ମିଶନ୍ ସ୍କୁଲ୍ ଅଫ୍ ଏକ୍ସିଲେନ୍ସ କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମ ଅନ୍ତର୍ଗତ 4500 କୋଟି ଟଙ୍କାରୁ ଅଧିକର ବିଭିନ୍ନ ପ୍ରକଳ୍ପର ଶିଳାନ୍ୟାସ କରାଯାଇଛି ଏବଂ ଦେଶକୁ ସମର୍ପିତ କରାଯାଇଛି
‘ବିଦ୍ୟା ସମୀକ୍ଷା କେନ୍ଦ୍ର 2.0’ ଏବଂ ଅନ୍ୟ ବିକାଶ ପ୍ରକଳ୍ପର ଶିଳାନ୍ୟାସ କରାଯାଇଛି
‘‘ଆମ ପାଇଁ ଗରିବଙ୍କ ପାଇଁ ଏକ ଘର କେବଳ ସଂଖ୍ୟା ନୁହେଁ ବରଂ ସମ୍ମାନର ପ୍ରତୀକ ଅଟେ’’
ଆଦିବାସୀ ଅଞ୍ଚଳର ଯୁବକମାନଙ୍କୁ ସୁଯୋଗ ପ୍ରଦାନ କରିବା ସହିତ ଆମେ ଯୋଗ୍ୟତାକୁ ଉତ୍ସାହିତ କରିବାକୁ ଲକ୍ଷ୍ୟ ରଖିଛୁ
“ମୁଁ ଛୋଟା ଉଦେପୁର ସମେତ ସମଗ୍ର ଆଦିବାସୀ ଅଞ୍ଚଳର ମା ଏବଂ ଭଉଣୀମାନଙ୍କୁ କହିବାକୁ ଆସିଛି ଯେ ଆପଣଙ୍କର ଏହି ପୁଅ ଆପଣଙ୍କର ଅଧିକାର ସୁନିଶ୍ଚିତ କରିବାକୁ ଆସିଛି”

ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ଶ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀ ଆଜି ଗୁଜରାଟର ବୋଡେଲି, ଛୋଟାଉଦେପୁରରେ 5200 କୋଟି ଟଙ୍କାରୁ ଅଧିକର ପ୍ରକଳ୍ପର ଶିଳାନ୍ୟାସ ଏବଂ ଲୋକାର୍ପଣ କରିଛନ୍ତି। ଏଥିରେ ‘ମିଶନ୍ ସ୍କୁଲ୍ ଅଫ୍ ଏକ୍ସିଲେନ୍‌ସ’ କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମ ଅନ୍ତର୍ଗତ 4500 କୋଟି ଟଙ୍କାରୁ ଅଧିକ ବିଭିନ୍ନ ପ୍ରକଳ୍ପର ଶିଳାନ୍ୟାସ ଓ ଲୋକାର୍ପଣ, ‘ବିଦ୍ୟା ସମୀକ୍ଷା କେନ୍ଦ୍ର 2.0’ ର ଶିଳାନ୍ୟାସ ଏବଂ ଅନ୍ୟ ବିକାଶ ପ୍ରକଳ୍ପରେ ସାମିଲ୍ ହୋଇଛନ୍ତି।

ଏହି ସମାବେଶକୁ ସମ୍ବୋଧିତ କରି ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ଏହି ଅଞ୍ଚଳ ସହ ତାଙ୍କର ଦୀର୍ଘ ଦିନର ସମ୍ପର୍କକୁ ମନେ ପକାଇଥିଲେ। ଆଜି ଆରମ୍ଭ ହୋଇଥିବା ପ୍ରକଳ୍ପ ପାଇଁ କିମ୍ବା ଯେଉଁଥି ପାଇଁ ଆଜି ଭିତ୍ତି ପ୍ରସ୍ତର ସ୍ଥାପନ କରାଯାଇଥିଲା ସେଥିପାଇଁ ସେ ଖୁସି ବ୍ୟକ୍ତ କରିଛନ୍ତି। ସେ ଜଣେ କାର୍ଯ୍ୟକର୍ତ୍ତା ଭାବରେ ତାଙ୍କର ଦିନ ଏବଂ ଏହି ଅଞ୍ଚଳର ଗ୍ରାମଗୁଡିକରେ ରହିଥିବା ସମୟକୁ ମନେ ପକାଇଥିଲେ | ଦର୍ଶକଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ଅନେକ ଜଣାଶୁଣା ଚେହେରା ଦେଖି ସେ ଖୁସି ବ୍ୟକ୍ତ କରିଥିଲେ | ସେ କହିଛନ୍ତି ଯେ ଏହି ଅଞ୍ଚଳର ଆଦିବାସୀ ସମ୍ପ୍ରଦାୟର ପରିସ୍ଥିତି ଏବଂ ଜୀବନ ସହ ସେ ଅତି ନିକଟରୁ ପରିଚିତ। ସେ ଯେତେବେଳେ ଦାୟୀତ୍ବ ଗ୍ରହଣ କଲେ ଏହି କ୍ଷେତ୍ର ତଥା ଅନ୍ୟାନ୍ୟ ଆଦିବାସୀ ଅଞ୍ଚଳର ବିକାଶ ପାଇଁ ତାଙ୍କର ସଂକଳ୍ପ ବିଷୟରେ ସେ ଦର୍ଶକଙ୍କୁ କହିଥିଲେ। ତାଙ୍କ କାର୍ଯ୍ୟକାଳ ମଧ୍ୟରେ ଆରମ୍ଭ ହୋଇଥିବା ଅନେକ ଯୋଜନାର ସକରାତ୍ମକ ପ୍ରଭାବ ଦେଖି ସେ ସନ୍ତୋଷ ବ୍ୟକ୍ତ କରିଥିଲେ। ସେ ସେହି ପିଲାମାନଙ୍କୁ ଦେଖିବାର ଆନନ୍ଦ ବିଷୟରେ କହିଥିଲେ, ଯେଉଁମାନେ ପ୍ରଥମ ଥର ପାଇଁ ସ୍କୁଲ ଦେଖିଲେ ଏବଂ ବର୍ତ୍ତମାନ ଜୀବନରେ ଶିକ୍ଷକ ଏବଂ ଇଞ୍ଜିନିୟର ଭାବରେ ଭଲ ପ୍ରଦର୍ଶନ କରୁଛନ୍ତି ।

 

