuously worked towards enhancing the quality of life of our citizens: PM Modi
While I have my performance record of having served the people of this country tirelessly, the ‘Mahamilawati’ leaders have nothing but their falsehood campaigns to rely on: PM Modi in M.P.
The Congress government here has given a free pass to hooligans and anti-social elements and hence crime is rapidly rising in M.P. : Prime Minister Modi

 

भारत माता की...जय

भारत माता की...जय

भारत माता की...जय

खंडवा के लोग बहुत ही समझदार हैं, बहुत ही सुलझे हुए हैंमेरी एक प्रार्थना स्वीकार करोगे? ये जो पंडाल पे चढ़ गए हैं उनसे मेरी हाथ जोड़ के विनती है आप नीचे आइए। उधर भी सब ऊपर जो हैं आप नीचे आ जाइए। देखिए आपको अगर कुछ हुआ तो मुझे इस विजय का आनंद नहीं आएगा। बहुत धन्यवाद, बहुत समझदार लोग हैं आप।  

बोलो ओंकार महाराज की जय, नर्मदा मैया की जय, सिंगाजी महाराज की जय, ब्रह्मगीर महाराज की जय, धूनीवाले दादा जी की जय। निमाड़ का, खंडवा का, हमेशा से मुझ पर भरपूर प्यार रहा है। आपका यही आशीर्वाद मेरी ताकत बना है और इसीलिए आज पूरा देश कह रहा है, फिर एक बार...मोदी सरकार, पूरा देश कह रहा है, फिर एक बार...मोदी सरकार।  

 

साथियो, इस प्यार और विश्वास के दो स्पष्ट कारण हैं। एक मोदी का ट्रैक रिकॉर्ड और दूसरा कांग्रेस और उसके महामिलावटियों का टेप रिकॉर्डर। मैं 5 वर्ष की अपनी ईमानदारी और निष्ठा को लेकर मैदान में हूं और महामिलावटी झूठ, प्रपंच इसके आधार पर चुनाव लड़ रहे हैं। मेरे साथ मेरे काम हैं और उनके साथ उनके कारनामे हैं।

साथियो, देखिए दोस्तों अब ये जगह कहीं बची नहीं है, अब कहां जाओगे, आप दूर भी हैं फिर भी मैं आपका प्यार अनुभव कर सकता हूं। आपको आगे आने की कोई कोशिश नहीं करनी चाहिए। आपका इतना प्यार ही तो मुझे यहां तक खींच के लाया है। जब मैं आपके पास आया हूं तो आप पीछे से आगे आने की कोशिश मत कीजिए। शांति से खड़े रहेंगे? खड़े रहेंगे? देखिए, आपका ये प्यार, ये उत्साह, ये जोश, ये अपनापन सब कुछ मेरी सिर-आंखों पर लेकिन, अब मैं बोलना शुरू करूं? आपका प्यार इतना है अब करें तो क्या करें? रोक भी नहीं सकते आपको। ये आपका प्यार, ये आपका उत्साह उन लोगों की नींद खराब कर रहा है। तीसरे चरण के बाद, उनका चेहरा देखा है की नहीं देखा है? तीसरे चरण में ही पता चल गया उनका खेल। भाइयो बहनो, यहां कांग्रेस ने किसानों से उनका कर्जमाफ करने को कहा था ना, क्यों ठंडे पड़ गए आप लोग, कांग्रेस ने कर्ज माफ करने के लिए कहा था की नहीं कहा था? 10 दिन में कर्ज माफ करने को कहा था, कि नहीं कहा था? एक से दस की गिनती मध्य प्रदेश को सिखाई थी कि नहीं सिखाई थी और कर्ज माफ नहीं तो सीएम को माफ नहीं करेंगे कहा कि नहीं कहा? दस दिन पूरे हो गए क्या। 20 दिन हो गए, 40 दिन हो गए, 80 दिन हो गए, 120 दिन हो गए। हुआ क्या? किसानों का कर्ज माफ हुआ क्या? कांग्रेस के झूठ और वादाखिलाफी की यह जीती जागती सच्चाई है और इस बार सिर्फ मध्य प्रदेश कांग्रेस को साफ करेगा ऐसा नहीं, लेकिन कांग्रेस के इस कारनामों के कारण मध्य प्रदेश की खबर पूरे हिंदुस्तान में पहुंच गई है इसलिए पूरे हिंदुस्तान में मध्य प्रदेश उनको हरा रहा है, पूरे हिंदुस्तान में क्योंकि हमारा देश गलती माफ करता है, झूठ और विश्वासघात को कभी माफ नहीं करता है। यही इनके 70 साल से काम करने का तरीका है। पहले वोट के लिए झूठ बोलो, जैसे-तैसे सरकार बनाओ और जब जनता सवाल करे तो कह दो झूठ बोला तो बोला, हुआ तो हुआ। आपने देखा ना कांग्रेस के एक नेता ने क्या कहा, हुआ तो हुआ यानी कुछ लेना देना ही नहीं, हुआ तो हुआ, झूठ बोला तो बोला, किसान को मूर्ख बनाया तो बनाया।

