“ଭାରତୀୟ ବାୟୋ-ଅର୍ଥନୀତି ଗତ ଆଠ ବର୍ଷରେ ଆଠ ଗୁଣ ବୃଦ୍ଧି ପାଇଛି । ଆମେ ୧୦ ବିଲିୟନ ଡଲାରରୁ ୮୦ ବିଲିୟନ ଡଲାର ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ବଢ଼ିଛୁ । ବିଶ୍ୱର ବାୟୋଟେକ ବାତାବରଣ ପ୍ରଥମ ଦଶଟି ଦେଶ ମଧ୍ୟରେ ପହଂଚିବାକୁ ଭାରତ ବେଶୀ ପଛରେ ନାହିଁ ।”
“ଆମେ ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ର ଓ ଏହାର ବୃତ୍ତିଧାରୀଙ୍କୁ ଏକାଭଳି ସମ୍ମାନ ଦେଇଛୁ ଯାହା ଗତ ଦଶନ୍ଧିଗୁଡ଼ିକରେ ଆମେ ଆଇଟି ବୃତ୍ତିଧାରୀମାନଙ୍କୁ ଦେଇଥିଲୁ ।”
“ସବକା ସାଥ, ସବକା ବିକାଶ ମନ୍ତ୍ର ଦେଶର ବିଭିନ୍ନ କ୍ଷେତ୍ରରେ ଲାଗୁ ହୋଇଛି । ବର୍ତ୍ତମାନ ସରକାର ସବୁ କ୍ଷେତ୍ରକୁ ସମାନ ଦୃଷ୍ଟି ଦେଉଛନ୍ତି ।”
“ଆଜି ଦେଶର ୬୦ ବିଭିନ୍ନ ପ୍ରକାର ଶିଳ୍ପରେ ୭୦ ହଜାର ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ ରହିଛି । ସେଥିରୁ ପ୍ରାୟ ପାଞ୍ଚ ହଜାରରୁ ଅଧିକ ବାୟୋଟେକ ସହ ସଂଶ୍ଳିଷ୍ଟ ଅଛନ୍ତି ।”
“କେବଳ ଗତ ବର୍ଷ ଦେଶରେ ୧୧୦୦ ବାୟୋଟେକ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ ବାହାରିଛନ୍ତି ।”
“ସବକା ପ୍ରୟାସ ଉତ୍ସାହ ଭରିଦେବା ବେଳେ ସରକାର ଶିଳ୍ପର ସବୁଠାରୁ ବିଦ୍ୱାନମାନଙ୍କୁ ଗୋଟିଏ ମଞ୍ଚରେ ଏକାଠି କରିଛନ୍ତି ।”
“ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ରର ସବୁଠାରୁ ଅଧିକ ଚାହିଦା ରହିଛି । ଭାରତରେ ଭଲରେ ରହିବାର ଅଭିବୃଦ୍ଧି ଯୋଗୁଁ ଗତ କିଛି ବର୍ଷ ମଧ୍ୟରେ ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ର ନିମନ୍ତେ ନୂତନ ସମ୍ଭାବନା ସୃଷ୍ଟି ହୋଇଛି ।”

କେନ୍ଦ୍ର ମନ୍ତ୍ରିମଣ୍ଡଳରେ ମୋର ସମସ୍ତ ସହଯୋଗୀ, ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ର ସହିତ ଜଡ଼ିତ ସମସ୍ତ ମହାନୁଭବ, ଦେଶ ବିଦେଶରୁ ଆସିଥିବା ଅତିଥିଗଣ, ବିଶେଷଜ୍ଞ, ନିବେଶକ, ଏମଏସଏମଇ ଏବଂ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ୍ସ ସହିତ ଉଦ୍ୟୋଗର ସମସ୍ତ ବନ୍ଧୁ, ମହିଳାମାନେ ଏବଂ ଭଦ୍ର ବ୍ୟକ୍ତିମାନେ!

ଦେଶର ପ୍ରଥମ ବାୟୋଟେକ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ ଏକ୍ସପୋ ଏହାର ଆୟୋଜନ ପାଇଁ, ଏଥିରେ ଅଂଶଗ୍ରହଣ କରିବା ପାଇଁ ଏବଂ ଭାରତର ଏହି ଶକ୍ତିର ବିଶ୍ୱକୁ ପରିଚୟ କରାଇବା ପାଇଁ ମୁଁ ଆପଣ ସମସ୍ତଙ୍କୁ ବହୁତ ବହୁତ ଶୁଭେଚ୍ଛା ଜଣାଉଛି । ଏହି ଏକ୍ସପୋ, ଭାରତର ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ରରେ  ଏକ୍ସପୋନସିଆଲ ବୃଦ୍ଧିର ପ୍ରତିବିମ୍ବ ଅଟେ । ଗତ ଆଠ ବର୍ଷରେ ଭାରତର ବାୟୋ-ଇକୋନମୀ ଆଠ ଗୁଣ ବୃଦ୍ଧି ଘଟିଛି । ୧ଠ ବିଲିୟନ ଡଲାରରୁ ୮ଠ ବିଲିଅନ ଡଲାର ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ଆମେ ପହଂଚିସାରିଛୁ । ଭାରତ, ବାୟୋଟେକର ଗ୍ଲୋବାଲ ଇକୋ-ସିଷ୍ଟମରେ ଟପ-୧ଠ ଦେଶର ଲିଗ୍ରେ ପହଂଚିବାରେ ମଧ୍ୟ ବେଶୀ ଦୂରତା ନାହିଁ । ନୂଆ ଭାରତର ଏହି ନୂଆ ଲମ୍ଫ ପ୍ରଦାନ କରିବାରେ ବାୟୋ ଟେକ୍ନୋଲୋଜୀ ଇଣ୍ଡଷ୍ଟ୍ରୀ ରିସର୍ଚ୍ଚ ଆସିଷ୍ଟାନ୍ସ କାଉନସିଲ ଅର୍ଥାତ ‘ବିଆଇଆରଏସି’ର ବଡ଼ ଭୂମିକା ରହିଛି । ପୂର୍ବ ବର୍ଷଗୁଡ଼ିକରେ ଭାରତରେ ବାୟୋ ଟେକ୍ନୋଲୋଜୀର, ବିଶେଷଜ୍ଞ ଏବଂ ନବାଚାରର ଯେଉଁ ଅଦ୍ଭୁତପୂର୍ବ ବିସ୍ତାର ହୋଇଛି, ସେଥିରେ ‘ବିଆଇଆରଏସି’ର ପ୍ରମୁଖ ଯୋଗଦାନ ରହିଛି । ମୁଁ ଆପଣ ସମସ୍ତଙ୍କୁ ‘ବିଆଇଆରଏସି’ର ୧ଠ ବର୍ଷର ସଫଳ ଯାତ୍ରା ପାଇଁ ଏହି ମହତ୍ତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ପରୀକ୍ଷା ପାଇଁ ଅନେକ ଅନେକ ଶୁଭକାମନା ଜଣାଉଛି । ଏଠାରେ ଯେଉଁ ପ୍ରଦର୍ଶନୀ ଲାଗିଛି, ଏଥିରେ ଭାରତର ଯୁବ ଟାଲେଣ୍ଟ, ଭାରତର ବାୟୋଟେକ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ୍ସ, ଏମାନଙ୍କର ସାମର୍ଥ୍ୟ ଏବଂ ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ର ପାଇଁ ଭବିଷ୍ୟତର ରୋଡମ୍ୟାପ, ବହୁତ ଭଲ ଭାବେ, ସୁନ୍ଦରତା ପୂର୍ବକ ସେଠାରେ ପ୍ରସ୍ତୁତ କରାଯାଇଛି । ଏପରି ସମୟରେ ଯେତେବେଳେ ଭାରତ, ନିଜର ସ୍ୱାଧୀନତାର ଅମୃତ ମହୋତ୍ସବ ପାଳନ କରୁଛି, ଆସନ୍ତା ୨୫ ବର୍ଷ ପାଇଁ ନୂତନ ଲକ୍ଷ୍ୟ ପ୍ରସ୍ତୁତ କରୁଛି, ସେତେବେଳେ ବାୟୋଟେକ ସେକ୍ଟର, ଦେଶର ବିକାଶକୁ ନୂତନ ଗତି ଦେବା ପାଇଁ ବହୁତ ମହତ୍ତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ଅଟେ । ପ୍ରଦର୍ଶନୀରେ ଶୋ’ କେସ କରାଯାଇଛି ବାୟୋଟେକ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ୍ସ ଏବଂ ବାୟୋଟେକ ଇଣ୍ଡଷ୍ଟ୍ରିଜ ଏବଂ ଇନକିଉବେସନ ସେଣ୍ଟର୍ସ, ନୂତନ ଭାରତର ଆକାଂକ୍ଷା ସହିତ କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଛି । ଆଜି ଏଠାରେ କିଛି ସମୟ ପୂର୍ବରୁ ଯେଉଁ ଇ-ପୋର୍ଟାଲ ଶୁଭ ଉଦଘାଟନ କରାଯାଇଛି, ସେଥିରେ ଆମର ୭ ହଜାର ୫ଠଠ ବାୟୋଟେକ ପ୍ରଡକ୍ଟ ତାଲିକାଭୁକ୍ତ ଅଛି । ଏହା ଭାରତର ବାୟୋ ଇକୋନମୀର ସାମର୍ଥ୍ୟ ଏବଂ ଏହାର ବିସ୍ତାରକୁ ମଧ୍ୟ ଏବଂ ଏହାର ବିବିଧତାକୁ ଦର୍ଶାଇଥାଏ ।

