Your ਮਜੈਸਟੀਜ਼,

Your ਹਾਈਨੈੱਸ,

Excellencies,

Ladies and Gentlemen,


140 ਕਰੋੜ ਭਾਰਤੀਆਂ ਦੀ ਤਰਫ਼ੋਂ ਆਪ ਸਭ ਨੂੰ ਮੇਰਾ ਨਮਸਕਾਰ !

ਅੱਜ ਸਭ ਤੋਂ ਪਹਿਲਾਂ ਮੈਂ ਆਪ ਸਭ ਦਾ ਆਭਾਰ ਵਿਅਕਤ ਕਰਾਂਗਾ।

ਮੇਰੇ ਦੁਆਰਾ ਉਠਾਏ ਗਏ ਕਲਾਇਮੇਟ ਜਸਟਿਸ, ਕਲਾਇਮੇਟ ਫਾਇਨੈਂਸ ਅਤੇ ਗ੍ਰੀਨ ਕ੍ਰੈਡਿਟ ਜਿਹੇ ਵਿਸ਼ਿਆਂ ਨੂੰ ਤੁਸੀਂ ਨਿਰੰਤਰ ਸਮਰਥਨ ਦਿੱਤਾ ਹੈ।

 

ਸਾਡੇ ਸਾਰਿਆਂ ਦੇ ਪ੍ਰਯਾਸਾਂ ਨਾਲ ਇਹ ਵਿਸ਼ਵਾਸ ਵਧਿਆ ਹੈ ਕਿ ਵਿਸ਼ਵ ਕਲਿਆਣ ਦੇ ਲਈ ਸਭ ਦੇ ਹਿਤਾਂ ਦੀ ਸੁਰੱਖਿਆ ਜ਼ਰੂਰੀ ਹੈ, ਸਭ ਦੀ ਭਾਗੀਦਾਰੀ ਜ਼ਰੂਰੀ ਹੈ।


Friends,

ਅਜ ਭਾਰਤ ਨੇ Ecology ਅਤੇ Economy ਦੇ ਉੱਤਮ ਸੰਤੁਲਨ ਦੀ ਉਦਾਹਰਣ ਵਿਸ਼ਵ ਦੇ ਸਾਹਮਣੇ ਰੱਖੀ ਹੈ।

ਭਾਰਤ ਵਿੱਚ ਵਿਸ਼ਵ ਦੀ 17 percent ਆਬਾਦੀ ਹੋਣ ਦੇ ਬਾਵਜੂਦ, ਗਲੋਬਲ ਕਾਰਬਨ emissions ਵਿੱਚ ਸਾਡੀ ਹਿੱਸੇਦਾਰੀ only 4 percent ਤੋਂ ਭੀ ਘੱਟ ਹੈ।

ਭਾਰਤ ਵਿਸ਼ਵ ਦੀਆਂ ਉਨ੍ਹਾਂ ਕੁਝ economies ਵਿੱਚੋਂ ਇੱਕ ਹੈ ਜੋ NDC ਟਾਰਗਿਟਸ ਨੂੰ ਪੂਰਾ ਕਰਨ ਦੇ ਰਾਹ ‘ਤੇ ਹੈ।


Emissions intensity ਸਬੰਧੀ ਟਾਰਗਿਟਸ ਨੂੰ ਅਸੀਂ ਗਿਆਰ੍ਹਾਂ ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ ਹੀ ਹਾਸਲ ਕਰ ਲਿਆ ਹੈ।

Non-fossil fuel ਟਾਰਗਿਟਸ ਨੂੰ ਅਸੀਂ ਨਿਰਧਾਰਿਤ ਸਮੇਂ ਤੋਂ 9 ਸਾਲ ਪਹਿਲਾਂ ਹੀ ਪ੍ਰਾਪਤ ਕਰ ਚੁੱਕੇ ਹਾਂ।