ବିଦ୍ୟାଳୟ, ରାସ୍ତା, ଗୃହ, ଏବଂ ଜଳର ଉପଲବ୍ଧତା ବିଷୟରେ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କହିଛନ୍ତି ଯେ ସମାଜର ଗରିବ ଶ୍ରେଣୀର ଲୋକଙ୍କ ପାଇଁ ଏହା ସମ୍ମାନର ଜୀବନର ଆଧାର ଏବଂ ମିଶନ ମୋଡରେ କାର୍ଯ୍ୟ କରିବା ତାଙ୍କର ପ୍ରାଥମିକତା ଅଟେ। ସେ କହିଛନ୍ତି ଯେ ଦେଶର ଗରିବ ଲୋକଙ୍କ ପାଇଁ 4 କୋଟିରୁ ଅଧିକ ଘର ନିର୍ମାଣ କରାଯାଇଛି। ସେ କହିଛନ୍ତି, “ଆମ ପାଇଁ ଗରିବଙ୍କ ପାଇଁ ଏକ ଘର କେବଳ ସଂଖ୍ୟା ନୁହେଁ ବରଂ ସମ୍ମାନର ପ୍ରତୀକ”। ସେ କହିଛନ୍ତି ଯେ ଏହି ଘରଗୁଡିକର ଡିଜାଇନ୍ ସମ୍ବନ୍ଧୀୟ ନିଷ୍ପତ୍ତି ହିତାଧିକାରୀଙ୍କୁ ଛାଡି ଦିଆଯାଇଛି ଏବଂ ଅଧିକାଂଶ ଘର ଘରର ମହିଳାଙ୍କ ନାମରେ ଥିବା କଥା ମଧ୍ୟ ସେ ଉଲ୍ଲେଖ କରିଛନ୍ତି। ସେହିଭଳି, ପ୍ରତ୍ୟେକ ପରିବାର ପାଇପ୍ ପାଣି ପାଇ ଜୀବନର ସହଜତା ନିଶ୍ଚିତ କରୁଛନ୍ତି | ସେ କହିଛନ୍ତି ଯେ ଜଳ ଜୀବନ ମିଶନ ଅଧୀନରେ 10 କୋଟି ନୂତନ ଜଳ ସଂଯୋଗ ଯୋଗାଇ ଦିଆଯାଇଛି। ସେ ଦର୍ଶକଙ୍କୁ କହିଛନ୍ତି ଯେ ରାଜ୍ୟରେ କାର୍ଯ୍ୟ କରିବା ସମୟରେ ସଂଗୃହିତ ଅଭିଜ୍ଞତା ଜାତୀୟ ସ୍ତରରେ ମଧ୍ୟ ସହାୟକ ହେଉଛି। ସେ କହିଥିଲେ, “ଆପଣମାନେ ମୋର ଗୁରୁ’’।

ଶିକ୍ଷା କ୍ଷେତ୍ର ବିଷୟରେ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କହିଛନ୍ତି ଯେ ଗୁଜୁରାଟକୁ ଶୀର୍ଷରେ ରଖିବା ପାଇଁ ଆଜିର ପ୍ରକଳ୍ପ ଏକ ବଡ଼ ପଦକ୍ଷେପ ଏବଂ ମୁଖ୍ୟମନ୍ତ୍ରୀ ଭୁପେନ୍ଦର ପଟେଲଙ୍କ ସମସ୍ତ ଦଳକୁ ଅଭିନନ୍ଦନ ଜଣାଇଛନ୍ତି। ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମୋଦୀ କହିଛନ୍ତି ଯେ ମିଶନ୍ ସ୍କୁଲ୍ ଅଫ୍ ଏକ୍ସଲେନ୍ସ ଏବଂ ବିଦ୍ୟା ସମୀକ୍ଷା 2.0 ସ୍କୁଲରେ ଶିକ୍ଷା ଉପରେ ସକରାତ୍ମକ ପ୍ରଭାବ ପକାଇବ। ବିଦ୍ୟା ସମୀକ୍ଷା କେନ୍ଦ୍ର ବିଷୟରେ ବିଶ୍ୱ ବ୍ୟାଙ୍କର ଚେୟାରମ୍ୟାନଙ୍କ ସହ ହୋଇଥିବା ପାରସ୍ପରିକ ଆଲୋଚନାକୁ ମନେ ପକାଇ ଶ୍ରୀ ମୋଦୀ ସୂଚନା ଦେଇଛନ୍ତି ଯେ ଚେୟାରମ୍ୟାନ୍ ତାଙ୍କୁ ଭାରତର ପ୍ରତ୍ୟେକ ଜିଲ୍ଲାରେ ବିଦ୍ୟା ସମୀକ୍ଷା କେନ୍ଦ୍ର ପ୍ରତିଷ୍ଠା କରିବାକୁ ଅନୁରୋଧ କରିଛନ୍ତି ଏବଂ ଏହି ଉତ୍ତମ କାର୍ଯ୍ୟକୁ ସମର୍ଥନ କରିବାକୁ ବିଶ୍ୱ ବ୍ୟାଙ୍କ ପ୍ରସ୍ତୁତ ଅଛି। ସେ କହିଛନ୍ତି ଯେ ଏହିପରି ପଦକ୍ଷେପ ପ୍ରତିଭାବାନ ଛାତ୍ରଙ୍କ ସହିତ ସେହି ଲୋକମାନଙ୍କ ପାଇଁ ମଧ୍ୟ ବହୁ ଲାଭଦାୟକ ହେବ ଯେଉଁମାନଙ୍କ ନିକଟରେ ସମ୍ବଳର ଅଭାବ ରହିଛି। ସେ କହିଛନ୍ତି, ‘‘ଆମର ଲକ୍ଷ୍ୟ  ଆଦିବାସୀ ଅଞ୍ଚଳର ଯୁବକମାନଙ୍କୁ ସୁଯୋଗ ପ୍ରଦାନ କରିବା ସହିତ ଆମେ ଯୋଗ୍ୟତାକୁ ଉତ୍ସାହିତ କରିବାକୁ ଲକ୍ଷ୍ୟ ରଖିଛୁ।’’

 

