୨୦ହଜାର କୋଟି ଟଙ୍କାରୁ ଅଧିକ ଅର୍ଥ ଦଶ କୋଟି ହିତାଧିକାରୀ ଚାଷୀ ପରିବାରକୁ ହସ୍ତାନ୍ତରିତ
ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମଧ୍ୟ ୩୫୧ଟି ଏଫପିଓକୁ ହସ୍ତାନ୍ତରକଲେ ୧୪କୋଟି ଟଙ୍କାର ଅଂଶଧନ । ଏହାଦ୍ୱାରା ୧.୨୪ ଲକ୍ଷରୁ ଅଧିକ ଚାଷୀ ହେବେ ଉପକୃତ
“ଆମର କ୍ଷୁଦ୍ର ଚାଷୀମାନଙ୍କ ଶକ୍ତି ବୃଦ୍ଧିରେ ଏଫପିଓ ମାନେ ଏକ ବିରାଟ ଭୂମିକା ଗ୍ରହଣ କରିଛନ୍ତି”
“ଦେଶର କୃଷକମାନଙ୍କ ଆତ୍ମବିଶ୍ୱାସ ହିଁ ଦେଶ ଶକ୍ତିର ଚାବିକାଠି”
“୨୦୨୧ର ସଫଳତାରୁ ଉତ୍ସାହ ପାଇଁ ଆମେ ନୂତନ ଯାତ୍ରାର ସୋପାନ ଚଢିବାକୁ ହେବ”
“ଦେଶ ଆଗରେ” ଏହି ଉଦ୍ଦୀପନାକୁ ନେଇ ଦେଶ ପାଇଁ କିଛି କରିବା ଚିନ୍ତାଧାର ଆଜି ପ୍ରତ୍ୟେକ ଭାରତୀୟର ମନୋଭାବ ପାଲଟିଛି । ସେଥିପାଇଁ ଆଜି ଆମ ଉଦ୍ୟମ ଓ ସଂକଳ୍ପରେ ଏକ ଐକ୍ୟ ଭାବନା ରହିଛି । ଆଜି ଆମ ନୀତିରେ ଏକ ଦୃଢତା ରହିଛି ଏବଂ ନିଷ୍ପତ୍ତିରେ ଦୂରଦୃଷ୍ଟି ମଧ୍ୟ ଅଛି”
“ଭାରତୀୟ କୃଷମାନଙ୍କ ନିମନ୍ତେ ପିଏମ୍ କିଷାନ ସମ୍ମାନନିଧି ଏକ ବିରାଟ ସହାୟତା । ଆଜିର ହସ୍ତାନ୍ତରଣକୁ ମିଶାଇଲେ ୧. ୮୦ଲକ୍ଷ କୋଟି ଟଙ୍କା ସିଧାସଳଖ କୃଷକମାନଙ୍କ ଖାତାକୁ ଯାଇଛି”

ଉପସ୍ଥିତ ସମସ୍ତ ଆଦରଣୀୟ ମହାନୁଭବ, ସର୍ବପ୍ରଥମେ ମୁଁ ମାତା ବୈଷ୍ଣୋଦେବୀ ପରିସରରେ ହୋଇଥିବା ଦୁଃଖଦ ଘଟଣା ଉପରେ ଶୋକ ବ୍ୟକ୍ତ କରୁଛି । ଯେଉଁ ଲୋକମାନେ ଦଳାଚକଟାରେ, ନିଜର ଲୋକମାନଙ୍କୁ ହରାଇଛନ୍ତି, ଯେଉଁ ଲୋକମାନେ ଆହତ ହୋଇଛନ୍ତି, ମୋର ସମବେଦନା ସେମାନଙ୍କ ସହିତ ରହିଛି । କେନ୍ଦ୍ର ସରକାର, ମୁଁ ଜମ୍ମୁ- କଶ୍ମୀର ପ୍ରଶାସନର ସମ୍ପର୍କରେ କ୍ରମାଗତ ଭାବେ ରହିଛି। ଉପ-ରାଜ୍ୟପାଳ ମନୋଜ ସିହ୍ନା ମହାଶୟଙ୍କ ସହିତ ମଧ୍ୟ କଥା ହୋଇଥିଲି। ଉଦ୍ଧାର କାର୍ଯ୍ୟର, ଆହତମାନଙ୍କର ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ଭାବେ ଧ୍ୟାନ ରଖା ଯାଉଛି।

ଭାଇ –ଭଉଣୀମାନେ,

ଏହି କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମରେ ଆମ ସହିତ ଜଡ଼ିତ କେନ୍ଦ୍ର ମନ୍ତ୍ରୀମଣ୍ଡଳରେ ମୋର ସହଯୋଗୀଗଣ, ଭିନ୍ନ- ଭିନ୍ନ ରାଜ୍ୟମାନଙ୍କର ମୁଖ୍ୟମନ୍ତ୍ରୀଗଣ, ରାଜ୍ୟମାନଙ୍କର କୃଷି ମନ୍ତ୍ରୀ, ଅନ୍ୟ ମହାନୁଭବ ଏବଂ ଦେଶର କୋଣ- ଅନୁକୋଣରୁ ଆମ ସହିତ ଜଡ଼ିତ ମୋର କୋଟି- କୋଟି କୃଷକ ଭାଇ ଏବଂ ଭଉଣୀ, ଭାରତରେ ରହୁଥିବା, ଭାରତ ବାହାରେ ରହୁଥିବା ପ୍ରତ୍ୟେକ ଭାରତୀୟ, ଭାରତର ପ୍ରତ୍ୟେକ ଶୁଭଚିନ୍ତକ ଆଉ ବିଶ୍ୱ ସମୁଦାୟକୁ ବର୍ଷ 2022ର ହାର୍ଦ୍ଦିକ ଶୁଭକାମନା।

ବର୍ଷର ପ୍ରାରମ୍ଭରେ ଦେଶର କୋଟି- କୋଟି ଅନ୍ନଦାତାଙ୍କ ସହିତ ରହିବା, ବର୍ଷର ପ୍ରାରମ୍ଭରେ ହିଁ ମୋତେ ଦେଶର କୋଣ- ଅନୁକୋଣରେ ରହିଥିବା ଆମର କୃଷକମାନଙ୍କର ଦର୍ଶନ କରିବାର ସୌଭାଗ୍ୟ ମିଳିଲା, ଏହା ହେଉଛି ନିଜକୁ ନିଜ ମଧ୍ୟରେ ମୋ ପାଇଁ ବହୁତ ବଡ଼ ପ୍ରେରଣାର ମୂହୁର୍ତ। ଆଜି ଦେଶର କୋଟି- କୋଟି କୃଷକ ପରିବାରଙ୍କୁ, ବିଶେଷ କରି କ୍ଷୁଦ୍ର ଚାଷୀଙ୍କୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କିଷାନ ସମ୍ମାନ ନିଧିର 10ମ କିସ୍ତି ମିଳିଛି। କୃଷକମାନଙ୍କ ବ୍ୟାଙ୍କ ଖାତାକୁ 20 ହଜାର କୋଟି ଟଙ୍କା ହସ୍ତାନ୍ତର କରାଯାଇଛି। ଆଜି ଆମର କୃଷକ ଉତ୍ପାଦକ ସଂଗଠନ- କୃଷକ ଉତ୍ପାଦକ ସଂଗଠନ ଗୁଡିକ, ଏହା ସହିତ ଜଡ଼ିତ କୃଷକମାନଙ୍କୁ ଆର୍ôଥକ ସହାୟତା ମଧ୍ୟ ପଠାଯାଇଛି। ଶହ- ଶହ ଏଫପିଓମାନେ ଆଜି ନୂତନ ଶୁଭାରମ୍ଭ କରୁଛନ୍ତି।

ସାଥୀଗଣ,

ଆମର ଏଠାରେ କୁହନ୍ତି- ଆମୁଖାୟାତି କଲ୍ୟାଣଂ କାର୍ଯ୍ୟସିଦ୍ଧିଂ ହି ଶଂସତି

ଅର୍ଥାତ୍, ସଫଳ ଶୁଭାରମ୍ଭ କାର୍ଯ୍ୟସିଦ୍ଧିର, ସଂକଳ୍ପର ସିଦ୍ଧିର ପ୍ରଥମରୁ ହିଁ ଘୋଷଣା କରି ଦେଇଥାଏ। ଏକ ରାଷ୍ଟ୍ର ଭାବେ ଆମେ 2021ର ବିଗତ ବର୍ଷକୁ ସେହି ରୂପରେ ହିଁ ଦେଖିପାରିବା । 2021, ଶହେ ବର୍ଷରେ ଆସିଥିବା ସବୁଠାରୁ ବଡ଼ ମହାମାରୀ ସହିତ ମୁକାବିଲା କରି କୋଟି- କୋଟି ଭାରତୀୟଙ୍କର ସାମୁହିକ ସାମର୍ଥ୍ୟ, ଦେଶ କ’ଣ କରି ଦେଖାଇଛି, ଏହି କଥାର ସାକ୍ଷୀ ହେଉଛେ ଆମେ ସମସ୍ତେ। ଆଜି ଆମେ ଯେତେବେଳେ ନବବର୍ଷରେ ପ୍ରବେଶ କରୁଛେ, ସେତେବେଳେ ବିଗତ ବର୍ଷର ନିଜର ପ୍ରୟାସଗୁଡ଼ିକରୁ ପ୍ରେରଣା ନେଇ ଆମକୁ ନୂତନ ସଂକଳ୍ପ ଆଡ଼କୁ ବଢ଼ିବାକୁ ହେବ।

ଚଳିତ ବର୍ଷ ଆମେ ଆମର ସ୍ୱାଧୀନତାର 75 ବର୍ଷକୁ ପୂରଣ କରିବା । ଏହି ସମୟ ହେଉଛି ଦେଶର ସଂକଳ୍ପଗୁଡ଼ିକର ଏକ ନୂତନ ଜୀବନ୍ତ ଯାତ୍ରା ଆରମ୍ଭ କରିବା ପାଇଁ, ନୂତନ ସାହସର ସହିତ ଆଗକୁ ବଢ଼ିବା ପାଇଁ । 2021ରେ ଆମେ ସମସ୍ତ ଭାରତୀୟ ମାନେ ସମଗ୍ର ବିଶ୍ୱକୁ ଦେଖାଇ ଦେଇଛେ ଯେ, ଯେତେବେଳେ ଆମେ ସ୍ଥିର କରି ନେଉ ସେତେବେଳେ ବଡ଼ରୁ ଅତି ବଡ଼ ଲକ୍ଷ୍ୟ, ଛୋଟ ହୋଇ ଯାଏ । କିଏ ଚିନ୍ତା କରି ପାରିଥିବ ଯେ ଏତେ କମ୍ ସମୟ ମଧ୍ୟରେ ଭାରତ ଭଳି ଏକ ବିଶାଳ ଦେଶ, ବିବିଧତାରେ ଭରି ରହିଥିବା ଦେଶ, 145 କୋଟି ଡୋଜ ଟିକା ଦେଇ ପାରିବ? କିଏ ଚିନ୍ତା କରି ପାରିଥିଲା ଯେ ଭାରତ ଗୋଟିଏ ଦିନରେ ଅଢ଼େଇ କୋଟି ଡୋଜ ଟିକା ଦେବାର ରେକର୍ଡ କରି ପାରିବ?  କିଏ ଚିନ୍ତା କରି ପାରିଥିଲା ଯେ ଭାରତ ଗୋଟିଏ ବର୍ଷରେ 2 କୋଟି ଘରକୁ ପାଇପ ଯୋଗେ ପାଣି ପହଂଚାଇବାର ସୁବିଧା ସହିତ ଜୋଡି ପାରିବ?