ਅਤੇ ਭਾਰਤ ਇਤਨੇ ‘ਤੇ ਹੀ ਨਹੀਂ ਰੁਕਿਆ ਹੈ।


ਸਾਡਾ ਲਕਸ਼ 2030 ਤੱਕ emissions intensity ਨੂੰ 45 ਪਰਸੈਂਟ ਘਟਾਉਣਾ ਹੈ।

ਅਸੀਂ ਤੈਅ ਕੀਤਾ ਹੈ ਕਿ Non-fossil fuel ਦਾ ਸ਼ੇਅਰ ਅਸੀਂ ਵਧਾ ਕੇ 50 ਪਰਸੈਂਟ ਕਰਾਂਗੇ।

ਅਤੇ, ਅਸੀਂ 2070 ਤੱਕ net zero ਦੇ ਲਕਸ਼ ਦੀ ਤਰਫ਼ ਭੀ ਵਧਦੇ ਰਹਾਂਗੇ।


Friends,
 

ਭਾਰਤ ਨੇ ਆਪਣੀ ਜੀ-20 ਪ੍ਰੈਜ਼ੀਡੈਂਸੀ ਵਿੱਚ One Earth, One Family, One Future ਦੀ ਭਾਵਨਾ ਦੇ ਨਾਲ ਕਲਾਇਮੇਟ ਦੇ ਵਿਸ਼ੇ ਨੂੰ ਨਿਰੰਤਰ ਮਹੱਤਵ ਦਿੱਤਾ ਹੈ।

Sustainable Future ਦੇ ਲਈ, ਅਸੀਂ ਮਿਲ ਕੇ Green Development Pact ‘ਤੇ ਸਹਿਮਤੀ ਬਣਾਈ।

ਅਸੀਂ Lifestyles for Sustainable Development ਦੇ ਸਿਧਾਂਤ ਤੈਅ ਕੀਤੇ।


ਅਸੀਂ ਆਲਮੀ ਪੱਧਰ ‘ਤੇ Renewable Energy ਨੂੰ ਤਿੰਨ ਗੁਣਾ ਕਰਨ ਦੀ ਪ੍ਰਤੀਬੱਧਤਾ ਜਤਾਈ।

ਭਾਰਤ ਨੇ Alternate fuels ਦੇ ਲਈ Hydrogen ਦੇ ਖੇਤਰ ਨੂੰ ਹੁਲਾਰਾ ਦਿੱਤਾ ਅਤੇ Global Biofuels Alliance ਭੀ ਲਾਂਚ ਕੀਤਾ।

ਅਸੀਂ ਮਿਲ ਕੇ ਇਸ ਨਤੀਜੇ ‘ਤੇ ਪਹੁੰਚੇ ਕਿ ਕਲਾਇਮੇਟ ਫਾਇਨੈਂਸ commitment ਨੂੰ ਬਿਲੀਅਨਸ ਤੋਂ ਵਧਾ ਕੇ ਕਈ ਟ੍ਰਿਲੀਅਨ ਤੱਕ ਲੈ ਜਾਣ ਦੀ ਜ਼ਰੂਰਤ ਹੈ।


ਸਾਥੀਓ,

ਗਲਾਸਗੋ ਵਿੱਚ ਭਾਰਤ ਨੇ ‘ਆਇਲੈਂਡ ਸਟੇਟਸ’ ਦੇ ਲਈ ਇਨਫ੍ਰਾਸਟ੍ਰਕਚਰ Resilience initiative ਦੀ ਸ਼ੁਰੂਆਤ ਕੀਤੀ ਸੀ।

ਭਾਰਤ 13 ਦੇਸ਼ਾਂ ਵਿੱਚ ਇਸ ਨਾਲ ਜੁੜੇ ਪ੍ਰੋਜੈਕਟਸ ਤੇਜ਼ੀ ਨਾਲ ਅੱਗੇ ਵਧਾ ਰਿਹਾ ਹੈ।

ਗਲਾਸਗੋ ਵਿੱਚ ਹੀ ਮੈਂ, ਮਿਸ਼ਨ LiFE- Lifestyle for Environment ਦਾ ਵਿਜ਼ਨ ਤੁਹਾਡੇ ਸਾਹਮਣੇ ਰੱਖਿਆ ਸੀ।
 

ਇੰਟਰਨੈਸ਼ਨਲ ਐਨਰਜੀ ਏਜੰਸੀ ਦੀ ਸਟਡੀ ਕਹਿੰਦੀ ਹੈ ਕਿ ਇਸ ਅਪ੍ਰੋਚ ਨਾਲ ਅਸੀਂ 2030 ਤੱਕ ਪ੍ਰਤੀ ਵਰ੍ਹੇ 2 ਬਿਲੀਅਨ ਟਨ ਕਾਰਬਨ ਐਮਿਸ਼ਨ ਘੱਟ ਕਰ ਸਕਦੇ ਹਾਂ।