ବିଗତ ଦୁଇ ଦଶନ୍ଧି ଧରି ଶିକ୍ଷା ଏବଂ ଦକ୍ଷତା ବିକାଶ ଉପରେ ସରକାରଙ୍କ ଧ୍ୟାନ ଉପରେ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ଆଲୋକପାତ କରିଥିଲେ। ବିଗତ ଦୁଇ ଦଶନ୍ଧି ପୂର୍ବରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ବିଦ୍ୟାଳୟ ଓ ମହାବିଦ୍ୟାଳୟରେ ଶିକ୍ଷକ ଏବଂ ଅନ୍ୟାନ୍ୟ ଶିକ୍ଷାନୁଷ୍ଠାନର ଅଭାବ ଦର୍ଶାଇଥିଲେ ଯାହାଦ୍ୱାରା ବହୁ ସଂଖ୍ୟାରେ ଡ୍ରପ୍ ଆଉଟ୍ ହୋଇଥିଲା | ସେ ଗୁଜୁରାଟର ମୁଖ୍ୟମନ୍ତ୍ରୀ ପଦ ଗ୍ରହଣ କରିବା ସମୟରେ ରାଜ୍ୟର ଆଦିବାସୀ ବେଲ୍ଟ ଅଞ୍ଚଳରେ ଏକ ବିଜ୍ଞାନ ବିଦ୍ୟାଳୟର ଅନୁପସ୍ଥିତିକୁ ନେଇ ଦୁଃଖ ପ୍ରକାଶ କରିଛନ୍ତି। “ସରକାର ପରିସ୍ଥିତିକୁ ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ରୂପେ ବଦଳାଇ ଦେଇଛନ୍ତି” ବୋଲି ଶ୍ରୀ ମୋଦୀ କହିଛନ୍ତି ଯେ ଗତ ଦୁଇ ଦଶନ୍ଧି ମଧ୍ୟରେ 2 ଲକ୍ଷ ଶିକ୍ଷକ ନିଯୁକ୍ତି ପାଇଛନ୍ତି ଏବଂ 1.25 ଲକ୍ଷରୁ ଅଧିକ ଶ୍ରେଣୀଗୃହ ନିର୍ମାଣ କରାଯାଇଛି। ଆଦିବାସୀ କ୍ଷେତ୍ରରେ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ଗୁରୁତ୍ୱାରୋପ କରିଛନ୍ତି ଯେ ଗତ ଦୁଇ ଦଶନ୍ଧି ମଧ୍ୟରେ ବିଜ୍ଞାନ, ବାଣିଜ୍ୟ ଏବଂ କଳା ପ୍ରତିଷ୍ଠାନର ଏକ ଉଦୀୟମାନ ନେଟୱାର୍କର ସାକ୍ଷୀ ରହିଛି। ସେ ସୂଚନା ଦେଇଛନ୍ତି ଯେ ସରକାର ଆଦିବାସୀ ଅଞ୍ଚଳରେ 25,000 ଶ୍ରେଣୀଗୃହ ଏବଂ 5 ଟି ନୂତନ ମେଡିକାଲ କଲେଜ ନିର୍ମାଣ କରିଛନ୍ତି ଏବଂ ଗୋବିନ୍ଦ ଗୁରୁ ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟ ଏବଂ ବିର୍ସା ମୁଣ୍ଡା ବିଶ୍ୱବିଦ୍ୟାଳୟର ଉଦାହରଣ ଦେଇଛନ୍ତି। ସେ ଦର୍ଶାଇଛନ୍ତି ଯେ ଏହି ଅଞ୍ଚଳରେ ଅନେକ ଦକ୍ଷତା ବିକାଶ ଅନୁଷ୍ଠାନ ମଧ୍ୟ ସ୍ଥାପନା କରାଯାଇଛି।

ନୂତନ ଜାତୀୟ ଶିକ୍ଷା ନୀତି ବିଷୟରେ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କହିଛନ୍ତି ଯେ ମାତୃଭାଷାରେ ଶିକ୍ଷା ଆଦିବାସୀ ଛାତ୍ରମାନଙ୍କ ପାଇଁ ନୂତନ ସୁଯୋଗ ସୃଷ୍ଟି କରିବ ଏବଂ ସେମାନଙ୍କୁ ସଶକ୍ତ କରିବ। ସେ 14 ହଜାରରୁ ଅଧିକ ପିଏମ ଶ୍ରୀ ବିଦ୍ୟାଳୟ ଏବଂ ଏକଲବ୍ୟ ଆବାସିକ ବିଦ୍ୟାଳୟ ବିଷୟରେ ମଧ୍ୟ ଉଲ୍ଲେଖ କରିଛନ୍ତି ଯାହା ଆଦିବାସୀ ଅଞ୍ଚଳରେ ଜୀବନକୁ ପରିବର୍ତ୍ତନ କରୁଛି | ଏସସି / ଏସଟି ଛାତ୍ରବୃତ୍ତି ଛାତ୍ରମାନଙ୍କୁ ସାହାଯ୍ୟ କରୁଛି | ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କହିଛନ୍ତି ଯେ ଦେଶର ଷ୍ଟାର୍ଟଅପ୍ ଇକୋସିଷ୍ଟମରେ ଆଦିବାସୀ ଯୁବକମାନଙ୍କୁ ଉତ୍ସାହିତ କରିବା ପାଇଁ ପ୍ରୟାସ ହେଉଛି। ସୁଦୂର ବିଦ୍ୟାଳୟରେ ଅଟଳ ଟିଙ୍କରିଂ ଲ୍ୟାବ ଆଦିବାସୀ ଛାତ୍ରମାନଙ୍କ ମଧ୍ୟରେ ବିଜ୍ଞାନ ପ୍ରତି ଆଗ୍ରହ ସୃଷ୍ଟି କରୁଛି |

 

ଆଜିର ଦୁନିଆରେ କୌଶଳର ଗୁରୁତ୍ୱ ଉପରେ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ କୌଶଲ ବିକାଶ କେନ୍ଦ୍ରସମୂହ ଏବଂ କୌଶଲ ବିକାଶ ଯୋଜନାଙ୍କ ଅଧୀନରେ ଲକ୍ଷ ଲକ୍ଷ ଯୁବକଙ୍କୁ ପ୍ରଶିକ୍ଷଣ ଦେବା ବିଷୟରେ ଉଲ୍ଲେଖ କରିଛନ୍ତି। ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମୋଦୀ ମୁଦ୍ରା ଯୋଜନା ଅଧୀନରେ ଥିବା ବନ୍ଧକମୁକ୍ତ ଋଣ ବିଷୟରେ ମଧ୍ୟ ଆଲୋଚନା କରିଛନ୍ତି ଯାହା ପ୍ରଥମ ଥର ପାଇଁ ଉଦ୍ୟୋଗୀ ସୃଷ୍ଟି କରୁଛି। ବନ୍ଧନ କେନ୍ଦ୍ର ରାଜ୍ୟରେ ଲକ୍ଷ ଲକ୍ଷ ଆଦିବାସୀ ଉପକୃତ ହେଉଛନ୍ତି । ଆଦିବାସୀ ଉତ୍ପାଦ ଏବଂ ହସ୍ତତନ୍ତ ପାଇଁ ସେ ସ୍ୱତନ୍ତ୍ର ଆଉଟଲେଟ୍ ବିଷୟରେ ମଧ୍ୟ ଉଲ୍ଲେଖ କରିଛନ୍ତି।

17 ସେପ୍ଟେମ୍ବରରେ ଆରମ୍ଭ ହୋଇଥିବା ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ବିଶ୍ୱକର୍ମା ଯୋଜନା ବିଷୟରେ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ସୂଚନା ଦେଇଛନ୍ତି। ସେ କହିଛନ୍ତି ଯେ ବାରିକ, ଟେଲର, ଧୋବା, କୁମ୍ଭାର, କମାର, ବଣିଆ, ସୂତାର, ମାଲାକାର, ମୋଚି, ରାଜମିସ୍ତ୍ରୀ ଭଳି ଲୋକମାନେ ସ୍ୱଳ୍ପ ସୁଧରେ ଋଣ, ଉପକରଣ ଏବଂ ପ୍ରଶିକ୍ଷଣ ଳାଭ କରୁଛନ୍ତି। ଏହି କୌଶଳ ଏବଂ ପରମ୍ପରାକୁ ଜୀବନ୍ତ ରଖିବା ପାଇଁ ଏହା ଏକ ପ୍ରୟାସ ବୋଲି ସେ କହିଛନ୍ତି। ଏହି ଯୋଜନା ଅନ୍ତର୍ଗତ ଋଣ ପାଇଁ କୌଣସି ଗ୍ୟାରେଣ୍ଟିର ଆବଶ୍ୟକତା ନାହିଁ ବୋଲି କେବଳ ମୋଦୀ କହିଛନ୍ତି।

ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ସୂଚାଇ ଦେଇଛନ୍ତି ଯେ ଦଳିତ, ପଛୁଆ ବର୍ଗ ଏବଂ ଆଦିବାସୀ ତଥା ଯେଉଁମାନେ ଏକଦା ବଞ୍ଚିତ ହୋଇଥିଲେ ସେମାନେ ସରକାରଙ୍କ ଦ୍ବାରା କାର୍ଯ୍ୟକାରୀ ହୋଇଥିବା ବିଭିନ୍ନ ଯୋଜନା ସହାୟତାରେ ଆଜି ବିକାଶର ଶିଖରରେ ପହଞ୍ଚି ପାରୁଛନ୍ତି। ସ୍ୱାଧୀନତାର ଏତେ ଦଶନ୍ଧି ପରେ ଆଦିବାସୀମାନଙ୍କ ଗୌରବକୁ ଶ୍ରଦ୍ଧାଞ୍ଜଳି ଅର୍ପଣ କରିବାର ସୁଯୋଗ ପାଇବା ବିଷୟରେ ଶ୍ରୀ ମୋଦୀ କହିଥିଲେ ଏବଂ ପ୍ରଭୁ ବିର୍ସା ମୁଣ୍ଡାଙ୍କ ଜନ୍ମ ବାର୍ଷିକୀ ବିଷୟରେ ଉଲ୍ଲେଖ କରିଥିଲେ ଯାହା ବର୍ତ୍ତମାନ ଜନ ଜାତୀୟ ଗୌରବ ଦିବସ ଭାବରେ ପାଳନ କରାଯାଏ। ପୂର୍ବ ତୁଳନାରେ ଆଦିବାସୀ ଗୋଷ୍ଠୀ ପାଇଁ ବଜେଟକୁ  ପୂର୍ବ ତୁଳନାରେ 5 ଗୁଣା ବୃଦ୍ଧି କରାଯାଇଥିବା ବିଷୟରେ ସେ ସୂଚନା ଦେଇଛନ୍ତି।  

 

ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନାରୀ ଶକ୍ତି ବନ୍ଦନ ଅଧିନିୟମ ବିଷୟରେ କହିଥିଲେ ଯାହା ନୂତନ ସଂସଦ ଭବନରୁ ପାରିତ ହୋଇଥିବା ପ୍ରଥମ ଆଇନ ହୋଇଥିଲା। ଆଦିବାସୀ ଓ ମହିଳାମାନଙ୍କୁ କାହିଁକି ଏତେ ଦିନ ପର୍ଯ୍ୟନ୍ତ ଅଧିକାରରୁ ବଞ୍ଚିତ ରଖାଗଲା ବୋଲି ସେ ପ୍ରଶ୍ନ କରିଛନ୍ତି। ସେ କହିଛନ୍ତି, “ମୁଁ ଛୋଟା ଉଦେପୁର ସମେତ ସମଗ୍ର ଆଦିବାସୀ ଅଞ୍ଚଳର ମା ଏବଂ ଭଉଣୀମାନଙ୍କୁ କହିବାକୁ ଆସିଛି ଯେ ଆପଣଙ୍କର ଏହି ପୁଅ ଆପଣଙ୍କର ଅଧିକାର ସୁନିଶ୍ଚିତ କରିବାକୁ ଆସିଛି।

ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ଦର୍ଶାଇଛନ୍ତି ଯେ ବର୍ତ୍ତମାନ ସମସ୍ତ ମହିଳା ସଂସଦ ଓ ବିଧାନସଭାରେ ଅଂଶଗ୍ରହଣ କରିବା ପାଇଁ ରାସ୍ତା ଖୋଲିଛି। ସେ ଏସସି ଏବଂ ଏସଟି ସମ୍ପ୍ରଦାୟ ପାଇଁ ସଂରକ୍ଷଣ ପ୍ରଦାନ କରୁଥିବା ସମ୍ବିଧାନ ବିଷୟରେ ମଧ୍ୟ ଉଲ୍ଲେଖ କରିଛନ୍ତି। ଏହି ନୂତନ ଆଇନରେ ଏସସି / ଏସଟି ବର୍ଗର ମହିଳାମାନଙ୍କ ପାଇଁ ସଂରକ୍ଷଣ ବ୍ୟବସ୍ଥା ମଧ୍ୟ ରହିଛି ବୋଲି ଉଲ୍ଲେଖ କରି ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ଭାରତର ପ୍ରଥମ ଆଦିବାସୀ ମହିଳା ରାଷ୍ଟ୍ରପତି ଦ୍ରୌପଦୀ ମୁର୍ମୁଙ୍କ ଦ୍ବାରା ଏହି ଆଇନରେ ସ୍ବାକ୍ଷର କରାଯାଇଛି। 

 

ସମ୍ବୋଧନ ସମାପ୍ତ କରି ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ଆତ୍ମବିଶ୍ୱାସ ବ୍ୟକ୍ତ କରିଛନ୍ତି ଯେ ଏହାର ଆରମ୍ଭ ଚମତ୍କାର ଥିବାରୁ ଅମୃତ କାଳର ସଂକଳ୍ପ ପୂରଣ ହେବ।

ଏହି ଉତ୍ସବରେ ଗୁଜରାଟର ରାଜ୍ୟପାଳ ଶ୍ରୀ ଆଚାର୍ଯ୍ୟ ଦେବବ୍ରତ, ଗୁଜୁରାଟର ମୁଖ୍ୟମନ୍ତ୍ରୀ ଶ୍ରୀ ଭୁପେନ୍ଦ୍ର ପଟେଲ, ସାଂସଦ ଶ୍ରୀ ସି ଆର ପାଟିଲ ଏବଂ ଗୁଜରାଟ ସରକାରଙ୍କ ମନ୍ତ୍ରୀମାନଙ୍କ ସହିତ ଅନ୍ୟ ଗଣ୍ୟମାନ୍ୟ ବ୍ୟକ୍ତିମାନେ ଉପସ୍ଥିତ ଥିଲେ।