ଭାରତ ଏହି କରୋନା କାଳରେ ଅନେକ ମାସ ଧରି ନିଜର 80 କୋଟି ନାଗରିକଙ୍କୁ ମାଗଣା ରାସନ ସୁନିଶ୍ଚିତ କରୁଛି। ଆଉ ମାଗଣା ରାସନର କେବଳ ଏହି ଯୋଜନା ଉପରେ ହିଁ ଭାରତ 2 ଲକ୍ଷ 60 ହଜାର କୋଟିରୁ ଅଧିକ ଟଙ୍କା ଖର୍ଚ୍ଚ କରି ସାରିଛି। ମାଗଣା ରାସନର ଏହି ଯୋଜନାର ବହୁତ ବଡ଼ ଲାଭ ଗାଁକୁ, ଗରିବଙ୍କୁ, ଗାଁରେ ରହୁଥିବା ଆମର କୃଷକ ସାଥୀମାନଙ୍କୁ ମିଳିଛି, କୃଷି କ୍ଷେତର ଶ୍ରମିକମାନଙ୍କୁ ମିଳିଛି।

ସାଥୀଗଣ,

ଆମର ଏଠାରେ ମଧ୍ୟ କୁହା ଯାଇଛି- ସଙ୍ଘେ ଶକ୍ତି କଲୌ ଯୁଗେ

ଅର୍ଥାତ୍, ଏହି ଯୁଗରେ ସଂଗଠନରୁ ହିଁ ଶକ୍ତି ମିଳିଥାଏ । ସଂଗଠିତ ଶକ୍ତି, ଅର୍ଥାତ୍ ସମସ୍ତଙ୍କ ପ୍ରୟାସ, ସଂକଳ୍ପକୁ ସିଦ୍ଧି ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ନେଇ ଯିବାର ମାର୍ଗ। ଯେତେବେଳେ 130 କୋଟି ଭାରତୀୟ ମିଳିମିଶି ଗୋଟିଏ ପାଦ ଆଗକୁ ବଢ଼ାଇ ଥାଆନ୍ତି, ତାହା କେବଳ ଏକ ପାଦ ହୋଇ ନଥାଏ, 130 କୋଟି ପାଦ ହୋଇଥାଏ । ଆମ ଭାରତୀୟଙ୍କ ସ୍ୱାଭବ ରହିଛି ଯେ କିଛି ନା କିଛି ଭଲ କରି ଆମକୁ ଏକ ଭିନ୍ନ ଅନୁଭବ ମିଳିଥାଏ। କିନ୍ତୁ ଯେତେବେଳେ ଏହି ଭଲ କରିବା ଲୋକ ଏକାଠି ହୋଇ ଥାଆନ୍ତି, ବିକ୍ଷିପ୍ତ ହୋଇ ରହିଥିବା ମୋତିଗୁଡ଼ିକ ଦ୍ୱାରା ମାଳା ତିଆରି ହୋଇଥାଏ, ସେତେବେଳେ ଭାରତ ମାତା ଦୋଦୀପ୍ୟମାନ ହୋଇ ଯାଇଥାଏ। କେତେ ଲୋକ ଦେଶ ପାଇଁ ନିଜର ଜୀବନକୁ ଉତ୍ସର୍ଗ କରି ଦେଇଛନ୍ତି, ଦେଶ ନିର୍ମାଣରେ ଲାଗି ପଡ଼ିଛନ୍ତି। ଏହି କାର୍ଯ୍ୟ ପ୍ରଥମେ ମଧ୍ୟ କରୁଥିଲେ, କିନ୍ତୁ ସେମାନଙ୍କୁ ପରିଚୟ ଦେବାର କାର୍ଯ୍ୟ ଏବେ ଆରମ୍ଭ ହୋଇଛି। ପ୍ରତ୍ୟେକ ଭାରତୀୟଙ୍କ ଶକ୍ତି ଆଜି ସାମୁହିକ ଭାବେ ପରିବର୍ତିତ ହୋଇ ଦେଶର ବିକାଶକୁ ନୂତନ ଗତି ଏବଂ ନୂତନ ଶକ୍ତି ପ୍ରଦାନ କରୁଛି। ଯେଭଳି ଏବେ ପଦ୍ମ ପୁରସ୍କାରରେ ସମ୍ମାନିତ ଲୋକଙ୍କ ନାମକୁ ଦେଖୁଛେ, ସେମାନଙ୍କ ଚେହେରାକୁ ଦେଖୁଛେ, ସେତେବେଳେ ମନ ଆନନ୍ଦରେ ଭରି ଯାଉଛି। ସମସ୍ତଙ୍କ ପ୍ରୟାସରେ ହିଁ ଆଜି ଭାରତ କରୋନା ଭଳି ଏତେ ବଡ଼ ମହାମାରୀର ମୁକାବିଲା କରୁଛି।

ଭାଇ  ଭଉଣୀମାନେ,

ଏହି କରୋନା ସମୟରେ, ଦେଶରେ ସ୍ୱାସ୍ଥ୍ୟ କ୍ଷେତ୍ରକୁ ଆହୁରି ସୁଦୃଢ଼ କରିବା, ସ୍ୱାସ୍ଥ୍ୟ ଭିତିଭୂମିକୁ ଆହୁରି ବୃଦ୍ଧି କରିବା ପାଇଁ ମଧ୍ୟ ନିରନ୍ତର କାର୍ଯ୍ୟ କରାଯାଇଛି। 2021ରେ ଦେଶରେ ଶହ- ଶହ ନୂତନ ଅକ୍ସିଜେନ ପ୍ଲାଂଟମାନ ନିର୍ମାଣ କରାଯାଇଛି, ହଜାର- ହଜାର ନୂତନ ଭେଂଟିଲେଟର ଲଗାଯାଇଛି । 2021ରେ ଦେଶରେ ଅନେକ ନୂତନ ମେଡିକାଲ କଲେଜ ନିର୍ମାଣ ହୋଇଛି, ଡଜନ- ଡଜନ ମେଡିକାଲ କଲେଜ ନିର୍ମାଣ କାର୍ଯ୍ୟ ଆରମ୍ଭ ହୋଇଛି । 2021ରେ ଦେଶରେ ହଜାର- ହଜାର ଆରୋଗ୍ୟ କେନ୍ଦ୍ର ମଧ୍ୟ ନିର୍ମାଣ ହୋଇଛି। ଆୟୂଷ୍ମାନ ଭାରତ ସ୍ୱାସ୍ଥ୍ୟ ଭିତିଭୂମି ମିଶନ ଦେଶର ଜିଲ୍ଲା- ଜିଲ୍ଲା, ବ୍ଲକ- ବ୍ଲକ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ଭଲ ଡାକ୍ତରଖାନା, ଭଲ ପରୀକ୍ଷଣ କେନ୍ଦ୍ରର ନେଟୱର୍କକୁ ସଶକ୍ତ କରିବ। ଡିଜିଟାଲ ଇଣ୍ଡିଆକୁ ନୂତନ ଶକ୍ତି ପ୍ରଦାନ କରି, ଆୟୂଷ୍ମାନ ଭାରତ ଡିଜିଟାଲ ସ୍ୱାସ୍ଥ୍ୟ ମିଶନ ଦେଶର ସ୍ୱାସ୍ଥ୍ୟ ସୁବିଧା ଗୁଡ଼ିକୁ ଆହୁରି ସୁଲଭ ଏବଂ ପ୍ରଭାବଶାଳୀ କରିବ।

ଭାଇ  ଭଉଣୀମାନେ,

ଆଜି ବହୁତଗୁଡ଼ିଏ ଅର୍ଥିକ ସୂଚକାଙ୍କ ସେହି ସମୟରୁ ମଧ୍ୟ ଭଲ କରୁଛନ୍ତି, ଯେତେବେଳେ କି କରୋନା ଆମ୍ଭମାନଙ୍କ ଗହଣରେ ନ ଥିଲା। ଆଜି ଆମର ଅର୍ଥବ୍ୟବସ୍ଥାର ଅଭିବୃଦ୍ଧି ହାର ହେଉଛି 8 ପ୍ରତିଶତରୁ ମଧ୍ୟ ଅଧିକ। ଭାରତକୁ ରେକର୍ଡ ମାତ୍ରାରେ ବିଦେଶୀ ନିବେଶ ଆସିଛି। ଆମର ବିଦେଶୀ ମୁଦ୍ରା ଭଣ୍ଡାର ରେକର୍ଡ ସ୍ତରରେ ପହଂଚିଛି। ଜିଏସଟି ସଂଗ୍ରହ ମଧ୍ୟ ପୁରୁଣା ରେକର୍ଡକୁ ଅତିକ୍ରମ କରି ଯାଇଛି । ରପ୍ତାନୀ, ଆଉ ବିଶେଷ କରି କୃଷି କ୍ଷେତ୍ରରେ ମଧ୍ୟ ଆମେ ନୂତନ କିର୍ତୀମାନ ସ୍ଥାପନ କରିଛୁ।

ସାଥୀଗଣ,

ଆଜି ଆମର ଦେଶ, ନିଜର ବିବିଧତା ଏବଂ ବିଶାଳତା ଅନୁରୂପ ହିଁ, ପ୍ରତ୍ୟେକ କ୍ଷେତ୍ରରେ ବିକାଶର ମଧ୍ୟ ବିଶାଳ କିର୍ତୀମାନ ପ୍ରତିଷ୍ଠା କରୁଛି। 2021ରେ ଭାରତ ପ୍ରାୟ 70 ଲକ୍ଷ କୋଟି ଟଙ୍କାର କାରବାର କେବଳ ୟୁପିଆଇ ମାଧ୍ୟମରେ କରିଛି, ଡିଜିଟାଲ କାରବାର କରିଛି। ଆଜି ଭାରତରେ 50 ହଜାରରୁ ଅଧିକ ଷ୍ଟାର୍ଟ-ଅପ୍ସ କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଛନ୍ତି । ସେଥିରୁ 10 ହଜାରରୁ ଅଧିକ ଷ୍ଟାର୍ଟ-ଅପ୍ସ ବିଗତ 6 ମାସ ମଧ୍ୟରେ ପ୍ରତିଷ୍ଠିତ ହୋଇଛନ୍ତି । 2021ରେ ଭାରତର ଯୁବକମାନେ କରୋନାର ଏହି କାଳଖଣ୍ଡରେ ମଧ୍ୟରେ 42 ୟୁନିକର୍ଣ୍ଣ ନିର୍ମାଣ କରି, ଏକ ନୂତନ ଇତିହାସ ସୃଷ୍ଟି କରିଛନ୍ତି। ମୁଁ ମୋର କୃଷକ ଭାଇ- ଭଉଣୀମାନଙ୍କୁ କହିବାକୁ ଚାହୁଁଛି ଯେ, ଏହି ଗୋଟିଏ- ଗୋଟିଏ ୟୁନିକର୍ଣ୍ଣ, ଏହା ହେଉଛି ପ୍ରାୟ ସାତ ହଜାର କୋଟି ଟଙ୍କାରୁ ମଧ୍ୟ ଅଧିକ ମୂଲ୍ୟର ଷ୍ଟାର୍ଟ ଅପ୍। ଏତେ କମ୍ ସମୟରେ ଏତେ ପ୍ରଗତି, ଆଜି ଭାରତର ଯୁବକମାନେ ସଫଳତାର ନୂତନ ଗାଥା ଲେଖୁଛନ୍ତି।