ସାଥୀମାନେ,

ଏହିପରି ଭାବରେ ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ର ସହିତ ଜଡ଼ିତ ପାଖାପାଖି ପ୍ରତ୍ୟେକ କ୍ଷେତ୍ର ପ୍ରସ୍ତୁତ ଅଛି । ଆମ ସହିତ ବହୁତ ସଂଖ୍ୟାରେ ଅନଲାଇନ ମଧ୍ୟ ବାୟୋଟେକ ପ୍ରଫେସନାଲ୍ସ ଯୋଡ଼ି ହୋଇଛନ୍ତି । ଆଗାମୀ ଦୁଇ ଦିନରେ ଆପଣଏହି ଏକ୍ସପୋରେ ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ର ସମ୍ମୁଖରେ ଅବସର ଏବଂ ଆହ୍ୱାନଗୁଡ଼ିକ ଉପରେ ଆଲୋଚନା କରିବାକୁ ଯାଉଛୁ । ଗତ ଦଶନ୍ଧିରେ ଆମେ ଦୁନିଆରେ ଆମର ଡାକ୍ତରମାନଙ୍କୁ, ସ୍ୱାସ୍ଥ୍ୟ ବିଶେଷଜ୍ଞମାନଙ୍କର ପ୍ରତିଷ୍ଠା ବୃଦ୍ଧି ପାଇବା ଆମେ ଦେଖିଛୁ । ଦୁନିଆରେ ଆମର ଆଇଟି ଫ୍ରଫେସନାଲ୍ସଙ୍କର ଦକ୍ଷତା ଏବଂ ଇନୋବେଶନଙ୍କୁ ନେଇ ବିଶ୍ୱାସର ଯେଉଁ ପରିବେଶ ରହିଛି, ତାହା ଏକ ନୂଆ ଶିଖରକୁ ପହଂଚିପାରିଛି । ଏହି ବିଶ୍ୱାସ, ଏହି ପ୍ରତିଷ୍ଠା, ଏହି ଦଶକରେ ଭାରତର ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ର, ଭାରତର ବାୟୋ ପ୍ରଫେସନାଲ୍ସମାନଙ୍କ ପାଇଁ ଥିବାର ଆମେ ସବୁ ଦେଖିଛୁ । ଏହା ମୋର ଆପଣଙ୍କ ଉପରେ ବିଶ୍ୱାସ ଅଛି, ଭାରତର ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ର ଉପରେ ବିଶ୍ୱାସ ଅଛି । ଏହି ବିଶ୍ୱାସ କ’ଣ ଅଟେ, ଏହି କାରଣରୁ ମଧ୍ୟ ମୁଁ ବିସ୍ତୃତ ଭାବେ କଥା ହେବାକୁ ଚାହିଁବି ।

ସାଥୀମାନେ,

ଆଜି ଯଦି ଭାରତକୁ ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ରରେ ଅବସର ରହିଛି ବୋଲି ମାନୁଛ, ତେବେ ତାହାର ଅନେକ କାରଣ ମଧ୍ୟରେ ମୁଁ ୫ଟି ବଡ଼ କାରଣ ଦେଖାଉଛି । ପ୍ରଥମ- ବିବିଧ ଜନସଂଖ୍ୟା ଓ ଜଳବାୟୁ କ୍ଷେତ୍ର, ଦ୍ୱିତୀୟ- ଭାରତ ମେଧାସମ୍ପନ୍ନ ମାନବ ସମ୍ବଳ, ତୃତୀୟ- ଭାରତରେ ବ୍ୟବସାୟ ପାଇଁ ଇଚ୍ଛା, ଚତୁର୍ଥ- ଭାରତରେ ଜୈବ ପ୍ରଯକ୍ତି କ୍ଷେତ୍ର ଓ ଏହି ସଫଳତାର ରେକର୍ଡ । ଏହି ପାଞ୍ଚଟି କାରଣ ମିଳିତ ଭାବରେ ଭାରତର ଶକ୍ତିକୁ ବହୁଗୁଣା ଅଧିକ କରିଦେଇଥାନ୍ତି ।