ਅੱਜ ਮੈਂ ਇਸ ਫੋਰਮ ਤੋਂ ਇੱਕ ਹੋਰ, pro-planet, proactive ਅਤੇ positive Initiative ਦਾ ਸੱਦਾ ਦੇ ਰਿਹਾ ਹਾਂ।

ਇਹ ਹੈ Green Credits initiative.

ਇਹ ਕਾਰਬਨ ਕ੍ਰੈਡਿਟ ਦੀ ਕਮਰਸ਼ੀਅਲ ਮਾਨਸਿਕਤਾ ਤੋਂ ਅੱਗੇ ਵਧ ਕੇ, ਜਨ ਭਾਗੀਦਾਰੀ ਨਾਲ ਕਾਰਬਨ sink ਬਣਾਉਣ ਦਾ ਅਭਿਯਾਨ ਹੈ।

ਮੈਂ ਉਮੀਦ ਕਰਦਾ ਹਾਂ ਕਿ ਆਪ ਸਭ ਇਸ ਨਾਲ ਜ਼ਰੂਰ ਜੁੜੋਗੇ।

 

ਸਾਥੀਓ,

ਪਿਛਲੀ ਸ਼ਤਾਬਦੀ ਦੀਆਂ ਗਲਤੀਆਂ ਨੂੰ ਸੁਧਾਰਨ ਦੇ ਲਈ ਸਾਡੇ ਪਾਸ ਬਹੁਤ ਜ਼ਿਆਦਾ ਸਮਾਂ ਨਹੀਂ ਹੈ।

ਮਾਨਵ ਜਾਤੀ ਦੇ ਇੱਕ ਛੋਟੇ ਹਿੱਸੇ ਨੇ ਪ੍ਰਕ੍ਰਿਤੀ ਦਾ ਅੰਧਾਧੁੰਧ ਦੋਹਨ ਕੀਤਾ।

ਲੇਕਿਨ ਇਸ ਦੀ ਕੀਮਤ ਪੂਰੀ ਮਾਨਵਤਾ ਨੂੰ ਚੁਕਾਉਣੀ ਪੈ ਰਹੀ ਹੈ, ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਕਰਕੇ ਗਲੋਬਲ ਸਾਊਥ ਦੇ ਨਿਵਾਸੀਆਂ ਨੂੰ।



ਸਿਰਫ਼ ਮੇਰਾ ਭਲਾ ਹੋਵੇ, ਇਹ ਸੋਚ, ਦੁਨੀਆ ਨੂੰ ਇੱਕ ਹਨੇਰੇ ਦੀ ਤਰਫ਼ ਲੈ ਜਾਵੇਗੀ।

ਇਸ ਹਾਲ ਵਿੱਚ ਬੈਠਾ ਹਰੇਕ ਵਿਅਕਤੀ, ਹਰੇਕ ਰਾਸ਼ਟਰਮੁਖੀ ਬਹੁਤ ਬੜੀ ਜ਼ਿੰਮੇਦਾਰੀ ਦੇ ਨਾਲ ਇੱਥੇ ਆਇਆ ਹੈ।

ਸਾਡੇ ਵਿੱਚੋਂ ਸਾਰਿਆਂ ਨੂੰ ਆਪਣੀਆਂ ਜ਼ਿੰਮੇਵਾਰੀਆਂ ਨਿਭਾਉਣੀਆਂ ਹੀ ਹੋਣਗੀਆਂ।


ਪੂਰੀ ਦੁਨੀਆ ਅੱਜ ਸਾਨੂੰ ਦੇਖ ਰਹੀ ਹੈ, ਇਸ ਧਰਤੀ ਦਾ ਭਵਿੱਖ ਸਾਨੂੰ ਦੇਖ ਰਿਹਾ ਹੈ।

ਸਾਨੂੰ ਸਫ਼ਲ ਹੋਣਾ ਹੀ ਹੋਵੇਗਾ।

 