ଆଉ ସାଥୀଗଣ,

ଆଜି ଯେତେବେଳେ ଭାରତ ଗୋଟିଏ ପକ୍ଷରେ ନିଜର ଷ୍ଟାର୍ଟ ଅପ୍ ଇକୋସିଷ୍ଟମ ସୁଦୃଢ କରୁଛି, ସେତେବେଳେ ଅନ୍ୟ ପକ୍ଷରେ ନିଜ ସଂସ୍କୃତିକୁ ମଧ୍ୟ ସେତିକି ଗର୍ବର ସହିତ ସଶକ୍ତ କରୁଛି । କାଶୀ ବିଶ୍ୱନାଥ ଧାମ ସୌନ୍ଦର୍ଯ୍ୟକରଣ ପ୍ରକଳ୍ପରୁ ନେଇ କେଦାରନାଥ ଧାମର ବିକାଶ ପ୍ରକଳ୍ପ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ, ଆଦି ଶଙ୍କରାଚାର୍ଯ୍ୟଙ୍କର ସମାଧିର ପୁନଃନିର୍ମାଣଠାରୁ ନେଇ ମା’ ଅନ୍ନପୂର୍ଣ୍ଣାଙ୍କ ପ୍ରତିମା ସମେତ ଭାରତରୁ ଚୋରୀ ହୋଇଥିବା ଶହ ଶହ ମୂର୍ତିମାନଙ୍କୁ ଫେରାଇ ଆଣିବା ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ, ଅଯୋଧ୍ୟାରେ ରାମ ମନ୍ଦିରର ନିର୍ମାଣଠାରୁ ନେଇ ଧୋଲାବୀରା ଏବଂ ଦୁର୍ଗା ପୂଜା ଉତ୍ସବକୁ ବିଶ୍ୱ ଐତିହ୍ୟ ମାନ୍ୟତା ମିଳିବା ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ, ଭାରତ ପାଖରେ ଏତେ କିଛି ଅଛି। ଦେଶ ପ୍ରତି ସମଗ୍ର ବିଶ୍ୱର ଆକର୍ଷଣ ରହିଛି। ଆଉ ଏବେ ଯେତେବେଳେ ଆମେ ନିଜର ଐତିହ୍ୟକୁ ସୁଦୃଢ କରିବାରେ ଲାଗିଛେ, ସେତେବେଳେ ନିଶ୍ଚିତ ଭାବେ ପର୍ଯ୍ୟଟନ ମଧ୍ୟ ବୃଦ୍ଧି ପାଇବ ଏବଂ ତୀର୍ଥଯାତ୍ରା ମଧ୍ୟ ବଢିବ।

ସାଥୀଗଣ,

ଭାରତ ନିଜର ଯୁବକମାନଙ୍କ ପାଇଁ, ନିଜ ଦେଶର ମହିଳାମାନଙ୍କ ପାଇଁ ଆଜି ଅଦ୍ଭୁତପୂର୍ବ ପଦକ୍ଷେପ ଉଠାଉଛି। 2021ରେ ଭାରତ ନିଜର ସୈନିକ ସ୍କୁଲଗୁଡିକୁ ଝିଅମାନଙ୍କ ପାଇଁ ଉନ୍ମୁକ୍ତ କରି ଦେଇଛି। 2021ରେ ଭାରତ ଜାତୀୟ ପ୍ରତିରକ୍ଷା ଏକାଡେମୀର ଦ୍ୱାର ମଧ୍ୟ ମହିଳାମାନଙ୍କ ପାଇଁ ଉନ୍ମୁକ୍ତ କରି ଦେଇଛି । 2021 ରେ ଭାରତ ଝିଅମାନଙ୍କର ବିବାହ ବୟସକୁ 18 ରୁ ବୃଦ୍ଧି କରି 21 ବର୍ଷ ବୟସ ଅର୍ଥାତ ପୁଅମାନଙ୍କ ସମକକ୍ଷ କରିବାର ପ୍ରୟାସ ଆରମ୍ଭ କରିଛି । ଆଜି ଭାରତରେ ପ୍ରଥମ ଥର  ପିଏମ ଆବାସ ଯୋଜନା ଯୋଗୁଁ ପାଖା- ପାଖି 2 କୋଟି ମହିଳାମାନଙ୍କୁ ନିଜ ଘର ଉପରେ ମାଲିକାନା ଅଧିକାର ମଧ୍ୟ ମିଳିଛି । ଆମର କୃଷକ ଭାଇ- ଭଉଣୀ, ଆମର ଗାଁର ସାଥୀମାନେ ବୁଝିପାରିବେ ଯେ, ଏହା କେତେ ବଡ଼ କାର୍ଯ୍ୟ ହୋଇଛି।

ସାଥୀଗଣ,

2021ରେ ଆମେ ଭାରତୀୟ ଖେଳାଳୀମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ଏକ ନୂତନ ଆତ୍ମ ବିଶ୍ୱାସ ମଧ୍ୟ ଦେଖିଛୁ । ଭାରତରେ କ୍ରୀଡା ପ୍ରତି ଆକର୍ଷଣ ବୃଦ୍ଧି ପାଇଛି, ଏକ ନୂତନ ଯୁଗର ଶୁଭାରମ୍ଭ ହୋଇଛି । ଆମମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରୁ ପ୍ରତ୍ୟେକ ଖୁସି ଥିଲେ, ଯେତେବେଳେ ଭାରତ ଟୋକିଓ ଅଲିମ୍ପିକ୍ସରେ ଏତେ ପଦକ ଜିତିଲା। ଆମମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରୁ ପ୍ରତ୍ୟେକ ଖୁସି ଥିଲେ, ଯେତେବେଳେ ଆମର ଦିବ୍ୟାଙ୍ଗ ଖେଳାଳୀମାନେ ପାରା ଅଲିମ୍ପିକ୍ସରେ ଇତିହାସ ରଚିଲେ। ପାରା ଅଲିମ୍ପିକ୍ସର ଇତିହାସରେ ଭାରତ ଏପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ଯେତେ ପଦକ ଜିତିଥିଲା, ଦିବ୍ୟାଙ୍ଗ ଖେଳାଳୀମାନେ ତାଠାରୁ ଅଧିକ ପଦକ ଗତ ଅଲିମ୍ପିକ୍ସରେ ଜିତି କରି ଦେଖାଇ ଦେଇଛନ୍ତି। ଭାରତ ଆଜି ନିଜର କ୍ରୀଡାବୀତ ଓ କ୍ରୀଡା ଭିତିଭୂମି ଉପରେ ଯେତେ ନିବେଶ କରୁଛି, ତାହା ପୂର୍ବରୁ କେବେ କରାଯାଇ ନ ଥିଲା। ଆସନ୍ତାକାଲି ହିଁ ମିରଟରେ ଭାରତ ଆଉ ଏକ କ୍ରୀଡା ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟର ଶିଳାନ୍ୟାସ କରିବାକୁ ଯାଉଛି।

ସାଥୀଗଣ,

ମିଳିତ ଜାତିସଂଘ ସୁରକ୍ଷା ପରିଷଦଠାରୁ ନେଇ ସ୍ଥାନୀୟ ସ୍ୱାୟତ ସାଶନ ସଂସ୍ଥା ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ଭାରତ ନିଜର ନୀତି ଏବଂ ନିଷ୍ପତିରେ ନିଜର ସାମର୍ଥ୍ୟ ସିଦ୍ଧ କରିଛି । ଭାରତ 2016 ରେ ଏହି ଲକ୍ଷ୍ୟ ରଖିଥିଲା ଯେ ସେ 2030 ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ, ନିଜର ସ୍ଥାପିତ  ବିଦ୍ୟୁତ ଶକ୍ତି କ୍ଷମତାର 40 ପ୍ରତିଶତ, ଅଣ ଫସିଲ ଶକ୍ତି ଉତ୍ସ ଦ୍ୱାରା ପୂରଣ କରିବ। ଭାରତ ନିଜର ଲକ୍ଷ୍ୟ ଯାହା 2030 ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ରଖିଥିଲା, ତାହା ନଭେମ୍ବର 2021 ରେ ହିଁ ହାସଲ କରି ନେଇଛି । ଜଳବାୟୁ ପରିବର୍ତନ କ୍ଷେତ୍ରରେ ବିଶ୍ୱର ନେତୃତ୍ୱ ନେଇ ଭାରତ 2070 ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ନେଟ୍ ଜିରୋ କାର୍ବନ ନିର୍ଗମନର ଲକ୍ଷ୍ୟ ମଧ୍ୟ ବିଶ୍ୱ ସାମ୍ନାରେ ରଖିଛି । ଆଜି ଭାରତ ଉଦଜାନ ମିଶନ ଉପରେ କାର୍ଯ୍ୟ କରୁଛି, ବିଦ୍ୟୁତ ଚାଳିତ ଯାନ ଉପରେ ନେତୃତ୍ୱ ନେଉଛି । ଦେଶରେ କୋଟି- କୋଟି ଏଲଇଡ଼ି ବଲବ୍ ବିତରଣ କରିବା ଦ୍ୱାରା ପ୍ରତ୍ୟେକ ବର୍ଷ ଗରିବମାନଙ୍କୁ, ମଧ୍ୟମବର୍ଗଙ୍କୁ ପ୍ରାୟ 20 ହଜାର କୋଟି ଟଙ୍କା, ବିଜୁଳି ବିଲ୍ରେ କମ୍ ଆସିଛି । ସାରା ଦେଶରେ ସହରଗୁଡ଼ିକରେ ସ୍ଥାନୀୟ ସ୍ୱାୟତ ଶାସନ ସଂସ୍ଥା ଦ୍ୱାରା ଷ୍ଟ୍ରିଟ ଲାଇଟଗୁଡ଼ିକୁ ମଧ୍ୟ ଏଲଇଡ଼ିରେ ପରିବର୍ତନ କରିବାର ଅଭିଯାନ ଚାଲୁ ରହିଛି ଆଉ ମୋର କୃଷକ ଭାଇ, ଆମର ଅନ୍ନଦାତା, ଉର୍ଜ୍ଜାଦାତା ହୁଅନ୍ତୁ, ଏଥିପାଇଁ ମଧ୍ୟ ଭାରତ ବହୁତ ବଡ଼ ଅଭିଯାନ ଚଲାଉଛି । ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କୁସୁମ ଯୋଜନା ଅଧୀନରେ, କୃଷକ ଚାଷ ଜମିର ଚାରି ପଟେ ସୋଲାର ପ୍ୟାନେଲ ଲଗାଇ ସୌରଶକ୍ତି ଉତ୍ପାଦନ କରି ପାରୁ, ଏଥିପାଇଁ ମଧ୍ୟ ତାକୁ ସହାୟତା ଦିଆଯାଉଛି। ଲକ୍ଷ- ଲକ୍ଷ କୃଷକଙ୍କୁ ସରକାରଙ୍କ ଦ୍ୱାରା ସୌରପମ୍ପ ମଧ୍ୟ ଦିଆଯାଇଛି। ଏହାଦ୍ୱାରା ଅର୍ଥ ମଧ୍ୟ ସଂଚୟ ହେଉଛି ଏବଂ ପରିବେଶର ମଧ୍ୟ ସୁରକ୍ଷା ହେଉଛି।

ସାଥୀଗଣ,

2021ର ବର୍ଷ କରୋନା ବିରୋଧରେ ଦେଶର ସୁଦୃଢ଼ ଲଢ଼େଇ ଭାବେ ମନେ ରଖାଯିବ, ତେବେ ଏହି ସମୟରେ ଭାରତ ଯେଉଁ ସଂସ୍କାର ଆଣିଛି, ତାହାର ମଧ୍ୟ ଅବଶ୍ୟ ଚର୍ଚ୍ଚା ହେବ। ବିଗତ ବର୍ଷରେ ଭାରତ ଆଧୁନିକ ଭିତିଭୂମିର ନିର୍ମାଣ ଏବଂ ସଂସ୍କାର ପ୍ରକ୍ରିୟାକୁ ଆହୁରି ଦ୍ରୁତ ଗତିରେ ଆଗକୁ ବଢ଼ାଇଛି। ସରକାରଙ୍କର ହସ୍ତକ୍ଷେପ କମ୍ ହେଉ, ପ୍ରତ୍ୟେକ ଭାରତୀୟଙ୍କ ସାମର୍ଥ୍ୟ ବିକଶିତ ହେଉ, ଏବଂ ସମସ୍ତଙ୍କର ପ୍ରୟାସ ଦ୍ୱାରା ରାଷ୍ଟ୍ରୀୟ ଲକ୍ଷ୍ୟ ପ୍ରାପ୍ତି ହେଉ, ଏହି ପ୍ରତିବଦ୍ଧତା ଦ୍ୱାରା ତାହାକୁ ସଶକ୍ତ କରାଯାଉଛି। ବ୍ୟବସାୟ- କାରବାରକୁ ସହଜ କରିବା ପାଇଁ ବିଗତ ବର୍ଷରେ ମଧ୍ୟ ଅନେକ ନିଷ୍ପତି ନିଆଯାଇଛି।