साथियो, यह चुनाव गरीबों के लिए दिन रात मेहनत करने वाले हम लोग और हमारे सामने अहंकार में डूबकर हर बात पर हाथ ऊपर कर देना और यही कहना, हुआ तो हुआ। हमारे सामने ये लोग हैं जो हुआ तो हुआ की सोच रखते हैं। हमने गांव-गांव तक सड़क पहुंचाने का काम किया। दूर-सुदूर को नेशनल हाईवे और रेलवे से जोड़ने का काम किया। हर गरीब परिवार को अपना पक्का घर मिले, हर बहन, बेटी को शौचालय की सुविधा मिले। गांव-गांव, घर-घर तक बिजली पहुंचे। हर गरीब बहन के घर पर रसोई का चूल्हा, रसोई का गैस चूल्हे में पहुंचे। हर गरीब परिवार को हर वर्ष 5 लाख रुपए तक का मुफ्त में इलाज मिले। इसके लिए हमने पांच साल पूरी ईमानदारी से दिन-रत काम किया है और यही सबका साथ-सबका विकास है, जिस पर हमारा विश्वास है।

भाइयो और बहनो, लेकिन कांग्रेस वालों की क्या सच्चाई है, ये भी जान लीजिए 1984 में सिखों के साथ अत्याचार हुआ, कत्लेआम हुआ और ये कहते हैं हुआ तो हुआ, हुआ...तो हुआ। और जो 84 के दंगों में जनता की नजरों में गुनहगार है। जिसको पंजाब कांग्रेस का प्रभारी बनाया तो पंजाब कांग्रेस ने हाथ जोड़ करके कहा इसको ले जाओ वरना पंजाब में हम खत्म हो जाएंगे। तो वहां से ले गए आपके ऊपर थोप दिया, मुख्यमंत्री बना दिया, ये है कांग्रेस। भोपाल में हजारों लोगों को जहरीली गैस के हवाले कर दिया गया, कई पीढ़ियों को बर्बाद कर दिया गयाइस कांड के गुनहगार को भगा दिया गया, सरकारी विमान में ले जाया गया। अगर आज उनको पूछोगे की हजारों लोगों को मरवा दिया तो ये तो यही कहेंगे हुआ...तो हुआ, हुआ...तो हुआ। लोग मरे तो मरे इनको कोई लेना देना ही नहीं है।

साथियो, 2014 से पहले इनकी कमजोरी के कारण, तुष्टिकरण की नीति के कारण आतंकवाद ने हजारों जाने लीं। आज ये कह रहे हैं, हुआ...तो हुआ, हुआ...तो हुआ, हुआ...तो हुआ।