We Have to be Decisive:

ਸਾਨੂੰ ਸੰਕਲਪ ਲੈਣਾ ਹੋਵੇਗਾ ਕਿ ਹਰ ਦੇਸ਼ ਆਪਣੇ ਲਈ ਜੋ ਕਲਾਇਮੇਟ ਟਾਰਗਿਟਸ ਤੈਅ ਕਰ ਰਿਹਾ ਹੈ, ਜੋ ਕਮਿਟਮੈਂਟ ਕਰ ਰਿਹਾ ਹੈ, ਉਹ ਪੂਰਾ ਕਰਕੇ ਹੀ ਦਿਖਾਵੇਗਾ।


We have to work in Unity:

ਸਾਨੂੰ ਸੰਕਲਪ ਲੈਣਾ ਹੋਵੇਗਾ ਕਿ ਅਸੀਂ ਮਿਲ ਕੇ ਕੰਮ ਕਰਾਂਗੇ, ਇੱਕ ਦੂਸਰੇ ਦਾ ਸਹਿਯੋਗ ਕਰਾਂਗੇ, ਸਾਥ ਦੇਵਾਂਗੇ।

ਸਾਨੂੰ Global carbon budget ਵਿੱਚ ਸਾਰੇ ਵਿਕਾਸਸ਼ੀਲ ਦੇਸ਼ਾਂ ਨੂੰ ਉਚਿਤ ਸ਼ੇਅਰ ਦੇਣਾ ਹੋਵੇਗਾ।

 

We have to be more Balanced:
ਸਾਨੂੰ ਇਹ ਸੰਕਲਪ ਲੈਣਾ ਹੋਵੇਗਾ ਕਿ Adaptation, Mitigation, Climate finance, Technology, Loss and damage ਇਨ੍ਹਾਂ ਸਭ ‘ਤੇ ਸੰਤੁਲਨ ਬਣਾਉਂਦੇ ਹੋਏ ਅੱਗੇ ਵਧੀਏ।


We have to be Ambitious:

ਸਾਨੂੰ ਸੰਕਲਪ ਲੈਣਾ ਹੋਵੇਗਾ ਕਿ ਐਨਰਜੀ transition, Just ਹੋਵੇ, ਇਨਕਲੂਸਿਵ ਹੋਵੇ, equitable ਹੋਵੇ।


We have to be Innovative:
ਸਾਨੂੰ ਇਹ ਸੰਕਲਪ ਲੈਣਾ ਹੋਵੇਗਾ ਕਿ ਇਨੋਵੇਟਿਵ ਟੈਕਨੋਲੋਜੀ ਦਾ ਲਗਾਤਾਰ ਵਿਕਾਸ ਕਰੀਏ।

ਆਪਣੇ ਸੁਆਰਥ ਤੋਂ ਉੱਪਰ ਉੱਠ ਕੇ ਦੂਸਰੇ ਦੇਸ਼ਾਂ ਨੂੰ ਟੈਕਨੋਲੋਜੀ ਟ੍ਰਾਂਸਫਰ ਕਰੀਏ। ਕਲੀਨ ਐਨਰਜੀ ਸਪਲਾਈ ਚੇਨ ਨੂੰ ਸਸ਼ਕਤ ਕਰੀਏ।


Friends,
ਭਾਰਤ, UN Framework for Climate Change Process ਦੇ ਪ੍ਰਤੀ ਪ੍ਰਤੀਬੱਧ ਹੈ।

ਇਸ ਲਈ, ਅੱਜ ਮੈਂ ਇਸ ਮੰਚ ਤੋਂ 2028 ਵਿੱਚ COP-33 ਸਮਿਟ ਨੂੰ ਭਾਰਤ ਵਿੱਚ host ਕਰਨ ਦਾ ਪ੍ਰਸਤਾਵ ਭੀ ਰੱਖਦਾ ਹਾਂ।

ਮੈਨੂੰ ਆਸ਼ਾ ਹੈ ਕਿ ਆਉਣ ਵਾਲੇ 12 ਦਿਨਾਂ ਵਿੱਚ Global Stock-take ਦੀ ਸਮੀਖਿਆ ਨਾਲ ਸਾਨੂੰ ਸੁਰੱਖਿਅਤ ਅਤੇ ਉੱਜਵਲ ਭਵਿੱਖ ਦਾ ਰਸਤਾ ਮਿਲੇਗਾ।