ପିଏମ ଗତିଶକ୍ତି ଜାତୀୟ ମାଷ୍ଟର ପ୍ଲାନ ଦେଶରେ ଭିତିଭୂମିର ନିର୍ମାଣ ଗତିରେ ନୂତନ ଧାରା ସୃଷ୍ଟି କରିବାକୁ ଯାଉଛି। ମେକ୍ ଇନ୍ ଇଣ୍ଡିଆକୁ ନୂତନ ଦିଗ ପ୍ରଦାନ କରିବା ପାଇଁ ଦେଶରେ ଚିପ୍ ନିର୍ମାଣ, ସେମିକଣ୍ଡକଟର ଭଳି ନୂତନ କ୍ଷେତ୍ର ପାଇଁ ମହତ୍ୱାକାଂକ୍ଷୀ ଯୋଜନାମାନ ଲାଗୁ କରାଯାଇଛି। ବିଗତ ବର୍ଷରେ ହିଁ ପ୍ରତିରକ୍ଷା କ୍ଷେତ୍ରରେ ଆତ୍ମନିର୍ଭରଶୀଳତା ପାଇଁ ଦେଶକୁ ୭ଟି ପ୍ରତିରକ୍ଷା କମ୍ପାନୀ ମିଳିଛି। ଆମେ ପ୍ରଥମ ଥର ପାଇଁ ପ୍ରଗତିଶୀଳ ଡ୍ରୋନ ନୀତି ମଧ୍ୟ ଲାଗୁ କରିଛୁ। ମହାକାଶରେ ଦେଶର ଆକାଂକ୍ଷାଗୁଡ଼ିକୁ ନୂତନ ଉଡ଼ାଣ ଦେଇ, ଭାରତୀୟ ମହାକାଶ ସଂଘ ଗଠନ କରାଯାଇଛି।

ସାଥୀଗଣ,

ଡିଜିଟାଲ ଇଣ୍ଡିଆ ଅଭିଯାନ ଭାରତରେ ହେଉଥିବା ବିକାଶକୁ ଗାଁ- ଗାଁ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ନେଇ ଯିବାରେ ବଡ଼ ପ୍ରମୁଖ ଭୂମିକା ତୁଲାଉଛି। 2021ରେ ହଜାର- ହଜାର ନୂତନ ଗାଁକୁ ଅପ୍ଟିକାଲ ଫାଇବରର୍ସ କେବୁଲ ସହିତ ଯୋଡ଼ା ଯାଇଛି । ଏହାର ବହୁତ ଲାଭ ଆମର କୃଷକ ସାଥୀମାନଙ୍କୁ, ସେମାନଙ୍କର ପରିବାରକୁ, ସେମାନଙ୍କର ପିଲାମାନଙ୍କୁ ମଧ୍ୟ ହୋଇଛି। 2021ରେ ହିଁ ଇ- ରୂପୀ ଭଳି ନୂତନ ଡିଜିଟାଲ ଦେୟ ସମାଧାନ ମଧ୍ୟ ଆରମ୍ଭ କରାଯାଇଛି। ଗୋଟିଏ ଦେଶ- ଗୋଟିଏ ରାସନ କାର୍ଡ ମଧ୍ୟ ସାରା ଦେଶରେ ଲାଗୁ ହୋଇ ସାରିଛି। ଆଜି ଦେଶର ଅସଂଗଠିତ କ୍ଷେତ୍ରର ଶ୍ରମିକମାନଙ୍କୁ ଇ-ଶ୍ରମ କାର୍ଡ ଦିଆ ଯାଉଛି, ଫଳରେ ସରକାରୀ ଯୋଜନାଗୁଡ଼ିକର ଲାଭ ସେମାନଙ୍କ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ସହଜରେ ପହଂଚି ପାରିବ।

ଭାଇ  ଭଉଣୀମାନେ,

ବର୍ଷ 2022ରେ ଆମକୁ ଆମର ନୀତିକୁ ଅଧିକ ଦ୍ରୁତ କରିବାର ଅଛି। କରୋନାର ଆହ୍ୱାନ ରହିଛି, କିନ୍ତୁ କରୋନା ଭାରତର ଗତିକୁ ରୋକି ପାରିବ ନାହିଁ। ଭାରତ, ସମ୍ପୁର୍ଣ୍ଣ ସତର୍କତାର ସହିତ, ସମ୍ପୁର୍ଣ୍ଣ ସାମଧାନତା ସହିତ କରୋନା ସହ ମଧ୍ୟ ଲଢ଼ିବ ଏବଂ ନିଜର ରାଷ୍ଟ୍ରୀୟ ହିତଗୁଡ଼ିକୁ ମଧ୍ୟ ପୂରଣ କରିବ। ଆମର ଏଠାରେ କୁହାଯାଇଛି,

ଜହିହୀ ଭୀତିମ୍ ଭଜ ଭଜ ଶକ୍ତିମ୍ ବିଧେହି ରାଷ୍ଟ୍ରେ ତଥା ଅନୁରକ୍ତିମ୍।।

କୁରୁ କୁରୁ ସତତମ୍ ଧୈୟ-ସ୍ମରଣମ୍ ସଦୈବ ପୁରତୋ ନିଧେହି ଚରଣମ୍।।

ଅର୍ଥାତ୍,

ଡର, ଭୟ ଓ ଆଶଙ୍କାକୁ ଛାଡ଼ି ଆମକୁ ଶକ୍ତି ଏବଂ ସାମର୍ଥ୍ୟକୁ ମନେ ପକାଇବାକୁ ହେବ, ଦେଶପ୍ରେମର ଭାବନାକୁ ସର୍ବୋପରି ରଖିବାକୁ ହେବ। ଆମକୁ ଆମ ନିଜର ଲକ୍ଷ୍ୟକୁ ସ୍ମରଣ ରଖି କ୍ରମାଗତ ଭାବେ ଲକ୍ଷ୍ୟ ହାସଲ ଦିଗକୁ ପାଦ ବଢ଼ାଇବାର ଅଛି। ‘ରାଷ୍ଟ୍ର ପ୍ରଥମ’ର ଭାବନା ସହିତ ରାଷ୍ଟ୍ର ପାଇଁ ନିରନ୍ତର ପ୍ରୟାସ, ଆଜି ପ୍ରତ୍ୟେକ ଭାରତୀୟଙ୍କର ମନୋଭାବ ସୃଷ୍ଟି ହେଉଛି। ଆଉ ଏଥିପାଇଁ ହିଁ, ଆଜି ଆମର ପ୍ରୟାସରେ ଐକ୍ୟବଦ୍ଧତା ଆସିଛି, ଆମର ସଂକଳ୍ପଗୁଡ଼ିକରେ ସିଦ୍ଧିର ଅଧିରତା ରହିଛି। ଆଜି ଆମ ନୀତିଗୁଡ଼ିକରେ ନିରନ୍ତରତା ରହିଛି, ଆମର ନିଷ୍ପତିରେ ଦୂରଦର୍ଶିତା ଅଛି। ଦେଶର ଅନ୍ନଦାତାଙ୍କୁ ସମର୍ପିତ ଆଜିର ଏହି କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମ ହେଉଛି ଏହାର ଏକ ଉଦାହରଣ।

ପିଏମ କିଷାନ ସମ୍ମାନ ନିଧି, ଭାରତର କୃଷକମାନଙ୍କ ପାଇଁ ଏକ ବହୁତ ବଡ଼ ସମ୍ବଳ ପାଲଟିଛି। ପ୍ରତ୍ୟେକ ଥର ପ୍ରତ୍ୟେକ କିସ୍ତି ସମୟରେ, ପ୍ରତି ବର୍ଷ ହଜାର- ହଜାର କୋଟି ଟଙ୍କାର ହସ୍ତାନ୍ତର, ବିନା କୌଣସି ମଧ୍ୟସ୍ଥିରେ, ବିନା କୌଣସି କମିଶନରେ, ପୂର୍ବରୁ କେହି କଳ୍ପନା ମଧ୍ୟ କରି ପାରୁ ନଥିଲେ ଯେ ଭାରତରେ ଏଭଳି ହୋଇ ପାରିବ। ଆଜିର ଧନରାଶିକୁ ମିଶାଇ ଦେବା, ତେବେ କିଷାନ ସମ୍ମାନ ନିଧି ଅଧୀନରେ କୃଷକଙ୍କ ଖାତାରେ 1 ଲକ୍ଷ 80 ହଜାର କୋଟି ଟଙ୍କାରୁ ଅଧିକ ହସ୍ତାନ୍ତର ହୋଇ ସାରିଛି। ଆଜି ଅନେକ ଛୋଟ- ଛୋଟ ଖର୍ଚ୍ଚ ପାଇଁ ଏହି କିଷାନ ସମ୍ମାନ ନିଧି ବହୁତ କାର୍ଯ୍ୟରେ ଆସୁଛି। କ୍ଷୁଦ୍ର ଚାଷୀ ଏହି ରାଶିରୁ ହିଁ ଉନ୍ନତ ମାନର ବିହନ କିଣୁଛନ୍ତି, ଭଲ ଖତ ଏବଂ ଉପକରଣର ବ୍ୟବହାର କରୁଛନ୍ତି।

ସାଥୀଗଣ,

ଦେଶର କ୍ଷୁଦ୍ର ଚାଷୀମାନଙ୍କର ବୃଦ୍ଧି ପାଉଥିବା ସାମର୍ଥ୍ୟକୁ ସଂଗଠିତ ରୂପ ଦେବାରେ ଆମର କୃଷକ ଉତ୍ପାଦ ସଂଗଠନ- ଏଫପିଓ ଗୁଡ଼ିକର ବହୁତ ବଡ଼ ଭୂମିକା ରହିଛି। ଯେଉଁ କ୍ଷୁଦ୍ର ଚାଷୀମାନେ ପ୍ରଥମେ ଅଲଗା- ଅଲଗା ହୋଇ ରହୁଥିଲେ, ସେମାନଙ୍କ ପାଖରେ ଏବେ ଏଫପିଓ ଭଳି ବଡ଼ ଶକ୍ତିମାନ ରହିଛି । ପ୍ରଥମ ଶକ୍ତି ହେଉଛି- ଉନ୍ନତ ମୁଲଚାଲ, ଅର୍ଥାତ, ମୂଳ ଦରର ଶକ୍ତି। ଆପଣ ସମସ୍ତେ ଜାଣିଛନ୍ତି, ଯେତେବେଳେ ଆପଣ ଏକା ଚାଷବାସ କରୁଛନ୍ତି, ସେତେବେଳେ କ’ଣ ହୋଇଥାଏ? ଆପଣ ବିହନ ଠାରୁ ନେଇ ସାର ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ସବୁକିଛି କିଣନ୍ତି ଖୁଚୁରାରେ ମାତ୍ର ବିକିବା ବେଳେ ବିକ୍ରି କରନ୍ତି ପାଇକାରୀରେ। ଏହାଦ୍ୱାରା ଖର୍ଚ୍ଚ ଅଧିକ ବଢ଼ି ଯାଉଥିଲା, ଆଉ ଲାଭ କମ୍ ହୋଇଥାଏ। କିନ୍ତୁ ଏଫପିଓ ଦ୍ୱାରା ଏବେ ଏହି ଛବି ବଦଳିବାରେ ଲାଗିଛି। ଏଫପିଓ ମାଧ୍ୟମରେ ଏବେ ଚାଷବାସ ପାଇଁ ଆବଶ୍ୟକ ଜିନିଷ କୃଷକ ପାଇକାରୀ ଦରରେ କିଣୁଛି ଆଉ ଖୁଚୁରା ଦରରେ ବିକ୍ରି କରୁଛି।