ପୃଷ୍ଠଭୂମି

ସମଗ୍ର ଗୁଜରାଟରେ ସ୍କୁଲର ଭିତ୍ତିଭୂମିକୁ ବଡ଼ ଆକରରେ ପ୍ରୋତ୍ସାହନ ମିଳିଛି, କାରଣ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ‘ମିଶନ୍ ସ୍କୁଲ୍ ଅଫ୍‌ ଏକ୍ସିଲେନ୍‌ସ’ କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମ ଅନ୍ତର୍ଗତ 4500 କୋଟି ଟଙ୍କାରୁ ଅଧିକର ଅନେକ ପ୍ରକଳ୍ପର ଶିଳାନ୍ୟାସ ଓ ଲୋକାର୍ପଣ କରିଛନ୍ତି। ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀଙ୍କ ଦ୍ବାରା ଗୁଜରାଟ ସ୍କୁଲ୍ରେ ନିର୍ମିତ ହଜାର ହଜାର ନୂତନ ଶ୍ରେଣୀ, ସ୍ମାର୍ଟ କ୍ଲାସ, କମ୍ପୁଟର ଲ୍ୟାବ, ଏସଟିଇଏମ୍ (ବିଜ୍ଞାନ, ପ୍ରଯୁକ୍ତି, ଇଞ୍ଜିନିୟରିଂ ଓ ଗଣିତ) ଲାବୋରାଟୋରି ଏବଂ ଅନ୍ୟ ଭିତ୍ତିଭୂମିକୁ ଲୋକାର୍ପଣ କରାଯିବ। ସେ ମିଶନ୍ ଅନ୍ତର୍ଗତ ଗୁଜରାଟର ସ୍କୁଲରେ ହଜାର ହଜାର ଶ୍ରେଣୀରେ ଉନ୍ନୟନ ଓ ମୂଳଦୁଆ ପକାଇଛନ୍ତି।

 

ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ମଧ୍ୟ ‘ବିଦ୍ୟା ସମୀକ୍ଷା କେନ୍ଦ୍ର 2.0’ ପ୍ରକଳ୍ପର ଶିଳାନ୍ୟାସ କରିଛନ୍ତି। ଏହି ପ୍ରକଳ୍ପ ‘ବିଦ୍ୟା ସମୀକ୍ଷା କେନ୍ଦ୍ର’ର ସଫଳତା ଉପରେ ନିର୍ମିତ ହେବ ଯାହା ଗୁଜୁରାଟରେ ବିଦ୍ୟାଳୟଗୁଡ଼ିକର ନିରନ୍ତର ମନିଟରିଂ ଏବଂ ଛାତ୍ରଛାତ୍ରୀଙ୍କ ଶିକ୍ଷଣ ଫଳାଫଳରେ ଉନ୍ନତି ଆଣିବ। ‘ବିଦ୍ୟା ସମୀକ୍ଷା କେନ୍ଦ୍ର 2.0’ ଗୁଜୁରାଟର ସମସ୍ତ ଜିଲ୍ଲା ତଥା ବ୍ଲକରେ ବିଦ୍ୟା ସମୀକ୍ଷା କେନ୍ଦ୍ର ପ୍ରତିଷ୍ଠା କରିବ।

ଏହି କାର୍ଯ୍ୟକ୍ରମରେ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ଭଦୋଦରା ଜିଲ୍ଲାର ତାଲୁକା ସିନୋରର ‘ଭଦୋଦରା ଦାଭୋଇ-ସିନୋର-ମାଲସର-ଆସା ରୋଡର ନର୍ମଦା ନଦୀ ପାର୍ଶ୍ୱରେ ନିର୍ମିତ ଏକ ନୂତନ ସେତୁ, ଚାବ ତାଲାବ ପୁନର୍ବିକାଶ ପ୍ରକଳ୍ପ ସହିତ ଦାହୋଦରେ ଜଳ ଯୋଗାଣ ପରିଯୋଜନା, ବଡୋଦରାରେ ଆର୍ଥିକ ଭାବରେ ଦୁର୍ବଳ ବର୍ଗ ପାଇଁ ପ୍ରାୟ 400 ନବନିର୍ମିତ ଆବାସ, ସମଗ୍ର ଗୁଜୁରାଟର 7500 ଗ୍ରାମରେ ଗ୍ରାମ ୱାଇ-ଫାଇ ପ୍ରକଳ୍ପ ଏବଂ ଦାହୋଦରେ ନବନିର୍ମିତ ଜବାହାର ନବୋଦୟ ବିଦ୍ୟାଳୟ ପରି ଅନେକ ବିକାଶ ମୂଳକ ପ୍ରକଳ୍ପକୁ ଦେଶକୁ ଉତ୍ସର୍ଗ କରିଛନ୍ତି।

ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ଅନେକ ପ୍ରକଳ୍ପର ଶିଳାନ୍ୟାସ କରିଛନ୍ତି ଯେଉଁଥିରେ ସାମିଲ୍ ରହିଛି- ଛୋଟା ଉଦେପୁରରେ ଜଳଯୋଗାଣ ପ୍ରକଳ୍ପ, ଗୋଧରା, ପଞ୍ଚମହଲରେ ଏକ ଫ୍ଲାଇଓଭର ବ୍ରିଜ୍ ଏବଂ ଦାହୋଦରେ ଏଫଏମ ରେଡିଓ ଷ୍ଟୁଡିଓ, ଯାହାକୁ କେନ୍ଦ୍ର ସରକାରଙ୍କ ବ୍ରଡ୍‌କାଷ୍ଟିଂ ଇନଫ୍ରାଷ୍ଟ୍ରକଚର ଆଣ୍ଡ ନେଟୱର୍କ ଡେଭଲପମେଣ୍ଟ (ବିଆଇଏନଡି)’ ଯୋଜନା  ଅନ୍ତର୍ଗତ ନିର୍ମାଣ କରାଯିବ।

 

ସମ୍ପୂର୍ଣ୍ଣ ଅଭିଭାଷଣ ପଢିବା ପାଇଁ ଏଠାରେ କ୍ଲିକ କରନ୍ତୁ

Explore More
୭୭ତମ ସ୍ବାଧୀନତା ଦିବସ ଅବସରରେ ଲାଲକିଲ୍ଲା ପ୍ରାଚୀରରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀଙ୍କ ଅଭିଭାଷଣର ମୂଳ ପାଠ

ଲୋକପ୍ରିୟ ଅଭିଭାଷଣ

୭୭ତମ ସ୍ବାଧୀନତା ଦିବସ ଅବସରରେ ଲାଲକିଲ୍ଲା ପ୍ରାଚୀରରୁ ପ୍ରଧାନମନ୍ତ୍ରୀ ନରେନ୍ଦ୍ର ମୋଦୀଙ୍କ ଅଭିଭାଷଣର ମୂଳ ପାଠ
Credit card spends rise 27% to Rs 18.26 trillion in FY24: RBI data

Media Coverage

Credit card spends rise 27% to Rs 18.26 trillion in FY24: RBI data
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Our government is dedicated to tribal welfare in Chhattisgarh: PM Modi in Surguja
April 24, 2024
Our government is dedicated to tribal welfare in Chhattisgarh: PM Modi
Congress, in its greed for power, has destroyed India through consistent misgovernance and negligence: PM Modi
Congress' anti-Constitutional tendencies aim to provide religious reservations for vote-bank politics: PM Modi
Congress simply aims to loot the 'hard-earned money' of the 'common people' to fill their coffers: PM Modi
Congress will set a dangerous precedent by implementing an 'Inheritance Tax': PM Modi

मां महामाया माई की जय!