भाइयो और बहनो, देश के मशहूर गायक किशोर कुमार जी तो इसी धरती के सपूत थे। और जब भी किशोर कुमार का नाम आता था तो लोग खंडवा का जिक्र जरूर करते थे और बड़े गर्व से करते थे। इमरजेंसी के दौरान वे कांग्रेस के दबाव में नहीं आए वो अपने उसूलों पर अड़े रहे। कांग्रेस ने आपातकाल में देश को जेल खाना बना दिया था। वो उनको मंजूर नहीं था, बदले में ये कांग्रेस ने खंडवा के सपूत किशोर दा के गानों पर रेडियो पर बजाने पर रोक लगा दी थी, तब तो टीवी नहीं था रेडियो था, बंद कर दिया था। अगर आज खंडवा का कोई व्यक्ति कांग्रेस को पूछेगा की भाई तुम वोट लेने तो आए हो, तुम्हें हमारा वोट तो चाहिए लेकिन क्या किशोर कुमार खंडवा के थे? तुमने किशोर कुमार के साथ ये किया था? तो जवाब में क्या कहेंगे, अरे छोड़ो यार हुआ तो हुआयही कहेंगे ना, हुआ तो हुआ, हुआ तो...हुआ, हुआ तो...हुआ।   

भाइयो बहनो, इनके काम करने का तरीका क्या है? ये भी समझिए। पाकिस्तान के पाले पोसे आतंकी, जब यहां हमला करते थे तो ये निर्दोषों को जेलों में ठूंस देते थे। भाइयो और बहनो, हिन्दू आतंकवाद का कुतर्क गढ़ने के लिए, हमारी महान परंपरा को बदनाम करने का जो गंभीर षडयंत्र और वो भी सिर्फ और सिर्फ वोटबैंक की राजनीति करने के लिए इन्होंने किया है, उसी का जवाब आज इनको मिल रहा है। ये कितने भी हवन करा दें, ये कितने भी जनेऊ दिखा दें, ये पुलिस को भगवा ड्रेस भी सिलवा दे, लेकिन भगवा में जो आतंक के दाग लगाने की इन्होंने कोशिश की है,साजिश की है। उस पाप से ये कांग्रेस या महामिलावटी कभी नहीं बच पाएंगे, भाइयो।

भाइयो और बहनो, इन खोटी नीयत वालों से सावधान रहना जरूरी हैइनको अगर जरा भी मौका मिला तो ये भारत की रक्षा-सुरक्षा को खतरे में डाल देंगे। भाइयो और बहनो, देश सुरक्षित नहीं होगा तो विकसित भी नहीं होगा। विकास के लिए पहली शर्त सुरक्षा होती है। मिलावटी सरकार, खिचड़ी सरकार तो सुरक्षा बिल्कुल नहीं दे सकती। आप यहां मध्य प्रदेश में ही देख लीजिए। यहां एक ही पार्टी के ढाई सीएम हैं, ढाई, 2.5। प्रशासन को पता ही नहीं चलता कि किसका आदेश मानना है। गुंडों, हत्यारों और डकैतों को खुला लाइसेंस दिया गया है। अपने-अपने गुटों के हित में यहां प्रशासन का इस्तेमाल किया जा रहा है। उद्योगों के नाम पर एक ही उद्योग चल पड़ा है, तबादला उद्योग, ट्रांसफर उद्योग। जब एक ही दल की खिचड़ी में ये हाल हो सकता है तो दिल्ली में 2 दर्जन लोगों की खिचड़ी का ये क्या गुल खिलाएंगे, देश का क्या हाल करेंगे ये मध्य प्रदेश वाले आसानी से समझ सकते हैं।

साथियो, इनकी नीयत में खोट है इसलिए बहाने बनाते हैं, आपसे झूठ बोलते हैं। असल में आपका पैसा इन्होंने चुनाव प्रचार में उड़ा दिया है। केंद्र से आदिवासी बहनों और बच्चों के पोषक आहार के लिए जो पैसा भेजा गया था, वो भी इन्होंने नामदारों को चुनाव प्रचार के लिए दे दिया। पूरे देश ने तुगलक रोड चुनाव घोटाले का सच देखा है। कांग्रेसियों के घर से कैसे नोटों से भरे बोरे मिले हैं ये तो टीवी वालों ने दिखाया है। झूठ और भ्रष्टाचार के इसी खेल को कांग्रेस ने कई दशकों से शिष्टाचार बनाया हुआ है।

