भारत आता महामार्ग आणि उच्च तंत्रज्ञानाच्या पायाभूत सुविधांसाठी ओळखला जातो: पंतप्रधान मोदी यूपीमध्ये प्रयागराज येथे
काँग्रेसचे युवराज भारताचा अपमान करण्यासाठी परदेशात जातात: पंतप्रधान मोदी यूपीमध्ये प्रयागराज येथे
सपा काँग्रेसच्या काळात, प्रयागराजला सापत्न वागणूक सहन करावी लागली: पंतप्रधान मोदी यूपीमध्ये प्रयागराज येथे

भारत माता की..

भारत माता की..

भारत माता की।

तीर्थराज प्रयाग के इस पावन धरती पर यहां के सब परिवारजनों के हमार प्रणाम। आज मंगलवार है और पास में बड़े हनुमान जी का पावन धाम है। मैं परेड ग्राउंड के इस मंच से प्रयाग के आराध्य और त्रिवेणी को प्रणाम करता हूं।

साथियों,

प्रयाग तपोभूमि है। ये कुंभ की भव्यता की धरती है। यहां कटरा के कचौड़ी भी है और समोसे का स्वाद भी है। यहां इलाहाबाद यूनिवर्सिटी भी है और गुरु भारद्वाज का आश्रम भी है। यहां लेटे हनुमान जी भी हैं और माता अलोपी भी है और इसलिए तीर्थराज प्रयाग का आशीर्वाद मतलब पूरे ब्रह्मांड का आशीर्वाद और प्रयाग कैसे अनंत आशीर्वाद दे रहा है, ये आपका उत्साह बता रहा है।

साथियों,

24 का ये चुनाव तय करेगा भारत के भविष्य की त्रिवेणी किधर बहेगी? आप भी देख रहे हैं आज भारत की पहचान कैसे होती है? भारत की पहचान अब एक्सप्रेसवेज़ से होती है। भारत की पहचान इंफ्रास्ट्रक्चर से होती है। बड़े-बड़े देश मुझसे कहते हैं भारत की डिजिटल टेक्नोलॉजी हमें भी चाहिए, भारत अब दुनिया में अपनी आवाज बुलंद कर रहा है। भारत G-20 का आयोजन करवाता है, तो दुनिया हैरान हो जाती है और साथियों, यही तो प्रयागराज का, इस क्षेत्र का मिजाज है। यहां के लोग ना किसी से दब के रहते हैं, ना किसी से डर के रहते हैं। जो जिंदादिली मैंने प्रयागराज के लोगों में देखी है, वो कम ही मिलती है और यही मिजाज तो आज के भारत का भी मिजाज है।

साथियों,

आज जब भारत आगे बढ़ रहा है, तो हर देशप्रेमी इससे खुश है। लेकिन आप देखिए सपा, कांग्रेस और इंडी गठबंधन वालों को भारत का गौरव गान हजम नहीं होता और ये करते क्या हैं? कांग्रेस के शहजादे भारत को गाली देने के लिए विदेश जाते हैं। ये इंडी गठबंधन वाले चुनाव भी किस एजेंडा पर लड़ रहे हैं? इनका एजेंडा है- कश्मीर में आर्टिकल-370 फिर से लाएंगे। इनका एजेंडा है- CAA को रद्द करेंगे। इनका एजेंडा है- भ्रष्टाचार पर जो कड़े कानून बने हैं, उन्हें रद्द करेंगे। क्या ये सब करने के लिए आप कभी भी ये इंडी अलायंस वालों को, सपा-कांग्रेस वालों को एक भी वोट देंगे क्या? देंगे क्या? क्या देश को दिशा देने वाली प्रयागराज की धरती को इन लोगों की हरकत मंजूर होगी क्या?

साथियों,

इंडी गठबंधन वालों का, सपा- कांग्रेस वालों का सुशासन से और हमारी आस्था से 36 का रिश्ता है। भारत का कोना-कोना इस बात की गवाही देता है कि इंडी गठबंधन वालों से विकास नहीं हो सकता। आप यहां प्रयागराज में होने वाले कुंभ का ही उदाहरण देखिए, सपा-कांग्रेस के समय क्या होता था? भीड़ में भगदड़ मच जाती थी। लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ती थी। हर तरफ अव्यवस्था होती थी, जानते हैं क्यों? क्योंकि, उन्हें कुंभ से ज्यादा अपने वोट बैंक की चिंता रही है। अगर कुम्भ के लिए ज्यादा कुछ करते दिख गए, तो कहीं उनका वोट बैंक बुरा न मान जाये, इन लोगों को वोट बैंक का इतना डर सताता था। सपा, कांग्रेस में तुष्टीकरण का कॉम्पटिशन होता था। आप मुझे बताइये राम मंदिर का बहिष्कार करने वाले ये लोग, राम मंदिर का बहिष्कार करने वाले ये लोग, सनातन को डेंगू- मलेरिया कहने वाले ये लोग, अगले साल होने वाले कुंभ को क्या कभी अच्छे से करने देते क्या?