ଏଫପିଓ ଦ୍ୱାରା ଯେଉଁ ଦ୍ୱିତୀୟ ଶକ୍ତି କୃଷକମାନଙ୍କୁ ମିଳିଛି, ତାହା ହେଉଛି- ବ୍ୟାପକ ସ୍ତରରେ ବ୍ୟବସାୟର ସୁବିଧା। ଗୋଟିଏ ଏଫପିଓ ଭାବେ କୃଷକମାନେ ସଂଗଠିତ ହୋଇ କାର୍ଯ୍ୟ କରି ଥାଆନ୍ତି, ବାସ୍ତବରେ ସେମାନଙ୍କ ପାଇଁ ବହୁତ ବଡ଼ ସମ୍ଭାବନା ସୃଷ୍ଟି ହୋଇଥାଏ। ତୃତୀୟ ଶକ୍ତି ହେଉଛି- ନବସୃଜନର। ଏକାଠି ଅନେକ କୃଷକ ସାମିଲ ହୋଇ ଥାଆନ୍ତି, ତେଣୁ ସେମାନଙ୍କର ଅନୁଭବ ଏକାଠି ଯୋଡ଼ି ହୋଇଥାଏ। ସୂଚନା ବଢ଼ିଥାଏ। ନୂଆ- ନୂଆ ନବସୃଜନ ପାଇଁ ପଥ ଉନ୍ମୁକ୍ତ ହୋଇଥାଏ। ଏଫପିଓ ଦ୍ୱାରା ଚତୁର୍ଥ ଶକ୍ତି ହେଉଛି- ଆହ୍ୱାନର ପରିଚାଳନା। ଏକାଠି ମିଳିମିଶି ଆପଣମାନେ ଆହ୍ୱାନର ଉନ୍ନତ ଆକଳନ ମଧ୍ୟ କରି ପାରିବେ, ତାହାଦ୍ୱାରା ଆହ୍ୱାନର ମୁକାବିଲା ପାଇଁ ମଧ୍ୟ ମାର୍ଗ ସୃଷ୍ଟି କରିପାରିବେ।

ଆଉ ପଂଚମ ଶକ୍ତି ହେଉଛି- ବଜାର ହିସାବରେ ବଦଳିବାର କ୍ଷମତା। ବଜାର ଏବଂ ବଜାରର ଚାହିଦା କ୍ରମାଗତ ପରିବର୍ତିତ ହୋଇଥାଏ। କିନ୍ତୁ କ୍ଷୁଦ୍ର ଚାଷୀମାନଙ୍କୁ ନା ଏ ସଂପର୍କରେ ସୂଚନା ମିଳିଥାଏ, ଅବା ପୁଣି ସେମାନେ ପରିବର୍ତନ ପାଇଁ ସଂସାଧନ ଯୋଗାଡ କରିପାରି ଥାଆନ୍ତି। କେବେ କେବେ ସମସ୍ତ ଚାଷୀଭାଇ ଗୋଟିଏ ଫସଲ ବୁଣି ଦେଇଥାନ୍ତି ଏବଂ ପରେ ଜଣାପଡିଥାଏ ଯେ ବଜାରରେ ତାହାର ଚାହିଦା କମି ଯାଇଛି। କିନ୍ତୁ ଏଫପିଓରେ ଆପଣମାନେ ନା କେବଳ ବଜାର ହିସାବରେ ପ୍ରସ୍ତୁତ ରହିଥାନ୍ତି ବରଂ ନିଜେ ବଜାରରେ ନୂଆ ଉତ୍ପାଦ ପାଇଁ ଚାହିଦା ସୃଷ୍ଟି କରିବାର ଶକ୍ତି ମଧ୍ୟ ରଖିଥାନ୍ତି।

ସାଥୀଗଣ,

ଏଫପିଓ ଗୁଡିକର ଏଭଳି ଶକ୍ତିକୁ ବୁଝି ଆଜି ଆମ ସରକାର ସେମାନଙ୍କୁ ପ୍ରତ୍ୟେକ ସ୍ତରରେ ପ୍ରୋତ୍ସାହିତ କରୁଛନ୍ତି। ଏହି ଏଫପିଓ ଗୁଡିକୁ ମଧ୍ୟ 15 ଲକ୍ଷ ଟଙ୍କା ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ସହାୟତା ମିଳୁଛି। ଏହାର ପରିଣାମ ହେଉଛି ଯେ, ଆଜି ଦେଶରେ ଜୈବିକ ଏଫପିଓ (କ୍ଲଷ୍ଟର)ପୁଞ୍ଜ, ତୈଳ ବୀଜ ପୁଞ୍ଜ, ବାଉଁଶ ପୁଞ୍ଜ ଏବଂ ମହୁ ଏଫପିଓ ଗୁଡିକ ଭଳି ପୁଞ୍ଜ ଦ୍ରୁତ ଗତିରେ ବୃଦ୍ଧି ପାଉଛି। ଆମର କୃଷକ ଆଜି ‘ଗୋଟିଏ ଜିଲ୍ଲା- ଗୋଟିଏ ଉତ୍ପାଦ’ ଭଳି ଯୋଜନା ଗୁଡିକର ଲାଭ ଉଠାଉଛନ୍ତି, ଦେଶ ବିଦେଶର ବଡ଼ ବଡ଼ ବଜାର ସେମାନଙ୍କ ପାଇଁ ଖୋଲୁଛି।

ସାଥୀଗଣ,

ଆମ ଦେଶରେ ଆଜି ମଧ୍ୟ ଏଭଳି ଅନେକ ଜିନିଷ ବିଦେଶରୁ ଆମଦାନୀ ହେଉଛି, ଯାହାର ଆବଶ୍ୟକତା ଦେଶର କୃଷକ ସହଜରେ ପୂରଣ କରି ପାରିବେ। ଖାଇବା ତେଲ ହେଉଛି ଏହାର ବହୁତ ବଡ଼ ଉଦାହାରଣ। ଆମେ ବିଦେଶରୁ ଖାଇବା ତେଲ କିଣୁଛେ। ଦେଶର ବହୁତ ଅର୍ଥ ମଧ୍ୟ ଅନ୍ୟ ଦେଶକୁ ଦେବାକୁ ପଡୁଛି। ଏହି ଅର୍ଥ କୃଷକଙ୍କୁ ମିଳୁ, ଏଥିପାଇଁ ଆମ ସରକାର 11 ହଜାର କୋଟି ଟଙ୍କାର ବଜେଟ ସହିତ ଜାତୀୟ ପାମ୍ ଅଏଲ ମିଶନ ଆରମ୍ଭ କରିଛନ୍ତି।

ସାଥୀଗଣ,

ବିଗତ ବର୍ଷ ଦେଶ କୃଷି କ୍ଷେତ୍ରରେ ଗୋଟିଏ ପରେ ଗୋଟିଏ କ୍ଷେତ୍ରରେ, ଅନେକ ଐତିହାସିକ ସଫଳତା ହାସଲ କରିଛି। କରୋନାର ଆହ୍ୱାନ ସତ୍ୱେ ମଧ୍ୟ ଆପଣ ସମସ୍ତେ ନିଜ ପରିଶ୍ରମ ଦ୍ୱାରା ଦେଶରେ ଖାଦ୍ୟାନ୍ନ ଉତ୍ପାଦନ ରେକର୍ଡ ସ୍ତର ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ନେଇ ଦେଖାଇଛନ୍ତି। ବିଗତ ବର୍ଷ ଦେଶର ଖାଦ୍ୟଶସ୍ୟ ଉତ୍ପାଦନ 300 ନିୟୁତ ଟନ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ପହଂଚିଛି । ଉଦ୍ୟାନକୃଷି- ଫୁଲଚାଷ- ଉଦ୍ୟାନ ଫସଲ ଭାବେ ଫୁଲ- ଫଳ ଛାଷର ଉତ୍ପାଦନ 330 ମିଲିୟନ ଟନରୁ ଅଧିକ ହୋଇଛି। 6-7ବର୍ଷ ପୂର୍ବ ତୁଳନାରେ ଦେଶରେ ଦୁଗ୍ଧ ଉତ୍ପାଦନ ମଧ୍ୟ ପ୍ରାୟ 45ପ୍ରତିଶତ ବୃଦ୍ଧି ପାଇଛି । କେବଳ ଏତିକି ନୁହେଁ, ଯଦି କୃଷକ ରେକର୍ଡ ଉତ୍ପାଦନ କରୁଛି ତେବେ ଦେଶ ଏମଏସପିରେ ରେକର୍ଡ କ୍ରୟ ମଧ୍ୟ କରୁଛି। ଜଳସେଚନରେ ମଧ୍ୟ, ଆମେ ପ୍ରତି ବୁନ୍ଦା ଜଳ- ଅଧିକ ଫସଲକୁ ପ୍ରେତ୍ସାହନ ଦେଉଛୁ। ବିଗତ ବର୍ଷ ଗୁଡିକରେ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କୃଷି ସିଂଚାଇ ଯୋଜନା ଜରିଆରେ ପ୍ରାୟ 60 ଲକ୍ଷ ହେକ୍ଟର ଜମିକୁ ଅଣୁ- ଜଳସେଚନ ମାଧ୍ୟମରେ ବୁନ୍ଦା ଜଳସେଚନ ସହିତ ଯୋଡି ଦିଆଯାଇଛି।

ପ୍ରାକୃତିକ ବିପର୍ଯ୍ୟୟ ଯୋଗୁଁ କୃଷକମାନଙ୍କର ଯାହା କ୍ଷତି ହେଉଥିଲା, ଯେଉଁ ଅସୁବିଧା ହେଉଥିଲା, ତାକୁ ହ୍ରାସ କରିବା ପାଇଁ ମଧ୍ୟ ଆମେ ପ୍ରୟାସ କରିଛୁ। ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ଫସଲ ବୀମା ଯୋଜନା ଦ୍ୱାରା କୃଷକମାନଙ୍କୁ ମିଳୁଥିବା କ୍ଷତିପୂରଣ 1 ଲକ୍ଷ କୋଟିଠାରୁ ମଧ୍ୟ ଅଧିକ ହୋଇପାରିଛି। ଏହି ପରିସଂଖ୍ୟାନ ହେଉଛି ବହୁତ ଗୁରୁତ୍ୱପୂର୍ଣ୍ଣ। ସାରା ଦେଶର କୃଷକମାନେ ପ୍ରାୟ 21 ହଜାର କୋଟି ଟଙ୍କା ହିଁ ପ୍ରିମିୟମ ବାବଦରେ ଦେଇଥିଲେ, କିନ୍ତୁ ସେମାନଙ୍କୁ କ୍ଷତିପୂରଣ ବାବଦରେ ଏକ ଲକ୍ଷ କୋଟି ଟଙ୍କାରୁ ଅଧିକ ମିଳିଲା। ଭାଇ ଓ ଭଉଣୀମାନେ, ଫସଲର ଅବଶିଷ୍ଟାଂଶ ହେଉ, କୃଷି ଅବଶେଷ ହେଉ, ଏଭଳି ପ୍ରତ୍ୟେକ ଜିନିଷରୁ ମଧ୍ୟ କୃଷକଙ୍କୁ ଅର୍ଥ ମିଳୁ, ଏଥିପାଇଁ ପ୍ରୟାସକୁ ଦ୍ରୁତ କରି ଦିଆଯାଇଛି। କୃଷି ଅବଶେଷରୁ ଜୈବ ଇନ୍ଧନ ଉତ୍ପାନ ପାଇଁ ସାରା ଦେଶରେ ଶହ ଶହ ନୂତନ ୟୁନିଟ ପ୍ରତିଷ୍ଠା କରାଯାଇଛି । 7 ବର୍ଷ ପୂର୍ବେ ଯେଉଁଠାରେ ଦେଶରେ ପ୍ରତ୍ୟେକ ବର୍ଷ 40 କୋଟି ଲିଟରରୁ ମଧ୍ୟ କମ୍ ଇଥେନଲର ଉତ୍ପାଦନ ହେଉଥିଲା ତାହା ଆଜି 340 କୋଟି ଲିଟରରୁ ମଧ୍ୟ ଅଧିକ ହୋଇ ପାରିଛି।