मां महामाया माई की जय!

हमर बहिनी, भाई, दद्दा अउ जम्मो संगवारी मन ला, मोर जय जोहार। 

भाजपा ने जब मुझे पीएम पद का उम्मीदवार बनाया था, तब अंबिकापुर में ही आपने लाल किला बनाया था। और जो कांग्रेस का इकोसिस्टम है आए दिन मोदी पर हमला करने के लिए जगह ढ़ूंढते रहते हैं। उस पूरी टोली ने उस समय मुझपर बहुत हमला बोल दिया था। ये लाल किला कैसे बनाया जा सकता है, अभी तो प्रधानमंत्री का चुनाव बाकि है, अभी ये लाल किले का दृश्य बना के वहां से सभा कर रहे हैं, कैसे कर रहे हैं। यानि तूफान मचा दिया था और बात का बवंडर बना दिया था। लेकिन आप की सोच थी वही  मोदी लाल किले में पहुंचा और राष्ट्र के नाम संदेश दिया। आज अंबिकापुर, ये क्षेत्र फिर वही आशीर्वाद दे रहा है- फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार ! फिर एक बार...मोदी सरकार !

साथियों, 

कुछ महीने पहले मैंने आपसे छत्तीसगढ़ से कांग्रेस का भ्रष्टाचारी पंजा हटाने के लिए आशीर्वाद मांगा था। आपने मेरी बात का मान रखा। और इस भ्रष्टाचारी पंजे को साफ कर दिया। आज देखिए, आप सबके आशीर्वाद से सरगुजा की संतान, आदिवासी समाज की संतान, आज छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के रूप में छत्तीसगढ़ के सपनों को साकार कर रहा है। और मेरा अनन्य साथी भाई विष्णु जी, विकास के लिए बहुत तेजी से काम कर रहे हैं। आप देखिए, अभी समय ही कितना हुआ है। लेकिन इन्होंने इतने कम समय में रॉकेट की गति से सरकार चलाई है। इन्होंने धान किसानों को दी गारंटी पूरी कर दी। अब तेंदु पत्ता संग्राहकों को भी ज्यादा पैसा मिल रहा है, तेंदू पत्ता की खरीद भी तेज़ी से हो रही है। यहां की माताओं-बहनों को महतारी वंदन योजना से भी लाभ हुआ है। छत्तीसगढ़ में जिस तरह कांग्रेस के घोटालेबाज़ों पर एक्शन हो रहा है, वो पूरा देश देख रहा है।

साथियों, 

मैं आज आपसे विकसित भारत-विकसित छत्तीसगढ़ के लिए आशीर्वाद मांगने के लिए आया हूं। जब मैं विकसित भारत कहता हूं, तो कांग्रेस वालों का और दुनिया में बैठी कुछ ताकतों का माथा गरम हो जाता है। अगर भारत शक्तिशाली हो गया, तो कुछ ताकतों का खेल बिगड़ जाएगा। आज अगर भारत आत्मनिर्भर बन गया, तो कुछ ताकतों की दुकान बंद हो जाएगी। इसलिए वो भारत में कांग्रेस और इंडी-गठबंधन की कमज़ोर सरकार चाहते हैं। ऐसी कांग्रेस सरकार जो आपस में लड़ती रहे, जो घोटाले करती रहे। 

साथियों,

कांग्रेस का इतिहास सत्ता के लालच में देश को तबाह करने का रहा है। देश में आतंकवाद फैला किसके कारण फैला? किसके कारण फैला? किसके कारण फैला? कांग्रेस की नीतियों के कारण फैला। देश में नक्सलवाद कैसे बढ़ा? किसके कारण बढ़ा? किसके कारण बढ़ा? कांग्रेस का कुशासन और लापरवाही यही कारण है कि देश बर्बाद होता गया। आज भाजपा सरकार, आतंकवाद और नक्सलवाद के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई कर रही है। लेकिन कांग्रेस क्या कर रही है? कांग्रेस, हिंसा फैलाने वालों का समर्थन कर रही है, जो निर्दोषों को मारते हैं, जीना हराम कर देते हैं, पुलिस पर हमला करते हैं, सुरक्षा बलों पर हमला करते हैं। अगर वे मारे जाएं, तो कांग्रेस वाले उन्हें शहीद कहते हैं। अगर आप उन्हें शहीद कहते हो तो शहीदों का अपमान करते हो। इसी कांग्रेस की सबसे बड़ी नेता, आतंकवादियों के मारे जाने पर आंसू बहाती हैं। ऐसी ही करतूतों के कारण कांग्रेस देश का भरोसा खो चुकी है।

भाइयों और बहनों, 

आज जब मैं सरगुजा आया हूं, तो कांग्रेस की मुस्लिम लीगी सोच को देश के सामने रखना चाहता हूं। जब उनका मेनिफेस्टो आया उसी दिन मैंने कह दिया था। उसी दिन मैंने कहा था कि कांग्रेस के मोनिफेस्टो पर मुस्लिम लीग की छाप है। 

साथियों, 

जब संविधान बन रहा था, काफी चर्चा विचार के बाद, देश के बुद्धिमान लोगों के चिंतन मनन के बाद, बाबासाहेब अम्बेडकर के नेतृत्व में तय किया गया था कि भारत में धर्म के आधार पर आरक्षण नहीं होगा। आरक्षण होगा तो मेरे दलित और आदिवासी भाई-बहनों के नाम पर होगा। लेकिन धर्म के नाम पर आरक्षण नहीं होगा। लेकिन वोट बैंक की भूखी कांग्रेस ने कभी इन महापुरुषों की परवाह नहीं की। संविधान की पवित्रता की परवाह नहीं की, बाबासाहेब अम्बेडकर के शब्दों की परवाह नहीं की। कांग्रेस ने बरसों पहले आंध्र प्रदेश में धर्म के आधार पर आरक्षण देने का प्रयास किया था। फिर कांग्रेस ने इसको पूरे देश में लागू करने की योजना बनाई। इन लोग ने धर्म के आधार पर 15 प्रतिशत आरक्षण की बात कही। ये भी कहा कि SC/ST/OBC का जो कोटा है उसी में से कम करके, उसी में से चोरी करके, धर्म के आधार पर कुछ लोगों को आरक्षण दिया जाए। 2009 के अपने घोषणापत्र में कांग्रेस ने यही इरादा जताया। 2014 के घोषणापत्र में भी इन्होंने साफ-साफ कहा था कि वो इस मामले को कभी भी छोड़ेंगे नहीं। मतलब धर्म के आधार पर आरक्षण देंगे, दलितों का, आदिवासियों का आरक्षण कट करना पड़े तो करेंगे। कई साल पहले कांग्रेस ने कर्नाटका में धर्म के आधार पर आरक्षण लागू भी कर दिया था। जब वहां बीजेपी सरकार आई तो हमने संविधान के विरुद्ध, बाबासाहेब अम्बेडर की भावना के विरुद्ध कांग्रेस ने जो निर्णय किया था, उसको उखाड़ करके फेंक दिया और दलितों, आदिवासियों और पिछड़ों को उनका अधिकार वापस दिया। लेकिन कर्नाटक की कांग्रेस सरकार उसने एक और पाप किया मुस्लिम समुदाय की सभी जातियों को ओबीसी कोटा में शामिल कर दिया है। और ओबीसी बना दिया। यानि हमारे ओबीसी समाज को जो लाभ मिलता था, उसका बड़ा हिस्सा कट गया और वो भी वहां चला गया, यानि कांग्रेस ने समाजिक न्याय का अपमान किया, समाजिक न्याय की हत्या की। कांग्रेस ने भारत के सेक्युलरिज्म की हत्या की। कर्नाटक अपना यही मॉडल पूरे देश में लागू करना चाहती है। कांग्रेस संविधान बदलकर, SC/ST/OBC का हक अपने वोट बैंक को देना चाहती है।