साथियो, नेक नीयत क्या होती है? ये मैं आज आपको बताता हूं। हमने इसी साल एक फरवरी को देश के 12 करोड़ छोटे किसानों के खाते में हर वर्ष 75 हजार रुपए सीधे जमा करने की योजना का ऐलान किया। सिर्फ तीन हफ्ते बाद, हमने इस योजना की शुरुआत भी कर दी और आज देश के करोड़ों किसान परिवारों के खाते में पैसे जमा हो रहे हैं। लेकिन मध्य प्रदेश के किसानों को इसका उतना लाभ नहीं मिल पाया। क्यों? क्योंकि यहां की कांग्रेस सरकार ने उन किसानों की लिस्ट ही नहीं भेजी, जिनके खाते में पैसे जमा कराने हैं।

भाइयो और बहनो, जो धोखा, जो फरेब कांग्रेस ने किसानों और नौजवानों के साथ किया है, वही झूठ और अफवाह फैलाने का काम जनजातीय परिवारों में भी किया जा रहा है। बीते पांच वर्ष से दिल्ली में भाजपा की सरकार है। 15 वर्ष तक यहां भारतीय जनता पार्टी की सरकार रही है लेकिन हमने आदिवासियों की जमीन पर आंच नहीं आने दी। जब तक और मेरे ये शब्द लिखते रहिए जब तक मोदी है, जब तक भारतीय जनता पार्टी है तब तक आदिवासी अधिकारों को खरोंच तक नहीं आने दी जाएगी।

साथियो, ये फिर इसी फिराक में हैं की आज झूठ बोलकर आपसे वोट कैसे मार लेना। याद रखिए, इन्होंने छत्तीसगढ़ में आदिवासियों के लिए चने और नमक की योजना को बंद कर दिया। इन्होंने छत्तीसगढ़ में पांच लाख के मुफ्त इलाज की योजना को बंद किया। ये अब यहां भी आदिवासियों को पिछड़ो को मिलने वाली मदद को रोकने की योजना बना रहे हैं। आदिवासियों को मदद बंद होने के बाद ये कहेंगे क्या कहेंगे, क्या कहेंगे, क्या कहेंगे, क्या कहेंगे? देखिए खंडवा के लोगों को समझाना ही नहीं पड़ रहा हैं, सब समझ जाते हैं।

भाइयो और बहनो, इन महामिलावटी लोगों द्वारा की जा रही साजिशों के बीच, बीते 5 वर्ष देश के हर वर्ग, हर क्षेत्र के लिए जी-जान से हमने काम किया हैं। आदिवासी क्षेत्रों में एकलव्य मॉडल स्कूल का नेटवर्क खड़ा किया जा रहा हैं। आदिवासी युवाओं के खेल कौशल को विकसित करने के लिए हम विशेष ध्यान दे रहे हैं। भाइयो और बहनो, रोजगार निर्माण के लिए हम पर्यटन पर विशेष बल दे रहे हैं। विशेष तौर पर जो हमारी धरोहर है जो खंडवा में भी अनेक हैं उनको सजाया-संवारा जा रहा है। वहां सुविधाओं का विकास किया जा रहा है, इसके अलावा मुद्रा योजना के माध्यम से जो बिना गारंटी के ऋण दिया जा रहा है, वो पर्यटन से जुड़े व्यवसाय को और मजबूत कर रहा है। वहीं रेल और रोड की कनेक्टिविटी सुधरने से पर्यटन को भी मदद मिलनी तय है।

साथियो, एक और काम जो हम पूरी क्षमता से हम कर रहे हैं ये काम है बिजली उत्पादन का। यहां तो मैं 2015 में पावर प्लांट आपको सौंपने के लिए आया था। तब भी मैंने विस्तार से अपनी योजना का जिक्र किया था। अब हम सौर और पवन ऊर्जा को बल दे रहे हैं। इसमें हम दुनिया की अगुवाई कर रहे हैं।