ସାଥୀଗଣ,

ଆଜି ସାରା ଦେଶରେ ଗୋବରଧନ ଯୋଜନା ଚାଲୁ ରହିଛି। ଏହା ମାଧ୍ୟମରେ ଗାଁରେ ଗୋବର ଗ୍ୟାସ ଉତ୍ପାଦନ ପାଇଁ ପ୍ରୋତ୍ସାହନ ଦିଆଯାଉଛି। ଗୋବର ଗ୍ୟାସର ଉପଯୋଗ ବଢୁ, ଏଥିପାଇଁ ମଧ୍ୟ ସାରା ଦେଶରେ ପ୍ଲାଂଟ ନିର୍ମାଣ କରାଯାଉଛି। ଏହି ପ୍ଲାଂଟ ଦ୍ୱାରା ପ୍ରତ୍ୟେକ ବର୍ଷ ଲକ୍ଷ- ଲକ୍ଷ ଟନ ଉତମ ଜୈବିକ ଖତ ମଧ୍ୟ ଉତ୍ପାଦିତ ହେବ, ଯାହା କୃଷକମାନଙ୍କ ପାଇଁ କମ୍ ଦରରେ ଉପଲବ୍ଧ ହେବ। ଯେତେବେଳେ ଗୋବରରୁ ମଧ୍ୟ ଅର୍ଥ ମିଳିବ, ସେତେବେଳେ ଏଭଳି ପଶୁମାନେ ମଧ୍ୟ ବୋଝ ପାଲଟିବେ ନାହିଁ, ଯେଉଁମାନେ ଦୁଗ୍ଧ ଦେଉ ନାହାଁନ୍ତି ଅବା ଯେଉଁମାନେ ଦୁଗ୍ଧ ଦେବା ବନ୍ଦ କରି ଦେଇଛନ୍ତି। ସମସ୍ତେ ଦେଶର କାର୍ଯ୍ୟରେ ଆସିବେ, କେହି ବେସହାରା ହୋଇ ନ ରୁହନ୍ତୁ, ଏହା ମଧ୍ୟ ହେଉଛି ଆତ୍ମନିର୍ଭରଶୀଳତା।

ସାଥୀଗଣ,

ପଶୁମାନଙ୍କର ଘରେ ହିଁ ଚିକିତ୍ସା ହେଉ, ଘରେ ହିଁ କୃତ୍ରିମ ଗର୍ଭସଂଚାର ବ୍ୟବସ୍ଥା ହେଉ, ଏଥିପାଇଁ ଆଜି ଅଭିଯାନ ଚାଲୁ ରହିଛି। ପଶୁମାନଙ୍କର ପାଦ ଏବଂ ମୁଖଜନିତ ରୋଗ- ଖୁରପକା-ମୁଁହପକାର ନିୟନ୍ତ୍ରଣ ପାଇଁ ମଧ୍ୟ ଟିକାକରଣ ମିଶନ ଚାଲୁ ରହିଛି। ସରକାର କାମଧେନୁ ଆୟୋଗର ମଧ୍ୟ ଗଠନ କରିଛନ୍ତି, ଦୁଗ୍ଧ ଉତ୍ପାଦନ କ୍ଷେତ୍ରର ଭିତିଭୂମି ପାଇଁ ହଜାର- ହଜାର କୋଟି ଟଙ୍କାର ସ୍ୱତନ୍ତ୍ର ପାଣ୍ଠି ପ୍ରତିଷ୍ଠା କରାଯାଇଛି। ଏହା ହେଉଛି ଆମର ସରକାର ଯିଏ ଲକ୍ଷ- ଲକ୍ଷ ପଶୁପାଳକଙ୍କୁ କିଷାନ କ୍ରେଡିଟ କାର୍ଡର ସୁବିଧା ସହିତ ଯୋଡିଛନ୍ତି।

ସାଥୀଗଣ,

ଧରଣୀ ହେଉଛି ଆମର ମାତା, ଆଉ ଆମେ ଦେଖିଛୁ ଯେ ଯେଉଁଠାରେ ଧରଣୀ ମାତାକୁ ବଂଚାଇବା ପାଇଁ ପ୍ରୟାସ ହୋଇ ନାହିଁ, ତାହା ମରୁଭୂମି ପାଲଟି ଯାଇଛି। ଆମ ଧରଣୀକୁ ମରୁଭୂମି ହେବାରୁ ବଂଚାଇବାର ଏକ ବଡ଼ କୌଶଳ ହେଉଛି- ରାସାୟନିକ ମୁକ୍ତ କୃଷି। ଏଥିପାଇଁ ବିଗତ ବର୍ଷରେ ଦେଶରେ ଆଉ ଏକ ଦୂରଦର୍ଶୀ ପ୍ରୟାସ ଆରମ୍ଭ କରାଯାଇଛି। ଏହି ପ୍ରୟାସ ହେଉଛି- ପ୍ରାକୃତିକ ଚାଷ ଅର୍ଥାତ ପ୍ରାକୃତିକ କୃଷି। ଆଉ ଏହାର ଏକ ଫିଲ୍ମ ଏବେ ଆପଣମାନେ ମଧ୍ୟ ଦେଖିଛନ୍ତି, ଆଉ ମୁଁ ଚାହିଁବି ଯେ ସାମାଜିକ ଗଣମାଧ୍ୟମରେ ଏହି ଫିଲ୍ମ ପ୍ରତ୍ୟେକ କୃଷକଙ୍କ ପାଖରେ ପହଂଚାଯାଉ।

ପ୍ରାକୃତିକ କୃଷି ସହିତ ଜଡ଼ିତ ବହୁତ କିଛି ଆମେ ନିଜର ପୁରୁଣା ପିଢ଼ୀଠାରୁ ଶିଖିଛେ। ଏହା ହେଉଛି ସଠିକ୍ ସମୟ ଯେତେବେଳେ ଆମେ ନିଜର ଏହି ପାରମ୍ପରିକ ଜ୍ଞାନକୁ ବ୍ୟବସ୍ଥିତ କରିବା, ଆଧୁନିକ ଟେକ୍ନୋଲୋଜି ସହିତ ଯୋଡ଼ିବା। ଆଜି ବିଶ୍ୱରେ ରାସାୟନିକ ମୁକ୍ତ ଶସ୍ୟର ଅଧିକ ଚାହିଦା ରହିଛି, ଏବଂ ବହୁତ ଅଧିକ ମୂଲ୍ୟରେ ଏହାର କ୍ରେତା ପ୍ରସ୍ତୁତ ହୋଇ ରହିଛନ୍ତି। ଏଥିରେ ଖର୍ଚ୍ଚ କମ୍ ହୋଇଥାଏ ଏବଂ ଉତ୍ପାଦନ ମଧ୍ୟ ଅଧିକ ହୋଇଥାଏ। ଯାହାଦ୍ୱାରା ଅଧିକ ଲାଭ ସୁନିଶ୍ଚିତ ହୋଇଥାଏ। ରାସାୟନିକ ମୁକ୍ତ ହେବାଦ୍ୱାରା ଆମର ମାଟିର ସ୍ୱାସ୍ଥ୍ୟ, ଉତ୍ପାଦନ ଶକ୍ତି ଏବଂ ଖାଉଥିବା ଲୋକମାନଙ୍କର ସ୍ୱାସ୍ଥ୍ୟ ମଧ୍ୟ ଭଲ ହୋଇଥାଏ। ମୁଁ ଆଜି ଆପଣ ସମସ୍ତଙ୍କୁ ଅନୁରୋଧ କରିବି ଯେ ପ୍ରାକୃତିକ କୃଷିକୁ ମଧ୍ୟ ନିଜ ଚାଷ ସହିତ ଯୋଡ଼ନ୍ତୁ, ଏହା ଉପରେ ଗୁରୁତ୍ୱ ଦିଅନ୍ତୁ।

ଭାଇ  ଭଉଣୀମାନେ,

ନୂତନ ବର୍ଷର ଏହି ପ୍ରଥମ ଦିନ, ହେଉଛି ନୂଆ ସଂକଳ୍ପର ଦିନ। ଏହି ସଂକଳ୍ପ ସ୍ୱାଧୀନତାର ଅମୃତ କାଳରେ ଦେଶକୁ ଆହୁରି ସମର୍ଥ ଏବଂ ସକ୍ଷମ କରିବାକୁ ଯାଉଛି। ଏଠାରୁ ଆମେ ନବସୃଜନର, ନୂଆ କିଛି କରିବାର, ସଂକଳ୍ପ ନେବାର ଅଛି। ଚାଷବାସରେ ନୂତନତା ହେଉଛି ଆଜିକାର ସମୟର ଆବଶ୍ୟକତା। ନୂଆ ଫସଲ, ନୂତନ ଜ୍ଞାନ-କୌଶଳକୁ ଆପଣାଇବାରେ ଆମକୁ ଦ୍ୱିଧା ପ୍ରକାଶ କରିବାର ନାହିଁ। ପରିଷ୍କାର ପରିଚ୍ଛନ୍ନତାର ଯେଉଁ ସଂକଳ୍ପ ହେଉ, ତାକୁ ମଧ୍ୟ ଆମକୁ ଭୁଲିବାର ନାହିଁ। ଗାଁ- ଗାଁ, ବିଲ-ବାଡ଼ି, ପ୍ରତ୍ୟେକ ସ୍ଥାନରେ ସ୍ୱଚ୍ଛତାର ଶୀଖା ପ୍ରଜ୍ଜ୍ୱଳିତ ହୋଇ ରହୁ, ଆମକୁ ଏହା ସୁନିଶ୍ଚିତ କରିବାର ଅଛି। ସବୁଠାରୁ ବଡ଼ ସଂକଳ୍ପ ହେଉଛି- ଆତ୍ମନିର୍ଭରଶୀଳତାର, ଲୋକାଲ ପାଇଁ ଭୋକାଲ ହେବାର। ଆମକୁ ଭାରତରେ ନିର୍ମିତ ଜିନିଷକୁ ବୈଶ୍ୱିକ ପରିଚୟ ଦେବାର ଅଛି। ଏଥିପାଇଁ ଆବଶ୍ୟକ ହେଉଛି ଭାରତରେ ଉତ୍ପାଦିତ ହେଉଥିବା, ଭାରତରେ ନିର୍ମାଣ ହେଉଥିବା ପ୍ରତ୍ୟେକ ଜିନିଷ, ପ୍ରତ୍ୟେକ ସେବାକୁ ଆମେ ପ୍ରାଥମିକତା ଦେବା।

ଆମକୁ ସ୍ମରଣ ରଖିବାକୁ ହେବ ଯେ, ଆମର ଆଜିର କାର୍ଯ୍ୟ, ଆଗାମୀ 25 ବର୍ଷ ପାଇଁ ଆମର ବିକାଶ ଯାତ୍ରାର ପଥ ପ୍ରସ୍ତୁତ କରିବ। ଏହି ଯାତ୍ରାରେ ଆମ ସମସ୍ତଙ୍କର ଶ୍ୱେଦ ରହିବ, ପ୍ରତ୍ୟେକ ଦେଶବାସୀଙ୍କର ପରିଶ୍ରମ ରହିବ। ମୋର ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ବିଶ୍ୱାସ ଯେ ଆମେ ସମସ୍ତେ ଭାରତକୁ ତାହାର ଗୌରବଶାଳୀ ପରିଚୟ ଫେରାଇବା, ଆଉ ଦେଶକୁ ଏକ ନୂତନ ଶୀଖର ଦେବା। ଆଜି ନବବର୍ଷର ପ୍ରଥମ ଦିନ ଦେଶର କୋଟି- କୋଟି କୃଷକଙ୍କ ବ୍ୟାଙ୍କ ଖାତାକୁ 20 ହଜାର କୋଟି ଟଙ୍କା ହସ୍ତାନ୍ତର ହେବା ହେଉଛି ଏଭଳି ଏକ ପ୍ରୟାସ।

ଆପଣ ସମସ୍ତଙ୍କୁ ପୁଣିଥରେ ବର୍ଷ 2022- ଏହି ନବବର୍ଷର ବହୁତ- ବହୁତ ମଙ୍ଗଳକାମନା।

ବହୁତ- ବହୁତ ଧନ୍ୟବାଦ!