भाइयों और बहनों,

ये सिर्फ आपके आरक्षण को ही लूटना नहीं चाहते, उनके तो और बहुत कारनामे हैं इसलिए हमारे दलित, आदिवासी और ओबीसी भाई-बहनों  को कहना चाहता हूं कि कांग्रेस के इरादे नेक नहीं है, संविधान और सामाजिक न्याय के अनुरूप नहीं है , भारत की बिन सांप्रदायिकता के अनुरूप नहीं है। अगर आपके आरक्षण की कोई रक्षा कर सकता है, तो सिर्फ और सिर्फ भारतीय जनता पार्टी कर सकती है। इसलिए आप भारतीय जनता पार्टी को भारी समर्थन दीजिए। ताकि कांग्रेस की एक न चले, किसी राज्य में भी वह कोई हरकत ना कर सके। इतनी ताकत आप मुझे दीजिए। ताकि मैं आपकी रक्षा कर सकूं। 

साथियों!

कांग्रेस की नजर! सिर्फ आपके आरक्षण पर ही है ऐसा नहीं है। बल्कि कांग्रेस की नज़र आपकी कमाई पर, आपके मकान-दुकान, खेत-खलिहान पर भी है। कांग्रेस के शहज़ादे का कहना है कि ये देश के हर घर, हर अलमारी, हर परिवार की संपत्ति का एक्स-रे करेंगे। हमारी माताओं-बहनों के पास जो थोड़े बहुत गहने-ज़ेवर होते हैं, कांग्रेस उनकी भी जांच कराएगी। यहां सरगुजा में तो हमारी आदिवासी बहनें, चंदवा पहनती हैं, हंसुली पहनती हैं, हमारी बहनें मंगलसूत्र पहनती हैं। कांग्रेस ये सब आपसे छीनकर, वे कहते हैं कि बराबर-बराबर डिस्ट्रिब्यूट कर देंगे। वो आपको मालूम हैं ना कि वे किसको देंगे। आपसे लूटकर के किसको देंगे मालूम है ना, मुझे कहने की जरूरत है क्या। क्या ये पाप करने देंगे आप और कहती है कांग्रेस सत्ता में आने के बाद वे ऐसे क्रांतिकारी कदम उठाएगी। अरे ये सपने मन देखो देश की जनता आपको ये मौका नहीं देगी। 

साथियों, 

कांग्रेस पार्टी के खतरनाक इरादे एक के बाद एक खुलकर सामने आ रहे हैं। शाही परिवार के शहजादे के सलाहकार, शाही परिवार के शहजादे के पिताजी के भी सलाहकार, उन्होंने  ने कुछ समय पहले कहा था और ये परिवार उन्हीं की बात मानता है कि उन्होंने कहा था कि हमारे देश का मिडिल क्लास यानि मध्यम वर्गीय लोग जो हैं, जो मेहनत करके कमाते हैं। उन्होंने कहा कि उनपर ज्यादा टैक्स लगाना चाहिए। इन्होंने पब्लिकली कहा है। अब ये लोग इससे भी एक कदम और आगे बढ़ गए हैं। अब कांग्रेस का कहना है कि वो Inheritance Tax लगाएगी, माता-पिता से मिलने वाली विरासत पर भी टैक्स लगाएगी। आप जो अपनी मेहनत से संपत्ति जुटाते हैं, वो आपके बच्चों को नहीं मिलेगी, बल्कि कांग्रेस सरकार का पंजा उसे भी आपसे छीन लेगा। यानि कांग्रेस का मंत्र है- कांग्रेस की लूट जिंदगी के साथ भी और जिंदगी के बाद भी। जब तक आप जीवित रहेंगे, कांग्रेस आपको ज्यादा टैक्स से मारेगी। और जब आप जीवित नहीं रहेंगे, तो वो आप पर Inheritance Tax का बोझ लाद देगी। जिन लोगों ने पूरी कांग्रेस पार्टी को पैतृक संपत्ति मानकर अपने बच्चों को दे दी, वो लोग नहीं चाहते कि एक सामान्य भारतीय अपने बच्चों को अपनी संपत्ति दे। 

भाईयों-बहनों, 

हमारा देश संस्कारों से संस्कृति से उपभोक्तावादी देश नहीं है। हम संचय करने में विश्वास करते हैं। संवर्धन करने में विश्वास करते हैं। संरक्षित करने में विश्वास करते हैं। आज अगर हमारी प्रकृति बची है, पर्यावरण बचा है। तो हमारे इन संस्कारों के कारण बचा है। हमारे घर में बूढ़े मां बाप होंगे, दादा-दादी होंगे। उनके पास से छोटा सा भी गहना होगा ना? अच्छी एक चीज होगी। तो संभाल करके रखेगी खुद भी पहनेगी नहीं, वो सोचती है कि जब मेरी पोती की शादी होगी तो मैं उसको यह दूंगी। मेरी नाती की शादी होगी, तो मैं उसको दूंगी। यानि तीन पीढ़ी का सोच करके वह खुद अपना हक भी नहीं भोगती,  बचा के रखती है, ताकि अपने नाती, नातिन को भी दे सके। यह मेरे देश का स्वभाव है। मेरे देश के लोग कर्ज कर करके जिंदगी जीने के शौकीन लोग नहीं हैं। मेहनत करके जरूरत के हिसाब से खर्च करते हैं। और बचाने के स्वभाव के हैं। भारत के मूलभूत चिंतन पर, भारत के मूलभूत संस्कार पर कांग्रेस पार्टी कड़ा प्रहार करने जा रही है। और उन्होंने कल यह बयान क्यों दिया है उसका एक कारण है। यह उनकी सोच बहुत पुरानी है। और जब आप पुरानी चीज खोजोगे ना? और ये जो फैक्ट चेक करने वाले हैं ना मोदी की बाल की खाल उधेड़ने में लगे रहते हैं, कांग्रेस की हर चीज देखिए। आपको हर चीज में ये बू आएगी। मोदी की बाल की खाल उधेड़ने में टाइम मत खराब करो। लेकिन मैं कहना चाहता हूं। यह कल तूफान उनके यहां क्यों मच गया,  जब मैंने कहा कि अर्बन नक्सल शहरी माओवादियों ने कांग्रेस पर कब्जा कर लिया तो उनको लगा कि कुछ अमेरिका को भी खुश करने के लिए करना चाहिए कि मोदी ने इतना बड़ा आरोप लगाया, तो बैलेंस करने के लिए वह उधर की तरफ बढ़ने का नाटक कर रहे हैं। लेकिन वह आपकी संपत्ति को लूटना चाहते हैं। आपके संतानों का हक आज ही लूट लेना चाहते हैं। क्या आपको यह मंजूर है कि आपको मंजूर है जरा पूरी ताकत से बताइए उनके कान में भी सुनाई दे। यह मंजूर है। देश ये चलने देगा। आपको लूटने देगा। आपके बच्चों की संपत्ति लूटने देगा।