साथियों,

मोदी का मंत्र है- विकास भी, विरासत भी। अभी अयोध्या में भव्य राम मंदिर बना है। अब निषादराज के श्रृंगवेरपुर का विकास भी किया जाएगा। श्रृंगवेरपुर राम वन गमन पथ का प्रमुख तीर्थ बनेगा। क्या सपा- कांग्रेस वाले कभी भी ये काम करेंगे क्या? सपा-कांग्रेस के शहजादों को अपने परिवार के आगे कुछ भी दिखता नहीं है। कांग्रेस तो आजादी का सारा श्रेय भी एक परिवार को देना चाहती है। आपको मालूम होगा गुजरात में सरदार वल्लभ भाई पटेल का स्टैच्यू बना है, स्टैच्यू ऑफ यूनिटी ये दुनिया में सबसे ऊंचा स्टैच्यू है सरदार वल्लभ भाई पटेल का है, सरदार वल्लभ भाई पटेल कांग्रेस के थे, स्टैच्यू मोदी ने बनवाया लेकिन एक कांग्रेस का परिवार को उस तरफ जाने से उनको डर लगता है कि इतने बड़े स्टैच्यू का अगर परछाया भी उनपर आ जाएगा तो शायद उनके लिए आफत आ जाएगी।

साथियों,

सपा और कांग्रेस का चरित्र ही विकास विरोधी है। सपा-कांग्रेस के समय प्रयागराज से बहुत भेदभाव हुआ। आपको याद है ना कैसे बिजली के लिए यहां के लोगों को तरसाकर रखा जाता था? हर दुकान के बाहर जनरेटर का शोर और धुआं रहता था, आज हमारे योगी जी, हमारे केशव प्रसाद मौर्य जी, हमारी भाजपा सरकार में तो हर जिले को बराबर और भरपूर बिजली मिल रही है। 2017 से पहले हमारे किसान भाई-बहन रात-रातभर जगकर खेत में सिंचाई करते थे। आज किसानों को भी आसानी से बिजली मिल रही है।

साथियों,

आज हमारा प्रयाग विकास की नई ऊंचाइयों को छू रहा है। प्रयागराज-रायबरेली-लखनऊ फोरलेन हाईवे, गंगा एक्सप्रेसवे, हल्दिया से प्रयागराज तक वॉटरवे, अमृत स्टेशन और वन्देभारत ट्रेनें, हर क्रॉसिंग पर ओवरब्रिज और अंडरपास, गंगा जी पर आइकॉनिक केबल ब्रिज, बमरौली एयरपोर्ट का कायाकल्प पहले जो कल्पना नहीं होती थी, आज वो साकार हो रहा है।

साथियों,

यूपी के ऐसे बहुत फ़र्स्ट टाइम वोटर हैं, जिन्हें पता ही नहीं होगा परिवारवादी पार्टी के दिनों में क्या होता था? कैसे हमारी बहन-बेटियों का घर से बाहर निकलना मुश्किल होता था? उद्योग-धंधे सब चौपट पड़े थे। किसी भी व्यापारी को वसूली और फिरौती का फरमान आ जाता था। हमारा तीर्थराज प्रयाग यहां खुलेआम सड़कों पर बम चलते थे, गोलियां चलती थी। गुंडे- माफिया बेखौफ़ अपनी शेख़ी बघारते थे। सीधे-सच्चे लोग दहशत में जीते थे। यहां के दुकानदार, यहां के कारोबारी भूल सकते हैं क्या कि उनकी हालत रहती थी उस समय? लेकिन जब से भाजपा सरकार आई है माफिया के खिलाफ यहां सफाई-अभियान चल रहा है। सपा सरकार में माफिया गरीबों की जमीनों पर कब्जा करता था, अब उसके अवैध महल तोड़कर भाजपा सरकार वहां गरीबों के लिए घर बनवा रही है।

साथियों,

प्रयागराज शिक्षा का इतना बड़ा केंद्र है। यहां के युवा कभी भूल नहीं सकते सपा सरकार कैसे आपके सपनों का सौदा करती थी? मेहनत आपकी, योग्यता आपकी लेकिन, नौकरी किसी और को मिलती थी? नौकरी दी जाती थी जाति देखकर, नौकरी मिलती थी घूस देने वालों को, UP-PSC को इन लोगों ने परिवार सर्विस कमीशन बना दिया था। यूपी की कितनी प्रतिभाओं का भविष्य इन लोगों ने बर्बाद कर दिया था।