ସାଥୀମାନେ,

ଗତ ଆଠ ବର୍ଷରେ ସରକାର ଦେଶର ଏହି ଶକ୍ତିକୁ ବୃଦ୍ଧି କରିବା ପାଇଁ ନିରନ୍ତର କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଛନ୍ତି । ଆମେ ହିଷ୍ଟୋରିକ ଏବଂ ହୋଲ ଗଭର୍ଣ୍ଣମେଣ୍ଟ ଆପ୍ରୋଚ ଉପରେ ଜୋର ଦେଇଛୁ । ଯେତେବେଳେ ମୁଁ କହୁଛି, ସବକା ସାଥ- ସବକା ବିକାଶ, ତେବେ ଏହା ଭାରତର ଅଲଗା ଅଲଗା କ୍ଷେତ୍ରରେ ମଧ୍ୟ ଲାଗୁ ହୋଇଥାଏ । ଗୋଟିଏ ସମୟ ଥିଲା ଯେତେବେଳେ ଦେଶରେ ଏହି ଚିନ୍ତାଧାରା ହୋଇ ଯାଇଥିଲା ଯେ କିଛି କ୍ଷେତ୍ରକୁ ମଜବୁତ କରାଯାଉଥିଲା, ଅନ୍ୟାନ୍ୟ କେତେକ କ୍ଷେତ୍ରକୁ ତା’ ନିଜ ଅବସ୍ଥାରେ ଛାଡ଼ି ଦିଆଯାଉଥିଲା । ଆମେ ଏହି ଚିନ୍ତାଧାରାକୁ ବଦଳାଇ ଦେଲୁ, ଏହି ଦୃଷ୍ଟିକୋଣକୁ ପରିବର୍ତ୍ତନ କରିଦେଇଛୁ । ଆଜିର ନୂତନ ଭାରତରେ ପ୍ରତ୍ୟେକ କ୍ଷେତ୍ରରେ ତାହାରବିକାଶ ଦ୍ୱାରା ହିଁ ଦେଶର ବିକାଶକୁ ଏକ ଦିଗ ମିଳିବ । ଏଥିପାଇଁ ପ୍ରତ୍ୟେକ କ୍ଷେତ୍ର ସହିତ, ପ୍ରତ୍ୟେକ କ୍ଷେତ୍ରର ବିକାଶ, ଏହା ଆଜି ଦେଶର ଆବଶ୍ୟକତା ଅଛି । ଏଥିପାଇଁ, ଆମେ ପ୍ରତ୍ୟେକ ସେହି ଗତିପଥକୁ ଅନ୍ୱେଷଣ କରୁଛୁ ଯାହା ଆମର ବୃଦ୍ଧିକୁ ଗତି ଦେଇପାରିବ । ଚିନ୍ତା ଏବଂ ଅନ୍ୱେଷଣରେ ଏହି ଯେଉଁ ମହତ୍ତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ ପରିବର୍ତ୍ତନ ଆସିଛି ତାହା ଦେଶକୁ ପରିଣାମ ମଧ୍ୟ ଦେଉଛି । ଆମେ ଆମର ମଜବୁତ ସର୍ଭିସ ସେକ୍ଟର ଉପରେ ଫୋକସ କରୁଛୁ ତେବେ, ସର୍ଭିସ ଏକ୍ସପୋର୍ଟରେ ୨୫ଠ ବିଲିୟନ ଡଲାରର ରେକର୍ଡ କରିଛୁ । ଆମେ ଗୁଡ୍ସ ଏକ୍ସପୋର୍ଟ୍ସ ଉପରେ ଫୋକସ କରିଛୁ, ସେଥିରେ ୪୨ଠ ବିଲିୟନ ଡଲାରର ପ୍ରଡକ୍ଟର ଏକ୍ସପୋର୍ଟ ମଧ୍ୟ ରେକର୍ଡ କରିପାରିଛୁ । ଏହିସବୁ ସହିତ ମଧ୍ୟ, ଆମର ପ୍ରୟାସ, ଅନ୍ୟ କ୍ଷେତ୍ରରେ ମଧ୍ୟ ସେତିକି ହିଁ ଗମ୍ଭୀରତାର ସହିତ କାର୍ଯ୍ୟ ଜାରି ରହିଛି । ଏଥିପାଇଁ ଆମେ ଯଦି ଟେକ୍ସଟାଇଲ୍ସ କ୍ଷେତ୍ରରେ ପିଏଲଆଇ ସ୍କିମକୁ ଲାଗୁ କରିବୁ, ତେବେ ଡ୍ରୋନ୍ସ, ସେମି-କଣ୍ଡକ୍ଟର୍ସ ଏବଂ ହାଇ-ଏଫିସେନ୍ସୀ ସୋଲାର ପିଭି ମଡୁଲ୍ସ ଏହା ପାଇଁ ମଧ୍ୟ ଏହି ସ୍କିମକୁ ଆଗକୁ ବଢ଼ାଇବୁ । ବାୟୋଟେକ ସେକ୍ଟରର ବିକାଶ ପାଇଁ ମଧ୍ୟ ଭାରତ ଆଜି ଯେତିକି ପଦକ୍ଷେପ ନେଇଛି, ତାହା ଅଦ୍ଭୁତପୂର୍ବ ଅଟେ ।

ସାଥୀମାନେ,

ସରକାରଙ୍କ ପ୍ରୟାସଗୁଡ଼ିକୁ ଆପଣ ଆମର ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ ଇକୋ-ସିଷ୍ଟମରେ ଭଲ ଭାବରେ ସେହି କଥାଗୁଡ଼ିକୁ ବହୁତ ବିସ୍ତୃତ ଭାବେ ଦେଖିପାରିବେ । ଗତ ଆଠ ବର୍ଷରେ ଆମର ଦେଶରେ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ୍ସର ସଂଖ୍ୟା, କିଛି ଶହରୁ ବୃଦ୍ଧି ଘଟି ୭ଠ ହଜାର ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ପହଂଚିଯାଇଛି । ଏହି ୭ଠ ହଜାର ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ୍ସ ପ୍ରାୟତଃ ୬ଠ ଅଲଗା ଅଲଗା ଉଦ୍ୟୋଗରେ ତିଆରି ହୋଇଛି । ଏଥିରେ ମଧ୍ୟ ୫ ହଜାରରୁ ଅଧିକ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ୍ସ, ବାୟୋଟେକ ସହିତ ଜଡ଼ିତ ଅଛି । ଅର୍ଥାତ ବଭାରତରେ ପ୍ରତ୍ୟେକ ୧୪ତମ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ ବାୟୋ ଟେକ୍ନୋଲୋଜୀ କ୍ଷେତ୍ରରେ ତିଆରି ହେଉଛି । ଏଥିରେ ମଧ୍ୟ ୧୧ଠଠରୁ ଅଧିକ ଗତ ବର୍ଷ ହିଁ ଯୋଡ଼ି ହୋଇଛନ୍ତି । ଆପଣ ଅନୁମାନ କରିପାରୁଥିବେ ଯେ ଦେଶର କେତେବଡ଼ ଟାଲେଣ୍ଟ କେତେ ଶୀଘ୍ର ବାୟୋଟେକ ସେକ୍ଟର ଆଡ଼କୁ ଗତି କରୁଛି ।