Explore More
୭୭ତମ ସ୍ବାଧୀନତା ଦିବସ ଅବସରରେ ଲାଲକିଲ୍ଲା ପ୍ରାଚୀରରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀଙ୍କ ଅଭିଭାଷଣର ମୂଳ ପାଠ

ଲୋକପ୍ରିୟ ଅଭିଭାଷଣ

୭୭ତମ ସ୍ବାଧୀନତା ଦିବସ ଅବସରରେ ଲାଲକିଲ୍ଲା ପ୍ରାଚୀରରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀଙ୍କ ଅଭିଭାଷଣର ମୂଳ ପାଠ

Media Coverage

"India of 21st century does not think small...": PM Modi
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
India is the Future: PM Modi
February 27, 2024
“If today the world thinks India is ready to take a big leap, it has a powerful launchpad of 10 years behind it”
“Today 21st century India has stopped thinking small. What we do today is the best and biggest”
“Trust in government and system is increasing in India”
“Government offices are no longer a problem but are becoming allies of the countrymen”
“Our government created infrastructure keeping the villages in mind”
“By curbing corruption, we have ensured that the benefits of development are distributed equally to every region of India”
“We believe in Governance of Saturation, not Politics of Scarcity”
“Our government is moving ahead keeping the principle of Nation First paramount”
“We have to prepare 21st century India for its coming decades today itself”
“India is the Future”

मेरे यहां पुराने जमाने में युद्ध में जाने से पहले बहुत जोरो की डुगडुगी बजाई जाती थी, बड़े बिगुल बजाए जाते थे ताकि जाने वाला जरा जोश में जाए, थैंक्यू दास! TV Nine के सभी दर्शकों को मेरा नमस्कार और यहां उपस्थित आप सबको भी… मैं अक्सर भारत की डायवर्सिटी की चर्चा करता रहता हूं। इस डाइवर्सिटी को TV Nine का न्यूजरूम, आपकी रिपोर्टिंग टीम में बखूबी वो नजर आता है, ये रिप्रेजेंट करता है। TV Nine के अनेक भारतीय भाषाओं में मीडिया प्लेटफॉर्म्स हैं। आप भारत की वाइब्रेंट डेमोक्रेसी, उसके प्रतिनिधि भी हैं। मैं अलग-अलग राज्यों में, अलग-अलग भाषाओं में, TV Nine में काम करने वाले सभी पत्रकार साथियों का, आपकी टेक्निकल टीम का बहुत-बहुत अभिनंदन करता हूं।

साथियों,

आज TV Nine की टीम ने इस समिट के लिए बड़ा Interesting Topic चुना है। India: Poised For The Next Big लीप. और Big लीप तो हम तभी ले सकते हैं, जब हम जोश में हों, ऊर्जा से भरे हुए हों। कोई हताश-निराश देश हो या व्यक्ति Big लीप के बारे में सोच ही नहीं सकता है। ये थीम ही अपने आप में ये बताने के लिए काफी है कि आज के भारत का आत्मविश्वास किस ऊंचाई पर है, आकांक्षा क्या है? अगर आज दुनिया को लगता है कि भारत एक बड़ा लीप लेने के लिए तैयार है, तो उसके पीछे 10 साल का एक पावरफुल लॉन्चपैड है। तो 10 वर्ष में ऐसा क्या बदला, कि आज हम यहां पहुंचे हैं? ये बदलाव Mindset का है। ये बदलाव Self-Confidence और Trust का है। ये बदलाव Good Governance का, सुशासन का।

साथियों,

एक बहुत पुरानी कहावत है- मन के हारे हार है, मन के जीते जीत। अभी दास का मैं quote सुन रहा था लेकिन मैं उसमें थोड़ा differ करता हूं। उन्होंने कहा कि इतिहास एक प्रकार से बडे महानुभावों की बायोग्राफी होती है। ये हो सकता है पश्चिम की सोच हो, हिन्‍दुस्‍तान में सामान्य मानवीय की बायोग्राफी, वही इतिहास होती है। वही देश का सच्चा सामर्थ्य होता है और इसलिए बड़े लोग आए, चले गए… देश अजर-अमर रहता है।

साथियों,

हारे हुए मन से विजय मिलनी बहुत मुश्किल होती है। इसलिए पिछले 10 साल में Mindset में जो बदलाव आया है, जो लीप हमने लिया है, वो वाकई अद्भुत है। आज के बाद दशकों तक जिन्होंने सरकार चलाई, उनका भारतीयता के सामर्थ्य पर ही विश्वास नहीं था। उन्होंने भारतीयों को Underestimate किया, उनके सामर्थ्य को कम करके आंका। तब लाल किले से कहा जाता था कि हम भारतीय निराशावादी हैं, पराजय भावना को अपनाने वाले हैं। लाल किले से ही भारतीयों को आलसी कहा गया, मेहनत से जी चुराने वाला कहा गया। जब देश का नेतृत्व ही निराशा से भरा हुआ हो, तो फिर देश में आशा का संचार कैसे होता? इसलिए देश के अधिकांश लोगों ने भी ये मान लिया था कि देश तो अब ऐसे ही चलेगा! ऊपर से करप्शन, हजारों करोड़ के घोटाले, पॉलिसी पैरालिसिस, परिवारवाद, इन सबने देश की नींव को तबाह करके रख दिया था।

पिछले 10 वर्षों में हम उस भयावह स्थिति से देश को निकालकर यहां लाए हैं। सिर्फ 10 साल में भारत, दुनिया की टॉप फाइव अर्थव्यवस्थाओं में आ गया है। आज देश में जरूरी नीतियां भी तेजी से बनती हैं और निर्णय भी उतनी ही तेजी से लिए जाते हैं। Mindset में बदलाव ने कमाल करके दिखा दिया है। 21वीं सदी के भारत ने छोटा सोचना छोड़ दिया है। आज हम जो करते हैं, वो Best और Biggest करते हैं। आज भारत की उपलब्धियां देखकर दुनिया हैरान है। दुनिया, भारत के साथ चलने में अपना फायदा देख रही है। अरे, भारत ने ये भी कर लिया- ये रिएक्शन, अच्छा भारत ने ये कर लिया? भारत में ये हो गया? ये रिएक्‍शन, आज की दुनिया का न्यू नॉर्मल है। बढ़ती विश्वसनीयता, आज भारत की सबसे बड़ी पहचान है। आप 10 साल पहले के और आज के FDI के आंकड़े देखिए। पिछली सरकार के 10 साल में 300 बिलियन डॉलर की FDI भारत में आई। हमारी सरकार के 10 साल में 640 बिलियन डॉलर की FDI भारत में आई। 10 साल में जो डिजिटल क्रांति आई है, कोरोना के समय में वैक्सीन पर जो भरोसा बैठा है, आज टैक्स देने वालों की बढ़ती हुई संख्या हो, ये चीजें बता रही हैं, कि भारत के लोगों का सरकार और व्यवस्था पर भरोसा बढ़ रहा है।

मैं आपको एक और आकंड़ा देता हूं। यहां इस हॉल में ज्यादातर लोग ऐसे होंगे जो म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट करते होंगे। साल 2014 में देश में लोगों ने करीब 9 लाख करोड़ रुपए म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट कर के रखे थे। अगर मैं साल 2024 की बात करूं तो आज देश के लोगों ने 52 लाख करोड़ रुपए उससे भी ज्यादा म्यूचुअल फंड में इन्वेस्ट कर रखा है। ये इसलिए हुआ है क्योंकि हर भारतीय को ये विश्वास है कि देश मजबूती से आगे बढ़ रहा है। और जितना विश्वास उसे देश पर है, उतना ही खुद पर भी है। हर भारतीय ये सोच रहा है– मैं कुछ भी कर सकता हूं, मेरे लिए कुछ भी असंभव नहीं है। और ये बात TV Nine के दर्शक भी नोट करते होंगे कि अनेक लोगों का प्रिडिक्शन जहां अटक जाता है, उससे भी कहीं ज्यादा बेहतर परफॉर्म करके हमने दिखाया है।

साथियों,

आज इस Mindset और Trust में परिवर्तन का सबसे बड़ा कारण, हमारी सरकार का Work-Culture है, गवर्नेंस है। वही अफसर हैं, वही ऑफिस हैं, वही व्यवस्थाएं हैं, वही फाइलें हैं, लेकिन नतीजे कुछ और आ रहे हैं। सरकार के दफ्तर आज समस्या नहीं, देशवासियों के सहयोगी बन रहे हैं। ये व्यवस्था आने वाले समय के लिए गवर्नेंस के नए आदर्श स्थापित कर रही है।

साथियों,

भारत के विकास को गति देने के लिए, Big लीप लेने के लिए ये बहुत जरूरी था कि जिस गीयर पर पहले भारत चल रहा था, उस गीयर को बदला जाए। पहले की सरकारों में भारत किस तरह रिवर्स गीयर में था, मैं आपको कुछ उदाहरण देता हूं। यूपी में 80 के दशक में सरयू नहर परियोजना का शिलान्यास हुआ था। ये परियोजना चार दशक तक अटकी रही। 2014 में सरकार बनने के बाद हमने इस परियोजना को तेजी से पूरा किया। सरदार सरोवर परियोजना, उस परियोजना का शिलान्यास तो पंडित नेहरू ने 60 के दशक में किया था। 60 साल तक सरदार सरोवर डैम का काम ऐसे ही लटका रहा। सरकार बनने के बाद 2017 में हमने इस डैम का काम पूरा करके इसका लोकार्पण किया। महाराष्ट्र की कृष्णा कोयना परियोजना भी 80 के दशक में प्रारंभ हुई थी। साल 2014 तक ये भी ऐसे ही लटकी हुई थी। इस डैम का काम भी हमारी ही सरकार ने पूरा करवाया।

साथियों,

बीते कुछ दिनों में आपने अटल टनल के आसपास बर्फबारी की बहुत शानदार तस्वीरें देखी हैं। अटल टनल का शिलान्यास हुआ था 2002 में। 2014 तक ये टनल भी अधूरी लटकी हुई रही। इसका काम भी पूरा कराया हमारी सरकार ने और इसका 2020 में लोकार्पण किया गया। असम का बोगीबील ब्रिज भी आपको याद होगा। ये ब्रिज भी 1998 में स्वीकृत हुआ। सरकार में आने के बाद हमने इसे तेजी से पूरा कराया और 20 साल बाद साल 2018 में इसका लोकार्पण किया। Eastern Dedicated Fright Corridor, साल 2008 में स्वीकृत किया गया। ये प्रोजेक्ट भी लटकता रहा और 15 साल बाद, 2023 में हमने इसे पूरा कराया। मैं आपको ऐसे कम से कम 500 प्रोजेक्ट गिना सकता हूं। ऐसे सैकड़ों प्रोजेक्ट्स को 2014 में हमारी सरकार आने के बाद तेजी से पूरा कराया गया।

प्रधानमंत्री कार्यालय में टेक्नोलॉजी की मदद से हमने एक आधुनिक व्यवस्था विकसित की है- प्रगति के नाम से। हर महीने मैं खुद एक-एक प्रोजेक्ट की फाइल लेकर बैठता हूं, सारा डेटा लेकर बैठता हूं, दशकों से अटके हुए प्रोजेक्ट्स की समीक्षा करता हूं और मेरे सामने ऑनलाइन, सभी राज्‍यों के मुख्‍य सचिव और भारत सरकार के सभी सचिव पूरा समय मेरे सामने होते हैं। एक-एक चीज का वहां analysis होता है। मैं पिछले 10 साल में... 17 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा के प्रोजेक्ट्स की समीक्षा कर चुका हूं। 17 लाख करोड़ रुपया… तब जाकर ये प्रोजेक्ट पूरे हुए हैं।

आप मुझे बताइए, जिस देश में पहले की सरकारें, उस स्पीड से काम करती रही हों, तो देश Big लीप कैसे लगा पाता? आज हमारी सरकार ने लटकाने-भटकाने वाली उस पुरानी अप्रोच को पीछे छोड़ दिया है। मैं आपको हमारी सरकार के कुछ उदाहरण दूंगा। मुंबई का अटल सेतु, देश का सबसे बड़ा ब्रिज, सी ब्रिज। इसका शिलान्यास साल 2016 में हुआ। हमने कुछ सप्ताह पहले इसका लोकार्पण भी कर दिया। संसद की नई बिल्डिंग। इसका शिलान्यास साल 2020 में किया। पिछले ही साल इसका लोकार्पण हो गया। जम्मू एम्स का शिलान्यास साल 2019 में हुआ था। पिछले सप्ताह 20 फरवरी को इसका लोकार्पण भी हो गया है। राजकोट एम्स का शिलान्यास साल 2020 में हुआ था। अभी कल ही इसका भी लोकार्पण हो गया है। इसी तरह, IIM संभलपुर का शिलान्यास साल 2021 में हुआ...और... साल 2024 में लोकार्पण हो गया। त्रिचि एयरपोर्ट के नये टर्मिनल का शिलान्यास 2019 में हुआ और कुछ सप्ताह पहले इसका लोकार्पण भी हो गया। IIT भिलाई का शिलान्यास साल 2018 में हुआ और कुछ दिन पहले हमने इसका भी लोकार्पण कर दिया है। गोवा के नए एयरपोर्ट का शिलान्यास 2016 में हुआ और 2022 में इसका लोकार्पण भी हो गया। लक्षद्वीप तक समुद्र के नीचे ऑप्टिकल फाइबर बिछाना बहुत चैलेंजिंग माना जाता था। इस काम को हमने साल 2020 में शुरू करवाया और कुछ सप्ताह पहले इसे पूरा भी कर दिया।