 

ਕੱਲ੍ਹ, Loss and Damage Fund ਨੂੰ operationalise ਕਰਨ ਦਾ ਜੋ ਨਿਰਣਾ ਲਿਆ ਗਿਆ ਹੈ ਉਸ ਨਾਲ ਸਾਡੀ ਸਭ ਦੀ ਉਮੀਦ ਹੋਰ ਵਧੀ ਹੈ।

ਮੈਨੂੰ ਵਿਸ਼ਵਾਸ ਹੈ, UAE ਦੀ ਮੇਜ਼ਬਾਨੀ ਵਿੱਚ, ਇਹ COP 28 ਸਮਿਟ, ਸਫ਼ਲਤਾ ਦੀ ਨਵੀਂ ਉਚਾਈ ‘ਤੇ ਪਹੁੰਚੇਗਾ।

ਮੈਂ ਮੇਰੇ Brother, ਹਿਜ਼ ਹਾਈਨੈੱਸ ਸ਼ੇਖ ਮੋਹੰਮਦ ਬਿਨ ਜ਼ਾਯਦ ਅਤੇ ਸੰਯੁਕਤ ਰਾਸ਼ਟਰ ਸੰਘ ਦੇ ਸਕੱਤਰ ਜਨਰਲ His Excellencey ਗੁਟਰੇਸ ਜੀ ਦਾ, ਮੈਨੂੰ ਇਹ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਸਨਮਾਨ ਦੇਣ ਦੇ ਲਈ ਵਿਸ਼ੇਸ ਤੌਰ ‘ਤੇ ਆਭਾਰ ਵਿਅਕਤ ਕਰਦਾ ਹਾਂ।

ਆਪ ਸਭ ਦਾ ਬਹੁਤ ਬਹੁਤ ਧੰਨਵਾਦ। 

 

 

Explore More
77ਵੇਂ ਸੁਤੰਤਰਤਾ ਦਿਵਸ ਦੇ ਅਵਸਰ ’ਤੇ ਲਾਲ ਕਿਲੇ ਦੀ ਫ਼ਸੀਲ ਤੋਂ ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ, ਸ਼੍ਰੀ ਨਰੇਂਦਰ ਮੋਦੀ ਦੇ ਸੰਬੋਧਨ ਦਾ ਮੂਲ-ਪਾਠ

Popular Speeches

77ਵੇਂ ਸੁਤੰਤਰਤਾ ਦਿਵਸ ਦੇ ਅਵਸਰ ’ਤੇ ਲਾਲ ਕਿਲੇ ਦੀ ਫ਼ਸੀਲ ਤੋਂ ਪ੍ਰਧਾਨ ਮੰਤਰੀ, ਸ਼੍ਰੀ ਨਰੇਂਦਰ ਮੋਦੀ ਦੇ ਸੰਬੋਧਨ ਦਾ ਮੂਲ-ਪਾਠ
GST collection rises 12.5% YoY to ₹1.68 lakh crore in February, gross FY24 sum at ₹18.4 lakh crore

Media Coverage

GST collection rises 12.5% YoY to ₹1.68 lakh crore in February, gross FY24 sum at ₹18.4 lakh crore
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
If Bihar becomes Viksit, India will also become Viksit: PM Modi
March 02, 2024
Dedicates to nation and lays foundation stone for multiple oil and gas projects worth about Rs 1.48 lakh crore
Dedicates to nation and lays foundation stone for several development projects in Bihar worth more than Rs 13,400 crores
Inaugurates Hindustan Urvarak & Rasayan Ltd (HURL) fertilizer plant in Barauni
Inaugurates and lays foundation stone for several railway projects worth about Rs 3917 crores
Dedicates to nation ‘Bharat Pashudhan’ - a digital database for livestock animals in the country
Launches ‘1962 Farmers App’
“Bihar is full of enthusiasm and confidence due to power of double engine government”
“If Bihar becomes Viksit, India will also become Viksit”
“History is proof that India has remained empowered when Bihar and Eastern India have been prosperous”
“True social justice is achieved by ‘santushtikaran’, not ‘tushtikaran’. True social justice is achieved by saturation”
“Bihar is bound to be Viksit with the double efforts of the double-engine government”