ସାଥୀମାନେ,

ବିଗତ ବର୍ଷଗୁଡ଼ିକରେ ଆମେ ଅଟଳ ଇନୋଭେସନ ମିଶନ, ମେକ ଇନ ଇଣ୍ଡିଆ ଏବଂ ଆତ୍ମନିର୍ଭର ଭାରତ ଅନ୍ତର୍ଗତ ଯାହା ବି କିଛି ପଦକ୍ଷେପ ନେଇଛୁ, ତାହାର ମଧ୍ୟ ଲାଭ ବାୟୋଟେକ ସେକ୍ଟରକୁ ମିଳିଛି । ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ ଇଣ୍ଡିଆର ଶୁଭାରମ୍ଭ ପରେ ଆମର ବାୟୋଟେକ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ୍ସରେ ନିବେଶ କରିଥିବା ଲୋକଙ୍କ ସଂଖ୍ୟାରେ ନଅ ଗୁଣା ବୃଦ୍ଧି ପାଇଛି । ବାୟୋଟେକ ଇନକିଉବେଟରଙ୍କ ସଂଖ୍ୟା ଏବଂ ମୋଟ ଫଣ୍ଡିଂରେ ମଧ୍ୟ ପ୍ରାୟତଃ ସାତ ଗୁଣା ବୃଦ୍ଧି ପାଇଛି । ୨ଠ୧୪ରେ ଆମ ଦେଶରେ ଯେଉଁଠି କେବଳ ୬ ବାୟୋ- ଇନକିଉବେଟର୍ସ ଥିଲା, ଆଜି ତାହାର ସଂଖ୍ୟା ବୃଦ୍ଧି ପାଇ ୭୫ ହୋଇଯାଇଛି । ଆଠ ବର୍ଷ ପୂର୍ବରୁ ଆମର ଦେଶରେ ୧ଠ ବାୟୋଟେକ୍ ପ୍ରଡକ୍ଟସ ଥିଲା । ଆଜି ତାହାର ସଂଖ୍ୟା ୭ଠଠରୁ ଅଧିକ ହୋଇଯାଇଛି । ଭାରତ ଯିଏ ନିଜର ଫିଜିକାଲ ଇନଫ୍ରାଷ୍ଟ୍ରକଚର ଏବଂ ଡିଜିଟାଲ ଇନଫ୍ରାଷ୍ଟ୍ରକଚରରେ ଅଦ୍ଭୁତପୂର୍ବ ନିବେଶ କରୁଛି, ତାହାର ଲାଭ ମଧ୍ୟ ବାୟୋ-ଟେକ୍ନୋଲୋଜୀ କ୍ଷେତ୍ରକୁ ହେଉଛି ।

ସାଥୀମାନେ,

ଆମର ଯୁବମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ଏହି ନୂଆ ଜୋସ, ଏହି ନୂଆ ଉତ୍ସାହ ଆସିବାର ଆଉ ଏକ ବଡ଼ କାରଣ ଅଛି । ଏହି ପଜିଟିଭିଟି ଏଥିପାଇଁ, କାରଣ ଦେଶରେ ବର୍ତ୍ତମାନ ଇନୋଭେସନର, ଆର ଆଣ୍ଡ ଡି’ର ଏକ ଆଧୁନିକ ସପୋର୍ଟ ସିଷ୍ଟମ ତାଙ୍କୁ ଉପଲବ୍ଧ ହେଉଛି । ଦେଶର ପଲିସୀ ଠାରୁ ନେଇ ଇନଫ୍ରାଷ୍ଟ୍ରକଚର ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ, ଏଥିପାଇଁ ପ୍ରତ୍ୟେକ ଜରୁରୀ ସୁଧାର କରାଯାଇଛି । ସରକାର ସବୁକିଛି ଜାଣିଛନ୍ତି, ସରକାର କେବଳ ଏକୁଟିଆ, ସବୁକିଛି କରିବେ, ଏହି କାର୍ଯ୍ୟ ସଂସ୍କୃତିକୁ ପଛରେ ଛାଡ଼ି ବର୍ତ୍ତମାନ ଦେଶ ‘ସବକା ପ୍ରୟାସ’ର ଭାବନା ସହିତ ଆଗକୁ ବଢୁଛି । ଏଥିପାଇଁ ଭାରତରେ ଆଜି ଅନେକ ନୂଆ ଇଣ୍ଟରଫେସ ବା ଅନ୍ତରାଫଳକ ତିଆରି କରାଯାଇଛି, ‘ବିଆଇଆରଏସି’ ଭଳି ପ୍ଲାଟଫର୍ମକୁ ସଶକ୍ତ କରାଯାଇଛି । ଷ୍ଟର୍ଟଅପ୍ସ ପାଇଁ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ ଇଣ୍ଡିଆ ଅଭିଯାନ ହେଉ, ସ୍ପେଶ ସେକ୍ଟର ପାଇଁ ଆଇଏନଏସପିଏସିଇ ହେଉ, ଡିଫେନ୍ସ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ ପାଇଁ ଆଇଡିଇଏକ୍ସ ହେଉ, ସେମି କଣ୍ଡକ୍ଟର୍ସ ପାଇଁ ଇଣ୍ଡିଆନ ସେମି କଣ୍ଡକ୍ଟର ମିଶନ ହେଉ, ଯୁବଗୋଷ୍ଠୀଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ଇନୋବେଶନକୁ ପ୍ରୋତ୍ସାହିତ କରିବା ପାଇଁ ସ୍ମାର୍ଟ ଇଣ୍ଡିଆ ହାକାଥନ ହେଉ, ଏହି ବାୟୋଟେକ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ ଏକ୍ସପୋ ହେଉ, ସମସ୍ତଙ୍କ ପ୍ରୟାସର ଭାବନାକୁ ବଢ଼ାଇବା ସହିତ ନୂଆ ସଂସ୍ଥାନଗୁଡ଼ିକ ମାଧ୍ୟମରେ ସରକାର ଉଦ୍ୟୋଗର ବେଷ୍ଟ ମାଇଣ୍ଡସକୁ ଏକା ସହିତ, ଏକ ପ୍ଲାଟଫର୍ମରେ ଅଣାଯାଇଛି । ଏହାର ଦେଶକୁ ଗୋଟିଏ ଏବଂ ବଡ଼ ଲାଭ ମିଳିବ । ରିସର୍ଚ୍ଚ ଏବଂ ଏକେଡେମିୟାରୁ ଦେଶକୁ ନୂଆ ବ୍ରେକ ଥ୍ରୁ ମିଳିଥାଏ, ଯାହା ରିଅଲ ୱାର୍ଲ୍ଡ ଭିଉ ହୋଇଥାଏ। ସେଥିରେ ଉଦ୍ୟୋଗ ସହାୟତା କରିଥାଏ ଏବଂ ସରକାର ଜରୁରୀ ପଲିସୀ ଏନଭାରନମେଣ୍ଟ ଏବଂ ଜରୁରୀ ଇନଫ୍ରାଷ୍ଟ୍ରକଚର ଉପଲବ୍ଧ କରାଇଥାଏ ।