साथियो, ऐसे अनेक संकल्पों को हम सभी मिल कर मजबूत करेंगे, इसके लिए खंडवा सहित पूरे निमाड़ क्षेत्र और पूरे मध्य प्रदेश को फिर से मजबूती से कमल खिलाना है। कमल पर पड़ा हर वोट, भाइयो बहनो, आप मुझे बताइए, आज देश मजबूत है की नहीं है? और ज्यादा मजबूत होना चाहिए की नहीं होना चाहिए? घर में घुसकर के मारने की ताकत होनी चाहिए की नहीं होनी चाहिए? घर में घुसकर के मरना चाहिए की नहीं मारना चाहिए? इसके लिए देश को और मजबूत बनाना चाहिए कि नहीं बनाना चाहिए? देश मजबूत बनाने के लिए इस चुनाव में बूथ मजबूत बनाना है कि नहीं बनाना है, बूथ मजबूत बनाना है कि नहीं बनाना है? बूथ मजबूत बनाओगे ?घर-घर जाओगे? मतदाताओं से मिलोगे? कमल के निशान पर वोट दबाने के लिए समझाओगे, देश की रक्षा की बात करोगे, देश की विकास की बात करोगे? आदिवासीयों के कल्याण की बात करोगे, दलित पीड़ित शोषित वंचित का भला करने की बात करोगे? उनको प्रेम से मतदान बूथ तक लेजोगे, उनका मतदान करवाओगे, जल पान से पहले मतदान करवाओगे, मतदान के बाद जलपान होगा?  भारतीय जनता पार्टी जीतेगी, आपका बूथ जीतेगा, आपका वोट कमल पे पड़ेगा? इतना आपका उत्साह है तो विजय निश्चित है और मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कमल पर पड़ा हर वोट मोदी के खाते में जाएगा। आप इतनी बड़ी संख्या में हमें आशीर्वाद देने के लिए आए, मैं आपका बहुत बहुत आभारी हूं। दोनों मुट्ठी बंद कर के पूरी ताकत से बोलिए…भारत माता की...जय।

आवाज आज भोपाल में खास सुनाई देनी चाहिए।

भारत माता की...जय

भारत माता की...जय

भारत माता की...जय

बहुत बहुत धन्यवाद।  

 

'மன் கி பாத்' -ற்கான உங்கள் யோசனைகளையும் பரிந்துரைகளையும் உடன் பகிர்ந்து கொள்ளுங்கள்!
20 ஆண்டுகள் சேவை மற்றும் அர்ப்பணிப்பை வரையறுக்கும் 20 படங்கள்
Explore More
ஜம்மு காஷ்மீரின் நவ்ஷேராவில் தீபாவளி பண்டிகையின்போது இந்திய ராணுவ வீரர்களுடன் பிரதமர் நிகழ்த்திய கலந்துரையாடலின் தமிழாக்கம்

பிரபலமான பேச்சுகள்

ஜம்மு காஷ்மீரின் நவ்ஷேராவில் தீபாவளி பண்டிகையின்போது இந்திய ராணுவ வீரர்களுடன் பிரதமர் நிகழ்த்திய கலந்துரையாடலின் தமிழாக்கம்
Centre approves 23 interstate transmission projects costing ₹15,893 crore

Media Coverage

Centre approves 23 interstate transmission projects costing ₹15,893 crore
...

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
PM pays tributes to eminent stalwarts of Constituent Assembly to mark 75 years of its historic first sitting
December 09, 2021
பகிர்ந்து
 
Comments

The Prime Minister, Shri Narendra Modi has paid tributes to eminent stalwarts of Constituent Assembly to mark 75 years of its historic first sitting.

In a series of tweets, the Prime Minister said;

"Today, 75 years ago our Constituent Assembly met for the first time. Distinguished people from different parts of India, different backgrounds and even differing ideologies came together with one aim- to give the people of India a worthy Constitution. Tributes to these greats.

The first sitting of the Constituent Assembly was Presided over by Dr. Sachchidananda Sinha, who was the eldest member of the Assembly.

He was introduced and conducted to the Chair by Acharya Kripalani.

Today, as we mark 75 years of the historic sitting of our Constituent Assembly, I would urge my young friends to know more about this august gathering’s proceedings and about the eminent stalwarts who were a part of it. Doing so would be an intellectually enriching experience."