बिहार के राज्यपाल श्रीमान राजेंद्र अर्लेकर जी, मुख्यमंत्री श्रीमान नीतीश कुमार जी, मंत्रिमंडल के मेरे सहयोगी गिरिराज सिंह जी, हरदीप सिंह पुरी जी, उपमुख्यमंत्री विजय सिन्हा जी, सम्राट चौधरी जी, मंच पर विराजमान अन्य सभी महानुभाव और बेगुसराय से पधारे हुए उत्साही मेरे प्यारे भाइयों और बहनों।

जयमंगला गढ़ मंदिर और नौलखा मंदिर में विराजमान देवी-देवताओं को मैं प्रणाम करता हूं। मैं आज विकसित भारत के लिए विकसित बिहार के निर्माण के संकल्प के साथ बेगुसराय आया हूं। ये मेरा सौभाग्य है कि इतनी विशाल संख्या में आप जनता-जनार्दन, आपके दर्शन करने का मुझे सौभाग्य मिला है।

साथियों,

बेगूसराय की ये धरती प्रतिभावान युवाओं की धरती है। इस धरती ने हमेशा देश के किसान और देश के मज़दूर, दोनों को मजबूत किया है। आज इस धरती का पुराना गौरव फिर लौट रहा है। आज यहां से बिहार सहित, पूरे देश के लिए 1 लाख 60 हज़ार करोड़ रुपए उससे भी अधिक के प्रोजेक्ट्स का शिलान्यास और लोकार्पण हुआ है, डेढ़ लाख करोड़ से भी ज्यादा। पहले ऐसे कार्यक्रम दिल्ली के विज्ञान भवन में होते थे, लेकिन आज मोदी दिल्ली को बेगुसराय ले आया है। और इन योजनाओं में करीब-करीब 30 हज़ार करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट्स सिर्फ और सिर्फ ये मेरे बिहार के हैं। एक ही कार्यक्रम में सरकार का इतना बड़ा निवेश ये दिखाता है कि भारत का सामर्थ्य कितना बढ़ रहा है। इससे बिहार के नौजवानों को यहीं पर नौकरी के, रोजगार के अनेकों नए अवसर बनेंगे। आज के ये प्रोजेक्ट, भारत को दुनिया की तीसरी बड़ी आर्थिक महाशक्ति बनाने का माध्यम बनेंगे। आप रूकिए भैया बहुत हो गया आपका प्यार मुझे मंजूर है, आप रूकिए, आप बैठिए, आप चेयर पर से नीचे आ जाइए, प्लीज, मेरी आपसे प्रार्थना है, आप बैठिए...हां। आप बैठ जाइए, वो कुर्सी पर बैठ जाइए आराम से, थक जाएंगे। आज की ये परियोजनाएं, बिहार में सुविधा और समृद्धि का रास्ता बनाएंगी। आज बिहार को नई ट्रेन सेवाएं मिली हैं। ऐसे ही काम है, जिसके कारण आज देश पूरे विश्वास से कह रहा है, बच्चा-बच्चा कह रहा है, गांव भी कह रहा है, शहर भी कह रहा है- अबकी बार...400 पार!, अबकी बार...400 पार!, अबकी बार...400 पार! NDA सरकार...400 पार!