ସାଥୀମାନେ,

ଆମେ କୋଭିଡର ପୁରା ଅବଧିରେ ମୁଁ ଦେଖିଛି ଯେ ଯେତେବେଳେ ଏହି ତିନିଜଣ ମିଶି କାମ କରିଥାନ୍ତି ତେବେ କେମିତି କମ ସମୟରେ ଅପ୍ରତ୍ୟାଶିତ ପରିଣାମ ଆସିଥାଏ । ଆବଶ୍ୟକ ମେଡିକାଲ ଡିଭାଇସ, ମେଡିକାଲ ଇନଫ୍ରା ଠାରୁ ନେଇ ଭାକସିନ ରିସର୍ଚ୍ଚ, ମାନୁଫାକଚରିଂ ଏବଂ ଭାକ୍ସିନେସନ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ, ଭାରତ ଯାହା କରି ଦେଖାଇଛି ଯାହାର କଳ୍ପନା କେହି କରି ନ ଥିଲେ । ସେତେବେଳେ ଦେଶରେ ବିଭ୍ରାନ୍ତମୂଳକ କଥା ଉଠୁଥିଲା, ଟେଷ୍ଟିଂ ଲେବଲ ନ ଥିଲା ତେବେ ପରୀକ୍ଷା କିପରି ହେବ? ଅଲଗା ଅଲଗା ଡିପାର୍ଟମେଣ୍ଟସ ଏବଂ ଘରୋଇ କ୍ଷେତ୍ର ମଧ୍ୟରେ ସମନ୍ୱୟ କିପରି ହେବ? ଭାରତକୁ କେବେ ଭାକସନି ମିଳିବ? ଭାକ୍ସିନେସନ ଯଦି ମିଳିଗଲା ତେବେ ଏତେ ବଡ଼ ଦେଶରେ ସମସ୍ତଙ୍କୁ ଭାକ୍ସିନ ଲଗାଇବାରେ କେତେ ବର୍ଷ ଲାଗିବ? ଏଭଳି ଅନେକ ପ୍ରଶ୍ନ ଆମର ସାମ୍ନାକୁ ବାରମ୍ବାର ଆସିଲା । କିନ୍ତୁ ଆଜି ସମସ୍ତଙ୍କ ପ୍ରୟାସର ଶକ୍ତିରେ ଭାରତ ସମସ୍ତଙ୍କର ଆଶଙ୍କାର ଉତ୍ତର ଦେଲା । ଆମେ ପ୍ରାୟ ୨ଠଠ କୋଟଇ ଭାକ୍ସିନ ଡୋଜ ଦେଶବାସୀଙ୍କୁ ଦେଇସାରିଛୁ । ବାୟୋଟେକରୁ ନେଇ ସମସ୍ତ ଅନ୍ୟାନ୍ୟ କ୍ଷେତ୍ରର ସମନ୍ୱୟ, ସରକାର, ଉଦ୍ୟୋଗ ଏବଂ ଏକେଡେମିୟାର ସମନ୍ୱୟ, ଭାରତକୁ ବଡ଼ ସଂକଟରୁ ବାହାର କରି ଆଣିପାରିଛି ।

ସାଥୀମାନେ,

ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ର ସବୁଠାରୁ ଅଧିକ ଡିମାଣ୍ଡ ଡ୍ରାଇଭର ସେକ୍ଟର ମଧ୍ୟରୁ ଅନ୍ୟତମ । ବିଗତ ବର୍ଷଗୁଡ଼ିକରେ ଭାରତରେ ଇଜ ଅଫ ଲିଭିଙ୍ଗ ପାଇଁ ଯେଉଁ ଅଭିଯାନ ଚାଲିଛି, ସେମାନେ ବାୟୋଟେକ ସେକ୍ଟର ପାଇଁ ନୂଆ ସମ୍ଭାବନା ତିଆରି କରିଦେଇଛି । ଆୟୁଷ୍ମାନ ଭାରତ ଯୋଜନା ଅନ୍ତର୍ଗତ ଗାଁ ଏବଂ ଗରିବଙ୍କ ପାଇଁ ଯେଉଁ ପ୍ରକାରର ଚିକିତ୍ସାକୁ ଶସ୍ତା ଏବଂ ସୁଲଭ କରାଯାଇଛି, ତାହାଦ୍ୱାରା ସ୍ୱାସ୍ଥ୍ୟ ସେବା କ୍ଷେତ୍ରରେ ଚାହିଦା ବହୁତ ଅଧିକ ବଢ଼ିଯାଇଛି । ବାୟୋ ଫାର୍ମା ପାଇଁ ମଧ୍ୟ ନୂତନ ଅବସର ହୋଇଛି । ଏହି ଅବସରଗୁଡ଼ିକୁ ଆମେ ଟେଲିମେଡିସିନ୍ସ, ଡିଜିଟାଲ ହେଲଥ ଆଇଡି ଏବଂ ଡ୍ରୋନ ଟେକ୍ନୋଲୋଜୀ ମାଧ୍ୟମରେ ଏବଂ ବ୍ୟାପକ ହୋଇପାରୁଛି, ଆଗାମୀ ବର୍ଷରେ ବାୟୋଟେକ ପାଇଁ ଦେଶରେ ବହୁତ ବଡ଼ କଞ୍ଜୁମର ବେସ ପ୍ରସ୍ତୁତି ହେବ ।