साथियों,

इंडी गठबंधन वालों की नाव डूब रही है। इनका एक ही सहारा है- झूठ, लगातार झूठ, हर जगह पर झूठ, बार-बार झूठ। ये संविधान को लेकर देश में झूठ फैला रहे हैं। संविधान को किससे ख़तरा है ये प्रयागराज से बेहतर कौन बताएगा? आप जरा बताइये आपातकाल लगाकर संविधान को बदलने की साजिश किसने की थी? यहीं इलाहाबाद हाइकोर्ट ने कांग्रेस की तानाशाही पर लगाम लगाई थी। रायबरेली में लोकतन्त्र को लूटने की कोशिश की गई थी, हाइकोर्ट ने उस चुनाव को रद्द करके इन्दिरा गांधी के चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी थी।

भाइयों- बहनों,

इतने साल बीत गए लेकिन कांग्रेस पार्टी का चरित्र नहीं बदला। बाबा साहेब अंबेडकर भी धर्म के आधार पर आरक्षण के खिलाफ थे। लेकिन कांग्रेस-सपा वाले संविधान के खिलाफ जाकर दलितों, पिछड़ों का आरक्षण अपने वोट बैंक को, वोट जिहाद वालों को देने की तैयारी में हैं। कर्नाटक में तो कांग्रेस सरकार ने OBC कोटा मुसलमानों को दे दिया है। अब यही काम ये देशभर में करना चाहते हैं। लेकिन मोदी आज प्रयागराज के धरती पर गारंटी देवे आवा है- मैं दलितों-पिछड़ों का आऱक्षण, इन लोगों को छीनने नहीं दूंगा और ये मोदी की गारंटी है।

साथियों,

मोदी आगे भी आपकी सेवा करता रहे इसके लिए फिर एक सशक्त सरकार चाहिए। प्रयागराज से भाई नीरज त्रिपाठी जी और फूलपुर से भाई प्रवीण पटेल जी आप इन्हें जो वोट देंगे, वो मोदी को मजबूत करेगा। आप बताओ, 4 जून के इनका जिताए के भेजबो ना? अमे जोर से बोलो- दूनो सीट पर कमल खिली ना? अच्छा मेरा एक काम करेंगे जरा हाथ ऊपर करके बताइए करेंगे, घर-घर जाइए और जाकर के सबको बताइए कि मोदी जी आए थे और मोदी जी ने परिवार के सबको श्री राम कहा है।

बोलिए, भारत माता की..

भारत माता की..

बहुत-बहुत धन्यवाद।

Explore More
77 व्या स्वातंत्र्य दिनानिमित्त लाल किल्ल्याच्या तटबंदीवरून पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी केलेले भाषण

लोकप्रिय भाषण

77 व्या स्वातंत्र्य दिनानिमित्त लाल किल्ल्याच्या तटबंदीवरून पंतप्रधान नरेंद्र मोदी यांनी केलेले भाषण
Around 8 million jobs created under the PMEGP, says MSME ministry

Media Coverage

Around 8 million jobs created under the PMEGP, says MSME ministry
NM on the go

Nm on the go

Always be the first to hear from the PM. Get the App Now!
...
Prime Minister receives congratulatory call from the Prime Minister of Luxembourg
July 22, 2024
The two leaders reaffirm commitment towards further strengthening of bilateral ties
PM Frieden appreciates India’s role in supporting an early end to conflict in Ukraine
PM extends invitation to H.R.H the Grand Duke Henri and Prime Minister Frieden to India

H.E. Mr. Luc Frieden, Prime Minister of the Grand Duchy of Luxembourg called Prime Minister Shri Narendra Modi today and congratulated him on re-election for the third consecutive term.

Prime Minister thanked PM Frieden for his wishes and expressed hope to add vigour and momentum to the multifaceted cooperation between the two countries.

Both leaders reaffirmed their commitment to work towards further strengthening bilateral partnership in diverse areas including trade, investment, sustainable finance, industrial manufacturing, health, space and people-people connect. Both leaders exchanged views on regional and global issues, including the conflict in Ukraine. PM Frieden appreciated the role being played by India in supporting the end of the conflict and early restoration of peace and stability.

PM extended invitation to H.R.H the Grand Duke Henri and PM Frieden for visit to India.

Both leaders agreed to remain in touch.