साथियों,

जितने साल देश में कांग्रेस की सरकार रही, आपके हक का पैसा लूटा जाता रहा। लेकिन भाजपा सरकार आने के बाद अब आपके हक का पैसा आप लोगों पर खर्च हो रहा है। इस पैसे से छत्तीसगढ़ के करीब 13 लाख परिवारों को पक्के घर मिले। इसी पैसे से, यहां लाखों परिवारों को मुफ्त राशन मिल रहा है। इसी पैसे से 5 लाख रुपए तक का मुफ्त इलाज मिल रहा है। मोदी ने ये भी गारंटी दी है कि 4 जून के बाद छत्तीसगढ़ के हर परिवार में जो बुजुर्ग माता-पिता हैं, जिनकी आयु 70 साल हो गई है। आज आप बीमार होते हैं तो आपकी बेटे और बेटी को खर्च करना पड़ता है। अगर 70 साल की उम्र हो गई है और आप किसी पर बोझ नहीं बनना चाहते तो ये मोदी आपका बेटा है। आपका इलाज मोदी करेगा। आपके इलाज का खर्च मोदी करेगा। सरगुजा के ही करीब 1 लाख किसानों के बैंक खाते में किसान निधि के सवा 2 सौ करोड़ रुपए जमा हो चुके हैं और ये आगे भी होते रहेंगे।

साथियों, 

सरगुजा में करीब 400 बसाहटें ऐसी हैं जहां पहाड़ी कोरवा परिवार रहते हैं। पण्डो, माझी-मझवार जैसी अनेक अति पिछड़ी जनजातियां यहां रहती हैं, छत्तीसगढ़ और दूसरे राज्यों में रहती हैं। हमने पहली बार ऐसी सभी जनजातियों के लिए, 24 हज़ार करोड़ रुपए की पीएम-जनमन योजना भी बनाई है। इस योजना के तहत पक्के घर, बिजली, पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य, कौशल विकास, ऐसी सभी सुविधाएं पिछड़ी जनजातियों के गांव पहुंचेंगी। 

साथियों, 

10 वर्षों में भांति-भांति की चुनौतियों के बावजूद, यहां रेल, सड़क, अस्तपताल, मोबाइल टावर, ऐसे अनेक काम हुए हैं। यहां एयरपोर्ट की बरसों पुरानी मांग पूरी की गई है। आपने देखा है, अंबिकापुर से दिल्ली के ट्रेन चली तो कितनी सुविधा हुई है।

साथियों,

10 साल में हमने गरीब कल्याण, आदिवासी कल्याण के लिए इतना कुछ किया। लेकिन ये तो सिर्फ ट्रेलर है। आने वाले 5 साल में बहुत कुछ करना है। सरगुजा तो ही स्वर्गजा यानि स्वर्ग की बेटी है। यहां प्राकृतिक सौंदर्य भी है, कला-संस्कृति भी है, बड़े मंदिर भी हैं। हमें इस क्षेत्र को बहुत आगे लेकर जाना है। इसलिए, आपको हर बूथ पर कमल खिलाना है। 24 के इस चुनाव में आप का ये सेवक नरेन्द्र मोदी को आपका आशीर्वाद चाहिए, मैं आपसे आशीर्वाद मांगने आया हूं। आपको केवल एक सांसद ही नहीं चुनना, बल्कि देश का उज्ज्वल भविष्य भी चुनना है। अपनी आने वाली पीढ़ियों का भविष्य चुनना है। इसलिए राष्ट्र निर्माण का मौका बिल्कुल ना गंवाएं। सर्दी हो शादी ब्याह का मौसम हो, खेत में कोई काम निकला हो। रिश्तेदार के यहां जाने की जरूरत पड़ गई हो, इन सबके बावजूद भी कुछ समय आपके सेवक मोदी के लिए निकालिए। भारत के लोकतंत्र और उज्ज्वल भविष्य के लिए निकालिए। आपके बच्चों की गारंटी के लिए निकालिए और मतदान अवश्य करें। अपने बूथ में सारे रिकॉर्ड तोड़नेवाला मतदान हो। इसके लिए मैं आपसे प्रार्थना करता हूं। और आग्राह है पहले जलपान फिर मतदान। हर बूथ में मतदान का उत्सव होना चाहिए, लोकतंत्र का उत्सव होना चाहिए। गाजे-बाजे के साथ लोकतंत्र जिंदाबाद, लोकतंत्र जिंदाबाद करते करते मतदान करना चाहिए। और मैं आप को वादा करता हूं। 

भाइयों-बहनों  

मेरे लिए आपका एक-एक वोट, वोट नहीं है, ईश्वर रूपी जनता जनार्दन का आर्शीवाद है। ये आशीर्वाद परमात्मा से कम नहीं है। ये आशीर्वाद ईश्वर से कम नहीं है। इसलिए भारतीय जनता पार्टी को दिया गया एक-एक वोट, कमल के फूल को दिया गया एक-एक वोट, विकसित भारत बनाएगा ये मोदी की गारंटी है। कमल के निशान पर आप बटन दबाएंगे, कमल के फूल पर आप वोट देंगे तो वो सीधा मोदी के खाते में जाएगा। वो सीधा मोदी को मिलेगा।      

भाइयों और बहनों, 

7 मई को चिंतामणि महाराज जी को भारी मतों से जिताना है। मेरा एक और आग्रह है। आप घर-घर जाइएगा और कहिएगा मोदी जी ने जोहार कहा है, कहेंगे। मेरे साथ बोलिए...  भारत माता की जय! 

भारत माता की जय! 

भारत माता की जय!