ସାଥୀମାନେ,

ଫାର୍ମା ସହିତ କୃଷି ଏବଂ ଶକ୍ତି କ୍ଷେତ୍ରରେ ଭାରତ ଯେଉଁ ବଡ଼ ପରିବର୍ତ୍ତନ ଆଣିବାକୁ ଯାଉଛି, ତାହା ମଧ୍ୟ ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ର ପାଇଁ ନୂତନ ଉତ୍ସାହ ଉତ୍ପନ୍ନ କରୁଛି । ରାସାୟନିକମୁକ୍ତ ଚାଷକୁ ପ୍ରୋତ୍ସାହନ ନେବା ପାଇଁ ଭାରତରେ ଆଜି ବାୟୋ ଫର୍ଟିଲାଇଜର୍ସ ଏବଂ ଅର୍ଗାନିକ ଫର୍ଟିଲାଇଜର୍ସକୁ ଅଦ୍ଭୁତପୂର୍ବ ପ୍ରୋତ୍ସାହନ ମିଳୁଛି । ଚାଷରେ ଜଳବାୟୁ ପରିବର୍ତ୍ତନର ପ୍ରଭାବକୁ କମ କରିବା ପାଇଁ କୁପୋଷଣକୁ ଦୂର କରିବା ପାଇଁ ବାୟୋ ଫର୍ଟିଫାଏଡ ସିଡ୍ସକୁ ମଧ୍ୟ ପ୍ରୋତ୍ସାହନ ଦିଆଯାଉଛି । ବାଲୋଫ୍ଲୁଲ କ୍ଷେତ୍ରରେ ଯେଉଁ ଚାହିଦା ବଢୁଛି, ଯେଉଁ ଆର ଆଣ୍ଡ ଡି’ ଇନଫ୍ରାଷ୍ଟ୍ରକଚର ବିସ୍ତାର ହେଉଛି, ତାହା ବାୟୋଟେକ ସହିତ ଜଡ଼ିତ ଏସଏମଇଏସ ପାଇଁ ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ୍ସ ପାଇଁ ଏକ ବହୁତ ବଡ଼ ଅବସର ଅଟେ । ନିକଟରେ ପେଟ୍ରୋଲରୁ ଇଥେନାଲର ୧ଠ ପ୍ରତିଶତ ବ୍ଲେଡିଂର ଲକ୍ଷ୍ୟ ହାସଲ କରିଲୁ । ଭାରତ ପେଟ୍ରୋଲରେ ୨ଠ ପ୍ରତିଶତ ଇଥେନାଲ ବ୍ଲେଡିଂର ଲକ୍ଷ୍ୟକୁ ମଧ୍ୟ ୨ଠ୩ଠରୁ ୫ ବର୍ଷ କମ କରି ବର୍ତ୍ତମାନ ଏହାକୁ ୨ଠ୨୫ କରିଦେଇଛି । ଏହି ସମସ୍ତ ପ୍ରୟାସ, ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ରରେ ରୋଜଗାରର ମଧ୍ୟ ନୂତନ ଅବସର ଆଣିବ, ବାୟୋଟେକ ପ୍ରଫେସନାଲ୍ସମାନଙ୍କ ପାଇଁ ନୂଆ ସୁଯୋଗ କରିବ । ସରକାର ବର୍ତ୍ତମାନ ନିକଟରେ ଯେଉଁ ଲାଭାର୍ଥୀମାନଙ୍କର ସେଚୁରେସନ, ଗରିବମାନଙ୍କ ପାଇଁ ଶତ ପ୍ରତିଶତ ସଶକ୍ତିକରଣର ଯେଉଁ ଅଭିଯାନ ଆରମ୍ଭ କରିଛି, ତାହା ମଧ୍ୟ ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ରକୁ ନୂତନ ଶକ୍ତି ଦେଇପାରିବ । ଅର୍ଥାତ ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ରର ବୃଦ୍ଧି ପାଇଁ ଅବସର ହିଁ ଅବସର ରହିଛି । ଭାରତର ଜେନେରିକ ଔଷଧ, ଭାରତର ଭାକ୍ସିନ ଯେଉଁ ବିଶ୍ୱାସ ଦୁନିଆରେ କରିଛି, ଯେତେ ବଡ଼ ଲେବଲରେ ଆମେ କାମ କରିପାରିବୁ, ତାହା ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ର ପାଇଁ ଏକ ଏବଂ ବଡ଼ ଲାଭ ହେବ । ମୋତେ ବିଶ୍ୱାସ ଅଛି, ଆସନ୍ତା ଦୁଇ ଦିନ ମଧ୍ୟରେ ଆପଣ ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ର ସହିତ ଜଡ଼ିତ ପ୍ରତ୍ୟେକ ସମ୍ଭାବନା ଉପରେ ବିସ୍ତୃତ ଭାବେ ଚର୍ଚ୍ଚା କରିବା । ବର୍ତ୍ତମାନ ‘ବିଆଇଆରଏସି’ ନିଜର ୧ଠ ବର୍ଷ ପୂରଣ କରିଛି । ମୋର ଏହା ମଧ୍ୟ ଆଗ୍ରହ ଅଛି ଯେ ଯେତେବେଳେ ‘ବିଆଇଆରଏସି’ ନିଜର ୨୫ ବର୍ଷ ପୂରଣ କରିବ, ସେତେବେଳେ ବାୟୋଟେକ କ୍ଷେତ୍ର କେଉଁ ଶିଖରରେ ଥିବ, ସେଥିପାଇଁ ନିଜର ଲକ୍ଷ୍ୟ ଏବଂ ଆକ୍ସନେବଲ ପଏଣ୍ଟସ ଉପରେ ବର୍ତ୍ତମାନ ଠାରୁ କାମ କରିବା ଦରକାର । ଏହି ବିଶାଳ ଆୟୋଜନ ପାଇଁ ଦେଶର ଯୁବପିଢ଼ିଙ୍କୁ ଏହି କ୍ଷେତ୍ରରେ ଆକର୍ଷିତ କରିବା ପାଇଁ ଏବଂ ଦେଶର ପ୍ରତିଭାକୁ ଦୁନିଆ ସମ୍ମୁଖରେ ପୁରା ସାମର୍ଥ୍ୟର ସହିତ ପ୍ରସ୍ତୁତ କରିବା ପାଇଁ ଆପଣ ସମସ୍ତଙ୍କୁ ବହୁତ ବହୁତ ଶୁଭେଚ୍ଛା ଜଣାଉଛି । ବହୁତ ବହୁତ ଶୁଭକାମନା ଦେଉଛି ।

ବହୁତ ବହୁତ ଧନ୍ୟବାଦ!

Explore More
୭୭ତମ ସ୍ବାଧୀନତା ଦିବସ ଅବସରରେ ଲାଲକିଲ୍ଲା ପ୍ରାଚୀରରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀଙ୍କ ଅଭିଭାଷଣର ମୂଳ ପାଠ

ଲୋକପ୍ରିୟ ଅଭିଭାଷଣ

୭୭ତମ ସ୍ବାଧୀନତା ଦିବସ ଅବସରରେ ଲାଲକିଲ୍ଲା ପ୍ରାଚୀରରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀଙ୍କ ଅଭିଭାଷଣର ମୂଳ ପାଠ
Firm economic growth helped Indian automobile industry post 12.5% sales growth

Media Coverage

Firm economic growth helped Indian automobile industry post 12.5% sales growth
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Today, Congress party is roaming around like the ‘Sultan’ of a ‘Tukde-Tukde’ gang: PM Modi in Mysuru
April 14, 2024
BJP's manifesto is a picture of the future and bigger changes: PM Modi in Mysuru
Today, Congress party is roaming around like the ‘Sultan’ of a ‘Tukde-Tukde’ gang: PM Modi in Mysuru
India will be world's biggest Innovation hub, creating affordable medicines, technology, and vehicles: PM Modi in Mysuru

नीमागेल्ला नन्ना नमस्कारागलु।

आज चैत्र नवरात्र के पावन अवसर पर मुझे ताई चामुंडेश्वरी के आशीर्वाद लेने का अवसर मिल रहा है। मैं ताई चामुंडेश्वरी, ताई भुवनेश्वरी और ताई कावेरी के चरणों में प्रणाम करता हूँ। मैं सबसे पहले आदरणीय देवगौड़ा जी का हृदय से आभार व्यक्त करता हूं। आज भारत के राजनीति पटल पर सबसे सीनियर मोस्ट राजनेता हैं। और उनके आशीर्वाद प्राप्त करना ये भी एक बहुत बड़ा सौभाग्य है। उन्होंने आज जो बातें बताईं, काफी कुछ मैं समझ पाता था, लेकिन हृदय में उनका बहुत आभारी हूं। 

साथियों

मैसुरु और कर्नाटका की धरती पर शक्ति का आशीर्वाद मिलना यानि पूरे कर्नाटका का आशीर्वाद मिलना। इतनी बड़ी संख्या में आपकी उपस्थिति, कर्नाटका की मेरी माताओं-बहनों की उपस्थिति ये साफ बता रही है कि कर्नाटका के मन में क्या है! पूरा कर्नाटका कह रहा है- फिर एक बार, मोदी सरकार! फिर एक बार, मोदी सरकार! फिर एक बार, मोदी सरकार!