साथियों,

2014 में जब आपने NDA को सेवा का अवसर दिया, तब मैं कहता था कि पूर्वी भारत का तेज़ विकास ये हमारी प्राथमिकता है। इतिहास गवाह रहा है, जब-जब बिहार और ये पूर्वी भारत, समृद्ध रहा है, तब-तब भारत भी सशक्त रहा है। जब बिहार में स्थितियां खराब हुईं, तो देश पर भी इसका बहुत बुरा असर बड़ा। इसलिए मैं बेगुसराय से पूरे बिहार की जनता को कहता हूं- बिहार विकसित होगा, तो देश भी विकसित होगा। बिहार के मेरे भाई-बहन, आप मुझे बहुत अच्छी तरह जानते हैं, और जब आपके बीच आया हूं तो मैं दोहराना चाहता हूं- ये वादा नहीं है- ये संकल्प है, ये मिशन है। आज जो ये प्रोजेक्ट बिहार को मिले हैं, देश को मिले हैं, वो इसी दिशा में बहुत बड़ा कदम हैं। इनमें से अधिकतर पेट्रोलियम से जुड़े हैं, फर्टिलाइज़र से जुड़े हैं, रेलवे से जुड़े हैं। ऊर्जा, उर्वरक और कनेक्टिविटी, यही तो विकास का आधार हैं। खेती हो या फिर उद्योग, सब कुछ इन्हीं पर निर्भर करता है। और जब इन पर तेजी से काम चलता है, तब स्वाभाविक है रोजगार के अवसर भी बढ़ते हैं, रोजगार भी मिलता है। आप याद कीजिए, बरौनी का जो खाद कारखाना बंद पड़ चुका था, मैंने उसे फिर से चालू करने की गारंटी दी थी। आपके आशीर्वाद से मोदी ने वो गारंटी पूरी कर दी। ये बिहार सहित पूरे देश के किसानों के लिए बहुत बड़ा काम हुआ है। पुरानी सरकारों की बेरुखी के कारण, बरौनी, सिंदरी, गोरखपुर, रामागुंडम, वहां जो कारखाने थे, वो बंद पड़े थे, मशीन सड़ रहे थे। आज ये सारे कारखाने, यूरिया में भारत की आत्मनिर्भरता की शान बन रहे हैं। इसलिए तो देश कहता है- मोदी की गारंटी यानि गारंटी पूरा होने की गारंटी। मोदी की गारंटी यानि गारंटी जे पूरा होय छय !

साथियों,

आज बरौनी रिफाइनरी की क्षमता के विस्तार का काम शुरु हो रहा है। इसके निर्माण के दौरान ही, हजारों श्रमिकों को महीनों तक लगातार रोजगार मिला। ये रिफाइनरी, बिहार में औद्योगिक विकास को नई ऊर्जा देगी और भारत को आत्मनिर्भर बनाने में मदद करेगी। मुझे आपको ये बताते हुए खुशी है कि बीते 10 साल में पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस से जुड़े 65 हज़ार करोड़ रुपए से अधिक के प्रोजेक्ट्स बिहार को मिले हैं, जिनमें से अनेक पूरे भी हो चुके हैं। बिहार के कोने-कोने में जो गैस पाइपलाइन का नेटवर्क पहुंच रहा है, इससे बहनों को सस्ती गैस देने में मदद मिल रही है। इससे यहां उद्योग लगाना आसान हो रहा है।

साथियों,

आज हम यहां आत्मनिर्भर भारत से जुड़े एक और ऐतिहासिक पल के साक्षी बने हैं। कर्नाटक में केजी बेसिन के तेल कुओं से तेल का उत्पादन शुरु हो चुका है। इससे विदेशों से कच्चे तेल के आयात पर हमारी निर्भरता कम होगी।

साथियों,

राष्ट्रहित और जनहित के लिए समर्पित मजबूत सरकार ऐसे ही फैसले लेती है। जब परिवारहित और वोटबैंक से बंधी सरकारें होती हैं, तो वो क्या करती हैं, ये बिहार ने बहुत भुगता है। अगर 2005 से पहले के हालात होते तो बिहार में हज़ारों करोड़ की ऐसी परियोजनाओं के बारे में घोषणा करने से पहले सौ बार सोचना पड़ता। सड़क, बिजली, पानी, रेलवे की क्या स्थिति थी, ये मुझसे ज्यादा आप जानते हैं। 2014 से पहले के 10 वर्षों में रेलवे के नाम पर, रेल के संसाधनों को कैसे लूटा गया, ये पूरा बिहार जानता है। लेकिन आज देखिए, पूरी दुनिया में भारतीय रेल के आधुनिकीकरण की चर्चा हो रही है। भारतीय रेल का तेज़ी से बिजलीकरण हो रहा है। हमारे रेलवे स्टेशन भी एयरपोर्ट की तरह सुविधाओँ वाले बन रहे हैं।