बनारस की बनास डेयरी का शिलान्यास साल 2021 में हुआ और कुछ दिन पहले इसका लोकार्पण हुआ। कल ही आपने द्वारका में सुदर्शन ब्रिज की शानदार तस्वीरें देखी हैं। हिंदुस्तान का सबसे लंबा केबल ब्रिज, देश की शान बढ़ा रहा है। इसका भी शिलान्यास हमारी सरकार ने साल 2017 में किया था। मैं जो मोदी की गारंटी की बात करता हूं ना, उसका एक पहलू ये भी है। जब ये स्पीड होती है, तेजी से काम करने की इच्छा शक्ति होती है... जब टैक्सपेयर्स के पैसे का सम्मान होता है... तब देश आगे बढ़ता है, तब देश Big लीप के लिए तैयार होता है।

साथियों,

भारत आज जिस स्केल पर काम कर रहा है, वो अप्रत्याशित, कल्पना से परे है। मैं आपको सिर्फ बीते एक सप्ताह के कुछ उदाहरण और देना चाहता हूं… एक week के… 20 फरवरी को मैंने जम्मू से एक साथ देश के दर्जनों IIT-IIM, ट्रिपल IT जैसे Higher Education Institutes का लोकार्पण किया। 24 फरवरी को मैंने राजकोट से देश के 5 एम्स का एक साथ लोकार्पण किया। आज सुबह मैंने देश के 27 राज्यों के 500 से ज्यादा रेलवे स्टेशन्स के री-डेवलपमेंट का शिलान्यास किया। आज के उसी कार्यक्रम में देश में डेढ़ हजार से ज्यादा ओवरब्रिज और अंडरपास पर एक साथ काम शुरू हुआ। अभी मैंने इस कार्यक्रम में आने से पहले ही सोशल मीडिया साइट- एक्स पर एक थ्रेड शेयर किया है। इसमें मैंने अपने आने वाले 2 दिनों के कार्यक्रमों के बारे में बताया है। मैं कल सुबह केरला, तमिलनाडु और महाराष्ट्र जाने वाला हूं। वहां स्पेस के कार्यक्रम हैं... MSME के कार्यक्रम हैं, पोर्ट से जुड़े कार्यक्रम हैं, ग्रीन हाईड्रोजन से जुड़े कार्यक्रम हैं... किसानों से जुड़े कार्यक्रम हैं... भारत ऐसी स्केल पर काम करके ही Big लीप लगा सकता है। हम पहली, दूसरी, तीसरी औद्योगिक क्रांति में पीछे रह गए। अब हमें चौथी औद्योगिक क्रांति में दुनिया का नेतृत्व करना है। और इसके लिए भारत में हर रोज हो रहे विकास कार्यों से, देश की रफ्तार को ऊर्जा मिल रही है।

भारत में हर दिन, आप एक के बाद एक दिमाग जरा अलर्ट रखिए… भारत में हर दिन दो नए कॉलेज खुले हैं, हर हफ्ते एक यूनिवर्सिटी खुली है। भारत में हर दिन 55 पेटेंट्स और 600 ट्रेडमार्क रजिस्टर किए गए हैं। भारत में हर दिन करीब डेढ़ लाख मुद्रा लोन बांटे गए हैं। भारत में हर दिन सैंतीस नए स्टार्टअप बने हैं। भारत में हर दिन सोलह हजार करोड़ रुपए के यूपीआई ट्रांजैक्शन हुए हैं। भारत में हर दिन 3 नए जन औषधि केंद्रों की शुरुआत हुई है। भारत में हर दिन चौदह किलोमीटर रेलवे ट्रैक का निर्माण हुआ है। भारत में हर दिन 50 हजार से अधिक एलपीजी कनेक्शन दिए गए हैं। भारत में हर सेकंड, हर सेकंड… एक नल से जल का कनेक्शन दिया गया है। भारत में हर दिन 75 हजार लोगों को गरीबी से बाहर निकाला गया है। हमने तो हमेशा से ही गरीबी हटाओ के सिर्फ नारे सुने थे। किसने सोचा था कि 10 साल में 25 करोड़ लोग गरीबी से बाहर निकल आएंगे। लेकिन ये हुआ है और हमारी ही सरकार में हुआ है।

साथियों,

भारत में consumption को लेकर हाल ही में एक रिपोर्ट आई है, जिससे नए ट्रेंड का पता चलता है। भारत में गरीबी अब तक के सबसे कम स्तर... यानि single digit में पहुंच गई है। इस डेटा के मुताबिक, पिछले एक दशक की तुलना में Consumption ढाई गुना बढ़ गया है। यानी भारत के लोगों की विभिन्न सेवाओं और सुविधाओं पर खर्च करने की क्षमता और बढ़ गई है। ये भी सामने आया है कि पिछले 10 साल में, गांवों में consumption शहरों की तुलना में कहीं ज्यादा तेज गति से बढ़ा है। यानी गांव के लोगों का आर्थिक सामर्थ्य बढ़ रहा है, उनके पास खर्च करने के लिए ज्यादा पैसे हो रहे हैं। ये ऐसे ही नहीं हुआ, ये हमारे उन प्रयासों का परिणाम है, जिनका फोकस गांव, गरीब और किसान है। 2014 के बाद से हमारी सरकार ने गांवों को ध्यान में रखकर इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण किया। गांव और शहर के बीच कनेक्टिविटी बेहतर हुई, रोजगार के नए अवसर तैयार किए गए, महिलाओं की आय बढ़ाने के साधन विकसित किए गए। विकास के इस मॉडल से ग्रामीण भारत सशक्त हुआ है। मैं आपको एक और आंकड़ा दूंगा। भारत में पहली बार, कुल खर्च में भोजन पर होने वाला खर्च 50 परसेंट से भी कम हो गया है। यानी, पहले जिस परिवार की सारी शक्ति भोजन जुटाने में खर्च हो जाती थी, आज उसके सदस्य सारी चीजों पर पैसे खर्च कर पा रहे हैं।

साथियों,

पहले की सरकारों की एक और सोच ये थी कि वो देश की जनता को अभाव में रखना पसंद करती थीं। अभाव में रह रही जनता को ये लोग चुनाव के समय थोड़ा-बहुत देकर, अपना स्वार्थ सिद्ध कर लेते थे। इसके चलते ही देश में एक वोट बैंक पॉलिटिक्स का जन्म हुआ। यानी सरकार केवल उसके लिए काम करती थी जो उन्हें वोट देता था।

लेकिन साथियों,

बीते 10 वर्षों में, भारत इस Scarcity Mindset को पीछे छोड़कर आगे बढ़ चला है। भ्रष्टाचार पर लगाम लगाकर हमने ये सुनिश्चित किया है कि विकास का लाभ भारत के हर क्षेत्र को समान रूप से दिया जाए। हम Politics of Scarcity नहीं, Governance of Saturation पर विश्वास करते हैं। हमने तुष्टिकरण ना करके, देशवासियों के संतुष्टिकरण का रास्ता चुना है। बीते 10 वर्षों में यही हमारा एकमात्र मंत्र है, यही हमारी सोच है। यही सबका साथ-सबका विकास है। हमने वोटबैंक पॉलिटिक्स को पॉलिटिक्स ऑफ परफॉर्मेंस में बदला है। जब अभाव होता है तो करप्शन होता है, भेदभाव होता है। जब सैचुरेशन होता है तो संतुष्टि होती है, सद्भाव होता है।

आज सरकार अपनी तरफ से, घर-घर जाकर लाभार्थियों को सुविधाएं दे रही है। आपने बीते समय में मोदी की गारंटी वाली गाड़ी के बारे में जरूर सुना होगा। देश में पहले कभी ऐसा नहीं हुआ कि सरकार के अफसर गाड़ी लेकर गांव-गांव जाएं और पूछे कि सरकार की इन योजनाओं का लाभ आपको मिला या नहीं मिला? आज हमारी सरकार खुद लोगों के दरवाजे पर जाकर कह रही है कि सरकारी योजनाओं का लाभ उठाइए। इसलिए मैं कहता हूं, जब सैचुरेशन एक मिशन बन जाए, तो हर प्रकार के भेदभाव की गुंजाइश खत्म हो जाती है। इसलिए मैं कहता हूं कि हम राजनीति नहीं राष्ट्रनीति पर विश्वास करने वाले लोग हैं।

साथियों,

हमारी सरकार Nation First के सिद्धांत को सर्वोपरि रखते हुए आगे बढ़ रही है। पहले की सरकारों के लिए कोई काम नहीं करना… ये सबसे बड़ा आसान काम बन गया था। लेकिन इस वर्क-कल्चर से ना देश बन सकता है और ना देश आगे बढ़ सकता है। इसलिए हमने देशहित में निर्णय लिए, पुरानी चुनौतियों का समाधान किया। आर्टिकल 370 की समाप्ति से लेकर… मैं Movie के बात नहीं कर रहा हूं। आर्टिकल 370 की समाप्ति से लेकर राम मंदिर निर्माण तक, ट्रिपल तलाक के अंत से लेकर महिला आरक्षण तक, वन रैंक वन पेंशन से लेकर चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ पद तक, सरकार ने Nation First की सोच के साथ ऐसे हर अधूरे काम पूरे किए।

साथियों,

21वीं सदी के भारत को अपने आने वाले दशकों के लिए भी हमें आज ही तैयार करना होगा। इसलिए आज भारत भविष्य की योजनाओं में भी तेजी से आगे बढ़ रहा है। स्पेस से सेमीकंडक्टर तक डिजिटल से ड्रोन तक AI से क्लीन एनर्जी तक 5G से Fintech तक भारत आज दुनिया की अगली कतार में पहुंच गया है। भारत आज, ग्लोबल वर्ल्ड में डिजिटल पेमेंट्स की सबसे बड़ी ताकतों में से एक है। भारत आज, Fintech Adoption Rate में सबसे तेजी से बढ़ता देश है। भारत आज, चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने वाला पहला देश है। भारत आज, Solar Installed Capacity में दुनिया के अग्रणी देशों में से है। भारत आज, 5 जी नेटवर्क के विस्तार में यूरोप को भी पीछे छोड़ चुका है। भारत आज, सेमीकंडक्टर सेक्टर में भी तेजी से आगे बढ़ रहा है। भारत आज, ग्रीन हाइड्रोजन जैसे फ्यूचर के फ्यूल पर तेज़ी से काम कर रहा है।

आज भारत अपने उज्ज्वल भविष्य के लिए दिन-रात मेहनत कर रहा है। भारत Futuristic है। और इसलिए आज सब लोग कहने लगे हैं- India is the Future. आने वाला समय और महत्वपूर्ण है, आने वाले 5 साल बहुत महत्वपूर्ण हैं। और मैं ये सब जो audience यहां बैठा है और बड़ी जिम्मेदारी के साथ कहता हूं- हमारे तीसरे कार्यकाल में… हमारे तीसरे कार्यकाल में हमें भारत के सामर्थ्य को नई ऊंचाई तक पहुंचाना है। विकसित भारत की संकल्प यात्रा में आने वाले पांच वर्ष हमारे देश की प्रगति और प्रशस्ति के वर्ष हैं। इसी कामना के साथ और पूरे विश्वास के साथ ये सेमिनार होता या न होता, Big लीप जरूर होता। इतना फायदा जरूर हुआ कि आपने Big लीप का कार्यक्रम रखा, तो मुझे भी अपने लिप खोलने का मौका मिल गया। इस कार्यक्रम के लिए आपको ढेर सारी शुभकामनाएं! आप लोग सुबह से बैठ करके Brainstorming करते होंगे तो कुछ हंसी-खुशी की शाम भी हो गई।

बहुत बहुत धन्यवाद!