साथियों,

आज का दिन इस लोकसभा चुनाव और अगले five years के लिए एक बहुत अहम दिन है। आज ही बीजेपी ने अपना ‘संकल्प-पत्र’ जारी किया है। ये संकल्प-पत्र, मोदी की गारंटी है। और देवगौड़ा जी ने अभी उल्लेख किया है। ये मोदी की गारंटी है कि हर गरीब को अपना घर देने के लिए Three crore नए घर बनाएंगे। ये मोदी की गारंटी है कि हर गरीब को अगले Five year तक फ्री राशन मिलता रहेगा। ये मोदी की गारंटी है कि- Seventy Year की आयु के ऊपर के हर senior citizen को आयुष्मान योजना के तहत फ्री चिकित्सा मिलेगी। ये मोदी की गारंटी है कि हम Three crore महिलाओं को लखपति दीदी बनाएँगे। ये गारंटी कर्नाटका के हर व्यक्ति का, हर गरीब का जीवन बेहतर बनाएँगी।

साथियों,

आज जब हम Ten Year पहले के समय को याद करते हैं, तो हमें लगता है कि हम कितना आगे आ गए। डिजिटल इंडिया ने हमारे जीवन को तेजी से बदला है। बीजेपी का संकल्प-पत्र, अब भविष्य के और बड़े परिवर्तनों की तस्वीर है। ये नए भारत की तस्वीर है। पहले भारत खस्ताहाल सड़कों के लिए जाना जाता था। अब एक्सप्रेसवेज़ भारत की पहचान हैं। आने वाले समय में भारत एक्सप्रेसवेज, वॉटरवेज और एयरवेज के वर्ल्ड क्लास नेटवर्क के निर्माण से विश्व को हैरान करेगा। 10 साल पहले भारत टेक्नालजी के लिए दूसरे देशों की ओर देखता था। आज भारत चंद्रयान भी भेज रहा है, और सेमीकंडक्टर भी बनाने जा रहा है। अब भारत विश्व का बड़ा Innovation Hub बनकर उभरेगा। यानी हम पूरे विश्व के लिए सस्ती मेडिसिन्स, सस्ती टेक्नोलॉजी और सस्ती गाडियां बनाएंगे। भारत वर्ल्ड का research and development, R&D हब बनेगा। और इसमें वैज्ञानिक रिसर्च के लिए एक लाख करोड़ रुपये के फंड की भी बड़ी भूमिका होगी। कर्नाटका देश का IT और technology hub है। यहाँ के युवाओं को इसका बहुत बड़ा लाभ मिलेगा।

साथियों,

हमने संकल्प-पत्र में स्थानीय भाषाओं को प्रमोट करने की बात कही है। हमारी कन्नड़ा देश की इतनी समृद्ध भाषा है। बीजेपी के इस मिशन से कन्नड़ा का विस्तार होगा और उसे बड़ी पहचान मिलेगी। साथ ही हमने विरासत के विकास की गारंटी भी दी है। हमारे कर्नाटका के मैसुरु, हम्पी और बादामी जैसी जो हेरिटेज साइट्स हैं, हम उनको वर्ल्ड टूरिज़्म मैप पर प्रमोट करेंगे। इससे कर्नाटका में टूरिज्म और रोजगार के नए अवसर सृजित होंगे।

साथियों,

इन सारे लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए भाजपा जरूरी है, NDA जरूरी है। NDA जो कहता है वो करके दिखाता है। आर्टिकल-370 हो, तीन तलाक के खिलाफ कानून हो, महिलाओं के लिए आरक्षण हो या राम मंदिर का भव्य निर्माण, भाजपा का संकल्प, मोदी की गारंटी होता है। और मोदी की गारंटी को सबसे बड़ी ताकत कहां से मिलती है? सबसे बड़ी ताकत आपके एक वोट से मिलती है। आपका हर वोट मोदी की ताकत बढ़ाता है। आपका हर एक वोट मोदी की ऊर्जा बढ़ाता है।

साथियों,

कर्नाटका में तो NDA के पास एचडी देवेगौड़ा जी जैसे वरिष्ठ नेता का मार्गदर्शन है। हमारे पास येदुरप्पा जी जैसे समर्पित और अनुभवी नेता हैं। हमारे HD कुमारास्वामी जी का सक्रिय सहयोग है। इनका ये अनुभव कर्नाटका के विकास के लिए बहुत काम आएगा।

साथियों,

कर्नाटका उस महान परंपरा का वाहक है, जो देश की एकता और अखंडता के लिए अपना सब कुछ बलिदान करना सिखाता है। यहाँ सुत्तुरू मठ के संतों की परंपरा है। राष्ट्रकवि कुवेम्पु के एकता के स्वर हैं। फील्ड मार्शल करियप्पा का गौरव है। और मैसुरु के राजा कृष्णराज वोडेयर के द्वारा किए गए विकास कार्य आज भी देश के लिए एक प्रेरणा हैं। ये वो धरती है जहां कोडगु की माताएं अपने बच्चों को राष्ट्रसेवा के लिए सेना में भेजने के सपना देखती है। लेकिन दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी भी है। कांग्रेस पार्टी आज टुकड़े-टुकड़े गैंग की सुल्तान बनकर घूम रही है। देश को बांटने, तोड़ने और कमजोर करने के काँग्रेस पार्टी के खतरनाक इरादे आज भी वैसे ही हैं। आर्टिकल 370 के सवाल पर काँग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि कश्मीर का दूसरे राज्यों से क्या संबंध? और, अब तो काँग्रेस देश से घृणा की सारी सीमाएं पार कर चुकी है। कर्नाटका की जनता साक्षी है कि जो भारत के खिलाफ बोलता है, कांग्रेस उसे पुरस्कार में चुनाव का टिकट दे देती है। और आपने हाल में एक और दृश्य देखा होगा, काँग्रेस की चुनावी रैली में एक व्यक्ति ने ‘भारत माता की जय’ के नारे लगवाए। इसके लिए उसे मंच पर बैठे नेताओं से परमीशन लेनी पड़ी। क्या भारत माता की जय बोलने के लिए परमीशन लेनी पड़े। क्या ऐसी कांग्रेस को देश माफ करेगा। ऐसी कांग्रेस को कर्नाटका माफ करेगा। ऐसी कांग्रेस को मैसुरू माफ करेगा। पहले वंदेमातरम् का विरोध, और अब ‘भारत माता की जय’ कहने तक से चिढ़!  ये काँग्रेस के पतन की पराकाष्ठा है।