साथियों,

बिहार ने दशकों तक परिवारवाद का नुकसान देखा है, परिवारवाद का दंश सहा है। परिवारवाद और सामाजिक न्याय, ये एक दूसरे के घोर विरोधी हैं। परिवारवाद, विशेष रूप से नौजवानों का, प्रतिभा का, सबसे बड़ा दुश्मन है। यही बिहार है, जिसके पास भारत रत्न कर्पूरी ठाकुर जी की एक समृद्ध विरासत है। नीतीश जी के नेतृत्व में NDA सरकार, यहां इसी विरासत को आगे बढ़ा रही है। वहीं दूसरी तरफ RJD-कांग्रेस की घोर परिवारवादी कुरीति है। RJD-कांग्रेस के लोग, अपने परिवारवाद और भ्रष्टाचार को उचित ठहराने के लिए, दलित, वंचित, पिछड़ों को ढाल बनाते हैं। ये सामाजिक न्याय नहीं, बल्कि समाज के साथ विश्वासघात है। ये सामाजिक न्याय नय, समाज क साथ विश्वासघात छय। वरना क्या कारण है कि सिर्फ एक ही परिवार का सशक्तिकरण हुआ। और समाज के बाकी परिवार पीछे रह गए? किस तरह यहां एक परिवार के लिए, युवाओं को नौकरी के नाम पर उनकी जमीनों पर कब्जा किया गया, ये भी देश ने देखा है।

साथियों,

सच्चा सामाजिक न्याय सैचुरेशन से आता है। सच्चा सामाजिक न्याय, तुष्टिकरण से नहीं संतुष्टिकरण से आता है। मोदी ऐसे ही सामाजिक न्याय, ऐसे ही सेकुलरिज्म को मानता है। जब मुफ्त राशन हर लाभार्थी तक पहुंचता है, जब हर गरीब लाभार्थी को पक्का घर मिलता है, जब हर बहन को गैस, पानी का नल, घर में टॉयलेट मिलता है, जब गरीब से गरीब को भी अच्छा और मुफ्त इलाज मिलता है, जब हर किसान लाभार्थी के बैंक खाते में सम्मान निधि आती है, तब सैचुरेशन होता है। और यही सच्चा, सामाजिक न्याय है। बीते 10 वर्षों में मोदी की ये गारंटी, जिन-जिन परिवारों तक पहुंची हैं, उनमें से सबसे अधिक दलित, पिछड़े, अतिपिछड़े वही मेरे परिवार ही हैं।

साथियों,

हमारे लिए सामाजिक न्याय, नारीशक्ति को ताकत देने का है। बीते 10 सालों में 1 करोड़ बहनों को, मेरी माताएं-बहनें इतनी बड़ी तादाद में आशीर्वाद देने आई हैं, उसका कारण है। 1 करोड़ बहनों को हम लखपति दीदी बना चुके हैं। मुझे खुशी है इसमें बिहार की भी लाखों बहनें हैं, जो अब लखपति दीदी बन चुकी हैं। और अब मोदी ने 3 करोड़ बहनों को, आंकड़ा सुनिए जरा याद रखना 3 करोड़ बहनों को लखपति दीदी बनाने की गारंटी दी है। हाल में हमने बिजली का बिल जीरो करने और बिजली से कमाई करने की भी योजना शुरु की है। पीएम सूर्यघर- मुफ्त बिजली योजना। इससे बिहार के भी अनेक परिवारों को फायदा होने वाला है। बिहार की NDA सरकार भी बिहार के युवा, किसान, कामगार, महिला, सबके लिए निरंतर काम कर रही है। डबल इंजन के डबल प्रयासों से बिहार, विकसित होकर रहेगा। आज इतना बड़ा विकास का उत्सव हम मना रहे हैं, और आप इतनी बड़ी तादाद में विकास के रास्ते को मजबूत कर रहे हैं, मैं आपका आभारी हूं। एक बार फिर आप सभी को विकास की, हजारों करोड़ की इन परियोजनाओं के लिए मैं बहुत-बहुत बधाई देता हूं। इतनी बड़ी तादाद में माताएं-बहनें आई हैं, उनको विशेष रूप से प्रणाम करता हूं। मेरे साथ बोलिए-

भारत माता की जय !

दोनों हाथ ऊपर करके पूरी ताकत से बोलिए-

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

भारत माता की जय !

बहुत-बहुत धन्यवाद।