साथियों,

आज काँग्रेस पार्टी सत्ता के लिए आग का खेल खेल रही है। आज आप देश की दिशा देखिए, और काँग्रेस की भाषा देखिए! आज विश्व में भारत का कद और सम्मान बढ़ रहा है। बढ़ रहा है कि नहीं बढ़ रहा है। दुनिया में भारत का नाम हो रहा है कि नहीं हो रहा है। भारत का गौरव बढ़ रहा है कि नहीं बढ़ रहा है। हर भारतीय को दुनिया गर्व से देखती है कि नहीं देखती है। तो काँग्रेस के नेता विदेशों में जाकर देश को नीचा दिखाने के कोई मौके छोड़ते नहीं हैं। देश अपने दुश्मनों को अब मुंहतोड़ जवाब देता है, तो काँग्रेस सेना से सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगती है। आतंकी गतिविधियों में शामिल जिस संगठन पर बैन लगता है। काँग्रेस उसी के पॉलिटिकल विंग के साथ काम कर रहा है। कर्नाटका में तुष्टीकरण का खुला खेल चल रहा है। पर्व-त्योहारों पर रोक लगाने की कोशिश हो रही है। धार्मिक झंडे उतरवाए जा रहे हैं। आप मुझे बताइये, क्या वोटबैंक का यही खेल खेलने वालों के हाथ में देश की बागडोर दी जा सकती है। दी जा सकती है।

साथियों, 

हमारा मैसुरु तो कर्नाटका की कल्चरल कैपिटल है। मैसुरु का दशहरा तो पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। 22 जनवरी को अयोध्या में 500 का सपना पूरा हुआ। पूरा देश इस अवसर पर एक हो गया। लेकिन, काँग्रेस के लोगों ने, उनके साथी दलों ने राममंदिर की प्राण-प्रतिष्ठा जैसे पवित्र समारोह तक पर विषवमन किया! निमंत्रण को ठुकरा दिया। जितना हो सका, इन्होंने हमारी आस्था का अपमान किया। कांग्रेस और इंडी अलायंस ने राममंदिर प्राण-प्रतिष्ठा का बॉयकॉट कर दिया। इंडी अलांयस के लोग सनातन को समाप्त करना चाहते हैं। हिन्दू धर्म की शक्ति का विनाश करना चाहते हैं। लेकिन, जब तक मोदी है, जब तक मोदी के साथ आपके आशीर्वाद हैं, ये नफरती ताक़तें कभी भी सफल नहीं होंगी, ये मोदी की गारंटी है।

साथियों,

Twenty twenty-four का लोकसभा चुनाव अगले five years नहीं, बल्कि twenty forty-seven के विकसित भारत का भविष्य तय करेगा। इसीलिए, मोदी देश के विकास के लिए अपना हर पल लगा रहा है। पल-पल आपके नाम। पल-पल देख के नाम। twenty-four बाय seven, twenty-four बाय seven for Twenty Forty-Seven.  मेरा ten years का रिपोर्ट कार्ड भी आपके सामने है। मैं कर्नाटका की बात करूं तो कर्नाटका के चार करोड़ से ज्यादा लोगों को मुफ्त राशन मिल रहा है। Four lakh fifty thousand गरीब परिवारों को कर्नाटका में पीएम आवास मिले हैं। One crore fifty lakh से ज्यादा गरीबों को मुफ्त इलाज की गारंटी मिली है। नेशनल हाइवे के नेटवर्क का भी यहाँ बड़ा विस्तार किया गया है। मैसुरु से बेंगलुरु के बीच एक्सप्रेसवे ने इस क्षेत्र को नई गति दी है। आज देश के साथ-साथ कर्नाटका में भी वंदेभारत ट्रेनें दौड़ रही हैं। जल जीवन मिशन के तहत Eight Thousand से अधिक गांवों में लोगों को नल से जल मिलने लगा है। ये नतीजे बताते हैं कि अगर नीयत सही, तो नतीजे भी सही! आने वाले Five Years में विकास के काम, गरीब कल्याण की ये योजनाएँ शत प्रतिशत लोगों तक पहुंचेगी, ये मोदी की गारंटी है।

साथियों,

मोदी ने अपने Ten year साल का हिसाब देना अपना कर्तव्य माना है। क्या आपने कभी काँग्रेस को उसके sixty years का हिसाब देते देखा है? नहीं न? क्योंकि, काँग्रेस केवल समस्याएँ पैदा करना जानती है, धोखा देना जानती है। कर्नाटका के लोग इसी पीड़ा में फंसे हुये हैं। कर्नाटका काँग्रेस पार्टी की लूट का ATM स्टेट बन चुका है। खाली लूट के कारण सरकारी खजाना खाली हो चुका है। विकास और गरीब कल्याण की योजनाओं को बंद किया जा रहा है। वादा किसानों को मुफ्त बिजली का था, लेकिन किसानों को पंपसेट चलाने तक की बिजली नहीं मिल रही। युवाओं की, छात्रों की स्कॉलर्शिप तक में कटौती हो रही है। किसानों को किसान सम्मान निधि में राज्य सरकार की ओर से मिल रहे four thousands रुपए बंद कर दिये गए हैं। देश का IT hub बेंगलुरु पानी के घनघोर संकट से जूझ रहा है। पानी के टैंकर की कालाबाजारी हो रही है। इन सबके बीच, काँग्रेस पार्टी को चुनाव लड़वाने के लिए hundreds of crores रुपये ब्लैक मनी कर्नाटका से देशभर में भेजा जा रहा है। ये काँग्रेस के शासन का मॉडल है। जो अपराध इन्होंने कर्नाटका के साथ किया है, इसकी सजा उन्हें Twenty Six  अप्रैल को देनी है। 26 अप्रैल को देनी है।

साथियों,

मैसूरु से NDA के उम्मीदवार श्री यदुवीर कृष्णदत्त चामराज वोडेयर, चामराजनागर से श्री एस बालाराज, हासन लोकसभा से एनडीए के श्री प्रज्जवल रेवन्ना और मंड्या से मेरे मित्र श्री एच डी कुमार स्वामी,  आने वाली 26 अप्रैल को इनके लिए आपका हर वोट मोदी को मजबूती देगा। देश का भविष्य तय करेगा। मैसुरु की धरती से मेरी आप सभी से एक और अपील है। मेरा एक काम करोगे। जरा हाथ ऊपर बताकर के बताइये, करोगे। कर्नाटका के घर-घर जाना, हर किसी को मिलना और मोदी जी का प्रणाम जरूर पहुंचा देना। पहुंचा देंगे। पहुंचा देंगे।

मेरे साथ बोलिए

भारत माता की जय

भारत माता की जय

भारत माता की जय

बहुत बहुत धन्यवाद।